Posted in भारतीय उत्सव - Bhartiya Utsav

गणपति नहीं होते तो यह गणराज्य भी नहीं होता।

महाराष्ट्र में गणेश पूजा का विशेष महत्व है क्योंकि इसकी शुरूआत महाराष्ट्र से ही हुई थी।महाराष्ट्र में 500 साल पहले लोग अपने घरों में गणेश की छोटी-छोटी मूर्तियाँ बनाते थे और उसकी पूजा करते थे। ऐसी मान्यता है कि पुणे में स्थित कस्बा पेठ गणपति मंदिर सबसे पुराना है जिसकी स्थापना शिवाजी की माता जीजामाता ने की थी और इसी मंदिर में जीजामाता और शिवाजी ने आदिल शाह से महाराष्ट्र वापस लेने का प्रण किया था।
शिवाजी के बाद पेशवाओं ने भी गणेश पूजा की परंपरा को जारी रखा। जब पेशवा बाजीराव ने शनिवार वाड़ा का निर्माण करवाया तो उन्होंने किले में गणेश भगवान की स्थापना की। पेशवाओं का शासन समाप्त होने और औपनिवेशिक युग शुरू होने के बाद शनिवार वाड़ा में होने वाला गणेशोत्सव भी बंद हो गया। हालांकि, बड़ौदा के गायकवाड़, इंदौर के होल्कर और ग्वालियर के सिंधिया के महलों में गणेशोत्सव उत्साह के साथ जारी रहा लेकिन महल के भीतर ही।

लोकमान्य तिलक और सार्वजनिक गणेश उत्सव

वह लोकमान्य तिलक ही थे जिन्होंने महल और घरों के बंद दरवाजों तक सीमित गणेश पूजा को सार्वजनिक उत्सव में परिवर्तित करने में सफलता प्राप्त की और इसे महाराष्ट्र के घर घर का उत्सव बना दिया।1857 में अंग्रेजों ने स्वतंत्रता संग्राम को कुचल कर क्रांतिकारियों को मार डाला था। अंग्रेजों के इस कदम से लोगों के दिलों में भय व्याप्त हो गया था। लोग एक जगह एकत्रित नहीं होते थे। लोकमान्य तिलक ने लोगों में व्याप्त भय को महसूस किया और माना कि जब तक लोग एक जगह एकत्रित होने की हिम्मत नहीं करेंगे तो अंग्रेजों से कैसे
लड़ेगे और देश को स्वतंत्रता कैसे मिलेंगी?
इस कारण लोगों को साथ में आने, सार्वजनिक स्थान में एकत्रित करने और उनमें आनंद, उर्जा और उमंग का संचार करने के साथ डर को मिटाने के लिए हर घर में होने वाली गणेश पूजा को सार्वजनिक पूजा में तब्दील कर दिया।
बाल गंगाधर तिलक ने महाराष्ट्र के पुणे में 1893 में पहले सार्वजनिक गणेश उत्सव का आयोजन किया था। गणेश उत्सव को सार्वजनिक रूप देते समय तिलक ने उसे केवल धार्मिक कर्मकांड तक ही सीमित नहीं रखा, बल्कि उसे आजादी की लड़ाई, छूआछूत दूर करने और समाज को संगठित करने और आम आदमी का ज्ञानवर्धन करने का माध्यम बनाया। गणेश उत्सव को उन्होंने एक आंदोलन का स्वरूप दे दिया।
तिलक के शुरू किए गणेशोत्सव ने सामाजिक चेतना और राष्ट्र के प्रति एकता जागृत करने का काम किया। तिलक के शुरू किए गए गणेशोत्सव की एक विशेषता यह भी रही कि इस उत्सव में हिन्दुओं के साथ सभी धर्मो, क्षेत्रों और जाति संप्रदायों के लोग शामिल हुए और इस कारण महाराष्ट्र में गणेशोत्सव एक सर्वव्यापी त्योहार बन गया। तिलक द्वारा शुरू किए गए गणेशोत्सव ने लोगों को एकजुट करने और ब्रिटिश साम्राज्य की नींव हिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।
आज महाराष्ट्र में गणेशोत्सव सबसे बड़ा त्योहार है। महाराष्ट्र गणपति को मंगलकारी देवता के रूप में व मंगलपूर्ति के नाम से पूजता है। लेकिन अंग्रेज तिलक के सार्वजनिक गणेशोत्सव को अंग्रेज शासन के लिए खतरा मानते थे।
भारतीय समाज को एक दूसरे के खिलाफ तलवार लिए खड़े सम्प्रदायों में तो अंग्रेजों ने बांटा ही। हमारे मंगल के प्रतीकों का भी उन्होंने सांप्रदायीकरण किया। वो जानते थे कि भारतीय समाज के मंगल में उनका अमंगल था। इसलिए उन्होंने तिलक के शुरू किए गए सार्वजनिक गणेशोत्सव को रोकने और उसमें व्यवधान डालने की कोशिश की,लेकिन वह सफल नहीं हो सके।
तिलक के कारण गणपति घर घर के देवता बन गए और सिर्फ हिन्दुओं के ही नहीं, हर धर्म के लोग गणपति में अपना मंगल देखने लगे। हर वर्ग में सब काम बिना किसी विध्न के सम्पन्न हों और चारों तरफ मांगल्य रहे इसलिए गणपति को सबसे पहले पूजा जाता है।
बच्चों को भी सबसे पहले ॐ श्री गणेशायनम: से लिखना पढ़ना सिखाया जाता है और विवाह की पत्रिका सबसे पहले गणपति को ही दी जाती है।
गणपति का ऐसा स्थान और महत्व हमारे धार्मिक ही नहीं सांस्कृतिक जीवन में भी है। घर घर मनते एक धार्मिक उत्सव को सार्वजनिक जीवन का मंगल उत्सव बनाने का श्रेय लोकमान्य तिलक को जाता है। लेकिन दस दिन तक मनने वाले इस सार्वजनिक उत्सव के आखिरी दिन जब गणपति का विसर्जन कर गणेश भक्त घर लौटते है तो घर में एक अजीब सा खालीपन महसूस करते हैं। जैसे बेटी की विदाई के बाद घर में खालीपन और मन उदास महसूस होता है वैसे ही गणपित बप्पा के विसर्जन के बाद अनुभव होता हैं।
गणपति विसर्जन के बाद जैसे घर के सामान्य जीवन का क्रम भी उदासी में डूबकर थम जाता है। ऐसा महसूस होता है जैसे जीवन का सारा उत्सव अपने ही हाथों नदी में विसर्जित करके बहा आए हों।हालांकि गणेश जी का महत्व और महात्म्य पूरे देश में है लेकिन महाराष्ट्र के लिए गणेश उत्सव क्या है यह दिल्ली या शेष भारत के लोग तब तक नहीं समझ पायेंगे जब तक खुद महाराष्ट्र जाकर नहीं देखेंगे। दिल्ली या देश के दूसरे हिस्सों में गणेशोत्सव की वो जातीय स्मृतियां नहीं हैं जो इस उत्सव को लगभग हर घर और हर वर्ग का उत्सव बना दें। ऐसा सिर्फ महाराष्ट्र में ही होता है।
गणपति की जितनी जरूरत हमारे धार्मिक और सामाजिक जीवन को है उतनी ही देश की राजनीति को भी है। जैसे महाराष्ट्र में गणपति ने स्वतंत्रता आंदोलन को गति दी वैसे ही आज हमारे नेताओं को कोई सद्बुद्धि दे सकता है तो वह बुद्धि और मंगल के देवता गणपति ही दे सकते हैं। हमारे गणराज्य को बचाने के लिए अग्रदूत के रूप में गणपति ही चाहिए क्योंकि गणपति नहीं होते तो यह गणराज्य भी नहीं होता।

