Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक, भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

क्या आप जानते हैं कि विश्वप्रसिद्ध नालन्दा विश्वविद्यालय को जलाने वाले जे हादी बख्तियार खिलजी की मौत कैसे हुई थी ???

असल में ये कहानी है सन 1206 ईसवी की…!

1206 ईसवी में कामरूप में एक जोशीली आवाज गूंजती है…

“बख्तियार खिलज़ी तू ज्ञान के मंदिर नालंदा को जलाकर कामरूप (असम) की धरती पर आया है… अगर तू और तेरा एक भी सिपाही ब्रह्मपुत्र को पार कर सका तो मां चंडी (कामातेश्वरी) की सौगंध मैं जीते-जी अग्नि समाधि ले लूंगा”… राजा पृथु

और , उसके बाद 27 मार्च 1206 को असम की धरती पर एक ऐसी लड़ाई लड़ी गई जो मानव अस्मिता के इतिहास में स्वर्णाक्षरों में अंकित है.

एक ऐसी लड़ाई जिसमें किसी फौज़ के फौज़ी लड़ने आए तो 12 हज़ार हों और जिन्दा बचे सिर्फ 100….

जिन लोगों ने युद्धों के इतिहास को पढ़ा है वे जानते हैं कि जब कोई दो फौज़ लड़ती है तो कोई एक फौज़ या तो बीच में ही हार मान कर भाग जाती है या समर्पण करती है…

लेकिन, इस लड़ाई में 12 हज़ार सैनिक लड़े और बचे सिर्फ 100 वो भी घायल….

ऐसी मिसाल दुनिया भर के इतिहास में संभवतः कोई नहीं….

आज भी गुवाहाटी के पास वो शिलालेख मौजूद है जिस पर इस लड़ाई के बारे में लिखा है.

उस समय मुहम्मद बख्तियार खिलज़ी बिहार और बंगाल के कई राजाओं को जीतते हुए असम की तरफ बढ़ रहा था.

इस दौरान उसने नालंदा विश्वविद्यालय को जला दिया था और हजारों बौद्ध, जैन और हिन्दू विद्वानों का कत्ल कर दिया था.

नालंदा विवि में विश्व की अनमोल पुस्तकें, पाण्डुलिपियाँ, अभिलेख आदि जलकर खाक हो गये थे.

यह जे हादी खिलज़ी मूलतः अफगानिस्तान का रहने वाला था और मुहम्मद गोरी व कुतुबुद्दीन एबक का रिश्तेदार था.

बाद के दौर का अलाउद्दीन खिलज़ी भी उसी का रिश्तेदार था.

असल में वो जे हादी खिलज़ी, नालंदा को खाक में मिलाकर असम के रास्ते तिब्बत जाना चाहता था.

क्योंकि, तिब्बत उस समय… चीन, मंगोलिया, भारत, अरब व सुदूर पूर्व के देशों के बीच व्यापार का एक महत्वपूर्ण केंद्र था तो खिलज़ी इस पर कब्जा जमाना चाहता था….
लेकिन, उसका रास्ता रोके खड़े थे असम के राजा पृथु… जिन्हें राजा बरथू भी कहा जाता था…

आधुनिक गुवाहाटी के पास दोनों के बीच युद्ध हुआ.

राजा पृथु ने सौगन्ध खाई कि किसी भी सूरत में वो खिलज़ी को ब्रह्मपुत्र नदी पार कर तिब्बत की और नहीं जाने देंगे…

उन्होने व उनके आदिवासी यौद्धाओं नें जहर बुझे तीरों, खुकरी, बरछी और छोटी लेकिन घातक तलवारों से खिलज़ी की सेना को बुरी तरह से काट दिया.

स्थिति से घबड़ाकर…. खिलज़ी अपने कई सैनिकों के साथ जंगल और पहाड़ों का फायदा उठा कर भागने लगा…!

लेकिन, असम वाले तो जन्मजात यौद्धा थे..

और, आज भी दुनिया में उनसे बचकर कोई नहीं भाग सकता….

उन्होने, उन भगोडों खिलज़ियों को अपने पतले लेकिन जहरीले तीरों से बींध डाला….

अन्त में खिलज़ी महज अपने 100 सैनिकों को बचाकर ज़मीन पर घुटनों के बल बैठकर क्षमा याचना करने लगा….

राजा पृथु ने तब उसके सैनिकों को अपने पास बंदी बना लिया और खिलज़ी को अकेले को जिन्दा छोड़ दिया उसे घोड़े पर लादा और कहा कि
“तू वापस अफगानिस्तान लौट जा…
और, रास्ते में जो भी मिले उसे कहना कि तूने नालंदा को जलाया था फ़िर तुझे राजा पृथु मिल गया…बस इतना ही कहना लोगों से….”

खिलज़ी रास्ते भर इतना बेइज्जत हुआ कि जब वो वापस अपने ठिकाने पंहुचा तो उसकी दास्ताँ सुनकर उसके ही भतीजे अली मर्दान ने ही उसका सर काट दिया….

लेकिन, कितनी दुखद बात है कि इस बख्तियार खिलज़ी के नाम पर बिहार में एक कस्बे का नाम बख्तियारपुर है और वहां रेलवे जंक्शन भी है.

जबकि, हमारे राजा पृथु के नाम के शिलालेख को भी ढूंढना पड़ता है.

लेकिन, जब अपने ही देश भारत का नाम भारत करने के लिए कोर्ट में याचिका लगानी पड़े तो समझा जा सकता है कि क्यों ऐसा होता होगा…..

उपरोक्त लेख पढ़ने के बाद भी अगर कायर, नपुंसक एवं तथाकथित गद्दार धर्म निरपेक्ष बुद्धिजीवी व स्वार्थी हिन्दूओं में एकता की भावना नहीं जागती…

तो लानत है ऐसे लोगों पर.

जय महाकाल…!!!
C/P

Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

મુહમ્મદ અલી જીણાની પ્રેમ કહાની પ્રતિનાયક બનવાની પ્રક્રિયા

નોંધ: આ લેખ જીણાને glorify કરવા નહીં પણ નગ્ન સત્ય ઇતિહાસ રજૂ કર્યો છે તમે જે રીતે આનું અર્થઘટન કરવા ઇચ્છો તે રીતે કરી શકો છો.

મુહમ્મદ અલી જીણાનો ઇતિહાસ તેના દાદાથી શરૂ થાય. મુહમ્મદના દાદા પુંજા ઠક્કર એ રાજકોટ પાસે આવેલા મોટી પાનેલીના હતા. તેમણે પોતાના એક મિત્ર જે ખોજા જાતિના હતા તેને પોતાની દુકાન ભાડે આપી હતી. ઘણા લોકો એવું કહે કે તેઓ માછલીનો વેપાર કરતાં તો પાનેલીમાં એવો કોઈ સમુદ્ર નથી કે ત્યાં માછલીનો વેપાર થાય. પરંતુ તેમના મિત્ર જે આવો કોઈ વેપાર તેના કરાચીના સંબંધી સાથે કરતાં હતા એવો ઉલ્લેખ છે અને આવા વ્યક્તિને દુકાન ભાડે આપવાથી અમુક ઈર્ષાળુએ આ વાતનો ફાયદો લઈ પુંજા ઠક્કર નો વિરોધ શરૂ કર્યો. વટમાં ને વટમાં પુંજા ઠક્કરે ખોજા ધર્મ અપનાવી લીધો.

હવે ખોજા અને મેમણ બંને મુસ્લિમો લોહાણામાંથી જ ગયા છે આ ઇતિહાસ પણ જગ જાહેર જ છે. અને સિંધના સામાણી મુસ્લિમ રાજપૂત પણ લોહાણા હતા તેવું ઇતિહાસકાર સી વી વૈદ્ય નોંધ કરે છે.

