Posted in रामायण - Ramayan

रामराज्य का वर्णन,,,,हम सभी जानते तो हैं की भगवान श्री राम ने अयोध्या पर राज्य किया था लेकिन वो रामराज्य कैसा था?

चौदह वर्ष वनवास काटकर माता सीता और लक्ष्मण भाई के साथ अयोध्या लौटे थे। एक बार जरा उनके राज्य का दर्शन कीजिये। जिसका वर्णन श्री तुलसीदास जी ने किया है।

कथा के अनुसार इस राम राज्य का वर्णन काकभुशुण्डी जी महाराज गरुड़ जी को कर रहे हैं। सभी मर्यादा में रहते है, राम भगवान और इंसान की तो बात ही क्या करे जनाब यहाँ तो पशु पक्षी और समुद्र भी मर्यादा में रहते हैं।

श्री राम राज्य में किसी भी व्यक्ति को कोई भी दुःख नहीं था। हर जगह सुख ही सुख था। न कोई बीमार था न किसी को कोई पीड़ा।

दैहिक दैविक भौतिक तापा। राम राज नहिं काहुहि ब्यापा॥
सब नर करहिं परस्पर प्रीती। चलहिं स्वधर्म निरत श्रुति नीती॥

‘रामराज्य’ में दैहिक, दैविक और भौतिक ताप किसी को नहीं व्यापते। सब मनुष्य परस्पर प्रेम करते हैं और वेदों में बताई हुई नीति (मर्यादा) में तत्पर रहकर अपने-अपने धर्म का पालन करते हैं॥

कितनी सुंदर बात है की सभी आपस में प्रेम करते थे और धर्म का पालन करते थे। राम के राज्य में तो स्वप्न में भी कोई पाप नही करता था फिर हकीकत की तो बात ही क्या।

धर्म अपने चारों चरणों (सत्य, शौच, दया और दान) से जगत्‌ में परिपूर्ण हो रहा है, स्वप्न में भी कहीं पाप नहीं है। पुरुष और स्त्री सभी रामभक्ति के परायण हैं और सभी परम गति (मोक्ष) के अधिकारी हैं॥

अल्पमृत्यु नहिं कवनिउ पीरा। सब सुंदर सब बिरुज सरीरा॥
नहिं दरिद्र कोउ दुखी न दीना। नहिं कोउ अबुध न लच्छन हीना॥

किसी की भी छोटी अवस्था में मृत्यु नहीं होती, न किसी को कोई पीड़ा होती है। सभी के शरीर सुंदर और निरोग हैं। न कोई दरिद्र है, न दुःखी है और न दीन ही है। न कोई मूर्ख है और न शुभ लक्षणों से हीन ही है॥ कलयुग में किसी का कोई भरोसा नहीं। और अब तो यहाँ तक देखने में आता है की छोटी अवस्था में ही ज्यादा मृत्यु हो रही है।

सभी दम्भरहित हैं, धर्मपरायण हैं और पुण्यात्मा हैं। पुरुष और स्त्री सभी चतुर और गुणवान्‌ हैं। सभी गुणों का आदर करने वाले और पण्डित हैं तथा सभी ज्ञानी हैं। सभी कृतज्ञ (दूसरे के किए हुए उपकार को मानने वाले) हैं, कपट-चतुराई (धूर्तता) किसी में नहीं है॥

और आज के समय चालाकी के बिना कुछ होता ही नही है। शरीफ और भोले आदमी को तो लोग मुर्ख कहते है। और चालाकी भी ऐसी की अपना फायदा होना चाहिए बदले में किसी का भी , कितना भी नुकसान क्यों न हो।

श्री राम के राज्य में जड़, चेतन सारे जगत्‌ में काल, कर्म स्वभाव और गुणों से उत्पन्न हुए दुःख किसी को भी नहीं होते (अर्थात्‌ इनके बंधन में कोई नहीं है)

अयोध्या में श्री रघुनाथजी सात समुद्रों की मेखला (करधनी) वाली पृथ्वी के एक मात्र राजा हैं। जिनके एक-एक रोम में अनेकों ब्रह्मांड हैं, उनके लिए सात द्वीपों की यह प्रभुता कुछ अधिक नहीं है॥

रामराज्य की सुख सम्पत्ति का वर्णन शेषजी और सरस्वतीजी भी नहीं कर सकते॥

सभी नर-नारी उदार हैं, सभी परोपकारी हैं और ब्राह्मणों के चरणों के सेवक हैं। सभी पुरुष मात्र एक पत्नीव्रती हैं। इसी प्रकार स्त्रियाँ भी मन, वचन और कर्म से पति का हित करने वाली हैं॥

और आज कल आप देख रहे हैं न पति एक पत्नी का नियम धारण करके रहता है और न ही पत्नी। पति-पत्नी को केवल अपने ही सुख से मतलब है। एक दूसरे के सुख से नहीं। लेकिन हाँ केवल कुछ एक पति-पत्नी आज भी है जो नियम से और संयम से और सेवा से रहते है। मेरा ये मानना है यदि आज के समय भी पति पत्नी प्रेम से रह रहे हैं। पत्नी पति की सेवा करती है और पति अपना कर्तव्य अच्छे से निभा रहा है तो ये राम राज्य ही है।

श्री रामचंद्रजी के राज्य में दण्ड केवल संन्यासियों के हाथों में है और भेद नाचने वालों के नृत्य समाज में है और ‘जीतो’ शब्द केवल मन के जीतने के लिए ही सुनाई पड़ता है (अर्थात्‌ राजनीति में शत्रुओं को जीतने तथा चोर-डाकुओं आदि को दमन करने के लिए साम, दान, दण्ड और भेद ये चार उपाय किए जाते हैं।

रामराज्य में कोई शत्रु है ही नहीं, इसलिए ‘जीतो’ शब्द केवल मन के जीतने के लिए कहा जाता है। कोई अपराध करता ही नहीं, इसलिए दण्ड किसी को नहीं होता, दण्ड शब्द केवल संन्यासियों के हाथ में रहने वाले दण्ड के लिए ही रह गया है तथा सभी अनुकूल होने के कारण भेदनीति की आवश्यकता ही नहीं रह गई। भेद, शब्द केवल सुर-ताल के भेद के लिए ही कामों में आता है।)॥

वनों में वृक्ष सदा फूलते और फलते हैं। हाथी और सिंह (वैर भूलकर) एक साथ रहते हैं। पक्षी और पशु सभी ने स्वाभाविक वैर भुलाकर आपस में प्रेम बढ़ा लिया है॥

पक्षी कूजते (मीठी बोली बोलते) हैं, भाँति-भाँति के पशुओं के समूह वन में निर्भय विचरते और आनंद करते हैं। शीतल, मन्द, सुगंधित पवन चलता रहता है। भौंरे पुष्पों का रस लेकर चलते हुए गुंजार करते जाते हैं॥

बेलें और वृक्ष माँगने से ही मधु (मकरन्द) टपका देते हैं। गायें मनचाहा दूध देती हैं। धरती सदा खेती से भरी रहती है। त्रेता में सत्ययुग की करनी (स्थिति) हो गई॥

समस्त जगत्‌ के आत्मा भगवान्‌ को जगत्‌ का राजा जानकर पर्वतों ने अनेक प्रकार की मणियों की खानें प्रकट कर दीं। सब नदियाँ श्रेष्ठ, शीतल, निर्मल और सुखप्रद स्वादिष्ट जल बहाने लगीं॥

समुद्र अपनी मर्यादा में रहते हैं। वे लहरों द्वारा किनारों पर रत्न डाल देते हैं, जिन्हें मनुष्य पा जाते हैं। सब तालाब कमलों से परिपूर्ण हैं। दसों दिशाओं के विभाग (अर्थात्‌ सभी प्रदेश) अत्यंत प्रसन्न हैं॥

श्री रामचंद्रजी के राज्य में चंद्रमा अपनी (अमृतमयी) किरणों से पृथ्वी को पूर्ण कर देते हैं। सूर्य उतना ही तपते हैं, जितने की आवश्यकता होती है और मेघ माँगने से (जब जहाँ जितना चाहिए उतना ही) जल देते हैं॥

प्रभु श्री रामजी ने करोड़ों अश्वमेध यज्ञ किए और ब्राह्मणों को अनेकों दान दिए। श्री रामचंद्रजी वेदमार्ग के पालने वाले, धर्म की धुरी को धारण करने वाले, (प्रकृतिजन्य सत्व, रज और तम) तीनों गुणों से अतीत और भोगों (ऐश्वर्य) में इन्द्र के समान हैं॥

शोभा की खान, सुशील और विनम्र सीताजी सदा पति के अनुकूल रहती हैं। वे कृपासागर श्री रामजी की प्रभुता (महिमा) को जानती हैं और मन लगाकर उनके चरणकमलों की सेवा करती हैं॥

यद्यपि घर में बहुत से (अपार) दास और दासियाँ हैं और वे सभी सेवा की विधि में कुशल हैं, तथापि (स्वामी की सेवा का महत्व जानने वाली) श्री सीताजी घर की सब सेवा अपने ही हाथों से करती हैं और श्री रामचंद्रजी की आज्ञा का अनुसरण करती हैं॥

कृपासागर श्री रामचंद्रजी जिस प्रकार से सुख मानते हैं, श्री जी वही करती हैं, क्योंकि वे सेवा की विधि को जानने वाली हैं। घर में कौसल्या आदि सभी सासुओं की सीताजी सेवा करती हैं, उन्हें किसी बात का अभिमान और मद नहीं है॥

उमा रमा ब्रह्मादि बंदिता। जगदंबा संततमनिंदिता॥

शिवजी कहते हैं-) हे उमा जगज्जननी रमा (सीताजी) ब्रह्मा आदि देवताओं से वंदित और सदा अनिंदित (सर्वगुण संपन्न) हैं॥

देवता जिनका कृपाकटाक्ष चाहते हैं, परंतु वे उनकी ओर देखती भी नहीं, वे ही लक्ष्मीजी (जानकीजी) अपने (महामहिम) स्वभाव को छोड़कर श्री रामचंद्रजी के चरणारविन्द में प्रीति करती हैं॥

सब भाई अनुकूल रहकर उनकी सेवा करते हैं। श्री रामजी के चरणों में उनकी अत्यंत अधिक प्रीति है। वे सदा प्रभु का मुखारविन्द ही देखते रहते हैं कि कृपालु श्री रामजी कभी हमें कुछ सेवा करने को कहें॥

श्री रामचंद्रजी भी भाइयों पर प्रेम करते हैं और उन्हें नाना प्रकार की नीतियाँ सिखलाते हैं। नगर के लोग हर्षित रहते हैं और सब प्रकार के देवदुर्लभ (देवताओं को भी कठिनता से प्राप्त होने योग्य) भोग भोगते हैं॥

वे दिन-रात ब्रह्माजी को मनाते रहते हैं और (उनसे) श्री रघुवीर के चरणों में प्रीति चाहते हैं।

प्रातःकाल सरयूजी में स्नान करके ब्राह्मणों और सज्जनों के साथ सभा में बैठते हैं। वशिष्ठजी वेद और पुराणों की कथाएँ वर्णन करते हैं और श्री रामजी सुनते हैं, यद्यपि वे सब जानते हैं॥

वे भाइयों को साथ लेकर भोजन करते हैं। उन्हें देखकर सभी माताएँ आनंद से भर जाती हैं। भरतजी और शत्रुघ्नजी दोनों भाई हनुमान्‌जी सहित उपवनों में जाकर, हाँ बैठकर श्री रामजी के गुणों की कथाएँ पूछते हैं और हनुमान्‌जी अपनी सुंदर बुद्धि से उन गुणों में गोता लगाकर उनका वर्णन करते हैं। श्री रामचंद्रजी के निर्मल गुणों को सुनकर दोनों भाई अत्यंत सुख पाते हैं और विनय करके बार-बार कहलवाते हैं॥

सबके यहाँ घर-घर में पुराणों और अनेक प्रकार के पवित्र रामचरित्रों की कथा होती है। पुरुष और स्त्री सभी श्री रामचंद्रजी का गुणगान करते हैं और इस आनंद में दिन-रात का बीतना भी नहीं जान पाते॥

अवधपुरी बासिन्ह कर सुख संपदा समाज। सहस सेष नहिं कहि सकहिं जहँ नृप राम बिराज॥

जहाँ भगवान्‌ श्री रामचंद्रजी स्वयं राजा होकर विराजमान हैं, उस अवधपुरी के निवासियों के सुख-संपत्ति के समुदाय का वर्णन हजारों शेषजी भी नहीं कर सकते॥

नारद आदि और सनक आदि मुनीश्वर सब कोसलराज श्री रामजी के दर्शन के लिए प्रतिदिन अयोध्या आते हैं और उस (दिव्य) नगर को देखकर वैराग्य भुला देते हैं॥

दिव्य) स्वर्ण और रत्नों से बनी हुई अटारियाँ हैं। उनमें (मणि-रत्नों की) अनेक रंगों की सुंदर ढली हुई फर्शें हैं। नगर के चारों ओर अत्यंत सुंदर परकोटा बना है, जिस पर सुंदर रंग-बिरंगे कँगूरे बने हैं॥

मानो नवग्रहों ने बड़ी भारी सेना बनाकर अमरावती को आकर घेर लिया हो। पृथ्वी (सड़कों) पर अनेकों रंगों के (दिव्य) काँचों (रत्नों) की गच बनाई (ढाली) गई है, जिसे देखकर श्रेष्ठ मुनियों के भी मन नाच उठते हैं॥

उज्ज्वल महल ऊपर आकाश को चूम (छू) रहे हैं। महलों पर के कलश (अपने दिव्य प्रकाश से) मानो सूर्य, चंद्रमा के प्रकाश की भी निंदा (तिरस्कार) करते हैं। (महलों में) बहुत सी मणियों से रचे हुए झरोखे सुशोभित हैं और घर-घर में मणियों के दीपक शोभा पा रहे हैं॥

घरों में मणियों के दीपक शोभा दे रहे हैं। मूँगों की बनी हुई देहलियाँ चमक रही हैं। मणियों (रत्नों) के खम्भे हैं। मरकतमणियों (पन्नों) से जड़ी हुई सोने की दीवारें ऐसी सुंदर हैं मानो ब्रह्मा ने खास तौर से बनाई हों। महल सुंदर, मनोहर और विशाल हैं। उनमें सुंदर स्फटिक के आँगन बने हैं। प्रत्येक द्वार पर बहुत से खरादे हुए हीरों से जड़े हुए सोने के किंवाड़ हैं॥

घर-घर में सुंदर चित्रशालाएँ हैं, जिनमें श्री रामचंद्रजी के चरित्र बड़ी सुंदरता के साथ सँवारकर अंकित किए हुए हैं। जिन्हें मुनि देखते हैं, तो वे उनके भी चित्त को चुरा लेते हैं॥

सभी लोगों ने भिन्न-भिन्न प्रकार की पुष्पों की वाटिकाएँ यत्न करके लगा रखी हैं, जिनमें बहुत जातियों की सुंदर और ललित लताएँ सदा वसंत की तरह फूलती रहती हैं॥

भौंरे मनोहर स्वर से गुंजार करते हैं। सदा तीनों प्रकार की सुंदर वायु बहती रहती है। बालकों ने बहुत से पक्षी पाल रखे हैं, जो मधुर बोली बोलते हैं और उड़ने में सुंदर लगते हैं॥

मोर, हंस, सारस और कबूतर घरों के ऊपर बड़ी ही शोभा पाते हैं। वे पक्षी (मणियों की दीवारों में और छत में) जहाँ-तहाँ अपनी परछाईं देखकर (वहाँ दूसरे पक्षी समझकर) बहुत प्रकार से मधुर बोली बोलते और नृत्य करते हैं॥

बालक तोता-मैना को पढ़ाते हैं कि कहो- ‘राम’ ‘रघुपति’ ‘जनपालक’। राजद्वार सब प्रकार से सुंदर है। गलियाँ, चौराहे और बाजार सभी सुंदर हैं॥

सुंदर बाजार है, जो वर्णन करते नहीं बनता, वहाँ वस्तुएँ बिना ही मूल्य मिलती हैं। जहाँ स्वयं लक्ष्मीपति राजा हों, वहाँ की संपत्ति का वर्णन कैसे किया जाए? बजाज (कपड़े का व्यापार करने वाले), सराफ (रुपए-पैसे का लेन-देन करने वाले) आदि वणिक्‌ (व्यापारी) बैठे हुए ऐसे जान प़ड़ते हैं मानो अनेक कुबेर हों, स्त्री, पुरुष बच्चे और बूढ़े जो भी हैं, सभी सुखी, सदाचारी और सुंदर हैं॥

नगर के उत्तर दिशा में सरयूजी बह रही हैं, जिनका जल निर्मल और गहरा है। मनोहर घाट बँधे हुए हैं, किनारे पर जरा भी कीचड़ नहीं है॥

अलग कुछ दूरी पर वह सुंदर घाट है, जहाँ घोड़ों और हाथियों के ठट्ट के ठट्ट जल पिया करते हैं। पानी भरने के लिए बहुत से (जनाने) घाट हैं, जो बड़े ही मनोहर हैं। वहाँ पुरुष स्नान नहीं करते॥

