Posted in Hindu conspiracy

विचारणीय लेख

संजय द्विवेदी

अखण्ड सनातन समिति🚩🇮🇳

1951 में कांग्रेस सरकार ने हिंदू धर्म दान एक्ट पास किया था, इस एक्ट के जरिए कांग्रेस ने राज्यों को अधिकार दे दिया कि वो किसी भी मंदिर को सरकार के अधीन कर सकते हैं।

इस एक्ट के बनने के बाद से आंध्र प्रदेश सरकार नें लगभग 34,000 मंदिर को अपने अधीन ले लिया था, कर्नाटक, महाराष्ट्र, ओडिशा, तमिलनाडु ने भी मंदिरों को अपने अधीन कर दिया था, इसके बाद शुरू हुआ मंदिरों के चढ़ावे में भ्रष्टाचार का खेल।

उदाहरण के लिए तिरुपति बालाजी मंदिर की सालाना कमाई लगभग 3500 करोड़ रूपए है, मंदिर में रोज बैंक से दो गाड़ियां आती हैं और मंदिर को मिले चढ़ावे की रकम को ले जाती हैं।

इतना फंड मिलने के बाद भी तिरुपति मंदिर को सिर्फ 7% फंड वापस मिलता है, रखरखाव के लिए।

आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री YSR रेड्डी ने तिरुपति की 7 पहाड़ियों में से 5 को सरकार को देने का आदेश दिया था, इन पहाड़ियों पर चर्च का निर्माण किया जाना था।

मंदिर को मिलने वाली चढ़ावे की रकम में से 80% गैर हिंदू कामों के लिए किया जाता है।

तमिलनाडु, केरल, कर्नाटक हर राज्य़ में यही हो रहा है, मंदिर से मिलने वाली रकम का इस्तेमाल मस्जिदों और चर्चों के निर्माण में किया जा रहा है।

मंदिरों के फंड में भ्रष्टाचार का आलम ये है कि कर्नाटक के 2 लाख मंदिरों में लगभग 50,000 मंदिर रख-रखाव के अभाव के कारण बंद हो गए हैं।

दुनिया के किसी भी लोकतंत्रिक देश में धार्मिक संस्थानों को सरकारों द्वारा कंट्रोल नहीं किया जाता है, ताकि लोगों की धार्मिक आजादी का हनन न होने पाए, लेकिन भारत में ऐसा हो रहा है, सरकारों ने मंदिरों को अपने कब्जे में इसलिए किया क्योंकि उन्हें पता है कि मंदिरों के चढ़ावे से सरकार को काफी फायदा हो सकता है।

लेकिन, सिर्फ मंदिरों को ही कब्जे में लिया जा रहा है, मस्जिदों और चर्च पर सरकार का कंट्रोल नहीं है।

इतना ही नहीं, मंदिरों से मिलने वाले फंड का इस्तेमाल मस्जिद और चर्च के लिए किया जा रहा है।

इन सबका कारण अगर खोजे तो 1951 में पास किया हुआ कॉंग्रेस का वो बिल है, हिन्दू मंदिर एक्ट की पुरजोर मांग करनी चाहिए जिससे हिन्दुओं के मंदिरों का प्रबंध हिन्दू करें।

गुरुद्वारा एक्ट की तर्ज पर हिन्दू मंदिर एक्ट बनाया जाए ....

Posted in Hindu conspiracy

ઈસ્લામિક આતંક: વો કત્લ ભી કરતે હૈ તો ચર્ચા નહીં હોતી, હમ આહ ભી ભરતે હૈ તો હો જાતે હે બદનામ!

12 જૂન, શુક્રવાર.
સ્થળ: શ્રીનગર.
નમાજ બાદનો સમય.

નોહટ્ટા વિસ્તારની જામિયા મસ્જિદમાંથી માસ્ક પહેરેલા યુવાનોનું ટોળું બહાર આવે છે. કેટલાકના હાથમાં પાકિસ્તાનના તો કેટલાકના હાથમાં વિશ્વના કુખ્યાત આતંકવાદી સંગઠન ISISના ઝંડા છે. તેઓ રેલી કાઢીને ભારતવિરોધી અને પાકિસ્તાન તરફી નારા પણ લગાવે છે.

ટોળું ભલે મસ્જિદમાંથી નીકળ્યું હોય, યુવાનો ભલે મુસ્લિમ હોય, ભારતની ભૂમિ પર તેઓ વિશ્વના ક્રૂરત્તમ આતંકવાદી સંગઠન ઈસ્લામિક સ્ટેટના ઝંડા પણ ફરકાવે છતાં, સેંકડો વર્ષ સુધી ઈસ્લામિક આક્રમણો અને ગુલામી સહન કરી ચૂકેલા હે અહિંસક ભારતીયો, યાદ રાખો કે, આતંકનો કોઈ ધર્મ નથી હોતો!

વિશ્વનો નવ્વાણુ ટકા આતંકનો કારોબાર ભલે બોકોહરામ, અલ શબાબ, તાલિબાન, અલ કાયદા, લશ્કર-એ-તોઈબા, હરકત ઉલ મુજાહિદ્દીન, તહરિક-એ-તાલિબાન, જૈશ-એ-મુહંમદ, ISIS (ઈસ્લામિક સ્ટેટ ઓફ ઈરાક એન્ડ સિરિયા), ઈન્ડિયન મુજાહિદ્દીન, જમાત-ઉદ-દાવા સહિતના મુસ્લિમ આતંકવાદી સંગઠનો જ ચલાવતા હોય ને વિશ્વમાં ઈસ્લામિક કાનૂન શરિયત લાગુ કરવાથી માંડી હિન્દુસ્તાનને તબાહ કરવા સુધીના મનસુબા ધરાવતા હોય આમ છતાં હે પ્રજ્ઞ ભારતીયો, યાદ રાખજો કે, આતંકવાદનો કોઈ ધર્મ નથી હોતો!

કહેવાનો મતલબ એવો હરગિઝ નથી કે વૈશ્વિક આતંકવાદ માટે આખી મુસ્લિમ કૌમ જવાબદાર છે કે તેનું સમર્થન કરે છે. વિરોધ માત્ર એક જ પોઈન્ટ પર છે કે આ દેશમાં એકલ દોકલ અપવાદરૂપ કેસના કારણે જો ‘ભગવો આતંકવાદ’ શબ્દપ્રયોગ(એ પણ ગૃહમંત્રી કક્ષાના વ્યક્તિ દ્વારા) થઈ શકતો હોય તો અહીં ઈસ્લામિક આતંકવાદ સામે ખુલીને સ્ટેન્ડ લેતા કેમ બધાની ફેં ફાટે છે? માલેગાંવ બ્લાસ્ટ બાદ દેશની બહુમતી નિર્દોષ હિન્દુ પ્રજાની લાગણીની જરા પણ પરવાહ કર્યા વિના મહિનાઓ સુધી ‘હિન્દુ આતંક’ કે ‘ભગવો આતંક’ શબ્દપ્રયોગ કરનારા રાજકારણીઓ કે ચેનલીયાઓએ મુંબઈ હૂમલા બાદ એકેય વાર ‘ઈસ્લામિક ટેરર’ કે ‘મુસ્લિમ ટેરરિસ્ટ’ જેવા શબ્દો વાપર્યા? ઈવન ખુલ્લેઆમ આઈએસઆઈએસ અને પાકિસ્તાનના ઝંડા ફરકાવી ભારતને ભાંડનારાઓ માટે પણ કોઈ ધર્મસૂચક શબ્દો પ્રયોજે છે? નહીં ને? હિન્દુઓમાં જ પોચુ ભાળી ગયા છે. ઈસ્લામિક આતંકવાદનો સ્વીકાર પણ કરવાનો આવે તો એમના ધોતીયા ઢીલા અને પોતીયા પીળા થઈ જાય છે.

