Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

1672 દિલ્હી દરબાર મા

બીકાનેર ના રાજકુમાર મોહનસિંહ અને ઔરંગાબાદ ના કોટવાલ અને ઔરંગઝેબના સાળા મીર તોજક વચ્ચે હરણના શિકારીની બાબતે દરબાર મા ઝઘડો થયો
..મીર તોજક ઔરંગઝેબ નો સાળો થાય પણ મોહનસિંહ પ્રત્યે પણ બાદશાહને માન હતું ..
….હરણના શિકાર ની બાબતે દિવનખાનામા ઝઘડાનું મોટું રૂપ લઇ લિધુ
મોહનસિંહ ની પીઠ પાછળ તલવારો ખેચાણી પણ મોહનસિંહ એકલા અને તોજક ની પાસે તેના ઘણા સહયોગી હતા ને મોહનસિંહ ને એકસાથે તલવાર ના ઘા પડયાં
આમ મોહનસિંહ ની પીઠ પાછળ થી ઘા કરી ધાયલ કરી નાખ્યા લોહીથી લથબથ મોહનસિંહ ઢળી પડયા

..દિવાનખાનાની બીજી બાજુ મોહનસિંહ નો નાનો ભાઈ પદ્મસિહ ઊભેલા દોડ મુકી ભાઇ પાસે આવ્યાં નીચે પડેલા ભાઇને ધિક્કારતા કહ્યું ભાઇ આમ કાયર ની જેમ કેમ પડયો છું
મોહનસિંહ એ જવાબ આપ્યો આ ખુટલોએ પીઠ પાછળ ઘા કર્યા છે દગો દીધો જો મારી પીઠ પાછળ ઘા કરવાં વાળો કોટવાલ હજું જીવતો ઊભી છે પદ્મસિહે નજર કરી તો કોટવાલ મીર તોજક દિવાનખાના ના એક થાંભલા પાસે ઊભો છે પદ્મસિહે વિચાર ન કરતાં સીધી જ દોટ તોજક બાજું મુકી ને
થાંભલા પાસે ઊભેલાં કોટવાલ નું એક જ
ઝાટકે માથું અલંગ કરી નાખ્યું કહેવાય છે કે ખુદ ઔરંગઝેબ પણ આ ઘટના થી ભાગેલો માથું વાઢતા ની સાથે તલાવાર થાંભલા સાથે અથડાતા થંભના બે ભાગ થઇ ગયા હતા ..કહેવાય છે તેમની તલવાર ત્રણ ફુટ અને 11ઇચ લાબી હતી વજન આઠ પાઉન્ડ હતો
હાલમાં ઔરંગાબાદ ના દિવાનખાના મા આ થાંભલા પર તલવાર ના નિશાન જોવાં મળે છે……

