Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas, Kashmir

कश्मीर के आखिरी राजा हरिसिह ने शेखअब्दुल्ला को देशद्रोह के आरोप मे जेल मे डाला था,शेखअब्दुल्ला के वकील
जवाहर लाल नेहरु
थे !

कश्मीर के हिंदू राजा हरिसिंह ने भरे दरबार में जवाहरलाल नेहरु को थप्पड़ भी मारा था
पूरी कहानी पढ़िए …. ————

आप लोगों में से बहुत ही कम जानते होंगे कि नेहरू पेशे से वकील था लेकिन किसी भी क्रांतिकारी का उसने केस नहीं लड़ा ॥

बात उस समय की है जिस समय महाराजा हरिसिंह 1937 के दरमियान ही जम्मू कश्मीर में लोकतंत्र स्थापित करना चाहते थे लेकिन शेख अब्दुल्ला इसके विरोध में थे क्योंकि शेख अब्दुल्ला महाराजा हरिसिंह के प्रधानमंत्री थे और कश्मीर का नियम यह था कि जो प्रधानमंत्री होगा वही अगला राजा बनेगा लेकिन महाराजा हरि सिंह प्रधानमंत्री के कुकृत्य से भलीभांति परिचित थे इसलिए कश्मीर के लोगों की भलाई के लिए वह 1937 में ही वहां लोकतंत्र स्थापित करना चाहते थे लेकिन शेख अब्दुल्ला ने बगावत कर दी और सिपाहियों को भड़काना शुरू कर दिया लेकिन राजा हरि सिंह ने समय रहते हुए उस विद्रोह को कुचल डाला और शेख अब्दुल्ला को देशद्रोह के केस में जेल के अंदर डाल दिया ॥

शेख अब्दुल्ला और जवाहरलाल नेहरू की दोस्ती प्रसिद्ध थी , जवाहरलाल नेहरू शेख अब्दुल्ला का केस लड़ने के लिए कश्मीर पहुंच जाते हैं , वह बिना इजाजत के राजा हरिसिंह द्वारा चलाई जा रही कैबिनेट में प्रवेश कर जाते हैं , महाराजा हरि सिंह के पूछे जाने पर नेहरु ने बताया कि मैं भारत का भावी प्रधानमंत्री हूं ॥

राजा हरिसिंह ने कहा चाहे आप कोई भी है , बगैर इजाजत के यहां नहीं आ सकते , अच्छा रहेगा आप यहां से निकल जाएं ॥

नेहरु ने जब राजा हरि सिंह के बातों को नहीं माना तो राजा हरिसिंह ने गुस्सा में आकर नेहरु को भरे दरबार में जोरदार थप्पड़ जड़ दिया और कहा यह तुम्हारी कांग्रेस नहीं है या तुम्हारा ब्रिटिश राज नहीं है जो तुम चाहोगे वही होगा ॥ तुम होने वाले प्रधानमंत्री हो सकते हो लेकिन मैं वर्तमान राजा हूं और उसी समय अपने सैनिकों को कहकर कश्मीर की सीमा से बाहर फेंकवा दिया ॥

कहते हैं फिर नेहरू ने दिल्ली में आकर शपथ ली कि वह 1 दिन शेख अब्दुल्ला को कश्मीर के सर्वोच्च पद पर बैठा कर ही रहेगा इसीलिए बताते हैं कि कश्मीर को छोड़कर अन्य सभी रियासतों का जिम्मा सरदार पटेल को दिया गया और एकमात्र कश्मीर का जिम्मा भारत में मिलाने के लिए जवाहरलाल नेहरु ने लिया था ॥

सरदार पटेल ने सभी रियासतों को मिलाया लेकिन नेहरू ने एक थप्पड़ के अपमान के लिए भारत के साथ गद्दारी की ओर शेख अब्दुल्ला को मुख्यमंत्री बनाया और 1955 में जब वहां की विधानसभा ने अपना प्रस्ताव पारित करके जवाहरलाल नेहरू को पत्र सौंपा कि हम भारत में सभी शर्तों के साथ कश्मीर का विलय करना चाहते हैं तो जवाहरलाल नेहरू ने कहा —- नहीं अभी वह परिस्थितियां नहीं आई है कि कश्मीर का पूर्ण रूप से भारत में विलय हो सके ॥ इस प्रकार उस पत्र को प्रधानमंत्री नेहरू ने ठुकरा दिया था और उसका खामियाजा भारत आज तक भुगत रहा है ॥

Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

रानी वेलु नचियार और आत्मघाती हमले
By :- Anand Kumar

वेलु नचियार रामनद राज्य की राजधानी रामनाथपुरम से शासन करने वाले राजा चेल्लामुथु सेथुपरी और रानी सकंधीमुथल की इकलौती बेटी थी। वलारी और सिलंबम जैसी युद्ध कलाओं के अलावा वो अंग्रेजी फ्रेंच, उर्दू जैसी कई भाषाएँ भी जानती थी। उनकी शादी शिवगंगे के राजा से हुई जिस से उन्हें एक बेटी थी। आजादी के लिए इसाई हमलावरों के खिलाफ लड़ने वाली पहली रानी, दक्षिण भारत की वेलु नचियार थी। वो 1750-1800 के दौर की थीं, यानि भारत के पहले बड़े स्वतंत्रता संग्राम से करीब सौ साल पहले लड़ रही थीं।

अर्कोट के नवाब के साथ मिलकर इसाई हमलावरों ने उनके पति को मार डाला तो उन्हें युद्ध में शामिल होना पड़ा। अपनी बेटी के साठ वो कोपल्ला नायक्कर के संरक्षण में डिंडीगुल भाग गई और आठ साल वहीँ से संघर्ष किया। इसी दौरान उन्होंने गोपाल नायक्कर और हैदर अली से भी संधि की और 1780 में उनके आक्रमण कामयाब होने लगे। ये हमले महत्वपूर्ण क्यों हैं ? इसलिए क्योंकि इन आक्रमणों में पहले आधुनिक काल के युद्धों में पहले हिन्दू आत्मघाती हमले का जिक्र यहीं मिलता है। फिरंगियों से अपना राज्य वापस लेने के लिए रानी वेलु नचियार ने सबसे पहले आत्मघाती हमले और महिलाओं की सैन्य टुकड़ियों का इस्तेमाल किया था।

अपनी गोद ली हुई बेटी उदैयाल के नाम पर ही उनकी स्त्री सैन्य टुकड़ी का नाम उदैयाल था। उन्होंने ढूंढ निकाला कि फिरंगियों ने अपना गोला बारूद किले में कहाँ इकठ्ठा कर रखा है। रानी की बेटी, उदैयाल ने शरीर पर तेल डाला और गोला बारूद के गोदाम में खुद को आग लगा कर घुस गई। बारूद का भयावह विस्फोट और तोपों के नाकाम होते ही रानी की जीत पक्की हो गई थी। रानी वेलु नचियार इसलिए भी महत्वपूर्ण होती हैं क्योंकि तमिल लोककथाओं और लोकगीतों की ये नायिका भारत की वो इकलौती रानी थी जिसने फिरंगी भेड़ियों के जबड़े से अपना राज्य वापस छीन लिया था। उनके अलावा किसी ने अपना राज्य फिरंगियों से वापस जीतने में कामयाबी नहीं पाई थी।
1780 में ही मरुदु बंधुओं को उनके इलाके के काम-काज सम्बन्धी अधिकार उन्होंने दिए थे। बाद में उनकी बेटी वेल्लाची ने 1790 में उनके उत्तराधिकारी के रूप में शासन संभाला। रानी वेलु नचियार की मृत्यु 25 दिसम्बर, 1796 को हुई थी।

रानी वेलु नचियार और उनकी बेटी उदैयाल की कहानी इसलिए याद आई क्योंकि भारतीय हिन्दू बार बार आत्मघाती फिदायीनों का हमला झेलते तो हैं, लेकिन खुद उसका इस्तेमाल करना, या उसे पहचानना भूल जाते हैं। वो भूल जाते हैं कि जो खुद के पेट पर बम बांध कर लोगों को मारने पर तुला हो, उसके मानवाधिकारों की बात करना मतलब उसके दर्जनों शिकारों के मानवाधिकारों से इनकार करना है। मानवाधिकार हैं भी तो पहले किसके हैं ? शोषित-पीड़ित आम नागरिक के जो कानूनों का पालन करता देश का संविधान मान रहा है या उसके जो कानूनों को ताक पर रखकर कत्ले-आम पर अमादा है ? अपराधों पर जेल जाता तो भी वोट देने जैस नागरिक अधिकार नहीं रहते, ऐसे व्यक्ति के मानवाधिकारों की जिम्मेदारी राज्य पर कैसे है ?

