Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

મહાભારતનાં યુદ્ધમાં કોણ બનાવતું હતું લાખો સૈનિકોનું ભોજન?

આજથી આશરે પાંચ હજાર વર્ષ પૂર્વે કુરુક્ષેત્રનાં મેદાનમાં હસ્તિનાપુરના જ એક ઘરના બે પરિવારો વચ્ચે લડાયેલું મહાભારતનું યુધ્ધ વિશ્વના ઇતિહાસની એક અજોડ ઘટના હતી.

કૌરવ પક્ષની ૧૧ અક્ષૌહિણી સેના અને પાંડવ પક્ષની ૭ અક્ષૌહિણી સેના વચ્ચે થયેલું આ ૧૮ દિવસના યુધ્ધની ભયાનકતાનો અંદાજ કાઢવો મુશ્કેલ છે. આશરે ૫૦,૦૦,૦૦૦ યોદ્ધાઓ રણભૂમિ પર ઉતર્યા હતા!

આટલા માણસોનાં ભોજનનું શું?

આવો પ્રશ્ન કદાચ તમારા મનમાં કદી જાગ્યો નહી હોય. જાગ્યો હશે તો પણ તેનો ઇચ્છીત જવાબ નહી મળ્યો હોય.

સવાલ ખરેખર સ્વાભાવિક છે અને પેચીદો પણ! દરરોજ આટલા યોદ્ધાઓને ખવડાવવું શું?

રણભૂમિ હસ્તિનાપુરથી જોજનો દૂર હોવાને નાતે સ્વાભાવિક છે કે ઘરેથી તો ભોજન ના આવતું હોય! ભોજનની વ્યવસ્થા તો રણમેદાનમાં જ કરવી પડે.

આટલા સૈનિકોને ખાવાનું પૂરું પાડવું એ કંઈ ખાવાના ખેલ તો હતા નહી! યુધ્ધની શરૂઆતમાં સૈનિકોનો આંકડો ૫૦ લાખનો હતો. વળી, દરેક દિવસે હજારો સૈનિકો યુધ્ધમાં મૃત્યુ પામે. એટલે દરરોજ જીવતા રહેલા સૈનિકોની સંખ્યા પ્રમાણે ભોજનમાં પણ ફેરકાર કરવો પડે.

દરરોજ હજારોની સંખ્યામાં મૃત્યુ પામતા સૈનિકોના ભાગનું ભોજન વધી પડે એ તો લગીરે પોસાય નહી.

કુંતીપુત્ર અર્જુન, મહારથી ભીષ્મ, અંગરાજ કર્ણ કે આચાર્ય દ્રોણાચાર્યની કમાનમાંથી સરખી રીતેછટકેલું એક બાણ હજારો સૈનિકોનો સોંથ વાળી નાખે તો રાત્રીભોજન બનાવતા રસોઈયાઓએ પણ એ પ્રમાણે દાળ-શાકમાં ઘટાડો કરવો પડે!

પણ સવાલ એ થાય કે, આ સંખ્યા ગણવી કેવી રીતે?

એ કામ જ અસંભવ હતું. જો કે, કુરુક્ષેત્રનાં યુધ્ધમાં કાયમ આ બધી બાબતોને ધ્યાનમાં રાખીને સૈનિકોને ભોજન પિરસાયું હતું! કાયમ સૈનિકોની સંખ્યા પ્રમાણે જ ખોરાક રંધાતો અને એમાં તલભાર પણ વધઘટ નહોતી થતી! આ કેવી રીતે શક્ય બન્યું?

કર્યું કોણે?

અહીં એ પેચીદા પ્રશ્નનો એકદમ રોચક ખુલાસો આપ્યો છે :
લડવા આવેલી ઉડુપીની સેના રસોડું સંભાળવા લાગી!:

મહાભારતના યુધ્ધમાં બે વ્યક્તિઓએ પ્રત્યક્ષ રીતે ભાગ નહોતો લીધો એવું આપણે સૌ જાણીએ છીએ. એક હતા બલરામ અને બીજા રૂક્મી(ભગવાન કૃષ્ણના પત્ની રૂક્મણીના ભાઈ). બહુ ઓછા લોકો જાણે છે કે આ સિવાય એક ત્રીજી વ્યક્તિ પણ આ યુધ્ધમાં નિષ્પક્ષ રહી હતી. એ હતા ઉડુપીના મહારાજા(ઉડુપી કર્ણાકટમાં આવેલું છે).

મહાભારતનાં યુદ્ધ માટે મળેલું નિમંત્રણ સ્વીકારીને ઉડુપીના રાજા સેના લઈને લડવા તો આવ્યા હતા. પણ અહીં આવીને એમણે જોયું તો તેમની સેનાને પોતપોતાના પક્ષમાં રાખવા માટે પાંડવો-કૌરવોમાં જોરદાર ખેંચતાણ થઈ રહી હતી.

