Posted in જાણવા જેવું

वैदिक गणित


10th to 99th, any table,
very easy method to learn.
I didn’t know this. Because it was not taught to us in school.

How to write Table of any two digit number?

For example Table of 87

First write down table of 8 then write down table of 7 beside it

8 7 87
16 14 (16+1) 174
24 21 (24+2) 261
32 28 (32+2) 348
40 35 (40+3) 435
48 42 (48+4) 522
56 49 (56+4) 609
64 56 (64+5) 696
72 63 (72+6) 783
80 70 (80+7) 870

Now table of 38

3 8 38
6 16 (6+1) 76
9 24 (9+2) 114
12 32 (12+3) 152
15 40 (15+4) 190
18 48 (18+4) 228
21 56 (21+5) 266
24 64 (24+6) 304
27 72 (27+7) 342
30 80 (30+8) 380
33 88 (33+8) 418
36 96 (36+9) 456

Now table of 929 2 92

18 4 184
27 6 276
36 8 368
45 10 (45+1)460
54 12 (54+1)552
63 14 (63+1)644
72 16 (72+1)736
81 18 (81+1)828
90 20 (90+2)920
99 22 (99+1)1012
108 24 (108+2)1104

This way one can make Tables from10 to 99

Share & teach children

This is Vedic Mathematics!!.

Posted in જાણવા જેવું

ધીરાભગતની કળીયુગ વાણી

pareejat

આ સંત હતા વડોદરા શહેરના ગોઠડા ગામમાં રહેનાર ધીરા ભગત. ધીરાએ પોતાના જીવનકાળમાં અનેક ભજન લખ્યા. તેમની અનેક રચનાઓમાં એક રહસ્યમય રચના કલિયુગ એંધાણી પણ છે. ધીરાએ પોતાના ભજન કાવ્યમાં ભવિષ્ય વિશે જે-જે લખ્યું તે હવે સાચુ પડી રહ્યું છે. ધીધા ભગતની બધી રચનાઓ ગુજરાતી ભાષામાં જ છે. ધીરા ભગતના નામનો ઉલ્લેખ મધ્યકાલીન સંવત 1808 અર્થાત્ ઈ.સ. 1753ના કાળમાં ગુજરાતી સાહિત્યનો ઈતિહાસમાં મળે છે. તેમનું પૂરું નામ હતું ધીરા પ્રતાપ બારોટ. તેમને અનેક વેદ-વેદાંતોનું અધ્યયન કર્યું અને પદ રચ્યા. તેમાં રણયજ્ઞ, દ્રોપદી વસ્ત્રાહરણ, માયાનો મહિમા, અવલવાણી વગેરે છે. આવો જાણીએ શું-શું લખ્યું છે ધીરા ભગતે પોતાના ભજનોમાં….

એવી કલયુગની છે આ એંધાણી રે

કલયુગની એંધાણી રે…

ન જોઈ હોય તો,  જોઈ લ્યો ભાઈઓ…

વરસો વરસ દુકાળ પડે..

અને વળી સાધુ કરશે સૂરાપાન

આ બ્રાહ્મણ માટી ભરખશે

અને ગાયત્રી ધરે નહીં કાન

હે જી બાવા થાશે વ્યાભિચારી…

આનો અર્થ એ છે કે પંડિત કહે છે કે કળયુગ કેવી રીતે આવશે. તેની નિશાની નહીં હોય, વર્ષો સુધી પડશે દુષ્કાળ. અત્યારે પણ તમે જોઈ શકો છો દુનિયા પાણીના સંકટ સામે ઝઝૂમી રહી છે. દુનિયામા અનેક જગ્યાઓ તો એવી છે, જ્યાં પાણીનું નામો-નિશાન નથી. ધીરે-ધીરે વરસાદ ઓછો થઈ રહ્યો છે. ધીરા આગળ લખે છે કે…સાધુ કરશે સૂરાપાન.. આજે આપણે જોઈ રહ્યા છીએ કે આજકાલ સાધુ-મહાત્મા માત્ર દારુનું  સેવન નથી કરી રહ્યા પણ દરેક એવા અનૈતિક કામ કરી રહ્યા છે અને સાધુના વેશમાં શૈતાનના કામ કરી રહ્યા છે. આજે ગાયત્રી દેવી કે અન્ય કોઈ આધ્યાત્મિક શક્તિ ફળદાયી નથી રહી.

શેઢે શેઢો ઘસાસે…

વળી ખેતરમાં નહીં રહે ખૂંટ

આદિ વહાણ છોડી કરે

અને બ્રાહ્મણ ચઢશે ઊંટ

એવી ગાયો ભેંસો જોશે રે

એ દુજાણામાં અજિયા રહેશે.