ઈસ્લામિક ટેરરિઝમનો મામલો હોય ત્યારે ખબર નહીં કેમ અને ક્યાંથી ‘આતંકનો કોઈ ધર્મ નથી હોતો’ની ફિલસુફીઓ ફૂટીને ફાટી નીકળે છે! જેને મુસ્લિમ આતંકવાદી ગઝની અનેકાનેક વાર લૂંટી ગયો એવા હિન્દુઓના શ્રધ્ધેય સોમનાથમાં બિનહિન્દુઓના પ્રવેશ માટે મંજૂરી ફરજિયાત બનાવાય કે દલાલ સાથેના ઝઘડાના કારણે મુંબઈમાં ફ્લેટમાંથી હાંકી કઢાયેલી કોઈ મુસ્લિમ યુવતી પોતે મુસ્લિમ હોવાથી પોતાની સાથે ભેદભાવ થયો હોવાની બુમરાણ મચાવે ત્યારે એક શીખને વડાપ્રધાન અને એકથી વધુ મુસલમાનોને રાષ્ટ્રપતિ બનાવનારી આ દેશની બહુમતી સહિષ્ણુ પ્રજાની બિનસાંપ્રદાયીકતા સામે આંગળી ઉઠાવી ભાંડનારા કહેવાતા બુધ્ધીજીવીઓની લલૂડીને ઈસ્લામિક આતંક નામની વરવી વાસ્તવિકતાનો સ્વીકાર પણ કરવાનો થાય ત્યારે કેમ લકવો મારી જાય છે? એજન્ડા ગદ્દરના સન્ની દેઓલ જેટલો ક્લિયર છે. ‘અગર તુમ્હારા પાકિસ્તાન ઝીંદાબાદ હે તો હમારા હિન્દુસ્તાન ભી ઝીંદાબાદ થા, હે ઓર રહેગા’ – એ ડાયલોગની જેમ જો મુસ્લિમ કટ્ટરવાદી વિચારધારા આતંક ફેલાવે ત્યારે ‘આંતકનો કોઈ ધર્મ નથી હોતો’ કહેવાય તો સાધ્વી પ્રજ્ઞા-કર્નલ પુરોહિત જેવા કેસમાં પણ એ જ માપદંડ લાગુ થવો જોઈએ. અને જો અપવાદ કેસમાં ‘ભગવો આતંકવાદ’ જેવા શબ્દપ્રયોગો થતા હોય તો ‘ઈસ્લામિક આતંક’ના અસ્તિત્વનો પણ છેડેચોક સ્વીકાર થવો જોઈએ.

કોઈ એક નાટક કે ફિલ્મમાં જોયેલુ કે, એક પાત્રને માથામાં દુખાવો થતો હોય છે. તેને બીજો સલાહ આપે છે કે, મારુ માથું નથી દુખતુ…મારું માથું નથી દુખતુ… એમ વિચારવાથી મટી જશે. પેલાએ પૂછ્યું કે એમ કરવા છતાં ન મટે તો? સલાહ આપનાર જવાબ આપે છે કે તો એમ વિચારવાનુ કે, જે દુખે છે તે મારું માથું નથી…જે દુખે છે તે મારું માથું નથી…મતલબ કે આડાતેડા ગતકડા કરવાના પણ દુખાવાની ગંભીરતા અને કારણ પારખીને દવા નહીં લેવાની. ઈસ્લામિક ટેરરિઝમનું પણ કંઈક આવું જ છે. ‘આતંકવાદનો કોઈ ધર્મ નથી હોતો’ની ફિલોસોફીઓ ડહોળનારાઓ પહેલા આતંકવાદ ઈસ્લામિક હોવાનું નિદાન સ્વીકારે તો કંઈક ઇલાજ થાય ને?

થોડા સમય પહેલા ગુજરાતમાં બે-ત્રણ મોકડ્રિલ દરમિયાન પોલીસે આતંકવાદીઓને ટોપી પહેરેલા મુસ્લિમ શું બતાવી દીધા, હોબાળો મચી ગયો. વિરોધ ફાટી નીકળ્યો. ‘આતંકનો કોઈ ધર્મ નથી હોતો’ના કોરસગાન શરૂ થઈ ગયા. પોલીસ પર બરાબરના માછલા ધોવાયા. અંતે પોલીસે પણ માફામાફી ને ખુલાસા કરવા પડ્યા. ઠીક છે. ભારતના બંધારણ મુજબ જે થયુ તે બરાબર છે લેકિન…કિન્તુ…પરંતુ…બંધુ… આવો વિરોધ કરવાથી અને મોકડ્રિલના નકલી આતંકવાદીઓની ટોપીઓ ઉતરાવવાથી નગ્ન હકિકત થોડી બદલાઈ જવાની છે? અને મોકડ્રિલના આતંકીઓ પર ક્યાં ‘ભારતીય મુસ્લિમ’ એવો થપ્પો મારેલો હતો વળી તે આવા બખેડા કરવા પડે!

આ વિરોધ થયો એ જ સમયગાળામાં નોઈડાથી બે આતંકવાદી ઝડપાયા. તેમજ વાઈબ્રન્ટ-પ્રવાસી ભારતીય દિવસ પર હૂમલો કરી શકે તેવી શક્યતા ધરાવતા મધ્યપ્રદેશના ખંડવાની જેલમાંથી ભાગેલા આતંકીઓના પોસ્ટર્સ ગાંધીનગરમાં લાગ્યા. આ બંન્ને ઘટનાઓમાં સંડોવાયેલા શખ્સોના માથે ઈસ્લામિક ટોપી હતી. આ ચિત્ર કેવી રીતે બદલાશે વારું?

ગુજરાત પોલીસે નકલી આતંકીઓને પહેરાવેલી મુસ્લિમ ટોપી, ઈસ્લામિક ટેરરનો ખોફનાક ચહેરો દર્શાવતી કમલ હાસનની ફિલ્મ ‘વિશ્વરૂપમ’, વિદેશમાં બનેલી પયગંબર પરની ફિલ્મ કે ગાઝા પટ્ટી પર થયેલા હૂમલાનો વિરોધ કરવા ઉમટી પડેલા ટોળાં ત્યારે ક્યાં હતા જ્યારે અલ કાયદાના આકા અલ ઝવાહિરીની ટેપ આવેલી. એ ટેપમાં ઝવાહિરી કહે છે કે, ‘અમે ભારતીય ઉપ મહાદ્વિપમાં ઈસ્લામનું શાસન સ્થાપવામાં માંગીએ છીએ. તે બર્મા, કાશ્મીર, ગુજરાત, બાંગ્લાદેશ, અમદાવાદ અને આસામમાં મુસ્લિમોની સેવા કરશે.’ ઝવાહિરીના આ મતલબના નિવેદનને ભારતના મુસ્લિમ સંગઠનો, મુસ્લિમ ધર્મગુરૂઓ, મુસ્લિમ યુવાનો, મુસ્લિમ પક્ષો(અને મુસ્લિમોના નામે મુસ્લિમો માટે રાજનિતી કરતા કહેવાતા સાંપ્રદાયીક પક્ષો) સહિત ભારતમાં વસતા તમામ મુસ્લિમોએ એકી શ્વાસે વખોડી કાઢવું નહોતુ જોઈતુ?

