Posted in ૧૦૦૦ જીવન પ્રેરક વાતો

મુલાકાત


द्वा सुपर्णा सयुजा सखाया समानं वृक्षं परिषस्वजाते।

तयोरन्यः पिप्पलं स्वाद्वत्त्यनश्नन्नन्यो अभिचाकशीति।। (अथर्ववेद काण्ड 9.14.20; ऋग्वेद मण्डल 1.164.20;                                                                                     

આ માનવ શરીર પીપળાના વૃક્ષ જેવું છે. ઈશ્વર અને જીવ – આ બે મિત્રો જેઓ કાયમ સાથે રહે છે, તે બે પક્ષીઓ જેવા છે. આ શરીર જેવા વૃક્ષમાં બંને એક જ હૃદયના આકારના માળામાં સાથે રહે છે. દેહમાં રહેતી વખતે, ભાગ્ય પ્રમાણે, કર્મના સુખ:દુઃખ રૂપી પરિણામો પ્રાપ્ત થાય છે? તેઓ જ આ પીપળાના ફળ છે. આત્માના રૂપમાં એક પક્ષી આ ફળોને સ્વાદથી ખાય છે. એટલે કે, આનંદ અને દુઃખનો અનુભવ કરતી વખતે, તે તેના કાર્યોનું ફળ ભોગવે છે. બીજું ભગવાન જેવું પક્ષી આ ફળો નથી ખાતા? તે માત્ર જુએ છે, એટલે કે તેને આ દેહમાં જે સુખો મળે છે તે ભોગવતા નથી? માત્ર તેની સાક્ષી જ રહે છે.

એક રાજાને સમાચાર મળ્યા કે એક ખૂબ જ જાગૃત સંત તેના શહેરમાં આવ્યા છે – બાદશાહે તેને મળવાનો પ્રયત્ન કર્યો, પરંતુ તેને મળી શક્યો નહીં. સંત તો આજે આ જગ્યાએ તો કાલે બીજી જગ્યાએ તેનું કોઈ એક ઠેકાણું થોડી જ હોય. વળી આ શહેરને ઘણા દરવાજા હતા. અને સંત હંમેશા જુદા જુદા દરવાજામાંથી દાખલ  થતા હતા.બાદશાહ ક્યારેય આ દરવાજો, તો ક્યારેક બીજા દરવાજે તેની રાહ જોતા. પરંતુ ચોક્કસ ક્યાં દરવાજે થી આવશે ખબર ન હોવાને કારણે તે સંત ની મુલાકાત થઇ શકતી ન હતી.

આખરે રાજાએ શહેરના તમામ દરવાજા બંધ કરી દીધા, અને માત્ર એક દરવાજો ખુલ્લો રાખ્યો, અને ત્યાં તે સંત ની રાહ જોતા રહ્યા. હવે તે વૃદ્ધ સંત એ જ દરવાજામાંથી પસાર થયા કારણ કે શહેરનો એક જ દરવાજો ખુલ્લો હતો.

જ્યારે રાજા સંતને મળ્યો, ત્યારે રાજાએ કહ્યું: “કેટલી મુશ્કેલીઓથી તમારી સાથે મુલાકાત થઇ, જ્યારે અમે શહેરના તમામ દરવાજા બંધ કરી દીધા છે અને એકજ દરવાજો ખુલ્લો રાખ્યો. તે સાંભળીને વૃદ્ધે રાજાને ખૂબ જ સુંદર ઉત્તર આપ્યો. “જે રીતે નગરના તમામ દરવાજા બંધ કરીને અને માત્ર એક જ દરવાજો ખુલ્લો રાખીને તમે મને મળ્યા હતા, તેવી જ રીતે જો આપણે આપણા પ્રભુને મળવા ઇચ્છતા હોય, તો આપણે આપણા ભૌતિક તમામ દરવાજા બંધ કરીને માત્ર એક જ હૃદયના દરવાજા ખોલવા જોઈએ.”

ભગવાનને મળવા જયારે સવાર-સાંજની પ્રાથના માં તેમની પાસે બેસીએ છીએ ત્યારે મનના બીજા કેટલાયે દરવાજા ખુલા રહી ગયા હોય છે.

બસ પછી તો રાજાએ સહેરના તમામ દરવાજા સંત માટે ખુલ્લા કરી દીધા.

सर्वस्य च अहं हृदि सन्निविष्टः …… ।।15.15।। શ્રીમદ ભગવદ ગીતા

હું સર્વ જીવોનો આત્મા હોવાથી તેમના અંતઃકરણમાં સ્થિત છું.

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

🍁 #आदत… 🌸

एक महिला हैं, वो जयपुर में एक PG (पेइंग गेस्ट) रखती हैं। उनका अपना पुश्तैनी घर है, उसमे बड़े बड़े 10-12 कमरे हैं। उन्हीं कमरों में हर एक मे 3 bed लगा रखे हैं। उनके PG में *भोजन* भी मिलता है।

खाने खिलाने की शौकीन हैं। बड़े मन से बनाती खिलाती हैं।

उनके यहां इतना शानदार भोजन मिलता है कि अच्छे से अच्छा Chef नही बना सकता। आपकी माँ भी इतने प्यार से नही खिलाएगी जितना वो खिलाती हैं। उनके PG में ज़्यादातर नौकरी पेशा लोग और छात्र रहते हैं।

सुबह Breakfast और रात का भोजन तो सब लोग करते ही हैं, जिसे आवश्यकता हो उसे दोपहर का भोजन pack करके भी देती हैं।

पर उनके यहां एक बड़ा अजीबोगरीब नियम है, हर महीने में सिर्फ 28 दिन ही भोजन पकेगा।

शेष 2 या 3 दिन होटल में खाओ, ये भी नही कि PG की रसोई में बना लो।

रसोई सिर्फ 28 दिन खुलेगी। शेष 2 या 3 दिन Kitchen Locked रहेगी।

हर महीने के आखिरी तीन दिन Mess बंद। Hotel में खाओ, चाय भी बाहर जा के पी के आओ।

मैंने उनसे पूछा कि ये क्यों? ये क्या अजीबोगरीब नियम है। आपकी kitchen सिर्फ 28 दिन ही क्यों चलती है ?

