Posted in जीवन चरित्र

एक विधवा जो मालवा की रानी बनी। हमारे देश की रक्षा की और व्यक्तिगत रूप से युद्ध में सेनाओं का नेतृत्व किया। कभी किसी को नहीं लूटा। मालवा को एक समृद्ध राज्य के रूप में विकसित किया। मुगलों द्वारा नष्ट किए गए मंदिरों का पुनर्निर्माण। तीर्थों में धर्मशालाओं का निर्माण किया।

अफगानों, नवाबों और अंग्रेजों के शासन वाले क्षेत्रों को छोड़कर, उसने हर जगह मंदिर बनवाए। उसके बिना, लगभग सभी तीर्थ खंडहर हो चुके होते और कोई भी खड़ा मंदिर नहीं होता। लोगों के कल्याण के लिए कई टैंकों का निर्माण किया।

अहिल्याबाई जिन्होंने पूरे भारत में मंदिरों, अनाथालयों, आवासों और सिंचाई टैंकों का निर्माण किया, उन्होंने एक मामूली निजी जीवन व्यतीत किया। वह महेश्वर के इस छोटे से आवास में रहती थी। अपने लिए कभी कुछ नहीं बनाया। संत रानी फर्श पर सोती थीं। उसके होंठ हमेशा “शिव” कहते थे।

अहिल्याबाई ने कभी मृत्युदंड जारी नहीं किया। बंदियों से व्यक्तिगत शपथ ली और उन्हें रिहा कर दिया। बहुतों ने ईमानदार जीवन अपनाया। उसने 7/12 योजना की शुरुआत की। किसान समृद्ध हुए। सीमा शुल्क से परे कोई व्यापारी कर नहीं। उसकी प्रजा धन प्रदर्शित करने से नहीं डरती थी। उसने काशी विश्वनाथ का पुनर्निर्माण किया!

अहिल्याबाई ने विरासत में मिली संपत्ति से मंदिरों का निर्माण कराया न कि राज्य के कोष से। उसने व्यापारियों और कारीगरों को पूंजी प्रदान करने के लिए राज्य के धन का इस्तेमाल किया। उनका मानना ​​​​था कि उनकी प्रजा द्वारा अर्जित धन पर उनका कोई अधिकार नहीं था।

उनकी बदौलत इंदौर 18वीं सदी में दुनिया के सबसे समृद्ध शहरों में से एक बन गया।

भारत माता की वह बहादुर बेटी, जो हमारे इतिहास की किताबों में कभी नहीं मिली…

और हम जानते हैं क्यों !!

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

♦️♦️♦️ रात्रि कहांनी ♦️♦️♦️

*👉🏿अपूर्व सुनो मधुर व्यवहार मौत का रास्ता बदल सकता है 🏵️
🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅
एक राजा था । उसने एक सपना देखा । सपने में उससे एक परोपकारी साधु कह रहा था कि , बेटा ! कल रात को तुम्हें एक विषैला सांप काटेगा और उसके काटने से तुम्हारी मृत्यु हो जाएगी । वह सर्प अमुक पेड़ की जड़ में रहता है । वह तुमसे पूर्व जन्म की शत्रुता का बदला लेना चाहता है । सुबह हुई । राजा सोकर उठा । और सपने की बात अपनी आत्मरक्षा के लिए क्या उपाय करना चाहिए ? इसे लेकर विचार करने लगा । सोचते – सोचते राजा इस निर्णय पर पहुंचा कि *मधुर व्यवहार से बढ़कर शत्रु को जीतने वाला और कोई हथियार इस पृथ्वी पर नही है ।* उसने सर्प के साथ मधुर व्यवहार करके उसका मन बदल देने का निश्चय किया । शाम होते ही राजा ने उस पेड़ की जड़ से लेकर अपनी शय्या तक फूलों का बिछौना बिछवा दिया ,
सुगन्धित जलों का छिड़काव करवाया , मीठे दूध के कटोरे जगह जगह रखवा दिये और सेवकों से कह दिया कि रात को जब सर्प निकले तो कोई उसे किसी प्रकार कष्ट पहुंचाने की कोशिश न करें । रात को सांप अपनी बांबी में से बाहर निकला और राजा के महल की तरफ चल दिया । वह जैसे आगे बढ़ता गया , अपने लिए की गई स्वागत व्यवस्था को देख देखकर आनन्दित होता गया । कोमल बिछौने पर लेटता हुआ मनभावनी सुगन्ध का रसास्वादन करता हुआ , जगह – जगह पर मीठा दूध पीता हुआ आगे बढ़ता था । इस तरह क्रोध के स्थान पर सन्तोष और प्रसन्नता के भाव उसमें बढ़ने लगे । जैसे – जैसे वह आगे चलता गया , वैसे ही वैसे उसका क्रोध कम होता गया । राजमहल में जब वह प्रवेश करने लगा तो देखा कि प्रहरी और द्वारपाल सशस्त्र खड़े हैं , परन्तु उसे जरा भी हानि पहुंचाने की चेष्टा नही करते । यह असाधारण सी लगने वाले दृश्य देखकर सांप के मन में स्नेह उमड़ आया । सद्व्यवहार , नम्रता , मधुरता के जादू ने उसे मंत्रमुग्ध कर लिया था । कहां वह राजा को काटने चला था , परन्तु अब उसके लिए अपना कार्य असंभव हो गया । हानि पहुंचाने के लिए आने वाले शत्रु के साथ जिसका ऐसा मधुर व्यवहार है , उस धर्मात्मा राजा को काटूं तो किस प्रकार काटूं ? यह प्रश्न के चलते वह दुविधा में पड़ गया । राजा के पलंग तक जाने तक सांप का निश्चय पूरी तरह से बदल गया । उधर समय से कुछ देर बाद सांप राजा के शयन कक्ष में पहुंचा । सांप ने राजा से कहा , राजन ! मैं तुम्हें काटकर अपने पूर्व जन्म का बदला चुकाने आया था , परन्तु तुम्हारे सौजन्य और सद्व्यवहार ने मुझे परास्त कर दिया । अब मैं तुम्हारा शत्रु नही मित्र हूं । मित्रता के उपहार स्वरूप अपनी बहुमूल्य मणि मैं तुम्हें दे रहा हूं । लो इसे अपने पास रखो । इतना कहकर और मणि राजा के सामने रखकर सांप चला गया ।

