Posted in Love Jihad

#मगरमच्छ_से_लव लीपापोती की कोशिश काफी देर तक कामयाब हुई पर पूरी तरह नहीं #सुप्रीम_कोर्ट_ने_आखिरकार #NIA_को #लव_जिहाद की जांच के आदेश दे दिए हैं प्रगतिशील जनों का प्रचार कामयाब नहीं हुआ कि “लव जिहाद ” मुस्लिम द्वेषी भाजपा की काल्पनिक उड़ान है और यह मुद्दा सांप्रदायिक ध्रुवीकरण के लिए उछाला जा रहा है देश की शीर्ष जांच एजेंसी एनआईए ने सुप्रीम कोर्ट में कहा है कि कल्पना की उड़ान जैसा कुछ नहीं है इसमें, यह कड़वी हकीकत है शब्द नया था तो लोगों को लगा कि यह कोई नए किस्म का जिहाद है, बिलकुल नहीं, यह पांच दशक से जारी है और अब बहुत परिष्कृत रूप ले चुका है, उत्तर भारत में लोगों ने इसका नाम रांची की रहने वाली राष्ट्रीय बैडमिंटन चैंपियन तारा शाहदेव और रंजीत सिंह कोहली उर्फ रकीबुल हुसैन के मामले के बाद सुना, पर केरल व कनार्टक में यह ब्लू व्हेल हजारों युवतियों को लील चुकी है #लव_जिहाद_पिछले_45_साल_से_चल_रहा अभियान है, चार दशक पूर्व इसे मिस्र में कॉप्ट ईसाइयों के साथ आजमाया गया था, इस पर शोध करने वाले स्टीवन ब्राउन के मुताबिक धर्मांतरण के बाद इन लड़कियों की बाकायदा परेड निकाली जाती थी जिसमें आक्रामक इस्लामी नारे लगाए जाते थे, जानबूझ कर परेड को ईसाई मुहल्लों से गुजारा जाता था, बाकायदा कीमत तय होती थी और धर्मांतरित युवती के परिवार की जितनी सामाजिक प्रतिष्ठा होती थी, उसी हिसाब से जिहादी रोमियो को पैसे मिलते थे, वहां हालांकि इन सारी चीजों के लिए पैसे सरकार की खुफिया एजंसियों की तरफ से मिलते थे, यह रेट कार्ड बाकायदा भारत में भी है और धंधा जिहादी चंदे से चलता है #मेरा_धर्म_नीच_इस्लाम_सच्चा अगस्त 1994 में लंदन के वेंबले स्टेडियम में बाकायदा एक भव्य समारोह में एक सिख युवती को इस्लाम में दीक्षित किया गया, धर्मांतरित होने के तुरंत बाद उस युवती ने सिखों के बारे में बेहद अपमानजनक टिप्पणियां की जिसका वहां मौजूद 8000 लोगों ने तालियां बजाकर स्वागत किया, परेड भी निकाली गई, लंदन को जिहादी लंदनिस्तान यूं ही नहीं कहते, इसके बाद 1995 में ट्रैफल्गर में 2000 मुस्लिमों की भीड़ के बीच दो हिंदू युवतियों को धर्मांतरित किया गया, 2012 में बर्तानवी शहर रोथेरहैम में उजागर हुए सेक्स रैकेट ने पूरे देश को झकझोर दिया, संगठित इस्लामी गिरोहों ने कुछ ही बरसों में इस शहर के 1400 बच्चों को यौन शोषण का शिकार बनाया काहिरा के बाद से ही लव जिहाद का खास ठिकाना लंदन है, यहां खास तौर से हिंदू व सिख युवतियों को निशाना बनाया गया और इसकी जिम्मेदारी संभाली -हिज्ब उल तहरीर- ने, हिज्ब के पैसे से जिहादी रोमियो बाकायदा अखबारों में विज्ञापन देते हैं जिसमें खासतौर से एशियाई और सिख व हिंदू लड़कियों से प्रणय प्रस्ताव मांगे जाते हैं, और फिर उन्हें फंसाकर काहिरा की गलियों की तर्ज पर लंदन में हिंदुओं व सिखों को अपमानित किया जाता है, ब्राउन के मुताबिक पर नस्लीय और धार्मिक भेदभाव के आरोप