Posted in Amar Bangla

ममता का खतरनाक खेल 

जो लोग ये समझते है की ममता बनर्जी कोई अर्ध शिक्षित , उज्जड ,सनकी महिला है , वे गलत समझते है। ममता बनर्जी एक काफी पढ़ी लिखी, बेहद चालाक और अति महत्वाकांक्षी शातिर महिला है और वे हर काम सोच समझ कर करती है। उनकी सत्ता की प्यास अपार है, और सत्ता के लिए कुछ भी कर सकती है. यु समझिये की वे अरविन्द केजरीवाल की बड़ी बहन है।

सत्ता के लिए उन्होंने बीजेपी से भी हाथ मिलाया था. अटल जी की सरकार में वे मंत्री थी। जब उन्हें लगा की NDA छोड़ने से ज्यादा फायदा है , तो उस फर्जी तहलका कांड का बहाना बना कर NDA छोड़ा , और जाते –जाते जॉर्ज फ़र्नाडिस जैसे ईमानदार और जुझारू नेता पर भी आरोप लगाने से नहीं चुकी. फिर कांग्रेस का साथ किया , UPA में मंत्री रही , और जब देखा की अकेले कोम्मिनिस्तो से निपट सकती है , कांग्रेस को भी डंप कर दिया.स्पष्ट है की ममता का कोई सिधांत नहीं है , सिर्फ सत्ता प्राप्त करने के सिवा। 

अब प्रश्न ये है की ममता सत्ता क्यों चाहती है. उनके पिछले वर्षो के शासन से ये स्पष्ट है की देश /समाज का भला करने के लिए तो बिलकुल नहीं। चूँकि निसंतान है , तो परिवार के लिए भी नहीं. धन की लालची भी नहीं लगती ( मायावती के सामान , जिनका पैसा कमाना ही ध्येय है). फिर सत्ता प्राप्ति का उदैस्य? 

दरअसल ममता का ध्येय बंगाल का CM, या देश का PM बनना भी नहीं है. उनका असली उदैस्य एक नए देश को बनाना है , ठीक जिन्ना की तरह, और वो देश है महाबंगाल। 

देश के विभाजन के पूर्व ही , बंगाल के मुस्लिम नेता जैसे सुहरावर्दी एक स्वतंत्र महा बंगाल बनाना चाहते थे क्यों की उसमे मुसलमान बहुमत में थे , और सत्ता उनके पास ही रहती. वे बंगाल का विभाजन नहीं चाहते थे. इस योजना को जिन्ना का भी समर्थन था। गांधीजी जैसे बहुत से हिन्दू नेता भी हिन्दू –मुस्लिम एकता के नाम पर इस बात पर सहमत हो गए थे , लेकिन भारतीय जनसंघ के संस्थापक श्री श्यामा प्रसाद मुखर्जी के प्रबल विरोध के कारन ये षड़यंत्र विफल हो गया था. लेकिन मुस्लिम नेताओ की एक मुस्लिम बहुल, मुस्लिम शासित, महा बंगाल की इक्षा बरक़रार रही। 

अब ममता इसको पूरा कर रही है. बांग्लादेश में मुस्लमान 85% है. पशिम बंगाल में 25%. योजना ये है , की बांग्लादेश से घुसपैठिये पश्चिम बंगाल में बसाये जाय, और मुस्लिम आबादी बड़ाई जाय। जिस दिन मुस्लिम आबादी 51% हो जाय , उस दिन पशिम बंगाल को मुस्लिम राष्ट्र घोषित कर उसका विलय बांग्लादेश में कर दिया जाय। 

वैसे भी ममता सिर्फ नाम की हिन्दू है. मैंने अब तक उनकी दुर्गा पूजा मनाते कोई फोटो नहीं देखी , लेकिन इबादत करते , इफ्तार करते कई फोटो देखी है।