सारांश:- यह महज कहानी नही जीवन की सच्चाई है । अच्छा व्यवहार कठिन से कठिन कार्यो को सरल बनाने का माद्दा रखता है । यदि व्यक्ति व्यवहार कुशल है तो वो सब कुछ पा सकता है जो पाने की वो हार्दिक इच्छा रखता है । इसलिए दोस्तो चाहे दोस्त हो चाहे दुश्मन, अपने हो या पराये सब के साथ प्रैमपूर्वक और सरल व्यवहार करिए और अपने आप को अच्छा साबित कीजिए।।

🔹🔸🔹♦️🔵♦️🔹🔸🔹

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

एक आदमी ने बंबई के एक मामूली रेस्टोरेंट में भरपेट खाना खाया और जब वेटर ने बिल पेश किया तो वह सीधे मैनेजर के पास गया और ईमानदारी से स्वीकार किया कि उसके पास पैसे नहीं हैं। उसने कहा कि उसने पिछले दो दिनों से कुछ नहीं खाया था और बहुत भूखा था इसलिए उसे ऐसा करने के लिए मजबूर होना पड़ा।

प्रबंधक ने उसकी कहानी को धैर्यपूर्वक सुना क्योंकि उस व्यक्ति ने वादा किया था कि जिस दिन उसे नौकरी मिलेगी सबसे पहले वह बिल का निपटान करेगा। प्रबंधक मुस्कुराया और उसे शुभकामनाएं देने के लिए जाने के लिए कहा। नाटक देख खड़ा हुआ वेटर भौचक्का रह गया। उसने मैनेजर से सवाल किया “साब ने उसे जाने क्यों दिया”। प्रबंधक ने उत्तर दिया, “जाओ और अपना काम करो”।

कुछ महीने बाद वही आदमी रेस्तराँ में आया और वेटर को घोर निराशा में अपना बकाया बिल चुका दिया। उस व्यक्ति ने प्रबंधक को धन्यवाद दिया और कहा कि उसे अभिनय का प्रस्ताव मिला है। मैनेजर ने खुश होकर उसे एक कप चाय की पेशकश की और दोनों के बीच दोस्ती हो गई। अभिनेता जल्द ही एक जाना माना चेहरा बन गया और उसने एक समय में कई फिल्में कीं।

बाद में उनके पास एक बंगला और एक चौफर चालित कार थी। समय बदल गया था लेकिन हर बार जब वह उस क्षेत्र से गुजरता था तो वह उस प्रबंधक के साथ एक कप चाय के लिए रेस्तरां में जाने का एक बिंदु बना लेता था, जिसने वर्षों पहले अविश्वसनीय सहानुभूति दिखाई थी।

विश्वास कभी-कभी चमत्कार करता है। अगर मैनेजर ने उस दिन भूखे आदमी को पीटा और अपमानित किया होता तो शायद इंडस्ट्री को ओम प्रकाश नाम का प्रतिभाशाली और नैसर्गिक अभिनेता नहीं मिलता।

दिग्गज अभिनेता को उनकी जयंती पर नमन
(19 दिसंबर 1919 – 21 फरवरी 1998)
#जुटाया हुआ

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

મહારાજ દેપાળદે ગોહિલ – ભાવનગર સ્ટેટ.

ઉનાળો આવ્યો છે. ધોમ તડકો ધખે છે.
આભમાંથી જાણે અગ્નિ વરસે છે.
ઊની ઊની લૂ વાય છે.
પારેવાં ફફડે છે.
ચૈત્ર મહિનો ગયો. વૈશાખ ગયો. જેઠ આવ્યો.
નદી-સરોવરનાં પાણી સુકાણાં,
ઝાડવાંનાં પાન સુકાણાં માણસોનાં શરીસ સુકાણાં,
પશુ-પંખી પોકાર કરવા લાગ્યાં.

