Posted in गौ माता - Gau maata

पीले रंग की साधारण सी साड़ी पहने, लोगों के जूते चप्पलों की रखवाली करके फुटकर पैसों से अपनी गुजर बसर करने वाली बांके बिहारी मंदिर मथुरा के बाहर बैठी इस महिला का परिचय कुछ ही समय बाद पूरा भारत जान जायेगा। कन्हैया के प्रति इनकी भक्ति व प्रेम के आगे हमारी सभी पूजा-अर्चना छोटी रह जाती हैं। मात्र 20 वर्ष की आयु में विधवा हुई महिला का नाम ही यशोदा है जो कि सार्थक भी है।
इनके चरण छूकर आशीर्वाद प्राप्त कर लेना भी किसी तीर्थ से कम नहीं, क्योंकि इन माता ने पिछले 30 वर्षों में 5,10,25,50 पैसे इकट्ठा करके, 40 लाख (4000000/-)रुपये की रकम से एक गौशाला व धर्मशाला का निर्माण शुरू कर डाला है।
शत शत नमन है कान्हा की इस माँ यशोदा को।

“बोलो वृंदावन बांके बिहारी लाल की

जय “

Posted in गौ माता - Gau maata

ગૌરક્ષક રાજકુમાર

કટોસણ સ્ટેટનાં રાજકુમાર તખતસિંહજીએ રાજકોટમાં કરેલી ગૌરક્ષા

‘કંથા રણમે જાય કે, મત ઢૂંઢે કો સાથ;
તારા બેલી ત્રણ જણાં, હૈયું કટારી ને હાથ.’

‘રોકજો! રોકજો!’ એમ બૂમો પાડતા રાજકોટ શહેરમા જવાના નિર્જન રસ્તા પર કેટલાક માણસો સાત-આઠ ગાયોની પાછળ દોડતા જતા હતા. સામેથી રાજકોટની રાજકુમાર કૉલેજમાં અભ્યાસ કરતો એક વિદ્યાર્થી રાજકુમાર હાથમાં તલવાર સાથે આવતો હતો. તેણે પેલા લોકોની બૂમો સાંભળીને નાસી જતી ગાયોને પોતાની તલવાર આડી કરી રોકી પછી પાછળ દોડતા આવતા માણસો તે ગાયો લઈને ચાલ્યા ગયા. તેમની પાછળ કેટલાક નાગરિકો દૂર ઉભા રહી આ દ્રશ્ય જોતા હતા. તેઓ અંદરોઅંદર વાતો કરવા લાગ્યા કે, ‘જોયુ ? આ ક્ષત્રિય છે! ગૌબ્રાહ્મણ પ્રતિપાળ કહેવડાવવુ છે ને નાસી જતી ગાયોને રોકી કસાઈઓને સોપી. આપણે ગાયોને બચાવી હતી, ત્યાં આ કહેવાતા ગૌબ્રાહ્મણ પ્રતિપાળે તે ગાયોને અટકાવીને કસાઈઓને સોપી. આ કળિયુગના ક્ષત્રિય રાજકુમાર ગાયોનું રક્ષણ આમ જ કરે ને ?’
ઉપરના શબ્દો સાંભળતા જ તે કુમાર વિચારમાં પડ્યો અને વસ્તુસ્થિતિની તપાસ કરવા પોતાના માણસને મોકલ્યો. આ કુમારનું નામ હતુ ઝાલા તખતસિંહ. તે ઉત્તર ગુજરાતમાં કડી પાસે કટોસણ સ્ટેટનો રાજકુમાર હતો. કટોસણનો નાનકડો તાલુકો હતો છતાં પોતાના રાજકુમારને સારુ શિક્ષણ મળે તે માટે તેમના પિતાશ્રી કરણસિંહજીએ કાઠિયાવાડ-ગુજરાતમાં રાજકુમારોનાં શિક્ષણ માટે પ્રખ્યાત થયેલી એવી રાજકોટની રાજકુમાર કૉલેજમાં શિક્ષણ લેવા કુમારને મોકલ્યો હતો.
ગામડામાં ખુલ્લામાં કુદરતને ખોળે ઉછળેલા કુમારને કૉલેજનું જીવન કઈંક બંધિયાર જેવુ લાગતુ એટલે દરરોજ સવાર-સાંજે કુદરતી હવા ખાવા માટે કૉલેજની બોર્ડિંગનાં મેદાનમાં જતો હતો. અને ક્ષત્રિય ગમે તે કામે જાય છતાં પોતાની જીવનસંગિની તલવાર તો સાથે હોય જ. એટલે એ રીતે આજે વહેલી સવારમાં પોતે ખુલ્લામાં આંટો મારીને આવતો હતો અને ઉપરની ઘટના બની. કુમારની સાથે તેનો પસાયતો(નોકર) પણ હતો તેને તપાસ કરવા મોકલી કુંવર પેલા નાગરિકોની વાતો સાંભળતો ઉભો રહ્યો.
કુમાર તખતસિંહની ઉંમર માત્ર સોળ-સત્તર વર્ષની જ હતી. છતાં તેનું મજબૂત કદાવર શરીર જોનારને તેની ઉંમર વીસેક વર્ષની હશે એમ કહી આપતું હતુ. તેની હિંમત અને શક્તિ ભલભલા કસાયેલા યોદ્ધાને પણ હંફાવે એવી હતી. તે પોતે શિકારનો શોખીન હતો અને એકલે હાથે કદાવર પ્રાણીઓનો શિકાર કરતો હતો.

