Posted in यत्र ना्यरस्तुपूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता:, वर्णाश्रमव्यवस्था:

વાંઢો


તમારે લગ્ન જ ન કરવા હોય અને તમારા લગ્ન થાય નહી આ બંને વસ્તુમાં આમ તો જમીન આસમાનનો ફર્ક છે. પુરુષ વાંઢો રહી જાય તો ઘણીવાર હાંસીપાત્ર બને છે જ્યારે સ્ત્રી વાંઢી રહી જાય એ દયાપાત્ર બને છે. સ્વઈચ્છાથી ન પરણેલી સ્ત્રીઓ મોટાભાગે સમાજસેવા કે ધાર્મિક પ્રવૃતિમાં પોતાની જાતને ઓગાળી ધ્યે છે. પરંતુ પોતાની જીદને લીધે કુંવારી રહી ગયેલી સ્ત્રીઓના વૈજ્ઞાનિક કારણો શું હોઈ શકે?

પ્રથમ કારણ:- શહેરનો મોહ!

‘મારે તો રાજકોટની બહાર જવું જ નથી!’ ‘મને અમદાવાદ સિવાય દમ ઘુંટાય!’ ‘મુંબઈની બહાર ના પરણાય મરી જવાય!’ લગભગ દરેક મોટા શહેરમાં જુવાન થનારી કન્યાઓ આવી અવળી જીદે ચડી જાય છે. અલી ઘેલી! પરણવાનું વ્યક્તિ સાથે છે કે શહેરના બોર્ડ સાથે! ચર્ચ ગેટવાળી કન્યાને કાંદીવલીમાં નથી પરણવું તો નરોડાવાળીને ચાંગોદર નથી જવું અને કાલાવડ રોડવાળીને ગાંધીગ્રામમાં નથી પરણવું. બોલો લ્યો… શહેરનો છે એટલો મોહ પાત્રમાં રાખો તો એ જ્યાં હશે ત્યાં તમને સ્વર્ગ જેવું લાગશે. તમામ કન્યાઓ મેટ્રોસીટી તરફ મીંઢોળ બાંધીને દોડી રહી છે. એ જોતા તો એમ લાગે છે આવનારા વર્ષોમાં ગામડામાં જન્મવું એ અભિશાપ થઈ જશે. કન્યાઓની આ ઘેલછા ગામડાઓને સ્મશાન બનાવ્યે પૂર્ણ થશે કે શું?

બીજુ કારણ: ‘હજી તો દિકરી નાની છે.’

સ્ત્રી આમ તો કદી મોટી ઉંમરની હોતી જ નથી. પરંતુ આ વાક્ય કેટલીક સ્ત્રીઓ પિસ્તાલીસ કે સાંઈઠ વર્ષની થાય ત્યાં સુધી પ્રમાણિકતાથી પકડી રાખે છે. કેટલાક માતા પિતા સારા ઘરનું માગુ આવે ત્યારે વાત આગળ ચલાવ્યા વિના સીધુ જ રોકડું પરખાવે છે કે ‘અમારી દીકરી તો હજી ભણે છે.’ અલ્યા ભઈ તો અમારો ગગો કાંઇ તમારી ગગીના ભણવાના ચોપડા ફાડી નાંખે એવો લાગે છે? અમારૂ ખાનદાન કાંઈ સાવ નિરક્ષર થોડું છે? પાપાની પરી પાપાને જ નાનકડી લાગે છે. પપ્પા ક્યારેક દીકરીની ફેસબુક કે ઇન્સ્ટાની પોસ્ટ પણ વાંચવાનો સમય કાઢો. સત્ય સમજાઈ જશે કે ગગીને આવતી કાલે જ વળાવી દેવી જોઈએ. બહુ નાની ગણ્યા કરશો તો પછી એ કદી ‘નાની’ નહી બને હો!

ત્રીજુ કારણ: ‘બાપ રે! જોઇન્ટ ફેમેલી છે!’

‘મુરતીયાનું આઠ જણાનું કુટુંબ છે અને એમાં સૌથી નાની વહુ ના થવાય.’ બોલો હવે આ બેનબાની ચોઈસ માટે આપણે રાશનકાર્ડ પર કાપ મૂકવાનો? ‘અમારે તો આગળ પાછળ કોઈ ના હોય એવો વરરજો શોધવો છે.’ બેન તો અનાથઆશ્રમ બાજું ધ્યાન દોડાવો. સો એ પાંચ ફેમેલી હવે સંયુક્ત કુટુંબમાં માંડ રહે છે. વડીલોની હૂંફ અને આશિર્વાદ તમામ કપલને જોઈએ છે પરંતુ વડીલો કોઈને નથી જોતા! પોતાના નવજાત શિશુની પ્રોપર સંભાળ માટે માતાપિતા કેર ટેકર તરીકે બધા ઈચ્છે છે. પરંતુ એ માતાપિતાની કેર ટેક બહુ ઓછા કરે છે. જોઇન્ટ ફેમેલીમાં નહી પરણવાની જીદ કરીને કુંવારી બેઠેલી કન્યાઓ પાછી પોતાના ત્રણેય ભાઈઓ અને ભાભીઓ સાથે જ રહેતી હોય છે. આને કહવાય વિકાસ…!

ચોથું કારણ: ‘આઈ વોન્ટ ફ્રીડમ!’

‘મને તો કોઇની અંડરમાં જીવવુ જ નથી. આઈ એમ અ ફ્રી બર્ડ. આઈ વોન્ટ ફ્રિડમ.’ આવા વાક્યો પચ્ચીસ વરસે કહેનારી કેટલીય યુવતીઓ પિસ્તાલીસ પછી સાઈકેટ્રીસની ડિપ્રેશનની દવા લેતી નજરે પડે છે. ફ્રી બર્ડની જીંદગીમાંથી બર્ડ નીકળી જાય છે. અમુક કન્યાઓ પશ્ચિમની જીવનશૈલીને પૂર્વમાં જીવી લેવા તલપાપડ હોય છે. જવાબદારી શબ્દ જ જેને બાણ શૈયા જેવો લાગતો હોય તેવા ઘણાને વર્ષો પછી ‘શૈયા’ જ બાણ જેવી લાગવા માંડે છે. ફ્રિડમની સગલી થામાં બેન! નબળુ પાતળુ ગોતીને ગોઠવાઈ જા. તું નસીબદાર હોઇશ તો તારા પગલે વરને કેનેડા કે યુ.એસ.ના વિઝા મળી જાશે તો પછી ફ્રિડમના સ્વીમીંગપુલમાં એ’યને આજીવન ધુબકા માર્યા કરજે…! સ્વચ્છંદતાને સ્વભાવ ન બનાવાય બેબલી. દુષણોનું સ્વચ્છતા અભિયાન કરી શકે એવો સાવરણો ક્યાંય માર્કેટમાં નથી મળતો. પરણીજા બાઈ નહીંતર આગળ આવશે એકલતાની ખાઈ.

