Posted in Love Jihad

लव जिहाद – लड़कियों का रेट कार्ड”


“जागो हिन्दू जागो”

“लव जिहाद – लड़कियों का रेट कार्ड”
नवरात्रि के बाद होता है लगभग ४.५ लाख लड़कियों का धर्मान्तरण

हिन्दू ब्राहमण लड़की – ५ लाख
हिन्दू क्षत्रिय लड़की – ४.५ लाख
हिन्दू पिछड़ी दलित लड़की – २ लाख
जैन लड़की – ३ लाख
हिन्दू गुजरती ब्राहमण लड़की – ६ लाख
हिन्दू गुजरती कच्छी लड़की – ३ लाख
हिन्दू पंजाबी लड़की – ६ लाख
सिख पंजाबी लड़की – ७ लाख
इसाई रोमन कैथोलिक लड़की – ४ लाख
इसाई प्रोटेस्टेन्ट लड़की – ३ लाख
बौद्ध लड़की – १.५ लाख

जी हां ध्यान से पढ़िए ये है लड़कियों का रेट कार्ड जो लव जिहाद में शामिल लडकों को मिलेगा जो जैसी लड़की पटायेगा उसको उस लड़की के लिए निर्धारित दाम मिलेगा

ये आज से नहीं बाबर गौरी गजनबी औरंगजेब के ज़माने से हिन्दुस्थान में लड़कियों के साथ ऐसा ही करते रहे हैं मुग़ल….लेकिन तब हथियार के जोर पर करते थे..अब भी जहाँ सम्भव है वहां हथियार जहाँ नहीं है वहां प्यार की आड़ में कर रहे हैं.
लक्ष्य मात्र एक…इस्लाम की आबादी बढ़ाना

योगी आदित्यनाथ और उषा ठाकुर द्वारा इस ओर ध्यान आकर्षित कराये जाने पर हमारी सेक्युलर भांड मीडिया चूड़ियाँ तोड़ तोड़ कर हफ़्तों तक विधवा विलाप करती रही और लव जिहाद को मुस्लिमो के खिलाफ हिंदूवादी संगठनों की साजिश बताकर देश को गुमराह करती रही..

मित्रों वरना आप ही बताइए जो मुस्लिम बुत परस्ती को हराम मानते है जिनकी श्रद्धा ना माता में है ना ही जो माता की आरती करते है ना चुनरी चढाते हैं ना ज्योति जलवाते है आखिर वो मात्र गरबा में क्या करने आते हैं???????????????

और ये भी ध्यान रखिये ये अपनी बहनों को तो बुरखे में डालकर घर में छुपा कर रखते हैं और जहाँ हिन्दू लड़कियां इकठ्ठा होती हैं वहां क्या करने आते हैं??????

मित्रों भारत की भांड मीडिया तो इस तरह की खबरों को दिखाने से रही हमको ही अपने हिन्दू भाइयों को इस खतरनाक बिमारी के प्रति जागरूक करना होगा..
इसलिए अधिक से अधिक शेयर करना है
और ध्यान रहे अपने आस पास जहाँ भी गरबा,डंडिया,रास आदि का कार्यक्रम हो रहा हो वहां मुस्लिम लड़के प्रवेश ना करने पायें इसका ध्यान हमें ही रखना है

“जागो हिन्दू जागो”

जय माता दी
वन्दे मातरम
जय श्री राम

"जागो हिन्दू जागो" "लव जिहाद - लड़कियों का रेट कार्ड" नवरात्रि के बाद होता है लगभग ४.५ लाख लड़कियों का धर्मान्तरण हिन्दू ब्राहमण लड़की - ५ लाख हिन्दू क्षत्रिय लड़की - ४.५ लाख हिन्दू पिछड़ी दलित लड़की - २ लाख जैन लड़की - ३ लाख हिन्दू गुजरती ब्राहमण लड़की - ६ लाख हिन्दू गुजरती कच्छी लड़की - ३ लाख हिन्दू पंजाबी लड़की - ६ लाख सिख पंजाबी लड़की - ७ लाख इसाई रोमन कैथोलिक लड़की - ४ लाख इसाई प्रोटेस्टेन्ट लड़की - ३ लाख बौद्ध लड़की - १.५ लाख जी हां ध्यान से पढ़िए ये है लड़कियों का रेट कार्ड जो लव जिहाद में शामिल लडकों को मिलेगा जो जैसी लड़की पटायेगा उसको उस लड़की के लिए निर्धारित दाम मिलेगा ये आज से नहीं बाबर गौरी गजनबी औरंगजेब के ज़माने से हिन्दुस्थान में लड़कियों के साथ ऐसा ही करते रहे हैं मुग़ल....लेकिन तब हथियार के जोर पर करते थे..अब भी जहाँ सम्भव है वहां हथियार जहाँ नहीं है वहां प्यार की आड़ में कर रहे हैं. लक्ष्य मात्र एक...इस्लाम की आबादी बढ़ाना योगी आदित्यनाथ और उषा ठाकुर द्वारा इस ओर ध्यान आकर्षित कराये जाने पर हमारी सेक्युलर भांड मीडिया चूड़ियाँ तोड़ तोड़ कर हफ़्तों तक विधवा विलाप करती रही और लव जिहाद को मुस्लिमो के खिलाफ हिंदूवादी संगठनों की साजिश बताकर देश को गुमराह करती रही.. मित्रों वरना आप ही बताइए जो मुस्लिम बुत परस्ती को हराम मानते है जिनकी श्रद्धा ना माता में है ना ही जो माता की आरती करते है ना चुनरी चढाते हैं ना ज्योति जलवाते है आखिर वो मात्र गरबा में क्या करने आते हैं??????????????? और ये भी ध्यान रखिये ये अपनी बहनों को तो बुरखे में डालकर घर में छुपा कर रखते हैं और जहाँ हिन्दू लड़कियां इकठ्ठा होती हैं वहां क्या करने आते हैं?????? मित्रों भारत की भांड मीडिया तो इस तरह की खबरों को दिखाने से रही हमको ही अपने हिन्दू भाइयों को इस खतरनाक बिमारी के प्रति जागरूक करना होगा.. इसलिए अधिक से अधिक शेयर करना है और ध्यान रहे अपने आस पास जहाँ भी गरबा,डंडिया,रास आदि का कार्यक्रम हो रहा हो वहां मुस्लिम लड़के प्रवेश ना करने पायें इसका ध्यान हमें ही रखना है "जागो हिन्दू जागो" जय माता दी वन्दे मातरम जय श्री राम
Posted in Love Jihad

लव-जिहाद


कुरआन से लव-जिहाद का प्रमाण:

وَّالْمُحْصَنٰتُ مِنَ النِّسَاۗءِ اِلَّا مَامَلَكَتْ اَيْمَانُكُمْ ۚ كِتٰبَ اللّٰهِ عَلَيْكُمْ ۚ وَاُحِلَّ لَكُمْ مَّا وَرَاۗءَ ذٰلِكُمْ اَنْ تَبْتَغُوْا بِاَمْوَالِكُمْ مُّحْصِنِيْنَ غَيْرَ مُسٰفِحِيْنَ ۭ فَـمَا اسْتَمْتَعْتُمْ بِهٖ مِنْھُنَّ فَاٰتُوْھُنَّ اُجُوْرَھُنَّ فَرِيْضَةً ۭ وَلَا جُنَاحَ عَلَيْكُمْ فِيْمَا تَرٰضَيْتُمْ بِهٖ مِنْۢ بَعْدِ الْفَرِيْضَةِ ۭ اِنَّ اللّٰهَ كَانَ
عَلِــيْمًا حَكِـيْمًا