તપાસ કરતા વાત મળી કે સવારના પહોરમાં રાજકોટ શહેરનાં કેટલાક કસાઈઓ આઠ-દસ ગાયો લઈ બજારમાં થઈ જતા હતા. મહાજને તેની મોં માંગી કિંમત આપી તે ગાયો ખરીદી લેવા તેમને જણાવ્યુ હતુ પણ કસાઈઓએ મહાજનની માંગણી નકારી. થોડી રકઝક થઈ અને તે રકઝકમાં કિશોરો અને યુવાનોએ પેલી ગાયોને ભડકાવી નસાડી દીધી એટલે કસાઈઓ તે પકડવા પાછળ દોડ્યા હતા. તેવામાં આંટો મારવા નિકળેલ રાજકુમાર સામેથી આવતો હતો. તેણે ‘ગાયો રોકજો! ગાયો રોકજો!’ એવો અવાજ સાંભળી ગાયો રોકી અને માલધારી સમજીને કસાઈ લોકોને તે ગાયો વાળીને આપી. કસાઈઓ પણ કંઈ બોલ્યા વગર ગાયો સીધી કસાઈવાડે લઈ ગયા.
હકીકત સાંભળી રાજકુમાર તખતસિંહ વિચારમાં પડ્યો કે આજે સવારનાં પહોરમાં જ ગૌબ્રાહ્મણ પ્રતિપાળ હોવાનો દાવો કરનાર એક ક્ષત્રિય રાજાનો પુત્ર થઈ પોતાને હાથે જ નાસી જતી ગાયોને રોકી કસાઈઓને સોપી! જેથી આજે ગૌહત્યાનું પાપ માથે ચોટશે. ક્ષત્રિય પુત્ર માટે તો અજાણતા પણ ગૌહત્યાનું પાપ ભયંકર મનાય છે, તો હવે શુ કરવુ ? ગમે તેવુ જોખમ ખેડીને પણ ગાયો છોડાવવી જ જોઈએ- મનમાં એવો પાક્કો નિશ્ચય કર્યો.
આમ વિચાર કરી પોતે સીધો કસાઈઓની પાસે ગયો અને આજે આવેલી દરેક ગાયની યોગ્ય કિંમત લઈ ગાયો પોતાને સોપી દેવા તેમને જણાવ્યુ, પરંતુ કસાઈઓએ માન્યુ નહિ અને ચોખ્ખી ના પાડી દીધી. કુમારે પોતાની પરિસ્થિતિની ચોખવટ કરી તેમને ઘણા સમજાવ્યા. તેણે કહ્યુ : ‘ મેં અજાણતા ગાયોને રોકીને તમને સોપી તેથી કટોસણનાં રાજકુમારે કસાઈઓનાં હાથમાંથી નાસેલી ગાયોને પકડી કસાઈઓને સોપી ગૌવધ કરાવ્યો’ તેવી વાતો આખાયે શહેરમાં વાટે ને ઘાટે, ચૉરે ને ચૌટે ચાલી રહી છે. માટે ગમે તેટલી કિંમત લઈને પણ ગાયો તમારે મને સોપવી પડશે.
આમ ઘણુ કહ્યુ છતાં કુમારની કોઈ પણ વાત તે કસાઈઓએ ગણકારી નહિ. કસાઈઓ પણ હઠે ભરાયા હતા, તેઓ હજારો રૂપિયાથી પણ માને તેમ ન હતાં. કુમારે છેવટે આજીજી કરી, પરંતુ કુમારનાં કોઈ પણ પ્રયત્નો કામિયાબ નીવડ્યા નહિ. આથી કુમાર ખુબ ચીડાયો એક તો પોતે બરાબર ભૂખ્યો થયો હતો અને વળી કસાઈઓ કોઈપણ રીતે માનતા ન હતા. પોતે એક રાજકુમાર હોવા છતાં ખુબ જ આજીજી કરી તો પણ કસાઈઓએ જ્યારે માન્યુ નહિ ત્યારે છેવટે જીવના જોખમે પણ ગાયો બચાવવા તે કટિબદ્ધ થયો. કારણ કે –

“લાખ ગુમાવી શાખ રાખવી, શાખે મળશે લાખ;
લાખ રાખીને શાખ ગુમાવે, શાખ ગયે સૌ ખાખ.”

(ગમે તેમ લાખો રૂપિયાની મિલકતનું નુકશાન વેઠીને પણ આબરૂ સાચવવી જોઈએ, પરંતુ મિલકતનું રક્ષણ કરીને આબરૂ જવા દઈએ તો આબરૂ ગયા પછીનું બધુ જ નકામુ છે.)

