Posted in जीवन चरित्र

अहिल्याबाई होल्कर


आज 31 मई को तपस्वी राजमाता अहिल्याबाई होल्कर (Devi Ahilyabai Holkar) की जन्मजयंती है।

भारत में जिन महिलाओं का जीवन आदर्श, वीरता, त्याग तथा देशभक्ति के लिए सदा याद किया जाता है, उनमें #रानी_अहिल्याबाई_होल्कर का नाम प्रमुख है। उनका जन्म 31 मई, 1725 को ग्राम छौंदी (अहमदनगर, महाराष्ट्र) में एक साधारण कृषक परिवार में हुआ था। इनके पिता श्री मनकोजी राव शिन्दे परम शिवभक्त थे। अतः यही #संस्कार बालिका अहल्या पर भी पड़े।

एक बार #इन्दौर के राजा मल्हारराव होल्कर ने वहां से जाते हुए मन्दिर में हो रही आरती का मधुर स्वर सुना। वहां पुजारी के साथ एक बालिका भी पूर्ण मनोयोग से आरती कर रही थी। उन्होंने उसके पिता को बुलवाकर उस बालिका को अपनी पुत्रवधू बनाने का प्रस्ताव रखा। मनकोजी राव भला क्या कहते; उन्होंने सिर झुका दिया। इस प्रकार वह आठ वर्षीय बालिका इन्दौर के राजकुंवर खांडेराव की पत्नी बनकर राजमहलों में आ गयी।

इन्दौर में आकर भी अहिल्या पूजा एवं आराधना में रत रहती। कालान्तर में उन्हें दो पुत्री तथा एक पुत्र की प्राप्ति हुई। 1754 में उनके पति खांडेराव एक युद्ध में मारे गये। 1766 में उनके ससुर मल्हार राव का भी देहांत हो गया। इस संकटकाल में रानी ने तपस्वी की भांति श्वेत वस्त्र धारण कर राजकाज चलाया; पर कुछ समय बाद उनके पुत्र, पुत्री तथा पुत्रवधू भी चल बसे। इस वज्राघात के बाद भी रानी अविचलित रहते हुए अपने कर्तव्यमार्ग पर डटी रहीं।

ऐसे में पड़ोसी राजा पेशवा राघोबा ने इन्दौर के दीवान गंगाधर यशवन्त चन्द्रचूड़ से मिलकर अचानक हमला बोल दिया। रानी ने धैर्य न खोते हुए पेशवा को एक मार्मिक पत्र लिखा। रानी ने लिखा कि “यदि युद्ध में आप जीतते हैं, तो एक विधवा को जीतकर आपकी कीर्ति नहीं बढ़ेगी। और यदि हार गये, तो आपके मुख पर सदा को कालिख पुत जाएगी। मैं मृत्यु या युद्ध से नहीं डरती। मुझे राज्य का लोभ नहीं है, फिर भी मैं अन्तिम क्षण तक युद्ध करूंगी।”

इस पत्र को पाकर पेशवा राघोबा चकित रह गया। इसमें जहां एक ओर रानी अहिल्याबाई ने उस पर कूटनीतिक चोट की थी, वहीं दूसरी ओर अपनी कठोर संकल्पशक्ति का परिचय भी दिया था। रानी ने देशभक्ति का परिचय देते हुए उन्हें अंग्रेजों के षड्यन्त्र से भी सावधान किया था। अतः उसका मस्तक रानी के प्रति श्रद्धा से झुक गया और वह बिना युद्ध किये ही पीछे हट गया।

रानी के जीवन का लक्ष्य राज्यभोग नहीं था। वे प्रजा को अपनी सन्तान समझती थीं। वे घोड़े पर सवार होकर स्वयं जनता से मिलती थीं। उन्होंने जीवन का प्रत्येक क्षण राज्य और धर्म के उत्थान में लगाया। एक बार गलती करने पर उन्होंने अपने एकमात्र पुत्र को भी हाथी के पैरों से कुचलने का आदेश दे दिया था; पर फिर जनता के अनुरोध पर उसे कोड़े मार कर ही छोड़ दिया।

धर्मप्रेमी होने के कारण रानी ने अपने राज्य के साथ-साथ देश के अन्य तीर्थों में भी मंदिर, कुएं, बावड़ी, धर्मशालाएं आदि बनवाईं। काशी का वर्तमान काशी विश्वनाथ मंदिर 1780 में उन्होंने ही बनवाया था। उनके राज्य में कला, संस्कृति, शिक्षा, व्यापार, कृषि आदि सभी क्षेत्रों का विकास हुआ।

13 अगस्त, 1795 ई0 को 70 वर्ष की आयु में उनका देहान्त हुआ। उनका जीवन धैर्य, साहस, सेवा, त्याग और कर्तव्यपालन का पे्ररक उदाहरण है। इसीलिए एकात्मता स्तोत्र के 11वें श्लोक में उन्हें झांसी की रानी लक्ष्मीबाई, चन्नम्मा, रुद्रमाम्बा जैसी वीर नारियों के साथ याद किया जाता है।

(संदर्भ : राष्ट्रधर्म मासिक, मई 2011)

Posted in जीवन चरित्र

રાજમાતા અહિલ્યાબાઈ હોલકર


આજે 31 મે એ તપસ્વી રાજમાતા અહિલ્યાબાઈ હોલકરની જન્મજયંતિ છે.

# રાણી_અહિલ્યાબાઈ_હોલકરનું નામ એવી સ્ત્રીઓમાં અગ્રણી છે જેમના જીવનને હંમેશા તેમના આદર્શો, પરાક્રમ, બલિદાન અને દેશભક્તિ માટે યાદ કરવામાં આવે છે. તેનો જન્મ 31 મે 1725 ના રોજ છૌંડી (અહમદનગર, મહારાષ્ટ્ર) ગામમાં એક સામાન્ય ખેડૂત પરિવારમાં થયો હતો. તેમના પિતા શ્રી માનકોજી રાવ શિંદે પરમ ભક્ત હતા. તો એ જ # સંસ્કાર પણ અહલ્યા પર પડ્યા.

એકવાર, # ભારતના રાજા મલ્હારરાવ હોલકરે ત્યાંથી મંદિરમાં આરતીનો મધુર અવાજ સાંભળ્યો. ત્યાં એક યુવતી પુજારી સાથે પૂરા ભક્તિભાવથી આરતી પણ કરી રહી હતી. તેણે તેના પિતાને ફોન કર્યો અને તે છોકરીને પુત્રવધૂ બનાવવાનો પ્રસ્તાવ મૂક્યો. માનકોજી રાવ શું કહેશે? તેણે માથું નમાવ્યું. આમ, આઠ વર્ષની બાળકી ઈન્દોરના રાજકુમાર ખંડેરાવની પત્ની બની અને મહેલોમાં પ્રવેશ કરી.

ઈન્દોર આવ્યા પછી પણ અહલ્યા પૂજા-અર્ચના કરતા. પાછળથી, તેને બે પુત્રી અને એક પુત્ર થયો. 1754 માં, તેના પતિ ખંડેરાવ યુદ્ધમાં માર્યા ગયા. 1766 માં તેમના સસરા મલ્હાર રાવનું પણ અવસાન થયું. આ કટોકટીમાં, રાણી, એક સંન્યાસીની જેમ, સફેદ ઝભ્ભો પહેરીને રાજગાદી પર ગઈ; પરંતુ થોડા સમય પછી તેનો પુત્ર, પુત્રી અને વહુનું પણ અવસાન થયું. આ વાવાઝોડા પછી પણ, રાણી નિ .શંકર રહી અને તેની ફરજ પર રહી.

આવી સ્થિતિમાં પડોશી રાજા પેશ્વા રાઘોબા અચાનક ઈન્દોરના દિવાન ગંગાધર યશવંત ચંદ્રચુડને મળ્યા અને તેના પર હુમલો કર્યો. રાણીએ પેશ્વાને એક ધૈર્યપૂર્ણ પત્ર લખ્યો, ધીરજ ન ગુમાવી. રાણીએ લખ્યું છે કે “જો તમે યુદ્ધમાં જીતશો તો વિધવાને જીતવાથી તમારી ખ્યાતિ વધશે નહીં. અને જો તમે હારી જાઓ છો, તો તમે હંમેશા તમારા ચહેરા પર પલટા ખાઈ જશો. હું મૃત્યુ અથવા યુદ્ધથી ડરતો નથી. મને રાજ્યની લાલચ નથી. હું હજી પણ અંતિમ ક્ષણ સુધી લડું છું. “

આ પત્ર મળતાં પેશ્વા રાઘોબા સ્તબ્ધ થઈ ગયા હતા. આમાં, એક તરફ, મહારાણી અહિલ્યાબાઈએ તેમના પર રાજદ્વારી ઈજા પહોંચાડી હતી, તો બીજી તરફ, તેમણે પોતાનો કડક સંકલ્પ પણ દર્શાવ્યો હતો. દેશભક્તિ દર્શાવતી વખતે રાણીએ તેમને બ્રિટીશરોના કાવતરા સામે સાવધ પણ કરી દીધું. તેથી તેનું કપાળ રાણી પ્રત્યે આદર સાથે નમી ગયું અને તે લડ્યા વિના પાછો ગયો.

દેવી અહિલ્યા બાઇ હોલકર

હોલકર પરિવારની વિશેષતા એ હતી કે તેઓ તેમના વ્યક્તિગત અને કૌટુંબિક ખર્ચને પહોંચી વળવા જાહેર ભંડોળનો ઉપયોગ કરતા નહોતા. તેમની પાસે તેમની ખાનગી મિલકતોમાંથી તેમના વ્યક્તિગત ભંડોળ એકઠા હતા. દેવી અહિલ્યાને એક વ્યક્તિગત ભંડોળ વારસામાં મળ્યું જે તે સમયે આશરે સોળ કરોડ રૂપિયા જેટલું હતું. અહલ્યાબાઈએ તેના તમામ સખાવતી કાર્યો માટે તેના વ્યક્તિગત ભંડોળનો ઉપયોગ કર્યો.

