Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

बात संटूआ की..
पुराने लोग बताते हैं कि पहले गांव में किसी की बारात आती थी या गांव से कहीं बारात जाती थी तो बारात में एक दो “बुद्धिजीवी” जरूर रखे जाते थे।
क्योंकि आमतौर पर द्वारपूजा के बाद शास्त्रार्थ होने लगता था।
वर और वधू पक्ष के बुद्धिजीवी बैठकर बहस करते और सभी बाराती और घाराती चारो ओर बैठकर सुनते थे।
बहस की हार जीत उस गांव की इज्जत का सवाल हुआ करती थी।
उसी दौर में एक बार एक गांव में बारात आयी।
बारात में शहर से अँग्रेजी पढ़ कर एक बाबू मोशाय भी पधारे थे, जिनके बारे में मशहूर था कि वह अपनी अँग्रेजी में की गयी जिरह बहस से सबको चित कर देते थे। गांव वाले घारातियों को जब यह बात पता चली तो उनके पैरों के नीचे से जमीन खिसक गयी।
क्योंकि उस दिन गांव के एकमात्र अँग्रेजी बोलने वाले मास्टर साहब शहर गये हुये थे। अपनी संभावित हार के बारे में सोचकर सभी मायूस हो गये।
फिलहाल किसी तरह मुँह छिपाते हुये द्वारपूजा की रस्म पूरी की गयी।
इसके बाद बारात जनवासे में लगे शामियाने में आकर बहस के लिये वधू पक्ष के बुद्धिजीवी का इन्तजार करने लगे।
जबकि घारातियों में मास्टर साहब के न होने के कारण उदासी पसरी हुई थी।
सभी लोग एक दूसरे का मुँह देख रहे थे और उधर बाराती ललकार रहे थे कि कोई अगर है बहस करने वाला तो सामने आये। लेकिन गांव वालों के पास उनकी ललकार का कोई जवाब नहीं था।
तभी मुखिया जी अपने भतीजे को ललकारते हुये चिल्ला उठे कि-
हरे संटूआ…..!
कहां हए रे? ससुरा कवा सैकड़न रूपये फीस भरकर अँग्रेजी वाले स्कूल में पढ़ाता हूँ , इसीलिये कि मौके पे काम आ सके।
कहां है….. जल्दी आ इधर…… चल मेरे साथ।
दिनभर मेरे सामने अँग्रेजी में गिटिर-पिटिर करता है, आज चल के बोल अँग्रेजी।
पहले तो संटूआ सकुचाया, क्योंकि उसे अँग्रेजी के essay और poem के अलावा कुछ याद नहीं था।
लेकिन गांव वालों की हसरत भरी निगाहों से उसे देखने के कारण अपने बचने को कोई चारा नहीं दिखाई दिया।
सकपकाते हुये वह तैयार हो गया और बोला कि चलिये…
आज उनकी भी अँग्रेजी देख ली जाय।
संटूआ को लेकर सभी लोग शामियाने में आ गये और सामान्य परिचय के बाद बहस शुरू हुई। सबसे पहले बारात पक्ष के अँग्रेजी जानने वाले बुद्धिजीवी ने प्रश्न पूछा कि-
“What you think about democracy and social change in India?”
पहले तो संटूआ को प्रश्न ही नहीं समझ में आया।
आखिर पांचवीं जमात में पढ़ने वाला बेचारा संटूआ इसे कैसे समझता।
लेकिन इधर उधर देखा तो पता चला कि सभी बारातियों सहित गाँव वालों की भी निगाहें उसी पर अटकी हैं।
अब मरता क्या न करता। खूब जोर लगाकर चिल्लाते हुये बोल पड़ा-
“twinkle twinkle little star”,
how i wonder what you are.
up above the world so high,
like a diamond in the sky”
इतना सुनते ही सभी गांव वाले वाह-वाह कहते हुये ताली पीटने लगे।
लेकिन बारात पक्ष के बुद्धिजीवी कहने लगे-
No…no……no….this is not a right answer…. my question about Democratic and social changes in India.
इसके बाद फिर से सभी गांव वाले संटूआ की ओर देखने लगे। संटूआ को तो यहाँ कुछ भी समझ में नहीं आ रहा था।
पूरी तरह किंकर्तव्यविमूढ था। लेकिन इस बार उसने दुगुने उत्साह से बोलना शुरू किया
” India is my country and all Indians are my brothers and sisters.I love my country and I am proud of its rich and varied heritage.I shall always strive to be worthy of it.
इसके बाद तो गांव वालों ने भी दोगुने जोश से ताली बजाते हुये संटूआ की वाहवाही की।
इसके बाद बारात वाले अँग्रेजी बोलने वाले बुद्धिजीवी जितना बोलते उसके जवाब में संटूआ कोई न कोई poetry या essay सुना देता।
गांव वाले ताली पीटते और बुद्धिजीवी अपने सिर के बाल नोचते।
अन्त में हारकर उन्होंने सवाल पूछना ही बंद कर दिया और खीझते हुये गांववालों को इडियट नानसेंस बनाते उठ कर चले गये…. गांव वालों ने खूब ताली बजायी और संटूआ को कँधे पर बैठा बारातियों को चिढ़ाते हुये घर लौट आये।
लेकिन…. संटूआ टाइप राहुल गांधी सदन से बाहर आकर फिर अपने…”twinkle twinkle little star”, यानि कि तपस्वी _पुजारी जैसे घिसे पीटे सवाल दोहराते जा रहे हैं।
बाकी….. मूर्ख घरातियों की तरह कांग्रेसी उन्हें कंधे पर बैठाकर दूसरों को चिढ़ाते हुये राहुल गांधी को शाबासी दे रहे कि वाह बेट्टा… वाह बेट्टा… संटूआ बहुत खूब खूब बोलले। और संटूआ उन सबको देख कर “#आँख_मारता” है।
।।इति संटूआ प्रकरणम् सम्पूर्णम।।
साभार