बोली, हमारा Rule है। हम भोजन के पैसे ही 28 दिन के लेते हैं। इसलिये kitchen सिर्फ 28 दिन चलती है।

मैंने कहा ये क्या अजीबोगरीब नियम है? और ये नियम भी कोई भगवान का बनाया तो है नही आखिर आदमी का बनाया ही तो है बदल दीजिये इस नियम को।

उन्होंने कहा No, Rule is Rule …

खैर साहब अब नियम है तो है। उनसे अक्सर मुलाक़ात होती थी।

एक दिन मैंने बस यूं ही फिर छेड़ दिया उनको, उस 28 दिन वाले अजीबोगरीब नियम पे।

उस दिन वो खुल गईं बोलीं, तुम नही समझोगे आलोक तिवारी जी, शुरू में ये नियम नही था। मैं इसी तरह, इतने ही प्यार से बनाती खिलाती थी। पर इनकी शिकायतें खत्म ही न होती थीं कभी ये कमी, कभी वो कमी चिर असंतुष्ट always Criticizing…

सो तंग आ के ये 28 दिन वाला नियम बना दिया। 28 दिन प्यार से खिलाओ और बाकी 2 – 3 दिन बोल दो कि जाओ, बाहर खाओ।

उस 3 दिन में नानी याद आ जाती है।

आटे दाल का भाव पता चल जाता है। ये पता चल जाता है कि बाहर कितना महंगा और कितना घटिया खाना मिलता है। दो घूंट चाय भी 15 – 20 रु की मिलती है।

मेरी Value ही उनको इन 3 दिन में पता चलती है सो बाकी 28 दिन बहुत कायदे में रहते हैं।

अत्यधिक सुख सुविधा की आदत व्यक्ति को असंतुष्ट और आलसी बना देती है।

ऐसे ही कुछ हाल देश में ही रहने वाले कुछ रहवासियों के भी हैं, जो देश की हर परिस्थिति में हमेशा कुछ न कुछ कमियाँ ही देखते हैं। ऐसे लोगों के अनुसार देश में कुछ भी सकारात्मक नहीं हुआ, न ही हो रहा हैं और न ही होगा,
ऐसे लोगों को कुछ दिन के लिए पाकिस्तान, अफगानिस्तान या श्रीलंका में जाना चाहिए, ताकि इनकी बुद्धि सही हो सके……🤓🤓

चेतन पांडे

Posted in ૧૦૦૦ જીવન પ્રેરક વાતો

વાણી વાગ્ભુષણમ


વાણી વાગ્ભુષણમ

केयूरा न विभूषयन्ति पुरुषं हारा न चन्द्रोज्ज्वलाः
न स्नानं न विलोपनं न कुसुमं नालङ्कृता मूर्धजाः।
वाण्येका समलङ्करोति पुरुषं या संस्कृता र्धायते
क्षीयन्ते खलु भूषणानि सततं वाग्भूषणं भूषणम्॥

બાજુબંધ માણસને શોભિત કરતા નથી, ન તો ચંદ્ર જેવી તેજસ્વી માળા, ન સ્નાન, ન ચંદન, ન ફૂલો અને ન તો શોભે તેવા વાળ સુંદરતામાં વધારો કરે છે. માત્ર સંસ્કાર થી ધારણ કરેલી વાણી જ તેની સુંદરતા વધારે છે. સામાન્ય અલંકારો નાશ પામે છે, જયારે વાણી એ શાશ્વત આભૂષણ છે.

ગુલામીના જમાનામાં એક વેપારી પાસે ઘણા ગુલામો હતા. તેમાંથી એક લુકમાન હતો. લુકમાન માત્ર ગુલામ હતો પરંતુ તે ખૂબ જ હોશિયાર અને બુદ્ધિશાળી હતો. તેમની ખ્યાતિ દૂર-દૂરના વિસ્તારોમાં ફેલાઈ ગઈ.

એક દિવસ તેના માલિકને આ વાતની જાણ થઈ, માલિકે લુકમાનને બોલાવ્યો અને કહ્યું- સાંભળ, તું બહુ બુદ્ધિશાળી છે. હું તારી બુદ્ધિની કસોટી કરવા માંગુ છું. જો તું પરીક્ષામાં પાસ થઇસ, તો તને ગુલામીમાંથી મુક્ત કરવામાં આવશે. સારું જા, એક મૃત બકરીને કતલ કર અને તેનો સારામાં સારો ભાગ લઇ આવ.

લુકમાને આદેશનું પાલન કર્યું અને મૃત બકરીની જીભ લાવીને માલિકની સામે મૂકી. “તું જીભ કેમ લાવ્યો?” માલિકે પૂછ્યું

લુકમાને કહ્યું- જો શરીરમાં જીભ સારી હોય તો બધું જ કામ સારું થાય છે.

માલિકે ફરી આદેશ આપ્યો અને કહ્યું – “ઠીક છે! જીભ પાછી લઈ જા અને હવે બકરીનો ખરાબ માં ખરાબ ભાગ લઇ આવ.”

લુકમાન બહાર ગયો, પરંતુ થોડી વાર પછી તે જ જીભ લાવીને ફરીથી માલિક સામે મૂકી. ફરી કારણ પૂછવા પર લુકમાને કહ્યું- જો શરીરમાં જીભ સારી ન હોય તો બધું બગડવાનો ખરાબ થવાનો સમભવ છે. તેણે આગળ કહ્યું – “માલિક વાણી દરેક માટે જન્મજાત હોય છે, પરંતુ માત્ર કોઈ જ જાણે છે કે કેવી રીતે બોલવું…શું કહેવું? શબ્દો કેવી રીતે બોલવા, ક્યારે બોલવા.. આ એક કળા બહુ ઓછા લોકો જાણે છે. એક વસ્તુમાંથી પ્રેમનો ઝરતો અને બીજી વસ્તુથી ઝઘડા થાય છે.

