Posted in PM Narendra Modi

*मोदी सरकर के शुरुआती दो साल का रिपोर्ट-कार्ड।*

*मोदी सरकर के शुरुआती दो साल का रिपोर्ट-कार्ड।*
*ज़रा पढ़िए और दूसरों को भी पढ़ाईए-*

मोदी सरकार के दो साल में, अनेकों योजनाओं की, ईमानदारी के साथ, शुरुआत की गयी है जिनका लाभ सीधा भारत की जनता को मिल रहा है:

*1- प्रधानमंत्री जन-धन योजना।*
*2- प्रधानमंत्री आवास -योजना।*
*3- प्रधानमंत्री सुकन्या समृद्धि योजना।*
*4- प्रधानमंत्री मुद्रा-योजना।*
*5- प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना।*
*6- प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना।*
*7- अटल पेंशन योजना।*
*8- सांसद आदर्श ग्राम योजना।*
*9- प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना।*
*10- प्रधानमंत्री ग्राम सिंचाई योजना।*
*11- प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजनाएँ।*
*12- प्रधानमंत्री जन औषधि योजना।*
*13- मेक इन इंडिया।*
*14- स्वच्छ भारत अभियान।*
*15- किसान विकास पत्र।*
*16- सॉइल हेल्थ कार्ड स्कीम।*
*17- डिजिटल इंडिया।*
*18- स्किल इंडिया।*
*19- बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना।*
*20- मिशन इन्द्रधनुष।*
*21- दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना।*
*22- दीनदयाल उपाध्याय ग्रामोत्थान योजना।*
*23- कौशल्या योजना।*
*24- पंडित दीनदयाल उपाध्याय श्रमेव जयते योजना।*
*25- अटल मिशन फॉर रेजुवेनशन।*
*26- अर्बन ट्रांसफॉर्मेशन (अमृत योजना)।*
*27- स्वदेश दर्शन योजना।*
*28- पिल्ग्रिमेज रेजुवेनशन एंड स्पिरिचुअल ऑग्मेंटेशन ड्राइव (प्रसाद योजना)।*
*29- नेशनल हेरिटेज सिटी डेवलेपमेंट एंड ऑग्मेंटेशन योजना (ह्रदय योजना)।*
*30- उड़ान स्कीम।*
*31- नेशनल बाल स्वछता मिशन।*
*32- वन रैंक वन पेंशन (OROP) स्कीम।*
*33- स्मार्ट-सिटी मिशन।*
*34- गोल्ड मोनेटाईजेशन स्कीम।*
*35- स्टार्ट-अप इंडिया, स्टेन्ड-अप इंडिया।*
*36- डिजिलोकर।*
*37- इंटीग्रेटेड पावर डेवलपमेंट स्कीम।*
*38- श्यामा प्रसाद मुखर्जी रुर्बन मिशन एंड सागरमाला प्रोजेक्ट।*
*39-‘प्रकाश-पथ’। ‘वे टू लाईट’।*
*40- उज्ज्वल डिस्कॉम असुरन्स योजना, (विकल्प स्कीम)।*
*41- नेशनल स्पोर्ट्स टैलेंट सर्च स्कीम।*
*42- राष्ट्रीय गोकुल मिशन।*
*43- ‘पहल’ डायरेक्ट बेनिफिट्स ट्रांसफर फॉर LPG (DBTL) कंस्यूमर्स स्कीम।*
*44- नेशनल इंस्टीटूशन फॉर ट्रांसफॉर्मिंग इंडिया (नीति आयोग)।*
*45- प्रधानमंत्री खनिज क्षेत्र कल्याण योजना।*
*46- नमामि गंगे प्रोजेक्ट।*
*47- सेतु भारतम प्रोजेक्ट।*
*48- रियल एस्टेट बिल।*
*49- आधार बिल।*
*50- क्लीन माय कोच।*
*51- प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना।*
*52- राष्ट्रीय ग्राम स्वराज अभियान (Proposed)।*
लोग रो रहे हैं कि- *”मोदी कुछ काम नहीं कर रहा है…”*
*तो ज़रा एक नज़र डालो कि पिछली काँग्रेस सरकार ने हर साल, क्या-क्या कारनामें किए…!!!*
*खोदकर लाया हूँ उनके काम:-*

1) वर्ष 2011- 2जी स्पेक्ट्रम घोटाला 1,76,000 करोड़!

2) वर्ष 2011- कॉमन वेल्थ घोटाला 70,000 करोड़!

3) वर्ष 2010- आदर्श घर घोटाला 900 करोड़!

4) वर्ष 2010- S बैंड स्पेक्ट्रम घोटाला 2,00,000 करोड़!

