Posted in मातृदेवो भव:

सासरी न सांगता कण कण काम करणाऱ्या , आपण माहेरी असल्यावर प्रत्येक वेळी आईने सांगितलेलं काम कस झिडकारत होतो …हे मात्र लग्न झाल्यावर क्षणोक्षणी आठवत राहत. 😶

कस जगतो आपण… गुर्मीत😛चक्क.. “मी नाही करत.. ते काम मला कंटाळा आला बरं,” अस म्हणून सोडून पळून जातो मैत्रिणिकडे गप्पा ठोकायला… 😢

आई नी जर फक्त,” चहा टाक म्हटलं .. तर 100 कारण सांगून चहा न करणाऱ्या आपण सासरी 100 वेळी हसत मुखाने चहा करतो… 😃 ❤

जर कधी एखाद्या वेळी काम थोडं जास्त झालं आणि हात पाय दुखतात तेव्हा आईची सहजच आठवण येऊन जाते,कारण एखादेवेळी ती पण म्हणलेली आठवते ,”थोडे हात चेपून दे ग..! ” पण तेव्हा तितकं आपण मनावर घेत नाही आणि 1,2 मिनिटं चेपून बाजूला होतो… 😶

आज अस वाटतंय की माहेरी गेल्यावर पण आईने न सांगता तिला आपण 1 कप चहा करून द्यावा, तिला आयतं जेवायला द्यावं.. नसतील तिचे हात पाय दुखंत तरी चेपून द्यावे… 😔
पण शेवटी ती आईच ना,तिला वाटतं लेकरू 2 दिवस माहेरी आलंय आणि तिला काय काम करू द्यायचं नाही, ती नाहीच करू देत.. उलट आपण गेलं की नवं नवीन करून खायला घालेल मांडीवर घेऊन थोपटेल. 😇😇

सर्व आई खरच ग्रेटचं असतात.-😊😊😘😘😘
खूप काही असे अनुभव असतात आणि एखाद्या picture सारखे समोर येत राहतात. 😊

#लव युआई😘😘😘😘😘

.

Posted in छोटी कहानिया - १००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक, मातृदेवो भव:

