Posted in ૧૦૦૦ પ્રેરણાત્મક વાર્તાઓ

મૃત્યુ પથારી પર પડેલી પત્નીએ ધીમેથી કહ્યું, “ડૉક્ટરને બોલાવશો નહીં, તમારો હાથ મારા હાથમાં રાખીને હું શાંતિથી સૂઈ જવા માંગુ છું.”
પતિએ તેને ભૂતકાળની યાદો વિશે – તેઓ બંને કેવી રીતે મળ્યા તે અને તેમના પ્રથમ ચુંબન વિશે કહ્યું.
તેઓ બંને રડ્યા નહીં, તેમણે હાસ્ય કર્યું. તેમને કોઈ વાતનો અફસોસ ન હતો, તેઓ કૃતજ્ઞ હતા.
પછી પત્નીએ ધીમેથી કહ્યું, “હું તમને પ્રેમ કરું છું, હંમેશ માટે”
પતિએ પણ હું પણ તને હંમેશ માટે પ્રેમ કરું છું કહીને તેના કપાળ પર એક હળવું ચુંબન કર્યું.
પત્નીએ પોતાની આંખો બંધ કરી દીધી અને શાંતિથી તેના હાથમાં હાથ રાખીને સૂઈ ગઈ.

પ્રેમ ખરેખર સર્વસ્વ છે. અને તે જ મહત્વનું છે. કારણ કે દરેક વ્યક્તિ આ દુનિયામાં આવે છે ત્યારે પ્રેમ સિવાય બીજું કશું જ નથી લઈ આવતી અને જ્યારે છોડીને જાય છે ત્યારે પ્રેમ સિવાય બીજું કશું જ છોડીને નથી જતી.
જરા વિચારજો. આપણા વ્યવસાય, કારકિર્દી, બેંક ખાતું, આપણી અસ્ક્યામતો ફક્ત સાધનો છે, એથી વધુ કંઈ નહીં. બધું અહીં જ રહે છે. તેથી ફક્ત પ્રેમ કરો …. જેઓ તમને ખરેખર ચાહે છે તેમને પ્રેમ કરો. એવી રીતે
જાણે કે તમારા જીવનમાં એનાથી વધુ મહત્ત્વનું કશું જ ન હોય. ❤️
Source: Life Journal
🍁

Posted in ૧૦૦૦ પ્રેરણાત્મક વાર્તાઓ

અધૂરો સંબંધ

“લુચ્ચા.. લફંગા..બદમાશ..ફરેબી..” દુલ્હનના પરિવેશમાં એક યુવતી રીવરફ્રન્ટ પર ઉભી ઉભી ધુંઆપુંઆ થઈ ગાળોના વરસાદ સાથે એક પછી એક ચીજવસ્તુઓ નદીમાં પધરાવી રહી હતી. તમાશાને તેડું ન હોય એમ લોકો પણ એ દ્રશ્ય જોવા ઉમટ્યા. કેટલાક ટીખડીયા પોતાનો મોબાઈલ કાઢીને વિડિયો બનાવવા લાગ્યા. યુવતી પણ અતિશય ગુસ્સામાં ભાન ભૂલી ગઈ હતી. એટલામાં દોડતી એની સખીઓ આવી અને પરાણે એને લઈ જવાનો પ્રયત્ન કરવા લાગી. યુવતીના જતાં જ લોકો ગુસપુસ કરવાં લાગ્યાં.

ઘરે જતાં જ ચોધાર આંસુઓ સાથે ફસડાઈ પડી. એના સ્નેહીજનોએ માંડ માંડ શાંત પાડીને મામલો સંભાળ્યો. એ યુવતીનું નામ કેતકી. આજે એના લગ્ન હતાં અનિમેષ સાથે..
પણ લગ્નનો માહોલ જાણે માતમમાં ફેરવાઈ ગયો હતો.

એન્જિનિયરિંગના છેલ્લા વર્ષમાં ભણતી કેતકી માટે અનિમેષ નામના એક ડોકટર યુવાનનો લગ્ન અંગે પ્રસ્તાવ આવ્યો ત્યારે ઘરમાં સૌ રાજીના રેડ થઈ ગયા. બે પરિવારો મળ્યાં. યુવક-યુવતીની મિટિંગ ગોઠવાઈ. બધું બરોબર લાગતા સંબંધ પાકો કરી દીધો. કેતકીના માબાપ તો ઘેર બેઠાં ડોકટર જમાઈ મળ્યો એમ ધારીને ખુશીથી ફુલ્યા નહોતા સમાતા.

થોડા સમયમાં બંનેની સગાઈ પણ કરી નાખી. લગ્ન માટે વરપક્ષ વધુ ઉતાવળો થઈ રહ્યો હતો. એટલે લગ્નની તારીખ પણ નક્કી કરી નાખી.

કેતકીને અનિમેષ સાથે હરવાફરવા જવાની છૂટ હતી પણ અનિમેષ ક્યારેક કામનું બહાનું ધરીને ટાળતો. કેતકીને અનિમેષ થોડો મિતભાષી લાગ્યો એટલે એણે પણ બહુ આગ્રહ કરવાનું ટાળ્યું. જ્યારે મોકો મળે ત્યારે બંને ડિનર બહાર લેતાં. અનિમેષે કેતકીને અવારનવાર ગિફ્ટ આપીને થોડા જ વખતમાં પોતાની કરી લીધેલી.

