Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

સત્ય ઘટના

અમારી બાજુનો ફ્લેટ NRIએ વર્ષોથી લીધેલ છે…
છ મહિનાથી ઘર ખોલી કાકા કાકી રહેતા હતા….

તેમના બાળકો USA સેટ થઈ ગયા હોવાથી હવેની
બાકી રહેલ જીંદગી… ઇન્ડિયામાં કાઢવી તેવું નક્કી કરી તેઓ અહીં રહેવા આવેલ…

મેં પણ તેઓ એકલા હોવાથી ..કીધું હતુ.. તમને કાંઈ કામકાજ હોય તો કહેજો…..ચિંતા કરતા નહીં..
કાકા કાકી આનંદી સ્વભાવના હતાં..
કોઈ..કોઈ વખત રાત્રે બેસવા આવે…. અને પૂર્વ અને પશ્ચિમની સંસ્ક્રુતિ વિશે વાતો કરે…

છ મહિના પુરા થયા હશે…એક દિવસ.. કાકા કાકી અમારે ત્યાં રાત્રે બેસવા આવ્યા ….

છ મહિના પહેલાની વાતો અને આજની તેમની વાતોમાં તફાવત દેખાતો હતો….

બેટા… હવે.. અમે ગમે ત્યારે
પાછા USA દીકરા પાસે જવાની તૈયારી કરીએ છીએે…

મેં કિધુ.. કેમ કાકા..અમારી સાથે ના ફાવ્યું….?
તમે તો કહેતા હતા હવે… અમેરિકા ફરીથી નથી જવું.. અહીંના લોકો માયાળુ..છે..
સગા.. સંબંધી… બધા અહીંયા..છે
દીકરી પણ ગામમાં… છે..
મારા જેવો પાડોશી છે…તો કઈ વાતે તમને તકલીફ પડી…

બેટા.. આ વીતેલા છ મહિનામાં.. મને બધો અનુભવ
થઇ ગયો….મને એમ હતું…અહીં આવી એક બીજાને મળશું…
સુખ દુઃખ ની વાતો કરશું…

કોઈને મળવા જઈએ તો પહેલી વખત સારો આવકાર મળ્યો…
બીજી વખત જાએ…
એટલે..ઠંડો આવકાર..TV ચાલુ રાખી..વચ્ચે વચ્ચે થોડી વાત કરી લે…આપણે મનમાં બેઈજ્જતી થાય..કે આપણે અહીં ક્યાં આવ્યા….

ગામમાં દીકરી છે તો અવારનવાર આવશે..મળશે…તેવા ખ્યાલોમા હતા…પણ દિકરી મોબાઇલ કરી ખબર અંતર પૂછી લે છે…
ફોન ઉપર બધા લાગણી બતાવે ડાહી..ડાહી વાતો કરે…બેટા રૂબરૂ જઈએ ત્યારે.વર્તન બદલાઇ ગયું હોય છે..

બધા પોતપોતાની જીંદગીમા મશગુલ છે..બેટા….
નકામા લાગણીશીલ થઈને દુઃખી થવા અહીં આવ્યા..
એવું લાગી રહ્યું છે.
તેના કરતાં જેવા છે તેવા દેખાતા…ધોળીયા સારા..બાહ્ય આડંબર તો જરા પણ નથી…

અરે શુ વાત કરું બેટા… થોડા દિવશ પહેલા….હું ગ્રીન સિગ્નલ થયા પછી…જિબ્રા..રોડ ક્રોસ કરતો હતો… તો પણ એક ગાડી સડસડાટ આવી મને ઉડાવતા રહી ગઇ.. પાછો… બારીમાથી યુવાન લાગતો છોકરો બોલ્યો..

“એ..એ…ડોહા..જોતો નથી…મરવા નીકળ્યો છે…..”

હું તો બે મિનિટ સ્તબ્ધ થઈ ગયો…આ મારી કલ્પનાનો ભારત દેશ…જ્યાં યુવા પેઢીને બોલવાની પણ ભાન નથી…નાના મોટાનું જ્ઞાન નથી….ટ્રાફિક સેન્સનું નામ જ નહીં….હું શું કલ્પના કરી અહીં આવ્યો હતો….

ત્યાં ઘરડા કે બાળકને જોઈ ગમે તે સ્પીડથી વાહન આવતું હોય..બ્રેક મારી.. તમને.. માન સાથે પહેલા જવા દે…ને અહીં..
મારા વાંક ગુના વગર ગાળો.. સાંભળવાની..
વિચારતો વિચારતો જતો હતો..ત્યાં પથ્થર જોડે મારો પગ ભટકાયો… મારા ચશ્માં પડી ગયા..હું ગોતતો હતો…

ત્યાં એક મીઠો આવાજ આવ્યો…
અંકલ ..” મે આઈ હેલ્પ યુ ?”