આજે આપણે જોઈ રહ્યા છીએ કે જમીન-જાયદાદ માટે ભાઈ-ભાઈનો જ નહીં, પુત્ર પિતાનું પણ ખૂન વહાવવાનું નથી ચૂકતો. વળી ખેતરમાં નહીં રહે ખૂંટ…હવે લગભગ દરેક જગ્યાએ ખેતરમાં ગાય-ભેંસ નહીં જોવા મળે. પણ તેની જગ્યાએ ટ્રેક્ટર જેવા અન્ય વાહનોએ તેની જગ્યા લઈ લીધી છે. બ્રાહ્મણોએ પણ જૂની વસ્તુઓ ત્યાંગીને નવીં વસ્તુઓ અપનાવી લીધી છે. એવીગાયો ભેંસો જોઈશે રે….મહત્વની વાત એ છે કે આજે ગાય-ભેંસોની સંખ્યા દિવસે-દિવસે ઓછી થઈ રહી છે. દૂધની એટલી ખોટ પડી રહી છે કે બકરીનું દૂધ પીવા સુધીની નોબત આવી ગઈ છે. હવે ગાયો ભેંસો ખેતરની જગ્યાએ કતલખાને પહોંચી રહી છે અને ઝડપથી દરેક જગ્યાએ કતલખાના ખૂલતા જઈ રહ્યા છે.

કારડીયા તો કરમી કહેવાશે

અને વળી જાડેજા ખોજશે જાળા

નીચને ઘેર ઘોડા બંધાશે.

અને શ્રીમંત ચાલશે પાળા

મહાજન ચોરી કરશે રે

અને વાળંદ થાશે વેપારી….

જે અનૈતિક કામ કરે છે, ભષ્ય આચરણથી પોતાનું પેટ ભરે છે, તેમના ઘરે ઘોડો બાંધેલ નજર પડશે. એવી જ રીતે તેની વિપરિત સજ્જન પુરુષો પગે ચાલતા જોવા મળશે. વર્તમાનમાં પણ એવું જ થઈ રહ્યું છે. આજે  અનૈતિક કામ કરનારા ફળી-ફૂલી રહ્યા છે, જ્યારે ઈમાનદાર અને સજ્જન પુરુષોનું જીવન દયનીય થઈ રહ્યું છે. તેમાં કોઈપણ ભૂલ નથી, આ તો સમયનો જ દોષ છે.

પુરુષો ગુલામ થશે.

રાજ તો રાણીઓના થશે

અને વળી પુરુષ થશે ગુલામ

આ ગરીબની અરજી કોઈ સાંભળશે નહીં.

અને સાહેબને કરશે સલામ….

પુરુષ હવે સ્ત્રીઓના ગુલામ થશે.  ગરીબની અરજી કોઈ નહીં સાંભળે અને સાહેબને કરશે સલામ..અર્થાત્ ગરીબની કોઈ નહીં સાંભળે. આજે અધિકારીઓની કચેરીઓમાં ગરીબો માથુ પટકી પટકીને મરી જાય છે, પરંતુ તેમની કોઈ જ વાત સાંભળવામાં નથી આવતી. ગરીબ વ્યક્તિ ગમે એટલો સજ્જન હોય, તેને કોઈ સલામ નથી કરતું, જ્યારે અમીર વ્યક્તિને બધા સલામ ઠોકે છે.

ઓલા વાણિયા વાટુ આ લૂંટશે રે

રહેશે નહીં કોઈ પતિવ્રતા નારી

છાશમાં માખણ નહીં તરે

અને વળી દરિયે નહીં હાલે વહાણ

આ ચાંદ સૂરત તો ઝાખા થશે

એવો દાસ ધીરો એમ આ કહે છે રે

કીધુમાં આ વિચાર કરી

એવી કળયુગની એંધાણી રે..

એ ન જોઈ હોઈ તો,

જોઈ લ્યો ભાઈઓ…

 ધીરા ભગત કહે છે કે વેપારી લોકો કોઈને કોઈ કારણે લૂંટવામાં આવશે. નારી કોઈ પતિવ્રતા નહીં રહે. આ સ્થિતિ તો વર્તમાનમાં પણ કહી શકાય છે. છાસમાં માખણ નહીં તરે. અર્થાત્ છાસમાં માખણ નહીં રહે, પણ પાણ રહેશે. પછી તે કળયુગના અંતિમ સંકેત આપીને કહે છે કે નદી તાલ સૂકાતા જશે અને ચાંદ-સૂજનનું તેજ પણ ઓછું થઈ જશે. આજે વિજ્ઞાન પણ કહે છે કે સૂર્યમાં પણ કાળા ધબ્બા જોવા મળી રહ્યા છે અને તેની સંખ્ય લગાતાર વધી રહી છે.

બોની રોતી જાશે રે

અને સગપણમાં સાલી રહેશે

એ ધરમ કોઈનો રહેશે નહી.

અને એક પ્યાલે વરણ અઢાર

આ શણગારમાં જો બીજું કોઈ નહીં રહે

અને સોભામા રહેશે વાલ

 ભાઈની બહેનડી  જો  ઘરમાં આવશે તો તેની આવભગત થશે નહીં  કારણ કે હવે તે પતિની માત્ર બહેન નથી રહેતી, પણ પત્નીની રકમ બની જાય છે. એવી જ રીતે જો ઘરમાં સાળી આવે તો જીજા તેના ખ્યાલ રાખવામાં કોઈ કસર  છોડશે નહીં. આમ બહેન નામે ઓળખાતી સ્ત્રીનાં સંબોધનના સૂત્ર બદલાઈ જશે.

