Posted in महाभारत - Mahabharat

महाभारत को पढ़ने का समय न हो तो भी इसका नव सार सूत्र हमारे जीवन में उपयोगी सिद्ध हो सकता है :-*


महाभारत को पढ़ने का समय न हो तो भी इसका नव सार सूत्र हमारे जीवन में उपयोगी सिद्ध हो सकता है :-*

1 संतानों की गलत माँग और हठ पर समय रहते अंकुश नहीं लगाया, तो अंत में आप असहाय हो जायेंगे = कौरव

2 आप भले ही कितने बलवान हो लेकिन अधर्म के साथ हो तो आपकी विद्या अस्त्र शस्त्र शक्ति और वरदान सब निष्फल हो जायेगा = कर्ण

3 संतानों को इतना महत्वाकांक्षी मत बना दो कि विद्या का दुरुपयोग कर स्वयंनाश कर सर्वनाश को आमंत्रित करे = अश्वत्थामा

4 कभी किसी को ऐसा वचन मत दो कि आपको अधर्मियों के आगे समर्पण करना पड़े = भीष्म पितामह

5 संपत्ति, शक्ति व सत्ता का दुरुपयोग और दुराचारियों का साथ अंत में स्वयंनाश का दर्शन कराता है = दुर्योधन

6 अंध व्यक्ति- अर्थात मुद्रा, मदिरा, अज्ञान, मोह और काम ( मृदुला) अंध व्यक्ति के हाथ में सत्ता भी विनाश की ओर ले जाती है = धृतराष्ट्र

7 व्यक्ति के पास विद्या विवेक से बँधी हो तो विजय अवश्य मिलती है = अर्जुन

8 हर कार्य में छल, कपट, व प्रपंच रच कर आप हमेशा सफल नहीं हो सकते = शकुनि

9 यदि आप नीति, धर्म, व कर्म का सफलता पूर्वक पालन करेंगे तो विश्व की कोई भी शक्ति आपको पराजित नहीं कर सकती = युधिष्ठिर

यदि जीवन में इन सभी सूत्रों से सबक नही लिया तो जीवन मे महाभारत होना संभव ही है।🙏🙏

Posted in महाभारत - Mahabharat

કર્ણના અગ્નિસંસ્કાર કુંવારી જમીનમાં થયેલા,આ જમીન ગુજરાતમાં જ છે,


કર્ણના અગ્નિસંસ્કાર કુંવારી જમીનમાં થયેલા,

આ જમીન ગુજરાતમાં જ છે,

હજુ પણ આ જગ્યાએ જ સૌથી વધુ દાનવીર પેદા થાય છે.

મિત્રો તમે મહારાણી કુંતીના સૌથી મોટા પુત્ર કર્ણની જીવનગાથા વિશે તો ઘણું સાંભળ્યું હશે.

પરંતુ શું તમે તેના મૃત્યુ વિશે જાણો છો ?

તો આજે અમે તેના મૃત્યુ અને તેને સંબંધિત રહસ્યો વિશે જણાવશું.

જેનાથી લગભગ તમે અજાણ હશો.

જ્યારે મહાભારતનું યુદ્ધ ચાલી રહ્યું હતું,
ત્યારે કર્ણના રથનું પૈડું જમીનમાં ફસાઈ ગયું હતું.

ત્યારે કર્ણએ અર્જુનને જણાવ્યું કે અર્જુન જ્યાં સુધી હું મારા રથનું પૈડું જમીનમાંથી બહાર ન કાઢી લઉ
ત્યાં સુધી તું મારા પર વાર નહિ કરે.
આ સાંભળી અર્જુન અટકી ગયો.

ત્યારે ભગવાન શ્રી કૃષ્ણએ અર્જુનને કહ્યું કે
અર્જુન તું કેમ અટકી ગયો બાણ ચલાવ.

અર્જુને શ્રી કૃષ્ણને જણાવ્યું કે તે યુદ્ધના નિયમથી વિરુદ્ધ છે.

ત્યારે ભગવાન શ્રી કૃષ્ણએ અર્જુનને યાદ અપાવ્યું કે
જ્યારે અભિમન્યુ એકલો જ બધા યોદ્ધાઓ સાથે લડી રહ્યો હતો
ત્યારે યુદ્ધના નિયમનો ખ્યાલ રાખ્યો હતો ?

ત્યારે શું પિતામહે યુદ્ધના કોઈ નિયમ બનાવ્યા ન હતા ?
અને
એટલું જ નહિ ભરી સભામાં દ્રૌપદીને વેશ્યા કહેવામાં આવી હતી ત્યારે….

આ સાંભળી અર્જુનને ગુસ્સો આવ્યો અને કર્ણ પર બાણ ચલાવી દીધું.

મિત્રો તમને જણાવી દઈએ કે અર્જુન દ્વારા ચલાવાયેલું બાણ કોઈ સાધારણ બાણ ન હતું કે જેનાથી કર્ણ બચી શકે.

તે પાશુપસ્ત્ર હતું.
જે ભગવાન શિવજીના વરદાનથી અર્જુનને મળ્યું હતું.

જ્યારે પાંડવો ૧૪ વર્ષના વનવાસ માટે ગયા
ત્યારે ભગવાન શ્રી કૃષ્ણએ પાંચેય પાંડવને અલગ અલગ તપસ્યા કરવા માટે મોકલી દીધા હતા.

તેમાં અર્જુને ભગવાન શિવજીની તપસ્યા કરી હતી
અને
ભગવાન શિવજીએ તેને પાશુપસ્ત્ર વરદાન સ્વરૂપે આપ્યું હતું.

અર્જુનના વાર બાદ તડપી તડપીને કર્ણ પોતાના મૃત્યુની રાહ જોઈ રહ્યો હતો

ત્યારે ભગવાન શ્રી કૃષ્ણએ કર્ણની પરીક્ષા લેવાનું વિચાર્યું
અને
બ્રાહ્મણ રૂપ ધારણ કરીને કૃષ્ણ ભગવાન કર્ણ પાસે આવ્યા
અને
કહ્યું કે હે કર્ણ મારી પુત્રીના લગ્ન છે
અને
મારી પાસે તેને દાનમાં આપવા માટે સોનું નથી તો મને સોનાનું દાન આપ.

ત્યારે કર્ણએ જણાવ્યું કે હવે મારી પાસે કંઈ નથી
હું તમને શું દાન કરી શકું શા માટે તમે મારી પરીક્ષા લઇ રહ્યા છો.

ત્યારે બ્રાહ્મણે કહ્યું કે હજુ પણ તારી પાસે તારો સોનાનો દાંત છે
દાન આપવા માટે.
ત્યારે કર્ણએ જણાવ્યું કે પથ્થર મારીને મારો દાંત કાઢી લો.
ત્યારે બ્રાહ્મણે જણાવ્યું કે દાન આપવાનું હોય મારાથી પથ્થર મારીને ન લેવાય તારે આપવો પડશે દાંત.
ત્યારે કર્ણએ પોતાના હાથે દાંત પર પથ્થર મારીને દાંત કાઢી બ્રાહ્મણને આપ્યો.

ત્યારે બ્રાહ્મણે કહ્યું કે દાંતને પવિત્ર કરીને આપ
ત્યારે કર્ણને પોતાનું બાણ જમીન પર ચલાવ્યું તો
ત્યાંથી ગંગા નદીની જળ ધારા થઇ
અને
દાંત પવિત્ર થઇ ગયો.

ત્યાર બાદ કર્ણ સમજી ગયો કે આ બ્રાહ્મણ કોઈ દેવતા છે અથવા તો ખુદ પરમાત્મા છે.

માટે તેણે બ્રાહ્મણને કહ્યું કે
તમે જે હોય તે મને તમારું અસલી રૂપ દેખાડો.