બેટા.. સોગંદથી કહું છું…
મને બે મિનિટ તો
રણમા કોઈ ગુલાબ ખીલ્યું હોય ..તેવો ભાશ થયો…
અહીં છ મહિનાથી આવ્યો છું….બેટા
May I help you ? જેવો શબ્દ મેં નથી સાંભળ્યો..
મેં આવો મધુર ટહુકો કરનાર સામે જોયું…એક 10 થી 12 વર્ષનું બાળક હતું….અંકલ આ તમારા ચશ્મા….
મેં માથે હાથ ફેરવી thank you કીધું….
બેટા ક્યાં રહે છે ?
અહીં હું મારા દાદા ને ત્યાં
ક્રિસમશ વેકેશનમાં આવ્યો…છું.

એટલે ઇન્ડિયામા નથી રહેતો ?
ના અંકલ ..અમે વાતો કરતા હતા ત્યાં તેના પાપા મમ્મી આવ્યા..હાથ જોડી બોલ્યા ..નમસ્તે અંકલ…
એકબીજાએ વાતો…કરી…છેલ્લે ઘર સુધી પણ મૂકી ગયા…

બેટા હું વિચારતો હતો…નાહકના પશ્ચિમની સંસ્ક્રુતિને આપણે વખોડયે છીયે….ખરેખર સંસ્કાર, ડિસિપ્લિન, ભાષા..તો તે ધોળીયાઓની સારી છે…

આપણે આંધળું અનુકરણ કરવા નીકળ્યા છીએ..
ખરેખર જે શીખવાનું છે તે શીખતાં નથી…
ધોબીના કૂતરા જેવી દશા થઈ છે…

ટૂંકી ચડ્ડી કે ટીશર્ટ પહેરેથી આધુનિક નથી થવાતું…
આજના યુવાનોને કેમ સમજાવું.. કે વાણી ,વર્તન એ તો દેશની પ્રગતિનો પાયો છે…
જ્યાં વાણી વર્તનના ઠેકાણા નથી ત્યાં દેશનો ગમે તેટલો વિકાશ થાય…તે ગાંડો જ લાગે…

બેટા હજુ એ શબ્દો મને યાદ આવે છે તો હસવું પણ આવે છે અને દુઃખ પણ થાય છે…

“એ.એ…ડોહા..મરવા નિકળ્યો છે જોતો નથી..”. આ પોસ્ટ મને એટલી બધી સાચી લાગી કે કોપી પેસ્ટ કરી ને શેર કર્યા વિના રહી ના શકયો. ૧૦૦% સાચી વાત છે એ સ્વીકારવું ધણું અઘરું છે. આપણી આખી સોસાયટી અત્યંત દંભી છે. જ્યારે પશ્ચિમી સંસ્કૃતિમાં પારદર્શકતા છે.જેવા છે તેવા જ દેખાય છે.આપણા સમસ્ત સમાજની માનસિકતામા આમૂલ પરિવર્તન ની જરૂર છે.
આપણી ભારતીય સંસ્કૃતિ એ સભ્યતા આખા વિશ્વને જતાવી અને આપણી વસલી પેઢીએ નેવે મૂકી.જય જગદીશ🙏🙏🚩

અરશીમાં પટેલ

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

एक युवा विश्वविद्यालय का छात्र प्रोफेसर के शिक्षक के साथ पार्क में बैठता है
वे बात करते हैं। शिक्षक इस छात्र से इतना प्यार करता है कि वह उसके लिए एक दोस्त की तरह है
उसने उनके सामने अपने जूते उतार दिए और अपने जूते पार्क कर दिए
एक रखरखाव कार्यकर्ता है, और छात्र क्लीनर को देखता है
आप और मैं उदास हैं, हम किसी को धोखा क्यों नहीं देते? जूते उसने उतार लिए
आइए छिपते हैं और उसे बताते हैं कि जब वह अपने जूते खो देता है तो उसे कैसे शांत किया जाए
आइए देखते हैं। ”शिक्षक ने कहा:
हमें दुख सहते हुए आनन्दित नहीं होना चाहिए। अगर यहाँ एक नया उत्पाद सिर्फ तुम्हारे लिए नहीं है!
हम ढूंढ सकते हैं: जाओ और धीरे से जूते पर पैसे रखो जो आदमी ने उतार दिया
आओ तुम कहाँ हो: फिर हम देखेंगे कि गुप्त रूप से क्या होता है। ”शिक्षक के रोते ही छात्र रो पड़ा
उस आदमी के जूते बहुत सारे पैसे के साथ आए और वह शिक्षक के पास छिप गया
वे आदमी की हालत पर नज़र रखने लगे। आदमी ने सफाई खत्म की और अपने कोट और जूते पहन लिए
वह सिरों को पूरा करने के लिए संघर्ष करता है, और जब वह झुकता है और अपने जूते उतारता है, तो वह चांदी पाता है।
आदमी हैरान था !! अगर वह चारों ओर देखता है, तो कोई नहीं देखेगा; और अक्सर दाएं और बाएं देख रहे हैं
कोई नहीं। उस आदमी ने आश्चर्य में अपना सिर हिलाया और पैसे अपनी जेब में डाल लिए
बाद में, जब उन्होंने अपने दूसरे पैर को खड़ा किया, तो उन्होंने उतनी ही कमाई की: आदमी
उसे विश्वास नहीं हुआ !! उसने घुटनों के बल बैठकर अपना सिर आसमान की ओर उठा लिया
आप जानते हैं कि मेरी पत्नी बीमार है, लेकिन आप जानते हैं कि कोई भी उसकी मदद नहीं कर सकता है
नहीं !! आपने मेरे बच्चों का अकेलापन देखा, है ना !! धन्यवाद, मेरे भगवान। ”
जब छात्र ने उस आदमी की हालत देखी, तो उसकी आँखों में आँसू भर आए
“मुझे यकीन है कि आपको उम्मीद से ज्यादा मज़ा आया है”
छात्र ने अपने आँसू पोंछे और कहा, “प्रोफेसर, अगर तुमने मुझे कभी यह सिखाया है,
उन्होंने मुझे कभी नहीं सिखाया, उन्होंने मुझे अपने जीवन का सबसे यादगार सबक सिखाया;
एक घोड़े की तुलना में एक गरीब घोड़ा बेहतर है। ”