Posted in भारतीय उत्सव - Bhartiya Utsav

ગણપતી ઉત્સવ



* –*
*બળે છે મારું કાળજું*
*– સાંઈરામ દવે*

હે મારા પ્રીય ભકતો,

હું આજે તમને ફેસબૂક, વૉટ્સએપ અને ઈ.મેલ કરવા બેઠો છું. તમારા સુધી કોઈક તો પહોંચાડશે જ એવી આશા સાથે.
તમે લોકો છેલ્લાં ઘણાં વર્ષોથી ‘ગણપતી ઉત્સવ‘ ઉજવો છો એનાથી હું આમ તો ખુબ રાજી છું; પરન્તુ છેલ્લાં 10 વરસના ઑવરડોઝથી મારું કાળજું બળે છે. માટે જ આ લખવા પ્રેરાયો છું.

તમને યાદ તો છે ને કે .. 14મી સદીમાં સન્ત મોર્ય ગોસાવીએ પુણે પાસે મોરગાવમાં મારું પ્રથમ મન્દીર ‘મોર્યેશ્વર‘ બનાવ્યું હતું. ત્યારથી લોકો ગણપતીબાપા મોર્યને બદલે ‘મોરીયા’ બોલતા થયા.

તમે ભુલી ગયા કે મુગલો સામે હીન્દુત્વને એકઠું કરવા ઈ.સ. 1749માં
શીવાજી મહારાજે કુળદેવતા તરીકે મને (ગણપતીને) સ્થાપી પુજા શરુ કરાવી. તમને યાદ જ હશે કે ઈ.સ. 1893માં
બાળ ગંગાધર તીલકે મુમ્બઈના ગીરગાંવમાં સાર્વજનીક ગણેશ ઉત્સવથી અંગ્રેજો સામે ભારતને સંગઠીત કરવા આ ઉત્સવને ગરીમા બક્ષી.
વળી, પુણેમાં દગડુ શેઠે ઘરમાં મારી પધરામણી કરાવી, ત્યારથી દગડુશેઠ તરીકે મને પ્રસીદ્ધી મળી.

મારા આ ઉત્સવ સાથે ભારતને એક કરીને જગાડવાના કામના શ્રી ગણેશ ટીળકજીએ માંડ્યા’તા; પણ તમે લોકોએ હવે મારો તમાશો કરી નાંખ્યો છે. અરે યાર, શેરીએ–શેરીએ મારી (ગણપતીની) પધરામણી કરો છો, તમારી શ્રદ્ધાને અભિનંદન; પરન્તુ એકબીજાને બતાવી દેવા, સ્પર્ધા કરવા તમે લોકો તો મારા નામે ‘શક્તી–પ્રદર્શન‘ કરવા લાગ્યા છો.
આ ઉત્સવથી ભારતનું ભલું થાય એમ હતું એટલે આજ સુધી મેં આ બધું ચાલવા દીધું છે.
આ ગણપતી ઉત્સવનો સોસાયટીઓની ડૅકોરેશન કે જમણવારની હરીફાઈઓ માટે હરગીજ નથી. જેમને ખુરશી સીવાય બીજા એક પણ દેવતા સાથે લેવા–દેવા નથી તેઓ મારા ઉત્સવો શા માટે ઉજવી રહ્યા છે ?
આઈ એમ હર્ટ પ્લીઝ,
મારા વહાલા ભકતો, સમ્પતીનો આ વ્યય મારાથી જોવાતો નથી.

આખા દેશમાં ગણપતી ઉત્સવ દરમ્યાન
અગરબત્તીની દુકાનમાં લાઈન,
મીઠાઈની દુકાનમાં લાઈન, ફુલવાળાને ત્યાં લાઈન અરે યાર, આ બધું શું જરુરી છે?
માર્કેટની ડીમાન્ડને પહોંચી વળવા નકલી દુધ કે માવાની મીઠાઈઓ ડેરીવાળા પબ્લીકને ભટકાડે છે અને પબ્લીક મને પધરાવે છે..
હવે મારે ઈ ડુપ્લીકેટ લાડુ ખાઈને આશીર્વાદ કોને આપવા અને શ્રાપ કોને આપવા, કહો મને?

શ્રદ્ધાના આ અતીરેકથી હું ફ્રસ્ટ્રેટ થઈ ગયો છું.
એક ગામ કે શહેરમાં 50 કે 100 ગણપતી મહોત્સવ ઉજવાય એના કરતાં આખું ગામ કે શહેર કે બધી સોસાયટીઓ ભેગા મળીને ‘એક ગણપતી‘ ઉજવો તો સંત મોર્ય ગોસાવીનો, બાળ ગંગાધર ટીળકનો કે દગડુશેઠ અને શીવાજી મહારાજનો હેતુ સાર્થક થશે અને હું પણ રાજી..

હે…
વહાલા ગણેશભકતો,
હું તમારું ઍન્ટરટેઈનમેન્ટ નથી, હું તમારા દરેક શુભ કાર્યની શરુઆતનો નીમીત્ત છું,
અને તમે મારા ઉત્સવોથી મને જ ગોટે ચડાવી દીધો છે. હું દરેક ભક્તની વાત અને સુખ–દુઃખને ‘સાગરપેટો‘ બનીને સાચવી શકું તે માટે મેં મોટું પેટ રાખ્યું છે; પરન્તુ બ
મારા મોટા પેટનું કારણ ભુખ સમજીને મારા નામે તમે લોકો લાડવા દાબવા માંડ્યા.
મેં મોટા કાન રાખ્યા જેથી હું દરેક ભકતની ઝીણામાં ઝીણી વાત પણ સાંભળી શકું; પરન્તુ તમે લોકો તો
40000 વૉટની ડી. જે. સીસ્ટમ લગાડીને મારા કાન પકાવવા લાગ્યા છો.
મેં ઝીણી આંખો રાખી જેથી હું ઝીણા ભ્રષ્ટાચાર કે અનીષ્ટને પણ જોઈ શકું; પરન્તુ તમે તો તે ભ્રષ્ટાચારીઓ પાસેથી જ ફાળો ઉઘરાવાને મારી આરતી ઉતરાવો છો.