વળી, આ તો ભાઈ-ભાઈ વચ્ચેનું યુધ્ધ હતું. આમ ઉડુપીના મહારાજાનું મન ખાટું થઈ ગયું અને તેમણે યુધ્ધમાં સામેલ થવાની ઘસીને ના પાડી.

એ પછી એક દિવસ ઉડુપીરાજ ભગવાન કૃષ્ણને મળ્યા અને કહ્યું કે, વાસુદેવ! આપની આજ્ઞા હોય તો કુરુક્ષેત્રમાં અકઠી થતી સેના માટે હું અને મારા સૈનિકો કાયમ માટે ભોજનનો પ્રબંધ કરવા તૈયાર છીએ.

કૃષ્ણ ઉડુપીરાજના આ વિચારથી બહુ પ્રભાવિત થયા. તેમને આવેલો વિચાર પ્રશંસનીય હતો અને મૂળભૂત હતો. ભગવાને અનુમતિ આપી.

ભોજનમાં વધઘટ ના થતી હોવાનું કારણ…

૧૮ દિવસ ચાલેલું મહાભારતનું યુધ્ધ પૂર્ણ થયું. પાંડવોનો ધર્મવિજય થયો. હસ્તિનાપુરની ગાદી પર ભારતપતિ મહારાજા યુધિષ્ઠિરનો રાજ્યાભિષેક થયો.

એ પછી એક દિવસ મનમાં ઘણી ઉત્તેજના જગાડતો પ્રશ્ન યુધિષ્ઠિરે દરબારમાં હાજર રહેલા ઉડુપીરાજને પૂછી નાખ્યો,

“ઉડુપીનરેશ! હસ્તિનાપુર તમારો આભાર માને એટલો ઓછો છે. અમારા સર્વ માટે તમે યુધ્ધના દિવસોમાં ભોજનની જે વ્યવસ્થા કરી આપેલી તેનો ઉપકાર ચૂકવી શકાય એવો નથી.

પણ મને આશ્વર્ય એ વાતનું થાય છે કે, તમે ભોજનમાં આટલી ચોક્કસાઈ કેવી રીતે રાખી? રોજ અગણિત સૈનિકો મૃત્યુ પામે છતા તમે ભોજન માટે નિશ્વિત સંખ્યાનો આંકડો કેવી રીતે તારવી શકતા હતા કે જેથી કરીને અન્નનો એક દાણો પણ વધઘટ ના પામે?”

યુધિષ્ઠિર દ્વારા પૂછાયેલા સવાલ સામે ઉડુપીરાજે પણ સવાલ કર્યો, “ધર્મરાજ! તમારી પાસે ૭ અક્ષૌહિણી સેના હતી અને સામે પક્ષે કૌરવો પાસે ૧૧ અક્ષૌહિણી. સંખ્યાબળમાં દુર્યોધનનું લશ્કર તમારાથી સવાયું હતું, છતાં પણ તમે જીત્યા. આનો શ્રેય કોને જાય છે?”

“અલબત્ત, ભગવાન શ્રીકૃષ્ણને!” યુધિષ્ઠિરે જવાબ આપ્યો.
“તો ભોજનનો ચોક્કસાઈપૂર્વકનો પ્રબંધ થયો એ પણ બીજા કોનું કામ હોય, મહારાજ?” મંદ સ્મિત સાથે ઉડુપીનરેશે ખુલાસો કર્યો,

“યુધ્ધ દરમિયાન દરરોજ રાત્રે હું શિબિરમાં વાસુદેવ પાસે ગણીને મગફળી લઈને જતો. મેં આપેલી મગફળી તેઓ ખાતા. જેટલી મગફળી તેઓ ખાય એના હજારગણા સૈનિકોની આવતીકાલે ભોજનમાંથી બાદબાકી કરવાની છે એ મને સમજાય જતું!

વાસુદેવ ૧૦ મગફળી ખાય એનો મતલબ એ કે એના દસ ગણા અર્થાત્ ૧૦,૦૦૦ સૈનિકો કાલે રણભૂમિમાં શહીદીને વરવાના છે માટે એમનું ભોજન નથી બનાવવાનું!”

આ બેમિસાલ આયોજન પાછળ વાસુદેવનો હાથ હતો એ જાણી સહુ આશ્વર્યચકિત થઈ ગયા અને મનોમન ગોવર્ધનધારીને વંદી પડ્યા.