કડવી બાબતોએ વિશ્વમાં ઘણા સંઘર્ષો ઉભા કર્યા છે. આ જીભને કારણે દુનિયામાં ભારે હાહાકાર મચી ગયો છે. જીભ એ ત્રણ ઈંચનું હથિયાર છે જેના વડે કોઈ છ ફૂટના માણસને મારી શકે છે તો કોઈ મરનાર વ્યક્તિને જીવ આપી શકે છે. વિશ્વના તમામ જીવોમાં વાણીનું વરદાન માત્ર મનુષ્યને જ મળ્યું છે. જો તેનો યોગ્ય ઉપયોગ કરવામાં આવે તો સ્વર્ગ પૃથ્વી પર આવી શકે છે અને જો તેનો દુરુપયોગ કરવામાં આવે તો સ્વર્ગ પણ નરકમાં ફેરવાઈ શકે છે. ભારતનું વિનાશકારી મહાભારત યુદ્ધ વાણીના ખોટા ઉપયોગનું પરિણામ હતું.

तुलसी मीठे वचन ते, सुख उपजे चहुँ ओर |

वशीकरण यह मंत्र है, तजिये वचन कठोर ||

તુલસીદાસજી કહે છે કે મીઠી વાણી બોલવાથી સર્વત્ર ખુશી ફેલાઈ જાય છે અને દરેક વસ્તુ ખુસ ખુશાલ બની રહે છેછે. મીઠી વાણી બોલવાથી કોઈ પણ વ્યક્તિ કોઈને પણ વશ કરી શકે છે. એટલે હંમેશા મીઠી વાણી બોલવી જોઈએ.

હર્ષદ અશોડીયા ક.

૮૩૬૯૧૨૩૯૩૫

Ancient Egypt farmers at work illustration, man at work, group of workers, Egypt murals, Ancient Egypt people, people of the Nyle
Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

जीवन की डोर


💐💐जीवन की डोर💐💐

रमेश क्लास 8 का स्टूडेंट था। वह जब क्लास में होता तब बाहर खेलने के बारे में सोचता और जब खेलने का मौका मिलता तो वो कहीं घूमने के बारे में सोचता…इस तरह वह कभी भी प्रेजेंट मोमेंट को एन्जॉय नहीं करता बल्कि कुछ न कुछ आगे का सोचा करता। उसके घर वाले और दोस्त भी उसकी इस आदत से परेशान थे।

एक बार रमेश अकेले ही पास के जंगलों में घूमने निकल गया। थोड़ी देर चलने के बाद उसे थकान हो गयी और वह वहीं नरम घासों पर लेट गया। जल्द ही उसे नींद आ गयी और वह सो गया।

सोने के कुछ देर बाद एक आवाज़ आई-“ रमेश…रमेश…”

रमेश ने आँखें खोलीं तो सफ़ेद वस्त्रों में एक परी खड़ी थी। वह बहुत सुन्दर थी और उसने अपने एक हाथ में जादुई छड़ी ले रखी थी, और दुसरे हाथ में एक मैजिकल बॉल थी जिसमे से एक सुनहरा धागा लटक रहा था।

रमेश परी को देखकर ख़ुशी से झूम उठा! और कुछ देर परी से बातें करने के बाद बोला, “आपके हाथ में जो छड़ी है उसे तो मैं जानता हूँ पर आपने जो ये बॉल ली हुई है उससे ये सुनहरा धागा कैसा लटक रहा है?”

परी मुस्कुराई, “रमेश, यह कोई मामूली धागा नहीं; दरअसल यह तुम्हारे जीवन की डोर है! अगर तुम इसे हल्का सा खींचोगे तो तुम्हारे जीवन के कुछ घंटे कुछ सेकंड्स में बीत जायेंगे, यदि इसे थोड़ा तेजी से खींचोगे तो पूरा दिन कुछ मिनटों में बीत जाएगा और अगर तुम उसे पूरी ताकत से खींचोगे तो कई साल भी कुछ दिनों में बीत जायेंगे।”

“तो क्या आप ये मुझे दे सकती हैं?”, रमेश ने उत्सुकता से पूछा।

“हाँ-हाँ, क्यों नहीं , ये लो…पकड़ो इसे…पर ध्यान रहे एक बार अगर समय में तुम आगे चले गए तो पीछे नहीं आ सकते।”, “ परी ने जीवन की डोर रमेश के हाथों में थमाते हुए कहा और फ़ौरन अदृश्य हो गयी।

अगेल दिन रमेश क्लास में बैठा खेलने के बारे में सोच रहा था, पर टीचर के रहते वो बाहर जाता भी तो कैसे?

तभी उसे परी द्वारा दी गयी सुनहरे धागों वाली बॉल का ख्याल आया। उसने धीरे से बॉल निकाली और डोर को जरा सा खींच दिया…कुछ ही सेकंड्स में वह मैदान में खेल रहा था।

“वाह मजा आ गया!”, रमेश ने मन ही मन सोचा!

फिर वह कुछ देर खेलता रहा, पर मौजूदा वक्त में ना जीने की अपनी आदत के अनुसार वह फिर से कुछ ही देर में ऊब गया और सोचने लगा ये बच्चों की तरह जीने में कोई मजा नहीं है क्यों न मैं अपने जीवन की डोर को खींच कर जवानी में चला जाऊं।

और झटपट उसने डोर कुछ तेजी से खींच दी।

रमेश अब एक शादी-शुदा आदमी बन चुका था और अपने दो प्यारे-प्यारे बच्चों के साथ रह रहा था। उसकी प्यारी माँ जो उसे जान से भी ज्यादा चाहती थीं, अब बूढी हो चुकी थीं, और पिता जो उसे अपने कन्धों पर बैठा कर घूमा करते थे वृद्ध और बीमार हो चले थे।

इस परिवर्तन से रमेश अपने माता-पिता के लिए थोड़ा दुखी ज़रूर था पर अपना परिवार और बच्चे हो जाने के कारण उसे बहुत अच्छा महसूस हो रहा था। एक-दो महीनो सब ठीक-ठाक चला पर रमेश ने कभी अपने वर्तमान को आनंद के साथ जीना सीखा ही नहीं था; कुछ दिन बाद वह सोचने लगा- “ मेरे ऊपर परिवार की कितनी जिम्मेदारी आ गयी है, बच्चों को संभालना इतना आसान भी नहीं ऊपर से ऑफिस की टेंशन अलग है! माता-पिता का स्वाथ्य भी ठीक नहीं रहता… इससे अच्छा तो मैं रिटायर हो जाता और आराम की ज़िन्दगी जीता।”