હવે લગ્નની ઘડીઓ ગણાતી હતી. લગ્ન આડે બે દિવસ જ રહ્યા હતાં. પણ કેતકી એના માબાપ કશી મૂંઝવણમાં હોય એવું અનુભવતી. એ પૂછતી તો લગ્નનું થોડું ટેંશન છે કહીને ટાળતા.

આખરે લગ્નનો દિવસ પણ આવી ગયો. પીઠી ચોળાઈ.. મહેંદી રચાઈ..અને પિયરની પ્રીતનું પાનેતર ઓઢીને હંમેશ માટે સાસરીની વાટ પકડવા થનગની રહેલી કેતકી મંડપમાં બસ જવાની જ વાર હતી. એટલામાં એની ખાસ સહેલી શૈલી આવી.

“કેમ આટલી મોડી આવી? પીઠી અને મહેંદી પણ પતી ગયા પછી..?” એને જોઈને કેતકી રીસામણે સૂરે બોલી.

“એ બધું પછી..પહેલાં કહે પેલો આસમાની શેરવાનીમાં છે શું એ છે તારો વરરાજા?” શૈલી ચિંતાતુર થઈને પૂછી બેઠી.

“હા. એ જ છે..બોલ કેવો છે..?” કેતકી શરમાતા બોલી.

જવાબ આપવાના બદલે શૈલીએ કેતકીના કાનમાં કંઈક કીધું અને મોબાઈલમાં ફોટા બતાવવા લાગી. કેતકી એકદમ સ્તબ્ધ થઈ ગઈ. બહાર મંડપમાં ગોરબાપાએ ‘કન્યા પધરાવો સાવધાન’ કહીને કન્યાને મંડપમાં લાવવા કહ્યું. મામા પોતાની ભાણીને હાથ પકડીને મંડપમાં લાવ્યા.

પોતાના માતાપિતાના ચહેરા પર હજીય લાચારી દેખાતી જોઈને કેતકી ક્રોધમાં સળગી ઉઠી અને એક તમતમતો તમાચો એણે અનિમેષના ગાલે ચોળી દીધો. લોકો તો અવાક બનીને જોઈ જ રહ્યા.

સત્ય પરથી પડદો હટાવતાં કેતકીએ સૌને જણાવ્યું કે અનિમેષ ડોકટર નહીં પરંતુ કમ્પાઉન્ડર છે એ વાત એણે કેતકીથી છુપાવી અને એટલું જ નહીં લગ્નના બે દિવસ બાકી હતા અને કેતકીના માબાપ પાસે દહેજમાં નવી કાર માંગી એ વાત પણ કેતકીને એની પિતરાઈ બહેન દ્વારા જાણવા મળી. કેતકીની ખાસ સહેલી શૈલી જો વખતસર ન આવી હોત અને એણે અનિમેષ વિશેની હકીકતનો ફોડ ન પાડ્યો હોત તો કેતકીનું રામ જાણે શું થતું..!

હકીકત જાણતાં ગુસ્સે ભરાયેલા કેતકીના સગાંવહાલાઓએ અનિમેષ અને એના પરિવારને પોલીસના હવાલે કરી દીધાં.

કેતકી પણ સાબરમતીના કાંઠે જઈને તર્પણ કરી આવી..અનિમેષે આપેલી તમામ ભેટસોગાતો સાથે.. બંધાયેલા અધૂરા સંબંધનું..!

-અંકિતા સોની

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

सगठनों के बिना मानव जीवन अधूरा है


एक आदमी था, जो हमेशा अपने संगठन (ग्रुप) में सक्रिय रहता था, उसको सभी जानते थे ,बड़ा मान सम्मान मिलता था; अचानक किसी कारण वश वह निष्क्रिय रहने लगा , मिलना-जुलना बंद कर दिया और संगठन से दूर हो गया।

   कुछ सप्ताह पश्चात् एक बहुत ही ठंडी रात में उस संगठन के मुखिया ने उससे मिलने का फैसला किया । मुखिया उस आदमी के घर गया और पाया कि आदमी घर पर अकेला ही था। एक सिगड़ी / बोरसी (अलाव) में जलती हुई लकड़ियों की लौ के सामने बैठा आराम से आग ताप रहा था। उस आदमी ने आगंतुक मुखिया का बड़ी खामोशी से स्वागत किया।

    दोनों चुपचाप बैठे रहे। केवल आग की लपटों को ऊपर तक उठते हुए ही देखते रहे। कुछ देर के बाद मुखिया ने बिना कुछ बोले, उन अंगारों में से एक लकड़ी जिसमें लौ उठ रही थी (जल रही थी) उसे *उठाकर किनारे पर रख दिया।*  और फिर से शांत बैठ गया।

  मेजबान हर चीज़ पर ध्यान दे रहा था। लंबे समय से *अकेला होने के कारण मन ही मन आनंदित भी हो रहा था कि वह आज अपने संगठन के मुखिया के साथ है। लेकिन उसने देखा कि अलग की हुई लकड़ी की आग की लौ धीरे धीरे कम हो रही है।* कुछ देर में आग बिल्कुल बुझ गई। उसमें कोई ताप नहीं बचा। उस लकड़ी से आग की चमक जल्द ही बाहर निकल गई।