ममता  ने MA भी इस्लामिक हिस्ट्री में किया है। इस्लाम से उनका लगाव पुराना है। मुस्लिम में वे लोकप्रिय भी है। मुस्लमान बन जाने के बाद एक मुस्लिम बहुल महा बंगाल का PM बनने से उन्हें कौन रोक सकता है. चुकी इस्लाम में कम्युनिज्म बैन है ( कम्युनिस्ट ईस्वर को नहीं मानते . और इस्लामिक देश में ये कहना की ईस्वर नहीं है , संगीन जुर्म है जिसकी सजा मौत है ), इसलिए ममता को वहा कोई मुकाबला देने वाला भी नहीं होगा  यही उनका प्लान।

विजय मिश्रा

कॉपी

Advertisements
Posted in Amar Bangla

LOOK THIS BITCH SAYING “SHOVING BAMBOO” LIKE LOW TALK IS IS CM.


LOOK THIS BITCH SAYING “SHOVING BAMBOO” LIKE LOW TALK IS IS CM.

00:40
108,955 views

Outrage, anyone ?
—————————
Law of Bengal, Miss Mamata Banerjee , uttering delightful delicacies for the opposition in a public speech.

” Nijeyra kortey pareyni, jara korchhey sharakkhon tadeyr pechhoney ki korey bamboo dewa jay tar chinta korey jachhey.

(They couldn’t themselves work for the people, they are always trying to figure out how to shove bamboos up the… of those who are doing it),” the chief minister said.

Through the transparent lectern, the chief minister could be seen gesticulating with her right hand while she was making the bamboo references.

” Bamboo baansh-jhaarey hoy, ghorbari toiritey kaajey lagey. Ar janeyna bamboo ditey ditey bamboo jokhon tara korbey, shobai tokhon je kothay jabey, palabar poth pabey na…. Shutorang keu keu beshi kotha boley phelchhey. Kotha bola ta welcome kori jodi sheta shotto hoy

(Bamboo grows in groves and is useful in building houses. They don’t know that when the bamboo starts chasing them, they will have nowhere to go…. Therefore, some people are talking too much. I welcome talking, if what is said is true),”
Now,
Let’s wait for the politicos to stall the parliament and demand Mamta’s resignation. Or at least a panel discussion.
Will they ?

Posted in Amar Bangla

बर्दवान ब्‍लास्‍ट की जाँच कर रही NIA की टीम ने अपने रिपोर्ट में साफ-साफ कहा है कि


बर्दवान ब्‍लास्‍ट की जाँच कर रही NIA की टीम ने अपने रिपोर्ट में साफ-साफ कहा है कि
पश्चिम बंगाल के कई मदरसों ने ‘जमात-उल-मुजाहिद्दीन’ नाम की आतंकी संगठन को मजबूत करने में अहम रोल अदा किया है। संगठन के कई सदस्‍यों को न सिर्फ इस मदरसे ने सहारा दिया बल्कि इन मदरसों के घरों में ही कई तरह के हथियारों को भी छिपाकर रखा गया।

एनआईए को जमात-उल-मुजाहिद्दीन की भारत में 58 ऐसी फैक्‍ट्रीयों का पता लगा है जो बम का निर्माण करती है। यह संगठन बांग्‍लादेश का है और इसकी 43 फैक्ट्रियां अकेले मुर्शिदाबाद में हैं। इस जांच में एक और रोचक पहलू जो सामने आ रहा है उसके मुताबिक इस संगठन के ताल्‍लुक एक मदरसे इस्‍लामी छात्र शिबिर से हैं।

======================================

तो क्या यही कारण है जिसके चलते जिहादी दीदी की सरकार ने बर्दवान ब्‍लास्‍ट की जाँच कर रही NIA की टीम को सहयोग करने से इंकार कर दिया..????