સંત ધીરાએ આગળ કહ્યું છે કે કળયુગમાં ધર્મનું કોઈ મહત્વ નહીં રહે. અને એક પ્યાલે વરણ અઢાર..અર્થાત્ એક જ પ્યાલા અનેક લોકો માટે ઉપયોગમાં લેવામાં આવશે. જો તમે આ પ્યાલો દારુનો કહો, હોટલમાં ભોજનના વાસણનો કહો. તમે પોતાના ધાર્મિક કહેનાર વ્યક્તિ માટે પણ આ વસ્તુઓ અનટચેબલ રહે છે.આ શણગારમાં તો બીજું કંઈ નહી રહે અને શોભામા રહેશે વાલ…આ વાત સ્ત્રીઓના સંબંધમાં કહેવામાં આવી છે કે આ સમય સુધી ભારતીય નારીના સૌંદર્ય પરંપરામાં કોઈપણ વસ્તુ નહીં રહે. હા, તેમની માટે જો શોભાની કોઈ વસ્તુ બચી રહેશે તો માત્ર વાળ. વર્તમાનમાં સ્ત્રીઓના પોષક અને રહન-સહનથી આ વાતનો અંદાજો લગાવી શકાય છે.

દિવ્યભાસ્કરનાં સૌજન્યથી.

Posted in જાણવા જેવું

!!!एक रोचक तथ्य!!!

जानिए स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस में झंडा फहराने में क्या है अंतर ?

पहला अंतर

15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर *झंडे को नीचे से रस्सी द्वारा खींच कर ऊपर ले जाया जाता है, फिर खोल कर फहराया जाता है, जिसे *ध्वजारोहण* कहा जाता है क्योंकि यह 15 अगस्त 1947 की ऐतिहासिक घटना को सम्मान देने हेतु किया जाता है जब प्रधानमंत्री जी ने ऐसा किया था। संविधान में इसे अंग्रेजी में Flag Hoisting (ध्वजारोहण) कहा जाता है।

जबकि

26 जनवरी गणतंत्र दिवस के अवसर पर झंडा ऊपर ही बंधा रहता है, जिसे खोल कर फहराया जाता है, संविधान में इसे Flag Unfurling (झंडा फहराना) कहा जाता है।
––———————————-
दूसरा अंतर

15 अगस्त के दिन प्रधानमंत्री जो कि केंद्र सरकार के प्रमुख होते हैं वो ध्वजारोहण करते हैं, क्योंकि स्वतंत्रता के दिन भारत का संविधान लागू नहीं हुआ था और राष्ट्रपति जो कि राष्ट्र के संवैधानिक प्रमुख होते है, उन्होंने पदभार ग्रहण नहीं किया था। इस दिन शाम को राष्ट्रपति अपना सन्देश राष्ट्र के नाम देते हैं।

जबकि

26 जनवरी जो कि देश में संविधान लागू होने के उपलक्ष्य में मनाया जाता है, इस दिन संवैधानिक प्रमुख राष्ट्रपति झंडा फहराते हैं
———————––————–
तीसरा अंतर

स्वतंत्रता दिवस के दिन लाल किले से ध्वजारोहण किया जाता है।

जबकि

गणतंत्र दिवस के दिन राजपथ पर झंडा फहराया जाता है।

Posted in જાણવા જેવું

हिन्दी वर्णमाला का कवितामय प्रयोग।

चानक,
कर मुझसे,
ठलाता हुआ पंछी बोला।

श्वर ने मानव को तो-
त्तम ज्ञान-दान से तौला।

पर हो तुम सब जीवों में-
ष्य तुल्य अनमोल,
क अकेली जात अनोखी।

सी क्या मजबूरी तुमको-
ट रहे होंठों की शोख़ी!

र सताकर कमज़ोरों को,
अं ग तुम्हारा खिल जाता है;
अ: तुम्हें क्या मिल जाता है

हा मैंने- कि कहो,
ग आज सम्पूर्ण,
र्व से कि- हर अभाव में भी,
र तुम्हारा बड़े मजे से,
ल रहा है।

छो टी सी- टहनी के सिरे की
गह में, बिना किसी
गड़े के, ना ही किसी-
कराव के पूरा कुनबा पल रहा है।

ठौ र यहीं है उसमें,
डा ली-डाली, पत्ते-पत्ते;
लता सूरज-
रावट देता है।

कावट सारी, पूरे
दि वस की-तारों की लड़ियों से
न-धान्य की लिखावट लेता है।

ना दान-नियति से अनजान अरे,
प्र गतिशील मानव,
फ़ रेब के पुतलो,
न बैठे हो समर्थ।
ला याद कहाँ तुम्हे,
नुष्यता का अर्थ?

ह जो थी, प्रभु की,
चना अनुपम…….