राजघाट सब प्रकार से सुंदर और श्रेष्ठ है, जहाँ चारों वर्णों के पुरुष स्नान करते हैं। सरयूजी के किनारे-किनारे देवताओं के मंदिर हैं, जिनके चारों ओर सुंदर उपवन (बगीचे) हैं॥

नदी के किनारे कहीं-कहीं विरक्त और ज्ञानपरायण मुनि और संन्यासी निवास करते हैं। सरयूजी के किनारे-किनारे सुंदर तुलसीजी के झुंड के झुंड बहुत से पेड़ मुनियों ने लगा रखे हैं॥

नगर की शोभा तो कुछ कही नहीं जाती। नगर के बाहर भी परम सुंदरता है। श्री अयोध्यापुरी के दर्शन करते ही संपूर्ण पाप भाग जाते हैं। (वहाँ) वन, उपवन, बावलिया और तालाब सुशोभित हैं॥

अनुपम बावलियाँ, तालाब और मनोहर तथा विशाल कुएँ शोभा दे रहे हैं, जिनकी सुंदर (रत्नों की) सीढ़ियाँ और निर्मल जल देखकर देवता और मुनि तक मोहित हो जाते हैं। (तालाबों में) अनेक रंगों के कमल खिल रहे हैं, अनेकों पक्षी कूज रहे हैं और भौंरे गुंजार कर रहे हैं। (परम) रमणीय बगीचे कोयल आदि पक्षियों की (सुंदर बोली से) मानो राह चलने वालों को बुला रहे हैं।

स्वयं लक्ष्मीपति भगवान्‌ जहाँ राजा हों, उस नगर का कहीं वर्णन किया जा सकता है? अणिमा आदि आठों सिद्धियाँ और समस्त सुख-संपत्तियाँ अयोध्या में छा रही हैं।

लोग जहाँ-तहाँ श्री रघुनाथजी के गुण गाते हैं और बैठकर एक-दूसरे को यही सीख देते हैं कि शरणागत का पालन करने वाले श्री रामजी को भजो, शोभा, शील, रूप और गुणों के धाम श्री रघुनाथजी को भजो॥

कमलनयन और साँवले शरीर वाले को भजो। पलक जिस प्रकार नेत्रों की रक्षा करती हैं उसी प्रकार अपने सेवकों की रक्षा करने वाले को भजो। सुंदर बाण, धनुष और तरकस धारण करने वाले को भजो। संत रूपी कमलवन के (खिलाने के) सूर्य रूप रणधीर श्री रामजी को भजो।

कालरूपी भयानक सर्प के भक्षण करने वाले श्री राम रूप गरुड़जी को भजो। निष्कामभाव से प्रणाम करते ही ममता का नाश कर देने वाले श्री रामजी को भजो। लोभ-मोह रूपी हरिनों के समूह के नाश करने वाले श्री राम किरात को भजो। कामदेव रूपी हाथी के लिए सिंह रूप तथा सेवकों को सुख देने वाले श्री राम को भजो॥

संशय और शोक रूपी घने अंधकार का नाश करने वाले श्री राम रूप सूर्य को भजो। राक्षस रूपी घने वन को जलाने वाले श्री राम रूप अग्नि को भजो। जन्म-मृत्यु के भय को नाश करने वाले श्री जानकी समेत श्री रघुवीर को क्यों नहीं भजते?

बहुत सी वासनाओं रूपी मच्छरों को नाश करने वाले श्री राम रूप हिमराशि (बर्फ के ढेर) को भजो। नित्य एकरस, अजन्मा और अविनाशी श्री रघुनाथजी को भजो। मुनियों को आनंद देने वाले, पृथ्वी का भार उतारने वाले और तुलसीदास के उदार (दयालु) स्वामी श्री रामजी को भजो॥

इस प्रकार नगर के स्त्री-पुरुष श्री रामजी का गुण-गान करते हैं और कृपानिधान श्री रामजी सदा सब पर अत्यंत प्रसन्न रहते हैं॥

जब से रामप्रताप रूपी अत्यंत प्रचण्ड सूर्य उदित हुआ, तब से तीनों लोकों में पूर्ण प्रकाश भर गया है। इससे बहुतों को सुख और बहुतों के मन में शोक हुआ॥

सर्वत्र प्रकाश छा जाने से) पहले तो अविद्या रूपी रात्रि नष्ट हो गई। पाप रूपी उल्लू जहाँ-तहाँ छिप गए और काम-क्रोध रूपी कुमुद मुँद गए॥

भाँति-भाँति के (बंधनकारक) कर्म, गुण, काल और स्वभाव- ये चकोर हैं, जो (रामप्रताप रूपी सूर्य के प्रकाश में) कभी सुख नहीं पाते। मत्सर (डाह), मान, मोह और मद रूपी जो चोर हैं, उनका हुनर (कला) भी किसी ओर नहीं चल पाता॥

धर्म रूपी तालाब में ज्ञान, विज्ञान- ये अनेकों प्रकार के कमल खिल उठे। सुख, संतोष, वैराग्य और विवेक- ये अनेकों चकवे शोकरहित हो गए॥

यह प्रताप रबि जाकें उर जब करइ प्रकास।
पछिले बाढ़हिं प्रथम जे कहे ते पावहिं नास॥

यह श्री रामप्रताप रूपी सूर्य जिसके हृदय में जब प्रकाश करता है, तब जिनका वर्णन पीछे से किया गया है, वे (धर्म, ज्ञान, विज्ञान, सुख, संतोष, वैराग्य और विवेक) बढ़ जाते हैं और जिनका वर्णन पहले किया गया है, वे (अविद्या, पाप, काम, क्रोध, कर्म, काल, गुण, स्वभाव आदि) नाश को प्राप्त होते (नष्ट हो जाते) हैं॥

Sanjay Gupta

Advertisements
Posted in रामायण - Ramayan

अयोध्या की कहानी

जिसे समय निकालकर पढे केवल भाजपा या काग्रेस की दृष्टि से ना पढें हिन्दुओ का इतिहास के आधार पर पढ़ें
कृपया इस
लेख को पढ़ें, तथा प्रत्येक
हिन्दूँ मिञों को अधिक से
अधिक शेयर करें।

जब बाबर
दिल्ली की गद्दी पर
आसीन हुआ उस समय
जन्मभूमि सिद्ध महात्मा श्यामनन्द जी महाराज के
अधिकार क्षेत्र में थी। महात्मा श्यामनन्द
की ख्याति सुनकर ख्वाजा कजल अब्बास
मूसा आशिकान
अयोध्या आये । महात्मा जी के शिष्य बनकर
ख्वाजा कजल अब्बास मूसा ने योग और सिद्धियाँ प्राप्त
कर ली और उनका नाम
भी महात्मा श्यामनन्द के
ख्यातिप्राप्त शिष्यों में लिया जाने लगा।

ये सुनकर
जलालशाह नाम का एक फकीर भी
महात्मा श्यामनन्द के पास आया और उनका शिष्य बनकर
सिद्धियाँ प्राप्त करने लगा।
जलालशाह एक कट्टर मुसलमान था, और उसको एक
ही सनक थी,
हर जगह इस्लाम का आधिपत्य साबित करना । अत:
जलालशाह ने अपने काफिर गुरू की पीठ
में छुरा घोंपकर
ख्वाजा कजल अब्बास मूसा के साथ मिलकर ये विचार
किया की यदि इस मदिर को तोड़ कर मस्जिद
बनवा दी जाये तो इस्लाम का परचम हिन्दुस्थान में
स्थायी हो जायेगा। धीरे धीरे
जलालशाह और
ख्वाजा कजल अब्बास मूसा इस साजिश को अंजाम देने
की तैयारियों में जुट गए ।

सर्वप्रथम जलालशाह और ख्वाजा बाबर के
विश्वासपात्र बने और दोनों ने अयोध्या को खुर्द
मक्का बनाने के लिए जन्मभूमि के आसपास
की जमीनों में
बलपूर्वक मृत मुसलमानों को दफन करना शुरू किया॥ और
मीरबाँकी खां के माध्यम से बाबर
को उकसाकर मंदिर के
विध्वंस का कार्यक्रम बनाया। बाबा श्यामनन्द
जी अपने मुस्लिम शिष्यों की करतूत देख
के बहुत दुखी हुए
और अपने निर्णय पर उन्हें बहुत पछतावा हुआ।

दुखी मन से
बाबा श्यामनन्द जी ने
रामलला की मूर्तियाँ सरयू में
प्रवाहित किया और खुद हिमालय की और
तपस्या करने
चले गए। मंदिर के पुजारियों ने मंदिर के अन्य सामान
आदि हटा लिए और वे स्वयं मंदिर के द्वार पर
रामलला की रक्षा के लिए खड़े हो गए। जलालशाह
की आज्ञा के अनुसार उन चारो पुजारियों के सर काट
लिए गए. जिस समय मंदिर को गिराकर मस्जिद बनाने
की घोषणा हुई उस समय
भीटी के राजा महताब सिंह
बद्री नारायण की यात्रा करने के लिए
निकले
थे,अयोध्या पहुचने पर रास्ते में उन्हें ये खबर
मिली तो उन्होंने अपनी यात्रा स्थगित कर
दी और
अपनी छोटी सेना में रामभक्तों को शामिल
कर १ लाख
चौहत्तर हजार लोगो के साथ बाबर की सेना के ४
लाख
५० हजार सैनिकों से लोहा लेने निकल पड़े।

रामभक्तों ने सौगंध ले रक्खी थी रक्त
की आखिरी बूंद तक
लड़ेंगे जब तक प्राण है तब तक मंदिर नहीं गिरने
देंगे।
रामभक्त वीरता के साथ लड़े ७० दिनों तक घोर संग्राम
होता रहा और अंत में राजा महताब सिंह समेत
सभी १
लाख ७४ हजार रामभक्त मारे गए। श्रीराम
जन्मभूमि रामभक्तों के रक्त से लाल हो गयी। इस
भीषण
कत्ले आम के बाद मीरबांकी ने
तोप लगा के मंदिर गिरवा दिया । मंदिर के मसाले से
ही मस्जिद का निर्माण हुआ
पानी की जगह मरे हुए
हिन्दुओं का रक्त इस्तेमाल किया गया नीव में
लखौरी इंटों के साथ ।

इतिहासकार कनिंघम अपने लखनऊ गजेटियर के 66वें अंक के
पृष्ठ 3 पर लिखता है की एक लाख चौहतर हजार
हिंदुओं
की लाशें गिर जाने के पश्चात
मीरबाँकी अपने मंदिर
ध्वस्त करने के अभियान मे सफल हुआ और उसके बाद
जन्मभूमि के चारो और तोप लगवाकर मंदिर को ध्वस्त कर
दिया गया..
इसी प्रकार हैमिल्टन नाम का एक अंग्रेज
बाराबंकी गजेटियर में लिखता है की ”
जलालशाह ने
हिन्दुओं के खून का गारा बना के
लखौरी ईटों की नीव
मस्जिद बनवाने के लिए
दी गयी थी।
उस समय अयोध्या से ६ मील
की दूरी पर सनेथू नाम
का एक गाँव के पंडित देवीदीन पाण्डेय ने
वहां के आस
पास के गांवों सराय सिसिंडा राजेपुर आदि के सूर्यवंशीय
क्षत्रियों को एकत्रित किया॥ देवीदीन
पाण्डेय ने
सूर्यवंशीय क्षत्रियों से कहा भाइयों आप लोग मुझे
अपना राजपुरोहित मानते हैं ..अप के पूर्वज
श्री राम थे
और हमारे पूर्वज महर्षि भरद्वाज जी। आज
मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम
की जन्मभूमि को मुसलमान
आक्रान्ता कब्रों से पाट रहे हैं और खोद रहे हैं इस
परिस्थिति में हमारा मूकदर्शक बन कर जीवित रहने
की बजाय जन्मभूमि की रक्षार्थ युद्ध
करते करते
वीरगति पाना ज्यादा उत्तम होगा॥

देवीदीन पाण्डेय
की आज्ञा से दो दिन के भीतर ९०
हजार क्षत्रिय इकठ्ठा हो गए दूर दूर के गांवों से लोग
समूहों में इकठ्ठा हो कर देवीदीन
पाण्डेय के नेतृत्व में
जन्मभूमि पर
जबरदस्त धावा बोल दिया । शाही सेना से लगातार ५
दिनों तक युद्ध हुआ । छठे दिन
मीरबाँकी का सामना देवीदीन
पाण्डेय से हुआ उसी समय
धोखे से उसके अंगरक्षक ने एक
लखौरी ईंट से पाण्डेय
जी की खोपड़ी पर वार कर
दिया। देवीदीन पाण्डेय का सर
बुरी तरह फट
गया मगर उस वीर ने अपने पगड़ी से
खोपड़ी से बाँधा और
तलवार से उस कायर अंगरक्षक का सर काट दिया।
इसी बीच
मीरबाँकी ने छिपकर
गोली चलायी जो पहले
ही से घायल देवीदीन पाण्डेय
जी को लगी और
वो जन्मभूमि की रक्षा में वीर
गति को प्राप्त
हुए..जन्मभूमि फिर से 90 हजार हिन्दुओं के रक्त से लाल
हो गयी। देवीदीन पाण्डेय के
वंशज सनेथू ग्राम के ईश्वरी पांडे का पुरवा नामक
जगह
पर अब भी मौजूद हैं॥
पाण्डेय जी की मृत्यु के १५ दिन बाद
हंसवर के महाराज
रणविजय सिंह ने सिर्फ २५ हजार सैनिकों के साथ
मीरबाँकी की विशाल और
शस्त्रों से सुसज्जित सेना से
रामलला को मुक्त कराने के लिए आक्रमण किया । 10
दिन तक युद्ध चला और महाराज जन्मभूमि के रक्षार्थ
वीरगति को प्राप्त हो गए। जन्मभूमि में 25 हजार
हिन्दुओं का रक्त फिर बहा।
रानी जयराज कुमारी हंसवर के
स्वर्गीय महाराज
रणविजय सिंह की पत्नी थी।

जन्मभूमि की रक्षा में
महाराज के वीरगति प्राप्त करने के बाद
महारानी ने
उनके कार्य को आगे बढ़ाने का बीड़ा उठाया और
तीन
हजार नारियों की सेना लेकर उन्होंने जन्मभूमि पर
हमला बोल
दिया और हुमायूं के समय तक उन्होंने छापामार युद्ध
जारी रखा। रानी के गुरु
स्वामी महेश्वरानंद जी ने
रामभक्तों को इकठ्ठा करके सेना का प्रबंध करके जयराज
कुमारी की सहायता की। साथ
ही स्वामी महेश्वरानंद
जी ने
सन्यासियों की सेना बनायीं इसमें उन्होंने
२४
हजार सन्यासियों को इकठ्ठा किया और रानी जयराज
कुमारी के साथ , हुमायूँ के समय में कुल १० हमले
जन्मभूमि के उद्धार के लिए किये। १०वें हमले में
शाही सेना को काफी नुकसान हुआ और
जन्मभूमि पर
रानी जयराज कुमारी का अधिकार हो गया।

लेकिन लगभग एक महीने बाद हुमायूँ ने
पूरी ताकत से
शाही सेना फिर भेजी ,इस युद्ध में
स्वामी महेश्वरानंद
और रानी कुमारी जयराज
कुमारी लड़ते हुए
अपनी बची हुई
सेना के साथ मारे गए और जन्मभूमि पर
पुनः मुगलों का अधिकार हो गया। श्रीराम
जन्मभूमि एक बार फिर कुल 24 हजार सन्यासियों और 3
हजार वीर नारियों के रक्त से लाल
हो गयी।
रानी जयराज कुमारी और
स्वामी महेश्वरानंद जी के
बाद यद्ध का नेतृत्व
स्वामी बलरामचारी जी ने
अपने
हाथ में ले लिया।
स्वामी बलरामचारी जी ने गांव
गांव
में घूम कर
रामभक्त हिन्दू युवकों और सन्यासियों की एक
मजबूत
सेना तैयार करने का प्रयास किया और जन्मभूमि के
उद्धारार्थ २० बार आक्रमण किये. इन २० हमलों में काम
से
काम १५ बार स्वामी बलरामचारी ने
जन्मभूमि पर
अपना अधिकार कर लिया मगर ये अधिकार अल्प समय के
लिए रहता था थोड़े दिन बाद
बड़ी शाही फ़ौज
आती थी और जन्मभूमि पुनः मुगलों के
अधीन
हो जाती थी..जन्मभूमि में लाखों हिन्दू
बलिदान होते
रहे।
उस समय का मुग़ल शासक अकबर था।

शाही सेना हर दिन
के इन युद्धों से कमजोर हो रही थी..
अतः अकबर ने
बीरबल और टोडरमल के कहने पर खस
की टाट से उस
चबूतरे पर ३ फीट का एक छोटा सा मंदिर बनवा दिया.
लगातार युद्ध करते रहने के कारण
स्वामी बलरामचारी का स्वास्थ्य
गिरता चला गया था और प्रयाग कुम्भ के अवसर पर
त्रिवेणी तट पर
स्वामी बलरामचारी की मृत्यु
हो गयी ..
इस प्रकार बार-बार के आक्रमणों और हिन्दू जनमानस के
रोष एवं हिन्दुस्थान पर
मुगलों की ढीली होती पकड़
से
बचने का एक राजनैतिक प्रयास की अकबर
की इस
कूटनीति से कुछ दिनों के लिए जन्मभूमि में रक्त
नहीं बहा।

