Posted in Uncategorized

|| घण्टा ||
आगमार्थन्तु देवानां गमनार्थन्तु राक्षसाम्।
घण्टानादं प्रकुर्वीत पश्चात् घण्टां प्रपूजयेत्।।
घण्टास्थिताय गरुडाय नमः

हिंदू धर्म में देवालयों व मंदिरों के बाहर घंटियां या घडिय़ाल पुरातन काल से लगाए जाते हैं। जैन और हिन्दू मंदिर में घंटी लगाने की परंपरा की शुरुआत प्राचीन ऋषियों-मुनियों ने शुरू की थी। इस परंपरा को ही बाद में बौद्ध धर्म और फिर ईसाई धर्म ने अपनाया। बौद्ध जहां स्तूपों में घंटी, घंटा, समयचक्र आदि लगाते हैं तो वहीं चर्च में भी घंटी और घंटा लगाया जाता है।

देवालयों में घंटी और घड़ियाल संध्यावंदन के समय बजाएं जाते हैं। संध्यावंदन 8 प्रहर की होती है जिसमें से मुख्‍य पांच और उसमें से भी प्रात: और संध्या यह दो प्रमुख है। घंटी और घड़ियाल ताल और गति से बजाया जाता है।

स्कंद पुराण के अनुसार मंदिर में घंटी बजाने से मानव के सौ जन्मों के पाप नष्ट हो जाते हैं। जब सृष्टि का प्रारंभ हुआ तब जो नाद (आवाज) था, घंटी या घडिय़ाल की ध्वनि से वही नाद निकलता है। यही नाद ओंकार के उच्चारण से भी जाग्रत होता है। घंटे को काल का प्रतीक भी माना गया है। धर्म शास्त्रियों के अनुसार जब प्रलय काल आएगा तब भी इसी प्रकार का नाद प्रकट होगा।

मंदिर में घंटी लगाए जाने के पीछे न सिर्फ धार्मिक कारण है बल्कि वैज्ञानिक कारण भी इनकी आवाज को आधार देते हैं। वैज्ञानिकों का कहना है कि जब घंटी बजाई जाती है तो वातावरण में कंपन पैदा होता है, जो वायुमंडल के कारण काफी दूर तक जाता है। इस कंपन का फायदा यह है कि इसके क्षेत्र में आने वाले सभी जीवाणु, विषाणु और सूक्ष्म जीव आदि नष्ट हो जाते हैं जिससे आसपास का वातावरण शुद्ध हो जाता है।

अत: जिन स्थानों पर घंटी बजने की आवाज नियमित आती है वहां का वातावरण हमेशा शुद्ध और पवित्र बना रहता है। इससे नकारात्मक शक्तियां हटती हैं। नकारात्मकता हटने से समृद्धि के द्वार खुलते हैं।

पहला कारण घंटी बजाने से देवताओं के समक्ष आपकी हाजिरी लग जाती है। मान्यता अनुसार घंटी बजाने से मंदिर में स्थापित देवी-देवताओं की मूर्तियों में चेतना जागृत होती है जिसके बाद उनकी पूजा और आराधना अधिक फलदायक और प्रभावशाली बन जाती है।

दूसरा कारण यह कि घंटी की मनमोहक एवं कर्णप्रिय ध्वनि मन-मस्तिष्क को अध्यात्म भाव की ओर ले जाने का सामर्थ्य रखती है। मन घंटी की लय से जुड़कर शांति का अनुभव करता है। मंदिर में घंटी बजाने से मानव के कई जन्मों के पाप तक नष्ट हो जाते हैं। सुबह और शाम जब भी मंदिर में पूजा या आरती होती है तो एक लय और विशेष धुन के साथ घंटियां बजाई जाती हैं जिससे वहां मौजूद लोगों को शांति और दैवीय उपस्थिति की अनुभूति होती है।

राजेस्वराचार्य

Advertisements
Posted in Uncategorized

रात के दो बजे थे।
एक श्रीमंत को नींद नहीं आ रही थी, चाय पी, सिगरेट पी, घर में कई चक्कर लगाये पर चैन नहीं पड़ा

आखिर मैं थक कर नीचे आया कार निकाली और शहर की सड़कों पर निकल गया। रास्ते में एक मंदिर दिखा सोचा थोड़ी देर इस मंदिर में भगवान के पास बैठता हूं प्रार्थना करता हूं तो शायद शांति मिल जाय।

वह आदमी मंदिर के अंदर गया तो देखा, एक दूसरा आदमी भगवान की मूर्ति के सामने बैठा था, उदास चेहरा, आंखों में करूणता।

श्रीमंत ने पूछा ” क्यों भाई इतनी रात को?”
आदमी ने कहा ” मेरी पत्नी अस्पताल में है, सुबह यदि उनका आपरेशन नहीं हुआ तो मर जायेगी और मेरे पास आपरेशन का पैसा नहीं है”।

इस श्रीमंत ने पाकिट में जितने रूपए थे दिया। गरीब आदमी के चहरे पे चमक आई।

श्रीमंत ने कार्ड दिया और कहा इस में फोन नं. और पता भी है और जरूरत हो तो निसंकोच बताना।

उस गरीब आदमी ने कार्ड वापिस दिया और कहा “मेरे पास एड्रेस है” एड्रेस की जरूरत नहीं है सेठजी।

आश्चर्य से श्रीमंत ने कहा “किसका एड्रेस है” वह गरिब आदमी ने कहा *”जिसने रात को साढ़े तीन बजे आपको यहां भेजा उनका”.