પરંતુ જે મૂળભૂત રીતે હિન્દુ હોય તે કેવી રીતે અન્ય સંસ્કૃતિને પચાવી શકે. મુહમ્મદ બિન કાસીમના વખતે મજબૂરીમાં ઇસ્લામ અપનાવવો તે અલગ વાત હતી જ્યારે અહી તો પોતાની મરજી થી વાત હતી અને પુંજા ઠક્કર આને મનથી અપનાવી નો શક્યા.

તેઓ હવેલીના બાવાશ્રી પાસે પહોંચ્યા કે મને પાછો હિન્દુ બનાવો અને મારુ શુદ્ધિકરણ કરો પણ બાવાશ્રી એ કહ્યું

‘આ કાંઈ બોડી બામણીનું ખેતર થોડું છે કે ગમે તે મનફાવે ત્યારે વયો જાય અને મનફાવે ત્યારે હાયલો આવે.’

આથી આઘાત પામેલા પુંજા ઠક્કર દુઃખી થઈ જાય છે અને જીવવાની ઇચ્છા છોડી દે છે અને આવી રીતે ટૂંક સમયમાં મૃત્યુ પામે છે. હવે આ ઘટના બને છે ત્યારે પુંજા ઠક્કરના દીકરા જીણાભાઈના લગ્ન થઈ ચૂક્યા હોય છે. (મતલબ જીણાભાઈની પત્ની પણ એક લોહાણી જ હોય છે) અને ત્યારે પુંજા ઠક્કરનો પેલો ખોજા મિત્ર જીણાભાઈ પાસે આવે છે અને તેને કરાંચી લઈ જાય છે. આ સમયે જીણાભાઈના પત્નીને સારા દિવસો જતાં હોય છે અને કરાંચીમાં જ તેને દીકરો આવે છે તેનું નામ મુહમ્મદ(ખોજા મિત્રની સલાહથી) રખાય છે.

પોતાનો મૂળ ઇતિહાસ જાણતો અને ધર્મથી ખોજા પણ લોહીથી પૂરો લોહાણો એવો મુહમ્મદ પોતાને મુસ્લિમ તરીકે ઓળખવતા શરમ અનુભવતો હતો. તેના બાળ લગ્ન એક ખોજા યુવતી સાથે થાય છે પરંતુ કોઈ બીમારીથી તેની પત્નીનું મૃત્યુ થાય છે. મુહમ્મદ અંગ્રેજોની જેવા કપડાં પહેરવા અને તેની જેમ પોર્ક(સુવ્વરનું માંસ પણ ખાતો હતો) હવે કાયદાનું ભણીને આઝાદીની લડાઈ માટે કોંગ્રેસમાં જોડાય છે.

આ કોંગ્રેસમાં એક બહુ મોટા પારસી વેપારી દિનશો માણેકશો પેતીત જે કોંગ્રેસના દાતા હતા તે એક વાર કોંગ્રેસના ઘણા નેતાઓને પોતાના દાર્જીલીંગના ફાર્મ હાઉસમાં આરામ કરવા બોલાવે છે. આમાં તે મુહમ્મદ અલી જીણાને પણ બોલાવે છે. હવે અહીથી જ જીણાની પ્રતિનાયક બનવાની શરૂઆત થાય છે.

આ દિનશો માણેકશો પેતીતને એક 16 વરસની દીકરી હોય છે જેનું નામ રતનબાઈ હતું અને ઘરમાં પ્યારથી તેને રોટ્ટી બોલાવતા. આ રોટ્ટી પણ અહી હાજર હોય છે અને આ રોટ્ટી જીણાની તીવ્ર બુદ્ધિ થી આકર્ષાઈ જાય છે અને જીણા પણ બાળપણમાં થયેલા લગ્નને ક્યારનો ભુલાવી ચૂક્યો છે.

પણ આ વાતની ખબર રોટ્ટીના પિતા દિનશોને ખબર પડે છે અને તે વિરોધ કરે છે. એક તો જીણા અને રોટ્ટી વચ્ચે ધર્મ અને ઉમરનો તો તફાવત છે અને જીણા એક વિધુર પણ છે અને ક્યો દીકરીનો બાપ આવું ઠેકાણું દીકરી માટે પસંદ કરે?

આ વાત આખી ગાંધીજી સુધી જાય છે અને દિનશો ગાંધીજીને આમાં દખલ કરવા કહે છે. ગાંધીજી મુહમ્મદ સાથે વાત કરે છે અને સમજાવે છે કે દિનશો એ કોંગ્રેસના એક મોટા દાતા છે અને જૂના સભ્ય છે. આઝાદીની લડાઈમાં માણસો સાથે ફંડ પણ જોઈએ જે આવા દાતાઓ તરફથી મળી રહે છે. તમારા આ પ્રકરણથી દિનશોને બહુ ખરાબ લાગ્યું છે તેની અસર આઝાદીની લડાઈ ઉપર પણ પડી શકે છે.

પણ મુહમ્મદ અલીનો જવાબ હતો કે ગાંધી તમે ધર્મના ભેદભાવનો ઢોંગ કરો છો અને મારો ધર્મ અલગ છે માટે તમે વિરોધ કરો છો જો તમે સાચે જ ધર્મના ભેદભાવ ને મિટાવવા માંગતા હોવ તો મારા લગ્ન માટે તમે જ દિનશો સરને સમજાવો.

ગાંધીજી મુહમ્મદને સમજાવવામાં નિષ્ફળ રહે છે અને દિનશો કોર્ટમાંથી ઓર્ડર લઈ આવે છે અને રોટ્ટી અને મુહમ્મદને મળવા પર પ્રતિબંધ લગાવે છે. રોટ્ટી 18 વર્ષની થતાં રોટ્ટી ખુદ ભાગીને મુહમ્મદ પાસે જાય છે અને બંને લગ્ન કરી લે છે.

આનો ગાંધીજી ખુદ વિરોધ કરે છે જેથી આ ઘટનાનો લાભ મુસ્લિમ કટ્ટરવાદીઓ દ્વારા લાભ લેવામાં આવે છે અને જીણાને ઉશ્કેરવામાં આવે છે અને પછીનો ઇતિહાસ અને પાકિસ્તાનનું સર્જન આપડે જાણીએ છીએ.

પાકિસ્તાનના સર્જન પછી કાયદે આઝમ બનેલા જીણાને ત્યાં એક દીકરીનો જન્મ થાય છે. પણ મુહમ્મદ અલી જીણા અને તેની પત્ની રોટ્ટી વચ્ચે અમુક અણબનાવ થતાં તે ભારત આવીને છૂટાછેડા લે છે પરંતુ મુહમ્મદ અલી જીણાની દીકરી ફાતિમા મોટી થઈને પારસી વાડિયા પરિવારમાં લગ્ન કરે છે. અને જીણા મરતી વખતે પોતે પાકિસ્તાનનું સર્જન કરી ભૂલ કરી હતી એવો પશ્ચાતાપ પણ મૃત્યુ સમયે વ્યક્ત કરે છે.