પાંચમું કારણ- પાતળી આર્થિક પરિસ્થિતિ

હવેની છોકરીઓ તો મુરતીયો જોવા આવે ત્યારે જ માઈક્રો ઓબ્ઝરવેશન કરી લ્યે છે. એ કઈ ગાડીમાં આવ્યો? તેની પાસે ક્યો મોબાઈલ છે? આ ભૂરો મને MIનો મોબાઈલ તો ગીફ્ટ નહી આપે ને? મારે તો આઇફોન જ જોઈએ. (પછી ભલેને મારા બાપુજીના ઘરે કોઇની આઇફોનની ત્રેવડ ન હોય તો’ય!) છોકરાના ઘરના સોફા પરથી તેની માનસિકતા ન મપાય બેન! શક્ય છે કે એ અત્યારે પરિવાર મધ્યમવર્ગનો છે પરંતુ તારા પગલા થશે અને તું જો કરકસરથી ઘર ચલાવશે તો પાંચ વરસમાં સૌ સારા વાના થશે. બાકી માત્ર બેંક-બેલેન્સ, મોંઘી ગાડી અને મોટા બંગલા જોઈને હરખે હરખે પરણનારી કેટલીય કન્યાઓને ફાઇવસ્ટાર બંગલામાં દવા પીવાના દિવસો આવ્યા છે. માટે છોકરો કાંડાવાળો હોય, તને સદ્દગુણી લાગે અને તારા દિલમાં તેને જોઈને ઘંટડી વાગે તો આર્થિક પરિસ્થિતિને ગોળી મારજે બેન! વર કન્યાનો એકબીજા પરનો ભરોસો મજબુત થશે તો કોઈપણ પરિસ્થિતિમાંથી રસ્તો મળશે જ! આગે બઢો.

છઠ્ઠું કારણ- સામસામુ નથી કરવું.*

06:43 કેટલીક કન્યાઓનું આ કારણ પ્રમાણમાં વ્યાજબી લાગે છે. ક્યારેક આ ક્રુર ભાસે છે. ભાભી રીટર્ન થાય એટલે વગર વાંકે નણંદબા પણ પરત મોકલી દેવાય છે. સંબંધોની આ મીરર ઇફેક્ટને લીધે ઘણા પરિવારો ટક્યા પણ છે અને તૂટ્યા પણ…!

સાતમું કારણ: ભણેલો જોઈએ!

કેટલીક કન્યાઓ સરકારી નોકરને જ પરણવાની પ્રતિજ્ઞા કરી બેસતી હોય છે. કલેક્ટર કે કમિશ્નરને વરવાના સ્વપ્ન જોનારી પછી સરકારી બેંકના પટ્ટાવાળાનું મંગળસૂત્ર પહેરે છે. ઘણી કન્યાઓ “પતિ એ જ પરમેશ્વર” નહીં પરંતુ “પે સ્લીપ એ જ પરમેશ્વર” સૂત્રને જીવનભર વળગી રહે છે.

ટૂંકમાં કન્યાઓ પાસે ન પરણવાના આજે આવા એક હજાર બહાના હોઈ શકે. પરણવાનું એક જ કારણ પુરતું છે કે સુખી થાવા કરતાં કોઈને સુખી કરવા માટે પરણવુ જરૂરી છે. સમયસર પરણી જાવ નહીતર પછી આંટી થઈ જશો.

Posted in यत्र ना्यरस्तुपूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता:

સ્ત્રીની આંતર મનની વ્યથા


સ્ત્રીની આંતર મનની વ્યથા:-

નાની હતી.
ખુબ બોલતી.
મા ટોકતી :
ચુપ રહે,
નાનાં છોકરાં બહું ના બોલે…..!

કિશોરી બની.
તોળીને બોલતી.
છતાં મા કહેતી :
ચુપ રહે,
હવે તું નાની નથી…..!

યુવતી બની.
મ્હોં ખોલું,
ત્યાં મા ઠપકારતી :
ચુપ રહે,
પારકા ઘરે જવાનું છે…..!

નોકરી કરવા ગઈ.
સાચું બોલવા ગઈ.
બોસ બોલ્યા :
ચુપ રહો,
માત્ર કામમાં ધ્યાન આપો…..!

પુત્રવધુ બની.
બોલવા જાઉં
તો સાસુ ટપારતી :
ચુપ રહે,
આ તારું પિયર નથી…..!

ગૃહિણી બની.
પતિને કાંઈ કહેવા જાઉં,
પતિ ગુસ્સે થતો :
ચુપ રહે,
તને શું ખબર પડે…..!

માતા બની.
બાળકોને કાંઈ કહેવા જાઉં.
તો તે કહેતા :
ચુપ રહે,
તને એ નહીં સમજાય…..!

જીવનની સાંજ પડી.
બે બોલ બોલવા ગઈ.
સૌ કહે :
ચુપ રહો,
બધામાં માથું ના મારો…..!

વૃદ્ધા બની.
મ્હોં ખોલવા ગઈ.
સંતાનો કહે :
ચુપ રહે,
હવે, શાંતિથી જીવ…..!

બસ……..,
આ ચુપકીદીમાં અંતરના ઊંડાણમાં ઘણુંય સંઘરાયું છે…..
એ સઘળું શબ્દોમાં ઉજાગર કરવા જાઉં,
ત્યાં તો સામે યમરાજા દેખાયા.
તેમણે આદેશ આપ્યો:
ચુપ રહે,
તારો અંત આવી ગયો…..!

હું ચુપ થઈ ગઈ…..
હંમેશના માટે……….!
🙏🏻🙏🏻

Posted in यत्र ना्यरस्तुपूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता:

માતૃદીન


Happy Mother’s Day

“મહા હેતવાળી દયાળી જ મા તું”

હતો હું સૂતો પારણે પુત્ર નાનો,
રડું છેક તો રાખતું કોણ છાનો ?
મને દુ:ખી દેખી દુ:ખી કોણ થાતું ?
મહા હેતવાળી દયાળી જ મા તું.