ભારતભરમાં તેના કામો:

આલમપુર (MP) � હરિહરેશ્વર, બટુક, મલ્હરિમાર્થંડ, સૂર્ય, રેણુકા, રામ હનુમાન મંદિરો, શ્રીરામ મંદિર, લક્ષ્મી નારાયણ મંદિર, મારૂતિ મંદિર, નરસિંહ મંદિર, ખંડેરાવ માર્ટંદ મંદિર, મલ્હારરાવનું સ્મારક (I)

અમરકંથક- શ્રી વિશ્વેશ્વર મંદિર, કોટિથિથ મંદિર, ગોમુખી

મંદિર, ધર્મશાળા, વંશ કુંડ

અંબા ગામ �મંદિર માટે દીવા

આનંદ કાનન � વિશ્વેશ્વર મંદિર

અયોધ્યા (યુ.પી.) Shri શ્રી રામ મંદિર, શ્રી ત્રેતા રામ મંદિર, શ્રી ભૈરવ મંદિર, નાગેશ્વર / સિદ્ધનાથ મંદિર, શારાયુ ઘાટ, કૂવો, સ્વર્ગદ્વારી મોહતાજખાના, ધર્મશાળાઓ.

બદ્રીનાથ મંદિર (યુપી) � શ્રી કેદારેશ્વર અને હરિ મંદિરો, ધર્મશાળાઓ (રંગદાતી, બિદારતી, વ્યાસગંગા, તંગનાથ, પાવલી), મનુ કુંડ (ગૌરકુંડ, કુંડચત્રિ), ગાર્ડન અને ગરમ પાણીના કુંડ, ગાય માટે પશુપાલન

બીડ � એક ઘાટનો જિર્ણોધર.

બેલુર (કર્ણાટક) � ગણપતિ, પાંડુરંગ, જલેશ્વર,

ખંડોબા, તીર્થરાજ અને અગ્નિ મંદિરો, કુંડ

ભાનપુરા � નવ મંદિરો અને ધર્મશાળા

ભરતપુર � મંદિર, ધર્મશાળા, કુંડ

ભીમાશંકર � ગરીબખાના

ભુસાવાલ � ચાંગદેવ મંદિર

બિટ્થર � ભ્રમઘાટ

બુરહાનપુર (એમ. પી. ) � રાજ ઘાટ, રામ ઘાટ, કુંડ

ચાંદવાડ વાફેગાંવ � વિષ્ણુ મંદિર અને રેણુકા મંદિર

ચૌંડી – ચૌદેશ્વરદેવી મંદિર, સિનેશ્વર મહાદેવ મંદિર,

અહિલ્યેશ્વર મંદિર, ધર્મશાળા, ઘાટ,

ચિત્રકૂટ � શ્રી રામચંદ્રનો પ્રાણપ્રતિષ્ઠા

સિખાલ્ડા � અન્નક્ષેત્ર

દ્વારકા (ગુજરાથ) � મોહતાજખાના, પૂજા હાઉસ અને કેટલાક ગામો પૂજારીને આપ્યા

એલોરા – લાલ સ્ટોનનું કૃષ્ણેશ્વર મંદિર

ગંગોત્રી � વિશ્વનાથ, કેદારનાથ, અન્નપૂર્ણા, ભૈરવ

મંદિરો, અનેક ધર્મશાળાઓ

ગયા (બિહાર) � વિષ્ણુપદ મંદિર

ગોકર્ણ – રેવાલેશ્વર મહાદેવ મંદિર, હોલકર વાડા, બગીચો અને ગરીબખાના

ગ્રુનેશ્વર (વેરૂલ) � શિવાલય તીર્થ

હાંડિયા � સિદ્ધનાથ મંદિર, ઘાટ અને ધર્મશાળા

હરિદ્વાર (ઉત્તરાખંડ) કે કુશાવર્થ ઘાટ અને વિશાળ ધર્મશાળા

ઋષિકેશ � ઘણા મંદિરો, શ્રીનાથજી અને ગોવર્ધન રામ મંદિરો

ઈન્દોર � ઘણા મંદિરો અને ઘાટ

જગન્નાથ પુરી (ઓરિસ્સા) શ્રી શ્રી રામચંદ્ર મંદિર, ધર્મશાળા અને બગીચો

જલગાંવ � રામ મંદિર

જામઘાટ � ભૂમિ દ્વાર

જામવગાંવ � રામદાસ સ્વામી મઠ માટે દાન આપ્યું

જેજુરી � મલ્હારગૌતમેશ્વર, વિઠ્ઠલ, માર્ટંડ મંદિર, જનાઈ મહાદેવ અને મલ્હાર તળાવો

કર્મનાસિની નદી � બ્રિજ

કાશી (બનારસ) � કાશી વિશ્વનાથ મંદિર, શ્રી તારકેશ્વર, શ્રી ગંગાજી, અહિલ્યા દ્વારકેશ્વર, ગૌતમેશ્વર, ઘણાં મહાદેવ મંદિરો, મંદિર ઘાટ, મણિકર્ણિકા ઘાટ, દશસ્વમેઘ ઘાટ, જનાના ઘાટ, અહિલ્યા ઘાટ, ઉત્તરકશી ધર્મશાળા, રામેશ્વર પંચકોશી ધર્મશાળા, કપિલા ધારા ધર્મશાળા, શીતળા ઘાટ

કેદારનાથ �ધર્મશાળા અને કુંડ

કોલ્હાપુર � મંદિર પૂજા માટેની સુવિધાઓ

કુમ્હેર � પ્રિન્સ ખંડેરાવનું વેલ એન્ડ મેમોરિયલ

કુરુક્ષેત્ર (હરિયાણા) � શિવ શાંતનુ મહાદેવ મંદિર, પંચકુંડ ઘાટ, લક્ષ્મીકુંડ ઘાટ

મહેશ્વર � સેંકડો મંદિરો, ઘાટ, ધર્મશાળાઓ અને મકાનો

મામાલેશ્વર મહાદેવ હિમાચલ પ્રદેશ � દીવડાઓ

મનસા દેવી � સાત મંદિરો

માંડલેશ્વર � શિવ મંદિર ઘાટ

મીરી (અહમદનગર) � 1780 માં ભૈરવ મંદિર

નૈમાબાર (એમ. પી.) � મંદિર

નંદુરબાર [1] � મંદિર, સારું

નાથદ્વાર � અહિલ્યા કુંડ, મંદિર, કૂવો

નીલકંઠ મહાદેવ � શિવાલય અને ગોમુખ

નેમિશરણ્ય (યુપી) � મહાદેવ માડી, નિમ્સાર ધર્મશાળા, ગો-ઘાટ, કakક્રીથિથ કુંડ

નીમગાંવ (નાસિક) � કૂવો

ઓમકારેશ્વર (સાંસદ) � મામલેશ્વર મહાદેવ, અમલેશ્વર,

ત્રંબકેશ્વર મંદિરો (જિર્ણોધર), ગૌરી સોમનાથ મંદિર, ધર્મશાળાઓ, કૂવાઓ

ઓઝર (અહમદનગર) � 2 કુવાઓ અને કુંડ

પંચવટી, નાસિક � શ્રી રામ મંદિર, ગોરા મહાદેવ મંદિર, ધર્મશાળા, વિશ્વાશ્વર મંદિર, રામઘાટ, ધર્મશાળા

પંઢરપુર (મહારાષ્ટ્ર) � શ્રી શ્રી રામ મંદિર, તુલસીબાગ, હોલકર વાડા, સભા મંડપ, ધર્મશાળા અને મંદિર માટે ચાંદીના વાસણો આપ્યા, જે બગીરાવ સારી રીતે ઓળખાય છે.

પિમ્પ્લાસ (નાસિક) � કૂવાઓ

પ્રયાગ (અલ્હાબાદ યુપી) � વિષ્ણુ મંદિર, ધર્મશાળા, ગાર્ડન, ઘાટ, મહેલ

પુણે � ઘાટપુંટંબે (મહારાષ્ટ્ર) �ગોદાવરી નદી પર ઘાટ

પુષ્કર – � ગણપતિ મંદિર, ધર્મશાળા, બગીચો

રામેશ્વર (ટીએન) � હનુમાન મંદિર, શ્રી રાધા કૃષ્ણ મંદિર, ધર્મશાળા, કૂવો, બગીચો વગેરે.

રામપુરા � ચાર મંદિરો, ધર્મશાળા અને મકાનો

રાવર � કેશવ કુંડ

સાકરગાંવ � કૂવાઓ

સંભલ � લક્ષ્મી નારાયણ મંદિર અને બે કૂવા

સંગમનેર � રામ મંદિર

સપ્તશ્રૃંગી �ધર્મશાળા

સરધાન મેરઠ � ચંડી દેવી મંદિર

સૌરાષ્ટ્ર (ગુજ) � 1785 માં સોમનાથ મંદિર. (જિર્ણોધ્ધર અને પ્રાણ પ્રતિષ્ઠા)

અહમદનગર જિલ્લાના સિદ્ધેતિક ખાતે સિદ્ધિવિનાયક મંદિરનું આંતરિક અભયારણ્ય

શ્રી નાગનાથ (દરુખવન) � 1784 માં પૂજા શરૂ થઈ

શ્રીસૈલામ મલ્લિકાર્જુન (કુર્નૂલ, એપી) � ભગવાન શિવનું મંદિર

શ્રી શંભુ મહાદેવ પર્વત શિંગનાપુર (મહારાષ્ટ્ર) � સારું

શ્રી વૈજેનાથ (પરાલી, મહા) � 1784 માં બાઇજેનાથ મંદિરનો જિર્ણોધર

શ્રી વિગ્નેશ્વર � દીવડાઓ

સિંહપુર � શિવ મંદિર અને ઘાટ

સુલપેશ્વર � મહાદેવ મંદિર, અન્નક્ષેત્ર

સુલતાનપુર (ખાનેશ) � મંદિર

તારાણા � ટીલાભંડેશ્વર શિવ મંદિર, ખેડાપતિ, શ્રીરામ મંદિર, મહાકાળી મંદિર

તેહરી (બુંદેલખંડ) � ધર્મશાળા

ત્ર્યંબકેશ્વર (નાસિક) � કુશાવર્થ ઘાટ પર પુલ

ઉજ્જૈન (એમ. પી.) � ચિંતામન ગણપતિ, જનાર્દન, શ્રીલિલા પુરુષોત્તમ, બાલાજી તિલકેશ્વર, રામજાનકી રાસ મંડળ, ગોપાલ, ચિટનીસ, બાલાજી, અંકપાલ, શિવ અને અન્ય ઘણા મંદિરો, 13 ઘાટ, કૂવો અને ઘણા ધર્મશાળાઓ વગેરે.