के डर से पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की, हिज्ब की ओर से जारी दिशानिर्देशों में मुस्लिम युवकों को खासतौर से अनाथ, तलाकशुदा मां-बाप के बच्चों और बदसूरत लड़कियों को निशाना बनाने की सलाह दी गई है क्योंकि इनके आसानी से चंगुल में फंसने की संभावना रहती है #लव_जिहाद या रोमियो जिहाद #भारत_में सबसे पहले केरल व इससे सटे कर्नाटक के तटीय इलाके मंगलूर में चर्चा में आया जब यहां हिंदू व ईसाई युवतियों के लापता होने व उनके मुसलमान बन जाने की घटनाओं में अचानक उछाल आया, ईसाई व हिंदू संगठनों के कान खड़े हो गए, केरल में कैथोलिक ईसाई समुदाय के एक प्रमुख नेता फादर जानी कोचुमपरंबिल ने चर्च काऊंसिल के एक न्यूजलेटर में लिखा कि 2005 से 2009 के बीच केरल में तकरीबन चार हजार गैर मुस्लिम लड़कियों का मुस्लिम युवकों से विवाह कर उन्हें इस्लाम में धर्मांतरित किया जा चुका है, उन्होंने इस दौरान धर्मांतरित हो चुकीं 2868 लड़कियों की बाकायदा सूची भी जारी की, हालांकि हिंदू संगठन धर्मांतरित युवतियों की तादाद तीस हजार बताते हैं जो स्वाभाविक तौर पर ज्यादा है, पर सैयद वाजिद अली के आलेख- “लव जिहाद – ए मिथ ऑर मिशन” के आंकड़ों को कुछ हद तक सही माना जा सकता है, अली ने केरल पुलिस के क्राइम रिकार्ड ब्यूरो के आंकड़ों और कोच्चि विश्वविद्यालय के एडवांस्ड ला स्टडीज के सर्वेक्षण के आधार पर बताया कि केरल में 2006-07 के दौरान लापता लड़कियों की तादाद 2127 और 2008 में 2560 थी केरल कैथोलिक बिशप काउंसिल KCBC ने ईसाई अभिभावकों के लिए एक दिशानिर्देश जारी कर उन्हें अपनी बेटियों को जिहादी मजनुओं से सतर्क करने को कहा, केसीबीसी के विजिलेंस कमीशन फॉर सोशल हारमनी ने 2009 से ही इस बारे में ईसाइयों को जागरूक करने का अभियान छेड़ रखा है, केरल में इस मुद्दे पर ईसाई व हिंदू संगठनों में गजब का एका है, ग्लोबल काउंसिल आफ इंडियन क्रिश्चियन के मुताबिक लव जिहाद इस्लामीकरण के वैश्विक अभियान का हिस्सा है, कोच्चि स्थित #क्रिश्चियन_एसोसिएशन_फॉर_सोशल_एक्शन_तो कहता है कि लव जिहाद से मुकाबले के लिए वह #विश्व_हिंदू_परिषद_के_साथ_है इस मुद्दे पर होहल्ला तब बढ़ गया, जब 2009 में मामला केरल व कर्नाटक के उच्च न्यायालयों में पहुंचा, दोनों ही राज्यों की पुलिस ने हाई कोर्ट को बताया कि उनके राज्यों में गैर मुस्लिम युवतियों के लापता होने और उनके धर्मांतरण के मामलों में खासा इजाफा हुआ है पर इसके पीछे किसी संगठित साजिश के सबूत नहीं हैं, कर्नाटक हाई कोर्ट को अक्तूबर, 2009 में सौंपी गई सौपी गई रिपोर्ट में पुलिस ने कहा कि फिलहाल किसी संगठित साजिश के सबूत नहीं हैं पर लगता है कि कुछ मामलों में जबरन और पैसे का लालच देकर धर्मांतरण हुआ है, न्यामूर्ति केटी शंकरण ने सीआईडी की रिपोर्ट पर अविश्वास जताते हुए पूछा कि आखिर इतने बड़े पैमाने पर गुमशुदगी और धर्मांतरण की कोई वजह कैसे नहीं ? यह #सेक्यूलर_समुदाय के लिए अप्रत्याशित