Posted in भारतीय उत्सव - Bhartiya Utsav

देव दीपावली का महत्व


जय श्री कृष्णा
कार्तिक माह शुक्ल पक्ष पूर्णिमा  विक्रम सम्वत 2074  शनिवार  पावन देव दीपावली 4 नवम्बर 2017 पर आपको सपरिवार हार्दिक शुभ मंगल कामनाएं* 
शुभेच्छु जबरचन्द सोनी…
 
” देव दीपावली का महत्व”

1.जब कार्तिक अमावस्या की रात को पृथ्वी लोक में बड़ी धूमधाम से दीपावली मनाई जाती है तो उस दिन दीपावली पूजा में विष्णुप्रिया लक्ष्मी जी के साथ भगवान विष्णु की जगह गणेश जी की पूजा की जाती है।

इसका कारण यह है कि दीपावली चातुर्मास के मध्य पड़ती है, और उस समय भगवान श्री विष्णु चार मास के लिए योगनिद्रा में लीन रहते हैं। अत: दीपावली में लक्ष्मी जी श्रीहरि के बिना पधारती हैं। देवताओं में प्रथम पूज्य होने के कारण गणेशजी उनके साथ देव-समुदाय का प्रतिनिधित्व करते हैं। उस दिन कमला जयंती होने के कारण लक्ष्मी जी की पूजा-आराधना प्रमुख होती है

2.शास्त्रों के अनुसार, जब देवोत्थान एकादशी को भगवान विष्णु योगनिद्रा से जागते हैं, तब पूर्णिमा के दिन देवता दीपावली मनाते हैं, जिसमें माँ लक्ष्मी भगवान श्री नारायण के साथ विराजती हैं, और उनकी पूजा की जाती है ।
कहते है कि भगवान विष्णु के योगनिद्रा से जागने पर देवताओं ने प्रसन्न होकर पूर्णिमा को लक्ष्मी-नारायण की महाआरती करके दीपक जलाये थे इसी कारण इस दिन देव दीपावली मनाई जाती है।

3.शास्त्रों के अनुसार पृथ्वीवासियों द्वारा दीपावली मनाने के एक पक्ष अर्थात 15 दिनों के बाद बाद कार्तिक पूर्णिमा पर देवताओं की दीपावली होती है।

3.मान्यता है कि देव दीपावली को मनाने के लिए स्वर्ग से देवता गंगा नदी के पावन घाटों पर अदृश्य रूप में अवतरित होते हैं और सभी देव दीपक जलाते है। देव दीपावली के दिन ही दीपावली समारोह का अंत माना जाता है।

4.देव दीपावली वाराणसी शहर का प्रमुख त्यौहार है। देव दीपावली के दिन वाराणसी के घाटो पर हजारो दीपक प्रज्जवलित किये जाते है। इस दिन गंगा नदी के तट पर महा गंगा आरती और आतिशबाजी का आयोजन किया जाताहै । इस दिन काशी के घाटों का इतना सुन्दर नज़ारा होता है के ये घाट किसी देव लोक के समान प्रतीत होते है लगता है कि धरती पर स्वर्ग उतर आता है। जब गंगा नदी में दीपक प्रज्ज्वलित करके छोड़े जाते है तो वह दृश्य बहुत ही दिव्य, बहुत अलौकिक होता है । इस दिन देव दीपावली का हिस्सा बनने देश विदेश से हज़ारो भक्त वाराणसी की धरती पर आते है।

5.माना जाता है कि इस दिन संध्याकाल में जो मनुष्य अपने घरो को दीपक के प्रकाश से प्रकाशित करते है उनके जीवन के सभी अंधकार दूर हो जाते है उन्हें भगवान शिव, विष्णु जी और माँ लक्ष्मी जी की भी पूर्ण कृपा प्राप्त होती है, उनके घर कारोबार में सुख-समृद्धि और हर्ष का वास होता है। माँ लक्ष्मी ऐसे मनुष्यों के घरों में सदैव स्थाई रूप से निवास करती है ।
– इसीलिए इस दिन हर जातक को अपने घर के आँगन, मंदिर, घर में तुलसी के पौधे, बेल पत्र, आंवले तथा मंदिर में लगे पीपल के वृक्ष के नीचे, पानी वाले नल के पास, छत पर, चारदीवारी पर और घर के मुख्य द्वार के दोनों ओर दीपक अवश्य ही जलाना चाहिए।

–> देव दीपावली के दिन देसी घी या तिल के तेल से दीपक जलाना शुभ माना जाता है। अगर मौसम ठंडा हो तो घी की जगह तिल के तेल के दीपक जलाएं क्योंकि ठंडक होने पर घी जम जाता है और दीपक पूरी तरह से जल नहीं पाता है।

–> इस दिन संध्या के समय प्रदोष काल में एक थाली में दीपक जलाकर पहले उनका पूजन करें फिर ईश्वर से अपने घर परिवार पर कृपा बनाये रखने की प्रार्थना करते हुए उन दीपको से अपने पूरे घर को सजाएं। दीपक को रखते समय प्रत्येक दीपक के नीचे थोड़े से अक्षत के दाने रखकर दीपक को आसन अवश्य ही दें।
इस दिन किसी भी शिव मंदिर में शिवलिंग के निकट दीप जरूर जलाना चाहिए, यह कोशिश रहे की दीपक रात भर जलता रहे, इससे भगवान भोले नाथ की कृपा प्राप्त होती है, जिसके फलस्वरूप जातक के परिवार से रोग, दुर्घटना, और अकाल मृत्यु का भय दूर होता है ।
–> मान्यता है कि देव दीपावली के दिन दीपक दान करते हुए दीपक का मुख पूर्व या पश्चिम दिशा की ओर रखा जाना चाहिए। एक बात का और ध्यान रखे कि दीपक जलाते समय सर पर को किसी कपड़े, चुनरी या रूमाल से अवश्य ही ढकें ।

–>इस दिन कुछ विशेष प्रयोजनों के लिए भी दीपक जलाये जाते है । जैसे इस दिन दो मुखी दीपक जलाने सेआयु लंबी होती है।

–> देव दीपावली के दिन तीन मुखी दीपक जलाने से घर पर किसी की भी बुरी नजर नहीं पड़ती है।

–> देव दीपावली के दिन छह मुखी दीपक जलाने से घर में सुख शांति आती है, श्रेष्ठ संतान जह लेती है, संतान गुणवान, संस्कारी और आज्ञाकारी होती है ।

–>इस प्रकार जो भी जातक देव दीपावली के दिन अपने घर को प्रसन्नता पूर्वक दीपमाला से सजाते है उनपर देवताओं का पूर्ण आशीर्वाद होता है उनके लिए दुर्लभ से दुर्लभ वस्तु भी असाध्य नहीं होती है।
🙏जबरचन्दसोनी(प्र.अ.)
रा.बा.उ.प्रा.वि.डेण्डा.पाली🙏🏻

Advertisements
Posted in भारतीय उत्सव - Bhartiya Utsav

અષાઢી બીજ


👉👉 *ઉત્સવ વિશેષ*

-અષાઢી બીજે જગતના નાથ જગન્નાથની કર્ણાવતી નગરચર્યા (અમદાવાદ શહેર) ની 140 વર્ષની ઈતિહાસયાત્રા નો અનોખો ઇતિહાસ

-દર વર્ષની જેમ આ ‌વખતે પણ જગન્નાથની ભવ્યાતિભવ્ય રથયાત્રા નીકળશે અષાઢ ને કારણે વધુ લોકો જોડાશે. (દિલિપદાસજી મહારાજ, જગન્નાથ મંદિરના મહંત )
-આઝાદીના સમય પહેલા જ્યારે ભગવાન જગન્નાથની રથયાત્રા નીકળે ત્યારે શહેરીજનો તિરંગો ફરકાવતા હતા.
-બળદગાડાથી શરૂ થયેલી રથયાત્રા હાઇટેક બની, પ્રારંભથી જ ખલાસ કોમના ભાઈઓ રથ ખેંચતા આવ્યા

1876માં મહામંડળેશ્વર નૃસિંહદાસજીએ સ્વપ્નમાં સ્વયં ભગવાને આપેલા આદેશને માથે ચડાવીને રથયાત્રાનો પ્રારંભ કરાવ્યો હતો એ પછી દર વર્ષે અષાઢી બીજે અમદાવાદમાં જગન્નાથ ભગવાનની રથયાત્રા યોજાતી રહી છે, આટલા વર્ષો પછી આજેય રથયાત્રામાં ભક્તિ અને શ્રદ્ધાનું ઘોડાપૂર યથાવત રહ્યું છે. દરેક ધર્મના લોકો ભક્તિભાવપૂર્વક અને રંગેચંગે ભગવાનને આવકારતા રહ્યા છે. વર્ષમાં માત્ર આ એક દિવસે ભક્તોને દર્શન આપવા માટે ભગવાન સામે ચાલીને આવે છે. 139 વર્ષથી ચાલી આવતી આ પરપંરાના અતિતનીઝાંખી કરાવતો આ વિશેષ અહેવાલ…

