Posted in महाभारत - Mahabharat

કર્ણના અગ્નિસંસ્કાર કુંવારી જમીનમાં થયેલા,આ જમીન ગુજરાતમાં જ છે,


કર્ણના અગ્નિસંસ્કાર કુંવારી જમીનમાં થયેલા,

આ જમીન ગુજરાતમાં જ છે,

હજુ પણ આ જગ્યાએ જ સૌથી વધુ દાનવીર પેદા થાય છે.

મિત્રો તમે મહારાણી કુંતીના સૌથી મોટા પુત્ર કર્ણની જીવનગાથા વિશે તો ઘણું સાંભળ્યું હશે.

પરંતુ શું તમે તેના મૃત્યુ વિશે જાણો છો ?

તો આજે અમે તેના મૃત્યુ અને તેને સંબંધિત રહસ્યો વિશે જણાવશું.

જેનાથી લગભગ તમે અજાણ હશો.

જ્યારે મહાભારતનું યુદ્ધ ચાલી રહ્યું હતું,
ત્યારે કર્ણના રથનું પૈડું જમીનમાં ફસાઈ ગયું હતું.

ત્યારે કર્ણએ અર્જુનને જણાવ્યું કે અર્જુન જ્યાં સુધી હું મારા રથનું પૈડું જમીનમાંથી બહાર ન કાઢી લઉ
ત્યાં સુધી તું મારા પર વાર નહિ કરે.
આ સાંભળી અર્જુન અટકી ગયો.

ત્યારે ભગવાન શ્રી કૃષ્ણએ અર્જુનને કહ્યું કે
અર્જુન તું કેમ અટકી ગયો બાણ ચલાવ.

અર્જુને શ્રી કૃષ્ણને જણાવ્યું કે તે યુદ્ધના નિયમથી વિરુદ્ધ છે.

ત્યારે ભગવાન શ્રી કૃષ્ણએ અર્જુનને યાદ અપાવ્યું કે
જ્યારે અભિમન્યુ એકલો જ બધા યોદ્ધાઓ સાથે લડી રહ્યો હતો
ત્યારે યુદ્ધના નિયમનો ખ્યાલ રાખ્યો હતો ?

ત્યારે શું પિતામહે યુદ્ધના કોઈ નિયમ બનાવ્યા ન હતા ?
અને
એટલું જ નહિ ભરી સભામાં દ્રૌપદીને વેશ્યા કહેવામાં આવી હતી ત્યારે….

આ સાંભળી અર્જુનને ગુસ્સો આવ્યો અને કર્ણ પર બાણ ચલાવી દીધું.

મિત્રો તમને જણાવી દઈએ કે અર્જુન દ્વારા ચલાવાયેલું બાણ કોઈ સાધારણ બાણ ન હતું કે જેનાથી કર્ણ બચી શકે.

તે પાશુપસ્ત્ર હતું.
જે ભગવાન શિવજીના વરદાનથી અર્જુનને મળ્યું હતું.

જ્યારે પાંડવો ૧૪ વર્ષના વનવાસ માટે ગયા
ત્યારે ભગવાન શ્રી કૃષ્ણએ પાંચેય પાંડવને અલગ અલગ તપસ્યા કરવા માટે મોકલી દીધા હતા.

તેમાં અર્જુને ભગવાન શિવજીની તપસ્યા કરી હતી
અને
ભગવાન શિવજીએ તેને પાશુપસ્ત્ર વરદાન સ્વરૂપે આપ્યું હતું.

અર્જુનના વાર બાદ તડપી તડપીને કર્ણ પોતાના મૃત્યુની રાહ જોઈ રહ્યો હતો

ત્યારે ભગવાન શ્રી કૃષ્ણએ કર્ણની પરીક્ષા લેવાનું વિચાર્યું
અને
બ્રાહ્મણ રૂપ ધારણ કરીને કૃષ્ણ ભગવાન કર્ણ પાસે આવ્યા
અને
કહ્યું કે હે કર્ણ મારી પુત્રીના લગ્ન છે
અને
મારી પાસે તેને દાનમાં આપવા માટે સોનું નથી તો મને સોનાનું દાન આપ.

ત્યારે કર્ણએ જણાવ્યું કે હવે મારી પાસે કંઈ નથી
હું તમને શું દાન કરી શકું શા માટે તમે મારી પરીક્ષા લઇ રહ્યા છો.

