Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

કંડકટર અને ચોર


કંડકટરને ભાડુ આપવા જેવો મેં ખીસ્સામાં હાથ નાખ્યો ત્યાં બાજુમાં બેઠેલા ભાઈએ હાથ પકડીને કીધુ બાપા રહેવા દ્યો હું તમારી ટીકીટ લઈ લઉં છું, મેં ના પાડી તો ય ધરાર મારી ટીકીટ એણે લીધી, આગળના સ્ટોપે એ ભાઈ ઉતરી ગયા ને હું મારા ખીસ્સામાં હાથ નાખીને કાંઈક કાઢવા ગયો ત્યાં મગજ બે’ર મારી ગયુ કારણ કે એ ભાઈ મારૂં ગજવું કાપી ગયો હતો.!

બીજે દિવસે એ ભાઈ મને બજારમાં મળી ગયા એ ચોર મને ગળે મળીને રડવા લાગ્યો ને કહે મને માફ કરી દયો તમારૂ ખીસ્સુ કાપ્યા પછી મારી ઘરવાળી મરી ગઈ, મેં પણ ચોરને માફ કરી દીધો.! ચોર જતો રહ્યો પણ ગળે મળ્યો ત્યારે મારો સોનાનો ચેઈન ચોરતો ગયો.!!

હવે મળે તો ધોઈ નાખવો છે એવુ પાક્કું નક્કી કરી નાખ્યું હતું ત્યાં થોડાક દિવસમાં હું મોટર સાઈકલ લઈને જતો તો ત્યાં પાછો ભટકાયો. મે કાંઠલો પકડી લીધો એ રડવા માંડયો ને માફી માંગી અને ચોરેલા રૂપીયા અને સોનાનો ચેઈન મને પાછો આપી દીધાં પછી બાજુનાં રેસ્ટોરન્ટમા મને ધરાર નાસ્તો કરવા લઈ ગયો ને ભરપેટ ખવડાવીને તે જતો રહ્યો હુ વિચારતો હતો કે બિચારો મજબુર હશે ને હું મારી ગાડી પાસે આવ્યો ત્યાં એની માને આ વખતે એ ભાઈ મારી ગાડી લઈને ભાગી ગયો..!!!

બીલકુલ આવી જ હાલત આપણાં નેતાઓ કરે છે, ભોળી જનતા એની ઉપર વિશ્ર્વાસ કરે છે અને દર વખતે ચુંટણી ટાઈમે નવા નવા તુકકા કરીને લોકો ને અને કર્મચારીઓ ને લુંટી જાય છે!!

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

लक्ष्मणराव किरलोस्कर


महज़ 45 रुपये की सैलरी वाला एक टीचर क्या-क्या कर सकता है? बल्कि हमारा सवाल होना चाहिए कि ‘क्या नहीं कर सकता है?’ क्योंकि लक्ष्मणराव किर्लोस्कर ने ये साबित किया कि आगे बढ़ने के लिए जेब नहीं सोच बड़ी होनी चाहिए l किर्लोस्कर समूह के संस्थापक लक्ष्मणराव किर्लोस्कर भारत के प्रसिद्ध उद्योगपतियों में से एक थे l 20 जून, 1869 को मैसूर के निकट बेलगाँव में पैदा हुए किर्लोस्कर ने भारत में उद्योगों का इतिहास रचा है l
किर्लोस्कर का बचपन से ही पढ़ने में मन नहीं लगता था. मुम्बई के जे.जे. स्कूल ऑफ़ आर्ट में उन्होंने मैकेनिकल ड्राइंग सीखी और मुम्बई के ‘विक्टोरिया जुबली टेक्निकल इंस्टीट्यूट’ में अध्यापक नियुक्त हो गए. जल्दी ही उन्हें मशीनों की जानकारी हुई l इन्होंने 1888 में अपने भाई रामुअन्ना के साथ मिलकर ‘किर्लोस्कर ब्रदर्स’ नाम से साइकिल की दुकान खोल ली l जल्दी ही नौकरी छोड़ी और चारा काटने की मशीन और लोहे के हल बनाने वाला छोटा सा कारखाना खोल लिया l तमाम मुश्किलों के बाद औंध के राजा से उधार लेकर 32 एकड़ बंजर ज़मीन ख़रीदी और वहाँ फ़ैक्ट्री खोलकर ज़मीन की काया पलट कर दी l लेकिन मुश्किलें और भी थीं l किसानों को मशीनों के लिए मनाना बड़ा मुश्किल था l
किर्लोस्कर को अपना पहला लोहे का हल बेचने में 2 साल लग गए l लेकिन इन्होंने किसी भी क़ीमत पर हार नहीं मानीं l जवाहरलाल नेहरू से लेकर लोकमान्य तिलक तक किर्लोस्कर की कामयाबी से बहुत प्रभावित थे l
किर्लोस्कर ने जो कंपनी बनाई आज वो 2.5 बिलियन डॉलर से भी ज़्यादा का विशाल समूह बन गया है l किर्लोस्कर ने दुनिया को सिखाया कि अगर हौसला बुलंद हो तो कोई मंज़िल मुश्किल नहीं होती

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

एक बार एक परिवार को फ़ोन का बिल बहुत अधिक मिला.. तो परिवार के मुखिया ने इस पर चर्चा के लिए घर के सब लोगों को बुलाया।

पिता :- यह तो हद हो गई। इतना ज्यादा बिल! मैं तो घर का फ़ोन यूज़ ही नहीं करता… सारी बातें ऑफ़िस के फ़ोन से करता हूँ।

माँ:- मैं भी ज्यादातर ऑफ़िस का ही फ़ोन यूज़ करती हूँ सहेलियों के साथ | इतनी सारी बातें घर के फ़ोन से करुँगी तो कैसे चलेगा…??

बेटा:- माँ आपको तो पता ही है कि मैं सुबह सात बजे घर से ऑफ़िस के लिए निकल जाता है। जो बात करनी होती है ऑफ़िस के फ़ोन से करता हूँ।

बेटी :- मेरी कम्पनी ने भी मेरी डेस्क पर फ़ोन दिया हुआ है. मैं तो सारी कॉल्स उसी से करती हूँ। फिर ये घर के फ़ोन का बिल इतना ओया कैसे ??

घर की नौकरानी चुपचाप खड़ी सुन रही थी। सबकी प्रश्न भरी निगाहें नौकरानी की ओर उठीं.

नौकरानी बोली:- “तो और क्या.. आप सब भी तो जहां काम करते हैं, वहीं का फ़ोन इस्तेमाल करते हैं….. “मैंने भी वही किया तो क्या गलत किया ??