ला लच-लोभ के
शिभूत होकर,
र्म-धर्म सब तजकर।
ड्यंत्रों के खेतों में,
दा पाप-बीजों को बोकर।

हो कर स्वयं से दूर-
क्ष णभंगुर सुख में अटक चुके हो।
त्रा स को आमंत्रित करते-
ज्ञा न-पथ से भटक चुके हो।🦚🙏😊

Posted in જાણવા જેવું

આજકાલના વિદ્યાર્થીઓને કદાચ ખબર પણ નથી કે ભારતીય ભાષાઓની વર્ણમાળામાં વિજ્ઞાન ભરેલું છે. વર્ણમાળાના પ્રત્યેક અક્ષર તર્કશુદ્ધ છે અને ચોક્કસ ગણતરી સાથે ક્રમશઃ મુકવામાં આવ્યાં છે. અન્ય વિદેશી ભાષાની વર્ણમાળામાં આવો વિજ્ઞાનિક દ્રષ્ટિકોણ જડતો નથી. ઉદા. જુઓ :

ક ખ ગ ઘ ઙ – આ પાંચના સમુહને કંઠવ્ય કહેવાય છે કારણકે આનો ઉચ્ચાર કરતી વખતે કંઠમાંથી ધ્વનિ નીકળે છે. ઉચ્ચાર કરી જુઓ.

ચ છ જ ઝ ઞ – આ પાંચેય તાલવ્ય કહેવાય છે કારણકે આનો ઉચ્ચાર કરતી વખતે જીભ તાળવે લાગશે. ઉચ્ચાર કરી જુઓ.

ટ ઠ ડ ઢ ણ – આ પાંચેય મૂર્ધન્ય કહેવાય છે કારણકે આનો ઉચ્ચાર કરતી વખતે જીભ મૂર્ધાને લાગશે. ઉચ્ચાર કરી જુઓ.

ત થ દ ધ ન – આ પાંચના સમુહને દંતવ્ય કહેવાય છે કારણકે આનો ઉચ્ચાર કરતી વખતે જીભ દાંતને અડે છે. પ્રયત્ન કરી જુઓ.

પ ફ બ ભ મ – આ પાંચના સમુહને ઔષ્ઠવ્ય કહેવાય છે કારણકે આનો ઉચ્ચાર કરવા માટે બન્ને હોઠનું મિલન થાય છે. પ્રયત્ન કરી જુઓ.

આટલો વૈજ્ઞાનિક એપ્રોચ છે દુનિયાની અન્ય કોઈપણ ભાષામાં? આપણે આપણી ભારતીય ભાષા માટે ગૌરવ જરૂર કરીએ પણ સાથોસાથ શા કારણસર એ પણ જાણકારી રાખીએ તથા દુનિયાને જણાવીએ.