संजू तिवारी

टॉल्सटॉय की प्रसिद्ध कहानी है कि एक आदमी के घर एक संन्यासी मेहमान हुआ – एक परिव्राजक। रात गपशप होने लगी; उस परिव्राजक ने कहा कि तुम यहाँ क्या छोटी-मोटी खेती में लगे हो। साइबेरिया में मैं यात्रा पर था तो वहाँ जमीन इतनी सस्ती है मुफ्त ही मिलती है। तुम यह जमीन छोड़-छाड़कर, बेच-बाचकर साइबेरिया चले जाओ। वहाँ हजारों एकड़ जमीन मिल जाएगी इतनी जमीन में। वहाँ करो फसलें और बड़ी उपयोगी जमीन है और लोग वहाँ के इतने सीधे-सादे हैं कि करीब-करीब मुफ्त ही जमीन दे देते हैं।
उस आदमी को वासना जगी। उसने दूसरे दिन ही सब बेच-बाचकर साइबेरिया की राह पकड़ी। जब पहुँचा तो उसे बात सच्ची मालूम पड़ी। उसने पूछा कि मैं जमीन खरीदना चाहता हूँ। तो उन्होंने कहा, जमीन खरीदने का तुम जितना पैसा लाए हो, रख दो; और जीवन का हमारे पास यही उपाय है बेचने का कि कल सुबह सूरज के ऊगते तुम निकल पड़ना और साँझ सूरज के डूबते तक जितनी जमीन तुम घेर सको घेर लेना।
बस चलते जाना… जितनी जमीन तुम घेर लो। साँझ सूरज के डूबते-डूबते उसी जगह पर लौट आना जहाँ से चले थे- बस यही शर्त है। जितनी जमीन तुम चल लोगे, उतनी जमीन तुम्हारी हो जाएगी।
रात-भर तो सो न सका वह आदमी। तुम भी होते तो न सो सकते; ऐसे क्षणों में कोई सोता है ? रातभर योजनाएँ बनाता रहा कि कितनी जमीन घेर लूँ। सुबह ही भागा। गाँव इकट्ठा हो गया था। सुबह का सूरज ऊगा, वह भागा। उसने साथ अपनी रोटी भी ले ली थी, पानी का भी इंतजाम कर लिया था। रास्ते में भूख लगे, प्यास लगे तो सोचा था चलते ही चलते खाना भी खा लूँगा, पानी भी पी लूँगा। रुकना नहीं है; चलना क्या है; दौड़ना है। दौड़ना शुरू किया, क्योंकि चलने से तो आधी ही जमीन कर पाऊँगा, दौड़ने से दुगनी हो सकेगी – भागा …भागा।
सोचा था कि ठीक बारह बजे लौट पड़ूँगा; ताकि सूरज डूबते – डूबते पहुँच जाऊँ। बारह बज गए, मीलों चल चुका है, मगर वासना का कोई अंत है? उसने सोचा कि बारह तो बज गए, लौटना चाहिए; लेकिन सामने और उपजाऊ जमीन, और उपजाऊ जमीन…थोड़ी सी और घेर लूँ। जरा तेजी से दौड़ना पड़ेगा लौटते समय – इतनी ही बात है, एक ही दिन की तो बात है, और जरा तेजी से दौड़ लूँगा।
उसने पानी भी न पीया; क्योंकि रुकना पड़ेगा उतनी देर – एक दिन की ही तो बात है, फिर कल पी लेंगे पानी, फिर जीवन भर पीते रहेंगे। उस दिन उसने खाना भी न खाया। रास्ते में उसने खाना भी फेंक दिया, पानी भी फेंक दिया, क्योंकि उनका वजन भी ढोना पड़ा रहा है, इसलिए दौड़ ठीक से नहीं पा रहा है। उसने अपना कोट भी उतार दिया, अपनी टोपी भी उतार दी, जितना निर्भार हो सकता था हो गया।
एक बज गया, लेकिन लौटने का मन नहीं होता, क्योंकि आगे और-और सुंदर भूमि आती चली जाती है। मगर फिर लौटना ही पड़ा; दो बजे तक वो लौटा। अब घबड़ाया। सारी ताकत लगाई; लेकिन ताकत तो चुकने के करीब आ गई थी। सुबह से दौड़ रहा था, हाँफ रहा था, घबरा रहा था कि पहुँच पाऊँगा सूरज डूबते तक कि नहीं। सारी ताकत लगा दी। पागल होकर दौड़ा। सब दाँव पर लगा दिया। और सूरज डूबने लगा…। ज्यादा दूरी भी नहीं रह गई है; लोग दिखाई पड़ने लगे। गाँव के लोग खड़े हैं और आवाज दे रहे हैं कि आ जाओ, आ जाओ! उत्साह दे रहे हैं, भागे आओ! अजीब सीधे-सादे लोग हैं – सोचने लगा मन में; इनको तो सोचना चाहिए कि मैं मर ही जाऊँ, तो इनको धन भी मिल जाए और जमीन भी न जाए। मगर वे बड़ा उत्साह दे रहे हैं कि भागे आओ!
उसने आखिरी दम लगा दी – भागा – भागा…। सूरज डूबने लगा; इधर सूरज डूब रहा है, उधर वो भाग रहा है…। सूरज डूबते – डूबते बस जाकर गिर पड़ा। कुछ पाँच – सात गज की दूरी रह गई है, घिसटने लगा।
अभी सूरज की आखिरी कोर क्षितिज पर रह गई. घिसटने लगा। और जब उसका हाथ उस जमीन के टुकड़े पर पहुँचा, जहाँ से भागा था, उस खूँटी पर, सूरज डूब गया। वहाँ सूरज डूबा, यहाँ यह आदमी भी मर गया। इतनी मेहनत कर ली! शायद हृदय कर दौरा पड़ गया। और सारे गाँव के सीधे – सादे लोग जिनको वह समझाता था, हँसने लगे और एक – दूसरे से बात करने लगे!
ये पागल आदमी आते ही जाते हैं! इस तरह के पागल लोग आते ही रहते हैं! यह कोई नई घटना न थी; अक्सर लोग आ जाते थे खबरें सुनकर, और इसी तरह मरते थे। यह कोई अपवाद नहीं था; यही नियम था। अब तक ऐसा एक भी आदमी नहीं आया था, जो घेरकर जमीन का मालिक बन पाया हो।
यह कहानी तुम्हारी कहानी है, तुम्हारी जिंदगी की कहानी है, सबकी जिंदगी की कहानी है। यही तो तुम कर रहे हो – दौड़ रहे हो कि कितनी जमीन घेर लें! बारह भी बज जाते हैं, दोपहर भी आ जाती है, लौटने का भी समय होने लगता है – मगर थोड़ा और दौड़ लें! न भूख की फिक्र है, न प्यास की फिक्र है।
जीने का समय कहाँ है; पहले जमीन घेर लें, पहले जितोड़ी भर लें, पहले बैंक में रुपया इकट्ठा हो जाए, फिर जी लेंगे, फिर बाद में जी लेंगे, एक ही दिन का तो मामला है। और कभी कोई नहीं जी पाता। गरीब मर जाते हैं भूखे; अमीर मर जाते हैं भूखे, कभी कोई नहीं जी पाता। जीने के लिए थोड़ी विश्रांति चाहिए। जीने के लिए थोड़ी समझ चाहिए। जीवन मुफ्त नहीं मिलता – बोध चाहिए।
– ओशो
[ मृत्योर्मा अमृतं गमय ]