5) वर्ष 2010- खाद्यान घोटाला 35,000 करोड़!

6) वर्ष 2009- चावल निर्यात घोटाला 2,500 करोड़!

7) वर्ष 2009- उड़ीसा खदान घोटाला 7,000 करोड़!

8) वर्ष 2009- झारखण्ड खदान घोटाला 4,000 करोड़!

9) वर्ष 2009- झारखण्ड मेडिकल उपकरण घोटाला 130 करोड़!

10) वर्ष 2008- हसन अली हवाला घोटाला 39,120 करोड़!

11) वर्ष 2008- कालाधन 2,10,000 करोड़!

12) वर्ष 2008- स्टेट बैंक ऑफ़ सौराष्ट्र 95 करोड़!

13) वर्ष 2008- सैन्य राशन घोटाला 5,000 करोड़!

14) वर्ष 2008- सत्यम घोटाला 8,000 करोड़!

15) वर्ष 2006- पंजाब सिटी सेंटर घोटाला 1,500 करोड़!

16) वर्ष 2006- ताज कॉरिडोर घोटाला 175 करोड़!

17) वर्ष 2005 आई.पी.ओ. कॉरिडोर घोटाला 1,000 करोड़!

18) वर्ष 2005- बिहार बाढ़ आपदा घोटाला 17 करोड़!

19) वर्ष 2005- सौरपियन पनडुब्बी घोटाला 18,978 करोड़!

20) वर्ष 2003- स्टाम्प घोटाला 20,000 करोड़!

21) वर्ष 2002- संजय अग्रवाल गृह निवेश घोटाला 600 करोड़!

22) वर्ष 2002 कलकत्ता स्टॉक एक्सचेंज घोटाला 120 करोड़!

23) वर्ष 2001- केतन पारिख प्रतिभूति घोटाला 1,000 करोड़!

24) वर्ष 2001- UTI घोटाला 32 करोड़!

25) वर्ष 2001- डालमिया शेयर घोटाला 595 करोड़!

26) वर्ष 1998- टीक पौध घोटाला 8,000 करोड़!

27) वर्ष 1998- उदय गोयल कृषि उपज घोटाला 210 करोड़!

28) वर्ष 1997- बिहार भूमि घोटाला 400 करोड़!

29) वर्ष 1997- सुखराम टेलिकॉम घोटाला 1,500 करोड़!

30) वर्ष 1997- SNC पॉवर प्रोजेक्ट घोटाला 374 करोड़!

31) वर्ष 1997- म्यूच्अल फण्ड घोटाला 1,200 करोड़!

32) वर्ष 1996- उर्वरक आयात घोटाला 1,300 करोड़!

33) वर्ष 1996- यूरिया घोटाला 133 करोड़!

34) वर्ष 1996- चारा घोटाला 950 करोड़!

35) वर्ष 1995- मेघालय वन घोटाला 300 करोड़!

36) वर्ष 1995- प्रेफ्रेंशल अलॉटमेंट घोटाला 5,000 करोड़!

37) वर्ष 1995- दीनार घोटाला (हवाला) 400 करोड़!

38) वर्ष 1995- कॉबलर घोटाला 1,000 करोड़!

39) वर्ष 1995- वीरेंदर गौतम (कस्टम टैक्स) घोटाला 43 करोड़!

40) वर्ष 1994- चीनी घोटाला 650 करोड़!

41) वर्ष 1992- हर्षद मेहता (शेयर घोटाला) 5,000 करोड़, एवं बोफोर्स तोप घोटाला- राजीव गाँधी 960 करोड़!

सालों राम मंदिर और पेट्रोल पर रो रहे हो…! इनमें से 5 के नाम भी पता थे क्या?

“मोदी” इतनी मेहनत कर रहा है पर तुम्हारे तो संस्कार हैं न भगवान में भी नुक़्स निकालने के…!!!

अगर ये ‘मोदी’ तंग आकर हट गया न, तो तुम्हें फिर यही काँग्रेस मिलेगी…!!!