सवाल था, उन्होंने #आरोप_लगाया_कि #न्यायपालिका लव जिहाद को जबरन एक सत्य या साजिश के तौर पर स्थापित करना चाहती है और न्यायपालिका भी #सांप्रदायिक_हुए_जा_रही तारा-रकीबुल प्रकरण के बाद इसी एक मुद्दे को खास तौर से तवज्जो देते हुए न्यायपालिका तक को सांप्रदायिक साबित करने की कोशिश की गई, यह पहला मामला है जिसमें सीआईडी की रिपोर्ट इतनी पवित्र हो गई कि हाई कोर्ट के जज ने उस पर सवाल उठा कर गुनाह कर दिया ? हालांकि खुद पुलिस और खुफिया एजंसियों की रिपोर्टें एक बड़ी साजिश की ओर इशारा करती हैं, इनके मुताबिक यह विदेशी पैसे से चलने वाला वैश्विक इस्लामीकरण के अभियान का हिस्सा है, साबित करने के लिए सबूत भी हैं, कुछ साल पहले केरल के एनार्कुलम जेल में बंद वी नौशाद को सिम कार्ड पहुंचाने की कोशिश में चेरियन नाम की एक ईसाई महिला को गिरफ्तार किया गया, जांच में पता चला कि चेरियन पहले से विवाहित महिला थी और ये दोनों दुबई में मिले थे जहां नौशाद ड्राईवर का काम करता था, उसके प्रेमजाल में फंसने के बाद यह महिला चुपचाप दुबई से केरल भाग आई, नौशाद दक्षिण भारत में लश्कर के शीर्ष कमांडर वी नजीर का करीबी था और उस तक पहुंचने के लिए वह मादक पदार्थों की तस्करी के एक फर्जी केस में जेल में बंद हुआ, बाद में उसने नजीर के लिए ही चेरियन के मार्फत सिम कार्ड मंगवाए एक रिपोर्ट के मुताबिक लव जिहाद के चंगुल में फंसी अब तक 4000 से ज्यादा युवतियों को राष्ट्रविरोधी गतिविधियों का प्रशिक्षण दिया जा चुका है, बहुत सी युवतियां खाड़ी देशों के अमीर शेखों को बेच दी जाती हैं सितंबर 2012 में केरल के मुख्यमंत्री ओमन चांडी ने विधानसभा में बताया कि 2006 से अब तक 2500 युवतियां इस्लाम में धर्मांतरित हो चुकी हैं, लेकिन फिर भी बलात धर्मांतरण या लद जिहाद जैसी किसी चीज के बारे में कोई सबूत नहीं हैं, इस प्रमाणपत्र के पीछे मुस्लिम लीग के समर्थन से सरकार चलाने की मजबूरी थी, केरल में इस समूचे अभियान का सूत्रधार माने जाने वाले चरमपंथी संगठन पापुलर फ्रंट ऑफ इंडिया PFI ने इससे गदगद होकर कहा कि इस्लाम को बदनाम करने की साजिश बेनकाब हो गई है, साथ ही धर्मनिरपेक्षता और कानून के हवाले से कहा धर्मांतरण कोई अपराध नहीं, इस सेकुलरिज्म पर कौन न बलिहारी हो जाए जहां जिहाद व कानून एक ही घाट पर पानी पीएं उधर माकपा के कद्दावर नेता और केरल के पूर्व मुख्यमंत्री वी अच्युतानंदन सैकड़ों बार सार्वजनिक रूप से कहते रहे कि पीएफआई पैसे और धर्मांतरण के बूते अगले बीस साल में केरल के इस्लामीकरण पर आमादा है, उनके मुताबिक पैसे के बल पर लोगों को धर्मांतरित कर, उनसे विवाह कर और बच्चे पैदा कर केरल में मुस्लिमों की तादाद बढ़ाना चाहता है, कम्यिनस्टों ने कहा, बुढ़ापे में अच्युतानंदन का दिमाग ठसक गया है, वैसे कई रिपोर्टों में इसके लिए खाड़ी देशों से और यहां तक कि दाऊद इब्राहिम भाई की जेब से भी बड़े पैमाने पर पैसे आने की ओर इशारा किया जा चुका है…