Posted in જાણવા જેવું

एक से बढ़कर एक 101 रोचक तथ्य


एक से बढ़कर एक 101 रोचक तथ्य 1: फिलिपिन्स में पाया जाने वाला बोया पक्षी प्रकाश में रहने का इतना शौकीन होता है कि अपने घोंसले के चारो और जुगनु भरकर लटका देता है. 2.वेटिकनसिटी दुनिया का सबसे छोटा देश है इसका क्षेत्रफल 0.2 वर्ग मील है और इसकी आबादी लगभग 770 है. इनमें से कोई भी इसका परमानेंट नागरिक नही है. 3.नील आर्मस्ट्राँग ने सबसे पहले अपना बाँया पैर चँद्रमा पर रखा था और उस समय उनके दिल की धड़कन 156 बार प्रति मिनट थी. 4.धरती के गुरूत्वाकर्षण के कारण पर्वतों का 15,000 मीटर से ऊँचा होना संभव नही है. 5.रोम दुनिया का वो शहर है जिसकी आबादी ने सबसे पहले 10 लाख का आकड़ा पार किया था. 6.1992 के क्रिकेट विश्वकप में इंग्लैंड को हराते हुए जिम्बाब्वे ने बड़ा उल्टफेर कर दिया था. पहले बल्लेबाजी करते हुए जिम्बाब्वे ने सिर्फ 134 रन बनाए और इंग्लैंड का काम आसान कर दिया लेकिन हुआ ऐसा नही, इंग्लैंड की टीम 125 रन पर ही ढेर हो गई. 7. 269 मीटर की ऊँचाई वाले टाइटैनिक को अगर सीधा खड़ा कर दिया जाए तो यह अपने समय की हर इमारत से ऊँचा होता .8.टाइटैनिक की चिमनिया इतनी बड़ी थी कि इनमें से दो ट्रेने गुजर सकती थी. 9.सिगरेट लाइटर की खोज माचिस से पहले हुई थी. 10.हमारे ऊँगलीयों के निशानों की तरह हमारी जुबान के भी निशान भिन्न होते है. 11.विश्व में अभी भी 30 प्रतीशत लोग ऐसे है जिन्होंने कभी मोबाइल का प्रयोग नही किया. 12.औसतन हर दिन 12 नव-जन्में बच्चे किसी ओर मां-बाप को दें दिए जाते हैं. 13.आईसलैंड में पालतू कुत्ता रखना क़ानून के विरूद्ध है. 14.Righted-handed लोग औसतन left-handed लोगों से 9 साल ज्यादा जीते हैं. 15.शहद एक एकलौता ऐसा खाद्य पदार्थ है जो कि हजारों सालों तक खराब नही होता. Egypt के पिरामिडों में फैरो बादशाह की क्रब में पाया गया शहद जब खोजी वैज्ञानिकों द्वारा चखा गया तब भी वह उतना ही स्वादिष्ट था. बस उसे थोडा गरम करने की जरूरत थी.16.एक औसतन लैड की पेंसिल से अगर एक लाइन खींची जाए तो वह 35 किलोमीटर लंम्बी होगी जिससे 50,000 अंग्रेजी शब्द लिखें जा सकते है. 17.एक समुद्री केकडे का दिल उसके सिर में होता है. 18.गोरिल्ला एक दिन मे ज्यादा से ज्यादा 14 घंटे सोते है. 19.हर साल लोग साँपों के ज्यादा मधु मक्खियों द्वारा काटे जाने से मारे जाते है. 20.कुछ कीड़े भोजन ना मिलने पर खुद को ही खा जाते हैं. 21.कुछ शेर दिन में 50 बार सहवास करते है. 22.तितलियाँ किसी वस्तु का स्वाद अपने पैरों से चखती है. 23.1386 ईसवी में फ्रांस में लोगो द्वारा एक सुअर को एक बच्चे के क़त्ल के दोष में फाँसी पर लटका दिया गया था. 24.मानव गर्भनिरोधक गोलियां गोरिल्ला पर भी काम करती है.25.एक गिलहरी की उम्र 9 साल तक होती है. 26.क्या आप जानते है छिपकली का दिल 1 मिनट में 1000 बार धड़कता है. 27.अगर एक बिच्छू पर थोड़ी सी मात्रा में भी शराब या रस डाल दिया जाए तो यह पागल हो जाएगा और खुद को डंक मार लेगा. 28.एक औसत मनुषय के लिए अपनी ही कुहनी चाट पाना असंभव है. 29.जो लोग इस को पढ़ रहे है उन में से 75 % से ज्यादा लोग अपनी कुहनी चाटने की कोशिश करेगे. 30.अगर आप जोर से छीके तो आप अपनी पसली तुडवा सकते हैं. 31.अगर आप छीकते वक्त अपनी आँखे जोर से खुली रखने की कोशिश करे तो आप की eyeball (डेला) तिडक सकता है. 32.सिर्फ एक घंटा हेडफोन लगाने से हमारे कानो में जीवाणुयों की तादाद 700 गुना बढ़ जाती है. 33.पूरे जीवन काल के दौरान नीद में आप भिन्न-भिन्न तरह के 70 कीट और 10 मकडीयाँ खा जाते है. 34.आपका दिल एक दिन में लगभग 100,000 बार धडकता है. 35.आप के शरीर की लगभग 25 फीसदी हड़डियाँ आप के पैरों में होती हैं. 36.ऊगलियों के नाखुन पैरों के नाखुनों से 4 गुना ज्यादा जलदी बढ़ते हैं. 