Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

एक संन्यासी घूमते-फिरते एक दुकान पर पहुंच गए ।


एक संन्यासी घूमते-फिरते एक दुकान पर पहुंच गए ।

KNOWLEDGE VALLEY FROM INTERNET

एक संन्यासी घूमते-फिरते एक दुकान पर पहुंच गए । दुकान में अनेक छोटे-बडे डिब्बे रखे हुए थे । एक डिब्बे की ओर इशारा करते हुए संन्यासी ने दुकानदार से पूछा – इसमें क्या है ? दुकानदार ने कहा – इसमें नमक है ।
संन्यासी ने फिर पूछा इसके पास वाले में क्या है ? दुकानदार ने कहा इसमें हल्दी है । संन्यासी – इसके बाद वाले में ? दुकानदार ने कहा – जीरा है । संन्यासी ने फिर पूछा – आगे वाले में ? दुकानदार – उसमें हींग है ।
इस प्रकार संन्यासी पूछ्ते गए और दुकानदार बतलाता रहा । आखिर पीछे रखे डिब्बे का नंबर आया । संन्यासी ने पूछा – उस अंतिम डिब्बे में क्या है ? दुकानदार ने कहा -उसमें राम-राम है । संन्यासी चौंक पडे यह राम-राम किस वस्तु का नाम है । दुकानदार ने कहा – महात्मन ! और डिब्बों में तो भिन्न-भिन्न वस्तुएं डाली हुई हैं । पर यह डिब्बा खाली है । ह्म खाली को खाली नहीं कहते, इसमें राम-राम है ।
संन्यासी की आंखें खुली की खुली रह गई , खाली में राम-राम ! ओह ! तो खाली में राम-राम रहता है , भरे हुए में राम को स्थान कहां ? लोभ,लालच,ईर्ष्या,द्वेष और भली-बुरी बातों से जब दिल-दिमाग भरा रहेगा तो उसमें ईश्वर का वास कैसे होगा ? उसमें राम यानी ईश्वर तो साफ-सुथरे मन में निवास करता है । दुकानदार की बात से संन्यासी के ज्ञान चक्षु खुल गए ।

Author:

Buy, sell, exchange books

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s