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

प्रश्न द्वारा प्रश्न

एक गवाह को एक न्यायाधीश द्वारा अदालत में गवाही देने के लिए कहा जा रहा है

जज: “आज तुम यहाँ क्यों हो?”

गवाह “मैं गवाही देता हूं कि मेरे पड़ोसी को मार दिया गया था”

जज: “तुमने अपने पड़ोसी को मारते देखा।”

साक्षी “मैंने इसे देखा नहीं था लेकिन मैंने इसे चिल्लाते सुना”

जज: “आप केवल सुनकर कैसे बोल सकते हैं?”

साक्षी ने मुँह फेर लिया और हँस पड़ी

जज: “तुम्हें क्या हंसी आती है?”

साक्षी “क्या आपने हंसी देखी है?”

जज: “मैंने नहीं देखा है लेकिन मैंने सुना है।”


गवाह “आप केवल सुनकर कैसे बोल सकते हैं?”

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

((एक बोध कथा))

पुराने जमाने में एक शहर में दो ब्राह्मण पुत्र रहते थे, एक गरीब था तो दूसरा अमीर.. दोनों पड़ोसी थे..,,गरीब ब्राम्हण की पत्नी ,उसे रोज़ ताने देती , झगड़ती ..।।
एक दिन ग्यारस के दिन गरीब ब्राह्मण पुत्र झगड़ों से तंग आ जंगल की ओर चल पड़ता है , ये सोच कर , कि जंगल में शेर या कोई मांसाहारी जीव उसे मार कर खा जायेगा , उस जीव का पेट भर जायेगा और मरने से वो रोज की झिक झिक से मुक्त हो जायेगा..। *जंगल में जाते उसे एक गुफ़ा नज़र आती है...वो गुफ़ा की तरफ़ जाता है...। गुफ़ा में एक शेर सोया होता है और शेर की नींद में ख़लल न पड़े इसके लिये हंस का पहरा होता है..* *हंस ज़ब दूर से ब्राह्मण पुत्र को आता देखता है तो चिंता में पड़ सोचता है..ये ब्राह्मण आयेगा ,शेर जगेगा और इसे मार कर खा जायेगा... ग्यारस के दिन मुझे पाप लगेगा...इसे बचायें कैसे???* *उसे उपाय सुझता है और वो शेर के भाग्य की तारीफ़ करते कहता है..ओ जंगल के राजा... उठो, जागो..आज आपके भाग खुले हैं, ग्यारस के दिन खुद विप्रदेव आपके घर पधारे हैं, जल्दी उठें और इन्हे दक्षिणा दें रवाना करें...आपका मोक्ष हो जायेगा.. ये दिन दुबारा आपकी जिंदगी में शायद ही आये, आपको पशु योनी से छुटकारा मिल जायेगा...।* *शेर दहाड़ कर उठता है , हंस की बात उसे सही लगती है और पूर्व में शिकार मनुष्यों के गहने वो ब्राह्मण के पैरों में रख , शीश नवाता है, जीभ से उनके पैर चाटता है..।* *हंस ब्राह्मण को इशारा करता है विप्रदेव ये सब गहने उठाओ और जितना जल्द हो सके वापस अपने घर जाओ...ये सिंह है.. कब मन बदल जाय..* *ब्राह्मण बात समझता है घर लौट जाता है.... पडौसी अमीर ब्राह्मण की पत्नी को जब सब पता चलता है तो वो भी अपने पति को जबरदस्ती अगली ग्यारस को जंगल में उसी शेर की गुफा की ओर भेजती है....* *अब शेर का पहेरादार बदल जाता है..नया पहरेदार होता है ""कौवा""* *जैसे कौवे की प्रवृति होती है वो सोचता है ... बढीया है ..ब्राह्मण आया.. शेर को जगाऊं ...* *शेर की नींद में ख़लल पड़ेगी, गुस्साएगा, ब्राह्मण को मारेगा, तो कुछ मेरे भी हाथ लगेगा, मेरा पेट भर जायेगा...* *ये सोच वो कांव.. कांव.. कांव...चिल्लाता है..शेर गुस्सा हो जगता है..दूसरे ब्राह्मण पर उसकी नज़र पड़ती है , उसे हंस की बात याद आ जाती है.. वो समझ जाता है, कौवा क्यूं कांव..कांव कर रहा है..* *वो अपने, पूर्व में हंस के कहने पर किये गये धर्म को खत्म नहीं करना चाहता..पर फिर भी नहीं शेर,शेर होता है जंगल का राजा...*

