Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

❣️સત્ય ઘટના નો પ્રસંગ ❣️

જામનગર જિલ્લા નું કરાણા ગામ

લગભગ 1990 ની આજુ બાજુ નું વર્ષ

ભાદરવા મહિના ના દિવસો
અને એ દિવસો માં એક વખત મેઘ તાંડવ સર્જાણુ

નાગમતી નદી બે કાંઠે વહી જાય છે

સિમ માંથી ગામ માં આવવાનો મારગ બંદ

સાંજ ને ટાણે ઘેલા ભાઈ કણબી અને એમના ધર્મપત્ની મોતી બેન વાડીએ થી ગાડું જોડી ને ગામ માં આવતા હતા

નાગમતી ને કાંઠે પોગ્યા ને જોયું તો રસ્તો બંધ

પણ બળદો ને જાણે ખોળ ની ઉતાવત હોય એમ ઘેલા પટેલ ની સતાણ રાસ હોવા છતાં નદી ના કાંઠા સુધી આવી ગ્યા
અને કુદરત નું કરવું ને જે જગ્યા એ ગાડુ ઉભું હતું એજ જગ્યા એથી ભેખડ પડી

પટેલ પટલાણી અને બળદ ગાડું બધું નાગમતી માં

ગામ માં કાળો દેકારો બોલી ગયો

ઘેલા પટેલ તણાયા, ઘેલા પટેલ તણાયા

આગળ જતાં નદી ની વચમાં એક ટેકરો આવે એ ટેકરા ઉપર તાળ ના જાડ હોય ઇ જાડ પકડી ને પટેલ અને પટલાણી બને બુમો પાડે કે કોક બચાવો, કોક બચાવો

ગામ ના 100 જેટલા વ્યક્તિ ઓ ત્યાં હાજર હતા
પણ કાળ બનેલી નાગમતી માં પડવાની કોઈ ની હિમ્મત હાલે નહીં

એવે ટાણે એક વ્યક્તિ એ ગામ ના ચોરે બેઠેલા *વજેસંગ* બાપુ ને વાત કરી

( *વજેસંગ માનસંગ જાડેજા* )

બાપુ આપણા ખેડુ ઘેલા ભાઈ અને એમના વહુ બેય નદી માં પડી ગયા છે

વજેસંગ બાપુ એ કહ્યું કે ગામ નું કોઈ ત્યાં હાજર નથી

માણસ એ કહ્યું બાપુ 100 જણા હાજર છે પણ નાગમતી માં પડે કોણ…?

બાપુ વજેસંગ બોલ્યા અરે વાલા કોઈ માણસ નો જીવ જાતો હોય તો નાગમતી શુ ને દરિયો શુ હાલ મને જટ ઇ જગ્યા બતાવ

એ ભાઈ બાપુ ને ઘટના સ્થળે લઈ જાય છે

અને એક પળ નો પણ વિલંબ કર્યા વગર વજેસંગ બાપુ કાળ બની ને ઉભરી રહેલી નાગમતી નદી માં ધુબકો મારે છે

ગામ આખું મોઢા માં આંગળા નાખી જાય

અને ઉદગાર નીકળે વાહ બાપુ, વાહ બાપુ

આ વાત ની જાણ વજેસંગ બાપુ ના દિકરા ઉમેદસિંહ ને થઈ, મારા જીવતા મારા બાપ ને નદી માં જઇ ને કોઈ નો જીવ બચાવવો પડતો હોય તો મારી જુવાની શુ કામની

આવું કહી ને ઉમેદસિંહ પણ નદી માં જંપલાવે બંને બાપ દીકરો હેમ ખેમ પટેલ અને પટલાણી નો જીવ બચાવી કાંઠે લાવે છે

*માત્ર રાજ જ કર્યું છે એવું નથી*

*સમય આવ્યે પ્રજા માટે પોતાનો જીવ પણ વહાલો નો કરે ઇ ગુણ ક્ષત્રિય ના લોહી માં છે*

*અને એટલે જ દુનિયા બાપુ તરીકે બોલાવે છે*

ઉમેદસિંહ બાપુ અત્યારે હયાત છે

ગામ કરાણા

અનિલ પડિયાર

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

શ્રીમંત પરિવારની એક કન્યા એવા શ્રીમંત પરિવારમાં લગ્ન કરીને આવી. થોડા દિવસ બાદ એક સવારે પુત્રવધુએ દ્રશ્ય જોયું કે માથા માં તેલ નાખતા સસરાએ બોટલમાંથી નીચે પડેલ તેલનું એક ટીપું આંગળીથી લઇ પગ પર ઘસ્યું. પુત્રવધુને મનમાં થયું કે આટલા શ્રીમંત હોવા છતા સસરાએ એક મામુલી તેલનું ટીપું જતું કરી સકતા નથી. તો મારા માટે ભવિષ્ય માં શું કરશે? સાચેજ મખ્ખીચુસ છે. છતા ખાતરી કરવા તેણે બીજા દિવસે માથું ભયંકર દુખાવાનું નાટક કર્યું. મગજની નસો ફાટ ફાટ થાય..ને હમણા જ જીવ નીકળી જશે. ડોકટર બોલાવ્યા, કશો ફરક ન પડ્યો. કોઈ ઉપાય કારગત નહોતો થતો. ઘરના લોકો ચિન્તા માં અડધા અડધા થી ગયા.

સસરાએ પૂછ્યું, “ બેટા તારા ઘેર તુ શું ઉપાય કરતી હતી?”

પુત્રવધુએ કહ્યું, “ મારા ઘર માં સાચા મોતી ને વાટીને તેનો લેપ કરતી હતી”

સસરાએ મોંગો એવા મોતીનો હાર મંગાવી વાત્વાની સરુઆત કરી ત્યાં ટો અટકીને પુત્રવધુએ બધી ખોલીને વાત કરી. ત્યારે સસરાજીએ મજાનો ઉત્તર આપ્યો, “ જેઓ તેલ ના ટીપા જેવી ચીજ બચાવવાની કુસળતા રાખે તેઓજ અવસરે મોતી જેવી મુલ્યવાન ચીજ વાટવાની ઉદારતા અને હિમ્મત રાખી સકે.

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

जंगल में एक पेड़ के नीचे एक वृद्ध गुरु अपने युवा शिष्य के साथ बैठा था। चारों ओर घास का मैदान था। इसमें सैकड़ों सफेद गुलाब के फूल खिले थे। युवक कुंवारा था और अक्सर गुरु के पास सत्संग के लिए आता रहता था। अध्यात्म और धर्म चर्चा के बीच अचानक युवक ने विषय बदल दिया और गुरु से पूछा- ‘महाराज, मेरा अध्ययन पूरा हो चुका है। मैंने अपने पिता का व्यवसाय संभाल लिया है और इन दिनों मेरे विवाह की बात भी चल रही है। लेकिन कई युवतियों को देखकर भी मैं अपने लिए कोई योग्य जीवन साथी नहीं तलाश सका। आप बताएं कि मैं क्या करूं?’