અમદાવાદ : લગભગ ચારસો વર્ષ પહેલાં રામાનંદી સંત શ્રી હનુમાનજીદાસજીએ આજના જગન્નાથજીના મંદિરમાં પોતાની ગાદીની સ્થાપના કરી હતી. એમના પછી ગાદીએ આવેલા સારંગદાસજીએ જગન્નાથજી, બળદેવજી અને દેવી સુભદ્રાજીની મૂર્તિઓ મંગાવીને સ્થાપના કરાવી ત્યારથી જ આ મંદિર ‘જગન્નાથજીની મંદિર’ તરીકે જગપ્રસિદ્ધ થયું. એમના પછી બાલમુકુંદદાસજી આવ્યા અને તે પછી
નરસિંહદાસજી આવ્યા.નરસિંહદાસજીને સ્વપ્નમાં ભગવાન જગન્નાથજી આવ્યા અને તેમણે રથયાત્રા શરૂ કરી. લોકવાયકાઓ અનુસાર ભરૂચમાં રહેતા ખલાસ કોમના ભક્તોએ પણ રથયાત્રાની પોતાની જવાબદારી સ્વીકારી લીધી. તેમણે તાબડતોબ નરિયેળના ઝાડમાંથી ત્રણે ભગવાનના રથ તૈયાર કરીને અમદાવાદ પહોંચાડી દીધા.

આમ 1876થી શરૂ થયેલી રથયાત્રામાં પરંપરા મુજબ રથ ખેંચવાનું કાર્ય ખલાસ કોમના ભાઇઓ સાચી શ્રદ્ધાથી દર વર્ષે કરે છે. 140 વર્ષ પહેલા શરૂ થયેલી રથયાત્રામાંઉત્તરોત્તર મોટી થતી ગઇ. શરૂઆતમાં માત્ર સાધુ-સંતો જ રથયાત્રામાં ભાગ લેતા હતા અને તેમનું રસોડું સરસપુરના રણછોડજી મંદિરમાં રાખવામાં આવતું, ભક્તજનોની ભીડ વધતા સરસપુરમાં ઠેર ઠેર રસોડાંઓ ઊભાં કરવામાં આવ્યાં. દર વર્ષે મામેરું પણ અહીંયા જ કરાય છે નરસિંહદાસજી મહારાજે પ્રથમવાર કાઢેલી રથયાત્રા વખતે ભગવાનને બળદગાડામાં બિરાજમાન કરવામાં આવ્યા હતાં. ત્યારથી લઇને આજ સુધીમાં રથયાત્રા ઐતિહાસીકથી મોર્ડન બની ગઇ છે.

માત્ર રથયાત્રા જ નહી પણ જે રથમાં ભગવાનબિરાજીને નગરચર્યાએ નીકળે છે તેણે પણ હવે નવા રૂપરંગ હાંસલ કરી લીધા છે. રથ નવા રૂપ રંગ ધારણ કર્યા છે સાથોસાથ તેમાં મોર્ડન પૈડા અને સ્ટીંયરીંગ પણ લગાડવામાં આવે છે. શરૂઆતની યાત્રામાં ગણ્યાગાંઠ્યા પોલિસ કર્મીઓ હતા હવે રથયાત્રામાં શ્રદ્ધાળુઓ કરતા પોલીસ વધારે હોય તેવી લોકોમાં ચર્ચા હોય છે. સહજતાથી ભગવાનની સમીપ જતો ભક્ત હવે રથની નજીક જતા પણ બીતો થઇ ગયો છે.

ગાડાથી ટ્રક સુધી: અત્યારની રથયાત્રા હાઇટેક બની ગઈ છે જ્યારે 1952નીરથયાત્રાની આ તસવીર રસપ્રદ છે, એ વખતે બળદો દ્વારા યાત્રાના વાહનો ખેંચવામાં આવતા હતા.
રથયાત્રામાં સાહસિક કરતબો કરતા પહેલવાનો આકર્ષણનું કેન્દ્ર હોય છે.

2005માં રથયાત્રા દરમિયાન ક્રાઇમ બ્રાંચના જાંબાઝ અધિકારીઓએ ચાલુ યાત્રાએ સફળ ઓપરેશન કરીને અતિ સંવેદનશીલ એવા શાહપુર વિસ્તારના શાહપુર અડ્ડા પાસેથી ઘાતક હથીયારોનો જંગી જથ્થો પકડી પાડતા મોટી ઘાત ટાળી શકાઈ હતી.
અત્યાર સુધી સૌથી વધુ 12 વખત પહિંદ વિધિ કરવાનો નરેન્દ્ર મોદીનોે વિક્રમ

ભગવાન જગનાથની જ્યારે નગર ચર્યા માટે નીકળે ત્યારે રાજા તેમનો રસ્તો સાફ કરવા માટે આવે છે તેવી લોકવાયકા અને પરંપરા પુરીમાં ચાલે છે. આથી અમદાવાદની રથયાત્રામાં પણ આ પહિંદ વિધિ યોજવામાં આવે છે. જેમાં રાજ્યના મુખ્યમંત્રી સોનાની સાવરણી લઇને ભગવાનનો રસ્તો સાફ કરે છે. સૌથી વધુ વખત પહિંદ વિધિ કરવાનો રેકોર્ડ હાલમાં દેશના વડાપ્રધાન બનેલા નરેન્દ્ર મોદીનો છે. તેમણે સતત 12 વર્ષ સુધી જગન્નાથમંદિરની રથયાત્રાની પહિંદ વિધિ કરી હતી.
-જગન્નાથની રથયાત્રાની પ્રાચીન પરંપરા કોમી એખલાસનું પ્રતીક છે. લાખો શ્રદ્ધાળુઓ જગન્નાથના દર્શન કરીને ધન્યતા અનુભવે છે. તેમના આશીર્વાદ મેળવીને પોતાની જાતને પાવન માને છે. (નરેન્દ્ર મોદી પહિંદવિધિ દરમિયાન)

અત્યાર સુધીના મહંત
1850થી 1959 નરસિંહદાસજી મહારાજ
1959થી 1971 સેવા દાસજી મહારાજ
1971થી 1994 રામહર્ષદાસજી મહારાજ
1994થી-2010 રામેશ્વરદાસજી મહારાજ
2010થી દિલીપદાસજી મહારાજ

ફેક્ટ ફાઇલ

રથયાત્રાના શરૂઆતના વર્ષોમાં માત્ર સાધુસંતો જ ભાગ લેતા હતા જ્યારે હવે માત્ર અમદાવાદના જ નહીં પણ દેશભરના શ્રદ્ધાળુઓ ઉમટે છે.

જગન્નાથ મંદિરના પ્રથમ મહંત અને રથયાત્રાના પ્રેરક નરસિંહદાસજી મહારાજ જગનનાથ ભગવાનના સૌથી મોટા ભક્ત હતા. તેઓ વર્ષો સુધી ગુજરાતથીઓરિસ્સામાં આવેલા જગન્નાથ મંદિરે ઉઘાડા પગે ચાલતા જતા હતા. આ ભક્તિથી જગન્નાથ પ્રસન્ન થયા હતા અને તેમને સ્વપ્નમાં આવીને યાત્રા શરૂ કરવાની પ્રેરણા આપી હતી.

રથનો મનોરથ | નરસિંહદાસજી મહારાજે શહેરીજનોના દર્શનાર્થે અમદાવાદમાં રથયાત્રાનો પ્રારંભ કરાવ્યો હતો,અને આજે દાયકાઓ પછી પણ આ પરંપરા આજ સુધી યથાવત રહી છે. દર વર્ષે દર્શનાર્થીઓની સંખ્યામાં સતત વધારો થતો રહ્યો છે.
કાલી રોટી સફેદ દાલ: 1958ની રથયાત્રા દરમ્યાન દેશભરમાંથી ઉમટેલા સાધુસંતોનો ભંડારો.

1964 અવિરત યાત્રા: આજે જ્વલ્લેજ જોવા મળતી
સરહદના ગાંધી રથયાત્રાની મુલાકાતે
1969માં ખાન અબ્દુલ ગફાર ખાને રથયાત્રાની મુલાકાત લીધી હતી અને સાધુગણને મળ્યા હતા.

મંદિરના પ્રિય હાથી સરજુ પ્રસાદની સમાધિ આસ્થાનું કેન્દ્
જગન્નાથ મંદિરના હાથીઓની સાથે મંદિરમાં બીજા અખાડાઓના મહંતો પણ પોતાના હાથીઓ મંદિરની સેવામાં આપે છે. તેવો જ એક હાથી સરજુ પ્રસાદ હતો. સરજુ પ્રસાદ મંદિરના તમામ સંતો-મહંતો અને લોકોનો માનીતો હતો. રથયાત્રામાં સૌથી આગળ તે ભાગ લેતો અને તેણે સૌથી વધારે વખત રથયાત્રામાં ભાગ પણ લીધો હતો. હાથી સરજુ પ્રસાદનું જ્યારે અવસાન થયુ ત્યારે આખા મંદિરમાં શોકની લાગણી વ્યાપી ગઇ હતી. આથી તે સમયના લોકોએ આ હાથીની સમાધિ બનાવવાનું નક્કી કર્યુ. તે સમયેરસપ્તઋષિ સ્મશાન રોડ પરની કેલિકોમીલની પાછળ આવેલી ખુલ્લી જગ્યામાં તેની સમાધિ બનાવવામાં આવી. ત્યારથી આ સમાધિ લોકોની આસ્થાનું કેન્દ્ર બન્યું છે.