वो दहाड़ कर ब्राह्मण को कहता है..””हंस उड़ सरवर गये और अब काग भये प्रधान…थे तो विप्र थांरे घरे जाओ,,,,मैं किनाइनी जिजमान…, *अर्थात हंस जो अच्छी सोच वाले अच्छी मनोवृत्ति वाले थे उड़ के सरोवर यानि तालाब को चले गये है और अब कौवा प्रधान पहरेदार है जो मुझे तुम्हें मारने के लिये उकसा रहा है..मेरी बुध्दी घूमें उससे पहले ही..हे ब्राह्मण, यहां से चले जाओ..शेर किसी का जजमान नहीं हुआ है..वो तो हंस था जिसने मुझ शेर से भी पुण्य करवा दिया,* *दूसरा ब्राह्मण सारी बात समझ जाता है और डर के मारे तुरंत प्राण बचाकर अपने घर की ओर भाग जाता है...* *कहने का मतलब है हंस और कौवा कोई और नहीं ,,,हमारे ही चरित्र है...* *कोई किसी का दु:ख देख दु:खी होता है और उसका भला सोचता है ,,,वो हंस है...* *और जो किसी को दु:खी देखना चाहता है ,,,किसी का सुख जिसे सहन नहीं होता ...वो कौवा है...* *जो आपस में मिलजुल, भाईचारे से रहना चाहते हैं , वे हंस प्रवृत्ति के हैं..* *जो झगड़े कर एक दूजे को मारने लूटने की प्रवृत्ति रखते हैं वे कौवे की प्रवृति के है...* *स्कूल या आफिसों में जो किसी साथी कर्मी की गलती पर अफ़सर को बढ़ा चढ़ा के बताते हैं, उस पर कार्यवाही को उकसाते हैं...वे कौवे जैसे है..और जो किसी साथी कर्मी की गलती पर भी अफ़सर को बडा मन रख माफ करने को कहते हैं ,वे हंस प्रवृत्ति के है..।* *अपने आस पास छुपे बैठे कौवौं को पहचानों, उनसे दूर रहो ...और जो हंस प्रवृत्ति के हैं , उनका साथ करो.. इसी में सब का कल्याण छुपा है* 💛💛

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

एक जब एक वकील ट्रेन से यात्रा कर रहा था
उसके सामने वाली कुर्सी से एक बहुत ही खूबसूरत लड़की आई
वह बैठ गई। वकील खुश हुआ। उसकी आँखें चौड़ी हो गईं
उन्होंने एक-दूसरे को देखा और फिर वह मुस्कुराई। अब वह और भी खुश है। थोड़ा सा
वह जाकर उसके पास बैठ गई। इस समय वह बहुत खुश है। थोड़ा सा
वह रुका और उसके कान में फुसफुसाया, “आपका पैसा; आपका एटीएम कार्ड।”
यदि आप अभी मुझे अपना नैप वार्ड और सेल फोन नहीं देते हैं, तो आप मुझे घसीटेंगे
इस ट्रेन में सभी को यह बताकर कि मेरा यौन उत्पीड़न किया गया
मैं चिल्ला रहा हूं। ”वकील ने उसकी ओर उदासीनता से देखा
उसने अपने बैग से एक कागज़ और एक पेन निकाला और लिखा, “सॉरी
मैं बहरा हूं और सुनने में कठोर हूं। आप जो चाहें कह दें
मुझे एक कागज के टुकड़े पर लिखो। ”
लड़की ने अपने द्वारा बताई गई हर बात को लिख दिया।
वकील ने कागज लिया और उसे अच्छी तरह से मोड़कर अपनी जेब में रख लिया
यह अच्छा है कि वह अपनी सीट से उठ गया और धीमी आवाज़ में बोला, “अब
तुम जितना चाहो चिल्ला सकते हो। ”
कहानी का व्यवहार: दस्तावेज़ रखना कब महत्वपूर्ण है?