ત્યારે બ્રાહ્મણે કહ્યું કે હજુ પણ તારી પાસે તારો સોનાનો દાંત છે
દાન આપવા માટે.
ત્યારે કર્ણએ જણાવ્યું કે પથ્થર મારીને મારો દાંત કાઢી લો.
ત્યારે બ્રાહ્મણે જણાવ્યું કે દાન આપવાનું હોય મારાથી પથ્થર મારીને ન લેવાય તારે આપવો પડશે દાંત.
ત્યારે કર્ણએ પોતાના હાથે દાંત પર પથ્થર મારીને દાંત કાઢી બ્રાહ્મણને આપ્યો.

ત્યારે બ્રાહ્મણે કહ્યું કે દાંતને પવિત્ર કરીને આપ
ત્યારે કર્ણને પોતાનું બાણ જમીન પર ચલાવ્યું તો
ત્યાંથી ગંગા નદીની જળ ધારા થઇ
અને
દાંત પવિત્ર થઇ ગયો.

ત્યાર બાદ કર્ણ સમજી ગયો કે આ બ્રાહ્મણ કોઈ દેવતા છે અથવા તો ખુદ પરમાત્મા છે.

માટે તેણે બ્રાહ્મણને કહ્યું કે
તમે જે હોય તે મને તમારું અસલી રૂપ દેખાડો.

ત્યાર બાદ ભગવાન શ્રી કૃષ્ણ પોતાના અસલી રૂપમાં આવ્યા
અને
કર્ણને જણાવ્યું કે તું ખરેખર મહાન દાનવીર છે
તારા જેટલું દાની જગતમાં બીજું કોઈ નથી,
માટે હું તારા આ કર્મથી પ્રસન્ન છું,

તું જે માંગીશ તે આપીશ માટે કોઈ વરદાન માંગ.

ત્યારે કર્ણએ કહ્યું, કે
આમ તો મેં ક્યારેય કોઈ પાસે માગ્યું નથી

પરંતુ આજે એક વરદાન માંગુ છું

કે મને જન્મ એક કુંવારી માતાએ આપ્યો છે
માટે મારા અંતિમ સંસ્કાર પણ એક કુંવારી જમીન પર થાય તેવું ઈચ્છું છું.

ભગવાન શ્રી કૃષ્ણએ પોતાની અંત:દ્રષ્ટિથી કુંવારી જમીન શોધી તો
તાપી નદીના કિનારે અશ્વિની કુમારના મંદિર પાસેની જમીન કુંવારી હતી.

ત્યાર બાદ ભગવાન શ્રી કૃષ્ણ અને પાંચેય પાંડવોએ કર્ણના અંતિમ સંસ્કાર ત્યાં કર્યા.

ત્યારે પાંડવોએ પૂછ્યું કે આ કુંવારી જમીન જ છે
એવું કંઈ રીતે સાબિત થાય.

ત્યારે કર્ણ પ્રગટ થયો
અને
જણાવ્યું કે તાપી મારી બહેન છે,
અશ્વિની કુમાર મારા ભાઈઓ છે
અને
હું સૂર્ય પુત્ર છું
અને
મારો અગ્નિદાહ એક કુંવારી જમીનમાં જ થયો છે..

ત્યારે પાંડવોએ જણાવ્યું કે
હે પ્રભુ અમને તો ખબર પડી ગઈ કે
આ એક કુંવારી જમીન છે.

પરંતુ આવનારી પેઢીને કંઈ રીતે ખબર પડશે કે

કુંવારી જમીન પર જ દાનવીર કર્ણના અંતિમ સંસ્કાર થયા હતા.

ત્યારે ભગવાને વિચાર્યું અને કહ્યું કે આ જ જમીન પર એક વટ વૃક્ષ ઉગશે
અને
તેમાં ત્રણ પાંદડા આવશે જે
બ્રહ્મા, વિષ્ણુ અને મહેશના પ્રતિક હશે
અને
આગળ જણાવ્યું કે જે કોઈ પણ અહીં સાચી શ્રદ્ધાથી પ્રાર્થના કરશે.
તેની મનોકામના અહીં અવશ્ય પૂર્ણ થશે.

મિત્રો આ વટ વૃક્ષ આજે પણ છે.
અને
આજે પણ તેમાં માત્ર ત્રણ જ પાંદડા છે.
જે એ વાતની સાબિતી આપે છે કે
દાનવીર કર્ણના અગ્નિ સંસ્કાર ત્યાં જ કરવામાં આવ્યા હતા.