ભાવિન કુંડલિયા

Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

इतिहास पुरुष महाबाहुबली #महाराजा_छत्रसाल

औरंगज़ेब का परचम जब भारतवर्ष में फहरा रहा था उस समय दक्खन से #छत्रपतिमहाराजशिवाजी ने और बुंदेलखंड की वीर प्रसूता भूमि से महाराज छत्रसाल ने ऐसा भीषण सिंहनाद किया कि दिल्ली के तख़्त की चूलें हिल गयीं। इनकी महा सिंह गर्जना से अपने को आलमगीर कहने वाले बादशाह औरंगज़ेब का हृदय भय से बेचैन हो गया।

औरंगज़ेब ने तमाम यत्न किए किंतु इन सिंहपुरूषों के शौर्य के आगे उसकी एक ना चली, और अंततः हारकर उसे इनकी स्वाधीनता को स्वीकारने पर विवश होना पड़ा।

मात्र पाँच घुड़सवारों की सेना से अपने राज का आरम्भ करने वाले महाबाहुबली महाराज छत्रसाल साहब ने औरंगज़ेब के देखते ही देखते उसकी नाक के नीचे मध्यभारत में एक विशाल वैभवशाली साम्राज्य गढ़ दिया जिसकी सीमा के बारे में कहा जाता है-

“भैंस बंधी है ओरछा, पड़ा होशंगाबाद।
लगवैया हैं सागरे और चपिया रेवा पार॥’

अर्थात ओरछा से लेकर होशंगाबाद तक और सागर से लेकर नर्मदा की शिवभूमि तक महाराज साहब के शौर्य की विजय पताका लहराने लगी।
और उन्होंने स्वतंत्र बुंदेलखंड राज्य की नींव रख दी।

महाराज छत्रसाल के ४४ वर्ष के राजकाल में उन्होंने बावन युद्ध लड़े और सभी में उन्होंने विजय श्री हासिल की वे अपराजेय थे और जीवन के अंत तक अपराजेय ही रहे।

ऐसे दैदीप्यमान वीरशिरोमणि के जीवन कृतित्व के लिए कौन होगा जो भाव से भरा ना हो ? एक अभिनेता के रूप में मैं सदैव चाहता था की इन युगपुरुष के ऊपर कोई सिरीज़ बननी चाहिए। कहा जाता है कि जब आप शिद्दत से किसी बात की कामना करते हैं तो परमात्मा उसे पूर्ण करते हैं।

एक दिन अचानक श्री अनादि चतुर्वेदी और सुश्री रेचल मेरे पास आए और मुझे #छत्रसाल की स्क्रिप्ट सुना दी और कहा की हम चाहते हैं आप इस #वेबसिरीज़ को #सूत्रधार के रूप में प्रस्तुत करें व साथ ही इस कहानी में आप #औरंगज़ेब के पेंचिदा किरदार को भी अंजाम दें।
मेरे लिए यह प्रस्ताव अपने स्वप्न के साकार होने जैसा था।

मैं हृदय से आभारी हूँ श्री #अनादिचतुर्वेदी और सुश्री #रेचल का.. आपने और आपके प्रोडक्शन हाउस #रेजोनेंसडिजिटल की टीम ने इस विषय की आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए कहानी, संवाद, चरित्र चित्रण, सेट, कॉस्टूम, लोकेशंज़, छायांकन, संगीत पर बहुत बारीक और गुणवत्ता पूर्ण कार्य किया है।
आप लोग एक रचनाधर्मी के रूप में जितने सिद्ध हैं, एक व्यक्ति के रूप में भी उतने ही शुद्ध भी हैं। मेरी इच्छा है कि आपके साथ बना मेरा ये रचनात्मक रिश्ता सदैव चलता रहे।

आप सभी मित्रों शुभचिंतकों प्रशंसकों से #औरंगज़ेब का फ़र्स्ट लुक शेयर करते हुए अभिभूत हूँ।
आशा है आपका स्नेह, शुभकामनाएँ और आशीर्वाद मुझे सदैव मिलता रहेगा। आप सभी के मंगल की कामना के साथ सादर प्रणाम~#आशुतोष_राणा

“छत्ता तोरे राज में धक-धक धरती होय।
जित जित घोड़ा मुख करे उत-उत फत्ते होय॥”

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक, प्रेरणात्मक - Inspiration, भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

“भागीरथ”वर्ष 1899-1900 में राजस्थान में एक बदनाम अकाल पड़ा था…विक्रम संवत १९५६ (1956) में ये अकाल पड़ने के कारण राजस्थान में इसे छप्पनिया-काळ कहा जाता है…एक अनुमान के मुताबिक इस अकाल से राजस्थान में लगभग पौने-दो करोड़ लोगों की मृत्यु हो गयी थी…पशु पक्षियों की तो कोई गिनती नहीं है…लोगों ने खेजड़ी के वृक्ष की छाल खा-खा के इस अकाल में जीवनयापन किया था…यही कारण है कि राजस्थान के लोग अपनी बहियों (मारवाड़ी अथवा महाजनी बही-खातों) में पृष्ठ संख्या 56 को रिक्त छोड़ते हैं…छप्पनिया-काळ की विभीषिका व तबाही के कारण राजस्थान में 56 की संख्या अशुभ मानी है….इस दौर में बीकानेर रियासत के यशस्वी महाराजा थे… गंगासिंह जी राठौड़(बीका राठौड़ अथवा बीकानेर रियासत के संस्थापक राव बीका के वंशज)….अपने राज्य की प्रजा को अन्न व जल से तड़प-तड़प के मरता देख गंगासिंह जी का हृदय द्रवित हो उठा…. गंगासिंह जी ने सोचा क्यों ना बीकानेर से पँजाब तक नहर बनवा के सतलुज से रेगिस्तान में पानी लाया जाए ताकि मेरी प्रजा को किसानों को अकाल से राहत मिले…नहर निर्माण के लिए गंगासिंह जी ने एक अंग्रेज इंजीनियर आर जी कनेडी (पँजाब के तत्कालीन चीफ इंजीनियर) ने वर्ष 1906 में इस सतलुज-वैली प्रोजेक्ट की रूपरेखा तैयार की…लेकिन….बीकानेर से पँजाब व बीच की देशी रियासतों ने अपने हिस्से का जल व नहर के लिए जमीन देने से मना कर दिया…. नहर निर्माण में रही-सही कसर कानूनी अड़चनें डाल के अंग्रेजों ने पूरी कर दी…महाराजा गंगासिंह जी ने परिस्थितियों से हार नहीं मानी और इस नहर निर्माण के लिए अंग्रेजों से एक लंबी कानूनी लड़ाई लड़ी और जीती भी…बहावलपुर (वर्तमान पाकिस्तान) रियासत ने तो अपने हिस्से का पानी व अपनी ज़मीन देने से एकदम मना कर दिया…महाराजा गंगासिंह जी ने जब कानूनी लड़ाई जीती तो वर्ष 1912 में पँजाब के तत्कालीन गवर्नर सर डैंजिल इबटसन की पहल पर दुबारा कैनाल योजना बनी…लेकिन…किस्मत एक वार फिर दगा दे गई…इसी दरमियान प्रथम विश्वयुद्ध शुरू हो चुका था…4 सितम्बर 1920 को बीकानेर बहावलपुर व पँजाब रियासतों में ऐतिहासिक सतलुज घाटी प्रोजेक्ट समझौता हुआ…महाराजा गंगासिंह जी ने 1921 में गंगनहर की नींव रखी…26 अक्टूम्बर 1927 को गंगनहर का निर्माण पूरा हुआ….हुसैनवाला से शिवपुरी तक 129 किलोमीटर लंबी ये उस वक़्त दुनियाँ की सबसे लंबी नहर थी…गंगनहर के निर्माण में उस वक़्त कुल 8 करोड़ रुपये खर्च हुए…गंगनहर से वर्तमान में 30 लाख हेक्टेयर भूमि की सिंचाई होती है…इतना ही नहीं…वर्ष 1922 में महाराजा गंगासिंह जी ने बीकानेर में हाई-कोर्ट की स्थापना की… इस उच्च-न्यायालय में 1 मुख्य न्यायाधीश के अलावा 2 अन्य न्यायाधीशों की नियुक्ति भी की…इस प्रकार बीकानेर देश में हाई-कोर्ट की स्थापना करने वाली प्रथम रियासत बनी…वर्ष 1913 में महाराजा गंगासिंह जी ने चुनी हुई जनप्रतिनिधि सभा का गठन किया…महाराजा गंगासिंह जी ने बीकानेर रियासत के कर्मचारियों के लिए एंडोमेंट एश्योरेंस स्कीम व जीवन बीमा योजना लागू की…महाराजा गंगासिंह जी ने निजी बैंकों की सुविधाएं आम नागरिकों को भी मुहैय्या करवाई…महाराजा गंगासिंह जी ने बाल-विवाह रोकने के लिए शारदा एक्ट कड़ाई से लागू किया….महाराजा गंगासिंह जी ने बीकानेर शहर के परकोटे के बाहर गंगाशहर नगर की स्थापना की….बीकानेर रियासत की इष्टदेवी माँ करणी में गंगासिंह जी की अपने पूर्व शासकों की भाँति अपार आस्था थी… इन्होंने देशनोक धाम में माँ करणी के मंदिर का जीर्णोद्धार भी करवाया…महाराजा गंगासिंह जी की सेना में गंगा-रिसाला नाम से ऊँटों का बेड़ा भी था… इसी गंगा-रिसाला ऊँटों के बेड़े के साथ महाराजा गंगासिंह जी ने प्रथम व द्वितीय विश्वयुद्ध में अदम्य साहस शौर्य वीरता से युद्ध लड़े… इन्हें ब्रिटिश हुकूमत द्वारा उस वक़्त सर्वोच्च सैन्य-सम्मान से भी नवाजा गया…गंगासिंह जी के ऊँटों का बेड़ा गंगा-रिसाला आज सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) की शान है…. व देश सेवा में गंगा-रिसाला हर वक़्त मुस्तैद है….(बीकानेर महाराजा करणीसिंह… निशानेबाजी में भारत के प्रथम अर्जुन पुरस्कार विजेता)…(वर्तमान में करणीसिंह जी की पौत्री व बीकानेर राजकुमारी सिद्धि कुमारी जी (सिद्धि बाईसा) बीकानेर से भाजपा विधायक है)….कहते हैं माँ गंगा को धरती पे राजा भागीरथ लाये थे इसलिए गंगा नदी को भागीरथी भी कहा जाता है…21 वर्षों के लंबे संघर्ष और कानूनी लड़ाई के बाद महाराजा गंगासिंह जी ने अकाल से जूझती बीकानेर/राजस्थान की जनता के लिए गंगनहर के रूप रेगिस्तान में जल गंगा बहा दी थी…गंगनहर को रेगिस्तान की भागीरथी कहा जाता है…इसलिए…महाराजा गंगासिंह जी को मैं कलयुग का भागीरथ कहूँ तो इसमें अतिशयोक्ति नहीं होगी!!!!….चित्र- गंगा नहर परियोजना की खुदाई के दुर्लभ चित्र उस समय ऊँटगाड़ो की सहायता से नहर खुदाई का कार्य सम्पन्न हुआ था। नमन है उन कामगारों को जिनकी मदद से आज वीरान राजस्थान हरा भरा हुआ है।