गुरुजी बोले- ‘बेटा, तुम एक काम करो। मैदान में अंतिम छोर तक एक चक्कर लगाओ। जो गुलाब का फूल तुम्हें सबसे खुबसूरत लगे वह मेरे लिए तोड़कर ले आओ। बस एक शर्त है कि आगे बढ़ा कदम पीछे नहीं मुड़ना चाहिए। युवक गया और थोड़ी देर बाद, खाली हाथ लौट आया। गुरु ने पूछा- ‘तुम कोई फूल नहीं लाए?’

शिष्य ने जवाब दिया- ‘गुरु जी, मैं एक के बाद एक फूल देखता आगे बढ़ा। जब कोई सुंदर फूल देख उसे तोड़ने के लिए झुकता तो मेरे मन में यह ख्याल आता कि हो सकता है आगे इससे भी बेहतर फूल हो। मैदान के अंत में मुझे कुछ सुंदर फूल दिखे भी, लेकिन पास जाकर देखा तो वे मुरझाए हुए थे। उन्हें लाने की मेरी इच्छा ही न हुई। इसलिए मैं खाली हाथ लौट आया।’

गुरु ने कहा- ‘बेटा, जिंदगी भी ऐसी ही है। यदि सबसे योग्य ढूंढने में लगे रहोगे तो अंत में तुम्हारे हाथ मुरझाए फूल ही आएंगे।’ युवक गुरु का संकेत समझ गया।

Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

फर्जी बनाम असली इतिहास —

गोवा और महाराष्ट्र में कुछ ऐसी उपजातियाँ हैं जो पुर्तगालियों द्वारा बलपूर्वक अपहरण किये हुए लोगों की घर वापसी से बनीं,उनको हिन्दू समाज ने पृथक उपजातियों के तौर पर स्वीकार कर लिया ।

उनमें से कुछ चितपावन ब्राह्मणों में हैं ;उन सबके पूर्वज देशस्थ और सारस्वत ब्राह्मण थे;और

कुछ वहाँ के कायस्थों में ;उन सबके पूर्वज विशुद्ध क्षत्रिय थे जिनको पुर्तगालियों ने दास बनाकर व्रात्य बना डाला ।

विशुद्ध क्षत्रिय ठाकुर कुल से बालासाहब ठाकरे के पूर्वज निकले ।

चितपावनों को ब्राह्मण के रूप में बलपूर्वक मान्यता छत्रपति शिवाजी ने दिलवाई थी । “चितपावन” संज्ञा भी उसी काल में खोजी गयी । पेशवा बाजीराव−१ एक चितपावन ब्राह्मण थे जिन्होंने छत्रपति के राज्य को विशाल हिन्दू साम्राज्य में परिणत किया । अल्पायु में छत्रपति और बाजीराव−१ दोनों दिवंगत हो गये,दोनों में से एक भी दीर्घायु होते तो उसी काल में पूरा देश हिन्दू राष्ट्र बन जाता और अंग्रेजों के पाँव जम नहीं पाते ।

छत्रपति शिवाजी स्वयं उसी किस्म के क्षत्रिय थे — पोंगापन्थी कठमुल्ले किस्म के क्षत्रियों और ब्राह्मणों ने उनको असली क्षत्रिय मानने से इनकार कर दिया था । तब काशी से पण्डित बुलाकर फर्जी प्राचीन वंशावली बनवाई गयी और विरोधियों का मुँह तलवार दिखाकर बन्द किया गया ।

उनमें से जिन अपहृत सारस्वत ब्राह्मणियों को पुर्तगालियों ने गर्भ दे दिया था उनको हिन्दू समाज से स्वीकृत नहीं किया,वे ईसाई मँगलुरु चले गये जहाँ बाद में टीपू सुल्तान से अधिकांश का नरसंहार कर डाला । चौथाई बचे हुए हैं और पूरे देश में भाजपा के समर्थक ईसाई केवल वहीं हैं ।

उचित संस्कार और प्रायश्चित कराकर उन सबको सामान्य हिन्दू बनाना चाहिये था किन्तु पूरा हिन्दू समाज ही दासता में जकड़ा हुआ था जिस कारण ऐसा नहीं हो सका ।

पुर्तगाल में कानून था कि वहाँ की स्त्रियाँ विदेश नहीं जा सकतीं । अतः विदेशों में उपनिवेश स्थापित करने के लिये उपनिवेशों के स्थानीय पुरुषों की सामूहिक हत्या करके उनकी स्त्रियों का अपहरण पुर्तगालियों का सामान्य नियम था । रोम के पोप ने पुर्तगालियों को रोम से पूर्व का समूचा गैर−यूरोपियन संसार लिखकर दे दिया,और स्पेन को रोम से पश्चिम का सारा गैर−यूरोपियन संसार । किन्तु पोप ने पुर्तगाल को यह नहीं कहा कि पुर्तगाली स्त्रियों को उपनिवेशों में जाकर शुद्ध गोरे नस्ल के बच्चे पैदा करने की छूट दे ।

अतः सारस्वत ब्राह्मण पुरुषों की पुर्तगाली सामूहिक हत्या करके उनकी बहू−बेटियों का अपहरण करते थे जिस कारण राजस्थान के राजपूती जौहर की तरह गोवा के सारस्वत ब्राह्मणों में सतीप्रथा की उत्पत्ति हुई । उससे पहले विधवा के आत्मदाह के अर्थ में सतीप्रथा कहीं नहीं थी क्योंकि महादेव मरे नहीं थे जो सती को विधवा कहा जाता ।

सतीप्रथा पर सर्वप्रथम कानूनी रोक गोवा के पुर्तगालियों ने ही लगायी ताकि पुर्तगालियों को हिन्दू विधवायें मिल सकें । यही कार्य इसी उद्देश्य से बाद में विलियम बैंटिक ने किया और भारत के प्रथम रेड लाइट एरिया सोनागाछी की स्थापना अपने चमचे द्वारा करायी ताकि अंग्रेज सैनिकों का इंग्लैण्ड पत्नियों के पास पलायन को रोक सके । उस चमचे को “राजा” की उपाधि दी गयी । उसी चमचे राममोहन राय ने हिन्दुओं को ईसाई बनाने के लिये ब्रह्मसमाज की भी स्थापना की । राममोहन राय ने तान्त्रिक विद्यावागीश द्वारा फर्जी हिन्दू धर्मशास्त्र “महा निर्वाण तन्त्र” लिखवाया जिसका खर्च ईसाई मिशनरी William Carey ने दिया । तान्त्रिक विद्यावागीश की खोज William Carey ने ही की थी,विद्यावागीश ने राममोहन राय से Carey का परिचय कराया । १८०३ ई⋅ से १८१५ ई⋅ तक राममोहन राय ने ईस्ट इण्डिया कम्पनी में “Writing Service” की नौकरी की । न्यायालयों में हिन्दू कानून के तौर पर उस फर्जी ग्रन्थ को मान्यता दी गयी और मुकदमों में उसे सबूत के तौर पर प्रस्तुत करने के लिये राममोहन राय मोटी रकम वसूलते थे । दो दशक तक इतना पैसा कमाया कि राममोहन राय कलकत्ते के ऐय्याश अंग्रेजों को कर्ज देने वाले प्रमुख महाजन बन गये । भाण्डा फूटा कि उनका ग्रन्थ “महा निर्वाण तन्त्र” फर्जी है और असली हिन्दू धर्मशास्त्र तो मनुस्मृति है तो उसी काल से मनुस्मृति में फर्जी अंश जोड़ने और उसे गरियाने का षडयन्त्र आरम्भ हो गया जो आजतक जारी है ।