और यही सोचते-सोचते उसने जीवन की डोर को पूरी ताकत से खींच दिया।

कुछ ही दिनों में वह एक 80 साल का वृद्ध हो गया। अब सब कुछ बदला चुका था, उसके सारे बाल सफ़ेद हो चुके थे, झुर्रियां लटक रही थीं, उसके माता-पिता कब के उसे छोड़ कर जा चुके थे, यहाँ तक की उसकी प्यारी पत्नी भी किसी बीमारी के कारण मर चुकी थी। वह घर में बिलकुल अकेला था बस कभी-कभी दुसरे शहरों में बसे उसके बच्चे उससे बात कर लेते।

लाइफ में पहली बार रमेश को एहसास हो रहा था कि उसने कभी अपनी ज़िन्दगी को एन्जॉय नहीं किया…उसने न स्कूल डेज़ में मस्ती की न कभी कॉलेज का मुंह देखा, वह न कभी अपनी पत्नी के साथ कहीं घूमने गया और ना ही अपने माता-पिता के साथ अच्छे पल बिताये… यहाँ तक की वो अपने प्यारे बच्चों का बचपन भी ठीक से नहीं देख पाया… आज रमेश बेहद दुखी था अपना बीता हुआ कल देखकर वह समझ पा रहा था कि अपनी बेचैनी और व्याकुलता में उसने जीवन की कितनी सारी छोटी-छोटी खुशियाँ यूँही गवां दीं।

आज उसे वो दिन याद आ रहा था जब परी ने उसे वो मैजिकल बॉल दी थी…एक बार फिर वह उठा और उसी जंगल में जाने लगा और बचपन में वह जिस जगह परी से मिला था वहीँ मायूस बैठ अपने आंसू बहाने लगा।

तभी किसी की आवाज़ आई, “ रमेश……रमेश”

रमेश ने पलट कर देखा तो एक बार फिर वही परी उसके सामने खड़ी थी।

परी ने पूछा, “क्या तुमने मेरा स्पेशल गिफ्ट एन्जॉय किया?”

“पहले तो वो मुझे अच्छा लगा, पर अब मुझे उस गिफ्ट से नफरत है।”, रमेश क्रोध में बोला, “ मेरी आँखों के सामने मेरा पूरा जीवन बीत गया और मुझे इसका आनंद लेने का मौका तक नहीं मिला। हाँ, अगर मैं अपनी ज़िन्दगी नार्मल तरीके से जीता तो उसमे सुख के साथ दुःख भी होते पर मैजिकल बॉल के कारण मैं उनमे से किसी का भी अनुभव नहीं कर पाया। मैं आज अन्दर से बिलकुल खाली महसूस कर रहा हूँ…मैंने ईश्वर का दिया ये अनमोल जीवन बर्वाद कर दिया।”, रमेश निराश होते हुए बोला।

“ओह्हो…तुम तो मेरे तोहफे के शुक्रगुजार होने की बजाय उसकी बुराई कर रहे हो….खैर मैं तुम्हे एक और गिफ्ट दे सकती हूँ…बताओ क्या चाहिए तुम्हे?”, परी ने पूछा।

रमेश को यकीन नहीं हुआ कि उसे एक और वरदान मिल सकता है; वह ख़ुशी से भावुक होते हुए बोला…“मम..मम मैं..मैं फिर से वही पहले वाला स्कूल बॉय बनना चाहता हूँ…मैं समझ चुका हूँ कि जीवन का हर एक पल जीना चाहिए, जो ‘अभी’ को कोसता है वो कभी खुश नहीं हो पाता…उसका जीवन खोखला रह जाता है… प्लीज…प्लीज…मुझे मेरे पुराने दिन लौटा दो…. प्लीज…प्लीज…प्लीज न…”

तभी एक आवाज़ आती है… “उठो बेटा…तुम यहाँ…इन जंगलों में कैसे आ गये…और ये सपने में प्लीज..प्लीज…क्या बड़बड़ा रहे थे…”

रमेश आँखे खोलता है…अपनी माँ को आँखों के सामने देखकर वह कसकर उनसे लिपट जाता है और फूट-फूट कर रोने लगता है।

वह मन ही मन परी का शुक्रिया अदा करता है और कसम खाता है कि अब वो जीवन के अनमोल पलों को पूरी तरह जियेगा… और डे ड्रीमिंग और कल के बारे में सोचकर अपने आज को बर्वाद नहीं करेगा।

💐💐शिक्षा💐💐

दोस्तों, क्या आप खुद को रमेश से रिलेट कर पा रहे हैं? कई बार ऐसा होता है कि हम आज की खूबसूरती को सिर्फ इसलिए नहीं देख पाते क्योंकि हम एक सुन्दर कल के बारे में सोचने में खोये रहते हैं… या कई बार हम जो नहीं घटा उसके घटने की चिंता में अपने आज को चिता पर जला देते हैं…बर्वाद कर देते हैं। हमें ऐसा नहीं करना चाहिए…खुशियों के छोटे-छोटे पलों को पूरी तरह जीना चाहिए, जीवन की डोर एक बार खिंच जाती है तो फिर लौट कर नहीं आती। किसी ने सच ही कहा है- “बीता हुआ कल कभी नहीं आएगा और आने वाला कल शायद कभी ना आये…इसलिए आज ही अपनी ज़िन्दगी जी लो…आज ही खुशियाँ मना लो।

💐💐प्रेषक अभिजीत चौधरी💐💐

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

खोटा सिक्का


💐💐खोटा सिक्का💐💐

ठाकुर जी का बहुत प्यारा भक्त था जिसका नाम अवतार था..
वह छोले बेचने का काम करता था उसकी पत्नी रोज सुबह-सवेरे उठ छोले बनाने में उसकी मदद करती थी !

एक बार की बात है एक फकीर जिसके पास खोटे सिक्के थे उसको सारे बाजार में कोई वस्तु नहीं देता हैं तो वह अवतार के पास छोले लेने आता हैं !