by સંત શૂરા અને સતીઓ ગ્રુપ

卐 વિરમદેવસિહ પઢેરીયા 卐
卐……………ॐ………..卐

Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

“”नाथी का बाडा “

नाथीबाई का बाङा की कहावत की सत्य वार्ता।
राजस्थान के पाली जिले के पालीवाल समाज 60 खेङा के एक छोटे से गांव भागेसर मे पालीवाल समाज के एक बाल विधवा नाथीबाई पालीवाल ( तेजङ) गौत्र मुदगल से है .। कहते है यह कहानी करीब डेढ़ सौ – दो सौ साल पहले की है कि नाथीबाई के विवाह के सालभर बाद ही उसके पति का देवलोक हो गये थे समाज की प्रथा के अनुसार पुनर्विवाह नही होने के कारण नातीबाई का घर परिवार गाँव व खैङो मे नातीबाई का बहुत ही आदर भाव व मान होता था मान आदर भाव के कारण परिवार व गाँव के लोग कोई भी काम करते तो नाथीबाई को पुछ कर करते थे इस तरह धीरे धीरे उम्र दराज होते हुए नातीबाई घर परिवार की मुखिया बन कर हर तरह लेन देनदारी करती रहती थी कहते है कि नातीबाई के परिवार के पास अपार धन सम्पति होती थी नातीबाई अपने पोल मे लकडी के पाट पर बैठी रहती थी कहते है कि किसी भी गाँव या खैङा व किसी जाती के व्यक्ति के परिवार मे शादी-विवाह मायरा भात व कोई काम के लिए रूपयो पैसो की जरूरत होती तो हर आदमी नातीबाई के पास आता था और रूपयो पैसो की जरूरत बताता तो नातीबाई हाथ से एक बारी ( अलमारी) की ओर इशारा करती कि जितने चाहिए उतने ले जा और कोई अन्य व्यक्ति आता और रूपयो पैसो की जरूरत बताता तो एक अन्य बारी ( अलमारी) की ओर इशारा करती जितना चाहिए उतना ले जा इस प्रकार जिस किसी व्यक्ति को रूपयो पैसो की जरूरत होती तो हर व्यक्ति नातीबाई के पास आता और नातीबाई अलग अलग अलग बारियो की ओर इशारे करती थी और जिस व्यक्ति को जितने रूपयो पैसो की जरूरत होती अपने इच्छा अनुसार या जितनी जरूरत होती उतने ले जाता था और साल दो साल बाद हर व्यक्ति जिन्होने उधार पैसै लेकर गये थे अपने ईमानदारी से नातीबाई के पोल मे आकर कहते नातीबाई आपके ब्याज ( सुद) समेत रूपयो लो तो नातीबाई कहती जहा से लिये उसी बारी (अलमारी)मे रख जा इस प्रकार नातीबाई के पास कोई हिसाब किताब व लेखा जोखा नही लिखा जाता था ना ही जिस व्यक्ति ने रूपयो लेकर गया उससे हिसाब पुछा जाता था इस प्रकार किसी भी प्रकार की लिखा पढी नही होती थी और कहते है कि नातीबाई जिस किसी गाँव या खैङो मे जाती थी तो वह जिस गाँव मे रात्री विश्राम या ठहरती तो नातीबाई पुरे गाँव को खाना खिलाती थी थी
एक बार गांव में नाती बाई द्वारा 9 कन्याओं का विवाह कराया गया जिसमे यज्ञ में घी जो आहुति इतनी दी गई कि वह घी गांव से बाहर चला गया था
और गाँव व खैङो के लोग नातीबाई का आदर भाव बहुत मान रखते थे इस प्रकार नातीबाई के बाङा वाली कहावत पङी कहते है कि नातीबाई का देवलोक गमन होने के धीरे धीरे वह सारी धन दौलत व सम्पति लुफ्त होती गई आज भी पाली के भागेसर गाँव मे नातीबाई के जेठ देवर का परिवार उसी पोल मे रहते है इस प्रकार आज हर क्षेत्र या ऐरिया कोई भी कहता कि ” अठै कोई नातीबाई को बाङा समझ रखा है क्या “
नमन है इनको एक समय समाज के घरों को धन दौलत की कोई कमी नहीं आने दी
अगर इसके बारे में और भी किसी के पास में इसके अलावा जानकारी है तो स्पष्ट कराने की कृपा करें ।ः सौजन्य :

श्री कन्हैयालाल कुलधर काकेलाव
अध्यक्ष पालीवाल नवयुवक मंडल 60 खेङा
संजय पालीवाल पालीवाल समाज दर्पण प्रतिनिधि जोधपुर,

Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

आज़ाद हिन्द फौज के स्थापना की घोषणा हो चुकी थी…….. सैनिकों की नियुक्ति चालू थी…….सेना के कपडे, भोजन, हथियार, दवा आदि के लिए धन की सख्त जरूरत थी…… कुछ धन जापानियों ने दिया लेकिन वो जरूरत के जितना नहीं था……… नेताजी ने आह्वान किया…………

लोग नेताजी सुभाष चंद्र बोस को सिक्को और गहनों में तौल रहे थे………एक महिला आई जिसने फोटो फ्रेम तोड़ा, फ्रेम सोने का था और अंदर मृत पुत्र का फोटो था…… फ्रेम तराजू पर रख दिया……..!!

एक ग्वाला आया और उसने सारी गाय आज़ाद हिन्द फौज को दे दिया जिससे सैनिकों को दूध मिल सके….
कुछ जवान आये जिन्होंने पुछा वर्दी कहाँ है और बन्दूक कहाँ है……….. कुछ बुजुर्ग आए और अपने इकलोते पुत्र को नेताजी के छाया में रख दिया……..!!!

बुजुर्ग घायल सैनिकों की सेवा और कुली के काम करने को प्रवेश ले लिए…….

कुछ युवतियाँ आईं और उन्होंने रानी झाँसी रेजिमेंट में प्रवेश लिया………………

कुछ 45 पार महिलाऐं आई और रानी झाँसी रेजिमेंट में सीधे प्रवेश नहीं पाने के जगह पर रसोइया और नर्स बन गईं……….!!
.
आखिर कौन थे ये लोग…….?? यही थे आम लोग….!! मलेशिया, सिंगापुर, बर्मा, फिजी, थाईलैंड और अन्य दक्षिणी एशिया में रहने वाले भारतीय थे……. जिन्होंने भारत के बारे में अपने उन बुजुर्गों से सुना था जिनको अँगरेज़ गुलाम बनाकर लाए थे……..!! जो कुली, मजदूर, जमादार आदि के रूप में काम करते थे……! जो वर्षों से अपने देश नहीं जा सके थे……. लेकिन अपने बच्चों – पीढ़ियों के दिल में भारत बसा दिया था उन्होंने अपने गाँव, कसबे शहर की कहानियाँ बताकर…..!

