Posted in कविता - Kavita - કવિતા

शाळेत बाई म्हणाल्या : आपल्या
आवडत्या विषयावर निबंध लिहा..
एका मुलाने बघा किती सुंदर निबंध लिहिला…
विषय –
दगड

‘दगड’ म्हणजे ‘देव’ असतो..
कारण तो आपल्या आजूबाजूला
सगळीकडे असतो.. पाहीलं तर दिसतो..

अनोळख्या गल्लीत तो
कुत्र्यापासून आपल्याला वाचवतो..

हायवे वर गाव
केव्हा लागणार आहे ते दाखवतो..

घराभोवती कुंपण बनून रक्षण करतो..

स्वैयंपाक घरात
आईला वाटण करून देतो..

मुलांना झाडावरच्या
कैऱ्या, चिंचा पाडून देतो..

कधीतरी आपल्याच डोक्यावर बसून
भळाभळा रक्त काढतो आणि
आपल्या शत्रूची जाणीव करून देतो..

माथेफिरू तरुणांच्या हाती लागला तर,,
काचा फोडून त्याचा राग शांत करतो..

रस्त्यावरच्या मजुराचं
पोट सांभाळण्यासाठी
स्वत:ला फोडुन घेतो..

शिल्पकाराच्या मनातलं
सौंदर्य साकार करण्यासाठी
छिन्निचे घाव सहन करतो..

शेतकऱ्याला
झाडाखाली क्षणभर विसावा देतो..

बालपणी तर स्टंप, ठिकऱ्या, लगोरी अशी
अनेक रूपं घेऊन आपल्याशी खेळतो..

सतत आपल्या मदतीला
धावून येतो, ‘देवा’सारखा..

मला सांगा,,
‘देव’ सोडून कोणी करेल का
आपल्यासाठी एवढं ??

बाई म्हणतात –
तू ‘दगड’ आहेस,, तुला गणित येत नाही..
आई म्हणते –
काही हरकत नाही,,
तू माझा लाडका ‘दगड’ आहेस..
देवाला तरी कुठे गणित येतं ! नाहीतर
त्याने फायदा-तोटा बघितला असता..
तो व्यापारी झाला असता.”

आई म्हणते –
दगडाला शेंदुर फासून
त्यात भाव ठेवला की,
त्याचा ‘देव’ होतो ~

म्हणजे, ‘दगड’ च ‘देव’ असतो ~

Posted in कविता - Kavita - કવિતા

🙏 एक सुरेख प्रार्थना 🙏

गळ्यामधे माळ दे,
हाता मध्ये टाळ दे।
देवा मला एक तरी अशी संध्याकाळ दे॥
मायेसाठी माय दे,
वारी साठी पाय दे।
तुझी कृपा कामधेनू,
अशी एक गाय दे॥
कष्ट आणि चारा दे,
सोसायाला जोर दे।
खांद्यावर देवा,
तुझ्या पालखीचा भार दे॥
ध्रुवापरी स्थान दे,
कर्णापरी दान दे।
श्रावणाच्या सेवेपरी
थोडसं ईमान दे॥
तुकोबाची वीणा दे,
ज्ञानियाची करुणा दे।
मूर्त डोळा, पायी माथा
ठेवुनीया मरणा दे॥
मागू किती राहू दे,
सारे एके ठायी शोभु दे।
वाट दाखवण्या गुरू,
जन्मो जन्मी लाभू दे॥

रामकृष्ण हरी

Posted in कविता - Kavita - કવિતા

🙏 एक सुरेख प्रार्थना 🙏

गळ्यामधे माळ दे,
हाता मध्ये टाळ दे।
देवा मला एक तरी अशी संध्याकाळ दे॥
मायेसाठी माय दे,
वारी साठी पाय दे।
तुझी कृपा कामधेनू,
अशी एक गाय दे॥
कष्ट आणि चारा दे,
सोसायाला जोर दे।
खांद्यावर देवा,
तुझ्या पालखीचा भार दे॥
ध्रुवापरी स्थान दे,
कर्णापरी दान दे।
श्रावणाच्या सेवेपरी
थोडसं ईमान दे॥
तुकोबाची वीणा दे,
ज्ञानियाची करुणा दे।
मूर्त डोळा, पायी माथा
ठेवुनीया मरणा दे॥
मागू किती राहू दे,
सारे एके ठायी शोभु दे।
वाट दाखवण्या गुरू,
जन्मो जन्मी लाभू दे॥

रामकृष्ण हरी

Posted in कविता - Kavita - કવિતા

थोड़ा धीरज रख,
थोड़ा और जोर लगाता रह
किस्मत के जंग लगे दरवाजे को,
खुलने में वक्त लगता है

कुछ देर रुकने के बाद,
फिर से चल पड़ना दोस्त
हर ठोकर के बाद,
संभलने में वक्त लगता है

बिखरेगी फिर वही चमक,
तेरे वजूद से तू महसूस करना
टूटे हुए मन को,
संवरने में थोड़ा वक्त लगता है

जो तूने कहा,
कर दिखायेगा रख यकीन
गरजे जब बादल,
तो बरसने में वक्त लगता है

चलता रहूँगा पथ पर,
चलने में माहिर बन जाऊंगा
या तो मंजिल मिल जाएगी,
या अच्छा मुसाफ़िर बन जाऊंगा,