      कुछ समय पूर्व जो उस लकड़ी में *उज्ज्वल प्रकाश था और आग की तपन* थी वह अब एक काले और मृत टुकड़े से ज्यादा कुछ शेष न था।

      इस बीच.. दोनों मित्रों ने एक दूसरे का बहुत ही संक्षिप्त अभिवादन किया, कम से कम शब्द बोले। जाने  से पहले मुखिया ने *अलग की हुई  बेकार लकड़ी को उठाया और फिर से आग के बीच में रख दिया। वह लकड़ी फिर से सुलग कर लौ बनकर जलने लगी और चारों ओर रोशनी तथा ताप बिखेरने लगी।*

   जब आदमी, मुखिया को छोड़ने के लिए दरवाजे तक पहुंचा तो उसने मुखिया से *कहा मेरे घर आकर मुलाकात* करने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद ।

आज आपने बिना कुछ बात किए ही एक सुंदर पाठ पढ़ाया है कि अकेले व्यक्ति का कोई अस्तित्व नहीं होता, संगठन का साथ मिलने पर ही वह चमकता है और रोशनी बिखेरता है ; संगठन से अलग होते ही वह लकड़ी की भाँति बुझ जाता है।

    *मित्रों संगठन या एक दुसरे के साथ से ही हमारी पहचान बनती है, इसलिए संगठन हमारे लिए सर्वोपरि होना चाहिए ।*

संगठन के प्रति हमारी निष्ठा और समर्पण किसी व्यक्ति के लिए नहीं, उससे जुड़े विचार के प्रति होनी चाहिए।

     *संगठन किसी भी प्रकार का हो सकता है ,आध्यात्मिक पारिवारिक , सामाजिक, व्यापारिक (शैक्षणिक संस्थान, औधोगिक संस्थान )  सांस्कृतिक इकाई , सेवा संस्थान आदि।*

संगठनों के बिना मानव जीवन अधूरा है , अतः हर क्षेत्र में जहाँ भी रहें संगठित रहें !
*अतः हमारा *संगठित रहना बहुत ही महत्त्वपूर्ण है*।🙏🙏

आज की कहानी

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

बहुत समय पहले की बात है,


बहुत समय पहले की बात है,

एक कसाई था सदना। वह बहुत ईमानदार था, वो भगवान के नाम कीर्तन में ही मस्त रहता था। यहां तक की मांस को काटते-बेचते हुए भी वह भगवद्नाम गुनगुनाता रहता था।

एक दिन वह अपनी ही धुन में कहीं जा रहा था कि उसके पैर से कोई पत्थर टकराया। वह रूक गया l उसने देखा एक काले रंग के गोल पत्थर से उसका पैर टकरा गया है। उसने वह पत्थर उठा लिया व जेब में रख लिया यह सोच कर कि यह माँस तोलने के काम आयेगा।

वापिस आकर उसने वह पत्थर माँस के वजन को तोलने के काम में लगाया। कुछ ही दिनों में उसने समझ लिया कि यह पत्थर कोई साधारण नहीं है। जितना वजन उसको तोलना होता, पत्थर उतने वजन का ही हो जाता है।

धीरे-धीरे यह बात फैलने लगी कि सदना कसाई के पास वजन करने वाला पत्थर है, वह जितना चाहता है, पत्थर उतना ही तोल देता है। किसी को एक किलो गोश्त देना होता तो तराजू में उस पत्थर को एक तरफ डालने पर, दूसरी ओर एक किलो का मीट ही तुलता। अगर किसी को दो किलो चाहिए हो तो वह पत्थर दो किलो के भार जितना भारी हो जाता।

इस चमत्कार के कारण उसके यहां लोगों की भीड़ जुटने लगी। भीड़ जुटने के साथ ही सदना की दुकान की बिक्री बढ़ गई।

बात एक शुद्ध ब्राह्मण तक भी पहुंची। हालांकि वह ऐसी अशुद्ध जगह पर नहीं जाना चाहता था जहां मांस कटता हो व बिकता हो किन्तु चमत्कारिक पत्थर को देखने की उत्सुकता उसे सदना की दुकान तक खींच लाई l

दूर से खड़ा वह सदना कसाई को मीट तोलते देखने लगा। उसने देखा कि कैसे वह पत्थर हर प्रकार के वजन को बराबर तोल रहा था। ध्यान से देखने पर उसके शरीर के रोंए खड़े हो गए। भीड़ के छटने (जाने के) बाद ब्राह्मण सदना कसाई के पास गया। ब्राह्मण को अपनी दुकान में आया देखकर सदना कसाई प्रसन्न भी हुआ और आश्चर्यचकित भी। बड़ी नम्रता से सदना ने ब्राह्मण को बैठने के लिए स्थान दिया और पूछा कि वह उनकी क्या सेवा कर सकता है?