Posted in मातृदेवो भव:

માતૃદિન


https://wp.me/p1nvw-1eP

તું છે દરિયો
ને હું છું હોડી…!
મા, મને કેમ
ખબર પડી મોડી…?

આખું આકાશ
એમાં ઓછું પડે,
એવી વિરાટ
તારી ઝોળી…!

મા, મને કેમ
ખબર પડી મોડી…?

તડકાઓ પોતે
તેં ઝીલી લીધા,
ને છાંયડાઓ
આપ્યા અપાર,
એકડો ઘૂંટાવીને
પાટી પર દઈ દીધો
ઈશ્વર હોવાનો આધાર…

અજવાળાં અમને
ઓવારી દીધાં ને,
કાળી ડિબાંગ
રાત ઓઢી…!

મા, મને કેમ
ખબર પડી મોડી…?

વાર્તાઓ કહીને
વાવેતર કીધાં,
અને લાગણીઓ
સીંચી ઉછેર,
ખોળામાં પાથરી
હિમાલયની હૂંફ,
ને હાલરડે
સપનાંની સેર,
રાતભર જાગી
જાગીને કરી તેં
ઈશ્વર સાથે જીભાજોડી…

મા,
મને કેમ
ખબર પડી મોડી…?

દરેક દિવસ માતૃદિવસ. માતૃત્વ ને વંદન.

Posted in मातृदेवो भव:

મીઠા મધુ ને મીઠા મેહુલા રે લોલ
એથી મીઠી તે મોરી માત રે
જનનીની જોડ સખી! નહી જડે રે લોલ.