37.आप 300 हड़डियों के साथ जन्म लेते है., पर 18 साल तक होतो-होते आप की हड़डियाँ जुड़ कर 206 रह जाती हैं. 38.एक औसतन ईन्सान दिन में 10 बार हसता है.39.छीकते समय आँखे खुली रख पाना नामुनकिन है और छीकते समय दिल की गती एक मिली सेंकेड के लिए रुक जाती है. 40.”Rhythm”(लय) vowel के बिना इंग्लिस का सबसे बड़ा शब्द है. 41.’TYPEWRITER’ सबसे लंम्बा शब्द है जो कि keyboard पर एक ही लाइन पर टाइप होता है. 42.’Uncopyrightable’ एकलौता 15 अक्षरो वाला शब्द है जिसमे कोई भी अक्षर दुबारा नही आता. 43.’Forty’ एकलौती संख्या है जिसके अक्षर alphabetical order के अनुसार जबकि ‘one” के alphabetical order से उलट हैं. 44.इंग्लिस के शब्द ‘therein’ से सात सार्थक शब्द निकाले जा सकते है -the,there,he,in,rein(लगाम),her,here,ere (शीघ्र),therein,और herein(इसमे). 45.Albert Einstein के अनुसार हम रात को आकाश में लाखों तारे देखते है उस जगह नही होते ब्लकि कही और होते है. हमें तों उनके द्वारा छोडा गया कई लाख प्रकाश साल पहले का प्रकाश होता है. 46.ज्यादातर विज्ञापनो में घड़ी पर 10 बज कर 10 मिनट का समय दिखाया जाया जाता है. 47.पुरूषों की shirts के बटन Right side पर जबकि औरतो left side के पर होते हैं. 48.चमगादड गुफा से निकलते समय हमेसा बाएँ हाथ मुडते है. 49.लगभग 100 चमगादड़ मिल के एक साल में 25 गाय का खून पी जाते हैं. 50.अगर एक आदमी सात दिनो के लिए कही बाहर जाता है तो वह पाँच दिन के कपड़े पैक करता है. मगर जब एक औरत सात दिन के टूर पर जाती है तो वह लगभग 21 सूट पैक करती है क्योकि वह यह नही जानती कि हर दिन उसे क्या पहनने को दिल करेगा. 51.100 की उम्र के पार पहुँचने वालो में से 5 में से 4 औरते होती हैं. 52.जिन लोगो कि शरीर पर तिलों की संख्या ज्यादा होती है वह औसतन कम तिल वाले लोगो से ज्यादा जीते हैं. 53.कुत्ते और बिल्लीयाँ भी मनुष्य की तरह left या right-handed होते है.54.इतिहास में सबसे छोटा युद्ध 1896 में England और Zanzibar के बीच हुआ. जिसमें Zanzibar ने 38 मिन्ट बाद ही सरेंडर कर दिया था. 55.फेसबुक पर 10 या उससे अधिक likes वाले 4 करोड़ 20 लाख पेज है। 56.फेसबुक के 43 प्रतिशत users पुरुष है वहीं 57 फीसदी महिलाएं। 57.यदि कोई व्यक्ति हर वेबसाइट को मात्र एक मिनट तक ब्राउज़ करे तो उसे सारी वेबसाइटें खंगालने में 31000 वर्ष लगेंगे. यदि कोई व्यक्ति सारे वेबपन्ने पढना चाहे तो उसे ऐसा करने में करीब 6,00,00,000 दशक लगेंगे. 58.दुनिया का सबसे ऊंचा क्रिकेट का मैदान हिमाचल प्रदेश के चायल नामक स्थान पर है। इसे समुद्री सतह से 2444 मीटर की ऊंचाई पर भूमि को समतल बना कर 1893 में तैयार किया गया था। 59.व्यक्ति खाना खाए बिना कई हफ्ते गुजार सकता है, लेकिन सोए बिना केवल 11 दिन रह सकता है। 60.जिस हाथ से आप लिखते हैं, उसकी उंगलियों के नाखून ज्यादा तेजी से बढ़ते हैं। 61.हमारे शरीर में लोहा भी होता है इतना कि एक शरीर से प्राप्त लोहे से एक इंच की कील भी तैयार की जा सकती है | 62.एक सामान्य मनुष्य अपने पूरे जीवनकाल में भूमध्य रेखा के पाँच बार चक्करलगाने जितना चलता है। यह लगभग 2 लाख किलोमीटर बनता है. 63.भास्कराचार्य ने खगोल शास्त्र के कई सौ साल पहले पृथ्वी द्वारा सूर्य के चारों ओर चक्कर लगाने में लगने वाले सही समय की गणना की थी। उनकी गणना के अनुसार सूर्य की परिक्रमा में पृथ्वी को 365258756484 दिन का समय लगता है।64.वाराणसी, जिसे बनारस के नाम से भी जाना जाता है, एक प्राचीन शहर है जब भगवान बुद्ध ने 500 बी सी में यहां आगमन किया और यह आज विश्व का सबसे पुराना और निरंतर आगे बढ़ने वाला शहर है। 65.