કુમાર હવે જીવ ઉપર આવ્યો હતો તેને પોતાના નાકની કિંમત હતી. મનોમન નક્કી કરી લીધુ કે આજે માથુ અને ધડ જુદા પડી જાય તોય ભલે, પણ ગૌમાતાઓને છોડાવ્યા વગર નથી રહેવુ. તલવાર તાણી તે કસાઈઓ ઉપર તુટી પડ્યો. કસાઈઓ અને કુમાર વચ્ચે એક ભયાનક ધીંગાણુ શરૂ થઈ ગયુ. એકી સાથે તેણે ત્રણ-ચાર કસાઈઓને નાળિયેર વધેરે એમ વધેરી નાખ્યા અને કેટલાકને ઘાયલ કર્યા. કસાઈઓ પણ હવે હાથમાં ભયાનક હથિયારો લઈને રાજકુમારને ઘેરી વળ્યા. પરંતુ આખાયે અંગે ગુસ્સાથી કંપતો કુમાર આજે પોતાના શરીરનું ભાન ગુમાવી બેઠો હતો. તેને તો પોતાનું લોહી રેડીને પણ ગાયોને બચાવવી હતી એટલે તેના શરીરને થતી ઈજાઓ તો તેના ધ્યાનમાં પણ ન હતી. તેના હાથની તલવાર વીજળીના વેગે એટલી ઝડપથી ફરતી હતી કે તેની સામે કોઈ પણ રીતે ટકી શકાય એમ ન હતુ. છેવટે કસાઈઓ ઘાયલ થઈ ગાયો મુકી નાઠા. તેમણે પોતાનો માઢ(પોળ) બંધ કરી દીધો પણ કુમાર તો હવે મરણીયો બન્યો હતો તેને પોતાના જીવનની કંઈ જ પરવા ન હતી. તે પણ આખાયે શરીરે ઘાયલ થયો હતો. આખુયે શરીરે જુસ્સાથી ધ્રુજી રહ્યુ હતુ. આંખો લાલઘુમ થઈ ગઈ હતી, જાણે ત્રિપુરાસુરનો નાશ કરવા ભગવાન પિનાકપાણિ શંકર તૈયાર થયો હોય તેવો તે દીસતો હતો. તે નાસી જતા કસાઈઓની પાછળ પડ્યો. આથી કસાઈઓ માઢનાં દરવાજા બંધ કરી અંદર જવા લાગ્યા. માઢની નાનકડી બારી ખુલ્લી રહી ગયેલી તે બંધ કરનાર એક કસાઈ ઉપર પણ તેણે તલવારનો ઝાટકો માર્યો, પરંતુ તે ઝાટકો પેલા કસાઈએ ચુકાવી દીધો છતાં પણ તેની આંગળીઓ કપાઈ ગઈ અને બારી પરાણે બંધ કરવામાં આવી. કુમારની તલવારનો ઘા લાકડાના કમાડનાં ધ્રાગવા ઉપર અથડાવાથી તલવાર લાકડામાં ઉતરી ગઈ તેનું નિશાન કમાડનાં ધ્રાંગવા ઉપર થયુ. પછી અનેક જગ્યાએ ઘાયલ થયેલ કુમાર ગાયો વાળીને આવ્યો અને રાજકોટની બજારમાં આવી મહાજનની ઑફીસ આગળ લાવીને છુટી મુકી દીધી. અને મહાજનોની માફી માંગતા કહ્યુ કે- ‘માફ કરશો! અજાણતાં મારા હાથે કસાઈઓને ગાયો અપાઈ ગઈ હતી.’
મહાજનો તખતસિંહજીની મરદાનગી જોઈને વિવિધ પેરે પોરસાવવા લાગ્યાં :
‘રંગ બાપ! રંગ તને! રંગ તારી જનેતાને!… રંગ તારી રાજપૂતાઈને!..ભલે રાજકુમાર તખતસિંહ ભલે!’

કટોસણનાં ઠાકોર સાહેબ કરણસિંહજીને આ વાતની ખબર પડતાં જ તેમને પોતાના પુત્રના પરાક્રમથી પોરસ ચડ્યો અને પોતાની જાગીરના તમામ ગામોમાં સાકર વહેચાવી. કુમારની પાસે જઈ ઠાકોર સાહેબે તેને શાબાશી આપી કહ્યું : ‘બેટા! તે તો આપણી સાત પેઢીઓ ઉજાળી!’
કુમાર થોડો ખુશ થઈ બોલ્યો કે- ‘પિતાશ્રી મેં કાઈ મોટુ કામ નથી કર્યુ, ફક્ત ક્ષત્રિય ધર્મ નિભાવ્યો છે.’
જવાબ સાંભળી ઠાકોર સાહેબ રાજકુમારને ભેટી પડ્યા, પિતાની બાથમાં રહી કુમાર પોતાના શરીરે પડેલા ઘાની વેદના વિસરી ગયો.
………………………………………………………………………………
નોંધ:- ઉપરના ફોટામાં મુખ્ય ફોટો કાલ્પનિક છે જ્યારે એડિટ કરેલ નાનો ફોટો તખતસિંહજી બાપુનો રાજગાદી દરમ્યાનનો છે.

✍ટાઈપિંગ-ચેતનસિંહ ઝાલા✍

સંદર્ભ-(1) ગુજરાતની લોકકથાઓ(લેખક-ડાહ્યાલાલ બ્રહ્મભટ્ટ)
(2) કટોસણ સ્ટેટનો ઈતિહાસ(લેખક-દિનેશસિંહ હમીરસિંહ ઝાલા)
………………………………………………………………………………