आज उन कहानियों ने चमत्कार कर दिया था……! वो कहानियाँ नहीं थी – देश की माटी का बुलावा था जो सीने में छिपा था….! आज नेताजी के आह्वान ने उस जवालामुखी को फोड़ दिया है…………………………..
.
किसी की कोई जात नहीं थी…..!! बस सब भारतीय थे…..! दासता का दंश झेलते हुए….! अपने देश से पानी के जहाज़ में ठूँस कर जबरदस्ती यहाँ लाए गए थे…………… जिन्होंने अपना सब कुछ खो दिया था…………………… बस भारत और अपने माटी को जिन्दा रखा था दिल में…….!!

भारत को आज़ादी दिलाने में हज़ारों उन भारतोयों का लहू शामिल है जो कभी लौट नहीं पाए………….वहीँ वीरगति को प्राप्त हो गए………..जिनके भारत में रहे वाले परिवारों को आज तक नहीं पता कि उनका एक लाल देश के लिए बलिदान हो गया था कब का……….!!

जिनका नाम हमें आपको पता ही नहीं……!! जिनको अन्तिम संस्कार भी नसीब नहीं हुआ…………. जो न ही उन विदेश की धरती पर अपना घर या छाप बना पाए थे कि उनका कोई रिकॉर्ड रखता………………….!!!!!

ये पोस्ट समर्पित है उन अनाम आज़ादी पाने के दीवाने, बलिदानी और महान सैनिकों को…….! उनके ऋणी हैं हम…….! न उनका नाम पता है, न जात पता है……………………..तो हे आज़ाद भारत के लोगों एक हो जाओ……..!

आओ नेता जी के सपनो का भारत बनाए………. आओ उन अनाम बलिदानियों के लहू का ऋण चुकाएँ……….!!!

Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

1971 के युद्ध के उपरान्त 90,000 पाकिस्तानियों को बन्दी बनाया गया। बन्दी शिविर में पाकिस्तानी सेना के सूबेदार मेजर के खेमे में बाहर से किसी ने अंदर आने की अनुमति मांगी। पराजय के उपरान्त इस प्रकार का सम्मान प्रायः अनअपेक्षित होता है। सूबेदार मेजर ने जब देखा तो वहाँ कोई और नहीं, विजयी भारतीय सेना के प्रमुख – जनरल सैम मानेकशॉ खड़े थे। वहाँ पाकिस्तानी बंधकों के लिए की गयी व्यवस्था के बारे में पूछने के बाद सैम बहादुर ने पाकिस्तानी विधवाओं को ढाँढस बँधाया, उनके द्वारा बनाया हुआ भोजन चखा, और सबसे मिले जुले।
जब वे जाने लगे तो सूबेदार मेजर ने उनसे कुछ कहने की अनुमति मांगी। सूबेदार मेजर ने कहा – “मुझे अब मालूम चला कि भारत युद्ध क्यों जीता। वह इसलिए क्योंकि आप अपने सैनिकों का ख्याल रखते हैं। जिस तरह आप हमें मिलने आये, वैसे तो हमारे खुद के लोग हमसे नहीं मिलते। वो तो अपने आपको नवाबज़ादे समझते हैं। “
कुछ ऐसे थे फील्ड मार्शल सैम मानेकशॉ, जो दुश्मनों को भी अपना कायल बना लेते थे।
भारत के इस सपूत को उनकी जन्मतिथि पर मेरा सादर नमन।

KnowYourHeroes #GenerallySaying

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक, भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

“ધ લોક ઓફ નિલમબાગ”

અઢાર સો પાદરના ધણી ભાવનગરનાં મહારાજા કૃષ્ણકુમારસિંહજી એક વખત નગરચર્ચામાં નીકળે છે. તે વખતે તેમને “અન્નદાતા – જય માતાજી” એવા શબ્દો કાનમાં અથડાયા. મહારાજા પાછું ફરી જુવે તો સામે જેની આંખમાં ખુમારી છે તેવો બકરીઓ ચરાવતો એક ગરીબ યુવાન પોતાના મહારાજાને આદરથી પ્રણામ કરીને ઉભો હતો.
“શું નામ છે તારું?” રાજાએ પુછ્યું.
“મુબારક, અન્નદાતા યુવાને જવાબ આપ્યો.
ફરી મહારાજાએ પૂછ્યું, કે ભાવનગર માટે કામ કરીશ ?”
“જરૂર મહારાજ, કેમ નહી!”
તેમને નિલમબાગ પેલેસમાં ચોકીદારની નોકરી આપવામાં આવી. ધીરે ધીરે તેમની ઈમાનદારી જોઇને તેમને નિલમબાગ પેલેસના રાજખજાનાની ચાવીઓની જવાબદારી સોપવામાં આવી. રાજખજાનામાં મહારાણીના મોંઘા ઘરેણાં પણ રહેતા. મહારાણીને જયારે પ્રસંગોપાત ઘરેણાં જોઈતા હોય ત્યારે મુબારક ચાવીઓ આપે એટલે મહારાણી તેમાંથી જોઈતા ઘરેણાં લઇ લે અને પછી ફરીથી એજ પટારાઓ ઘરેણાં મૂકીને ચાવીઓ મુબારકને સોંપી દે, આ નિત્યક્રમ હતો, આજ ઘરેણાંઓમાં મહારાણીને સૌથી પ્રિય એવો હીરાજડિત હાર પણ રહેલો હતો.