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक, भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

સરદાર પટેલના જીવનનાો પ્રેરક પ્રસંગ

ક્યારેક ક્યારેક ભારત અને ગુજરાતમાં છોટે, મોટે કે ખોટે સરદાર ફૂટી નીકળે છે પણ હિન્દુસ્તાનના ઈતિહાસમાં સરદાર શબ્દનો માત્ર એક અર્થ થાય છે- સરદાર વલ્લભભાઈ પટેલ. પાંચસોથી વધુ રાજ્યોનું ભારતીય સંઘમાં વિલીનીકરણ એ સરદારના જીવનની સૌથી મોટી સિદ્ધી છે. આજનો હિન્દુસ્તાનનો નકશો સરદારની મહેનતને આભારી છે. સરદારે જે કરી બતાવ્યુ એ માત્ર હિન્દુસ્તાનના નહીં પણ કદાચ વિશ્વના ઈતિહાસની સૌથી વિરલ ઘટના હતી. સરદારની કુનેહ જોઈને વિશ્વના ભલભલા પંડિતો અને સાશકો મોંમાં આંગળા નાખી ગયા હતા. વિશ્વમાં કોઈને એ વાતનો વિશ્વાસ નહોતો આવતો કે કોઈ મોટી લડાઈઓ કર્યા વિના પણ રાજાઓને લોકશાહીમાં ભેળવી શકે.
કેટલીક ખોટી માહિતીના આધારે જામસાહેબ પાકિસ્તાનમાં જોડાવા ઉત્સુક હતા. આ હેતુ માટે તેઓએ જિન્હાને મળવાનું નક્કી કર્યં હતું અને ખાનગી વિમાનમાં દિલ્હીથી કરાંચી જવાનો કાર્યક્રમ પણ ગોઠવી દીધો હતો, પરંતુ તેઓ કરાંચી જવા ઊપડે તે પહેલાં જ સરદારને આ અંગે માહિતી મળી ગઈ. સરદારે તાબડતોબ જામસાહેબના નાના ભાઈ મેજર જનરલ હિંમતસિંહને બોલાવ્યા. હિંમતસિંહ સરદારને મળ્યાની પાંચ જ મિનિટમાં દિલ્હી અરપાર્ટ જવા રવાના થયાં. તેઓ પાછા આવ્યાં ત્યારે તેમની પાસે જામ સાહેબ પણ હતાં. સરદાર તેઓને એક કમરામાં લઈ ગયાં અને અડધો કલાક તેમની સાથે ગુફ્તેગુ કરી, સરદાર અને જામની એ અડધો કલાકની ચર્ચાએ સૌરાષ્ટ્ર, ગુજરાત અને ભારતનો નકશો પલટાવી દીધો. જો જામસાહેબ પાકિસ્તાનમાં જોડાયા હોત તો તેમની દોરવણીથી અન્ય અનેક રજવાડાઓ પાકિસ્તાનમાં જોડાયા હોત, પરંતુ સરદાર પટેલની ત્વરિત નિર્ણયશક્તિએ જામનગરને પાકિસ્તાનમાં જતું અટકાવ્યું આવા સરદાર પટેલના પુત્રી મણિબહેનની સાડીમાં મોટાં થીગડાં જોઈ એક દિવસ મહાવીર ત્યાગીએ મજાક કરી, ‘‘તમે એવા બાપની દીકરી છો, જેઓએ એવા અખંડ ભારતની સ્થાપના કરી છે, જે અશોક, મોગલો કે અંગ્રેજોનું પણ ન હતું. આવા બાપની દીકરી થઈ તમે થીગડાં મારેલાં કપડાં પહેરતાં શરમાતાં નથી ?’’ આ સાંભળી

સરદાર તાડૂક્યા, ‘એ ગરીબ બાપની દીકરી છે. સારાં કપડાં ક્યાંથી લાવે ? અને એનો બાપ કાંઈ થોડું કમાય છે ?’ આવું કહીને સરદારે એમના 20 વર્ષ જૂના ચશ્માનું ખોખું બતાવ્યું. એક જ દાંડીવાળાં ચશ્માં બતાવ્યાં. ઘડિયાળ બતાવી, જે ત્રણ દાયકા જૂની હતી અને પેન બતાવી તે દસ વર્ષ જૂની હતી. આજીવન કોંગ્રેસ પાર્ટીના ખજાનચી રહેલો આ પાવરફૂલ પટેલ ભાયડો, જે ભારતવર્ષનો નાયબ વડાપ્રધાન હતો. એ ગુજરી ગયો ત્યારે મિલકતમાં હાથે કાંતેલા કપડા, ૩૦ વર્ષ જૂની એક ઘડિયાળ, તૂટેલી દાંડી સાંધેલા ચશ્મા મુકતો ગયો !