‘मोदी’ के “बाहर घूमने” से परेशान हो…!
अरे मस्तीखोरों, वो औरों के भाँति बाहर हनीमून मनाने अथवा मौज़मस्ती करने नहीं जाता है।
वो बाहर जा-जाकर देश की सुरक्षा और अर्थव्यवस्था को मजबूत कर रहा है।

आज तुम सबको को किसानों की परेशानियाँ दिख रही हैं…!
जब यूरिया और खाद घोटाले हुए तब तुम्हें कुछ नहीं दिखा…!!
अभी 03 वर्ष पूर्व तक यूरिया के दाने-दाने के लिए किसान तरस रहा था, लेकिन आज “मोदी” ने जो यूरिया नीति अपनाई है, उसके कारण किसानों को जितना चाहो उतना यूरिया मिल रहा है। खेत लहलहाने लगे हैं। ये सब दिखाई नहीं देता?
सच्चाई को अपनी ख़ुद की नजर से देखें और
अगर सचाई नज़र आए तो शेयर करें।
ख़ासकर, लोगों को अँधेरे में रखने वालों को..
बिना बात के मुद्दे बनाने वालों को…
और ऐसी बातों के लपेटे में आने वालों को…
जरूर शेयर करें।

अभी मोदीजी का, बतौर प्रधानमंत्री, 01 कार्यकाल भी पूरा नहीं हुआ है औऱ सत्ता के चटोरों ने, कई दशकों की अपेक्षाओं के “ताने और गोले”… उनके ऊपर पहले दिन से ही दागने शुरू कर दिए…!
जबकि 👇
1. जवाहरलाल नेहरु 16 वर्ष 286 दिन।

2. इंदिरा गाँधी 15 वर्ष 91 दिन।

3. राजीव गाँधी 5 वर्ष 32 दिन।

4. मनमोहन सिंह 10 वर्ष 4 दिन।

यानि कुल मिलाकर 47 वर्ष 48 दिन में एक भी अच्छे दिन को ढूंढ नहीं सकते

और मोदी के कार्यकाल में अग़र एक दिन भी अच्छा न लगे तो मोदी गुनाहगार है…!!!
ये कैसा न्याय है???
ये कैसी भारतीयता है???

अभी तो बीजारोपण ही हो रहा है। फल खाना है तो पेड़ को बड़ा होने दो। फलने-फूलने दो।

मेरी सभी भारतवासियों से विनम्र विनती है कि-
अगर अच्छ ेदिन चाहिए तो धैर्य रखें।
आपने प्रधानमंत्री चुना है कोई जादूगर नहीं।

अगर सिर्फ whats app or facebook पे जोक सुन-सुन के मोदीजी के विदेश दौरों का पता है तो इससे बड़ी मूर्खता और क्या हो सकती है?
उपलब्धियों के बारे में भी पता होना चाहिए…।

*”मोदी का कार्यकाल एक शुरुआत अनेक”*
👇
1. मोदीजी ने सऊदी अरब को “On-Time Delivery” Premium charges on Crude Oil के लिए मना लिया है।

2. India अब भूटान में 4 Hydropower stations Dams बनाएगा। जिससे Green energy मिलेगी।

3. India नेपाल में सबसे बड़ा hydro dam बनाएगा जिससे 83% Green energy इंडिया को मिलेगी। (इसके लिए china कब से लगा हुआ था)।

4. जापान के साथ समझौता हुआ। जापान भारत में 10 लाख करोड़ invest करेगा और bullet train चलाने में मदद करेगा।
(कांग्रेस के टाईम में ये समझौता सिर्फ 1000 करोड़ का था)।

5. Vietnam के साथ रिश्ते सुधारे। अब वियेतनाम भारत को आयल देने में और भारत में आयल रिफानरी के लिए मदद करेगा।
काँग्रेस के समय उसने मना कर दिया था!

6. इरान अब डॉलर की जगह रुपए में आयल देने को राजी हो गया है। इससे काफी बचत होगी।

7. मोदीजी 28 साल के बाद आस्ट्रेलिया जाने वाले प्रधानमंत्री बने, और वहाँ दोस्ती के रिश्ते बनाए। अब वहाँ से भारत को Uranium मिलेगा जिससे देश में बिजली बनाने के लिए काफी मदद मिलेगी।

8. मोदीजी इस साल श्रीलंका गए। 27 साल में कोई भारतीय पी.एम. वहाँ गया… और टूटी हुई दोस्ती को पुनः सुधारा, जिसका फायदा अभी तक चीन उठा रहा था। ज्ञात रहे काँग्रेस ने श्रीलंका ना जाके, रिश्ते बिगाड़ रखे थे!

9. China का सामान India में बहुत बड़ी तादाद में बिक रहा था, अतः मोदी सरकार ने बोल दिया कि या तो इंडिया में invest करो नहीं तो गैर क़ानूनी माना जाएगा। इसके परिणाम भी नजर आने लगे हैं। अब China $20 billion भारत में Invest करेगा।

10. India ने North East and around India china border पे रोड बनाना शुरू कर दिया है, ताकि हमारी army को आने-जाने में दिक्कत न हो।
काँग्रेस इसे बनाने में बुरी तरह डरती रही।

11. India यमन से (4000+) Indians को लाने में सफल रही। ये सब मोदी और सऊदी अरब किंग की दोस्ती की वजह से संभव हो पाया।

12. India की Air force की ताकत कमजोर हो गयी थी। इसके लिए आते ही फ्राँस से 36 Rafale fighter Jets खरीदने के लिए deal की। यह ड़ील सात साल से अटकी हुई थी…!