ब्राह्मण बोला- “तुम्हारे इस चमत्कारिक पत्थर को देखने के लिए ही मैं तुम्हारी दुकान पर आया हूँ, या युँ कहें कि ये चमत्कारी पत्थर ही मुझे खींच कर तुम्हारी दुकान पर ले आया है।“

बातों ही बातों में उन्होंने सदना कसाई को बताया कि जिसे पत्थर समझ कर वो माँस तोल रहा है, वास्तव में वो शालीग्राम जी हैं, जोकि भगवान का स्वरूप होता है। शालीग्राम जी को इस तरह गले-कटे मांस के बीच में रखना व उनसे मांस तोलना बहुत बड़ा पाप है।

सदना बड़ी ही सरल प्रकृति का भक्त था। ब्राह्मण की बात सुनकर उसे लगा कि अनजाने में मैं तो बहुत पाप कर रहा हूं। अनुनय-विनय करके सदना ने वह शालिग्राम उन ब्राह्मण को दे दिया और कहा कि “आप तो ब्राह्मण हैं अत: आप ही इनकी सेवा-परिचर्या करके इन्हें प्रसन्न करें। मेरे योग्य कुछ सेवा हो तो मुझे अवश्य बताएं।“

ब्राह्मण उस शालीग्राम शिला को बहुत सम्मान से घर ले आए। घर आकर उन्होंने श्रीशालीग्राम को स्नान करवाया, पँचामृत से अभिषेक किया व पूजा-अर्चना आरम्भ कर दी।

कुछ दिन ही बीते थे कि उन ब्राह्मण के स्वप्न में श्री शालीग्राम जी आए व कहा – ‘हे ब्राह्मण! मैं तुम्हारी सेवाओं से प्रसन्न हूं, किन्तु तुम मुझे उसी कसाई के पास छोड़ आओ।’

स्वप्न में ही ब्राह्मण ने कारण पूछा तो उत्तर मिला कि- “तुम मेरी अर्चना-पूजा करते हो, मुझे अच्छा लगता है परन्तु जो भक्त मेरे नाम का गुणगान – कीर्तन करते रहते हैं उनको मैं अपने-आप को भी बेच देता हूँ। सदना तुम्हारी तरह मेरा अर्चन नहीं करता है परन्तु वह हर समय मेरा नाम गुनगुनाता रहता है जोकि मुझे अच्छा लगता है, इसलिए तो मैं उसके पास गया था। सचमुच मुझे बहुत अच्छा लगेगा अगर तुम मुझे वहीं छोड़ आओ, तो।“

ब्राह्मण अगले दिन ही, सदना कसाई के पास गया व उनको प्रणाम करके, सारी बात बताई व श्रीशालीग्रामजी को उन्हें सौंप दिया। ब्राह्मण की बात सुनकर सदना कसाई की आंखों में आँसू आ गए। मन ही मन उन्होंने माँस बेचने-खरीदने के कार्य को तिलांजली देने की सोची और निश्चय किया कि यदि मेरे ठाकुर को कीर्तन पसन्द है तो मैं अधिक से अधिक समय नाम-कीर्तन ही करूंगा l

जय श्री कृष्ण जी 🙏🙏

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

गुरु के दर्शन


एक बार गुरु नानक देव जी से किसी ने पूछा कि गुरु के दर्शन करने से क्या लाभ होता है ?

गुरु जी ने कहा कि इस रास्ते पर चला जा, जो भी सब से पहले मिले उस से पूछ लेना |

वह व्यक्ति उस रास्ते पर गया तो उसे सब से पहले एक कौवा मिला, उसने कौवे से पूछा कि गुरु के दर्शन करने से क्या होता है ?

उसके यह पूछते ही वह कौवा मर गया….

वह व्यक्ति वापिस गुरु जी के पास आया और सब हाल बताया…

अब गुरु ने कहा कि फलाने घर में एक गाय ने एक बछड़ा दिया है, उससे जाकर यह सवाल पूछो, वह आदमी वहां पहुंचा और बछड़े के आगे यही सवाल किया तो वह भी मर गया…..

वह आदमी भागा भागा गुरु जी के पास आया और सब बताया…

अब गुरु जी ने कहा कि फलाने घर में जा, वहां एक बच्चा पैदा हुआ है, उस से यही सवाल करना…

वह आदमी बोला के वह बच्चा भी मर गया तो ?

गुरु जी ने कहा कि तेरे सवाल का जवाब वही देगा…

अब वह आदमी उस घर में गया और जब बच्चे के पास कोई ना था तो उसने पूछा कि गुरु के दर्शन करने से क्या लाभ होता है ?

वह बच्चा बोला कि मैंने खुद तो नहीं किये लेकिन तू जब पहली बार गुरु जी के दर्शन करके मेरे पास आया तो मुझे कौवे की योनी से मुक्ति मिली और बछड़े का जन्म मिला….

तू दूसरी बार गुरु के दर्शन करके मेरे पास आया तो मुझे बछड़े से इंसान का जन्म मिला….

सो इतना बड़ा हो सकता है गुरु के दर्शन करने का फल, फिर चाहे वो दर्शन आंतरिक हो या बाहरी……

ऐ सतगुरू मेरे…

नज़रों को कुछ ऐसी खुदाई दे…

जिधर देखूँ उधर तू ही दिखाई दे…

कर दे ऐसी कृपा आज इस दास पे कि…

जब भी बैठूँ सिमरन में…

सतगुरू तू ही दिखाई दे… 🙏🙏😇

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

भाग्य / दुर्भाग्य


एक बार एक धनिक भक्त मंदिर जाता है। पैरों में महँगे और नये जूते होने पर सोचता है कि क्या करूँ ?