यही क्रम शाहजहाँ के समय
भी चलता रहा। फिर
औरंगजेब के हाथ सत्ता आई वो कट्टर मुसलमान था और
उसने समस्त भारत से काफिरों के सम्पूर्ण सफाये
का संकल्प लिया था। उसने लगभग 10 बार अयोध्या मे
मंदिरों को तोड़ने का अभियान चलकर यहाँ के
सभी प्रमुख मंदिरों की मूर्तियों को तोड़
डाला।

औरंगजेब के हाथ सत्ता आई वो कट्टर मुसलमान था और
उसने समस्त भारत से काफिरों के सम्पूर्ण सफाये
का संकल्प लिया था। उसने लगभग 10 बार अयोध्या मे
मंदिरों को तोड़ने का अभियान चलकर यहाँ के
सभी प्रमुख मंदिरों की मूर्तियों को तोड़
डाला।
औरंगजेब के समय में समर्थ गुरु श्री रामदास
जी महाराज
जी के शिष्य श्री वैष्णवदास
जी ने जन्मभूमि के
उद्धारार्थ 30 बार आक्रमण किये। इन आक्रमणों मे
अयोध्या के आस पास के गांवों के सूर्यवंशीय
क्षत्रियों ने
पूर्ण सहयोग दिया जिनमे सराय के ठाकुर सरदार
गजराज सिंह और राजेपुर के कुँवर गोपाल सिंह
तथा सिसिण्डा के ठाकुर जगदंबा सिंह प्रमुख थे। ये सारे
वीर ये जानते हुए
भी की उनकी सेना और
हथियार
बादशाही सेना के सामने कुछ
भी नहीं है अपने जीवन के
आखिरी समय तक शाही सेना से
लोहा लेते रहे। लम्बे समय
तक चले इन युद्धों में रामलला को मुक्त कराने के लिए
हजारों हिन्दू वीरों ने अपना बलिदान दिया और
अयोध्या की धरती पर उनका रक्त
बहता रहा।
ठाकुर गजराज सिंह और उनके साथी क्षत्रियों के
वंशज
आज भी सराय मे मौजूद हैं। आज
भी फैजाबाद जिले के आस पास के
सूर्यवंशीय क्षत्रिय
सिर पर
पगड़ी नहीं बांधते,जूता नहीं पहनते,
छता नहीं लगाते, उन्होने अपने पूर्वजों के सामने ये
प्रतिज्ञा ली थी की जब
तक श्री राम जन्मभूमि का उद्धार
नहीं कर लेंगे तब तक
जूता नहीं पहनेंगे,छाता नहीं लगाएंगे,
पगड़ी नहीं पहनेंगे। 1640
ईस्वी में औरंगजेब ने मन्दिर
को ध्वस्त करने के लिए जबांज खाँ के नेतृत्व में एक
जबरजस्त सेना भेज दी थी, बाबा वैष्णव
दास के साथ
साधुओं की एक सेना थी जो हर विद्या मे
निपुण थी इसे
चिमटाधारी साधुओं
की सेना भी कहते थे । जब
जन्मभूमि पर जबांज खाँ ने आक्रमण किया तो हिंदुओं के
साथ चिमटाधारी साधुओं
की सेना की सेना मिल
गयी और उर्वशी कुंड नामक जगह पर
जाबाज़
खाँ की सेना से सात दिनों तक भीषण युद्ध
किया ।
चिमटाधारी साधुओं के चिमटे के मार से
मुगलों की सेना भाग खड़ी हुई। इस
प्रकार चबूतरे पर
स्थित मंदिर की रक्षा हो गयी । जाबाज़
खाँ की पराजित सेना को देखकर औरंगजेब बहुत
क्रोधित
हुआ और उसने जाबाज़ खाँ को हटाकर एक अन्य
सिपहसालार सैय्यद हसन अली को 50 हजार
सैनिकों की सेना और तोपखाने के साथ
अयोध्या की ओर
भेजा और साथ मे ये आदेश
दिया की अबकी बार
जन्मभूमि को बर्बाद करके वापस आना है ,यह समय सन्
1680 का था । बाबा वैष्णव दास ने सिक्खों के
गुरु गुरुगोविंद सिंह से युद्ध मे सहयोग के लिए पत्र के
माध्यम संदेश भेजा । पत्र पाकर गुरु गुरुगोविंद सिंह
सेना समेत तत्काल अयोध्या आ गए और ब्रहमकुंड पर
अपना डेरा डाला । ब्रहमकुंड वही जगह
जहां आजकल
गुरुगोविंद सिंह की स्मृति मे
सिक्खों का गुरुद्वारा बना हुआ है। बाबा वैष्णव दास
एवं सिक्खों के गुरुगोविंद सिंह रामलला की रक्षा हेतु
एकसाथ रणभूमि में कूद पड़े ।इन वीरों कें सुनियोजित
हमलों से मुगलो की सेना के पाँव उखड़ गये सैय्यद
हसन
अली भी युद्ध मे मारा गया। औरंगजेब
हिंदुओं की इस
प्रतिक्रिया से स्तब्ध रह गया था और इस युद्ध के बाद
4 साल तक उसने अयोध्या पर हमला करने
की हिम्मत
नहीं की। औरंगजेब ने सन् 1664 मे
एक बार फिर
श्री राम जन्मभूमि पर आक्रमण किया । इस
भीषण हमले में शाही फौज ने लगभग
10 हजार से
ज्यादा हिंदुओं की हत्या कर
दी नागरिकों तक
को नहीं छोड़ा। जन्मभूमि हिन्दुओं के रक्त से लाल
हो गयी। जन्मभूमि के अंदर नवकोण के एक कंदर्प
कूप नाम
का कुआं था, सभी मारे गए हिंदुओं
की लाशें मुगलों ने उसमे
फेककर चारों ओर चहारदीवारी उठा कर
उसे घेर दिया।
आज भी कंदर्पकूप “गज शहीदा” के
नाम से प्रसिद्ध है,और
जन्मभूमि के पूर्वी द्वार पर स्थित है।
शाही सेना ने
जन्मभूमि का चबूतरा खोद डाला बहुत दिनो तक वह
चबूतरा गड्ढे के रूप मे वहाँ स्थित था । औरंगजेब के क्रूर
अत्याचारो की मारी हिन्दू जनता अब उस
गड्ढे पर
ही श्री रामनवमी के दिन
भक्तिभाव से अक्षत,पुष्प और
जल चढाती रहती थी. नबाब
सहादत अली के समय 1763
ईस्वी में जन्मभूमि के रक्षार्थ अमेठी के
राजा गुरुदत्त
सिंह और पिपरपुर के
राजकुमार सिंह के नेतृत्व मे बाबरी ढांचे पर पुनः पाँच
आक्रमण किये गये जिसमें हर बार हिन्दुओं
की लाशें
अयोध्या में गिरती रहीं। लखनऊ गजेटियर
मे कर्नल हंट
लिखता है की
“ लगातार हिंदुओं के हमले से ऊबकर नबाब ने हिंदुओं और
मुसलमानो को एक साथ नमाज पढ़ने और भजन करने
की इजाजत दे दी पर सच्चा मुसलमान
होने के नाते उसने
काफिरों को जमीन नहीं सौंपी।
“लखनऊ गजेटियर पृष्ठ
62” नासिरुद्दीन हैदर के समय मे
मकरही के राजा के
नेतृत्व में जन्मभूमि को पुनः अपने रूप मे लाने के लिए
हिंदुओं के तीन आक्रमण हुये जिसमें
बड़ी संख्या में हिन्दू
मारे गये। परन्तु तीसरे आक्रमण में डटकर
नबाबी सेना का सामना हुआ 8वें दिन हिंदुओं
की शक्ति क्षीण होने
लगी ,जन्मभूमि के मैदान मे हिन्दुओं
और मुसलमानो की लाशों का ढेर लग गया । इस संग्राम
मे भीती,हंसवर,,मकर
ही,खजुरहट,दीयरा
अमेठी के
राजा गुरुदत्त सिंह आदि सम्मलित थे। हारती हुई
हिन्दू
सेना के साथ वीर चिमटाधारी साधुओं
की सेना आ
मिली और इस युद्ध मे शाही सेना के
चिथड़े उड गये और उसे
रौंदते हुए हिंदुओं ने जन्मभूमि पर कब्जा कर लिया।
मगर हर बार की तरह कुछ दिनो के बाद विशाल
शाही सेना ने पुनः जन्मभूमि पर अधिकार कर
लिया और
हजारों हिन्दुओं को मार डाला गया। जन्मभूमि में
हिन्दुओं का रक्त प्रवाहित होने लगा। नावाब
वाजिदअली शाह के समय के समय मे पुनः हिंदुओं ने
जन्मभूमि के उद्धारार्थ आक्रमण किया । फैजाबाद
गजेटियर में कनिंघम ने लिखा
“इस संग्राम मे बहुत ही भयंकर खूनखराबा हुआ
।दो दिन
और रात होने वाले इस भयंकर युद्ध में सैकड़ों हिन्दुओं के
मारे जाने के बावजूद हिन्दुओं नें राम जन्मभूमि पर
कब्जा कर लिया। क्रुद्ध हिंदुओं की भीड़
ने कब्रें तोड़
फोड़ कर बर्बाद कर डाली मस्जिदों को मिसमार करने
लगे और पूरी ताकत से मुसलमानों को मार-मार कर
अयोध्या से खदेड़ना शुरू किया।मगर हिन्दू भीड़ ने
मुसलमान स्त्रियों और बच्चों को कोई
हानि नहीं पहुचाई।
अयोध्या मे प्रलय मचा हुआ था ।
इतिहासकार कनिंघम लिखता है की ये
अयोध्या का सबसे
बड़ा हिन्दू मुस्लिम बलवा था।
हिंदुओं ने अपना सपना पूरा किया और औरंगजेब
द्वारा विध्वंस किए गए चबूतरे को फिर वापस
बनाया । चबूतरे पर तीन फीट
ऊँची खस की टाट से एक
छोटा सा मंदिर बनवा लिया ॥जिसमे
पुनः रामलला की स्थापना की गयी।
कुछ
जेहादी मुल्लाओं को ये बात स्वीकार
नहीं हुई और
कालांतर में जन्मभूमि फिर हिन्दुओं के हाथों से निकल
गयी। सन 1857 की क्रांति मे बहादुर
शाह जफर के समय
में बाबा रामचरण दास ने एक मौलवी आमिर
अली के साथ
जन्मभूमि के उद्धार का प्रयास किया पर 18 मार्च सन
1858 को कुबेर टीला स्थित एक
इमली के पेड़ मे
दोनों को एक साथ अंग्रेज़ो ने फांसी पर लटका दिया ।
जब अंग्रेज़ो ने ये देखा कि ये पेड़ भी देशभक्तों एवं
रामभक्तों के लिए एक स्मारक के रूप मे विकसित
हो रहा है तब उन्होने इस पेड़ को कटवा कर इस
आखिरी निशानी को भी मिटा दिया…
इस प्रकार अंग्रेज़ो की कुटिल नीति के
कारण
रामजन्मभूमि के उद्धार का यह एकमात्र प्रयास विफल
हो गया … अन्तिम बलिदान …
३० अक्टूबर १९९० को हजारों रामभक्तों ने वोट-बैंक के
लालची मुलायम सिंह यादव के
द्वारा खड़ी की गईं अनेक
बाधाओं को पार कर अयोध्या में प्रवेश किया और
विवादित ढांचे के ऊपर भगवा ध्वज फहरा दिया। लेकिन
२ नवम्बर १९९० को मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव
ने
कारसेवकों पर गोली चलाने का आदेश दिया, जिसमें
सैकड़ों रामभक्तों ने अपने जीवन
की आहुतियां दीं।
सरकार ने
मृतकों की असली संख्या छिपायी परन्तु
प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार सरयू तट
रामभक्तों की लाशों से पट गया था। ४ अप्रैल १९९१
को कारसेवकों के हत्यारे, उत्तर प्रदेश के तत्कालीन
मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने
इस्तीफा दिया।
लाखों राम भक्त ६ दिसम्बर को कारसेवा हेतु
अयोध्या पहुंचे और राम जन्मस्थान पर बाबर के
सेनापति द्वार बनाए गए अपमान के प्रतीक
मस्जिदनुमा ढांचे को ध्वस्त कर दिया। परन्तु हिन्दू
समाज के अन्दर व्याप्त घोर संगठनहीनता एवं
नपुंसकता के कारण आज भी हिन्दुओं के सबसे बड़े
आराध्य
भगवान श्रीराम एक फटे हुए तम्बू में विराजमान हैं।
जिस जन्मभूमि के उद्धार के लिए हमारे पूर्वजों ने
अपना रक्त पानी की तरह बहाया। आज
वही हिन्दू
बेशर्मी से इसे “एक विवादित स्थल” कहता है।
सदियों से हिन्दुओं के साथ रहने वाले मुसलमानों ने आज
भी जन्मभूमि पर
अपना दावा नहीं छोड़ा है।
वो यहाँ किसी भी हाल में मन्दिर
नहीं बनने देना चाहते
हैं ताकि हिन्दू हमेशा कुढ़ता रहे और उन्हें
नीचा दिखाया जा सके।
जिस कौम ने अपने
ही भाईयों की भावना को नहीं समझा वो सोचते
हैं
हिन्दू उनकी भावनाओं को समझे। आज तक
किसी भी मुस्लिम संगठन ने जन्मभूमि के
उद्धार के लिए
आवाज नहीं उठायी, प्रदर्शन
नहीं किया और सरकार
पर दबाव नहीं बनाया आज भी वे
बाबरी-विध्वंस
की तारीख 6 दिसम्बर को काला दिन मानते
हैं। और
मूर्ख हिन्दू समझता है कि राम
जन्मभूमि राजनीतिज्ञों और मुकदमों के कारण
उलझा हुआ
है।
ये लेख पढ़कर जिन हिन्दुओं को शर्म
नहीं आयी वो कृपया अपने घरों में राम
का नाम
ना लें…अपने रिश्तेदारों से कह दें कि उनके मरने के बाद
कोई “राम नाम” का नारा भी नहीं लगाएं।
विश्व हिन्दू परिषद के कार्यकर्ता एक दिन श्रीराम
जन्मभूमि का उद्धार कर वहाँ मन्दिर अवश्य बनाएंगे।इस भारत को अखण्ड बनाकर एक बार फिर से रामराज्य लाएंगे
चाहे अभी और कितना ही बलिदान
क्यों ना देना पडे।

कृपया आगे फॉरवर्ड करे
आपका बहुत आभारी रहूँगा

जय श्री राम जय जय श्री राम
🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩

Aa

Posted in रामायण - Ramayan

चौदह वर्ष के वनवास में राम कहां-कहां रहे?

प्रभु श्रीराम को 14 वर्ष का वनवास हुआ। इस वनवास काल में श्रीराम ने कई ऋषि-मुनियों से शिक्षा और विद्या ग्रहण की, तपस्या की और भारत के आदिवासी, वनवासी और तमाम तरह के भारतीय समाज को संगठित कर उन्हें धर्म के मार्ग पर चलाया। संपूर्ण भारत को उन्होंने एक ही विचारधारा के सूत्र में बांधा, लेकिन इस दौरान उनके साथ कुछ ऐसा भी घटा जिसने उनके जीवन को बदल कर रख दिया।

रामायण में उल्लेखित और अनेक
अनुसंधानकर्ताओं के अनुसार जब भगवान राम को वनवास हुआ तब उन्होंने अपनी यात्रा अयोध्या से प्रारंभ करते हुए रामेश्वरम और उसके बाद श्रीलंका में समाप्त की। इस दौरान उनके साथ जहां भी जो घटा उनमें से 200 से अधिक घटना स्थलों की पहचान की गई है।

जाने-माने इतिहासकार और पुरातत्वशास्त्री अनुसंधानकर्ता डॉ. राम अवतार ने श्रीराम और सीता के जीवन की घटनाओं से जुड़े ऐसे 200 से भी अधिक स्थानों का पता लगाया है, जहां आज भी तत्संबंधी स्मारक स्थल विद्यमान हैं, जहां श्रीराम और सीता रुके या रहे थे। वहां के स्मारकों, भित्तिचित्रों, गुफाओं आदि स्थानों के समय-काल की जांच-पड़ताल वैज्ञानिक तरीकों से की। आओ जानते हैं कुछ प्रमुख स्थानों के बारे में…

1.केवट प्रसंग :राम को जब वनवास हुआ तो वाल्मीकि रामायण और शोधकर्ताओं के अनुसार वे सबसे पहले तमसा नदी पहुंचे, जो अयोध्या से 20 किमी दूर है। इसके बाद उन्होंने गोमती नदी पार की और प्रयागराज (इलाहाबाद) से 20-22 किलोमीटर दूर वे श्रृंगवेरपुर पहुंचे, जो निषादराज गुह का राज्य था। यहीं पर गंगा के तट पर उन्होंने केवट से गंगा पार करने को कहा था।

‘सिंगरौर’ : इलाहाबाद से 22 मील (लगभग 35.2 किमी) उत्तर-पश्चिम की ओर स्थित ‘सिंगरौर’ नामक स्थान ही प्राचीन समय में श्रृंगवेरपुर नाम से परिज्ञात था। रामायण में इस नगर का उल्लेख आता है। यह नगर गंगा घाटी के तट पर स्थित था। महाभारत में इसे ‘तीर्थस्थल’ कहा गया है।