13. after 42 years कोई पी.एम. Canada गया… और कनाडा भी भारत को Uranium देने के लिए राजी हो गया। इससे बिजली की समस्या से निपटने में औऱ तेजी से मदद मिलेगी।

14. Canada अब भारतीयों को On-Arrival visa देने को राजी हो गया है।

15. अब तक हम अमेरिका और रूस से ही Nuclear Reactors खरीद सकते थे, मगर अब ‘फ्राँस’ भारतीय कम्पनी के साथ इन Reactors को भारत में ही बनाएगी।
– MAKE IN INDIA.

16. बराक-ओबामा से दोस्ती की। अमेरिका अब भारत में 16 Nuclear power plant लगाने में मदद करेगा। जिससे भारत में बिजली की दिक्कत पूर्णतया ख़त्म हो जाएगी।

अगर एक खुशहाल और खुबसूरत भारत देखना चाहते हो और वाकई देश के उत्थान की भावना रखते हो तो मोदीजी के एक-एक कार्य को भारत की सारी जनता तक पहुँचाओ।

बस आपको यह सन्देश मात्र 3 लोगों को भेजना है।
इस प्रकार 1= 3 लोग, यह 3 लोग दूसरे 3 लोगों को मैसेज करेंगे यानि-
3×3 = 9
9×3 =27
27×3=81
81×3 =243
आपको एक कड़ी भर जोड़नी है ताकि पूरा देश इस कड़ी से जुड़ जाए और राज्य एवं केन्द्र के-
*”आगामी चुनाव”*… सँपूर्ण देश में
“विकास कार्यों को”
अधिकाधिक तेजी के साथ रफ़्तार प्रदान कराने हेतु, मोदीजी एवं उनकी टीम को और अधिक सशक्त बना सकें।
😇🙏
*(~रमेश चन्द्र भार्गव)*

Posted in छोटी कहानिया - Chooti Kahaniya

एक गाँव में एक मशहूर फकीर रहता था

एक गाँव में एक मशहूर फकीर रहता था.वह बीमार हो गया.!उसकी एक बंजारे नें खूब
सेवा की.! खुश होकर फकीर नें उसे एक गधा भेंट किया! गधा पाकर बंजारा बड़ा खुश
हुआ! गधा स्वामी भक्त था! वह बंजारे की और बंजारा गधे की सेवा करता था !दोनों को एक दूसरे
के प्रति बहुत लगाव हो गया ! बंजारा यह मानता था की गधा फकीर की दी गयी भेंट है तो ज़रूर विलक्षण होगा !एक दिन बंजारा गधे पर बैठ कर माल बेंचने दूसरे गाँव गया ! दुर्भाग्य से गधा रास्ते में बीमार हो गया.पेट में दर्द उठा और गधा वहीँ तड़प कर मर गया ! बंजारे को अत्यधिक शोक हुआ क्योंकि वह उसके लिए कमाऊ पूत था ! उसनें गधे की कब्र बनाई और वहीं बैठकर दुःख
के आंसू बहाने लगा ! इतने में उधर से एक राहगीर गुजरा ! उसनें यह दृश्य देखकर सोचा की अवश्य
ही यहाँ किसी फकीर का निधन हुआ है ! श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए उसने दो फूल तोड़े और कब्र पर चढ़ा दिए ! दूसरे नें उसे फूल चढाते देखा तो पास आकर उसने जेब से दो रुपये निकाल कर कब्र पर चढ़ा दिए ! बंजारा यह सब चुपचाप देखता रहा और मन ही मन हंसा ! दोनों राहगीर अगले गाँव गए और लोगों से कब्र का ज़िक्र किया !.ग्रामीण लोग आए ! उन्होंने भी फूल और पैसे चढ़ाए ! अब बंजारे नें आगे जाने का फैसला छोड़ा और कब्र के पास बैठ गया ! वह सोचने लगा की गधा जब जिन्दा था तब
उतना कमाकर नहीं देता था जितना की मरने के बाद दे रहा है ! खूब भीड़ लगती.जितने दर्शनार्थी आते कब्र का उतना ही ज्यादा प्रचार हो रहा था ! गधे की कब्र किसी पहुंचे हुए फकीर की कब्र बन गयी.
एक दिन वह फकीर भी उसी रस्ते से गुजरा,जिसनें बंजारे को गधा दिया था !.उसनें कब्र के बारे में
चर्चा सुनी.वह भी कब्र पर झुका.जैसे ही उसने अपने पुराने भक्त बंजारे को बैठे देखा तो पूछा कि यह कब्र किसकी है और तू यहाँ क्यों रो रहा है ? बंजारे नें कहा कि आपके सामने सच छुपाने की ताकत मुझमें नहीं है ! उसने सारी आपबीती फकीर को सुना दी !.फकीर को बड़ी हंसी आई !बंजारे नें
पूछा की आपको हंसी क्यों आई ? फकीर बोला की मैं जहाँ पर रहता हूँ वहां पर भी एक कब्र है जिसे लोग बड़ी श्रद्धा से पूजते हैं !आज में तुम्हें बताता हूँ की वह कब्र भी इस गधे की माँ की है.
लोग नहीं जानते इसलिए किसी को भी पूजने लगते हैं ! समझदार वही है जो अंधविश्वास में पड़े
बिना सच्चाई को समझकर किसी बात को मानता हैं !