નવરાત્રીને તો તમે અભડાવી નાખી,
હવે ગણેશ ઉત્સવને ડાન્સ કે ડીસ્કો પાર્ટી ન બનાવો તો સારું.
માતાજીએ તમને માફ કર્યા હશે; પણ મને ગુસ્સો આવશે ને તો સુંઢભેગા સાગમટે પાડી દઈશ.
ઈટસ અ વોર્નીંગ.
કંઈક તો વીચાર કરો.
ચીક્કાર દારુ પીને મારી યાત્રામાં ડીસ્કો કરતાં તમને શરમ નથી આવતી ?
વ્યસનીઓએ ગણપતીબાપા મોરીયા નહીં;
પણ ગણપતીબાપા ‘નો–રીયા‘ બોલવું જોઈએ.

કરોડો રુપીયામાં મારા ઘરેણાંની હરાજી કરી લેવાથી હું પ્રસન્ન થઈ જાઉં એમ?
હું કાંઈ ફુલણશી છું કે લાખોની મેદની જોઈને હરખઘેલો થઈ જાઉં?
અરે, મારા ચરણે એક લાખ ભકતો ભલે ન આવે; પણ એકાદ સાચો ભકત દીલમાં સાચી શ્રદ્ધા લઈને આવશે ને તો ય હું રાજી થઈ જઈશ. લાડુના ઢગલા મારી સામે કરીને અન્નનો અતીરેક કરવા કરતાં ઝુંપડપટ્ટીના કોઈ ભુખ્યા બાળકને જમાડી દો, મને પહોંચી જશે.
મારા નામે આ દેખાડો થોડો ઓછો કરો. વહાલા ભક્તો, જે દરીયાએ અનેક ઔષધીઓ અને સમ્પત્તી તમને આપી છે એમાં જ મને પધરાવી દઈને પર્યાવરણનો કચ્ચરઘાણ વાળતાં સહેજ પણ વીચાર નથી કરતાં?
મારું વીસર્જન પણ કોઈ ગરીબના ઝુંપડાનું અજવાળું થાય એવું ન કરી શકો?

આ ગણપતી ઉત્સવે મારી છેલ્લી એક વાત માનશો ?
મારા નામે દાન કરવાની નક્કી કરેલી રકમના એક નાનકડા ભાગથી કોઈ ગરીબનાં છોકરા–છોકરીની સ્કુલની ફી ભરી દો તો મારું અન્તર રાજી થશે.
આ સમ્પત્તીનો વીવેકપુર્વક ઉપયોગ કરો.
આ ગણપતી ઉત્સવે ભારતને વફાદાર રહેવાના સોગંદ લો અને ભારતનો દરેક યુવાન, માવા, ફાકી, ગુટખા, દારુ અને તીનપત્તીમાંથી બહાર નીકળવાની કસમ ખાય અને દરેક દીકરીઓ ફેશનના સફોકેશનમાંથી બહાર નીકળવાની પ્રતીજ્ઞા લે તો જ આવતા વર્ષે આવીશ.
બાકી મારા નામે છુટા પાડવાનું, છેતરવાનું અને
દેવી–દેવતાઓને ઈમોશનલી બ્લેક મેઈલીંગ કરવાનું બન્ધ કરો.

કદાચ છેલ્લીવાર
ભારત આવેલો તમારો જ,

લી. ગણેશ

‘મહાદેવ‘ કૈલાશ પર્વત, સ્વર્ગલોકની બાજુમાં.

લેખક સમ્પર્ક :
શ્રી. સાંઈરામ દવે –
લોક સાહીત્યકાર અને હાસ્યકલાકાર
🍀

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

♦️♦️♦️ रात्रि कहांनी ♦️♦️♦️


👉 *!! मदद !!* 🏵️
🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅
एक समय मोची का काम करने वाले व्यक्ति को रात में भगवान ने सपना दिया और कहा कि कल सुबह मैं तुझसे मिलने तेरी दुकान पर आऊंगा।

मोची की दुकान काफी छोटी थी और उसकी आमदनी भी काफी सीमित थी। खाना खाने के बर्तन भी थोड़े से थे। इसके बावजूद वो अपनी जिंदगी से खुश रहता था।

एक सच्चा, ईमानदार और परोपकार करने वाला इंसान था। इसलिए ईश्वर ने उसकी परीक्षा लेने का निर्णय लिया।

मोची ने सुबह उठते ही तैयारी शुरू कर दी। भगवान को चाय पिलाने के लिए दूध, चायपत्ती और नाश्ते के लिए मिठाई ले आया। दुकान को साफ कर वह भगवान का इंतजार करने लगा। उस दिन सुबह से भारी बारिश हो रही थी। थोड़ी देर में उसने देखा कि एक सफाई करने वाली बारिश के पानी में भीगकर ठिठुर रही है। मोची को उसके ऊपर बड़ी दया आई और भगवान के लिए लाए गये दूध से उसको चाय बनाकर पिलाई।

दिन गुजरने लगा। दोपहर बारह बजे एक महिला बच्चे को लेकर आई और कहा कि मेरा बच्चा भूखा है इसलिए पीने के लिए दूध चाहिए। मोची ने सारा दूध उस बच्चे को पीने के लिए दे दिया। इस तरह से शाम के चार बज गए। मोची दिनभर बड़ी बेसब्री से भगवान का इंतजार करता रहा।

तभी एक बूढ़ा आदमी जो चलने से लाचार था आया और कहा कि मैं भूखा हूं और अगर कुछ खाने को मिल जाए तो बड़ी मेहरबानी होगी। मोची ने उसकी बेबसी को समझते हुए मिठाई उसको दे दी। इस तरह से दिन बीत गया और रात हो गई।

रात होते ही मोची के सब्र का बांध टूट गया और वह भगवान को उलाहना देते हुए बोला कि “वाह रे भगवान सुबह से रात कर दी मैंने तेरे इंतजार में लेकिन तू वादा करने के बाद भी नहीं आया। क्या मैं गरीब ही तुझे बेवकूफ बनाने के लिए मिला था।”