મોટીસંખ્યામાં લોકો આ “સરજુ પ્રસાદ”ની સમાધિના દર્શન કરવા જાય છે. આ સમાધિની ઉપર ભગવાન ગણેશજીની પ્રતિમાનું સ્થાપન કરવામાં આવ્યું છે. તેની આસપાસ રહેતા મુસ્લિમ સમાજના લોકો પણ તેમા આસ્થા રાખે છે. 140 વર્ષ પહેલા 1876માં અમદાવાદમાં રથયાત્રાનો પ્રારંભ થયો. મહામંડળેશ્વર નૃસિંહદાસજીએ આ પવિત્રરથયાત્રાની શરૂઆત કરી હતી. જે પ્રથા આજે પણ અવિરત ચાલી રહી છે. જગન્નાથજીનું મંદિરથી નિકળતી રથયાત્રામાં અમદાવાદના જ નહીં પણ ચારે કોરના લોકો શ્રદ્ધા-ભક્તિ સાથે ઉમટી પડે છે.

1996 ખલાસીઓનું સમર્પણ | દરિયાપાર હોય કે દેશદેશાવર, ખલાસીઓ અચૂકપણે जड़ અષાઢી બીજે ભગવાનના રથને ગંતવ્ય સ્થાને પહોંચાડવા હાજર થઈ જાય છે.
સંકલંકર્તા યોગેશ પારેખ

Posted in भारतीय उत्सव - Bhartiya Utsav

हिन्दी मास के क्रमानुसार इस क्षेत्र में मनाये जाने वाले जानेवाले पर्व, उत्सव,मेलों का क्रमबद्ध अध्ययन निम्नलिखित है-


हिन्दी मास के क्रमानुसार इस क्षेत्र में मनाये जाने वाले जानेवाले पर्व, उत्सव,मेलों का क्रमबद्ध अध्ययन निम्नलिखित है-

पर्वत्योहार, मेले

हिन्दी-माह पर्व- त्योहार, मेले
आषाढ़ मास योगिनी एकादशी , गुरु पूर्णिमा
सावन मास शिव जी व्रत एवं मेले , नाग पंचमी रक्षा बंधन
भाद्रपद मास हरियाली तीज , अनन्त चतुर्दशी, श्री कृष्णजन्माष्टमी , हरतालिका तीज, गणेश चतुर्थी
आश्विन मास नवरात्र , दुर्गा अष्टमी, दशहरा (विजय दशमी) शरद पूर्णिमा
कार्तिक मास करवा चौथ, अहोई अष्टमी, धनतेरस,नरक चतुर्दशी ,दीपावली ,गोवर्धन पूजा, भैया दूज, कार्तिक पूर्णिमा , गंगा स्नान मेला
मार्गशीष मास भैरव जयन्ती , मार्गाशीष पूर्णिमा व्रत
पौष मास पूर्णिमा व्रत,स्नान व मेला, मकर संक्रान्ति
माघ मास सकट चौथ, मौनी अमावस्या, बसंत पंचमी, माघ पूर्णिमा मेला
फाल्गुन मास महाशिवरात्रि , व्रत व मेले,होलिका दहन
चैत्र मास बासोड़ा , नवरात्रे, रामनवमी
वैशाख मास वैशाखी पूर्णिमा मेला
ज्येष्ठ मास वट सावित्री पूजन , गंगा दशहरा मेलानिर्जला व्रत एकादशी
आषाढ़ मास के त्योहार / पर्व /मेले

) योगिनी एकादशी – यह एकादशी आषाढ़ मास के कृष्ण पक्ष में मनायी जाती है। इस दिन लोग पूरे दिन का व्रत रखकर भगवान नारायण की मूर्ति को स्नान कराकर भोग लगाते हुए पुष्प , धूप , दीप से आरती करते हैं। गरीब ब्राह्मणों को दान भी किया जाता है। इस एकादशी के बारे में मान्यता है कि मनुष्य के सब पाप नष्ट हो जाते हैं तथा मोक्ष की प्राप्ति होती है ।

) गुरु पूर्णिमा – आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा अथवा व्यास पूर्णिमा कहते हैं । इस दिन लोग अपने गुरु के पास जाते हैं तथा उच्चासन पर बैठाकर माल्यापर्ण करते हैं तथा पुष्प ,फल, वस्र आदि गुरु को अर्पित करते हैं। यह गुरु – पूजन का दिन होता है जिसकी प्रथा प्राचीन काल से चली आ रही है।

श्रावण मास के त्योहार — पर्व / मेले

) शिव जी के सोमवार व्रत व मेले

श्रावण मास के प्रत्येक सोमवार को शिव जी के व्रत रखकर पूजा अर्चना की जाती है । प्रत्येक सोमवार को गणेश , शिव-पार्वती तथा नन्दी की पूजा की जाती है तथा शिव – मन्दिरों पर मेले लगते हैं । श्रावण का पूरा महीना हिन्दुओं के लिए पवित्र माह होता है।

) नाग पंचमी

श्रावण की शुक्ल पंचमी को नाग पंचमी कहा जाता है। ज्योतिष व मान्यताओं के अनुसार पंचमी तिथि के स्वामी नाग हैं अत: सपं व नागों की पूजा पंचमी को होनी चाहिए । इसी मान्यता व परम्परा के अनुसार पूरे क्षेत्र में सर्पों के पीने के लिए कटोरी में दूध रखा जाता है तथा दीवार पर नागों का चित्र बनाकर उनकी पूजा की जाती है बाद में अर्पित जल को घर के चारों कोनों व दिशाओं में छींटा जाता है।

) रक्षा बन्धन

यह त्योहार सावन माह की पूर्णिमा को सारे देश की ही भाँति यहाँ भी धूम – धाम से मनाया जाता है। यह पर्व भाई – बहन को स्नेह की डोर में बांधने वाला है । इस दिन बहन अपने भाई के हाथ में कलाई पर रक्षा बांधती है तथा मस्तिक पर टीका लगाती है । रक्षा बन्धन ( रक्षा + बन्धन) का अर्थ है — अपनी रक्षा के लिए किसी को बाँध लेना । रक्षा बन्धन पर भाईयों को राखी बाँधने सम्बन्धी अनेक प्राचीन व मध्य कालीन कथाएं प्रचलित हैं। संक्षेप में, समस्त भारतवर्ष की भाँति रुहेलखण्ड क्षेत्र में भी यह पर्व धूमधाम से मनाया जाता है। भाइयों को राखी बांधती बहनें

भाद्रपद मास के त्योहार व मेले

) हरियाली तीज

यह तीज भादौं बदी तृतीया को खासतौर से उ० प्र० के बनारस व रुहेलखण्ड क्षेत्र में बड़े धूमधाम से मनायी जाती है। इसमें लड़कियां व
महिलायें झूला डालकर उसमें कजरी गीत गाती हुयी झूला झूलती हैं। कजरी गीत वर्षा ॠतु के विशेष राग गीत होते हैं। इस दिन घरों में पूड़ी , मिष्ठान , पकवान बनाये जाते हैं तथा वर्षा ॠतु के इस पर्व को उत्सव की तरह मनाया जाता है। यह स्रियों का पर्व होता है जो इस सम्पूर्ण क्षेत्र में धूमधाम से मनाया जाता है।

) श्री कृष्ण जन्माष्टमी

भादौं मास की कृष्ण – अष्टमी को ‘ श्री कृष्ण जन्माष्टमी ‘ उत्सव मनाया जाता है। इसी दिन भगवान श्री कृष्ण का जन्म मथुरा में हुआ था। समस्त भारत की तरह रुहेलखण्ड क्षेत्र में भी यह त्योहार धूमधाम से मनाया जाता है। दिन भर लोग व्रत रखकर पूड़ी मिष्ठान पकवान,आदि बनवाते है तथा रात्रि को 12 बजे श्री कृष्ण की पूजा – अर्चना करके भोजन ग्रहण करते हैं । इस दिन घरों व मन्दिरों में झांकी सजायी जाती है तथा भजन – कीर्तन होते हैं तथा तीन दिन तक मन्दिरों में मेले लगते हैं जहाँ लोग सपरिवार झांकी देखने जाते हैं। जन्माष्टमी के दूसरे दिन ” नन्द उत्सव ” जाता है । धर्मशास्रों में कहा गया है कि जन्माष्टमी के दिन व्रत रखने से मनुष्य के सात जन्मों के पाप नष्ट हो जाते है तथा मोक्ष की प्राप्ति होती है । प्रत्येक हिन्दू धर्मानुयायी इस पर्व को धूमधाम से मनाते हैं।  