Posted in आयुर्वेद - Ayurveda

किडनी को साफ़ करें वह भी सिर्फ 5 रुपये में।

किडनी को साफ़ करें वह भी सिर्फ 5 रुपये में।

✅o हमारी किडनी एक बेहतरीन फिल्टर हैं जो सालों से हमारे खून की गंदगी को साफ़ करने का काम करती हैं मगर हर फिल्टर की तरह इसको भी साफ़ करने की जरूरत हैं ताकि ये और भी अच्छा काम करें।
आज हम आपको बता रहे हैं इसकी सफाई के बारे में और वह भी सिर्फ 5 रुपये में।

O✅ एक मुट्ठी भर धनिया लीजिए इसको छोटे छोटे टुकड़ों में काट लें और अच्छी तरह धुलाई कर ले। फिर एक बर्तन में १ लीटर पानी डाल कर इन टुकड़ों को डाल दे, 10 मिनट तक धीमी आँच पर पकने दे, बस अब इसको छान लें और ठंडा होने दो अब इस ड्रिंक को हर रोज़ एक गिलास खाली पेट पिएँ। आप देखेंगे के आपके पेशाब के साथ सारी गंदगी बाहर आ रही हैं। ✅

NOTE : – इसके साथ थोड़ी से अजवायन डाल लें तो सोने पे सुहागा हो जाए।

अब समझ आया कि हमारी माँ अक्सर धनिये की चटनी क्यों बनाती थी और हम आज उनको old fashion कहते हैं।

Posted in Sanskrit Sahitya

आइये समाज में फैले कु्छ षड्यंत्रों पर प्रकाश डालें

ये जानकारियां पिछले 60 वर्ष के शासन का पोल खोलेगी , जिसने एक षड्यंत्र से विज्ञापनों के माध्यम से हमारे दिमागों पर नियंत्रण कर लिया और आज सुधार के लिए बहुत प्रयास करना पड़ेगा ।

आइये समाज में फैले कु्छ षड्यंत्रों पर प्रकाश डालें :-

अर्धसत्य —फलां फलां तेल में कोलेस्ट्रोल नहीं होता है!

पूर्णसत्य — किसी भी तेल में कोलेस्ट्रोल नहीं होता ये केवल यकृत में बनता है । ✅

अर्धसत्य —सोयाबीन में भरपूर प्रोटीन होता है !

पूर्णसत्य—सोयाबीन सूअर का आहार है मनुष्य के खाने लायक नहीं है! भारत में अन्न की कमी नहीं है, इसे सूअर आसानी से पचा सकता है, मनुष्य नही ! जिन देशों में 8 -9 महीने ठण्ड रहती है वहां सोयाबीन जैसे आहार चलते है । ✅

अर्धसत्य—घी पचने में भारी होता है

पूर्णसत्य—बुढ़ापे में मस्तिष्क, आँतों और संधियों (joints) में रूखापन आने लगता है, इसलिए घी खाना बहुत जरुरी होता है !और भारत में घी का अर्थ देशी गाय के घी से ही होता है । ✅

अर्धसत्य—घी खाने से मोटापा बढ़ता है !

पूर्णसत्य—(षड्यंत्र प्रचार ) ताकि लोग घी खाना बंद कर दें और अधिक से अधिक गाय मांस की मंडियों तक पहुंचे, जो व्यक्ति पहले पतला हो और बाद में मोटा हो जाये वह घी खाने से पतला हो जाता है✅

अर्धसत्य—घी ह्रदय के लिए
हानिकारक है !

पूर्णसत्य—देशी गाय का घी हृदय के लिए अमृत है, पंचगव्य में इसका स्थान है । ✅

अर्धसत्य—डेयरी उद्योग दुग्ध
उद्योग है !

