Posted in Laxmi prapti

आर्थिक परेशानी और कर्ज से मुक्ति दिलाता है शिवजी का दारिद्रय दहन स्तोत्र. कारगर मंत्र है आजमाकर देखे

आर्थिक परेशानी और कर्ज से मुक्ति दिलाता है शिवजी का दारिद्रय दहन स्तोत्र. कारगर मंत्र है आजमाकर देखे…………

https://www.facebook.com/mahendra.davrani?hc_ref=NEWSFEED&fref=nf
.
जो व्यक्ति घोर आर्थिक संकट से जूझ रहे हों, कर्ज में डूबे हों, व्यापार व्यवसाय की पूंजी बार-बार फंस जाती हो उन्हें दारिद्रय दहन स्तोत्र से शिवजी की आराधना करनी चाहिए.
.
महर्षि वशिष्ठ द्वारा रचित यह स्तोत्र बहुत असरदायक है. यदि संकट बहुत ज्यादा है तो शिवमंदिर में या शिव की प्रतिमा के सामने प्रतिदिन तीन बार इसका पाठ करें तो विशेष लाभ होगा.
.
जो व्यक्ति कष्ट में हैं अगर वह स्वयं पाठ करें तो सर्वोत्तम फलदायी होता है लेकिन परिजन जैसे पत्नी या माता-पिता भी उसके बदले पाठ करें तो लाभ होता है.
.
शिवजी का ध्यान कर मन में संकल्प करें. जो मनोकामना हो उसका ध्यान करें फिर पाठ आरंभ करें.
.
श्लोकों को गाकर पढ़े तो बहुत अच्छा, अन्यथा मन में भी पाठ कर सकते हैं. आर्थिक संकटों के साथ-साथ परिवार में सुख शांति के लिए भी इस मंत्र का जप बताया गया है.
.
.
।।दारिद्रय दहन स्तोत्रम्।।
.
.

विश्वेशराय नरकार्ण अवतारणाय
कर्णामृताय शशिशेखर धारणाय।
कर्पूर कान्ति धवलाय, जटाधराय,
दारिद्रय दुख दहनाय नमः शिवाय।।१
गौरी प्रियाय रजनीश कलाधराय,
कलांतकाय भुजगाधिप कंकणाय।
गंगाधराय गजराज विमर्दनाय
द्रारिद्रय दुख दहनाय नमः शिवाय।।२
भक्तिप्रियाय भवरोग भयापहाय
उग्राय दुर्ग भवसागर तारणाय।
ज्योतिर्मयाय गुणनाम सुनृत्यकाय,
दारिद्रय दुख दहनाय नमः शिवाय।।३
चर्माम्बराय शवभस्म विलेपनाय,
भालेक्षणाय मणिकुंडल-मण्डिताय।
मँजीर पादयुगलाय जटाधराय
दारिद्रय दुख दहनाय नमः शिवाय।।४
पंचाननाय फणिराज विभूषणाय
हेमांशुकाय भुवनत्रय मंडिताय।
आनंद भूमि वरदाय तमोमयाय,
दारिद्रय दुख दहनाय नमः शिवाय।।५
भानुप्रियाय भवसागर तारणाय,
कालान्तकाय कमलासन पूजिताय।
नेत्रत्रयाय शुभलक्षण लक्षिताय
दारिद्रय दुख दहनाय नमः शिवाय।।६
रामप्रियाय रधुनाथ वरप्रदाय
नाग प्रियाय नरकार्ण अवताराणाय।
पुण्येषु पुण्य भरिताय सुरार्चिताय,
दारिद्रय दुख दहनाय नमः शिवाय।।७
मुक्तेश्वराय फलदाय गणेश्वराय
गीतप्रियाय वृषभेश्वर वाहनाय।
मातंग चर्म वसनाय महेश्वराय,
दारिद्रय दुख दहनाय नमः शिवाय।।८
वसिष्ठेन कृतं स्तोत्रं सर्व रोग निवारणम्
सर्व संपत् करं शीघ्रं पुत्र पौत्रादि वर्धनम्।।
शुभदं कामदं ह्दयं धनधान्य प्रवर्धनम्
त्रिसंध्यं यः पठेन् नित्यम् स हि स्वर्गम् वाप्युन्यात्।।९
.
.
।।इति श्रीवशिष्ठरचितं दारिद्रयुदुखदहन शिवस्तोत्रम संपूर्णम।।