अवतार ने खोटा सिक्का देखकर भी उस फकीर को छोले दे दिए।ऐसे ही चार-पांच दिन उस फकीर ने अवतार को खोटे सिक्के देकर छोले ले लिए और उसके खोटे सिक्के चल गए !

जब सारे बाजार में अब यह बात फैल गयी की अवतार तो खोटे सिक्के भी चला लेता हैं..
पर अवतार लोगों की बात सुनकर कभी जवाब नहीं देते थे । अपने ठाकुर की मौज में खुश रहते थे !

एक बार जब अवतार पाठ पढ़ कर उठे तो अपनी पत्नी से बोले – क्या छोले तैयार हो गए ?

पत्नी बोली – आज तो घर में हल्दी -मिर्च नहीं थी और मैं बाजार से लेने गयी तो सब दुकानदारों ने कहा कि–यह तो खोटे सिक्के हैं और उन्होंने सामान नहीं दिया !”

पत्नी के शब्द सुनकर ठाकुर की याद में बैठ गए और बोले-“जैसी तेरी इच्छा मेरे स्वामी ! तुम्हारी लीला कौन जान सका हैं !

तभी आकाशवाणी हुई -” क्यों अवतार तू जानता नहीं था कि यह खोटे सिक्के हैं !”
अवतार बोला -“ठाकुर जी मै जानता था !”

ठाकुर ने कहा – फिर भी तूने खोटे सिक्के ले लिए ऐसा क्यूँ भले मानुष !
अवतार बोला – हे दीनानाथ ! मैं भी तो खोटा सिक्का हूँ इसलिए मैंने खोटा सिक्का ले लिया… कि जब मैं तुम्हारी शरण मे आऊँ तो तुम मुझे अपनी शरण से नकार ना दें !

क्योंकि आप तो खरे सिक्के ही लेते हो आप स्वयं सब जानते हो ! खोटे सिक्कों को भी आपकी शरण मे जगह मिल सकें !

थोड़ी देर में दूसरी आकाशवाणी हुई – हे भले मानुष ! तेरा भोला पन तेरा प्यार स्वीकार है मुझे । तू ठाकुर का खोटा सिक्का नहीं खरा सिक्का हैं !*

और उसके धनी मित्र का आना हुआ उसने अवतार की सारी व्यवस्था कर दी सदा के लिए। वह धनी मित्र कोन बन कर आया था ये आपके विवेक पर निर्भर है!!

जो भी कर्म करो ठाकुर के चरणो मे समर्पित करते रहो फल के बारे मे मत सोचो आप देखना जिंदगी की गाड़ी कितनी तेज गति से दौड़ेगी पलटकर नही देखना पड़ेगा lऔर वह हमारे आस पास ही होगा किसी ना किसी रूप में या हर रूप में…

💐💐 प्रेषक अभिजीत चौधरी 💐💐

Posted in ૧૦૦૦ જીવન પ્રેરક વાતો

દિવાનું અજવાળું

એક ઘરમાં પાંચ દિવા પ્રકાશિત હતા.

એક દિવસે એક દિવાને થયું કે, હું આટલો બળું છું, તોય મારાં પ્રકાશની કોઈને કદર નથી. લાવને હું ઓલવાઈ જાઉં. પોતાને વ્યર્થ સમજીને ઓલવાઈ ગયો. તમને ખબર છે, એ દિવો કોણ હતો?. તે દિવો ઉત્સાહનો પ્રતીક હતો.

આ જોઈ બીજો દિવો જે શાંતિનો પ્રતીક હતો તેને પણ વિચાર્યું કે મારે પણ ઓલવાઈ જવું જોઈએ. નિરંતર શાંતિનો પ્રકાશ આપું છું. છતાં લોકો હિંસા કરે છે. અને શાંતિનો દિવો પણ ઓલવાઈ ગયો.

આ જોઈ ત્રીજો દિવો હિંમતનો હતો. તે પણ પોતાની હિંમત ખોઈ બેઠો ને ઓલવાઈ ગયો.

ઉત્સાહ, શાંતિ અને હિંમતને ઓલવાઈ ગયેલાં જોઈ, ચોથા દિવાએ પણ ઓલવાઈ જવાનું ઉચિત સમજ્યું. ચોથો દિવો સમૃધ્ધિનો પ્રતીક હતો.

ચારેય દિવા ઓલવાઈ ગયાં, પછી પાંચમો દિવો એક જ રહ્યો હતો, તે નાનો હતો પણ નિરંતર બળતો હતો. ત્યારે એ ઘરમાં એક છોકરાનો પ્રવેશ થયો. એમણે જોયું કે એક દિવો પ્રકાશ આપી રહ્યો છે. તે જોઈને ખુશ થયો. તેણે પાંચમો દિવો ઉપાડ્યોને બીજા ચારેય દિવાને ફરીથી પ્રગટાવ્યાં. તમને ખબર છે,પાંચમો દિવો કયો હતો, તે ધીરજ નો દિવો હતો.
એટલે જ આપણાં ઘરમાં અને મનમાં હંમેશા ધીરજનો દિવો પ્રજ્જવલિત રાખો. તે એક દિવો જ પૂરતો છે. બીજા દિવાઓને પ્રગટાવવા માટે… ખુશીઓ જરૂર આવશે. બસ થોડાં સમયમાં જ બધું સામાન્ય થઈ જશે.

ધીરજ સાથે ધીરજનો દિવો સદા પ્રજ્વલિત રાખજો.

ઠાકોર પ્રેમેશ

Posted in ૧૦૦૦ જીવન પ્રેરક વાતો

એક સોસાયટી હતી. એ સોસાયટીમાં એક ફેમિલી રહેવા આવ્યું. પતિ-પત્ની અને એક દીકરી આ ફેમિલીમાં હતી.*

દીકરી હોંશિયાર હતી. તે સોસાયટીમાં કોઇની સાથે મિક્સ થઇ શકતી નહોતી. તેના પિતાએ એક વખત પૂછ્યું, તું કેમ કોઇને મળતી નથી. તારી કોઇ ફ્રેન્ડ નથી. દીકરીએ કહ્યું, કોઇનું લેવલ જ ક્યાં છે? બધા વિચિત્ર મગજના છે. કોઇ સાથે વાત કરવાનું મન જ થતું નથી.