तभी आकाशवाणी हुई और भगवान ने कहा कि ” मैं आज तेरे पास एक बार नहीं, तीन बार आया और तीनों बार तेरी सेवाओं से बहुत खुश हुआ। और तू मेरी परीक्षा में भी पास हुआ है, क्योंकि तेरे मन में परोपकार और त्याग का भाव सामान्य मानव की सीमाओं से परे हैं।”

*शिक्षा:-*
किसी भी मजबूर या ऐसा व्यक्ति जिसको आपकी मदद की जरूरत है उसकी मदद जरूर करना चाहिए। क्योंकि शास्त्रों में कहा गया है कि ‘नर सेवा ही नारायण सेवा है’। और मदद की उम्मीद रखने वाले, जरूरतमंद और लाचार लोग धरती पर भगवान की तरह होते हैं। जिनकी सेवा से सुकून के साथ एक अलग संतुष्टी का एहसास होता है..!!

*सदैव प्रसन्न रहिये।*
*जो प्राप्त है पर्याप्त है।।*
✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

डॉ विश्वेश्वरैया


एक ट्रेन द्रुत गति से दौड़ रही थी। ट्रेन अंग्रेजों से भरी हुई थी। उसी ट्रेन के एक डिब्बे में अंग्रेजों के साथ एक भारतीय भी बैठा हुआ था।

डिब्बा अंग्रेजों से खचाखच भरा हुआ था। वे सभी उस भारतीय का मजाक उड़ाते जा रहे थे। कोई कह रहा था, देखो कौन नमूना ट्रेन में बैठ गया, तो कोई उनकी वेश-भूषा देखकर उन्हें गंवार कहकर हँस रहा था।कोई तो इतने गुस्से में था कि ट्रेन को कोसकर चिल्ला रहा था, एक भारतीय को ट्रेन मे चढ़ने क्यों दिया ? इसे डिब्बे से उतारो।

किँतु उस धोती-कुर्ता, काला कोट एवं सिर पर पगड़ी पहने शख्स पर इसका कोई प्रभाव नही पड़ा।वह शांत गम्भीर भाव लिये बैठा था, मानो किसी उधेड़-बुन मे लगा हो।

ट्रेन द्रुत गति से दौड़े जा रही थी औऱ अंग्रेजों का उस भारतीय का उपहास, अपमान भी उसी गति से जारी था।किन्तु यकायक वह शख्स सीट से उठा और जोर से चिल्लाया “ट्रेन रोको”।कोई कुछ समझ पाता उसके पूर्व ही उसने ट्रेन की जंजीर खींच दी।ट्रेन रुक गईं।

अब तो जैसे अंग्रेजों का गुस्सा फूट पड़ा।सभी उसको गालियां दे रहे थे।गंवार, जाहिल जितने भी शब्द शब्दकोश मे थे, बौछार कर रहे थे।किंतु वह शख्स गम्भीर मुद्रा में शांत खड़ा था। मानो उसपर किसी की बात का कोई असर न पड़ रहा हो। उसकी चुप्पी अंग्रेजों का गुस्सा और बढा रही थी।

ट्रेन का गार्ड दौड़ा-दौड़ा आया. कड़क आवाज में पूछा, “किसने ट्रेन रोकी”।

कोई अंग्रेज बोलता उसके पहले ही, वह शख्स बोल उठा:- “मैंने रोकी श्रीमान”।

पागल हो क्या ? पहली बार ट्रेन में बैठे हो ? तुम्हें पता है, अकारण ट्रेन रोकना अपराध हैं:- “गार्ड गुस्से में बोला”

हाँ श्रीमान ! ज्ञात है किंतु मैं ट्रेन न रोकता तो सैकड़ो लोगो की जान चली जाती।

उस शख्स की बात सुनकर सब जोर-जोर से हंसने लगे। किँतु उसने बिना विचलित हुये, पूरे आत्मविश्वास के साथ कहा:- यहाँ से करीब एक फरलाँग की दूरी पर पटरी टूटी हुई हैं।आप चाहे तो चलकर देख सकते है।

गार्ड के साथ वह शख्स और कुछ अंग्रेज सवारी भी साथ चल दी। रास्ते भर भी अंग्रेज उस पर फब्तियां कसने मे कोई कोर-कसर नही रख रहे थे।

किँतु सबकी आँखें उस वक्त फ़टी की फटी रह गई जब वाक़ई , बताई गई दूरी के आस-पास पटरी टूटी हुई थी।नट-बोल्ट खुले हुए थे।अब गार्ड सहित वे सभी चेहरे जो उस भारतीय को गंवार, जाहिल, पागल कह रहे थे।वे उसकी और कौतूहलवश देखने लगे, मानो पूछ रहे हो आपको ये सब इतनी दूरी से कैसे पता चला ??..

गार्ड ने पूछा:- तुम्हें कैसे पता चला , पटरी टूटी हुई हैं ??.

उसने कहा:- श्रीमान लोग ट्रेन में अपने-अपने कार्यो मे व्यस्त थे।उस वक्त मेरा ध्यान ट्रेन की गति पर केंद्रित था। ट्रेन स्वाभाविक गति से चल रही थी। किन्तु अचानक पटरी की कम्पन से उसकी गति में परिवर्तन महसूस हुआ।ऐसा तब होता हैं, जब कुछ दूरी पर पटरी टूटी हुई हो।अतः मैंने बिना क्षण गंवाए, ट्रेन रोकने हेतु जंजीर खींच दी।

गार्ड औऱ वहाँ खड़े अंग्रेज दंग रह गये. गार्ड ने पूछा, इतना बारीक तकनीकी ज्ञान ! आप कोई साधारण व्यक्ति नही लगते।अपना परिचय दीजिये।

शख्स ने बड़ी शालीनता से जवाब दिया:- श्रीमान मैं भारतीय इंजीनियर मोक्षगुंडम_विश्वेश्वरैया…

जी हाँ ! वह असाधारण शख्स कोई और नही “डॉ विश्वेश्वरैया” थे।

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

!! जीवन का आनंद !!