फिदायीन हमलावर को पहचानना इसलिए भी ज्यादा जरूरी है क्योंकि वो आतंक फैलाने के लिए आम लोगों की निहत्थी भीड़ पर ही हमला करेगा। वो अपने आकाओं को बचाने के लिए ऐसे हमले कर रहा है। उसे अपनी जिहादी सोच फैलाकर ज्यादा से ज्यादा लोगों को डराना है। वो विरोध के हर स्वर को कुचल कर खामोश कर देना चाहता है। वो मीडिया मुगलों जैसा है जो आज अंकित सक्सेना की हत्या पर दोमुंहा रवैया दिखा कर आपका निशाना बदलना चाहते हैं। मुद्दा था कि ऑटो रिक्शा वाले रविन्द्र, डॉ. नारंग, चन्दन गुप्ता सबकी हत्या में जो सच दिख रहा है, उसे देखने से इनकार क्यों किया जा रहा है ? आई.एस.आई.एस. जैसा सर कलम करने की घटनाओं में इस्लामिक जिहाद के सच की तरफ आँखे खुलती क्यों नहीं हैं ?

आप सोचते हैं कि तैरना नहीं आता तो क्या ? आपको कौन सा समंदर में जाकर गोता लगाना है ! लेकिन यहाँ समंदर तो घर में घुस आया है मियां ! सवाल ये भी है कि मियां अब तैरना सीखेंगे या सेकुलरिज्म की पट्टी आँख पर बांधे रखनी है !

दिल्ली के अंकित सक्सेना की मौत और पेड मीडिया के बर्ताव पर अजित भारती का लेख

“पति को मारकर ले जाना मंजरी को ! ऐसे तो नहीं ले जाने दूँगी”, मंजरी की माँ ने कहा। ये भोजपुरी लोककथा की नायिका, मंजरी, मेहरा नाम के एक यादव सरदार की बेटी थी। ये लोककथा कहीं ना कहीं ये भी दर्शा देती है कि “उठा ले जाने” से बचाने के लिए विवाह कर देने की परंपरा कैसे शुरू हुई होगी। इस लोककथा के शुरू होने का समय करीब वही रहा होगा जो आज के महाराष्ट्र-गुजरात के कुछ इलाकों में यादव राजवंश के शासन का काल था। करीब इसी से थोड़ा पहले राजा सुहेलदेव राजभर ने गज़नवी के भांजे-भतीजे, “गाज़ी सलार मसूद” और उसकी फौज़ को खदेड़ कर गाजर-मूलियों की तरह काटा था।

कहानी कुछ यूँ है कि अगोरी नाम के राज्य में मोलागत नाम के राजा का शासन था। मेहरा नाम का सरदार शायद सत्ता को चुनौती देने लायक शक्तिशाली हो चला होगा, तो ऐसी ही किसी वजह से राजा मोलागत, मेहरा से जलते थे। उसे नीचा दिखाने के लिए उन्होंने मेहरा तो जूआ खेलने का न्योता भेजा। उम्मीद के मुताबिक राजा मोलागत जीत नहीं पाए, उल्टा अपना राज-पाट भी हार गए। निराश हारे हुए राजा जब अपने भूतपूर्व हो चुके राज्य से जा रहे थे, तो भेष बदले ब्रह्मा, उनपर तरस खा के, उनके पास आये। उन्होंने राजा को कुछ सिक्के दिए और कहा इनको दांव पर लगाओ तो जीतोगे।