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

(((( कुंभ मेले का पुण्य ))))
.
एक संत को सुबह-सुबह सपना आया। सपने में सब तीर्थों में चर्चा चल रही थी की कि इस कुंभ के मेले में सबसे अधिक किसने पुण्य अर्जित किया।
.
श्री प्रयागराज ने कहा कि.. सबसे अधिक पुण्य तो रामू मोची को ही मिला हैं।
.
गंगा मैया ने कहाः लेकिन रामू मोची तो गंगा में स्नान करने ही नहीं आया था।
.
देवप्रयाग जी ने कहाः हाँ वो यहाँ भी नहीं आया था।
.
रूद्रप्रयाग ने भी बोला, हाँ इधर भी नहीं आया था।
.
फिर प्रयागराज ने कहाः लेकिन फिर भी इस कुंभ के मेले में जो कुंभ का स्नान हैं उसमे सबसे अधिक पुण्य रामू मोची को मिला हैं।
.
सब तीर्थों ने प्रयागराज से पूछा… रामू मोची किधर रहता है, और वो क्या करता हैं?
.
श्री प्रयागराजजी ने कहाः वह रामू मोची जूता की सिलाई करता हैं और केरल प्रदेश के दीवा गाँव में रहता हैं।
.
इतना स्वप्न देखकर वो संत नींद से जाग गए। और मन ही मन सोचने लगे कि क्या ये भ्रांति है या फिर सत्य हैं!
.
सुबह प्रभात में सपना अधिकतर सच्चे ही होते हैं। इसलिए उन्ह संत ने इसकी खोजबीन करनी की सोची।
.
जो जीवन्मुक्त संत महापुरूष होते हैं वो निश्चय के बड़े ही पक्के होते है, और फिर वो संत चल पड़े केरल दिशा की ओर।
.
स्वंप्न को याद करते और किसी किसी को पूछते – पूछते वो दीवा गाँव में पहुँच ही गये।
.
जब गावं में उन्होंने रामू मोची के बारे में पूछा तो, उनको रामू मोची मिल ही गया। संत के सपने की बात सत्य निकली।
.
वो संत उस रामू मोची से मिलने गए।
.
वह रामू मोची संत को देखकर बहुत ही भावविभोर हो गया और कहा, महाराज! आप मेरे घर पर? मै जाति तो से चमार हूँ..
.
हमसे तो लोग दूर दूर रहते हैं, और आप संत होकर मेरे घर आये। मेरा काम तो चमड़े का धन्धा हैं। मै वर्ण से शूद्र हूँ।
.
अब तो उम्र से भी लाचार हो गया हूँ। बुद्धि और विद्धा से अनपढ़ हूँ मेरा सौभाग्य हैं की आप मेरे घर पधारे.
.
संत ने कहा, हाँ.. मुझे एक स्वप्न आया था उसी कारण मै यहाँ आया और संत तो सब मे उसी प्रभु को देखते हैं..
.
इसलिए हमें किसी भी प्रकार की कोई परेशानी नहीं हैं किसी की घर जाने में और मिलने में।
.
संत ने कहा आपसे से एक प्रश्न था की, आप कभी कुम्भ मेले में गए हो? और इतना सारा पुण्य आपको कैसे मिला?
.
रामू मोची बोला.. नहीं महाराज! मै कभी भी कुंभ के मेले में नहीं गया, पर जाने की बहुत लालसा थी इसलिए मै अपनी आमदनी से रोज कुछ बचत कर रहा था।
.
इस प्रकार महीने में करीब कुछ रूपया इकट्ठा हो जाता था और बारह महीने में कुम्भ जाने लायक और उधर रहने खाने पीने लायक रूपये हो गए थे।
.
जैसे ही मेरे पास कुम्भ जाने लायक पैसे हुए मुझे कुम्भ मेले का शुरू होने का इंतज़ार होने लगा..
.
और मै बहुत ही प्रसन्न था की मै कुंभ के मेले में गंगाजी स्नान करूँगा.
.
लेकिन उस समय मेरी पत्नी माँ बनने वाली थी। अभी कुछ ही समय पहले की बात हैं।
.
एक दिन मेरी पत्नी को पड़ोस के किसी घर से मेथी की सब्जी की सुगन्ध आ गयी। और उसने वह सब्जी खाने की इच्छा प्रकट की।
.
मैंने बड़े लोगो से सुना था कि गर्भवती स्त्री की इच्छा को पूरा कर देना चाहिए।
.
मैं सब्जी मांगने उनके घर चला गया और उनसे कहा, बहनजी, क्या आप थोड़ी सी सब्जी मुझको दे सकते हो।
.
मेरी पत्नी गर्भवती हैं और उसको खाने की इच्छा हो रही हैं।
.
हाँ रामू भैया! हमने मेथी की सब्जी तो बना रखी हैं.. वह बहन हिचकिचाने लग गई।
.
और फिर उसने जो कहा उसको सुनकर मै हैरान रह गया… मै आपको ये सब्जी नहीं दे सकती क्योंकि आपको देने लायक नहीं हैं।
.
क्यों बहन जी..?
.
आपको तो पता हैं हम बहुत ही गरीब हैं और हमने पिछले दो दिन से कुछ भी नहीं खाया।
.
भोजन की कोई व्यवस्था नही हो पा रही थी। आपके जो ये भैया वो काफी परेशान हो गए थे।
.
सबसे कर्जा भी ले लिया था। उनको जब कोई उपाय नहीं मिला तो भोजन के लिए घूमते – घूमते शमशान की ओर चले गए।
.
उधर किसी ने मृत्य की बाद अपने पितरों के निमित्त ये सब्जी रखी हुई थी। ये वहां से छिप – छिपाकर गए और उधर से ये सब्जी लेकर आ गए।
.
अब आप ही कहो मै किसी प्रकार ये अशुद्ध और अपवित्र सब्जी दे दूं?
.
उस रामू मोची ने फिर बड़े ही भावबिभोर होकर कहा…
.
यह सब सुनकर मुझको बहुत ही दुःख हुआ कि इस संसार में केवल मै ही गरीब नहीं हूँ, जो टका-टका जोड़कर कुम्भ मेले में जाने को कठिन समझ रहा था।
.
जो लोग अच्छे कपडे में दिखते है वो भी अपनी मुसीबत से जूझ रहे हैं और किसी से कह भी नहीं सकते…
.
और इस प्रकार के दिन भी देखने को मिलता हैं और खुद और बीबी बच्चो को इतने दिन भूख से तड़फते रहते हैं!
.
मुझे बहुत ही दुःख हुआ की हमारे पड़ोस में ऐसे लोग भी रहते हैं, और मै टका-टका बचाकर गंगा स्नान करने जा रहा हूँ ?
.
उनकी सेवा करना ही मेरा कुम्भ मेले जाना हैं। मैंने जो कुम्भ मेले में जाने के लिए रूपये इकट्ठे किये हुए थे वो घर से निकाल कर ले आया।
.
और सारे पैसे उस बहन के हाथ में रख दिए। उस दिन मेरा जो ये हृदय है बहुत ही सन्तुष्ट हो गया।
.
प्रभु जी! उस दिन से मेरे हृदय में आनंद और शांति आने लगी।
.
संत बोलेः हाँ इसलिए जो मैने सपना देखा, उसमें सभी तीर्थ मिलकर आपकी प्रशंसा कर रहे थे। इसलिए संतो ने सही कहा..