ત્યાર બાદ ભગવાન શ્રી કૃષ્ણ પોતાના અસલી રૂપમાં આવ્યા
અને
કર્ણને જણાવ્યું કે તું ખરેખર મહાન દાનવીર છે
તારા જેટલું દાની જગતમાં બીજું કોઈ નથી,
માટે હું તારા આ કર્મથી પ્રસન્ન છું,

તું જે માંગીશ તે આપીશ માટે કોઈ વરદાન માંગ.

ત્યારે કર્ણએ કહ્યું, કે
આમ તો મેં ક્યારેય કોઈ પાસે માગ્યું નથી

પરંતુ આજે એક વરદાન માંગુ છું

કે મને જન્મ એક કુંવારી માતાએ આપ્યો છે
માટે મારા અંતિમ સંસ્કાર પણ એક કુંવારી જમીન પર થાય તેવું ઈચ્છું છું.

ભગવાન શ્રી કૃષ્ણએ પોતાની અંત:દ્રષ્ટિથી કુંવારી જમીન શોધી તો
તાપી નદીના કિનારે અશ્વિની કુમારના મંદિર પાસેની જમીન કુંવારી હતી.

ત્યાર બાદ ભગવાન શ્રી કૃષ્ણ અને પાંચેય પાંડવોએ કર્ણના અંતિમ સંસ્કાર ત્યાં કર્યા.

ત્યારે પાંડવોએ પૂછ્યું કે આ કુંવારી જમીન જ છે
એવું કંઈ રીતે સાબિત થાય.

ત્યારે કર્ણ પ્રગટ થયો
અને
જણાવ્યું કે તાપી મારી બહેન છે,
અશ્વિની કુમાર મારા ભાઈઓ છે
અને
હું સૂર્ય પુત્ર છું
અને
મારો અગ્નિદાહ એક કુંવારી જમીનમાં જ થયો છે..

ત્યારે પાંડવોએ જણાવ્યું કે
હે પ્રભુ અમને તો ખબર પડી ગઈ કે
આ એક કુંવારી જમીન છે.

પરંતુ આવનારી પેઢીને કંઈ રીતે ખબર પડશે કે

કુંવારી જમીન પર જ દાનવીર કર્ણના અંતિમ સંસ્કાર થયા હતા.

ત્યારે ભગવાને વિચાર્યું અને કહ્યું કે આ જ જમીન પર એક વટ વૃક્ષ ઉગશે
અને
તેમાં ત્રણ પાંદડા આવશે જે
બ્રહ્મા, વિષ્ણુ અને મહેશના પ્રતિક હશે
અને
આગળ જણાવ્યું કે જે કોઈ પણ અહીં સાચી શ્રદ્ધાથી પ્રાર્થના કરશે.
તેની મનોકામના અહીં અવશ્ય પૂર્ણ થશે.

મિત્રો આ વટ વૃક્ષ આજે પણ છે.
અને
આજે પણ તેમાં માત્ર ત્રણ જ પાંદડા છે.
જે એ વાતની સાબિતી આપે છે કે
દાનવીર કર્ણના અગ્નિ સંસ્કાર ત્યાં જ કરવામાં આવ્યા હતા.

મિત્રો સૌથી મજેદાર વાત તો એ છે કે
આ વટ વૃક્ષ આપણા ગુજરાતમાં જ છે.

સુરત શહેરમાં તાપી નદીના કિનારે આવેલ
અશ્વિની કુમાર મંદિર પાસે આ ત્રણ પાંદડા વાળું વટ વૃક્ષ આવેલું છે.

અને
કદાચ એટલા માટે જ આજે સુરત શહેરની દુનિયાભરમાં બોલબાલા છે.

અહીયા આવીને કોઈપણ પોતાની લાઈફ સેટ કરી લે છે.

કેમ કે સુરત પર આજે પણ ભગવાન શ્રી કૃષ્ણ અને સૂર્યદેવના આશીર્વાદ છે.

     🙏🏻🙏🏻  જય શ્રી કૃષ્ણ  🙏🏻🙏🏻
Posted in महाभारत - Mahabharat

महाभारत काल एवं उसके बाद के राजवंश


महाभारत काल एवं उसके बाद के राजवंश


पौराणिक तथा ज्योतिषीय प्रमाणों के आधार पर यह महाभारत युद्ध की प्रसिद्ध परंपरागत तिथि 3070 ई.पू. मानी जाती है. उस महायुद्ध में भयानक सर्वनाश हुआ था. इस युद्ध के कुछ बर्ष बाद भगवान् श्रीकृष्ण का यदुवंश भी आपस में लड़कर समाप्त हो गया था. उसके बाद भारत में दो ही प्रशिद्ध राजवंश बचे. एक इंद्रप्रस्थ का पाण्डुवंश और दूसरा मगध का जरासंध का वंश.

महाभारत के युद्ध के बाद युधिष्ठिर राजा बने और उनके बाद अभिमन्यु के पुत्र परीक्षित और मगध में जरासंध के पुत्र बृहद्रथ. राजा परीक्षित के बाद के द्वापर युग की समाप्ति तथा कलयुग का प्रारम्भ माना जाता है. परीक्षित के लगभग 28 पीढ़ी तक पाण्डु वंश का समय लगभग 1100 साल (2000 ई. पू.) माना जाता है. इनके समय तक म्लेच्छों के आक्रमण शुरू हो गए थे.

पाण्डु वंश के अन्तिम सम्राट क्षेमक हुए, जो मलेच्छों के साथ युद्ध करते हुए मारे गये थे. क्षेमक के वेदवान् तथा वेदवान् के सुनन्द नामक पुत्र हुआ. सुनन्द पुत्रहीन ही रहा,.इस प्रकार सुनन्द के अंत के साथ ही पाण्डव वंश का अंत हो गया. उधर मगध में जरासंध की 22 पीढ़ियों तक लगभग 1000 साल ( 2200 ई.पू.) तक चला. इस वंश का अन्तिम राजा रिपुञ्जय था.

साभार

Posted in महाभारत - Mahabharat

महाभारत का एक सार्थक प्रसंग जो अंतर्मन को छूता है …. !!🙏🙏

महाभारत युद्ध समाप्त हो चुका था. युद्धभूमि में यत्र-तत्र योद्धाओं के फटे वस्त्र, मुकुट, टूटे शस्त्र, टूटे रथों के चक्के, छज्जे आदि बिखरे हुए थे और वायुमण्डल में पसरी हुई थी घोर उदासी …. !
गिद्ध , कुत्ते , सियारों की उदास और डरावनी आवाजों के बीच उस निर्जन हो चुकी उस भूमि में द्वापर का सबसे महान योद्धा “देवव्रत” (भीष्म पितामह) शरशय्या पर पड़ा सूर्य के उत्तरायण होने की प्रतीक्षा कर रहा था — अकेला …. !

तभी उनके कानों में एक परिचित ध्वनि शहद घोलती हुई पहुँची , “प्रणाम पितामह” …. !!

भीष्म के सूख चुके अधरों पर एक मरी हुई मुस्कुराहट तैर उठी , बोले , ” आओ देवकीनंदन …. ! स्वागत है तुम्हारा …. !!

मैं बहुत देर से तुम्हारा ही स्मरण कर रहा था” …. !!

कृष्ण बोले , “क्या कहूँ पितामह ! अब तो यह भी नहीं पूछ सकता कि कैसे हैं आप” …. !

भीष्म चुप रहे , कुछ क्षण बाद बोले,” पुत्र युधिष्ठिर का राज्याभिषेक करा चुके केशव … ?
उनका ध्यान रखना , परिवार के बुजुर्गों से रिक्त हो चुके राजप्रासाद में उन्हें अब सबसे अधिक तुम्हारी ही आवश्यकता है” …. !

कृष्ण चुप रहे …. !

भीष्म ने पुनः कहा , “कुछ पूछूँ केशव …. ?
बड़े अच्छे समय से आये हो …. !
सम्भवतः धरा छोड़ने के पूर्व मेरे अनेक भ्रम समाप्त हो जाँय ” …. !!