See More

‎कुरआन से लव-जिहाद का प्रमाण: وَّالْمُحْصَنٰتُ مِنَ النِّسَاۗءِ اِلَّا مَامَلَكَتْ اَيْمَانُكُمْ ۚ كِتٰبَ اللّٰهِ عَلَيْكُمْ ۚ وَاُحِلَّ لَكُمْ مَّا وَرَاۗءَ ذٰلِكُمْ اَنْ تَبْتَغُوْا بِاَمْوَالِكُمْ مُّحْصِنِيْنَ غَيْرَ مُسٰفِحِيْنَ ۭ فَـمَا اسْتَمْتَعْتُمْ بِهٖ مِنْھُنَّ فَاٰتُوْھُنَّ اُجُوْرَھُنَّ فَرِيْضَةً ۭ وَلَا جُنَاحَ عَلَيْكُمْ فِيْمَا تَرٰضَيْتُمْ بِهٖ مِنْۢ بَعْدِ الْفَرِيْضَةِ ۭ اِنَّ اللّٰهَ كَانَ عَلِــيْمًا حَكِـيْمًا اور حرام کی گئی شوہر والی عورتیں مگر وہ جو تمہاری ملکیت میں آ جائیں (١) اللہ تعالیٰ نے احکام تم پر فرض کر دئیے ہیں، ان عورتوں کےسوااورعورتیں تمہارے لئے حلال کی گئیں کہ اپنے مال کے مہر سے تم ان سے نکاح کرنا چاہو برے کام سے بچنے کے لئے نہ کہ شہوت رانی کے لئے (٢) اس لئے جن سے تم فائدہ اٹھاؤ انہیں ان کا مقرر کیا ہوا مہر دے دو (٣) اور مہر مقرر ہونے کے بعد تم آپس کی رضامندی سے جو طے کر لو تم پر کوئی گناہ نہیں (٤) कुरआन अनुवाद फारुखान :- और वे औरतें भी हराम हैं जो किसी दूसरे की निकाह में हों अलबत्ता ऐसी औरतों की बात और है, जो युद्ध में तुम्हारे हाथ आएं | यह अल्लाह का कानून है, जिसका पालन तुम्हारे लिए अनिवार्य कर दिया गया है | इसके अलावा जितनी औरतें हैं उन्हें अपने मालों के द्वारा हासिल करना तुम्हारे लिए हलाल कर दिया है, शर्त यह है कि निकाह के घेर में लेकर उन्हें सुरक्षित करो, ना कि स्वच्छन्द कामतृप्ति करने लगो | फिर जो दाम्पत्य जीवन का आनंद तुम उनसे लो, उसके बदले में उनके महर अनिवार्य समझते हुए अदा करो | अलबत्ता, महर निश्चित हो जाने के बाद आपस की रजामंदी से तुम्हारे बीच अगर कोई समझौता हो जाए तो उसमें कोई हर्ज नहीं | अल्लाह सबकुछ जानने वाला तत्वदर्शी है | - सूरा निसा आयात नंबर -24 Also (forbidden are) women already married, except those (slaves) whom your right hands possess. Thus has Allah ordained for you. All others are lawful, provided you seek (them in marriage) with Mahr (bridal-money given by the husband to his wife at the time of marriage) from your property, desiring chastity, not committing illegal sexual intercourse, so with those of whom you have enjoyed sexual relations, give them their Mahr as prescribed; but if after a Mahr is prescribed, you agree mutually (to give more), there is no sin on you. Surely, Allah is Ever All-Knowing, All-Wise.|‎
Posted in Love Jihad

लव जिहाद


Sabhi Hindu Or Any Grlzzz Ke Liye Must Read..!!