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

दुर्गादास नाम का एक धनी किसान था, वह बहुत आलसी था वह न अपने खेत देखने जाता था, न खलिहान अपनी गाय-भैंसों की भी वह खोज-खबर नहीं रखता था सब काम वह नौकरों पर छोड़ देता थाउसके आलस और कुप्रबन्ध से उसके घर की व्यवस्था बिगड़ गयी उसको खेती में हानि होने लगी गायों के दूध-घी से भी उसे कोई अच्छा लाभ नहीं होता थाएक दिन दुर्गादास का मित्र हरिश्चंद्र उसके घर आया हरिश्चंद्र ने दुर्गादास के घर का हाल देखा उसने यह समझ लिया कि समझाने से आलसी दुर्गादास अपना स्वभाव नहीं छोड़ेगा इसलिये उसने अपने मित्र दुर्गादास की भलाई करने के लिये उससे कहा- मित्र तुम्हारी विपत्ति देखकर मुझे बड़ा दुःख हो रहा है तुम्हारी दरिद्रता को दूर करने का एक सरल उपाय मैं जानता हूँदुर्गादास- कृपा करके वह उपाय तुम मुझे बता दो मैं उसे अवश्य करूँगाहरिश्चंद्र उससे कहा सब पक्षियों के जागने से पहले ही मानसरोवर रहने वाला एक सफेद हंस पृथ्वी पर आता है वह दो पहर दिन चढ़े लौट जाता है यह तो पता नहीं कि वह कब कहाँ आवेगा; किन्तु जो उसका दर्शन कर लेता है, उसको कभी किसी बात की कमी नहीं होतीदुर्गादास बोला कुछ भी हो, मैं उस हंस का दर्शन अवश्य करूँगाहरिश्चंद्र चला गया, दुर्गादास दूसरे दिन बड़े सबेरे उठा, वह घर से बाहर निकला और हँस की खोज में खलिहान में गया वहाँ उसने देखा कि एक आदमी उसके ढेर से गेहूँ अपने ढेर में डालने के लिये उठा रहा है दुर्गादास को देखकर वह लज्जित हो गया और क्षमा माँगने लगाखलिहान से वह घर लौट आया और गोशाला में गया, वहाँ का रखवाला गाय का दूध दुहकर अपनी स्त्री के लोटे में डाल रहा था दुर्गादास ने उसे डांटा घरपर जलपान करके हंस की खोज में वह फिर निकला और खेत पर गया उसने देखा कि खेत पर अबतक मजदूर आये ही नहीं थे, वह वहाँ रुक गया जब मजदूर आये तो उन्हें देर से आने का उसने उलाहना दिया इस प्रकार वह जहाँ गया, वहीं उसकी कोई-न-कोई हानि रुक गयीसफेद हंस की खोज में दुर्गादास प्रतिदिन सबेरे उठने और घुमने लगा अब उसके नौकर ठीक काम करने लगे उसके यहाँ चोरी होनी बंद हो गयी पहले वह रोगी रहता था अब उसका स्वास्थ्य भी ठीक हो गयाजिस खेत से उसे थोडा बहुत अन्न मिलता था, उससे अब ज्यादा मिलने लगा गोशाला से दूध बहुत अधिक आने लगाएक दिन फिर दुर्गादास का मित्र हरिश्चंद्र उसके घर आया, दुर्गादास ने कहा- मित्र सफेद हंस तो मुझे अब तक नहीं दिखा किन्तु उसकी खोज में लगने से मुझे लाभ बहुत हुआ हैहरिश्चंद्र हँस पड़ा और बोला- परिश्रम करना ही वह सफेद हंस है परिश्रम के पंख सदा उजले होते हैं जो परिश्रम न करके अपना काम नौकरों पर छोड़ देता है, वह हानि उठाता है और जो स्वयं करता है, वह सम्पत्ति और सम्मान पाता हैमुझे पूर्ण विश्वास है कि यह कहानी आपके आलस को अवश्य दूर कर देगी


Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

||🧭👍🧭||
‘शिक्षाप्रद बाल कथा’ ~
“सात मूर्ख”
||
एक किसान के सात पुत्र थे। सभी अव्वल दर्जे के मूर्ख, धूर्त एवं आलसी थे। कोई भी काम करके खुश नहीं था। मेहनत करना उनकी आदत नहीं थी। सारा दिन बेकार घूमने-फिरने में बिता देते थे। उनमें से एक भी स्कूल नहीं गया। सभी अनपढ़ रह गए। खाने को बढ़िया स्वादिष्ट भोजन, आराम करने को आरामदायक बिस्तर चाहिए था उन्हें। कठिन मेहनत के विचार करने भर से ही उनके हाथ-पांव फूल जाते थे।

उनका बाप बूढ़ा हो चुका था, वह अब चलने फिरने से भी लाचार हो गया था। वह अगर आलसी, मूर्ख बेटों को काम करने को कहता तो वे सभी बाप को ही खरी-खोटी सुनाकर खामोश करा देते। किसान अपने नालायक, मूर्ख बेटों के सामने बेबस हो जाता। सभी बेटे बाप के नियंत्रण से बाहर हो चुके थे। अपने से बड़ों की नेक सलाह वे नहीं मानते थे। किसान की पत्नी मर चुकी थी और उसका बुढ़ापा बड़ा ही कष्टदायक स्थिति से गुजर रहा था।