हमारे समाज का सही इतिहास पढ़ाया नहीं जाता क्योंकि इतिहासकारों को स्वयं अपना इतिहास ही पता नहीं है;रुचि ही नहीं है

( आजकल व्यस्त हूँ,वरना इस विषय पर बहुत विस्तृत सामग्री है । मुझे डँसने वाला नाग मेरे बाथरूम में नही,विषविद्यालयों में है । पाश्चात्य पुस्तकों में सारी बातें प्रकाशित हैं,केवल भारत में ही झूठ पढ़ाया जाता है ।)

राममोहन राय पर उपरोक्त तथ्य निम्न पुस्तकों में प्रकाशित हैं —

***Soman, Priya. “Raja Ram Mohan and the Abolition of Sati System in India” (PDF). International Journal of Humanities, Art and Social Studies (IJHAS). 1 (2): 75–82.

***”Raja Ram Mohan Roy: Google doodle remembers the father of ‘Indian Renaissance'”. Indian Express. 22 May 2018. Retrieved 24 June 2018.

***”Listeners name ‘greatest Bengali'”. 14 April 2004. Retrieved 21 April 2018.

***Habib, Haroon (17 April 2004). “International : Mujib, Tagore, Bose among ‘greatest Bengalis of all time'”. The Hindu.

***”BBC Listeners’ Poll Bangabandhu judged greatest Bengali of all time'”. The Daily Star. 16 April 2014.

***Mehrotra, Arvind (2008). A Concise History of Indian Literature in English. Ranikhet: permanent black. p. 1. ISBN 978-8178243023.

***a b Sharma, H.D. (2002). Raja Ram Mohan Roy — The Renaissance Man. Rupa & Co. p. 8. ISBN 978-8171679997

***”Raja Ram Mohan Roy”. Cultural India. Retrieved 25 August 2018.

***Hodder, Alan D. (1988). “Emerson, Rammohan Roy, and the Unitarians”. Studies in the American Renaissance: 133–148. JSTOR 30227561.

***Singh, Kulbir (17 July 2017). “Ram Mohan Roy: The Father of the Indian Renaissance”. Young Bites.

***”An Enquiry into the Obligations of Christians to Use Means for the Conversion of the Heathens”. [www.wmcarey.edu.](http://www.wmcarey.edu/…) Retrieved 2 October 2017.

***”Home – William Carey University”. [www.wmcarey.edu.](https://l.facebook.com/l.php…) Retrieved 2 October 2017.

***Reed, Ian Brooks (2015). “Rammohan Roy and the Unitarians”. Master Thesis, Florida State University.

***Kaumudi Patrika 12 December 1912

***Derrett, John Duncan Martin (1977). Essays in Classical and Modern Hindu Law: consequences of the intellectual exchange with the foreign powers. BRILL. ISBN 978-90-04-04808-9.

***Smith, George (1885). “Ch. 4”. The Life of William Carey (1761–1834). p. 71. Retrieved 8 December 2008.

***a b Syed, M. H. “Raja Rammohan Roy” (PDF). Himalaya Publishing House. Retrieved 29 November 2015.

***Preface to “Fallacy of the New Dispensation” by Sivanath Sastri, 1895

***Patel, Tanvi (22 May 2018). “Google Honours ‘Maker Of Modern India’: Remembering Raja Ram Mohan Roy”. The Better India. Retrieved 25 August 2018.

***”Joshua Marshman, D.D.” William Carey University. Retrieved 25 August 2018.

***Avalon, Arthur (2004). Mahanirvana Tantra Of The Great Liberation. Kessinger Publishing. ISBN 978-1-4191-3207-0.

***Smith, George. “Life of William Carey”. Christian Classics Ethereal Library. Retrieved 29 November 2015.

***Robertson Bruce C. (1995). Raja Rammohan Ray: the father of modern India. Oxford University Press, Incorporated. p. 25. ISBN 978-0-19-563417-4.

***Crawford, S. Cromwell (1984). Ram Mohan Roy, his era and ethics. Arnold-Heinemann. p. 11.

***Roy, Rama Dev (1987). “Some Aspects of the Economic Drain from India during the British Rule”. Social Scientist. 15 (3): 39–47. doi:10.2307/3517499. JSTOR 3517499.

***Bhattacharya, Subbhas (1975). “Indigo Planters, Ram Mohan Roy and the 1833 Charter Act”. Social Scientist. 4 (3): 56–65. doi:10.2307/3516354. JSTOR 3516354.

***Das, Pijush Kanti. “Ch. I” (PDF). Rammohun Roy and Brahmoism. Religious movement in mediaeval and modern India a critical study in Sikhism Brahmoism and the cult of Ramakrishna. University of Calcutta. pp. 200–208.

***Sastri, Sivanath (1911) History of the Brahmo Samaj. pp. 44–46

***”Brahmo Samaj”. WORLD BRAHMO COUNCIL. Archived from the original on 29 December 2010. Retrieved 21 January 2010.

***Doniger, Wendy. (March 2014). On Hinduism. Oxford. ISBN 9780199360079. OCLC 858660095.

***Bhatt, Gauri Shankar (1968). “Brahmo Samaj, Arya Samaj, and the Church-Sect Typology”. Review of Religious Research. 10 (1): 23–32. doi:10.2307/3510669. JSTOR 3510669.

***Ram Mohan Roy, Translation of Several Principal Book, Passages, and Text of the Vedas and of Some Controversial works on Brahmunical Theology. London: Parbury, Allen & Company, 1823, p. 4.