बर्दवान ब्‍लास्‍ट की जाँच कर रही NIA की टीम ने अपने रिपोर्ट में साफ-साफ कहा है कि
पश्चिम बंगाल के कई मदरसों ने 'जमात-उल-मुजाहिद्दीन' नाम की आतंकी संगठन को मजबूत करने में अहम रोल अदा किया है। संगठन के कई सदस्‍यों को न सिर्फ इस मदरसे ने सहारा दिया बल्कि इन मदरसों के घरों में ही कई तरह के हथियारों को भी छिपाकर रखा गया।

एनआईए को जमात-उल-मुजाहिद्दीन की भारत में 58 ऐसी फैक्‍ट्रीयों का पता लगा है जो बम का निर्माण करती है। यह संगठन बांग्‍लादेश का है और इसकी 43 फैक्ट्रियां अकेले मुर्शिदाबाद में हैं। इस जांच में एक और रोचक पहलू जो सामने आ रहा है उसके मुताबिक इस संगठन के ताल्‍लुक एक मदरसे इस्‍लामी छात्र शिबिर से हैं।

======================================

तो क्या यही कारण है जिसके चलते जिहादी दीदी की सरकार ने बर्दवान ब्‍लास्‍ट की जाँच कर रही NIA की टीम को सहयोग करने से इंकार कर दिया..????
Posted in Amar Bangla

मोमता बानो


मोमता बानो की पार्टी TMC के दफ्तर में बम बनाते हुए विस्फोट होने से इन्डियन मुजाहद्दीन के दो जिहादी दोजख में पहुँच गए ,,, और वह जगह मोमता के घनघोर घनिष्ट मित्र और TMC नेता नुरुल हसन की ही थी |

दो अक्तूबर को वर्धमान में हुए विस्फोट मामले में दो महिलाओं सहित तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है. इस विस्फोट में दो संदिग्ध चरमपंथियों की मौत हो गई थी.

सीआईडी, विस्फोट में लश्कर ए तैयबा और हरकर उल जिहादी अल इस्लामी यानी हूजी जैसे चरमपंथी संगठनों के शामिल होने की संभावनाओं की भी जांच कर रही है.

पुलिस के अनुसार सीआईडी ने विस्फोट स्थल से 55 ग्रेनेड, विस्फोटक बनाने की रसायन सामग्री, विस्फोट से जुड़ी किताबें, कुछ जिहादी साहित्य, जिहादी प्रशिक्षण का वीडियो और‪#‎वर्धमान‬ की महत्वपूर्ण ‪#‎जगहों‬ का मैप बरामद किया.

http://timesofindia.indiatimes.com/india/Mamata-govt-admits-to-terror-link-in-Burdwan-blast/articleshow/44544631.cms

http://www.bbc.co.uk/hindi/india/2014/10/141006_burdwan_blast_case_sk

मोमता बानो की पार्टी TMC के दफ्तर में बम बनाते हुए विस्फोट होने से इन्डियन मुजाहद्दीन के दो जिहादी दोजख में पहुँच गए ,,, और वह जगह मोमता के घनघोर घनिष्ट मित्र और TMC नेता नुरुल हसन की ही थी | 

दो अक्तूबर को वर्धमान में हुए विस्फोट मामले में दो महिलाओं सहित तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है. इस विस्फोट में दो संदिग्ध चरमपंथियों की मौत हो गई थी.

सीआईडी, विस्फोट में लश्कर ए तैयबा और हरकर उल जिहादी अल इस्लामी यानी हूजी जैसे चरमपंथी संगठनों के शामिल होने की संभावनाओं की भी जांच कर रही है.