રાજા દેપાળદે ભગવાનના ભક્ત છે રાતે ઉજાગરા કરે છે પ્રભુને અરજ કરે છે ‘હે દયાળુ! મે’ વરસાવ! મારાં પશુ પંખી અને માનવી ભૂખ્યાં-તરસ્યાં મરે છે.’

પ્રભુએ જાણે રાજાજીની અરજ સાંભળી.

અષાઢ મહિનો બેઠો ને મેહુલા વરસવા લાગ્યા. ધરતી તરબોળ થઈ. ડુંગરા ઉપર ઘાસ ઊગ્યાં.

દેપાળદે ઘોડે ચડ્યા. રાજ્યમાં ફરવા નીકળ્યા. જોઉં તો ખરો મારી વસ્તી સુખી છે કે દુખી? જોઉં તો ખરો ખેડૂત ખેતર ખેડે છે કે નહિ ? દાણા વાવે છે કે નહિ ? તમામનાં ઘરમાં પૂરા બળદ ને પૂરા દાણા છે કે નહિ?

ઘોડે ચડીને રાજા ચાલ્યા જાય. ખેતરે ખેતરે જોતા જાય. મોરલા ટૌકે છે પશુડાં ચરે છે નદીઓ ખળખળ વહે છે અને ખેડૂતો ગાતા ગાતા દાણા વાવે છે.

સહુને સાંતીડે બબ્બે બળદો, બળદો પણ કેવા! ધીંગા અને ધફડિયા.

પણ એક ઠેકાણે રાજાજીએ ઘોડો રોક્યો. જોઈ જોઈને એનું દિલ દુભાયું. કળીએ કળીએ એનો જીવ કપાયો. એક માણસ હળ હાંકે છે પણ હળને બેય બાજુ બળદ નથી જોતર્યા એક બાજુ જોતરેલ છે બળદ ને બીજી બાજુ જોતરેલ છે એક બાયડી.

માણસ હળ હાંકતો જાય છે બળદનેય લાકડી મારતો જાય છે બાયડીનેય લાકડી મારતો જાય છે.

બાયડીના બરડામાં લાકડીઓના સોળ ઊઠી આવ્યા છે.

બાઈ તો બિચારી રોતી રોતી હળ ખેંચે છે. ઊભી રહે તો માર ખાય છે.

રાજા દેપાળદે એની પાસે ગયા.
જઈને કહ્યું ‘અરે ભાઈ! હળ તો ઊભું રાખ !’
‘ઊભું તો નહિ જ રાખું. મારે વાવણી મોડી થાય તો?
તો ઊગે શું તારું કપાળ?

વાવણી ને ઘી-તાવણી ! મડું ઢાંકીનેય વાવણી કરવી પડે ઠાકોર !’

એટલું બોલીને ખેડૂતે હળ હાંક્યે રાખ્યું. એક લાકડી બળદને મારી અને એક લાકડી બાઈને મારી.

રાજાજી હળની સાથે સાથે ચાલ્યા. ખેડૂતને ફરી વીનવ્યો ‘અરેરે ભાઈ ! આવો નિર્દય?

બાયડીને હળમાં જોડી !’ ‘તારે શી પંચાત ? બાયડી તો મારી છે ને?
ધરાર જોડીશ. ધરાર મારીશ.’ ‘અરે ભાઈ શીદ જોડી છે?

કારણ તો કહે !’ ‘મારો એક ઢાંઢો મરી ગયો છે. હું તો છું ગરીબ ચારણ. ઢાંઢો લેવા પૈસા ન મળે.

વાવણી ટાણે કોઈ માગ્યો ન આપે,
વાવું નહિ તો આખું વરસ ખાઉં શું?
બાયડી-છોકરાંને ખવરાવું શું?
એટલા માટે આને જોડી છે !’

‘સાચી વાત ! ભાઈ સાચેસાચી વાત ! લે હું તને બળદ લાવી આપું પણ બાયડીને તું છોડી નાખ. મારાથી એ નથી જોવાતું.’
પે’લાં બળદ મગાવી આપ પછી હું એને છોડીશ,
તે પહેલા નહિ છોડું.
હળને ઊભું તો નહિ જ રાખું. આ તો વાવણી છે ખબર છે ?’

રાજાએ નોકર દોડાવ્યો ‘જા ભાઈ સામાં ખેતરોમાં. મોં-માગ્યાં મૂલ દેજે. બળદ લઈને ઘડીકમાં આવજે.’ તોય ખેડૂત તો હળ હાંકી જ રહ્યો છે. બાઈ હળ ખેંચી શકતી નથી. એની આંખોમાંથી આંસુ ઝરે છે. રાજા બોલ્યા ‘લે ભાઈ હવે તો છોડ. આટલી વાર તો ઊભો રહે.’ ખેડૂત બોલ્યો ‘આજ તો ઊભા કેમ રહેવાય ? વાવણીનો દિવસ. ઘડીકના ખોટીપામાં આખા વરસના દાણા ઓછાં થઈ જાય !’