વારાણસી � કાશી વિશ્વનાથ મંદિર 1780.

વૃંદાવન (મથુરા) � ચેઇન બિહારી મંદિર, કાઠીયાદેહ ઘાટ, ચિરઘાટ અને બીજા ઘણા ઘાટ, ધર્મશાળા, અન્નકસ્ત્ર

વાફેગાંવ (નાસિક) � હોલકર વાડા અને એક કૂવો

Posted in जीवन चरित्र

अहिल्याबाई होल्कर


आज 31 मई को तपस्वी राजमाता अहिल्याबाई होल्कर (Devi Ahilyabai Holkar) की जन्मजयंती है।

भारत में जिन महिलाओं का जीवन आदर्श, वीरता, त्याग तथा देशभक्ति के लिए सदा याद किया जाता है, उनमें #रानी_अहिल्याबाई_होल्कर का नाम प्रमुख है। उनका जन्म 31 मई, 1725 को ग्राम छौंदी (अहमदनगर, महाराष्ट्र) में एक साधारण कृषक परिवार में हुआ था। इनके पिता श्री मनकोजी राव शिन्दे परम शिवभक्त थे। अतः यही #संस्कार बालिका अहल्या पर भी पड़े।

एक बार #इन्दौर के राजा मल्हारराव होल्कर ने वहां से जाते हुए मन्दिर में हो रही आरती का मधुर स्वर सुना। वहां पुजारी के साथ एक बालिका भी पूर्ण मनोयोग से आरती कर रही थी। उन्होंने उसके पिता को बुलवाकर उस बालिका को अपनी पुत्रवधू बनाने का प्रस्ताव रखा। मनकोजी राव भला क्या कहते; उन्होंने सिर झुका दिया। इस प्रकार वह आठ वर्षीय बालिका इन्दौर के राजकुंवर खांडेराव की पत्नी बनकर राजमहलों में आ गयी।

इन्दौर में आकर भी अहिल्या पूजा एवं आराधना में रत रहती। कालान्तर में उन्हें दो पुत्री तथा एक पुत्र की प्राप्ति हुई। 1754 में उनके पति खांडेराव एक युद्ध में मारे गये। 1766 में उनके ससुर मल्हार राव का भी देहांत हो गया। इस संकटकाल में रानी ने तपस्वी की भांति श्वेत वस्त्र धारण कर राजकाज चलाया; पर कुछ समय बाद उनके पुत्र, पुत्री तथा पुत्रवधू भी चल बसे। इस वज्राघात के बाद भी रानी अविचलित रहते हुए अपने कर्तव्यमार्ग पर डटी रहीं।

ऐसे में पड़ोसी राजा पेशवा राघोबा ने इन्दौर के दीवान गंगाधर यशवन्त चन्द्रचूड़ से मिलकर अचानक हमला बोल दिया। रानी ने धैर्य न खोते हुए पेशवा को एक मार्मिक पत्र लिखा। रानी ने लिखा कि “यदि युद्ध में आप जीतते हैं, तो एक विधवा को जीतकर आपकी कीर्ति नहीं बढ़ेगी। और यदि हार गये, तो आपके मुख पर सदा को कालिख पुत जाएगी। मैं मृत्यु या युद्ध से नहीं डरती। मुझे राज्य का लोभ नहीं है, फिर भी मैं अन्तिम क्षण तक युद्ध करूंगी।”

इस पत्र को पाकर पेशवा राघोबा चकित रह गया। इसमें जहां एक ओर रानी अहिल्याबाई ने उस पर कूटनीतिक चोट की थी, वहीं दूसरी ओर अपनी कठोर संकल्पशक्ति का परिचय भी दिया था। रानी ने देशभक्ति का परिचय देते हुए उन्हें अंग्रेजों के षड्यन्त्र से भी सावधान किया था। अतः उसका मस्तक रानी के प्रति श्रद्धा से झुक गया और वह बिना युद्ध किये ही पीछे हट गया।

रानी के जीवन का लक्ष्य राज्यभोग नहीं था। वे प्रजा को अपनी सन्तान समझती थीं। वे घोड़े पर सवार होकर स्वयं जनता से मिलती थीं। उन्होंने जीवन का प्रत्येक क्षण राज्य और धर्म के उत्थान में लगाया। एक बार गलती करने पर उन्होंने अपने एकमात्र पुत्र को भी हाथी के पैरों से कुचलने का आदेश दे दिया था; पर फिर जनता के अनुरोध पर उसे कोड़े मार कर ही छोड़ दिया।

धर्मप्रेमी होने के कारण रानी ने अपने राज्य के साथ-साथ देश के अन्य तीर्थों में भी मंदिर, कुएं, बावड़ी, धर्मशालाएं आदि बनवाईं। काशी का वर्तमान काशी विश्वनाथ मंदिर 1780 में उन्होंने ही बनवाया था। उनके राज्य में कला, संस्कृति, शिक्षा, व्यापार, कृषि आदि सभी क्षेत्रों का विकास हुआ।

13 अगस्त, 1795 ई0 को 70 वर्ष की आयु में उनका देहान्त हुआ। उनका जीवन धैर्य, साहस, सेवा, त्याग और कर्तव्यपालन का पे्ररक उदाहरण है। इसीलिए एकात्मता स्तोत्र के 11वें श्लोक में उन्हें झांसी की रानी लक्ष्मीबाई, चन्नम्मा, रुद्रमाम्बा जैसी वीर नारियों के साथ याद किया जाता है।

(संदर्भ : राष्ट्रधर्म मासिक, मई 2011)

Posted in जीवन चरित्र

Devi Ahilya Bai Holkar


Devi Ahilya Bai Holkar

It was the speciality of Holkar family that they did not use public funds to meet their personal and family expenses. They had their personal funds accruing from their private properties. Devi Ahilya inherited a personal fund which at that time was estimated to be around sixteen crore rupees. Ahilyabai used her personal funds for all her charitable works.

Her works throughout India:

Alampur (MP) � Harihareshwar, Batuk, Malharimarthand, Surya, Renuka, Ram Hanuman Temples, Shriram Temple, Laxmi Narayan Temple, Maruti Temple, Narsinh Temple, Khanderao Martand Temple, Memorial of Malharrao (I)

Amarkanthak- Shri Vishweshwar Temple, Kotithirth Temple, Gomukhi Temple, Dharamshala, Vansh Kund

Amba Gaon � Lamps for temple

Anand Kanan � Vishweshwar Temple

Ayodhya (U.P)� Built Shri Ram Temple, Shri Treta Ram Temple, Shri Bhairav Temple, Nageshwar/Siddhnath Temple, Sharayu Ghat, well, Swargadwari Mohatajkhana, Dharamshalas

Badrinath Temple (UP) � Shri Kedareshwar and Hari Temples, Dharamshalas (Rangdachati, Bidarchati, Vyasganga, Tanganath, Pawali), Manu kunds (Gaurkund, Kundachatri), Garden and Warm Water Kund at Dev Prayag, Pastoral land for cows

Beed � Jirnnodhar of a Ghat.

Belur (Karnataka) � Ganpati, Pandurang, Jaleshwar,
Khandoba, Tirthraj and Fire temples, Kund

Bhanpura � Nine Temples and Dharmashala

Bharatpur � Temple, Dharmashala, Kund

Bhimashankar � Garibkhana

Bhusawal � Changadev Temple

Bitthur � Bhramaghat

Burhanpur (MP) � Raj Ghat, Ram Ghat, Kund

Chandwad Waphegaon � Vishnu Temple and Renuka Temple

Chaundi � Chaudeshwaridevi Temple, Sineshwar Mahadev temple,

Ahilyeshwar Temple, Dharamshala, Ghat,

Chitrakoot � Pranpratishta of Shri Ramchandra

Cikhalda � Annakshetra

Dwarka(Gujrath) � Mohatajkhana, Pooja House and gave some villages to priest

Ellora �Grishneshwar Temple of Red Stone

Gangotri � Vishwanath, Kedarnath, Annapurna, Bhairav

Temples, many Dharmashalas

Gaya (Bihar) � Vishnupad Temple

Gokarn � Rewaleshwar Mahadev temple, Holkar wada, Garden and Garibkhana

Gruneshwar (Verul) � Shivalaya Tirth

Handiya � Siddhanath Temple, ghat and dharmashala

Haridwar (Uttarakhand) � Kushawarth Ghat and a Huge Dharmashala

Hrishikesh � Many temples, Shrinathji and Govardhan ram temples

Indore � Many Temples and ghats

Jagannath Puri (Orrisa) � Shri Ramchandra Temple, Dharmashala and Garden

Jalgaon � Ram Mandir

Jamghat � Bhumi dwar

Jamvgaon � Donated for Ramdas swami Math

Jejuri � Malhargautameshwar, Vitthal, Martand Temple, Janai Mahadev and Malhar lakes