पुलिस के अनुसार सीआईडी ने विस्फोट स्थल से 55 ग्रेनेड, विस्फोटक बनाने की रसायन सामग्री, विस्फोट से जुड़ी किताबें, कुछ जिहादी साहित्य, जिहादी प्रशिक्षण का वीडियो और #वर्धमान की महत्वपूर्ण #जगहों का मैप बरामद किया.

http://timesofindia.indiatimes.com/india/Mamata-govt-admits-to-terror-link-in-Burdwan-blast/articleshow/44544631.cms

http://www.bbc.co.uk/hindi/india/2014/10/141006_burdwan_blast_case_sk
Posted in Amar Bangla

TMC कार्यालयों में IM के आतंकी बम बना रहे है .. आज ब्लास्ट में


TMC कार्यालयों में IM के आतंकी बम
बना रहे है .. आज ब्लास्ट में
दो आतंकी खुदा को प्यारे भी हो गये ..
मीडिया और कांग्रेसी, TMC कार्यालयों में IM के आतंकी बम
बना रहे है .. आज ब्लास्ट में
दो आतंकी खुदा को प्यारे भी हो गये ..
मीडिया और कांग्रेसी, आपीए जैसे सेकुलर
सूअर एकदम खामोश है ..यदि ये
घटना किसी हिंदूवादी सन्गठन के ऑफिस में
हुई होती तो ओम थानवी, पिग्गी, केजरीवाल,
जैसे सेकुलर सूअर अपनी छाती कूट कूटकर
किसी खजेले कुत्ते की तरह तडपत ‪#‎आपीए‬ जैसे सेकुलर
सूअर एकदम खामोश है ..यदि ये
घटना किसी हिंदूवादी सन्गठन के ऑफिस में
हुई होती तो ओम थानवी, पिग्गी, केजरीवाल,
जैसे सेकुलर ‪#‎सूअर‬ अपनी छाती कूट कूटकर
किसी खजेले कुत्ते की तरह तडपत

TMC कार्यालयों में IM के आतंकी बम
बना रहे है .. आज ब्लास्ट में
दो आतंकी खुदा को प्यारे भी हो गये ..
मीडिया और कांग्रेसी, TMC कार्यालयों में IM के आतंकी बम
बना रहे है .. आज ब्लास्ट में
दो आतंकी खुदा को प्यारे भी हो गये ..
मीडिया और कांग्रेसी, आपीए जैसे सेकुलर
सूअर एकदम खामोश है ..यदि ये
घटना किसी हिंदूवादी सन्गठन के ऑफिस में
हुई होती तो ओम थानवी, पिग्गी, केजरीवाल,
जैसे सेकुलर सूअर अपनी छाती कूट कूटकर
किसी खजेले कुत्ते की तरह तडपत #आपीए जैसे सेकुलर
सूअर एकदम खामोश है ..यदि ये
घटना किसी हिंदूवादी सन्गठन के ऑफिस में
हुई होती तो ओम थानवी, पिग्गी, केजरीवाल,
जैसे सेकुलर #सूअर अपनी छाती कूट कूटकर
किसी खजेले कुत्ते की तरह तडपत
Posted in Amar Bangla

On the day of Gandhi Jayanti, 2 Indian Mujahideen Jihadis were killed and a third injured critically in West Bengal's Burdwan town.

◉ How ?
They were making IEDs for their RDX explosives when it blew up.

◉ Where ?
In the house of a Trinamool Congress leader Nurul Hasan Choudhury. Also used as regional TMC party HQ. Housed woman and children to avoid suspicion.

◉ What happened when police arrived ?
two women held them off at gunpoint threatening to blow up the house. Bengal police waited politely while the women burnt several documents and vital evidence (instead of tending to their blown up husbands).

◉ What was found after the Jihadi women were overpowered?
Documents and incriminating evidence (linking them to Al-Qaeda and Indian Mujahideen), 55 IEDs and RDX, electronic equipment, maps and SIM cards along with some half-burnt Arabic books

◉ What did Bengal police do with evidence ?
promptly destroyed ALL of it before central investigators(NIA, IB and other central agencies ) could arrive.

◉ What was the plan ?
Blasting away devotees on Dussehera, using powerful RDX explosives
-------------------------------------
TMC is already under police scanner for multi billion rupee Shardha Scam where TMC MP Ahmed Hasan Imran was found to be financier of Bangladeshi terrorist outfit Jamat-e-Islami.