Posted in Laxmi prapti

धन की प्राप्त के लिए हल्दी :-

अगर आपके पास धन हमेशा बना रहे तो थोड़ी सी

हल्दी लीजिए और जरा सा इसमें गुलाब जल मिला

लीजिए। अब एक कागज लीजिए और अंगुली कागज

पर श्रीं लिखें। अब इसे पूजा स्थान पर रखकर धूप बत्ती

दिखाकर शुद्ध कर लीजिए। अब इस कागज को

मोढ़कर अपने पास रख लीजिए अब इसे अपने पर्स में रख

लीजिए।

ध्यान रखिए अगर किसी गुरुवार को पुष्य नक्षत्र

पढ़ता है तो इस विधि को जरूर करें। निश्चित रूप से

यह प्रयोग विशेष लाभकारी होगा। इसे रखने पर

आपको धन का अभाव नहीं होगा और अगर गुरु पुष्य

नक्षत्र लंबे समय तक नहीं आ रहा है तो किसी भी

गुरुवार को प्रात: काल कर लीजिए। हर महीने

पुराना कागज जल में प्रवाहित कर दीजिए और नया

कागज रख लीजिए। जब तक इस कागज पर श्रीं लिखा

हुआ है और तब तक आपको धन की कमी नहीं

Posted in Laxmi prapti

लक्ष्मी की बरकत के लिए

लक्ष्मी की बरकत के लिए

  • ईशान कोण में तुलसी का पौधा लगाने से, गंगा जल रखने से या भगवान की मूर्ति रखने से घर में लक्ष्मी की बरकत होती है ।
  • घर के आँगन में बेल का पौधा लगाने से…..वो घर पाप नाशक व यशस्वी होता है । अगर उत्तर-पश्चिम में है तो यश बढेगा, उत्तर-दक्षिण में हो तो सुख-शांति बढेगा और बीच में है तो मधुर जीवन होगा l रविवार और द्वादश को बेल के पौधे की परिक्रमा करें तो बड़े-बड़े ब्रह्महत्या जैसे पाप ठीक हो जाते हैं।
  • घर में पीपल का पेड़ ठीक नहीं ….लेकिन खेत-खली में पश्चिम की तरफ पीपल का पेड़ बड़ा सम्पत्तिकारक है।
  • अमावस्या, शुक्रवार व रविवार छोड़कर आंवले का रस रगड़ के स्नान करने से भी लक्ष्मी स्थायी होती है ….ऐसा पद्म पुराण में आता है ।
  • गौझरण (गौ मूत्र) से शरीर को रगड़ के स्नान करने से पाप नाशक उर्जा पैदा होती है ।
  • गाय के दूध की दही …..वो रगड़ के थोड़ी देर “लक्ष्मी नारायण….लक्ष्मी नारायण” जप करें तो घर में लक्ष्मी स्थिर होती है ।
Posted in Laxmi prapti

ये गुप्त संकेत कराते हैं शीघ्र धन प्राप्ति

ये गुप्त संकेत कराते हैं शीघ्र धन प्राप्ति — मित्रों कई बार धन हमें मिलने ही वाला होता है और प्रकृति इसके गुप्त संकेत भी देती है, पर हम इन्हें समझ नहीं पाते। आज के समय में धन किसे नहीं चाहिए।

 

इसलिए जब कभी आपके साथ ऐसा हो तो समझ ल़ें कि धन आने वाला है और चौकस हो जाएं-

 

1. यदि किसी काम से आप घर से बाहर जा रहे हैं और तैयार होते हुए कपड़े पहन रहे हों और अचानक आपकी जेब से पेसे गिर जाएं तो यह भी धन प्राप्ति का अच्छा संकेत माना जाता है।

 