राजा मोलागत वापस आये और मेहरा से फिर से एक बाजी खेली। इस बार मेहरा हारने लगे, हारते हारते वो अपनी गर्भवती पत्नी के पेट में पल रहे बच्चे को भी हार गए। राजा मोलागत को अपना राज्य वापस मिल गया था तो ज्यादा लालच करने की जरुरत नहीं रह गई थी। उन्होंने कहा कि अगर होने वाली संतान लड़का हुआ तो वो अस्तबल में काम करेगा, अगर लड़की हुई तो उसे रानी की सेवा में रखा जाएगा। हारा मेहरा लौट गया। समय बीतने पर जब संतान का जन्म हुआ तो वो एक अद्भुत सी लड़की थी। राजा के आदमी जब उसे लेने आये तो इस लड़की की माँ ने कहा, इसे ऐसे नहीं ले जा सकते ! इसके पति को युद्ध में जीतकर मार देना तो इसे ले जा कर नौकर रखना।

समाजशास्त्रियों की कथाओं को मानें तो उस काल में ऐसा होना नहीं चाहिए था। स्त्रियों को बोलने, अपनी राय रखने, या संपत्ति पर अधिकार जैसा कुछ नहीं जताना चाहिए। आश्चर्यजनक ये भी है कि इस लोककथा के काफी बाद के यानि मराठा काल तक भी जब मंदिरों का निर्माण देखें तो भूमि और बनाने-जीर्णोद्धार की आज्ञा रानी अहिल्याबाई होल्कर और कई अन्य रानियों की निकल आती है। पता नहीं क्यों पैत्रिक संपत्ति में स्त्रियों के हिस्से के लिए दायभाग और सम्बन्धियों में “दायाद” या “दियाद” जैसे शब्द भी मिल जाते हैं। हो सकता है समाजशास्त्री कल्पनाओं में पूरा सच ना बताया गया हो।

खैर तो लोककथा में आगे कुछ यूँ हुआ कि मेहरा की ये सातवीं संतान अनोखी थी। उसे अपने पूर्वजन्मों की याद थी और उसके आधार पर उसने अपनी माँ को बताया कि आप लोग बलिया नाम की जगह पर लोरिक को ढूंढें। मेहरा लोरिक के घर जाते हैं और शादी भी तय हो जाती है। लोककथा की अतिशयोक्ति जैसा ही लोरिक डेढ़ लाख बारातियों के साथ मंजरी से शादी के लिए आते हैं। राजा मोलागत को जब इसका पता चलता है तो उनकी सेना भी युद्ध के लिए सजती है। लड़ाई होती है मगर लोरिक जीत नहीं पा रहे थे। उनकी हार की संभावना देखकर मंजरी फिर से सलाह देती है।

वो बताती है कि अगोरी के किले के पास ही गोठानी गाँव है जहाँ भगवान शिव का मंदिर है। अगर लोरिक वहां शिव की उपासना करे तो उसे जीत का वर मिल सकता है। लोरिक ऐसा ही करता है और जीत जाता है। दोनों की शादी होती है और विदाई से पहले मंजरी कहती है कि कुछ ऐसा करो जिस से लोग लोरिक-मंजरी के प्रेम को सदियों याद रखें। कुछ कथाएँ कहती हैं कि मंजरी देखना चाहती थी कि आखिर तलवार का वो कैसा वार था जिसने राजा को हरा दिया ? उसके पूछने पर लोरिक वहीँ पास की चट्टान पर तलवार चला देता है। कहते हैं पहले वार में चट्टान का एक टुकड़ा नीचे खाई में जा गिरा और मंजरी उतने से खुश नहीं हुई। दूसरी बार फिर से वार करने पर चट्टान आधी कटी।