Last month, Al-Qaeda had warned of 'jihad' in India. A warning which Indians took very lightly.
Let's enjoy the borrowed peace while it lasts.

On the day of Gandhi Jayanti, 2 Indian Mujahideen Jihadis were killed and a third injured critically in West Bengal’s Burdwan town.

◉ How ?
They were making IEDs for their RDX explosives when it blew up.

◉ Where ?
In the house of a Trinamool Congress leader Nurul Hasan Choudhury. Also used as regional TMC party HQ. Housed woman and children to avoid suspicion.

◉ What happened when police arrived ?
two women held them off at gunpoint threatening to blow up the house. Bengal police waited politely while the women burnt several documents and vital evidence (instead of tending to their blown up husbands).

◉ What was found after the Jihadi women were overpowered?
Documents and incriminating evidence (linking them to Al-Qaeda and Indian Mujahideen), 55 IEDs and RDX, electronic equipment, maps and SIM cards along with some half-burnt Arabic books

◉ What did Bengal police do with evidence ?
promptly destroyed ALL of it before central investigators(NIA, IB and other central agencies ) could arrive.

◉ What was the plan ?
Blasting away devotees on Dussehera, using powerful RDX explosives
————————————-
TMC is already under police scanner for multi billion rupee Shardha Scam where TMC MP Ahmed Hasan Imran was found to be financier of Bangladeshi terrorist outfit Jamat-e-Islami.

Last month, Al-Qaeda had warned of ‘jihad’ in India. A warning which Indians took very lightly.
Let’s enjoy the borrowed peace while it lasts.

Posted in Amar Bangla, Hindu conspiracy

लॉर्ड माउंटबेटन को स्वदेश वापसी के यात्रा भत्ते में दिए गए थे ६४ हजार रुपये !


Bangladeshi infiltration and its far reaching consequences

Category: JIHAD Published: SUNDAY, 27 JULY 2014 09:22

In 1998, four countries of the world – Pakistan, Bangladesh, Egypt, Afghanistan, made an agreement to fuel international jihad. They vowed to initiate Jihad against America, Europe and India. Since then the attacks on India have increased manifold, aided by Bangladesh and Pakistan. Bangladesh is a growing terrorist hub that not only aids Jihad but also serves as a safe haven forAfghanistani and Pakistani terrorists. The growing radicalization of the native population of Bangladesh is responsible for this. ISLAMIC fundamentalists are now part of Bangladesh government and 58% Bangladeshis think “HUMAN BOMBS” are a good thing for ISLAM.  5,000 Bangladeshi immigrants have created a sleeper cell for JIHAD, and have infiltrated lower areas of ASSAM, they want to break away the north east states and carve out a major portion of India into an Islamic corridor named MUGLISTAN. The code name for this operation given by ISI is operation Pin code.

The city of Siliguri in the state of West Bengal is the central node that connects Bhutan, Nepal, Sikkim, Darjeeling hills, northeast India and the rest of India.  This Siliguri corridor is also called the ‘Chicken Neck’ of India – it runs for approx. 200 kms lengthwise while it width varies from 20-60 kilometers.

A  Chinese invasion of mere 100 kms South of Bhutan will be sufficient to block this corridor and break the North-Eastern part of India away from its mainland.
Not only insurgency but a flourishing narcotics and weapons traffic also takes place in this region.

The day this small corridor is blockaded, no Hindu will be allowed to escape from North -East back to Indian mainland, neither any help will reach them. We’ve seen a similar exodus of Hindus from Bhutan in past two decades and barely anyone in India knows about it

‘Mughlistan research institute’ an ISI brainchild made a plan of operation pin code whose ultimate aim is ethnic partition of India. This will be achieved by populating the belt from Bangladesh to Pakistan with Bangladeshi Muslims. The area under this planned belt occupies states of Punjab, Haryana, UP, Bihar, Jharkhand and West Bengal; i.e., the entire gangatic plain and our northern states.