कृष्ण बोले – कहिये न पितामह ….!

एक बात बताओ प्रभु ! तुम तो ईश्वर हो न …. ?

कृष्ण ने बीच में ही टोका , “नहीं पितामह ! मैं ईश्वर नहीं … मैं तो आपका पौत्र हूँ पितामह … ईश्वर नहीं ….”

भीष्म उस घोर पीड़ा में भी ठठा के हँस पड़े …. ! बोले , ” अपने जीवन का स्वयं कभी आकलन नहीं कर पाया कृष्ण , सो नहीं जानता कि अच्छा रहा या बुरा , पर अब तो इस धरा से जा रहा हूँ कन्हैया , अब तो ठगना छोड़ दे रे …. !! “

कृष्ण जाने क्यों भीष्म के पास सरक आये और उनका हाथ पकड़ कर बोले …. ” कहिये पितामह …. !”

भीष्म बोले , “एक बात बताओ कन्हैया ! इस युद्ध में जो हुआ वो ठीक था क्या …. ?”

“किसकी ओर से पितामह …. ? पांडवों की ओर से …. ?”

” कौरवों के कृत्यों पर चर्चा का तो अब कोई अर्थ ही नहीं कन्हैया ! पर क्या पांडवों की ओर से जो हुआ वो सही था …. ? आचार्य द्रोण का वध , दुर्योधन की जंघा के नीचे प्रहार , दुःशासन की छाती का चीरा जाना , जयद्रथ के साथ हुआ छल , निहत्थे कर्ण का वध , सब ठीक था क्या …. ? यह सब उचित था क्या …. ?”

इसका उत्तर मैं कैसे दे सकता हूँ पितामह …. !
इसका उत्तर तो उन्हें देना चाहिए जिन्होंने यह किया ….. !!
उत्तर दें दुर्योधन का वध करने वाले भीम , उत्तर दें कर्ण और जयद्रथ का वध करने वाले अर्जुन …. !!

मैं तो इस युद्ध में कहीं था ही नहीं पितामह …. !!

“अभी भी छलना नहीं छोड़ोगे कृष्ण …. ?
अरे विश्व भले कहता रहे कि महाभारत को अर्जुन और भीम ने जीता है , पर मैं जानता हूँ कन्हैया कि यह तुम्हारी और केवल तुम्हारी विजय है …. !
मैं तो उत्तर तुम्ही से पूछूंगा कृष्ण …. !”

“तो सुनिए पितामह …. !
कुछ बुरा नहीं हुआ , कुछ अनैतिक नहीं हुआ …. !
वही हुआ जो हो होना चाहिए …. !”

“यह तुम कह रहे हो केशव …. ?
मर्यादा पुरुषोत्तम राम का अवतार कृष्ण कह रहा है ….? यह छल तो किसी युग में हमारे सनातन संस्कारों का अंग नहीं रहा, फिर यह उचित कैसे गया ….. ? “

“इतिहास से शिक्षा ली जाती है पितामह , पर निर्णय वर्तमान की परिस्थितियों के आधार पर लेना पड़ता है …. !

हर युग अपने तर्कों और अपनी आवश्यकता के आधार पर अपना नायक चुनता है …. !!
राम त्रेता युग के नायक थे , मेरे भाग में द्वापर आया था …. !
हम दोनों का निर्णय एक सा नहीं हो सकता पितामह …. !!”

” नहीं समझ पाया कृष्ण ! तनिक समझाओ तो …. !”

” राम और कृष्ण की परिस्थितियों में बहुत अंतर है पितामह …. !
राम के युग में खलनायक भी ‘ रावण ‘ जैसा शिवभक्त होता था …. !!
तब रावण जैसी नकारात्मक शक्ति के परिवार में भी विभीषण जैसे सन्त हुआ करते थे ….. ! तब बाली जैसे खलनायक के परिवार में भी तारा जैसी विदुषी स्त्रियाँ और अंगद जैसे सज्जन पुत्र होते थे …. ! उस युग में खलनायक भी धर्म का ज्ञान रखता था …. !!
इसलिए राम ने उनके साथ कहीं छल नहीं किया …. ! किंतु मेरे युग के भाग में में कंस , जरासन्ध , दुर्योधन , दुःशासन , शकुनी , जयद्रथ जैसे घोर पापी आये हैं …. !! उनकी समाप्ति के लिए हर छल उचित है पितामह …. ! पाप का अंत आवश्यक है पितामह , वह चाहे जिस विधि से हो …. !!”

“तो क्या तुम्हारे इन निर्णयों से गलत परम्पराएं नहीं प्रारम्भ होंगी केशव …. ?
क्या भविष्य तुम्हारे इन छलों का अनुशरण नहीं करेगा …. ?
और यदि करेगा तो क्या यह उचित होगा ….. ??”

” भविष्य तो इससे भी अधिक नकारात्मक आ रहा है पितामह …. !

कलियुग में तो इतने से भी काम नहीं चलेगा …. !

वहाँ मनुष्य को कृष्ण से भी अधिक कठोर होना होगा …. नहीं तो धर्म समाप्त हो जाएगा …. !

जब क्रूर और अनैतिक शक्तियाँ सत्य एवं धर्म का समूल नाश करने के लिए आक्रमण कर रही हों, तो नैतिकता अर्थहीन हो जाती है पितामह …. !
तब महत्वपूर्ण होती है विजय , केवल विजय …. !

भविष्य को यह सीखना ही होगा पितामह ….. !!”

“क्या धर्म का भी नाश हो सकता है केशव …. ?
और यदि धर्म का नाश होना ही है , तो क्या मनुष्य इसे रोक सकता है ….. ?”

“सबकुछ ईश्वर के भरोसे छोड़ कर बैठना मूर्खता होती है पितामह …. !

ईश्वर स्वयं कुछ नहीं करता ….. !केवल मार्ग दर्शन करता है*

सब मनुष्य को ही स्वयं करना पड़ता है …. !
आप मुझे भी ईश्वर कहते हैं न …. !
तो बताइए न पितामह , मैंने स्वयं इस युद्घ में कुछ किया क्या ….. ?
सब पांडवों को ही करना पड़ा न …. ?
यही प्रकृति का संविधान है …. !
युद्ध के प्रथम दिन यही तो कहा था मैंने अर्जुन से …. ! यही परम सत्य है ….. !!”

भीष्म अब सन्तुष्ट लग रहे थे …. !
उनकी आँखें धीरे-धीरे बन्द होने लगीं थी …. !
उन्होंने कहा – चलो कृष्ण ! यह इस धरा पर अंतिम रात्रि है …. कल सम्भवतः चले जाना हो … अपने इस अभागे भक्त पर कृपा करना कृष्ण …. !”

कृष्ण ने मन मे ही कुछ कहा और भीष्म को प्रणाम कर लौट चले , पर युद्धभूमि के उस डरावने अंधकार में भविष्य को जीवन का सबसे बड़ा सूत्र मिल चुका था …. !

जब अनैतिक और क्रूर शक्तियाँ सत्य और धर्म का विनाश करने के लिए आक्रमण कर रही हों, तो नैतिकता का पाठ आत्मघाती होता है ….।।

धर्मों रक्षति रक्षितः

Posted in महाभारत - Mahabharat

राहुल गर्ग

शस्त्र की महत्ता…!!

दधीचि ऋषि ने देश के हित में अपनी हड्डियों का दान कर दिया था !

उनकी हड्डियों से तीन धनुष बने- १. गांडीव, २. पिनाक और ३. सारंग !

जिसमे से गांडीव अर्जुन को मिला था जिसके बल पर अर्जुन ने महाभारत का युद्ध जीता !

सारंग से भगवान राम ने युद्ध किया था और रावण के अत्याचारी राज्य को ध्वस्त किया था !