***Bandyopadyay, Brahendra N. (1933) Rommohan Roy. London: University Press, p. 351.

***”Ram Mohan Roy.”. Encycpaedia Britannica.

***a b “The Brahmo Samaj”. [www.thebrahmosamaj.net.](https://l.facebook.com/l.php…) Retrieved 2 October 2017.

***”Celebration at Arnos Vale”. Archived from the original on 6 February 2015. Retrieved 2 October 2017.

***”The Brahmo Samaj”. [www.thebrahmosamaj.net.](https://l.facebook.com/l.php…) Retrieved 2 October 2017.

***Suman Ghosh (27 September 2013). “Bristol Remembers Rammohun Roy”. Retrieved 2 October 2017 – via YouTube.

***”Tributes paid to the great Indian social reformer Raja Ram Mohan Roy in Bristol”. Retrieved 27 September 2017.

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

दुखों से मुक्ति


एक बार भगवान् बुद्ध एक गाँव में उपदेश दे रहे थे। उस गाँव का एक धनाड्य व्यक्ति बुद्ध के उपदेश सुनने आया।

उपदेश सुनकर उसके मन में एक प्रश्न पूछने की जिज्ञासा हुई।

परन्तु सबके बीच में प्रश्न पूछने में उसे कुछ संकोच हुआ क्योंकि उस गाँव में उसकी बहुत प्रतिष्ठा थी और प्रश्न ऐसा था कि उसकी प्रतिष्ठा दांव पर लग जाती।

इसलिए वह सबके जाने का इन्तजार करने लगा। जब सब लोग चले गये तब वह उठकर बुद्ध के पास आया और अपने दोनों हाथ जोड़कर बुद्ध से कहने लगा…

प्रभु मेरे पास सब कुछ है। धन, दौलत , पद, प्रतिष्ठा, ऐश्वर्य किसी चीज की कोई कमी नही है, परन्तु मैं खुश नही हूँ।

हमेशा खुश रहने का राज क्या है ? मैं जानना चाहता हूँ कि हम हमेशा प्रसन्न कैसे रहें?

बुद्ध कुछ देर तक चुप रहे और फिर बोले, “तुम मेरे साथ जंगल में चलो मैं तुम्हें खुश रहने का राज बताता हूँ।”

ऐसा कहकर बुद्ध उसे साथ लेकर जंगल की तरफ बढ़ चले। रास्ते में बुद्ध ने एक बड़ा सा पत्थर उठाया और उस व्यक्ति को देते हुए कहा, इसे पकड़ो और चलो।

वह व्यक्ति पत्थर उठाकर चलने लगा। कुछ समय बाद उस व्यक्ति के हाथ में दर्द होने लगा, लेकिन वह चुप रहा और चलता रहा।

लेकिन जब चलते हुए काफी समय बीत गया और उस व्यक्ति से दर्द सहा नही गया, तो उसने बुद्ध को अपनी परेशानी बताई।

बुद्ध ने उससे कहा.. पत्थर नीचे रख दो। पत्थर नीचे रखते ही उस व्यक्ति को बड़ी राहत महसूस हुई।

तभी बुद्ध ने समझाया…

यही खुश रहने का राज है।

उस व्यक्ति ने कहा, भगवान में कुछ समझा नहीं।

बुद्ध बोले, “जिस तरह इस पत्थर को कुछ पल तक हाथ में रखने पर थोड़ा सा दर्द, एक घण्टे तक रखने पर थोड़ा ज्यादा दर्द, और काफी समय तक उठाए रखने पर तेज दर्द होता है..

उसी तरह दुखों के बोझ को हम जितने ज्यादा समय तक अपने कन्धों पर उठाए रखेंगे, उतने ही ज्यादा दुखी और निराश रहेंगे।

यह हम पर निर्भर करता है, कि हम दुखों के बोझ को कुछ पल तक उठाए रखना चाहते हैं या जिन्दगी भर।

.

अगर खुश रहने की आकांक्षा हो तो दुख रूपी पत्थर को जल्द से जल्द नीचे रखना सीखना होगा। सम्भव हो तो उसे उठाने से ही बचना होगा।

.

मित्रों, हम सभी यही करते हैं। अपने दुखो के बोझ को ढोते रहते हैं। मैंने अपने जीवन में कई लोगो को कहते सुना है..

.

उसने मेरा इतना अपमान किया कि मैं जिन्दगी भर नहीं भूल सकता।

.

वास्तव में अगर आप उसे नही भूलते हैं तो आप अपने आप को ही कष्ट दे रहे हैं।

.

दुखों से मुक्ति तभी सम्भव है जब हम दुख के बोझ को अपने मन से जल्द से जल्द निकाल दें और इच्छाओ से रहित होकर या जो है उसमे संतोष कर प्रसन्न रहें।

.

याद रखिये प्रत्येक क्षण अपने आप में नया है और जो क्षण बीत चुका है उसकी कड़वी यादों को मन में संजोकर रखने से बेहतर है कि हम अपने वर्तमान क्षण का पूर्णरूप से आनन्द उठायें।

इसलिए खुश रहिए प्रसन्न रहिए।

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

सच्चा गुरु की तलास






एक समय की बात है महाराज *अजातशत्रु का मन अशांत रहने लगा उन्होंने आत्मकल्याण की इच्छा से प्रेरित होकर तप साधना करने का निश्चय किया उन्होंने यह बात अपने विद्वान सलाहकारों को बताई ।*

विद्वान सलाहकारों ने राजा को सलाह दी “ महाराज आध्यात्मिक साधनाएं किसी मार्गदर्शक गुरु के सानिध्य में की जाये तो ही सफल होती है अतः आपको किसी योग्य गुरु का वरण करना चाहिए।”

महाराज अजातशत्रु ने विद्वानों से पूछा, “ योग्य गुरु की पहचान क्या है ?”

विद्वजन बोले “ महाराज जो मनुष्य सच्चा आत्मदर्शी, परमार्थी और तत्वदर्शी हो, वही गुरु बनने के योग्य होता है।”

*अब महाराज के सामने यह बड़ी विकट समस्या थी कि सच्चे गुरु को कैसे खोजें ? जो आत्मदर्शी, परमार्थी और तत्वदर्शी की कसोटी पर खरा उतरे इसी उधेड़बुन में उलझे महाराज अपने शयनकक्ष में बैठे विचारमग्न थे तभी महारानी विद्यावती का आगमन हुआ महाराज के चेहरे पर चिंता की रेखाएं स्पष्ट दिखाई दे रही थी।*

उत्सुकता से महारानी ने पूछा “ आज हमारे महाराज चिंता के कौन से भंवर में फंसे हुए हैं ?”