Posted in गौ माता - Gau maata

सुबोध कुमार

असहाय गौ ?
AV 3-28-1
1. एकैकयैषा सृष्टया संबभूव यत्रा गा असृजन्त भूतकृतो विश्वरूपा: | यत्रा विजायते यमिन्यपर्तु: स पशून् क्षिणाति रिफती रूशती।।
अथर्व3.28.1
जिन गौओं की ठीक से देख भाल होती है वे एक के बाद एक नियम से संतान उत्पन्न कर के हमारा कल्याण करती हैं। जिन गौओं का ठीक से ध्यान नहीं हो पाता वे बिखर जाती है,समाज को कलंक लगाती हैं और स्वयं नष्ट हो कर समाज को भी नष्ट कर देती हैं।
गौशाला क्यों ?
2.एषा पशून्त्सं क्षिणाति क्रव्याद भूत्वा व्यदवरी।
उतैना ब्रह्मणे दद्यात तथा स्योना शिवा स्याता ।। अथर्व वेद 3।28।2
असहाय गौ जो घूमती फिरती अभक्षणीय पदार्थों को खा कर अपनी भूख मिटाती हैं , संक्रामक संघातक गुप्त रोगों से ग्रसित हो जा़ती हैं। (ये रोग उपचार द्वारा भी असाध्य पाए जाते हैं, और ऐसी गौ के संपर्क से यह रोग मनुष्यों में भी आने की संभावना रहती है)
ऐसी असहाय गौओं को अच्छी भावनाओं से प्रेरित, निस्वार्थ जनों के संरक्षण मे पहुंचाने के लिए गोशालाओं/ गोसदनों की व्यवस्था करनी चाहिए,जिस से उन की ठीक से देख भाल हो सके।
3.शि॒वा भ॑व॒ पुरु॑षेभ्यो॒ गोभ्यो॒ अश्वे॑भ्यः शि॒वा । शि॒वास्मै सर्व॑स्मै॒ क्षेत्रा॑य शि॒वा न॑ इ॒हैधि॑ ॥ AV 3-28-3
इन गोशालाओं /गोसदनों में सब गौएं और घोड़े भी भूमि पर कल्याण करने वले सिद्ध हों ।
4. इ॒ह पुष्टि॑रि॒ह रस॑ इ॒ह स॑हस्र॒सात॑मा भव । प॒शून्य॑मिनि पोषय ॥ AV 3-28-4
इन गोशालाओं //गोसदनों के संचालन करने वाले सदस्य यम नियम का पालन करने वाले जितेंद्रिय उत्तम आचरण वाले हों । जिससे यहां रखे सब पशु स्वस्थ हों और समाज के लिए कल्याणकारी साधन उपलब्ध कराएं ।
5. यत्रा॑ सु॒हार्दः॑ सु॒कृतो॒ मद॑न्ति वि॒हाय॒ रोगं॑ त॒न्व॑१ स्वाया॑ह् । तं लो॒कं य॒मिन्य॑भि॒संब॑भूव॒ सा नो॒ मा हिं॑सी॒त्पुरु॑षान्प॒शूंश्च॑ ॥ AV 3.28.5
इन स्थानों पर पुण्यकर्मा यम नियम का पालन करने वाले लोग स्वस्थ और निरोग हो कर गोसेवा करते हुए आनंद से निवास करते हैं । (ऐसे वातावरण में स्वास्थ लाभ के लिए और निस्वार्थ गोसेवा करने के लिए स्वयंस एवकों का भी स्वागत हो।)
6. यत्रा॑ सु॒हार्दां॑ सु॒कृता॑मग्निहोत्र॒हुता॒म्यत्र॑ लो॒कः । तं लो॒कं य॒मिन्य॑भि॒संब॑भूव॒ सा नो॒ मा हिं॑सी॒त्पुरु॑षान्प॒शूंश्च॑ ॥ AV 3.28.6
इन स्थानों पर पुण्यकर्मा यम नियम का पालन करने वाले लोग स्वस्थ और निरोग हो कर आनंद से अग्निहोत्रादि गोसेवा पुण्य कर्म करते हुए निवास करते हैं । (ऐसे वातावरण में स्वास्थ लाभ के लिए और निस्वार्थ गोसेवा करने के लिए स्वयं सेवकों का भी स्वागत हो।)