Posted in Uncategorized

तिलक का महत्व

प्राय:हिंदू परिवारों में किसी भी शुभ कार्य में”तिलक या टीका”लगाने का विधान हैं यह तिलक कई वस्तुओ व पदार्थो से लगाया जाता हैं जिनमे हल्दी,सिन्दूर,केशर,भस्म,व चंदन आदि प्रमुख हैं परन्तु क्या आप जानते हैं की इस तिलक लगाने के प्रति भावना क्या छिपी हैं |

तिलक लगाने से एक तो स्वभाव में सुधार आता हैं व देखने वाले पर सात्विक प्रभाव पड़ता हैं|तिलक जिस भी पदार्थ का लगाया जाता हैं उस पदार्थ की ज़रूरत अगर शरीर को होती हैं तो वह भी पूर्ण हो जाती हैं इसी कारण से पंडित व गुणीजन व्यक्ति विशेष को देखकर उसे किस पदार्थ का तिलक लगाना हैं यह बताते हैं|

तिलक किसी खास प्रयोजन के लिए भी लगाये जाते हैं जैसे यदि मोक्षप्राप्ती करनी हो तो तिलक अंगू� े से,शत्रुनाशकरना हो तो तर्जनी से,धनप्राप्ति हेतु मध्यमा से,तथा शान्ति प्राप्ति हेतु अनामिका से लगाया जाता हैं |आमतौर से तिलक अनामिका द्वारा लगाया जाता हैं और उसमे भी केवल चंदन ही लगाया जाता हैं तिलक संग चावल लगाने से लक्ष्मी को आकर्षित करने का तथा � ंडक व सात्विकता प्रदान करने का निमित छुपा हुआ होता हैं |अतः प्रत्येक व्यक्ति को तिलक ज़रूर लगाना चाहिए

आचार्य विकास शर्मा

Posted in Uncategorized

🙏🙏राधे राधे🙏🙏

एक नगर के राजा ने यह घोषणा करवा दी कि कल जब मेरे महल का मुख्य दरवाज़ा खोला जायेगा..

तब जिस व्यक्ति ने जिस वस्तु को हाथ लगा दिया वह वस्तु उसकी हो जाएगी..

इस घोषणा को सुनकर सब लोग आपस में बातचीत करने लगे कि मैं अमुक वस्तु को हाथ लगाऊंगा..

कुछ लोग कहने लगे मैं तो स्वर्ण को हाथ लगाऊंगा, कुछ लोग कहने लगे कि मैं कीमती जेवरात को हाथ लगाऊंगा, कुछ लोग घोड़ों के शौक़ीन थे और कहने लगे कि मैं तो घोड़ों को हाथ लगाऊंगा, कुछ लोग हाथीयों को हाथ लगाने की बात कर रहे थे, कुछ लोग कह रहे थे कि मैं दुधारू गौओं को हाथ लगाऊंगा..

कल्पना कीजिये कैसा
अद्भुत दृश्य होगा वह !!

उसी वक्त महल का मुख्य दरवाजा खुला और सब लोग अपनी अपनी मनपसंद वस्तु को हाथ लगाने दौड़े..

सबको इस बात की जल्दी थी कि पहले मैं अपनी मनपसंद वस्तु को हाथ लगा दूँ ताकि वह वस्तु हमेशा के लिए मेरी हो जाएँ और सबके मन में यह डर भी था कि कहीं मुझ से पहले कोई दूसरा मेरी मनपसंद वस्तु को हाथ ना लगा दे..

राजा अपने सिंघासन पर बैठा सबको देख रहा था और अपने आस-पास हो रही भाग दौड़ को देखकर मुस्कुरा रहा था..

उसी समय उस भीड़ में से एक छोटी सी लड़की आई और राजा की तरफ बढ़ने लगी..

राजा उस लड़की को देखकर सोच में पढ़ गया और फिर विचार करने लगा कि यह लड़की बहुत छोटी है शायद यह मुझसे कुछ पूछने आ रही है..

वह लड़की धीरे धीरे चलती हुई राजा के पास पहुंची और उसने अपने नन्हे हाथों से राजा को हाथ लगा दिया..

राजा को हाथ लगाते ही राजा उस लड़की का हो गया और राजा की प्रत्येक वस्तु भी उस लड़की की हो गयी..
.
.
जिस प्रकार उन लोगों को राजा ने मौका दिया था और उन लोगों ने गलती की..

ठीक उसी प्रकार प्रभु भी हमे हर रोज मौका देता है और हम हर रोज गलती करते है..

हम प्रभु को पाने की बजाएँ
प्रभु की बनाई हुई संसारी वस्तुओं
की कामना करते है और
उन्हें प्राप्त करने के लिए यत्न करते है

पर हम कभी इस बात पर विचार नहीं करते कि यदि प्रभु हमारे हो गए तो उनकी बनाई हुई प्रत्येक वस्तु भी हमारी हो जाएगी..