સૂકામાં સુવાડે ભીને પોઢી પોતે,
પીડા પામું પંડે તજે સ્વાદ તો તે;
મને સુખ માટે કટુ કોણ ખાતું ?
મહા હેતવાળી દયાળી જ મા તું.

લઈ છાતી સાથે બચી કોણ લેતું ?
તજી તાજું ખાજું મને કોણ દેતું ?
મને કોણ મીઠાં મુખે ગીત ગાતું ?
મહા હેતવાળી દયાળી જ મા તું.

પડું કે ખડું તો ખમા આણી વાણી,
પડે પાંપણે પ્રેમનાં પૂર પાણી;
પછી કોણ પોતતણું દૂધ પાતું ?
મહા હેતવાળી દયાળી જ મા તું.

મને કોણ કે’તું પ્રભુ ભક્તિ જુક્તિ,
ટળે તાપ-પાપ, મળે જેથી મુક્તિ;
ચિત્તે રાખી ચિંતા રૂડું કોણ ચા’તું,
મહા હેતવાળી દયાળી જ મા તું.

તથા આજ તારું હજી હેત તેવું,
જળે માછલીનું જડ્યું હેત તેવું;
ગણિતે ગણ્યાથી નથી તે ગણાતું,
મહા હેતવાળી દયાળી જ મા તું.

અરે ! એ બધું શું ભલું જૈશ ભૂલી,
લીધી ચાકરી આકરી જે અમૂલી;
સદા દાસ થૈ વાળી આપીશ સાટું,
મહા હેતવાળી દયાળી જ મા તું.

અરે ! દેવતા દેવ આનંદદાતા !
મને ગુણ જેવો કરે મારી માતા;
સામો વાળવા જોગ દેજે સદા તું,
મહા હેતવાળી દયાળી જ મા તું.

શીખે સાંભળે એટલા છંદ આઠે,
પછી પ્રીતથી જો કરે નિત્ય પાઠે;
રાજી દેવ રાખે સુખી સર્વ ઠામે,
રચ્યા છે રૂડા છંદ દલપતરામે.
~ કવીશ્વર દલપતરામ

Posted in यत्र ना्यरस्तुपूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता:

साधुको भी चाहिये कि वह किसी स्त्रीको चेली न बनाये । दीक्षा देते समय गुरुको शिष्यके हृदय आदिका स्पर्श करना पड़ता है, जबकि संन्यासीके लिये स्त्रीके स्पर्शका कड़ा निषेध है । श्रीमद्भागवतमें आया है कि हाड़-मांसमय शरीरवाली स्त्रीका तो कहना ही क्या है, लकड़ीकी बनी हुई स्त्रीका भी स्पर्श न करे और हाथसे स्पर्श करना तो दूर रहा, पैरसे भी स्पर्श न करेᅳ

पदापि युवतीं भिक्षुर्न स्पृशेद् दारवीमपि ।
(श्रीमद्भागवत ११/८/१३)

शास्त्रोंमें यहाँतक कहा गया हैᅳ

मात्रा स्वस्त्रा दुहित्रा वा न विविक्तासनो भवेत् ।
बलवानिद्रियग्रामो विद्वांसमपि कर्षति ॥
(मनु॰ २/२१५)

‘मनुष्योंको चाहिये कि अपनी माता, बहन अथवा पुत्रीके साथ भी कभी एकान्तमें न रहें; क्योंकि इन्द्रियाँ बड़ी प्रबल होती हैं, वे विद्वान मनुष्यको भी अपनी तरफ खींच लेती हैं ।’

संग न कुर्यात्प्रमदासु जातु योगस्य पारं परमारुरुक्षुः ।
मत्सेवया प्रतिलब्धात्मलाभो वदन्ति या निरयद्वारमस्य ॥
(श्रीमद्भागवत ३/३१/३९)

‘जो पुरुष योगके परम पदपर आरूढ़ होना चाहता हो अथवा जिसे मेरी सेवाके प्रभावसे आत्मा-अनात्माका विवेक हो गया हो, वह स्त्रियोंका संग कभी न करे; क्योंकि उन्हें ऐसे पुरुषके लिये नरकका खुला द्वार बताया गया है ।’

श्री शशांक शेखर शुल्ब

Posted in यत्र ना्यरस्तुपूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता:

नारी


संसार की किसी भी धर्म पुस्तक में नारी की महिमा का इतना सुंदर गुण गान नहीं मिलता जितना वेदों में मिलता हैं.कुछ उद्हारण
१. उषा के समान प्रकाशवती-
ऋग्वेद ४/१४/३
हे राष्ट्र की पूजा योग्य नारी! तुम परिवार और राष्ट्र में सत्यम, शिवम्, सुंदरम की अरुण कान्तियों को छिटकती हुई आओ , अपने विस्मयकारी सद्गुणगणों के द्वारा अविद्या ग्रस्त जनों को प्रबोध प्रदान करो. जन-जन को सुख देने के लिए अपने जगमग करते हुए रथ पर बैठ कर आओ.
२. वीरांगना-
यजुर्वेद ५/१०
हे नारी! तू स्वयं को पहचान. तू शेरनी हैं, तू शत्रु रूप मृगों का मर्दन करनेवाली हैं, देवजनों के हितार्थ अपने अन्दर सामर्थ्य उत्पन्न कर. हे नारी ! तू अविद्या आदि दोषों पर शेरनी की तरह टूटने वाली हैं, तू दिव्य गुणों के प्रचारार्थ स्वयं को शुद्ध कर! हे नारी ! तू दुष्कर्म एवं दुर्व्यसनों को शेरनी के समान विश्वंस्त करनेवाली हैं, धार्मिक जनों के हितार्थ स्वयं को दिव्य गुणों से अलंकृत कर.
३. वीर प्रसवा
ऋग्वेद १०/४७/३
राष्ट्र को नारी कैसी संतान दे
हमारे राष्ट्र को ऐसी अद्भुत एवं वर्षक संतान प्राप्त हो, जो उत्कृष्ट कोटि के हथियारों को चलाने में कुशल हो, उत्तम प्रकार से अपनी तथा दूसरों की रक्षा करने में प्रवीण हो, सम्यक नेतृत्व करने वाली हो, धर्म-अर्थ-काम-मोक्ष रूप चार पुरुषार्थ- समुद्रों का अवगाहन करनेवाली हो, विविध संपदाओं की धारक हो, अतिशय क्रियाशील हो, प्रशंशनीय हो, बहुतों से वरणीय हो, आपदाओं की निवारक हो.
४. विद्या अलंकृता
यजुर्वेद २०/८४
विदुषी नारी अपने विद्या-बलों से हमारे जीवनों को पवित्र करती रहे. वह कर्मनिष्ठ बनकर अपने कर्मों से हमारे व्यवहारों को पवित्र करती रहे. अपने श्रेष्ठ ज्ञान एवं कर्मों के द्वारा संतानों एवं शिष्यों में सद्गुणों और सत्कर्मों को बसाने वाली वह देवी गृह आश्रम -यज्ञ एवं ज्ञान- यज्ञ को सुचारू रूप से संचालित करती रहे.
५. स्नेहमयी माँ
अथर्वेद ७/६८/२
हे प्रेमरसमयी माँ! तुम हमारे लिए मंगल कारिणी बनो, तुम हमारे लिए शांति बरसाने वाली बनो, तुम हमारे लिए उत्कृष्ट सुख देने वाली बनो. हम तुम्हारी कृपा- दृष्टि से कभी वंचित न हो.
६. अन्नपूर्ण
अथर्ववेद ३/२८/४
इस गृह आश्रम में पुष्टि प्राप्त हो, इस गृह आश्रम में रस प्राप्त हो. इस गिरः आश्रम में हे देवी! तू दूध-घी आदि सहस्त्रों पोषक पदार्थों का दान कर. हे यम- नियमों का पालन करने वाली गृहणी! जिन गाय आदि पशु से पोषक पदार्थ प्राप्त होते हैं उनका तू पोषण कर.
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता:
यत्रैतास्तु न पूज्यन्ते सर्वास्तत्राफला: क्रिया:
जिस कुल में नारियो कि पूजा, अर्थात सत्कार होता हैं, उस कुल में दिव्यगुण , दिव्य भोग और उत्तम संतान होते हैं और जिस कुल में स्त्रियो कि पूजा नहीं होती, वहां जानो उनकी सब क्रिया निष्फल हैं