मंजरी-लोरिक की कहानी के ये पत्थर जमाने से यहीं खड़े हैं। कहते हैं यहाँ से प्रेमी कभी मायूस नहीं लौटते। हर साल गोवर्धन पूजा पर उत्तरप्रदेश के सोनभद्र जिले में यहाँ पर मेला लगता है। रोबर्ट्सगंज नाम क्यों और कैसे, किसने रख दिया, ये हमें मालूम नहीं। जहाँ तक कला का प्रश्न है, कुछ लोगों को पिकासो जैसों की ना समझ में आती ऐबस्ट्रैक्ट पेंटिंग पसंद आती है, कुछ को माइकल एंजेलो जैसों की स्पष्ट कहानियों पर बनी तस्वीरें अच्छी लगती है। कला का ही मामला देखें तो आप ताजमहल पर अकाल के दौर में करोड़ों के खर्च में विद्रूपता भी देख सकते हैं। प्रेम की निशानी इस साधारण से आधे कटे चट्टान में सौन्दर्य भी दिख सकता है।

झाँसी की रानी लक्ष्मीबाई, रानी चेनम्मा, रानी अब्बक्का जैसी अंग्रेजों की गुलामी से ठीक पहले की रानियों का जिक्र होते ही एक सवाल दिमाग में आता है | युद्ध तलवारों से, तीरों से, भाले – फरसे जैसे हथियारों से लड़ा जाता था उस ज़माने में तो ! इनमे से कोई भी 5-7 किलो से कम वजन का नहीं होता | इतने भारी हथियारों के साथ दिन भर लड़ने के लिए stamina भी चाहिए और training भी |

रानी के साथ साथ उनकी सहेलियों, बेटियों, भतीजियों, दासियों के भी युद्ध में भाग लेने का जिक्र आता है | इन सब ने ये हथियार चलाने सीखे कैसे ? घुड़सवारी भी कोई महीने भर में सीख लेने की चीज़ नहीं है | उसमे भी दो चार साल की practice चाहिए | ढेर सारी खुली जगह भी चाहिए इन सब की training के लिए | Battle formation या व्यूह भी पता होना चाहिए युद्ध लड़ने के लिए, पहाड़ी और समतल, नदी और मैदानों में लड़ने के तरीके भी अलग अलग होते हैं | उन्हें सिखाने के लिए तो कागज़ कलम से सिखाना पड़ता है या बरसों युद्ध में भाग ले कर ही सीखा जा सकता है |

अभी का इतिहास हमें बताता है की पुराने ज़माने में लड़कियों को शिक्षा तो दी ही नहीं जाती थी | उनके गुरुकुल भी नहीं होते थे ! फिर ये सारी महिलाएं युद्ध लड़ना सीख कैसे गईं ? ब्राम्हणों के मन्त्र – बल से हुआ था या कोई और तरीका था सिखाने का ?

लड़कियों की शिक्षा तो नहीं होती थी न ? लड़कियों के गुरुकुल भी नहीं ही होते थे ?
✍🏻
आनन्द कुमार

Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

हेमंत कुमार शर्मा

सूर्य को जल दे रहे राजा मनु ने जैसे ही नदी के पानी मे हाथ डालकर अंजली भरकर जल बाहर निकाला …..उनके कानों में आवाज गूंजी…. राजन मुझे बचा लो राजन,मैं मर जाऊंगा….

महाराज मनु हैरान थे …..ये आवाज उनकी अंजली में पड़े जल में दिखाई दे रही छोटी सी मछली की थी।। राजा ने ऐसा चमत्कार पहले नही देखा….मछली मानव की भाषा बोल रही थी।

मनु महाराज बोले—कौन हो तुम???

मछली बोली— मैं मत्स्य हु महराज,अभी बहुत छोटा हु,ये बड़ी मछलियां हम छोटी मछलियों को खा जाती है….इसलिए मुझे पुनः नदी में मत डालिये महराज….मुझे अपने महल ले चलिए….मैं वहां चैन से जी सकूंगा…..

महाराज मनु उस मत्स्य को अपने महल ले आये….एक कटोरी में जल भरकर उसी में मत्स्य को डाल दिया….मगर ये क्या…मत्स्य चीखने लगा…. राजन राजन मुझे इस कटोरी से बाहर निकालिये राजन….मेरा आकार बढ़ रहा है राजन…मैं सांस नही ले पाऊंगा राजन….मैं मर जाऊँगा…

मनु ने देखा….मछली का आकार अचानक बढ़ने लगा… राजा ने तुरंत बड़ा जल पात्र बुलाया और उसी में मछली को डाल दिया।

थोड़ी देर बाद फिर मछली बोली—. राजन राजन मुझे इस पात्र से भी बाहर निकालिये राजन….मेरा आकार बढ़ रहा है राजन…मैं सांस नही ले पाऊंगा.. मैं मर जाऊंगा ….

