Posted in रामायण - Ramayan

राम राम क्यों कहा जाता है?


*राम राम क्यों कहा जाता है?*👌 क्या कभी सोचा है कि बहुत से लोग जब एक दूसरे से मिलते हैं तो आपस में एक दूसरे को दो बार ही *“राम राम”* क्यों बोलते हैं ? *एक बार या तीन बार क्यों नही बोलते ?* दो बार *“राम राम”* बोलने के पीछे बड़ा गूढ़ रहस्य है क्योंकि यह आदि काल से ही चला आ रहा है… हिन्दी की शब्दावली में *‘र’* सत्ताइसवां शब्द है, *‘आ’* की मात्रा दूसरा और *‘म’* पच्चीसवां शब्द है… अब तीनो अंको का योग करें तो 27 + 2 + 25 = *54*, *अर्थात एक “राम”* का योग 54 हुआ- *इसी प्रकार दो “राम राम”* का कुल *योग 108* होगा। हम जब कोई जाप करते हैं तो 108 मनके की माला गिनकर करते हैं। सिर्फ *’राम राम’* कह देने से ही पूरी *माला का जाप* हो जाता है।आपको सभी को 🌹🎊👏 *राम राम जी* 👏🎊

Advertisements
Posted in छोटी कहानिया - १००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

एक बार एक संत ने अपने दो भक्तों को बुलाया


एक बार एक संत ने अपने दो भक्तों को बुलाया और कहा आप को यहाँ से पचास कोस जाना है। 👉एक भक्त को एक बोरी खाने के समान से भर कर दी और कहा जो लायक मिले उसे देते जाना 👉और एक को ख़ाली बोरी दी उससे कहा रास्ते मे जो उसे अच्छा मिले उसे बोरी मे भर कर ले जाए। 👉दोनो निकल पड़े जिसके कंधे पर समान था वो धीरे चल पा रहा था 👉ख़ाली बोरी वाला भक्त आराम से जा रहा था 👉थोड़ी दूर उसको एक सोने की ईंट मिली उसने उसे बोरी मे डाल लिया 👉थोड़ी दूर चला फिर ईंट मिली उसे भी उठा लिया 👉जैसे जैसे चलता गया उसे सोना मिलता गया और वो बोरी मे भरता हुआ चल रहा था 👉और बोरी का वज़न। बड़ता गया उसका चलना मुश्किल होता गया और साँस भी चढ़ने लग गई 👉एक एक क़दम मुश्किल होता गया । 👉दूसरा भक्त जैसे जैसे चलता गया रास्ते मै जो भी मिलता उसको बोरी मे से खाने का कुछ समान देता गया धीरे धीरे बोरी का वज़न कम होता गया 👉और उसका चलना आसान होता गया। 👉जो बाँटता गया उसका मंज़िल तक पहुँचना आसान होता गया 👉जो ईकठा करता रहा वो रास्ते मे ही दम तोड़ गया 👉दिल से सोचना हमने जीवन मे क्या बाँटा और क्या इकट्ठा किया हम मंज़िल तक कैसे पहुँच पाएँगे। 👉जिन्दगी का कडवा सच…👈 👉आप को 60 साल की उम्र के बाद कोई यह नहीं पूछेंगा कि आप का बैंक बैलेन्स कितना है या आप के पास कितनी गाड़ियाँ हैं….? 👉दो ही प्रश्न पूछे जाएंगे …👈 1-आप का स्वास्थ्य कैसा है…..? और 2-आप के बच्चे क्या करते हैं….? 👉 *किसी और का भेजा हुआ यह मैसेज* आपको भी अच्छा लगे तो ओरो को भी भेजें 👉क्या पता किसी की कुछ सोच बदल जाये। 👉प्यार बाटते रहो यही विनती है।

Posted in छोटी कहानिया - १००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