એક વખત એવું બન્યું કે પટારામાં એ હાર જોવા ના મળ્યો, મહારાણીએ ખુબ શોધ્યો પણ હાર મળે જ નહિ. મહારાણીને મુબારક પર અપાર ભરોસો હતો તેમ છતાંય નાનો માણસ છે ભૂલ નહિ કરી હોય ને એવા વિચારોથી બેચેન રહેવા લાગ્યાં. થોડા સમય પછી મહારાણીની બેચેની ભાવનગર મહારાજથી છુપી ના રહી. કારણ પૂછવામાં આવ્યું ત્યારે રાજહઠ સામે મહારાણીએ હાર અંગે આખી વાત કરી. ભાવનગર મહારાજાએ તરત જ આદેશ કર્યો કે મુબારકને રાજદરબારમાં હાજર કરો. નિલમબાગ પેલેસની ચોકીદારી કરતો મુબારક જયારે ભાવનગર ઠાકોર સાહેબ સમક્ષ હાજર થયો ત્યારે હાર અંગે પ્રેમથી મુબારકને પૂછવામાં આવ્યું ત્યારે મુબારકએ આ અંગે સાવ અજાણ હોવાનું જણાવ્યું. ભાવનગર મહારાજાએ પણ મુબારકને કોઈ ઠપકો આપ્યા વગર જવા દીધો, પરંતુ મુબારક હારની ચોરીના લાગેલા “આણ”થી બેચેન બની ગયો. સીધો જ ઘરે ગયો અને નમાજનો રૂમાલ પાથરી આકાશ તરફ મીટ માંડીને અલ્લાતાલાને એક જ અરજ કરી કે “જો મેં ઈમાનદારીપૂર્વક નોકરી કરી હોય અને ક્યારેય હું ઈમાન ચુક્યો ના હોય તો ક્યાં તો ચોરીના આ આણમાંથી મુક્ત કરાવજે ને ક્યાં તો મને મારા શરીરથી જીવને “બસ આટલો જ અંતરનો પોકાર કરીને ઘરના એક ખૂણામાં બેસીને પ્રાર્થના કરવા લાગ્યો અને અન્ન જળનો ત્યાગ કરી દીધો.

કુદરતનો પણ એક સર્વસ્વીકૃત નિયમ છે. “સત્યની કસોટી થાય પણ છેવટે જીતતો સત્યની જ થાય” એજ રાત્રે અચાનક મહારાણીને ગાઢ નિંદ્રામાંથી અચાનક જ એકાએક બેઠા થઇ ગયા ને યાદ આવી ગયું કે ઉતાવળમાં હાર પટારામાં મુક્યો જ નહોતો પણ અરીસા પાસે રાખી દીધો હતો. તરત જ તપાસ કરતા હાર મળી આવ્યો.

રાત્રે જ ભાવનગર મહારાજને હાર મળી ગયાની જાણ કરવામાં આવી. બંનેને ખુબ પસ્તાવો થયો કે “મુબારક પર ખોટી શંકા કરી એક નેક ઈન્શાનનો આત્મો દુભાવ્યો “સવારે મુબારકને નિલમબાગ પેલેસના રાજદરબારમાં બોલાવવામાં આવ્યો અને હાર મળી ગયાની જાણ કરી અને આત્મો દુભાયો હોય તો માફી માગી.

હાર મળી ગયો છે એ વાતની ખબર પડતાં જ મુબારકના જાણે જીવમાં જીવ આવ્યો હોય એમ “આકાશ ભણી મીટ માંડીને સજળ નયને એટલું જ બોલ્યો કે “હે પરવર દિગાર તે આજ મારી ઇજ્જત બચાવી લીધી” બસ આટલું કહીને મુબારકે રાજખજાનાની ચાવીઓ ભાવનગર મહારાજાને સોંપી દીધી. ભાવનગર મહારાજાએ ખુબ આગ્રહ કર્યો ત્યારે માંડ મુબારક ફરીથી” ચોકીદાર” તરીકે નોકરીએ રહેવા સહમત થયો. વર્ષો સુધી મુબારક નિલમબાગ પેલેસની ચોકીદારી કરતો રહ્યો. મુબારકની ઈમાનદારી – વફાદારી અને કર્તવ્ય નિષ્ઠા પર કોઈ શક ન કરી શકે એવી છાપ અને ધાક મુબારકની ભાવનગર રાજમાં વર્તાતી.