રાજાજી દુભાઈ ગયા ‘તું પુરુષ થઈને આટલો બધો નિર્દય?

તું તો માનવી કે રાક્ષસ?’ ખેડૂતની જીભ તો કુહાડા જેવી ! તેમાંય પાછો ચારણ ખેડૂત ! બોલે ત્યારે તો જાણે લુહારની કોઢનાં ફૂલડાં ઝરે ! એવું જ બોલ્યો ‘તું બહુ દયાળુ હો તો ચાલ જૂતી જા ને ! તને જોડું ને બાયડીને છોડું. ઠાલો ખોટી દયા ખાવા શા સારું આવ્યો છો ?’ ‘બરાબર ! બરાબર !’ કહીને રાજા દેપાળદે ઘોડા પરથી ઊતર્યા.

અને હળ ખેંચવા તૈયાર થઈ ગયા. કહ્યું ‘લે છોડ એ બાઈને અને જોડી દે મને.’ બાઈ છૂટી એને બદલે રાજાજી જુતાણા. માણસો જોઈ રહ્યાં. ચારણ તો અણસમજુ હતો. રાજાને બળદ બનાવીને એ તો હળ હાંકવા લાગ્યો. મારતો મારતો હાંક્યે જાય છે. ખેતરને એક છેડેથી બીજે છેડે રાજાએ હળ ખેંચ્યું. એક ઊથલ પૂરો થયો ત્યાં તો બળદ લઈને નોકર આવી પહોંચ્યો. રાજા છૂટા થયા. ચારણને બળદ આપ્યો.

ચારણીની આંખમાંથી તો દડ દડ હેતનાં આંસુડાં દડ્યાં. એ તો રાજાનાં વારણાં લેવા લાગી ‘ખમ્મા મારા વીરા! ખમ્મા મારા બાપ! કરોડ દિવાળી તારાં રાજપાટ તપજો!’

દેપાળદે રાજા ભારે હૈયે ચાલ્યા ગયા. ચોમાસું પૂરું થયું. દિવાળી ઢૂંકડી આવી. ખેતરમાં ઊંચા ઊંચા છોડવા ઊગ્યા છે. ઊંટ ઓરાઈ જાય તેટલા બધા ઊંચા! દરેક છોડની ઉપર અક્કેક ડૂંડું પણ કેવડું મોટું? વેંત વેંત જેવડું! ડૂંડામાં ભરચક દાણા! ધોળી ધોળી જુવાર અને લીલા લીલા બાજરા. જોઈ જોઈને ચારણ આનંદ પામ્યો. પણ આખા ખેતરની અંદર એક ઠેકાણે આમ કેમ? ખેતરને એક છેડેથી બીજા છેડા સુધીની હાર્યમાં એકેય છોડને ડૂંડાં નીંઘલેલાં જ ન મળે ! એટલે કે એક પણ ડૂંડામાં દાણા જ ન મળે આ શું કૌતુક ! ચારણને સાંભર્યું ‘હા હા ! તે દી હું વાવણી કરતો હતો ને ઓલ્યો દોઢડાહ્યો રાજા આવ્યો હતો. એ મારી બાયડીને બદલે હળે જૂત્યો’તો. આ તો એણે હળ ખેંચેલું તે જ જગ્યા. કોણ જાણે કેવોય પાપિયો રાજા! એનાં પગલાં પડ્યાં એટલી ભોમાં મારે કાંઈ ન પાક્યું. વાવેલા દાણાય ફોગટ ગયા!’ ખિજાઈને ચારણ ઘેર ગયો જઈને બાયડીને વાત કરી ‘જા જઈને જોઈ આવ ખેતરમાં. એ પાપિયાના પગ પડ્યા તેટલી ભોંયમાં મારું અનાજેય ન ઊગ્યું.’

બાઈ કહે ‘અરે ચારણ! હોય નહિ. એ તો હતા રામરાજા. સાચે જ તું જોતાં ભૂલ્યો. ત્યારે તું જઈને જોઈ આવ. ફરી મળે તો હું એને ટીપી જ નાખું. એણે મારા દાણા ખોવરાવ્યા. કેવા મેલા પેટનો માનવી !’ દોડતી દોડતી ચારણી ખેતરે ગઈ. પેટમાં તો થડક થડક થાય છે,