प्रभु को चाहना और
प्रभु से चाहना..
दोनों में बहुत अंतर है|
🌷🙏जय श्री कृष्णा🙏🌷🌼🌼🌼🌼
🌹🌹🌹🌳🌳🌳🌹🌹🌹🌳🌳🌳🌹🌹🌹🌳🌳🌳

साधना शर्मा

Posted in Uncategorized

✨✨✨✨✨✨✨✨✨✨✨✨✨✨✨✨✨
🚩🚩🚩🚩🚩🚩 #जयमातादी 🚩🚩🚩🚩🚩🚩
🌜 मधुर सपनों के साथ शुभ रात्रि प्रिय आदरणीय साथियों 🌛
#माँदुर्गाकेनौरुपोंकीकथा
👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣
शास्त्रानुसार माँ दुर्गा के नौ रुप कहे गए हैं और नवरात्र के प्रत्येक दिन माँ का ही एक रुप होता है. माता के इन रुपों के पीछे क्या कहानी हैं उसका वर्णन इस लेख के द्वारा पाठकों तक पहुंचाने का प्रयास किया जा रहा है.
👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣
#महाकाली – #Mahakali
👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣
प्राचीन समय की बात है संसार में प्रलय आ गई और चारों ओर पानी नजर आने लगा. उस समय भगवान विष्णु की नाभि से कमल की उत्त्पत्ति हुई. उस कमल से ब्रह्माजी की उत्पत्ति हुई. विष्णु जी के कानों से कुछ मैल भी निकला था जिससे मधु और कैटभ नाम के दो राक्षस भी पैदा हो गए. मधु और कैटभ, ब्रह्मा जी को देख उन्हें अपना भोजन बनाने के लिए दौड़े. ब्रह्मा जी ने भय के मारे विष्णु जी स्तुति करनी आरंभ की. ब्रह्माजी की स्तुति से विष्णु भगवान की आँख खुल गई और उनके नेत्रों में वास करने वाली महामाया वहाँ से लोप हो गई. विष्णु जी के जागते ही मधु-कैटभ उनसे युद्ध करने लगे.
शास्त्रो के अनुसार यह युद्ध पाँच हजार वर्षों तक चला था. अंत में महामाया ने महाकाली का रुप धारण किया और दोनों राक्षसों की बुद्धि को बदल दिया. ऎसा होने पर दोनों असुर भगवान विष्णु से कहने लगे कि हम तुम्हारे युद्ध कौशल से बहुत प्रसन्न है. तुम जो चाहो वह वर माँग सकते हो. भगवान विष्णु बोले कि यदि तुम कुछ देना ही चाहते हो तो यह वर दो कि असुरों का नाश हो जाए. उन दोनों ने तथास्तु कहा और उन महाबली दैत्यों का नाश हो गया.
👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣
#महालक्ष्मी – #Mahalakshmi
👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣
प्राचीन समय में महिषासुर नाम का एक दैत्य था. उसने अपने बल से सभी राजाओं को परास्त कर पृथ्वी और पाताल लोक पर अपना अधिकार कर लिया था. अब वह स्वर्ग पर अधिकार चाहता था तो उसने देवताओं पर चढ़ाई कर दी. देवताओं ने अपनी रक्षा के लिए भगवान विष्णु तथा शिवजी से प्रार्थना की. उनकी प्रार्थना सुनकर दोनों के शरीर से एक तेज पुंज निकला और उसने महालक्ष्मी का रुप धारण किया. इन महालक्ष्मी ने महिषासुर का अंत किया और देवताओं को दैत्यों के कष्ट से मुक्ति दिलाई.
👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣
#चामुण्डादेवी – #Chamunda_Devi
👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣
बहुत पहले संसार में दो राक्षसों की उत्पत्ति हुई जिनका नाम शुम्भ व निशुम्भ था. उन्होंने अपनी शक्ति के बल पर पृथ्वी व पाताल लोक के सभी राजाओं को परास्त कर दिया. अब वह दोनों स्वर्ग पर चढ़ाई करने चल दिए. देवताओं ने भगवान विष्णु को याद किया और उनसे प्रार्थना की. उनकी इस प्रार्थना और अनुनय से विष्णु भगवान के शरीर से एक ज्योति प्रकट हुई जो चामुण्डा के नाम से प्रसिद्ध हुई. देखने में वह बहुत सुंदर थी और उनकी सुंदरता देख कर शुम्भ-निशुम्भ ने सुग्रीव नाम के अपने एक दूत को देवी के पास भेजा कि वह उन दोनों में से किसी एक को अपने वर के रुप में स्वीकार कर ले.
देवी ने उस दूत को कहा कि उन दोनों में से जो उन्हें युद्ध में परास्त करेगा उसी से वह विवाह करेगी. दूत के मुँह से यह समाचार सुनकर उन दोनो दैत्यों ने पहले युद्ध के लिए अपने सेनापति धूम्राक्ष को भेजा जो अपनी सेना समेत मारा गया. उसके बाद चण्ड-मुण्ड को भेजा गया जो देवी के हाथों मारे गए. उसके बाद रक्तबीज लड़ने आया. रक्तबीज की एक विशेषता यह थी कि उसके शरीर से खून की जो भी बूँद धरती पर गिरती उससे एक वीर पैदा हो जाता था. देवी ने उसके खून को खप्पर में भरकर पी लिया. इस तरह से रक्तबीज का भी अंत हो गया. अब अंत में शुम्भ-निशुम्भ लड़ने आ गए और वह भी देवी के हाथों मारे गए.
👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣
#योगमाया – #Yogmaya
👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣
जब कंस ने देवकी और वासुदेव के छ: पुत्रों को मार दिया तब सातवें गर्भ के रुप में शेषनाग के अवतार बलराम जी आए और रोहिणी के गर्भ में स्थानांतरित होकर प्रकट हुए. उसके बाद आठवें गर्भ में श्रीकृष्ण भगवान प्रकट हुए. उसी समय गोकुल में यशोदा जी के गर्भ से योगमाया का जन्म हुआ. वासुदेव जी कृष्ण को वहां छोड़कर योगमाया को वहाँ से ले आए. कंस को जब आठवें बच्चे के जन्म का पता चला तो वह योगमाया को पटककर मारने लगा लेकिन योगमाया उसके हाथों से छिटकर आकाश में चली गई और उसने देवी का रुप धारण कर लिया. आगे चलकर इसी योगमाया ने कृष्ण के हाथों योगविद्या और महाविद्या बनकर कंस, चाणूर आदि शक्तिशाली असुरों को परास्त कर के उनका संहार किया.
👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣
#रक्तदंतिका – #Raktadantika
👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣
बहुत समय पहले की बात है वैप्रचिति नाम के असुर ने पृथ्वी व देवलोक में अपने कुकर्मों से आतंक मचा के रखा था. उसने सभी का जीना दूभर कर दिया था. देवताओं और पृथीवासियों की पुकार से देवी दुर्गा ने रक्तदन्तिका नाम से अवतार लिया. देवी ने वैप्रचिति और अन्य असुरों का रक्तपान कर के मानमर्दन कर दिया. देवी के रक्तपान करने उनका नाम रक्तदन्तिका पड़ गया.
👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣
#शाकुम्भरी
देवी – #Shakumbhari_Devi
👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣
प्राचीन समय में एक बार पृथ्वी पर सौ वर्षों तक बारिश ना होने से भयंकर सूखा पड़ गया. चारों ओर सूखा ही सूखा था और वनस्पति भी सूख गई थी जिससे सभी ओर हाहाकार मच गया. सूखे से निपटने के लिए ऋषि-मुनियों ने वर्षा के लिए भगवती देवी की उपासना की. उनकी स्तुति से माँ जगदम्बा ने शाकुम्भरी के नाम से पृथ्वी पर स्त्री रुप में अवतार लिया. उनकी कृपा हुई और पृथ्वी पर बारिश पड़ी. माँ की कृपा से सभी वनस्पतियों और जीव-जंतुओं को जीवन दान मिला.
👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣
#श्रीदुर्गा_देवी – #Shri_Durga_Devi
👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣
प्राचीन समय में दुर्गम नाम का एक राक्षस हुआ जिसके प्रकोप से पृथ्वी, पाताल और देवलोक में हड़कम्प मच गया. इस विपत्ति से निपटने के लिए भगवान की शक्ति दुर्गा ने अवतार लिया. देवी दुर्गा ने दुर्गम राक्षस का संहार किया और पृथ्वी लोक के साथ देवलोक व पाताललोक को विपत्ति से मुक्ति दिलाई. दुर्गम राक्षस का वध करने के कारण ही तीनों लोकों में इनका नाम देवी दुर्गा पड़ा.
👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣
#भ्रामरी – #Bhramari
👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣
प्राचीन समय में अरुण नाम के राक्षस की इतनी हिम्मत बढ़ गई कि वह देवलोक में रहने वाली देव-पत्नियों के सतीत्व को नष्ट करने का कुप्रयास करने लगा. अपने सतीत्व को बचाने के लिए देव पत्नियों ने भौरों का रुप धारण कर लिया. वह सब देवी दुर्गा से अपने सतीत्व को बचाने के लिए प्रार्थना करने लगी. देव-पत्नियों को दुखी देख माँ दुर्गा ने भ्रामरी का रुप धारण किया और अरुण राक्षस के संहार के साथ उसकी सेना को भी नष्ट कर दिया.
👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣
#चण्डिका – #Chandika
👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣
एक बार पृथ्वी पर चण्ड-मुण्ड नाम के दो राक्षस पैदा हुए. इन दोनों राक्षसों ने तीनों लोकों पर अपना अधिकार कर लिया. इससे दुखी होकर देवताओं ने मातृ शक्ति देवी का स्मरण किया. देवताओं की स्तुति से प्रसन्न होकर देवी ने चण्ड-मुण्ड राक्षसों का विनाश करने के लिए चण्डिका के रुप में अवतार लिया.
✨✨✨✨✨✨✨✨✨✨✨✨✨✨✨✨✨