Karmanasini River � Bridge

Kashi (Benaras) � Kashi Vishwanath Temple, Shri Tarakeshwar, Shri Gangaji, Ahilya Dwarkeshwar, Gautameshwar, Many Mahadev Temples, Temple Ghats, Manikarnika Ghat, Dashaaswamegh Ghat, Janana Ghat, Ahilya Ghat, UttarKashi Dharmashala, Rameshwar Panchkoshi Dharmashala, Kapila Dhara Dharmashala, Shitala Ghat

Kedarnath � Dharmashala and Kund

Kolhapur � Facilities for temple pooja

Kumher � Well and Memorial of Prince Khanderao

Kurukshetra (Haryana) � Shiv Shantanu Mahadev Temple,
Panchkund Ghat, Laxmikund Ghat

Maheshwar � Hundreds of temples, ghats, dharmashalas and houses

Mamaleshwar Mahadev Himachal Pradesh � Lamps

Manasa Devi � Seven temples

Mandaleshwar � Shiv Temple Ghat

Miri (Ahmednagar) � Bhairav Temple in 1780

Naimabar(MP) � Temple

Nandurbar[1] � Temple, Well

Nathdwara � Ahilya Kund, Temple, Well

Neelkantha Mahadev � Shivalaya and Gomukh

Nemisharanya(UP) � Mahadev Madi, Nimsar Dharmashala, Go-ghat, Cakrithirth kund

Nimgaon (Nashik) � Well

Omkareshwar (MP) � Mamaleshwar Mahadev, Amaleshwar, Trambakeshwar Temples (Jirnnodhar), Gauri Somnath Temple, Dharmashalas, Wells

Ozar (Ahmednagar) � 2 wells and kund

Panchawati, Nasik � Shri Ram Temple, Gora Mahadev temple, Dharmashala, Vishweshwar Temple, Ramghat, Dharmashala

Pandharpur (Maharashtra) � Shri Ram Temple, Tulsibag, Holkar wada, Sabha Mandap, Dharmashala and gave silver utensil for the temple,Well-Which known by Bagirao well.

Pimplas(Nashik) � well

Prayag (Allahabad UP) � Vishnu Temple, Dharmashala, Garden, Ghat, Palace

Pune � Ghat

Puntambe (Maharashtra) � Ghat on Godavari river

Pushkar � Ganpati Temple, Dharmashala, Garden

Rameshwar (TN) � Hanuman Temple, Shri Radha Krishna Temple, Dharmashala, Well, Garden etc.

Rampura � Four Temples, Dharmashala and houses

Raver � Keshav Kund

Sakargaon � well

Sambhal � Laxmi Narayan Temple and two wells

Sangamner � Ram Temple

Saptashrungi � Dharmashala

Sardhana Meerut � Chandi Devi Temple

Saurashtra (Guj) � Somnath Temple in 1785. (Jirnnodhdhar and Pran Prathistha)

Siddhivinayak temple’s inner sanctum at Siddhatek in Ahmednagar District

Shri Nagnath (Darukhvan) � Started pooja in 1784

Srisailam Mallikarjun (Kurnool, AP) � Temple of Lord Shiva

Shri Shambhu Mahadev Mountain Shingnapur (Maharashtra) � Well

Shri Vaijenath (Parali, Maha) � Jirnnodhar of Baijenath Temple in 1784

Shri Vhigneshwar � Lamps

Sinhpur � Shiv Temple and ghat

Sulpeshwar � Mahadev Temple, annakshetra

Sultanpur (Khandesh) � Temple

Tarana � Tilabhandeshwar Shiv temple, Khedapati, Shriram Temple, Mahakali Temple

Tehari (Bundelkhand) � Dharmashala

Trimbakeshwar (Nashik) � Bridge on Kushawarth Ghat

Ujjain (MP) � Chintaman Ganapati, Janardhan, Shrilila Purushottam, Balaji Tilakeshwar, Ramjanaki Ras Mandal, Gopal, Chitnis, Balaji, Ankpal, Shiv and many other temples, 13 ghats, well and many Dharmashalas etc.

Varanasi, Kashi Vishwanath Temple 1780.[13]

Vrindavan (Mathura) � Chain Bihari Temple, Kaliyadeha Ghat, Chirghat and many other ghats, Dharmashala, Annakstra

Waphegaon (Nashik) � Holkar wada and one well

Source: Wikipedia

Posted in जीवन चरित्र

अहिल्याबाई होल्कर


आज 31 मई को तपस्वी राजमाता अहिल्याबाई होल्कर (Devi Ahilyabai Holkar) की जन्मजयंती है।

भारत में जिन महिलाओं का जीवन आदर्श, वीरता, त्याग तथा देशभक्ति के लिए सदा याद किया जाता है, उनमें #रानी_अहिल्याबाई_होल्कर का नाम प्रमुख है। उनका जन्म 31 मई, 1725 को ग्राम छौंदी (अहमदनगर, महाराष्ट्र) में एक साधारण कृषक परिवार में हुआ था। इनके पिता श्री मनकोजी राव शिन्दे परम शिवभक्त थे। अतः यही #संस्कार बालिका अहल्या पर भी पड़े।

एक बार #इन्दौर के राजा मल्हारराव होल्कर ने वहां से जाते हुए मन्दिर में हो रही आरती का मधुर स्वर सुना। वहां पुजारी के साथ एक बालिका भी पूर्ण मनोयोग से आरती कर रही थी। उन्होंने उसके पिता को बुलवाकर उस बालिका को अपनी पुत्रवधू बनाने का प्रस्ताव रखा। मनकोजी राव भला क्या कहते; उन्होंने सिर झुका दिया। इस प्रकार वह आठ वर्षीय बालिका इन्दौर के राजकुंवर खांडेराव की पत्नी बनकर राजमहलों में आ गयी।

इन्दौर में आकर भी अहिल्या पूजा एवं आराधना में रत रहती। कालान्तर में उन्हें दो पुत्री तथा एक पुत्र की प्राप्ति हुई। 1754 में उनके पति खांडेराव एक युद्ध में मारे गये। 1766 में उनके ससुर मल्हार राव का भी देहांत हो गया। इस संकटकाल में रानी ने तपस्वी की भांति श्वेत वस्त्र धारण कर राजकाज चलाया; पर कुछ समय बाद उनके पुत्र, पुत्री तथा पुत्रवधू भी चल बसे। इस वज्राघात के बाद भी रानी अविचलित रहते हुए अपने कर्तव्यमार्ग पर डटी रहीं।

ऐसे में पड़ोसी राजा पेशवा राघोबा ने इन्दौर के दीवान गंगाधर यशवन्त चन्द्रचूड़ से मिलकर अचानक हमला बोल दिया। रानी ने धैर्य न खोते हुए पेशवा को एक मार्मिक पत्र लिखा। रानी ने लिखा कि “यदि युद्ध में आप जीतते हैं, तो एक विधवा को जीतकर आपकी कीर्ति नहीं बढ़ेगी। और यदि हार गये, तो आपके मुख पर सदा को कालिख पुत जाएगी। मैं मृत्यु या युद्ध से नहीं डरती। मुझे राज्य का लोभ नहीं है, फिर भी मैं अन्तिम क्षण तक युद्ध करूंगी।”

इस पत्र को पाकर पेशवा राघोबा चकित रह गया। इसमें जहां एक ओर रानी अहिल्याबाई ने उस पर कूटनीतिक चोट की थी, वहीं दूसरी ओर अपनी कठोर संकल्पशक्ति का परिचय भी दिया था। रानी ने देशभक्ति का परिचय देते हुए उन्हें अंग्रेजों के षड्यन्त्र से भी सावधान किया था। अतः उसका मस्तक रानी के प्रति श्रद्धा से झुक गया और वह बिना युद्ध किये ही पीछे हट गया।

रानी के जीवन का लक्ष्य राज्यभोग नहीं था। वे प्रजा को अपनी सन्तान समझती थीं। वे घोड़े पर सवार होकर स्वयं जनता से मिलती थीं। उन्होंने जीवन का प्रत्येक क्षण राज्य और धर्म के उत्थान में लगाया। एक बार गलती करने पर उन्होंने अपने एकमात्र पुत्र को भी हाथी के पैरों से कुचलने का आदेश दे दिया था; पर फिर जनता के अनुरोध पर उसे कोड़े मार कर ही छोड़ दिया।

धर्मप्रेमी होने के कारण रानी ने अपने राज्य के साथ-साथ देश के अन्य तीर्थों में भी मंदिर, कुएं, बावड़ी, धर्मशालाएं आदि बनवाईं। काशी का वर्तमान काशी विश्वनाथ मंदिर 1780 में उन्होंने ही बनवाया था। उनके राज्य में कला, संस्कृति, शिक्षा, व्यापार, कृषि आदि सभी क्षेत्रों का विकास हुआ।

13 अगस्त, 1795 ई0 को 70 वर्ष की आयु में उनका देहान्त हुआ। उनका जीवन धैर्य, साहस, सेवा, त्याग और कर्तव्यपालन का पे्ररक उदाहरण है। इसीलिए एकात्मता स्तोत्र के 11वें श्लोक में उन्हें झांसी की रानी लक्ष्मीबाई, चन्नम्मा, रुद्रमाम्बा जैसी वीर नारियों के साथ याद किया जाता है।

(संदर्भ : राष्ट्रधर्म मासिक, मई 2011)

Posted in जीवन चरित्र

हिन्दू राष्ट्रवादी

31 मई
तपस्वी राजमाता अहल्याबाई होल्कर जन्म दिवस

भारत में जिन महिलाओं का जीवन आदर्श, वीरता, त्याग तथा देशभक्ति के लिए सदा याद किया जाता है, उनमें रानी अहल्याबाई होल्कर का नाम प्रमुख है। उनका जन्म 31 मई, 1725 को ग्राम छौंदी (अहमदनगर, महाराष्ट्र) में एक साधारण कृषक परिवार में हुआ था। इनके पिता श्री मनकोजी राव शिन्दे परम शिवभक्त थे। अतः यही संस्कार बालिका अहल्या पर भी पड़े।