‘कुरई’ :इलाहाबाद जिले में ही कुरई नामक एक स्थान है, जो सिंगरौर के निकट गंगा नदी के तट पर स्थित है। गंगा के उस पार सिंगरौर तो इस पार कुरई। सिंगरौर में गंगा पार करने के पश्चात श्रीराम इसी स्थान पर उतरे थे।

इस ग्राम में एक छोटा-सा मंदिर है, जो स्थानीय लोकश्रुति के अनुसार उसी स्थान पर है, जहां गंगा को पार करने के पश्चात राम, लक्ष्मण और सीताजी ने कुछ देर विश्राम किया था।

2.चित्रकूट के घाट पर :कुरई से आगे चलकर श्रीराम अपने भाई लक्ष्मण और पत्नी सहित प्रयाग पहुंचे थे। प्रयाग को वर्तमान में इलाहाबाद कहा जाता है। यहां गंगा-जमुना का संगम स्थल है। हिन्दुओं का यह सबसे बड़ा तीर्थस्थान है। प्रभु श्रीराम ने संगम के समीप यमुना नदी को पार किया और फिर पहुंच गए चित्रकूट। यहां स्थित स्मारकों में शामिल हैं, वाल्मीकि आश्रम, मांडव्य आश्रम, भरतकूप इत्यादि।

चित्रकूट में श्रीराम के दुर्लभ प्रमाण,,चित्रकूट वह स्थान है, जहां राम को मनाने के लिए भरत अपनी सेना के साथ पहुंचते हैं। तब जब दशरथ का देहांत हो जाता है। भारत यहां से राम की चरण पादुका ले जाकर उनकी चरण पादुका रखकर राज्य करते हैं।

3.अत्रि ऋषि का आश्रम :चित्रकूट के पास ही सतना (मध्यप्रदेश) स्थित अत्रि ऋषि का आश्रम था। महर्षि अत्रि चित्रकूट के तपोवन में रहा करते थे। वहां श्रीराम ने कुछ वक्त बिताया। अत्रि ऋषि ऋग्वेद के पंचम मंडल के द्रष्टा हैं। अत्रि ऋषि की पत्नी का नाम है अनुसूइया, जो दक्ष प्रजापति की चौबीस कन्याओं में से एक थी।

अत्रि पत्नी अनुसूइया के तपोबल से ही भगीरथी गंगा की एक पवित्र धारा चित्रकूट में प्रविष्ट हुई और ‘मंदाकिनी’ नाम से प्रसिद्ध हुई। ब्रह्मा, विष्णु व महेश ने अनसूइया के सतीत्व की परीक्षा ली थी, लेकिन तीनों को उन्होंने अपने तपोबल से बालक बना दिया था। तब तीनों देवियों की प्रार्थना के बाद ही तीनों देवता बाल रूप से मुक्त हो पाए थे। फिर तीनों देवताओं के वरदान से उन्हें एक पुत्र मिला, जो थे महायोगी ‘दत्तात्रेय’। अत्रि ऋषि के दूसरे पुत्र का नाम था ‘दुर्वासा’। दुर्वासा ऋषि को कौन नहीं जानता?

अत्रि के आश्रम के आस-पास राक्षसों का समूह रहता था। अत्रि, उनके भक्तगण व माता अनुसूइया उन राक्षसों से भयभीत रहते थे। भगवान श्रीराम ने उन राक्षसों का वध किया। वाल्मीकि रामायण के अयोध्या कांड में इसका वर्णन मिलता है।

प्रातःकाल जब राम आश्रम से विदा होने लगे तो अत्रि ऋषि उन्हें विदा करते हुए बोले, ‘हे राघव! इन वनों में भयंकर राक्षस तथा सर्प निवास करते हैं, जो मनुष्यों को नाना प्रकार के कष्ट देते हैं। इनके कारण अनेक तपस्वियों को असमय ही काल का ग्रास बनना पड़ा है। मैं चाहता हूं, तुम इनका विनाश करके तपस्वियों की रक्षा करो।’

राम ने महर्षि की आज्ञा को शिरोधार्य कर उपद्रवी राक्षसों तथा मनुष्य का प्राणांत करने वाले भयानक सर्पों को नष्ट करने का वचन देखर सीता तथा लक्ष्मण के साथ आगे के लिए प्रस्थान किया।

4.दंडकारण्य :अत्रि ऋषि के आश्रम में कुछ दिन रुकने के बाद श्रीराम ने मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के घने जंगलों को अपना आश्रय स्थल बनाया। यह जंगल क्षेत्र था दंडकारण्य। ‘अत्रि-आश्रम’ से ‘दंडकारण्य’ आरंभ हो जाता है। छत्तीसगढ़ के कुछ हिस्सों पर राम के नाना और कुछ पर बाणासुर का राज्य था। यहां के नदियों, पहाड़ों, सरोवरों एवं गुफाओं में राम के रहने के सबूतों की भरमार है। यहीं पर राम ने अपना वनवास काटा था। यहां वे लगभग 10 वर्षों से भी अधिक समय तक रहे थे।

‘अत्रि-आश्रम’ से भगवान राम मध्यप्रदेश के सतना पहुंचे, जहां ‘रामवन’ हैं। मध्यप्रदेश एवं छत्तीसगढ़ क्षेत्रों में नर्मदा व महानदी नदियों के किनारे 10 वर्षों तक उन्होंने कई ऋषि आश्रमों का भ्रमण किया। दंडकारण्य क्षेत्र तथा सतना के आगे वे विराध सरभंग एवं सुतीक्ष्ण मुनि आश्रमों में गए। बाद में सतीक्ष्ण आश्रम वापस आए। पन्ना, रायपुर, बस्तर और जगदलपुर में कई स्मारक विद्यमान हैं। उदाहरणत: मांडव्य आश्रम, श्रृंगी आश्रम, राम-लक्ष्मण मंदिर आदि।

राम वहां से आधुनिक जबलपुर, शहडोल (अमरकंटक) गए होंगे। शहडोल से पूर्वोत्तर की ओर सरगुजा क्षेत्र है। यहां एक पर्वत का नाम ‘रामगढ़’ है। 30 फीट की ऊंचाई से एक झरना जिस कुंड में गिरता है, उसे ‘सीता कुंड’ कहा जाता है। यहां वशिष्ठ गुफा है। दो गुफाओं के नाम ‘लक्ष्मण बोंगरा’ और ‘सीता बोंगरा’ हैं। शहडोल से दक्षिण-पूर्व की ओर बिलासपुर के आसपास छत्तीसगढ़ है।

वर्तमान में करीब 92,300 वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल में फैले इस इलाके के पश्चिम में अबूझमाड़ पहाड़ियां तथा पूर्व में इसकी सीमा पर पूर्वी घाट शामिल हैं। दंडकारण्य में छत्तीसगढ़, ओडिशा एवं आंध्रप्रदेश राज्यों के हिस्से शामिल हैं। इसका विस्तार उत्तर से दक्षिण तक करीब 320 किमी तथा पूर्व से पश्चिम तक लगभग 480 किलोमीटर है।

दंडक राक्षस के कारण इसका नाम दंडकारण्य पड़ा। यहां रामायण काल में रावण के सहयोगी बाणासुर का राज्य था। उसका इन्द्रावती, महानदी और पूर्व समुद्र तट, गोइंदारी (गोदावरी) तट तक तथा अलीपुर, पारंदुली, किरंदुली, राजमहेन्द्री, कोयापुर, कोयानार, छिन्दक कोया तक राज्य था। वर्तमान बस्तर की ‘बारसूर’ नामक समृद्ध नगर की नींव बाणासुर ने डाली, जो इन्द्रावती नदी के तट पर था। यहीं पर उसने ग्राम देवी कोयतर मां की बेटी माता माय (खेरमाय) की स्थापना की। बाणासुर द्वारा स्थापित देवी दांत तोना (दंतेवाड़िन) है। यह क्षेत्र आजकल दंतेवाड़ा के नाम से जाना जाता है। यहां वर्तमान में गोंड जाति निवास करती है तथा समूचा दंडकारण्य अब नक्सलवाद की चपेट में है।

इसी दंडकारण्य का ही हिस्सा है आंध्रप्रदेश का एक शहर भद्राचलम। गोदावरी नदी के तट पर बसा यह शहर सीता-रामचंद्र मंदिर के लिए प्रसिद्ध है। यह मंदिर भद्रगिरि पर्वत पर है। कहा जाता है कि श्रीराम ने अपने वनवास के दौरान कुछ दिन इस भद्रगिरि पर्वत पर ही बिताए थे।

स्थानीय मान्यता के मुताबिक दंडकारण्य के आकाश में ही रावण और जटायु का युद्ध हुआ था और जटायु के कुछ अंग दंडकारण्य में आ गिरे थे। ऐसा माना जाता है कि दुनियाभर में सिर्फ यहीं पर जटायु का एकमात्र मंदिर है।

दंडकारण्य क्षे‍त्र की चर्चा पुराणों में विस्तार से मिलती है। इस क्षेत्र की उत्पत्ति कथा महर्षि अगस्त्य मुनि से जुड़ी हुई है। यहीं पर उनका महाराष्ट्र के नासिक के अलावा एक आश्रम था।

5.पंचवटी में राम :दण्डकारण्य में मुनियों के आश्रमों में रहने के बाद श्रीराम कई नदियों, तालाबों, पर्वतों और वनों को पार करने के पश्चात नासिक में अगस्त्य मुनि के आश्रम गए। मुनि का आश्रम नासिक के पंचवटी क्षेत्र में था। त्रेतायुग में लक्ष्मण व सीता सहित श्रीरामजी ने वनवास का कुछ समय यहां बिताया।

उस काल में पंचवटी जनस्थान या दंडक वन के अंतर्गत आता था। पंचवटी या नासिक से गोदावरी का उद्गम स्थान त्र्यंम्बकेश्वर लगभग 20 मील (लगभग 32 किमी) दूर है। वर्तमान में पंचवटी भारत के महाराष्ट्र के नासिक में गोदावरी नदी के किनारे स्थित विख्यात धार्मिक तीर्थस्थान है।

अगस्त्य मुनि ने श्रीराम को अग्निशाला में बनाए गए शस्त्र भेंट किए। नासिक में श्रीराम पंचवटी में रहे और गोदावरी के तट पर स्नान-ध्यान किया। नासिक में गोदावरी के तट पर पांच वृक्षों का स्थान पंचवटी कहा जाता है। ये पांच वृक्ष थे- पीपल, बरगद, आंवला, बेल तथा अशोक वट। यहीं पर सीता माता की गुफा के पास पांच प्राचीन वृक्ष हैं जिन्हें पंचवट के नाम से जाना जाता है। माना जाता है कि इन वृक्षों को राम-सीमा और लक्ष्मण ने अपने हाथों से लगाया था।

यहीं पर लक्ष्मण ने शूर्पणखा की नाक काटी थी। राम-लक्ष्मण ने खर व दूषण के साथ युद्ध किया था। यहां पर मारीच वध स्थल का स्मारक भी अस्तित्व में है। नासिक क्षेत्र स्मारकों से भरा पड़ा है, जैसे कि सीता सरोवर, राम कुंड, त्र्यम्बकेश्वर आदि। यहां श्रीराम का बनाया हुआ एक मंदिर खंडहर रूप में विद्यमान है।

मरीच का वध पंचवटी के निकट ही मृगव्याधेश्वर में हुआ था। गिद्धराज जटायु से श्रीराम की मैत्री भी यहीं हुई थी। वाल्मीकि रामायण, अरण्यकांड में पंचवटी का मनोहर वर्णन मिलता है।

6.सीताहरण का स्थान ‘सर्वतीर्थ’ :नासिक क्षेत्र में शूर्पणखा, मारीच और खर व दूषण के वध के बाद ही रावण ने सीता का हरण किया और जटायु का भी वध किया जिसकी स्मृति नासिक से 56 किमी दूर ताकेड गांव में ‘सर्वतीर्थ’ नामक स्थान पर आज भी संरक्षित है।

जटायु की मृत्यु सर्वतीर्थ नाम के स्थान पर हुई, जो नासिक जिले के इगतपुरी तहसील के ताकेड गांव में मौजूद है। इस स्थान को सर्वतीर्थ इसलिए कहा गया, क्योंकि यहीं पर मरणासन्न जटायु ने सीता माता के बारे में बताया। रामजी ने यहां जटायु का अंतिम संस्कार करके पिता और जटायु का श्राद्ध-तर्पण किया था। इसी तीर्थ पर लक्ष्मण रेखा थी।

पर्णशाला : पर्णशाला आंध्रप्रदेश में खम्माम जिले के भद्राचलम में स्थित है। रामालय से लगभग 1 घंटे की दूरी पर स्थित पर्णशाला को ‘पनशाला’ या ‘पनसाला’ भी कहते हैं। हिन्दुओं के प्रमुख धार्मिक स्थलों में से यह एक है। पर्णशाला गोदावरी नदी के तट पर स्थित है। मान्यता है कि यही वह स्थान है, जहां से सीताजी का हरण हुआ था। हालांकि कुछ मानते हैं कि इस स्थान पर रावण ने अपना विमान उतारा था।

इस स्थल से ही रावण ने सीता को पुष्पक विमान में बिठाया था यानी सीताजी ने धरती यहां छोड़ी थी। इसी से वास्तविक हरण का स्थल यह माना जाता है। यहां पर राम-सीता का प्राचीन मंदिर है।

7.सीता की खोज : सर्वतीर्थ जहां जटायु का वध हुआ था, वह स्थान सीता की खोज का प्रथम स्थान था। उसके बाद श्रीराम-लक्ष्मण तुंगभद्रा तथा कावेरी नदियों के क्षेत्र में पहुंच गए। तुंगभद्रा एवं कावेरी नदी क्षेत्रों के अनेक स्थलों पर वे सीता की खोज में गए।

8.शबरी का आश्रम :तुंगभद्रा और कावेरी नदी को पार करते हुए राम और लक्ष्‍मण चले सीता की खोज में। जटायु और कबंध से मिलने के पश्‍चात वे ऋष्यमूक पर्वत पहुंचे। रास्ते में वे पम्पा नदी के पास शबरी आश्रम भी गए, जो आजकल केरल में स्थित है।

पम्पा नदी भारत के केरल राज्य की तीसरी सबसे बड़ी नदी है। इसे ‘पम्बा’ नाम से भी जाना जाता है। ‘पम्पा’ तुंगभद्रा नदी का पुराना नाम है। श्रावणकौर रजवाड़े की सबसे लंबी नदी है। इसी नदी के किनारे पर हम्पी बसा हुआ है। यह स्थान बेर के वृक्षों के लिए आज भी प्रसिद्ध है। पौराणिक ग्रंथ ‘रामायण’ में भी हम्पी का उल्लेख वानर राज्य किष्किंधा की राजधानी के तौर पर किया गया है।

9.हनुमान से भेंट :मलय पर्वत और चंदन वनों को पार करते हुए वे ऋष्यमूक पर्वत की ओर बढ़े। यहां उन्होंने हनुमान और सुग्रीव से भेंट की, सीता के आभूषणों को देखा और श्रीराम ने बाली का वध किया।

ऋष्यमूक पर्वत वाल्मीकि रामायण में वर्णित वानरों की राजधानी किष्किंधा के निकट स्थित था। इसी पर्वत पर श्रीराम की हनुमान से भेंट हुई थी। बाद में हनुमान ने राम और सुग्रीव की भेंट करवाई, जो एक अटूट मित्रता बन गई। जब महाबली बाली अपने भाई सुग्रीव को मारकर किष्किंधा से भागा तो वह ऋष्यमूक पर्वत पर ही आकर छिपकर रहने लगा था।

ऋष्यमूक पर्वत तथा किष्किंधा नगर कर्नाटक के हम्पी, जिला बेल्लारी में स्थित है। विरुपाक्ष मंदिर के पास से ऋष्यमूक पर्वत तक के लिए मार्ग जाता है। यहां तुंगभद्रा नदी (पम्पा) धनुष के आकार में बहती है। तुंगभद्रा नदी में पौराणिक चक्रतीर्थ माना गया है। पास ही पहाड़ी के नीचे श्रीराम मंदिर है। पास की पहाड़ी को ‘मतंग पर्वत’ माना जाता है। इसी पर्वत पर मतंग ऋषि का आश्रम था।

10.कोडीकरई :हनुमान और सुग्रीव से मिलने के बाद श्रीराम ने अपनी सेना का गठन किया और लंका की ओर चल पड़े। मलय पर्वत, चंदन वन, अनेक नदियों, झरनों तथा वन-वाटिकाओं को पार करके राम और उनकी सेना ने समुद्र की ओर प्रस्थान किया। श्रीराम ने पहले अपनी सेना को कोडीकरई में एकत्रित किया।

तमिलनाडु की एक लंबी तटरेखा है, जो लगभग 1,000 किमी तक विस्‍तारित है। कोडीकरई समुद्र तट वेलांकनी के दक्षिण में स्थित है, जो पूर्व में बंगाल की खाड़ी और दक्षिण में पाल्‍क स्‍ट्रेट से घिरा हुआ है।

लेकिन राम की सेना ने उस स्थान के सर्वेक्षण के बाद जाना कि यहां से समुद्र को पार नहीं किया जा सकता और यह स्थान पुल बनाने के लिए उचित भी नहीं है, तब श्रीराम की सेना ने रामेश्वरम की ओर कूच किया।