2. यदि आप पैसे जमा करवाने के लिए बैंक जा रहे हैं और यदि रास्ते में गाय आ जाए तो समझ लीजिए कि अब आपके धन से संबंधित काम पूरे हो ही जाएगें।
3. दीपावली वाले दिन यदि आपको अचानक कोई किन्नर सजीं-संवरी दिखाई दे, तो धन लाभ अचानक से होता है।
4. इसी प्रकार सुबह सुबह आपके घर कोई भिखारी मांगने के लिए आ जाए तो इसका अर्थ यह है कि आपने किसी को जो पैसा उधार दिया है वह बिन मांगे आपको मिलने वाला है इसलिए भिखारी को अपने घर से खाली हाथ बिल्कुल मत लौटाएं, कुछ न कुछ अवश्य ही दे दें।
5. यदि गुरुवार के दिन आपको कोई कुंवारी कन्या पीले कपड़ो में दिखाई देती है तो यह शुभ माना जाता है और यह धन लाभ का भी संकेत है।
6. यदि शरीर के दाहिने हाथ यानि की Right Hand में आपको लगातार खुजली हो रही है तो समझ लीजिए कि आपको धन मिलने वाला है।
7. यदि आप कुछ खरीद रहे हैं या बेच रहे हैं और आपके हाथ से पैसे छूट जाए तो समझ जाइए कि आपको धन लाभ होने वाला है।
8. एक और संकेत है कि यदि यात्रा करते समय कुत्ता अपने मुख में रोटी को खाते हुए दिख जाए तो समझें कि आपको अपार धन की प्राप्ती होने वाली है।
Posted in Laxmi prapti

मंगल स्तोत्रम्

●●●●ॐ अथ् मंगल स्तोत्रम् एवं यंत्रम ●●●●

● (यह स्तोत्र एवं यन्त्र महृषि भार्गव जी द्वारा कृत है और यह ऋणहर्ता, रोगनाशक, दारिद्र्यनाशक , पापनाशक, अकाल-मृत्यु नाशक , शत्रु नाशक, भय-शोकादि निवारक, गृह-सुख कारक, भूमि -सुख कारक एवं मानसिक रोग / चिंता नाशक है । कृपया एक समय पर इस यंत्र से अत्यावश्यक एक ही काम सिद्ध करें और इसका दुरुपयोग भूल से भी न करें जी ।)

● मंगल स्तोत्र :–
1 (१) ॐ मंगलाय नमः ।।
2. (२) ॐ भूमिपुत्राय नमः ।।
3. (३) ॐ ऋणहर्त्रे नमः ।।
4. (४) ॐ धनप्रदाय नमः ।।
5. (५) ॐ स्थिरासनाय नमः ।।
6. (६) ॐ महाकाय नमः ।।
7. (७) ॐ सर्वकर्मावरोधकाय नमः ।।
8. (८) ॐ लोहिताय नमः ।।
9. (९) ॐ लोहिताक्षाय नमः ।।
10.(१०) ॐ सामगानां कृपाकराय नमः ।।
11.(११) ॐ धरात्मजाय नमः ।।
12.(१२) ॐ कुजाय नमः ।।
13.(१३) ॐ भौमाय नमः ।।
14.(१४) ॐ भूमिसुताय नमः ।।
15.(१५) ॐ भूमिनन्दनाय नमः ।।
16.(१६) ॐ अंगारकाय नमः ।।
17.(१७) ॐ यमाय नमः ।।
18.(१८) ॐ सर्वरोगापहारकाय नमः ।।
19.(१९) ॐ वृष्टिकर्त्रे नमः ।।
20.(२०) ॐ अपहर्त्रे नमः।।
21.(२१) ॐ सर्वकर्मफलप्रदाय नमः ।।

●● ॐ ऋण–रोगादि– दारिद्रयम्–पापम् –क्षुदपमृत्यव:–शत्रुणाम् — भय–शोक–मनस्तापा विनाशाय च महाबुद्धे संकटान् मे निवारय निवारय स्वाहा ॐ… ●●