अरुण सुक्ला

Posted in यत्र ना्यरस्तुपूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता:

अर्धनग्न


अर्धनग्न महिलाओं को देख कर 90℅ कौन मजे लेता है नारी स्वतंत्रता पर सच्चाई जाने, समझें
एक लेख

एक दिन मोहल्ले में किसी ख़ास अवसर पर महिला सभा का
आयोजन किया गया, सभा स्थल पर
महिलाओं की संख्या अधिक
और पुरुषों की कम थी.!!

मंच पर तकरीबन पच्चीस वर्षीय
खुबसूरत युवती, आधुनिक वस्त्रों से
सुसज्जित, माइक थामें कोस रही थी
पुरुष समाज को..!!

वही पुराना आलाप….
कम और छोटे कपड़ों को जायज,
और कुछ भी पहनने की स्वतंत्रता का बचाव करते हुए, पुरुषों की गन्दी सोच और खोटी नीयत का
दोष बतला रही थी.!!

तभी अचानक सभा स्थल से…
तीस बत्तीस वर्षीय सभ्य, शालीन और आकर्षक से दिखते नवयुवक ने खड़े होकर अपने विचार व्यक्त करने की अनुमति मांगी..!!

अनुमति स्वीकार कर माइक उसके हाथों में सौप दिया गया , हाथों में माइक आते ही उसने बोलना शुरु किया..!!

“माताओं, बहनों और भाइयों,
मैं आप सबको नहीं जानता और आप सभी मुझे नहीं जानते कि, आखिर मैं कैसा इंसान हूं..??

लेकिन पहनावे और शक्ल सूरत से
मैं आपको कैसा लगता हूँ, बदमाश या शरीफ..??

सभास्थल से कई आवाजें गूंज उठीं… पहनावे और बातचीत से तो आप शरीफ लग रहे हो…

बस यही सुनकर, अचानक ही
उसने अजीबोगरीब हरकत कर डाली… सिर्फ हाफ पैंट टाइप की
अपनी अंडरवियर छोड़ कर के बाक़ी सारे कपड़े मंच पर ही उतार दिये..!!

ये देख कर पूरा सभा स्थल आक्रोश से गूंज उठा, मारो-मारो गुंडा है,
बदमाश है, बेशर्म है, शर्म नाम की
चीज नहीं है इसमें…. मां बहन का
लिहाज नहीं है इसको, नीच इंसान है,
ये छोड़ना मत इसको….

ये आक्रोशित शोर सुनकर अचानक वो माइक पर गरज उठा… “रुको…
पहले मेरी बात सुन लो, फिर मार भी लेना , चाहे तो जिंदा जला भी देना
मुझको..!!

अभी अभी तो ये बहन जी कम कपड़े, तंग और बदन नुमा छोटे-छोटे कपड़ों के पक्ष के साथ साथ स्वतंत्रता की दुहाई देकर गुहार लगाकर…
“नीयत और सोच में खोट” बतला रही थी…!! तब तो आप सभी तालियां बजा-बजाकर सहमति जतला रहे थे.. फिर मैंने क्या किया है..??
सिर्फ कपड़ों की स्वतंत्रता ही तो
दिखलायी है..!!

“नीयत और सोच” की खोट तो नहीं ना और फिर मैने तो, आप लोगों को… मां बहन और भाई भी कहकर ही संबोधित किया था..फिर मेरे अर्द्ध नग्न होते ही आप में से किसी को भी
मुझमें “भाई और बेटा” क्यों नहीं नजर आया..??

मेरी नीयत में आप लोगों को
खोट कैसे नजर आ गया..??

मुझमें आपको सिर्फ “मर्द” ही क्यों नजर आया? भाई, बेटा, दोस्त क्यों नहीं नजर आया? आप में से तो किसी की “सोच और नीयत” भी
खोटी नहीं थी…
फिर ऐसा क्यों?? “

सच तो यही है कि झूठ बोलते हैं लोग कि… “वेशभूषा” और “पहनावे” से
कोई फर्क नहीं पड़ता हकीकत तो यही है कि मानवीय स्वभाव है कि किसी को सरेआम बिना “आवरण” के देख लें तो कामुकता जागती है
मन में…रूप, रस, शब्द, गन्ध, स्पर्श
ये बहुत प्रभावशाली कारक हैं। इनके प्रभाव से “विश्वामित्र” जैसे मुनि के
मस्तिष्क में विकार पैदा हो गया था..
जबकि उन्होंने सिर्फ रूप कारक के दर्शन किये। आम मनुष्यों की
विसात कहाँ..??