11.रामेश्‍वरम : रामेश्‍वरम समुद्र तट एक शांत समुद्र तट है और यहां का छिछला पानी तैरने और सन बेदिंग के लिए आदर्श है। रामेश्‍वरम प्रसिद्ध हिन्दू तीर्थ केंद्र है। महाकाव्‍य रामायण के अनुसार भगवान श्रीराम ने लंका पर चढ़ाई करने के पहले यहां भगवान शिव की पूजा की थी। रामेश्वरम का शिवलिंग श्रीराम द्वारा स्थापित शिवलिंग है।

12.धनुषकोडी :वाल्मीकि के अनुसार तीन दिन की खोजबीन के बाद श्रीराम ने रामेश्वरम के आगे समुद्र में वह स्थान ढूंढ़ निकाला, जहां से आसानी से श्रीलंका पहुंचा जा सकता हो। उन्होंने नल और नील की मदद से उक्त स्थान से लंका तक का पुनर्निर्माण करने का फैसला लिया।

छेदुकराई तथा रामेश्वरम के इर्द-गिर्द इस घटना से संबंधित अनेक स्मृतिचिह्न अभी भी मौजूद हैं। नाविक रामेश्वरम में धनुषकोडी नामक स्थान से यात्रियों को रामसेतु के अवशेषों को दिखाने ले जाते हैं।

धनुषकोडी भारत के तमिलनाडु राज्‍य के पूर्वी तट पर रामेश्वरम द्वीप के दक्षिणी किनारे पर स्थित एक गांव है। धनुषकोडी पंबन के दक्षिण-पूर्व में स्थित है। धनुषकोडी श्रीलंका में तलैमन्‍नार से करीब 18 मील पश्‍चिम में है।

इसका नाम धनुषकोडी इसलिए है कि यहां से श्रीलंका तक वानर सेना के माध्यम से नल और नील ने जो पुल (रामसेतु) बनाया था उसका आकार मार्ग धनुष के समान ही है। इन पूरे इलाकों को मन्नार समुद्री क्षेत्र के अंतर्गत माना जाता है। धनुषकोडी ही भारत और श्रीलंका के बीच एकमात्र स्‍थलीय सीमा है, जहां समुद्र नदी की गहराई जितना है जिसमें कहीं-कहीं भूमि नजर आती है।

दरअसल, यहां एक पुल डूबा पड़ा है। 1860 में इसकी स्पष्ट पहचान हुई और इसे हटाने के कई प्रयास किए गए। अंग्रेज इसे एडम ब्रिज कहने लगे तो स्थानीय लोगों में भी यह नाम प्रचलित हो गया। अंग्रेजों ने कभी इस पुल को क्षतिग्रस्त नहीं किया लेकिन आजाद भारत में पहले रेल ट्रैक निर्माण के चक्कर में बाद में बंदरगाह बनाने के चलते इस पुल को क्षतिग्रस्त किया गया।

30मील लंबा और सवा मील चौड़ा यह रामसेतु 5 से 30 फुट तक पानी में डूबा है। श्रीलंका सरकार इस डूबे हुए पुल (पम्बन से मन्नार) के ऊपर भू-मार्ग का निर्माण कराना चाहती है जबकि भारत सरकार नौवहन हेतु उसे तोड़ना चाहती है। इस कार्य को भारत सरकार ने सेतुसमुद्रम प्रोजेक्ट का नाम दिया है। श्रीलंका के ऊर्जा मंत्री श्रीजयसूर्या ने इस डूबे हुए रामसेतु पर भारत और श्रीलंका के बीच भू-मार्ग का निर्माण कराने का प्रस्ताव रखा था।

तेरहवांपड़ाव ‘नुवारा एलिया’ पर्वत श्रृंखला : – वाल्मीकिय-रामायण अनुसार श्रीलंका के मध्य में रावण का महल था। ‘नुवारा एलिया’ पहाड़ियों से लगभग 90 किलोमीटर दूर बांद्रवेला की तरफ मध्य लंका की ऊंची पहाड़ियों के बीचोबीच सुरंगों तथा गुफाओं के भंवरजाल मिलते हैं। यहां ऐसे कई पुरातात्विक अवशेष मिलते हैं जिनकी कार्बन डेटिंग से इनका काल निकाला गया है।

श्रीलंका में नुआरा एलिया पहाड़ियों के आसपास स्थित रावण फॉल, रावण गुफाएं, अशोक वाटिका, खंडहर हो चुके विभीषण के महल आदि की पुरातात्विक जांच से इनके रामायण काल के होने की पुष्टि होती है। आजकल भी इन स्थानों की भौगोलिक विशेषताएं, जीव, वनस्पति तथा स्मारक आदि बिलकुल वैसे ही हैं जैसे कि रामायण में वर्णित किए गए हैं।

श्रीवाल्मीकि ने रामायण की संरचना श्रीराम के राज्याभिषेक के बाद वर्ष 5075 ईपू के आसपास की होगी (1/4/1 -2)। श्रुति स्मृति की प्रथा के माध्यम से पीढ़ी-दर-पीढ़ी परिचलित रहने के बाद वर्ष 1000 ईपू के आसपास इसको लिखित रूप दिया गया होगा। इस निष्कर्ष के बहुत से प्रमाण मिलते हैं।

रामायण की कहानी के संदर्भ निम्नलिखित रूप में उपलब्ध हैं-

  • कौटिल्य का अर्थशास्त्र (चौथी शताब्दी ईपू)
  • बौ‍द्ध साहित्य में दशरथ जातक (तीसरी शताब्दी ईपू)

  • कौशाम्बी में खुदाई में मिलीं टेराकोटा (पक्की मिट्‍टी) की मूर्तियां (दूसरी शताब्दी ईपू)

  • नागार्जुनकोंडा (आंध्रप्रदेश) में खुदाई में मिले स्टोन पैनल (तीसरी शताब्दी)

  • नचार खेड़ा (हरियाणा) में मिले टेराकोटा पैनल (चौथी शताब्दी)

  • श्रीलंका के प्रसिद्ध कवि कुमार दास की काव्य रचना ‘जानकी हरण’ (सातवीं शताब्दी)

संदर्भ ग्रंथ :
1.वाल्मीकि रामायण
2.वैदिक युग एवं रामायण काल की ऐतिहासिकता (सरोज बाला, अशोक भटनागर, कुलभूषण मिश्रा

संजय गुप्ता

Posted in रामायण - Ramayan

श्रीरामकथा के अल्‍पज्ञात दुर्लभ प्रसंग :- त्रिभुवन में मेघनाद (इन्‍द्रजित्‌) का वध कौन कर सकता था ?

हरि अनंत हरिकथा अनंता। कहहिं सुनहिं बहुबिधि सब संता।
रामचन्‍द्र के चरित सुहाए। कलप कोटि लागि जाहिं न गाए॥

श्रीरामजी की अनंत श्रीरामकथाओं में मेघनाद वध की कथा विभिन्‍न रामायणों में एक जैसी वर्णित है। मेघनाद वध लक्ष्‍मणजी द्वारा हुआ ऐसा क्‍यों ? इसके क्‍या कारण थे ? श्रीलक्ष्‍मण द्वारा ही मेघनाद का वध किस प्रकार किया गया आदि इस कथा प्रसंग में वर्णित है।

महर्षि विश्‍वामित्रजी ने ताड़का वध के उपरांत श्रीराम-लक्ष्‍मण को एक विशेष मंत्र द्वारा दीक्षित किया। क्‍योंकि ये दोनों भाई अत्‍यन्‍त ही छोटे बालक थे। इस मंत्र को देने से इन्‍हें वन में क्षुधा व प्‍यास से मुक्ति मिल गई तथा मंत्र के प्रभाव से शक्ति एवं तेज प्राप्‍त हुआ।

तब रिषि निज नाथहिं जियँ चीन्‍ही। बिद्या निधि कहुँ बिद्या दीन्‍ही॥
जाते लाग न छुधा पिपासा। अतुलित बल तनु तेज प्रकासा॥
श्रीरामचरितमानस बालकाण्‍ड 208 (ख) 4

महर्षि विश्‍वामित्र ने प्रभु (श्रीराम-लक्ष्‍मण को विद्या का भंण्‍डार समझते हुए भी (नर लीला को पूर्ण करने के लिये ऐसी विद्या दी, जिससे भूख-प्‍यास न लगे और शरीर में अतुलित बल और तेज का प्रकाश हो।

इसी प्रकार का वर्णन वाल्‍मीकीय रामायण में भी वर्णित है।
क्षुत्‍पिपासे न ते राम भविष्‍येते नरोत्तम।
बला मतिबलां चैव पठतस्‍तात राधव॥
गृहाण सर्वलोकस्‍य गुप्‍तये रधुनंदन । वा.रा.बाल सर्ग 22-8

हे नरश्रेष्‍ठ श्रीराम लक्ष्‍मण सहित तात रघुनंदन! बला और अतिबला का अभ्‍यास कर लेने पर तुम्‍हें भूख प्‍यास का भी कष्‍ट नहीं होगा। अतः रधुकुल को आनन्‍दित करने वाले राम! तुम सम्‍पूर्ण जगत्‌ की रक्षा के लिये इन दोनो विद्याओं को ग्रहण करों। ये दोनों शक्‍तियाँ अयोध्‍यानगरी से डेढ़ योजन दूर जाकर पवित्र पावन सरयूनदी के दक्षिण तट पर महर्षि विश्‍वामित्र ने श्रीराम लक्ष्‍मण को दी थी। ये शक्तियाँ ब्रह्मा जी की पुत्रियाँ थी। इनके प्राप्‍त होने पर श्रीराम लक्ष्‍मण को राक्षसों के वध तथा 14 वर्ष के बनवास में भूख प्‍यास का कष्‍ट नहीं हुआ ।

इन कथाओं का मेघनाद वध से अत्‍यन्‍त ही निकट का संबंध है। पौराणिक कथानकों के अनुसार मेघनाद को माता दुर्गा ने वरदान दिया था कि तुझे वही व्‍यक्‍ति मारेगा जिसने 12 वर्षों तक नींद-नारी और अन्‍न का त्‍याग कर रखा हो।

आनन्‍द रामायण में मेघनाद को ब्रह्माजी के वरदान तथा मृत्‍यु के संबंध में उल्‍लेख है –

यस्‍तु द्वादश वर्षाणि निद्राहारविवर्जितः।
तनैव मृत्‍युर्निर्दिष्‍टा ब्रह्मणाऽस्‍य दुरात्‍मनः॥
आ. रा.-सारकाण्‍ड 11-176

लगभग ऐसा ही वर्णन नेपाली भानुभक्‍त रामायण में भी वर्णित हैं –

येती बिन्‍ति सुनी हुकूम हन गयो, जान्‍छू म मार्छू भनी॥
फेरी बिन्‍ति विभीषणै सरि गन्‍या,यस्‍तोछ यो वीर भनी।
खाँदै कत्ति नखाइ कृति नसुती, रात दिन्‌ नियम्‌ खुप गरी।
जस्‍को वर्त छ बाहृ वर्ष ज पुरूष, तेरा अगाड़ी सटी॥
भानुभक्‍त रामायण 19 वी शती युद्धकाण्‍ड 193

मेघनाद वध के प्रसंग में विभीषण ने श्रीराम से मार्ग रोककर कहा कि लक्ष्‍मण ऐसा वीर है जिसने बिना खाये पीये निरन्‍तर बारह वर्ष तक एक व्रत किया है। इद्रजित्‌ (मेघनाद)एक मात्र लक्ष्‍मण के हाथों ही मारा जायेगा। ऐसा ही वरदान है। अतः श्रीराम लक्ष्‍मण को मेघनाद वध करने की आज्ञा दे।

गोस्‍वामी तुलसीदासजी कृत रामायण वेंकटेश्‍वर स्‍टीम प्रेस बम्‍बई टीकाकार पं. ज्‍वालाप्रसादजी मिश्र कृत टीका में लंकाकाण्‍ड में भी मेघनाद को देवी भगवती द्वारा 20 वर्ष की अवस्‍था में कठोर तप उपरांत वर दिया। वरदान में एक अद्‌भुत रथ उसे दे दिया जो किसी को युद्ध में मेघनाद को बैठा देख नहीं सकता था। उसे उसकी मृत्‍यु का भी कारण बताया गया था –

दोहा- जो त्‍यागे द्वादश नींद अन्न अरू नारि।
तासो मत करिये समर, सो तोहि डारै मारि॥
रामायण-वेकटेश्‍वर प्रेस बुम्‍बई लंकाकाण्‍ड दो-106

मेघनाद जिसने बारह वर्ष तक अन्‍न, नींद एवं स्‍त्री (नींद एवं नारी) का त्‍याग किया हो उससे युद्ध मत करना। जो इन तीनों को त्‍याग देगा वही तेरा काल बनकर वध करेगा।

एक समय श्रीराम अपनी सभा में विराजित होकर मुनियों के आगमन पर उनसे अनेेक कथाएँ सुन रहे थे। उस समय उन्‍होंने दक्षिण में निवास करने वाले अगस्‍त्‍य ऋषि से राक्षसों के इतिहास को बताने का आग्रह किया। ’’बँगला कृत्तिवास रामायण’’ में मेघनाद वध अगस्‍त्‍य ऋषि ने बड़ा ही रोचक प्रसंग का वर्णन किया है। मुनि ने कहा -रामचन्‍द्र तुमसे कहता हूँ कि इन्‍द्रजित्‌ (मेघनाद) जैसा वीर त्रिभुवन में नहीं है। जो व्‍यक्‍ति चौदह वर्ष निंद्रित नहीं हुआ, चौदह वर्ष जिसने स्‍त्री सुख नहीं देखा, जो वीर चौदह वर्ष अनाहारी रहा, वहीं व्‍यक्‍ति मेघनाद का वध कर सकता था।

चौद्द वर्ष येर वीर थाके अनाहारे। इन्‍द्रजिते बधिकारे सेइ जन पारे।
श्रीराम वलेन मुनि, कि कहिले मुनि। चौद्द वर्ष लक्ष्‍मणेरे फल दिछि आमि॥
बँगला कृत्तिवास रामायण उत्तकाण्‍ड 30

श्रीराम ने कहा-मुनि आप क्‍या कह रहे है ? हम चौदह वर्ष तक लक्ष्‍मण का फल देते रहे है। सीता सहित वह चौदह वर्ष भ्रमण करता रहा है, तो कैसे लक्ष्‍मण ने सीता मुख नहीं देखा ? हम सीता के साथ रहा करते थे। लक्ष्‍मण दूसरी कुटिया में रहते थे फिर वह चौदह वर्ष तक कैसे निद्रित नहीं रहे ? हम कैसे इस बात पर विश्‍वास करें।

अगस्‍त्‍य ने कहा-हे राम तुम लक्ष्‍मण को सभा में ले आओ तब इस बात की सत्‍यता की परीक्षा हो जावेगी। यह बात सत्‍य है या असत्‍य श्रीराम ने मंत्री सुमन्‍त्रजी कहा -शीघ्र जाकर लक्ष्‍मण को सभा में उपस्‍थित करो। सुमन्‍त्रजी जब लक्ष्‍मण जी के पास गये तब लक्ष्‍मण जी माता सुमित्रा की गोद में बैठे थे । सुमन्‍त्रजी ने श्रीरघुनाथ का सभा में पहुँचने हेतु सन्‍देश सुनाया।

लक्ष्‍मणजी ने मन में यह विचार आया कि श्रीराम संभवतः मेरे वन में हुए दुःखों के बारे में पूछेंगे। श्रीराम के समक्ष सुमन्‍त्रजी सहित लक्ष्‍मण सभा में जाकर उन्‍हें प्रणाम किया। श्रीरामचन्‍द्रजी ने लक्ष्‍मणजी से कहा- मेरी शपथ है ,मैं जो बात पूछूँ उसे सभा के समक्ष बताओ। हम तीनों चौदह वर्ष बनवास में एक साथ रहे। हे लक्ष्‍मण तुमने सीता का मुख कैसे नहीं देखा ? मुझे कुटिया में छोड़कर तुम रोज फल लाया करते थे। हमें फल देकर तुम कैसे अनाहारी रहते थे ? वन में तुम्‍हारी दूसरी कुटिया में रहते हुए, चौदह वर्ष तुम कैसे सोये नहीं, निंद्रित नहीं हुए ?