प्रभात कुमार

Posted in Uncategorized

कल रात मैंने एक
“सपना” देखा.!
मेरी Death हो गई….
जीवन में कुछ अच्छे कर्म किये होंगे
इसलिये यमराज मुझे
स्वर्ग में ले गये…
देवराज इंद्र ने
मुस्कुराकर
मेरा स्वागत किया…
मेरे हाथ में
Bag देखकर पूछने लगे
”इसमें क्या है..?”
मैंने कहा…
” इसमें मेरे जीवन भर की कमाई है, पांच करोड़ रूपये हैं ।”
इन्द्र ने
‘BRP-16011966’
नम्बर के Locker की ओर
इशारा करते हुए कहा-
”आपकी अमानत इसमें रख
दीजिये..!”
मैंने Bag रख दी…
मुझे एक Room भी दिया…
मैं Fresh होकर
Market में निकला…
देवलोक के
Shopping मॉल मे
अदभूत वस्तुएं देखकर
मेरा मन ललचा गया..!
मैंने कुछ चीजें पसन्द करके
Basket में डाली,
और काउंटर पर जाकर
उन्हें हजार हजार के
करारे नोटें देने लगा…
Manager ने
नोटों को देखकर कहा,
”यह करेंसी यहाँ नहीं चलती..!”
यह सुनकर
मैं हैरान रह गया..!
मैंने इंद्र के पास
Complaint की
इंद्र ने मुस्कुराते हुए कहा कि,
”आप व्यापारी होकर
इतना भी नहीं जानते..?
कि आपकी करेंसी
बाजु के मुल्क
पाकिस्तान,
श्रीलंका
और बांगलादेश में भी
नही चलती…
और आप
मृत्यूलोक की करेंसी
स्वर्गलोक में चलाने की
मूर्खता कर रहे हो..?”
यह सब सुनकर
मुझे मानो साँप सूंघ गया..!
मैं जोर जोर से दहाड़े मारकर
रोने लगा.
और परमात्मा से
दरखास्त करने लगा,
”हे भगवान्.ये…
क्या हो गया.?”
”मैंने कितनी मेहनत से
ये पैसा कमाया..!”
”दिन नही देखा,
रात नही देखा,”
” पैसा कमाया…!”
”माँ बाप की सेवा नही की,
पैसा कमाया,
बच्चों की परवरीश नही की,
पैसा कमाया….
पत्नी की सेहत की ओर
ध्यान नही दिया,
पैसा कमाया…!”
”रिश्तेदार,
भाईबन्द,
परिवार और
यार दोस्तों से भी
किसी तरह की
हमदर्दी न रखते हुए
पैसा कमाया.!!”
”जीवन भर हाय पैसा
हाय पैसा किया…!
ना चैन से सोया,
ना चैन से खाया…
बस,
जिंदगी भर पैसा कमाया.!”
”और यह सब
व्यर्थ गया..?”
”हाय राम,
अब क्या होगा..!”
इंद्र ने कहा,
”रोने से
कुछ हासिल होने वाला
नहीं है.!! ”
“जिन जिन लोगो ने
यहाँ जितना भी पैसा लाया,
सब रद्दी हो गया।”
“जमशेद जी टाटा के
55 हजार करोड़ रूपये,
बिरला जी के
47 हजार करोड़ रूपये,
धीरू भाई अम्बानी के
29 हजार करोड़
अमेरिकन डॉलर…!
सबका पैसा यहां पड़ा है…!”
मैंने इंद्र से पूछा
“फिर यहां पर
कौनसी करेंसी
चलती है..?”
इंद्र ने कहा-
“धरती पर अगर
कुछ अच्छे कर्म
किये है…!
जैसे किसी दुखियारे को
मदद की,
किसी रोते हुए को
हसाया,
किसी गरीब बच्ची की
शादी कर दी,
किसी अनाथ बच्चे को
पढ़ा लिखा कर
काबिल बनाया…!
किसी को
व्यसनमुक्त किया…!
किसी अपंग स्कुल, वृद्धाश्रम या
मंदिरों में दान धर्म किया…!”
“ऐसे पूण्य कर्म करने वालों को
यहाँ पर एक Credit Card
मिलता है…!
और
उसे वापर कर आप यहाँ
स्वर्गीय सुख का उपभोग ले
सकते है..!”
मैंने कहा,
“भगवन….
मुझे यह पता
नहीं था.
इसलिए मैंने अपना जीवन
व्यर्थ गँवा दिया.!!”
“हे प्रभु,
मुझे थोडा आयुष्य दीजिये..!”
और मैं गिड़गिड़ाने लगा.!
इंद्र को मुझ पर दया आ गई.!!
इंद्र ने तथास्तु कहा
और मेरी नींद खुल गयी..!
मैं जाग गया..!
अब मैं वो दौलत कमाऊँगा
जो वहाँ चलेगी..!!