Shitala Dubey

~~~~~~~~~~~

बहुत समय पहले की बात है जब सिकंदर अपने शक्ति के बल पर दुनिया भर में राज करने लगा था वह अपनी शक्ति पर इतना गुमान करने लगा था कि अब वह अमर होना चाहता था उसने पता लगाया कि कहीं ऐसा जल है जिसे पीने से व्यक्ति अमर हो सकता है !

देश-दुनिया में भटकने के बाद आखिरकार सिकंदर ने उस जगह को खोज लिया जहां पर उसे अमृत प्राप्त हो सकता था वह एक पुरानी गुफा थी जहां पर कोई आता जाता नहीं था।

देखने में वह बहुत डरावनी लग रही थी लेकिन सिकंदर ने एक जोर से सांस ली और गुफा में प्रवेश कर गया वहां पर उसने देखा कि गुफा के अंदर एक अमृत का झरना बह रहा है!

उसने जल पीने के लिए हाथ ही बढ़ाया था कि एक कौवे की आवाज आई कौवा गुफा के अंदर ही बैठा था कौवा जोर से बोला ठहर रुक जा यह भूल मत करना…सिकंदर ने कौवे की तरफ देखा।। वह बड़ी ही दयनीय अवस्था में था, पंख झड़ गए थे, पंजे गिर गए थे, वह अंधा भी हो गया था बस कंकाल मात्र ही शेष रह गया था!

सिकंदर ने कहा तू कौन होता है मुझे रोकने वाला….मैं पूरी दुनिया को जीत सकता हूं तो यह अमृत पीने से मुझे तो कैसे रोकता है तब कौवे ने आंखों से आंसू टपकाते हुए बोला कि मैं भी अमृत की तलाश में ही इस गुफा में आया था…और मैंने जल्दबाजी में अमृत पी लिया अब मैं कभी मर नहीं सकता, पर अब मैं मरना चाहता हूं लेकिन मर नहीं सकता। देख लो मेरी हालत कौवे की बात सुनकर सिकंदर देर तक सोचता रहा सोचने के बाद फिर बीना अमृत पीए ही चुपचाप गुफा से बाहर वापस लौट आया।

सिकंदर समझ चुका था कि जीवन का आनंद उस समय तक ही रहता है जब तक हम उस आनंद को भोगने की स्थिति में होते है !

शिक्षा – जीवन में हमें हमेशा खुश रहना चाहिए हमें कभी भी खुश रहने के लिए बड़ी सफलता या समय का इंतजार नहीं करना चाहिए क्योंकि समय के साथ हम बूढ़े होते जाते हैं और फिर अपने जीवन का असली आनंद नहीं उठा पाते है।

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

ખાવામાં કાંકરા


હા ઈ અમદાવાદ નું તળાવ હતું. એકદમ શાંત. વખત જતાં નવી નવી સરકાર આવી. તળાવ નું સુશોભીકરણ થયું. તેના કાંઠે પાળ બંધાઈ. બગીચાઓ બન્યા. પ્રેમ પખીડા ને હવે નવી ડાળ મળી ગઈ બેસવા ને ગપસપ કરવા.

ખિસ્સા ખાલી ને દેખાડો રાજ કુવરનો. શું કરે બસ તળાવની પાળે બેસી કાઠા પર વીણી વીણી પત્થરો ફેક્ય કરે. રોજ તળાવ ફરિયાદ કરે. “ હે નાવીરી બજારનાઓ, આ મારા શાંત વિસ્તારમાં કાં ને વમળ ઉભા કરો છો? “ પણ સાંભળે કોણ? બધું તળાવ ને આ લવેરિયા નું સાંભળવું પડે. પાળી પર બેસી કહે.” તારી માટે આકાશ માંથી તારા તોડી લાવીશ”.

તળાવ તેને કહે: “ તમે આટલું બધું ફેકવાનું જ્ઞાન લાવો ક્યાંથી છો ? “

એક દિવસ કંટાળીને તળાવે શ્રાપ આપ્યો. રોજ રોજ જે કાંકરા મારા વિસ્તાર માં નાખો છો એ બધા તમારા જમવામાં નીકળશે. બસ ત્યારથી જમવામાં કાંકરા નીકળવા લાગ્યા.

ત્યાજ વાચકો બોલ્યા.” ભાઈ અમે તો ગોઠવેલા લગ્ન કરેલા તો બી અમારા ખાવાના માં કાંકરા નીકળે છે ? “

ત્યાજ આકાશવાણી થઇ “ પીટ્યા એ લોકો જયારે કાંકરા નાખતા હતા ત્યારે તમે બધા ટો ગણાતા હતા ને ? બસ એ જ પાપ તમને ચીટકી ગયું છે.”

હર્ષદ અશોડીયા

૮૩૬૯૧૨૩૯૩૫ 

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

એક ખેતરના ખૂણા પર મકાન બનાવીને એક કુટુંબ રહેતું હતું. માં-બાપ, દાદાજી, તેમનો પૌત્ર. માં-બાપ રોજે મજુરી ઉપર નીકળી જતા, અને ઘરે દાદાજી અને દસ વરસનો પૌત્ર જ રહેતા. દાદાજી રોજે સવારે વહેલા ઉઠીને બારી પાસે મુકેલી ખુરશી પર બેસીને પુસ્તકો વાંચતા રહેતા.

એક દિવસ પૌત્રએ પૂછ્યું: “દાદા…હું તમારી જેમ જ બુક્સ વાંચવાનો પ્રયત્ન કરું છું, પણ હું તેમાં કઈ સમજતો નથી. અને હું જે કઈ પણ સમજુ છું એ એક-બે દિવસમાં ભૂલી જાઉં છું. ઘણીવાર તો બુક બંધ કરું ને પાછળ બધું ભુલાઈ જાય છે. તમે પણ બધું ભૂલી જાઓ છો. તો પછી પુસ્તકો અને કહાનીઓ વાંચવાનો મતલબ શું?”

દાદાજી હસ્યા, અને ઉભા થઈને રસોડામાં ગયા અને લોટ ચાળવાનો ગંદો હવાલો લઈને આવ્યા. પોતાના પૌત્રને કહ્યું: “આ હવાલો લે, અને બહાર ખેતરમાં જતા પાણીના ધોરીયા માંથી હવાલો ભરીને લેતો આવ. મારે આ હવાલામાં સમાય એટલું પાણી જોઈએ છે.”

દીકરાને જેમ કહેલું તેમ કર્યું, પરંતુ હવાલો ભરીને દોડતો દાદાજી પાસે આવ્યો એ પહેલા જ હવાલાના કાણાઓ માંથી બધું પાણી લીક થઇ ગયું. દાદાજી હસ્યા અને કહ્યું: “બીજી વાર ભરતો આવ, પરંતુ આ વખતે ઝડપથી દોડીને આવજે.” દીકરો બીજી વાર ગયો, પણ ફરીથી તે દાદાજી પાસે પહોંચે એ પહેલા હવાલો ખાલી હતો! હાંફતા-હાંફતા તેણે દાદાજીને કહ્યું કે આ હવાલામાં તો પાણી ભરીને લાવવું અશક્ય લાગે છે. હું એક ગ્લાસમાં કે લોટામાં ભરતો આવું.