इन सब बातों को सुनकर लक्ष्‍मण जी ने श्रीराम से कहा-हे राजीव लोचन!सुनिए, जब पापी, दुष्‍ट राक्षस रावण ने सीताजी का हरण किया। हम दोनों रोते-रोते वन में भ्रमण करते थे। उस समय ऋष्‍यमूक पर्वत पर माता सीता के आभूषण पाकर जब आपने सुग्रीव के समक्ष पूछा था। लक्ष्‍मण ये सीता के आभूषण है या नहीं ? तब हे प्रभु मैं हार या केयूर को पहचान नहीं पाया। केवल चरणों में नूपुरों को पहचान सका था। यही बात वाल्‍मीकीजी द्वारा रामायण में वर्णित की गई है

एवं मुक्तस्‍तु रामेण लक्ष्‍मणो वाक्‍यमब्रवीत्‌
नाहं जानामि केयूरे नाहं जानामि कुण्‍डले॥
नुपुरे त्‍वभिजानामि नित्‍यं पादाभिवन्‍दनात्‌॥
वा.रा.किष्‍किन्‍धाकाण्‍ड , सर्ग 6-22

श्रीराम ने सुग्रीव द्वारा वस्‍त्र में रखे सीताजी के आभूषणों को पहचानने को कहा गया तब लक्ष्‍मण बोले-भैया मैं इन बाजूबन्‍दों को नहीं जानता और नहीं कुण्‍डलों को ही समझ पाता हूँ कि किसके है? किन्‍तु प्रतिदिन भाभी के चरणों में प्रणाम करने के कारण मैं इन दोनों नुपुरों को अवश्‍य पहचानता हूँ।

प्रभु यह सत्‍य है कि हम तीनों एक साथ वन में रहते थे किन्‍तु मैंने माता सीता के श्री चरणों को छोड़कर उनके वदन को न देखा।

मैं चौदह वर्ष कैसे निद्रित नहीं हुआ, हे रघुनाथ सुनिये आपको बताता हूँ। आप और जानकीजी कुटिया में रहते, मैं हाथ में धनुष बाण लेकर द्वार पर रखवाली करता था। मेरे नयनों को जब निद्रा ने आच्‍छान्‍न कर लिया तो मैंने क्रोधित होकर निद्रा को एक बाण से भेद दिया। मैंने कहा-निद्रा देवी मेरा उत्‍तर सुनो, यह चौदह वर्ष तुम मेरे समीप न आना।

जब रामचन्‍द्रजी अयोध्‍यापुरी में राजा होगे माता जानकी श्रीरामचन्‍द्र के बाँये आसीन होगी मैं छत्रदण्‍ड हाथ में लेकर दाहिनी ओर खड़ा रहूँ। हे निद्रा देवी उसी समय तुम मेरे नयनों में आना। हे प्रभु आपसे कहता हूँ, जब आपके बाँये माता जानकीजी सिंहासन पर विराजमान थी तो मैं छत्र धारण कर खड़ा हुआ था तो मेरे हाथ से छत्र फिर गिर पड़ा था। मैं उस व्‍याप्‍त निद्रा पर हँसा तथा लज्‍जित भी हुआ।

मैं चौदह वर्ष अनाहारी था प्रभु उसका प्रमाण आपसे निवेदन करता हूँ मैं जंगल में जाकर फल लाया करता था। प्रभु आप उनके तीन भाग करते थे। हे राजीवलोचन! आपको स्‍मरण होगा या नहीं, आप मुझसे कहते-लक्ष्‍मण फल रख लो ? मैं उसे अपनी कुटिया में लाकर रख देता।

हे प्रभु आपने मुझे कभी भी खाने के लिये नहीं कहा। बिना आपकी आज्ञा के मैं कैसे आहार करता। चौदह वर्षों से वहीं फल ऐसे ही पड़े रहे। श्रीराम ने लक्ष्‍मण से कहा कि फल कैसे रखे है ? तुम इस सभा में ला दो ? लक्ष्‍मणजी ने श्रीहनुमान्‌ से वन में जाकर फल लाने को कहा।

हनुमान्‌जी ने एक तूण में फल भरे हुए देखा। हनुमान्‌ ने मन मे विचार किया कि यह कार्य तो कोई भी साधारण वानर जाकर फल लाकर सभा में दे सकता था। प्रभु ने हमें इस तुच्‍छ कार्य हेतु भेजा। जब हनुमान्‌जी को जरा सा अहंकार हुआ तो फल का वह तूण कई लाख गुना भारी हो गया। हनुमान्‌जी उठाना तो दूर हिला भी नहीं सके। इसके पश्‍चात्‌ श्रीराम ने लक्ष्‍मण को तूण सहित फल लाने को कहा। लक्ष्‍मण जी पलभर में बाँये हाथ से तूण फल सहित उठाकर सभा में ले आये।

श्रीराम ने लक्ष्‍मण से कहा चौदह वर्ष के फलों की गणना करो। लक्ष्‍मणजी ने एक-एक कर सारे फलों की गिनती की। केवल सात दिनों के फल नहीं मिले। श्रीराम ने कहा-प्राणप्रिय लक्ष्‍मण तुमने सात दिन तो फल खाये। लक्ष्‍मण ने कहा-हे प्रभु सुनिये उन सात दिनों का संग्रह किसने किया था?

जिस दिन पिता के वियोग के समाचार से हम विश्‍वामित्र के आश्रम में निराहार रहे थे। उस दिन फल संग्रह नहीं किया था । शेष छः दिन के बारे में सुनिए। जिस दिन पापी रावण ने सीताजी का हरण किया, उस दिन अत्‍यन्‍त दुःखी होने के कारण फल कौन लाता ? जिस दिन इन्‍द्रजित ने नागपाश में बाँधा था। उस दिन भर अचेत रहे इससे उस दिन फल नहीं ला सका।

चौथे दिन की बात आपके चरणों में निवेदन करता हूँ चौथे दिन इन्‍द्रजित ने माया सीता को काटा था उस दिन शोक रूपी अग्‍नि में दोनों भाई दग्‍ध होने के कारण हम फल नहीं ला सके। हे प्रभु स्‍मरण कर विचार करे। प्रभु और एक दिन की बात स्‍मरण है अथवा नहीं आप और मैं दोनों पाताल में महिरावण के यहाँ बंदी थे। इस बात के साक्षी पवननन्‍दन है। उस दिन फलों का संग्रह नहीं किया था। जिस दिन रावण ने मुझे शक्ति मारी थी प्रभु आप उस दिन मेरे शोक से अधीर हो उठे थे।

प्रभु मैं नित्‍य ही फल लाता था किन्‍तु यह दास मूर्छित पड़ा था अर्थात फल नहीं लाये गये सातवें दिन की बात क्‍या कहूँ जिस दिन रावण के वध के कारण अपार आनन्‍द था सभी लोग आनन्‍द उत्‍सव में चँचल हो उठे थे उसी हर्ष के परिणामस्‍वरूप फल लाना चूक गया। हे नारायण आप विचार कर देखें, ये चौदह वर्ष हमने कुछ नहीं खाया। आपके मन में यहीं धारणा थी कि लक्ष्‍मण नित्‍य फल खाता है।

आपको हमारी पूर्व कथा विस्‍मृत हो गई कि हम दोनों को विश्‍वामित्र ने मंत्र दिया था जिससे भूख-प्‍यास नहीं लगती थी। महर्षि विश्‍वामित्र की दी गई मंत्रशक्‍ति से ही चौदह वर्ष उपवासी रहा। इसी कारण इन्‍द्रजित्‌ मेरे बाणों से मारा गया। यह सुनकर श्रीराम के नेत्रकमलों से आसुओं की धारा बह निकली तथा उन्‍होंने भाई लक्ष्‍मण को गोद में बैठा लिया।

तीनों लोक जानते हैं कि इन्‍द्रजित्‌ दुर्जेय था। लक्ष्‍मणजी ने उसका वध किया,यह अपूर्व कथा है।

इस कथा द्वारा हम सभी पाठकों को संदेश मिलता है कि मानव जीवन में नींद-नारी-आहार की अति सर्वदा सर्वनाश का कारण है। सदा जागने वाला सजग अल्‍प आहारी तथा माया से दूर रहकर ही निर्धारित लक्ष्‍य पर पहुँचा जा सकता है। कुम्‍भकरण नींद लेने वाला तथा अति आहारी था ।इसलिये ही उसकी मृत्‍यु हुई।

लक्ष्‍मण की कथा जीवन में सजगता कर्मठता-आज्ञाकारिता-भ्रातृप्रेम की अनूठी मिसाल है। आधुनिक काल में ऐसे भाई की कल्‍पना भी नहीं की जा सकती है क्‍योंकि वे ईश्‍वर के वरदान से ही जन्‍म लेते हैं। हर युग में राम जन्‍म लेते हैं परंतु लक्ष्‍मण जैसे परमवीर वीर योद्धा – कर्तव्‍यनिष्‍ठ पैदा ही नहीं होते हैं । ऐसे विरले महापुरूष वरदान स्‍वरूप ही पृथ्‍वी पर अवतरित होते हैं ।

संजय गुप्ता

Posted in रामायण - Ramayan

रावण को महान बताने वालों के कुतर्क की समीक्षा

https://bkumarauthor.wordpress.com/2018/07/15/

 

रावण को महान बताने वाली जमात एक नवीन कुतर्क दे रही है। वह कहती है कि रावण तो महान इसलिए था क्यूंकि उसने सीता का अपहरण केवल अपनी बहन शूर्पणखा के अपमान का बदला लेने के लिए किया था। कमाल का भाई था रावण जो अपनी बहन को जंगलों में विवाहित पुरुषों पर डोरे डालने के लिए खुला छोड़ देता था। बहुत कम लोगों को तो यह ही ज्ञात नहीं कि कुछ कहानियों के अनुसार रावण ही शूर्पणखा के पति का हत्यारा भी था। एक राजा का कर्त्तव्य सम्पूर्ण प्रकरण को जानकर , दोनों पक्षों को सुनकर फिर अपना फैसला देना होता हैं। रावण ने ठीक इसके विपरीत केवल अपनी बहन शूर्पणखा का पक्ष सुनकर आत्मघाती फैसला ले लिया।
रावण को महान बताने की मुहीम सबसे पहले तमिलनाडु के नेता पेरियार ने चलाई थी। विद्वान् लेखक कार्तिक अय्यर जी द्वारा पेरियार रामायण के खंडन में लिखी गई पुस्तक के कुछ अंश रावण के चरित्र के हमें दर्शन करवाते हैं।-डॉ विवेक आर्य

सच्ची रामायण का खंडन-भाग-६७ अर्थात् पेरियार द्वारा रामायण पर किये आक्षेपों का मुंहतोड़ जवाब

– कार्तिक अय्यर

पाठकगण! हमने श्रीराम, ‘लक्ष्मण, देवी सीता आदि तथा सुग्रीव, अंगद,विभीषण आदि पर किये हर आक्षेप का जवाब दिया। अब पेरियार साहब ने रावण की प्रशंसा के जो पुल बांधे हैं, उनकी भी परीक्षा कर ली जाये। पाठकों! पेरियार द्वारा लिखी रावण की विशेषताओं को पढें तथा उस पर हमारी समीक्षा पढ़कर आनंद लें:-

१:- रावण में विशेषताओं का वर्णन करके कहते हैं कि उसमें निम्नलिखित विशेषतायें हैं:-

(क):-एक महान विद्वान

उत्तर:- हां,इसमें कोई दोराय नहीं कि रावण महान् विद्वान था। परंतु विद्वान तो राम,हनुमानजी, सुग्रीव आदि भी थे उसे आप क्यों नहीं लिखते? ऐसा पक्षपात किसलिये?
रावण ने केवल पुस्तकीय ज्ञान लिया। परंतु कभी उसका पालन न किया। शास्त्रों ने संयम की आज्ञा दी,वो कामी लंपट था। शास्त्रों ने हिंसारहित यज्ञ करना लिखा है, रावण मांस आदि से यज्ञ करता व सुबाहु मारीच आदि से रक्त मांस डलवाकर यज्ञ का नाश कराता था। प्रमाण लीजिये:-

रावण की प्रेरणा से यज्ञों में विघ्न:-

तौ मांसरुधिरौघेण वेदिं तामभ्यवर्षताम् ।
अवधूते तथाभूते तस्मिन् नियमनिश्चये ॥ ६ ॥
कृतश्रमो निरुत्साहस्तस्माद् देशादपाक्रमे ।

विश्वामित्र मुनि कहते हैं-“उन्होंने ( मारीच,सुबाहु आदि राक्षसों ने)यज्ञवेदी पर रक्त और मांस और रक्त की वर्षा शुरु कर दी है।इस प्रकार से वे समाप्त हो रहे नियमों में विघ्न उत्पन्न करके मेरे किये परिश्रम को व्यर्थ कर रहे हैं और मैं उत्साहरहित होकर उस स्थान से निकलकर आ गया।।६१.५।।
( वाल्मीकीय रामायण,बालकांड सर्ग १९)

इसलिये रावण का विद्वान होना ही व्यर्थ रहा। उसकी जगह कम पढ़ी लिखी भीलनी शबरी श्रेष्ठ थी, जो परमेश्वर की भक्ति में लीन होकर ब्रह्मलोक को प्राप्त हे गई।
कहा भी गया है-
“आचारहीना न पुनंति वेदा यद्यप्यधीताः सह षड्भिरंगैः।
छांदस्येनं मृत्युकाले त्यजंति नीडं शकुंता इव जातपक्षाः।।”
( वसिष्ठ स्मृति ६/३)
“शिक्षा कल्प निरुक्त छंद व्याकरण और ज्योतिष- इन छः अंगों सहित वेदाध्ययन करने वाले आचारहीन व्यक्ति को वेद भी पवित्र नहीं करते। मृत्यु काल में आचारहीन मनुष्य को वेद वैसे ही छोड़ देते हैं ,जैसे पंख उगने पर पक्षी घोंसलेको।”

(ख):- बहुत बड़ा संत।

उत्तर:- कृपया रावण को संत कहकर संतों का अपमान न करें। संत उसे कहते हैं जो सर्वत्र लोकैषणा,वित्तैषणा,पुत्रैषणा से दूर हो। रावण ऐसा न था। वो लोभी,कामी,प्रसिद्धि का भूखा था। उसके प्रमाण लीजिये:-

अमरकोश:-
2।7।3।1रहा।
महाकुलकुलीनार्यसभ्यसज्जनसाधवः। ब्रह्मचारी गृही वानप्रस्थो भिक्षुश्चतुष्टये॥

वाचस्पत्यम्:-

मनोहरे मेदि॰। साधुलक्षणान्तरं यथा
“यथालब्धेऽपि सन्तुष्टः समचित्तो जिते-न्द्रियः। हरिपादाश्रयो लोके विप्रः साधुरनिन्दकः। निर्वैरः सदयः शान्तो दम्भाहङ्कारवर्जितः। निरपेक्षो मु-निर्वीतरागः साधुरिहोच्यते। लोभमोहमदक्रोधकामादि-रहितः सुखी। कृष्णाङ्घ्रिशरणः साधुः सहिष्णुः सम-दर्शनः”

मोनियर विलियम्स “साधु” का क्या अर्थ करते हैं:-
a good or virtuous or honest man,a holy man , saint , sage , seer.

रावण ने शास्त्र तो पढे थे पर उनके विरुद्ध आचरण करता था.

रावण जैसे सदाचारहीन व्यक्ति को संत नहीं, राक्षस असुर कहते हैं:-
प्रवृत्तिं च निवृत्तिं च जना न विदुरासुराः। ( गीता १६.७)
अतः न तो महर्षि वाल्मीकि ने रावण को कहीं महान संत लिखा, न ही वो संत था।बल्कि वो पापी राक्षस था।

(ग)शास्त्रों का ज्ञाता।

हम स्वीकार करते हैं कि वो शास्त्र का ज्ञाता था, परंतु उनके विरुद्ध सदाचार का त्याग करके काम,क्रोध,लोभ आदि में फंसा रहा और पतित होकर राक्षस कहलाहुआ।

देखिये:-
दुराचारो हि पुरुषो लोके भवति निन्दितः ।
दुःखभागी च सततं व्याधितोऽल्पायुरेव च । ।
मनुस्मृति ४.१५७ । ।
‘दुराचारी मनुष्य संसार में निंदित होता है,सर्वदा दुखभागी,रोगी और अल्पायु होता है।”

इसलिये दुराचारी रावण संसार में निंदित हुआ।

सर्वोsयं ब्राह्मणो लोके वृत्तेन तु विधीयते।
वृत्ते स्थितस्तु शूद्रोsपि ब्राह्मणत्वं नियच्छति।।
( महाभारत अनुशासन पर्व १४३/५१)
“लोक में यह सारा ब्राह्मण कुल सदाचार से ही अपने पद पर बना हुआ है सदाचार में स्थित होने पर शूद्र भी इसी जन्म में ब्राह्मणत्व को प्राप्त करता है।”

रावण ब्राह्मण कुल में जन्मा था पर सदाचारहीन होने पर वो राक्षस बन गया। इसलिये उसका शास्त्रज्ञान विफल रहा।

(अब भी रावण का पक्ष लेने वालों से एक यक्ष प्रश्न है। क्या रावण, महिषासुर , होलिका को महान बताने से जातिवाद समाप्त हो जायेगा?)