અલ કાયદાને સણસણાવીને ચોખ્ખુ સંભળાવી દેવાની જરૂર હતી કે, ભારતના મુસ્લિમોની તમારે ચિંતા કરવાની જરૂર નથી. તમે વિશ્વભરના મુસ્લિમોનો ઠેકો નથી લઈ રાખ્યો. કાશ્મીર કે અમદાવાદના મુસ્લિમોને તમારી ‘સેવા’ની જરૂર નથી. ભારતના મુસ્લિમો પાકિસ્તાન સહિતના વિશ્વના અનેક દેશો કરતા અનેકગણા વધુ સુખી છે. ભારત વિશ્વનું એકમાત્ર રાષ્ટ્ર છે જે મુસ્લિમોને હજ કરવા માટે સબસિડી આપે છે. જેની રાજધાનીનું નામ ‘ઈસ્લામાબાદ’ છે તેવું પાકિસ્તાન પણ હજ માટે સબસિડી આપતુ નથી. ખુદ પાકિસ્તાનની સુપ્રીમ કોર્ટ હજ માટેની સબસિડીને ગૈર ઈસ્લામિક ગણાવી ચૂકી છે. પરંતુ આવું સ્ટેન્ડ લેવા ભારતમાં કોઈ ઈસ્લામિક સંગઠન આગળ ન આવ્યું. મુસ્લિમોને સંડોવતા કે ઈસ્લામને લગતા વિશ્વભરના ઈસ્યુઝ પર ભારતમાં બહાર આવી દેખાવો કરતા મુસ્લિમોએ અલ કાયદાની ટેપ મામલે પણ આગળ આવી સ્ટેન્ડ લેવાની જરૂર નહોતી? એ જ રીતે કાશ્મીરમાં આઈએસઆઈએસના ઝંડા ફરકાવનારા અને કાશ્મીરમાં આઈસીસનું સ્વાગત કરતા સુત્રો લખનારા તત્વોના વિરોધમાં દેશભરના મુસ્લિમોએ સ્ટેન્ડ ન લેવું જોઈએ?

આવા ઈસ્યુઝ પર કોઈ સમાજ દ્વારા લેવાતા સિલેક્ટીવ સ્ટેન્ડના કેવા ગંભીર પરિણામો આવી શકે તેનો ચિતાર ગોધરાકાંડ બાદના તોફાનોના કારણોના મૂળમાં મળે છે. સિનિયર પત્રકાર પ્રશાંત દયાળે ગોધરાકાંડ અને તોફાનો પર ‘9166 UP – 2002 રમખાણોનું અધૂરું સત્ય’ નામની બુક લખી છે. આ કિતાબ કોઈ ક્રાઈમ જર્નાલિસ્ટની નજરે ને કલમે લખાયેલી કોઈ સાધારણ ક્રાઈમ ડાયરી નહીં પણ 2002ના અરસાના આખા ગુજરાતની માનસિકતાનો ડીએનએ ટેસ્ટ કરવાનો પ્રયાસ કરતો એક ઐતિહાસિક દસ્તાવેજ છે. ગોધરાકાંડ બાદ મોટાપાયે થયેલી મુસ્લિમોની(ખુવારી બંન્ને પક્ષે હતી પણ મુસ્લિમોએ વધુ ભોગવવું પડેલુ) કત્લેઆમના કારણોના મૂળમાં જવાનો પ્રયાસ કરતા પત્રકાર અનેક લોકોને સવાલો પૂછીને રમખાણોના સામાજિક-મનોવૈજ્ઞાનિક કારણો તારવવાનો પ્રયાસ કરે છે. લેખક પ્રશાંત દયાળે ભાજપના સિનિયર નેતા સુરેન્દ્ર પટેલ(સુરેન્દ્ર કાકા)ને પૂછ્યું, ‘આવું કેમ બન્યુ?’ જવાબનો એક અંશ જાણવા જેવો છે – ‘હિન્દુઓએ જે કર્યુ તેની પાછળ એક જ કારણ હતું કે 58 વ્યક્તિને જીવતી સળગાવી દેવામાં આવી ત્યારે એક પણ મુસ્લિમ કે તેમની તરફેણ કરનાર કોંગ્રેસ અને અન્ય પાર્ટીઓએ ઘટનાને વખોડી નહોતી, નહિતર આટલી મોટી સંખ્યામાં તોફાનો થતાં નહીં. કોઈ હિન્દુ ગુંડો લોકો પર અત્યાચાર કરે તો ખુદ હિન્દુઓ જ તેનો વિરોધ કરે છે પણ મુસ્લિમોમાં તેવું બનતું નથી, કારણ કે મુસ્લિમોનું નેતૃત્વ મોટાભાગે અસામાજિક તત્વોના હાથમાં જ હોય છે.(લેટેસ્ટ ઉદાહરણ ઓવૈસી બ્રધર્સ) જેના કારણે બહુમતી મુસ્લિમો સારા હોવા છતાં થોડાક મુસ્લિમ ગુંડાઓને કારણે આખી કૌમને સહન કરવું પડે છે.’

રમખાણોના સત્યની શોધમાં નીકળેલા પત્રકારે ડબ્બો સળગ્યાના પડઘા શક્ય એટલા ઓછા પડે તે માટે પ્રયાસો પણ કરેલા. પ્રશાંત દયાળ લખે છે, ‘ગોધરાની ઘટના પછી જ્યારે હું ગોધરામાં જ હતો ત્યારે મેં મારા એક મુસ્લિમ પ્રોફેસર મિત્રને ફોન કરી જણાવ્યું હતું કે તે પરિચિત મૌલવીઓને મળી એક પ્રેસનોટ દ્વારા આ ઘટનાને વખોડતી જાહેરાત કરાવે, જેથી હિન્દુઓ ગોધરાકાંડ માટે તમામ મુસ્લિમોને જવાબદાર ગણે નહીં, પરંતુ તેમાં મને અને મારા મિત્રને નિરાશા મળી હતી. કારણ કે અનેક મૌલવીઓ એ વાતનો સ્વીકાર કરતા હતા કે ગોધરાની ઘટના શૈતાની કૃત્ય છે પણ તેને પ્રેસનોટ દ્વારા વખોડવા તૈયાર નહોતા. જો મુસ્લિમોએ ડહાપણનું પગલું ભર્યુ હોત તો નિર્દોષ મુસ્લિમોએ તેની કિંમત ચૂકવવી પડી ન હોત.’ કાશ…પેશાવરના હૂમલા બાદ જુહાપુરામાં જે રીતે ‘પેશાવર કે દર્દ મેં રો રહા હૈ જુહાપુરા’ના બેનર્સ સાથે રેલી નીકળી એવી એકાદી રેલી ગોધરામા સળગી ગયેલા ડબ્બા માટે પણ નીકળી હોત તો ગુજરાતનો ઈતિહાસ કદાચ ઓછો લોહિયાળ હોત. (લખ્યા તા.14 જૂન 2015, રવિવાર)

ફ્રિ હિટ:

કાશ્મીરમાં આઈએસઆઈએસના ઝંડા ફરકાવનારા અને ત્યાં આઈએસઆઈએસને આવકારતા સુત્રો લખનારા મુસ્લિમ કટ્ટરપંથી તત્વોએ યાદ રાખવું જોઈએ કે, જેલમની સપાટી વધી રહી છે અને કાશ્મીરમાં પુર જેવી હોનારત વખતે ભારતીય સેના જ કામમાં આવે છે, ઈસ્લામિક સ્ટેટના આતંકવાદીઓ નહીં.