एक बार उसके पड़ोस में किसी किसान के घर भैंस ब्याही। उसने मानवता के नाते किसान के मूर्ख बेटों को बहुत सा दूध दिया, ताकि वे खीर बनाकर खा सकें। अब दूध तो मिल गया पर मूर्खों को खीर बनानी नहीं आती थी। सभी नालायक भाई बाप के पीछे पड़ गए कि खीर बना कर दे।

किसान बीमार था, फिर भी पुत्रों का मन रखने के लिए वह लड़खड़ाते हुए उठा और खीर बनाकर बेटों को दे दी। सातों के सात बेटे खीर खाने को बेताब थे। एक ने खीर चखी तो उसमें शक्कर नहीं थी। बड़े भाई ने छोटे से कहा, ‘दुकान पर जाओ और एक आने की शक्कर ले आओ, तब तक खीर ठंडी भी हो जाएगी। तुम जल्दी जाओ।’

छोटे वाला बिदकर गरजा.. ”मैं क्यों जाऊं..?? दूसरे को बोलो न, मेरे से नहीं जाया जाता।“ उसने कोरा जवाब दिया तो उसने भी छोटे भाई से शक्कर लाने को कहा, तो वह दहाड़ उठा.. ”मेरे से नहीं जाया जाता दुकान पर छोटे से कहो कि वह ले आएगा शक्कर। मेरे तो पैरों में दर्द है।“ उसने स्पष्ट इनकार कर दिया। इस तरह सातों आलसी मूर्ख भाई एक दूसरे से शक्कर लाने को कहते रहे, मगर दुकान पर एक भी नहीं गया। तब उन्होनें फैसला किया कि सारे भाई खामोश होकर बैठ जाते हैं, जो पहले बोल पड़ेगा, वही शक्कर लेकर आएगा।

इस तरह सारे भाई खामोश होकर बैठ गए। सामने भाप छोड़ती गरमा-गरम खीर का पतीला रखा था। काफी देर तक सभी चुप बैठे रहे। उन्हें इंतजार था कि कौन गलती से बोले तो उसे शक्कर लाने को कहें। मगर सातों के सात भाई अपनी धुन के पक्के थे। एक भी नहीं बोला, खीर ठंडी हो गई थी – रात के दो पहर गुजरने को थे। सब एक दूसरे को देख रहे थे। किससे गलती हो और उसे दुकान पर भेजा जाए।

काफी समय गुजर गया, तभी घर का दरवाजा खुला देखकर दो आवारा कुत्ते अंदर घुस आए। धीरे-धीरे सहमे-सहमे वे खीर के पतीले के पास आ गए। किसी ने भी भगाया नहीं, कुत्ते ताजा खुशबूदार खीर देखकर अपने आपको रोक नहीं पाए। बुत बने सातों भाइयों को नजर भर देखा, फिर डरते हुए मुंह खीर की पतीली में डाल दिया।

इतना सब होने के बाद भी कोई भी कुछ नहीं बोला…. सभी पत्थर की मूर्तियां बने रहे। कुत्तों के हौसले बढ़ गए। जल्दी-जल्दी खीर खाने के लगे। दो कुत्ते तो खा ही रहे थे। तीन-चार आवारा कुत्ते और आ गए। सब के सब खाए जा रहे थे। आज तो मूर्खों की वजह से कुत्तों के भाग्य खुल गए थे, भला आवारा कुत्तों को खालिस दूध की खीर कहां खाने को मिलती है।

सब भाइयों के सामने उन्हीं की खीर कुत्ते खा रहे हैं, फिर भी वे खामोश हैं, कोई भी बोलने की हिम्मत नहीं कर रहा, कहीं दुकान पर शक्कर लेने न जाना पड़ जाए। उनके देखते ही देखते सारा पतीला खाली हो गया।

कुत्तों का पेट भर गया। अब वे खिसकने लगे। उनमें से एक शरारती कुत्ता भी था। जाते-जाते मूर्ख के मुंह को चाटने लगा। वह अनुमान लगाना चाहता था कि ये सातों भाई जिंदा हैं या पत्थर के बन गए हैं।

उसने जैसे ही उसका मुंह चाटना आरंभ किया तो वह बड़ी जोर से चीखा..!! ऐसा करते ही सभी कुत्ते भाग गए। बड़ा मूर्ख बोला: ”छोटा हार गया कि छोटा हार गया। अब दुकान से जाकर शक्कर ले आओ।“ बड़े भाई का कहना छोटे ने नहीं माना, उसके सामने खीर का पतीला पड़ा था और सभी उसे शक्कर लाने को मजबूर कर रहे थे।