कस्यप

Posted in Uncategorized

💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥
🐚🐚🐚🐚🐚 #जयमाँमहालक्ष्मी 🐚🐚🐚🐚🐚
🌜 मधुर सपनों के साथ शुभ रात्रि प्रिय आदरणीय साथियों 🌛
💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥
दीपावली पूजन विधि
दीपावली पूजन सामग्री
लक्ष्मीजी की आरती
महालक्ष्मी पूजन मुहूर्त
लक्ष्मी पूजा का स्थान ईशान कोण
वास्तु सम्मत लक्ष्मी पूजन
धनतेरस
प्रदोष-लक्ष्मी-पूजन
19.10.2017 दीपावली एवं महाकाली पूजा है।
👷👷👷👷👷👷👷👷👷👷👷👷👷👷👷👷👷
#दीपावलीपूजनविधि
👷👷👷👷👷👷👷👷👷👷👷👷👷👷👷👷👷
कार्तिक मास की अमावस्या का दिन दीपावली के रूप में पूरे देश में बडी धूम-धाम से मनाया जाता हैं। इसे रोशनी का पर्व भी कहा जाता है।
🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼
कहा जाता है कि कार्तिक अमावस्या को भगवान रामचन्द्र जी चौदह वर्ष का बनवास पूरा कर अयोध्या लौटे थे। अयोध्या वासियों ने श्री रामचन्द्र के लौटने की खुशी में दीप जलाकर खुशियाँ मनायी थीं, इसी याद में आज तक दीपावली पर दीपक जलाए जाते हैं और कहते हैं कि इसी दिन महाराजा विक्रमादित्य का राजतिलक भी हुआ था। आज के दिन व्यापारी अपने बही खाते बदलते है तथा लाभ हानि का ब्यौरा तैयार करते हैं। दीपावली पर जुआ खेलने की भी प्रथा हैं। इसका प्रधान लक्ष्य वर्ष भर में भाग्य की परीक्षा करना है। लोग जुआ खेलकर यह पता लगाते हैं कि उनका पूरा साल कैसा रहेगा।
🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯
#पूजनविधानः दीपावली पर माँ लक्ष्मी व गणेश के साथ सरस्वती मैया की भी पूजा की जाती है। भारत मे दीपावली परम्प रम्पराओं का त्यौंहार है। पूरी परम्परा व श्रद्धा के साथ दीपावली का पूजन किया जाता है। इस दिन लक्ष्मी पूजन में माँ लक्ष्मी की प्रतिमा या चित्र की पूजा की जाती है। इसी तरह लक्ष्मी जी का पाना भी बाजार में मिलता है जिसकी परम्परागत पूजा की जानी अनिवार्य है। गणेश पूजन के बिना कोई भी पूजन अधूरा होता है इसलिए लक्ष्मी के साथ गणेश पूजन भी किया जाता है। सरस्वती की पूजा का कारण यह है कि धन व सिद्धि के साथ ज्ञान भी पूजनीय है इसलिए ज्ञान की पूजा के लिए माँ सरस्वती की पूजा की जाती है।
🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷
इस दिन धन व लक्ष्मी की पूजा के रूप में लोग लक्ष्मी पूजा में नोटों की गड्डी व चाँदी के सिक्के भी रखते हैं। इस दिन रंगोली सजाकर माँ लक्ष्मी को खुश किया जाता है। इस दिन धन के देवता कुबेर, इन्द्र देव तथा समस्त मनोरथों को पूरा करने वाले विष्णु भगवान की भी पूजा की जाती है। तथा रंगोली सफेद व लाल मिट्टी से बनाकर व रंग बिरंगे रंगों से सजाकर बनाई जाती है।
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹
#विधिः दीपावली के दिन दीपकों की पूजा का विशेष महत्व हैं। इसके लिए दो थालों में दीपक रखें। छः चौमुखे दीपक दोनो थालों में रखें। छब्बीस छोटे दीपक भी दोनो थालों में सजायें। इन सब दीपको को प्रज्जवलित करके जल, रोली, खील बताशे, चावल, गुड, अबीर, गुलाल, धूप, आदि से पूजन करें और टीका लगावें। व्यापारी लोग दुकान की गद्दी पर गणेश लक्ष्मी की प्रतिमा रखकर पूजा करें। इसके बाद घर आकर पूजन करें। पहले पुरूष फिर स्त्रियाँ पूजन करें। स्त्रियाँ चावलों का बायना निकालकर कर उस रूपये रखकर अपनी सास के चरण स्पर्श करके उन्हें दे दें तथा आशीवार्द प्राप्त करें। पूजा करने के बाद दीपकों को घर में जगह-जगह पर रखें। एक चौमुखा, छः छोटे दीपक गणेश लक्ष्मीजी के पास रख दें। चौमुखा दीपक का काजल सब बडे बुढे बच्चे अपनी आँखो में डालें।
🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺
#दीपावली
पूजनकैसेकरें
🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻
प्रातः स्नान करने के बाद स्वच्छ वस्त्र धारण करें।

अब निम्न संकल्प से दिनभर उपवास रहें-

मम सर्वापच्छांतिपूर्वकदीर्घायुष्यबलपुष्टिनैरुज्यादि-

सकलशुभफल प्राप्त्यर्थं

गजतुरगरथराज्यैश्वर्यादिसकलसम्पदामुत्तरोत्तराभिवृद्ध्‌यर्थं

इंद्रकुबेरसहितश्रीलक्ष्मीपूजनं करिष्ये।
🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸
संध्या के समय पुनः स्नान करें।

लक्ष्मीजी के स्वागत की तैयारी में घर की सफाई करके दीवार को चूने अथवा गेरू से पोतकर लक्ष्मीजी का चित्र बनाएं। (लक्ष्मीजी का छायाचित्र भी लगाया जा सकता है।)