पूर्णसत्य—डेयरी उद्योग -मांस उद्योग है! यंहा बछड़ो और बैलों को, कमजोर और बीमार गायों को, और दूध देना बंद करने पर स्वस्थ गायों को कत्लखानों में भेज दिया जाता है! दूध डेयरी का गौण उत्पाद है । ✅

अर्धसत्य—आयोडाईज नमक से
आयोडीन की कमी पूरी
होती है !

पूर्णसत्य—आयोडाईज नमक का
कोई इतिहास नहीं है, ये
पश्चिम का कंपनी षड्यंत्र
है आयोडाईज नमक में
आयोडीन नहीं पोटेशियम
आयोडेट होता है जो भोजन
पकाने पर गर्म करते समय
उड़ जाता है स्वदेशी जागरण
मंच के विरोध के फलस्वरूप
सन्2000 में भाजपा सरकार
ने ये प्रतिबन्ध हटा लिया था,
लेकिन कांग्रेस ने सत्ता में आते
ही इसे फिर से लगा दिया ताकि
लूट तंत्र चलता रहे और विदेशी
कम्पनियाँ पनपती रहे । ✅

अर्धसत्य— शक्कर (चीनी ) का
कारखाना !

पूर्णसत्य— शक्कर (चीनी ) का
कारखाना इस नाम की आड़
में चलने वाला शराब का
कारखाना शक्कर इसका
गौण उत्पाद है । ✅

अर्धसत्य—शक्कर (चीनी ) सफ़ेद
जहर है !

पूर्णसत्य— रासायनिक प्रक्रिया के
कारण कारखानों में बनी
सफ़ेद शक्कर(चीनी) जहर
है ! पम्परागत शक्कर
एकदम सफ़ेद नहीं होती !
थोडा हल्का भूरा रंग लिए
होती है ! ✅

अर्धसत्य— फ्रिज में आहार ताज़ा
होता है !

पूर्णसत्य— फ्रिज में आहार ताज़ा
दिखता है पर होता नहीं है
जब फ्रिज का अविष्कार
नहीं हुआ था तो इतनी
देर रखे हुए खाने को
बासा / सडा हुआ खाना
कहते थे । ✅

अर्धसत्य— चाय से ताजगी आती है!

पूर्णसत्य— ताजगी गरम पानी से
आती है! चाय तो केवल
नशा(निकोटिन) है । ✅

अर्धसत्य—एलोपैथी स्वास्थ्य
विज्ञान है !

पूर्णसत्य—एलोपैथी स्वास्थ्य विज्ञानं
✅ नहीं चिकित्सा विज्ञान है!

अर्धसत्य—एलोपैथी विज्ञानं ने बहुत
तरक्की की है !

पूर्णसत्य— दवाई कंपनियों ने बहुत
तरक्की की है! एलोपैथी में
मूल दवाइयां 480-520 है
जबकि बाज़ार में 1 लाख
से अधिक दवाइयां बिक
रही है ।✅

अर्धसत्य— बैक्टीरिया वायरस के
कारण रोग होते हैं !

पूर्णसत्य— शरीर में बैक्टीरिया
वायरस के लायक
वातावरण तैयार होने पर
रोग होते हैं ! ✅

अर्धसत्य— भारत में लोकतंत्र है !
जनता के हितों का ध्यान
रखने वाली जनता द्वारा
चुनी हुई सरकार है !

पूर्णसत्य— भारत में लोकतंत्र नहीं
कंपनी तन्त्र है बहुत से
सांसद, मंत्री, प्रशासनिक
अधिकारी कंपनियों के
दलाल हैं उनकी भी
नौकरियां करते हैं उनके
अनुसार नीतियाँ बनाते
हैं, वे जनहित में नहीं
कंपनी हित में निर्णय लेते
हैं ! भोपाल गैस कांड से
बड़ा उदहारण क्या हो
सकता है !जंहा एक
अपराधी मुख्यमंत्री और
प्रधानमंत्री के आदेशानुसार
फरार हो सका ! लोकतंत्र
होता तो उसे पकड के
वापस लोटाते । ✅

अर्धसत्य— आज के युग में
मार्केटिंग का बहुत
विकास हो गया है !

पूर्णसत्य— मार्केटिंग का नहीं ठगी
का विकास हो गया है !
माल गुणवत्ता के आधार
पर नहीं विभिन्न प्रलोभनों
व जुए के द्वारा बेचा जाता
है ! जैसे क्रीम गोरा बनाती
है!भाई कोई भैंस को गोरा
बना के दिखाओ ! ✅

अर्धसत्य— टीवी मनोरंजन के लिए
घर घर तक पहुँचाया
गया है !