वैष्णव जन तो तेने रे कहीए जे पीड़ पराई जाणे रे।
पर दुःखे उपकार करे तोये मन अभिमान न आणे रे।।
. ((((((( जय जय श्री राधे )))))))

प्रकाश चंद्र शर्मा

Posted in संस्कृत साहित्य

કન્યાદાન નો મતલબ

કન્યાદાન મતલબ દિકરી નું દાન નહીં પરંતું ગોત્રદાન થાય છે.

કન્યા પિતા નું ગોત્ર છોડી પતિ ના ગોત્ર માં પ્રવેશ કરે છે.

એક પિતા પુત્રી ને એના ગોત્ર માંથી વિદાય આપે છે
અને
દિકરી પિતા ના ગોત્ર માંથી વિદાઇ લઇ પતિ ના ગોત્ર માં પ્રવેશ કરે છે…
અને
પિતા પોતાનું ગોત્ર અગ્નિ માં દાન કરે છે …
અને
પતિ અગ્નિ ની શાક્ષી એ એનું ગોત્ર આપી એના ગોત્ર માં સ્વીકારે છે….
આ છે ખરો કન્યાદાન નો મતલબ.

કોઇ મા બાપ માટે પોતાની દિકરી વસ્તું નથી જે દાન આપે
પણ …કન્યાદાન નો સાચો મતલબ આ છે….

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

♦️♦️♦️ रात्रि कहांनी ♦️♦️♦️ 🏵️ *एक कहानी मुझे याद आती है 🏵️

🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅
💙एक घर में बहुत दिनों से एक वीणा रखी थी। उस घर के लोग भूल गए थे, उस वीणा का उपयोग। पीढ़ियों पहले कभी कोई उस वीणा को बजाता रहा होगा। अब तो कभी कोई भूल से बच्चा उसके तार छेड़ देता था तो घर के लोग नाराज होते थे। कभी कोई बिल्ली छलांग लगा कर उस वीणा को गिरा देती तो आधी रात में उसके तार झनझना जाते, घर के लोगों की नींद टूट जाती। वह वीणा एक उपद्रव का कारण हो गई थी। अंततः उस घर के लोगों ने एक दिन तय किया कि इस वीणा को फेंक दें -जगह घेरती है, कचरा इकट्ठा करती है और शांति में बाधा डालती है। वह उस वीणा को घर के बाहर कूड़े घर पर फेंक आए।

🔸वह लौट ही नहीं पाए थे फेंक कर कि एक भिखारी गुजरता था, उसने वह वीणा उठा ली और उसके तारों को छेड़ दिया। वे ठिठक कर खड़े हो गए, वापस लौट गए। उस रास्ते के किनारे जो भी निकला, वे ठहर गया। घरों में जो लोग थे, वे बाहर आ गए। वहां भीड़ लग गई। वह भिखारी मंत्रमुग्ध हो उस वीणा को बजा रहा था। जब उन्हें वीणा का स्वर और संगीत मालूम पड़ा और जैसे ही उस भिखारी ने बजाना बंद किया है, वे घर के लोग उस भिखारी से बोलेः वीणा हमें लौटा दो। वीणा हमारी है। उस भिखारी ने कहाः वीणा उसकी है जो बजाना जानता है, और तुम फेंक चुके हो। तब वे लड़ने-झगड़ने लगे। उन्होंने कहा, हमें वीणा वापस चाहिए। उस भिखारी ने कहाः फिर कचरा इकट्ठा होगा, फिर जगह घेरेगी, फिर कोई बच्चा उसके तारों को छेड़ेगा और घर की शांति भंग होगी। वीणा घर की शांति भंग भी कर सकती है, यदि बजाना न आता हो। वीणा घर की शांति को गहरा भी कर सकती है, यदि बजाना आता हो। सब कुछ बजाने पर निर्भर करता है।