Posted in Hindu conspiracy

जिन्ना का दोष यही था कि उसने मुसलमानों को सीधे क़त्ले आम कर के पाकिस्तान लेने का निर्देश दिया ! वह चाहता तो यह क़त्ले आम रुक सकता था लेकिन उसे मुसलमानों की ताक़त दर्शानी थी

बहुत कठोर पोस्ट है पर जानना जरूरी है, “जिन्ना” को।😡
.16 अगस्त 1946 से दो दिन पूर्व ही
जिन्ना नें “सीधी कार्यवाही” की धमकी दी थी. गांधीजी को अब भी उम्मीद थी कि जिन्ना सिर्फ बोल रहा है, देश के मुश्लिम इतने बुरे नहीं कि ‘पाकिस्तान’ के लिए हिंदुओं का कत्लेआम करने लगेंगे। पर गांधी यहीं अपने जीवन की सबसे बड़ी भूल कर रहे हैं, सम्प्रदायों का नशा शराब से भी ज्यादा घातक होता है।
बंगाल और बिहार में मुस्लिमो की संख्या अधिक है, और लीग की पकड़ भी यहाँ मजबूत है।
बंगाल का मुख्यमंत्री शाहिद सोहरावर्दी जिन्ना का वैचारिक गुलाम है, जिन्ना का आदेश उसके लिए खुदा का आदेश है।
पूर्वी बंगाल का मुस्लिम बहुल्य नोआखाली जिला! यहाँ अधिकांश दो ही जाति के लोग हैं, गरीब हिन्दू और मुस्लिम। हिंदुओं में पंचानवे फीसदी पिछड़ी जाति के लोग हैं, गुलामी के दिनों में किसी भी तरह पेट पालने वाले।
लगभग सभी जानते हैं कि जिन्ना का “डायरेक्ट एक्शन” यहाँ लागू होगा, पर हिन्दुओं में शांति है। आत्मरक्षा की भी कोई तैयारी नहीं। कुछ गाँधी जी के भरोसे बैठे हैं। कुछ को मुस्लिम अपने भाई लगते हैं, उन्हें भरोसा है कि मुस्लिम उनका अहित नहीं करेंगे।
सुबह के दस बज रहे हैं, पर सड़क पर नमाजियों की भीड़ अब से ही इकट्ठी हो गयी है। बारह बजते बजते यह भीड़ तीस हजार की हो गयी, सभी हाथों में तलवारें हैं।
मौलाना मुसलमानों को बार बार जिन्ना साहब का हुक्म पढ़ कर सुना रहा है- “बिरदराने इस्लाम! हिंदुओं पर दस गुनी तेजी से हमला करो…”
मात्र पचास वर्ष पूर्व ही हिन्दू से मुसलमान बने इन मुसलमानों में घोर साम्प्रदायिक जहर भर दिया गया है, इन्हें अपना पाकिस्तान किसी भी कीमत पर चाहिए।
एक बज गया। नमाज हो गयी। अब जिन्ना के डायरेक्ट एक्शन का समय है। इस्लाम के तीस हजार सिपाही एक साथ हिन्दू बस्तियों पर हमला शुरू करते हैं। एक ओर से, पूरी तैयारी के साथ, जैसे किसान एक ओर से अपनी फसल काटता है। जबतक एक जगह की फसल पूरी तरह कट नहीं जाती, तबतक आगे नहीं बढ़ता।
जिन्ना की सेना पूरे व्यवस्थित तरीके से काम कर रही है। पुरुष, बूढ़े और बच्चे काटे जा रहे हैं, स्त्रियों-लड़कियों का …. किया जा रहा है।
हाथ जोड़ कर घिसटता हुआ पीछे बढ़ता कोई बुजुर्ग, और छप से उसकी गर्दन उड़ाती तलवार…
माँ माँ कर रोते छोटे छोटे बच्चे, और उनकी गर्दन उड़ा कर मुस्कुरा उठती तलवारें…
अपने हाथों से शरीर को ढंकने का असफल प्रयास करती बिलखती हुई एक स्त्री, और राक्षसी अट्टहास करते बीस बीस मुसलमान… उन्हें याद नहीं कि वे मनुष्य भी हैं। उन्हें सिर्फ जिन्ना याद है, उन्हें बस पाकिस्तान याद है।
शाम हो आई है। एक ही दिन में लगभग 15000 हिन्दू काट दिए गए हैं, और लगभग दस हजार स्त्रियों का….. हुआ है।
जिन्ना खुश है, उसके “डायरेक्ट एक्शन” की सफल शुरुआत हुई है।
अगला दिन, सत्रह अगस्त….
मटियाबुर्ज का केसोराम कॉटन मिल! जिन्ना की विजयी सेना आज यहाँ हाथ लगाती है। मिल के मजदूर और आस पास के स्थान के दरिद्र हिन्दू….
आज सुबह से ही तलवारें निकली हैं। उत्साह कल से ज्यादा है। मिल के ग्यारह सौ मजदूरों, जिनमें तीन सौ उड़िया हैं को ग्यारह बजे के पहले ही पूरी तरह काट डाला गया है। मोहम्मद अली जिन्ना जिन्दाबाद के नारों से गगन गूंज रहा है…
पड़ोस के इलाके में बाद में काम लगाया जाएगा, अभी मजदूरों की स्त्रियों के साथ….का समय है।
कलम कांप रही है, नहीं लिख पाऊंगा। बस इतना जानिए, हजार स्त्रियाँ…
अगले एक सप्ताह में रायपुर, रामगंज, बेगमपुर, लक्ष्मीपुर…. लगभग एक लाख लाशें गिरी हैं। तीस हजार स्त्रियों का…. हुआ है। जिन्ना ने अपनी ताकत दिखा दी है….
हिन्दू महासभा “निग्रह मोर्चा” बना कर बंगाल में उतरी , और सेना भी लगा दी। कत्लेआम रुक गया .
बंगाल विधान सभा के प्रतिनिधि हारान चौधरी घोष कह रहे हैं,” यह दंगा नहीं,मुसलमानों की एक सुनियोजित कार्यवाही है, एक कत्लेआम है।
गांधीजी का घमंड टूटा, पर भरम बाकी रहा। वे वायसराय माउंटबेटन से कहते हैं, “अंग्रेजी शासन की फूट डालो और राज करो की नीति ने ऐसा दिन ला दिया है कि अब लगता है या तो देश रक्त स्नान करे या अंग्रेजी राज चलता रहे”।
सच यही है कि गांधी अब हार गए थे. जिन्ना जीत गया था।
कत्लेआम कुछ दिन के लिए ठहरा भर था। या शायद अधिक धार के लिए कुछ दिनों तक रोक दिया गया था.
6 सितम्बर 1946…