यदि बाहर उतार कर जाता हूँ तो कोई उठा न ले जाये और अंदर पूजा में मन भी नहीं लगेगा; सारा ध्यान् जूतों पर ही रहेगा।

उसे बाहर एक भिखारी बैठा दिखाई देता है।

वह धनिक भिखारी से कहता है ” भाई मेरे जूतों का ध्यान रखोगे ? जब तक मैं पूजा करके वापस न आ जाऊँ”

भिखारी हाँ कर देता है।

अंदर पूजा करते समय धनिक सोचता है कि ” हे प्रभु आपने यह कैसा असंतुलित संसार बनाया है?

किसी को इतना धन दिया है कि वह पैरों तक में महँगे जूते पहनता है तो किसी को अपना पेट भरने के लिये भीख तक माँगनी पड़ती है! कितना अच्छा हो कि सभी एक समान हो जायें!!

“वह धनिक निश्चय करता है कि वह बाहर आकर भिखारी को 100 का एक नोट देगा।

बाहर आकर वह धनिक देखता है कि वहाँ न तो वह भिखारी है और न ही उसके जूते।

धनिक ठगा सा रह जाता है।

वह कुछ देर भिखारी का इंतजार करता है कि शायद भिखारी किसी काम से कहीं चला गया हो, पर वह नहीं आया। धनिक दुखी मन से नंगे पैर घर के लिये चल देता है।

रास्ते में फुटपाथ पर देखता है कि एक आदमी जूते चप्पल बेच रहा है। धनिक चप्पल खरीदने के उद्देश्य से वहाँ पहुँचता है, पर क्या देखता है कि उसके जूते भी वहाँ बेचने के लिए रखे हैं।

जब धनिक दबाव डालकर उससे जूतों के बारे में पूछता है, वह आदमी बताता है, कि एक भिखारी उन जूतों को 100 रु. में बेच गया है।

धनिक वहीं खड़े होकर कुछ सोचता है और मुस्कराते हुये नंगे पैर ही घर के लिये चल देता है। उस दिन धनिक को उसके सवालों के जवाब मिल गये थे—-

समाज में कभी एकरूपता नहीं आ सकती, क्योंकि हमारे कर्म कभी भी एक समान नहीं हो सकते।

और जिस दिन ऐसा हो गया उस दिन समाज-संसार की सारी विषमतायें समाप्त हो जायेंगी।

ईश्वर ने हर एक मनुष्य के भाग्य में लिख दिया है कि किसको कब और कितना मिलेगा,

पर यह नहीं लिखा कि वह कैसे मिलेगा। यह हमारे कर्म तय करते हैं। जैसे कि भिखारी के लिये उस दिन तय था, कि उसे 100 रु. मिलेंगे,

पर कैसे मिलेंगे यह उस भिखारी ने तय किया।

हमारे कर्म ही हमारा भाग्य, यश, अपयश, लाभ, हानि, जय, पराजय, दुःख, शोक, लोक, परलोक तय करते हैं। हम इसके लिये ईश्वर को दोषी नहीं ठहरा सकते ।

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

सिकन्दर


*सिकन्दर उस जल की तलाश में था, जिसे पीने से मानव अमर हो जाते हैं.!*

*दुनियाँ भर को जीतने के जो उसने आयोजन किए, वह अमृत की तलाश के लिए ही थे !*

*काफी दिनों तक देश दुनियाँ में भटकने के पश्चात आखिरकार सिकन्दर ने वह जगह पा ही ली, जहाँ उसे अमृत की प्राप्ति होती !*

*वह उस गुफा में प्रवेश कर गया, जहाँ अमृत का झरना था, वह आनन्दित हो गया !*

👉 *जन्म-जन्म की आकांक्षा पूरी होने का क्षण आ गया, उसके सामने ही अमृत जल कल – कल करके बह रहा था, वह अंजलि में अमृत को लेकर पीने के लिए झुका ही था कि तभी एक कौआ 🦅जो उस गुफा के भीतर बैठा था, जोर से बोला, ठहर, रुक जा, यह भूल मत करना…!’*

*सिकन्दर ने🦅कौवे की तरफ देखा!*

*बड़ी दुर्गति की अवस्था में था वह कौआ.🦅!*

*पंख झड़ गए थे, पँजे गिर गए थे, अंधा भी हो गया था, बस कंकाल मात्र ही शेष रह गया था !*

*सिकन्दर ने कहा, ‘तू रोकने वाला कौन…?’*

🦅 *कौवे ने उत्तर दिया, ‘मेरी कहानी सुन लो…मैं अमृत की तलाश में था और यह गुफा मुझे भी मिल गई थी !, मैंने यह अमृत पी लिया !*

🦅 *अब मैं मर नहीं सकता, पर मैं अब मरना चाहता हूँ… !*

🦅 *देख लो मेरी हालत…अंधा हो गया हूँ, पंख झड़ गए हैं, उड़ नहीं सकता, पैर गल गए हैं, एक बार मेरी ओर देख लो फिर उसके बाद यदि इच्छा हो तो अवश्य अमृत पी लेना!*

🦅 *देखो…अब मैं चिल्ला रहा हूँ…चीख रहा हूँ…कि कोई मुझे मार डाले, लेकिन मुझे मारा भी नहीं जा सकता !*