पूर्णसत्य— जब टी वी नहीं था तब
लोगों का जीवन देखो और
आज देखो जो आज इन्टरनेट
पर बैठे सुलभता से जीवन जी
रहे हैं !उन्हें अहसास नहीं होगा
कंपनियों का माल बिकवाने
और परिवार व्यवस्था को
तोड़ने
े के लिए टी वी घर घर
तक पहुँचाया जाता है ! ✅

अर्धसत्य— टूथपेस्ट से दांत साफ
होते हैं !

पूर्णसत्य— टूथपेस्ट करने वाले
यूरोप में हर तीन में से एक
के दांत ख़राब हैं दंतमंजन
करने से दांत साफ होते हैं
मंजन -मांजना, क्या बर्तन
ब्रश से साफ होते हैं ?
मसूड़ों की मालिश करने से
दांतों की जड़ें मजबूत भी
होती हैं ! ✅

अर्धसत्य— साबुन मैल साफ कर
त्वचा की रक्षा करता है !

पूर्णसत्य— साबुन में स्थित केमिकल
(कास्टिक सोडा, एस. एल.
एस.) और चर्बी त्वचा को
नुकसान पहुंचाते हैं, और
डाक्टर इसीलिए चर्म रोग
होने पर साबुन लगाने से
मना करते हैं ! साबुन में गौ
की चर्बी पाए जाने पर
विरोध होने से पहले
हिंदुस्तान लीवर हर साबुन
में गाय की चर्बी का
उपयोग करती थी। ✅

Posted in छोटी कहानिया - Chooti Kahaniya

ऐक शेठजी ने गांव से अलविदा होकर

ऐक शेठजी ने गांव से अलविदा होकर देशावर दूकान की धीरे धीरे समय गुजारता चला गया दूकान में
व्यापार चल निकला ।।।खाने के लिए समय नहीं था उनके पास उधर बच्चे पढने में मशगूल थे और दूसरी तरफ
शेठजी व्यापार में दिन दूगनी
रात चौगुनी प्रगति पर था।।।
समय गुजारता गया ।।शेठजी मालदार बन गए थे।।।सबकूठ भगवान की दया से था ।।।मगर बच्चों के हाव भाव ओर भाषा से पूरी तरह बदल गये थे।।।रिश्तों नातो से दूरीया बहुत पूरानी हो चुकी थी ।।।ऐक बेटी जिसने वहीं लोकल परिवार में लव मैरिज कर ली थी।।
ऐक बेटे की उम्र 30 हो चुकी थी समाज से जूडाव व दूर दराज बसने से सगपण नहीं आ रहे थे।।।आखिरकार 35
वर्ष बाद गांव आये थे।।।।
गाँव पूरा खाली था ऐक भी
परिवार नहीं था ।।।।
रिश्तों नातो को फोन कर संपर्क किया ।।।।गाँव की
समाज की मिटिंग में हाजिरी 36 वर्ष बाद लगाई ।।।चढावे चढाये।।।मगर ना जान ना पहचान ।।।पहली बार अपनी गलती का अहसास हुआ था।।।गाँव व सामाजिक व्यवस्था से बिछडने का दर्द
व सामाजिक व्यवस्था के जीवन में जूडाव के अमृत रस के आनंद को अनुभव करने का मौका जो मिला था।।।।
मगर समय की मार से बचने के उपाय काम नही आये।।।
बेटे की शादी वहीं दूसरी दिगंबरी में कर दी ।।।।।।
पाच वर्ष गूजरते चले गए
बच्चे व बहू के व्यवहार में
रात दिन का अंतर था।।।।
आपस में सामंजस्य नहीं बैठ
रहा था ।।।शरीर बूढा हो चुका था ।।।परिस्थिति या साथ नहीं दे रही थी।।।।।
रिश्तों नातो में दूरीया व मैल मिलाप नहीं होने से सबकूछ
निष्क्रिय हो चुके थे।।।।।
आज शेठजी व शेठानीजी ऐक
वृधाषरम में जीवन व्यतीत कर रहे हैं ।।।।समाज के सवरग व बिना समाज के नरक का अनुभव कर रहे हैं।।।
अपने बच्चों को समाज के हर
कार्यक्रम का हिस्सा बनाये
गांव व समाज से जूडे रहिये
रिश्ते नाते मैं अपने पन के भाव रखिये ।।।समाज के प्रति अपनी आस्था व जिम्मेदारी को समझे।।।।।
ये अमूल्य धरोहर हमारे पूर्वजों ने हमें दी है यही आधार स्तंभ है हमारी संस्कृति व संस्कारो का।।।
इसमें घूल जाओ शक्कर बनकर।।।।।।पैसे आज है
कल नहीं।।।मगर समाज रहा तो सबका साथ सबका विकास ।।।।समाज को बिखरने से बचाये।।।।।
पेड से टूटि टहनी से पूछे बिछडने का दर्द ।।।।।।

Satu Bhai

Posted in छोटी कहानिया - Chooti Kahaniya

आजकल एक नया चलन शुरू हुआ है, घर बैठे मोबाईल से बुक कराके कुछ भी मंगा लो…।

आजकल एक नया चलन शुरू हुआ है, घर बैठे मोबाईल से बुक कराके कुछ भी मंगा लो…।

एक सरदार ने सलामत स्वीट्स को फ़ोन लगाया…

tring tring..