भोजन में स्वादिष्ट व्यंजन, कदली फल, पापड़ तथा अनेक प्रकार की मिठाइयाँ बनाएं।

लक्ष्मीजी के चित्र के सामने एक चौकी रखकर उस पर मौली बाँधें।

इस पर गणेशजी की मिट्टी की मूर्ति स्थापित करें।

फिर गणेशजी को तिलक कर पूजा करें।

अब चौकी पर छः चौमुखे व 26 छोटे दीपक रखें।

इनमें तेल-बत्ती डालकर जलाएं।

फिर जल, मौली, चावल, फल, गुढ़, अबीर, गुलाल, धूप आदि से विधिवत पूजन करें।

पूजा पहले पुरुष तथा बाद में स्त्रियां करें।

पूजा के बाद एक-एक दीपक घर के कोनों में जलाकर रखें।

एक छोटा तथा एक चौमुखा दीपक रखकर निम्न मंत्र से लक्ष्मीजी का पूजन करें-

नमस्ते सर्वदेवानां वरदासि हरेः प्रिया।

या गतिस्त्वत्प्रपन्नानां सा मे भूयात्वदर्चनात॥

इस मंत्र से इंद्र का ध्यान करें-

ऐरावतसमारूढो वज्रहस्तो महाबलः।

शतयज्ञाधिपो देवस्तमा इंद्राय ते नमः॥

इस मंत्र से कुबेर का ध्यान करें-

धनदाय नमस्तुभ्यं निधिपद्माधिपाय च।

भवंतु त्वत्प्रसादान्मे धनधान्यादिसम्पदः॥

इस पूजन के पश्चात तिजोरी में गणेशजी तथा लक्ष्मीजी की मूर्ति रखकर विधिवत पूजा करें।

तत्पश्चात इच्छानुसार घर की बहू-बेटियों को आशीष और उपहार दें।

लक्ष्मी पूजन रात के बारह बजे करने का विशेष महत्व है।

इसके लिए एक पाट पर लाल कपड़ा बिछाकर उस पर एक जोड़ी लक्ष्मी तथा गणेशजी की मूर्ति रखें। समीप ही एक सौ एक रुपए, सवा सेर चावल, गुढ़, चार केले, मूली, हरी ग्वार की फली तथा पाँच लड्डू रखकर लक्ष्मी-गणेश का पूजन करें।

उन्हें लड्डुओं से भोग लगाएँ।

दीपकों का काजल सभी स्त्री-पुरुष आँखों में लगाएं।

फिर रात्रि जागरण कर गोपाल सहस्रनाम पाठ करें।

इस दिन घर में बिल्ली आए तो उसे भगाएँ नहीं।

बड़े-बुजुर्गों के चरणों की वंदना करें।

व्यावसायिक प्रतिष्ठान, गद्दी की भी विधिपूर्वक पूजा करें।

रात को बारह बजे दीपावली पूजन के उपरान्त चूने या गेरू में रुई भिगोकर चक्की, चूल्हा, सिल्ल, लोढ़ा तथा छाज (सूप) पर कंकू से तिलक करें। (हालांकि आजकल घरों मे ये सभी चीजें मौजूद नहीं है लेकिन भारत के गाँवों में और छोटे कस्बों में आज भी इन सभी चीजों का विशेष महत्व है क्योंकि जीवन और भोजन का आधार ये ही हैं)

दूसरे दिन प्रातःकाल चार बजे उठकर पुराने छाज में कूड़ा रखकर उसे दूर फेंकने के लिए ले जाते समय कहें ‘लक्ष्मी-लक्ष्मी आओ, दरिद्र-दरिद्र जाओ’।

लक्ष्मी पूजन के बाद अपने घर के तुलसी के गमले में, पौधों के गमलों में घर के आसपास मौजूद पेड़ के पास दीपक रखें और अपने पड़ोसियों के घर भी दीपक रखकर आएं।

मंत्र-पुष्पांजलि:

( अपने हाथों में पुष्प लेकर निम्न मंत्रों को बोलें) :-

ॐ यज्ञेन यज्ञमयजन्त देवास्तानि धर्माणि प्रथमान्यासन्‌ ।

तेह नाकं महिमानः सचन्त यत्र पूर्वे साध्याः सन्ति देवाः ॥

ॐ राजाधिराजाय प्रसह्य साहिने नमो वयं वैश्रवणाय कुर्महे ।

स मे कामान्‌ कामकामाय मह्यं कामेश्वरो वैश्रवणो ददातु ॥

कुबेराय वैश्रवणाय महाराजाय नमः ।

ॐ महालक्ष्म्यै नमः, मंत्रपुष्पांजलिं समर्पयामि ।

(हाथ में लिए फूल महालक्ष्मी पर चढ़ा दें।)

प्रदक्षिणा करें, साष्टांग प्रणाम करें, अब हाथ जोड़कर निम्न क्षमा प्रार्थना बोलें :-

क्षमा प्रार्थना:

आवाहनं न जानामि न जानामि विसर्जनम्‌ ॥

पूजां चैव न जानामि क्षमस्व परमेश्वरि ॥

मन्त्रहीनं क्रियाहीनं भक्तिहीनं सुरेश्वरि ।

यत्पूजितं मया देवि परिपूर्ण तदस्तु मे ॥

त्वमेव माता च पिता त्वमेव

त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव ।

त्वमेव विद्या द्रविणं त्वमेव

त्वमेव सर्वम्‌ मम देवदेव ।

पापोऽहं पापकर्माहं पापात्मा पापसम्भवः ।

त्राहि माम्‌ परमेशानि सर्वपापहरा भव ॥

अपराधसहस्राणि क्रियन्तेऽहर्निशं मया ।

दासोऽयमिति मां मत्वा क्षमस्व परमेश्वरि ॥

पूजन समर्पण:

हाथ में जल लेकर निम्न मंत्र बोलें :-

‘ॐ अनेन यथाशक्ति अर्चनेन श्री महालक्ष्मीः प्रसीदतुः’

(जल छोड़ दें, प्रणाम करें)

विसर्जन:

अब हाथ में अक्षत लें (गणेश एवं महालक्ष्मी की प्रतिमा को छोड़कर अन्य सभी) प्रतिष्ठित देवताओं को अक्षत छोड़ते हुए निम्न मंत्र से विसर्जन कर्म करें :-

यान्तु देवगणाः सर्वे पूजामादाय मामकीम्‌ ।

इष्टकामसमृद्धयर्थं पुनर्अपि पुनरागमनाय च ॥

ॐ आनंद ! ॐ आनंद !! ॐ आनंद !!!