Posted in रामायण - Ramayan

अयोध्या की कहानी जिसे पढ़पकर आप रो पड़ेंगे।
कृपया इस लेख को पढ़ें, तथा प्रत्येक हिन्दूँ मिञों को अधिक से अधिक शेयर करें।
जब बाबर दिल्ली की गद्दी पर आसीन हुआ उस समय जन्म भूमि सिद्ध महात्मा श्यामनन्द जी महाराज के
अधिकार क्षेत्र में थी। महात्मा श्यामनन्द की ख्याति सुन कर ख्वाजा कजल अब्बास मूसा आशिकान अयोध्या आये । महात्मा जी के शिष्य बनकर ख्वाजा कजल अब्बास मूसा ने योग और सिद्धियाँ प्राप्त कर ली और उनका नाम भी महात्मा श्यामनन्द के ख्यातिप्राप्त शिष्यों में लिया जाने लगा।
ये सुनकर जलालशाह नाम का एक फकीर भी महात्मा श्यामनन्द के पास आया और उनका शिष्य बनकर सिद्धियाँ प्राप्त करने लगा। जलालशाह एक कट्टर मुसलमान था, और उसको एक ही सनक थी,
हर जगह इस्लाम का आधिपत्य साबित करना । अत:
जलालशाह ने अपने काफिर गुरू की पीठ में छुरा घोंप कर ख्वाजा कजल अब्बास मूसा के साथ मिलकर ये विचार किया की यदि इस मदिर को तोड़ कर मस्जिद
बनवा दी जाये तो इस्लाम का परचम हिन्दुस्थान में स्थायी हो जायेगा। धीरे धीरे जलालशाह और ख्वाजा कजल अब्बास मूसा इस साजिश को अंजाम देने की तैयारियों में जुट गए ।
सर्वप्रथम जलालशाह और ख्वाजा बाबर के विश्वासपात्र बने और दोनों ने अयोध्या को खुर्द मक्का बनाने के लिए जन्मभूमि के आसपास की जमीनों में बलपूर्वक मृत मुसलमानों को दफन करना शुरू किया॥ और मीरबाँकी खां के माध्यम से बाबर को उकसाकर मंदिर के विध्वंस का कार्यक्रम बनाया। बाबा श्यामनन्द जी अपने मुस्लिम शिष्यों की करतूत देख के बहुत दुखी हुए और अपने निर्णय पर उन्हें बहुत पछतावा हुआ।
दुखी मन से बाबा श्यामनन्द जी ने रामलला की मूर्तियाँ सरयू में प्रवाहित किया और खुद हिमालय की और
तपस्या करने चले गए। मंदिर के पुजारियों ने मंदिर के अन्य सामान आदि हटा लिए और वे स्वयं मंदिर के द्वार पर रामलला की रक्षा के लिए खड़े हो गए। जलालशाह
की आज्ञा के अनुसार उन चारो पुजारियों के सर काट
लिए गए. जिस समय मंदिर को गिराकर मस्जिद बनाने
की घोषणा हुई उस समय भीटी के राजा महताब सिंह
बद्री नारायण की यात्रा करने के लिए निकले थे,अयोध्या पहुचने पर रास्ते में उन्हें ये खबर मिली तो उन्होंने अपनी यात्रा स्थगित कर दी और अपनी छोटी सेना में रामभक्तों को शामिल कर १ लाख चौहत्तर हजार लोगो के साथ बाबर की सेना के ४ लाख ५० हजार सैनिकों से लोहा लेने निकल पड़े।
रामभक्तों ने सौगंध ले रक्खी थी रक्त की आखिरी बूंद तक लड़ेंगे जब तक प्राण है तब तक मंदिर नहीं गिरने
देंगे। रामभक्त वीरता के साथ लड़े ७० दिनों तक घोर संग्राम होता रहा और अंत में राजा महताब सिंह समेत
सभी १ लाख ७४ हजार रामभक्त मारे गए। श्रीराम जन्म भूमि रामभक्तों के रक्त से लाल हो गयी। इस भीषण
कत्ले आम के बाद मीरबांकी ने तोप लगा के मंदिर गिरवा दिया । मंदिर के मसाले से ही मस्जिद का निर्माण हुआ
पानी की जगह मरे हुए हिन्दुओं का रक्त इस्तेमाल किया गया नीव में लखौरी इंटों के साथ ।
इतिहासकार कनिंघम अपने लखनऊ गजेटियर के 66वें अंक के पृष्ठ 3 पर लिखता है की एक लाख चौहतर हजार हिंदुओं की लाशें गिर जाने के पश्चात मीरबाँकी अपने मंदिर ध्वस्त करने के अभियान मे सफल हुआ और उसके बाद जन्मभूमि के चारो और तोप लगवाकर मंदिर को ध्वस्त कर दिया गया..
इसी प्रकार हैमिल्टन नाम का एक अंग्रेज बाराबंकी गजेटियर में लिखता है की ” जलालशाह ने हिन्दुओं के खून का गारा बना के लखौरी ईटों की नीव मस्जिद बनवाने के लिए दी गयी थी।
उस समय अयोध्या से ६ मील की दूरी पर सनेथू नाम का एक गाँव के पंडित देवीदीन पाण्डेय ने वहां के आस पास के गांवों सराय सिसिंडा राजेपुर आदि के सूर्यवंशीय क्षत्रियों को एकत्रित किया॥ देवीदीन पाण्डेय ने सूर्य वंशीय क्षत्रियों से कहा भाइयों आप लोग मुझे अपना राजपुरोहित मानते हैं ..अप के पूर्वज श्री राम थे
और हमारे पूर्वज महर्षि भरद्वाज जी। आज मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम की जन्मभूमि को मुसलमान आक्रान्ता कब्रों से पाट रहे हैं और खोद रहे हैं इस परिस्थिति में हमारा मूकदर्शक बन कर जीवित रहने की बजाय जन्म भूमि की रक्षार्थ युद्ध करते करते वीरगति पाना ज्यादा उत्तम होगा॥
देवीदीन पाण्डेय की आज्ञा से दो दिन के भीतर ९० हजार क्षत्रिय इकठ्ठा हो गए दूर दूर के गांवों से लोग समूहों में इकठ्ठा हो कर देवीदीन पाण्डेय के नेतृत्व में जन्मभूमि पर
जबरदस्त धावा बोल दिया । शाही सेना से लगातार ५ दिनों तक युद्ध हुआ । छठे दिन मीरबाँकी का सामना देवीदीन पाण्डेय से हुआ उसी समय धोखे से उसके अंगरक्षक ने एक लखौरी ईंट से पाण्डेय जी की खोपड़ी पर वार कर दिया। देवीदीन पाण्डेय का सर बुरी तरह फट गया मगर उस वीर ने अपने पगड़ी से खोपड़ी से बाँधा और तलवार से उस कायर अंगरक्षक का सर काट दिया।
इसी बीच मीरबाँकी ने छिपकर गोली चलायी जो पहले
ही से घायल देवीदीन पाण्डेय जी को लगी और वो जन्म भूमि की रक्षा में वीर गति को प्राप्त हुए.. जन्मभूमि फिर से 90 हजार हिन्दुओं के रक्त से लाल हो गयी। देवीदीन पाण्डेय के वंशज सनेथू ग्राम के ईश्वरी पांडे का पुरवा नामक जगह पर अब भी मौजूद हैं॥
पाण्डेय जी की मृत्यु के १५ दिन बाद हंसवर के महाराज
रणविजय सिंह ने सिर्फ २५ हजार सैनिकों के साथ
मीरबाँकी की विशाल और शस्त्रों से सुसज्जित सेना से
रामलला को मुक्त कराने के लिए आक्रमण किया । 10
दिन तक युद्ध चला और महाराज जन्मभूमि के रक्षार्थ
वीरगति को प्राप्त हो गए। जन्मभूमि में 25 हजार हिन्दुओं का रक्त फिर बहा। रानी जयराज कुमारी हंसवर के स्वर्गीय महाराज रणविजय सिंह की पत्नी थी।
जन्मभूमि की रक्षा में महाराज के वीरगति प्राप्त करने के बाद महारानी ने उनके कार्य को आगे बढ़ाने का बीड़ा उठाया और तीन हजार नारियों की सेना लेकर उन्होंने जन्मभूमि पर हमला बोल दिया और हुमायूं के समय तक उन्होंने छापामार युद्ध जारी रखा। रानी के गुरु स्वामी महेश्वरानंद जी ने रामभक्तों को इकठ्ठा करके सेना का प्रबंध करके जयराज कुमारी की सहायता की। साथ
ही स्वामी महेश्वरानंद जी ने सन्यासियों की सेना बनायीं इसमें उन्होंने २४ हजार सन्यासियों को इकठ्ठा किया और रानी जयराज कुमारी के साथ , हुमायूँ के समय में कुल १० हमले जन्मभूमि के उद्धार के लिए किये। १०वें हमले में शाही सेना को काफी नुकसान हुआ और जन्मभूमि पर
रानी जयराज कुमारी का अधिकार हो गया।
लेकिन लगभग एक महीने बाद हुमायूँ ने पूरी ताकत से
शाही सेना फिर भेजी ,इस युद्ध में स्वामी महेश्वरानंद
और रानी कुमारी जयराज कुमारी लड़ते हुए अपनी बची हुई सेना के साथ मारे गए और जन्मभूमि पर पुनः मुगलों का अधिकार हो गया। श्रीराम जन्मभूमि एक बार फिर कुल 24 हजार सन्यासियों और 3 हजार वीर नारियों के रक्त से लाल हो गयी। रानी जयराज कुमारी और स्वामी महेश्वरानंद जी के बाद यद्ध का नेतृत्व स्वामी बलरामचारी जी ने अपने हाथ में ले लिया। स्वामी बलरामचारी जी ने गांव गांव में घूम कर रामभक्त हिन्दू युवकों और सन्यासियों की एक मजबूत सेना तैयार करने का प्रयास किया और जन्मभूमि के उद्धारार्थ २० बार आक्रमण किये. इन २० हमलों में काम से काम १५ बार स्वामी बलरामचारी ने जन्मभूमि पर अपना अधिकार कर लिया मगर ये अधिकार अल्प समय के लिए रहता था थोड़े दिन बाद बड़ी शाही फ़ौज आती थी और जन्मभूमि पुनः मुगलों के अधीन हो जाती थी..जन्मभूमि में लाखों हिन्दू
बलिदान होते रहे। उस समय का मुग़ल शासक अकबर था।
शाही सेना हर दिन के इन युद्धों से कमजोर हो रही थी..
अतः अकबर ने बीरबल और टोडरमल के कहने पर खस
की टाट से उस चबूतरे पर ३ फीट का एक छोटा सा मंदिर बनवा दिया.
लगातार युद्ध करते रहने के कारण स्वामी बलरामचारी का स्वास्थ्य गिरता चला गया था और प्रयाग कुम्भ के अवसर पर त्रिवेणी तट पर स्वामी बलरामचारी की मृत्यु
हो गयी ..
इस प्रकार बार-बार के आक्रमणों और हिन्दू जनमानस के
रोष एवं हिन्दुस्थान पर मुगलों की ढीली होती पकड़ से
बचने का एक राजनैतिक प्रयास की अकबर की इस कूट नीति से कुछ दिनों के लिए जन्मभूमि में रक्त नहीं बहा।
यही क्रम शाहजहाँ के समय भी चलता रहा। फिर औरंगजेब के हाथ सत्ता आई वो कट्टर मुसलमान था और
उसने समस्त भारत से काफिरों के सम्पूर्ण सफाये का संकल्प लिया था। उसने लगभग 10 बार अयोध्या मे मंदिरों को तोड़ने का अभियान चलकर यहाँ के सभी प्रमुख मंदिरों की मूर्तियों को तोड़ डाला।
औरंगजेब के हाथ सत्ता आई वो कट्टर मुसलमान था और
उसने समस्त भारत से काफिरों के सम्पूर्ण सफाये का संकल्प लिया था। उसने लगभग 10 बार अयोध्या मे
मंदिरों को तोड़ने का अभियान चलकर यहाँ के सभी प्रमुख मंदिरों की मूर्तियों को तोड डाला।
औरंगजेब के समय में समर्थ गुरु श्री रामदास जी महाराज जी के शिष्य श्री वैष्णवदास जी ने जन्मभूमि के
उद्धारार्थ 30 बार आक्रमण किये। इन आक्रमणों मे
अयोध्या के आस पास के गांवों के सूर्यवंशीय क्षत्रियों ने
पूर्ण सहयोग दिया जिनमे सराय के ठाकुर सरदार गजराज सिंह और राजेपुर के कुँवर गोपाल सिंह
तथा सिसिण्डा के ठाकुर जगदंबा सिंह प्रमुख थे। ये सारे
वीर ये जानते हुए भी की उनकी सेना और हथियार बादशाही सेना के सामने कुछ भी नहीं है अपने जीवन के
आखिरी समय तक शाही सेना से लोहा लेते रहे। लम्बे समय तक चले इन युद्धों में रामलला को मुक्त कराने के लिए हजारों हिन्दू वीरों ने अपना बलिदान दिया और
अयोध्या की धरती पर उनका रक्त बहता रहा।
ठाकुर गजराज सिंह और उनके साथी क्षत्रियों के
वंशज
आज भी सराय मे मौजूद हैं। आज भी फैजाबाद जिले के आस पास के सूर्यवंशीय क्षत्रिय सिर पर पगड़ी नहीं बांधते,जूता नहीं पहनते, छता नहीं लगाते, उन्होने अपने पूर्वजों के सामने ये प्रतिज्ञा ली थी की जब तक श्री राम जन्मभूमि का उद्धार नहीं कर लेंगे तब तक जूता नहीं पहनेंगे,छाता नहीं लगाएंगे, पगड़ी नहीं पहनेंगे। 1640
ईस्वी में औरंगजेब ने मन्दिर को ध्वस्त करने के लिए जबांज खाँ के नेतृत्व में एक जबरजस्त सेना भेज दी थी, बाबा वैष्णव दास के साथ साधुओं की एक सेना थी जो हर विद्या मे निपुण थी इसे चिमटाधारी साधुओं की सेना भी कहते थे । जब जन्मभूमि पर जबांज खाँ ने आक्रमण किया तो हिंदुओं के साथ चिमटाधारी साधुओं की सेना की सेना मिल गयी और उर्वशी कुंड नामक जगह पर
जाबाज़ खाँ की सेना से सात दिनों तक भीषण युद्ध
किया ।
चिमटाधारी साधुओं के चिमटे के मार से मुगलों की सेना भाग खड़ी हुई। इस प्रकार चबूतरे पर स्थित मंदिर की रक्षा हो गयी । जाबाज़ खाँ की पराजित सेना को देखकर औरंगजेब बहुत क्रोधित हुआ और उसने जाबाज़ खाँ को हटाकर एक अन्य सिपहसालार सैय्यद हसन अली को 50 हजार सैनिकों की सेना और तोपखाने के साथ
अयोध्या की ओर भेजा और साथ मे ये आदेश दिया की अबकी बार जन्मभूमि को बर्बाद करके वापस आना है ,यह समय सन् 1680 का था । बाबा वैष्णव दास ने सिक्खों के गुरु गुरुगोविंद सिंह से युद्ध मे सहयोग के लिए पत्र के माध्यम संदेश भेजा । पत्र पाकर गुरु गुरुगोविंद सिंह सेना समेत तत्काल अयोध्या आ गए और ब्रहमकुंड पर अपना डेरा डाला । ब्रहमकुंड वही जगह जहां आज कल गुरुगोविंद सिंह की स्मृति मे सिक्खों का गुरुद्वारा बना हुआ है। बाबा वैष्णव दास एवं सिक्खों के गुरुगोविंद सिंह रामलला की रक्षा हेतु एकसाथ रणभूमि में कूद पड़े। इन वीरों कें सुनियोजित हमलों से मुगलो की सेना के पाँव उखड़ गये सैय्यद हसन अली भी युद्ध मे मारा गया। औरंगजेब हिंदुओं की इस प्रतिक्रिया से स्तब्ध रह गया था और इस युद्ध के बाद 4 साल तक उसने अयोध्या पर हमला करने की हिम्मत नहीं की। औरंगजेब ने सन् 1664 मे एक बार फिर श्री राम जन्मभूमि पर आक्रमण किया । इस भीषण हमले में शाही फौज ने लगभग 10 हजार से ज्यादा हिंदुओं की हत्या कर दी नागरिकों तक को नहीं छोड़ा। जन्मभूमि हिन्दुओं के रक्त से लाल हो गयी। जन्मभूमि के अंदर नवकोण के एक कंदर्प कूप नाम का कुआं था, सभी मारे गए हिंदुओं की लाशें मुगलों ने उसमे फेककर चारों ओर चहारदीवारी उठा कर उसे घेर दिया।
आज भी कंदर्पकूप “गज शहीदा” के नाम से प्रसिद्ध है, और जन्मभूमि के पूर्वी द्वार पर स्थित है। शाही सेना ने जन्मभूमि का चबूतरा खोद डाला बहुत दिनो तक वह
चबूतरा गड्ढे के रूप मे वहाँ स्थित था । औरंगजेब के क्रूर
अत्याचारो की मारी हिन्दू जनता अब उस गड्ढे पर ही श्री रामनवमी के दिन भक्तिभाव से अक्षत,पुष्प और जल चढाती रहती थी. नबाब सहादत अली के समय 1763 ईस्वी में जन्मभूमि के रक्षार्थ अमेठी के राजा गुरुदत्त सिंह और पिपरपुर के राजकुमार सिंह के नेतृत्व मे बाबरी ढांचे पर पुनः पाँच आक्रमण किये गये जिसमें हर बार हिन्दुओं
की लाशें अयोध्या में गिरती रहीं। लखनऊ गजेटियर
मे कर्नल हंट लिखता है की “लगातार हिंदुओं के हमले से ऊबकर नबाब ने हिंदुओं और मुसलमानो को एक साथ नमाज पढ़ने और भजन करने की इजाजत दे दी पर सच्चा मुसलमान होने के नाते उसने काफिरों को जमीन नहीं सौंपी।
“लखनऊ गजेटियर पृष्ठ 62” नासिरुद्दीन हैदर के समय मे मकरही के राजा के नेतृत्व में जन्मभूमि को पुनः अपने रूप मे लाने के लिए हिंदुओं के तीन आक्रमण हुये जिसमें
बड़ी संख्या में हिन्दू मारे गये। परन्तु तीसरे आक्रमण में डटकर नबाबी सेना का सामना हुआ 8वें दिन हिंदुओं की शक्ति क्षीण होने लगी ,जन्मभूमि के मैदान मे हिन्दुओं और मुसलमानो की लाशों का ढेर लग गया । इस संग्राम मे भीती,हंसवर,,मकर ही,खजुरहट,दीयरा अमेठी के राजा गुरुदत्त सिंह आदि सम्मलित थे। हारती हुई हिन्दू सेना के साथ वीर चिमटाधारी साधुओं की सेना आ मिली और इस युद्ध मे शाही सेना के चिथड़े उड गये और उसे
रौंदते हुए हिंदुओं ने जन्मभूमि पर कब्जा कर लिया।
मगर हर बार की तरह कुछ दिनो के बाद विशाल शाही सेना ने पुनः जन्मभूमि पर अधिकार कर लिया और हजारों हिन्दुओं को मार डाला गया। जन्मभूमि में हिन्दुओं का रक्त प्रवाहित होने लगा। नावाब वाजिदअली शाह के समय के समय मे पुनः हिंदुओं ने जन्मभूमि के उद्धारार्थ आक्रमण किया । फैजाबाद गजेटियर में कनिंघम ने लिखा “इस संग्राम मे बहुत ही भयंकर खूनखराबा हुआ ।दो दिन और रात होने वाले इस भयंकर युद्ध में सैकड़ों हिन्दुओं के मारे जाने के बावजूद हिन्दुओं नें राम जन्म भूमि पर कब्जा कर लिया। क्रुद्ध हिंदुओं की भीड़ ने कब्रें तोड़ फोड़ कर बर्बाद कर डाली मस्जिदों को मिसमार करने लगे और पूरी ताकत से मुसलमानों को मार-मार कर अयोध्या से खदेड़ना शुरू किया।मगर हिन्दू भीड़ ने
मुसलमान स्त्रियों और बच्चों को कोई हानि नहीं पहुचाई।
अयोध्या मे प्रलय मचा हुआ था ।
इतिहासकार कनिंघम लिखता है की ये अयोध्या का सबसे बड़ा हिन्दू मुस्लिम बलवा था। हिंदुओं ने अपना सपना पूरा किया और औरंगजेब द्वारा विध्वंस किए गए चबूतरे को फिर वापस बनाया । चबूतरे पर तीन फीट
ऊँची खस की टाट से एक छोटा सा मंदिर बनवा लिया ॥जिसमे पुनः रामलला की स्थापना की गयी। कुछ जेहादी मुल्लाओं को ये बात स्वीकार नहीं हुई और कालांतर में जन्मभूमि फिर हिन्दुओं के हाथों से निकल गयी। सन 1857 की क्रांति मे बहादुर शाह जफर के समय में बाबा रामचरण दास ने एक मौलवी आमिर अली के साथ जन्म भूमि के उद्धार का प्रयास किया पर 18 मार्च सन 1858 को कुबेर टीला स्थित एक इमली के पेड़ मे दोनों को एक साथ अंग्रेज़ो ने फांसी पर लटका दिया ।
जब अंग्रेज़ो ने ये देखा कि ये पेड़ भी देशभक्तों एवं राम भक्तों के लिए एक स्मारक के रूप मे विकसित हो रहा है तब उन्होने इस पेड़ को कटवा कर इस आखिरी निशानी को भी मिटा दिया…
इस प्रकार अंग्रेज़ो की कुटिल नीति के कारण राम जन्म भूमि के उद्धार का यह एकमात्र प्रयास विफल हो गया … अन्तिम बलिदान …
३० अक्टूबर १९९० को हजारों रामभक्तों ने वोट-बैंक के
लालची मुलायम सिंह यादव के द्वारा खड़ी की गईं अनेक
बाधाओं को पार कर अयोध्या में प्रवेश किया और विवादित ढांचे के ऊपर भगवा ध्वज फहरा दिया। लेकिन
२ नवम्बर १९९० को मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने कारसेवकों पर गोली चलाने का आदेश दिया, जिसमें
सैकड़ों रामभक्तों ने अपने जीवन की आहुतियां दीं।
सरकार ने मृतकों की असली संख्या छिपायी परन्तु
प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार सरयू तट रामभक्तों की लाशों से पट गया था। ४ अप्रैल १९९१ को कारसेवकों के हत्यारे, उत्तर प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने इस्तीफा दिया।
लाखों राम भक्त ६ दिसम्बर को कारसेवा हेतु अयोध्या पहुंचे और राम जन्मस्थान पर बाबर के सेनापति द्वारा बनाए गए अपमान के प्रतीक मस्जिदनुमा ढांचे को ध्वस्त कर दिया। परन्तु हिन्दू समाज के अन्दर व्याप्त घोर संगठन हीनता एवं नपुंसकता के कारण आज भी हिन्दुओं के सबसे बड़े आराध्य भगवान श्रीराम एक फटे हुए तम्बू में विराजमान हैं।
जिस जन्मभूमि के उद्धार के लिए हमारे पूर्वजों ने अपना रक्त पानी की तरह बहाया। आज वही हिन्दू बेशर्मी से इसे “एक विवादित स्थल” कहता है।
सदियों से हिन्दुओं के साथ रहने वाले मुसलमानों ने आज
भी जन्मभूमि पर अपना दावा नहीं छोड़ा है। वो यहाँ किसी भी हाल में मन्दिर नहीं बनने देना चाहते हैं ताकि हिन्दू हमेशा कुढ़ता रहे और उन्हें नीचा दिखाया जा सके।
जिस कौम ने अपने ही भाईयों की भावना को नहीं समझा वो सोचते हैं
हिन्दू उनकी भावनाओं को समझे। आज तक किसी भी मुस्लिम संगठन ने जन्मभूमि के उद्धार के लिए आवाज नहीं उठायी, प्रदर्शन नहीं किया और सरकार पर दबाव नहीं बनाया आज भी वे बाबरी-विध्वंस की तारीख 6 दिसम्बर को काला दिन मानते हैं। और मूर्ख हिन्दू समझता है कि राम जन्मभूमि राजनीतिज्ञों और मुकदमों के कारण उलझा हुआ है।
ये लेख पढ़कर जिन हिन्दुओं को शर्म नहीं आयी वो कृपया अपने घरों में राम का नाम ना लें…अपने रिश्तेदारों से कह दें कि उनके मरने के बाद कोई “राम नाम” का नारा भी नहीं लगाएं।
विश्व हिन्दू परिषद के कार्यकर्ता एक दिन श्रीराम जन्म भूमि का उद्धार कर वहाँ मन्दिर अवश्य बनाएंगे। चाहे अभी और कितना ही बलिदान क्यों ना देना पड़े।
एक स्वमसेवक
कृपया आगे फॉरवर्ड करे
आपका बहुत आभारी रहूँगा
* जय श्री राम *