🦅 *अब प्रार्थना कर रहा हूँ परमात्मा से कि प्रभु मुझे मार डालो !*

🦅 *मेरी एक ही आकांक्षा है कि किसी तरह मर जाऊँ !*

🦅 *इसलिए सोच लो एक बार, फिर जो इच्छा हो वो करना.’!*

🦅 *कहते हैं कि सिकन्दर सोचता रहा….बड़ी देर तक…..!*

*आखिर उसकी उम्र भर की तलाश थी अमृत !*💧

*उसे भला ऐसे कैसे छोड़ देता !*

*सोचने के बाद फिर चुपचाप गुफा से बाहर वापस लौट आया, बिना अमृत पिए !*

*सिकन्दर समझ चुका था कि जीवन का आनन्द ✨उस समय तक ही रहता है, जब तक हम उस आनन्द को भोगने की स्थिति में होते हैं!*

*इसलिए स्वास्थ्य की रक्षा कीजिये !*

*जितना जीवन मिला है,उस जीवन का भरपूर आनन्द लीजिये !*

*दुनियां में सिकन्दर कोई नहीं, वक्त सिकन्दर होता है..*

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

साधन और साध्य


एक बार अकबर ने तानसेन से कहा था कि तेरा वीणावादन देखकर कभी—कभी यह मेरे मन में खयाल उठता है कि कभी संसार में किसी आदमी ने तुझसे भी बेहतर बजाया होगा या कभी कोई बजाएगा? मैं तो कल्पना भी नहीं कर पाता कि इससे श्रेष्ठतर कुछ हो सकता ‘है।

तानसेन ने कहा, क्षमा करें, शायद आपको पता नहीं कि मेरे: गुरु अभी जिन्दा हैं। और एक बार अगर आप उनकी वीणा सुन लें तो कहां वे और कहां मैं!

बड़ी जिज्ञासा जगी अकबर को। अकबर ने कहा तो फिर उन्हें बुलाओ! तानसेन ने कहा, इसीलिए कभी मैंने उनकी बात नही छेड़ी। आप मेरी सदा प्रशंसा करते थे, मैं चुपचाप पी लेता था, जैसे जहर का घूंट कोई पीता है, क्योंकि मेरे गुरु अभी जिन्दा हैं, उनके सामने मेरी क्या प्रशंसा! यह यूं ही है जैसे कोई सूरज को दीपक दिखाये। मगर मैं चुपचाप रह जाता था, कुछ कहता न था, आज न रोक सका अपने को, बात निकल गयी। लेकिन नहीं कहता था इसीलिए कि आप तत्‍क्षण कहेंगे, ‘उन्हें बुलाओ’। और तब मैं मुश्किल में पड़ुगा, क्योंकि वे यूं आते नहीं। उनकी मौज हो तो जंगल में बजाते हैं, जहां कोई सुननेवाला नहीं। जहां कभी—कभी जंगली जानवर जरूर इकट्ठे हो जाते हैं सुनने को। वृक्ष सुन लेते हैं, पहाड़ सुन लेते हैं। लेकिन फरमाइश से तो वे कभी बजाते नहीं। वे यहां दरबार मे न आएंगे। आ भी जाएं किसी तरह और हम कहें उनसे कि बजाओ तो वे बजाएंगे नहीं।

तो अकबर ने कहा, फिर क्या करना पड़ेगा, कैसे सुनना पड़ेगा? तो तानसेन ने कहा, एक ही उपाय है कि यह मैं जानता हूं कि रात तीन बजे वे उठते हैं, यमुना के तट पर आगरा में रहते हैं—हरिदास उनका नाम है—हम रात में चलकर छुप जाएं—दो बजे रात चलना होगा; क्योंकि कभी तीन बजे बजाए, चार बजे —बजाए, पांच बजे बजाए; मगर एक बार (जरूर सुबह—सुबह स्नान के बाद वे वीणा बजाते हैं— तो हमें चोरी से ही सुनना होगा, बाहर झोपड़े के छिपे रहकर सुनना होगा।.. शायद ही दुनिया के इतिहास में किसी सम्राट ने, अकबर जैसे बड़े सम्राट ने चोरी से किसी की वीणा सुनी हो!.. लेकिन अकबर गया।

दोनों छिपे रहे एक झाड़ की ओट में, पास ही झोपड़े के पीछे। कोई तीन बजे स्नान करके हरिदास यमुना सै आये और उन्होंने अपनी वीणा उठायी और बजायी। कोई घंटा कब बीत गया—यूं जैसे पल बीत जाए! वीणा तो बंद हो गयी, लेकिन जो राग भीतर अकबर के जम गया था वह जमा ही रहा।

आधा घंटे बाद तानसेन ने उन्हें हिलाया और कहा कि अब सुबह होने के करीब है, हम चलें! अब कब तक बैठे रहेंगे। अब तो वीणा बंद भी हो. चुकी। अकबर ने कहा, बाहर की तो वीणा बंद हो गयी मगर भीतर की वीणा बजी ही चली जाती है। तुम्हें मैंने बहुत बार सुना, तुम जब बंद करते हो तभी बंद ‘हो जाती है। यह पहला मौका है कि जैसे मेरे भीतर के तार छिड़ गये हैं।। और आज सच में ही मैं तुमसे कहता हूं कि तुम ठीक ही कहते थे कि कहा तुम और कहां तुम्हारे गुरु!