પિતાએ બહુ સહજતાથી કહ્યું કે, દીકરા તું હોંશિયાર છે પણ તું બીજાને મૂર્ખ સમજે એ વાત વાજબી નથી. આ સોસાયટીના લોકો તારા જેટલા ભણેલા નથી પણ એ બધા સારા તો છે જ.

તારે જો મિત્રો બનાવવા હશે તો તારે એના જેવું થવું પડશે. તારી હોંશિયારીને બાજુ પર મૂકવી પડશે. આપણે આપણી જાતને વધુ પડતી આંકી લેવી ન જોઇએ. અભણ માણસમાં પણ સમજણ તો હોય જ છે.

બાપે પોતાની સાથે બનેલો એક કિસ્સો કહ્યો. તેણે કહ્યું કે, હું ગઇકાલે ઓફિસ જતો હતો. કારમાં બેસીને સોસાયટીની બહાર નીકળવા જતો હતો. સોસાયટીનો ગેટ બંધ હતો. વોચમેન દૂર હતો. મને જોઇને દોડીને આવ્યો. મેં તેના પર રાડો પાડી. ક્યાં રખડે છે? ખબર નથી પડતી કે તારે અહીં રહેવાનું છે?

વોચમેને કહ્યું કે, સર હજુ તમે કામ પર જાવ છો, સવાર સવારમાં ગુસ્સો કરશો તો આખો દિવસ ખરાબ જશે. બગીચામાં એક બાળક દોડતું દોડતું પડી ગયું હતું અને રડતું હતું એટલે હું તેને શાંત કરવા ગયો હતો. મને માફ કરો પણ તમે ગુસ્સે થઇ તમારો મૂડ ન બગાડો.

વોચમેનની વાત સાંભળીને મને વિચાર આવ્યો કે તેની વાત કેટલી સાચી છે? એ તો સામાન્ય વોચમેન છે, હું તો મારી કંપનીમાં મેનેજર છું. એના જેટલી સમજ પણ મારામાં નથી કે સવાર સવારમાં કારણ વગર કે સાવ સામાન્ય કારણસર ગુસ્સો કરવો વાજબી નથી!

વોચમેને રમતા રમતા પડી ગયેલા છોકરાને શાંત પાડ્યો હતો, મને થયું કે હું પણ કદાચ પડી ગયો હતો અને આ વોચમેને મને શાંત પાડ્યો.

દરેક માણસ પોતાના પૂરતો હોંશિયાર હોય છે. આપણે ઘણી વખત આપણી જાતને હોંશિયાર, વેલ એજ્યુકેટેડ, મોટા, પહોંચેલા અને શક્તિશાળી માનીને બીજાને ઇગ્નોર કરતા હોઇએ છીએ.

જે વ્યક્તિમાં માણસને માણસ સમજવાની સમજણ નથી એને સમજુ કહેવો કેટલો વાજબી છે?

વિદ્વાન, જ્ઞાની અને સમજુ એ છે જે દરેકને સમજુ સમજે છે. દરેક પાસેથી કંઇક શીખે છે. દરેકને સન્માન આપે છે. તમને સન્માન તો જ મળશે જો તમે બીજા સાથે માનપૂર્વક વર્તશો.

સંબંધમાં આપણને સરવાળે એ જ મળતું હોય છે જે આપણે આપતા હોઇએ છીએ. આપણી ડિગ્રી કે આપણો હોદ્દો ક્યારેય આપણને મહાન કે સારા બનાવી ન શકે.

આપણી સમજ, આપણો વ્યવહાર અને આપણું વર્તન જ આપણે કેવા છીએ એ સાબિત કરતું હોય છે.

સંબંધો હવે શક્તિ, સંપત્તિ, સત્તા અને ક્ષમતા જોઇને બંધાવવા લાગ્યા છે. જે શક્તિશાળી છે એ પણ એવું માને છે કે, સત્તા છે એટલે આ બધા પાછળ પાછળ ફરે છે, સત્તા ન હોય તો કોઇ સામું પણ જુએ એમ નથી. તમારી પાસે એવા સંબંધો છે જેની પાછળ કોઇ કારણો નથી?

બને તો બે-ચાર એવા સંબંધો રાખજો જેને આપણી સત્તા કે શક્તિ સાથે કંઇ લાગતું વળગતું ન હોય અને માત્રને માત્ર સ્નેહ અને સંવેદનાથી જ બંધાયેલા હોય.

થોડુંક એ પણ વિચારજો કે, તમે પણ એવા છો ખરા કે કોઇને તમારી સાથે સંબંધ બાંધવાનું કે રાખવાનું મન થાય?

બાકી બધું ખંખરી જુઓ, હળવાશ હશે તો જ સંબંધો સજીવન રહેશે અને જિંદગી જીવવાની મજા આવશે. મોટા ભાગે લોકો પોતાના ભાર નીચે જ દબાયેલા રહે છે. ભાર વેંઢારીને ફરતા હોઇએ તો પછી હળવાશ ક્યાંથી લાગવાની છે?

છેલ્લો સીન :

દરેક માણસની એક કક્ષા હોય છે. એ આપણાથી ઊંચી અથવા નીચી હોય શકે છે. જ્યાં લાગણીના સંબંધો હોય ત્યાં કોની કક્ષા કેવી અને કેટલી છે એ ગૌણ બની જવું જોઇએ, કારણ કે પ્રેમની કક્ષા સૌથી ઊંચી અને શ્રેષ્ઠ હોય છે.