एक बार इन्दौर के राजा मल्हारराव होल्कर ने वहां से जाते हुए मन्दिर में हो रही आरती का मधुर स्वर सुना। वहां पुजारी के साथ एक बालिका भी पूर्ण मनोयोग से आरती कर रही थी। उन्होंने उसके पिता को बुलवाकर उस बालिका को अपनी पुत्रवधू बनाने का प्रस्ताव रखा। मनकोजी राव भला क्या कहते; उन्होंने सिर झुका दिया। इस प्रकार वह आठ वर्षीय बालिका इन्दौर के राजकुंवर खांडेराव की पत्नी बनकर राजमहलों में आ गयी।

इन्दौर में आकर भी अहल्या पूजा एवं आराधना में रत रहती। कालान्तर में उन्हें दो पुत्री तथा एक पुत्र की प्राप्ति हुई। 1754 में उनके पति खांडेराव एक युद्ध में मारे गये। 1766 में उनके ससुर मल्हार राव का भी देहांत हो गया। इस संकटकाल में रानी ने तपस्वी की भांति श्वेत वस्त्र धारण कर राजकाज चलाया; पर कुछ समय बाद उनके पुत्र, पुत्री तथा पुत्रवधू भी चल बसे। इस वज्राघात के बाद भी रानी अविचलित रहते हुए अपने कर्तव्यमार्ग पर डटी रहीं।

ऐसे में पड़ोसी राजा पेशवा राघोबा ने इन्दौर के दीवान गंगाधर यशवन्त चन्द्रचूड़ से मिलकर अचानक हमला बोल दिया। रानी ने धैर्य न खोते हुए पेशवा को एक मार्मिक पत्र लिखा। रानी ने लिखा कि यदि युद्ध में आप जीतते हैं, तो एक विधवा को जीतकर आपकी कीर्ति नहीं बढ़ेगी। और यदि हार गये, तो आपके मुख पर सदा को कालिख पुत जाएगी। मैं मृत्यु या युद्ध से नहीं डरती। मुझे राज्य का लोभ नहीं है, फिर भी मैं अन्तिम क्षण तक युद्ध करूंगी।

इस पत्र को पाकर पेशवा राघोबा चकित रह गया। इसमें जहां एक ओर रानी अहल्याबाई ने उस पर कूटनीतिक चोट की थी, वहीं दूसरी ओर अपनी कठोर संकल्पशक्ति का परिचय भी दिया था। रानी ने देशभक्ति का परिचय देते हुए उन्हें अंगे्रजों के षड्यन्त्र से भी सावधान किया था। अतः उसका मस्तक रानी के प्रति श्रद्धा से झुक गया और वह बिना युद्ध किये ही पीछे हट गया।

रानी के जीवन का लक्ष्य राज्यभोग नहीं था। वे प्रजा को अपनी सन्तान समझती थीं। वे घोड़े पर सवार होकर स्वयं जनता से मिलती थीं। उन्होंने जीवन का प्रत्येक क्षण राज्य और धर्म के उत्थान में लगाया। एक बार गलती करने पर उन्होंने अपने एकमात्र पुत्र को भी हाथी के पैरों से कुचलने का आदेश दे दिया था; पर फिर जनता के अनुरोध पर उसे कोड़े मार कर ही छोड़ दिया।

धर्मप्रेमी होने के कारण रानी ने अपने राज्य के साथ-साथ देश के अन्य तीर्थों में भी मंदिर, कुएं, बावड़ी, धर्मशालाएं आदि बनवाईं। काशी का वर्तमान काशी विश्वनाथ मंदिर 1780 में उन्होंने ही बनवाया था। उनके राज्य में कला, संस्कृति, शिक्षा, व्यापार, कृषि आदि सभी क्षेत्रों का विकास हुआ।

13 अगस्त, 1795 ई0 को 70 वर्ष की आयु में उनका देहान्त हुआ। उनका जीवन धैर्य, साहस, सेवा, त्याग और कर्तव्यपालन का पे्ररक उदाहरण है। इसीलिए एकात्मता स्तोत्र के 11वें श्लोक में उन्हें झांसी की रानी लक्ष्मीबाई, चन्नम्मा, रुद्रमाम्बा जैसी वीर नारियों के साथ याद किया जाता है।

Posted in जीवन चरित्र

रासबिहारी बोस


रासबिहारी बोस

13 August 2010 at 14:03 सरफ़रोशी-की-तमन्ना

रासबिहारी बोस (बांग्ला: রাসবিহারী বসু ) (25 मई,1886- 21 जनवरी, 1945) भारत के एक क्रान्तिकारी नेता थे जिन्होने ब्रिटिश राज के विरुद्ध गदर षडयंत्र एवं आजाद हिन्द फौज के संगठन का कार्य किया। इन्होंने न केवल भारतमें कई क्रांतिकारी गतिविधियों का संचालन करने में महत्वपूर्ण भूमिकानिभाई, बल्कि विदेश में रहकर भी वह भारत को स्वतंत्रता दिलाने के प्रयासमें आजीवन लगे रहे। दिल्ली में वायसराय लार्ड चार्ल्स हार्डिंग पर बम फेंकने की योजना बनाने गदर की साजिश रचने और बाद में जापान जाकर इंडियन इंडिपेंडेस लीग और आजाद हिंद फौजकी स्थापना करने में रासबिहारी बोस की महत्वपूर्ण भूमिका रही। हालांकि देशको आजाद करने के लिए किए गए उनके ये प्रयास सफल नहीं हो पाए, लेकिन इससेस्वतंत्रता संग्राम में निभाई गई उनकी भूमिका का महत्व बहुत ऊंचा है।

रासबिहारी बोस का जन्म 25 मई 1986 को बंगाल में बर्धमान के सुबालदह गांव में हुआ। इनकी आरंभिक शिक्षा चंदननगर में हुई, जहां उनके पिता विनोदबिहारी बोस नियुक्त थे।[१]रासबिहारी बोस बचपन से ही देश की स्वतंत्रता के स्वप्न देखा करते थे औरक्रांतिकारी गतिविधियों में उनकी गहरी दिलचस्पी रही थी। प्रारंभ मेंरासबिहारी बोस ने देहरादून के वन अनुसंधान संस्थान में कुछ समय तक हेड क्लर्क के रूप में काम किया। उसी दौरान उनका क्रांतिकारी जतिन मुखर्जी के अगुवाई वाले युगातंर के अमरेन्द्र चटर्जी से परिचय हुआ और वह बंगाल के क्रांतिकारियों के साथ जुड़ गए। बाद में वह अरबिंदो घोष के राजनीतिक शिष्य रहे जतीन्द्रनाथ बनर्जी उर्फ निरालम्ब स्वामी के सम्पर्क में आने पर संयुक्त प्रांत, (वर्तमान उत्तर प्रदेश), और पंजाब के प्रमुख आर्य समाजी क्रांतिकारियों के निकट आए।

दिल्ली में जार्ज पंचम के 12 दिसंबर १९११ को होने वाले दिल्ली दरबार के लिए निकाली गई शोभायात्रा पर वायसराय लार्ड हार्डिंग पर बम फेंकने की योजना बनाने में रासबिहारी की प्रमुख भूमिका रही थी।[२]अमरेन्द्र चटर्जी के एक शिष्य बसंत कुमार विश्वास ने उन पर बम फेंका लेकिननिशाना चूक गया। इसके बाद ब्रिटिश पुलिस रासबिहारी बोस के पीछे लग गई औरवह बचने के लिए रात में रेलगाडी से देहरादूनभाग गए और आफिस में इस तरह काम करने लगे मानो कुछ हुआ ही नहीं हो। अगलेदिन उन्होंने देहरादून के नागरिकों की एक सभा भी बुलाई, जिसमें उन्होंनेवायसराय पर हुए हमले की निन्दा की। इस प्रकार उन पर इस षडयंत्र और कांड काप्रमुख संदिग्ध होने का संदेह उन पर किंचितमात्र भी नहीं हुआ।[१] 1913 में बंगालमें बाढ़ राहत कार्य के दौरान रासबिहारी बोस जतिन मुखर्जी के सम्पर्क मेंआए, जिन्होंने उनमें नया जोश भरने का काम किया। रासबिहारी बोस इसके बाददोगुने उत्साह के साथ फिर से क्रांतिकारी गतिविधियों के संचालन में लग गए।भारत को स्वतंत्र कराने के लिए उन्होंने प्रथम विश्व युद्ध के दौरान गदर की योजना बनाई। फरवरी १९१५ में अनेक भरोसेमंद क्रांतिकारियों की सेना में घुसपैठ कराने की कोशिश की गई।