પ્રભુના એ પ્રેમતણી પૂતળી રે લોલ,
જગથી જૂદેરી એની જાત રે … જનનીની

અમીની ભરેલ એની આંખડી રે લોલ,
વ્હાલનાં ભરેલાં એના વેણ રે … જનનીની

હાથ ગૂંથેલ એના હીરના રે લોલ,
હૈયું હેમંત કેરી હેલ રે … જનનીની

દેવોને દૂધ એનાં દોહ્યલા રે લોલ,
શશીએ સિંચેલ એની સોડ્ય રે … જનનીની

જગનો આધાર એની આંગળી રે લોલ,
કાળજામાં કૈંક ભર્યા કોડ રે … જનનીની

ચિત્તડું ચડેલ એનું ચાકડે રે લોલ,
પળના બાંધેલ એના પ્રાણ રે … જનનીની

મૂંગી આશિષ ઉરે મલકતી રે લોલ,
લેતા ખૂટે ન એની લહાણ રે … જનનીની

ધરતી માતા એ હશે ધ્રૂજતી રે લોલ,
અચળા અચૂક એક માય રે … જનનીની

ગંગાનાં નીર તો વધે ઘટે રે લોલ,
સરખો એ પ્રેમનો પ્રવાહ રે … જનનીની

વરસે ઘડીક વ્યોમવાદળી રે લોલ,
માડીનો મેઘ બારે માસ રે … જનનીની

ચળતી ચંદાની દીસે ચાંદની રે લોલ,
એનો નહિ આથમે ઉજાસ રે
જનનીની જોડ સખી! નહી જડે રે લોલ.

– દામોદર ખુશાલદાસ બોટાદકર

🙏🌹Happy mother’s Day. .🌹.🙏jsp🙏🙏🙏

Posted in मातृदेवो भव:

दिल को छू लेने वाली कुछ पंक्तियां

तन्हा बैठा था एक दिन मैं अपने मकान में,
चिड़िया बना रही थी घोंसला रोशनदान में।

पल भर में आती पल भर में जाती थी वो।
छोटे छोटे तिनके चोंच में भर लाती थी वो।

बना रही थी वो अपना घर एक न्यारा,
कोई तिनका था, ना ईंट उसकी कोई गारा।

कुछ दिन बाद….
मौसम बदला, हवा के झोंके आने लगे,
नन्हे से दो बच्चे घोंसले में चहचहाने लगे।

पाल रही थी चिड़िया उन्हे,
पंख निकल रहे थे दोनों के
पैरों पर करती थी खड़ा उन्हे।

देखता था मैं हर रोज उन्हें
जज्बात मेरे उनसे कुछ जुड़ गए ,
पंख निकलने पर दोनों बच्चे
मां को छोड़ अकेला उड़ गए।

चिड़िया से पूछा मैंने..
तेरे बच्चे तुझे अकेला क्यों छोड़ गए,
तू तो थी मां उनकी
फिर ये रिश्ता क्यों तोड़ गए..

चिड़िया बोली…
परिन्दे और इंसान के बच्चे में यही तो फर्क है,
इंसान का बच्चा माया के दरिया में गर्क है।

इंसान का बच्चा…..
पैदा होते ही अपना हक जमाता है,
न मिलने पर वो मां बाप को
कोर्ट कचहरी तक ले जाता है।

मैंने बच्चों को जन्म दिया
पर करता कोई मुझे याद नहीं,
मेरे बच्चे क्यों रहेंगे साथ मेरे
क्योंकि मेरी कोई जायदाद नहीं

🙏🙏

Posted in मातृदेवो भव:

कल मातृ दिवस 2017 – रिश्ते तो बहुत हैं, मां सिर्फ एक है – मातृ दिवस विशेष : मां के लिए बस एक दिन ? – मां से बढ़कर कुछ नहीं है दुनिया में!! Mother’s Day – Sunday, May 8. 2017 :
(Please also see English version, below)

‘जननी नी जोड़ सखी ! नहीं जड़े रे लोल’ के कवि दामोदर बोटादकर ने क्या खूब लिखा है माँ के लिए !!! भारतीय संस्कृति में माँ को ‘मातृदेवो भव:’ कहकर इश्वर का दर्ज्जा दिया गया है। माँ शब्द बोलते ही पुरे विश्व की ख़ुशी हमे मिल गई हो ऐसा प्रतीत होता है। माँ शब्द में एक ऐसी मिठास और आत्मीयता होती है, जो अन्य किसी शब्दों में नहीं होती।
आज ना जाने कितनी माताएं, अपने बच्चों के होते हुए भी वृद्धाश्रम में तन्हा जीवन व्यतीत कर रही हैं. कितनों को उनके बच्चे सड़क पर असहाय छोड़कर चले जाते हैं. वो भी सिर्फ इसीलिए क्योंकि उन्हें अपनी मां ही अपनी स्वतंत्रता और पारिवारिक खुशहाली की राह में बाधा लगने लगती है.