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पूजन

) हरतालिका तीज

यह भाद्र शुक्ल पक्ष की तृतीया को मनाया जाने वाला पर्व – व्रत है । इसमें सुहागिन स्रियाँ अपने सुहाग की रक्षा के लिए भगवान शिव व पार्वती की मूर्ति बालू से बनाकर पूजन करती है तथा रात्रि में भक्ति गीत गाकर जागरण करती है। मान्यता है कि इस व्रत व पूजन को करने वाली स्रियाँ माँ पार्वती के समान सुखपूर्वक पति रमण करके शिवलोक को जाती है। यह व्रत इस क्षेत्र में ब्राह्मणों के परिवार में स्रियों द्वारा विशेष रुप से रखा जाता है।

) गणेश चतुर्थी

भादौं मास के शुक्ल पक्ष की चौथ को गणेश चतुर्थी पर्व मनाया जाता है। इसमें प्रात: काल गणेश जी की मिट्टी की मूर्ति बनाकर श्री गणेश जी की पूजा की जाती है। पूजन में लड्डुओं का भोग लगाकर गणेश जी के 10 नामों का जप करते हैं।

वैसे तो यह पर्व पूरे भारत में मनाया जाता है परन्तु रुहेलखण्ड क्षेत्र में मुरादाबाद जिले चन्दौसी नामक नगर में यह पर्व अत्यन्त धूमधाम से मनाया जाता है तथा 15 दिन तक विशाल मेला लगता है। नगर में गणेश जी की विशाल शोभायात्रा निकाली जाती है तथा नगर मे 15 दिन तक उत्सव का वातावरण रहता है। “चन्दौसी का गणेश चतुर्थी का मेला ” पूरे उत्तर भारत में प्रसिद्ध है। इस मेले में दूर – दूर से लोग यहाँ आते है तथा यहाँ प्रवास करते हैं।

) अनन्त चर्तुदशी

भादौं मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को मनाया जाने वाला यह पर्व भगवान श्री नारायण को समर्पित है । इस क्षेत्र में यह पर्व ब्राह्मणों – क्षत्रियों में प्रमुख रुप से मनाया जाता है। इसमें प्रात: स्नान आदि से निवृत होकर चौकी के ऊपर मण्डप बनाकर उसमे अक्षत या कुश के 7 कणों से शेष भगवान की प्रतिमा स्थापित करते हैं तथा उसके समीप 14 गांठे लगाकर हल्दी से रंगे कच्चे धागे को रखते हैं । तदु परान्त पूजा – अर्चना करके 14 गाँठ लगे अनन्त को दायीं भुजा पर धारण करते हैं । मान्यता है कि इस दिन इस अनन्त को हाथ में बाँधने से अनन्त फल की प्राप्ति होती है तथा रक्षा होती है ।

आश्विन मास के पर्व -त्योहार , मेले

) नवरात्रे (नव दुर्गा व्रत)

आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से नवमी तक यह व्रत 9 दिन तक मनाया जाता है। इसमें नौ दिन तक नौ देवियों की पूजा – अर्चना की जाती है। इसमें प्रथम दिन ( प्रतिपदा )प्रात: स्नानादि से निवृत होकर 9 दिनों तक व्रत के लिए संकल्प करके मिट्टी की वेदी बनाकर उसमें जौं बोते है तथा उसी स्थान पर घट (घडा/कलश)स्थापित करते हैं। घट के ऊपर कुल देवी की प्रतिमा स्थापित कर उसका पूजन करते हैं तथा दुर्गा सप्तशती का पाठ किया जाता है। रुहेलखण्ड क्षेत्र के बरेली नगर में वमनपुरी नामक मुहल्ले में इन नवरात्रों में रामलीला तथा मेले का आयोजन होता है।

दुर्गाष्टमी — यह त्योहार आश्विन शुक्ल पक्ष अष्टमी को आता है इस दिन व्रत रखकर दुर्गादेवी की पूजा की जाती है । भगवती दुर्गा को चने , हलवे , खीर , पूड़ी , पुआ आदि का भोग लगाया जाता है । अधिकांश घरों में इस दिन हवन आदि भी होते हैं।

) दशहरा ( विजयदशमी )

   
हिन्दुओं का प्रसिद्ध पर्व दशहरा अश्विन शुक्ल पक्ष दशमी को मनाया जाता है। इसी दिन भगवान श्री राम ने रावण को मारकर उस पर विजय प्राप्त की थी। मुख्य रुप से यह क्षत्रिय व ब्राह्मणों का पर्व है परन्तु पूरे भारत में समस्त हिन्दू धर्मानुयायिओं द्वारा यह पर्व खूब धूमधाम से मनाया जाता है। इस दशमी से एक सप्ताह पूर्व ही सभी स्थानों पर रामलीला मेला प्रारम्भ हो जाता है जो दशहरा तक चलता है तथा रावण बध की लीला पर समाप्त होता है। प्रत्येक वर्ष रावण का पुतला भगवान श्री राम द्वारा जलाना वास्तव में बुराई पर अच्छाई का प्रतीत होता है। इस दिन क्षत्रिय लोग अपने अस्र – शस्रों की पूजा की जाती हैं। ब्राह्मणों द्वारा भगवान श्री राम की सपरिवार पूजा – अर्चना की जाती है। रुहेलखण्ड के समस्त क्षेत्र में यह पर्व बड़े उत्साह से मनाया जाता है तथा सभी नगरों में रामलीला का मंचन तथा मेलों का आयोजन होता है।विशेष रुप से पीलीभीत जनपद में वीसलपुर का दशहरा मेला दूर – दूर तक प्रसिद्ध है जो एक माह तक चलता है और दूर – दूर से दर्शक और दुकानदार यहाँ आते हैं। इसके अतिरिक्त सभी नगरों , कस्बों , मुहल्लों में दशहरा मेलों का आयोजन होता है।

) शरद -पूर्णिमा

अश्विन शुक्ल पूर्णिमा को ” शरद पूर्णिमा” कहा जाता है। इसे कौमुदी व्रत भी कहते हैं। रासोत्सव का यह दिन वास्तव में भगवान श्री कृष्ण द्वारा जगत की भलाई के लिए निश्चित किया गया है , ऐसी इस क्षेत्र में पारम्परिक मान्यता है। इस दिन मन्दिरों में विशेष सेवा पूजन किया जाता है तथा रात्रि में भगवान को खीर अथवा दूध से भोग लगाया जाता है।

कार्तिक माह के पर्व / त्योहार , मेले

) करवा चौथ

यह पर्व कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष को चनद्रोदयव्यापिनी में होता है । यह भारतीय हिन्दू सुहागिन स्रियों का मुख्य त्योहार है। सौभाग्यवती सुहागिन स्रियां स्वपति के रक्षार्थ तथा लम्बी आयु की कामना व जीवनपर्यन्त सुहागिन रहने को निराहार व्रत रखती है। सायंकाल को शिव , चन्द्रमा , स्वामी कार्तिकेय आदि के चित्रों व सुहाग की वस्तुओं की पूजा की जाती है। बाद में चन्द्रमा निकलने पर चन्द्रदर्शन करने के बाद चन्द्र को अध्र्य देकर भोजन करती है। यह पर्व समस्त भारती की ही भाँति इस क्षेत्र में भी हिन्दू धर्मानुयायी स्रियों द्वारा प्रमुखता से मनाया जाता है।

) अहोई अष्टमी

यह त्योहार कार्तिक कृष्ण पक्ष अष्टमी को मनाया जाता है। इस दिन माँ अपनी सन्तानों की लम्बी आयु के लिये दिन भर व्रत रखकर सायंकाल में तारे निकलने के बाद दीवार पर अहोई बनाकर पूजा करती है। अहोई देवी के चित्र के साथ- साथ सेही और सेही के बच्चों के चित्र बनाकर भी पूजा की जाती है।

) धनतेरस

यह त्योहार दीपावली के आने की सूचना देता है। यह पर्व कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रियोदशी को मनाया जाता है। इस दिन घर में लक्ष्मी का आवास मानते है। इसी दिन धनवन्तरी समुद्र से अमृत कलश लेकर प्रकट हुये थे , इसलिए धनतेरस को ‘ धनवन्तरी- जयंती ‘ भी कहते है। इस पर्व में सायं को लक्ष्मी , कुवेर व धनवन्तरी की पूजा की जाती है तथा घर में कोई नया बर्तन खरीद कर लाते हैं ; इसके पीछे मान्यता है कि इस दिन खरीदारी करने से घर में समृद्धि आती है।

)नरक चर्तुदशी

कार्तिक कृष्ण पक्ष की चर्तुदशी के दिन नरक चर्तुदशी मनाया जाता है । यह दीपावली से एक दिन पूर्व होता है। इस दिन नरक से मुक्ति पाने के लिए प्रात: काल शरीर में तेल लगाकर चिचड़ी पौधा सहित स्नान करते हैं तथा शाम को यमराज के लिए सरसों के तेल में जलाकर दीपदान करते है जो घर के द्वार के बाहर किया जाता है। मान्यता है कि इसी दिन भगवान श्री कृष्ण ने नरकासुर नामक दैत्य का वध किया था।