*महाराज अजातशत्रु ने अपनी समस्या कह सुनाई*

महारानी ठहाका मारकर हंसीं और बोलीं “ *बस इतनी सी बात के लिये इतने चिंतित हो इस बात की आप बिलकुल चिंता मत कीजिए आप सारे* राज्य के विद्वान संतों, महात्माओं और गुरुओं को आमंत्रित कीजिए योग्य गुरु का चुनाव हम करेंगे।”

*महाराज, महारानी की विद्वता और सूझबूझ से भलीभांति परिचित थे अतः उन्होंने वैसा ही किया।*

*दूसरे ही दिन योग्य गुरु के चुनाव का उत्सव आयोजित किया गया जिसमें देश भर के विद्वान संत, महात्मा और गुरु लोग एकत्रित हुए।*

उच्च मंच पर आसीन महारानी ने सभी विद्वानों का स्वागत संबोधन करते हुए कहा “ हमारे महाराज अपनी तप साधना के लिये योग्य गुरु का वरण करना चाहते हैं इसीलिए इस प्रतियोगिता का आयोजन किया गया है महाराज की यह शर्त है कि जो कोई भी व्यक्ति सामने स्थित खुले मैदान में कहीं भी बड़े से बड़ा और सुन्दर से सुन्दर महल *कमसे कम समय में तैयार करवा देगा वही महाराज का गुरु बनने का अधिकारी होगा निर्माण कार्य के लिये आवश्यक सामग्री राजकोष से दी जायेगी।”*

महारानी की यह घोषणा सुनकर सभी विद्वान अपने अपने महल के लिये भूमि नापने लगे जिन्होंने भूमि का मापन कर लिया वो निर्माण कार्य के लिये कारीगर और आवश्यक सामग्री जुटाने में लग गये।

राजा और रानी *दोनों अपने सिपाहियों के साथ मैदान में घूम घूमकर कार्य का निरक्षण कर रहे थे तभी उन्हें एक ऐसा साधू दिखाई दिया जो एक पेड़ की छाँव में बैठकर मुस्कुरा रहा था।*

राजा और रानी *दोनों उसके नजदीक गये और रानी बोली, “ बाबा आपको महल नहीं बनाना क्या ? आप भी अपने महल के लिये जमीन नाप लीजिए और निर्माण कार्य आरम्भ कीजिए।”*

साधू हंसकर बोला “ बेटी मुझे महल की क्या जरूरत, जब ईश्वर ने यह विराट विश्व ही महल के रूप में दिया हुआ है पहाड़ों की कन्दराएँ ही मेरा महल है और विस्तृत वन ही मेरा बाग़ बगीचा है पेड़ों की छाँव मेरा ठहराव स्थल है और पशु – पक्षी ही मेरे परममित्र हैं आपके यहाँ तो मैं महज एक अतिथि बनकर आया हूँ आज यहाँ तो कल और कहीं ।”

रानी ने प्रसन्न होकर महाराज से कहा “ महाराज यही आपके योग्य गुरु है।”

इस तरह राजा अजातशत्रु को योग्य गुरु मिले
इस कथा से एक बड़ी ही महत्वपूर्ण शिक्षा मिलती है कि किसी को भी गुरु बनाने से पहले यह जाँच कर लेनी चाहिए कि वह गुरु बनने योग्य भी है या नहीं ।

हमारे शास्त्रों के अनुसार सच्चा संत वह होता है *जिसमें तीन ऐषानाएं न हो*
*लोकेषणा, पुत्रेष्णा और वित्तेष्णा*
जिसमें इनमें से एक भी ऐषना हो वह सच्चा संत नहीं हो सकता
लोकेषणा – *अर्थात जिसे नाम यश और बड़प्पन की चाहत हो।*
पुत्रेष्णा – *अर्थात जिसे पुत्र की इच्छा* हो जिसे बुढ़ापे का सहारा चाहिए*।
वित्तेष्णा – *अर्थात जिसे धन दौलत के संग्रह की इच्छा हो।*

कोई संत भी हो किन्तु यदि वह परमार्थी और तत्वदर्शी न हो *तो वह गुरु बनने योग्य नहीं है जो आत्मा और परमात्मा को तत्व से जानता है तथा जिसका प्रत्येक कर्म ईश्वर को समर्पित हो, वही गुरु बनने का अधिकारी है। ओम शांति* ✴️✴️✴️✴️✴️

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

*एक फकीर मरने को था। किसी ने उससे पूछा मरते वक्त कि तुमने किससे सीखा ज्ञान?

उसने कहा, बड़ा कठिन है। किस-किस के नाम लूं? जीवन में एक भी क्षण ऐसा नहीं बीता जब मैंने किसी से कुछ न सीखा हो।

एक बार रास्ते से निकलता था, एक छोटा सा बच्चा हाथ में दीया जलाए हुए कहीं जा रहा था। मैंने उस बच्चे से पूछा कि क्या बेटे तुम बता सकते हो कि दीये में जो ज्योति है यह कहां से आई है?

मैंने सोचा था कि छोटा बच्चा है, चकित होकर रह जाएगा, उत्तर न दे पाएगा। लेकिन उस बच्चे ने क्या किया? उसने फूंक मार दी और दीये को बुझा दिया और मुझसे कहा कि अब तुम ही बताओ कि ज्योति कहां चली गई है?

मैंने उस बच्चे के पैर पड़ लिए, मुझे एक गुरु मिल गया था। और मैंने जाना कि छोटे से बच्चे के प्रति भी यह भाव लेना कि वह छोटा है, गलत है। वहां भी कुछ रहस्यपूर्ण मौजूद हुआ है, वहां भी कुछ जन्मा है। केवल उम्र में पीछे होने से उसे छोटा मान लेना भूल है। मेरे पास कोई उत्तर न था।

तब मैंने जाना कि जो मैंने पूछा था वह बड़ा अज्ञानपूर्ण था। और तब मैंने जाना कि जहां तक उस प्रश्न के उत्तर का संबंध है, मैं भी उतना ही बच्चा हूं जितना वह बच्चा है। मेरे बुजुर्ग होने का भ्रम टूट गया। और यह भ्रम टूट जाना एक अदभुत शिक्षा थी जो एक छोटे से बच्चे ने मुझे दी थी, वह मेरा गुरु हो गया था।

और एक बार, उस फकीर ने कहा कि मैं एक गांव में ठहरा हुआ था। और एक औरत भागी हुई आई, उसके कपड़े अस्तव्यस्त थे, उसने न कुछ ओढ़ रखा था। उसने आकर मुझसे पूछा कि क्या आपने किसी आदमी को यहां से निकलते देखा है?

तो मैंने उससे कहा कि बदतमीज औरत, पहले अपने कपड़े ठीक कर और फिर मुझसे कुछ पूछ।

उस स्त्री ने कहा, माफ करें, मैं तो समझी कि आप परमात्मा के दीवाने और प्यारे हैं। मेरा प्रेमी इस रास्ते से निकलने वाला है, मैं उसे खोजने निकली हूं, वर्षों के बाद इधर से वह आने को है। तो मैं तो उसके प्रेम में इतनी दीवानी हो गई कि वस्त्रों की कौन कहे, मुझे अपनी देह की भी कोई सुध नहीं! लेकिन तुम परमात्मा के प्रेम में इतने भी दीवाने न हो सके कि दूसरे के वस्त्र तुम्हें दिखाई न पड़ें!