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

👴👴👴👴👴👴👴
एक बार राजा के दरबार मै एक फ़कीर गाना गाने जाता है,
फ़कीर बहुत अच्छा गाना गाता है।
राजा कहते हैं :-
इसे खूब सारा सोना दे दो।
-फ़कीर और अच्छा गाता है।
राजा कहते हैं :-
इसे हीरे जवाहरात भी दे दो।
-फकीर और अच्छा गाता है।
राजा कहते हैं :-
इसे असरफियाँ भी दे दो।
-फ़कीर और अच्छा गाता है।
राजा कहते हैं :-
इसे खूब सारी ज़मीन भी दे दो।
फ़कीर गाना गा कर घर चला जाता है
और
अपने बीबी बच्चों से कहता है,
आज हमारे राजा जी ने गाने से खुश होकर खूब सारा इनाम दिया :-
हीरे, जवाहरात, सोना, ज़मीन, असरफियाँ बहुत कुछ दिया।
-सब बहुत खुश होते हैं
कुछ दिन बीते
फ़कीर को अभी तक मिलने वाला इनाम नही पहुँचा था…
-फ़कीरे दरवार में पता करने पहुँचा…
कहने लगा :-
राजा जी आप के द्वारा दिया गया इनाम मुझे अभी तक नहीं मिला?😢
राजा कहते हैं ..,,,
अरे फ़कीर
ये लेन देन की बात क्या करता है।
तू मेरे कानों को खुश करता रहा…
और
मैं तेरे कानों को खुश करता रहा।
😛😝😜😛😝😜😳😳😳
फकीर वेचारा बेहोश!

इस राजा का असली नाम
*अरविंद केजरीवाल* हैं और फ़कीर है, दिल्ली की जनता।
और अब गुजरात की बारी।
😁😣😏

राकेशगिरी

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

सबका भला करो इन्सान



एक बार एक व्यक्ति रेगिस्तान में कहीं भटक गया । उसके पास खाने-पीने की जो थोड़ी बहुत चीजें थीं, वो जल्द ही ख़त्म हो गयीं और पिछले दो दिनों से वह पानी की एक-एक बूंद के लिए तरस रहा था
वह मन ही मन जान चुका था कि अगले कुछ घण्टों में अगर उसे कहीं से पानी नहीं मिला तो उसकी मौत निश्चित है । पर कहीं न कहीं उसे ईश्वर पर यकीन था कि कुछ चमत्कार होगा और उसे पानी मिल जाएगा । तभी उसे एक झोँपड़ी दिखाई दी । उसे अपनी आँखों पर यकीन नहीं हुआ । पहले भी वह मृगतृष्णा और भ्रम के कारण धोखा खा चुका था । पर बेचारे के पास यकीन करने के अलावा कोई चारा भी तो न था । आखिर यह उसकी आखिरी उम्मीद जो थी ।
वह अपनी बची खुची ताकत से झोँपडी की तरफ चलने लगा । जैसे-जैसे करीब पहुँचता, उसकी उम्मीद बढती जाती और इस बार भाग्य भी उसके साथ था । सचमुच वहाँ एक झोँपड़ी थी । पर यह क्या ? झोँपडी तो वीरान पड़ी थी । मानो सालों से कोई वहाँ भटका न हो । फिर भी पानी की उम्मीद में वह व्यक्ति झोँपड़ी के अन्दर घुसा । अन्दर का नजारा देख उसे अपनी आँखों पर यकीन नहीं हुआ ।
वहाँ एक हैण्ड पम्प लगा था । वह व्यक्ति एक नयी उर्जा से भर गया । पानी की एक-एक बूंद के लिए तरसता वह तेजी से हैण्ड पम्प को चलाने लगा । लेकिन हैण्ड पम्प तो कब का सूख चुका था । वह व्यक्ति निराश हो गया, उसे लगा कि अब उसे मरने से कोई नहीं बचा सकता । वह निढाल होकर गिर पड़ा ।
तभी उसे झोँपड़ी की छत से बंधी पानी से भरी एक बोतल दिखाई दी । वह किसी तरह उसकी तरफ लपका और उसे खोलकर पीने ही वाला था कि तभी उसे बोतल से चिपका एक कागज़ दिखा उस पर लिखा था – *”इस पानी का प्रयोग हैण्ड पम्प चलाने के लिए करो और वापिस बोतल भरकर रखना ना भूलना ?”
यह एक अजीब सी स्थिति थी । उस व्यक्ति को समझ नहीं आ रहा था कि वह पानी पीये या उसे हैण्ड पम्प में डालकर चालू करे । उसके मन में तमाम सवाल उठने लगे, अगर पानी डालने पर भी पम्प नहीं चला । अगर यहाँ लिखी बात झूठी हुई और क्या पता जमीन के नीचे का पानी भी सूख चुका हो । लेकिन क्या पता पम्प चल ही पड़े, क्या पता यहाँ लिखी बात सच हो, वह समझ नहीं पा रहा था कि क्या करे ?
फिर कुछ सोचने के बाद उसने बोतल खोली और कांपते हाथों से पानी पम्प में डालने लगा। पानी डालकर उसने भगवान से प्रार्थना की और पम्प चलाने लगा । एक, दो, तीन और हैण्ड पम्प से ठण्डा-ठण्डा पानी निकलने लगा ।
वह पानी किसी अमृत से कम नहीं था । उस व्यक्ति ने जी भरकर पानी पिया, उसकी जान में जान आ गयी । दिमाग काम करने लगा । उसने बोतल में फिर से पानी भर दिया और उसे छत से बांध दिया । जब वो ऐसा कर रहा था, तभी उसे अपने सामने एक और शीशे की बोतल दिखी । खोला तो उसमें एक पेंसिल और एक नक्शा पड़ा हुआ था, जिसमें रेगिस्तान से निकलने का रास्ता था ।
उस व्यक्ति ने रास्ता याद कर लिया और नक़्शे वाली बोतल को वापस वहीँ रख दिया । इसके बाद उसने अपनी बोतलों में (जो पहले से ही उसके पास थीं) पानी भरकर वहाँ से जाने लगा । कुछ आगे बढ़कर उसने एक बार पीछे मुड़कर देखा, फिर कुछ सोचकर वापिस उस झोँपडी में गया और पानी से भरी बोतल पर चिपके कागज़ को उतारकर उस पर कुछ लिखने लगा । उसने लिखा – *”मेरा यकीन करिए यह हैण्ड पम्प काम करता है
यह कहानी सम्पूर्ण जीवन के बारे में है । यह हमें सिखाती है कि बुरी से बुरी स्थिति में भी अपनी उम्मीद नहीं छोडनी चाहिए और इस कहानी से यह भी शिक्षा मिलती है कि कुछ बहुत बड़ा पाने से पहले हमें अपनी ओर से भी कुछ देना होता है । जैसे उस व्यक्ति ने नल चलाने के लिए मौजूद पूरा पानी उसमें डाल दिया ।
देखा जाए तो इस कहानी में पानी जीवन में मौजूद महत्वपूर्ण चीजों को दर्शाता है, कुछ ऐसी चीजें जिनकी हमारी नजरों में विशेष कीमत है । किसी के लिए मेरा यह सन्देश ज्ञान हो सकता है तो किसी के लिए प्रेम तो किसी और के लिए पैसा । यह जो कुछ भी है, उसे पाने के लिए पहले हमें अपनी तरफ से उसे कर्म रुपी हैण्ड पम्प में डालना होता है और फिर बदले में आप अपने योगदान से कहीं अधिक मात्रा में उसे वापिस पाते है