) दीपावली

कार्तिक मास की अमावस्या के दिन दीपावली का पर्व मनाया जाता है। पूरे भारत की ही भाँति इस क्षेत्र में भी यह त्योहार प्रमुखता से मनाया जाता है। इस दिन भगवती महालक्ष्मी का उत्सव बड़े धूमधाम से मनाया जाता है। इस दिन लक्ष्मी जी के आगमन की खूब तैयारी की जाती है जैसे घर की सफाई , लिपाई करना, मिष्ठान – व्यंजन आदि बनाना । शाम को लक्ष्मी गणेश , श्री नारायण व अन्य देवों की पूजी – अर्चना करके व मिष्ठानों से भोग लगाकर पूरे घर में दिये जलाकर रोशनी की जाती है तथा उमंग में पटाखे तथा आतिशबाजी छोड़ी जाती है। लक्ष्मी जी के आगमन के लिए पूजा गृह में रात्रि भर एक दीपक से काजल बनाकर सभी स्री – पुरुष – बच्चे अपनी आँखों पर लगाते हैं। यह त्योहार बड़े उत्साह व उमंग से मनाया जाता है।

) गोर्वधन पूजा (अन्नकूट)

दीपावली के अगले दिन कार्तिक शुक्ल की प्रतिपदा को अन्नकूट उत्सव मनाया जाता है,इसी दिन गोर्वधन पूजा भी की जाती है। इस दिन प्रात: काल स्रियां घर के आंगन में गोबर का अन्नकूट बनाकर भगवान श्री कृष्ण व गायों की पूजा करती है । यह पर्व रुहेलखण्ड के समीपवर्ती ब्रज क्षेत्र में प्रमुख रुप से धूमधाम से मनाया जाता है। इस दिन मन्दिरों में विविध प्रकार की खाद्य- सामग्रियों से भगवान का भोग लगाया जाता है।

) भैया दूज

यह त्योहार कार्तिक शुक्ल पक्ष की तृतीया को मनाया जाता है। यह पर्व भाई वहन के प्रेम का प्रतीक है। इस दिन बहनें अपने भाई को तिलक लगाकर , आरती उतारकर मिष्ठान खिलाती है तथा उनके दीर्घायु होने की कामना करती है तथा श्रद्धावान भाई बहनों के चरण – स्पर्श कर उनको वस्र , धन आदि अर्पित करते हैं।

) कार्तिक पूर्णिमा

इसे ‘ त्रिपुरी पूर्णिमा ‘ भी कहते है। इस तिथि को भगवान श्री नारायण का मत्स्यावतार हुआ था। इस दिन गंगा स्नान तथा दान का महत्व है । रुहेलखण्ड क्षेत्र में इस दिन गंगा घाट कछला (जनपद वदायूँ ) , ढाई घाट ( जनपद शाहजहाँपुर ) तथा रामगंगा (चौवारी – बरेली ) में विशाल मेलों का आयोजन होता है।

मार्गशीर्ष (अगहन) के त्योहार एवं मेले

) भैरव जयन्त

मार्गशीर्ष कृष्ण पक्ष अष्टमी के दिन भैरव जी का जन्म हुआ था। इस पर्व में दिनभर व्रत रखकर जल का अर्ध्व देकर भैरव जी का पूजन किया जाता है। रात्रि में जागरण कर शिव- पार्वती की तथा भैरव जी की पूजा जाती है क्योंकि भैरव जी को भगवान शिव का ही रुप माना जाता है।

) मार्गशीर्ष पूर्णिमा व्रत

यह व्रत मार्गशीर्ष पूर्णिमा को रखा जाता है। सबसे पहले नियमपूर्वक व्रत रखकर भगवान श्री नारायण की उपासना की जाती है तथा वेदी बनाकर हवन किया जाता है। रात्रि में चन्द्रमा को अर्ध्व देकर पूजन किया जाता है।

पौष (पूष) माह के त्योहार एवं मेले

) पौष पूर्णिमा स्नान

यह स्नान पौष की पूर्णिमा से प्रारम्भ होता है। इस स्नान के लिए रुहेलखण्ड क्षेत्र में गंगा घाट पर कछला (जिला – बदायूँ) तथा ढ़ाई घाट (जिला शाहजहाँपुर) एवं रामगंगा घाट चौबारी (जिला – बरेली) में विशाल मेले लगते हैं जो दो सप्ताह तक चलते है तथा अधिकांश ग्रामीण श्वाद्धालु यहाँ डेरा डालकर मेंले में रहते है तथा गंगा स्नान एवं मेले का आनन्द उठाते हैं।

) मकर संक्रान्ति

पौष मास में जब सूर्य मकर राशि पर आता है जब इस पर्व को मनाया जाता है । अंग्रेजी तिथि के अनुसार प्रत्येक वर्ष 14 जनवरी को मनायी जाती है। इस दिन गंगा स्नान करके , तिल के मिष्ठान आदि को ब्राह्मणों व पूज्य व्यक्तियों को दान दिया जाता है। इस पर्व पर भी क्षेत्र में गंगा एवं रामगंगा घाटों पर बड़े मेले लगते है। दक्षिण भारत में इसी पर्व को पोंगल भी कहा जाता है।

माघ (माह) मास के पर्व -त्योहार , मेले

) सकट चौथ

यह पर्व हिन्दू स्रियों द्वारा माघ कृष्ण पक्ष चर्तुथी को व्रत व पूजन द्वारा मनाया जाता है व चन्द्रमा की पूजा की जाती है। दिन भर व्रत रहने के बाद शाम को चन्द्र दर्शन के बाद चन्द्रमा , गौरी- शंकर व गणेश की दूव , तिल ,गुड़, मिष्ठान से भोग लगाकर पूजा की जाती है तथा सकट देव की कथा सुनी-सुनाई जाती है । यह पर्व पूरे क्षेत्र में उल्लास के साथ मनाया जाता है।

) बसंत पंचमी

यह त्योहार माघ शुक्ल पक्ष की पंचमी को उत्सव की तरह मनाया जाता है।वास्तव में यह पर्व ॠतुराज बसंत के आगमन की सूचना देता है । इसी दिन से होली गीत गाये जाने प्रारम्भ हो जाते हैं। गेहूँ तथा जौं की स्वर्णिम बालियाँ भगवान को अर्पित कर कानों पर लगायी जाती है । इस दिन देवी सरस्वती व श्री विष्णु की विशेष आराधना की जाती हैै तथा गाँवों में मेले लगते हैं।  

) माघ पूर्णिमा

माघ पूर्णिमा का धार्मिक दृष्टि से बहुत महत्व है। यह पर्व स्नान पवाç का अन्तिम प्रतीक है तथा इस दिन स्नान आदि करके विष्णु पूजन तथा दान देने का विशेष फल मिलता है। रुहेलखण्ड क्षेत्र में कछला गंगा घाट (बदायूँ) ढाई घाट (शाहजहाँपुर) तथा रामगंगा घाट चौबारी (बरेली) पर बड़े गंगा मेले लगते है तथा यहाँ दूर-दूर से लोग आते हैं।

फाल्गुन मास के पर्व – त्योहार एवं मेले

) महाशिवरात्रि

फाल्गुन कृष्ण पक्ष चर्तुदशी को भगवान शिव की महाशिवरात्रि का महोत्सव मनाया जाता है। इस दिन लोग पूरे दिन व्रत रखते हैं तथा शिव मन्दिरों में जाकर भगवान शिव व शिवलिंग को जल , दुग्ध , पुष्प अर्पित कर पूजा अर्चना करते हैं। पूजन विधान में वेलपत्र तथा धतूरा भी चढ़ाते है। इस क्षेत्र में यह त्योहार बड़े धूमधाम से मनाया जाता है तथा शिव मन्दिरों में श्रद्धालुओं की लम्बी कतारें व मेले लगते हैं। प्रमुख मेले पचोमी , अलखनाथ, धोपेश्वरनाथ,गुलड़ियो गौरीशंकर, बाबा विश्वनाथ मन्दिर (बरेली जनपद ) में लगते है।

) होली

फाल्गुन मास की पूर्णिमा को धूमधाम से मनाये जानेवाले रंगों का यह त्योहार हिन्दुओं का बहुत बड़ा पर्व है। इस दिन सभी स्री – पुरुष ,बच्चे प्रात:काल होलिका दहन करके सपरिवार पूजा करते है तथा होली गीत गाते हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में होली के गीत ढोल – बाजों के साथ गाये जाते हैं। होलिका दहन के बाद एक दूसरे से रंग – गुलाल , अवीर से होली खेलते हैं तथा एक दूसरे से गले मिलते हैं एवं बड़े -बुजुर्गों के पैर छूकर आशीर्वाद लेते हैं। दोपहर को स्नानादि से निवृत होकर नये कपड़े पहनते हैं तथा एक दूसरे के घर होली मिलने जाते है ।