गुलाम सरवर हुसैनी लीग का अध्यक्ष बनता है, और सात को शाहपुर में कत्लेआम दुबारा शुरू…
10 अक्टूबर 1946
कोजागरी लक्ष्मीपूजा के दिन ही कत्लेआम की तैयारी है। नोआखाली के जिला मजिस्ट्रेट M J Roy रिटायरमेंट के दो दिन पूर्व ही जिला छोड़ कर भाग गए हैं। वे जानते हैं कि जिन्ना ने दस अक्टूबर का दिन तय किया है, और वे हिन्दू हैं।
जो लोग भाग सके हैं वे पश्चिम बंगाल, त्रिपुरा और आसाम के हिस्सों में भाग गए हैं, जो नहीं भाग पाए उनपर कहर बरसी है। नोआखाली फिर जल उठा है।
लगभग दस हजार लोग दो दिनों में काटे गए हैं। इस बार नियम बदल गए हैं। पुरुषों के सामने उनकी स्त्रियों का…. हो रहा है, फिर पुरुषों और बच्चों को काट दिया जाता है। अब वह ….. स्त्री उसी राक्षस की हुई जिसने उसके पति और बच्चों को काटा है।
एक लाख हिन्दू बंधक बनाए गए हैं। उनके लिए मुक्ति का मार्ग निर्धारित है, “गोमांस खा कर इस्लाम स्वीकार करो और जान बचा लो”।
एक सप्ताह में लगभग पचास हजार हिंदुओं का धर्म परिवर्तन हुआ है।
जिन्ना का “डायरेक्ट एक्शन” सफल हुआ है, नेहरू गांधी को मन ही मन भारत विभाजन को स्वीकार करा चुका था ।
सत्तर साल बाद……

“जिन्ना सेकुलर था।”ऐसा कहने वाला
अय्यर हो या सर्वेश तिवारी हो या सिद्धू हो या शत्रुघ्न सिन्हा हो या कोई अन्य हो, भारत की धरती पर खड़े हो कर जिन्ना की बड़ाई करने वाले से बड़ा गद्दार इस विश्व में दूसरा कोई नहीं हो सकता.।
शेअर कीजिए इस पोस्ट को ताकि सेक्युलर हिन्दुओ को पता तो चले कि कौन था जिन्नाह😡

Posted in Hindu conspiracy

शूद्रों को ब्राह्मणों के कुँए से पानी पीने नहीं दिया जाता था ?
पेचीदा सवाल कुएं का
मित्रों,
अच्छा बताइए ब्राह्मणों के अत्याचार काल में शूद्र कहाँ से पानी पीते थे? और अगर उन के कुएं थे, तो उन्हें ब्राह्मणो के कुएं से पानी क्यों पीना था? यदि कुएं नहीं थे, तो उन्होंने खोदे क्यों नही! और ब्राह्मणों के कुएं किसने खोदे? यदि ब्राह्मणों ने खोदे तो, ये झूठ फैलाया गया है, कि केवल दलितों से मेहनत कराई जाती थी। और यदि दलितों ने खोदे तो, भला दलितों ने अपने कुएं क्यों नहीं खोद लिए? यदि इतना ही छुआछूत का प्रभाव था, तो दलितों द्वारा खोदे कुओं से ब्राह्मण कैसे पानी पी लेते थे ? उधेड़बुन में न फंसिए वामपंथी इतिहास में ।अपनी अक्ल लगाइए। अंग्रेंजो की नीति थी फुट डालो शासन करो। देश का दुर्भाग्य है, हमे भाषा से लेकर शिक्षा तक उन्ही की दी जा रही है।

Posted in Hindu conspiracy

संजय गुप्ता

हिन्दुओ के सारे पवित्र काम दिन में होते हैं लेकिन शादी रात में ,जाने इसके पीछे क्या कारण है??????

हमारा हिन्दू समाज अनेक प्रकार की मान्यताओ से भरा है चाहे वो कोई शुभ कार्य हो या शादी विवाह सबके अपने कायदे कानून बने हुए है| हमारे हिन्दू धर्म में शादी को एक बहुत ही पवित्र रिश्ता माना जाता है| विवाह का कोई समानार्थी शब्द नहीं है।

विवाह= वि+वाह, अत: इसका शाब्दिक अर्थ है- विशेष रूप से वहन करना। अन्य धर्मों में विवाह पति और पत्नी के बीच एक प्रकार का करार होता है जिसे कि विशेष परिस्थितियों में तोड़ा भी जा सकता है, लेकिन हमारे हिन्दू धर्म में विवाह बहुत ही भली-भांति सोच- समझकर किए जाने वाला संस्कार माना गया है।

इस संस्कार में वर और वधू सहित सभी पक्षों की सहमति लिए जाने की प्रथा है। शादी एक ऐसा मौका होता है जब दो इंसानो के साथ-साथ दो परिवारों का भी मिलन होता है। ऐसे में विवाह संबंधी सभी कार्य पूरी सावधानी और शुभ मुहूर्त देखकर ही किए जाते हैं। हिंदू धर्म के अनुसार सात फेरों के बाद ही शादी की रस्म पूरी होती है।

लेकिन क्या आप ने कभी सोचा है की शादी हमेशा रात में ही क्यों होती है? जबकि हिन्दु धर्म में रात में शुभकार्य करना अच्छा नहीं माना जाता है| रात को देर तक जागना और सुबह को देर तक सोने को, राक्षसी प्रव्रत्ति बताया जाता है ऐसा करने से हमारे घर में लक्ष्मी नही आती है|.

केवल तंत्र सिद्धि करने वालों को ही रात्री में हवन यज्ञ की अनुमति है| वैसे भी प्राचीन समय से ही सनातन धर्मी हिन्दू दिन के प्रकाश में ही शुभ कार्य करने के समर्थक रहे है तब हिन्दुओं में रात की विवाह की परम्परा कैसे पडी ?

तो आइये जानते है की विवाह रात में ही क्यों होता है| दरअसल पहले भारत में सभी उत्सव एवं संस्कार दिन में ही किये जाते थे और शास्त्रों के अनुसार सीता और द्रौपदी का स्वयंवर भी दिन में ही हुआ था।

दोस्तों प्राचीन काल से लेकर मुगलों के आने तक भारत में सभी विवाह दिन में ही हुआ करते थे| मुस्लिम पिशाच आक्रमणकारियों के भारत पर हमला करने के बाद, हिन्दुओं को अपनी कई प्राचीन परम्पराएं तोडनी पड़ी|

मुस्लिम आक्रमणकारियों द्वारा भारत पर अतिक्रमण करने के बाद भारतीयों पर बहुत अत्याचार भी किये गये यह आक्रमणकारी पिशाच हिन्दुओं के विवाह के समय वहां पहुचकर काफी लूटपाट भी करते थे।

कामुक अकबर के शासन काल में, जब अत्याचार चरमसीमा पर थे, मुग़ल सैनिक हिन्दू लड़कियों को बलपूर्वक उठा लेते थे और उन्हें अपने आकाओं को सौंप देते थे भारतीय ज्ञात इतिहास में सबसे पहली बार रात्रि में विवाह सुन्दरी और मुंदरी नाम की दो ब्राह्मण बहनों का हुआ था, जिनकी विवाह दुल्ला भट्टी ने अपने संरक्षण में ब्राह्मण युवकों के साथ कराया था|

कहा जाता है की उस समय दुल्ला भट्टी ने अत्याचार के खिलाफ हथियार भी उठाये थे और दुल्ला भट्टी ने ऐसी अनेकों लड़कियों को मुगलों से छुडाकर, उनका हिन्दू लड़कों से उनका विवाह कराया था| उसके बाद मुस्लिम आक्रमणकारियों के आतंक से बचने के लिए हिन्दू रात के अँधेरे में विवाह करने लगे।