आशीष रगुवंशी

Posted in Love Jihad

लव जिहाद


यक्ष युधिष्ठिर संवाद में यक्ष पूछते हैं- प्रभु यह लव जिहाद क्या है?                                                                       युधिष्ठिर बोलने के मूड में नहीं थे सो यह वाला विज्ञापन पकड़ा देते हैं।

Posted in Love Jihad

लव जेहाद


"हिन्दू लडकियां मुस्लिम युवाओं के बदले हुए नाम के बहकावे में ना आयें, किसी लड़के से मिलने ऐ पहले उसके बारे में पूरी जांच पड़ताल कर लें अन्यथा आप लव जेहाद का शिकार हो सकती हैं।।
#जागोरे"

हिन्दू लडकियां मुस्लिम युवाओं के बदले हुए नाम के बहकावे में ना आयें, किसी लड़के से मिलने ऐ पहले उसके बारे में पूरी जांच पड़ताल कर लें अन्यथा आप लव जेहाद का शिकार हो सकती हैं।।
‪#‎जागोरे‬

Posted in Love Jihad

Love jihad – PESHWA BAJI RAO JI AND MASTANI


VALENTINE SPECIAL ~ PESHWA BAJI RAO JI AND MASTANI !!

Peshwa Baji Rao (A.D.1720-1740) who popularized the concept of Hindu Pad Padshahi had married Mastani, the daughter of Raja Chhatrasal by a Muslim mistress. Her beauty and charm captivated the Peshwa so much that he always wanted to keep her by his side, whether in the war or at home. In 1734 she had borne him a son who was named Shamsher Bahadur.

But the Peshwa’s first wife, her sons, the Peshwa’s mother did not take allthis kindly, partly because of jealousy and partly on grounds of orthodoxy. It is said that Baji Rao took to drinking and consuming meat under her influence. The priests refused to invest Shamsher with a sacred thread and the Peshwa’s relatives succeeded in their contrivance to separate him from Mastani. The agony of separation had its effect on the Peshwa’s health, who died due to a virulent fever.

It is said that Mastani died soon thereafter with grief, while some say she committed sati on her husband’s funeral pyre. The Peshwa had assigned his Bundelkhand jagirs to Shamsher Bahadur who died fighting at Panipet in 1761.

VALENTINE SPECIAL ~ PESHWA BAJI RAO JI AND MASTANI !!

Peshwa Baji Rao (A.D.1720-1740) who popularized the concept of Hindu Pad Padshahi had married Mastani, the daughter of Raja Chhatrasal by a Muslim mistress. Her beauty and charm captivated the Peshwa so much that he always wanted to keep her by his side, whether in the war or at home. In 1734 she had borne him a son who was named Shamsher Bahadur. 

But the Peshwa's first wife, her sons, the Peshwa's mother did not take all this kindly, partly because of jealousy and partly on grounds of orthodoxy. It is said that Baji Rao took to drinking and consuming meat under her influence. The priests refused to invest Shamsher with a sacred thread and the Peshwa's relatives succeeded in their contrivance to separate him from Mastani. The agony of separation had its effect on the Peshwa’s health, who died due to a virulent fever. 

It is said that Mastani died soon thereafter with grief, while some say she committed sati on her husband’s funeral pyre. The Peshwa had assigned his Bundelkhand jagirs to Shamsher Bahadur who died fighting at Panipet in 1761.
Posted in Love Jihad

दो-दो शादी करने वाला


नागेन्द्र चौधरी's photo.
नागेन्द्र चौधरी's photo.

हिन्दू जरूर पढे :

आज दो-दो शादी करने वाला आमिर खान आज समाज सेवी बना है l

औरतो की आजादी की बात करता है पर अपने मुस्लिम धर्म मे बुर्का प़था पर कुछ नही बोलता ?
क्या यही सत्यमेव जयते है ?

सत्यमेव जयते कार्यक्रम के अंत में वो HUMANITY TRUST को मदद करने की बात करता है ।
मगर ये ट्रस्ट कौन चलाता है ?
किस लिये चलाता है ?
इसका उद्देश क्या है ?
आप में से किसी को पता है ?
या कभी पता करना चाहा ?

चलो इस Huminity Trust के कार्यकारी मंडल पे नजर डाले-
1) जगबर अली
2) हकिम अली
3) फजलुददीन
4) मोहममद राजा
5) एम्.एस नाझिक
6) ए अहमद इरजाद
7) एस अबदुल बसीतइस

Humanity Trust के उद्देशय :-
१) मस्जिदे बनवानी-उनकी दुरुस्ती-उनकी देखभाल का काम इत्यादि…
२) मुस्लिम युवाओं को देश विदेश में नौकरी दिलवाना…
(यंहा चेक कर सकते है-www.humanitytrust.com)
देशसेवा की आड़ में देश के ही बहुत से लोग देशद्रोह करते हैं।
इनका पर्दाफाश करे एवं लोगों को जागरूक करे।

सभी हिन्दू योद्धा मुसलमानों का सामाजिक बहिष्कार करे और सेक्यूलर भंडवे अपनी माँ के पल्लू मे जाके छिप जाये ।