जुगांतरके कई नेताओं ने सोचा कि यूरोप में युद्ध होने के कारण चूंकि अभी अधिकतरसैनिक देश से बाहर गए हुए हैं, इसलिए बाकी को आसानी से हराया जा सकता हैलेकिन यह प्रयास भी असफल रहा और कई क्रांतिकारियों को गिरफ्तार कर लियागया। ब्रिटिश खुफिया पुलिस ने रासबिहारी बोस को भी पकड़ने की कोशिश कीलेकिन वह उनके हत्थे नहीं चढ़े और भागकर विदेश से हथियारों की आपूर्ति केलिए जून १९१५ में राजा पी. एन. टैगोर के नाम से जापान के शंघाई में पहुंचे और वहां देश की आजादी के लिए काम करने लगे।[२]वहां उन्होंने कई वर्ष निर्वासन में बिताए। जापान में भी रासबिहारी बोसचुप नहीं बैठे और वहां के अपने जापानी क्रांतिकारी मित्रों के साथ मिलकरदेश की स्वतंत्रता के लिए प्रयास करते रहे। उन्होंने जापान में अंग्रेजीके अध्यापन के साथ लेखक व पत्रकार के रूप में काम शुरू किया। उन्होंनेवहां में न्यू एशिया नामक समाचार पत्र शुरू किया। जापानी भाषा सीखी और इसमें १६ पुस्तकें लिखीं।[२] ब्रिटिश सरकारअब भी उनके पीछे लगी हुई थी और वह जापान सरकार से उनके प्रत्यर्पण की मांगकर रही थी, इसलिए वह लगभग एक साल तक अपनी पहचान और आवास बदलते रहे। १९१६ में जापान में ही रासबिहारी बोस ने प्रसिद्ध पैन एशियाई समर्थक सोमा आइजो और सोमा कोत्सुको की पुत्री से विवाह कर लिया और १९२३ में वहां के नागरिक बन गए।[१] जापान में वह पत्रकार और लेखकके रूप में रहने लगे। जापानी अधिकारियों को भारतीय राष्ट्रवादियों के पक्षमें खड़ा करने और देश की आजादी के आंदोलन को उनका सक्रिय समर्थन दिलानेमें भी रासबिहारी बोस की भूमिका अहम रही। उन्होंने २८ मार्च १९४२ को टोक्योमें एक सम्मेलन बुलाया जिसमें इंडियन इंडीपेंडेंस लीग की स्थापना कानिर्णय किया गया। इस सम्मेलन में उन्होंने भारत की आजादी के लिए एक सेनाबनाने का प्रस्ताव भी पेश किया।

22जून 1942 को रासबिहारी बोस ने बैंकाक में लीग का दूसरा सम्मेलन बुलाया, जिसमें सुभाष चंद्र बोस को लीग में शामिल होने और उसका अध्यक्ष बनने के लिए आमंत्रित करने का प्रस्ताव पारित किया गया। जापान ने मलय और बर्मा के मोर्चे पर कई भारतीय युद्धबंदियों को पकड़ा था। इन युद्धबंदियों को इंडियन इंडीपेंडेंस लीग में शामिल होने और इंडियन नेशनल आर्मी (आईएनए) का सैनिक बनने के लिए प्रोत्साहित किया गया। आईएनए का गठन रासबिहारी बोस की इंडियन नेशनल लीग की सैन्य शाखा के रूप में सितंबर १९४२ को किया गया। बोस ने एक झंडे का भी चयन किया जिसे आजाद नाम दिया गया। इस झंडे को उन्होंने सुभाष चंद्र बोस के हवाले किया।[१]रासबिहारी बोस शक्ति और यश के शिखर को छूने ही वाले थे कि जापानी सैन्यकमान ने उन्हें और जनरल मोहन सिंह को आईएनए के नेतृत्व से हटा दिया लेकिनआईएनए का संगठनात्मक ढांचा बना रहा। बाद में इसी ढांचे पर सुभाष चंद्र बोसने आजाद हिन्द फौज के नाम से आईएनएस का पुनर्गठन किया।

भारत को ब्रिटिश शासन की गुलामी से मुक्ति दिलाने की जीतोड़ मेहनत करते हुए किन्तु इसकी आस लिए ही21 जनवरी 1945 को इनका निधन हो गया।[१] उनके निधन से कुछ समय पहले जापानी सरकार ने उन्हें आर्डर आफ द राइजिंग सन के सम्मान से अलंकृत किया था।rash bihari boserash bihari bose

Posted in जीवन चरित्र

जिन्नाह महान सावरकर गद्दार: भ्रम का निवारण


देवी सिंह तोमर

जिन्नाह महान सावरकर गद्दार: भ्रम का निवारण

हमारे देश में एक विशेष जमात यह राग अलाप रही है कि जिन्नाह अंग्रेजों से लड़े थे इसलिए महान थे। जबकि वीर सावरकर गद्दार थे क्यूंकि उन्होंने अंग्रेजों से माफ़ी मांगी थी। वैसे इन लोगों को यह नहीं मालूम कि जिन्नाह इस्लाम की मान्यताओं के विरुद्ध सारे कर्म करते थे। जैसे सूअर का मांस खाना, शराब पीना, सिगार पीना आदि। वो न तो पांच वक्त के नमाजी थे। न ही हाजी थे। न ही दाढ़ी और टोपी में यकीन रखते थे। जबकि वीर सावरकर। उनका तो सारा जीवन ही राष्ट्र को समर्पित था। पहले सावरकर को जान तो लीजिये।

1. वीर सावरकर पहले क्रांतिकारी देशभक्त थे जिन्होंने 1901 में ब्रिटेन की रानी विक्टोरिया की मृत्यु पर नासिक में शोक सभा का विरोध किया और कहा कि वो हमारे शत्रु देश की रानी थी, हम शोक क्यूँ करें? क्या किसी भारतीय महापुरुष के निधन पर ब्रिटेन में शोक सभा हुई है.?

2. वीर सावरकर पहले देशभक्त थे जिन्होंने एडवर्ड सप्तम के राज्याभिषेक समारोह का उत्सव मनाने वालों को त्र्यम्बकेश्वर में बड़े बड़े पोस्टर लगाकर कहा था कि गुलामी का उत्सव मत मनाओ…

3. विदेशी वस्त्रों की पहली होली पूना में 7 अक्तूबर 1905 को वीर सावरकर ने जलाई थी…

4. वीर सावरकर पहले ऐसे क्रांतिकारी थे जिन्होंने विदेशी वस्त्रों का दहन किया, तब बाल गंगाधर तिलक ने अपने पत्र केसरी में उनको शिवाजी के समान बताकर उनकी प्रशंसा की थी जबकि इस घटना की दक्षिण अफ्रीका के अपने पत्र ‘इन्डियन ओपीनियन’ में गाँधी ने निंदा की थी…

5. सावरकर द्वारा विदेशी वस्त्र दहन की इस प्रथम घटना के 16 वर्ष बाद गाँधी उनके मार्ग पर चले और 11 जुलाई 1921 को मुंबई के परेल में विदेशी वस्त्रों का बहिष्कार किया…

6. सावरकर पहले भारतीय थे जिनको 1905 में विदेशी वस्त्र दहन के कारण पुणे के फर्म्युसन कॉलेज से निकाल दिया गया और दस रूपये जुर्माना लगाया … इसके विरोध में हड़ताल हुई… स्वयं तिलक जी ने ‘केसरी’ पत्र में सावरकर के पक्ष में सम्पादकीय लिखा…

7. वीर सावरकर ऐसे पहले बैरिस्टर थे जिन्होंने 1909 में ब्रिटेन में ग्रेज-इन परीक्षा पास करने के बाद ब्रिटेन के राजा के प्रति वफादार होने की शपथ नही ली… इस कारण उन्हें बैरिस्टर होने की उपाधि का पत्र कभी नही दिया गया…

8. वीर सावरकर पहले ऐसे लेखक थे जिन्होंने अंग्रेजों द्वारा ग़दर कहे जाने वाले संघर्ष को ‘1857 का स्वातंत्र्य समर’ नामक ग्रन्थ लिखकर सिद्ध कर दिया…

9. सावरकर पहले ऐसे क्रांतिकारी लेखक थे जिनके लिखे ‘1857 का स्वातंत्र्य समर’ पुस्तक पर ब्रिटिश संसद ने प्रकाशित होने से पहले प्रतिबन्ध लगाया था…

10. ‘1857 का स्वातंत्र्य समर’ विदेशों में छापा गया और भारत में भगत सिंहने इसे छपवाया था जिसकी एक एक प्रति तीन-तीन सौ रूपये में बिकी थी… भारतीय क्रांतिकारियों के लिए यह पवित्र गीता थी… पुलिस छापों में देशभक्तों के घरों में यही पुस्तक मिलती थी…

11. वीर सावरकर पहले क्रान्तिकारी थे जो समुद्री जहाज में बंदी बनाकर ब्रिटेन से भारत लाते समय आठ जुलाई 1910 को समुद्र में कूद पड़े थे और तैरकर फ्रांस पहुँच गए थे…

12. सावरकर पहले क्रान्तिकारी थे जिनका मुकद्दमा अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय हेग में चला, मगर ब्रिटेन और फ्रांस की मिलीभगत के कारण उनको न्याय नही मिला और बंदीबनाकर भारत लाया गया…

13. वीर सावरकर विश्व के पहले क्रांतिकारी और भारत के पहले राष्ट्रभक्त थे जिन्हें अंग्रेजी सरकार ने दो आजन्म कारावास की सजा सुनाई थी…

14. सावरकर पहले ऐसे देशभक्त थे जो दो जन्म कारावास की सजा सुनते ही हंसकर बोले- “चलो, ईसाई सत्ता ने हिन्दू धर्म के पुनर्जन्म सिद्धांत को मान लिया.”