પરંતુ દાદાજી કહે: “ના. મારે આ હવાલામાં સમાય એટલું પાણી જ પીવું છે! મને લાગે છે તું સરખી કોશિશ નથી કરી રહ્યો.” છોકરો ફરી બહાર ગયો, અને પૂરી ઝડપથી દોડતો આવ્યો, પણ હવાલો ફરી ખાલી જ હતો! થાકીને જમીન પર બેસીને દાદાજીને તેણે કહ્યું: “દાદા…કહું છું ને…આ નકામું છે. ના ચાલે.”

“ઓહ… તો તને લાગે છે કે આ નકામું કામ છે?” દાદાજીએ કહ્યું, “-તું એકવાર હવાલા સામે તો જો.”

છોકરાએ હવાલાને જોયો અને પહેલીવાર તેણે જોયું કે હવાલો બદલાઈ ગયો હતો. તે જુના ગંદા હવાલા માંથી ધોવાયેલો, ચોખ્ખો, ચળકતો હવાલો બની ગયો હતો. તેના દરેક મેલ ધોવાઇ ગયા હતા.

દાદાજીએ હસીને કહ્યું: “બેટા…જયારે તમે પુસ્તકો વાંચો ત્યારે આવું થાય છે. તું કદાચ બધું સમજે નહી, કે બધું યાદ ન રહે, પરંતુ જયારે તમે વાંચો, ત્યારે તમે બદલાતા હો છો. અંદર અને બહાર પણ. કોઈ પણ કહાની કે કોઈ સારી વાત તમને અંદરથી થોડા ધોઈ નાખે છે, અને તમારો મેલ દુર કરે છે.”

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

એક કાના નામનો છોકરો અંજલિ નામની છોકરીને છાનો છાનો પ્રેમ કરતો હતો !

એક દિવસ તેણે અંજલિને કહ્યું :- હું તને ખુબજ પ્રેમ કરું છું !

અંજલિ બોલી:- પણ હું તને પ્રેમ નથી કરતી અને લગ્ન પણ નહીં કરી શકું! તું ખૂબ ગરીબ છું, એક આંખે કાણો પણ છું અને મારી જે ઈચ્છાઓ છે તે તું પુરી નહિ કરી શકું !


છોકરાએ કહ્યું :- હું પુરી કોશિશ કરીશ તારી બધી ઈચ્છા પૂરી કરવાની પણ અંજલિને કોઈ
વાત ના સાંભળી અને ત્યાંથી ચાલી ગઈ ! થોડા વર્ષો બાદ અંજલીના લગ્ન સારા હોદ્દાવાળા અધિકારી સાથે થઈ ગઈ !



એની બધી ઈચ્છાઓ પૂરી થતી, કેમકે તેનો પતિ બહુ મોટી ફેક્ટરીનો મેનેજર હતો!



એક દિવસ ફેક્ટરીમાં પાર્ટી હતી એમાં પોતાની પત્ની અંજલીને પણ લઈ ગયોઅને પત્ની અંજલીને તેના બોસ સાથે ઓળખાણ કરાવી !


તેની પત્ની બોસને જોઈ હેરાન થઈ ગઈ, કેમકે આ એજ છોકરો કાનો હતો જેણે તેને પસંદ કરી હતી !


પછી તેના પતિએ એના બોસની ઓળખાણ કરાવી કે આ મારા બૉસ છે અને મારા બૉસ વાર્ષિક રૂ.5,000 કરોડનું ટર્નઓવર કરે છે! પછી અંજલીના પતિને તેના મિત્રએ બોલાવી લીધો અને અંજલી તેના પતિના બૉસ સામે ઉભી રહી ગઈ !

અંજલી બોલી:- તમે એજ છો ને જો મારી સાથે લગ્ન કરવા ઇચ્છતા હતા ?

છોકરાએ કહ્યું :- હા, હું એ જ છું !

પછી અંજલી બોલી:- મેં બહુ મોટી ભૂલ કરી જો તમારા પર વિશ્વાસ ના કર્યો ! મને માફ કરશો !

છોકરો બોલ્યો:- કોઈ વાંધો નહીં !
ફરી અંજલી બોલી :- તમે લગ્ન કર્યા ?

છોકરાએ કહ્યું:- ના, હવે મારે લગ્ન કરવાની કોઈ ઈચ્છા નથી!

હવે છોકરી મનોમન પસ્તાઈ રહી હતી

Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

बाँका


#बाँका नाम का वर्तमान जिला
**************************
बिहार का अब एक जिला है बाँका। चारों ओर से नदी के संजाल से घिरा यह त्रिमुहान क्षेत्र है बिहार का, जिससे झारखंड की सीमा लगती है। कह सकते हैं कि यह वो क्षेत्र है जहां प्रवेश करने के लिए पहले आपको चरण धोने होते हैं। अब नदियों पर पुल बन गए तो चरण धोने की परंपरा समाप्त होती गई।

यहाँ आप आम लोगों से पूछें कि इसका नाम #बाँका क्यों पड़ा? वे बताएंगे कि यहां के लोग बाँका होते थे इसलिए…। वैसे, बाँका का शाब्दिक अर्थ बहुत है। वीर, डेढ़ा, प्रियतम, प्रियदर्शी जैसे और भी। लोग कहेंगे कि यह क्षेत्र लड़ाकों का रहा है, वीरों का रहा है इसलिए ‘बाँका’ है। यह सच भी है कि क्षेत्र लड़ाकों का रहा मगर अंग्रेज इसे #बाँका क्यों कहते भला?

बाँका की पहली चर्चा 1810 में आए फ्रांसिस बुकनन करते हैं। उन्होंने इस बाँका क्षेत्र में 6 नवंबर 1810 को पहली बार कदम रखा था। वे पर्वतों की गोद में बसे पहरीडीह पहुंचे जहां 58 वर्षों बाद 1869 में बाबू रास बिहारी बोस पहुंचे थे। वहां आसपास से हेमेटाइट लाकर लोहा पृथक्करण के बाद उसका औजार बनाने का काम होता था। यह काम कोल करते थे।

इससे पहले इस क्षेत्र का सर्वे करने जेम्स रेनेल फोर्ट विलियम के गवर्नर हेनरी वेंसिटार्ट के 6 मई 1764 का पत्र लेकर आए थे। उनके साथ एक सहायक सर्वेयर, 3 अन्य सहायक यूरोपियन, 11 लश्कर, 11 मोटिया, 11 सिपाही व एक दुभाषिया था। इस दल में कुल 39 सदस्य थे।

इस इलाके के सभी नदी-नालों, टीलों, मंदिरों का अवलोकन कराया। इस बात पर भी गौर किया कि लोगों का रहन-सहन क्या है?

रेनेल नीत टीम को तब बाँका जैसी कोई खास जगह नहीं मिली। हां, इसके समीप एक ग्राम जरूर था जिसे #बोगरिया कहा जाता था। यह बाँका से एक किलोमीटर दूर बड़ा ग्राम था। इससे यह अर्थ नहीं लगाया जा सकता कि बाँका तब था या नहीं। रेनेल ने अपने सर्वे में, नक्शे में इसकी चर्चा नहीं की।