Posted in गौ माता - Gau maata

(ओशो का जबर्दस्त तीखा प्रवचन)
🌿🌷🌿🌷🌿🌷🌿🌷🌿
भारत अकेला देश है जो गौ भक्त है | भारत भी पूरा नहीं सिर्फ हिंदू, ना सिख, ना इसाई, ना जैन, ना मुसलमान, ना पारसी इन सबको छोड़ दो | सिर्फ हिंदू और हिंदू ही सिर्फ भारत नहीं है | हिंदुओं की संख्या तो 20 करोड़ है बाकी 50 करोड़ लोग और भी इस देश में हैं |
यह हिंदुओं की धारणा को बाकी 50 करोड़ लोगों के ऊपर थोपने का किसको अधिकार है? और “विनोवा भावे” ने जो अनशन किया था उसको मैं हिंसा मानता हूं, वह जबरदस्ती है, हिंदुओं की जबरदस्ती | फिर जिन्ना ठीक ही कहता था कि अगर भारत एक रहा तो हिंदू जबरदस्ती करेंगे | वह जबरदस्ती दिखाई पड़ती है, फिर तो जिन्ना ठीक था और गांधी गलत थे | अच्छा किया कि उसने पाकिस्तान तोड़ लिया | फिर तो सीख भी ठीक हैं उनको भी सीखस्थान तोड़ लेना चाहिए, फिर तो ईसाई भी सही हैं उनको भी कहना चाहिए कि हमें इसाईस्थान अलग कर दो और जैनियों को अपना जैनस्थान अलग कर लेना चाहिए और पारसियों को कहना चाहिए बंबई हमारी |
फिर हिंदू अपनी गौ रक्षा करें, जो उनको करना है करें, सब गौ को ले जाए और रक्षा करें, जो उनको करना है करें | यह देश सबका है | इसमें हिंदू धारणाओं को जबरदस्ती नहीं थोपा जा सकता | हिंदू धारणा थोपना है, मगर बातें ऊंची कर रहे हैं, बातें अहिंसा की कर रहे हैं और हिंसा करने का आग्रह है | यह क्या है? “बिनोवा” का अनशन करना कि मैं मर जाऊंगा अगर गौ हत्या पर निषेध नहीं लगाया गया | यह हिंसा की धमकी है, किसी को मारने की धमकी दो या मरने की धमकी दो बात तो एक ही है | किसी की छाती पर छुरा रख दो या अपनी छाती पर छुरा रख लो और कहो कि मैं मर जाऊंगा यह बात तो एक ही है | इसमें कुछ भेद नहीं है, इसमें कुछ अहिंसा नहीं है, यह शुद्ध हिंसा है और जबरदस्ती है | और एक आदमी जबरदस्ती करे और सारे देश पर अपने इरादे थोप देना चाहे यह कैसा लोकतंत्र है?
हिंदुओं को गौ बचानी है बचाएं, कौन मना करता है | कल मुसलमान कहने लगे कि सबका खतना होना चाहिए वह भी खतने के लिए आधार खोज सकते हैं | यहूदियों ने खोज लिए हैं, यहूदियों ने किताबें लिखी हैं कि खतने के बड़े फायदे हैं उन फायदे में एक फायदा यह गिनाया है कि जब व्यक्ति का खतना किया जाता है तो उसकी बुद्धि विकसित होती है और उनके दावे की दुनिया में सबसे ज्यादा नोबेल प्राइज यहूदियों को मिलती है | क्यों? क्योंकि उनके ख़तनें होते हैं और ख़तना जल्दी करनी चाहिए, जितनी जल्दी हो उतना फायदा इसलिए मुसलमान का ख़तना तो जरा देर से होता है उसको यहूदी नहीं मानते | यहूदी तो मानते हैं कि बच्चा पैदा हो और जितनी जल्दी खतना हो उतना अच्छा है क्योंकि उसकी उर्जा जन्म इंद्री से हटकर मस्तिष्क में प्रवेश कर जाती है | क्योंकि जब उसकी जन्म इंद्री की चमड़ी काटी जाती है तो ऊर्जा एकदम सरक जाती है | जन्म इंद्री से मस्तिष्क में और प्रतिभा पैदा हो जाती है | #अगरइसतरहकीबेवकूफ़ियोंकोएकदूसरेकेऊपरथोपनेकाआग्रह शुरू हो जाए तब तो बड़ी मुश्किल हो जाएगी |
गौ हत्या नहीं होनी चाहिए | क्यों? क्योंकि जीव दया है, तो मच्छर क्यों मारते हो? और यह कैसी जीव दया है? दया करनी हो तो मच्छर पर करो कुछ पता चले क्योंकि गौ को तो तुम शोषण करते हो उसके बछड़ों के लिए जो दूध है उसको खुद पीते हो और कहते हो कि गौ भक्त हूं मैं | गौ को माता कहते हो और उसके असली बच्चों से वंचित करते हो, उसके असली बेटों को भूखा मारते हो | शंभू महाराज दूध पी रहे हैं और नंदी महाराज भूखे बैठे हैं और असली बेटा नंदी महाराज, शंभू महाराज नहीं | नंदी महाराज बैठे देख रहे हैं कि यह क्या हो रहा है, जरा नदियों से तो पूछो तो वह कहेंगे कि बाबा यह दूध हमारे लिए है, अगर तुम्हारी गौ भक्ति इतनी बड़ी है तो अपने स्त्रियों का दूध बछड़े को पिलाओ तो समझ में आएगा गौ भक्ति | यह कैसी गौ भक्ति की दूध पी रहे हो उनका, चूस रहे हो गायों को और बातें कर रहे हो गौ भक्ति की | फिर तो मच्छरों की भक्ति करो, मच्छर भक्त हो जाओ, क्योंकि मच्छर तुम्हारा खून चूसते हैं | तब पता चलेगा भक्ति का | लेट जाओ खाटों पर नंग-धड़ंग, चूसने दो मच्छरों को, खटमलों को, पिलाओ खून और कहो कि यह जीव दया है | तब मैं कहूंगा की यह भक्ति है क्योंकि भक्ति में कुछ तुम दो तब भक्ति है | यह कैसी भक्ति है कि उल्टा ले रहे हो? गायों से तो पूछो कि तुमने उनकी क्या गती कर दी? सारी दुनिया में गायों की हालत बेहतर है भारत को छोड़कर |
भारत अकेला देश है जहां गायों की सबसे दयनीय दसा है, हड्डी-हड्डी हो रही है, मांस सूख गया है और लोग दूध खींचे जा रहे हैं निचोड़े जा रहे हैं निकलता भी नहीं है | कुछ दो पाव निकल आए तो बहुत, शेर-भर निकल आए तो गजब | स्विडन में एक गाय इतना दूध देती है जितना भारत में 40 गाय देती हैं, और स्विडन में कोई लोग गौ भक्त नहीं हैं | स्विट्जरलैंड में कोई गौ भक्त नहीं हैं | अभी यहां मेरे पास सन्यासी हैं, सारी दुनिया से आए हुए हैं, विवेक मुझसे बार-बार कहती है कि अगर आप एक दफा पश्चिम की गाय का दूध पी लें तो फिर गाय का दूध | भारत का दूध तो पीने जैसा ही नहीं है, ना इसमें स्वाद है, क्योंकि वह मुझे कह रही थी कि हमने तो कभी सुना ही नहीं था पश्चिम में की दूध में शक्कर मिलाई जाती है | दूध खुद ही इतना मीठा होता है उसमें शक्कर मिलाने की बात ही बेहूदी है | और दूध इतना गाढ़ा होता है, इतना पौष्टिक होता है और यह कोई गौ भक्त देश नहीं है | लेकिन कारण है उसका, उतनी ही गाय बचाते हैं वह जितनी गायों को ठीक पोषण दिया जा सके, ठीक जीवन दिया जा सके, सुविधा दी जा सके | तुम गायों को क्या दे रहे हो ? और तुम बातें दया की कर रहे हो | यह ज्यादा दया-पूर्ण होगा कि यह मरती हुई गायों को सड़कों पर सड़ने के बजाए, पिंजड़ा पोलो में सड़ने के बजाय मुक्त कर दो, इनकी सड़ी-गली देह से इनको मुक्त कर दो |