15. वीर सावरकर पहले राजनैतिक बंदी थे जिन्होंने काला पानी की सजा के समय 10 साल से भी अधिक समय तक आजादी के लिए कोल्हू चलाकर 30 पौंड तेल प्रतिदिन निकाला…

16. वीर सावरकर काला पानी में पहले ऐसे कैदी थे जिन्होंने काल कोठरी की दीवारों पर कंकड़ और कोयले से कवितायें लिखी और 6000 पंक्तियाँ याद रखी…

17. वीर सावरकर पहले देशभक्त लेखक थे, जिनकी लिखी हुई पुस्तकों पर आजादी के बाद कई वर्षों तक प्रतिबन्ध लगा रहा…

18. आधुनिक इतिहास के वीर सावरकर पहले विद्वान लेखक थे जिन्होंने हिन्दू को परिभाषित करते हुए लिखा कि-‘आसिन्धु सिन्धुपर्यन्ता यस्य भारत भूमिका.पितृभू: पुण्यभूश्चैव स वै हिन्दुरितीस्मृतः.’अर्थात समुद्र से हिमालय तक भारत भूमि जिसकी पितृभू है जिसके पूर्वज यहीं पैदा हुए हैं व यही पुण्य भू है, जिसके तीर्थ भारत भूमि में ही हैं, वही हिन्दू है…

19. वीर सावरकर प्रथम राष्ट्रभक्त थे जिन्हें अंग्रेजी सत्ता ने 30 वर्षों तक जेलों में रखा तथा आजादी के बाद 1948 में नेहरु सरकार ने गाँधी हत्या की आड़ में लाल किले में बंद रखा पर न्यायालय द्वारा आरोप झूठे पाए जाने के बाद ससम्मान रिहा कर दिया… देशी-विदेशी दोनों सरकारों को उनके राष्ट्रवादी विचारोंसे डर लगता था…

20. वीर सावरकर पहले क्रांतिकारी थे जब उनका 26 फरवरी 1966 को उनका स्वर्गारोहण हुआ तब भारतीय संसद में कुछ सांसदों ने शोक प्रस्ताव रखा तो यह कहकर रोक दिया गया कि वे संसद सदस्य नही थे जबकि चर्चिल की मौत पर शोक मनाया गया था…

21.वीर सावरकर पहले क्रांतिकारी राष्ट्रभक्त स्वातंत्र्य वीर थे जिनके मरणोपरांत 26 फरवरी 2003 को उसी संसद में मूर्ति लगी जिसमे कभी उनके निधनपर शोक प्रस्ताव भी रोका गया था….

22. वीर सावरकर ऐसे पहले राष्ट्रवादी विचारक थे जिनके चित्र को संसद भवन में लगाने से रोकने के लिए कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गाँधी ने राष्ट्रपति को पत्र लिखा लेकिन राष्ट्रपति डॉ. अब्दुल कलाम ने सुझाव पत्र नकार दिया और वीर सावरकर के चित्र अनावरण राष्ट्रपति ने अपने कर-कमलों से किया…

23. वीर सावरकर पहले ऐसे राष्ट्रभक्त हुए जिनके शिलालेख को अंडमान द्वीप की सेल्युलर जेल के कीर्ति स्तम्भ से UPA सरकार के मंत्री मणिशंकर अय्यर ने हटवा दिया था और उसकी जगह गांधी का शिलालेख लगवा दिया…वीर सावरकर ने दस साल आजादी के लिए काला पानी में कोल्हू चलाया था जबकि गाँधी ने कालापानी की उस जेल में कभी दस मिनट चरखा नही चलाया….

24. महान स्वतंत्रता सेनानी, क्रांतिकारी-देशभक्त, उच्च कोटि के साहित्य के रचनाकार, हिंदी-हिन्दू-हिन्दुस्थान के मंत्रदाता, हिंदुत्व के सूत्रधार वीर विनायक दामोदर सावरकर पहले ऐसे भव्य-दिव्य पुरुष, भारत माता के सच्चे सपूत थे, जिनसे अन्ग्रेजी सत्ता भयभीत थी, आजादी के बाद नेहरु की कांग्रेस सरकार भयभीत थी…

25. वीर सावरकर माँ भारती के पहले सपूत थे जिन्हें जीते जी और मरने के बाद भी आगे बढ़ने से रोका गया… पर आश्चर्य की बात यह है कि इन सभी विरोधियों के घोर अँधेरे को चीरकर आज वीर सावरकर के राष्ट्रवादी विचारों का सूर्य उदय हो रहा है..

।।वन्देमातरम।।

!! जय हिन्दू राष्ट्र !!

Posted in जीवन चरित्र

रामगढ़ शेखावाटी को बसाने वाले सेठ


श्री चतुर्भुज पोद्दार – रामगढ़ शेखावाटी को बसाने वाले सेठ
रामगढ़ सेठान को सन् 1791 में सेठ चतुर्भुज पोद्दार ने बसाया था। सेठ जी बंसल गोत्र के अग्रवाल महाजन थे। ये राजस्थान के सीकर जिले में पड़ता है । वैसे तो शहर अपने राजा के नाम से जाने जाते हैं लेकिन राजस्थान का रामगढ़ सेठान या रामगढ़ सेठोका जाना जाता है अपने सेठों की वजह है । इसके इतिहास से एक बहुत ही दिलचस्प कहानी जुड़ी हुई है । पोद्दारों के 21 परिवार राजस्थान में व्यापार करते थे । वो बहुत ही सम्पन्न व्यापारी थे । उनके आलीशान हवेलियां उसमे की गई नक्काशी उनके रुतबे को दर्शाती थीं । अब वहाँ के जागीरदारों को इनकी अमीरी देख के जलन हुई उन्होंने इनपे टैक्स बड़ा दिए और वो टैक्स इतने ज्यादा थे कि पोद्दारों ने कहा ये गलत है और इसका विरोध किया । और विरोध इतना ज्यादा बढ़ गया कि पोद्दारों ने कहा “हम चुरू छोड़ के जा रहे हैं और जहाँ भी जाएंगे वहाँ इससे भव्य और आलीशान नगर बसायेंगे ।” उसके बाद पोद्दारों ने सीकर में रामगढ़ शेखावाटी या रामगढ़ सेठान बसाया । बाद में फतेहगढ़ के अग्रवाल कुल के रुइया महाजन भी यहाँ आकर बस गए।
सीकर ठिकाने के सीनियर अफसर कैप्टन वेब जो 1934 से 38 तक सीकर ठिकाने का सीनियर अफसर रहा ,ने ‘सीकर की कहानी ‘नामक अंग्रेजी में पुस्तक में अपने प्रवास के दौरान सीकर ठिकाने के संस्मरण लिखें हैं ।उसमें कैप्टन वेब ने रामगढ़ के सेठों को सोने का अंडा देने वाली मुर्गी बताया है है ।इसी कारण राज दरबार में भी उन्हें पूरा सम्मान मिलता था तथा विशेष कुर्सी रामगढ़ के क्षेत्रों को उपलब्ध करवाई जाती थी ।
रामगढ़ सेठान उन्नीसवीं शताब्दी का भारत के सबसे अमीर नगरों था। इसकी भव्य हवेलियां , छतरियां और मंदिर भारत की प्राचीन कला और वास्तुशास्त्र का अद्भुत उदाहरण हैं । रामगढ़ सेठान की छतरियाँ भारत की सबसे बड़ी Open Air Art Gallery है । उसमें रामायण और राधा कृष्ण की कला कृतियाँ बनी हैं
रामगढ़ सेठान के बारे में कुछ दिलचस्प चीजें –
रामगढ़ सेठान भारत के सबसे अमीर नगरों में था । इसके सेठ पोद्दार और रुइया बहुत ही उदार और दयालु थे और उन्होंने बहुत सी दिलचस्प चीजें की थी .
रामगढ़ सेठान का सारा टैक्स केवल सेठ भरते थे ।
इन्होंने काफी स्कूल , कॉलेज , हॉस्पिटल और धर्मशालाएं खोली थीं ।
रामगढ़ सेठान को उस समय #छोटा_काशी कहा जाता था क्योंकि उसमें 25 संस्कृत के विद्यालय थे , उसमे आयुर्वेद और ज्योतिष के लिए विद्यालय थे और उस समय जयपुर के अलावा केवल रामगढ़ में कॉलेज था ।
सभी विद्यार्थियों को मुफ्त शिक्षा , मुफ्त खाना और सभी चीजें मिलती थीं ।
सेठों के लड़कों के विवाह में नगर के सभी लोग आमंत्रित होते थे और जो भी आता था उसे हेड़ा दिया जाता था जो कि बहुत प्रसिद्ध था । जो भी आता था उसे एक रुपये दिए जाते थे जाते समय कुछ लोग तो तो अपने साथ अपने मवेशी लाते थे उनके लिए भी ले जाते थे । एकबार एक आदमी लोटा भर के चीटे लाया और हर चीटे के लिए हेड़ा मांगा और उसे दिया भी गया ।
गौशाला में गायों के लिए 60-70 मन (2400 किलो)ग्वार रहता था जो कि जिसका प्रबन्द सेठों द्वारा किया जाता था ।
उनके लड़के की शादी के वक़्त खुली लूट रहती थी पूरे नगर में कोई भी जिसके घर मे शादी है उसकी दुकान से कुछ भी ले सकता था जिसका नुकसान जिस सेठ के लड़के की शादी है वो ही उठाता था ।
एकबार किसी गांव के एक गांववाले ने सीकर के महाराज से शिकायत की आप रामगढ़ वालों पे इतना ज्यादा ध्यान क्यों देते हैं । राजा ने उनकी परीक्षा ली कहा कि तुमलोग 1 करोड़ रुपये का प्रबन्द करो अभी । और पूरे सीकर में । लोगों ने मना कर दिया कहा ऐसा नहीं हो सकता है । फिर राजा ने अपने मंत्रियों से कहा कि रामगढ़ जाओ और सेठों को बोलो की महाराज को इस समय एक करोड़ रुपये चाहियें (इस समय के करीब अरबों में ) । मंत्री गए और सेठों को बताया । सेठों ने कहा कि राजा से पूछो की रुपये ,अन्ना ,पैसे किसमे चाहिए ? मंत्री आये और राजा को बताया । राजा ने कहा अब समझे मैं रामगढ़ सेठान का इतना ध्यान क्यों रखता हूँ ।
पोद्दारों ने वहाँ कुएं , तालाब , बावड़ी , मंदिर , छतरियाँ और आलीशान हवेलियां बनवाईं थीं वहीं रुइया ने कॉलेज , स्कूल और हॉस्पिटल इत्यादि ।
सेठ श्री अनंत राम पोद्दार जी जाड़ों में सियारों को लाडू और कंबल देते थे ताकि वो मर न जाएं ।
भक्तवारी देवी , सेठ श्री लक्ष्मी चंद पोद्दार जी की धर्म पत्नी गुप्त दान करतीं थीं । उन्होंने अपने मुनीम को बोल दिया था कि नगर में कोई भूखा नहीं रहना चाहिए न ही किसी को किसी बात की चिंता हो ।
बहुत से भारत के अमीर कॉरपोरेट्स यहीं से निकले हैं जैसे एस्सार ग्रुप के शशि रुइया और रवि रुइया .
भारत की पहली रजिस्टर्ड कंपनी सेठ श्री ताराचंद घनश्याम दस पोद्दार की थी जिसमे मशहूर उद्योगपति घनश्याम दास बिड़ला जी और स्टील किंग लक्ष्मी निवास मित्तल के पितामाह ने काम किया था ।मोहनलाल जैन
Posted in जीवन चरित्र