और, पिनाक भगवान शिव जी के पास था जिसे तपस्या के माध्यम से खुश रावण ने शिव जी से मांग लिया था !

परन्तु… वह उसका भार लम्बे समय तक नहीं उठा पाने के कारण बीच रास्ते में जनकपुरी में छोड़ आया था !

इसी पिनाक की नित्य सेवा सीताजी किया करती थी ! पिनाक का भंजन करके ही भगवान राम ने सीता जी का वरण किया था !

ब्रह्मर्षि दधिची की हड्डियों से ही “एकघ्नी नामक वज्र” भी बना था … जो भगवान इन्द्र को प्राप्त हुआ था !

इस एकघ्नी वज्र को इन्द्र ने कर्ण की तपस्या से खुश होकर उन्होंने कर्ण को दे दिया था! इसी एकघ्नी से महाभारत के युद्ध में भीम का महाप्रतापी पुत्र घतोत्कक्ष कर्ण के हाथों मारा गया था ! और भी कई अश्त्र-शस्त्रों का निर्माण हुआ था उनकी हड्डियों से !

लेकिन ……… दधिची के इस अस्थि-दान का उद्देश्य क्या था ??????

क्या उनका सन्देश यही था कि….. उनकी आने वाली पीढ़ी नपुंसकों और कायरों की भांति मुंह छुपा कर घर में बैठ जाए और शत्रु की खुशामद करे….??? नहीं..

कोई ऐसा काल नहीं है जब मनुष्य शस्त्रों से दूर रहा हो..

हिन्दुओं के धर्मग्रन्थ से ले कर ऋषि-मुनियों तक का एक दम स्पष्ट सन्देश और आह्वान रहा है कि….

”हे सनातनी वीरो.शस्त्र उठाओ और अन्याय तथा अत्याचार के विरुद्ध युद्ध करो !”

बस आज भी सबके लिए यही एक मात्र सन्देश है !
राष्ट्र और धर्म रक्षा के लिए अंततः बस एक ही मार्ग है !

सशक्त बनो..!

Posted in महाभारत - Mahabharat

महर्षि वेद व्यास

वेद व्यास का जन्म द्वापर युग के अंतिम काल मे हुआ था। वे वशिष्ठ मुनि के वंशज थे तथा पराशर मुनि के पुत्र थे, उन्की माता सत्यवती थीं। वेद व्यास का नाम कृष्ण द्वैपायन था वेद व्यास का नाम एक उपाधि के रूप मे उन्को मिला था। वे एक अवतार थे तथा अमर विभुति हैं।आज भी अपने सुक्ष्म शरीर मे सक्षम महात्माआें का मार्ग दर्शन करते हैं।
महाभारत के रचना के साथ साथ चारों वेद तथा अठारह पुराणों की रचना ईन्होने ही किया था।
किशोरावस्था मे ही वेद व्यास के पिता पराशर मुनि का निधन हो गया था,काफी कम आयु मे ही वेद व्यास ज्ञान विज्ञान मे पारंगत हो गये थे। ऊन्होने अपने दिव्य ज्ञान से जान लिया था कि द्वापर युग कि समाप्ति के बाद कलि युग मे वेदों के ज्ञान का लोप हो जायेगा मानव अज्ञानी होंगे तथा सनातन धर्म अत्यन्त दुर्बल हो जायेगा। ऐसे मे सनातन धर्म तथा वेदों को बचाये रखने के लिये उन्को लिपिबद्ध करना जरूरी था, ऐसे मे उन्होने अत्यंत कठिन कार्य को करने का संकल्प लिया एवं उसे पुरा भी कर दिया।
वेद व्यास महाभारत के रचयिता होने के साथ ही उस काल के साक्षी भी थे, उन्होने ही संजय को दिव्य दृष्टि दिया था जिसके फलस्वरूप घृतराष्ट्र को महाभारत युद्ध के हर क्षण की जानकारी मिलती थी।
आज हमारा वेद सुरक्षित है तो उसका सारा श्रेय वेद व्यास को जाता है। संसार मे सनातन धर्म को बचाये रखने एवं आर्य संस्कृति को जीवित रखने का श्रेय भी इसी महापुरूष को जाता है।
आज हम सबका यह कर्तव्य बनता है कि जितना हो सके उतना प्रयास हम भी करें ताकि आर्य संस्कृति पुन: स्थापित हो तथा विश्व मे सनातन धर्म का प्रचार प्रसार हो सके।

आचार्य डॉ0 विजय शंकर मिश्र

Posted in महाभारत - Mahabharat

उत्तराखंड का वो गांव जहां है कर्ण का मंदिर, लोग खुद को बताते हैं पांडवों और कौरवों का वशंज

आज हम आपको एक ऐसी खूबसूरत जगह के बारे में बताने जा रहे हैं, जहां सुंदर-सुंदर पहाड़ हैं, हरियाली है। भारत का यह गांव उत्तराखंड के गढ़वाल में स्थित है। उत्तराखंड, उत्तर भारत में स्थित एक राज्य है, जिसे देवों की भूमि के नाम से भी जाना जाता है। इस राज्य की सीमाएं उत्तर में तिब्बत, पूर्व में नेपाल, पश्चिम में हिमाचल प्रदेश और दक्षिण में उत्तर प्रदेश से मिलती हैं। उत्तराखंड तीर्थ स्थलों के लिए भी मशहूर है। भारत की सबसे बड़ी नदियों गंगा और यमुना का उद्गम स्थल भी उत्तराखंड ही है। देहरादून इस राज्य की राजधानी होने के साथ-साथ यहां का सबसे बड़ा नगर भी है। आइए, आज जानते हैं, यहां के खूबसूरत गांव कलाप के बारे में।
उत्तराखंड के गढ़वाल क्षेत्र में स्थित कलाप गांव रूपिन नदी के किनारे 7800 फीट की ऊचाई पर स्थित है। इस गांव में देवदार के लंबे और घने पेड़ देखने को मिलते हैं, जो इस जगह को और भी खूबसूरत बनाते हैं।

टोन्स घाटी को महाभारत की जन्मभूमि कहा जाता है और उत्तराखंड का कलाप गांव भी इसी घाटी में है। यही कारण है कि यहां के लोग खुद को कौरवों और पांडवों का वंशज बताते हैं।
कलाप में मुख्य मंदिर पांडव भाइयों में से एक कर्ण को समर्पित है। कर्ण महाराजा उत्सव नाम का एक त्योहार भी इस क्षेत्र में मनाया जाता है। जनवरी में, आमतौर पर कलाप में पांडव नृत्य उत्सव होता है। यह उत्सव 10 साल के अंतराल पर मनाया जाता है।

कलाप के लोगों का खान-पान बहुत ही साधारण है। यहां के लोग लिंगुड़ा, लेकप पपरा, बिच्छू घास और जंगली मशरूम का सेवन अधिक करते हैं। यहां एक खसखस, गुड़ और गेंहू के आटे से एक खास डिस भी बनाई जाती है।

Posted in महाभारत - Mahabharat

महाभारतकालीनजनपदोंकेवर्तमान_नाम

आजकल महाभारत सीरियल चल रहा है , उसमें उल्लेखित भारत के विभिन्न जनपदों का उल्लेख होता है, जिन्हें अब आधुनिक नामों से जाना जाता है । उन्हें जानें ।

महाभारत कालीन जनपद

कुरु- मेरठ और थानेश्वर; राजधानी इन्द्रप्रस्थ।

पांचाल- बरेली, बदायूं और फर्रूखाबाद; राजधानी अहिच्छत्र तथा काम्पिल्य।

शूरसेन- मथुरा के आसपास का क्षेत्र; राजधानी मथुरा।#वत्स – इलाहाबाद और उसके आसपास; राजधानी कौशांबी।

कोशल – अवध; राजधानी साकेत और श्रावस्ती।

मल्ल – ज़िला देवरिया; राजधानी कुशीनगर और

पावा (आधुनिक पडरौना)