क्रोध के दो मिनट


😡क्रोध के दो मिनट😡 एक युवक ने विवाह के दो साल बाद परदेस जाकर व्यापार करने की इच्छा पिता से कही । पिता ने स्वीकृति दी तो वह अपनी गर्भवती पत्नी को माँ-बाप के जिम्मे छोड़कर व्यापार करने चला गया । परदेश में मेहनत से बहुत धन कमाया और वह धनी सेठ बन गया । सत्रह वर्ष धन कमाने में बीत गए तो सन्तुष्टि हुई और वापस घर लौटने की इच्छा हुई । पत्नी को पत्र लिखकर आने की सूचना दी और जहाज में बैठ गया । उसे जहाज में एक व्यक्ति मिला जो दुखी मन से बैठा था । सेठ ने उसकी उदासी का कारण पूछा तो उसने बताया कि इस देश में ज्ञान की कोई कद्र नही है । मैं यहाँ ज्ञान के सूत्र बेचने आया था पर कोई लेने को तैयार नहीं है । सेठ ने सोचा ‘इस देश में मैने बहुत धन कमाया है, और यह मेरी कर्मभूमि है, इसका मान रखना चाहिए !’ उसने ज्ञान के सूत्र खरीदने की इच्छा जताई । उस व्यक्ति ने कहा- मेरे हर ज्ञान सूत्र की कीमत 500 स्वर्ण मुद्राएं है । सेठ को सौदा तो महंगा लग रहा था.. लेकिन कर्मभूमि का मान रखने के लिए 500 स्वर्ण मुद्राएं दे दी । व्यक्ति ने ज्ञान का पहला सूत्र दिया- कोई भी कार्य करने से पहले दो मिनट रूककर सोच लेना । सेठ ने सूत्र अपनी किताब में लिख लिया । . कई दिनों की यात्रा के बाद रात्रि के समय सेठ अपने नगर को पहुँचा । उसने सोचा इतने सालों बाद घर लौटा हूँ तो क्यों न चुपके से बिना खबर दिए सीधे पत्नी के पास पहुँच कर उसे आश्चर्य उपहार दूँ । . घर के द्वारपालों को मौन रहने का इशारा करके सीधे अपने पत्नी के कक्ष में गया तो वहाँ का नजारा देखकर उसके पांवों के नीचे की जमीन खिसक गई । पलंग पर उसकी पत्नी के पास एक युवक सोया हुआ था । . अत्यंत क्रोध में सोचने लगा कि मैं परदेस में भी इसकी चिंता करता रहा औ र ये यहां अन्य पुरुष के साथ है । दोनों को जिन्दा नही छोड़ूगाँ । क्रोध में तलवार निकाल ली । . वार करने ही जा रहा था कि उतने में ही उसे 500 स्वर्ण मुद्राओं से प्राप्त ज्ञान सूत्र याद आया- कि कोई भी कार्य करने से पहले दो मिनट सोच लेना । सोचने के लिए रूका । तलवार पीछे खींची तो एक बर्तन से टकरा गई । . बर्तन गिरा तो पत्नी की नींद खुल गई । जैसे ही उसकी नजर अपने पति पर पड़ी वह ख़ुश हो गई और बोली- आपके बिना जीवन सूना सूना था । इन्तजार में इतने वर्ष कैसे निकाले यह मैं ही जानती हूँ । . सेठ तो पलंग पर सोए पुरुष को देखकर कुपित था । पत्नी ने युवक को उठाने के लिए कहा- बेटा जाग । तेरे पिता आए हैं । युवक उठकर जैसे ही पिता को प्रणाम करने झुका माथे की पगड़ी गिर गई । उसके लम्बे बाल बिखर गए । . सेठ की पत्नी ने कहा- स्वामी ये आपकी बेटी है । पिता के बिना इसके मान को कोई आंच न आए इसलिए मैंने इसे बचपन से ही पुत्र के समान ही पालन पोषण और संस्कार दिए हैं । . यह सुनकर सेठ की आँखों से अश्रुधारा बह निकली । पत्नी और बेटी को गले लगाकर सोचने लगा कि यदि आज मैने उस ज्ञानसूत्र को नहीं अपनाया होता तो जल्दबाजी में कितना अनर्थ हो जाता । मेरे ही हाथों मेरा निर्दोष परिवार खत्म हो जाता । . ज्ञान का यह सूत्र उस दिन तो मुझे महंगा लग रहा था लेकिन ऐसे सूत्र के लिए तो 500 स्वर्ण मुद्राएं बहुत कम हैं । . ‘ज्ञान तो अनमोल है ‘ इस कहानी का सार यह है कि जीवन के दो मिनट जो दुःखों से बचाकर सुख की बरसात कर सकते हैं । वे हैं – ‘क्रोध के दो मिनट’ . इस कहानी को शेयर जरूर करें क्योंकि आपका एक शेयर किसी व्यक्ति को उसके क्रोध पर अंकुश रखने के लिए प्रेरित कर सकता है । 😌🙂☺ #spr ➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖

Posted in संस्कृत साहित्य

हिन्दू विवाह के सात वचन


हिन्दू विवाह के सात वचन : 1. पहले वचन में कन्या वर से कहती है कि यदि आप कभी तीर्थ यात्रा में जाएँ, या कोई व्रत इत्यादि करें अथवा कोई भी धार्मिक कार्य करें, तो मुझे अपने बाएँ भाग में जरुर स्थान दें. यदि आप ऐसा करने का वचन देते हैं तो मैं आपके वामांग में आना स्वीकार करती हूँ. 2. दूसरे वचन में कन्या वर से वचन मांगती है कि जिस प्रकार आप अपने माता-पिता का सम्मान करते हैं, उसी प्रकार मेरे माता-पिता का भी सम्मान करें और परिवार की मर्यादा के अनुसार, धार्मिक अनुष्ठान करते हुए भगवान के भक्त बने रहें. यदि आप ऐसा करने का वचन देते हैं, तो मैं आपके वामांग में आना स्वीकार करती हूँ. 3. तीसरे वचन में कन्या वर से कहती है कि यदि आप जीवन की तीनों अवस्थाओं: युवावस्था, प्रौढ़ावस्था और वृद्धावस्था में मेरा पालन करने का वचन देते हैं. तो मैं आपके वामांग में आना स्वीकार करती हूँ. 4. चौथे वचन में कन्या वर से कहती है कि यदि आप परिवार का पालन-पोषण करने और परिवार के प्रति अपने सारे दायित्वों का पालन करने का वचन देते हैं, तो मैं आपके वामांग में आना स्वीकार करती हूँ. 5. पांचवें वचन में कन्या वर से कहती है कि यदि आप अपने घर के कामों में, लेन-देन में या किसी दूसरे काम के लिए खर्च करते समय मेरी भी सलाह लेने का वचन देते हैं, तो मैं आपके वामांग में आना स्वीकार करती हूँ. 6. छठे वचन में कन्या वर से कहती है कि यदि मैं अपनी सखियों या अन्य स्‍त्रियों के बीच बैठी रहूँ, तो आप वहाँ सबके सामने मेरा अपमान नहीं करेंगे. आप जुआ या किसी भी प्रकार की बुरी आदतों से खुद को दूर रखेंगे. यदि आप ऐसा करने का वचन देते हैं, तो मैं आपके वामांग में आना स्वीकार करती हूँ. 7. सातवें वचन में कन्या वर से कहती है कि आप पराई स्त्रियों को माता के समान समझेंगे और पति-पत्नी के प्रेम के बीच में किसी और को नहीं आने देंगे. यदि आप ऐसा करने का वचन देते हैं, तो मैं आपके वामांग में आना स्वीकार करती हूँ.

Posted in छोटी कहानिया - १००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

एक बार एक संत अपनी कुटिया में शांत बैठे थे


एक बार एक संत अपनी कुटिया में शांत बैठे थे, तभी उन्हें कुछ शोर सुनाई दिया जा कर देखा तो एक बंदर ज़ोर-ज़ोर से चिल्ला रहा था, उसका एक हाथ एक घड़े के अंदर था और वह बंदर अपना हाथ छुड़ाने के लिए चिल्ला रहा था। संत को देख वह बंदर संत से आग्रह करने लगा के महाराज कृपया कर के मुझे इस बंधन से मुक्त करवाए। संत ने बंदर को कहा के तुमने घड़े के अंदर हाथ डाला तो वह आसानी से उसमे चला गया, परन्तु अब इसलिए बाहर नहीं निकल रहा है क्यूंकी तुमने अपने हाथ में लड्डू पकड़ा हुआ है जो की उस घड़े के अंदर है, अगर तुम वह लड्डू हाथ से छोड़ दो तो तुम आसानी से मुक्त हो सकते हो। बंदर ने कहा के महाराज, लड्डू तो मैं नहीं छोड़ने वाला, अब आप मुझे बिना लड्डू छोड़े ही मुक्त होने की कोई युक्ति सुझाए। संत मुस्कुराए और कहा के या तो लड्डू छोड़ दो अन्यथा तुम कभी भी मुक्त नही हो सकते। हज़ार कोशिशों के बाद बंदर को इस बात का एहसास हुआ कि बिना लड्डू छोड़े मेरा हाथ इस घड़े से बाहर नही निकल सकता और मैं मुक्त नही हो सकता। आख़िरकार बंदर ने वो लड्डू छोड़ा और सहजता से ही उस घड़े से मुक्त हो गया। यह कहानी सिर्फ़ उस बंदर की ही नहीं बल्कि आज के हर उस इंसान की है जो की उस घड़े में (संसार में) फँसा बैठा है। लड्डू (संसारिक वस्तुओं) को छोड़ना भी नहीं चाहता और उस घड़े (84 के फेरे से) से मुक्त भी होना चाहता है। हमारे संतो ने समझानें का कार्य कर दिया, अब किसे कब समझ आए और वह कब मुक्त होगा यह उसकी समझ है।