यही मैंने कहा था | सुन के अड़चन हो गई बेचैनी हो गई मैंने इतना ही कहा था की भारत उतनी ही गाय बचा ले जितनी गाय बचा सकते हैं हम | जब ज्यादा बचा सकेंगे तो ज्यादा बचा लेंगे | यह दया का काम होगा | लेकिन उन्होंने क्या तरकीब निकाली, उन्होंने यह तरकीब निकाली की इसका तो मतलब यह हुआ कि भारत में सिर्फ 40% लोगों को छोड़कर 60% तो दीन-हीन हैं तो इनकी भी हत्या कर दी जाए? मैं नहीं कहूंगा कि इनकी हत्या कर दी जाए लेकिन अगर तुमको गाय बचानी है तो इनकी हत्या हो जाएगी | तुम इसके लिए जिम्मेवार होगे | अगर भारत में थोड़ी वैज्ञानिक बुद्धि का प्रयोग किया जाए तो भारत की 60% जनता भी सुखी हो सकती है, आनंदित हो सकती है | और अगर मेरी बातें ना सुनी गई और शंभू महाराज जैसे लोगों की बातें सुनी गई तो वह 60% जनता, मैं तो नहीं कहता कि मारी जाए लेकिन प्रकृति मार डालेगी | आकाल में मरेगी, भूख में मरेगी, बाढ़ में मरेगी, बीमारियों में मरेगी | इस सदी के अंत में तुम देख लेना | इस सदी के पूरे होते होते भारत में दुनिया का सबसे बड़ा अकाल पड़ने वाला है | सारे दुनिया के वैज्ञानिक घोषणा कर रहे हैं क्योंकि इस सदी के पूरे होते होते भारत की संख्या चीन से आगे निकल जाएगी | एक अरब की आंकड़ा पार कर जाएगी और एक अरब का आंकड़ा पार करते ही तुम्हारी क्या हालत होगी? अभी ही तुम अधमरे हालत में हो | एक अरब का आंकड़ा पूरा हुआ कि भारत में महा भयंकर बीमारियां, अकाल फैलने वाला है | प्रकृति मारेगी, मुझे मारने की कोई जरूरत नहीं है | मुझे कुछ कहने की आवश्यकता नहीं है | परमात्मा मारेगा |
अगर उस घटना के पहले कुछ कर सकते हो तो समझने की कोशिश करो | भारत के मन को व्यर्थ के उलझनों में ना उलझाओ, कि गौहत्या बचानी है और शराबबंदी करवानी है और चरखा चलवाना है | इन पागलपन की बातों में ना उलझो, बड़े उद्योग बनाओ विज्ञान ने पूरे साधन खोज दिए हैं, उन साधनों को लाओ | चरखे में मत अटके रहो |
उतनी ही गाय बचा लो जितनी तुम अभी बचा सकते हो | हां, कल जब हम ज्यादा बचा सकेंगे तो ज्यादा बचाएंगे | पहले आदमी को बचाओ फिर दूसरी बात है, सबसे ऊपर मनुष्य का सत्य है उसके ऊपर कुछ भी नहीं | अगर मनुष्य को बचाने के लिए और सब भी नष्ट करना पड़े तो मैं करने को तैयार हूं | लेकिन मनुष्य को बचाना जरूरी है क्योंकि मनुष्य बच जाए तो शेष सबको पुनर्जीवित किया जा सकता है | लेकिन अगर मनुष्य मर जाए तो कौन तुम्हारी गाय बचाएगा? और कौन तुम्हारी भैंस बचाएगा? और कौन तुम्हारी धर्म और संस्कृति और महानतम बातों को बचाएगा? कौन तुम्हारे वेद, उपनिषद, गुरु-ग्रंथ को बचाएगा? यह पागलपन की बातों को छोड़ो | यह पागलपन की बातों को मैं सीधा पागलपन कह देता हूं इससे उनको एकदम आग लग जाती है | लोगों को थोड़े जीने की स्वतंत्रता, थोड़ा सांस लेने की स्वतंत्रता दो | वह भी नहीं हो पा रहा है, खाने पीने की तक स्वतंत्रता नहीं है |
मैं शराब का विरोधी हूं लेकिन शराबबंदी का पक्षपाती नहीं हूं | क्योंकि यह तो व्यक्ति का निजी स्वतंत्रता है अगर कोई व्यक्ति शराब पीना ही चाहता है तो उसे पीने का हक है यधपि हमें फिक्र करनी चाहिए कि उसे पूरी तरह ज्ञात हो कि शराब के क्या क्या नुकसान है | देश में हवा होनी चाहिए कि शराब के नुकसान क्या क्या है | लेकिन फिर भी कोई तय करे पीने का तो लोकतांत्रिक व्यवस्था में उस पर जबरदस्ती नहीं होनी चाहिए |
किसी एक आदमी को क्या हक है? “मोरारजी देसाई” शराब के विरोध में हो सकते हैं लेकिन उनको क्या हक है कि अपनी जिद को अपनी हट को सारे देश की छाती पर थोप दें? कल समझ लो कोई शराबी मुल्क का प्रधानमंत्री हो जाए और कहे कि सब को शराब पीना पड़ेगा तब तुम कहोगे कि यह कैसा लोकतंत्र है हुआ | तुम्हें पीना हो पियो, न पीना हो न पियो, तुम्हें जो ठीक लगता है उसका प्रचार करो, उसका हवा पैदा करो, लोकमत बनाओ लेकिन जबरदस्ती क्यों? मैं कोई गौ हत्या का पक्षपाती नहीं हूं लेकिन फिर भी इस तरह की धमकियां देना हिंसात्मक है | बकरों की हत्या हो “बिनोवा जी” को कोई फर्क नहीं, “विनोवा जी” जरा अपने गुरु महात्मा गांधी को याद करो, जिंदगी भर बकरी का दूध पीकर जिए | बकरियां कटती रहे, बकरे कटते रहे कोई मतलब नहीं | बकरी-बकरे जैसे मुसलमान हैं, गाय हिंदू है | यह भी खूब रहा | बकरे बकरियों को यह पता ही नहीं कि वह कब मुसलमान हो गए |
हिंसा नहीं होनी चाहिए | लेकिन इसका वातावरण पैदा करो फिर भी अगर लोग कुछ मांसाहार करना ही चाहते हैं तो उनको जबरदस्ती से रोकना तो गलती बात है | फिर तो कल अगर कोई जैन सत्ता में होगा तो वह कहेगा कि मछली भी मत खाओ, फिर तो बड़ी मुश्किल हो जाएगी | वह कहेगा कि प्याज भी मत खाओ, आलू भी नहीं क्योंकि जैन धर्म में जमीन के नीचे गड़ी हुई सब्जियां वर्जित है | उन्हें खाने से पाप होता है | तो आलू, मूली, गाजर सब पाप |
प्रत्येक को अपने ढंग से जीने दो, लोकतंत्र का अर्थ ही यही होता है जब तक कि कोई व्यक्ति किसी दूसरे के जीवन में बाधा ना डालने लगे तुम बाधा ना बनो | लोकतंत्र का अर्थ नकारात्मक होता है |
और जो करने योग्य है वह तो करेंगे नहीं, संततिनिमन होना चाहिए, वह तो करेंगे नहीं | शराबबंदी होना चाहिए, जैसे शराब बंद हो जाएगी तो देश की समस्याएं हल हो जाएंगी | तुम सोचते हो गरीबी मिट जाएगी, बीमारी मिट जाएगी, अशिक्षा मिट जाएगी, गौ-वध बंद हो जाएगा तो | तुम सोचते हो समस्याएं मिट जाएंगी, गरीबी मिट जाएगी, एकदम धन की वर्षा हो जाएगी | अगर ऐसा होता तो अमेरिका जैसा देश को तो दुनिया का सबसे गरीब देश होना चाहिए | क्योंकि गौ हत्या चलती है | #लेकिनयहतरकीबेंहैतुम्हारेमनकोउलझानेकी, गौ हत्या की बंदी होनी चाहिए यह सुनकर हिंदू खुश हो जाता हैं, वोट दे देता है | गौ हत्या के होने से ना होने से कोई समस्या का हल नहीं है और याद रखना मैं यह नहीं कह रहा हूं कि गौ हत्या होनी चाहिए लेकिन एक वातावरण होना चाहिए, सुसंस्कार की एक हवा पैदा होनी चाहिए, जोर जबरदस्ती नहीं |
आज इतना ही |