સરદારની સતત સાથે રહેલા દીકરી મણીબહેને ૧૯૮૫માં એક ઇન્ટરવ્યુમાં કહેલું કે મૃત્યુના ત્રણ દિવસ પહેલાં ૧૨ ડિસેમ્બરે સરદાર દિલ્હીથી મુંબઇ જવા નીકળેલા, ત્યારે મણિબહેનને બોલાવીને એક બોક્સ આપેલું. સૂચના આપી કે મને કંઇ થાય તો આ બોક્સ જવાહરને પહોંચતું કરવું. આમાં જે કંઇ છે, એ કોંગ્રેસનું છે. સરદારના નિધન પછી થોડા દિવસે મણિબહેન નહેરૂને મળવા ગયા. ઉઘાડયા વિનાનું બંધ બોક્સ એમને આપ્યું. પેટી એમની હાજરીમાં જ ઉઘાડવામાં આવી. એમાં (એ જમાનાના) ૨૦ લાખથી વઘુ રૂપિયા હતા. જેનો ઉપયોગ નહેરૂએ ૧૯૫૨ની પ્રથમ લોકસભાની ચૂંટણીમાં પક્ષને જીતાડવા કર્યો હતો ! સરદાર નાયબ વડા પ્રધાન હતા ત્યારે વી. શંકર એમના અંગત સચિવ હતા. તેઓએ સરદારના પક્ષ વ્યવહારનાં બે પુસ્તકો પ્રસિદ્ધ કર્યાં છે. એમણે લખ્યું છે, “અંગત ઉપયોગ માટે થતાં ફોનનું અલગ રજિસ્ટર રાખવામાં આવતું અને સરદાર પોતાના ખિસ્સામાંથી એ રકમ ભરપાઈ કરતાં… ખાનગી કામ માટે સરકારી વાહનનો ઉપયોગ સરદાર નહોતા કરતા. પોતાની જૂની અંગત ગાડી વાપરતા… પક્ષ તેમ જ ખાનગી પત્રવ્યવહારનો ખર્ચ પોતે ભોગવતા… સરકારી પ્રવાસ કરે તો પણ પ્રવાસભથ્થું લેતાં નહોતાં… નાદુરસ્ત તબિયત હોવા છતાં રોજના ૧૮ કલાક કામ કરતાં… નહેરુ વિદેશ ગયેલા, એ સમયગાળામાં સરદાર વડા પ્રધાનપદનો હવાલો સંભાળતા હતા… સરદારે પ્રધાનો અને કર્મચારીઓના પગારમાં ૧૫ ટકા કાપ મૂક્યો અને દરેક સરકારી ખાતાંને કરકસર કરવાની સૂચના આપી. એનાથી લગભગ રૂપિયા ૮૦ કરોડની બચત થઈ હતી. આ આંકડો વર્ષ ૧૯૪૯નો છે. આજે કરકસરની વાત તો બાજુ પર રહી, પણ બેફામ ખર્ચની કોઈ સીમા રહી નથી.

આમ ગાંધીજીની જેમ સરદાર પણ આજીવન અકિંચન રહ્યા હતા. એમના અંતકાળે તેમની પાસે પોતાની અંગત મિલકત જેવું ગણાય તેમાં ચારેક જોડી કપડાં, બે જોડી ચંપલ, એક પતરાંની બેગ, રેંટિયો, બે ટિફિન, એલ્યુમિનિયમનો લોટો અને સગડી હતાં જે અમદાવાદમાં શાહીબાગ ખાતે આવેલા સરદાર સ્મારકમાં એમની સ્મૃતિરૂપે આજે પણ જળવાઈ રહ્યાં છે. આજે દેશના પ્રધાનોની સંપત્તિ બેસુમાર વધતી જાય છે ત્યારે સરદાર સાહેબે તેમનાં પુત્રી માટે એક મકાન સુદ્ધાં બનાવ્યું નહોતું.

चिमन भल्ला

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक, भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

80 साल की उम्र के राजपूत राजा छत्रसाल जब मुगलों से घिर गए, और बाकी राजपूत राजाओं से कोई उम्मीद ना थी तो उम्मीद का एक मात्र सूर्य था “ब्राह्मण बाजीराव पेशवा” एक राजपुत ने एक ब्राह्मण को खत लिखा:-

जो गति ग्राह गजेंद्र की सो गति भई है आज!

बाजी जात बुन्देल की बाजी राखो लाज!

(जिस प्रकार गजेंद्र हाथी मगरमच्छ के जबड़ो में फंस गया था ठीक वही स्थिति मेरी है, आज बुन्देल हार रहा है, बाजी हमारी लाज रखो)।

ये खत पढ़ते ही बाजीराव खाना छोड़कर उठ गए। उनकी पत्नी ने कहा खाना तो खा लीजिए। तब बाजीराव ने कहा ‘अगर मुझे पहुँचने में देर हो गई तो इतिहास लिखेगा कि एक क्षत्रिय राजपूत ने मदद मांगी और ब्राह्मण भोजन करता रहा।” ऐसा कहते हुए भोजन की थाली छोड़कर बाजीराव अपनी सेना के साथ राजा छत्रसाल की मदद को बिजली की गति से दौड़ पड़े।

दस दिन की दूरी बाजीराव ने केवल 500 घोड़ों के साथ 48 घंटे में पूरी की, बिना रुके, बिना थके। ब्राह्मण योद्धा बाजीराव बुंदेलखंड आया और बंगस खान की गर्दन काट कर जब राजपूत राजा छत्रसाल के सामने गए तो छत्रसाल से बाजीराब बलाड़ को गले लगाते हुए कहा:-

जग उपजे दो ब्राह्मण: परशु ओर बाजीराव।

एक डाहि राजपुतिया, एक डाहि तुरकाव।।

(धरती पर 2 ही ब्राह्मण आये है एक परशुराम जिसने अहंकारी क्षत्रियों का मर्दन किया और दूसरा बाजीराव जिसने मलेछ जिहादी मुगलो का सर्वनाश किया है

Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

रावी नदी के ऊपर बना हुआ पुल पंजाब और जम्मू कश्मीर राज्य को जोड़ता है। हजारों सवारी गाड़ियाँ , हजारों लोग रोजाना गुजरते हैं उस पुल के उपर से होकर… बिना किसी परमिट के , बिना किसी अनुमति पत्र के।

परंतु बात उन दिनों की है जब जम्मू कश्मीर राज्य में प्रवेश करने के लिए परमिट लेना अनिवार्य था।
ऐसे में माँ भारती का एक सपूत डाॅ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने परमिट व्यवस्था को समाप्त कराने का प्रण लिया था।

उन्होंने नेहरू जी से एक सवाल किया था — “जब आप कहते हो कि जम्मू कश्मीर का भारत में 100% विलय हो चुका है तो फिर ये परमिट क्यों ? “

नेहरू निरूत्तर हो गये थे…….