Under this scheme at least six thousand Bangladeshis infiltrate into India every day. Not due to financial reasons but for this conspiracy alone. They are aided by Indian politicians for obvious reasons .

 

Bangladeshi census report itself indicates that over one crore Bangladeshis are now missing from Bangladesh. In a very scary scenario these people have now taken over all means of earning of Indian people in north east states and send back  15,000 crore rupees to Bangladesh (every year). They form upto 70 % of population of various areas of east now and are a major deciding factor in vote bank as they vote en-mass for one particular party. Moreover, they are given Indian ration cards and have Indian voter ids. One need not be reminded that these are the same people who give shelter to islamic fundamentalists and abet cross border crime traffic. As a side effect, they’re also affecting health services of native Indians in the region due to their heavy influx. They are snatching away lively hood from Indians.

In short these people pose different kinds of threats to India
1. They take away livelihood of Indians
2. They poach upon farm animals of Indian natives by force or deceit. Statistics reveal that these Bangladeshis illegally transport 20,000 cows to Bangladesh for slaughter every year.
3. They pose a very big security threat as they abet crimes, bomb blasts and narcotics trade. In fact they harbour sleeper cells of 5000 terrorists to be used at opportune moment against India.
4. They cost our government heavily in terms of an added population of 5 crore people demanding heavily on health services etc., law and order, habilitation etc.
5. They send back 15,000 crore rupees back to Bangladesh every year which is dent on Indian economy being illegal in its entirety.
6. They commit crimes in India and go absconding back to Bangladesh
7. They vote en block so that their political interests are served at their will.

 

Before Hindus were pushed out of Kashmir a big network of Jihadi Madrasas were made throughout Kashmir to radicalize the generations. Same is happening now all over India where these Bangladeshis are being aided by Pakistan and its secret agencies. These madrassa are centres where Jihadis and maoists meet to exchange maps and arms. Rape of Hindu women is a common occurrence in Bangladesh which is a direct result of such radicalisation in madrassas. Rape is just one of the tools to wipe out minorities in Bangladesh: Hindu population fell from 29% at partition (1947) to below 10% today because Muslims of Bangladesh rape, riot and takeover Hindu properties. And even if one forgets Bangladesh for a while, one can observe inside India itself, how it becomes increasingly difficult for Hindus –especially their women, to survive in areas where Muslims are in a majority.

When Bangladeshis come to India they first steal cattle, then assault Hindus and their women, then they attack their fields and occupy it illegally. Hindus have to leave that field in frustration as there is no help forthcoming from the Muslim appeasing administration.  As a result of this, Hindus are selling their property in bordering areas of Assam and are migrating into interiors. (The same is happening in various Muslim majority areas inside India where constant threats and same tactics used by Muslims forces the Hindus to sell their properties at dirt cheap rates and flee from the area.)

Since Ancient times asylum seekers have been coming to seek shelter in India – be it Jews, Christians, Africans, Parsis, Tibetans or even Muslims. However, time has come to differentiate between asylum seekers and miscreant infiltrators. Bangladesh has pushed a staggering 25- 30% of its population into India to harm this country. When a thousand Pakistanis occupied our peaks in Kargil there was a big war. When infiltrators come from Pakistan they are shot down. Yet we continue to tolerate 5 crore Bangladeshis which a poor and terror ridden country like ours cannot afford. An outside attack on our country can be stopped by the Army but you will have no place to run when this attack comes from within India. We’ve seen this happening with ethnic Assamese when they had no place to run in 2013.
If we still choose to tolerate these infiltrators on our land then we are indeed choosing instability and terror for ourselves, and more importantly the generations to come.

 

 

 

 

bangladesh_infiltration_mamta chickensneck-op mughalistanmapGrey