ओशो🙏🏻🌿🌷
दिनांक 10 अक्टूबर 1980 | श्री ओशो आश्रम पुणे

Posted in गौ माता - Gau maata

🌸🌼 गाय का अर्थतंञ और
किसान का स्वावलंबन 🌸🌺

गौ एक फायदे अनेक

डॉ. शरद कबले, सुरत, गुजरात 🌴🌴

मीञो , प्रतीदिन एक गाय को जादा से जादा ३० किलो चारा चाहिए

२० किलो हरा चारा एवम् १० किलो सुखा चारा

मतलब प्रती वर्ष ३६५*१०= ३६५० किलो सुखा चारा

ईस चारे का जादा से जादा मुल्य ३६५० /- रूपये है

जो की किसान का अपने खेत का ही होगा

अब रही बात हरे चारे की तो समझीए मेहंगा विकल्प भी चुने तो हायड्रोपोनीक चारा एक बढीया विकल्प है

प्रतीदिन २० किलो हायड्रोपोनीक चारा हेतू २ किलो गेव्हू / मका चाहिए

मतलब सालाना ३६५*२ = ७३० किलो

१५०० रू. प्रती क्वींटल के हिसाब से ईसका मुल्य हूआ ७३०*१५ = १०,६५०
कुल खर्च १०,६५०+ ३,६५० = १४,३००/-

🌸🌺🌼🌸🌺🌼🌺🌼

कुल आय
१) गौ मुञ कमसे कम ३ से ४ लिटर प्रती दिन

मतलब कम से कम १००० लिटर प्रती वर्ष

जैविक व प्राकृतीक खेती कर रहे किसानो को गौ मुञ का महत्व पता ही है

शुध्द देसी गाय का जो की रसायन मुक्त चारा खाती है ऐसी गौ माता का गौमुञ का कम से कम मुल्य १० रू प्रती लीटर चल ही रहा है

ईसी गौ मुञ से बना अर्क २०० रू प्रती लीटर मीलता है
पर हम यहा केवल गौ मुञ की बात करेंगे जो की कृषी मे ईस्तमाल होगा !
मुल्य १०००१० = १०,०००/- प्रती वर्ष
एक गौ से प्रतीदिन गोबर कम से कम १० किलो मीलेगा
ईसमे गाय का बचा हूआ न खाया हूआ चारा
+ कीचन वेस्ट से बायोगेस बनकर
कमसे कम १० किलो स्लरी खाद (Solid) मीलेगा
स्लरी खाद का महत्व तो सभी जानते ही है
ईस खाद का मुल्य ३ रू प्रती किलो
मतलब १०
३ = ३० रू. प्रतीदिन
मतलब ३०*३६५ = १०,९५०/-
ईसतरह कुल आय = १०,९५०+ १०,०००= २०९५०
+ गोबर गेस का प्रती माह ५०० के मुताबीक
६००० प्रती वर्ष
मतलब कुल आय २६,९५० /-

और कुल खर्च १४,३००/-

१२,६५०/-
ईसमे पाणी का खर्च भी यदी जोडते है
तो भी २० लीटर प्रतीदिन *३६५ = ७३०० लीटर पाणी का खर्च टेंकर से लाए तो भी
जादा से जादा १००० रू होता है

तब भी ११,६५० का नेट फायदा प्रती वर्ष
मतलब २००० प्रती माह फायदा

ईसका मतलब दुध न देनेवाली गाय से भी किसान को प्रती माह कम से कम २००० का अतीरीक्त फायदा ही होगा

और यदि दुध देनेवाली गौ माता हो तो फीर तो
+ दुध, दही ,घी और छाछ का मुल्य तो आप सब जानते ही है

ना खाद खरिदने की जरूरत
ना ही किटनाशक
ना रसोई का सरकारी सीलेंडर
ना ही मेंहगी दवाईया
( यदि गौ मुञ अर्क पीया जाए तो बीमारीया दूर ही रहती है )
ना दुध खरिदना पडेगा
ना घी ना ही छाछ

मतलब आपकी कृषी भी शुध्द खाद से समृध्द और आप स्वावलंबी भी बनेंगे
जादा जाणकारी के लिए आप हमारे टेलिग्राम पर जहारमूक्त खेती ग्रुप से जुडीये.

🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼
🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴

Posted in गौ माता - Gau maata

गाय का दैशी देशी गाय का देशी धी मे फर्क है ।।

भारतीय गौमाता के धी के महत्व पडीयै ;-
भारतीया देशी गाय के घी से होने वाले लाभ …

1.गाय का घी नाक में डालने से पागलपन दूर होता है।
2.गाय का घी नाक में डालने से एलर्जी खत्म हो जाती है।
3.गाय का घी नाक में डालने से लकवा का रोग में भी उपचार होता है।
4.(20-25 ग्राम) घी व मिश्री खिलाने से शराब, भांग व गांझे का नशा कम हो जाता है।
5.गाय का घी नाक में डालने से कान का पर्दा बिना ओपरेशन के ही ठीक हो जाता है।
6.नाक में घी डालने से नाक की खुश्की दूर होती है और दिमाग तरोताजा हो जाताहै।
7.गाय का घी नाक में डालने से कोमा से बाहर निकल कर चेतना वापस लोट आती है।
8.गाय का घी नाक में डालने से बाल झडना समाप्त होकर नए बाल भी आने लगते है।
9.गाय के घी को नाक में डालने से मानसिक शांति मिलती है, याददाश्त तेज होती है।
10.हाथ पाव मे जलन होने पर गाय के घी को तलवो में मालिश करें जलन ठीक होता है।
11.हिचकी के न रुकने पर खाली गाय का आधा चम्मच घी खाए, हिचकी स्वयं रुक जाएगी।
12.गाय के घी का नियमित सेवन करने से एसिडिटी व कब्ज की शिकायत कम हो जाती है।
13.गाय के घी से बल और वीर्य बढ़ता है और शारीरिक व मानसिक ताकत में भी इजाफा होता है
14.गाय के पुराने घी से बच्चों को छाती और पीठ पर मालिश करने से कफ की शिकायत दूर हो जाती है।
15.अगर अधिक कमजोरी लगे, तो एक गिलास दूध में एक चम्मच गाय का घी और मिश्री डालकर पी लें।
16.हथेली और पांव के तलवो में जलन होने पर गाय के घी की मालिश करने से जलन में आराम आयेगा।
17.गाय का घी न सिर्फ कैंसर को पैदा होने से रोकता है और इस बीमारी के फैलने को भी आश्चर्यजनक ढंग से रोकता है।
18.जिस व्यक्ति को हार्ट अटैक की तकलीफ है और चिकनाइ खाने की मनाही है तो गाय का घी खाएं, हर्दय मज़बूत होता है।
19.देसी गाय के घी में कैंसर से लड़ने की अचूक क्षमता होती है। इसके सेवन से स्तन तथा आंत के खतरनाक कैंसर से बचा जा सकता है।
20.घी, छिलका सहित पिसा हुआ काला चना और पिसी शक्कर (बूरा) तीनों को समान मात्रा में मिलाकर लड्डू बाँध लें। प्रातः खाली पेट एक लड्डू खूब चबा-चबाकर खाते हुए एक गिलास मीठा गुनगुना दूध घूँट-घूँट करके पीने से स्त्रियों के प्रदर रोग में आराम होता है, पुरुषों का शरीर मोटा ताजा यानी सुडौल और बलवान बनता है.
21.फफोलो पर गाय का देसी घी लगाने से आराम मिलता है।
22.गाय के घी की झाती पर मालिस करने से बच्चो के बलगम को बहार निकालने मे सहायक होता है।
23.सांप के काटने पर 100 -150 ग्राम घी पिलायें उपर से जितना गुनगुना पानी पिला सके पिलायें जिससे उलटी और दस्त तो लगेंगे ही लेकिन सांप का विष कम हो जायेगा।
24.दो बूंद देसी गाय का घी नाक में सुबह शाम डालने
से माइग्रेन दर्द ठीक होता है।
25.सिर दर्द होने पर शरीर में गर्मी लगती हो, तो गाय के घी की पैरों के तलवे पर मालिश करे, सर दर्द ठीक हो जायेगा।
26.यह स्मरण रहे कि गाय के घी के सेवन से कॉलेस्ट्रॉल नहीं बढ़ता है। वजन भी नही बढ़ता, बल्कि वजन को संतुलित करता है ।यानी के कमजोर व्यक्ति का वजन बढ़ता है, मोटे व्यक्ति का मोटापा (वजन) कम होता है।
27.एक चम्मच गाय का शुद्ध घी में एक चम्मच बूरा और 1/4 चम्मच पिसी काली मिर्च इन तीनों को मिलाकर सुबह खाली पेट और रात को सोते समय चाट कर ऊपर से गर्म मीठा दूध पीने से आँखों की ज्योति बढ़ती है।
28.गाय के घी को ठन्डे जल में फेंट ले और फिर घी को पानी से अलग कर ले यह प्रक्रिया लगभग सौ बार करे और इसमें थोड़ा सा कपूर डालकर मिला दें। इस विधि द्वारा प्राप्त घी एक असर कारक औषधि में परिवर्तित हो जाता है जिसे त्वचा सम्बन्धी हर चर्म रोगों में चमत्कारिक कि तरह से इस्तेमाल कर सकते है। यह सौराइशिस के लिए भी कारगर है।
29.गाय का घी एक अच्छा (LDL) कोलेस्ट्रॉल है। उच्च कोलेस्ट्रॉल के रोगियों को गाय का घी ही खाना चाहिए। यह एक बहुत अच्छा टॉनिक भी है।
30.अगर आप गाय के घी की कुछ बूँदें दिन में तीन बार, नाक में प्रयोग करेंगे तो यह त्रिदोष (वात पित्त और कफ) को संतुलित करता है। वंदे गौ मातरम् ।।

पंचगव्य से जुडे हूये उत्पाद प्राप्त करे ।।
गौधाम पंथमेडा सोजत पाली राज
मो नं-9549470009