प्रश्नोत्तरी ( लव जिहाद विषय ) :-
(1) प्रश्न :- लव जिहाद किसे कहते हैं ?
उत्तर :- जब कोई मुसलमान पुरुष किसी गैर
मुसलमान युवती को बहला फुसला कर उसके
शील को भंग करके उससे शादी करके
उसको ईस्लाम में दीक्षित कर लेता है ।
इसी को लव जिहाद कहा जाता है ।
(2) प्रश्न :- लव जिहाद
क्यों किया जाता है ?
उत्तर :- ताकि गैर मुसलमानों का शीघ्रता से
ईस्लामीकरण हो । क्योंकिं जैसे
किसी भी जाती को समाप्त
करना हो तो उनकी स्त्रीयों को दूषित
किया जाता है । जिससे कि वो अपने समाज
में आत्म सम्मान खो दें और दूसरे समाज में जाने
को बाध्य हो सकें । जिससे कि मुसलमान उस
लड़की की सम्पत्ति का मालिक बने और उस
लड़की के घर वाले सिर उठा कर नहीं जी सकें।
लव जिहाद का मुख्य उद्देश्य है अल तकियाह,
( गज़्वा ए हिन्द ) यानी कि भारत
का ईस्लामीकरण ।
(3) प्रश्न :- लव जिहाद से ईस्लामीकरण कैसे
होता है ?
उत्तर :- क्योंकि लव जिहाद की शिकार
युवती को उसका हिन्दू समाज अपनाने
को तैय्यार नहीं होता है । और जिसके कारण
उसके पास और कोई मार्ग शेष
नहीं रहता तो वह मुसलमानी नर्क में जीने
को विवष हो जाती है । तो इसी प्रकार
जो उस लड़की के बच्चे होते हैं वो भी मुसलमान
ही होते हैं । तो ऐसे
मुसलमानों की संख्या वृद्धि होने से राष्ट्र
शीघ्रता से ईस्लामीकरण की ओर बढ़ता है ।
(4) प्रश्न :- लव जिहाद की शिकार
युवतियों की स्थिती कैसी होती है ?
उत्तर :- लव जिहाद की शिकार
युवतियों की स्थिती नर्क से बदतर होती है ।
जैसा कि कई लड़कियों के मुसलमानों के साथ
विवाह के बाद वो तलाक दे दी जाती हैं ।
और बाद में उनकों वैश्यावृत्ति के धंधे में धकेल
दिया जाता है । या फिर उनको भारत
की यात्रा पर आये अरब के शेखों को बेच
दिया जाता है । जो उनको अपने साथ अरब
देशों में ले जाते हैं । वहाँ उनको ‘नमकीन बेगम’ के
नाम से सम्बोधित किया जाता है, उन्हें
गुलाम बनाकर इनके साथ शोषण
किया जाता है । कई बार उनको नेपाल के
माध्यम से पाकिस्तान भेजा जाता है ,
या फिर असम, त्रिपुरा या बंगाल से
उनको बांग्लादेश भेजा जाता है ( बंगाल
की कांग्रेस सांसद रूमी नाथ
इसकी ताज़ा उदाहरण है जिसे एक जिहादी ने
फेसबुक के ज़रिये शिकार बनाया और बंग्लादेश
भेज दिया ) । ऐसी कई और उदाहरण हैं ।
(5) प्रश्न :- राष्ट्र के ईस्लामीकरण होने से
क्या हानी होगी ?
उत्तर :- किसी भी राष्ट्र का ईस्लामीकरण
होने से वहाँ कुरान का शरिया कानून लागू
होता है, लोकतन्त्र समाप्त हो जाता है और
विचारों को रखने की स्वतन्त्रता समाप्त
हो जाती है । देश ईस्लाम की अत्यन्त संकुचित
और नीच विचारधारा में जकड़ा जाता है ।
जिसमें स्त्रीयों का शोषण होता है ।
उनको पुरुषों की खेती समझा जाता है ।
जहाँ स्त्रीयों का सम्मान नहीं वहाँ पुरुष
निर्दयी हो जाते हैं । पुरुषों के निर्दयी होने
से समाज में भारी क्षोभ और वासनामय
वातावरण होता है । जहाँ सत्ता ईसलाम के
हाथ है वो देश एक बूचड़खाना होता है, जिसमें
मानवों की कटती हुई लाशें, पशुओं
की कटती हुई लाशें दिखाई देती हैं ।
स्त्रीयों को उनके अधिकारों से वंचित
रखा जाता है । मुसलमान पुरुष जब चाहे उसे
तीन बार “तलाक तलाक तलाक” कह कर उससे
पीछा छुड़ा लेता है । खून के रिश्तों में या सगे
रिश्तों में ही शादियाँ होने से नये जन्मे
बच्चों का मान्सिक विकास नहीं होता है ।
और उस ईस्लामी देश में गैर मुसलमानों को अपने
अपने धार्मिक कार्य करने
की आज़ादी नहीं होती ।
उनकी स्त्रीयों को बंदूकों या तलवारों की नोक
पर उठा लिया जाता है ( जैसा कि पैगम्बर
मुहम्मद किया करता था यहूदी या ईसाई
औरतों के साथ ) । उनके धार्मिक उत्सवों पर
हमले किये जाते हैं , ( जैसे कि मुस्लिम बाहुल्य
काशमीर में अमरनाथ यात्रियों के साथ
होता है ) । स्त्रीयों की आँखें नोच
ली जाची हैं । िकसी स्त्री के साथ कोई पुरुष
जब बलात्कार करता है तो दंड पुरुष
को नहीं स्त्री को ही दिया जाता है ।
स्त्रीयों को ज़मीन में आधा गाड़ कर उन पर
संगसार ( पत्थरों की बारिश )
किया जाता है । चारों ओर मस्जिदों से
मौलवीयों की मनहूस आज़ानें सुनाई देती हैं,
ज़रा ज़रा सी बातों पर
मुसलमानी मौहल्लों में लड़ाईयाँ और खून
खराबा होता है, सड़कों पर लोगों के रास्ते
रोक कर नमाजें पढ़ी जाती हैं ।
तो ऐसी अनेकों हानियाँ मानव समाज
को उठानी पड़ती हैं । जो की देश के
ईसलामीकरण का परिणाम है ।
(6) प्रश्न :- भारत में लव जिहाद संचालित कैसे
होता है ?
उत्तर :- इसको संचालित करने के लिये
पाकिस्तान, या अरब देशों से इनको वहाँ के
शेखों द्वारा भारी पैसा आता है जो कि तेल
के कुओं के मालिक होते हैं । ये पैसा उनको All
India Muslim Scholarship Fund के रूप में
दिया जाता है । प्रती माह इन मुस्लिम
गुंडों को तैयार किया जाता है और हिन्दू
लड़कियों को फंसाने के लिये इनको ₹ 8000 से
₹10000 मासिक वेतन दिया जाता है ।
तो मस्जिदों में किसी मुहल्ले के
सभी मुसलमानों की मीटिंग रखी जाती है ।
जिसमें भाग लेने वाले अमीर से लेकर गरीब तबके
के लोग आते हैं, जिसमें रेड़ीवाला, शॉल बेचने
वाले कशमीरी पठान, घरों में काम करने वाले,
नाई, चमार आदि । इनको हिन्दू या सिक्ख
ईलाकों में घूम घूम कर ये पता लगाने
को कहा जाता है कि किस घर
की लड़की जवान हो गई है । तो शाल बेचने
वाले पठान ये नज़र रखते हैं । और फिर ये
लड़कियों की लिस्ट बनाई जाती है और
जिहादी गुंडे जो कि दिखने में हट्टे कट्टे
हों उनको तैयार किया जाता है, मोटर
साईकलें खरीद कर दी जाती हैं ।
जिनको मस्जिदों में रखा जाता है । तो ये
युवक अपनी कलाईयों पर मौलीयाँ बाँध कर
निकल अपने नाम बदल कर हिन्दू नाम रख लेते हैं
और इन लड़कियों के पीछे पड़ जाते हैं । और अगर
कोई लड़की दो सप्ताह के भीतर
नहीं फंसती तो फिर ये उसे छोड़ कर लिस्ट
की दूसरी लड़की पर अपने जिहाद को आज़माने
के लिये निकल पड़ते हैं । तो ऐसे ही पूरे मोहल्ले में
से कोई न कोई लड़की लव जिहाद का शिकार
हो ही जाती है ।
दूसरा तरीका ये है कि social networking sites
जैसे कि faceook आदि पर ये लोग नकली Id
या फिर अपनी असली Id से ही हिन्दू
लड़कियों को request भेजते हैं । और जैसे
कि इनकी training होती है वैसे ही ये लोग इन
लड़कियों को फाँसने के लिये तरह तरह के
message भेजते हैं । और वे लड़कियाँ इनके मोह
जाल कसं फँसकर अपना सब कुछ गंवा देती हैं ।
(7) प्रश्न :- क्या इसके सिवा और भी तरीके हैं
लव जिहाद करने के या यही हैं ?
उत्तर :- बहुत से हैं सभी के बारे में जान
पाना तो बेहद कठिन है पर कुछ और बताते हैं । ये
मुस्लिम जिहादी गुंडे
स्कूलों कालेजों के चक्कर लगाते रहते हैं । और
लड़कियों के पीछे पड़ जाते हैं । या फिर
स्कूलों में पढ़ने वाले मुस्लिम युवक अपनी मुस्लिम
सहेलीयों की सहायता से उनकी हिन्दू
सहेलियों से दोस्ती करते हैं और धीरे धीरे
अपनी कारवाईयाँ शुरू कर देते हैं । या फिर
कालेजों और स्कूलों के आगे मोबाईल की दुकानें
मुसलमानों के द्वारा खोली जाती हैं ।
जिसमें जब हिन्दू, बौद्ध या जैन
आदि लड़कियाँ फोन रिचार्ज करवाने
जाती हैं, तो उनके नम्बरों को ये गलत इस्तेमाल
करके आगे जिहादीयों को बाँट देते हैं । जिससे
कि वे लोग गंदे गंदे अश्लील मैसेज भेजते हैं । पहले
तो ये लड़तियाँ उसकी उपेक्षा करती हैं पर
लगातार आने वाले मैसेजों को वे ज्यादा समय
तक टाल नहीं पातीं । जिससे कि वो कामुक
बातों में फँस कर अपना आपा खो देती हैं और
अपना सर्वस्व जिहादीयों को सौंप देती हैं ।
और ये सब यूँ ही नहीं होता है । इन
जिहादियों को ये सब करने की training
दी जाती है कि किस प्रकार से
लड़की कि मानसिक्ता को समझ कर उसे कैसे
फाँसना है । तो ऐसे ही छोटे मोटो और
भी तरीके हैं, परन्तु मुख्य यही हैं ।
(8) प्रश्न :- ये लव जिहाद की कुछ उदाहरणें
दीजीये ।
उत्तर :- बड़ी बड़ी उदाहरणें आपके सम्मुख हैं :-
Bollywood मायानगरी में मुसलमान अभिनेताओं
की केवल हिन्दू पत्नियाँ ही क्यों होती हैं ?
शाहरुख खान, आमीर खान, फरदीन खान, सुहैल
खान, अरबाज़ खान, सैफ अली खान, साजिद
खान आदि कितने ही नाम हैं
जिनकी शादियाँ हिन्दू लड़कियों से ही हुई
हैं । इनमें से किसी को भी मुसलमान
लड़कियाँ क्यों नहीं पसंद आईं ? आमिर खान,
और सैफ अली खान की शादी तो एक
की बजाये दो दो हिन्दू लड़कियों से हुई । और
इन्हीं को आदर्श मान कर हिन्दू
लड़कियाँ मुसलमानों के चंगुल में फँस कर
अपनी अस्मिता खो देती हैं । एक फिलम आई
थी जिसमें अभिषेक बच्चन का नाम आफताब
होता है और वो अजय देवगण की बहन
का किरदार निभा रही प्राची देसाई से प्रेम
करता है । तो अजय देवगण उसे रोकता है
तो वो नीच लड़की सैफ और शाहरुख
आदि का उदाहरण देती है और
उनको अपना आदर्श स्विकार करती है । तो ये
देख कर हिन्दू लड़कियों के मनों पर क्या प्रभाव
पड़ता है ज़रा सोचिये । तो ऐसे ही इन
लड़कियों को परिणाम की पर्वाह
नहीं होती और इनको हर जिहादी सलमान
या शाहरूख ही दिखता है । और अपना जीवन
बर्बाद कर देती हैं ।
(9) प्रश्न :- ये सब करके इन
मुसलमानों को मिलता क्या है ?
उत्तर :- इनको ये सब करने के लिये मासिक वेतन
और भारी ईनाम मिलता है । दूसरा कारण है
मज़हबी जुनून क्योंकि ईस्लाम
की शिक्षा ही नफरत और कत्ल की बुनियाद
पर टिकी है और मस्जिद के मौल्वीयों के
द्वारा झूठी मुहम्मदी जन्नत का लालच
दिया जाना । वो कहते हैं कि अगर कम से कम
एक हिन्दू लड़की से शादी करो और बदले में
सातवें आस्मान की जन्नत पाओ । तो चाहे
वो जिहाद काफिरों की खेती को समाप्त
करने का ही क्यों न हो इनके अरबी अल्लाह ने
इनके लिये जन्नत तैय्यार रखी है । जिसमें फिर
एक एक मुसलमान 72 पाक साफ औरतों का आनंद
लेता है ।
ईस्लाम में वैसे बहुत प्रकार के जिहाद हैं पर सबसे
मुख्य दो प्रकार के जिहाद हैं :-
जिहाद ए अकबर ( बड़ा जिहाद )
जिहाद ए असगर ( छोटा जिहाद )
ये लव जिहाद जो है, वो जिहाद ए अकबर
का ही एक बड़ा स्वरूप है ।
(10) प्रश्न :- ये लव जिहादीयों को हिन्दू
लड़की से शादी करने या नापाक करने
का क्या ईनाम मिलता है ?
उत्तर :- ये निम्न लिखित ईनाम गैर मुसलमान
लड़कियों को फँसाने के लिये घोषित
किया है :-
सिक्ख लड़की = 9 लाख
पंजाबी हिन्दू लड़की = 8 लाख
हिन्दू ब्राह्मण लड़की = 7 लाख
हिन्दू क्षत्रीय लड़की = 6 लाख
हिन्दू वैश लड़की = 5 लाख
हिन्दू दलित लड़की = 2 लाख
हिन्दू जैन लड़की = 4 लाख
बौद्ध लड़की = 4.2 लाख
ईसाई कैथोलिक लड़की = 3.5 लाख
ईसाई प्रोटैस्टैंट लड़की = 3.2 लाख
शिया मुसलमान लड़की= 4 लाख
ईनाम इनसे थोड़ा कम या अधिक हो सकता है
पर ज्यादा भेद नहीं है ।
(11) प्रश्न :- ये लव जिहाद के ईनाम
की घोषणा और संचालन कहाँ से होता है ?
उत्तर :- केरल का मालाबार ही इसका मुख्य
संचालन स्थान है । परन्तु अब उसकी शाखायें पूरे
भारत में फैल गई हैं । क्योंकि केरल में ही लव
जिहाद के 5000 से अधिक मामले कोर्ट के
सामने आये हैं । तो पूरे भारत में कितने ही ऐसे
मामले होंगे ?
(12) प्रश्न :- क्या लव जिहाद में केवल हिन्दू
लड़कियों को ही लक्ष्य किया जाता है
या अन्य को भी ?
उत्तर :- भारत में हिन्दू बहुसंख्यक हैं जिस कारण
पहला लक्ष्य हिन्दू लड़कियाँ ही होती हैं ।
परन्तु इससे अतिरिक्त दूसरे मत ( बौद्ध, जैन,
वाल्मिकी, सिक्ख, ईसाई )
की लड़कियाँ भी लक्ष्य की जाती हैं,
क्योंकि ईस्लाम की विचारधार बहुत
ही कुंठित और संकुचित है जिसमें कि दूसरे मत
पंथों के विरुद्ध उग्र घृणा का भाव विद्यमान
है, और स्त्रीयों को तो ईस्लाम जानवरों से
भी बदतर समझता है ।
(13) प्रश्न :- हिन्दू लड़कियाँ लव जिहाद में
ही क्यों फंस जाती हैं ? क्या इनमें दिमाग
नहीं होता ?
उत्तर :-इसके ये मुख्य कारण हैं :-
(१) हिन्दू घरों में धार्मिक वातावरण
नहीं रखता ।
(२) हिन्दू अपने बच्चों को वैिदक मत
की श्रेष्ठता और अवैदिक मत
की निकृष्टता नहीं बताता ।
(३) अपने इतिहास पुरुषों और
स्त्रीयों की जीवनीयों और उनके
बलिदानों को नहीं बताता।
(४) हिन्दू युवा अपने वीर योद्धायों से इतर
बालिवुड के नायकों को अपना आदर्श
मानता है ।
(५) घर में सास बहु के सीरियल चलने से
वातावरण और दूषित हो जाता है ।
(६) हिन्दू अपने बच्चे
को धर्मनिरपेक्षता का पाठ पढ़ाता है और
मुसलमान अपने बच्चे को दूसरों के प्रती नफरत
सिखाता है । जिस कारण ये हिन्दू
लड़कियाँ मुसलमान लड़कों से घुलने मिलने में
झिझकती नहीं ।
(७) फेसबुक पर ज्यादातर हिन्दू
लड़कियों की प्रोफाईल देखेंगे तो उन्होंने
धार्मिक पेजों की बजाये, love, tv serials,
pyar, ishq, bollywood masala, mickel jakson,
shahrukh ,salman, hritik आदि के पेज लाईक
किये होते हैं । और उनकी friend list में मुसलमान
युवकों की संख्या बहुत ही पायी जाती है ।
(14) प्रश्न :- इन हिन्दू लड़कियों को कोई लव
जिहाद के बारे में समझाता क्यों नहीं ?
उत्तर :- जब आप इनको समझाने लगते हैं तो ये
लड़कियाँ नीचे लिखी बातें बोलती हैं :-
——– आप तो नफरत फैलाते हो !!
——– क्यूँ मुस्लिम भी तो ईंसान ही होते
हैं ?
——– तो इसमें क्या बुराई है ?
——– हमको इससे क्या लेना देना ?
——– हमें सोच बदलनी चाहिये, और
इसी जातीवाद को खत्म करके development
करनी चाहिये ।
——– आपकी सोच पिछड़ी हुई है, देखो dude
आगे बढ़ो इतनी hate speech मत फैलाओ !!
——– मुस्लिम बनने में कोई बुराई नहीं है,
क्योंकि profet mohammad भी तो god ही थे