સૂરજ સામે હાથ જોડે છે સ્તુતિ કરે છે ‘હે સૂરજ તમે તપો છો તમારાં સત તપે છે તોય સતિયાનાં સત શીદ ખોટાં થાય છે? મારા રાજાના સતની રક્ષા કરજો બાપ!’ જુએ ત્યાં તો સાચોસાચ એક ઊથલ જેટલા છોડવાનાં ડૂંડા નીંઘલ્યાં જ નહોતાં ને બીજા બધા છોડવા તો ડૂંડે ભાંગી પડે છે ! આ શું કૌતુક ! પણ એ ગાંડા ચારણની ચારણી તો ચતુર સુજાણ હતી. ચારણી હળવે હળવે એ હાર્યના એક છોડવા પાસે ગઈ. હળવે હળવે છોડવો નમાવ્યો હળવેક ડૂંડું હાથમાં લીધું. હળવે હાથે ડૂંડા પરથી લીલું પડ ખસેડ્યું. આહાહાહા! આ શું? દાણા નહિ પણ સાચાં મોતીડાં ! ડૂંડે ડૂંડે

મોતીડાં ચકચકતાં રૂપાળાં રાતા પીળાં અને આસમાની મોતીડાં. મોતી ! મોતી! મોતી! રાજાજીને પગલે પગલે મોતી નીપજ્યાં! ચારણીએ દોટ દીધી ઘેર પહોંચી. ચારણનો હાથ ઝાલ્યો ‘અરે મૂરખા ચાલ તો મારી સાથે ! તને દેખાડું કે રાજા પાપી કે ધર્મી હતો.’

પરાણે એને લઈ ગઈ જઈને દેખાડ્યું મોતી જોઈને ચારણ પસ્તાયો ‘ઓહોહો ! મેં આવા પનોતા રાજાને – આવા દેવરાજાને – કેવી ગાળો દીધી !’

બધાં મોતી ઉતાર્યાં. ચારણે ફાંટ બાંધી પરભાર્યો દરબારને ગામ ગયો. કચેરી ભરીને રાજા દેપાળદે બેઠા છે. ખેડૂતોનાં સુખદુખની વાતો સાંભળે છે. મુખડું તો કાંઈ તેજ કરે છે ! રાજાજીનાં ચરણમાં ચારણે મોતીની ફાંટ મૂકી દીધી. લૂગડું ઉઘાડી નાખ્યું આખા ઓરડામાં મોતીનાં અજવાળાં છવાયાં. રાજાજી પૂછે છે ‘આ શું છે ભાઈ?

ચારણ લલકારીને મીઠે કંઠે બોલ્યો જાણ્યો હત જડધાર નવળંગ મોતી નીપજે તો વવારત વડ વાર દી બાધો દેપાળદે

[હે દેપાળદે રાજા ! જો મેં પહેલેથી જ એમ જાણ્યું હોત કે તું શંકરનો અવતાર છે જો મને પહેલેથી જ ખબર પડી હોત કે તારે પગલે પગલે તો નવલખાં મોતી નીપજે છે તો તો હું તને તે દિવસ હળમાંથી છોડત શા માટે ? આખો દિવસ તારી પાસે જ હળ ખેંચાવત ને! – આખો દિવસ વાવ્યા કરત તો મારું આખું ખેતર મોતી મોતી થઈ પડત]

રાજાજી તો કાંઈ સમજ્યા નહિ. ‘અરે ભાઈ ! તું આ શું બોલે છે?’

ચારણે બધી વાત કરી. રાજાજી હસી પડ્યા ‘અરે ભાઈ! મોતી કાંઈ મારે પુણ્યે નથી ઊગ્યાં. એ તો તારી સ્ત્રીને પુણ્યે ઊગ્યાં છે એને તેં સંતાપી હતી એમાંથી એ છૂટી. એનો જીવ રાજી થયો એણે તને આશિષ આપી તેથી આ મોતી પાક્યાં.’ ચારણ ચાલવા માંડ્યો.

uરાજાજીએ તેને ઊભો રાખ્યો ‘ભાઈ ! આ મોતી તારાં છે. તારા ખેતરમાં પાક્યાં છે. તું જ લઈ જા !’ ‘બાપા ! તમારા પુણ્યનાં મોતી ! તમે જ રાખો.’ ‘ના ભાઈ ! તારી સ્ત્રીનાં પુણ્યનાં મોતી એને પહેરાવજે. લે હું સતીની પ્રસાદી લઈ લઉં છું.’ રાજાજીએ એ ઢગલીમાંથી એક મોતી લીધું. લઈને માથા પર ચડાવ્યું. પછી પરોવીને ડોકમાં પહેર્યું. ચારણ મોતી લઈને ચાલ્યો ગયો ઘેર જઈને ચારણીના પગમાં પડ્યો…

