Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

.
☀️’प्रेरणादायक कहानी – हमारे कर्म’☀️


शहर में एक अमीर सेठ रहता था! उसके पास बहुत पैसा था! वह बहुत फैक्ट्रियों का मालिक था!

एक शाम अचानक उसे बहुत बेचैनी होने लगी! डाक्टर को बुलाया गया सारे जांच करवा लिये गए पर कुछ भी नहीं निकला! लेकिन उसकी बेचैनी बढती गई! उसके समझ मे नही आ रहा था कि ये हो क्या रहा है! रात हुई, नींद की गोलियां भी खा ली पर न नींद आने को तैयार और न ही बेचैनी कम होने का नाम ले! वो रात को उठकर तीन बजे घर के बगीचे मे घूमने लगा! घूमते- घूमते उसे लगा कि बाहर थोड़ा सा सुकून है तो वह सड़क पर पैदल ही निकल पडा़!

चलते- चलते हजारों बिचार मन में चल रहे थे! अब वो घर से बहुत दूर निकल आया था और थकान की वजह से वो एक चबूतरे पर बैठ गया! उसे थोड़ी शांति मिली तो वह आराम से बैठ गया! इतने में एक कुत्ता वहां आया और उसकी चप्पल उठाकर ले गया! सेठ ने देखा तो वह दूसरी चप्पल उठाकर उस कुत्ते के पीछे भागा! कुत्ता पास ही बनी जुग्गी- झोपड़ी मे घुस गया! सेठ भी उसके पीछे था, सेठ को करीब आता देखकर कुत्ते ने चप्पल वहीं छोड़ दी और चला गया! सेठ ने राहत की सांस ली और अपनी चप्पल पहनने लगा! इतने में उसे किसी के रोने की आवाज सुनाई दी! वह और करीब गया तो एक झोपड़ी में से आवाज आ रही थी! उसने झोपड़ी के फटे हुये बोरे में झांक कर देखा तो वहां एक औरत फटेहाल मैली सी चादर पर दीवार से सटकर रो रही है! और ये बोल रही है—हे भगवान मेरी मदद करो और रोती जा रहीं है! सेठ के मन में कि यहाँ से चला जाऊँ, कहीं कुछ गलत ना सोच लें! वो थोड़ा आगे बढ़ा तो उसके दिल में ख्याल आया कि आखिर वो औरत क्यों रो रहीं है, उसको तकलीफ क्या है?और उसने अपने दिल की सुनी और वहाँ जाकर दरवाजा खटखटाया!

उस औरत ने दरवाजा खोला और सेठ को देख कर घबरा गयी! तो सेठ ने हाथ जोड़कर कहा तुम घबराओं मत,मुझे तो बस इतना जानना है कि तुम रो क्यों रही हो!

वह औरत के आंखों में से आंसू टपकने लगें! और उसने पास ही गोदड़ी में लिपटी हुई उसकी 7-8 साल की बच्ची की ओर इशारा किया! और रोते- रोते कहने लगी कि मेरी बच्ची बहुत बीमार है उसके इलाज में बहुत खर्चा आएगा! और मैं तो घर में जाकर झाड़ू- पोछा करके जैसे-तैसे हमारे पेट पालती हूँ! मैं कैसे इलाज कराऊं इसका? सेठ ने कहा-तो किसी से मांग लो! इसपर औरत बोली मैंने सबसे मांगे कर देख लिया खर्चा बहुत है कोई भी देने को तैयार नहीं! तो सेठ ने कहा तो ऐसे रात को रोने से मिल जाएगा क्या?

तो औरत ने कहा कल एक संत यहाँ से गुजर रहे थे तो मैंने अपनी समस्या बताई तो उन्होंने कहा बेटा- तुम सुबह 4 बजे उठकर अपने ईश्वर से मांगो ! बोरी बिछाकर बैठ जाओ और रो-गिड़गिड़ा के उससे मदद मांगों वो सबकी सुनता है तो तुम्हारी भी सुनेगा! मेरे पास इसके अलावा कोई चारा नहीं था! इसलिए मैं उससे मांग रही थी और बहुत जोर से रोने लगी! ये सब सुनकर सेठ का दिल पिघल गया और उसने तुरंत एम्बुलेंस बुलवायी और उस लड़की को एडमिट करवा दिया! डाक्टर ने डेढ़ लाख का खर्चा बताया तो सेठ ने उसकी जबाबदारी अपने ऊपर ले ली और उसका इलाज करवाया! और उस औरत को अपने यहाँ नौकरी देकर अपने बंगले के सर्वेंट क्वार्टर में जगह दी! और उस लड़की की पढ़ाई का जिम्मा भी ले लिया! वो सेठ कर्म प्रधान तो था पर नास्तिक था अब उसके मन में सैकड़ों सबाल चल रहे थे!

क्योंकि उसकी बेचैनी तो उस वक्त ही खत्म हो गयी थी जब उसने एम्बुलेंस को बुलवाया था! वह यह सोच रहा था कि आखिर कौन सी ताकत है जो मुझे वहाँ तक खींच के ले गयी? क्या यही ईश्वर है? और यदि ये ईश्वर है तो सारा संसार आपस में धर्म, जात-पात के लिए क्यों लड़ रहा है! क्योंकि ना मैंने उस औरत की जात पूछी और ना ही ईश्वर ने जात -पात देखी! बस ईश्वर ने तो उसका दर्द देखा और मुझे इतना घुमाकर उस तक पहुंचा दिया! अब सेठ समझ चुका था कि कर्म के साथ सेवा भी कितनी जरूरी है क्योंकि इतना सुकून उसे जीवन में कभी भी नहीं मिला था!

तो बंधुओ मानव और प्राणी सेवा का धर्म ही असली भक्ति है! यदि ईश्वर की कृपा या आशीर्वाद पाना चाहते हो तो इंसानियत अपना लो और समय-समय पर उन सबकी मदद करो जो लाचार या बेबस हैं! क्योंकि ईश्वर उन्हीं के आस-पास रहता है

Author:

Buy, sell, exchange books

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s