——– Hey you अपना काम करो mind your
own buisness !!
——– You know Dr. Abdul kalam
भी मुस्लिम हैं ।
——– U remember जोधा अकबर की great
love story.
अभ आप स्वयं जान लीजिये इन हिन्दू
लड़कियों की मान्सिक्ता कितनी नीच और
घिरी हुई । जिस
जाती की स्त्रीयों को अपने पराये का भेद
ही नहीं पता, तो वो लव
जिहादियों का शिकार न होंगी तो और
क्या होगा ?
(15) प्रश्न :- इन हिन्दू लड़कियों को लव
जिहाद के बारे में समझाया कैसे जाये ?
उत्तर :- ये कार्य आप अपने ही घर से शुरू करें ।
जैसा कि पहले भी कहा गया है कि जब
भी आप अपने घर में अपनी सगी बहन या फिर
रिशते की बहनों के सामने बैठे हों तो ये लव
जिहाद की चर्चा अवश्य ही छेड़ें । चाहे
उनको ये बात अच्छी लगे या न लगे ।
क्योंकि जब मरीज़ डाक्टर से ईलाज
करवाता है तो उसको भी कड़वी दवाई
अच्छी नहीं लगती । पर वही दवा उस मरीज के
भले के लिये होती है । तो इसी प्रकार ये
चर्चा आपकी बहनों के लिये हितकर है । उनके
कानों में यह विषय अवश्य ही पहुँचना चाहिये
। तो ऐसे में जब भी रेलगाड़ी या बस में बैठे हुए
किसी अजनबी से बातचीत शुरू हो ही जाये
तो उससे भी जानबूझ कर इस विषय में किसी न
किसी बहाने से लव जिहाद की चर्चा छेड़ दें ।
ताकि वो अपने घर की स्त्रीयों की रक्षा के
बारे में सचेत हो जाये । दूसरा मार्ग यह है
कि मेरे इस लेख को कम facebook पर हिन्दू
लड़कियों के message box में डाल दें ।
क्योंकि मान लो इस काम को एक
राष्ट्रवादी एक दिन में कम से कम 100
लड़कियों के inbox में ये लव जिहाद
वाली प्रश्नोत्तरी को copy paste करे
तो फिर मान लो ऐसे 100
राष्ट्रवादी हों तो एक दिन में कम से कम 100
x 100 = 10000 अलग अलग हिन्दू लड़कियों के
message box में भी ये जानकारी पहुँचेगी ।
तो अगर उसमें से 5000 लड़कियाँ आपको block
कर देती हैं । तो बाकी 5000 में से 2500 इस लेख
की उपेक्षा करती हैं । तो 2500
उसको पढ़ेंगी और इनमें से मान लो 1500
लड़कियाँ पढ़ कर भी सहमत
नहीं होतीं तो बाकी 1000 उससे सहमत
होंगी तो, ये 1000 हिन्दू
लड़कियाँ ईस्लामी लव जिहाद से सतर्क
हो जायेंगी । तो ऐसे ही 1000 प्रती दिन
हिन्दू लड़कियाँ सचेत हों तो एक माह में
कितनी होंगी ( 30 x 1000 = 30000 )
प्रतीमाह हिन्दू लड़कियाँ लव जिहाद के बारे
में सतर्क रहेंगी और मुसलमान गुंडों से सावधान
रहेंगी और अपनी सहेलियों को भी सावधान
करेंगी । तो ये बहुत ही कारगर तरीका है और
फिर इस लेख को अपनी अपनी profile पर डालें
और हिन्दू लड़कियों को इसमें tag करें और
कृप्या इसको अधिक से अधिक Share करें ।
(16) प्रश्न :- क्या कोई और भी तरीका है लव
जिहाद को रोकने का ?
उत्तर :- वैसे तो बार बार कहा जा रहा है
कि लव जिहाद की जानकारी ही सबसे
बड़ी बात है जो कि हिन्दू जनता को नहीं है ।
जानकारी किसी भी माध्यम से पहुँचायें पर
पहुँचायें अवश्य ही, क्योंकि शायद
आपकी कोई हिन्दू बहन राक्षसों के चंगुल में
फँसने से बच जाये ।
(17) प्रश्न :- क्या इस लव जिहाद की कोई
एतिहासिक साक्षी भी रही है ?
उत्तर :- भारत के मध्य काल में मुगल सेनायें जिस
भी हिन्दू घर में चाहें घुस जाते थे । और
उनकी बेटीयों या औरतों को उठा ले जाते थे
और उनका शील भंग करके फिर से छोड़ जाते थे ।
तो बहुत से बादशाहों ने तो सुन्दर सुन्दर हिन्दू
लड़कियों को टके टके के भावों में भी कसूर,
लाहौर या काबुल के बाज़ारों में बेचा था ।
तो
इसके उपरान्त मुहम्मद बिन कासिम
जो कि पहला यवन आक्रमणकारी था उसने
भी यहाँ भारत से 5 लाख हिन्दू
औरतों को अरबी बाज़ारों में ले जा कर
बेचा था । और अब वर्तमान की बात करें
तो पाकिस्तान मुस्लिम बाहुल्य होने से
वहाँ हिन्दू, सिक्ख, ईसाई लड़कियों को जबरन
बंदूकों की नोक पर उठाया जाता है, जब
इनकी लड़कियाँ जवान होती हैं तो वहाँ के
पठान और पश्तून इनके पीछे हाथ धो कर पड़
जाते हैं और मौका पाते ही इनका अपहरण कर
लेते हैं फिर बलात्कार के बाद इनको मुसलमान
बना कर किसी भी अधेड़ उमर के आदमी से
या किसी से भी शादी कर दी जाती है ।
पाकिस्तानी बच्चों की पाठ्य पुस्तकों में
हिन्दुओं और गैर मुसलमानों के प्रती नफरत करने
की शिक्षा दी जाती है ।
(18) प्रश्न :- लव जिहाद का विषय
इतना ही महत्वपूर्ण है तो हिन्दू जनता इस ओर
ध्यान क्यों नहीं देती ?
उत्तर :- जानकारी के अभाव के कारण, आलस्य
के कारण, या थोथी सैक्युलरिज़म के कारण ।
हिन्दू की शिक्षा ने ही उसे अधकचरा और
सैक्युलर बना दिया है । जिससे
की कभी कभी समस्या के पता होने के बावजूद
भी वो आँख मूंद कर रहता है । किसी हिन्दू
की पहचान करनी हो तो उससे बात करना और
वो दो ही शब्द बोलना जानता है,
“तुझको क्या ?” या “मुझको क्या ?”।
इसी सैक्युलरिज़म के कारण ही ये हिन्दू समाज
इतना नपुंसक बन गया है । तो इसको ना अपने
धर्म रक्षा की चिंता है, न संस्कृति की चिंता,
न देश की चिंता, न अपनी संतानों की नैतिक
शिक्षा की चिंता, न
अपनी जाती रक्षा की चिंता । बस ये हिन्दू
यही रट लगाता है :- ” तुझे क्या ? मुझे क्या ?
हमको क्या ? तुमको क्या ? हमें क्या लेना ?
तुम्हें क्या लेना ? मुझे क्या करना ? तुझे
क्या करना ? ” इत्यादी ।
(19) प्रश्न :- अगर हमारी दृष्टि में कोई हिंदू
लड़की लव जिहाद में फँस गई है, तो हमें
क्या करना चाहिये ?
उत्तर :- अगर तो आप उसे समझा सकते हैं
तो समझायें, निसंकोच होकर उसके घर जायें
उसके माता पिता से इस बारे में बात चीत करें
और उनको लव जिहाद के विषय में विस्तार से
बतायें । अगर आप नहीं समझा सकते तो पास
ही किसी क्रियाशील संगठन जैसे [ आर्य
समाज, स्वयंसेवक संघ, शिव सेना, बजरंग दल ]
आदि से सम्पर्क करें और उनको इसकी सूचना दें ।
अगर आपकी बेटी या बहन इस चक्कर में फँस
रही है तो उसे गुस्से या ज़बरदस्ती से न समझायें
। क्योंकि ऐसा करने से वो घर छोड़ कर
भी भाग सकती है । ऐसी training लव
जिहादीयों को मिली होती है
कि वो पूरी तरह से इनको सम्मोहित कर लेते हैं
कि ये हिन्दू लड़कियाँ घर तक छोड़ने को तैयार
हो जाती हैं और भारत में कानून भी यह
कहता है कि अगर लड़की बालिग
हो तो वो जहाँ चाहे विवाह कर सकती है ।
तो इसी का लाभ ये मति भ्रष्ट
लड़कियाँ उठाती हैं । अपने घरों में धार्मिक
वातावरण बनाने के प्रयास करें । ऋषि दयानंद
सरस्वति कृत अमर ग्रन्थ सत्यार्थ प्रकाश
भी पढ़ायें जिसमें उन्होंने संसार के मुख्य मत
पंथों की वैदिक धर्म से तुल्नात्मक
समीक्षा की है । अवैदिक मतों का खण्डन
किया है उसका प्रचार करें ।
(20) प्रश्न :- क्या लव जिहाद से किसी हिन्दू
लड़कियों को बचाया भी गया है या नहीं ?
उत्तर :- हाँ निश्चित ही ऐसा हुआ है । हम
महाराष्ट्र का उदाहरण देते हैं । सब जानते हैं
कि वहाँ बाल ठाकरे के नेतृत्व में शिव
सेना सक्रीय है । और वहाँ के रहने वाले
मुसलमानों को दबा रखा है, उनके अल्लाह
हो अकबर के जुनून को ठंडा किया हुआ है ।
वहाँ नासिक के किसी Resturant में एक
मुसलमान किसी हिन्दू लड़की के साथ
बैठा था इसकी भनक शिव
सैनिकों को लगी तो वो वहाँ गये और जमकर
उस मुसल्ले की धुनाई कर दी और ऐसे
ही महाराष्ट्र में मौलवीयों ने
फत्वा निकाला हुआ था कि हिन्दू
लड़कियों को छेड़ो और जन्नत पाओ ।
तो शिव सेना ने
स्कूलों कालेजों की घेरा बन्दी की हुई है और
यदी कोई सरफिरा मजनू वहाँ घूमता हुआ
या घात लगाता हुआ
पकड़ा जाता तो उसकी पिटाई करके जन्नत के
नज़ारे दिखा दिये जाते हैं । इस आन्दोलन
का असर हुआ कि महाराष्ट्र में लव जिहाद
की घटनाओं में भारी घिरावट आई ।
तो इसी कारण ये मुसलमान शिव
सैनिकों या संघीयों को भगवा आतंकी कहते
हैं । और बेचारे कहेंगे भी क्या ? क्योंकि इनके
मनसूबों का नाकाम करके इनको आतंकित
जो कर रखा है । केरल में संघ ने करीब 171 हिन्दू
लड़कियों को बचाया गया है । ऐसे और
भी कई मामले हैं । यही कारण है कि ये मुसल्ले
सनातन धर्म की रक्षा करनेवाले
संगठनो को आतंकवादी संगठन बताते हैं । अरे
भाई !! सीधी सी बात है, “जिन्होंने ऐसे
दहशतगर्दों को आतंकित कर
रखा हो वो आतंकवादी नहीं तो और कहैं
(21) प्रश्न :- अब हम फेसबुक युवाओं
को क्या करना चाहिये ?
उत्तर :- आप लोग प्रश्न उत्तर नम्बर (15)
को समझें और उस पर अमल करें ।