મિત્રો સૌથી મજેદાર વાત તો એ છે કે
આ વટ વૃક્ષ આપણા ગુજરાતમાં જ છે.

સુરત શહેરમાં તાપી નદીના કિનારે આવેલ
અશ્વિની કુમાર મંદિર પાસે આ ત્રણ પાંદડા વાળું વટ વૃક્ષ આવેલું છે.

અને
કદાચ એટલા માટે જ આજે સુરત શહેરની દુનિયાભરમાં બોલબાલા છે.

અહીયા આવીને કોઈપણ પોતાની લાઈફ સેટ કરી લે છે.

કેમ કે સુરત પર આજે પણ ભગવાન શ્રી કૃષ્ણ અને સૂર્યદેવના આશીર્વાદ છે.

     🙏🏻🙏🏻  જય શ્રી કૃષ્ણ  🙏🏻🙏🏻
Posted in महाभारत - Mahabharat

महाभारत काल एवं उसके बाद के राजवंश


महाभारत काल एवं उसके बाद के राजवंश


पौराणिक तथा ज्योतिषीय प्रमाणों के आधार पर यह महाभारत युद्ध की प्रसिद्ध परंपरागत तिथि 3070 ई.पू. मानी जाती है. उस महायुद्ध में भयानक सर्वनाश हुआ था. इस युद्ध के कुछ बर्ष बाद भगवान् श्रीकृष्ण का यदुवंश भी आपस में लड़कर समाप्त हो गया था. उसके बाद भारत में दो ही प्रशिद्ध राजवंश बचे. एक इंद्रप्रस्थ का पाण्डुवंश और दूसरा मगध का जरासंध का वंश.

महाभारत के युद्ध के बाद युधिष्ठिर राजा बने और उनके बाद अभिमन्यु के पुत्र परीक्षित और मगध में जरासंध के पुत्र बृहद्रथ. राजा परीक्षित के बाद के द्वापर युग की समाप्ति तथा कलयुग का प्रारम्भ माना जाता है. परीक्षित के लगभग 28 पीढ़ी तक पाण्डु वंश का समय लगभग 1100 साल (2000 ई. पू.) माना जाता है. इनके समय तक म्लेच्छों के आक्रमण शुरू हो गए थे.

पाण्डु वंश के अन्तिम सम्राट क्षेमक हुए, जो मलेच्छों के साथ युद्ध करते हुए मारे गये थे. क्षेमक के वेदवान् तथा वेदवान् के सुनन्द नामक पुत्र हुआ. सुनन्द पुत्रहीन ही रहा,.इस प्रकार सुनन्द के अंत के साथ ही पाण्डव वंश का अंत हो गया. उधर मगध में जरासंध की 22 पीढ़ियों तक लगभग 1000 साल ( 2200 ई.पू.) तक चला. इस वंश का अन्तिम राजा रिपुञ्जय था.

साभार

Posted in महाभारत - Mahabharat

महाभारत का एक सार्थक प्रसंग जो अंतर्मन को छूता है …. !!🙏🙏

महाभारत युद्ध समाप्त हो चुका था. युद्धभूमि में यत्र-तत्र योद्धाओं के फटे वस्त्र, मुकुट, टूटे शस्त्र, टूटे रथों के चक्के, छज्जे आदि बिखरे हुए थे और वायुमण्डल में पसरी हुई थी घोर उदासी …. !
गिद्ध , कुत्ते , सियारों की उदास और डरावनी आवाजों के बीच उस निर्जन हो चुकी उस भूमि में द्वापर का सबसे महान योद्धा “देवव्रत” (भीष्म पितामह) शरशय्या पर पड़ा सूर्य के उत्तरायण होने की प्रतीक्षा कर रहा था — अकेला …. !

तभी उनके कानों में एक परिचित ध्वनि शहद घोलती हुई पहुँची , “प्रणाम पितामह” …. !!

भीष्म के सूख चुके अधरों पर एक मरी हुई मुस्कुराहट तैर उठी , बोले , ” आओ देवकीनंदन …. ! स्वागत है तुम्हारा …. !!

मैं बहुत देर से तुम्हारा ही स्मरण कर रहा था” …. !!

कृष्ण बोले , “क्या कहूँ पितामह ! अब तो यह भी नहीं पूछ सकता कि कैसे हैं आप” …. !