जैसे-
१.आप सभी अपने कपड़े सिर्फ हिन्दू दर्जी के पास ही सिलवायें।
२.अपनी गाड़ी को सिर्फ हिन्दू मिस्त्री से ही बनवाये ।
३.अपनी गाड़ी का पंचर सिर्फ हिन्दू मिस्त्री से ही बनवाये ।
४.जूता एवं चप्पल सिर्फ हिन्दू की दुकान से ही लें।
५.दैनिक जीवन की उपयोगी वस्तुओं को हिन्दू की दुकान से ही लें।
६.सब्जी मंडी में सब्जी केवल हिन्दुओं के दुकान से ही लें।
७.मुसलमानों को कभी भी अपना घर और दुकान किराये से न दें।
८.मुसलमानों को भाईजान न कहें।
९.मुसलमानों के फकीरों को कभी भूल के भी दान नन करें।
१०.किसी भी मुस्लिम को अपने यहाँ नौकरी पर मत रखें।

जय श्री राम
शुभ प्रभात

Posted in Love Jihad

मुलाक़ात कीजिये इस विष-कन्या से।


मुलाक़ात कीजिये इस विष-कन्या से।
माता-पिता और हिन्दू धर्म को कलंकित करने वाली ‘तीस्ता सीतलवाड’, जो लव-जेहाद का शिकार होने के बाद देशभक्त हिन्दुओं के अस्तित्व पर एक भयानक ख़तरा बन गयी है। मुलाक़ात कीजिये इस विष-कन्या से।
कौन हैं तीस्ता सीतलवाड ?
गुजराती मूल की
बाप का नाम- अतुल सीतलवाड
मां का नाम – सीता सीतलवाड
पति का नाम- जावेद
लव जेहाद का शिकार और अब मुस्लिम कट्टरपंथियों का हथियार
बकवास शिरोमणि तीस्ता सीतलवाड ने गुजरात दंगों को लेकर क्या क्या काल्पनिक दुष्प्रचार किए और इसके बाद क्या सच सामने आया… पढिए…
सुप्रीम कोर्ट के दिशानिर्देशों के तहत गठित “स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम” (SIT) ने सुप्रीम कोर्ट में तथ्य पेश करते हुए अपनी रिपोर्ट पेश की जिसके मुख्य बिन्दु इस प्रकार हैं –
1) कौसर बानो नामक गर्भवती महिला का कोई गैंगरेप नहीं हुआ, न ही उसका बच्चा पेट फ़ाड़कर निकाले जाने की कोई घटना हुई।
2) नरोडा पाटिया के कुँए में कई लाशों को दफ़न करने की घटना भी झूठी साबित हुई।
3) ज़रीना मंसूरी नामक महिला जिसे नरोडा पाटिया में जिंदा जलाने की बात कही गई थी, वह कुछ महीने पहले ही TB से मर चुकी थी।
4) ज़ाहिरा शेख ने भी अपने बयान में कहा कि तीस्ता ने उससे कोरे कागज़ पर अंगूठा लगवा लिया था।
5) तीस्ता के मुख्य गवाह रईस खान ने भी कहा कि तीस्ता ने उसे गवाही के लिये धमकाकर रखा था।
6) सुप्रीम कोर्ट ने पाया कि सारे एफ़िडेविट एक ही कम्प्यूटर से निकाले गये हैं और उनमें सिर्फ़ नाम बदल दिया गया है।
7) विशेष जाँच दल ने पाया कि तीस्ता सीतलवाड ने गवाहों को धमकाया, गलत शपथ-पत्र दाखिल किये, कोर्ट में झूठ बोला।
अप्रैल 2009 में इस पर खबर भी छापी
नवंबर 2004 जाहिरा शेख ने आरोप लगाया कि तीस्ता सीतलवाड उन्हें बयान बदलने के लिए दबाव डाल रही हैं
इन मामलों पर सुप्रीम कोर्ट ने तीस्ता को फटकार लगाई लेकिन कांग्रेसी सरकार ने इसे सर चढ़ा रखा है क्योंकि ये यह उनके लिए तुरुप का पत्ता जो है।
सावधान रहिये ऐसी विष कन्याओं से।