सातों भाइयों का विवाद सुनकर उनका बाप जाग गया। उसने जब सारी बात सुनी तो अपना सिर ही पीट लिया। आगे बढ़ा, बड़े मूर्ख बेटे को जोर से थप्पड़ मारा। बड़ा बेटा थप्पड़ खाते ही अपना गाल सहलाते हुए बाप को क्रोधित नजरों से घूरने लगा।

”मैंने तुम्हें थप्पड़ क्यों मारा, बात समझ में आई..??“ बाप ने गंभीरता भरे स्वर में पूछा।

”मुझे क्या पता..?? थप्पड़ आपने मारा है- आपको पता होगा..??“ बुरा सा मुंह बनाते हुए उसने जवाब दिया।

”मैंने तुम्हें थप्पड़ इसलिए मारा, क्योंकि तू सब भाइयों से बड़ा है। अगर तू आलस्य त्यागकर स्वयं शक्कर लेने चला जाता तो छोटे भाई तेरा एहसान मानते, तेरी इज्जत करते। खीर का भरा पतीला तुम्हारे पेट में होता। तुम सारे भाई बड़े प्रेम प्यार से मजे की नींद ले रहे होते। मगर तुम्हारी मूर्खता और आलस्य की वजह से तुम्हारा भोजन कुत्ते खा गए। तुम्हें मार पड़ी और तुम भाइयों में द्वेष, नफरत एवं नाराजगी के भाव पैदा हुए। ये सारा नुकसान तुम्हारा हुआ- मूर्खता और आलस्य की वजह से।“ पिता उसे समझाता रहा। बाप के समझाने से सभी को अपनी-अपनी गलतियों को एहसास हो गया और उन्होंने भविष्य में सुधरने का निश्चय कर लिया..!

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

||🧭👍🧭||
‘शिक्षाप्रद बाल कथा’ ~
“सात मूर्ख”
||
एक किसान के सात पुत्र थे। सभी अव्वल दर्जे के मूर्ख, धूर्त एवं आलसी थे। कोई भी काम करके खुश नहीं था। मेहनत करना उनकी आदत नहीं थी। सारा दिन बेकार घूमने-फिरने में बिता देते थे। उनमें से एक भी स्कूल नहीं गया। सभी अनपढ़ रह गए। खाने को बढ़िया स्वादिष्ट भोजन, आराम करने को आरामदायक बिस्तर चाहिए था उन्हें। कठिन मेहनत के विचार करने भर से ही उनके हाथ-पांव फूल जाते थे।

उनका बाप बूढ़ा हो चुका था, वह अब चलने फिरने से भी लाचार हो गया था। वह अगर आलसी, मूर्ख बेटों को काम करने को कहता तो वे सभी बाप को ही खरी-खोटी सुनाकर खामोश करा देते। किसान अपने नालायक, मूर्ख बेटों के सामने बेबस हो जाता। सभी बेटे बाप के नियंत्रण से बाहर हो चुके थे। अपने से बड़ों की नेक सलाह वे नहीं मानते थे। किसान की पत्नी मर चुकी थी और उसका बुढ़ापा बड़ा ही कष्टदायक स्थिति से गुजर रहा था।

एक बार उसके पड़ोस में किसी किसान के घर भैंस ब्याही। उसने मानवता के नाते किसान के मूर्ख बेटों को बहुत सा दूध दिया, ताकि वे खीर बनाकर खा सकें। अब दूध तो मिल गया पर मूर्खों को खीर बनानी नहीं आती थी। सभी नालायक भाई बाप के पीछे पड़ गए कि खीर बना कर दे।

किसान बीमार था, फिर भी पुत्रों का मन रखने के लिए वह लड़खड़ाते हुए उठा और खीर बनाकर बेटों को दे दी। सातों के सात बेटे खीर खाने को बेताब थे। एक ने खीर चखी तो उसमें शक्कर नहीं थी। बड़े भाई ने छोटे से कहा, ‘दुकान पर जाओ और एक आने की शक्कर ले आओ, तब तक खीर ठंडी भी हो जाएगी। तुम जल्दी जाओ।’

छोटे वाला बिदकर गरजा.. ”मैं क्यों जाऊं..?? दूसरे को बोलो न, मेरे से नहीं जाया जाता।“ उसने कोरा जवाब दिया तो उसने भी छोटे भाई से शक्कर लाने को कहा, तो वह दहाड़ उठा.. ”मेरे से नहीं जाया जाता दुकान पर छोटे से कहो कि वह ले आएगा शक्कर। मेरे तो पैरों में दर्द है।“ उसने स्पष्ट इनकार कर दिया। इस तरह सातों आलसी मूर्ख भाई एक दूसरे से शक्कर लाने को कहते रहे, मगर दुकान पर एक भी नहीं गया। तब उन्होनें फैसला किया कि सारे भाई खामोश होकर बैठ जाते हैं, जो पहले बोल पड़ेगा, वही शक्कर लेकर आएगा।