एक माँ को सम्मान और आदर देने के लिये हर वर्ष एक वार्षिक कार्यक्रम के रुप में मातृदिवस को मनाया जाता है। ये आधुनिक समय का उत्सव है जिसकी उत्पत्ति उत्तरी अमेरिका में माताओं को सम्मान देने के लिये हुई थी। बच्चों से माँ के रिश्तों में प्रगाढ़ता बढ़ाने के साथ ही मातृत्व को सलाम करने के लिये इसे मनाया जाता है। समाज में माँ का प्रभाव बढ़ाने के लिये इसे मनाया जाता है। पूरे विश्व के विभिन्न देशों में अलग-अलग तारीखों पर हर वर्ष मातृ दिवस को मनाया जाता है। भारत में, इसे हर साल मई महीने के दूसरे रविवार को मनाया जाता है।

मां, यह वह शब्द है जो किसी भी व्यक्ति के जीवन में सबसे ज्यादा अहमियत रखता है. ईश्वर सभी जगह उपस्थित नहीं रह सकता इसीलिए उसने धरती पर मां का स्वरूप विकसित किया, जो हर परेशानी और हर मुश्किल घड़ी में अपने बच्चों का साथ देती है, उन्हें दुनियां के हर गम से बचाती है. बच्चा जब जन्म लेता है तो सबसे पहले वह मां बोलना ही सीखता है. मां ही उसकी सबसे पहली दोस्त बनती है, जो उसके साथ खेलती भी है और उसे सही-गलत जैसी बातों से भी अवगत करवाती है. मां के रूप में बच्चे को निःस्वार्थ प्रेम और त्याग की प्राप्ति होती है तो वहीं मां बनना किसी भी महिला को पूर्णता प्रदान करता है.
आज मदर्स डे है. यह दिन बच्चों के जीवन में सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण इंसान, मां को समर्पित है. भले ही यह दिन भी अन्य दिनों की तरह विदेशी संस्कृति की ही देन है. लेकिन आज जब सभी की जीवनशैली इतनी ज्यादा व्यस्त हो चुकी है कि उनके पास अपनी मां के लिए ही समय नहीं बचता तो ऐसे में हम एक दिन तो अपनी मां के नाम कर ही सकते हैं.

‘मां की महिमा क्या गाऊं, मां की कहानी क्या सुनाऊं, हे मां तू है महान, तूने हमको जन्म दिया, मिले हर जन्म में तेरी को,मां तुझे सलाम’।

जिस मां ने खुद भूखे रहकर, अपनी सभी इच्छाओं को नजरअंदाज कर अपने बच्चे की हर कमी को पूरा किया आज वही अपने बच्चे के लिए बोझ बन गई है. दुनियां की चकाचौंध में मशगूल व्यक्ति अपनी मां को पीछे छोड़कर सफल जीवन की कामना करता है, जो किसी भी रूप में संभव नहीं है.

क्यों न हम सिर्फ ‘एक ही दिन’ को मां के लिए महत्वपूर्ण न बनाकर ‘हर क्षण’ को सदियों तक मां के लिए महत्वपूर्ण बनाएं। उसे हर क्षण यह अहसास दिलाएं की वह हमारे जीवन में एक ‘सम्माननीय पद’ पर आसीन हैं, ताकि हर दिन एक ममता दिवस के रूप में यादगार बन जाएं।

Happy Mother’s Day !
Mother’s Day is a modern celebration honouring one’s own mother, as well as motherhood, maternal bonds, and the influence of mothers in society. It is celebrated on various days in many parts of the world.
The celebration of Mother’s Day began in the United States in the early 20th century; it is not related to the many celebrations of mothers and motherhood that have occurred throughout the world over thousands of years, such as the Greek cult to Cybele, the Roman festival of Hilaria, or the Christian Mothering Sunday celebration (originally a celebration of the mother church, not motherhood). Despite this, in some countries Mother’s Day has become synonymous with these older traditions.