Posted in छोटी कहानिया - १००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

क्यों कहलाते हैं हम दाधीच कहां से आया यह दाधीच शब्द


क्यों कहलाते हैं हम दाधीच कहां से आया यह दाधीच शब्द कैसे बना दाधीच शब्द जानिए अपने बारे म ें जय श्री कृष्ण गोठ और मांगलोद नामक गाँवों के मध्य नागौर जिला मुख्यालय से उत्तर पूर्व में लगभग 44 किमी दूरी पर जायल तहसील में एक प्राचीन शक्ति पीठ स्थित है जो दधिमति माता के मंदिर के नाम से विख्यात है। ‘दाहिमा’ (दाधीच) ब्राह्मण दधिमति माता को अपनी कुलदेवी मानते हैं तथा इस मंदिर को अपने पूर्वजों द्वारा निर्मित मंदिर मानते हैं। यहाँ से प्राप्त एक अभिलेख के अनुसार इस मंदिर का निर्माण विक्रम संवत 665 (608 ई.) के लगभग माना जाता है, जिसके अनुसार इस मंदिर के निर्माण के लिए दाधीच ब्राह्मणों द्वारा दान किया गया था, जिसका मुखिया ‘अविघ्न नाग’ था। कुछ विद्वान अभिलेख लिपि के अक्षर तथा राजस्थान में गुप्त राजाओं का शासन क्षेत्र के आधार पर इस मंदिर का निर्माण गुप्त शासनकाल के अंतिम दिनों में चौथी शताब्दी में हुआ मानते हैं। कुछ विद्वान उपरोक्त काल से असहमत होते हुए, इसे 9 वीं शताब्दी का मानते हैं। दधिमति दधिची ऋषि की बहन थी। दधिमति माता को महालक्ष्मी का अवतार माना जाता है। दधिमति का जन्म माघ शुक्ल सप्तमी (रथ सप्तमी) को आकाश के माध्यम से हुआ माना जाता है। दधिमति माता का मंदिर देवी महामात्य का वर्णन करता उत्तर भारत का सबसे पुराना मंदिर माना जाता है, जो कोल्हापुर (महाराष्ट्र) के महालक्ष्मी मंदिर से भी पुराना है। दधिमति माता की कथा- जगत के प्राणियों को अभय प्रदान करने के लिए तथा विकटासुर राक्षस का वध करने के लिए “योगमाया महालक्ष्‍मी” महर्षि अथर्वा के घर में भगवती नारायणी दधिमति माता के रूप में प्रकट हुई थी। देवी के भय से विकटासुर दधिसागर में छिप गया, तब भगवती ने दधिसागर का मन्‍थन कर माघ शुक्‍ला अष्‍टमी को संध्‍याकाल में विकटासुर का वध किया। इसी वजह से वही तिथि जयाष्‍टमी के नाम से विख्‍यात है। दधिसागर का मन्‍थन करके विकटासुर को मारने के कारण ब्रह्माजी ने उनका नाम दधिमथी रखा तथा महर्षि अथर्वा को पुत्र प्राप्‍ति का वरदान दिया। ब्रह्माजी ने भगवती दधिमथी को अपने भाई दधीचि के वंश की रक्षा करते हुए उनकी कुलदेवी होने का आशीर्वाद दिया। अथर्वा के पुत्र तथा दधिमति के भाई महर्षि दधिची द्वारा विश्‍वकल्‍याण एवं धर्म की रक्षा हेतु दैत्‍यराज वृत्रासुर के वध के लिए अपनी अस्थियाँ देवताओं को प्रदान कर दी। तब दधिची की गर्भवती पत्‍नी स्वर्चा सती होने के लिए तत्‍पर हुई। तब देवताओं ने स्‍मरण कराया कि आपके गर्भ में जो ऋषि का तेज है, वह रूद्र अवतार है। पहले आप उसे जन्म दें। इस पर ऋषि पत्‍नी ने अपना गर्भ निकाल कर आश्रम में ऋषि द्वारा स्‍थापित अश्‍वत्‍थ वृक्ष को सौंपा और भगवती दधिमथी से प्रार्थना की कि आप हमारी कुलदेवी है, इस बालक की रक्षा करें। कुलदेवी दधिमथी के सानिध्‍य में पीपलवृक्ष के नीचे पलने के कारण महर्षि दधिची के पुत्र का नाम पिपलाद हुआ। भगवान विष्‍णु द्वारा सुदर्शन चक्र से सती देह को खण्डित करने पर जहां-जहां सती के शरीर के अंग गिरे, वे 52 स्‍थान पवित्र 52 शक्तिपीठ कहलाए। भगवती सती काकपाल पुष्‍कर क्षेत्र से 96 किमी दूर उत्तर में गोठ मांगलोद नाम के दो गांवों के बीच में गिरा जो “कपाल सिद्ध पीठ” नाम से प्रसिद्ध हुआ। ‘कपाल पीठ तीर्थ’ गोठ मांगलोद नागौर के पूर्व में 44 किमी दूर जायल तहस ील में है। आपसे अनुरोध है कि सभी दाधीच भाइयों को इस मैसेज से अवगत कराएं …… 🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏

ब्रिंमोहन ओजा दधीच

Posted in छोटी कहानिया - १००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

स्वामी विवेकानन्द एक बार रेल में यात्रा कर रहे थे


स्वामी विवेकानन्द एक बार रेल में यात्रा कर रहे थे। एक भिखारी ने अपनी गरीबी का हवाला देते हुए उनसे भीख मांगी। पहले स्वामीजी मौन हो गये। फिर दूसरी बार भिखारी ने कहा, ‘‘श्रीमान्, मैं बहुत गरीब हूं, मेरे पास कुछ भी नहीं है, मुझ पर दया करो।’’ दुबारा भीख मांगने पर विवेकानन्द जी की आंखों से आंसू टपकने लगे। तपाक से सहयात्री ने पूछा, ‘‘श्रीमान्, क्या बात है ?’’ विवकेकानन्द ने कहा, ‘‘इस अमीर आदमी द्वारा दयनीय जीवन जीने एवं भीख मांगने के कारण मुझे कष्ट हुआ।’’ इस पर सहयात्री ने कहा, ‘‘अरे, यह तो भिखमंगा है। आप इसे अमीर कैसे कह रहे हैं ?’’ तब स्वामीजी ने भिखारी से पूछा, ‘‘क्या आप मुझे अपना बांया हाथ एक लाख रुपयों में बेचोगे ? मैं खरीदना चाहता हूं, रुपये अभी दूंगा।’’ भिखारी ने मना कर दिया। ‘‘क्या दांया हाथ एक लाख में दोगे ?’’ ‘‘नहीं।’’ ‘‘क्या बांया पांव एक लाख में दोगे ?’’ ‘‘नहीं।’’ ‘‘दूसरा पांव दो लाख में दोगे ?’’ ‘‘नहीं, यह बेचने के लिये नहीं है।’’ ‘‘क्या एक आंख दो लाख में दोगे ?’’ यहां पर भी उत्तर नकारात्मक ही था। ‘‘दूसरी आंख के पांच लाख दूंगा।’’ ‘‘नहीं स्वामीजी, मैं इन्हें कैसे बेच सकता हूं ?’’ इस पर स्वामीजी बोले, ‘‘बेच तो नहीं सकते, लेकिन इनका उपयोग भीख मांगने के लिये करते हो। इतना सब कुछ होते हुए भी क्या तुम अब भी गरीब हो ? क्या तुम्हारे पास कुछ नहीं है ? जिसके पास इतना कीमती मानव शरीर है उसे आप क्या कहेंगे ? भिखारी शरमा कर वहां से चला गया। वह अपनी पूंजी, अपनी शक्तियों, अपनी योग्यताओं, अपनी क्षमताओं, प्राकृतिक वरदानों से अवगत नहीं था।