વર્ષો બાદ એક દિવસ ભાવનગર મહારાજને સમાચાર મળ્યા કે “નિલમબાગ પેલેસનો ચોકીદાર “મુબારક” આજ અલ્લાહને પ્યારો થઇ ગયો છે. મહારાજાને પણ આંખે આંસુ આવી ગયા. પોતાના સેવકોને આદેશ કર્યો કે “મુબારક” નો જનાજો નીકળે ત્યારે મને જાણ કરજો મારે મારા મુબારકને અંતિમ વિદાય અને કાંધ આપવા જવું છે.

મુબારકના મૃત્યુને કલાકો વીતવા છતાં મુબારકના જનાજાના સમાચાર ના મળતા ભાવનગર મહારાજાએ તપાસ કરાવવા માણસોને મોકલ્યા ત્યારે ખબર પડી કે મુબારકને જનાજામાં ઓઢાડવાનું કફન ખરીદવાના પણ મુબારકના પરિવાર પાસે પૈસા નથી. ભાવનગર મહારાજા આટલું સાંભળતા જ ચોધાર આંસુએ રડી પડ્યા કે “નિલમબાગ પેલેસના રાજ ખજાનાની ચાવીઓ” જેને હસ્તક રહેતી એવા મારા મુબારકની આવી હાલત? તરત જ ભાવનગર મહારાજાએ હુકમ કર્યો કે “ભાવનગર રાજને શોભે એ રીતે મુબારકની અંતિમવિધિ કરવામાં આવે અને મુબારકના પરિવારને તમામ મદદ કરવામાં આવે” અને મુબારકની આવી હાલત કેમ થઇ એની તપાસ કરતા માલુમ પડ્યું કે મુબારકને જે પગાર મળતો તે જરૂરિયાતમંદને મદદ કરવામાં ખર્ચી નાખતો.

નીલમબાગના ચોકીદાર “મુબારક” નો જનાજો નીકળ્યો ત્યારે ભાવનગરના મહારાજાએ એક ઈચ્છા વ્યક્ત કરીને એ ઈચ્છા પુરી પણ કરી કે “મારા મુબારકને તમે જરૂર કાંધ દેજો પણ એક કાંધ તો હું શરૂઆતથી અંત સુધી હું જ આપીશ “ભાવનગર મહારાજ મુબારકના ઘરથી કબ્રસ્તાન સુધી ઉઘાડા પગે ચાલ્યા હતા અને કાંધ દીધી હતી. આજે પણ ભાવનગરના મુસ્લિમ કબ્રસ્તાનમાં “મુબારક” ની કબર છે અને ભાવનગરના મહારાજાએ મુબારકની કબર પર કબરનું નામ કોતરાવ્યું છે “ધ લોક ઓફ નિલમબાગ”

Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

इतिहास के क्रूरतम कत्लेआमों में से एक ‘बंगाल का अकाल’ जिसे इतिहास ने मात्र एक अकाल समझकर भुला दिया जो कि सीधा सीधा कत्लेआम था जिसे विंस्टन चर्चिल व ब्रिटिश सरकार ने अंजाम दिया था, हिटलर ने लाखों यहूदियों को मार दिया था उसके लिए यहूदी आजतक रोते रहते हैं व मार्केटिंग के दम पर दुनिया की सहानुभूति बटोरते रहते हैं लेकिन हम भारतीयों पर हुए अत्याचारों की कहीं कोई चर्चा नही होती, चाहे वो 800 साल इस्लामी आक्रमणकारियों द्वारा किये गये कत्लेआम व अत्याचार हो या पुर्तगालियों, अंग्रेजों द्वारा अंजाम दिए गये भयानक कत्लेआम हों या विभाजन के बाद समय दर समय दंगे-फसाद, बहुत कम ही लोग ‘बंगाल में पड़े १९४२ में भयानक अकाल’ के बारे में जानते होंगे, जिसमें ४० लाख से ज्यादा लोग मारे गये थे यानी की विभाजन के समय हुए दंगो से चार गुना ज्यादा लेकिन इस घटना का जिक्र कहीं नही होता, क्योंकि अंग्रेजो के पिट्ठू भाड़े के इतिहासकारों को इस घटना का जिक्र करने पर शायद कहीं से बोटी नहीं मिलती

जिस समय यह अकाल पड़ा था उसी समय द्वितीय विश्व युद्ध अपने चरम पर था. जर्मन सेना पूरे यूरोप को रौंद रही थी. इस दौरान एडोल्फ हिटलर और उसके साथी नाजियों ने कथित तौर पर 60 लाख यहूदियों की हत्या की थी इस नरसंहार को सारी दुनिया आज भी होलोकास्ट के नाम से याद करती है. 60 लाख लोगों की हत्या करने में हिटलर को 12 साल लगे थे, लेकिन अंग्रेजों ने एक ही साल से महज कुछ अधिक समय में 40 लाख भारतीयों को मार डाला लेकिन इसकी कहीं कोई चर्चा नही होती, आखिर क्यों ? क्या हम भारतीय इंसान नही है या हमें अपने घावों की मार्केटिंग करना नहीं आता ?