दुर्गा शप्तशती के देव्या कवच श्लोक 38 में भगवती से इन्हीं कारकों से रक्षा करने की प्रार्थना की गई है..

“रसेरुपेगन्धेशब्देस्पर्शेयोगिनी।
सत्त्वंरजस्तमश्चैवरक्षेन्नारायणी_सदा।।”

रस रूप गंध शब्द स्पर्श इन विषयों का अनुभव करते समय योगिनी देवी रक्षा करें तथा सत्वगुण, रजोगुण, तमोगुण की रक्षा नारायणी देवी करें.!!

अब बताइए, हम भारतीय हिन्दु महिलाओं को “हिन्दु संस्कार” में
रहने को समझाएं तो स्त्रियों की कौन-सी “स्वतंत्रता” छीन रहे हैं..??

सोशल मीडिया पर अर्ध-नग्न होकर नाचती 90% कन्याएँ-महिलाएँ हिंदू हैं..और मज़े लेने वाले 90% कौन है?
ये बताने की भी ज़रूरत है क्या..?

आँखे खोलिए…संभालिए अपने आप को और अपने समाज को, क्योंकि भारतीय समाज और संस्कृति का आधार नारीशक्ति है और धर्म विरोधी, अधर्मी, चांडाल (बॉलीवुड, वामपंथ) ये हमारे समाज के आधार को तोड़ने का षड्यंत्र कर रहे हैं..!!

परम्परागत सनातन धर्म की रक्षा का दायित्व हम सभी पर है।

Posted in यत्र ना्यरस्तुपूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता:

अस्मिता


8240297590
डॉ उर्मिला साव कामनास्त्री अस्मिता

अस्मिता के केन्द्र में “अस्मिता” केन्द्रीय धुरी है.
जो स्त्री के शुभारम्भ जीवन का प्रथम छुरी है.

जिसने सदियों से हाशिये पर पड़े स्त्री लाकर.
बहस केन्द्र में बना दिया बहसी पुरुष ने आकर.

स्त्री पुरुषों में जैविक भेद तो प्रकृति प्रदत है.
लैंगिक भेद के कारण अस्मिता
संदिग्ध प्रदत है.

एक सीमा तक अस्तित्व वनिता का दबाकर रखा.
क्षण पर स्त्री अस्मिता संघर्ष अस्तित्व जारी रखा.

मानवी ने धर जब चन्डी रूप अस्मिता के लिए.
कब तक बलपूर्वक दबाते नर
शक्ति के लिए.

सतयुग से सुप्तावस्था में पड़ी थी जो नारियॉ.
अचानक जाग उठी कलयुग में स्व आधी नारियॉ.

इतने प्रखर रूप में आयी संसार की धरा पर.
स्वंय को स्थापित की केन्द्र में स्त्री अस्मिता पर.

किसके किन मापदंडों से निर्धारित की जायेगी.
मूल्यांकन स्त्री का नर या स्त्री द्वारा की जायेगी.

पुरूष के मूल्यांकन में अस्मिता का अस्तित्व नहीं.
नारी के मूल्यांकन में पुरूषों का अस्तित्व नहीं.

पुरूषार्थ से नारी को आदर्श देवी बनाया .
जो कलयुग में विकृत रुप उभर कर सामने आया.

यथार्थ धरती पर नारियों ने पहचान बनाई.
गुरदेल से गुलडजर तक जग में चलाकर दिखाई.

जाग्रत अवस्था में बुद्धि जीवी नर
नजर डालो.
तुमसे नारी आगे निकली अच्छे विचार पालो.

पितृसत्ता में सभी शक्ति को किया गया नियंत्रित.
स्त्री को पुरूष अधीन उपभोग में किया आमंत्रित.

स्त्री जाति नाम गोत्र अपने अनुरूप परिभाषित किया.
स्त्री जीवन कार्यशैली सता को निर्धारित किया.

वनिता महिला मानवी जोरू घरनी तिरिया, नारी .
घरवाली, औरत ,स्त्री वनिता की दर्द सभी सारी.

पहचान, निर्णय सामाजिकता पुरुष अस्वीकारा.
स्त्री को अमानवीय हरकतों का शिकार स्वीकारा .

स्त्री को स्वतंत्र व्यक्तित्व का संघर्ष लड़ना पड़ा.
षड्यंत्र अवरोधों प्रश्नों का सामना करना पड़ा.

अमानुषिक विवशता जुर्म सहकर भी स्व निर्भर है.
स्वंय के लक्ष्यों आधुनिकता की ओर अग्रसर है.

एक दूजे कै पूरक सर्वसम्मति ईकाईयां है
स्वतंत्र अस्तित्व अस्मिता कहीं न दिखाईयां है.

जगत में समाजिक अस्मिता का यहाँ यह जिक्र है
“यत्र नार्यस्तु पूजयन्ते रमन्ते तत्र देवता” हैं.

सूक्तियों को गिनाकर नारी का है गुणगान किया.
अधिकारों को सुरक्षित समझ कर यहाँ कल्याण किया.

विज्ञान महिलाओं के बुद्धि विवेक को विकसित किया.
नारी के हर क्षेत्र के समानाधिकार में वृद्धि किया.

कन्या का लालन पालन हर जुल्म से जोड़ा हुआ.
मुकदर का जुर्म सहकर बहुओं का भाग्योदय हुआ.

जो जीवन में पुरूषो के सब खुशियों का ख्याल रखी.
उत्सर्ग त्याग बलिदान की निज कहानी अमर रखी.

स्त्री अस्मिता, गुण हैं दोनों ही समान.
जो समाज में हर स्तर पर रखे हैं लैंगिक समान.

डॉ उर्मिला साव कामना

Posted in यत्र ना्यरस्तुपूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता:

वेदों की विहंगम दृष्टि में नारी


Anand Nimbadia,
चलिए हजारो साल पुराना इतिहास पढ़ते हैं।

सम्राट शांतनु ने विवाह किया एक मछवारे की पुत्री सत्यवती से।उनका बेटा ही राजा बने इसलिए भीष्म ने विवाह न करके,आजीवन संतानहीन रहने की भीष्म प्रतिज्ञा की।

सत्यवती के बेटे बाद में क्षत्रिय बन गए, जिनके लिए भीष्म आजीवन अविवाहित रहे, क्या उनका शोषण होता होगा?