भीष्म चुप रहे , कुछ क्षण बाद बोले,” पुत्र युधिष्ठिर का राज्याभिषेक करा चुके केशव … ?
उनका ध्यान रखना , परिवार के बुजुर्गों से रिक्त हो चुके राजप्रासाद में उन्हें अब सबसे अधिक तुम्हारी ही आवश्यकता है” …. !

कृष्ण चुप रहे …. !

भीष्म ने पुनः कहा , “कुछ पूछूँ केशव …. ?
बड़े अच्छे समय से आये हो …. !
सम्भवतः धरा छोड़ने के पूर्व मेरे अनेक भ्रम समाप्त हो जाँय ” …. !!

कृष्ण बोले – कहिये न पितामह ….!

एक बात बताओ प्रभु ! तुम तो ईश्वर हो न …. ?

कृष्ण ने बीच में ही टोका , “नहीं पितामह ! मैं ईश्वर नहीं … मैं तो आपका पौत्र हूँ पितामह … ईश्वर नहीं ….”

भीष्म उस घोर पीड़ा में भी ठठा के हँस पड़े …. ! बोले , ” अपने जीवन का स्वयं कभी आकलन नहीं कर पाया कृष्ण , सो नहीं जानता कि अच्छा रहा या बुरा , पर अब तो इस धरा से जा रहा हूँ कन्हैया , अब तो ठगना छोड़ दे रे …. !! “

कृष्ण जाने क्यों भीष्म के पास सरक आये और उनका हाथ पकड़ कर बोले …. ” कहिये पितामह …. !”

भीष्म बोले , “एक बात बताओ कन्हैया ! इस युद्ध में जो हुआ वो ठीक था क्या …. ?”

“किसकी ओर से पितामह …. ? पांडवों की ओर से …. ?”

” कौरवों के कृत्यों पर चर्चा का तो अब कोई अर्थ ही नहीं कन्हैया ! पर क्या पांडवों की ओर से जो हुआ वो सही था …. ? आचार्य द्रोण का वध , दुर्योधन की जंघा के नीचे प्रहार , दुःशासन की छाती का चीरा जाना , जयद्रथ के साथ हुआ छल , निहत्थे कर्ण का वध , सब ठीक था क्या …. ? यह सब उचित था क्या …. ?”

इसका उत्तर मैं कैसे दे सकता हूँ पितामह …. !
इसका उत्तर तो उन्हें देना चाहिए जिन्होंने यह किया ….. !!
उत्तर दें दुर्योधन का वध करने वाले भीम , उत्तर दें कर्ण और जयद्रथ का वध करने वाले अर्जुन …. !!

मैं तो इस युद्ध में कहीं था ही नहीं पितामह …. !!

“अभी भी छलना नहीं छोड़ोगे कृष्ण …. ?
अरे विश्व भले कहता रहे कि महाभारत को अर्जुन और भीम ने जीता है , पर मैं जानता हूँ कन्हैया कि यह तुम्हारी और केवल तुम्हारी विजय है …. !
मैं तो उत्तर तुम्ही से पूछूंगा कृष्ण …. !”

“तो सुनिए पितामह …. !
कुछ बुरा नहीं हुआ , कुछ अनैतिक नहीं हुआ …. !
वही हुआ जो हो होना चाहिए …. !”

“यह तुम कह रहे हो केशव …. ?
मर्यादा पुरुषोत्तम राम का अवतार कृष्ण कह रहा है ….? यह छल तो किसी युग में हमारे सनातन संस्कारों का अंग नहीं रहा, फिर यह उचित कैसे गया ….. ? “

“इतिहास से शिक्षा ली जाती है पितामह , पर निर्णय वर्तमान की परिस्थितियों के आधार पर लेना पड़ता है …. !

हर युग अपने तर्कों और अपनी आवश्यकता के आधार पर अपना नायक चुनता है …. !!
राम त्रेता युग के नायक थे , मेरे भाग में द्वापर आया था …. !
हम दोनों का निर्णय एक सा नहीं हो सकता पितामह …. !!”

” नहीं समझ पाया कृष्ण ! तनिक समझाओ तो …. !”