इसके पहले मुखर्जी ने एक सभा में सिंह गर्जना करते हुए कहा था — ” जम्मू काश्मीर में एक निशान , एक विधान और एक प्रधान होना चाहिए , और इसे लागू करवाने के लिए यदि मेरे प्राण भी चले जाएँ तो मैं सहर्ष तैयार हूँ। “

मई 1953 में परमिट व्यवस्था के खिलाफ राज्य में बिना परमिट लिए प्रवेश करने का उन्होंने निर्णय किया।

8 मई को वे दिल्ली से एक पैसेंजर ट्रेन से माधोपुर (पंजाब) के लिए निकले , रास्ते में ट्रेन जहाँ भी रूकती, हजारों की संख्या में लोग उस योद्धा के दर्शन के लिए आते ।

… माधोपुर में बीस हजार लोग उनके स्वागत के लिए खड़े थे । उन्हें संबोधित करने के बाद वे कुछ साथियों के साथ आगे बढ़े।

जैसे ही रावी के पुल के आधे हिस्से को पार किया, पुलिस ने उनसे कहा — ” मि. मुखर्जी , यू आर अंडर अरेस्ट ,,, आप कश्मीर में बिना परमिट के नहीं जा सकते हैं।”
मुखर्जी साहब ने मुस्कराते हुए अटल जी की तरफ देखा और कहा – ” गो एंड टेल द पिपल आॅफ इंडिया, आई हैव एंटर्ड जम्मू एंड कश्मीर”

अटल जी की आँखें नम थीं।

मुखर्जी साहब ने हाथ में लिए तिरंगे को जेब में डाला और दूसरा हाथ अटल जी के कंधे पर रखते हुए कहा – ” मेरे साथ यह तिरंगा भी बिना परमिट के कश्मीर जा रहा है … जाओ यह खुशखबरी लोगों को दे देना।”
मुखर्जी साहब को गिरफ्तार करके कश्मीर ले जाया गया , एक छोटे से कमरे में कैद करके रखा गया …जहाँ बुनियादी सुविधाओं का नितांत अभाव था।
चालीस दिनों के बाद जून 1953 में देश के इस महान सपूत ने संदेहास्पद परिस्थितियों में अपने नश्वर शरीर का त्याग कर दिया।

मुखर्जी साहब का यूँ चले जाना किसी को समझ में नहीं आया था… सारा राष्ट्र शोक संतप्त हो गया था।
उस समय अखबारों में एक आलेख छपा था जिसका शीर्षक था — ” वह सफेद पुड़िया क्या थी ” ??

डॉ* मुखर्जी की बेटी सबिता मुखर्जी अपने पति के साथ उस स्थान पर गई जहाँ एक जेलनुमा कमरे में मुखर्जी साहब को रखा गया था।

वहाँ सबिता की मुलाकात एक पंजाबी हिन्दू नर्स से हुई जो उस समय ड्यूटी पर थी।

उसने बताया था कि एक डॉक्टर ने उससे कहा था कि यदि इनका दर्द , इंजेक्शन से ठीक ना हो तो यह पुड़िया दे देना।
इतना कहते ही वो नर्स रोने लगी और आगे कहा कि — ” मैंने दी ..और फिर मुखर्जी साहब हमेशा के लिए सो गये “।
डॉ मुखर्जी ने देश की खातिर अपना बलिदान दे दिया था …परमिट व्यवस्था खत्म हो चुकी थी …तिरंगा कश्मीर पहुँच चुका था।

आज 6 जुलाई है , डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी का जन्मदिन है।

जनसंघ के संस्थापक डॉ मुखर्जी 1901 में पैदा हुए थे…. और 1953 में उन्होंने अपना बलिदान दिया था।

भारत के इस सपूत के जन्मदिन के अवसर पर बारम्बार नमन।
🙏🙏

Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

हरदिनपावन

मुड़बद्री पर राज करने वाली रानी अबक्का चोटा जिस पर हमे गर्व होना चाहिए जो जैन धर्म का पालन करने वाली वीरांगना थी..🙏🏻🥁

साल था 1555 जब पुर्तगाली सेना कालीकट, बीजापुर, दमन, मुंबई जीतते हुए गोवा को अपना हेडक्वार्टर बना चुकी थी। टक्कर में कोई ना पाकर उन्होंने पुराने कपिलेश्वर मंदिर को ध्वस्त कर उस पर चर्च स्थापित कर डाली।

मंगलौर का व्यवसायिक बंदरगाह अब उनका अगला निशाना था। उनकी बदकिस्मती थी कि वहाँ से सिर्फ 14 किलोमीटर पर ‘उल्लाल’ राज्य था जहां की शासक थी 30 साल की रानी ‘अबक्का चौटा’ (Abbakka Chowta).।

पुर्तगालियों ने रानी को हल्के में लेते हुए केवल कुछ सैनिक उसे पकडने भेजा। लेकिन उनमेंसे कोई वापस नहीं लौटा। क्रोधित पुर्तगालियों ने अब एडमिरल ‘डॉम अल्वेरो ड-सिलवीरा’ (Dom Álvaro da Silveira) के नेतृत्व में एक बड़ी सेना भेजी। शीघ्र ही जख्मी एडमिरल खाली हाथ वापस आ गया। इसके बाद पुर्तगालियों की तीसरी कोशिश भी बेकार साबित हुई।

चौथी बार में पुर्तगाल सेना ने मंगलौर बंदरगाह जीत लिया। सोच थी कि यहाँ से रानी का किला जीतना आसान होगा, और फिर उन्होंने यही किया। जनरल ‘जाओ पिक्सीटो’ (João Peixoto) बड़ी सेना के साथ उल्लाल जीतकर रानी को पकड़ने निकला।

लेकिन यह क्या..?? किला खाली था और रानी का कहीं अता-पता भी ना था। पुर्तगाली सेना हर्षोल्लास से बिना लड़े किला फतह समझ बैठी। वे जश्न में डूबे थे कि रानी अबक्का अपने चुनिंदा 200 जवान के साथ उनपर भूखे शेरो की भांति टूट पड़ी।

बिना लड़े जनरल व अधिकतर पुर्तगाली मारे गए। बाकी ने आत्मसमर्पण कर दिया। उसी रात रानी अबक्का ने मंगलौर पोर्ट पर हमला कर दिया जिसमें उसने पुर्तगाली चीफ को मारकर पोर्ट को मुक्त करा लिया।

अब आप अन्त जानने में उत्सुक होंगे..??

रानी अबक्का के देशद्रोही पति ने पुर्तगालियों से धन लेकर उसे पकड़वा दिया और जेल में रानी विद्रोह के दौरान मारी गई।

क्या आपने इस वीर रानी अबक्का चौटा के बारे में पहले कभी सुना या पढ़ा है..?? जैन कुल की इस रानी के बारे में जो चार दशकों तक विदेशी आततायियों से वीरता के साथ लड़ती रही, हमारी पाठ्यपुस्तकें चुप हैं। अगर यही रानी अबक्का योरोप या अमेरिका में पैदा हुई होती तो उस पर पूरी की पूरी किताबें लिखी गई होती।

इस कहानी से दो बातें साफ हैं..

हमें हमारे गौरवपूर्ण इतिहास से जानबूझ कर वन्चित रखा गया है। मैं भी रानी अबक्का चौटा के बारे में उस समय ही जान पाया जब मैं कर्नाटक की कहानी पढ़ रहा था, व हमारी 1000 साल की दासता अपने ही देशवासियों (भितरघातियों) के विश्वासघात का नतीजा है। दुर्भाग्य से यह आज भी यथावत है..🙏😢

साभार :- विद्रोहिणी आर्या जी की वॉल से..🙏🙏🚩
Valam Meghwal जी
सलोनी यादव की टाइम लाइन से साभार

Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

Good Morning… 2

માણસે સફળ થવું હોય તો કલ્પનાશીલ બનવું જરૂરી છે. ધ્યાન રાખજો, સપનાં અલગ છે અને કલ્પના અલગ છે. (ભલે એ બંને તમારી ક્લાસમેટસ્ હોય…)
મૂળ વાત, કલ્પનાશક્તિ વધારવા ભૂતકાળના અનુભવો, વાંચન, રખડવાનો ક્વોટા હોવો જરૂરી છે. સોનાના પર્વતની ડિઝાઇન વિચારવા સોનું અને પર્વત અનુભવવા જરૂરી છે…
યાદ છે પેલી પંચતંત્રની વાર્તા?
કરાલમુખ નામનો મગર અને રક્તમુખ નામનો વાંદરો પાક્કા મિત્રો હતાં, વાંદરો રોજ મગરને જાંબુ ખવડાવતો. મગર ઘરે લઇ જઇને મગરીને ખવડાવે. મગરની પત્નિ જાંબુના મીઠા સ્વાદથી પ્રભાવિત થઇને વાંદરાનું કાળજું માંગ્યું.
મગરે વાંદરાને ભોજન માટે આમંત્રણ આપ્યું, પાણીમાં પીઠ પર બેસાડીને જતો હતો. સ્વભાવગત બોલી નાખ્યું કે તારું કાળજું જોઈએ છે. વાંદરાએ હોંશિયારી કરી અને કાળજું તો ઝાડ પર મૂકીને આવ્યો છે. તારે કાળજું ખાવું હોય તો પહેલેથી કહેવું હતું ને? ચાલ આપણે લઇ આવીએ…
મગર વાંદરાને લઇને પરત લઇ જાય છે, ઝાડ પર ચડીને વાંદરો મગરને કહે છે કે કોઇને બે કાળજા હોય? મુરખ, તારી જોડે સંબંધ ન રખાય.
મગરને ભૂલ સમજાતા હું તો ગમ્મત કરતો હતો વાળી આધુનિક ટ્યુન વગાડે છે. વાંદરાએ ફરી મગરને ખખડાવ્યો….
મગરે પૂછ્યું કે તું આટલો હોંશિયાર કેમ? વાંદરાએ એક પછી એક પંદર જેટલી વાર્તાઓ કહી દીધી….
પંચતંત્રની આ વિશેષતા છે કે એક વાર્તા શરૂ થાય અને તેમાંથી વાર્તાઓનો દોર શરૂ થાય….
વાંદરાએ કહેલી વાર્તાઓ…
એક કરાલકેસર નામનો સિંહ હતો, હાથી જોડે બબાલ થતાં સારો એવો મેથીપાક પડ્યો હતો. સિંહના ચમચા એવા ધૂસરસ નામના શિયાળે સિંહ પાસે ખોરાક લાવવાનું નક્કી કર્યું.
શિયાળ લંબકર્ણ નામના એક ગધેડા પાસે ગયો.
ગધેડાને સમજાવ્યો કે તું હેન્ડસમ છે, જંગલમાં બે ગધેડીઓ સાથે તારા લગ્ન થઈ શકે તેમ છે. ગધેડો જંગલમાં ગયો, સિંહ હુમલો કર્યો પણ ગધેડો બચી ગયો.
શિયાળ પાછો ગધેડા પાસે ગયો અને સમજાવ્યો કે તને જોઇને તારી પ્રિયતમા તને ગળે લાગવા માંગતી હતી. ગધેડો પાછો જંગલમાં આવ્યો અને સિંહનો શિકાર બન્યો.
સિંહ શિકાર કરીને નદી કિનારે નહાવા ગયો તો શિયાળે ગધેડાનું દિલ અને કાનનું ભોજન કરી દીધું. સિંહે આવીને જોયું તો કાન અને દિલ ગાયબ…
શિયાળ પર ગુસ્સો થયો, શિયાળે કહ્યું કે આ મુરખ પાસે કાન અને દિલ હોત તો ફરીથી આવ્યો હોત? સિંહે શિયાળનો ભાગ પણ આપ્યો… કુછ સમજે?
બાકી વાર્તાઓ પંચતંત્રમાં વાંચી લેજો. કેટલીક વાર્તાઓ ત્યાંથી અહીં આવી તો ઘણી કહાનીઓ ભારતથી વાયા ફારસી દુનિયાભરમાં ગઇ….
બાય ધ વે, ભારતીય પંચતંત્રનો અનુવાદ ઇરાનના રાજાએ પાંચમી સદીમાં કરાવ્યો હતો. એ પણ ઇન્ટરેસ્ટિંગ સ્ટોરી છે…
ઈરાનમાં એક રાજા હતો, નૌશિરવાં. તેના દરબારમાં બુર્ઝો નામનો વિદ્વાન હતો. બુર્ઝો માનતો કે ભારતના કોઈ પર્વત પર અમર થઈ શકાય એવી ઔષધ છે. તે ભારત આવ્યો પણ એવી ઔષધ મળી નહીં. પોતાના રાજાને શું કહેશે એ ચિંતામાં તેણે એક વૃદ્ધ વિદ્વાનની મદદ લીધી. આ વિદ્વાને બુર્ઝોને પંચતંત્રની વાર્તાઓ કહી, જે બુર્ઝોએ લખી લીધી. આ વાર્તામાં ચિન્તા દૂર કરવાની વાતો હતી. સમસ્યાઓ ન રહે તો માણસ આપોઆપ તંદુરસ્ત રહી શકે….
બુર્ઝોએ ઇરાનની ભાષામાં ટ્રાન્સલેટ કરી અને તેમાંથી ઇબનુલ મુફ્કા નામની વ્યક્તિએ ફારસીમાં અનુવાદ કર્યો.
ફારસી ભાષામાંથી ગ્રીક અનુવાદ થયો. ગ્રીકમાંથી જર્મન અને લેટિન ભાષામાં અનુવાદ થયો, જેમાંથી પંદરમી સોળમી સદી સુધીમાં અંગ્રેજી અનુવાદ થયો….
પંચતંત્રનો પોતપોતાની શૈલીમાં દુનિયાભરની ભાષામાં ભાષાંતર થયું, વાર્તાઓમાં નાના મોટા ફેરફારો થયા, વિદેશ જ નહીં પણ ભારતીય ભાષાઓમાં પણ દરેક સંસ્કૃતિ ઉમેરાતી ગઇ.
આખું યુરોપ જેનું ગૌરવ કરે છે એ ઇશપ કથાઓ પણ પંચતંત્રનું એક સ્વરૂપ છે…. પંચતંત્રની વાર્તાઓ શા માટે લખવામાં આવી? ભૂતકાળના અનુભવ પરથી ભવિષ્યના સ્વપ્ન શણગારી શકાય…
મૂળ વાત, મનુષ્ય અન્ય પ્રાણીઓથી અલગ કેવી રીતે છે? માણસ પાસે એક કળા છે, “કલ્પના કરવાની ક્ષમતા”… ઇમેજીનેશન…
માણસ કલ્પના કેવી રીતે કરે છે? ભૂતકાળ તમે જાણ્યું છે, સમજ્યા છો એ તમારી મેમરી છે… જ્યારે માણસ મેમરીનો ઉપયોગ અજાણ્યા ભવિષ્ય માટે કરે એને કલ્પના કહી શકાય… ક્રિટિકલ કેસમાં ડોક્ટરો આવું નહિ કરતા હોય? આપણે રેફરન્સ લઇને પગલું ભરીએ છીએ એ શું છે? મિન્સ કલ્પના કરવા માટે ભૂતકાળના અનુભવો જરૂરી છે…
વાર્તાઓ તો ઇમેજીનેશન કરવા માટે પહેલું ભાથું છે….