M D Parmar

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

1973 की फ़िल्म नमक हराम में एक सीन है जिसमें राजेश खन्ना मज़दूरों को उकसा रहा होता है हड़ताल के लिए, और ए के हंगल, जो उस समय यूनियन का अध्यक्ष होता है उसे डाँटता है कि क्यूँ असम्भव माँगे उठाकर मज़दूरों को उकसा रहे हो, ऐसी माँगे जिन्हें मालिक माने तो फ़ैक्टरी ही बंद हो जाय |
राजेश खन्ना अमिताभ का दोस्त है जिसे अमिताभ ने प्लांट किया था, हंगल को हटाने के लिए, अपने अपमान का बदला लेने के लिए |
राजेश खन्ना बढ़ चढ़ कर माँगे उठाता, और अमिताभ बच्चन कुछ प्रतिरोध का ढोंग कर मान लेता। धीरे धीरे मज़दूरों में राजेश खन्ना लोकप्रिय होता गया, व अंतत ए के हंगल की यूनियन के चुनाव में राजेश खन्ना के हाथो हार हुई |
भारत को एक फ़ैक्टरी माने व फ़िल्म नमक हराम को याद करे तो सब एकदम समझ में आ जाएगा |
कोई अनुसूचित जाति/जनजाति का नेता, तो कोई इस पिछड़ी जाति का नेता व कोई उस पिछड़ी जाति का नेता, कोई पिछड़ी जाति बनने के प्रयास में जुटी जाति का नेता। किसी को प्रमोशन में आरक्षण चाहिए तो किसी को निजी क्षेत्र में | तो कोई पूरी आरक्षण व्यवस्था का विरोधी नेता। कोई किसान नेता तो कोई मज़दूर नेता, कोई GST का विरोधी व्यापारी नेता, कोई पे कमिशन से नाराज़ सरकारी कर्मचारियों का नेता | कोई पेट्रोल की क़ीमत से नाराज़ मध्यम वर्ग का नेता | हर कोई नाराज़ | रोज़ कही ये प्रदेश बंद तो कल दूसरा प्रदेश बंद | कभी पूरा भारत बंद |
सब के तार लूटीयन माफ़िया के हाथ में, सबकी फ़ंडिंग लूटीयन माफ़िया के हाथ में | सब लूटीयन माफ़ीया के दरबारी | कोई चोरी छिपे मत्था टेक आता है तो कोई खुलेआम गले लग जाता है |
अधिकतर मैंगो पीपल आज के लिए जीते है: आज मुफ़्त दो, आज आरक्षण बढ़ाओ बेटा जवान होने वाला है, आज सस्ता दो, आज फ़सल के दाम बढ़ाओ, आज टैक्स कम करो, आज वेतन बढ़ाओ, कल सरकार दिवालिया हो तो हो, और सरकार दिवालिया क्यूँ होगी भला, नोट छाप लेगी, अम्बानी पर टैक्स बढ़ाओ | हमें गणित मत पढ़ाओ, चुनाव आने वाला है देख लेंगे | बुरे नेता जानते है कि एक या दो टर्म चाहिए बस दिल्ली में बच्चों के लिए फ़ार्म हाउस की व्यवस्था करने में व स्विस विला व स्विस अकाउंट की व्यवस्था करने में | उसके बाद देश दिवालिया हो तो हो, अपने आप सोना गिरवी रखते घूमेंगे जिन्हें देश चाहिए होगा | इसलिए वे हर माँग मान लेने का वादा करते है | ये भी सोचते है कि इन राजेश खन्नाओ के तार तो अपने ही हाथ में है, थोड़ी लूट इन्हें भी दे देंगे, या फिर इन्हें मसल देंगे |
भिंडरावाले से आरम्भ हुआ ये राजेश खन्ना पालने का खेल अभी तक लूटीयन माफ़िया ने बंद नहीं किया है |
और इस जाति व उस जाति, इस वर्ग या उस वर्ग के ये असम्भव माँगे उठाने वाले नीकृष्ट व घृणित लोग, लूटीयन माफ़िया के टुकड़ों के लालच में अपने ही लोगों का जीवन नष्ट करने वाले लोग, इन्हीं में से कभी कोई भिंडरावाले निकल आता है जो लूटीयन माफ़ीया को ही निगल लेता है |
फ़िल्म में तो राजेश खन्ना की आत्मा जग गयी थी | लेकिन लूटीयन के इन राजेश खन्नाओ की आत्मा कभी नहीं जगती |
मुक्त बाज़ार व्यवस्था न हुई तो एक सौ तीस करोड़ लोगों को कोई नियंत्रण में नहीं कर पाएगा। लूटीयन माफ़िया तो भाग जाएगा | कुछेक राजेश खन्ना भी लूटीयन माफ़िया के हवाई जहाज़ के पहिए वग़ैरह पकड़ कर निकल जाएँगे | रह जाएँगे एक सौ तीस करोड़ अभागे लोग |

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक, रामायण - Ramayan

मर्यादापुरूषोत्तमराम

माता शबरी बोली- यदि रावण का अंत नहीं करना होता तो राम तुम यहाँ कहाँ से आते?”