इस दिन घरों में पूरी, खीर ,मिष्ठान्न व अनेक व्यंजन बनते हैं। शाम को होली मिलाप के मेले लगते है जहाँ पुरुष जाते है तथा सभी से गले मिलते हैं। समस्त भारत की भाँति इस रुहेलखण्ड क्षेत्र में भी होली का त्योहार बड़े धूमधाम व उल्लास से मनाया जाता है।

 

चैत्र (चैत) मस के पर्व ,मेले

) धूलिका पर्व

चैत्र मास कृष्ण पक्ष प्रतिपदा को होली के बाद यह पर्व मनाया जाता है । इस दिन होलिका दहन की अवशिष्ट राख को सभी लोग श्रद्धापूर्वक मस्तक पर लगाते हैं।

) बासोड़ा

यह त्योहार होली के एक सप्ताह बाद चैत्र मास के कृष्ण पक्ष में सोमवार या गुरुवार को मनाया जाता है तथा शीतला माता की पूजा की जाती है । बासोड़ा में भोजन एक दिन पूर्व ही बनाकर रख दिया जाता है तथा बासोड़ा वाले दिन वही भोजन किया जाता है। क्षेत्र के सभी घरों में यह पर्व मनाया जाता है।

) नवरात्रे (दुर्गा पूजन)

यह चैत्र मास के शुक्ल पक्ष प्रतिपदा से लेकर रामनवमी तक (9 दिन)दुर्गा पूजन के रुप में मनाया जाता है। इन 9 दिनों उपवास रखकर नौ देवियों तथा कन्याओं का पूजन किया जाता है तथा दुर्गा सप्तशती का पाठ करके दुर्गा पूजन किया जाता है। नवें दिन हवन आदि करके कन्या व ब्राह्मणों को भोजन कराकर दान दिया जाता है।

) रामनवमी

मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम का जन्म चैत्र शुक्ल नवमी को हुआ था, इसलिए इस तिथि को रामनवमी के नाम से जाना जाता है । पूरे भारत में हिन्दू धर्मानुयायियों द्वारा यह दिन श्री राम जन्म महोत्सव के रुप में बड़े धूमधाम से मनाया जाता है। प्रात: काल पूजन में श्री राम को पंचामृत से स्नान कराके धूप, दीप, आदि के द्वारा पूजा की जाती है। दोपहर तक व्रत रखने के बाद रामचरित मानस का पाठ करने के बाद भगवान की आरती उतारी जाती है अनेक स्थानों पर इस दिन मेले भी लगते हैं।

वैशाख मास के पर्व – त्योहार , मेले

) वैशाखी पूर्णिमा मेला

वैशाखी पूर्णिमा स्नान लाभ की दृष्टि से महत्वपूर्ण पर्व है । इस दिन गंगा जैसी पवित्र नदी में स्नान करने से सभी पाप नष्ट होते हैं, ऐसी मान्यता है। इस दिन यहाँ के गंगा घाटों (कछला , ढाई घाट , चौबारी) पर बड़े मेले लगते है।

) सोमवती अमावस्या

यह स्रियों का प्रमुख व्रत है। जिस दिन अमावस्या को सोमवार हो उस दिन यह व्रत रखा जाता है तथा पीपल के वृक्ष की 108 बार परिक्रमा करते हुए पीपल तथा भगवान विष्णु की पूजा की जाती है।

ज्येष्ठ (जेठ) मास के पर्व – त्योहार , मेले

) वट पूजन

ज्येष्ठ कृष्ण अमावस्या को यह पर्व मनाया जाता है। इस दिन सत्यवान , सावित्री, यमराज की पूजा की जाती है। मान्यता है कि व्रत रखकर वटवृक्ष की पूजा करने वाली स्रियों का सुहाग अचल होता है। सुहागिन स्रियों द्वारा यह व्रत – पर्व पूरे क्षेत्र में मनाया जाता है।

) श्री गंगा दशहरा

ज्येष्ठ सुदी दशमी को गंगा दशहरा पर्व मनाया जाता है । इसी दिन नदियो में श्रेष्ठ गंगा जी भागीरथ द्वारा पृथ्वी पर लायी गयी थीं। गंगा स्नान करके , दान पुण्य करने से सभी पापों से मुक्ति मिलती है, ऐसी पारम्परिक मान्यता है। इस दिन भी इस क्षेत्र में गंगा घाटों पर स्नानदि श्रद्धालुओं की बड़ी भीड़ जुटती है तथा गंगा – मेलें का आयोजन होता है।

) निर्जला एकादशी

इस व्रत में सुहागिन स्रियां पति की लम्बी आयु के लिए बिना जल पिये, बिना कुछ खाये-पिये व्रत रखती है । इस दिन गंगा स्नान तथा दान देने का भी विशेष महत्व है।

 

Posted in भारतीय उत्सव - Bhartiya Utsav

जानिए आखिर क्या है बसंतोत्सव / बसंत पर्व / “बसंत पंचमी” अथवा मधुमास पर्व …. प्रिय पाठकों/मित्रों,माघ महीने के शुक्ल पक्ष की पंचमी को बसंत पंचमी कहा जाता है। माना जाता है कि विद्या, बुद्धि व ज्ञान की देवी सरस्वती का आविर्भाव इसी दिन हुआ था। इसलिए यह तिथि वागीश्वरी जयंती व श्री पंचमी के […]

via जानिए आखिर क्या है बसंतोत्सव / बसंत पर्व / “बसंत पंचमी” अथवा मधुमास पर्व …. — “विनायक वास्तु टाईम्स”

Posted in भारतीय उत्सव - Bhartiya Utsav

Jallikattu – its historical and cultural relevance


Jallikattu – its historical and cultural relevance
By Sparsh Sharma

Jalli in #Jallikattu means gold coins tied to the bulls’ horns. Kettu means to tie.

Brave matadors were eligible bachelors in the olden days. This is the reason why men used to display dare devilry.

The Spanish bullfighting is a mostly a cowardly version, where the bull has a ZILCH chance. In Jalikattu, the bull does NOT die, nor is it injured.

The Supreme Court has imposed a blanket ban on all traditional cultural practices and rural sports all over India, that involved ‘bulls’, including Jallikattu, Manjuvirattu, Vadam, Eruthukattum Thiruvizha, Rekla and Bullock-cart races of Tamilnadu, Sethali, Kaalapoottu in Kerala, Bailgada in Maharashtra and bullock-cart races all over India.

In one sweeping order, the Supreme Court has brought to an end thousands of years of evolution of the Indian Native Cattle, the farmer’s best friend ever since it was domesticated by man. We should understand that these breeds have evolved according to the terrain, climate, locally available feed, and have co-existed peacefully with humans who reared them and took care of them as his/her own kin. The cattle, in return, helped man with his farm work, providing the much-required muscle power, and dung, urine.

This is a special relationship that every farmer understands, which, unfortunately, the Supreme Court seems have no clue of, even after a decade after the Jallikattu case entered the Supreme Court.

One of the observations made by the Supreme Court was that Jallikattu is an ‘entertainment sport’ and ‘why should you not play a video game of Jallikattu?

Is Jallikattu a mere entertainment sport? Jallikattu is NOT an entertainment sport and cannot be conducted for entertainment. A Jallikattu can be organised only once a year in a village and that too ONLY during the annual village temple festival. It is organised by the Village Temple Committee and not by any sports/entertainment club. There are no tournaments for Jallikattu. Unlike other sports that are organised for entertainment, there is no first place, second place winner. For each and every bull that enters the arena, either the sportsman is declared the winner if he successfully embraces the bull or the bull is declared the winner. Jallikattu is no sport at all; it is a cattle-show to showcase the magnificence of the village stud bulls.

Although Jallikattu is widely known only as a bull-embracing sport, it is actually an ancient cattle show and a stage for the village youth to demonstrate their valour, all rolled into one. In fact, it is an exemplary example of ancient Indian wisdom of cattle breeding science, branding and marketing.

Jallikattu involves selection of the best of the breed, improvement of cattle breeds, cattle shows, creating a brand value for the cattle of the village/region and then marketing the same, thus commanding high prices for their produce (cattle). This exceptional system developed by Tamils thousands of years ago is still in vogue in Tamilnadu. It has continued non-stop even under Muslim rulers and the British Raj, except during times of great famine and epidemics like plague when the people voluntarily suspended it.

To understand how Jallikattu is a part and parcel of Hindu Religion, we should understand the ancient ‘Temple Bull System’ which is still in vogue in Tamilnadu.

The Temple bull is not restrained in any manner. It is allowed to roam around the village and does not even have a nose rope. It has the right to walk into any field and graze. Superstitions were created around the Temple bull, so that people collectively care for it. For example, people believe that if the temple bull grazes from one’s farm, then that family would have a bountiful harvest. If the temple bull visits one’s house seeking water or feed, then that household would receive some good news etc. The whole village pampers the temple bull; its only task is to provide free stud service to the village cows.