भारत 17वीं शताब्दी के आरंभ तक ब्रिटिश राज्य आने से पहले सबसे सम्पन्न देश था। क्रिस्टोफर कोलम्बस भारत की सम्पन्नता से आकर्षित हो कर भारत आने का समुद्री मार्ग खोजने चला और उसने गलती से अमेरिका को खोज लिया। 66.संस्कृत सभी उच्च भाषाओं की जननी माना जाता है. क्योंकि यह कंप्यूटर सॉफ्टवेयर के लिए सबसे सटीक है, और इसलिए उपयुक्त भाषा है. 67.70%फीसदी लिवर, 80 फीसदी आंत और एक किडनी बगैर भी इंसान जिंदा रह सकता है। 68.कुर्सी पर बैठ कर अपने दाएं पैर से गोला बनाइये और साथ ही अपने दाएं हाथ से हवा में 6 लिखिए , आपके पैरों की दिशा बदल जाएगी. 69.मुंबई के ब्रेबॅार्न स्टेडियम में 1988 में खेल One day अभ्यास मैच में सचिन तेंदुलकर ने पाकिस्तान के लिए फ़ीलि्डिंग की थी. 70.गुगल से 10 अरब से अधिक पेज जुडे हुए है जो हर 19 महीने में दुगने हो जाते है. 71.Internet में 80% प्रतीशत ट्रेफिक सर्च इंजनो की वजह से आता है. 72.हम शाम के मुकाबले सुबह लगभग 1 cm लम्बे होते हैं. 73.सपनो में हम सिर्फ वही चीजें देख सकते हैं जो हम पहले से देख चुके हैं. 74.अफजल खान की एक बीवी ने उसे शिवाजी की शरण जाने को कहा तो अफजल खान इतना भड़क गया कि उसने अपनी पूरी 63 बीवीयो को मार कर एक कुवे में फेक दिया. 75.गरम पानी ठन्डे पानी से पहले बर्फ में बदल जाता है. 76.अगर पृथ्वी को सेब के आकार का बना दे तो पृथ्वी के ऊपर वायुमंडल केवल उसके छिलके के बराबर है. 77.टाइटैनिक जहाज को बनाने को लिए उस समय 35 करोड़ 70 लाख रूपये लगे थे जब कि टाइटैनिक फिलम बनाने के लिए 1000 करोड़ के लगभग लागत आई. 78.बिल गेट्स हर सेकेण्ड में करीब 12000 रुपये कमाते हैं यानि एक दिन में करीब 102 करोड़ रूपये. 79.राष्ट्रपति जार्ज बुश ने एक बार जपानी प्रधानमंन्त्री की कुर्सी पर उल्टी कर दी थी. 80.चीन में एक 17 साल के लड़के ने i pad2 और i phone के लिए अपनी kidney बेच दी थी. 81.धरती पे जितना भार सारी चीटीयों का है उतना ही सारे मनुष्यो का है. 82.Octopus के तीन दिल होते हैं. 83.सिर्फ मादा मच्छर ही आपका ख़ून चूसती हैं. नर मच्छर सिर्फ आवाजे करते हैं. 84.ब्लु वेहल एक साँस में 2000 गुबारो जितनी हवा खिचती है और बाहर निकालती है. 85.मच्छलीयो की यादआसत सिर्फ कुछ सेकेंड की होती है. 86.पैराशूट की खोज हवाईजहाज से 1 सदी पहले हुई थी. 87..कंगारु उल्टा नही चल सकते. 88.चीन में आप किसी व्यकित को 100 रूपया प्रति घंटा अपनी जगह लाइन में लगने के लिए कह सकते है. 89.Facebook उपयोग करने वाली सबसे बुजुर्ग मनुष्य 105 साल की एक महिला है जिसका नाम Lillion Lowe है. 90.ग्रीक और बुलगागिया में एक युद्ध सिर्फ इसलिए लड़ा गया था क्योंकि एक कुत्ता उनका border पार कर गया था. 91.1894 में जो सबसे पहला कैमरा बना था उससे आपको अपनी फोटो खीचने के लिए उसके सामने 8 घंटे तक बैठना पड़ेगा.92.आप को कभी भी यह याद नही रहेगा कि आपका सपना कहा से शुरू हुआ था. 93.Keyboard पर टॅायलेट सीट से 60 गुना ज्यादा germs होते है. 94.हर साल 4 लोग अपनी पैंट बदलते समय अपनी जान गवा देते हैं. 95.फेसबुक संस्थापक मार्क जुकरबर्ग ने यूनिवर्सिटी में पढाई के दौरान Facemash नाम से वेबसाईट बनाई थी बाद में इसी का नाम Facebook कर दिया गया. 96.Abraham Lincoln जब Depression(अवसाद) से गुजर रहे थे तो वह चाकू-छूरों से दूर रहते थे, उन्हें डर था कि वह खुद को मार न ले. 97.लोग सबसे ज्यादा तेज फैसले तब लेते है जब वह वीडियो गेम खेल रहे होते हैं. 98.हर साल दो मिनट ऐसे होते है जिन्में 61 सैकेंड होते हैं. 99.आम तौर पे classes में पढ़ाया जाता है कि प्रकाश की गति 3 लाख किलोमीटर/सैकेंड होती है पर असल में यह गति 2,99,792 होती है. 100.हर सैकेंड 100 बार आसमानी बिजली धरती पर गिरती है. 101. Kiss करने से ज्यादा हाथ मिलाते समय germs एक दुसरे को ट्रान्सफर होते हैं.