Posted in Hindu conspiracy

जानिये और समझिये कि सबरीमला मंदिर क्यों सबकी आंखों में खटक रहा है।

केरल में सबरीमला के मशहूर स्वामी अयप्पा मंदिर में महिलाओं के प्रवेश के नाम पर चल रहे विवाद के बीच लगातार यह सवाल उठ रहा है कि आखिर इस मंदिर में ऐसा क्या है कि ईसाई और इस्लाम धर्मों को मानने वाले तथाकथित एक्टिविस्ट भी कम से कम एक बार यहां घुसने को बेताब हैं।
इस बात को समझने के लिये हमें केरल के इतिहास और यहां इस्लामी और राज्य में बीते 4-5 दशक से चल रही ईसाई धर्मांतरण की कोशिशों को भी समझना होगा।
मंदिर में प्रवेश पाने के पीछे नीयत धार्मिक नहीं, बल्कि यहां के लोगों की सदियों पुरानी धार्मिक आस्था को तोड़ना है, ताकि इस पूरे इलाके में बसे लाखों हिंदुओं को ईसाई और इस्लाम जैसे अब्राहमिक धर्मों में लाया जा सके।
केरल में चल रहे धर्मांतरण अभियानों में सबरीमला मंदिर बहुत बड़ी रुकावट बनकर खड़ा है।
पिछले कुछ समय से इसकी पवित्रता और इसे लेकर स्थानीय लोगों की आस्था को चोट पहुंचाने का काम चल रहा था।
लेकिन हर कोशिश नाकाम हो रही थी।
लेकिन आखिरकार महिलाओं के मुद्दे पर ईसाई मिशनरियों ने न सिर्फ सबरीमला के अयप्पा मंदिर बल्कि पूरे केरल में हिंदू धर्म के खात्मे के लिए सबसे बड़ी चाल चल दी है।

सबरीमला के इतिहास को समझिये…

1980 से पहले तक सबरीमला के स्वामी अयप्पा मंदिर के बारे में ज्यादा लोगों को नहीं पता था। केरल और कुछ आसपास के इलाकों में बसने वाले लोग यहां के भक्त थे।
70 और 80 के दशक का यही वो समय था जब केरल में ईसाई मिशनरियों ने सबसे मजबूती के साथ पैर जमाने शुरू कर दिये थे।
उन्होंने सबसे पहला निशाना गरीबों और अनुसूचित जाति के लोगों को बनाया।
इस दौरान बड़े पैमाने पर यहां लोगों को ईसाई बनाया गया। इसके बावजूद लोगों की मंदिर में आस्था बनी रही।
इसका बड़ा कारण यह था कि मंदिर में पूजा की एक तय विधि थी जिसके तहत दीक्षा आधारित व्रत रखना जरूरी था।
सबरीमला उन मंदिरों में से है जहां पूजा पर किसी जाति का विशेषाधिकार नहीं है किसी भी जाति का हिंदू पूरे विधि-विधान के साथ व्रत का पालन करके मंदिर में प्रवेश पा सकता है।
सबरीमला में स्वामी अयप्पा को जागृत देवता माना जाता है।
यहां पूजा में जाति विहीन व्यवस्था का नतीजा है कि इलाके के दलितों और आदिवासियों के बीच मंदिर को लेकर अटूट आस्था है।
मान्यता है कि मंदिर में पूरे विधि-विधान से पूजा करने वालों को मकर संक्रांति के दिन एक विशेष चंद्रमा के दर्शन होते हैं जो लोग व्रत को ठीक ढंग से नहीं पूरा करते उन्हें यह दर्शन नहीं होते।
जिसे एक बार इस चंद्रमा के दर्शन हो गए माना जाता है कि उसके पिछले सभी पाप धुल जाते हैं।

सबरीमला से आया सामाजिक बदलाव…

सबरीमला मंदिर की पूजा विधि देश के बाकी मंदिरों से काफी अलग और कठिन है।
यहां दो मुट्ठी चावल के साथ दीक्षा दी जाती है इस दौरान रुद्राक्ष जैसी एक माला पहननी होती है।
साधक को रोज मंत्रों का जाप करना होता है।
इस दौरान वो काले कपड़े पहनता है और जमीन पर सोता है।
जिस किसी को यह दीक्षा दी जाती है उसे स्वामी कहा जाता है।
यानी अगर कोई रिक्शावाला दीक्षा ले तो उसे रिक्शेवाला बुलाना पाप होगा इसके बजाय वो स्वामी कहलायेगा।
इस परंपरा ने एक तरह से सामाजिक क्रांति का रूप ले लिया।
मेहनतकश मजदूरी करने वाले और कमजोर तबकों के लाखों-करोड़ों लोगों ने मंदिर में दीक्षा ली और वो स्वामी कहलाये।
ऐसे लोगों का समाज में बहुत ऊंचा स्थान माना जाता है।
यानी यह मंदिर एक तरह से जाति-पाति को तोड़कर भगवान के हर साधक को वो उच्च स्थान देने का काम कर रहा था जो कोई दूसरी संवैधानिक व्यवस्था कभी नहीं कर सकती है।

ईसाई मिशनरियों के लिये मुश्किल

सबरीमला मंदिर में समाज के कमजोर तबकों की एंट्री और वहां से हो रहे सामाजिक बदलाव ने ईसाई मिशनरियों के कान खड़े कर दिये उन्होंने पाया कि जिन लोगों को उन्होंने धर्मांतरित करके ईसाई बना लिया वो भी स्वामी अयप्पा में आस्था रखते हैं और कई ने ईसाई धर्म को त्यागकर वापस सबरीमला मंदिर में ‘स्वामी’ के तौर पर दीक्षा ले ली।
यही कारण है कि ये मंदिर ईसाई मिशनरियों की आंखों में लंबे समय से खटक रहा था।
अमिताभ बच्चन, येशुदास जैसे कई बड़े लोगों ने भी स्वामी अयप्पा की दीक्षा ली हझ।
इन सभी ने भी मंदिर में रहकर दो मुट्ठी चावल के साथ दीक्षा ली है इस दौरान उन्होंने चप्पल पहनना मना होता था और उन्हें भी उन्हीं रास्तों से गुजरना होता था जहां उनके साथ कोई रिक्शेवाला, कोई जूते-चप्पल बनाने वाला स्वामी चल रहा होता था।
नतीजा यह हुआ कि ईसाई संगठनों ने सबरीमला मंदिर के आसपास चर्च में भी मकर संक्रांति के दिन फर्जी तौर पर ‘चंद्र दर्शन’ कार्यक्रम आयोजित कराए जाने लगे।
ईसाई धर्म के इस फर्जीवाड़े के बावजूद सबरीमला मंदिर की लोकप्रियता दिन दूनी रात चौगुनी बढ़ती रही थी।
नतीजा यह हुआ कि उन्होंने मंदिर में 10 से 50 साल तक की महिलाओं के प्रवेश पर लगी रोक को मुद्दा बनाकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका डाल दी।
यह याचिका कोर्ट में एक हिंदू नाम वाले कुछ ईसाइयों और एक मुसलमान की तरफ से डलवाई गई।

1980 में सबरीमला मंदिर के बागीचे में ईसाई मिशनरियों ने रातों रात एक क्रॉस गाड़ दिया था।
फिर उन्होंने इलाके में परचे बांट कर दावा किया कि यह 2000 साल पुराना सेंट थॉमस का क्रॉस है इसलिये यहां पर एक चर्च बनाया जाना चाहिये।
उस वक्त आरएसएस के नेता जे शिशुपालन ने इस क्रॉस को हटाने के लिए आंदोलन छेड़ा था और वो इसमें सफल भी हुये थे।
इस आंदोलन के बदले में राज्य सरकार ने उन्हें सरकारी नौकरी से निकाल दिया था।