काशी- वाराणसी; राजधानी वाराणसी।

अंग – भागलपुर; राजधानी चंपा।

मगध – दक्षिण बिहार, #राजधानी गिरिव्रज (आधुनिक राजगृह)।

वज्जि – ज़िला दरभंगा और मुजफ्फरपुर; राजधानी मिथिला, जनकपुरी और वैशाली।

चेदि – बुंदेलखंड; राजधानी शुक्तिमती (वर्तमान बांदा के पास)।

मत्स्य – जयपुर; राजधानी विराट नगर।

अश्मक – गोदावरी घाटी; राजधानी पांडन्य।

अवंति – मालवा; राजधानी उज्जयिनी।

गांधार- पाकिस्तान स्थित पश्चिमोत्तर क्षेत्र; राजधानी तक्षशिला।

कंबोज – कदाचित इसमें संशय है कि संभवित आधुनिक अफ़ग़ानिस्तान; राजधानी राजापुर।

Posted in महाभारत - Mahabharat

महाभारत में वर्णित #वर्णावृत जहां #लाक्षाग्रह कांड हुआ था


टीवी पर #महाभारत चल रहा है और आजकल #दुर्योधन द्वारा #पांडवों को लाक्षाग्रह में जलाकर मारने वाले षड्यंत्र का प्रसंग चल रहा है लेकिन बहुतों को पता भी नहीं होगा महाभारत में वर्णित #वर्णावृत कहां है जहां #लाक्षाग्रह कांड हुआ था? ये लाक्षाग्रह आज भी अवशेष रूप में है जो बागपत के समृद्ध इतिहास को दर्शाता है।

वर्तमान में #बागपत के बरनावा का पुराना नाम वर्णाव्रत माना जाता है। साथ ही यह भी कहा जाता है कि ये उन 5 गावों में शुमार था, जिनको #पांडवों ने #कौरवों से मांगा था। #बरनावा हिंडनी (#हिण्डन) और #कृष्णा नदी के संगम पर बागपत जिले की सरधना तहसील में #मेरठ (#हस्तिनापुर) से लगभग 35 किलोमीटर की दूरी स्थित है। यह प्राचीन गांव ‘वारणावत’ या ‘वारणावर्त’ है, जो उन 5 ग्रामों में से था जिनकी मांग पांडवों ने दुर्योधन से महाभारत युद्ध के पूर्व की थी। ये 5 गांव वर्तमान नाम अनुसार #पानीपत, #सोनीपत, #बागपत, #तिलपत और #वरुपत (बरनावा)।

बरनावा गांव में #महाभारतकाल का लाक्षागृह टीला है। यहीं पर एक सुरंग भी है जिससे होकर पांडव लाक्षाग्रह से बाहर निकले थे। यह #सुरंग हिंडनी नदी के किनारे पर खुलती है। टीले के पिलर तो कुछ #असामाजिक_तत्वों ने तोड़ दिए और उसे वे मजार बताते थे। यहीं पर #पांडव किला भी है जिसमें अनेक प्राचीन मूर्तियां देखी जा सकती हैं।

गांव के #दक्षिण में लगभग 100 फुट ऊंचा और 30 एकड़ भूमि पर फैला हुआ यह टीला #लाक्षागृह का अवशेष है। इस टीले के नीचे 2 सुरंगें स्थित हैं। वर्तमान में टीले के पास की भूमि पर एक गौशाला, श्रीगांधीधाम समिति, वैदिक अनुसंधान समिति तथा महानंद संस्कृत विद्यालय स्थापित है।

Posted in महाभारत - Mahabharat

महाभारत काल के दिव्यास्त्र (abridged)

यह लेख डॉक्टर पी0वी0 वर्तक ने 31 अगस्त 1986 को एक सेमिनार में भाषण देते हुए पढा था, जिसका शीर्षक था –

“प्राचीन भारत में अस्त्र शस्त्र प्रणाली”
‘Armaments in India through the Ages’

Dr P V Vartak.
August 31, 1986.

प्रस्तुत हैं उस सम्बोधन के कुछ अंश –

आर्य आक्रमण


ऐसा माना जाता है कि आर्यों का आक्रमण ईसा से 1000 वर्ष पहले भारत पर हुआ और यह मत व्हीलर के द्वारा दिया गया जो कि स्वयं एक अच्छे पुरातत्वविद थे। किंतु यह आधारहीन है। आर्य भारत के मूल निवासी थे और 24000 ईसा पूर्व ऋग्वेद की रचना कर चुके थे। प्रोफेसर मैक्स मूलर ने कहा था कि वेद के विद्वानों की हर पीढ़ी का यह दायित्व है कि वे यथासंभव ऋग्वेद के प्रत्येक अनसुलझे भाग को सुलझायें ताकि आने वाली पीढ़ियां इसमें मौजूद वैज्ञानिक ज्ञान को प्राप्त कर सकें।

प्राचीन शल्यविज्ञान


अब मैं आपको अपने खुद के अनुभव के बारे में बताऊंगा। 1956 में एम0बी0बी0एस0 की पढ़ाई पूरी करने के बाद मैं एम0एस0आई0 कर रहा था तथा प्लास्टिक सर्जरी यूनिट में कार्यरत था।1950 और 60 के दशक में प्लास्टिक सर्जरी एक नई चीज थी। इसी दौरान एक मरीज की नाक की प्लास्टिक सर्जरी की जानी थी। 1957 की बात है, मैं राईनोप्लास्टी के एक सर्जन के सहायक का कार्य कर रहा था और हमने मरीज के पेट से स्किन-ट्यूब इस्तेमाल करने का फैसला किया जैसा कि हमें बताया गया था। लेकिन ऐसा करने में हमें 10 ऑपरेशन करने पड़े। उस दौरान मैं सुश्रुत की पुस्तक पढ़ रहा था, जिसमें सुश्रुत ने माथे की त्वचा के द्वारा नाक की प्लास्टिक सर्जरी का वर्णन किया था। मेरे सुझाव को सर्जन ने यह कहकर खारिज कर दिया कि संस्कृत के उदाहरण मत बताओ यदि अमेरिकी यह जर्मनी का कोई सन्दर्भ हो तो कहो। इस घटना के 12 वर्ष बाद 1968 में एक जर्मन सर्जन ने सुश्रुत की पुस्तक पढ़कर प्रयास किया और बहुत सफल रहा। उसने इस पर शोध पत्र लिखे।आज भारत समेत सारा विश्व इसी तरह नाक की प्लास्टिक सर्जरी करता है।

XXX

क्रोमोजोम की खोज 1890 में की गई जबकि महाभारत में क्रोमोजोम का जिक्र ‘गुणाविधि’ के रूप में है।

XXX

1972 तक चिकित्सा विज्ञान की दुनिया यह मानती थी कि गर्भस्थ शिशु का हृदय 5 महीने से धड़कना शुरू होता है। 1971 में मैंने भागवत और ऐतरेय उपनिषद के आधार पर कहा कि यह दूसरे महीने से ही शुरू कर देता है तो मेरे ही साथियों ने मजाक उड़ाया यह कहकर कि व्यास मूर्ख थे। लेकिन 1972 में ‘मेडिकल टाइम्स’ में एक रिपोर्ट छपी जिसमें डॉ0 रॉबिंसन, क्वीन मदर्स हॉस्पिटल, ग्लासगो, इंग्लैंड ने कहा कि गर्भस्थ शिशु का हृदय दूसरे महीने से ही कार्य करना शुरू कर देता है।

XXX

कुतुब मीनार के पास मौजूद लौह स्तंभ का उदाहरण ही देखिये, 2000 वर्षों से यह लौह स्तंभ बिना जंग खाए खुले आसमान के नीचे धूप और वर्षा का सामना करने के बावजूद टिका हुआ है। इसमे कौन सी टेक्नोलॉजी थी?