उस फकीर ने कहा, मैंने उसके पैर पड़ लिए और मैंने कहा, तेरा प्रेम मुझसे ज्यादा गहरा है। और मैं सोचता था कि मैं परमात्मा का प्रेमी हूं, तूने बता दिया कि नहीं हूं। जिसे अभी दूसरों के वस्त्र भी दिखाई पड़ते हैं, वह क्या परमात्मा का प्रेमी होगा? जो प्रेम में इतना भी नहीं, इतना भी नहीं डूब पाया जितना कि एक सामान्य स्त्री अपने प्रेमी के खयाल में डूब जाती है! तो वह स्त्री मेरी गुरु हो गई।

उस फकीर ने कहा, एक बार एक गांव में मैं आधी रात भटका हुआ पहुंचा। गांव के सारे लोग सो गए थे, सिर्फ एक आदमी एक मकान के पास, दीवाल के पास बैठा हुआ मुझे मिला। मेरे मन में खयाल हुआ कि हो न हो यह कोई चोर होना चाहिए। इतनी रात किसी दूसरे के मकान की दीवाल से यह कौन टिका है? मेरे मन में यही खयाल उठा कि कोई चोर होना चाहिए।

लेकिन उस आदमी ने मुझसे पूछा, राहगीर, भटक गए हो? चलो, कृपा करो, मेरे घर में ठहर जाओ, अब तो रात बहुत गहरी हो गई और सरायों के दरवाजे भी बंद हो चुके हैं।

वह मुझे अपने घर ले गया और मुझे सुला कर उसने कहा कि मैं जाऊं, रात्रि में ही मेरा व्यवसाय चलता है। तो मैंने पूछा, क्या है तुम्हारा व्यवसाय? उसने कहा कि परमात्मा के एक फकीर से झूठ न बोल सकूंगा, मैं एक गरीब चोर हूं।

वह चोर चला गया। और उस फकीर ने कहा कि मैं बहुत हैरान रह गया, इतनी सचाई तो मैं भी नहीं बोल सकता था। मेरे मन में भी कितनी बार चोरी के खयाल नहीं उठे! और मेरे मन में भी कौन-कौन सी बुराइयां नहीं पाली हैं! लेकिन मैंने कभी किसी को नहीं कहीं। इतना सरल तो मैं भी न था जितना वह चोर था। और रात जब पूरी बीत गई तो वह चोर वापस लौटा, धीरे-धीरे कदमों से घर के भीतर प्रवेश किया ताकि मेरी नींद न खुल जाए।

मैंने उससे पूछा, कुछ मिला? कुछ लाए? उस चोर ने कहा, नहीं, आज तो नहीं, लेकिन कल फिर कोशिश करेंगे। वह खुश था, निराश नहीं था।

फिर तीस दिन मैं उसके घर में मेहमान रहा और वह तीस दिन ही घर के बाहर रोज रात को गया और हर रोज खाली हाथ लौटा और सुबह जब मैंने उससे पूछा कि कुछ मिला? तो उसने कहा, नहीं, आज तो नहीं, लेकिन कल जरूर मिलेगा, कल फिर कोशिश करेंगे।

फिर महीने भर के बाद मैं चला आया। और जब मैं परमात्मा की खोज में गहरा डूबने लगा और परमात्मा का मुझे कोई कोर-किनारा न मिलता था और मैं थक जाता था और हताश हो जाता था और सोचने लगता था कि छोड़ दूं इस दौड़ को, खोज को, तब मुझे उस चोर का खयाल आता था जो रोज खाली हाथ लौटा, लेकिन कभी निराश न हुआ और उसने कहा कि कल फिर कोशिश करेंगे। और उसी चोर के बार-बार खयाल ने मुझे निराश होने से बचाया। जिस दिन, जिस दिन मुझे परमात्मा की ज्योति मिली, उस दिन मैंने अपने हाथ जोड़े और उस चोर के लिए प्रणाम किया, अगर वह उस रात मुझे न मिला होता तो शायद मैं कभी का निराश हो गया था।

ऐसे उस फकीर ने बहुत सी बातें कहीं जिनसे उसने सीखा।

जिंदगी चारों तरफ बहुत बड़ी शिक्षा है।
जिंदगी चारों तरफ बहुत बड़ा सत्य है। जिंदगी चारों तरफ रोज-रोज खड़ी है द्वार पर।
हमारी आंखें बंद हैं और हम पूछते हैं: सत्संग करने कहां जाएं?
और हम पूछते हैं: किसके चरण पकड़ें, किसको गुरु बनाएं? और जिंदगी चारों तरफ खड़ी है सब कुछ लुटा देने को, सब कुछ खोल देने को और उसके प्रति हमारी आंखें एवं हृदय बंद है।

तो मैं नहीं कहता कि सत्संग करने कहीं जाएं।
वैसा हृदय बनाएं अपना कि चौबीस घंटे सत्संग हो जाए।

जिंदगी में सब कुछ ऐसा है कि जिससे सीखा जा सके, पाया जा सके, जाना जा सके।

कोई दृष्टि खुल जाए, कोई अंतर्दृष्टि खुल जाए।*

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

पाप का फल भोगना ही पड़ता है


पाप का फल भोगना ही पड़ता है

किसी गाँव में एक सज्जन रहते थे। उनके घर के सामने एक सुनार का घर था। सुनार के पास सोना आता रहता था और वह गढ़कर देता रहता था। ऐसे वह पैसे कमाता था।

एक दिन उसके पास अधिक सोना जमा हो गया। रात्रि में पहरा लगाने वाले सिपाही को इस बात का पता लग गया। उस पहरेदार ने रात्रि में उस सुनार को मार दिया और जिस बक्से में सोना था, उसे उठाकर चल दिया।

इसी बीच सामने रहने वाले सज्जन लघुशंका के लिये उठकर बाहर आये। उन्होंने पहरेदार को पकड़ लिया कि तू इस बक्से को कैसे ले जा रहा है ? तो पहरेदार ने कहा–‘तू चुप रह, हल्ला मत कर। इसमें से कुछ तू ले ले और कुछ मैं ले लूँ।’

सज्जन बोले–‘मैं कैसे ले लूँ ? मैं चोर थोड़े ही हूँ !’