●यन्त्र लिखने की विधि :–
कृपया सबसे पहले भुर्जपत्र या सादे कागज पर अभीष्ट रेखाओं द्वारा यंत्र का खाका लाल पेन या खदिर/ रक्त चंदन/ अनार की कलम एवं अष्टगंध मसि से तैयार कर लेवें जी । फिर ” मंगल अमृतसिद्धि योग ” के समय लाल पेन से या खदिर / लाल चंदन / अनार की कलम द्वारा अष्टगंध मसि से उपरोक्त क्रमांक एक पर लिखा मन्त्र पढ़ते हुए यन्त्र के निर्धारित खाने में अंक १ लिखें । इस विधि को क्रमांक इक्कीस तक जारी रखें और फिर सबसे अन्त में दिए हुए मन्त्र को 108 बार पढ़ने पर यन्त्र सिद्ध हो जाता है । अब इसे ताम्बे या चांदी या स्वर्ण के ताबीज में जड़वाकर लाल डोरी या स्वर्ण की चैन में किसी शुभ मंगलवार को धारण करें जी । आपकी प्रार्थना 41 दिनों में या एक वर्ष के अंदर- अंदर अवश्य पूर्ण रूप से फलीभूत होगी ~आवश्यकता है पूर्ण श्रद्धा एवं विश्वास की ।

शेष शुभेच्छा ।
ॐ स्मरण…

●विशेष :–
मंगल का यंत्र नीचे छायाचित्र में दिया हुआ है जिसका आपने स्वयमेव् शुद्ध मुहूर्त में विधिपूर्वक निर्माण करना है । ॐ…

No automatic alt text available.
Posted in Laxmi prapti

નાણાંની બચત

http://gujarati.moneycontrol.com/news/financial-planning/money-manager-financial-planning-through-proverbs_28679.html

 

નાણાંની બચત અને ખર્ચ એ દરેક વ્યક્તિ માટે રોજીંદી બાબત છે. દરરોજ આપણે ખર્ચ પણ કરીએ છીએ અને બચત માટે આપણે સભાન પણ છીએ, છતાં ઘણી વખત એવુ બનતુ હોય છે કે જીવનનાં કોઇ પડાવ પર આપણને એવુ લોગે છે કે આયોજનમાં ક્યાંક ચૂકી ગયા. તો તમે તમારા નાણાંકિય આયોજનમાં ન ચૂકો તેના માટે તમામ એવી જરૂરી માહિતી પર ચર્ચા કરીશું.

 

2017 શરૂ થઈ ગયું છે. નવા વર્ષમાં નવા રોકાણ કરવાના હોય, નવી રીતે આયોજન કરવાનું હોય અને જૂના આયોજનનો રિવ્યૂ કરવાનો હોય. ત્યારે આજે અમે તમને એવી જ રીતે રિવ્યૂ કરાવીએ અથવા તો કહી શકાય કે રિ-વિઝીટ કરાવીએ અને રિમાઈન્ડ કરાવીએ એ દરેક ગુજરાતી કહેવતોને જે આપણા સાહિત્યમાં જોડાઈને વર્ષોથી આપણને નાણાંકિય આયોજનની ટીપ્સ આપે છે. અને આ ચર્ચા કરવા આપણી સાથે જોડાઈ રહ્યાં છે યોગિક વેલ્થ પુસ્તકના લેખક અને સર્ટિફાઈડ ફાઈનાન્શિયલ પ્લાનર ગૌરવ મશરૂવાલા

સ્નાનથી તન, દાનથી ધન, સહનશીલતાથી મન અને ઈમાનદારીથી જીવન શુદ્ધ બને છે. આ કહેવમાં લક્ષ્મીને વાસ હોય છે. આપણી લક્ષ્મીને માણવી હોય તો પહેલા તન્દુરૂસ્તિ જોઇએ. અને સમાજ જોડે એને વેચવુ જોઇએ. જો કોઇ પણ ધનને પકડી રાકો તો કનજુસનું ધન કાકરા બરાબર હોય છે. આપણા પાસે ઘણો ઝન હોવા છતા મણસને સુખ નથી મળી રહ્યું. બીજુ સમાજ જોડે વેબચીને ખાવું જોઇએ. દરેક પરિસ્થિતીને સંભાળીને આયોજન કરવું જોઇએ. સ્વાસ્થ્યને સંભાલવા માટે હેલ્થ ઇન્શયોરન્સ લેવું જોઇએ.