लक्ष्य भी है, मंज़र भी है,
चुभता मुश्किलों का खंज़र भी है
प्यास भी है, आस भी है,
ख्वाबो का उलझा एहसास भी है

रहता भी है, सहता भी है,
बनकर दरिया सा बहता भी है
पाता भी है, खोता भी है,
लिपट लिपट कर रोता भी है

थकता भी है, चलता भी है,
कागज़ सा दुखो में गलत भी है
गिरता भी है, संभलता भी है,

सपने फिर नए बुनता भी है

Posted in कविता - Kavita - કવિતા

रश्मि मिश्रा

कंचन तपता जब अग्नि में
फिर और निखरता जाता है
मानव तूफानों से खेले
फिर और संवरता जाता है।

मेंहदी जितनी पिसती जाती
उतनी लाली फैलाती है,
दीपक में बाती खुद जलकर
अंधकार को दूर भगाती है।

जौहरी के हाथ में पड़ हीरा
जब खूब तराशा जाता है,
जितना कटता-छंटता है वह
उतना ही नूर फैलाता है।

वन में प्रसून जो खिलते हैं
कांटों की गोद में पलते हैं,
कुछ चंद लोग ही हैं जग में
जिनको वैभव थाती में मिलते हैं।

जो संघर्षों में पलता है
इतिहास अमिट लिख जाता है,
खुद राह बनाता है अपनी
औरों को राह दिखाता है।

Posted in कविता - Kavita - કવિતા

*એક રમતીયાળ કવિતા, ગમે તો કહો ગમી!

નથી રમાતી આઇસ-પાઇસ,કે
નથી રમાતો હવે થપ્પો,
એક બીલાડી જાડી હવે,
નથી પહેરતી સાડી,
બચપન આખું મોબાઇલ રમે…..

નથી કહેવાતી કોઇ વારતા,
નથી વેરાતાં બોખા વહાલ,
દાદા કરે ફેસબુક અને
દાદી યુ-ટ્યુબ માં ગુલતાન!
બચપન આખું મોબાઇલ રમે…

મમ્મી હવે ક્યાં રાંધે છે,
બાઇ ની રસોઇ નો છે સ્વાદ,
પપ્પા પણ સદાય ઘાંઘા થૈ,
આપે લાઇક અને આપે દાદ!
બચપન આખું મોબાઇલ રમે….

કન્યા વ્યસ્ત છે સેલ્ફી માં,
વરરાજા પણ બહુ વ્યસ્ત,
વિધી વિધાન ની ઐસીતૈસી,
સૌ સૌમાં છે બસ મસ્ત!
બચપન આખું મોબાઇલ રમે….

બધા કરે ગુટુર-ગુ હવે,
વોટ્સેપ ના સથવારે,
કવિઓ પણ જો ને ચઢી ગયા,
ફેસબુક ના રવાડે,
બચપન આખું મોબાઇલ રમે…

ડીજીટલ અમે હસીએ હવે,
ડીજીટલ અમારું રુદન,
લાગણી ઓ અંગુઠે વ્યક્ત થાય,
એવા થયા બધા સંબંધ!
બચપન આખું મોબાઇલ રમે…

પાંચ ઇંચ ના સ્ક્રીન માં
બધું સુખ જઇ ને સમાયું,
આ રમકડું આમ રમવામાં,
પોતીકું સ્વજન ભૂલાયું!
બચપન આખું મોબાઇલ રમે…

લોકો ભલે ને ગમે તે કહે,
અમને બહુ મજા આવે છે,
જબરું થયું હવે તો જગમાં,
માણસ કરતાં મોબાઇલ વધુ ફાવે છે!
બચપન આખું મોબાઇલ રમે….

*– મેહુલ ભટ્ટ *

Posted in कविता - Kavita - કવિતા

जिंदगी

कभी तानों में कटेगी,
कभी तारीफों में;
ये जिंदगी है यारों,
पल पल घटेगी !!

पाने को कुछ नहीं,
ले जाने को कुछ नहीं;
फिर भी क्यों चिंता करते हो,
इससे सिर्फ खूबसूरती घटेगी,
ये जिंदगी है यारों पल-पल घटेगी !

बार बार रफू करता रहता हूँ,
…जिन्दगी की जेब !!
कम्बखत फिर भी,
निकल जाते हैं…,
खुशियों के कुछ लम्हें !!

ज़िन्दगी में सारा झगड़ा ही…
ख़्वाहिशों का है !!
ना तो किसी को गम चाहिए,
ना ही किसी को कम चाहिए !!

खटखटाते रहिए दरवाजा,
एक दूसरे के मन का;
मुलाकातें ना सही,
आहटें आती रहनी चाहिए !!

उड़ जाएंगे एक दिन …,
तस्वीर से रंगों की तरह !
हम वक्त की टहनी पर…,
बेठे हैं परिंदों की तरह !!

बोली बता देती है,
इंसान कैसा है!
बहस बता देती है, ज्ञान कैसा है!
घमण्ड बता देता है, कितना पैसा है !
संस्कार बता देते है, परिवार कैसा है !!

ना राज़ है…ज़िन्दगी,
ना नाराज़ है… “ज़िन्दगी”;
बस जो है, वो आज है, ज़िन्दगी!

जीवन की किताबों पर,
बेशक नया कवर चढ़ाइये;
पर…बिखरे पन्नों को,
पहले प्यार से चिपकाइये !!!
— रीता पाठक