सलामत स्वीट्स मे आपका स्वागत है,
कहिए क्या चाहिए.?”

सरदार बोला”मिठाई चाहिए।”

“लड्डू के लिए एक दबाए,
रसगुल्ला के लिए दो दबाए,
काजू कतली के लिए तीन दबाए,
गुलाब जामुन के लिए चार दबाए,
मलाई पेड़े के लिए….”

सरदार बोला मुझे लड्डू चाहिए थे,
मैंने एक दबाया,

“बूंदी के लिए एक दबाए,
मोतीचूर के लिए दो दबाए,
मगज के लिए तीन दबाए,
सोंठ के लिए चार……”

सरदार ने दो दबाया…..
मोतीचूर चाहिए।

एक किलो के लिए एक दबाए,
पाँच किलो के लिए दो दबाए,
एक क्विंटल के लिए तीन दबाए…”

गलती से तीसरा बटन दब गया।

डर के मारे सरदार ने फोन काट दिया ।

पर अगले ही पल फ़ोन आया –
“आपसे एक क्विंटल मोतीचूर के लड्डू का आर्डर मिला है,
अपना एड्रेस बताए।”

सरदार बोला – “मैंने तो कोई फोन नहीँ किया है ।”

“आपके भाई ने किया होगा
इसी नंबर से था..
अपने भाई को फ़ोन दीजिए।”

सरदार बोला –
“हम लोग छः भाई हैं,

बड़े से बात के लिए एक दबाए,
उससे छोटे के लिए दो दबाए,
उससे छोटे के लिए तीन दबाए,
उससे छोटे के लिए चार….”

सामने वाले ने फ़ोन काट दिया।

Posted in आयुर्वेद - Ayurveda

साढ़े तीन मिनिट: डॉक्टर की सलाह!

साढ़े तीन मिनिट: डॉक्टर की सलाह!

जिन्हें सुबह या रात में सोते समय पेशाब करने जाना पड़ता हैं उनके लिए विशेष सूचना!!

हर एक व्यक्ति को इसी साढ़े तीन मिनिट में सावधानी बरतनी चाहिए।

यह इतना महत्व पूर्ण क्यों है?
यही साढ़े तीन मिनिट अकस्माक होने वाली मौतों की संख्या कम कर सकते हैं।

जब जब ऐसी घटना हुई हैं, परिणाम स्वरूप तंदुरुस्त व्यक्ति भी रात में ही मृत पाया गया हैं।

ऐसे लोगों के बारे में हम कहते हैं, कि कल ही हमने इनसे बात की थी। ऐसा अचानक क्या हुआ? यह कैसे मर गया?

इसका मुख्य कारण यह है कि रात मे जब भी हम मूत्र विसर्जन के लिए जाते हैं, तब अचनाक या ताबड़तोब उठते हैं, परिणाम स्वरूप मस्तिष्क तक रक्त नही पहुंचता है।

यह साढ़े तीन मिनिट बहुत महत्वपूर्ण होते हैं।

मध्य रात्रि जब हम पेशाब करने उठते है तो हमारा ईसीजी का पैटर्न बदल सकता है। इसका कारण यह है, कि अचानक खड़े होने पर मस्तिष्क को रक्त नहीं पहुच पाता और हमारे ह्रदय की क्रिया बंद हो जाती है।

साढ़े तीन मिनिट का प्रयास एक उत्तम उपाय है।

1. नींद से उठते समय आधा मिनिट गद्दे पर लेटे हुए रहिए।
2. अगले आधा मिनिट गद्दे पर बैठिये।
3. अगले अढाई मिनिट पैर को गद्दे के नीचे झूलते छोड़िये।

साढ़े तीन मिनिट के बाद आपका मस्तिष्क बगैर खून का नही रहेगा और ह्रदय की क्रिया भी बंद नहीं होगी! इससे अचानक होने वाली मौतें भी कम होगी।

आपके प्रियजनो को लाभ हो एवं उन्हें सजग करने हेतु अवश्य प्रसारित करे। धन्यवाद!!