महाभारत लिखने वाले वेद व्यास भी मछवारे थे, पर महर्षि बन गए, गुरुकुल चलाते थे वो।

विदुर, जिन्हें महा पंडित कहा जाता है वो एक दासी के पुत्र थे, हस्तिनापुर के महामंत्री बने, उनकी लिखी हुई विदुर नीति, राजनीति का एक महाग्रन्थ है।

भीम ने वनवासी हिडिम्बा से विवाह किया।

श्रीकृष्ण दूध का व्यवसाय करने वालों के परिवार से थे,

उनके भाई बलराम खेती करते थे, हमेशा हल साथ रखते थे।

यादव क्षत्रिय रहे हैं, कई प्रान्तों पर शासन किया और श्रीकृषण सबके पूजनीय हैं, गीता जैसा ग्रन्थ विश्व को दिया।

राम के साथ वनवासी निषादराज गुरुकुल में पढ़ते थे।

उनके पुत्र लव कुश महर्षि वाल्मीकि के गुरुकुल में पढ़े जो वनवासी थे

तो ये हो गयी वैदिक काल की बात, स्पष्ट है कोई किसी का शोषण नहीं करता था,सबको शिक्षा का अधिकार था, कोई भी पद तक पहुंच सकता था अपनी योग्यता के अनुसार।

वर्ण सिर्फ काम के आधार पर थे वो बदले जा सकते थे, जिसको आज इकोनॉमिक्स में डिवीज़न ऑफ़ लेबर कहते हैं वो ही।

प्राचीन भारत की बात करें, तो भारत के सबसे बड़े जनपद मगध पर जिस नन्द वंश का राज रहा वो जाति से नाई थे ।

नन्द वंश की शुरुवात महापद्मनंद ने की थी जो की राजा नाई थे। बाद में वो राजा बन गए फिर उनके बेटे भी, बाद में सभी क्षत्रिय ही कहलाये।

उसके बाद मौर्य वंश का पूरे देश पर राज हुआ, जिसकी शुरुआत चन्द्रगुप्त से हुई,जो कि एक मोर पालने वाले परिवार से थे और एक ब्राह्मण चाणक्य ने उन्हें पूरे देश का सम्राट बनाया । 506 साल देश पर मौर्यों का राज रहा।

फिर गुप्त वंश का राज हुआ, जो कि घोड़े का अस्तबल चलाते थे और घोड़ों का व्यापार करते थे।140 साल देश पर गुप्ताओं का राज रहा।

केवल पुष्यमित्र शुंग के 36 साल के राज को छोड़ कर 92% समय प्राचीन काल में देश में शासन उन्ही का रहा, जिन्हें आज दलित पिछड़ा कहते हैं तो शोषण कहां से हो गया? यहां भी कोई शोषण वाली बात नहीं है।

फिर शुरू होता है मध्यकालीन भारत का समय जो सन 1100- 1750 तक है, इस दौरान अधिकतर समय, अधिकतर जगह मुस्लिम शासन रहा।

अंत में मराठों का उदय हुआ, बाजी राव पेशवा जो कि ब्राह्मण थे, ने गाय चराने वाले गायकवाड़ को गुजरात का राजा बनाया, चरवाहा जाति के होलकर को मालवा का राजा बनाया।

अहिल्या बाई होलकर खुद बहुत बड़ी शिवभक्त थी। ढेरों मंदिर गुरुकुल उन्होंने बनवाये।

मीरा बाई जो कि राजपूत थी, उनके गुरु एक चर्मकार रविदास थे और रविदास के गुरु ब्राह्मण रामानंद थे|।

यहां भी शोषण वाली बात कहीं नहीं है।

मुग़ल काल से देश में गंदगी शुरू हो गई और यहां से पर्दा प्रथा, गुलाम प्रथा, बाल विवाह जैसी चीजें शुरू होती हैं।

1800 -1947 तक अंग्रेजो के शासन रहा और यहीं से जातिवाद शुरू हुआ । जो उन्होंने फूट डालो और राज करो की नीति के तहत किया।

अंग्रेज अधिकारी निकोलस डार्क की किताब “कास्ट ऑफ़ माइंड” में मिल जाएगा कि कैसे अंग्रेजों ने जातिवाद, छुआछूत को बढ़ाया और कैसे स्वार्थी भारतीय नेताओं ने अपने स्वार्थ में इसका राजनीतिकरण किया।

इन हजारों सालों के इतिहास में देश में कई विदेशी आये जिन्होंने भारत की सामाजिक स्थिति पर किताबें लिखी हैं, जैसे कि मेगास्थनीज ने इंडिका लिखी, फाहियान, ह्यू सांग और अलबरूनी जैसे कई। किसी ने भी नहीं लिखा की यहां किसी का शोषण होता था।

योगी आदित्यनाथ जो ब्राह्मण नहीं हैं, गोरखपुर मंदिर के महंत हैं, पिछड़ी जाति की उमा भारती महा मंडलेश्वर रही हैं। जन्म आधारित जातीय व्यवस्था हिन्दुओ को कमजोर करने के लिए लाई गई थी।

इसलिए भारतीय होने पर गर्व करें और घृणा, द्वेष और भेदभाव के षड्यंत्रों से खुद भी बचें और औरों को भी बचाएं..।।🚩🚩

भवितव्य मिश्र, [07/12/2021 8:22 PM]
🔥 वेदों की विहंगम दृष्टि में नारी 🔥

✍️ :- भवितव्य आर्य “मनुगामी”

स्त्री को शास्त्र-अध्ययन का निषेध करने वाले स्वयं शास्त्रों से कितनी दूर थे, इसका एक छोटा उदाहरण यह शोध-कणिका है।

पिछले दिनों सबरीमाला मन्दिर में महिलाओं के प्रवेश और उसपर सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय की चर्चाएँ जोरों पर थीं। नारी अधिकारों की बात कुछ नई नहीं है।

इस्लाम में दो महिलाओं की गवाही को एक पुरुष के बराबर माना गया है वहीं प्रथम स्त्री हौवा को आदम की पसली से बना बताया जाता है, पुरूष वहां भी आगे है।

मुसलमानो के इस स्थापना की जड़ ईसाइयों की बाइबिल है, जो किसी स्थिति में कमतर नहीं है, जिसकी दृष्टि में महिला केवल पुरूष को इन्द्रिय सुख की तृप्ति के लिए गढ़ी गई है।