#लक्ष्मीजीकीआरती

ॐ जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता ।

तुमको निसदिन सेवत हर-विष्णु-धाता ॥ॐ जय…

उमा, रमा, ब्रह्माणी, तुम ही जग-माता ।

सूर्य-चन्द्रमा ध्यावत, नारद ऋषि गाता ॥ॐ जय…

तुम पाताल-निरंजनि, सुख-सम्पत्ति-दाता ।

जोकोई तुमको ध्यावत, ऋद्धि-सिद्धि-धन पाता ॥ॐ जय…

तुम पाताल-निवासिनि, तुम ही शुभदाता ।

कर्म-प्रभाव-प्रकाशिनि, भवनिधि की त्राता ॥ॐ जय…

जिस घर तुम रहती, तहँ सब सद्गुण आता ।

सब सम्भव हो जाता, मन नहिं घबराता ॥ॐ जय…

तुम बिन यज्ञ न होते, वस्त्र न हो पाता ।

खान-पान का वैभव सब तुमसे आता ॥ॐ जय…

शुभ-गुण-मंदिर सुन्दर, क्षीरोदधि-जाता ।

रत्न चतुर्दश तुम बिन कोई नहिं पाता ॥ॐ जय…

महालक्ष्मीजी की आरती, जो कई नर गाता ।

उर आनन्द समाता, पाप शमन हो जाता ॥ॐ जय…

(आरती करके शीतलीकरण हेतु जल छोड़ें एवं स्वयं आरती लें, पूजा में सम्मिलित सभी लोगों को आरती दें फिर हाथ धो लें।)
💮💮💮💮💮💮💮💮💮💮💮💮💮💮💮💮💮
परमात्मा की पूजा में सबसे ज्यादा महत्व है भाव का, किसी भी शास्त्र या धार्मिक पुस्तक में पूजा के साथ धन-संपत्ति को नहीं जो़ड़ा गया है। इस श्लोक में पूजा के महत्व को दर्शाया गया है-

‘पत्रं पुष्पं फलं तोयं यो मे भक्त्या प्रयच्छति।

तदहं भक्त्यु पहृतमश्नामि प्रयतात्मनः॥’

पूज्य पांडुरंग शास्त्री अठवलेजी महाराज ने इस श्लोक की व्याख्या इस तरह से की है
💮💮💮💮💮💮💮💮💮💮💮💮💮💮💮💮💮
‘पत्र, पुष्प, फल या जल जो मुझे (ईश्वर को) भक्तिपूर्वक अर्पण करता है, उस शुद्ध चित्त वाले भक्त के अर्पण किए हुए पदार्थ को मैं ग्रहण करता हूँ।’
💮💮💮💮💮💮💮💮💮💮💮💮💮💮💮💮💮
भावना से अर्पण की हुई अल्प वस्तु को भी भगवान सहर्ष स्वीकार करते हैं। पूजा में वस्तु का नहीं, भाव का महत्व है।
💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐
परंतु मानव जब इतनी भावावस्था में न रहकर विचारशील जागृत भूमिका पर होता है, तब भी उसे लगता है कि प्रभु पर केवल पत्र, पुष्प, फल या जल चढ़ाना सच्चा पूजन नहीं है। ये सभी तो सच्चे पूजन में क्या-क्या होना चाहिए, यह समझाने वाले प्रतीक हैं।
💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐
पत्र यानी पत्ता। भगवान भोग के नहीं, भाव के भूखे हैं। भगवान शिवजी बिल्व पत्र से प्रसन्न होते हैं, गणपति दूर्वा को स्नेह से स्वीकारते हैं और तुलसी नारायण-प्रिया हैं! अल्प मूल्य की वस्तुएं भी हृदयपूर्वक भगवद् चरणों में अर्पण की जाए तो वे अमूल्य बन जाती हैं। पूजा हृदयपूर्वक होनी चाहिए, ऐसा सूचित करने के लिए ही तो नागवल्ली के हृदयाकार पत्ते का पूजा सामग्री में समावेश नहीं किया गया होगा न!
💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐
पत्र यानी वेद-ज्ञान, ऐसा अर्थ तो गीताकार ने खुद ही ‘छन्दांसि यस्य पर्णानि’ कहकर किया है। भगवान को कुछ दिया जाए वह ज्ञानपूर्वक, समझपूर्वक या वेदशास्त्र की आज्ञानुसार दिया जाए, ऐसा यहां अपेक्षित है। संक्षेप में पूजन के पीछे का अपेक्षित मंत्र ध्यान में रखकर पूजन करना चाहिए। मंत्रशून्य पूजा केवल एक बाह्य यांत्रिक क्रिया बनी रहती है, जिसकी नीरसता ऊब निर्माण करके मानव को थका देती है। इतना ही नहीं, आगे चलकर इस पूजाकांड के लिए मानवके मन में एक प्रकार की अरुचि भी निर्माण होती है।
💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐

प्रभात कुमार