अकबर की आंखों से आंसू झरे जा रहे हैं। उसने कहा, मैंने बहुत संगीत सुना, इतना भेद क्यों है? और तेरे संगीत में और तेरे गुरु के संगीत में इतना भेद क्यों है? जमीन— आसमान का फर्क है। तानसेन ने कहा, *”कुछ बात कठिन नहीं है। मैं बजाता हूं कुछ पाने के लिए; और वे बजाते हैं क्योंकि उन्होंने कुछ पा लिया है। उनका बजाना किसी उपलब्‍धि की, किसी अनुभूति की अभिव्यक्ति है। मेरा बजाना तकनीकी है। मैं बजाना जानता हूं मैं बजाने का पूरा गणित जानता हूं मगर गणित! बजाने का अध्यात्म मेरे पास नहीं! और मैं जब बजाता होता हूं तब भी इस आशा में कि आज क्या आप देंगे? हीरे का हार भेंट करेंगे, कि मोतियों की माला, कि मेरी झोली सोने से भर देंगे, कि अशार्फेयों से? जब बजाता हूं तब पूरी नजर भविष्य पर अटकी रहती है, फल पर लगी रहती है। वे बजा रहे हैं, न कोई फल है, न कोई भविष्य, वर्तमान का क्षण ही सब कुछ है। उनके जीवन में साधन और साध्य में बहुत फर्क है, साधन ही साध्य है; ओर मेरे जीवन में अभी साधन और साध्य में कोई फर्क नहीं है। बजाना साधन है। पेशेवर हूं मैं। उनका बजाना आनंद है, साधन नहीं। वे मस्ती में हैं।*

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

सच्ची_भक्ति


एक पंडित थे, वे हमेशा घर-घर जाकर भागवत गीता का पाठ करते थे |एक बार हुआ यू कि एक दिन उन्हें किसी चोर ने पकड़ लिया और कहने लगा तुम्हारे पास जो कुछ भी है वह सब मुझे दे दो , पंडित जी उनकी बात सुन कहने लगे बेटा मेरे पास तो कुछ भी नहीं है, पर तुम एक काम कर सकते हो | मैं यहीं पास के घर मैं भगवत गीता का पाठ करता हूँ |

वहाँ जो यजमान है वे बहुत दानी हैं, जब मैं वहा उनको कथा सुना रहा होऊंगा तब तुम उनके घर जाना और तुम्हें जो भी चाहिये वो ले जाना | चोर को यह सुझाव ठीक लगा और उस चोर मे पंडित की बात मान ली.

जब अगले दिन पंडित जी उस यजमान के यहा कथा सुना रहे थे, तब वह चोर भी वहां आ पहुंचा | उस वक्त पंडित जी कथा मे कह रहे थे कि यहाँ से मीलों दूर एक गाँव है जिसका नाम वृन्दावन है, वहां एक बालक रहता है, जिसका नाम कन्हैया है, वह हमेशा आभूषणो रत्न से लदा रहता है, यदि कोई उसे लूटना चाहे तो आसानी से उसे लूट सकता है, क्योंकि वह रोज रात गांव के एक पीपल पेड़ के नीचे आता है।

वहा एक घनी झाडियाे का झुंड है | यह बात वह चोर ने सुना और उसके मन मे एक लालच हुई कि क्यों न उस बालक को लूट लू जिसके पास इतने आभूषण है और खुशी खुशी वह वहा से वृन्दावन के लिये वहां से चला गया! चोर पहले अपने घर गया और अपनी धर्मपत्नी से कहने लगा कि आज मैं एक कन्हैयानाम के बच्चे को लूटने जा रहा हूँ , मुझे रास्ते मे कुछ खाने के लिए बांध कर दे दो, उसकी पत्नी ने उसे सत्तू को बांधकर दे दिया और कहने लगी बस यही है जो कुछ भी है|

अपनी पत्नी की बात सुन चोर ने घर से संकल्प लेकर चला कि जब तक तो में उस कन्हैया को लूट नही लुंगा तब तक नही आऊंगा, यह संकल्प ले वह चोर पैदल-पैदल वृंदावन के लिए चल पड़ा, वह चोर पूरे रास्ते बस कान्हा का नाम लेते और कान्हा के बारे मे सोचते हुए चलते गया, जब वह अगले दिन शाम को वृन्दावन पहुंचा तो वह उस स्थान को ढुंढने लगा जो उस पंडित जी ने बताई थी!

वह चोर ढंढते हुए उस जगह पर पहुँच गया औ सोचने लगा कि यदि मैं ऐसे ही खड़े होकर उस कन्हैया का इंतजार करूंगा तो वह मुझे देखकर भाग जायेगा | और मेरा यहाँ आना व्यर्थ हो जायेगा, यह सोच वह झाड़ियों में जाकर झुप गया, जैसे ही वह झाड़ियों में गया झाड़ियों के कांटे उसे चुभने लगे! और उसके मुह से दर्द के कारण कन्हैया का ही नाम निकला उस चोर के शरीर रक्त निकलने लगा और जबान पर सिर्फ कन्हैया का ही नाम आने लगा, वह चोर लगी बैठ कहने लगा आ जाओ कन्हैया आ जाओ कन्हैया |

भगवान से रहा नही गया और अपने भक्त की ऐसी दशा देख कान्हा जी चल पड़े अपने भक्त के दुख नही देख सके और सब कुछ लूटने भगवान उस चोर के पास चल पड़े !