पहरेदार ने कहा–‘देख, तू समझ जा, मेरी बात मान ले, नहीं तो दुःख पायेगा।’ पर वे सज्जन माने नहीं। तब पहरेदार ने बक्सा नीचे रख दिया और उस सज्जन को पकड़कर जोर से सीटी बजा दी। सीटी सुनते ही और जगह पहरा लगाने वाले सिपाही दौड़कर वहाँ आ गये। उसने सबसे कहा कि ‘यह इस घर से बक्सा लेकर आया है और मैंने इसको पकड़ लिया है।’

तब सिपाहियों ने घर में घुसकर देखा कि सुनार मरा पड़ा है। उन्होंने उस सज्जन को पकड़ लिया और राजकीय आदमियों के हवाले कर दिया। जज के सामने बहस हुई तो उस सज्जन ने कहा कि ‘मैंने नहीं मारा है, उस पहरेदार सिपाही ने मारा है।’ सब सिपाही आपस में मिले उन्होंने कहा कि ‘नहीं इसी ने मारा है, हमने खुद रात्रि में इसे पकड़ा है’, इत्यादि।

मुकदमा चला। चलते-चलते अन्त में उस सज्जन के लिये फाँसी का हुक्म हुआ। फाँसी का हुक्म होते ही उस सज्जन के मुख से निकला–‘देखो, सरासर अन्याय हो रहा है! भगवान्‌ के दरबार में कोई न्याय नहीं! मैंने मारा नहीं, मुझे दण्ड हो और जिसने मारा है, वह बेदाग छूट जाय, जुर्माना भी नहीं; यह अन्याय है !’ जज पर उसके वचनों का असर पड़ा कि वास्तव में यह सच्चा बोल रहा है, इसकी किसी तरह से जाँच होनी चाहिये। ऐसा विचार करके उस जज ने एक षड्यन्त्र रचा।

सुबह होते ही एक आदमी रोता-चिल्लाता हुआ आया और बोला–‘हमारे भाई की हत्या हो गयी, सरकार ! इसकी जाँच होनी चाहिये।’ तब जज ने उसी सिपाही को और कैदी सज्जन को मरे व्यक्ति की लाश उठाकर लाने के लिये भेजा।

दोनों उस आदमी के साथ वहाँ गये, जहाँ लाश पड़ी थी। खाट पर लाश के ऊपर कपड़ा बिछा था। खून बिखरा पड़ा था। दोनों ने उस खाट को उठाया और उठाकर ले चले। साथ का दूसरा आदमी खबर देने के बहाने दौड़कर आगे चला गया।

तब चलते-चलते सिपाही ने कैदी से कहा–‘देख, उस दिन तू मेरी बात मान लेता तो सोना मिल जाता और फाँसी भी नहीं होती, तू अब देख लिया सच्चाई का फल ?’

कैदी ने कहा–‘मैंने तो अपना काम सच्चाई का ही किया था, फाँसी हो गयी तो हो गयी! हत्या की तूने और दण्ड भोगना पड़ा मेरे को ! भगवान्‌ के यहाँ न्याय नहीं !’

खाट पर झूठमूठ मरे हुए के समान पड़ा हुआ आदमी उन दोनों की बातें सुन रहा था। जब जज के सामने खाट रखी गयी तो खून भरे कपड़े को हटाकर वह उठ खड़ा हुआ और उसने सारी बात जज को बता दी कि रास्ते में सिपाही यह बोला और कैदी यह बोला। यह सुनकर जज को बड़ा आश्चर्य हुआ।

सिपाही भी हक्का-बक्का रह गया। सिपाही को पकड़कर कैद कर लिया गया। परन्तु जज के मन में सन्तोष नहीं हुआ। उसने कैदी को एकान्त में बुलाकर कहा कि ‘इस मामले में तो मैं तुम्हें निर्दोष मानता हूँ, पर सच-सच बताओ कि इस जन्म में तुमने कोई हत्या की है क्या ?’

वह बोला–‘बहुत पहले की घटना है। एक दुष्ट था, जो छिपकर मेरे घर मेरी स्त्री के पास आया करता था। मैंने अपनी स्त्री को तथा उसको अलग-अलग खूब समझाया, पर वह माना नहीं।

एक रात वह घर पर था और अचानक मैं आ गया। मेरे को गुस्सा आया हुआ था। मैंने तलवार से उसका गला काट दिया और घर के पीछे जो नदी है, उसमें फेंक दिया। इस घटना का किसी को पता नहीं लगा।’

यह सुनकर जज बोला—‘तुम्हारे को इस समय फाँसी होगी ही; मैंने भी सोचा कि मैंने किसी से घूस (रिश्वत) नहीं खायी, कभी बेईमानी नहीं की, फिर मेरे हाथ से इसके लिये फाँसी का हुक्म लिखा कैसे गया ? अब सन्तोष हुआ। उसी पाप का फल तुम्हें यह भोगना पड़ेगा। सिपाही को अलग फाँसी होगी।’

उस सज्जनने चोर सिपाही को पकड़कर अपने कर्तव्य का पालन किया था। फिर उसको जो दण्ड मिला है, वह उसके कर्तव्य पालन का फल नहीं है, प्रत्युत उसने बहुत पहले जो हत्या की थी, उस हत्या का फल है। कारण कि मनुष्य को अपनी रक्षा करने का अधिकार है, मारने का अधिकार नहीं। मारने का अधिकार रक्षक क्षत्रिय का, राजा का है। अतः कर्तव्य का पालन करने के कारण उस पाप–(हत्या) का फल उसको यहीं मिल गया और परलोक के भयंकर दण्ड से उसका छुटकारा हो गया। कारण कि इस लोक में जो दण्ड भोग लिया जाता है, उसका थोड़े में ही छुटकारा हो जाता है, थोड़े में ही शुद्धि हो जाती है, नहीं तो परलोक में बड़ा भयंकर (ब्याज सहित) दण्ड भोगना पड़ता है।

इस कहानी से यह पता लगता है कि मनुष्य के कब किये हुए पाप का फल कब मिलेगा–इसका कुछ पता नहीं। भगवान् का विधान विचित्र है। जब तक पुराने पुण्य प्रबल रहते हैं तब तक उग्र पाप का फल भी तत्काल नहीं मिलता। जब पुराने पुण्य खत्म होते हैं, तब उस पाप की बारी आती है। पाप का फल (दण्ड) तो भोगना ही पड़ता है, चाहे इस जन्म में भोगना पड़े या जन्मान्तर में।

– श्रद्धेय स्वामी श्रीरामसुखदासजी महाराज

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

भगवान् की कृपा


भगवान् की कृपा

एक राजा था। उसका मन्त्री भगवान्‌ का भक्त था। कोई भी बात होती तो वह यही कहता कि भगवान्‌ की बड़ी कृपा हो गयी ! एक दिन राजा के बेटे की मृत्यु हो गयी। मृत्यु का समाचार सुनते ही मन्त्री बोल उठा–‘भगवान् की बड़ी कृपा हो गयी !’ यह बात राजा को बुरी तो लगी, पर वह चुप रहा। कुछ दिनों के बाद राजा की पत्नी की भी मृत्यु हो गयी।

मन्त्री ने कहा–‘भगवान् की बड़ी कृपा हो गयी! राजा को गुस्सा आया, पर उसने गुस्सा पी लिया, कुछ बोला नहीं। एक दिन राजा के पास एक नयी तलवार बनकर आयी। राजा अपनी अँगुली से तलवार की धार देखने लगा तो धार बहुत तेज होने के कारण चट उसकी अँगुली कट गयी ! मन्त्री पास में ही खड़ा था। वह बोला–‘भगवान् की बड़ी कृपा हो गयी!’