इस विषय पर शोध करने वाले आस्ट्रेलिया के वैज्ञानिक और सामाजिक कार्यकर्ता डॉ. गिडोन पोल्या का मानना है कि बंगाल का अकाल ‘मानवनिर्मित होलोकास्ट’ है क्योंकि इसके लिए सीधे तौर पर तत्कालीन ब्रिटिश प्रधानमंत्री विंस्टन चर्चिल की नीतियां जिम्मेदार थीं. 1942 में बंगाल में अनाज की पैदावार भी बहुत अच्छी हुई थी, लेकिन अंग्रेजों ने व्यावसायिक मुनाफे के लिए भारी मात्रा में अनाज भारत से ब्रिटेन भेजना शुरू कर दिया. इसकी वजह से उन इलाकों में अन्न की भारी कमी पैदा हो गई जो आज के पश्चिम बंगाल, ओडिशा, बिहार और बांग्लादेश में आते हैं.

एक और लेखिका लेखिका मधुश्री मुखर्जी ने उस अकाल से बच निकले कुछ लोगों को खोजने में कामयाबी हासिल की थी, अपनी किताब चर्चिल्स सीक्रेट वार (चर्चिल का गुप्त युद्ध) शीर्षक में वह लिखती हैं, ‘मां-बाप ने अपने भूखे बच्चों को नदियों और कुंओं में फेंक दिया. कई लोगों ने ट्रेन के सामने कूदकर जान दे दी. भूखे लोग चावल के मांड़ के लिए गिड़गिड़ाते. बच्चे पत्तियां और घास खाते. लोग इतने कमजोर हो चुके थे कि उनमें अपने प्रियजनों का अंतिम संस्कार करने तक की ताकत नहीं बची थी.’

इस अकाल को देख चुके एक बुजुर्ग ने मुखर्जी को बताया, ‘बंगाल के गांवों में लाशों के ढेर लगे रहते थे जिन्हें कुत्तों और सियारों के झुंड नोचते.’ इस अकाल से वही आदमी बचे जो रोजगार की तलाश में कलकत्ता चले आए थे या वे महिलाएं जिन्होंने परिवार को पालने के लिए मजबूरी में वेश्यावृत्ति करनी शुरू कर दी. मुखर्जी लिखती हैं, ‘महिलाएं हत्यारी बन गईं और गांव की लड़कियां वेश्याएं. उनके पिता अपनी ही बेटियों के दलाल बन गए.

इस कत्लेआम के जिम्मेदार विंस्टन चर्चिल की भारत के प्रति दुश्मनी कोई नई बात नहीं थी. वॉर कैबिनेट की एक बैठक में उन्होंने अकाल के लिए भारतीयों को ही दोषी ठहराते हुए कहा था, ‘वे खरगोशों की तरह बच्चे पैदा करते हैं.’ भारतीयों के प्रति उनके रवैये को इस वाक्य से समझा जा सकता है जो उन्होंने अमेरी से कहा था, ‘मुझे भारतीयों से नफरत है. वे पाशविक धर्म वाले पाशविक लोग हैं.’ एक अन्य मौके पर उन्होंने जोर देकर कहा कि भारतीय जर्मनों के बाद दुनिया के सबसे पाशविक लोग हैं.