Deval Shastri🌹

Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

सत्य नारायण


जिसके पिता ने लिखी सत्यनारायण कथा, उसके 3 बेटों ने ‘इज्जत लूटने वाले’ अंग्रेज को मारा और चढ़ गए फाँसी पर
आज अगर कोई कहे कि घर में पूजा है, तो ये माना जा सकता है कि “सत्यनारायण कथा” होने वाली है। ऐसा हमेशा से नहीं था। दो सौ साल पहले के दौर में घरों में होने वाली पूजा में सत्यनारायण कथा सुनाया जाना उतना आम नहीं था। हरि विनायक ने कभी 1890 के आस-पास स्कन्द पुराण में मौजूद इस संस्कृत कहानी का जिस रूप में अनुवाद किया, हमलोग लगभग वही सुनते हैं। हरि विनायक की आर्थिक स्थिति बहुत मजबूत नहीं थी और वो दरबारों और दूसरी जगहों पर कीर्तन गाकर आजीविका चलाते थे।
कुछ तो आर्थिक कारणों से और कुछ अपने बेटों को अपना काम सिखाने के लिए उन्होंने अपनी कीर्तन मंडली में अलग से कोई संगीत बजाने वाले नहीं रखे। उन्होंने अपने तीनों बेटों को इसी काम में लगा रखा था। दामोदर, बालकृष्ण और वासुदेव को इसी कारण कोई ख़ास स्कूल की शिक्षा नहीं मिली। हाँ ये कहा जा सकता है कि संस्कृत और मराठी जैसी भाषाएँ इनके लिए परिवार में ही सीख लेना बिलकुल आसान था। ऊपर से लगातार दरबार जैसी जगहों पर आने-जाने के कारण अपने समय के बड़े पंडितों के साथ उनका उठना-बैठना था। दामोदर हरि अपनी आत्मकथा में भी यही लिखते हैं कि दो चार परीक्षाएँ पास करने से बेहतर शिक्षा उन्हें ज्ञानियों के साथ उठने-बैठने के कारण मिल गई थी।
आज अगर पूछा जाए तो हरि विनायक को उनके सत्यनारायण कथा के अनुवाद के लिए तो नहीं ही याद किया जाता। उन्हें उनके बेटों की वजह से याद किया जाता है। सर्टिफिकेट के आधार पर जो तीनों कम पढ़े-लिखे बेटे थे और अपनी पत्नी के साथ हरि विनायक पुणे के पास रहते थे। आज जिसे इंडस्ट्रियल एरिया माना जाता है, वो चिंचवाड़ उस दौर में पूरा ही गाँव हुआ करता था। 1896 के अंत में पुणे में प्लेग फैला और 1897 की फ़रवरी तक इस बीमारी ने भयावह रूप धारण कर लिया। ब्युबोनिक प्लेग से जितनी मौतें होती हैं, पुणे के उस प्लेग में उससे दोगुनी दर से मौतें हो रही थीं। तब तक भारत के अंतिम बड़े स्वतंत्रता संग्राम को चालीस साल हो चुके थे और फिरंगियों ने पूरे भारत पर अपना शिकंजा कस रखा था।
अंग्रेजों को दहेज़ में मिले मुंबई (तब बॉम्बे) के इतने पास प्लेग के भयावह स्वरूप को देखते हुए आईसीएस अधिकारी वॉल्टर चार्ल्स रैंड को नियुक्त किया गया। उसके प्लेग नियंत्रण के तरीके दमनकारी थे। उसके साथ के फौजी अफसर घरों में जबरन घुसकर लोगों में प्लेग के लक्षण ढूँढते और उन्हें अलग कैंप में ले जाते। इस काम के लिए वो घरों में घुसकर औरतों-मर्दों सभी को नंगा करके जाँच करते। तीनों भाइयों को साफ़ समझ में आ रहा था कि महिलाओं के साथ होते इस दुर्व्यवहार के लिए वॉल्टर रैंड ही जिम्मेदार है। उन्होंने देशवासियों के साथ हो रहे इस दमन के विरोध में वाल्टर रैंड का वध करने की ठान ली।
थोड़े समय बाद (22 जून 1897 को) रानी विक्टोरिया के राज्याभिषेक की डायमंड जुबली मनाई जाने वाली थी। दामोदर, बालकृष्ण और वासुदेव ने इसी दिन वॉल्टर रैंड का वध करने की ठानी। हरेक भाई एक तलवार और एक बन्दूक/पिस्तौल से लैस होकर निकले। आज जिसे सेनापति बापत मार्ग कहा जाता है, वो वहीं वॉल्टर रैंड का इन्तजार करने वाले थे मगर ढकी हुई सवारी की वजह से वो जाते वक्त वॉल्टर रैंड की सवारी को पहचान नहीं पाए। लिहाजा अपने हथियार छुपाकर दामोदर हरि ने लौटते वक्त वॉल्टर रैंड का इंतजार किया। जैसे ही वॉल्टर रवाना हुआ, दामोदर हरि उसकी सवारी के पीछे दौड़े और चिल्लाकर अपने भाइयों से कहा “गुंडया आला रे!”
सवारी का पर्दा खींचकर दामोदर हरि ने गोली दाग दी। उसके ठीक पीछे की सवारी में आय्रेस्ट नाम का वॉल्टर का ही फौजी एस्कॉर्ट था। बालकृष्ण हरि ने उसके सर में गोली मार दी, जिससे उसकी फ़ौरन मौत हो गयी। वॉल्टर फ़ौरन नहीं मरा था, उसे ससून हॉस्पिटल ले जाया गया और 3 जुलाई 1897 को उसकी मौत हुई। इस घटना की गवाही द्रविड़ बंधुओं ने दी थी। उनकी पहचान पर दामोदर हरि गिरफ्तार हुए और उन्हें 18 अप्रैल 1898 को फाँसी दी गई। बालकृष्ण हरि भागने में कामयाब तो हुए मगर जनवरी 1899 को किसी साथी की गद्दारी की वजह से पकड़े गए। बालकृष्ण हरि को 12 मई 1899 को फाँसी दी गई।
भाई के खिलाफ गवाही देने वाले द्रविड़ बंधुओं का वासुदेव हरि ने वध कर दिया था। अपने साथियों महादेव विनायक रानाडे और खांडो विष्णु साठे के साथ उन्होंने उसी शाम (9 फ़रवरी 1899) को पुलिस के चीफ कॉन्स्टेबल रामा पांडू को भी मारने की कोशिश की, मगर पकड़े गए। वासुदेव हरि को 8 मई 1899 और महादेव रानाडे को 10 मई 1899 को फाँसी दी गई। खांडो विष्णु साठे उस वक्त नाबालिग थे इसलिए उन्हें दस साल कैद-ए-बामुशक्कत सुनाई गई।
मैंने स्कूल के इतिहास में भारत का स्वतंत्रता संग्राम पढ़ते वक्त दामोदर चापेकर, बालकृष्ण चापेकर और वासुदेव चापेकर की कहानी नहीं पढ़ी थी। जैसे पटना में सात शहीदों की मूर्ती दिखती है, वैसे ही चापेकर बंधुओं की मूर्तियाँ पुणे के चिंचवाड़ में लगी हैं। उनकी पुरानी किस्म की बंदूकें देखकर जब हमने पूछा कि ये क्या 1857 के सेनानी थे? तब चापेकर बंधुओं का नाम और उनकी कहानी मालूम पड़ी। भारत के स्वतंत्रता संग्राम को अहिंसक साबित करने की जिद में शायद इनका नाम किताबों में शामिल करना उपन्यासकारों को जरूरी नहीं लगा होगा। काफी बाद में (2018) भारत सरकार ने दामोदर हरि चापेकर का डाक टिकट जारी किया है।
बाकी इतिहास खंगालिएगा भी तो चापेकर के किए अनुवाद से पहले, सत्यनारायण कथा के पूरे भारत में प्रचलित होने का कोई पुराना इतिहास नहीं निकलेगा। चापेकर बंधुओं को किताबों और फिल्मों आदि में भले कम जगह मिली हो, धर्म अपने बलिदानियों को कैसे याद रखता है, ये अगली बार सत्यनारायण की कथा सुनते वक्त जरूर याद कर लीजिएगा। धर्म है, तो राष्ट्र भी है!

साभार K P Singh Saroha jee ka Post

🙏🌹