ज्योति अग्रवाल

Posted in रामायण - Ramayan

RAMAYANA ACROSS THE WORLD –


Who said Sanatan Dharma was confined to just Indian Sub -Continent?

RAMAYANA ACROSS THE WORLD –

AKASH REDDY

1) RAMAYANA IN MoNGOLIA AND RUSSIA:

on 15th December 1972, on front page of Deccan Herald, there was the news of story similar to Ramayana published in capital city Elista, Kalmyk, Russia. The news further confirms the legends of Ramayana being popular among Kalmyk citizens with many versions of Ramayana stored across the various libraries of Kalmyk. The news further adds that characters of epic Ramayana were very famous since time unknown. Similarly, another Russian writer,Domodin Suren, mentioned various legendsof ramayana popular among Kalmyk and Mongolian people. Prof C F Glostunky`s book named Academy of Sciences is sitiuated in Erstwhile near Siberian,U.S.S.R. This book written in Kalmyk language describes various ramayana legends popular along the Coastal areas of Volga River. Lastly a huge compilation of books related to Ramayana are still preserved and availaible publicly in Mongolian and Russian languages in leningrad province.

2) RAMAYANA IN CHINA:-

In China, huge collection of Jatak tales(251 A.D), related to Ramayana events was compiled by Kang Seng Hua. Another book(742 AD) describes the plight of Rama father(Dasarath) after he was forced to outcast Rama for 14 years. Similarly, His-Yii-Chii wrote a novel in 1600 AD called Kapi(meaning monkey) which describes the events and stories of hanuman.

3) RAMAYANA IN SRILANKA:-

Kumardasa(originally Naresh Kumar Dhatusena), ruler of srilanka in 617 AD, compiled a book in sanskrit called Janakiharan. Till date, it has been regarded as the oldest Sanskrit literature of Sri Lanka. Later, John D`Silva and C. Don Bostean also wrote books on Ramayana. More than india, sri lankans adore the characters of ramayana including their own ravana

4) RAMAYANA IN KAMPUCHIA(COMBODIA):

Today also, many inscriptions on rocks belonging to khmer empire of 700 AD, can be found in Cambodia. These rock inscriptions depicts the events of Ramayana. still, walls of many temples built during the period of Khmer kingdom depicts the events and scenes of Ramayana. Premises of Angkor watt is famous for the events of Mahabharata and Ramayana. One surprising point to note in this temple is that pictues of Hanuman and othe Vanaras are shown without their tails. Cambodian still believes only their their face were like monkey and they didn’t have tails.

5) RAMAYANA IN INDONESIA:

De Casperis mentions about a temple(9th century AD) called Chandi Loro Jongrong with pictures of Ramayana events engrossed on its walls.Indonesia have their own version of Ramayana called Kakavin which story is little different than that of Prambanan. Besides this, many other versions of Ramayana and its related events were described in times earlier than Christ. This goes on to prove the popularity of Ramayana among the masses of indonesia before the advent of Islam. surprisingly,few years back, Indonesia became the host of first international convention on Ramayana

6) RAMAYANA IN LAOS:

Loas actually sounds like the name of rama son ‘Luv’, When pronounced in dialect of the local language. Walls of Vat-Pa-Kev and Vat- She-Fum temple depicts events of Ramayana. The temples of Vat-Sisket and Vat-Pra-Kev has the books containing epic of Ramayana.French traveler Lafont translated local story ‘Palaka-Palama’ in his book called Pommachak.stories of popular among the masses of loas also described in this book.

7) RAMAYANA IN THAILAND:-

Before christainity or budhism engulfed thailand, many ancient rulers of thailands had Rama as the suffix or prefix in their name. Dramatic folk plays of Ramayana is still organised and revered in Thailand.

RAMAYANA IN MALAYSIA:-

Even today, many dramatic plays(HIKAYAT SERI) based on ramayana is organised and revered. Every year, Dalang society conducts 200-300 plays(aprox) on Ramayana. Before the play starts, people praise and performs prayers to RAMA and SITA.

9) RAMAYANA IN BURMA:-

King Kayanjhitha (1084 -1112 AD) declared himself as desecendant of Rama clan. Many books on events of ramayana, with some written as early as 1500 AD are still revered in Burma. Some of the books like Kavyadarsh Subhasit and Ratanidhi are quite popular. Author Taranath wrote a commentary on Ramayana called locally as Zhang-Zhungpa. Similar to other countries, many dramatic plays based on ramayana are conducted across the diffrent parts of burma.

10) RAMAYANA IN NEPAL:-

Nepal has one of the Ramayana oldest version(1075 AD) which is still read by modern priests.

11) RAMAYANA IN PHILIPINES:

Essence of Ramayana can easily be seen in many traditions and customs of phillipines. According to prof Juon R Francisco survey, legends of Ramayana is very popular among Marineo Muslims with majority of them believing him as Incarnation of God. Similarly Sulu folk and Magindanao Muslims also praise legends of Ramayana.

12) RAMAYANA IN IRAN:

Capital of Andhra Pradesh,Hyderabad boast a museum named Salarjung. This musuem has apainting showing a monkey holding a very large stone in his hand which is commonly percieved as Hanuman holding Dronagiri. Similarly Marco Polo in his famous book(page no 302, vol II) wrote about a surprising belief among Muslims living in whole gulf region (from Afganistan to Algeria and Morocco). These Muslims had the belief that members living in imperial house (Trebizond) were gifted short tails while medieval continentals had whitish skins like Englishmen.
if someone starts digging in the belief of local muslims before advent of Christianity and Islam,than existence of Mahabharata and Ramayana can be proved in Arabic and European countries. Many historical and archaeological significant buildings were destroyed by dogmatic and barbaric rulers of the middle west.

13) RAMAYANA IN EUROPE:

In a recent excavation, peculiar type of paintings were found in various houses digged out of the remains of Astrocon civilization. On close investigation, these 7 century paintings were identified as the events of Ramayana. Paintings consisted of two mens(with bow and arrow in their shoulders) along with group of monkey type characters with a lady standing besides them. Once Astrocon civilization covered over 80 percent of Italy.
Sir Henry Yule who transled Marcopolo works has mentioned the belief of ancestors having small tails among people of medieval Europe. The same has been confimed by Maharishi Dayanand in his documentary research magnum opus(Satyarth Prakash). Swamiji mentions about medieval Europe citizens calling asians as Vanaras because of their similar appearance to characters of Ramayana etc. This can be considered as racist comment similar to australians referred as kangaroos.
This type of epithets were also used in many other situations like describing armies of different countries during world war or in our case, naming helicopter as cheetah. same sorts of epithets were used in the form of words like Vanaras.Rakshas, etc. All these facts clearly demonstrates the popularity of Ramayana and its charcters all across the world .

14) RAMAYANA IN AFRICA(CONTINENT):

Ethiopians declare themselves as descendents of Cushites. Now this word Cushites is said to be the phonectic misnomer of Kush, the elder son of lord Rama. This fact is further verified by commentary of satpath Brahamans in various vedic mantras.
Commentary includes the reference of King Bharata (Predecessor of Pandavas) ruling Rhodesia.
Besides these, many africans communitites praise legends of Ramayana and they consistently refers to numerous activities of vanaras.
Name Egypt is derived from ajpati, Rama forefather name. Many other references of rama predecessor like dasratha can be found in ancient scriptures of Egypt, all verified by various Brahmans historical references.

15) RAMAYANA IN SOUTH AMERICAN AND NORTH AMERICAN CONTINENTS:

Before North American continent was discovered by Columbus, europeans were not awared of these continents however in a book(THE HUMAN SPECIES) written by DE QNATREFAGES, it is said that Chinese were not only aware of American continent but also had trade exchanges with them. Japanese called america as Fad-See while chinese called america as Fad-Sang. Similarly, america was frquently referred as paatal desh(Paatal means below foot) in india since it lied exactly opposite on the below side to india. Ramayana, mahabharata and other ancient scriptures are full of such references etc. For example:

a) Mayans are supposed to be civilization of mayasur who was blesed by lord krishna. Mexican tribal area called their beautiful womens as Ulopy. In mahabaharta, arjuna married a beautiful girl named Ulopy, daughter Patal Desh ruler.

b) In his book, famous author W H Prescott provides various similarities between mexicans(Mayans) and Indian(Aryan) civilization with many references to prove the trade links between these two civilizations.

Writer further talks about the legend quite popular in Aztec community. This legend is about a handsome person from the east called Quevtsal Katal, landed on west to teach on numeropus facets of advanced civilization. Later, he returned to his homeland due to oppression by some divine creature. Surprisingly, no exact reason of his return is mentioned.

Prescott further states that these legend and his stories is well documented in his homeland. Now, only in india there is a story similar to this. In Valmiki Ramayana, there is a mention of Rakshas(Demons) from lanka called Salkantak who was crucified by Vishnu. Due to his crucification, he ran away from Lanka to reach Patal Desh and met sumali, leader of this group. There they lived for a long time and returned back when the situation in his homeland became congenial. many such references from ramayana clearly indicates that ramayana is history and not a mythological epic.

Even today play based on ramayana called Ramasitotav is revered in various parts of Mexico. Even in Bible(new testament), there is a word called Rama. Eact sentence is “his voices was heard in RAMA” (ch 2/18). Rama was used as a proper noun. Instead of relating it directly to hindus rama, let us leave that to the biblical society to define the word Rama in bible.

Many amazing questions have been raised by indian and western historians like:

1) Why the month in which muslims fast is called Ramadhan ?
2) Why there is a place in Gazastrip called Ramallaha ?
3) what was the reason behind the place in London being named as Ramsgate?
4) Why Italy capital is called Rome( phonetically similar of Rama)
Similarly, Rama has been used as suffix and prefix in many such historical artifacts and places. There have been many answers to this questions but surprisingly, none of it gives a satisfactory conclusive answer.

Without hesitation one accepted that Alexander invaded India. But do we have any concrete proof beside some evidences. on one other hand, same historians straightly deny the historicity of Rama despite thousands of archaelogical and historical evidences.

In this post , i think that plenty of proof on lord rama has been provided. So, now it’s upto the reader to decide what they think about it whether to be foolish to refute the historicity of Rama or be wise to research on to find out further truth on this.

I would conclude with the following points:

1) Rama was a legendary hero(Mahanayak) who lived a simple dharmic life and an ideal to all living humans.
2)Ramasetu was built by Lord Rama from India to Lanka and there are satellite proof’s to confirm it.
3) Valmiki Ramayana is not a fiction but a true epic supported by historical evidences.

JAI SHRI RAM — —