यहूदियों की मान्यता भी इसी के आर्श्व-पार्श्व विचरण करती है। इससे भी बड़ी भयावह बात यह है कि पश्चिमी सभ्यता में स्त्री की “मानव-जाति” में गिनती ही नहीं की जाती थी।

वो तो भला हो विज्ञान का, जिससे भयाकुल यूरोपीय समाज मजबूरन संसद में कानून बनाकर अभी कुछ सौ साल पहले स्त्री को “मानव जाति” का होना स्वीकार किया।

इसी प्रकार बौद्ध मत में स्त्रियों को बुद्धत्व प्राप्ति का अधिकार नहीं है। त्रिपिटक में स्त्रियों को अनेक जन्मजात दुर्गुणों से युक्त बताया है।

जैन मत में स्त्री को अगले जन्म में पुरुष शरीर धारण करने के पश्चात ही मोक्ष का अधिकारी माना है।

यदि वेदों की दिव्य विहंगम दृष्टि को स्वयं में स्थापित कर लिया जाए तो विश्व भर में मजहब अथवा सम्प्रदाय के नाम पर उत्पात मचाने वाले इन सभी मिथ्या-विवादों अथवा विश्वासों की चूल हिल जाएगी।

भारतीय ज्ञान परम्परा पर विहंगम दृष्टि डालने से यह विदित होता है कि इस समृद्ध परम्परा में लैंगिक समानता व न्याय के स्वर यत्र-तत्र बिखरे पड़े हैं। अग्रलिखित उद्धरण दृष्टव्य है:-

(1) वेद यदि पुरुष को ‘ओजस्वान्’ (अथर्व. 8.5.4) ओज वाला कहता है तो स्त्री को ‘ओजस्वती’ (यजु. 10.3) कहता है।

(2) पुरुष यदि ‘सहस्त्रवीर्यः’ (अथर्व. 2.4.2) सहस्त्र पराक्रम वाला है तो स्त्री ‘सहस्त्रवीर्याः’ (यजु. 13.26) कही गई है।

(3) पुरुष यदि ‘सहीयान्’ (ऋ. 1.61.7) अत्यन्त बल वाला है, तो स्त्री ‘सहीयसी’ (अथर्व. 10.5.43) बताई गई।

(4) पुरुष को यदि ‘सम्राट’ (ऋ. 2.28.6) शासक कहा, तो स्त्री को ‘सम्राज्ञी’ (ऋ. 1.85.64) कहा गया।

(5) पुरुष यदि ‘मनीषी’ (ऋ. 9.96.8) मन वशीकरण करने वाला है तो स्त्री ‘मनीषा’ (ऋ. 1.101.7) है।

(6) पुरुष यदि ‘राजा’ (अथर्व. 1.33.2) दीप्तिमान् कहा गया, तो स्त्री ‘राज्ञी’ (यजु. 14.13) कही गई।

(7) पुरुष यदि ‘सभासदः’ (अथर्व. 20.21.3) सभाओं के अधिकारी हैं, तो स्त्री ‘सभासदा’ (अथर्व. 8.8.9) है।

(8) पुरुष को यदि ‘अषाडहः’ (ऋ. 7.20.3) अपराजित घोषित किया गया, तो स्त्री ‘अषाढा’ (यजु. 13.26) प्रसिद्ध हुई।

(9) पुरुष यदि ‘यज्ञियः’ (ऋ. .14.3) यज्ञ करने वाला, की उपाधि से युक्त है तो स्त्री ‘यज्ञिया’ (यजु. 4.19) से सुभूषित है।

(10) यदि पुरुष ‘ब्रह्मायं वाचः’ (ऋ. 10.71.11) ब्रह्मा = (चतुर्वेद वेत्ता) नाम से शोभित हुआ, तो स्त्री भी ‘स्त्री हि ब्रह्मा बभूविथ’ (ऋ. 8.33.19) ‘ब्रह्मा’ संज्ञा से विभूषित हुई, आदि आदि।

ये तो बस कुछ उद्धरण मात्र हैं, वेदों में ऐसे प्रतिमानों का भण्डार है, जो कदाचित संसार के अन्य किसी ग्रंथ, साहित्य या परम्परा में देखने को नहीं मिलते।

भारतीय विश्वदृष्टि समस्त चराचर जगत् की तात्विक एकता का उद्घोष करती है।

आज आवश्यकता है वेदों की इस विहंगम सम्यक् दृष्टि को अपनाने की, जिसके द्वारा ही विज्ञानमय नए युग का भव्य स्वागत किया जा सकता है।

Posted in यत्र ना्यरस्तुपूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता:

“स्त्री” क्यों पूजनीय है ?
==============

एक बार सत्यभामाजी ने श्रीकृष्ण से पूछा, “मैं आप को कैसी लगती हूँ ?

” श्रीकृष्ण ने कहा, “तुम मुझे नमक जैसी लगती हो ।”

सत्यभामाजी इस तुलना को सुन कर क्रुद्ध हो गयी, तुलना भी की तो किस से । आपको इस संपूर्ण विश्व में मेरी तुलना करने के लिए और कोई पदार्थ नहीं मिला।

श्रीकृष्ण ने उस वक़्त तो किसी तरह सत्यभामाजी को मना लिया और उनका गुस्सा शांत कर दिया ।

कुछ दिन पश्चात श्रीकृष्ण ने अपने महल में एक भोज का आयोजन किया छप्पन भोग की व्यवस्था हुई।

सर्वप्रथम सत्यभामाजी से भोजन प्रारम्भ करने का आग्रह किया श्रीकृष्ण ने ।

सत्यभामाजी ने पहला कौर मुँह में डाला मगर यह क्या – सब्जी में नमक ही नहीं था । कौर को मुँह से निकाल दिया ।

फिर दूसरा कौर मावा-मिश्री का मुँह में डाला और फिर उसे चबाते-चबाते बुरा सा मुँह बनाया और फिर पानी की सहायता से किसी तरह मुँह से उतारा ।

अब तीसरा कौर फिर कचौरी का मुँह में डाला और फिर.. आक्..थू !

तब तक सत्यभामाजी का पारा सातवें आसमान पर पहुँच चुका था । जोर से चीखीं.. किसने बनाई है यह रसोई ?

सत्यभामाजी की आवाज सुन कर श्रीकृष्ण दौड़ते हुए सत्यभामाजी के पास आये और पूछा क्या हुआ देवी ? कुछ गड़बड़ हो गयी क्या ? इतनी क्रोधित क्यों हो ? तुम्हारा चेहरा इतना तमतमा क्यूँ रहा है ? क्या हो गया ?