रवि अरोरा

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

जगत सेठ माणिक चंद


जगत सेठ माणिक चंद 🌹

आज अमेरिका को दुनिया में सबसे शक्तिशाली देश माना जाता है. कई ऐसे देश हैं जो आज भी अमेरिका के कर्ज तले दबे हुए हैं लेकिन क्या आप जानते हैं कि कभी भारत का एक अकेला शख्स दुनिया भर के देशों को कर्ज दिया करता था? जी हां, आपने बिल्कुल सही सुना, जगत सेठ नामक परिवार के कारण बंगाल का मुर्शिदाबाद व्यापारिक केंद्र हुआ करता था. तो चलिए जानते हैं भारत के इस सबसे अमीर घराने के बारे में:

इस चर्चित घराने की स्थापना सेठ माणिकचंद ने 17वीं शताब्दी में की थी. उनका जन्म राजस्थान के नागौर जिले के एक मारवाड़ी जैन परिवार में हुआ था. उनके पिता हीरानंद साहू ने बेहतर व्यवसाय की खोज में बिहार की राजधानी पटना का रुख किया और यहीं पर उन्होंने Saltpetre का बिजनेस शुरू किया. बताया जाता है उन्होंने ईस्ट इंडिया कंपनी को बहुत रुपए उधार दिए थे, साथ ही इस कम्पनी के साथ उनके बिजनेस रिलेशन भी बन गए थे.

माणिकचंद के इस घराने को ‘जगत सेठ’ का खिताब 1723 में मुग़ल बादशाह मुहम्मद शाह ने दिया था. बता दें कि जगत सेठ का मतलब था Banker of the World. ये एक तरह से एक टाइटल था. इसके बाद से ये पूरा घराना जगत सेठ के नाम से प्रसिद्ध हो गया. ये खिताब तो फतेह चंद को मिला था लेकिन इस घराने के संस्थापक सेठ मानिक चंद ही माने जाते हैं. उस दौर में ये घराना सबसे अमीर बैंकर घराना माना जाता था.

माणिक चन्द और बंगाल, बिहार और उड़ीसा के सूबेदार मुर्शिद क़ुली ख़ां गहरे मित्र थे. माणिक चंद इनके खजांची होने के साथ साथ सूबे का लगान भी जमा करते थे. इन्हीं दोनों ने मिलकर बंगाल की नयी राजधानी मुर्शिदाबाद को बसाया था. 1715 में मुग़ल सम्राट फ़र्रुख़सियर ने माणिक चंद को सेठ की उपाधि दी थी.

इस घराने की ढाका, पटना, दिल्ली सहित बंगाल और उत्तरी भारत के महत्वपूर्ण शहरों में ब्रांच थी. अपने मुख्यालय मुर्शिदाबाद से ऑपरेट होने वाले इस घराने का ईस्ट इंडिया कंपनी के साथ लोन, लोन की अदायगी, सर्राफ़ा की ख़रीद-बिक्री आदि का लेनदेन चलता था. सबसे खास बात ये थी इस घराने को बैंक ऑफ़ इंग्लैंड से कंपेयर किया जाता था. रिपोर्ट्स के अनुसार 1718 से 1757 तक ईस्ट इंडिया कंपनी जगत सेठ की फर्म से हर साल 4 लाख का लोन लेती थी.

जगत सेठ घराने ने सबसे ज़्यादा संपत्ती फतेहचंद के दौर में जमा की. बताया जाता है कि उस समय इस घराने की कुल संपत्ति करीब 10,000,000 पाउंड थी. इसे आज के समय के अनुसार देखा जाए तो ये कुल 1000 बिलियन पाउंड के करीब होगी. ब्रिटिश सरकार के मौजूद दस्तावेजों में ये बताया गया है कि उस समय जगत सेठ घराने की कुल संपत्ति इंग्लैंड के सभी बैंकों की तुलना में अधिक थी. यहां तक कि 1720 के दशक में ब्रिटिश अर्थव्यवस्था जगत सेठ घराने की संपत्ति से कम थी.

2 से 3 हजार सैनिकों को इस संपत्ति की सुरक्षा के लिए रखा गया था. बता दें कि इस घराने की संपत्ति इतनी थी कि अविभाजित बंगाल की पूरी ज़मीन में लगभग आधा हिस्सा इस घराने का था. इसमें आज के दौर का असम, बांग्लादेश और पश्चिम बंगाल शामिल है.

अंग्रजो ने दिया धोखा

भले ही उस जमाने में जगत सेठ घराने की तूती बोलती थी लेकिन कहते हैं ना अंत सबका निर्धारित होता है. इस घराने के अंत का कारण बना अंग्रेजों द्वारा दिया गया धोखा. जगत सेठ ने अंग्रेजों को काफी बड़ा कर्ज़ दे दिया था लेकिन बाद में अंग्रेज़ों ने इस बात से साफ इनकार कर दिया कि ईस्ट इंडिया कंपनी के ऊपर जगत सेठ का कोई कर्ज़ भी है. ये इस घराने के लिए बहुत बड़ा धक्का था. 1912 ई. तक अंग्रेजों की तरफ से इस घराने के सेठों को जगत सेठ की उपाधि के साथ थोड़ी-बहुत पेंशन मिलती रही. लेकिन बाद में यह पेंशन भी बंद हो गई. अब इस घराने के बारे में किसी को कोई जानकारी नहीं है.

मधुर कहानियां