अब राजा के भीतर जमा गुस्सा बाहर निकला और उसने तुरन्त मन्त्री को राज्य से बाहर निकल जाने का आदेश दे दिया और कहा कि मेरे राज्य में अन्न-जल ग्रहण मत करना। मन्त्री बोला–‘भगवान् की बड़ी कृपा हो गयी !’ मन्त्री अपने घर पर भी नहीं गया, साथ में कोई वस्तु भी नहीं ली और राज्य के बाहर निकल गया।

कुछ दिन बीत गये। एक बार राजा अपने साथियों के साथ शिकार खेलने के लिये जंगल गया। जंगल में एक सूअर का पीछा करते-करते राजा बहुत दूर घने जंगल में निकल गया। उसके सभी साथी बहुत पीछे छूट गये। वहाँ जंगल में डाकुओं का एक दल रहता था। उस दिन डाकुओं ने काली देवी को एक मनुष्य की बलि देने का विचार किया हुआ था।

संयोग से डाकुओं ने राजा को देख लिया। उन्होंने राजा को पकड़कर बाँध दिया। अब उन्होंने बलि देने की तैयारी शुरू कर दी। जब पूरी तैयारी हो गयी, तब डाकुओं के पुरोहित ने राजा से पूछा–‘तुम्हारा बेटा जीवित है ?’

राजा बोला–‘नहीं, वह मर गया।’ पुरोहित ने कहा कि ‘इसका तो हृदय जला हुआ है।’ पुरोहित ने फिर पूछा–‘तुम्हारी पत्नी जीवित है ?’ राजा बोला–‘वह भी मर चुकी है।’ पुरोहित ने कहा कि ‘यह तो आधे अंग का है। अतः यह बलि के योग्य नहीं है। परन्तु हो सकता है कि यह मरने के भय से झूठ बोल रहा हो !’

पुरोहित ने राजा के शरीर की जाँच की तो देखा कि उसकी अँगुली कटी हुई है। पुरोहित बोला–‘अरे ! यह तो अंग-भंग है, बलि के योग्य नहीं है! छोड़ दो इसको !’ डाकुओं ने राजा को छोड़ दिया।

राजा अपने घर लौट आया। लौटते ही उसने अपने आदमियों को आज्ञा दी कि हमारा मन्त्री जहाँ भी हो, उसको तुरन्त ढूँढ़कर हमारे पास लाओ। जब तक मन्त्री वापस नहीं आयेगा, तब तक मैं अन्न ग्रहण नहीं करूँगा। राजा के आदमियों ने मन्त्री को ढूँढ़ लिया और उससे तुरन्त राजा के पास वापस चलने की प्रार्थना की।

मन्त्री ने कहा–‘भगवान् की बड़ी कृपा हो गयी ! मन्त्री राजा के सामने उपस्थित हो गया। राजा ने बड़े आदर पूर्वक मन्त्री को बैठाया और अपनी भूल पर पश्चात्ताप करते हुए जंगल वाली घटना सुनाकर कहा कि ‘पहले मैं तुम्हारी बात को समझा नहीं। अब समझ में आया कि भगवान्‌ की मेरे पर कितनी कृपा थी ! भगवान् की कृपा से अगर मेरी अँगुली न कटती तो उस दिन मेरा गला कट जाता ! परन्तु जब मैंने तुम्हें राज्य से निकाल दिया, तब तुमने कहा कि भगवान्‌ की बड़ी कृपा हो गयी तो वह कृपा क्या थी, यह अभी मेरी समझ में नहीं आया !’

मन्त्री बोला–‘महाराज, जब आप शिकार करने गये, तब मैं भी आपके साथ जंगल में जाता। आपके साथ मैं भी जंगल में बहुत दूर निकल जाता; क्योंकि मेरा घोड़ा आपके घोड़े से कम तेज नहीं है। डाकू लोग आपके साथ मेरे को भी पकड़ लेते। आप तो अँगुली कटी होने के कारण बच गये, पर मेरा तो उस दिन गला कट ही जाता ! इसलिये भगवान्‌ की कृपा से मैं आपके साथ नहीं था, राज्य से बाहर था; अतः मरने से बच गया। अब मैं पुनः अपनी जगह वापस आ गया हूँ। यह भगवान्‌ की कृपा ही तो है

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

चरित्र


चरित्र

किसी निर्धन परिवार का एक युवक जो , बुद्धिमान , स्वाभिमानी एवं दयालू प्रकृति का था । वह कठोर परिश्रम कर , मेहनत की रोटी ही खाता था । यदि उसके पास कोई भी मदद के लिए आ जाता , वह उसकी मदद के लिए सहर्ष तैयार हो जाता । उस नगर मे उसके इस व्यवहार की चर्चा होने लगी । उस नगर के राजा तक भी इसकी खबर पहुँची । राजा ने अपने सिपाहियों को भेज उसको बुलावाया । वह राजा के समक्ष पेश हुआ। राजा ने उससे पूछा कि : ” तुम्हारे पास तुम्हारी सबसे मूल्यवान वस्तु क्या है ? ” युवक ने उत्तर दिया:” चरित्र “! क्योंकि संसार मे व्यक्ति की नही चरित्र की ही , महत्ता होती है । राजा ने पूछा :” कैसे ? इसे सिद्ध करो ! युवक ने कहा ठीक है , परन्तु इसकी वास्तविकता नगर वालों को बाद मे ढिंढोरा पिटवाकर बताने का आश्वासन दें । राजा ने कहा ” ठीक है ” । युवक अगली सुबह अपने घर से निकला और मदिरालय मे गया , वहाँ से एक शराब की बोतल ली और नगर वालों के सामने से ही बोतल लिये नदी की ओर चला गया । यह देख नगर मे इसकी खबर जंगल मे लगी आग की तरह फैल गयी , कि वह तो अब भ्रष्ट हो गया है । अब वह जिस गली से निकलता , उस पर लोग ताने मारते ,उसे गालियाँ देते । राजा नगर ने यह देखा और उस युवक को अगले दिन बुलाया और कहा कि , तुमने अपनी बात सिद्ध कर दी कि ” चरित्र की ही महत्ता है , व्यक्ति की नहीं ” । अगले दिन रथ सजाया गया और उस रथ मे राजा ने उस युवक को अपने साथ ले नगर भ्रमण करते हुए , ढिढोरा पिटवाकर युवक की वास्तविकता से नगर वालों को अवगत कराया । एवं उस युवक को अपने सलाहकार के रूप मे नियुक्त करने की घोषणा भी की । यह देख लोगों का विश्वास उस पर पहले से कई गुना बढ गया एक पुरानी कहावत है , ” धन गया , तो कुछ नही गया स्वास्थ्य गया तो , कुछ गया परन्तु चरित्र गया , तो सब कुछ चला गया ॥