इस तरह सारे भाई खामोश होकर बैठ गए। सामने भाप छोड़ती गरमा-गरम खीर का पतीला रखा था। काफी देर तक सभी चुप बैठे रहे। उन्हें इंतजार था कि कौन गलती से बोले तो उसे शक्कर लाने को कहें। मगर सातों के सात भाई अपनी धुन के पक्के थे। एक भी नहीं बोला, खीर ठंडी हो गई थी – रात के दो पहर गुजरने को थे। सब एक दूसरे को देख रहे थे। किससे गलती हो और उसे दुकान पर भेजा जाए।

काफी समय गुजर गया, तभी घर का दरवाजा खुला देखकर दो आवारा कुत्ते अंदर घुस आए। धीरे-धीरे सहमे-सहमे वे खीर के पतीले के पास आ गए। किसी ने भी भगाया नहीं, कुत्ते ताजा खुशबूदार खीर देखकर अपने आपको रोक नहीं पाए। बुत बने सातों भाइयों को नजर भर देखा, फिर डरते हुए मुंह खीर की पतीली में डाल दिया।

इतना सब होने के बाद भी कोई भी कुछ नहीं बोला…. सभी पत्थर की मूर्तियां बने रहे। कुत्तों के हौसले बढ़ गए। जल्दी-जल्दी खीर खाने के लगे। दो कुत्ते तो खा ही रहे थे। तीन-चार आवारा कुत्ते और आ गए। सब के सब खाए जा रहे थे। आज तो मूर्खों की वजह से कुत्तों के भाग्य खुल गए थे, भला आवारा कुत्तों को खालिस दूध की खीर कहां खाने को मिलती है।

सब भाइयों के सामने उन्हीं की खीर कुत्ते खा रहे हैं, फिर भी वे खामोश हैं, कोई भी बोलने की हिम्मत नहीं कर रहा, कहीं दुकान पर शक्कर लेने न जाना पड़ जाए। उनके देखते ही देखते सारा पतीला खाली हो गया।

कुत्तों का पेट भर गया। अब वे खिसकने लगे। उनमें से एक शरारती कुत्ता भी था। जाते-जाते मूर्ख के मुंह को चाटने लगा। वह अनुमान लगाना चाहता था कि ये सातों भाई जिंदा हैं या पत्थर के बन गए हैं।

उसने जैसे ही उसका मुंह चाटना आरंभ किया तो वह बड़ी जोर से चीखा..!! ऐसा करते ही सभी कुत्ते भाग गए। बड़ा मूर्ख बोला: ”छोटा हार गया कि छोटा हार गया। अब दुकान से जाकर शक्कर ले आओ।“ बड़े भाई का कहना छोटे ने नहीं माना, उसके सामने खीर का पतीला पड़ा था और सभी उसे शक्कर लाने को मजबूर कर रहे थे।

सातों भाइयों का विवाद सुनकर उनका बाप जाग गया। उसने जब सारी बात सुनी तो अपना सिर ही पीट लिया। आगे बढ़ा, बड़े मूर्ख बेटे को जोर से थप्पड़ मारा। बड़ा बेटा थप्पड़ खाते ही अपना गाल सहलाते हुए बाप को क्रोधित नजरों से घूरने लगा।

”मैंने तुम्हें थप्पड़ क्यों मारा, बात समझ में आई..??“ बाप ने गंभीरता भरे स्वर में पूछा।

”मुझे क्या पता..?? थप्पड़ आपने मारा है- आपको पता होगा..??“ बुरा सा मुंह बनाते हुए उसने जवाब दिया।

”मैंने तुम्हें थप्पड़ इसलिए मारा, क्योंकि तू सब भाइयों से बड़ा है। अगर तू आलस्य त्यागकर स्वयं शक्कर लेने चला जाता तो छोटे भाई तेरा एहसान मानते, तेरी इज्जत करते। खीर का भरा पतीला तुम्हारे पेट में होता। तुम सारे भाई बड़े प्रेम प्यार से मजे की नींद ले रहे होते। मगर तुम्हारी मूर्खता और आलस्य की वजह से तुम्हारा भोजन कुत्ते खा गए। तुम्हें मार पड़ी और तुम भाइयों में द्वेष, नफरत एवं नाराजगी के भाव पैदा हुए। ये सारा नुकसान तुम्हारा हुआ- मूर्खता और आलस्य की वजह से।“ पिता उसे समझाता रहा। बाप के समझाने से सभी को अपनी-अपनी गलतियों को एहसास हो गया और उन्होंने भविष्य में सुधरने का निश्चय कर लिया..!!