Jallikattu is all about an unarmed man embracing the bull by its hump for a maximum of 30 seconds! And that is all there is to it. Just 30 seconds of embracing the bull by its hump.

For a bull, an unarmed human is like a pin in a bowling game. Yet the bull does not chase a sportsman down and attack him. Not a single fatality has been recorded in the Jallikattu arena post – 2009.

Jallikattu has been a part and parcel of the Hindu traditional practices of Tamils for thousands of years. It is conducted as a thanks-giving to the local village deity to which the village bulls are betrothed. The occasion is used to honour bulls belonging to the temple and the village.

If you travel around Tamilnadu, you can see statues of Jallikattu bulls and Temple bulls, erected inside temples. Pujas are performed for the bulls along with the puja for the deity. In fact, the statues of the Temple bulls sport the real horn of the bull. The temple bull services the village cows during its youth and when it is old, the village lovingly cares for the bull till its last breath. When a temple or Jallikattu bull passes away, it is given a grand ceremonial burial after performing its last rites similar to that of the village head. It is usually buried in the temple grounds or farm of the owner. After one year, the horns are exhumed and placed on the statue built in the village Temple. The Temple bull is considered sacred during its lifetime and considered as a village Guardian God (grama devata) after its death. Daily pujas are conducted for the Temple bull statue along with the puja for the deity.

For Tamils, Jallikattu is a symbol of the wisdom of their civilization; an inseparable part of their culture.

Tamils would not give up their traditional practice of Jallikattu.

Image may contain: outdoor
Posted in भारतीय उत्सव - Bhartiya Utsav

हैप्पी लोहड़ी


हैप्पी लोहड़ी

Neelam Saini

किसी समय में सुंदरी एवं मुंदरी नाम की दो अनाथ लड़कियां थीं जिनको उनका चाचा विधिवत शादी न करके एक राजा को भेंट कर देना चाहता था। उसी समय में दुल्ला भट्टी नाम का एक नामी डाकू हुआ है। उसने दोनों लड़कियों, ‘सुंदरी एवं मुंदरी’ को जालिमों से छुड़ा कर उन की शादियां कीं। इस मुसीबत की घडी में दुल्ला भट्टी ने लड़कियों की मदद की और लडके वालों को मना कर एक जंगल में आग जला कर सुंदरी और मुंदरी का विवाह करवाया। दुल्ले ने खुद ही उन दोनों का कन्यादान किया। कहते हैं दुल्ले ने शगुन के रूप में उनको शक्कर दी थी।

जल्दी-जल्दी में शादी की धूमधाम का इंतजाम भी न हो सका सो दुल्ले ने उन लड़कियों की झोली में एक सेर शक्कर डालकर ही उनको विदा कर दिया। भावार्थ यह है कि डाकू हो कर भी दुल्ला भट्टी ने निर्धन लड़कियों के लिए पिता की भूमिका निभाई।

यह भी कहा जाता है कि संत कबीर की पत्नी लोई की याद में यह पर्व मनाया जाता है. इसीलिए इसे लोई भी कहा जाता है।

Image may contain: text
Image may contain: 1 person
Image may contain: 3 people, people smiling, text
No automatic alt text available.

Posted in भारतीय उत्सव - Bhartiya Utsav

जल्लीकट्टू


जल्लीकट्टू, तमिलनाडु के ग्रामीण इलाक़ों का एक परंपरागत खेल है जो फसलों की कटाई के अवसर पर पोंगल के त्यौहार पर आयोजित कराया जाता है और जिसमे बैलों से इंसानों की लड़ाई कराई जाती है. इसे तमिलनाडु के गौरव तथा संस्कृति का प्रतीक कहा जाता है, जो उनकी संस्कृति से जुड़ा है।

जल्लीकट्टू का इतिहास करीब 400 साल पुराना बताया जाता है। जो  पोंगल के समय आयोजित किया जाता है। तमिलनाडु में यह सिर्फ एक खेल नहीं बल्कि बहुत पुरानी परंपरा है। मदुरै में जल्लीकट्टू खेल का सबसे बड़ा मेला लगता है। इससे पुरुषों और बैलों दोनों के दम-ख़म की परीक्षा होती थी।लड़कियों के लिए सही वर ढ़ूंढने के लिए स्वयंबर के रूप में जल्लीकट्टू का सहारा लिया जाता था, जो युवक सांड़ पर काबू पा लेता था शादी उसी से होती थी। दूसरे गायों की अच्छी नस्ल के लिए उत्तम कोटि के सांड का भी चुनाव इसी के द्वारा किया जाता था।

यह खेल स्पेन की “बुल फाइट” से मिलता जुलता है। पर वहां की तरह इसमें बैलों को मारा नहीं जाता और ना ही बैल को काबू करने वाले युवक किसी तरह के हथियार का इस्तेमाल करते हैं। यहां पशु को घायल भी नहीं किया जाता। पिछले समय में बैल या सांड के सींगों में सोने के सिक्के बांधे जाते थे जिनका स्थान अब नोटों ने ले लिया है, खेल में भाग लेने वालों को पशु को काबू कर इन्हें ही निकालना  होता है। इसको पहले सल्लीकासू कहा जाता था, सल्ली याने सिक्का और कासू का मतलब सीगों से बन्ध हुआ, समय के साथ सल्लीकासू बदल कर जल्लीकट्टू हो गया।  यह खेल जितना इंसानों के लिए जानलेवा है उतना ही जानवरों के लिए खतरनाक भी है। खेल के शुरु होते ही पहले एक-एक करके तीन बैलों को छोड़ा जाता है। ये गांव के सबसे बूढ़े बैल होते हैं। इन बैलों को कोई नहीं पकड़ता, ये बैल गांव की शान होते हैं और उसके बाद शुरु होता है जलीकट्टू का असली खेल।खेल के दौरान भारी पुलिस फोर्स, एक मेडिकल टीम और मदुरै कलेक्टर खुद भी वहां मौजूद रहते हैं।

 

इस खेल के लिए सांड और बैलों के पालक अपने पालतू पशुओं की खूब देख-भाल करते हैं तथा उनको इस खेल के लिए प्रशिक्षित भी करते हैं। पर समय के साथ-साथ इस खेल में नई पीढ़ी के पदार्पण के साथ ही बढ़ती प्रतिस्पर्धा व जीत की लालसा ने कुछ गलत तरीकों को भी अपना लिया है।, तमिलनाडु के ग्रामीण इलाक़ों का एक परंपरागत खेल है जो फसलों की कटाई के अवसर पर पोंगल के त्यौहार पर आयोजित कराया जाता है और जिसमे बैलों से इंसानों की लड़ाई कराई जाती है. इसे तमिलनाडु के गौरव तथा संस्कृति का प्रतीक कहा जाता है, जो उनकी संस्कृति से जुड़ा है।

जल्लीकट्टू का इतिहास करीब 400 साल पुराना बताया जाता है। जो  पोंगल के समय आयोजित किया जाता है। तमिलनाडु में यह सिर्फ एक खेल नहीं बल्कि बहुत पुरानी परंपरा है। मदुरै में जल्लीकट्टू खेल का सबसे बड़ा मेला लगता है। इससे पुरुषों और बैलों दोनों के दम-ख़म की परीक्षा होती थी।लड़कियों के लिए सही वर ढ़ूंढने के लिए स्वयंबर के रूप में जल्लीकट्टू का सहारा लिया जाता था, जो युवक सांड़ पर काबू पा लेता था शादी उसी से होती थी। दूसरे गायों की अच्छी नस्ल के लिए उत्तम कोटि के सांड का भी चुनाव इसी के द्वारा किया जाता था।

यह खेल स्पेन की “बुल फाइट” से मिलता जुलता है। पर वहां की तरह इसमें बैलों को मारा नहीं जाता और ना ही बैल को काबू करने वाले युवक किसी तरह के हथियार का इस्तेमाल करते हैं। यहां पशु को घायल भी नहीं किया जाता। पिछले समय में बैल या सांड के सींगों में सोने के सिक्के बांधे जाते थे जिनका स्थान अब नोटों ने ले लिया है, खेल में भाग लेने वालों को पशु को काबू कर इन्हें ही निकालना  होता है। इसको पहले सल्लीकासू कहा जाता था, सल्ली याने सिक्का और कासू का मतलब सीगों से बन्ध हुआ, समय के साथ सल्लीकासू बदल कर जल्लीकट्टू हो गया।  यह खेल जितना इंसानों के लिए जानलेवा है उतना ही जानवरों के लिए खतरनाक भी है। खेल के शुरु होते ही पहले एक-एक करके तीन बैलों को छोड़ा जाता है। ये गांव के सबसे बूढ़े बैल होते हैं। इन बैलों को कोई नहीं पकड़ता, ये बैल गांव की शान होते हैं और उसके बाद शुरु होता है जलीकट्टू का असली खेल।खेल के दौरान भारी पुलिस फोर्स, एक मेडिकल टीम और मदुरै कलेक्टर खुद भी वहां मौजूद रहते हैं।

 