सत्यभामाजी ने कहा किसने कहा था आपको भोज का आयोजन करने को ?

इस तरह बिना नमक की कोई रसोई बनती है ? किसी वस्तु में नमक नहीं है। मीठे में शक्कर नहीं है। एक कौर नहीं खाया गया।

श्रीकृष्ण ने बड़े भोलेपन से पूछा, तो क्या हुआ बिना नमक के ही खा लेती ।

सत्यभामाजी फिर क्रुद्ध होकर बोली कि लगता है दिमाग फिर गया है आपका ? बिना शक्कर के मिठाई तो फिर भी खायी जा सकती है मगर बिना नमक के कोई भी नमकीन वस्तु नहीं खायी जा सकती है ।

तब श्रीकृष्ण ने कहा तब फिर उस दिन क्यों गुस्सा हो गयी थी जब मैंने तुम्हे यह कहा कि तुम मुझे नमक पर जितनी प्रिय हो ।

अब सत्यभामाजी को सारी बात समझ में आ गयी की यह सारा वाकया उसे सबक सिखाने के लिए था और उनकी गर्दन झुक गयी ।

कथा का मर्म :-
~~~~~

स्त्री जल की तरह होती है, जिसके साथ मिलती है उसका ही गुण अपना लेती है । स्त्री नमक की तरह होती है जो अपना अस्तित्व मिटा कर भी अपने प्रेम-प्यार तथा आदर-सत्कार से परिवार को ऐसा बना देती है ।

माला तो आप सबने देखी होगी। तरह-तरह के फूल पिरोये हुवे पर शायद ही कभी किसी ने अच्छी से अच्छी माला में अदृश्य उस “सूत” को देखा होगा जिसने उन सुन्दर सुन्दर फूलों को एक साथ बाँध कर रखा है ।

लोग तारीफ़ तो उस माला की करते हैं जो दिखाई देती है मगर तब उन्हें उस सूत की याद नहीं आती जो अगर टूट जाये तो सारे फूल इधर-उधर बिखर जाते है ।।

स्त्री उस सूत की तरह होती है जो बिना किसी चाह के , बिना किसी कामना के , बिना किसी पहचान के , अपना सर्वस्व खो कर भी किसी के जान-पहचान की मोहताज नहीं होती है और शायद इसीलिए दुनिया श्रीराम के पहले सीताजी को और कान्हाजी के पहले श्री-राधे जी को याद करती है ।

अपने को विलीन कर के पुरुषों को सम्पूर्ण करने की शक्ति भगवान् ने केवल स्त्रियों को ही दी है ।। *सम्पूर्ण नारी शक्ति को नमन्*

Posted in यत्र ना्यरस्तुपूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता:

रघुनंदन मिश्र जी के सौजन्य से

सरदार जी की ‘कन्याएं’


😔😔😔😔😔😔😔

मुहल्ले की औरतें कन्या पूजन के लिए तैयार थी,
मिली नहीं कोई लड़की, उन्होंने हार अपनी मान ली !

फिर किसी ने बताया, अपने मोहल्ले के है बाहर जी,
बारह बेटियों का बाप, है सरदार जी !

सुन कर उसकी बात, हँस कर मैंने यह कह दिया,
बेटे के चक्कर में सरदार, बेटियां बारह कर के बैठ गया !

पड़ोसियों को साथ लेकर, जा पहुँचा उसके घर पे,
सत श्री अकाल कहा, मैंने प्रणाम उसे कर के !

कन्या पूजन के लिए आपकी बेटियां घर लेकर जानी है,
आपकी पत्नी ने कन्या बिठा ली, या बिठानी है ?

सुन के मेरी बात बोला, आपको कोई गलतफहमी हुई है,
किसकी पत्नी जी ? मेरी तो अभी शादी भी नहीं हुई है !

सुन के उसकी बात, मैं तो चकरा गया,
बातों-बातों में वो मुझे क्या-क्या बता गया !

मत पूछो इनके बारे में, जो बातें मैंने छुपाई है,
क्या बताऊँ आपको, कि मैंने कहाँ-कहाँ से उठाई हैं !

माँ-बाप इनके हैवानियत की हदें सब तोड़ गए,
मन्दिर, मस्ज़िद और कई हस्पतालों में थे छोड़ गए !

बड़े-बड़े दरिंदे है, अपने इस जहान में,
यह जो दो छोटियां है, मिली थी मुझेे कूड़ेदान में !

इसका बाप कितना निर्दयी होगा, जिसे दया ना आई नन्ही सी जान पे,
हम मुर्दों को लेकर जाते हैं, वो जिन्दा ही छोड़ गया इसे श्मशान में !

यह जो बड़ी प्यारी सी है, थोड़ा लंगड़ा के चल रही है,
मैंने देखा के तलाब के पास एक गाड़ी खड़ी थी !

बैग फेंक कर भगा ली गाड़ी, जैसे उसे जल्दी बड़ी थी,
शायद उसके पीछे कोई बड़ी आफ़त पड़ी थी !

बैग था आकर्षित, मैंने लालच में उठाया था,
देखा जब खोल के, आंसू रोक नहीं पाया था !

जबरन बैग में डालने के लिए, उसने पैर इसके मोड़ दिये थे,
शायद उसे पता नहीं चला, कि उसने कब पैर इसके तोड़ दिये थे !

सात साल हो गए इस बात को, ये दिल पे लगा कर बैठी है,
बस गुमसुम सी रहती हैं, दर्द सीने में छुपा कर बैठी है !

सुन के बात सरदार जी की, सामने आया सब पाप था,
लड़की के सामने जो खड़ा था कोई और नहीं, वो उसका बाप था !

देखा जब पडोसियों के तरफ़, उनके चेहरे के रंग बताते थे,
वो भी किसी ना किसी लड़की के, मुझे माँ-बाप नजर आते थे !

दिल पे पत्थर रख कर, लड़कियों को घर लेकर आ गया,
बारी-बारी से सब को हमने पूजा के लिए बिठा दिया !

जिन हाथों ने अपने हाथ से, तोड़े थे जो पैर जी,
टूटे हुए पैरों को छू कर, मांग रहे थे ख़ैर जी !

क्यों लोग खुद की बेटी मार कर, दूसरों की पूजना चाहते हैं ?
कुछ लोग कन्या पूजन ऐसे ही मनाते हैं !

🙏🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹 Hindu samaya book

ओम प्रकाश त्रेहन