●●●

बाँका नाम #कृष्ण का भी है। हमें यह नहीं भूलना चाहिए। उन्हें ब्रज में बाँके बिहारी कहते हैं तो नदिया (पश्चिम बंगाल) में ‘बाँका’ ही पुकारा जाता है। अब भी नित्यानंद महाप्रभु (निताई) के एकचक्र ग्राम में कृष्ण का प्रसिद्ध मंदिर है। इसके विग्रह को ‘बाँका’ ही कहते हैं। वैसे, बहुत जगह इन्हें बाँका कहने का प्रचलन है।
●●●

चैतन्य देव नदिया ग्राम से मंदार होते हुए गया तीर्थ इसी मार्ग से गए। गीताप्रेस द्वारा प्रकाशित ‘चैतन्य चरितावली’ इस यात्रा को अति-संक्षेप में बताता है। उनके साथ चल रहे संगियों ने अपनी डायरी में लिखा है कि बाँका (कृष्ण) के जिस विग्रह को वे साथ लेकर चल रहे थे उसे मंदार से आगे बढ़ने पर नदी पार के एक राजा के अनुरोध पर अपनी निशानी के तौर पर छोड़ गए। भौगोलिक साक्ष्य यह संकेत देते हैं कि वह जगह आज का #ककवारा है।
●●●

सन 1866 में ककवारा के पहाड़ के समीप कुछ लोगों द्वारा कृषि कार्य के दौरान कांस्य की एक प्रतिमा निकली थी। इस पर एक पुरालेख है। इस लेख को 1871 में जेम्स बर्गीज़ ने पढ़ा। इससे पता चलता है कि यहां एक विशिष्ट नगर था। इस नगर के राजा का नाम गोविंद था। यह मूर्ति उनके राज्यारोहण के 23वें वर्ष में प्रतिष्ठित किया गया था।
●●●

ईस्वी 1507 में चैतन्य महाप्रभु की टोली इस होकर गई थी। संभवतः यहीं के किसी राजा ने उक्त विग्रह को ग्रहण किया था।

यह कथा आज भी चर्चित है कि मंदार पर्वत से वे जमदाहा, ककवारा, तारापुर होते हुए गंगा के किनारे-किनारे पुनपुन पहुंचे और फिर वहां से गया तीर्थ। यह लंबा रास्ता संभवतः सघन वन क्षेत्र होने के कारण उनके दल ने चुना होगा।
●●●

जहांगीर काल की एक पुस्तक का विवरण इस ग्राम को ‘चक्रवर’ बताता है। सभी जानते हैं कि चक्र किन देवता का आयुध है। यहां भी कृष्ण ही हैं। वे ही #बाँका हैं।
●●●

इतिहासकार केपी जायसवाल मानते हैं कि बोगरिया ग्राम 18वीं सदी के पूर्वार्द्ध में बसा। यहां कुछ लोग भागलपुर के चंपानगर से आए जिन्हें डुमराँव के क्षत्रिय जमींदारों ने बसने नहीं दिया।

वे जहां बसे उस जगह को पहले बोगलिया कहा जाता था। ये बोगलीपुर से आए थे। बाद में अपभ्रंश रूप में यह #बोगरिया हो गया। अब इसे एक मानक नामकरण कर दिया गया है। इसे #विजयनगर कहा जाता है। यहां केदारवंशियों की संख्या बहुत अधिक थी। आज के बाँका जिले में जहां भी कादर जाति के लोग मिलेंगे वे पूर्णिया से बोगलीपुर फिर बाँका में आए। उस समय यह समस्या थी कि आक्रमणकारी उस गांव को सर्वाधिक क्षति पहुंचाते थे जो सघन होता था। अतः छोटे-छोटे जमींदार अपने कुनबे में बाहरी लोगों को कम ही बसाते थे।
●●●

चक्रवरा अपने समय में बाँका मंदिर से ख्यात हो गया था। वह समय वैष्णव काल था। नाम संकीर्तन की परंपरा चैतन्य के प्रताप से इस क्षेत्र में भी विस्तृत हो गई थी। यह क्षेत्र पूर्व से ही मधुसूदन के प्रभाव में था जिसे चैतन्य महाप्रभु और वल्लभाचार्य ने आकर अधिक कर दिया।

उसी बाँका मंदिर की प्रसिद्धि के कारण इस जगह का नाम ‘बाँका’ पड़ा।

चक्रवरा ग्राम अब ककवारा नाम से जाना जाता है। यह अंग्रेजी लेखन का प्रभाव है। तोमर टोला का यह छोटा मंदिर अब ज़मीन में 10 फीट से अधिक धंस चुका है। इसका प्राचीन विग्रह ज़मीन से लगभग 20 फीट नीचे चला गया है जो आंशिक रूप से नज़र आता है। जब इस मंदिर का अस्तित्व था तब 1897 में यहां एक कुआं का निर्माण किया गया।

सन 1869 में बाँका सबडिवीजन बना। उससे पहले बौंसी सबडिवीजन था। बौंसी में गोड्डा और हंसडीहा से आगे तक के क्षेत्र थे। बाँका के पहले एसडीओ बाबू रासबिहारी बोस थे। इनका क्षेत्रीय ऐतिहासिक भ्रमण और लेखन आज भी आदर की दृष्टि से देखा जाता है।

बोस बाबू के काल 1870 में बाँका में 7 कैदियों को रखने के लिए पहली बार जेल बनाया गया था। तब एक प्राथमिक इंग्लिश स्कूल बोगरिया में हुआ करता था। इसे किसी कायस्थ ने अपने निजी फंड से स्थापित किया था। सन 1899 में रानी महकम कुमारी ने यहां एक इंग्लिश हाई स्कूल बनवाया। आज यह रानी महकम कुमारी इंटरस्तरीय विद्यालय (आर.एम.के) है। सन 1959 में पंडित बेनी शंकर शर्मा (1966 में सांसद) ने पीबीएस कॉलेज की स्थापना की। ये कलकत्ता हाईकोर्ट में आयकर के नामचीन अधिवक्ता थे।
●●●

सन 1913 में बाँका ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ख्याति तब अर्जित की जब यहां समुद्रगुप्त काल के दो सिक्के निकले थे। इनमें से एक स्वर्ण का सिक्का था जिसे