मुलाक़ात कीजिये इस विष-कन्या से।
माता-पिता और हिन्दू धर्म को कलंकित करने वाली 'तीस्ता सीतलवाड', जो लव-जेहाद का शिकार होने के बाद देशभक्त हिन्दुओं के अस्तित्व पर एक भयानक ख़तरा बन गयी है। मुलाक़ात कीजिये इस विष-कन्या से।
कौन हैं तीस्ता सीतलवाड ?
गुजराती मूल की
बाप का नाम- अतुल सीतलवाड
मां का नाम – सीता सीतलवाड
पति का नाम- जावेद
लव जेहाद का शिकार और अब मुस्लिम कट्टरपंथियों का हथियार
बकवास शिरोमणि तीस्ता सीतलवाड ने गुजरात दंगों को लेकर क्या क्या काल्पनिक दुष्प्रचार किए और इसके बाद क्या सच सामने आया... पढिए...
सुप्रीम कोर्ट के दिशानिर्देशों के तहत गठित “स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम” (SIT) ने सुप्रीम कोर्ट में तथ्य पेश करते हुए अपनी रिपोर्ट पेश की जिसके मुख्य बिन्दु इस प्रकार हैं –
1) कौसर बानो नामक गर्भवती महिला का कोई गैंगरेप नहीं हुआ, न ही उसका बच्चा पेट फ़ाड़कर निकाले जाने की कोई घटना हुई।
2) नरोडा पाटिया के कुँए में कई लाशों को दफ़न करने की घटना भी झूठी साबित हुई।
3) ज़रीना मंसूरी नामक महिला जिसे नरोडा पाटिया में जिंदा जलाने की बात कही गई थी, वह कुछ महीने पहले ही TB से मर चुकी थी।
4) ज़ाहिरा शेख ने भी अपने बयान में कहा कि तीस्ता ने उससे कोरे कागज़ पर अंगूठा लगवा लिया था।
5) तीस्ता के मुख्य गवाह रईस खान ने भी कहा कि तीस्ता ने उसे गवाही के लिये धमकाकर रखा था।
6) सुप्रीम कोर्ट ने पाया कि सारे एफ़िडेविट एक ही कम्प्यूटर से निकाले गये हैं और उनमें सिर्फ़ नाम बदल दिया गया है।
7) विशेष जाँच दल ने पाया कि तीस्ता सीतलवाड ने गवाहों को धमकाया, गलत शपथ-पत्र दाखिल किये, कोर्ट में झूठ बोला।
अप्रैल 2009 में इस पर खबर भी छापी
नवंबर 2004 जाहिरा शेख ने आरोप लगाया कि तीस्ता सीतलवाड उन्हें बयान बदलने के लिए दबाव डाल रही हैं
इन मामलों पर सुप्रीम कोर्ट ने तीस्ता को फटकार लगाई लेकिन कांग्रेसी सरकार ने इसे सर चढ़ा रखा है क्योंकि ये यह उनके लिए तुरुप का पत्ता जो है।
सावधान रहिये ऐसी विष कन्याओं से।
Posted in Love Jihad

लव जेहाद कैसे होता है?


लव जेहाद कैसे होता है?

(हिन्दू लड़किया सावधान)पोस्ट लंम्बी है पर जिन्दगी इससे जरूरी है इसलिए पढें.

1. मुस्लिम लडको को मौलवियो व अन्य इस्लामिक संगठन द्वारा हिंदू लडकियो को फ़साने को ना केवल प्रोत्साहित किया जाता हैं अपितु इनाम के तौर पर या कहे घर बसाने के नाम पर बड़ी रकम भी रखी जाती हैं | ये रकम जेहाद के नाम पर, जकात के नाम पर, जिज्या के नाम या आपके द्वारा पेट्रोल पर दी हुई रकम से ली जाती हैं |

2. कम से कम 4-5 लड़के (ज्यादा भी हो सकते हैं ) आपस में मिल के हिंदू लडकियो को चुनते हैं फ़साने के लिए | मुस्लमान हमेशा समूह में रहते हैं अपने कायर स्वाभाव की वजह से इसलिए उन हिंदू लडकियो को बचाना इतना सरल नहीं होता |

3. ये लड़के गर्ल्स कालेज के बाहर, कंप्यूटर संसथान के बाहर या अंदर, या कोचिंग संस्थानों के आसपास रहते हैं | कभी-2 लेडिस टेलर की दुकान पर 4-5 लड़के लगे ही रहते हैं | इन्टरनेट पर सोशल नेटवर्क से लेकर याहू चैट रूम तक हर वो जगह जहा इन्हें हिंदू लड़किया मिल सकती हैं वहा ये लगे रहते हैं घात में |( इसलिए हिन्दू लड़किया. किसी अनजान लड़के भले ही हिन्दू हो उसे फेसबुक पर add न करें).