‪#‎MiuLsinH_VaLa‬

Posted in Love Jihad

मित्रों ये ईसाई मानसिक गुलाम, “सेकुलर भेड़िये” देश में प्लेटो, अरस्तू, फिलिप्स, के आदर्शों को अपना सम्पूर्ण ज्ञान को मानने वाले


मित्रों ये ईसाई मानसिक गुलाम, “सेकुलर भेड़िये” देश में प्लेटो, अरस्तू, फिलिप्स, के आदर्शों को अपना सम्पूर्ण ज्ञान को मानने वाले, पुरे देश की मानसिकता को अपने अनकूल चलने और बाध्य करने के लिए अपना दानवी, मायावी जाल पिछले 60 वर्षों में किसकदर थोपने पर तुले हैं ? इनके कुचक्र के परिणाम अब देश के सामने कलंक के रूप में दिखाई देने लगें हैं ? मित्रों बहुत ही शर्म की बात है की इतनें शर्मनाक विषय की चर्चा कर रहा हूँ जो देश की प्राचीन वैदिक विज्ञानं और सव्येता को दीमक की तरह खोखला कर बर्बाद कर चुकी हैं ! और हम अन्धे बन इस नासूर बीमारी से ग्रषित हैं इस विषय पर चर्चा बहुत ही जरुरी भी है
“प्रति दिन” पूरेदेश में 450 बलात्कार का शिकार होती है जिनमें 100 बलात्कार की रिपोर्ट करती हैं
“प्रति दिन” पूरेदेश में 1000 लड़कियाँ नशे की सुरुआत करती हैं बीआर, शराब, कुकिन, चारश, की
“प्रति दिन” पूरेदेश में लगभग 700 लड़कियाँ आशकी (LOVE) की सुरुआत करती हैं
“प्रति दिन” पूरेदेश में लगभग 2500 लड़कियाँ शादी से पहले शारीरिक संबन्ध बनती हैं
“प्रति दिन” पूरेदेश में लगभग 400 कुआरी लड़कियां अपने घर को छोड़ कर भाग जाती हैं
“प्रति दिन” पूरेदेश में 10 से 16 वर्ष की लगभग 900 लड़कियाँ वेश्याव्रती की दलदल में आ जाती हैं
“प्रति दिन” पूरेदेश में इस प्रकरण मेँ आशकी और लवजिहाद सामान्य रूप से काम करतें हैं
और बहुत ही आश्चर्य की बात हैं की मीडिया में इसकी चर्चा कभी नहीं करते ! सब दबे पाओं पर्दे के पीछे चलता है इस पुरे नेटवर्क के पीछे जो सेकुलर भेड़ियों का माफिया और नशे का माफिया काम करता है वोह कभी पकड़ा नहीं जाता ? क्योकि उनको बचने देश के अंग्रेजों के अंन्धे कानून और सेकुलर भेड़िये उनकी रक्षः करते है और उस वाशना की मंडी को बहुत ही गुणगान कर मीडिया के सहारे महान बनाया जाता है ? सनिलिओन, जैसे हजारों वैस्यओं को आदर्श का सिम्बल बना युवाओं को आकर्षित कर उनको इस जाल में फ़साने का कुचक्र चलाया जाता है स्कूल, कालेजों, के सभी युवाओं को पता है की आशकी के बाद वाशना में लिप्त अपनी भूख मिटने के लिए कहाँ से कंडोम, शराब, ड्रग्स, सभी स्कूल, कालेजों के आसपास बड़ी ही व्यवस्थित अवं आसानी से सब उप्लब्ध् है सभी महा नगरों में , इंटरनेट अट्सअप, और अश्लील ब्लुफ़िल्में, देश में हमारी बेहेन, बेटियों, की बनने वाली ब्लुफ़िल्में और अश्लील वेबस्इट्स, सभी, सरकार अपनी नाक के नीचे उपलब्द कराती है ? इस भोगवादी ईसाई शिक्षः को अंन्धे बन सभी जानते है, यहाँ से हमारी सुकरात, अरस्तु, प्लेटो,, मेकॉले की ईसाई शिक्षः जिनके प्रचारक सेकुलर कालेअंग्रेज एक वेपन की तरह भारतीय की महान संस्कृति और समाज को ध्वस्त व निस्तनाबूत करने में करते है ? और मोदी सरकार में भी बदस्तूर जारी है ? जहाँ से ईसाई मानसिक गुलामों और भोगवादी विचारधारा का जन्म होता है जहाँ से कोई भी राष्ट्रप्रेमी, देश निर्माण करता जन्म नहीं लेता , बस केवल विदेशी उत्पादों को भोग के लिए कैसे थोपा जाये सोचता हूँ की पूरी दुनिया इतनी खोजों और प्रयोगों के बाद इस महान संष्कृति और इतिहास को नमन कर रही है और अपनाने के लिए लालायित है ,और यह सेकुलर ईसाई पालतू कुत्ते देश को कहाँ ले जाने पर तुले हैं
बाकि अगले अंक मैं ,,, जागिये और अपना महान देश बचाईये ?