” राम और कृष्ण की परिस्थितियों में बहुत अंतर है पितामह …. !
राम के युग में खलनायक भी ‘ रावण ‘ जैसा शिवभक्त होता था …. !!
तब रावण जैसी नकारात्मक शक्ति के परिवार में भी विभीषण जैसे सन्त हुआ करते थे ….. ! तब बाली जैसे खलनायक के परिवार में भी तारा जैसी विदुषी स्त्रियाँ और अंगद जैसे सज्जन पुत्र होते थे …. ! उस युग में खलनायक भी धर्म का ज्ञान रखता था …. !!
इसलिए राम ने उनके साथ कहीं छल नहीं किया …. ! किंतु मेरे युग के भाग में में कंस , जरासन्ध , दुर्योधन , दुःशासन , शकुनी , जयद्रथ जैसे घोर पापी आये हैं …. !! उनकी समाप्ति के लिए हर छल उचित है पितामह …. ! पाप का अंत आवश्यक है पितामह , वह चाहे जिस विधि से हो …. !!”

“तो क्या तुम्हारे इन निर्णयों से गलत परम्पराएं नहीं प्रारम्भ होंगी केशव …. ?
क्या भविष्य तुम्हारे इन छलों का अनुशरण नहीं करेगा …. ?
और यदि करेगा तो क्या यह उचित होगा ….. ??”

” भविष्य तो इससे भी अधिक नकारात्मक आ रहा है पितामह …. !

कलियुग में तो इतने से भी काम नहीं चलेगा …. !

वहाँ मनुष्य को कृष्ण से भी अधिक कठोर होना होगा …. नहीं तो धर्म समाप्त हो जाएगा …. !

जब क्रूर और अनैतिक शक्तियाँ सत्य एवं धर्म का समूल नाश करने के लिए आक्रमण कर रही हों, तो नैतिकता अर्थहीन हो जाती है पितामह …. !
तब महत्वपूर्ण होती है विजय , केवल विजय …. !

भविष्य को यह सीखना ही होगा पितामह ….. !!”

“क्या धर्म का भी नाश हो सकता है केशव …. ?
और यदि धर्म का नाश होना ही है , तो क्या मनुष्य इसे रोक सकता है ….. ?”

“सबकुछ ईश्वर के भरोसे छोड़ कर बैठना मूर्खता होती है पितामह …. !

ईश्वर स्वयं कुछ नहीं करता ….. !केवल मार्ग दर्शन करता है*

सब मनुष्य को ही स्वयं करना पड़ता है …. !
आप मुझे भी ईश्वर कहते हैं न …. !
तो बताइए न पितामह , मैंने स्वयं इस युद्घ में कुछ किया क्या ….. ?
सब पांडवों को ही करना पड़ा न …. ?
यही प्रकृति का संविधान है …. !
युद्ध के प्रथम दिन यही तो कहा था मैंने अर्जुन से …. ! यही परम सत्य है ….. !!”

भीष्म अब सन्तुष्ट लग रहे थे …. !
उनकी आँखें धीरे-धीरे बन्द होने लगीं थी …. !
उन्होंने कहा – चलो कृष्ण ! यह इस धरा पर अंतिम रात्रि है …. कल सम्भवतः चले जाना हो … अपने इस अभागे भक्त पर कृपा करना कृष्ण …. !”

कृष्ण ने मन मे ही कुछ कहा और भीष्म को प्रणाम कर लौट चले , पर युद्धभूमि के उस डरावने अंधकार में भविष्य को जीवन का सबसे बड़ा सूत्र मिल चुका था …. !

जब अनैतिक और क्रूर शक्तियाँ सत्य और धर्म का विनाश करने के लिए आक्रमण कर रही हों, तो नैतिकता का पाठ आत्मघाती होता है ….।।

धर्मों रक्षति रक्षितः

Posted in महाभारत - Mahabharat

राहुल गर्ग

शस्त्र की महत्ता…!!

दधीचि ऋषि ने देश के हित में अपनी हड्डियों का दान कर दिया था !

उनकी हड्डियों से तीन धनुष बने- १. गांडीव, २. पिनाक और ३. सारंग !

जिसमे से गांडीव अर्जुन को मिला था जिसके बल पर अर्जुन ने महाभारत का युद्ध जीता !

सारंग से भगवान राम ने युद्ध किया था और रावण के अत्याचारी राज्य को ध्वस्त किया था !

और, पिनाक भगवान शिव जी के पास था जिसे तपस्या के माध्यम से खुश रावण ने शिव जी से मांग लिया था !