इस खेल के लिए सांड और बैलों के पालक अपने पालतू पशुओं की खूब देख-भाल करते हैं तथा उनको इस खेल के लिए प्रशिक्षित भी करते हैं। पर समय के साथ-साथ इस खेल में नई पीढ़ी के पदार्पण के साथ ही बढ़ती प्रतिस्पर्धा व जीत की लालसा ने कुछ गलत तरीकों को भी अपना लिया है।

जल्लीकट्टू (Jallikattu) तमिलनाडु का चार सौ वर्ष से भी पुराना पारंपरिक खेल है, जो फसलों की कटाई के अवसर पर पोंगल के समय आयोजित किया जाता है। इसमें 300-400 किलो के सांड़ों की सींगों में सिक्के या नोट फंसाकर रखे जाते हैं और फिर उन्हें भड़काकर भीड़ में छोड़ दिया जाता है, ताकि लोग सींगों से पकड़कर उन्हें काबू में करें। कथित तौर पर पराक्रम से जुड़े इस खेल में विजेताओं को नकद इनाम वगैरह भी देने की परंपरा है। सांड़ों को भड़काने के लिए उन्हें शराब पिलाने से लेकर उनकी आंखों में मिर्च डाला जाता है और उनकी पूंछों को मरोड़ा तक जाता है, ताकि वे तेज दौड़ सकें। यह जानलेवा खेल मेला तमिलनाडु के मदुरै में लगता है।
जलीकट्टू त्योहार से पहले गांव के लोग अपने-अपने बैलों की प्रैक्टिस तक करवाते हैं। जहां मिट्टी के ढेर पर बैल अपनी सींगो को रगड़ कर जलीकट्टू की तैयारी करता है। बैल को खूंटे से बांधकर उसे उकसाने की प्रैक्टिस करवाई जाती है ताकि उसे गुस्सा आए और वो अपनी सींगो से वार करे। साल 2014 में सुप्रीम कोर्ट ने जानवरों के साथ हिंसक बर्ताव को देखते हुए इस खेल को बैन कर दिया था।

क्या हैं जलीकट्टू खेल के नियम?
खेल के शुरु होते ही पहले एक-एक करके तीन बैलों को छोड़ा जाता है। ये गांव के सबसे बूढ़े बैल होते हैं। इन बैलों को कोई नहीं पकड़ता, ये बैल गांव की शान होते हैं और उसके बाद शुरु होता है जलीकट्टू का असली खेल। मुदरै में होने वाला ये खेल तीन दिन तक चलता है।

कितनी पुरानी है जलीकट्टू परंपरा
तमिलनाडु में जलीकट्टू 400 साल पुरानी परंपरा है। जो योद्धाओं के बीच लोकप्रिय थी। प्राचीन काल में महिलाएं अपने वर को चुनने के लिए जलीकट्टू खेल का सहारा लेती थी। जलीकट्टू खेल का आयोजन स्वंयवर की तरह होता था जो कोई भी योद्धा बैल पर काबू पाने में कामयाब होता था महिलाएं उसे अपने वर के रूप में चुनती थी।
जलीकट्टू खेल का ये नाम सल्ली कासू से बना है। सल्ली का मतलब सिक्का और कासू का मतलब सींगों में बंधा हुआ। सींगों में बंधे सिक्कों को हासिल करना इस खेल का मकसद होता है। धीरे-धीरे सल्लीकासू का ये नाम जलीकट्टू हो गया।

जलीकट्टू और बुलफाइटिंग में अंतर
कई बार जलीकट्टू के इस खेल की तुलना स्पेन की बुलफाइटिंग से भी की जाती है लेकिन ये खेल स्पेन के खेल से काफी अलग है इसमें बैलों को मारा नहीं जाता और ना ही बैल को काबू करने वाले युवक किसी तरह के हथियार का इस्तेमाल करते हैं।

MD AsLam

★तमिलनाडु में पोंगल त्योहार के  दौरान खेला जाना वाला लोकप्रिय खेल जलीकट्टू पर प्रतिबंध हटाने को लेकर राज्य में बवाल मचा हुआ है। राज्य में कई जगहों पर इसको लेकर विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं।
★ तमिलनाडु सरकार ने केंद्र सरकार से अध्यादेश लाने की मांग की है। अध्यादेश के जरिए कानून बनाकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को पलटा जा सकता है।

=>जलीकट्टू पर प्रतिबंध कब और क्यों ?

★साल 2011 में यूपीए सरकार ने जलीकट्टू पर प्रतिबंध लगा दिया था लेकिन सत्ता में आने के बाद एनडीए सरकार ने 8 जनवरी 2016 में इसको हरी झंडी दे दी।
★बीते साल सुप्रीम कोर्ट ने इस पर पाबंदी लगाते हुए राज्य सरकार की याचिका भी खारिज कर दी थी जिसमें 2014 के आदेश पर पुनर्विचार करने की मांग की गई थी।
★ सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ तमिलनाडु विधानसभा एक प्रस्ताव भी पास कर चुकी है। प्रस्ताव के तहत जल्लीकट्टू पर लगे प्रतिबंध को हटाने की मांग की गई है।

=>>क्या है जलीकट्टू ?

★जलीकट्टू तमिलनाडु का चार सौ वर्ष से भी पुराना पारंपरिक खेल है, जो फसलों की कटाई के अवसर पर पोंगल के समय आयोजित किया जाता है।
★ इसमें 300-400 किलो के सांड़ों की सींगों में सिक्के या नोट फंसाकर रखे जाते हैं और फिर उन्हें भड़काकर भीड़ में छोड़ दिया जाता है, ताकि लोग सींगों से पकड़कर उन्हें काबू में करें।
★सांड़ों को भड़काने के लिए उन्हें शराब पिलाने से लेकर उनकी आंखों में मिर्च डाला जाता है और उनकी पूंछों को मरोड़ा तक जाता है, ताकि वे तेज दौड़ सकें।

=>>जलीकट्टू का मतलब

★कहा जाता है कि जल्ली/सल्ली का अर्थ ही होता है ‘सिक्का’ और कट्टू का ‘बांधा हुआ। सांडों के सींग में कपड़ा बंधा होता है जिसे खिलाड़ी को पुरस्कार राशि पाने के लिए निकालना होता है।

=>क्या हैं खेल के नियम ?

★खेल के शुरु होते ही पहले एक-एक करके तीन सांडों को छोड़ा जाता है। ये गांव के सबसे बूढ़े सांड होते हैं। इन सांडों को कोई नहीं पकड़ता, ये सांड गांव की शान होते हैं और उसके बाद शुरु होता है जलीकट्टू का असली खेल। मुदरै में होने वाला ये खेल तीन दिन तक चलता है।

★जलीकट्टू पर लगी रोक के खिलाफ सड़कों पर उतरे लोग, पुलिस ने किया गिरफ्तार

=>सालों पुरानी है जलीकट्टू परंपरा

★तमिलनाडु में जलीकट्टू 400 साल पुरानी परंपरा है। जो योद्धाओं के बीच लोकप्रिय थी।
★ प्राचीन काल में महिलाएं अपने वर को चुनने के लिए जलीकट्टू खेल का सहारा लेती थी। जलीकट्टू खेल का आयोजन स्वंयवर की तरह होता था जो कोई भी योद्धा बैल पर काबू पाने में कामयाब होता था महिलाएं उसे अपने वर के रूप में चुनती थी।

=>>जलीकट्टू और बुलफाइटिंग कितना में अंतर

★जलीकट्टू की तुलना स्पेन में खेले जाने वाली बुलफाइटिंग से भी की जाती है। हालांकि समर्थकों का कहना है कि जल्लीकट्टू यूरोपीय देश स्पेन में होनेवाली बुलफाइटिंग से अलग है और इसमें स्पैनिश स्पोर्ट्स की तरह हथियारों का इस्तेमाल नहीं होता और न ही खेल का मतलब है अंत में जानवर का खात्मा।


जल्लीकट्टू एक प्राचीन काल से खेला जाने वाला खेल मात्र है जिसमे किसी भी तरह की हिंसा नहीं होती है । इस खेल में बेल के सींग पर सिक्को से भरा थैला रखा जाता है जिसे हासिल करने के लिए लोग नंगे हाथो से बेल को रोक कर सिक्के लेने का प्रयास करते है अब आप बताये इसमें हिंसा कैसे दिखती है आपको । हाँ इतना जरूर है कि इसमें भाग लेने वाले प्रतिभागी को जरूर कुछ मामूली चोट लगती है पर किसी जिव की हत्या नहीं होती । में खुद भी किसी भी तरह की हिंसा का पक्षधर नहीं हूँ और जल्लीकट्टू पर प्रतिबन्ध लगाना पशु हत्या को बढ़ावा देने वाला फैसला साबित होगा क्यों की खेल पर प्रतिबन्ध से लोग बेलों को बेचने लगेंगे जो सीधे बूचड़खाने में कटने के लिए भेजे जाएंगे क्यों की आधुनिक खेती और परिवहन में अब इनका उपयोग ख़त्म हो चूका है ।