21 फरवरी 1991 से बाँका एक जिला है।

———————
(पाठकगण क्षमा करेंगे। सुरक्षा कारणों से यहां संदर्भों का पूर्ण विवरण नहीं दे रहा हूँ।)

~ उदय शंकर झा ‘चंचल’

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

♦️♦️♦️ रात्रि कहांनी ♦️♦️♦️


*👉 सबसे बड़ा पुण्य* 🏵️
🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅
एक *राजा बहुत बड़ा प्रजापालक था, हमेशा प्रजा के हित में प्रयत्नशील रहता था. वह इतना कर्मठ था कि अपना सुख, ऐशो-आराम सब छोड़कर सारा समय जन-कल्याण में ही लगा देता था . यहाँ तक कि जो मोक्ष का साधन है अर्थात भगवत-भजन, उसके लिए भी वह समय नहीं निकाल पाता था।*

*एक सुबह राजा वन की तरफ भ्रमण करने के लिए जा रहा था कि उसे एक देव के दर्शन हुए. राजा ने देव को प्रणाम करते हुए उनका अभिनन्दन किया और देव के हाथों में एक लम्बी-चौड़ी पुस्तक देखकर उनसे पूछा- “ महाराज, आपके हाथ में यह क्या है?”*

देव बोले- “राजन! यह हमारा बहीखाता है, जिसमे सभी भजन करने वालों के नाम हैं।”

राजा ने *निराशायुक्त भाव से कहा- “कृपया देखिये तो इस किताब में कहीं मेरा नाम भी है या नहीं?”*

*देव महाराज किताब का एक-एक पृष्ठ उलटने लगे, परन्तु राजा का नाम कहीं भी नजर नहीं आया।*

*राजा ने देव को चिंतित देखकर कहा- “महाराज ! आप चिंतित ना हों , आपके ढूंढने में कोई भी कमी नहीं है. वास्तव में ये मेरा दुर्भाग्य है कि मैं भजन-कीर्तन के लिए समय नहीं निकाल पाता, और इसीलिए मेरा नाम यहाँ नहीं है.”*

उस दिन राजा के मन में आत्म-ग्लानि-सी उत्पन्न हुई लेकिन इसके बावजूद उन्होंने इसे नजर-अंदाज कर दिया और पुनः परोपकार की भावना लिए दूसरों की सेवा करने में लग गए ।

कुछ दिन बाद *राजा फिर सुबह वन की तरफ टहलने के लिए निकले तो उन्हें वही देव महाराज के दर्शन हुए, इस बार भी उनके हाथ में एक पुस्तक थी. इस पुस्तक के रंग और आकार में बहुत भेद था, और यह पहली वाली से काफी छोटी भी थी.*

राजा ने फिर उन्हें प्रणाम करते हुए पूछा- “महाराज ! आज कौन सा बहीखाता आपने हाथों में लिया हुआ है?”

देव ने कहा- “राजन! आज के बहीखाते में उन लोगों का नाम लिखा है जो ईश्वर को सबसे अधिक प्रिय हैं !”

राजा ने कहा- *“कितने भाग्यशाली होंगे वे लोग ? निश्चित ही वे दिन रात भगवत-भजन में लीन रहते होंगे !! क्या इस पुस्तक में कोई मेरे राज्य का भी नागरिक है ? ”*

देव महाराज ने बहीखाता खोला , और ये क्या , पहले पन्ने पर पहला नाम राजा का ही था।

*राजा ने आश्चर्यचकित होकर पूछा- “महाराज, मेरा नाम इसमें कैसे लिखा हुआ है, मैं तो मंदिर भी कभी-कभार ही जाता हूँ ?*

देव ने कहा- “राजन! इसमें आश्चर्य की क्या बात है? जो लोग निष्काम होकर संसार की सेवा करते हैं, जो लोग संसार के उपकार में अपना जीवन अर्पण करते हैं. जो लोग मुक्ति का लोभ भी त्यागकर प्रभु के निर्बल संतानो की सेवा-सहायता में अपना योगदान देते हैं उन त्यागी महापुरुषों का भजन स्वयं ईश्वर करता है. ऐ राजन! तू मत पछता कि तू पूजा-पाठ नहीं करता, लोगों की सेवा कर तू असल में भगवान की ही पूजा करता है. परोपकार और निःस्वार्थ लोकसेवा किसी भी उपासना से बढ़कर हैं.

देव ने वेदों का उदाहरण देते हुए कहा- “कुर्वन्नेवेह कर्माणि जिजीविषेच्छनं समाः एवान्त्वाप नान्यतोअस्ति व कर्म लिप्यते नरे..”
अर्थात ‘कर्म करते हुए सौ वर्ष जीने की ईच्छा करो तो कर्मबंधन में लिप्त हो जाओगे.’ राजन! भगवान दीनदयालु हैं. उन्हें खुशामद नहीं भाती बल्कि आचरण भाता है.. सच्ची भक्ति तो यही है कि परोपकार करो. दीन-दुखियों का हित-साधन करो. अनाथ, विधवा, किसान व निर्धन आज अत्याचारियों से सताए जाते हैं इनकी यथाशक्ति सहायता और सेवा करो और यही परम भक्ति है..”


राजा को *आज देव के माध्यम से बहुत बड़ा ज्ञान मिल चुका था और अब राजा भी समझ गया कि परोपकार से बड़ा कुछ भी नहीं और जो परोपकार करते हैं वही भगवान के सबसे प्रिय होते हैं।*

*💐💐शिक्षा💐💐*

मित्रों, *जो व्यक्ति निःस्वार्थ भाव से लोगों की सेवा करने के लिए आगे आते हैं, परमात्मा हर समय उनके कल्याण के लिए यत्न करता है. हमारे पूर्वजों ने कहा भी है- “परोपकाराय पुण्याय भवति” अर्थात दूसरों के लिए जीना, दूसरों की सेवा को ही पूजा समझकर कर्म करना, परोपकार के लिए अपने जीवन को सार्थक बनाना ही सबसे बड़ा पुण्य है. और जब आप भी ऐसा करेंगे तो स्वतः ही आप वह ईश्वर के प्रिय भक्तों में शामिल हो जाएंगे ।*


*नित याद करो मन से शिव परमात्मा को*☝🏻

*सदैव प्रसन्न रहिये।*
*जो प्राप्त है, पर्याप्त है।।*

🙏🙏🙏🙏