केरल में हिंदुओं पर सबसे बड़ा हमला

केरल के हिंदुओं के लिए यह इतना बड़ा मसला इसलिये है क्योंकि वो समझ रहे हैं कि इस पूरे विवाद की जड़ में नीयत क्या है।
राज्य में हिंदू धर्म को बचाने का उनके लिये यह आखिरी मौका है।
केरल में गैर-हिंदू आबादी तेज़ी के साथ बढ़ते हुए 35 फीसदी से भी अधिक हो चुकी है।
अगर सबरीमला की पुरानी परंपराओं को तोड़ दिया गया तो ईसाई मिशनरियां प्रचार करेंगी कि भगवान अयप्पा में कोई शक्ति नहीं है और वो अब अशुद्ध हो चुके हैं।
ऐसे में ‘चंद्र दर्शन’ कराने वाली उनकी नकली दुकानों में भीड़ बढ़ेगी।
नतीजा धर्मांतरण के रूप में सामने आएगा।
यह समझना बहुत मुश्किल नहीं है क्योंकि जिन तथाकथित महिला एक्टिविस्टों ने अब तक मंदिर में प्रवेश की कोशिश की है वो सभी ईसाई मिशनरियों की करीबी मानी जाती हैं।
जबकि जिन हिंदू महिलाओं की बराबरी के नाम पर यह अभियान चलाया जा रहा है वो खुद ही उन्हें रोकने के लिये मंदिर के बाहर दीवार बनकर खड़ी हैं।

Posted in Hindu conspiracy

भारत के साथ किए गए बड़े छलावे का पर्दाफाश

कुछ बातें अगर समय से पहले कही जाये तो उतना परिणाम नहीं देती। इस पोस्ट् को लेकर आज यही भावना है । सेप्टेम्बर 2015 को लिखी थी, लगता है आज अधिक प्रासंगिक हैं । सादर प्रस्तुत कर रहा हूँ । कृपया पसंद आए तो ही लाइक करें। कमेन्ट और चर्चा करेंगे तो ज्यादा अच्छा लगेगा ।

सतीप्रथा क्या होती थी?

नहीं, मैं जवाब नहीं मांग रहा आप से, शायद इस विषय में जितना मैं जानता हूँ आप भी उतना ही जानते हैं । “एक कुप्रथा थी जिसे राजा राम मोहन रॉय और तत्कालीन गवर्नर जनरल विलियम बेंटिंक ने समाप्त करवाई ।” यही है ना?
सवाल यह है कि क्या यह सच है ? क्या यही सच है? क्या सती वाकई कुप्रथा थी या नहीं ?

सच तो यह है कि मुझे भी पता नहीं कि हकीकत क्या थी। लेकिन सच यह भी है कि मैं और आप वहीं स्वीकार करने को मजबूर हैं जो अंग्रेजोने हमें बताया है।

दुनिया का सब से दीर्घ इतिहास हमारा है, लेकिन हम उसके प्रलेखन (documentation) को ले कर बहुत ही उदासीन रहे हैं । और हमारे पूर्वजों की इस त्रुटि की कीमत हम से आक्रांताओं ने वसूली है जो इतिहास का शस्त्र के तौर पर उपयोग करना जानते थे ।

राजा राम मोहन रॉय के बारे में पढ़ते हुए यह वाक्य मिले विकिपीडिया पर ।
Rammohan Roy’s experience working with the British government taught him that Hindu traditions were often not credible or respected by western standards and this no doubt affected his religious reforms. He wanted to legitimize Hindu traditions to his European acquaintances by proving that “superstitious practices which deform the Hindu religion have nothing to do with the pure spirit of its dictates!”

The “superstitious practices” Rammohan Roy objected included sati, caste rigidity, polygamy and child marriages. These practices were often the reasons British officials claimed moral superiority over the Indian nation. Rammohan Roy’s ideas of religion actively sought to create a fair and just society by implementing humanitarian practices similar to Christian ideals and thus legitimize Hinduism in the modern world.

क्या मतलब है इन वाक्यों का ? मुझे इनमें एक अनकहा सच दिख रहा है कि राजा राम मोहन रॉय अपने मूल हिन्दू धर्म को ले कर लज्जित थे । अब ये वाकई धार्मिक परम्पराओं को ले कर लज्जा थी या अंग्रेजों से स्वीकृत होने के लिए कुछ भी कर गुजरने की तैयारी, इसका आज हम मूल्यांकन नही कर सकते क्योंकि हमारे पास कोई अन्य version मौजूद ही नही है । लेकिन एक बात का भारत के माथे पे दाग लगाया जाता है कि तुम लोगों में इतनी सारी कुरीतियाँ थी जो हमारे कारण ही खत्म हुई हैं ।

ये शर्मिंदा करने का खेल है (Shame Game) तथा समाज विघटन का भी है जिसे आगे खेला गया। दो शब्द नोट करिए – caste rigidity। याने हिन्दू विघटन का यह खेल तभी से चालू है जिसके लिए अंग्रेज़ हमेशा कोई स्थानीय मोहरा इस्तेमाल करते थे ।

1857 के समर के सभी विप्लवियों को ढूंढ ढूंढ कर मारा अंग्रेजोने । उसके बाद यह खेल फिर से चालू हुआ । अचानक कहाँ से जातिवाद इतना असह्य रूप से बड़ा हो गया जो इसके पहले इतिहास में नहीं था? नीची से नीची मानी गई जातियोंके लोग भी ऊंचे से ऊंचे जाती के राजाओं के लिए खुशी से जान न्योछावर क्यों करते थे? उनके लिए अकृत्रिम निष्ठा क्यों थी?

हिन्दू परंपरा में जातिवाद, ब्राह्मणवाद ये शब्द कभी थे ही नहीं । दलित भी नहीं था कहीं । यह “वाद” प्रत्यय तो सीधे सीधे “ism” का भाषांतर है – casteism से जातिवाद, Brahmanism से ब्राह्मणवाद । ये दोनों शब्द कहाँ हैं हिन्दू परंपरा में? नहीं हैं तो कहाँ से आए, किसने घुसाए इन्हें हमारे मनों में?

जिस रूप में दल हित चिंतक उन्हें परोसते हैं वे मनु तो 1931 के आसपास पैदा किए गए । पढ़ी भी है मनुस्मृति किसी ने या अंग्रेजों का सिखाया हुआ शर्म का खेल ही बेशर्मी से खेला जा रहा है? भारत में कब और किस राजा के राज्य में लागू थी मनुस्मृति? कहाँ लिखी है पिघलते सीसे की बात ?

क्यूँ बैठता नहीं कोई भी दल हित चिंतक किसी भी हिन्दू विद्वान के साथ श्लोक दर श्लोक शास्त्रार्थ के लिए?

अंग्रेज़ो की हमेशा एक स्टाइल रही । नीच कर्म हमेशा स्थानिकों के ही हाथों करवाते थे । बिभीषण राम को ढूंढते आ गए थे , अंग्रेज़ सब से पहले बिभीषण ढूंढ लेते । लीपा जानेवाला गोबर इनका, लेकिन लीपने के लिए आदमी लोकल
ही ढूंढते थे ।

खैर, अभी इतिहास सामने आ रहा है । हिंदुस्तान के द्रोही जो झूठ को सच बतलाते घूमते थे, अब उनसे भी सवाल किए जा रहे हैं और सब के सामने सच खुल रहा है कि ये विदेशियों के हाथों बिके लोग हैं । दर्द सिर्फ उस बात का है कि इनके पूर्वसूरी यही काम कर के भी इतने महान बनाए गए कि उनकी पोल खोल समाज के लिए पीड़ादायक होगी। लेकिन फिर भी, यह भी जरूरी होगा ।
Aatish Taseer एक प्रसिद्ध लेखक हैं और बहुत ही सुंदर लिखते हैं । संस्कृत के भी गहरे अभ्यासक हैं । उनका एक वाक्य मुझे हमेशा विचलित कर जाता है : जो लोग अपने इतिहास का अध्ययन नहीं करते वो उसे विकृत रूप में प्रस्तुत करनेवालों से छले जाने के लिए अभिशप्त हैं ।

When you don’t study your past, you expose yourself to people distorting it.