🔸जीवन भी एक वीणा है और सब कुछ बजाने पर निर्भर करता है। जीवन हम सबको मिल जाता है, लेकिन उस जीवन की वीणा को बजाना बहुत कम लोग सीख पाते हैं। इसीलिए इतनी उदासी है, इतना दुख है, इतनी पीड़ा है। इसीलिए जगत में इतना अंधेरा है, इतनी हिंसा है, इतनी घृणा है। इसलिए जगत में इतना युद्ध है, इतना वैमनस्य है, इतनी शत्रुता है। जो संगीत बन सकता था जीवन, वह विसंगीत बन गया है क्योंकि बजाना हम उसे नहीं जानते हैं। *🌟🔸ओम शान्ति 🔸🌟*

🍄🍃🍄🍃🍄🍃🍄🍃🍄🍃🍄

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

एक बार एक राजा था ! वह जब भी मन्दिर जाता तो दो फ़क़ीर मन्दिर के दरवाज़े पर उसके दांये और बांये बैठा करते थे ! दाईं तरफ़ वाला कहता – “हे भगवान, तूने राजा को बहुत कुछ दिया है, मुझे भी दे दे” ! बाईं तरफ़ वाला कहता – “ऐ राजा ! भगवान ने तुझे बहुत कुछ दिया है, मुझे भी कुछ दे दे” ! दाईं तरफ़ वाला फ़क़ीर बाईं तरफ़ वाले से कहता – “भगवान से माँग ! बेशक वह सबसे बेहतर सुनने वाला है” ! बाईं तरफ़ वाला जवाब देता – “चुपकर बेवक़ूफ़” !
एक बार राजा ने अपने वज़ीर को बुलाया और कहा कि मन्दिर में दाईं तरफ जो फ़क़ीर बैठता है वह हमेशा भगवान से माँगता है तो बेशक भगवान् उसकी ज़रूर सुनेगा लेकिन जो बाईं तरफ बैठता है वह हमेशा मुझसे फ़रियाद करता रहता है, तो तुम ऐसा करो कि एक बड़े से बर्तन में खीर भरकर उसमें अशर्फियाँ डाल दो और वह उसको दे आओ ! वज़ीर ने ऐसा ही किया… अब वह फ़क़ीर मज़े से खीर खाते-खाते दूसरे फ़क़ीर को चिड़ाता हुआ बोला – “हुह… बड़ा आया ‘भगवान् देगा…वाला, यह देख राजा से माँगा, मिल गया ना” ? खाने के बाद जब उसका पेट भर गया तो उसने खीर से भरा बर्तन उस दूसरे फ़क़ीर को दे दिया और कहा – “ले पकड़… तू भी खा ले, बेवक़ूफ़” !
अगले दिन जब राजा आया तो देखा कि बाईं तरफ वाला फ़क़ीर तो आज भी वैसे ही बैठा है लेकिन दाईं तरफ वाला ग़ायब है ! राजा नें चौंककर उससे पूछा – “क्या तुझे खीर से भरा बर्तन नहीं मिला” ? फ़क़ीर – “जी मिला ना बादशाह सलामत, क्या लज़ीज़ खीर थी, मैंने ख़ूब पेट भरकर खायी” ! राजा – “फिर” ? फ़क़ीर – “फ़िर वह जो दूसरा फ़क़ीर यहाँ बैठता है मैंने उसको बची हुई खीर का बर्तन दे दिया, बेवक़ूफ़ हमेशा कहता रहता है – “भगवान् देगा, भगवान् देगा” ! राजा मुस्कुरा कर बोला – “बेशक, भगवान् ने उसे दे दिया”..!