महाराणा प्रताप कि असली गाथा


सिद्धार्थ गुप्ता

महाराणा प्रताप कि असली गाथा👍🚩🔱🚩
क्या आपने कभी पढ़ा है कि हल्दीघाटी के बाद अगले १० साल में मेवाड़ में क्या हुआ?? इतिहास से जो पन्ने हटा दिए गये हैं उन्हें वापस संकलित करना ही होगा क्यूँकि वही हिन्दू रेजिस्टेंस और शौर्य के प्रतीक हैं।

इतिहास में तो ये भी नहीं पढ़ाया गया है कि हल्दीघाटी युद्ध में जब महाराणा प्रताप ने कुंवर मानसिंह के हाथी पर जब प्रहार किया तो शाही फ़ौज पाँच छह कोस दूर तक भाग गई थी और अकबर के आने की अफवाह से पुनः युद्ध में सम्मिलित हुई है,

ये वाकया अबुल फज़ल की पुस्तक अकबरनामा में दर्ज है, क्या हल्दी घाटी अलग से एक युद्ध था..या एक बड़े युद्ध की छोटी सी घटनाओं में से बस एक शुरूआती घटना….

महाराणा प्रताप को इतिहासकारों ने हल्दीघाटी तक ही सीमित करके मेवाड़ के इतिहास के साथ बहुत बड़ा अन्याय किया है, वास्तविकता में हल्दीघाटी का युद्ध, महाराणा प्रताप और मुगलो के बीच हुए कई युद्धों की शुरुआत भर था।

मुग़ल न तो प्रताप को पकड़ सके और न ही मेवाड़ पर आधिपत्य जमा सके, हल्दीघाटी के बाद क्या हुआ वो हम बताते हैं। हल्दीघाटी के युद्ध के बाद महाराणा के पास सिर्फ 7000 सैनिक ही बचे थे,

और कुछ ही समय में मुगलों का कुम्भलगढ़, गोगुंदा, उदयपुर और आसपास के ठिकानों पर अधिकार हो गया था, उस स्थिति में महाराणा ने “गुरिल्ला युद्ध” की योजना बनायीं और मुगलों को कभी भी मेवाड़ में सेटल नहीं होने दिया. महाराणा के शौर्य से विचलित अकबर ने उनको दबाने के लिए 1576 में हुए हल्दीघाटी के बाद भी हर साल 1577 से 1582 के बीच एक एक लाख के सैन्यबल भेजे जो कि महाराणा को झुकाने में नाकामयाब रहे।

हल्दीघाटी युद्ध के पश्चात् महाराणा प्रताप के खजांची भामाशाह और उनके भाई ताराचंद मालवा से दंड के पच्चीस लाख रुपये और दो हज़ार अशर्फियाँ लेकर हाज़िर हुए,

इस घटना के बाद महाराणा प्रताप ने भामाशाह का बहुत सम्मान किया और दिवेर पर हमले की योजना बनाई। भामाशाह ने जितना धन महाराणा को राज्य की सेवा के लिए दिया उस से 25 हज़ार सैनिकों को 12 साल तक रसद दी जा सकती थी।

बस फिर क्या था..महाराणा ने फिर से अपनी सेना संगठित करनी शुरू की और कुछ ही समय में 40000 लड़ाकों की एक शक्तिशाली सेना तैयार हो गयी।

उसके बाद शुरू हुआ हल्दीघाटी युद्ध का दूसरा भाग जिसको इतिहास से एक षड्यंत्र के तहत या तो हटा दिया गया है या एकदम दरकिनार कर दिया गया है, इसे बैटल ऑफ़ दिवेर* कहा गया गया है।

बात सन १५८२ की है, विजयदशमी का दिन था और महराणा ने अपनी नयी संगठित सेना के साथ मेवाड़ को वापस स्वतंत्र कराने का प्रण लिया. उसके बाद सेना को दो हिस्सों में विभाजित करके युद्ध का बिगुल फूँक दिया।

एक टुकड़ी की कमान स्वंय महाराणा के हाथ थी दूसरी टुकड़ी का नेतृत्व उनके पुत्र अमर सिंह कर रहे थे, कर्नल टॉड ने भी अपनी किताब में हल्दीघाटी को Thermopylae of Mewar और दिवेर के युद्ध को राजस्थान का मैराथन बताया है।

ये वही घटनाक्रम हैं जिनके इर्द गिर्द आप फिल्म 300 देख चुके हैं, कर्नल टॉड ने भी महाराणा और उनकी सेना के शौर्य, तेज और देश के प्रति उनके अभिमान को स्पार्टन्स के तुल्य ही बताया है जो युद्ध भूमि में अपने से 4 गुना बड़ी सेना से यूँ ही टकरा जाते थे।

दिवेर का युद्ध बड़ा भीषण था, महाराणा प्रताप की सेना ने महाराजकुमार अमर सिंह के नेतृत्व में दिवेर थाने पर हमला किया, हज़ारो की संख्या में मुग़ल, राजपूती तलवारो बरछो भालो और कटारो से बींध दिए गए।

युद्ध में महाराजकुमार अमरसिंह ने सुलतान खान मुग़ल को बरछा मारा जो सुल्तान खान और उसके घोड़े को काटता हुआ निकल गया। उसी युद्ध में एक अन्य राजपूत की तलवार एक हाथी पर लगी और उसका पैर काट कर निकल गई।

महाराणा प्रताप ने बहलेखान मुगल के सर पर वार किया और तलवार से उसे घोड़े समेत काट दिया, शौर्य की ये बानगी इतिहास में कहीं देखने को नहीं मिलती है. उसके बाद यह कहावत बनी कि मेवाड़ में सवार को एक ही वार में घोड़े समेत काट दिया जाता है।

ये घटनाये मुगलो को भयभीत करने के लिए बहुत थी।
बचे खुचे ३६००० मुग़ल सैनिकों ने महाराणा के सामने आत्म समर्पण किया, दिवेर के युद्ध ने मुगलो का मनोबल इस तरह तोड़ दिया कि जिसके परिणाम स्वरुप मुगलों को मेवाड़ में बनायीं अपनी सारी 36 थानों, ठिकानों को छोड़ के भागना पड़ा,

यहाँ तक कि जब मुगल कुम्भलगढ़ का किला तक रातो रात खाली कर भाग गए, दिवेर के युद्ध के बाद प्रताप ने गोगुन्दा, कुम्भलगढ़, बस्सी, चावंड, जावर, मदारिया, मोही, माण्डलगढ़ जैसे महत्त्वपूर्ण ठिकानो पर कब्ज़ा कर लिया। इसके बाद भी महाराणा और उनकी सेना ने अपना अभियान जारी रखते हुए सिर्फ चित्तौड़ को छोड़ के मेवाड़ के सारे ठिकाने/दुर्ग वापस स्वतंत्र करा लिए।

अधिकांश मेवाड़ को पुनः कब्जाने के बाद महाराणा प्रताप ने आदेश निकाला कि अगर कोई एक बिस्वा जमीन भी खेती करके मुसलमानो को हासिल (टैक्स) देगा, उसका सर काट दिया जायेगा।इसके बाद मेवाड़ और आस पास के बचे खुचे शाही ठिकानो पर रसद पूरी सुरक्षा के साथ अजमेर से मँगाई जाती थी।

दिवेर का युद्ध न केवल महाराणा प्रताप बल्कि मुगलो के इतिहास में भी बहुत निर्णायक रहा। मुट्ठी भर राजपूतों ने पूरे भारतीय उपमहाद्वीप पर राज करने वाले मुगलो के ह्रदय में भय भर दिया। दिवेर के युद्ध ने मेवाड़ में अकबर की विजय के सिलसिले पर न सिर्फ विराम लगा दिया बल्कि मुगलो में ऐसे भय का संचार कर दिया कि अकबर के समय में मेवाड़ पर बड़े आक्रमण लगभग बंद हो गए।

इस घटना से क्रोधित अकबर ने हर साल लाखों सैनिकों के सैन्य बल अलग अलग सेनापतियों के नेतृत्व में मेवाड़ भेजने जारी रखे लेकिन उसे कोई सफलता नहीं मिली।

अकबर खुद 6 महीने मेवाड़ पर चढ़ाई करने के मकसद से मेवाड़ के आस पास डेरा डाले रहा लेकिन ये महराणा द्वारा बहलोल खान को उसके घोड़े समेत आधा चीर देने के ही डर था कि वो सीधे तौर पे कभी मेवाड़ पे चढ़ाई करने नहीं आया।

ये इतिहास के वो पन्ने हैं जिनको दरबारी इतिहासकारों ने जानबूझ कर पाठ्यक्रम से गायब कर दिया है”.।*
जिन्हें अब वापस लाने का प्रयास किया जा रहा है।
आप भी इस प्रयास में जुड़ें।

वीर शिरोमणि #महाराणा प्रताप जी की जयंती पर उनके चरणों में शत शत नमन 🚩🙏🌹