महाभारत काल की वैज्ञानिक उपलब्धियां


महाभारत का युद्ध मेरी गणना के अनुसार 16 अक्टूबर 5561 ईसा पूर्व में हुआ। इसमें वेदव्यास ने 3 नए ग्रहों के बारे में स्पष्टरूप से लिखा है। जिनके नाम है – श्वेत श्याम तथा तीव्र। इतना ही नही, इनकी स्पष्ट स्थिति भी दी गई है। ये ग्रह और कोई नहीं बल्कि यूरेनस, नेपच्यून और प्लूटो हैं।

महाभारत में सूक्ष्मदर्शी का भी विवरण मिलता है।

सूर्यकांत मणि का इस्तेमाल अग्नि पैदा करने में किया जाता था। यह अवश्य ही कोई उत्तल दर्पण (Convex Lense) रहा होगा।

परमाणु विज्ञान


भागवत पुराण बताता है कि दो या तीन परमाणुओं से मिलकर एक अणु बनता है। जॉन डाल्टन ने 1807 में अदृश्य अणुओं की उपस्थिति का सिद्धांत दिया था जबकि भागवत में इसका वर्णन बहुत पहले से मौजूद है। भागवत हमें बताता है कि परमाणु एक दूसरे से कभी नही जुड़ते किंतु जुड़े होने का आभास अवश्य पैदा करते हैं। इनका कोई गुणधर्म उस पदार्थ को नही मिलता है जिसका यह निर्माण करते हैं। भागवत में इन परमाणुओं के भीतर मौजूद पदार्थ को ‘परम महान’ नाम दिया गया है। आज 60 से अधिक ऐसे पदार्थों की खोज की जा चुकी है। भागवत कहता है परमाणुओं के भीतर ही ब्रह्मा का वास है। इसका अर्थ यह हुआ कि इन परमाणुओं से निकलने वाली ऊर्जा ही ब्रह्मास्त्र रूप में प्रयोग की जाती थी।

ध्वनि विज्ञान


प्रस्वप् अस्त्र का प्रयोग केवल भीष्म जानते थे। इस अस्त्र का प्रयोग उन्होंने परशुराम पर किया था। इस अस्त्र के प्रयोग से गहरी निंद्रा आ जाती थी। एक ऐसे ही अस्त्र का प्रयोग महाभारत के विराट पर्व में अर्जुन द्वारा किया गया जिसे सम्मोहन अस्त्र कहा गया। अर्जुन ने इसका प्रयोग बिना किसी धनुष या बाण की सहायता के केवल शंखध्वनि से किया था। इसकी ध्वनि को सुनकर कौरव निंद्रा अवस्था में चले गए थे।

यहां पर यह बता देना चाहता हूं कि ओम की ध्वनि इसी प्रकार के संगीतमय तरंगों को पैदा करती है जिससे निंद्रा का आभास होता है। साथ ही ओम की ध्वनि तथा शंख ध्वनि एक जैसी सुनाई पड़ती है।

Nerve Gas!!


नारायणास्त्र का प्रयोग महाभारत के द्रोण पर्व में अश्वत्थामा के द्वारा किया गया, जिसके परिणाम स्वरूप आसमान में की असंख्य अग्निबाण प्रकट हो गए। सब कुछ इन्हीं बाणों के द्वारा ढक दिया गया। आसमान में लोहे की कीलें जैसे दिखने वाले नक्षत्रों के पैदा होने और चमकने का वर्णन है। इसके अलावा गदा, चक्र, शतघ्नी जैसे अस्त्र प्रकट होने लगे। कृष्ण इस अस्त्र के बारे में जानते थे, इसलिए उन्होंने सारे अस्त्र-शस्त्र त्याग कर रथ से नीचे उतरते को कहा। यही तरीका इस अस्त्र से बचा सकता था। भीम को छोड़कर सारे नीचे उतर गए। भीम के शरीर पर चमकदार अग्नि के गोले चिपक गए। भीम संघर्ष करता नजर आने लगा। लेकिन अस्त्र और अधिक ताकतवर होता चला गया। भीम का शरीर अग्नि की लपेट में आ गया। उसे बचाने के लिए अर्जुन ने वरुणास्त्र का प्रयोग किया लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। इसलिए अर्जुन और कृष्ण आग के भंवर में कूदकर भीम को रथ से नीचे खींच लाए। इस तरह भीम के प्राण बच सके।

उपरोक्त वर्णन से यह प्रतीत होता है कि यह संभवतः किसी प्रकार की हल्की ज्वलनशील गैस रही होगी इसीलिए यहां 6 फीट जमीन से ऊपर असर कर रही थी। शायद यह किसी प्रकार की नर्व गैस रही होगी क्योंकि नर्व गैस के प्रभाव में आने पर जितना अधिक हम सांस लेते हैं उतनी ही अधिक मात्रा में इस गैस से नुकसान होता है। इसीलिए कृष्ण ने तुरंत युद्ध रोकने को कहा साथ ही पसीने के साथ यह तेजी से क्रिया करती है इसी करण भीम को भारी नुकसान हुआ। अमेरिका ने अपना पहला नर्व गैस प्रयोग 1971 में चोरी छुपे किया था। इस गैस के प्रभाव से लाखों लोग मारे जा सकते हैं।

मिसाइल तथा प्रक्षेपास्त्र


एंटी-मिसाइल का प्रयोग भी महाभारत में ‘अवपोतिका’ नाम से किया जाता था। इस श्रेणी में सबसे प्रमुख नाम आता है – पाशुपतास्त्र का। किसी भी शास्त्र को काटने के लिए इसका प्रयोग किया जा सकता था।

इसके अलावा अर्जुन एक निमिष में 500 वाण छोड़ सकता था। एक निमिष का मतलब होता है 0.2 सेकेंड्स। आधुनिक मशीन गन भी 1 मिनट में सिर्फ 600 राउंड ही छोड़ सकती है। ऐसे में अर्जुन के पास अवश्य ही कोई शक्तिशाली यंत्र मौजूद था। अर्जुन ने जयद्रथ के रथ के घोड़ों को 2 मील की दूरी से ही मार डाला था(अरण्यपर्व) क्या यह किसी साधारण धनुष से यह सम्भव था? इसके लिए बहुत शक्तिशाली दूरदर्शी यंत्र की भी आवश्यकता पड़ती है।

प्रकाश की गति और ऋग्वेद


प्रकाश के वेग को भी ऋग्वेद के टीकाकर सायन ने आधे निमिष में 2202 योजन बताया है। यह वेग 187084 मील प्रति सेकंड ठहरती है। आधुनिक गणनाओं के आधार पर आज 187352.5 मील प्रति सेकंड है। प्रकाश की तीव्र गति के कारण समय अंतराल में व्याप्तियां भी व्यास ऋषि को मालूम थीं। महाभारत में अंतरिक्ष यात्रा का एक विवरण प्राप्त होता है राजा का ककुद्मी अपनी विवाह योग्य कन्या रेवती को लेकर तक ब्रह्मलोक तक जाने में जितने पल बीते उतनी देर में है 27 चतुर्युगी बीत चुकी थीं किंतु वापस पृथ्वी पर पहुंचे तक भी रेवती की आयु में कोई परिवर्तन न था। व्यास के अनुसार ऐसा प्रकाश की तीव्र गति के कारण संभव हुआ। लगभग ऐसा ही कुछ कई शताब्दियों बाद आइंस्टीन ने बताया है।