4. ज्यादातर मौको पर ये लड़के खुद को हिंदू ही दिखाने का प्रयास करते हैं | अच्छा मोबाइल सेट, कपडे, वा मोटर साइकिल आकर्षण के तौर पर इनका हथियार होते हैं | जिम में घंटो कसरत भी ये लोंग इसी लिए करते हैं ताकि अधिक से अधिक हिंदू लड़किया फसा सके |

5. दक्षिण भारत में तो मुल्ला मौलवी इन लडको के लिए पर्सोनालिटी डेवेलोप्मेंट कोर्से चलवा देते हैं | किस तरह बात की जाए लडकियो से , उन्हें कैसे तोहफे दिए जाए | और किस प्रकार सेक्युलर बन कर उनसे सिर्फ प्यार मोहब्बत की बात कर के खूबसूरत सपने दिखाए जाए |

6. फिल्म उद्योग में बढते खान मेनिया से ये अब और भी सरल हो गया हैं | ज्यादातर हीरो खान होते हैं ऐसी मानसिकता लड़कियों में तेजी से बढ़ रही हैं जो की समाज के लिए बहुत की घातक हैं |

7. अगर हिंदू लड़की निश्चित समय में नहीं फसती तो लव जेहादी अपने किसी दूसरे मित्र को उसके पीछे लगा देता हैं और खुद किसी और के पीछे लग जाता हैं | इसे लड़की फॉरवर्ड करना कहते हैं |

8. जल्द ही ये लड़के भोली भाली हिंदू लडकियो को अपने प्यार के जाल में फसा लेते हैं | उनमे से कई तो शारीरिक सम्बन्ध भी स्थापित कर लेते हैं | ज्यादातर घटनाओ में मुस्लिम लड़के वाईग्रा का इस्तेमाल करते हैं ताकि लड़किया संतुष्ट रहे और उनके खानपान से आई नापुसकता छुपी रहे |

9. एक बार लड़की से सम्बन्ध स्थापित हो गए तो लड़की को घर से भागने के लिए मनाने में इन्हें देर नहीं लगती | कही बार ये पहले भी मना लेते हैं पर ऐसा कम ही होता हैं |

10. भगा के लड़का लड़की को शादी से पहले इस्लाम कुबूल करने पर मजबूर करा लेता हैं इस्लामी तरीके से शादी के नाम पर और लड़की फस जाती हैं जाल में क्यों की लड़की को वापस जाने की बात तो दिमाग में आती ही नहीं |

11. लड़की को भगा के इस्लामिक शादी कर ले जाने के बाद लड़की के साथ निम्न में से एक घटना होती हैं

क ) लड़का लड़की का पूरी तरह भोग कर के उसके शहर से चार पाच सौ किलोमीटर दूर बेच देता हैं किसी अधेड उम्र के मुस्लमान आदमी को जिसको उसकी बदसूरती की वजह से औरत नहीं मिली होती या उसे बस औरतो का शौक होता हैं | यानि लड़की को वैश्या व्रती के दल दल में डाल देता हैं |

ख ) लड़की को पता चलता हैं के लड़का पहले से ही 2-3 शादिया करे बैठा हैं | और उसे भी नकाब में बंद एक कमरा मिल जाता हैं |

घ ) लड़की की किस्मत अच्छी होती हैं और वो उसकी पहली बीवी ही निकलती हैं | इस पारिस्थि में लड़की नकाब में तो कैद होती हैं पर उसे अपने 2-3 सौतनो का इन्तेज़ार करना पड़ता है | और लड़के की गुलाम बन कर रह जाती हैं क्यों की वो इस्लाम कुबूल कर चुकी होती हैं और इस्लाम में औरत को तलाक का कोई अधिकार नहीं होता |

संबंधित लिंक
http://jaghindu.blogspot.in/2013/06/3.html
— with Ranganath Kulkarni and Ashok Kumar.

लव जेहाद कैसे होता है?

(हिन्दू लड़किया सावधान)पोस्ट लंम्बी है पर जिन्दगी इससे जरूरी है इसलिए पढें.

1. मुस्लिम लडको को मौलवियो व अन्य इस्लामिक संगठन द्वारा हिंदू लडकियो को फ़साने को ना केवल प्रोत्साहित किया जाता हैं अपितु इनाम के तौर पर या कहे घर बसाने के नाम पर बड़ी रकम भी रखी जाती हैं | ये रकम जेहाद के नाम पर, जकात के नाम पर, जिज्या के नाम या आपके द्वारा पेट्रोल पर दी हुई रकम से ली जाती हैं |

2. कम से कम 4-5 लड़के (ज्यादा भी हो सकते हैं ) आपस में मिल के हिंदू लडकियो को चुनते हैं फ़साने के लिए | मुस्लमान हमेशा समूह में रहते हैं अपने कायर स्वाभाव की वजह से इसलिए उन हिंदू लडकियो को बचाना इतना सरल नहीं होता |

3. ये लड़के गर्ल्स कालेज के बाहर, कंप्यूटर संसथान के बाहर या अंदर, या कोचिंग संस्थानों के आसपास रहते हैं | कभी-2 लेडिस टेलर की दुकान पर 4-5 लड़के लगे ही रहते हैं | इन्टरनेट पर सोशल नेटवर्क से लेकर याहू चैट रूम तक हर वो जगह जहा इन्हें हिंदू लड़किया मिल सकती हैं वहा ये लगे रहते हैं घात में |( इसलिए हिन्दू लड़किया. किसी अनजान लड़के भले ही हिन्दू हो उसे फेसबुक पर add न करें).