स्वस्तिक ज्योतिष केंद्र

Posted in मातृदेवो भव:

वेदों में कहा गया है कि मातृ देवो भव: पितृ देवो भव: गुरु देवो भव:
अतिथि देवो भव:। हमारे शास्त्रों में सूत्र संकेतों के रूप में हैं जिन्हें
समझने की कोशिश करनी चाहिए। अभिवादन
शीलस्य नित्य वृद्धोपसेविन:।चत्वारि तस्य
वर्धते,आयुर्विद्या यशो बलं॥अर्थात मात्र प्रणाम करने से, सदाचार के
पालन से एवं नित्य वृद्धों की सेवा करने से आयु, विद्या,
यश और बल की वृद्धि होती है। भगवान
श्रीगणेश अपने माता-पिता में त्रैलोक समाहित मान कर
उनका पूजन और प्रदक्षिणा (चक्कर लगाना) करने से प्रथम
पूज्यनीय बन गए। यदि हम जीवों के
प्रति परोपकार की भावना रखें
तो अपनी कुंडली में
ग्रहों की रुष्टता को न्यूनतम कर सकते हैं। नवग्रह
इस चराचर जगत में पदार्थ, वनस्पति, तत्व, पशु-
पक्षी इत्यादि में अपना वास रखते हैं।
इसी तरह ऋषियों ने पारिवारिक सदस्यों और आसपास के
लोगों में भी ग्रहों का प्रतिनिधित्व बताया है। माता-
पिता दोनों के संयोग से किसी जातक का जन्म होता है
इसलिए सूर्य आत्मा के साथ-साथ पिता का प्रतिनिधित्व करता है और
चंद्रमा मन के साथ-साथ मां का प्रतिनिधित्व करता है। योग शास्त्र में
दाहिने स्वर को सूर्य और बाएं को चंद्रमा कहा गया है। श्वास
ही जीवन है और इसको देने वाले सूर्य
और चंद्र हैं। योग ने इस श्वास को प्राण कहा है। आजकल
ज्योतिष में तरह-तरह के उपाय प्रचलित हैं परन्तु व्यक्ति के
आचरण संबंधी और जीव के निकट
संबंधियों से जो उपाय शास्त्रों में वर्णित हैं कदाचित वे चलन में
नहीं रह गए हैं। यदि कुंडली में सूर्य
अशुभ स्थिति में हो, नीच का हो, पीड़ित
हो तो कर्मविपाक सिद्धांत के अनुसार यह माना जाता है कि पिता रुष्ट
रहे होंगे तभी जातक सूर्य की अशुभ
स्थिति में जन्म पाता है। सूर्य के इस अनिष्ट परिहार के लिए इस
जन्म में जातक को अपने
पिता की सेवा करनी चाहिए और प्रात: उनके
चरण स्पर्श करे और अन्य सांसारिक क्रियाओं से उन्हें प्रसन्न
रखें तो सूर्य अपना अशुभ फल कम कर सकते हैं। यदि सूर्य ग्रह
रुष्ट हैं तो पिता को प्रसन्न करें, चंद्र रुष्ट है तो माता को प्रसन्न
करें, मंगल रुष्ट है तो भाई-बहन को प्रसन्न करें, बुध रुष्ट है
तो मामा और बंधुओं को प्रसन्न करें, गुरु रुष्ट है तो गुरुजन और
वृद्धों को प्रसन्न करें, शुक्र रुष्ट है
तो पत्नी को प्रसन्न करें, शनि रुष्ट है तो दास-
दासी को प्रसन्न करें और यदि केतू रुष्ट है तो कुष्ठ
रोगी को प्रसन्न करें। ज्योतिष ग्रंथों के अनुसार यदि हम
प्रेम-सत्कार और आदर का भाव रख कर ग्रहों के प्रति व्यवहार
करें तो रुष्ट ग्रह की नाराजगी को शांत
किया जा सकता है।

विकरण प्रकाश राइसोनय