पोस्ट जरा अलग है, सब के रुचि का विषय नहीं है, लेकिन उम्मीद करता हूँ कि आप को रुचि निर्माण होगी क्योंकि इस विषय पर आगे काफी कुछ लिखना है कि भारत के साथ क्या फ़्रौड हुआ है ।

राजा राम मोहन रॉय के उठाए मुद्दों पर जरा बात करें ।

1 सतीप्रथा का अंत, जिसके लिए वे सब से अधिक जाने जाते हैं हैं
– वे और William Bentinck
2 Rigidity of Caste System जातिव्यवस्था की कठोरता
3 Polygamy बहुपत्नीत्व
4 Child Marriages बाल विवाह

सती प्रथा को ले कर बचपन की कथाएँ जो याद हैं वे दिल दहला देने वाली थी। विधवा स्त्री को बोझ मानकर चिता में धकेला जाता था, क्या होता है यह समझ न आए इसलिए नशीले पदार्थ खिलाये पिलाये जाते थे और फिर भी अगर आग से वो भागने की वो कोशिश करे तो लंबे लंबे लकड़ियों से उसे अंदर वापस धकेला जाता था । उसकी चीखें न सुनाई दें इसलिए ढ़ोल नगाड़े आदि वाद्य ज़ोर शोर से बजाए जाते थे । चित्र भी थे – फोटो नहीं, 20 वी सदी के किसी चित्रकार ने कल्पनासे बनाए कृष्ण धवल चित्र । और ऐसी दक़ियानूसी प्रथा से – भारत की – हिन्दू स्त्रियॉं को मुक्ति दिलानेवाले उनके तारनहार भारत माता के सपूत राजा राम मोहन रॉय ।

यही पढ़ा था मैंने । और मेरी पढ़ाई कान्वेंट की नहीं है । वहाँ और क्या पढ़ाया जाता होगा, पता नहीं ।

आज सोचता हूँ, क्या उन दिनों विधवाएँ होती ही नहीं थी? पति मर गया तो सीधा इसको भी साथ में pack कर के जला देते थे क्या? क्या सिर्फ राजघरानों में विधवाओं को जीने का अधिकार था? क्या सभी विधवाओं को सती होना जरूरी था ?

समाज के इतिहास के प्रति अपने पूर्वजों की उदासीनता पर गुस्सा आता है इस वक़्त कि जो बात तर्क से विसंगत तो लगती है लेकिन विश्वसनीय तथ्यों के अभाव में हम निरुत्तर हैं । यह तो यूं हुआ कि किसी सफ़ेद बाल, झुर्रियों से भरे और कमर में दोहरे हो कर लकड़ी के ही बल मुश्किल से चल पाने वाले किसी वृद्ध को कोई रेल्वे का TC age proof के बगैर सीनियर सिटिज़न मानने से इंकार कर दें और वो बेचारा बुजुर्ग कुछ न कह सके ।

क्या सती होने के उस समाज को या उस घर को कोई सामाजिक प्रतिष्ठा, लाभ इत्यादि मिलते थे? क्या उनको महत्व मिलता था? क्योंकि जहां तक दिख रहा है, ऐसे ही चीजों को ध्वस्त करने का जेताओं का स्वभाव रहा है । खैर, सती का मैं समर्थक तो नहीं हूँ, लेकिन यहाँ कुछ बातें अनुत्तरित लगती तो है ।

Caste System को देखते हैं कि अंग्रेजों ने इसमें पाया कि समाज को एक साथ बांधनेवाली कोई बात है तो यह है । इसका विध्वंस हिन्दू समाज के विध्वंस की कुंजी है, अत: इसको कैसे भी कर के ध्वस्त करना है । उस वक़्त उन्होने क्या प्रयत्न किए और उन्हें कितनी सफलता मिली यह मुझे जानकारी नहीं है, लेकिन सालों बाद उन्होने जो किया उसका वर्णन इस चुट्कुले में आप को मिल जाएगा, सुनिए:

खिलौने के दुकान में एक बौराई हुई माता घुस आई । नजर किसी को ढूंढ रही थी। एक सेल्समन पर जा टिकी । गुस्से से लगभग पाँव पटकती वो उसके सामने जा खड़ी हुई और शेल्फ में रखे एक खिलौने के तरफ निर्देश करते उसे पूछा – आप ने ही वो खिलौना मुझे बेचा था न कल? यही कहा था ना कि ये टूट नहीं सकता?
भौंचक्के सेल्समन ने पूछा – हा, लेकिन कहना क्या चाहती हैं आप? क्या आप के बच्चे ने उसे भी तोड़ दिया ?
“नहीं”, औरत ने जवाब दिया ,लेकिन उसे लेकर अपने बाकी सारे खिलौने चकनाचूर कर दिये उसने !

अंग्रेज़ हमारी जातियाँ तो तोड़ नहीं सके, उल्टा तो और पुख्ता कर दी और सभी समस्याओं के लिए जातिव्यवस्था पर ही आरोप लगाकर समाज को ही तोड़ डाला गदाघात से ! क्या नहीं?

बहुपत्नीत्व की बात करें । एक से अधिक विवाह किसके बस की बात थी?
जमींदार, रियासतवाले ही होंगे । अब यहाँ एक बात सोचते हैं । यह सत्ताधारी वर्ग मैं विवाह अक्सर घरानों के गठबंधन के लिए होते थे, आज भी वही कारण से होते हैं, बस एक ही हो पाता है वो बात अलग है । तो गठबंधन से पॉलिटिकल ताकत बढ़ती है अगर ….कैसे बर्दाश्त हो ? प्रथा की निंदा करो, समाज की निंदा करो, शर्म के बोझ में बढ़ोत्तरी करो ….

बाल विवाह – क्या कुछ किया भी इन्होने या इनके बाद भी किसी ने? 1980 के दशक में मुझे याद है, INDIA TODAY ने राजस्थान में कोई मुहूर्त को लेकर हजारो बालविवाह हुए थे उस पर कवर स्टोरी की थी। याने होते होते यह सभी कुरीतियाँ समाप्त की तो हिंदुओं ने ही ।

तो अंग्रेजोने कुछ खत्म किया भी या नहीं? जवाब हाँ ही है, लेकिन ऐसा क्या खत्म किया इन्होने?

हिन्दू समाज ! हिन्दू समाज को खत्म किया अंग्रेजोने !

यह तथाकथित सुधार करने के लिए सिर्फ हिन्दू ही मिले इनको? भारत के सत्ताधीश थे, भारत के मुसलमान तो किसी और ग्रह पर तो नहीं न बस रहे थे ।

अश्वं नैव गजं नैव व्याघ्रं नैव च नैव च ।
अजापुत्रं बलिं दद्यात् देवो दुर्बलघातकः॥

भारत को तोड़ने का यह खेल आप को समझ आ रहा है तो कृपया इस लेख को शेयर कर के दूसरों को भी सचेत करें । आभार ।

साभार