राम गंभीर हुए। कहा, “भ्रम में न पड़ो अम्मा! राम क्या रावण का वध करने आया है? छी… अरे रावण का वध तो लक्ष्मण अपने पैर से वाण चला कर भी कर सकता है। राम हजारों कोस चल कर इस गहन वन में आया है तो केवल तुमसे मिलने आया है अम्मा, ताकि हजारों वर्षों बाद जब कोई पाखण्डी भारत के अस्तित्व पर प्रश्न खड़ा करे तो इतिहास चिल्ला कर उत्तर दे कि इस राष्ट्र को क्षत्रिय राम और उसकी भीलनी माँ ने मिल कर गढ़ा था !जब कोई कपटी भारत की परम्पराओं पर उँगली उठाये तो तो काल उसका गला पकड़ कर कहे कि नहीं ! यह एकमात्र ऐसी सभ्यता है जहाँ एक राजपुत्र वन में प्रतीक्षा करती एक दरिद्र वनवासिनी से भेंट करने के लिए चौदह वर्ष का वनवास स्वीकार करता है। राम वन में बस इसलिए आया है ताकि जब युगों का इतिहास लिखा जाय तो उसमें अंकित हो कि सत्ता जब पैदल चल कर समाज के अंतिम व्यक्ति तक पहुँचे तभी वह रामराज्य है। राम वन में इसलिए आया है ताकि भविष्य स्मरण रखे कि प्रतिक्षाएँ अवश्य पूरी होती हैं !!!

सबरी एकटक राम को निहारती रहीं। राम ने फिर कहा- ” राम की वन यात्रा रावण युद्ध के लिए नहीं है माता! राम की यात्रा प्रारंभ हुई है भविष्य के लिए आदर्श की स्थापना के लिए। राम आया है ताकि भारत को बता सके कि अन्याय का अंत करना ही धर्म है l राम आया है ताकि युगों को सीख दे सके कि विदेश में बैठे शत्रु की समाप्ति के लिए आवश्यक है कि पहले देश में बैठी उसकी समर्थक सूर्पणखाओं की नाक काटी जाय, और खर-दूषणो का घमंड तोड़ा जाय। और राम आया है ताकि युगों को बता सके कि रावणों से युद्ध केवल राम की शक्ति से नहीं बल्कि वन में बैठी सबरी के आशीर्वाद से जीते जाते हैं।”

सबरी की आँखों में जल भर आया था। उसने बात बदलकर कहा- कन्द खाओगे राम?

राम मुस्कुराए, “बिना खाये जाऊंगा भी नहीं अम्मा…”

सबरी अपनी कुटिया से झपोली में कन्द ले कर आई और राम के समक्ष रख दिया। राम और लक्ष्मण खाने लगे तो कहा- मीठे हैं न प्रभु?

यहाँ आ कर मीठे और खट्टे का भेद भूल गया हूँ अम्मा! बस इतना समझ रहा हूँ कि यही अमृत है…

सबरी मुस्कुराईं, बोलीं- “सचमुच तुम मर्यादा पुरुषोत्तम हो राम! गुरुदेव ने ठीक कहा था…”

आर के वर्मा

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

एक होस्टल कैंटीन वाले के रोज़-रोज़
नाश्ते में खिचड़ी दे देने से परेशान
80 छात्रों ने होस्टल वार्डन से
शिकायत करी, और
बदल-बदल के नाश्ता देने को कहा.100 में से सिर्फ 20 छात्र ऐसे थे, जिनको खिचड़ी बहुत पसंद थी, और वो छात्र चाहते थे, कि खिचड़ी तो रोज़ ही बने. बाकी के 80 छात्र परिवर्तन चाहते थे. *वार्डन ने वोट करके* *नाश्ता तय करने को कहा.* उन 20 ने एकजुट होकर खिचड़ी के लिए वोट किया. बाकी बचे 80 लोगों ने

आपस में कोई सामंजस्य नहीं रखा,
और कोई वार्तालाप भी नहीं किया,
और अपनी बुद्धि एवम् विवेक से
अपनी रूचि अनुसार वोट दिया.

18 ने डोसा चुना,
16 ने परांठा,
14 ने रोटी,
12 ने ब्रेड बटर,
10 ने नूडल्स , और
10 ने पूरी सब्जी को वोट दिया. 🤔 *अब सोचो* 🤔 *क्या हुआ होगा ?* *उस कैंटीन में आज भी*

वो 80 छात्र, रोज़ खिचड़ी ही खाते हैं.
क्यों – क्योंकि वो 20छात्र बहुमत में व एकजुट रहे

शिक्षा👉🏻 जब तक हिस्सों में 80 बंटे रहोगे,
तब तक 20% वालों का वर्चस्व रहेगा.

संदेश

एक बनो, संगठित रहो !!