रामायण का विश्व भूगोल


रामायण का समय मेरे अनुसार 7323 ईसा पूर्व निर्धारित किया गया है। ऐसा लगता है कि रावण यमलोक अर्थात अंटार्कटिका क्षेत्र में अपनी सेना सहित गया था। दैत्यों के द्वारा दक्षिण-अमेरिका तक जाने का विवरण है। रामायण में पूरे विश्व का भूगोल समाया हुआ है। आधुनिक पेरू के प्रशांत तट पर स्थित अमेरिका के एक दैदीप्यमान (Phosphorescent) त्रिशूल एंडीज पर्वत पर अंकित मिलता है। यह त्रिशूल आकाश की तरफ प्रकाश फेंकता है। आकाश से ही इसे देखा जा सकता है धरती से नहीं। इसीलिए वैज्ञानिकों का मानना है इसे बनाने वाले अंतरिक्ष यात्री रहे होंगे। लेकिन वे कौन थे, इसका जवाब नहीं मिलता। रामायण में एक जगह इसका विवरण मिलता है। इससे पता लगता है कि रामायण काल के भारतीय प्रशांत महासागर स्थित पेरू के अंतिम तट तक तक भी गए थे। पेरू से आगे की दिशा में अभी हम जाएं तो हमें आज भी एरोड्रम के निशान (नाज़का लाइन्स) मिलते हैं। यह स्थान कोलंबिया में मौजूद है जिस पर आज भी हवाई जहाज के मॉडल अंकित है। अमेरिकन एविएशन डिपार्टमेंट ने खोजबीन के बाद यह बताया है कि ये निशान सुपर सोनिक एयरक्राफ्ट के ही हो सकते हैं। ऐसा प्रतीत होता है कि रामायण काल में इंद्रजीत ऐसे ही सुपरसोनिक एयरक्राफ्ट का प्रयोग करता था।

स्पेस क्राफ्ट


ऋग्वेद में ही बिना घोड़ों की सहायता चलने वाले रथों का वर्णन प्राप्त होता है जो जल, थल नभ में चल सकते थे। इन रथों के बारे में कोई और वर्णन वहां नही मिलता। महाभारत के वानप्रस्थ पर्व में इंद्र के रथ का कुछ वर्णन प्राप्त होता है। जब इंद्र का रथ नीचे उतरा तो वह बादलों को चीरता हुआ आसमान से अंधकार को धकेलता हुआ, आंधी का शोर मचाता उतरा था। उसमें से प्रकाश की तरंगें (विद्युत), अशनिचक्रयुक्त हुद ( तोप के गोले), गूढ़ (मिसाइल) तथा वायुस्फोटः सनिर्घात (गैसों का प्रस्फोटन) प्रकट हो रहे थे। यह किसी अंतरिक्ष यान के उतरने जैसा वर्णन है। दस सहस्र अश्वों द्वारा उसे खींचे जाने का वर्णन है। (यह असंभव वर्णन केवल रथ की शक्ति दस हज़ार हॉर्स पावर बताने का प्रतीक भर है)

अंतरिक्ष विज्ञान


ऋग्वेद के नासदीय सूक्त में सृष्टि निर्माण का जैसा वर्णन मिलता है वह आधुनिक विज्ञान की धारणाओं के ही अनुरूप है।

वेग नामक तारे के आसमान में खिसक जाने का वर्णन कोई काव्यात्मक अतिश्योक्ति नही बल्कि वास्तविक खगोलीय घटना है। 1950 में अंतरिक्ष विज्ञानियों के एक दल ने पता लगाया था कि लगभग 13000 ईसा पूर्व में वेग नामक तारे ने खिसककर ध्रुव तारे की जगह ले ली थी।

फ्री एनर्जी सिद्धांत


“समरांगण सूत्रधार” नामक ग्रंथ में पारे के इस्तेमाल से वायुयान निर्माण की विधि का वर्णन मिलता है। आश्चर्यजनक रूप से अमेरिकियों ने पारे की प्रयोग पर प्रयोग भी शुरू कर दिए। पारे के पॉजिटिव आयन इतनी शक्ति से नेगेटिव आयन की तरफ बढ़ते हैं कि पूरी मशीन घूमना शुरू कर देती है। अब इस सिद्धांत का प्रयोग अंतरिक्ष यान बनाने में किये जाने की तैयारी की जा रही है। (इंडियन एक्सप्रेस,12 अक्टूबर 1979)

महास्त्रों का प्रयोग महाभारत युद्ध के बाद नहीं हुआ। यहां तक कि अर्जुन ने भी अपने पोते परीक्षित को ब्रह्मास्त्र का प्रयोग नहीं सिखाया। ऐसा संभवत महाभारत युद्ध के विनाश को देखते हुए किया गया हो।जैसाकि हम पढ़ते हैं कि परीक्षित की मृत्यु ब्रह्मास्त्र के विकिरण के दुष्प्रभाव से हुई थी (टेस्ट ट्यूब बच्चों का भी चलन उस काल मे था)

सारांश


आधुनिक युग में एटम बम के निर्माता ओपनहीमर ने भी यही किया था। प्राचीन भारतीयों ने अपने ज्ञान का औद्योगिक करण नहीं किया। यही वजह रही कि यह ज्ञान आने वाली सदियों में लुप्त हो गया। भारतीय जानते थे कि यदि संतुलन बिगड़ गया तो सभ्यताएं नष्ट हो सकती हैं।
✍🏻साभार

भारत में हजारों साल से चली आ रही मौखिक-लिखित कहानियों में कभी कभी ऐसी नायिका का जिक्र भी मिल जाता है जिसकी सहेली कोई चित्र बनाती है। कभी कभी ये लड़की राजकुमारी की सेवा में या उसकी सहेली होती है। अक्सर राजकुमारी को अपनी सहेली के बनाए इस चित्र के नायक से प्यार भी हो जाता है। किसी के रूप सौन्दर्य को देखकर “चित्रलिखित सा खड़ा रह जाना” का जुमला भी साहित्य में मिल जाता है। मानव सभ्यताओं में चित्रकारी की परंपरा हमेशा से रही है।

बाकी और सभ्यताओं से ज्यादा पुरानी होने की वजह से भारत में ये चित्रकारी की परंपरा सदियों में नहीं, हजारों साल से चलती आ रही है। घरों में बनते अल्पना-रंगोली जैसी चित्रकारी को छोड़ भी दें तो बाकायदा अभ्यास से सीखी जाने वाली दस अलग अलग चित्रकारी की विधाएं आराम से निकल आएँगी। राजपूत पेंटिंग, मुग़ल पेंटिंग या तंजावुर पेंटिंग जैसी राजघरानों के प्रश्रय में बढ़ी कला के अलावा और भी कई हैं। कालीघाट, कलमकारी, मंडाना, गोंड, मधुबनी, और फड जैसी कलात्मक विधाएं लोकजीवन में ही रची बसी होती हैं।

गोंड जैसी चित्रकला का इतिहास में भी अपना फायदा है। भीमबेटका जैसे इलाके की गुफाओं पर जो आदिमानवों के बनाये चित्र हैं, उनमें घोड़े पर शिकार भी दर्शाया गया है। वेटिकन पोषित या अन्य आयातित किस्म की विचारधाराओं पर पलते “इतिहासकारों” का रूप धरे उपन्यासकारों की आर्यन थ्योरी में ये भी छेद कर देता है। घुड़सवार और रथारूढ़ हमलावर कहीं और से आये थे और भारत में घोड़े नहीं होते थे, ऐसा इन भित्ति चित्रों को देखने के बाद कहना मुश्किल है। समाज का अलग अलग समय बदलता स्वरुप भी चित्रों में दिख जाता है।

आधुनिक भारत यानि 1850 से बाद का समय भारतीय कलाकारों के लिए अंतर्राष्ट्रीय परिचय भी लेकर आया। इस दौर में सबसे प्रसिद्ध शायद राजा रवि वर्मा ही कहे जायेंगे। वो पेंटिग को हारते जाते राजाओं के दरबार और राजाश्रय से निकाल कर आम लोगों में पहुँचाने के लिए भी जाने जाते हैं। जिस दौर में अंग्रेज कलात्मक वस्त्र बनाने वाले बुनकरों का अंगूठा काट रहे थे, उस दौर में उन्होंने प्रिंटिंग प्रेस के जरिये पौराणिक कहानियों के चित्र घर घर सुलभ करवा दिए। राजा रवि वर्मा को उनके जटायु, शकुंतला, अभिमन्यु-उत्तरा और ऐसी ही दूसरी पौराणिक कथाओं पर आधारित पेंटिंग्स से प्रसिद्धि मिली।