 

જે મનુષ્ય પારકા ધનની, રૂપની, કૂળની, વંશની, સુખની અને સન્માનની ઇર્ષા કરે છે તેને પાર વિનાની પીડા રહે છે. આપણે આપણા નાણાંકિય આયોજનમાં કેઇ સાથે સરખામણી ન કરવી જોઇએ. કારણે કે એના થકી મનુષ્ત ઘણો દુખી થાતો હોય છે. કોઇ પણ વ્યક્તિએ પોતાની સંપત્તિ ભેગી કરી હોય છે. આપણે લક્ષ્મીને આપણી માતાનું હરજો આપ્યો છે. અને એની સરખામણી કોઇના જોડે ન કરવી જોઇએ. કોઇ પણ રોકામ ન કરવો જોઇએ. આપણા રોકાણ સાથે બીજાનું રોકાણ સહખાવવું ન જોઇએ.

 

ખરો રૂપિયો કદી ખોટો થતો નથી. જેની પાસે કાળુ નાણું હોય તેનો ચિંતા રહે છે. સાચી રીતે કમાયેલા નાણાં જેને કમાયેલા ગોય તેને ચિંતા રહેતી નથી. જો કોઇ માણસએ લોકોના નાણાં ખોટા તરીકે થી લીધા હોય કે ખોટા માર્ગથી નાણાનું આવન ક્યું હોય તો એ નાણા વધારે ટકતો નથી. આપણા ઘરમાં કાળો ધના કોઇ દિવસ રાખોવો નહી.

 

આગ લાગે ત્યારે કૂવો ખોદવા ન જવાય. ઇમરજન્સી માટે આયોજન પહેલાથી કરવું જોઇએ. કોઇ પણ દિવસે તકલીફ આવે તો એના માટે આપણી પુરે પુરી ત્યારી રહેવી જોઇએ. હેલ્થ ઇન્શ્યારન્સ કે લાઇફ ઇન્શ્યોરન્સ પહેલાથી લેતા ફાયદો થાય છે.

 

ઉધાર આલે એટલે હાથી ના બંધાય, રોકડે થી બકરી લેવાય- જેટલું હોય તે પ્રમાણે ખર્ચ કરવો. આપણે કોઇ પણ દિવસ ઉધાર નાણાં રાખી કે લલચામણી ઓફરમાં ફસાવું ન જાઇએ. જેટલું હોય તે પ્રમાણે ખર્ચ કરવો જોઇએ. માત્ર શોખ માટે લોન ન લેવી જોઇએ યોગ્ય જરૂરીચાત પ્રામાણે વર્તવું જોઇએ. કોઇ પણ વસ્તુ લીધું હયો ઝીરો ઇંટ્રેસ્ટ પર અને એના હફતા ભરતા ઇંટ્રેસ્ટ પણ ચુક્વિ નાખ્યો છે.

 

રૂપિયાના ત્રણ અડધા શોધે, એમાં બે ખોટા આવે. આમારા માટે સારી સ્કીમ સારી હોય તો એજ સ્કીમમાં જ રોકાણ કરવો જોઇએ. ખોટી સ્કીમમાં રોકાણ કરો તો નુક્સાન ચોક્કસ પણે થાય છે. આપણે કોઇ પણ રોકામ કરવો હોચ તો ફાઇનાન્શિયર પાસે એડવાઇસ લેવી જરૂરથી લઇ. કંઇ સ્કીમમાં રોકાણ કરો છો તેની પુરતી માહિતી લેવી જોઇએ.

 

ટીપે ટીપે સરોવર બંધાય, કાંકરે કાંકરે પાડ બંધાય. ધીમે ધીમે રોકાણ કરોએ તો લાંબા ગાળે મોટો ફાયદો થાય છે. આપણે ટોવ પાડવી પડો છે. એના થકી રોકાણ કરવાનો મન બને છે. જો ફટાફટ નાણાં કમાણા ન કરી શકો અને એના થી જે રકમ આમણી જમા હોય છે. એ પણ ખર્ચાય છે. નાની રકમનું પણ રોકાણ કરી શકાય, રોકાણ કરવા રાહ ન જાવી જોઇએ. નાણું મળશે પણ ટાણું નઇ મળે છે. આપણા આયોજન માટે આપણે જ સમય કાઢવો જોઇએ.