अरुण सुक्ला

Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

दुरदर्शी राजा हा फोटो छ.शिवाजी महाराजांच्या राज्याभिषेकाच्या मिरवणुकीचा आहे.या मिरवणुकीसाठी हत्ती लागतील याचा विचार छ.शिवरायांनी आधीच करून ठेवला होता.छ.शिवरायांच्या सैन्यात हत्तींचा वापर होत नसे.हत्तीचा वापर केवळ शोभेसाठी होत होता.त्याकाळी रायगड किल्ल्यावर जाण्यासाठीचा मार्ग अतिशय अरुंद होता जेथून माणसालासुद्धा चालणे फार अवघड होते.जर त्या रस्त्यावरून कुणी खाली पडले तर त्याचे प्रेतसुद्धा मिळणे अशक्य होते इतकी खोल दरी तेथे होती. अशा अरुंद रस्त्यावरून एवढे अवाढव्य हत्ती कसे काय रायगडावर पोहोचले हे त्याकाळच्या इंग्रज अधिकाऱ्याला (जो राज्याभिषेकासाठी **हजार होता) कळलेच नाही.नंतर फार जास्त विचारपूस केल्यावर कळले की छ.शिवाजी महाराजांनी राज्याभिषेकाच्या १८ वर्षे अगोदरच दोन हत्तीचे पिल्ले (एक नर एक मादा )कर्नाटक वरून उन्हाळ्याच्या काळात बोलाविले होते.त्यांना छ.शिवरायांचा एक माणूस रोज हिरवा चारा द्यायचा.तेथील वाळलेला चारा खायची त्या हत्तींना सवय लागू दिली नाही.नंतर काही दिवसांनी हाच माणूस हिरवा चारा त्याच्या डोक्यावर घेऊन फिरायचा आणि ते हत्ती भूकेपोटी त्या चाऱ्याच्या मागे फिरायचे.थकल्यावर त्यांना तो चारा मिळायचा.एक दिवस त्या माणसाने तो हिरवा चारा डोक्यावर घेऊन रायगडाच्या अरुंद पायवाटेने चालायला सुरुवात केली.ते दोनीही हत्ती चारयाकडे बघत बघत त्याच अरुंद पायवाटेवरून चालू लागले.त्यांचे लक्ष केवळ त्या चारयाकडे होते.खाली असलेली जीवघेणी खोल दरी त्यांना दिसून चक्कर येऊन त्यांचा खाली पडण्याचा प्रश्नच तेव्हा उरला नव्हता.असे आपल्या अन्नाकडे बघत बघत ते दोनीही हत्तीचे पिल्ले रायगडावर पोहोचले.त्याच दोन हत्तींचे प्रजनन होऊन जे हत्ती पुढे जन्मले त्यापैकी काही मरण पावले आणि फक्त चार उरले त्याच हत्तींवर छ.शिवरायांची मिरवणूक काढण्यात आली होती.एवढा दूरदृष्टीकोन ठेवणारे आपले छ.शिवाजी महाराज खरोखर महान होते.त्यांच्याकडून प्रेरणा घेऊन आपणही दूरदृष्टीकोन ठेऊन आपले जीवन समृद्ध करूया .....................................*छ.शिवाजी महाराज की जय..........🚩🚩🚩🚩

Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

1669 ईसवी ।

औरंगज़ेब ने समस्त वैष्णव मन्दिरों को तोड़ने का आदेश दिया ।
मथुरा के श्रीनाथ जी मंदिर के पुजारी श्री कृष्ण की मूर्ति लेकर राजस्थान की ओर निकल गए ।

जयपुर व जोधपुर के राजाओं ने औरंग से बैर लेना उचित नहीं समझा । पुजारी मेवाड़ की पुष्यभूमि पर महाराणा राजसिंह के पास गए ।
एक क्षण के विलम्ब के बिना राज सिंह ने यह कहा –
“ जब तक मेरे एक लाख राजपूतों का सर नहीं कट जाए , आलमगीर भगवान की मूर्ति को हाथ नहीं लगा सकता । आपको मेवाड़ में जो स्थान जंचे चुन लीजिए , मैं स्वयं आकर मूर्ति स्थापित करूँगा । “

मेवाड़ के ग्राम सिहाड़ में श्रीनाथ जी की प्रतिष्ठा धूमधाम से हुई , जिसमें स्वयं राज सिंह पधारे ।

आज जो प्रसिद्ध नाथद्वारा तीर्थस्थल है , वह सिहाड़ ग्राम ही है ।
औरंग ने राज सिंह जी को पत्र लिखा कि श्रीनाथ जी की मूर्ति को शरण दी तो युद्ध होगा ।

राज सिंह जी ने कोई उत्तर ना दिया । चुपचाप मारवाड़ के वीर दुर्गादास राठौड़ के नेतृत्व में राठौडों व मेवाड़ के हिन्दुओं की सामूहिक सेना का गठन करने लगे ।

1679-80 ईसवीं । दो वर्षों तक मुग़ल मेवाड़ संघर्ष चला ।
दो बार राज सिंह जी ने औरंग को गिरफ़्तार करके दया करके छोड़ दिया ।
1680 में पूर्ण रूप से पराजित औरंग अपना काला मुँह लेकर सर्वथा के लिए राजस्थान से चला गया ।
नाथद्वारा हम में से बहुत लोग गए हैं ।
हमें क्यूँ नहीं पता कि यह विग्रह मूल रूप से मथुरा के हैं ?
किसके कारण पुजारियों को पलायन करना पड़ा ?
किसने अपना सर्वस्व दाँव पर लगाकर श्रीनाथ जी की रक्षा की ?
किसी ने राज सिंह जी का नाम भी सुना है ?
हमें क्यूँ नहीं पता कि पचास सहस्त्र (हज़ार) मेवाड़ व मारवाड़ के हिन्दुओं ने शीश का बलिदान देकर मुग़लों से श्रीनाथ जी की रक्षा की थी ?

इस अभागे देश के इतिहासकार तो ठग हैं ही ( केवल शिष्टाचार के चलते माँ बहन की गालियाँ नहीं दे रहा हूँ ) , पर हम हिन्दुओं को क्या हुआ है ?

भोगविलास में हम अपने देवताओं, अपने महिमाशाली पुरखों के नाम तक विस्मृत कर चुके हैं !