4. ज्यादातर मौको पर ये लड़के खुद को हिंदू ही दिखाने का प्रयास करते हैं | अच्छा मोबाइल सेट, कपडे, वा मोटर साइकिल आकर्षण के तौर पर इनका हथियार होते हैं | जिम में घंटो कसरत भी ये लोंग इसी लिए करते हैं ताकि अधिक से अधिक हिंदू लड़किया फसा सके |

5. दक्षिण भारत में तो मुल्ला मौलवी इन लडको के लिए पर्सोनालिटी डेवेलोप्मेंट कोर्से चलवा देते हैं | किस तरह बात की जाए लडकियो से , उन्हें कैसे तोहफे दिए जाए | और किस प्रकार सेक्युलर बन कर उनसे सिर्फ प्यार मोहब्बत की बात कर के खूबसूरत सपने दिखाए जाए |

6. फिल्म उद्योग में बढते खान मेनिया से ये अब और भी सरल हो गया हैं | ज्यादातर हीरो खान होते हैं ऐसी मानसिकता लड़कियों में तेजी से बढ़ रही हैं जो की समाज के लिए बहुत की घातक हैं |

7. अगर हिंदू लड़की निश्चित समय में नहीं फसती तो लव जेहादी अपने किसी दूसरे मित्र को उसके पीछे लगा देता हैं और खुद किसी और के पीछे लग जाता हैं | इसे लड़की फॉरवर्ड करना कहते हैं |

8. जल्द ही ये लड़के भोली भाली हिंदू लडकियो को अपने प्यार के जाल में फसा लेते हैं | उनमे से कई तो शारीरिक सम्बन्ध भी स्थापित कर लेते हैं | ज्यादातर घटनाओ में मुस्लिम लड़के वाईग्रा का इस्तेमाल करते हैं ताकि लड़किया संतुष्ट रहे और उनके खानपान से आई नापुसकता छुपी रहे |

9. एक बार लड़की से सम्बन्ध स्थापित हो गए तो लड़की को घर से भागने के लिए मनाने में इन्हें देर नहीं लगती | कही बार ये पहले भी मना लेते हैं पर ऐसा कम ही होता हैं |

10. भगा के लड़का लड़की को शादी से पहले इस्लाम कुबूल करने पर मजबूर करा लेता हैं इस्लामी तरीके से शादी के नाम पर और लड़की फस जाती हैं जाल में क्यों की लड़की को वापस जाने की बात तो दिमाग में आती ही नहीं |

11. लड़की को भगा के इस्लामिक शादी कर ले जाने के बाद लड़की के साथ निम्न में से एक घटना होती हैं

क ) लड़का लड़की का पूरी तरह भोग कर के उसके शहर से चार पाच सौ किलोमीटर दूर बेच देता हैं किसी अधेड उम्र के मुस्लमान आदमी को जिसको उसकी बदसूरती की वजह से औरत नहीं मिली होती या उसे बस औरतो का शौक होता हैं | यानि लड़की को वैश्या व्रती के दल दल में डाल देता हैं |

ख ) लड़की को पता चलता हैं के लड़का पहले से ही 2-3 शादिया करे बैठा हैं | और उसे भी नकाब में बंद एक कमरा मिल जाता हैं |

घ ) लड़की की किस्मत अच्छी होती हैं और वो उसकी पहली बीवी ही निकलती हैं | इस पारिस्थि में लड़की नकाब में तो कैद होती हैं पर उसे अपने 2-3 सौतनो का इन्तेज़ार करना पड़ता है | और लड़के की गुलाम बन कर रह जाती हैं क्यों की वो इस्लाम कुबूल कर चुकी होती हैं और इस्लाम में औरत को तलाक का कोई अधिकार नहीं होता |

संबंधित लिंक
http://jaghindu.blogspot.in/2013/06/3.html
— with Ranganath Kulkarni and Ashok Kumar.