Posted in हिन्दू पतन

शाहजहाँ और औरंगज़ेब काल में आया यूरोपियन यात्री मानुची जगननाथ मंदिर की एक घटना के बारे में लिखता है- एक बार पुरी में एक पुर्तगाली व्यापारी/ येस्यूइट आया जिसके हाथ घुटने पार पहुँचते थे। स्थानीय पुजारियों ने उसे दैव पुरुष का दर्जा दिया और उसे ईश्वर का भेजा हुआ मान खूब आदर सत्कार किया।

उस पुर्तगाली ने कई दिनोंतक खूब मज़े , गुलछर्रे उड़ाये। मंदिर में भी आराम से आवागमन रहा जहां उसने मंदिर के अंदर की संपदा का जायज़ा लिया। संपदा देख पुर्तगाली की आँखें फैल गई और उसने अपने भाई के साथ चोरी का प्लान बनाया। गोवा से आया उसका भाई उसका भक्त बन कुछ दिन साथ रहा और फिर एक दिन रातोंरात दोनों कई रत्न आदि ले रफ़ूचक्कर हो गये।

घुटनों से लंबे हाथ होने के ऐसे दो लोगों के बारे में लिखता है जिन्हें भारतीय समाज में अपार सम्मान मिला था। इत्तिफ़ाक़ से दोनों पुर्तगाली थे। लेकिन ये समझ नहीं आया उस समय के समाज में ऐसे लंबे हाथ वालों को दैवी क्यों माना जाता था ?

नोट १- ऐसे व्यक्ति अजानुभूज कहलाते है। छत्तीसगढ़ उड़ीसा में आज भी इसे दैव लक्षण माना जाता है।मित्र किशोर वैभव जी की टिप्पणी अनुसार!

नोट २- नालंदा को जलाने वाला बख़्तियार ख़िलजी भी कुछ इसी प्रकार का आदमी था- लंबे हाथ वाला।

नोट ३- गांधी जी के हाथ इतने लंबे नहीं थे ।

Posted in गंगा माँ

गंगा की गंड़की


सीसामऊ नाला का नाम सुना है?

1890 में अंग्रेजों के समय बनवाया गया था… पूरे कानपुर शहर का कूड़ा करकट, मल मूत्र, चमड़े की फैक्ट्री का कचरा, और अन्य Industrial Waste इस नाले के रास्ते पवित्र गंगा नदी में गिरा करता था.

यह नाला एक दिन में 450 Million लीटर (1 Million का अर्थ 10 लाख हुआ, आगे calculate कर लीजिये ) गन्दा पानी गंगा में गिराता था….इसे एशिया का सबसे बड़ा नाला बोला जाता था…… तब रोजाना गंगा किनारे जा कर हर हर गंगे करते समय याद नहीं आई माँ गंगा की पवित्रता??

2018 में यह नाला बंद कर दिया गया… आस पास ढेरों Sevage Treatment plant लगाए गए.. ताकि गन्दा पानी गंगा में नहीं जाए… यह काम केंद्र सरकार की नमामि गंगे project के द्वारा हुआ.

सवा सौ साल से चल रही गंगा की बर्बादी को रोकने वाला मोदी एक क्रूज चलाने से अधर्मी हो गया….. गजब है 😂😂

जो आज गंगा की पवित्रता का हल्ला मचा रहे हैं.. उनमे से अधिकतर को सीसामऊ नाले के बारे में पता तक नहीं होगा.