Posted in Laxmi prapti

वास्तुशास्त्र :अमीर बनने का ख्वाब हैं तो जल्द हटा दें घर की ये चीजें

वास्तुशास्त्र :अमीर बनने का ख्वाब हैं तो जल्द हटा दें घर की ये चीजें

हो सकता है आपके घर में कुछ ऐसा हो जो आपके धन के आगमन से ज्यादा उसके व्यय का जिम्मेदार हैं। आपको शायद यह बात पता ना हो लेकिन वास्तुशास्त्र के अनुसार घर में कुछ ऐसी अनचाही चीजें आजाती हैं जिनकी वजह से परिवार को निर्धनता का सामना करना पड़ता है।

कबूतर का घोंसला :
वास्तुशास्त्र के अनुसार घर में कबूतर का घोंसला अस्थिरता के हालात पैदा करता है और साथ ही निर्धनता को भी आमंत्रण देता है। अगर आपके घर में ऐसा कुछ है तो जल्द से जल्द इसे हटाने का प्रयास करें।

मधुमक्खी का छत्ता :
शहद की मक्खी का डंक तो वैसे ही खतरनाक होता है, लेकिन घर में इसका बनाया हुआ घोंसला नकारात्मक परिणाम देता है। घर के भीतर इसकी मौजूदगी एक अशुभ संकेत है।

मकड़ी का जाल :-
घर में मकड़ी क जाल बुनना दुर्भाग्य की निशानी है। इसे जल्द से जल्द हटवाएं और आगे से ऐसा ना हो इसके लिए घर की साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें।

टूटा शीशा :
घर में टूटा हुआ शीशा ना सिर्फ वास्तु के नियमों के विरुद्ध है बल्कि ये पूरे प्रभाव के साथ नकारात्मक ऊर्जा को प्रवेश करने के लिए रास्ता भी देता है।

चमगादड़ :
चमगादड़ का दिखना बहुत अशुभ माना जाता है। अगर घर में यह प्रवेश कर जाए तो यह दुर्भाग्य, निर्धनता के साथ-साथ बुरे स्वास्थ्य का भी परिचायक है।

दीवारों पर निशान :
अगर आपके घर की दीवारों पर निशान पड़ गए हैं, उनकी पपड़ी उतरने लगी है तो जल्द से जल्द उसे ठीक करवाएं। यह दुर्भाग्य और निर्धनता को आकर्षित करते हैं।

पानी का टपकना :
अगर आपके घर के किसी भी नल्के या फिर टंकी में से पानी टपकता है तो इसका आश्य है कि आपके घर से धन का अत्याधिक व्यय हो रहा है। इन्हें हमेशा बंद रखें और टंकियों में से पानी का टपना ठीक करवाएं।

छत की सफाई :
अकसर घरों में छत का उपयोग बेकार पड़े सामान को रखने के लिए किया जाता है। लेकिन ऐसा करना धन के आगमन के लिए बाधक साबित होता है। छत हमेशा साफ रखने का प्रयत्न करना चाहिए।

सूखे फूल :-
घर की सजावट के लिए कभी सूखे फूलों का प्रयोग नहीं करना चाहिए। अगर आपको फूल पसंद हैं तो हमेशा प्राकृतिक खुशबूदार फूलों को ही घर में रखें।

बिजली का सामान :
अगर बिजली का कोई सामान कार्यरत नहीं है या खराब है तो उसे जल्द से जल्द ठीक करवाएं या घर से बाहर कर दें।

सूखी पत्तियां :
अगर आपके घर में लगे पौधों पर सूखी पत्तियां नजर आने लगी है तो उनकी कटाई करने में समय ना लगाएं। घर में लगे पौधों को हमेशा हरा-भरा रखें।

उपाय :-
ये उपाय आपके घर में धन का प्रवेश करने का मार्ग तो खोलेंगे ही साथ ही बाधाओं को भी समाप्त करेंगे।