जैसे ही भगवान कान्हा जी वहा आये उन्हें देख वह चोर एक दम से उस झाड़ियों से बहार आ गया और उसने कान्हा को पकड़ लिया और कहने लगा कन्हैया तुम्हारे कारण मुझे इतना दर्द सहन करना पड़ा ! तेरे इंतज़ार मे मेरे रक्त निकल आये अब मै तुम्हें नही छोडूंगा ये देख मेरे हाथ मे हथियार है, ला मुझे अपने सारे आभूषण दे दे | भगवान चोर की बात सुन जोर जोर से हंसने लगे और अपने सारे आभूषण उस चोर को दे दिये|

जब वह चोर वृंदावन से वापस अगले दिन अपने गाँव पहुंचा, तो सबसे पहले वह चोर उस पंडित जी के पास गया जो उस यजमान के यहा कथा सुना रहे थे, और अपने साथ जितने भी गहने वह चोरी करके लाया था उसका आधा उस पंडित जी को देकर पंडित के चरणों मे गिर गया | यह देख पंडित भी अचम्भित रह गये और पूछने लगे यह सब क्या है, तब वह चोर कहने लगा | पंडित जी आपने जिस कन्हैया का पता बताया था ना मै वही गया था और उस कान्हा को ही लूटकर आया हूँ, आपने बताया था इस हेतु आपको हिस्सा दे रहा हूँ |

पंडित को यह सुन यकीन नहीं हुआ! और पंडित कहने लगे मै यहा लालो से पंडिताई कर रहा हूँ और मुझे आज तक कान्हा जी नही मिले और तुझ जैसे पापी को कान्हा कहाँ से मिल सकता है | चोर कहने लगा पंडित जी यह सत्य है यह सारे आभूषण सही कन्हैया के है इतना कहने पर पंडित बोलने लगे कि यदि ऐसा है तो चल में भी तेरे साथ चलता हूँ और देखता हूँ कि कान्हा कैसा दिखता है, और वो दोनों वृंदावन के लिये चल दिए!

जैसे ही वह वृन्दावन पहुँचें तो चोर ने पंडित जी आओ मेरे साथ यहाँ छुप जाओ, पंडित जी उस चोर के साथ उसी झाड़ियों पर छुप गये और दोनों का शरीर रक्त निकलने लगे. और मुंह से बस कान्हा आ जाओ कान्हा आ जाओ निकलने लगे ! पुन भगवान पुन पँहुचे और चोर और पंडित दोनों झाड़ियों से बहार निकल आये! यह देख पंडित जी कि आँखों में आंसू थे और वह फूट फूट के रोने लगे | और चोर के चरणों में गिर के बोलने लगे जिसे देखने यह आँखें आज तक तरसते रहे थे, जो आज तक लोगो को लुटता आया हो, उसे आज तुमने लूट लिया तुम धन्य हो, आज तुम्हारी वजह से मुझे कान्हा के दर्शन हुए हैं | भक्ति की प्यास होनी चाहिये भगवान खुद ही किसी ना किसी स्वरूप मे अवश्य आते है |

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

एक सन्यासी घूमते-फिरते


एक सन्यासी घूमते-फिरते एक दुकान पर आये, दुकान मे अनेक छोटे-बड़े डिब्बे थे, सन्यासी के मन में जिज्ञासा उतपन्न हुई,

एक डिब्बे की ओर इशारा करते हुए सन्यासी ने दुकानदार से पूछा, इसमे क्या है ? दुकानदारने कहा – इसमे नमक है ! सन्यासी ने फिर पूछा, इसके पास वाले मे क्या है ?

दुकानदार ने कहा, इसमे हल्दी है ! इसी प्रकार सन्यासी पूछ्ते गए और दुकानदार बतलाता रहा, अंत मे पीछे रखे डिब्बे का नंबर आया, सन्यासी ने पूछा उस अंतिम डिब्बे मे क्या है?

दुकानदार बोला, उसमे राम-राम है ! सन्यासी ने हैरान होते हुये पूछा राम राम?? भला यह राम-राम किस वस्तु का नाम है भाई?? मैंने तो इस नाम के किसी समान के बारे में कभी नहीं सुना।

दुकानदार सन्यासी के भोलेपन पर हंस कर बोला – महात्मन ! और डिब्बों मे तो भिन्न-भिन्न वस्तुएं हैं, पर यह डिब्बा खाली है, हम खाली को खाली नही कहकर राम-राम कहते हैं !

संन्यासी की आंखें खुली की खुली रह गई !

जिस बात के लिये मैं दर दर भटक रहा था, वो बात मुझे आज एक व्यपारी से समझ आ रही है।

वो सन्यासी उस छोटे से किराने के दुकानदार के चरणों में गिर पड़ा ,,, ओह, तो खाली मे राम रहता है ! सत्य है भाई भरे हुए में राम को स्थान कहाँ ?

काम, क्रोध,लोभ,मोह, लालच, अभिमान,ईर्ष्या, द्वेष और भली- बुरी, सुख दुख की बातों से जब दिल-दिमाग भरा रहेगा तो उसमें ईश्वर का वास कैसे होगा ?

राम यानी ईश्वर तो खाली याने साफ-सुथरे मन में ही निवास करता है ! एक छोटी सी दुकान वाले ने सन्यासी को बहुत बड़ी बात समझा दी थी! आज सन्यासी अपने आनंद में था।