परन्तु… वह उसका भार लम्बे समय तक नहीं उठा पाने के कारण बीच रास्ते में जनकपुरी में छोड़ आया था !

इसी पिनाक की नित्य सेवा सीताजी किया करती थी ! पिनाक का भंजन करके ही भगवान राम ने सीता जी का वरण किया था !

ब्रह्मर्षि दधिची की हड्डियों से ही “एकघ्नी नामक वज्र” भी बना था … जो भगवान इन्द्र को प्राप्त हुआ था !

इस एकघ्नी वज्र को इन्द्र ने कर्ण की तपस्या से खुश होकर उन्होंने कर्ण को दे दिया था! इसी एकघ्नी से महाभारत के युद्ध में भीम का महाप्रतापी पुत्र घतोत्कक्ष कर्ण के हाथों मारा गया था ! और भी कई अश्त्र-शस्त्रों का निर्माण हुआ था उनकी हड्डियों से !

लेकिन ……… दधिची के इस अस्थि-दान का उद्देश्य क्या था ??????

क्या उनका सन्देश यही था कि….. उनकी आने वाली पीढ़ी नपुंसकों और कायरों की भांति मुंह छुपा कर घर में बैठ जाए और शत्रु की खुशामद करे….??? नहीं..

कोई ऐसा काल नहीं है जब मनुष्य शस्त्रों से दूर रहा हो..

हिन्दुओं के धर्मग्रन्थ से ले कर ऋषि-मुनियों तक का एक दम स्पष्ट सन्देश और आह्वान रहा है कि….

”हे सनातनी वीरो.शस्त्र उठाओ और अन्याय तथा अत्याचार के विरुद्ध युद्ध करो !”

बस आज भी सबके लिए यही एक मात्र सन्देश है !
राष्ट्र और धर्म रक्षा के लिए अंततः बस एक ही मार्ग है !

सशक्त बनो..!

Posted in महाभारत - Mahabharat

महर्षि वेद व्यास

वेद व्यास का जन्म द्वापर युग के अंतिम काल मे हुआ था। वे वशिष्ठ मुनि के वंशज थे तथा पराशर मुनि के पुत्र थे, उन्की माता सत्यवती थीं। वेद व्यास का नाम कृष्ण द्वैपायन था वेद व्यास का नाम एक उपाधि के रूप मे उन्को मिला था। वे एक अवतार थे तथा अमर विभुति हैं।आज भी अपने सुक्ष्म शरीर मे सक्षम महात्माआें का मार्ग दर्शन करते हैं।
महाभारत के रचना के साथ साथ चारों वेद तथा अठारह पुराणों की रचना ईन्होने ही किया था।
किशोरावस्था मे ही वेद व्यास के पिता पराशर मुनि का निधन हो गया था,काफी कम आयु मे ही वेद व्यास ज्ञान विज्ञान मे पारंगत हो गये थे। ऊन्होने अपने दिव्य ज्ञान से जान लिया था कि द्वापर युग कि समाप्ति के बाद कलि युग मे वेदों के ज्ञान का लोप हो जायेगा मानव अज्ञानी होंगे तथा सनातन धर्म अत्यन्त दुर्बल हो जायेगा। ऐसे मे सनातन धर्म तथा वेदों को बचाये रखने के लिये उन्को लिपिबद्ध करना जरूरी था, ऐसे मे उन्होने अत्यंत कठिन कार्य को करने का संकल्प लिया एवं उसे पुरा भी कर दिया।
वेद व्यास महाभारत के रचयिता होने के साथ ही उस काल के साक्षी भी थे, उन्होने ही संजय को दिव्य दृष्टि दिया था जिसके फलस्वरूप घृतराष्ट्र को महाभारत युद्ध के हर क्षण की जानकारी मिलती थी।
आज हमारा वेद सुरक्षित है तो उसका सारा श्रेय वेद व्यास को जाता है। संसार मे सनातन धर्म को बचाये रखने एवं आर्य संस्कृति को जीवित रखने का श्रेय भी इसी महापुरूष को जाता है।
आज हम सबका यह कर्तव्य बनता है कि जितना हो सके उतना प्रयास हम भी करें ताकि आर्य संस्कृति पुन: स्थापित हो तथा विश्व मे सनातन धर्म का प्रचार प्रसार हो सके।

आचार्य डॉ0 विजय शंकर मिश्र

Posted in महाभारत - Mahabharat

उत्तराखंड का वो गांव जहां है कर्ण का मंदिर, लोग खुद को बताते हैं पांडवों और कौरवों का वशंज