मित्रों ये ईसाई मानसिक गुलाम, "सेकुलर भेड़िये" देश में प्लेटो, अरस्तू, फिलिप्स, के आदर्शों को अपना सम्पूर्ण ज्ञान को मानने वाले, पुरे देश की मानसिकता को अपने अनकूल चलने और बाध्य करने के लिए अपना दानवी, मायावी जाल पिछले 60 वर्षों में किसकदर थोपने पर तुले हैं ? इनके कुचक्र के परिणाम अब देश के सामने कलंक के रूप में दिखाई देने लगें हैं ? मित्रों बहुत ही शर्म की बात है की इतनें शर्मनाक विषय की चर्चा कर रहा हूँ जो देश की प्राचीन वैदिक विज्ञानं और सव्येता को दीमक की तरह खोखला कर बर्बाद कर चुकी हैं ! और हम अन्धे बन इस नासूर बीमारी से ग्रषित हैं इस विषय पर चर्चा बहुत ही जरुरी भी है "प्रति दिन" पूरेदेश में 450 बलात्कार का शिकार होती है जिनमें 100 बलात्कार की रिपोर्ट करती हैं "प्रति दिन" पूरेदेश में 1000 लड़कियाँ नशे की सुरुआत करती हैं बीआर, शराब, कुकिन, चारश, की "प्रति दिन" पूरेदेश में लगभग 700 लड़कियाँ आशकी (LOVE) की सुरुआत करती हैं "प्रति दिन" पूरेदेश में लगभग 2500 लड़कियाँ शादी से पहले शारीरिक संबन्ध बनती हैं "प्रति दिन" पूरेदेश में लगभग 400 कुआरी लड़कियां अपने घर को छोड़ कर भाग जाती हैं "प्रति दिन" पूरेदेश में 10 से 16 वर्ष की लगभग 900 लड़कियाँ वेश्याव्रती की दलदल में आ जाती हैं "प्रति दिन" पूरेदेश में इस प्रकरण मेँ आशकी और लवजिहाद सामान्य रूप से काम करतें हैं और बहुत ही आश्चर्य की बात हैं की मीडिया में इसकी चर्चा कभी नहीं करते ! सब दबे पाओं पर्दे के पीछे चलता है इस पुरे नेटवर्क के पीछे जो सेकुलर भेड़ियों का माफिया और नशे का माफिया काम करता है वोह कभी पकड़ा नहीं जाता ? क्योकि उनको बचने देश के अंग्रेजों के अंन्धे कानून और सेकुलर भेड़िये उनकी रक्षः करते है और उस वाशना की मंडी को बहुत ही गुणगान कर मीडिया के सहारे महान बनाया जाता है ? सनिलिओन, जैसे हजारों वैस्यओं को आदर्श का सिम्बल बना युवाओं को आकर्षित कर उनको इस जाल में फ़साने का कुचक्र चलाया जाता है स्कूल, कालेजों, के सभी युवाओं को पता है की आशकी के बाद वाशना में लिप्त अपनी भूख मिटने के लिए कहाँ से कंडोम, शराब, ड्रग्स, सभी स्कूल, कालेजों के आसपास बड़ी ही व्यवस्थित अवं आसानी से सब उप्लब्ध् है सभी महा नगरों में , इंटरनेट अट्सअप, और अश्लील ब्लुफ़िल्में, देश में हमारी बेहेन, बेटियों, की बनने वाली ब्लुफ़िल्में और अश्लील वेबस्इट्स, सभी, सरकार अपनी नाक के नीचे उपलब्द कराती है ? इस भोगवादी ईसाई शिक्षः को अंन्धे बन सभी जानते है, यहाँ से हमारी सुकरात, अरस्तु, प्लेटो,, मेकॉले की ईसाई शिक्षः जिनके प्रचारक सेकुलर कालेअंग्रेज एक वेपन की तरह भारतीय की महान संस्कृति और समाज को ध्वस्त व निस्तनाबूत करने में करते है ? और मोदी सरकार में भी बदस्तूर जारी है ? जहाँ से ईसाई मानसिक गुलामों और भोगवादी विचारधारा का जन्म होता है जहाँ से कोई भी राष्ट्रप्रेमी, देश निर्माण करता जन्म नहीं लेता , बस केवल विदेशी उत्पादों को भोग के लिए कैसे थोपा जाये सोचता हूँ की पूरी दुनिया इतनी खोजों और प्रयोगों के बाद इस महान संष्कृति और इतिहास को नमन कर रही है और अपनाने के लिए लालायित है ,और यह सेकुलर ईसाई पालतू कुत्ते देश को कहाँ ले जाने पर तुले हैं बाकि अगले अंक मैं ,,, जागिये और अपना महान देश बचाईये ?
Posted in Love Jihad

आपत्ति प्यार पर नहीं ,छल पर है


आपत्ति प्यार पर नहीं ,छल पर है —— १८/०९/१४
लव जेहाद पर इन दिनों खूब चरचा हो रही है। सेक्युलर जमात इसे हिंदुत्व वादियों की साजिश बता रही है। कोर्ट सरकार और चुनावआयोग और उत्तर प्रदेश सरकार से लव जेहाद की बात करने वालों पर की गयी कार्यवाही का विवरण मांग रहा है। टीवी चेनल्स इस पर बहस चला रहे हैं। तारा शाहदेव जैसी लड़कियां टीवी पर अपने साथ हुए छल को बता रही हैं। लेकिन कुल मिला कर बहस किसी सार्थक नतीजे तक नहीं पहुँच रही है। जो विषय सामाजिक समरसता को बिगाड़ रहा है उस पर गंभीरता से विचार करने की आवश्यकता होती है।
ये तो तय है की ये आज कल का ज्वलंत विषय है। ऐसे में कोर्ट द्वारा कार्यवाही करने के लिए नहीं बल्कि इसकी असलियत जानने के लिए जांच का आदेश देना चाहिए था। जिससे दूध का दूध और पानी का पानी हो सकता। भ्रांतियों का निवारण होता। मुस्लिम लड़कों के प्यार के अधिकार पर किसी को कोई आपत्ति नहीं है। तमाम घटनाएँ हुईं हैं। तमाम उदाहरण आँखों के सामने हैं। लगभग सभी मुस्लिम अभिनेताओं की पत्नियां हिन्दू हैं। उन्होंने ने कभी भी अपने को हिन्दू बनाकर या कलाई में कलावा बांधकर किसी से शादी नहीं की है।
संविधान में छल या प्रलोभन द्वारा धर्मांतरण को अपराध घोषित किया है। क्या हिन्दू नाम बताकर किसी को धोखा देकर धर्मांतरण करना जुर्म नहीं है ? हिन्दू नाम हिन्दू लड़कियों को फंसाने के लिए ही क्यों रखते हैं ? एक बार इंडोनेशिया के राष्ट्रपति सुकर्णो से यहां के मुस्लिम नेताओं ने पूंछा था,’आप का धर्म मुस्लिम है लेकिन नाम हिन्दू है क्यों ?’ सुकर्णो ने कहा,’मैंने पूजा पद्धति बदली है पुरखे नहीं।’ इस सिद्धांत का अनुसरण मुस्लिम क्यों नहीं करते? जब की उनके पुरखे राम और कृष्ण ही हैं कोई मोहम्मद या अली नहीं। इस वास्तविकता को स्वीकार करने का साहस मुस्लिम समाज को दिखाना चाहिए। तब उन्हें इस धोखाधड़ी का सहारा नहीं लेना पडेगा। ये अभारतीय पृथक पहिचान का दुराग्रह, साम्प्रदायिकता का मूल कारण है।
सऊदी अरब में मोहम्मद का रौजा हटाने पर कुछ अन्धमुस्लिम भारत में प्रदर्शन कर रहे हैं। जबकि उन्हें सऊदी अरब से शिक्षा लेनी चाहिए। प्यार को भी जेहाद का अंग बनाने वालों से वैसे इसकी उम्मीद बेमानी है।

Vcp Agnihotri

Posted in Love Jihad

एक कुत्ते को मच्छर से प्यार हो गया….. दोनों ने शादी कर ली… भावुक होकर मच्छर ने कुत्ते को किस किया तो कुत्ते नेभी प्यार से मच्छर को काटा…


एक कुत्ते को
मच्छर से प्यार हो गया…..
दोनों ने शादी कर ली…
भावुक होकर मच्छर ने
कुत्ते को किस किया
तो कुत्ते नेभी प्यार से
मच्छर को काटा…








बाद में कुत्ता मलेरिया
से मर गया
और मच्छर रेबीज
से…
-शिक्षा :- दूसरे धर्म में
शादी करोगे तो ऐसा ही होगा
यह है लव जीहाद हा हा हा

Posted in Love Jihad

सलमान खान भाई जान हो सकता हे पर हमारे बजरंग बली को भाई जान कहने वालो का मुह तोड़ देंगेहम..!