उन्होंने जो छापाखाना शुरू किया वो व्यावसायिक रूप से बहुत सफल नहीं था। उनके ही एक जर्मन कर्मचारी ने बाद में उसे खरीद लिया और फिर धीरे धीरे ये छापाखाना भी मुनाफे में आने लगा। सन 1972 में ये छापाखाना आग में जलकर नष्ट हो गया था, साथ ही राजा रवि वर्मा की कुछ ओरिजनल पेंटिंग्स, असली कलाकृतियाँ भी इस आग में प्रेस के साथ जल गयीं। कल को कुछ राजा रवि वर्मा की पेंटिंग्स कहीं विदेशों में किसी “निजी संकलन” में, अचानक प्रकट हों तो कम से कम मुझे तो कोई भी आश्चर्य नहीं होगा।

नैमिषारण्य में जिन कई बड़े कलाकारों से मुलाकात हुई उनमें वासुदेव कामत भी थे। उनकी कलाकृतियाँ शायद आपने अक्षरधाम मंदिर में देखी होंगी। उनका और दुसरे कई कलाकारों का मानना था कि कला की शिक्षा का अब कोई ख़ास मोल नहीं रह गया है। उससे नौकरी तो मिलती नहीं ! इस वजह से जो काबिल छात्र हैं, वो भी कला या नृत्य-संगीत जैसे विषयों के बदले दुसरे कोई आय का सतत साधन या नौकरी जुटाने वाली पढ़ाई करने में रूचि लेते हैं। हमने बड़ों के सामने कुछ नहीं कहा, लेकिन हमारा मानना जरा अलग है।

भविष्य में क्या करना है, या क्या बनना है, इसकी समझ सीधा फाइन आर्ट्स की पढ़ाई कर रहे ज्यादातर विद्यार्थियों में बहुत स्पष्ट होती है। तुलनात्मक रूप से अगर “मशरूम की तरह उग आये” इंजीनियरिंग-मैनेजमेंट कॉलेज के छात्रों से पूछें वो जीवन में क्या करना चाहता है तो उसके विचार कभी उतने स्पष्ट नहीं होते। दसवीं-बारहवीं करके आर्ट्स कॉलेज में गया अट्ठारह साल का बच्चा शायद अपना उद्देश्य मुझसे बेहतर तरीके से बता देगा। कला का ये नतीजा देखने की वजह से हम मानते हैं कि मानव से मनुष्य हो जाने के लिए कला महत्वपूर्ण है।

जहाँ चित्रकला मूर्ती बनाने जैसी विधाओं पर पाबन्दी रही हो वो लोग कभी इंसान ना हुए और ना ही हो पायेंगे। नौकरियां मिल सकें इसके उद्देश्य से पढ़ाई तो दूर की बात है, इस मकसद से तो उद्योग-धंधे भी नहीं लगाए जाते। हाँ पिछले सौ-डेढ़ सौ साल में जो धीरे धीरे नौकरी को ही रोजगार का पर्यायवाची बना दिया गया है उसका ऐसी सोच के पीछे बड़ा हाथ है। नौकरियां कितनी पैदा हुई, इस से उद्योगों की सफलता जोड़ने में जुटे पत्तल-कार बन्धु भी इस पाप में बराबर के भागीदार हैं। असल में अभिव्यक्ति के तरीकों को कुछ ख़ास परिवारों की बपौती बनाए रखने में उनका निजी हित भी छुपा होता है।

बाकी इस पूरे कला सम्बन्धी प्रकरण में याद आया कि हाल में ही पटना के चौक-चौराहों की खुली दीवारों पर कई कलाकार अपने चित्र बना गए थे। बंद कमरों की दीवारों पर टंगे होने के बदले जबतक चित्र बाहर खुले में नहीं आते, तबतक स्वीकार्यता दोबारा मिलनी भी मुश्किल है।

भारत में बरसों तक प्रचलित रहे मिथकों में से एक था “आर्यन इन्वेशन थ्योरी”। पहले तो जिसने ये थ्योरी दी उसी ने रिजेक्ट कर दी। उसके बाद इसके लिए कोई साक्ष्य भी नहीं मिले, इसलिए भी इसे बनाए रखना मुश्किल हुआ। इस थ्योरी को अम्बेडकर ने भी सिरे से ख़ारिज कर दिया था। इसके साथ साथ अम्बेडकर नाक की माप के आधार पर बनाई जातियों वाली “नेसल इंडेक्स थ्योरी” को भी ख़ारिज करते थे। अजीब सी बात है कि आज खुद को अम्बेडकरवादी बताने वाले कई लोग इस “आर्यन इन्वेशन थ्योरी” के मिथक में यकीन करते हैं।

उनमें से कुछ तो ऐसे हैं कि सीधा संसद में ऐसे “मिथक” का प्रचार करते हैं। अब बहस संसद में थी इसलिए उसपर कोई कार्यवाही नहीं हो सकती। यही दूसरे “मिथक” की याद दिला देता है। इस दूसरे “मिथक” में कहा जाता है कि कानून की नजर में सभी भारतीय नागरिक बराबर है! अगर ये “मिथक” सच होता तो जिस बात के लिए मेरे ऊपर एक असंवैधानिक काले कानून के जरिये मुकदमा हो सकता है, वैसे ही सांसद पर भी लागु होते। ऐसे ही मिथकों में से एक ये भी है कि अमीर व्यापारियों पर टैक्स लगाकर गरीबों तक पैसा पहुँचाया जायेगा!

टैक्स के नियम एक वेतनभोगी और एक व्यापारी के लिए ठीक उल्टे होते हैं। एक नौकरीपेशा आदमी के लिए उसकी तनख्वाह वो रकम है जो टैक्स काट कर मिलती है। उसपर टीडीएस यानि टैक्स डिडकटेड एट सोर्स लगता है। व्यापारी पूरे साल खर्च करने के बाद दिखाता है कि उसके पास मुनाफा बचा, वो उस मुनाफे पर टैक्स देता है। जैसे ही उसे लगेगा कि उसे ज्यादा मुनाफा हो गया है, वो उस मुनाफे के पैसे को पहले ही अपने ऑफिस के लिए कंप्यूटर/एसी लेकर या कंपनी के डायरेक्टर (खुद) के लिए कार लेकर खर्च कर दे तो कौन सा बढ़ा हुआ टैक्स उसपर लागू होगा? जीएसटी में लगातार टैक्स भरते रहने के कारण मुनाफे को रोककर उसे बाद में खर्च दिखा देना मुश्किल होता है। इसलिए भी जीएसटी से दिक्कत है।

कल पटना लिटरेचर फेस्टिवल में श्री नरेन्द्र कोहली जी की चर्चा का विषय “आधुनिकता” और “मिथक” पर बातचीत था। उन्होंने शुरुआत एक प्रचलित “मिथक” से की जिसके मुताबिक कहा जाता है कि हिन्दी के पाठक घटते जा रहे हैं। उन्होंने पूछा कि इसकी जांच के लिए कौन से सर्वेक्षण करवाए गए? कैसे पता चला कि हिन्दी के पाठक पहले ज्यादा थे और अब कम? प्रकाशकों की गिनती हर साल बढ़ती ही है, उनके बंगले ऊँचे होते जाते हैं, उनकी अगली पीढ़ियाँ इसी व्यवसाय में आ रही हैं। जाहिर है कि सच्चाई, पाठकों के कम होने वाले “मिथक” से कहीं कोसों दूर खड़ी है।

बाकि उन्होंने इससे आगे भी काफी कुछ कहा था, जिसका जिक्र हम जाने दे रहे हैं।
✍🏻आनन्द कुमार