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

कहानी:-सकारात्मक बने

एक दिन एक किसान का बैल कुएँ में गिर गया

वह बैल घंटों ज़ोर -ज़ोर से रोता रहा और किसान सुनता रहा और विचार करता रहा कि उसे क्या करना चाहिऐ और क्या नहीं।

अंततः उसने निर्णय लिया कि चूंकि बैल काफी बूढा हो चूका था अतः उसे बचाने से कोई लाभ होने वाला नहीं था और इसलिए उसे कुएँ में ही दफना देना चाहिऐ।
किसान ने अपने सभी पड़ोसियों को मदद के लिए बुलाया सभी ने एक-एक फावड़ा पकड़ा और कुएँ में मिट्टी डालनी शुरू कर दी।

जैसे ही बैल कि समझ में आया कि यह क्या हो रहा है वह और ज़ोर-ज़ोर से चीख़ चीख़ कर रोने लगा और फिर ,अचानक वह आश्चर्यजनक रुप से शांत हो गया।
सब लोग चुपचाप कुएँ में मिट्टी डालते रहे तभी किसान ने कुएँ में झाँका तो वह

आश्चर्य से सन्न रह गया….

अपनी पीठ पर पड़ने वाले हर फावड़े की मिट्टी के साथ वह बैल एक आश्चर्यजनक हरकत कर रहा था वह हिल-हिल कर उस मिट्टी को नीचे गिरा देता था और फिर एक कदम बढ़ाकर उस पर चढ़ जाता था।

जैसे-जैसे किसान तथा उसके पड़ोसी उस पर फावड़ों से मिट्टी गिराते वैसे -वैसे वह हिल-हिल कर उस मिट्टी को गिरा देता और एक सीढी ऊपर चढ़ आता जल्दी ही सबको आश्चर्यचकित करते हुए वह बैल कुएँ के किनारे पर पहुंच गया और फिर कूदकर बाहर भाग गया।

ध्यान रखे

आपके जीवन में भी बहुत तरह से मिट्टी फेंकी जायेगी बहुत तरह की गंदगी आप पर गिरेगी जैसे कि ,आपको आगे बढ़ने से रोकने के लिए कोई बेकार में ही आपकी आलोचना करेगा

कोई आपकी सफलता से ईर्ष्या के कारण आपको बेकार में ही भला बुरा कहेगा

कोई आपसे आगे निकलने के लिए ऐसे रास्ते अपनाता हुआ दिखेगा जो आपके आदर्शों के विरुद्ध होंगे…

ऐसे में आपको हतोत्साहित हो कर कुएँ में ही नहीं पड़े रहना है बल्कि साहस के साथ हर तरह की गंदगी को गिरा देना है और उससे सीख ले कर उसे सीढ़ी बनाकर बिना अपने आदर्शों का त्याग किये अपने कदमों को आगे बढ़ाते जाना है।

सकारात्मक रहे

सकारात्मक जिए…
🙏

” दुसरो को सुनाने के लिए अपनी आवाज ऊचीं मत करो…!

बल्कि अपना व्यक्तित्व इतना ऊँचा बनाओ,

साभार- ब्रह्मदेव वेदालंकार जी

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

મારી માં :

મારી માંને ઘણી સમસ્યાઓ હતી. એને ઊંઘ ન આવતી અને એ સાવ નંખાઈ ગયાનું અનુભવતી હતી. એ એકદમ છેડાઈ પડતી અને એનામાં કડવાશ આવી ગઈ હતી. એ હમેશાં બિમાર રહેતી.

એક દિવસે એ અચાનક બદલાઈ ગઈ. પરિસ્થિતિ તો એની એજ હતી પણ “મા” અલગ હતી.

એક દિવસ મારા પિતાએ એને કહ્યું : હું ત્રણ મહિનાથી નોકરી શોધું છું પણ મને કશું જ મળતું નથી એટલે હું મારા મિત્રો પાસે જઈને થોડીક બિયર પીવાનો છું.

મારી માએ માત્ર એટલું કહ્યું : ભલે.

મારા ભાઈએ કહ્યું : મમ્મી, યુનિવર્સીટીમાં બધા વિષયોમાં નબળો દેખાવ છે.
મારી માએ કહ્યું : ભલે, તું બેઠો થઈ જઈશ અને કદાચ ન થા તો સેમેસ્ટર રીપીટ કરજે પણ ટ્યુશનના પૈસા તું ભરી દેજે.

મારી બહેને એને કહ્યું : મમ્મી, હું કાર ભટકાડી આવી છું.
મારી માએ જવાબ આપ્યો :
ભલે દીકરી, એને ગેરેજમાં લઈ જા અને પૈસા કઈ રીતે ચૂકવવા તે શોધી કાઢ અને એ લોકો રીપેર કરે ત્યાં સુધી બસ કે મેટ્રોમાં મુસાફરી કર.