 

सलमान खान भाई जान हो सकता हे पर हमारे बजरंग बली को भाई जान कहने वालो का मुह तोड़ देंगेहम..!

शब्दों की अय्याशी के लिए क्या हिन्दू देवता ही नजर आते हे तुमको फ़िल्मी लोगो

सलमान खान हो सकता हे तुम इस शब्दों की बाजीगिरी से अनजान हो ,पर आज हम तुम्हारी भी जानकारी में ला दे कि तुम्हारी इस नई फिल्म का नाम सवा करोड़ हिन्दुओ के मुह पर थप्पड़ की तरह हे ।

यह फिल्म लव जिहाद का छुपा एजेंडा हे ,हमे इस पर घोर आपत्ति हे ।

शाहरुख़ और आमिर खान तो हे ही पाकिस्तानी पर तुम हिन्दू माँ की संतान हो इसलिए तुमसे यह उम्मीद नही थी की तुम लव जिहाद के इस छुपे एजेंडे की फिल्म में काम करो

मित्रो कमेन्ट करो …!
इस फिल्म का विरोध करो…!
इसे हर हाल में रिलीज होने से रोको…!

इस पोस्ट को इतनी शेयर करो की निर्माता को इस फिल्म का नाम बदलना पड़े ..माफ़ी मांगनी पड़े ।

अब सुनो …..
हिन्दू जन जागरण का यह मिशन पुरे हिंदुस्तान में अलख जगाने का काम कर रहा हे..फेसबुक पर इसके पेज का नाम pranay vijay हे ।

यदि आपको हिंदुत्व में विश्वास हे और आप उसके लिए कुछ भी योगदान करना चाहते हे तो इस मिशन पेज pranay vijay को जरुर लाइक कीजिये ।

इस इंकलाबी पेज से आपको रोजाना क्रन्तिकारी पोस्ट भेजी जाएगी जो आपने न पहले कभी देखि होगी और न ही देखोगे।

जुड़ने के लिए मेरी फोटो को क्लिक करो जिससे यह पेज खुलेगा फिर लाइक के ऑप्शन को क्लिक कीजिये बस !
फिर मिलेगे !!
वन्देमातरम

Posted in Love Jihad

लव जिहाद पर


लव जिहाद पर देवबंदी फतवे का अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) के कई विद्वानों ने भी समर्थन किया है। कहा है, कोई मुस्लिम हिंदू लड़की को बहला-फुसलाकर शादी करता है तो यह सरासर धोखा है। ऐसा शख्स मुसलमान कहलाने का हकदार नहीं है। उसकी समाज में भी कोई जगह नहीं।
एएमयू के सुन्नी थियोलोजी डिपार्टमेंट के प्रोफेसर व मुफ्ती जाहिद खान, अहसान उल्लाह सहाद व मोहम्मद सलीम ने देवबंद के फतवे की तारीफ की। तीनों विद्वानों ने कहा, अगर कोई मुस्लिम ऐसी हरकत करता है तो इस्लाम में उसे जायज नहीं, हराम कहा गया है। ऐसा करके वो समाज को भी धोखा दे रहा है। उन्होंने कहा कि कोई मुस्लिम लड़का अगर हिंदू बताकर हिंदू लड़की से शादी करता है या हिंदू लड़का मुस्लिम बनकर किसी मुस्लिम लड़की से निकाह करता है तो यह समाज बांटने वाला काम है। हिंदू लड़की के साथ कोई ऐसा करे तो उसकी जानकारी दें, उसे समझाएंगे। नहीं मानेगा तो कड़ी कार्रवाई करेंगे।
प्रो. खान ने ‘लव जिहाद’ के नामकरण की आलोचना की। कहा, एक ओर दुनिया चांद पर जा रही है, हम लव जिहाद की बातें करके समाज बांटने में लगे हैं। ऐसा करके दुनिया हमें किस नजरिये से देखेगी? देश इस वक्त पहले से ही कई मुसीबतों से जूझ रहा है। जम्मू-कश्मीर में जल प्रलय कहर ढा रही है। कई जिलों में सूखे की मार है। उन्होंने हिंदू-मुस्लिमों से एकजुट होकर देश के विकास में योगदान देने का आह्वान भी किया।
http://www.jagran.com/uttar-pradesh/lucknow-city-11627908.html
जरा इन प्रो.खान से पूछिये -दुनिया कुरान के अनुसार तो चाँद पर नहीं जा सकती है.क्योकि कुरान में चन्द्रमा की दूरी तक भी नहीं लिखा गया है..उलटे 1400 साल पहले मुहम्मद ने चाँद के 2 तुकडे कर दिए थे..
दुनिया चाँद पर आज जा रही है यह तो हिन्दू ग्रंथो में लिखा ही है.इस लव जेहादियों से चाँद पर जाने का क्या मतलब रह जाता .
TP Shukla

लव जिहाद पर देवबंदी फतवे का अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) के कई विद्वानों ने भी समर्थन किया है। कहा है, कोई मुस्लिम हिंदू लड़की को बहला-फुसलाकर शादी करता है तो यह सरासर धोखा है। ऐसा शख्स मुसलमान कहलाने का हकदार नहीं है। उसकी समाज में भी कोई जगह नहीं।
एएमयू के सुन्नी थियोलोजी डिपार्टमेंट के प्रोफेसर व मुफ्ती जाहिद खान, अहसान उल्लाह सहाद व मोहम्मद सलीम ने देवबंद के फतवे की तारीफ की। तीनों विद्वानों ने कहा, अगर कोई मुस्लिम ऐसी हरकत करता है तो इस्लाम में उसे जायज नहीं, हराम कहा गया है। ऐसा करके वो समाज को भी धोखा दे रहा है। उन्होंने कहा कि कोई मुस्लिम लड़का अगर हिंदू बताकर हिंदू लड़की से शादी करता है या हिंदू लड़का मुस्लिम बनकर किसी मुस्लिम लड़की से निकाह करता है तो यह समाज बांटने वाला काम है। हिंदू लड़की के साथ कोई ऐसा करे तो उसकी जानकारी दें, उसे समझाएंगे। नहीं मानेगा तो कड़ी कार्रवाई करेंगे।
प्रो. खान ने 'लव जिहाद' के नामकरण की आलोचना की। कहा, एक ओर दुनिया चांद पर जा रही है, हम लव जिहाद की बातें करके समाज बांटने में लगे हैं। ऐसा करके दुनिया हमें किस नजरिये से देखेगी? देश इस वक्त पहले से ही कई मुसीबतों से जूझ रहा है। जम्मू-कश्मीर में जल प्रलय कहर ढा रही है। कई जिलों में सूखे की मार है। उन्होंने हिंदू-मुस्लिमों से एकजुट होकर देश के विकास में योगदान देने का आह्वान भी किया।
---http://www.jagran.com/uttar-pradesh/lucknow-city-11627908.html
जरा इन प्रो.खान से पूछिये -दुनिया कुरान के अनुसार तो चाँद पर नहीं जा सकती है.क्योकि कुरान में चन्द्रमा की दूरी तक भी नहीं लिखा गया है..उलटे 1400 साल पहले मुहम्मद ने चाँद के 2 तुकडे कर दिए थे..
दुनिया चाँद पर आज जा रही है यह तो हिन्दू ग्रंथो में लिखा ही है.इस लव जेहादियों से चाँद पर जाने का क्या मतलब रह जाता .
TP Shukla
Posted in Love Jihad

लव जिहाद


 

कुछ लड़के लड़कियां काॅलेज की केन्टीन मे बैठ कर आजकल TV पर चल रहे “लव जिहाद” पर चर्चा कर रहे थे ।

एक लड़की ने कहा: “सब बकवास है यार,… प्रेम में धर्म कहां बीच में आ गया….? प्रेम तो हो जाता है यारों…!!

तब उसीकी एक सहली बोली; “अगर कोई मुस्लिम लड़का तुझे खुद को हिन्दू बता कर फसायें….और वो भी अपने जेहाद, अपने धर्म का लक्ष्य पूरा करने के लिए….और तुझसे शादी करले….और “शादी के बाद” तुझे पता चले के तेरा पति मुस्लिम है….
बोल, तेरे साथ धोखा हुआ है कि नहीं…..? तुझे कैसा लगेगा …?

वो बोली “ये तो गलत है, धोखा है, Fraud है।”

फिर उस सहेली ने कुछ सवाल किये: “चल, लव जेहाद को छोड़….
तु Broad Minded है, Modern है, Secular है….और मान ले, तु एक मुस्लिम से शादी कर लेती है….Ok..?

(1) But क्या तू यह सहन कर पायेगी के तेरा पति तुझसे शादी के बाद और 3 बीवीयां लाये…?
क्यूंकि इस्लाम तो 4 शादी की इजाज़त देता है ना..!!
और सुन, मुस्लिम समाज में औरतों को अपने पति को तलाक देने का भी कोई अधिकार नहीं है, जबकि “वो” तुझे केवल 3 बार “तलाक तलाक तलाक” कहकर ही तलाक दे सकता है…!!