मनु हैरान थे… मानव जाति के पिता राजा मनु ….जिनसे सम्पूर्ण मानव जाति की उत्पत्ति बताई जाती है। ऐसा चमत्कार उन्होंने कभी नही देखा।

राजा ने फिर एक बड़ा पात्र मँगाया और उसमे मछ्ली डाली….मगर फिर वही कहानी…..मत्स्य फिर बोला—-लगा…. राजन राजन मुझे इस पात्र से बाहर निकालिये राजन….मेरा आकार बढ़ रहा है राजन…मैं सांस नही ले पाऊंगा… मैं मर जाऊंगा…

महाराज ने तुरंत मछली को लिया और ले जाकर समुद्र में फेंक दिया…..और फिर जो देखा वो रोंगटे खड़े कर देने वाला था…वो मछली समुद्र में गिरते ही भयानक आकार धारण करने लगी…ऐसा लगा जैसे महासागर भी छोटा हो जाएगा… राजा मनु हैरान थे।।

और देखते ही देखते एक विराट पुरुष प्रगट हुआ जिसका आधा शरीर मछली और आधा पुरुष का था। उसके 4 हाथ थे और वो भयंकर तेजस्वी था।

मनु ने कहा—हे देव आप कौन है?? क्यों मेरी परीक्षा ले रहे है??

वो देवपुरुष बोले—राजन,मैं चराचर जगत का स्वामी नारायण हु….संसार मुझे ही ईश्वर कहता है…. हे नरेश आज से ठीक एक सप्ताह बाद महाप्रलय इस धरती को डूबा देगी। सातों महासागर इस पृथ्वी को अपने जल में डूबा देंगे….. तब मैं मछली बनकर तुम्हारी रक्षा हेतु आऊंगा….तुम इसी स्थान पर मेरी प्रतीक्षा करना…. यहां एक नाव तैरती हुई आएगी तुम अपनी पत्नी और ऋषि मुनियों के साथ उसी में बैठ जाना और शेषनाग की रस्सी से नाव और मुझे बांध देना…. जब तक ब्रह्मा की एक रात्रि चलेगी तब तक मैं तुम्हे इसी महाप्रलय से बचाता रहूंगा….और उसके बाद नए सतयुग का आरंभ हो जाएगा। राजन जिस तरह किसान खेती के बाद कुछ बीजो को खेती के लिए फिर से बचा लेता है उसी तरह मैं भी महाप्रलय के समय कुछ श्रेष्ठ पुरुषो को बचा लेता हूं….ताकि नई सृष्टि की रचना की जा सके।

और इस तरह भगवान विष्णु ने मत्स्यवतार धारण करते हुए राजा मनु को महाप्रलय के समय बचाया था। इस कहानी का जिक्र सभी हिन्दू ग्रंथो में तो है ही…..इस कहानी का जिक्र बाइबिल में भी है। उन्होंने हमारी कहानी चोरी करके खुद के धर्म की नींव रख दी 😀

Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

विपिन खुराना#नीरा #आर्य की कहानी। जेल में जब स्तन काटे गए !
आज मै उनकी आत्मकथा पढ रहा था तो मुझे लगा कि आप सब के बीच इसको रखुं ।नीरा आर्य (1902 – 1998) की संघर्ष पूर्ण जीवनी:
नीरा आर्य का विवाह ब्रिटिश भारत में सीआईडी इंस्पेक्टर श्रीकांत जयरंजन दास के साथ हुआ था | नीरा ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जान बचाने के लिए अंग्रेजी सेना में अपने अफसर पति श्रीकांत जयरंजन दास की हत्या कर दी थी ।।नीरा आर्य आजाद हिन्द फौज में रानी झांसी रेजिमेंट की सिपाही थीं, जिन पर अंग्रेजी सरकार ने गुप्तचर होने का आरोप भी लगाया था।।
इन्हें नीरा नागिनी के नाम से भी जाना जाता है। |आजाद हिन्द फौज के समर्पण के बाद जब लाल किले में मुकदमा चला तो सभी बंदी सैनिकों को छोड़ दिया गया, लेकिन इन्हें पति की हत्या के आरोप में काले पानी की सजा हुई थी, जहां इन्हें घोर यातनाएं दी गई।
आजादी के बाद इन्होंने फूल बेचकर जीवन यापन किया, लेकिन कोई भी सरकारी सहायता या पेंशन स्वीकार नहीं की।।नीरा ने अपनी एक आत्मकथा भी लिखी है ,
इस आत्म कथा का एक ह्रदयद्रावक अंश प्रस्तुत है –
‘‘मैं जब कोलकाता जेल से अंडमान पहुंची, तो हमारे रहने का स्थान वे ही कोठरियाँ थीं, जिनमें अन्य महिला राजनैतिक अपराधी रही थी अथवा रहती थी।
हमें रात के 10 बजे कोठरियों में बंद कर दिया गया और चटाई, कंबल आदि का नाम भी नहीं सुनाई पड़ा। मन में चिंता होती थी कि इस गहरे समुद्र में अज्ञात द्वीप में रहते स्वतंत्रता कैसे मिलेगी, जहाँ अभी तो ओढ़ने बिछाने का ध्यान छोड़ने की आवश्यकता आ पड़ी है?जैसे-तैसे जमीन पर ही लोट लगाई और नींद भी आ गई। लगभग 12 बजे एक पहरेदार दो कम्बल लेकर आया और बिना बोले-चाले ही ऊपर फेंककर चला गया। कंबलों का गिरना और नींद का टूटना भी एक साथ ही हुआ। बुरा तो लगा, परंतु कंबलों को पाकर संतोष भी आ ही गया।।अब केवल वही एक लोहे के बंधन का कष्ट और रह-रहकर भारत माता से जुदा होने का ध्यान साथ में था।
‘‘सूर्य निकलते ही मुझको खिचड़ी मिली और लुहार भी आ गया। हाथ की सांकल काटते समय थोड़ा-सा चमड़ा भी काटा, परंतु पैरों में से आड़ी बेड़ी काटते समय, केवल दो-तीन बार हथौड़ी से पैरों की हड्डी को जाँचा कि कितनी पुष्ट है।।मैंने एक बार दुःखी होकर कहा, ‘‘क्याअंधा है, जो पैर में मारता है?’’‘‘पैर क्या हम तो दिल में भी मार देंगे, क्या कर लोगी?’’
उसने मुझे कहा था।‘‘बंधन में हूँ तुम्हारे कर भी क्या सकती हूँ…’’ फिर मैंने उनके ऊपर थूक दिया था, ‘‘औरतों की इज्जत करना सीखो?’’
जेलर भी साथ थे, तो उसने कड़क आवाज में कहा, ‘‘तुम्हें छोड़ दिया जाएगा,यदि तुम बता दोगी कि तुम्हारे नेताजी सुभाष कहाँ हैं?’’
‘‘वे तो हवाई दुर्घटना में चल बसे,’’ मैंने जवाब दिया, ‘‘सारी दुनिया जानती है।’’
‘‘नेताजी जिंदा हैं….झूठ बोलती हो तुम कि वे हवाई दुर्घटना में मर गए?’’ जेलर ने कहा।
‘‘हाँ नेताजी जिंदा हैं।’’
‘तो कहाँ हैं…।’’
‘‘मेरे दिल में जिंदा हैं वे।’’
जैसे ही मैंने कहा तो जेलर को गुस्सा आ गया था और बोले, ‘‘तो तुम्हारे दिल से हम नेताजी को निकाल देंगे।’’ और फिर उन्होंने मेरे आँचल पर ही हाथ डाल दिया और मेरी आँगी को फाड़ते हुए फिर लुहार की ओर संकेत किया…लुहार ने एक बड़ा सा जंबूड़ औजार जैसा फुलवारी में इधर-उधर बढ़ी हुई पत्तियाँ काटने के काम आता है, उस ब्रेस्ट रिपर को उठा लिया और मेरे दाएँ स्तन को उसमें दबाकर काटने चला था…लेकिन उसमें धार नहीं थी, ठूँठा था और उरोजों (स्तनों) को दबाकर असहनीय पीड़ा देते हुए दूसरी तरफ से जेलर ने मेरी गर्दन पकड़ते हुए कहा, ‘‘अगर फिर जबान लड़ाई तो तुम्हारे ये दोनों गुब्बारे छाती से अलग कर दिए जाएँगे…’’उसने फिर चिमटानुमा हथियार मेरी नाक पर मारते हुए कहा, ‘‘शुक्र मानो महारानी विक्टोरिया का कि इसे आग से नहीं तपाया, आग से तपाया होता तो तुम्हारे दोनों स्तन पूरी तरह उखड़ जाते।’’ सलाम हैं ऐसे देश भक्त को। आजादी के बाद इन्होंने फूल बेचकर जीवन यापन किया, लेकिन कोई भी सरकारी सहायता या पेंशन स्वीकार नहीं की।।
जय हिन्द, जय माँ भारती, वन्देमातरम !!!

Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

डिबितोष भट्टाचार्य

जन

वरी 1761 में पानीपत के तीसरे युद्ध में मराठाओं को हराने के बाद अहमद शाह अब्दाली 22 हज़ार मराठा स्त्रियों का अपहरण करके अफगानिस्तान ले जा रहा था. ये बात सिख सरदारों तक पहुंची और उन्होंने फैसला किया कि युद्ध में जो हुआ वो हुआ लेकिन हमारे देश की स्त्रियों को ये अफगानिस्तान बाजार में बेचने और अपने सैनिकों की हवस पूरी करने नहीं ले जा सकता. सिखों ने जत्थे बना कर अफगान सेना पर टुकड़ों में आक्रमण करने शुरू कर दिए और चेनाब नदी करने तक अफगान सेना को युद्ध में लूटा हुआ धन और बंदी बनायीं गयीं स्त्रियां छोड़ के पहाड़ों में निकलना पड़ा. ये वो सेना थी जो पानीपत जैसा विशाल युद्ध जीत के आयी थी.

अहमद शाह अब्दाली सिखों की इस दिलेरी से बहुत नाराज़ हुआ उसने तीन चार महीने बाद ही नूरुद्दीन के नेतृत्व में 12000 शाही सैनिकों को सियालकोट में मौजूद सिख किले पर हमला करने भेजा. चेनाब नदी के किनारे लड़े गए इस युद्ध में सिख हालांकि अफगानों से कम संख्या में थे लेकिन फिर भी उन्होंने नूरुद्दीन एंड टीम की जम के मार लगायी और नूरुद्दीन ने वहाँ से निकलने में ही भलाई समझी.

नूरुद्दीन जब अपने सैनिकों के साथ भाग रहा था तब दूसरी तरफ से आ रहे सिख जत्थे ने लाहौर के बाहर उसकी सेना पर हमला कर दिया. उसकी पूरी सेना ने सिख जत्थे के सामने सरेंडर किया और नूरुद्दीन ने भाग कर अपनी जान बचाई.

उसके बाद फिर से २ महीने बाद अब्दाली के चढाने पर आबिद खान सेना लेके गुजरांवाला (मौजूदा पाकिस्तान) में फिर से सिखों से भिड़ने की गलती कर बैठा. सिख जत्थे ने न सिर्फ तबियत से उसकी सेना को कूटा बल्कि सारी बन्दूक तलवारें भी छीन लीं.

ये सब पानीपत के तृतीय युद्ध के 6 महीने बाद ही हो रहा था. किताबें हमारी हमारी हार पर ही रुक जाती हैं, हारने के बाद हम जितनी बार उठ खड़े हुए और वापस खूंटा गाढ़ा वही हमारा असली इतिहास है जो खोजने पर ही मिलता है.

मराठा योद्धा बाजीराव पेशवा स्मृतिदिन को नमन ,,,,,,सिर कटते थे धड़ लड़ते थे तब हिन्दू कहलाये हैं.

History capsule.
© Sanket Naragude Reddy on 28th April
Pryank arora