Posted in જાણવા જેવું

भारत का प्रथम नागरिक राष्ट्रपति होता हैं और 27वें नागरिक भारत की जनता


! भारत का प्रथम नागरिक राष्ट्रपति होता हैं और 27वें नागरिक भारत की जनता, जानिए इसके बीच कौन-कौन आता है ! हाल ही में बीजेपी पार्टी की तरफ से उम्मीदवार रामनाथ कोविंद भारत के 14वें राष्ट्रपति के रूप में चुने गये थे. भारत के संविधान के अनुसार भारत का राष्ट्रपति देश का प्रथम नागरिक होता है और आम जनता 27वें स्थान पर है, तो इस बीच किनका नंबर आता है ? आपको बता दें भारत के संविधान के अनुसार एक पूरी लिस्ट तैयार की गयी है जिसमें यह बताया गया है कि पहले स्थान पर कौन है और उसके बाद 27वें स्थान तक कौन-कौन है. चलिए आपको पूरी लाइट दिखाते हुए बताते हैं किसका कौनसा स्थान है. भारत का पहला नागरिक– देश का राष्ट्रपति देश के राष्ट्रपति को पहला स्थान दिया गया है. यह परम्परा बहुत पुरानी है. इस समय भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद हैं. 2th नागरिक– देश का उप राष्ट्रपति आपको बता दें इस समय भारत के नए उप राष्ट्रपति श्री वेंकैया नायडू है। संविधान में भी इस प्रकार के किसी पद का ज़िक्र नहीं है, हालंकि पहले किसी समय में कुछ नेताओं ने उपराष्ट्रपति नियुक्त किये थे. 3th नागरिक– प्रधानमंत्री इस समय भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हैं जो बहुत ही कर्मठ हैं. 4th नागरिक– राज्यपाल (संबंधित राज्यों के सभी) 5th नागरिक– देश के पूर्व राष्ट्रपति, 5th A – देश का उप प्रधानमंत्री 6th नागरिक– भारत का मुख्य न्यायधीश, लोकसभा का अध्यक्ष,इस समय भारत में दूसरे वरिष्ठतम न्यायाधीश न्यायमूर्ति जगदीश सिंह खेहर भारत के 44वें मुख्य न्यायाधीश हैं 7th नागरिक– केंद्रीय कैबिनेट मंत्री, मुख्यमंत्री (संबंधित सभी राज्यों के), योजना आयोग के उपाध्यक्ष (वर्तमान ने नीति आयोग), पूर्व प्रधानमंत्री, राज्यसभा और लोकसभा में विपक्ष का नेता, 7th ए– भारत रत्न पुरस्कार विजेता. 8th नागरिक– भारत में मान्यता प्राप्त राजदूत, मुख्यमंत्री (संबंधित राज्यों से बाहर के) गवर्नर्स (अपने संबंधित राज्यों से बाहर के) 9th नागरिक– सुप्रीम कोर्ट के जज, 9th A– यूनियन पब्लिक सर्सिस कमिशन (यूपीएससी) के चेयरपर्सन, चीफ इलेक्शन कमिशनर, भारत के नियंत्रक और महालेखा परीक्षक. 10th नागरिक– राज्यसभा के डिप्टी चेयरमैन, डिप्टी चीफ मिनिस्टर्स, लोकसभा के डिप्टी स्पीकर, योजना आयोग के सदस्य (वर्तमान में नीति आयोग), राज्यों के मंत्री (सुरक्षा से जुड़े मंत्रालयों के अन्य मंत्री) 11th नागरिक– अटर्नी जर्नल (एजी), कैबिनेट सचिव, उप राज्यपाल (केंद्र शासित प्रदेशों के भी शामिल) 12th नागरिक– पूर्ण जनरल या समकक्ष रैंक वाले कर्मचारियों के चीफ 13th नागरिक– राजदूत ,असाधारण और पूर्ण नियोक्ता जो कि भारत में मान्यता प्राप्त हैं. 14th नागरिक– राज्यों के चेयरमैन और राज्य विधानसभा के स्पीकर (सभी राज्य शामिल), हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस (सभी राज्यों की पीठ के जज शामिल) 15th नागरिक– राज्यों के कैबिनेट मिनिस्टर्स (सभी राज्यों के शामिल), केंद्र शासित राज्यों के मुख्यमंत्री, दिल्ली के मुख्य कार्यकारी काउंसिलर (सभी केंद्र शासित राज्य) केंद्र के उपमंत्री 16th नागरिक– लेफ्टिनेंट जनरल या समकक्ष रैंक का पद धारण करने वाले स्टाफ के प्रमुख अधिकारी. 17th नागरिक– अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष, अनुसूचित जाति के राष्ट्रीय आयोग के अध्यक्ष, अनुसूचित जनजाति के राष्ट्रीय आयोग के अध्यक्ष, उच्च न्यायालयों के मुख्य न्यायाधीश (उनके संबंधित न्यायालय के बाहर), उच्च न्यायालयों के पीयूज न्यायाधीश (उनके संबंधित अधिकार क्षेत्र में) 18th नागरिक– राज्यों (उनके संबंधित राज्यों के बाहर) में कैबिनेट मंत्री, राज्य विधान मंडलों के सभापति और अध्यक्ष (उनके संबंधित राज्यों के बाहर), एकाधिकार और प्रतिबंधात्मक व्यापार व्यवहार आयोग के अध्यक्ष, उप अध्यक्ष और राज्य विधान मंडलों के उपाध्यक्ष (उनके संबंधित राज्यों में), मंत्री राज्य सरकारों (राज्यों में उनके संबंधित राज्यों), केंद्र शासित प्रदेशों के मंत्री और कार्यकारी परिषद, दिल्ली (उनके संबंधित संघ शासित प्रदेशों के भीतर) संघ शासित प्रदेशों में विधान सभा के अध्यक्ष और दिल्ली महानगर परिषद के अध्यक्ष, उनके संबंधित केंद्र शासित प्रदेशों में। 19th नागरिक– संघ शासित प्रदेशों के मुख्य आयुक्त, उनके संबंधित केंद्र शासित प्रदेशों में राज्यों के उपमंत्री (उनके संबंधित राज्यों में), केंद्र शासित प्रदेशों में विधान सभा के उपाध्यक्ष और मेट्रोपॉलिटन परिषद दिल्ली के उपाध्यक्ष 20th नागरिक– राज्य विधानसभा के चेयरमैन और डिप्टी चेयरमैन (उनके संबंधित राज्यों के बाहर) 21th नागरिक– सांसद सदस्य 22th नागरिक– राज्यों के डिप्टी मिनिस्टर्स (उनके संबंधित राज्यों के बाहर) 23th नागरिक– आर्मी कमांडर, वाइस चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ और इन्हीं की रैंक के बराबर के अधिकारी, राज्य सरकारों के मुख्य सचिव, (उनके संबंधित राज्यों के बाहर), भाषाई अल्पसंख्यकों के आयुक्त, अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के आयुक्त, अल्पसंख्यक आयोग के सदस्य, अनुसूचित जातियों के लिए राष्ट्रीय आयोग के सदस्य, अनुसूचित जनजाति के लिए राष्ट्रीय आयोग के सदस्य 24th नागरिक– उप राज्यपाल रैंक के अधिकारी या इन्हीं के समक्ष अधिकारी 25th नागरिक– भारत सरकार के अतिरिक्त सचिव 26th नागरिक– भारत सरकार के संयुक्त सचिव और समकक्ष रैंक के अधिकारी, मेजर जनरल या समकक्ष रैंक के रैंक के अधिकारी 27th नागरिक– भारत के सत्ताईसवें नागरिक आम इंसान होते हैं जैसे की आप और हम !! 😊😊