अब नाथद्वारा जाएँ तो इन महान पूर्वजों की स्मृति में दो अश्रु बहाएँ व आकाश की ओर मुँह करके इन महान आत्माओं का धन्यवाद दें जिनके कारण हम आज हिन्दू हैं ।

Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

वीर सावरकर


कोंग्रेस के जमाने मे छुपे छुपायें हुऐ डॉक्यूमेंट वीर सावरकर ने खुद के लिए माफी नही ब्लकि सारे कैदियों के लिए दया याचिका मांगी थी : (सबूतों में ) इस समय देश में वीर सावरकर जी पर बहस चल रही है। झूठ की फैक्ट्री चलाने वाले अपनी आदत के मुताबिक बढ़ा-चढ़ा कर झुठ फैलाने में बेदम है।बार-बार हर बार साजिश के तहत यह झुठ फैलाया जाता है कि कालापानी जैसे सजा काटने वाले महान स्वातंत्र्य वीर सावरकर ने अंग्रेजों से माफी थी।जबकि सच्चाई यह है वीर सावरकर ने अपने लिए नही ब्लकि अंडमान जेल में बंद सारे कैदियों के लिए माफी मांगी थी।मटमैला रंग का दस्तावेज का जो पीडीएफ फोटो है वह पुरी तरह से असली है जो संकेत कुलकर्णी ने लंदन से प्राप्त की है उसे आप स्वयं पढ़ सकते हैं।जिसमें वह साफ शब्दों में अंडमान जेल के सारे कैदियों के लिए दया याचिका की मांग कर रहे हैं।

…अब आप कहेगें कि सावरकर जी ने सारे कैदियों के लिए माफी याचिका क्यों मांगी थी तो इसके लिए आपको वीर सावरकर के लिखी अंग्रेजी में एक किताब पढ़ना होगा उस किताब का नाम है।– My Transporation Life है उस किताब में टोटल 307 पेज है।यदि आपके पास पुरी किताब पढ़ने का समय नही है तो मत पढ़ीए लेकिन इस किताब के पेज नम्बर 69,219,220 और 221 पढ़ने लायक है।मूल रुप से यह पुस्तक मराठी भाषा में थी जिसे अंग्रेजी में अनुवाद किया गया है।

…खैर, सावरकर साहब को सारे कैदियों के लिए माफी की जरुरत क्यों पड़ गई थी ?तो इसका उत्तर यह किताब देता है कि वें इंदू भुषण नामक कैदी के आत्महत्या से वें इतने दुखी हो गये थें कि उन्होनें सारे कैदियों के लिए माफी याचिका लिख डाली थी।आप इसका बिवरण इस पुस्तक के Indu had hanged himself last night में पढ़ सकते हैं।

…वीर सावरकर ने एक जगह इस पुस्तक में खुद लिखा है कि मैं एक बैरिस्टर होकर ऐसी गलती कैसे कर सकता था ? यदि मैं पत्र लिखता तो अनेक अंग्रेज अफसरों के हाथों में जाती और वें इसे या तो दबा लेते नही तो फाड़ देते क्योंकी अंडमान का कालापानी के सजा मानवाधिकार के खिलाफ था और उन्हें लज्जित होना पड़ता।अब ज्यादा नही लिखुंगा यह पुस्तक आपको Pdf में गुगल पर उपलब्ध है इसे डाउनलोड कर सभी पढ़ सकते हैं।खैर इस लेख में जो फोटो अपलोड किया गया है उसमें अंडरलाइन किए हुए शब्दों को पढ़ लिजीए सावरकर साहब ने अपने लिए नही ब्लकि अंडमान जेल में बंद सारे कैदियों के लिए माफी याचिका भेजी थी।

साभार- कॉपीपोस्ट

Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

झांसी की रानी लक्ष्मीबाई के विवाह का दुर्लभ निमंत्रण पत्र..

बुन्देलो हर बोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।

1857 स्वातंत्र्य समर की महानायिका,भारत की नारी शक्ति के अदम्य साहस,अप्रतिम सामर्थ्य व अपरिमित त्याग की प्रतीक, महान वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई के वर पक्ष का विवाह का दुर्लभ पत्र..

इन्हीं राजा मर्दन सिंह जूदेव को झांसी की महारानी लक्ष्मीबाई ने आजादी की लड़ाई में शामिल होकर अंग्रेजों को देश से बाहर करने के संकल्प में भागीदारी हेतु एक ओर पत्र लिखा था जो मशहूर है और महारानी लक्ष्मीबाई ने इन्हीं राजा मर्दन सिंह जी को अंग्रेज अफसर से लड़ाई में छीनी गयी दूरबीन भी भेंट की थी ।

आज के समय में सनातन संस्कृति को भूल कर विवाह में निमंत्रण पत्र को अंग्रेजी कालीन परंपरा में लिख रहे हैं ..
किसी विद्वान ने कहा है कि किसी देश को अगर कमजोर करना है तो उसके सनातन संस्कृति खत्म कर दो अपने आप कमजोर हो जाएगा..

©Balveer Singh Solanki Basni ✍️