रामचंद्र आर्य

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

2️⃣2️⃣❗0️⃣2️⃣❗2️⃣0️⃣2️⃣1️⃣
🌹🔸मुक्ति के लिए कलियुग ही सर्वश्रेष्ठ 🔸🌹

एक बार बड़े-बड़े ऋषि-मुनि एक जगह जुटे तो इस बात पर विचार होने लगा कि कौन सा युग सबसे बढिया है. बहुतों ने कहा सतयुग, कुछ त्रेता को तो कुछ द्वापर को श्रेष्ठ बताते रहे.
.
जब एक राय न हुई यह तय हुआ कि जिस काल में कम प्रयास में ज्यादा पुण्य कमाया जा सके, साधारण मनुष्य भी सुविधा अनुसार धर्म-कर्म करके पुण्य कमा सके उसे ही श्रेष्ठ माना जाएगा.
.
विद्वान आसानी से कभी एकमत हो ही नहीं सकते. कोई हल निकलने की बजाए विवाद और भड़क गया. सबने कहा झगड़ते रहने से क्या फायदा, व्यास जी सबके बड़े हैं उन्हीं से पूछ लेते हैं. वह जो कहें, उसे मानेंगे.
.
सभी व्यास जी के पास चल दिए. व्यास जी उस समय गंगा में स्नान कर रहे थे. सब महर्षि के गंगा से बाहर निकलने का इंतज़ार करने लगे. व्यास जी ने भी सभी ऋषि-मुनियों को तट पर जुटते देखा तो एक गहरी डुबकी ली.
.
जब बाहर निकले तो उन्होंने एक मंत्र बोला. वह मंत्र स्नान के समय उच्चारण किए जाने वाले मंत्रों से बिल्कुल अलग था. ऋषियों ने व्यास जी को जपते सुना- कलियुग ही सर्वश्रेष्ठ है कलियुग ही श्रेष्ठ.
.
इससे पहले कि ऋषिगण कुछ समझते व्यास जी ने फिर डुबकी मार ली. इस बार ऊपर आए तो बोले- शूद्र ही साधु हैं, शूद्र ही साधु है. यह सुनकर मुनिगण एक दूसरे का मुंह देखने लगे.
.
व्यास जी ने तीसरी डुबकी लगाई. इस बार निकले तो बोले- स्त्री ही धन्य है, धन्य है स्त्री. ऋषि मुनियों को यह माजरा कुछ समझ में नहीं आया. वे समझ नहीं पा रहे थे कि व्यास जी को क्या हो गया है. यह कौन सा मंत्र और क्यों ये मंत्र पढ रहे हैं.
.
व्यास जी गंगा से निकल कर सीधे अपनी कुटिया की ओर बढे. उन्होंने नित्य की पूजा पूरी की. कुटिया से बाहर आए तो ऋषि मुनियों को प्रतीक्षा में बैठे पाए. स्वागत कर पूछा- कहो कैसे आए ?
.
ऋषि बोले- महाराज ! हम आए तो थे एक समस्या का समाधान करवाने पर आपने हमें कई नए असमंजस में डाल दिया है. नहाते समय आप जो मंत्र बोल रहे थे उसका कोई गहरा मतलब होगा, हमें समझ नहीं आया, स्पष्ट बताने का कष्ट करें.
.
व्यास जी ने कहा- मैंने कहा, कलयुग ही श्रेष्ठ है, शूद्र ही साधु हैं और स्त्री ही धन्य हैं. यह बात न तो बहुत गोपनीय है न इतनी गहरी कि आप जैसे विद्वानों की समझ में न आए. फिर भी आप कहते हैं तो कारण बता देता हूं.
.
जो फल सतयुग में दस वर्ष के जप-तप, पूजा-पाठ और ब्रह्मचर्य पालन से मिलता है वही फल त्रेता में मात्र एक वर्ष और द्वापर में एक महीना जबकि कलियुग में केवल एक दिन में मिल जाता है.
.
सतयुग में जिस फल के लिए ध्यान, त्रेता में यज्ञ और द्वापर में देवी देवताओं के निमित्त हवन-पूजन करना पडता है, कलियुग में उसके लिए केवल श्री नारायण का नापजप ही पर्याप्त है. कम समय और कम प्रयास में सबसे अधिक पुण्य लाभ के चलते मैंने कलयुग को सबसे श्रेष्ठ कहा.
.
ब्राह्मणों को जनेऊ कराने के बाद कितने अनुशासन और विधि-विधान का पालन करने के बाद पुण्य प्राप्त होता है. जबकि शूद्र केवल निष्ठा से सेवा दायित्व निभा कर वह पुण्यलाभ अर्जित कर सकते हैं. सब कुछ सहते हुए वे ऐसा करते भी आए हैं इसलिए शूद्र ही साधु हैं.
.
स्त्रियों का न सिर्फ उनका योगदान महान है बल्कि वे सबसे आसानी से पुण्य लाभ कमा लेती हैं. मन, वचन, कर्म से परिवार की समर्पित सेवा ही उनको महान पुण्य दिलाने को पर्याप्त है. वह अपनी दिन चर्या में ऐसा करती हैं इसलिए वे ही धन्य हैं.
.
मैंने अपनी बात बता दी, अब आप लोग बताएं कि कैसे पधारना हुआ. सभी ने एक सुर में कहा हम लोग जिस काम से आये थे आपकी कृपा से पूरा हो गया.
.
महर्षि व्यास ने कहा- आप लोगों को नदी तट पर देख मैंने अपने ध्यान बल से आपके मन की बात जान ली थी इसी लिए डुबकी लगाने के साथ ही जवाब भी देता गया था. सभी ने महर्षि व्यास की पूजा की और अपने-अपने स्थान को लौट गये..!!
🙏🏻🙏🏿🙏🙏🏾🙏🏽💥💥💥