नही तो खिचड़ी ही खानी पड़ेगी

🙏🌹 वंदेमातरम्🌹🙏

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

आज का ज्ञान –

गामा पहलवान को गूगल कीजिये, तो आपको बताया जाएगा कि गामा पहलवान, जीवन में किसी से नहीं हारे, लेकिन ये सत्य नहीं है | गामा पहलवान का असली नाम ग़ुलाम मुहम्मद बख्श था | भारत विभाजन के बाद, ये पाकिस्तान में बस गए थे | बडौदा के संग्रहालय में एक पत्थर रखा है, जिसका वजन 1200 किलो है | 23 दिसम्बर 1902 को इतने भारी पत्थर को उठा कर, गामा पहलवान कुछ कदम चले थे | एक अकेले आदमी के १२०० किलो का पत्थर उठाने का अजूबा करने वाले, पहलवान का नाम था, गामा पहलवान | आज भी वो पत्थर बडौदा में रखा हुआ है लेकिन उस गामा पहलवान को जिसे दुनिया में कोई नहीं हरा सका, उसे हराया, मथुरा के प्रसिद्ध पहलवान चन्द्र सेन टिक्की वाले ने (मथुरा के प्रसिद्ध मोहन पहलवान के पिता) |

ये सारा किस्सा आपको इन्टरनेट पर नहीं मिलेगा क्योंकि इन्टरनेट पर सब कुछ उपलब्ध नहीं है | मथुरा के प्रसिद्ध बलदेव पहलवान ने, अपनी उम्र बढ़ने के कारण मथुरा के ही, चन्द्र सेन टिक्की वाले को बोला कि तुम अभी जवान हो, तुम जाकर गामा पहलवान से लड़ो | चंद्रसेन टिक्की वाले ने कहा कि मेरी तबीयत ठीक नहीं है, बुखार है | मैं नहीं जा पाऊंगा कलकत्ता लड़ने तो बलदेव जी ने कहा कि तुम्हारे लंगोट पर मैं 5000 रूपये ( उस समय के) लगाता हूँ | ये सुनकर, चंद्रसेन टिक्की वाले जोश में आ गए और बोले अब तो गुरु (गुरु, ब्रज में मित्र और गुरु या जानकार, किसी को भी कह देते हैं ) जाना ही पड़ेगा |

चन्द्र सेन टिक्की वाले, कलकत्ता पहुँच गये और गामा पहलवान से कुश्ती की बात रख दी पर खरीद फरोक्त खेलों में आज ही नहीं, पहले भी होती थी और उनको भी कहा गया कि तुम मत लड़ो (चन्द्र सेन टिक्की वाले, लम्बाई चौड़ाई में, गामा पहलवान से दुगुने नहीं तो डेढ़ गुने तो रहे ही होंगे) पर चन्द्र सेन पहलवान ने मना कर दिया कि वो जुबान दे कर आये हैं, लड़ कर ही जायेंगे |

कुश्ती शुरू हुई, अखाड़ा सजा | कुश्ती शुरू होते ही, गामा पहलवान ने ऐसा दांव खेला कि चन्द्रसेन पहलवान का अंगूठा चीर दिया (अंगूठे और हाथ को पकड़ कर, खींच दिया) और वहन दंगल में खून खून हो गया | चंद्रसेन जी को ये बात समझ नहीं आई कि कुश्ती में, ऐसा काम नहीं किया जाता है और ये कैसी कुश्ती थी ..उन्होंने फिर एक ही दांव खेला और ऐसा खेला कि गामा पहलवान उसी एक दांव में बेहोश |

लोग बड़े खुश हुए, कि जिस पहलवान को पूरे भारत में कोई नहीं हरा पाया, उसे मथुरा के एक पहलवान ने हरा दिया | पूरे कलकत्ता में जुलूस निकला | दानदाता और खेल के प्रशंसको ने पेटियां खोल दी और लाखो रूपये का इनाम चन्द्र सेन टिक्की वाले को मिला | कहते हैं, उन्होंने वापिस मथुरा आकर, 16 कोठियां या मकान खरीदे |

तो जिसने 1200 किलो का पत्थर उठा लिया और पूरे भारत और दुनिया में रुस्तमे हिन्द (कैसे ये हार छुप गयी, पता नहीं) और रुस्तमे जहाँ का खिताव जीता उसे चन्द्र सेन टिक्की वाले ने हरा दिया… तो चन्द्र सेन टिक्की वाले कौन हुए ? बली ? नहीं ! वो हुए बलिष्ठ | बालियों में भी बली, बलिष्ठ यानि महाबली आप कह सकते हैं | ऐसे ही वशिष्ठ माने क्या ? जो वशियों में (इन्द्रियों आदि को वश में करने वाले) श्रेष्ठ हैं, वो वशिष्ठ हैं | ऐसे ही धर्मिष्ठ कौन ? धर्म में जो श्रेष्ठ हों वो धर्मिष्ठ | महिष्ठ माने जो महानो में भी महान हैं वो महिष्ठ और जो ज्ञानियों में भी ज्ञानी हो वो हुए गरिष्ठ (आयुर्वेद में इसका अर्थ, न पचने वाला भी है) | अब मजेदार बात ये है कि आप गूगल करेंगे तो आपको चन्द्रसेन टिक्की वाले के बारे में एक लाइन भी नहीं मिलेगी, इसीलिए मुझे लिखना जरूरी लगा | मैंने लिख दिया, इसको शेयर करना है, नहीं करना है, वो आप जानें |

अब ये सब बातें मुझे कैसे पता चली तो इसका सार ये है कि

ज्यों केले के पात में, पात पात में पात,
त्यों संतन की बात में, बात बात में बात |