એની પુત્રવધુએ એને કહ્યું : સાસુજી, હું કેટલાક મહિના તમારી સાથે રહેવા આવી છું.
મારી માંએ જવાબ આપ્યો;
ભલે, લીવીંગ રૂમની સેટ્ટી ઉપર ગોઠવાઈ જા અને કબાટમાંથી ધાબળો લઈ લે.

મમ્મીની આ પ્રતિક્રિયા જોઈને અમે બધાં ચિંતાતુર થઈને ઘરમાં ભેગા થયા.

અમને શંકા હતી કે એ કોઈક ડોકટર પાસે ગઈ હતી જેણે એને કઈંક દવા લખી આપી હતી જેથી આ થતું હશે અને કદાચ તે આ દવાનો ઓવરડોઝ લેતી હતી.

અમે નક્કી કર્યું કે આપણે આ મામલામાં હસ્તક્ષેપ કરવો જોઇએ અને જો એને આવી કોઈ દવાનું વ્યસન થઈ ગયું હોય તો એમાંથી એને મુક્ત કરાવવી જોઈએ.

પરંતુ જ્યારે અમે “મા” પાસે એકત્રિત થયા ત્યારે તેણે ખુલાસો કર્યો કે:

મને એ વસ્તુ સમજાતાં ઘણો સમય ગયો કે દરેક વ્યક્તિ પોતાનાં જીવન માટે પોતે જ જવાબદાર હોય છે.

મને એ શોધી કાઢવામાં વર્ષો ગયાં કે મારી બધાં પ્રત્યે ની ચિંતા, મારો ગુસ્સો, મારી શહીદ થતા હોવાની ભાવના, મારી હિંમત, મારુ ડિપ્રેશન, ઊંઘ ન આવવું અને મારા પર સવાર રહેતા તનાવે મારા પ્રશ્નોને ઉકેલ્યા તો નહીં પણ વધુ ગૂંચવી નાખ્યા.

મને સમજાયુ કે હું બીજાઓ જે કરે એ પરત્વે જવાબદાર નથી પણ હું એ પરત્વે જે પ્રતિક્રિયાઓ વ્યક્ત કરું એ માટે પૂર્ણ જવાબદાર છું.*

આ કારણોથી, હું એવાં તારણ ઉપર આવી કે મારા પરત્વેનું મારૂં કર્તવ્ય શાંત રહીને અને દરેકને પોતાની સમસ્યાઓ પોતાની રીતે જાતે ઉકેલવા દેવાનું છે.

મેં યોગ, ધ્યાન, માનવ વિકાસ, માનસિક આરોગ્ય, વાઈબ્રેશન્સ અને ન્યુરોલીંગવીસ્ટિક પ્રોગ્રામિંગ અને એવા બધા ઘણા કોર્સીસ કર્યા છે અને એ બધાનો મધ્યવર્તી સૂર મને એક જ લાગ્યો છે.
અને તે એ છે કે હું માત્ર મારી જાત પરત્વે જ હસ્તક્ષેપ કરી શકું.ને મારી જાત પ્રત્યે સજાગ રહું.

તમારી પાસે તમારાં પોતાનાં જીવનના પ્રશ્નો ઉકેલવા બધી જ સામગ્રી છે.

હું તમને માત્ર મારી સલાહ જ આપી શકું અને એ પણ જો તમે માંગો તો અને એને અનુસરવું કે નહીં તે તમારા ઉપર આધારિત છે.

એટલે હવેથી હું તમારી સમસ્યાઓને અપનાવી લેવાની, તમારા ગીલ્ટી અનુભૂતિનો કોથળો ઉપાડવાની, તમારી ભૂલોની વકીલાત કરવાની, તમારાં દુઃખોની ઢાલ બનવાની અને તમારી ફરજો યાદ દેવડાવ્યા કરવાની જે મારી પ્રકૃતિ છે, તેનો ત્યાગ કરું છું.

તમારા પ્રશ્નો ઉકેલનાર કે સ્પેર વ્હીલ તરીકે વર્તનાર હવે હું નથી.
હવેથી હું જાહેર કરું છું કે તમે બધા જ સ્વતંત્ર અને પોતાની જાતમાં પરિપૂર્ણ પીઢ વ્યક્તિઓ છાે.

ઘરમાં બધા અવાક થઈ ગયા !અને તે દિવસથી કુટુંબ વધુ સારી રીતે સ્વયંસંચાલિત થવા લાગ્યું કારણ કે ઘરના બધા જ સભ્યો એ વસ્તુ બરાબર સમજવા લાગ્યા હતા કે હવે પાેતાના કાયૉ માટે તે પાેતેજ જવાબદાર રહેશે.

લેખિકા : ’એક સુખી સ્ત્રી’