वो बोली “बिल्कुल नही मेरा पति सिर्फ मेरा होना चाहिए। यह तो सरासर मुस्लिम महिलाओं का शोषण….अत्याचार है।

(2) क्या तू चाहती है कि, तू हर साल गर्भवती हो ? और तुझे बच्चे पैदा करने वाली मशीन बना दिया जाये ?

वह बोली “मै.. और हर साल pregnent… हरगिज नहीं…”

(3) क्या तुझे यह पसंद आयेगा कि तेरा पति हफ्ते में सिर्फ जुम्मे (Friday) के दिन ही नहाये…और बाकी के दिनो मे सिर्फ इत्र लगा के घुमे?

“छी छी छी…….सिर्फ हफ्ते में एक दिन नहाये, तो उसे मैं अपने करीब भी ना आने दूं”

(4) क्य तुझे यह पसंद आयेगा की तेरे घर मे रोज किसी निर्दोष जानवर को मारके, काटके, उसका मांस मटन तुझे पकाना पडे….?
कभी कभी तो गाय भी मार के खाते उनके यहाँ…तो, क्या तू गाय खायेगी ?

वो बोली “बिल्कुल नही”

(5) रोज जींस पहन कर कोलेज आती है और शादी के बाद बुर्का पहनना पडे़, तो तू पहनेगी…?

वो बोली “ये तो औरतो को कैद करना जैसा हुआ !”

(6) तुझे पता है मुस्लिम औरत शादी के बाद नौकरी नहीं कर सकती, मौलवी का फतवा है….
और 90% मुस्लिम अपनी बीवी को बुरका के साथ घर की चार दीवारी मै कैद रखते है….चाहे उससे गर्मी में उनकी खाल जलती हो ।

वह बोली “यह कहां का न्याय है..? फिर मैंने जो पढाई की उसका कोई मेल ही नही रहेगा…. मै तो शादी के बाद भी जॉब करना चाहती हुं।

(7) और सुन, क्या तुझे यह पसंद आयेगा की तेरी बेटी का विवाह उसके चाचा, बुआ के बेटे के साथ हो…..?
वो बोली “चाचा और बुआ का लड़का तो भाई होता है…भाई के साथ शादी…?हरगिज नहीं…”

(8) क्या तु जानती है कि यह मुस्लिम शादी के पहले तो चिकने (Clean Shave) रहते है।
लेकिन 35 साल की उम्र के बाद ये दाढी रखते है…
तो क्या तुझे अच्छा लगेगा की तेरा पति बालों से भरा हुआ रीछ सा लगे ?

वो बोली “छी छी हरगिज नही”

(9) क्या तुझे पता है की मुस्लिम अपनी 10-12 साल की उम्र की लडकी को भी 50-55 साल के बुढ़े आदमी से शादी करवा देते हैं,….क्योकि उनके “अल्लाह मोहम्मद साहब” ने भी अपने दोस्त अबु बकर की 9 साल की बेटी आयशा से शादी की थी….इस्लाम मैं ये बुरा नहीं माना जाता।

वो चौंकी “क्या बात कर रहे हो…?”

चल अब बता कि क्या तुझे “लव जिहाद” का शिकार होना है ?

फिर वो बोली: “Sorry यारों, माना कि प्यार हो जाता है….लेकिन कोई अपने जेहाद (धर्म बढ़ाने की बड़ी योजना) के लिए प्यार जैसे पवित्र रिश्ते को भी बदनाम करे….और जिदंगी भर का दुख दे, तो यह मुझे स्वीकार नही,…..
शादी इन्सान के जीवन में बहुत महत्व रखती है शादी जैसा पवित्र रिश्ता तो बहुत सोच समझ कर करना  चाहिए…
हमारे संस्कारों में तो शादी एक बार ही होती है बार बार नहीं….मैं तो समझ गई….
और अब मै मेरी और भी हिन्दू सहलियों को समझाऊगी…. Alert करुगी….. यह Msg Forward करुगी….”

सावधान: “लव जेहाद योजना” में बहुत सी हिन्दू लड़कियां को प्रेम के जाल में मुसलमान लड़के अपना हिन्दु नाम रख कर फँसा रहे है,…शादी कर रहे है । और फिर….भगवान मालिक ।

सही लगता है तो plz 2-4 को Forward करो….
और किसी हिन्दु बहन या बेटी की जिदंगी नरक बनने से बचाओ ।

Posted in Love Jihad, Uncategorized

Love Jihad


‪#‎SHARE‬

लव जेहाद :’हर नवरात्रि के बाद तकरीबन 4.5 लाख लड़कियों का होता है धर्मांतरण’
http://owl.li/BkxsU
(ABP न्यूज के सोशियल मीडिया पेज में छपी न्यूज..ऊपर न्यूज व् लिंक)

उषा ठाकुर ने कहा है कि हर नवरात्रि के बाद तकरीबन 4.5 लाख लड़कियों का धर्मांतरण होता है…इसलिए अब मुस्लिमों को गरबा पंडालों में आने की अनुमति ना दी जाए…

वैसे सही भी तो है..
क्या ईद के दिन मस्जिदों में हिन्दू बे रोक टोक अपनी इच्छा से घूम सकते हैं???
क्या हिन्दुओं को मक्का मदीना हज में जाने की इजाजत है स्वतंत्रतापूर्वक????
नहीं ना!!!
तो फिर हमारे सामाजिक धार्मिक आयोजनों में जो चाहे मुह उठा कर क्यूँ चला आये?
क्या गरबा आदि कार्यकर्मो में आने वाला मुस्लिम माता नवरात्रि में श्रद्धा रखता है?
क्या वो माता रानी को चुनरी प्रसाद आदि चढ़ाता है???
क्या वो माता रानी की पूजा आरती में श्रद्धा से शामिल होता है???
क्या वो माता रानी की ज्योति जलवाता है???
नहीं ना!!
उसको इन सब में श्रद्धा नहीं है तो वो तो बस जहाँ सामूहिक रूप से लड़कियां इकट्ठी होती हैं वहीँ क्यूँ श्रद्धा दिखाने पहुँच जाता है??

अगर ये आंकड़े सही हैं तो कहीं ये किसी बड़ी भयानक षड़यंत्र का संकेत तो नहीं.!!
फिर जो हो ये हमारे धार्मिक आयोजन हैं तो अच्छा होगा हम धर्म में रहकर ही कार्य करें और इन लोगों को बिना अपमानित किये प्रेम से मना कर दें….

“जागो हिन्दु जागो”
गरबा आदि धार्मिक सामाजिक कार्यक्रमों में मुस्लिमों का प्रवेश निषेध करो

नोट – ये पोस्ट किसी का अपमान करने के लिए नहीं बस अपने
धर्म की भावनाओं के लिए है अन्यथा ना लेवें.

“शेयर करें दूर तक आवाज पहुंचाएं”

#SHARE</p>
<p>लव जेहाद :'हर नवरात्रि के बाद तकरीबन 4.5 लाख लड़कियों का होता है धर्मांतरण'<br />
http://owl.li/BkxsU<br />
(ABP न्यूज के सोशियल मीडिया पेज में छपी न्यूज..ऊपर न्यूज व् लिंक)</p>
<p>उषा ठाकुर ने कहा है कि हर नवरात्रि के बाद तकरीबन 4.5 लाख लड़कियों का धर्मांतरण होता है...इसलिए अब मुस्लिमों को गरबा पंडालों में आने की अनुमति ना दी जाए...</p>
<p>वैसे सही भी तो है..<br />
क्या ईद के दिन मस्जिदों में हिन्दू बे रोक टोक अपनी इच्छा से घूम सकते हैं???<br />
क्या हिन्दुओं को मक्का मदीना हज में जाने की इजाजत है स्वतंत्रतापूर्वक????<br />
नहीं ना!!!<br />
तो फिर हमारे सामाजिक धार्मिक आयोजनों में जो चाहे मुह उठा कर क्यूँ चला आये?<br />
क्या गरबा आदि कार्यकर्मो में आने वाला मुस्लिम माता नवरात्रि में श्रद्धा रखता है?<br />
क्या वो माता रानी को चुनरी प्रसाद आदि चढ़ाता है???<br />
क्या वो माता रानी की पूजा आरती में श्रद्धा से शामिल होता है???<br />
क्या वो माता रानी की ज्योति जलवाता है???<br />
नहीं ना!!<br />
उसको इन सब में श्रद्धा नहीं है तो वो तो बस जहाँ सामूहिक रूप से लड़कियां इकट्ठी होती हैं वहीँ क्यूँ श्रद्धा दिखाने पहुँच जाता है??</p>
<p>अगर ये आंकड़े सही हैं तो कहीं ये किसी बड़ी भयानक षड़यंत्र का संकेत तो नहीं.!!<br />
फिर जो हो ये हमारे धार्मिक आयोजन हैं तो अच्छा होगा हम धर्म में रहकर ही कार्य करें और इन लोगों को बिना अपमानित किये प्रेम से मना कर दें....</p>
<p>"जागो हिन्दु जागो"<br />
गरबा आदि धार्मिक सामाजिक कार्यक्रमों में मुस्लिमों का प्रवेश निषेध करो</p>
<p>नोट - ये पोस्ट किसी का अपमान करने के लिए नहीं बस अपने<br />
धर्म की भावनाओं के लिए है अन्यथा ना लेवें.</p>
<p>"शेयर करें दूर तक आवाज पहुंचाएं"