आज हम आपको एक ऐसी खूबसूरत जगह के बारे में बताने जा रहे हैं, जहां सुंदर-सुंदर पहाड़ हैं, हरियाली है। भारत का यह गांव उत्तराखंड के गढ़वाल में स्थित है। उत्तराखंड, उत्तर भारत में स्थित एक राज्य है, जिसे देवों की भूमि के नाम से भी जाना जाता है। इस राज्य की सीमाएं उत्तर में तिब्बत, पूर्व में नेपाल, पश्चिम में हिमाचल प्रदेश और दक्षिण में उत्तर प्रदेश से मिलती हैं। उत्तराखंड तीर्थ स्थलों के लिए भी मशहूर है। भारत की सबसे बड़ी नदियों गंगा और यमुना का उद्गम स्थल भी उत्तराखंड ही है। देहरादून इस राज्य की राजधानी होने के साथ-साथ यहां का सबसे बड़ा नगर भी है। आइए, आज जानते हैं, यहां के खूबसूरत गांव कलाप के बारे में।
उत्तराखंड के गढ़वाल क्षेत्र में स्थित कलाप गांव रूपिन नदी के किनारे 7800 फीट की ऊचाई पर स्थित है। इस गांव में देवदार के लंबे और घने पेड़ देखने को मिलते हैं, जो इस जगह को और भी खूबसूरत बनाते हैं।

टोन्स घाटी को महाभारत की जन्मभूमि कहा जाता है और उत्तराखंड का कलाप गांव भी इसी घाटी में है। यही कारण है कि यहां के लोग खुद को कौरवों और पांडवों का वंशज बताते हैं।
कलाप में मुख्य मंदिर पांडव भाइयों में से एक कर्ण को समर्पित है। कर्ण महाराजा उत्सव नाम का एक त्योहार भी इस क्षेत्र में मनाया जाता है। जनवरी में, आमतौर पर कलाप में पांडव नृत्य उत्सव होता है। यह उत्सव 10 साल के अंतराल पर मनाया जाता है।

कलाप के लोगों का खान-पान बहुत ही साधारण है। यहां के लोग लिंगुड़ा, लेकप पपरा, बिच्छू घास और जंगली मशरूम का सेवन अधिक करते हैं। यहां एक खसखस, गुड़ और गेंहू के आटे से एक खास डिस भी बनाई जाती है।

Posted in महाभारत - Mahabharat

महाभारतकालीनजनपदोंकेवर्तमान_नाम

आजकल महाभारत सीरियल चल रहा है , उसमें उल्लेखित भारत के विभिन्न जनपदों का उल्लेख होता है, जिन्हें अब आधुनिक नामों से जाना जाता है । उन्हें जानें ।

महाभारत कालीन जनपद

कुरु- मेरठ और थानेश्वर; राजधानी इन्द्रप्रस्थ।

पांचाल- बरेली, बदायूं और फर्रूखाबाद; राजधानी अहिच्छत्र तथा काम्पिल्य।

शूरसेन- मथुरा के आसपास का क्षेत्र; राजधानी मथुरा।#वत्स – इलाहाबाद और उसके आसपास; राजधानी कौशांबी।

कोशल – अवध; राजधानी साकेत और श्रावस्ती।

मल्ल – ज़िला देवरिया; राजधानी कुशीनगर और

पावा (आधुनिक पडरौना)

काशी- वाराणसी; राजधानी वाराणसी।

अंग – भागलपुर; राजधानी चंपा।

मगध – दक्षिण बिहार, #राजधानी गिरिव्रज (आधुनिक राजगृह)।

वज्जि – ज़िला दरभंगा और मुजफ्फरपुर; राजधानी मिथिला, जनकपुरी और वैशाली।

चेदि – बुंदेलखंड; राजधानी शुक्तिमती (वर्तमान बांदा के पास)।

मत्स्य – जयपुर; राजधानी विराट नगर।

अश्मक – गोदावरी घाटी; राजधानी पांडन्य।

अवंति – मालवा; राजधानी उज्जयिनी।

गांधार- पाकिस्तान स्थित पश्चिमोत्तर क्षेत्र; राजधानी तक्षशिला।

कंबोज – कदाचित इसमें संशय है कि संभवित आधुनिक अफ़ग़ानिस्तान; राजधानी राजापुर।