Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

♦️♦️♦️ रात्रि कहांनी ♦️♦️♦️


*👉 बन्दर और सुगरी 🏵️
*🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅
सुन्दर वन में ठण्ड दस्तक दे रही थी , सभी जानवर आने वाले कठिन मौसम के लिए तैयारी करने में लगे हुए थे । सुगरी चिड़िया भी उनमे से एक थी , हर साल की तरह उसने अपने लिए एक शानदार घोंसला तैयार किया था और अचानक होने वाली बारिश और ठण्ड से बचने के लिए उसे चारो तरफ से घांस -फूंस से ढक दिया था ।


सब कुछ ठीक चल रहा था कि एक दिन अचानक ही बिजली कड़कने लगी और देखते – देखते घनघोर वर्षा होने लगी , बेमौसम आई बारिश से ठण्ड भी बढ़ गयी और सभी जानवर अपने -अपने घरों की तरफ भागने लगे . सुगरी भी तेजी दिखाते हुए अपने घोंसले में वापस आ गई , और आराम करने लगी ।उसे आये अभी कुछ ही वक़्त बीता था कि एक बन्दर खुद को बचाने के लिए पेड़ के नीचे आ पहुंचा ।

सुगरी ने बन्दर को देखते ही कहा – “ तुम इतने होशियार बने फिरते हो तो भला ऐसे मौसम से बचने के लिए घर क्यों नहीं बनाया ?” यह सुनकर बन्दर को गुस्सा आया लेकिन वह चुप ही रहा और पेड़ की आड़ में खुद को बचाने का प्रयास करने लगा ।

थोड़ी देर शांत रहने के बाद सुगरी फिर बोली, ” पूरी गर्मी इधर उधर आलस में बिता दी…अच्छा होता अपने लिए एक घर बना लेते!!!” यह सुन बन्दर ने गुस्से में कहा, ” तुम अपने से मतलब रखो , मेरी चिंता छोड़ दो ।”

सुगरी शांत हो गयी।


बारिश रुकने का नाम नहीं ले रही थी और हवाएं भी तेज चल रही थीं, बेचारा बन्दर ठण्ड से काँप रहा था, और खुद को ढंकने की भरसक कोशिश कर रहा था,पर सुगरी ने तो मानो उसे छेड़ने की कसम खा रखी थी, वह फिर बोली, ” काश कि तुमने थोड़ी अकल दिखाई होती तो आज इस हालत….”

सुगरी ने अभी अपनी बात ख़तम भी नहीं की थी कि बन्दर बौखलाते हुए बोला, ” एक दम चुप, अपना ये बार-बार फुसफुसाना बंद करो ….. ये ज्ञान की बाते अपने पास रखो और पंडित बनने की कोशिश मत करो.” सुगरी चुप हो गयी।

अब तक काफी पानी गिर चुका था , बन्दर बिलकुल भीग गया था और बुरी तरह काँप रहा था। इतने में सुगरी से रहा नहीं गया और वो फिर बोली , ” कम से कम अब घर बनाना सीख लेना.” इतना सुनते ही बन्दर तुरंत पेड़ पर चढ़ने लगा ,……. “भले मैं घर बनाना नहीं जानता लेकिन मुझे तोडना अच्छे से आता है..”, और ये कहते हुए उसने सुगरी का घोंसला तहस नहस कर दिया। अब सुगरी भी बन्दर की तरह बेघर हो चुकी थी और ठण्ड से काँप रही थी।

*💐💐शिक्षा💐💐*
दोस्तों, ऐसा बहुत बार होता है कि लोग मुसीबत में पड़े व्यक्ति की मदद कतरने की बजाये उसे दुनिया भर की नसीहत देने लगते हैं. वयस्क होने के नाते हर कोई अपनी इस्थिति के लिए खुद जिम्मेदार है. हम एक शुभचिंतक के रूप में उसे एक-आध बार सलाह तो दे सकते हाँ पर उसकी किसी कमी के लिए बार कोसना हमें सुगरी चिड़िया की हालत में पंहुचा सकता है. इसलिए किसी मुश्किल में पड़े व्यक्ति की मदद कर सकते हैं तो करिए पर उसे बेकार के उपदेश मत दीजिये।



*सदैव प्रसन्न रहिये।*
*जो प्राप्त है, पर्याप्त है।। ओम शांति*

🙏🙏🙏🙏🌳🌳🙏🙏🙏🙏

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

વાર્તા: *હિસાબ*

✒️લેખક: *શ્રીમતી નયના શાહ*

નિર્ઝરી સ્વસ્થ હતી. પરંતુ અત્યાર સુધીની વાતો શા માટે યાદ આવતી હતી ? દરેક વ્યક્તિ સ્વાર્થમાં અંધ બની જાય છે.એના બંને ભાઇઓ અમેરિકામાં હતાં.મોટાભાઇનું કહેવું હતું કે,”નિર્ઝરી તું ભારતમાં જ છું તો મારા દીકરાને હું પંચગીની સ્કુલમાં મુકુ છું .તું અવારનવાર ત્યાં જતી આવતી રહેજે.તું પૈસા ની ચિંતા ના કરીશ.જવાઆવવાનો બધો ખર્ચ લખી રાખજે.અરે,તું તારા દીકરા માટે ચોકલેટો લે તો એનો ખર્ચ પણ લખી લેવાનો. હિસાબ એટલે હિસાબ.

નિર્ઝરી વિચારતી હતી કે એનું કુટુંબ સામાન્ય. સાસરી પણ સામાન્ય હતી.બંને ભાઈઓ અમેરિકા ગયા પછી પિયરની સ્થિતી સુધરી.
ભાઈઓ ગરીબ બહેન પર કામનો બોજો નાંખતા રહેતા.મોટા દિકરાની પત્નીએ કહ્યું,
“મારાથી ઘરનું કામ થતું નથી.માબાપ ત્યાં છે એટલે લોકો વાતો કરે છે આપણે એમને અહીં બોલાવી લઈએ. ધીમેધીમે એ સીટીઝન થઈ જશે.તમારી મા ઘરનું કામ કરશે.તમારા બાપા ને કયાંક કામે લગાડી દઇશું.પૈસા પણ આવતાં થઈ જશે.સમાજમાં કહેવાશે કે દીકરાએ માબાપને બોલાવી લીધા.”

મોટા દીકરાને પત્નની વાત ગમી ગઈ.નાના છોકરાએ જે છોકરી સાથે લગ્ન કર્યા એની શરત હતી કે મારા માબાપ મારી સાથે રહેશે.
તારા માબાપ આપણા ઘરમાં ના જોઇએ.

નિર્ઝરીના માબાપ વિચારતા કે અહીં આવી ગયા છીએ. અહીં મહેનતના પ્રમાણમાં પૈસા મળે છે. તો શા માટે નિર્ઝરી અહીં ના આવે !
જયારે એને મોટાદીકરા ને વાત કરી ત્યારે એને વિચાર્યું કે ભલે મમ્મીના કહેવાથી ફાઇલ મુકી દઇએ. એમાં વર્ષો નીકળી જશે. ત્યારબાદ મમ્મીની ઉંમર થશે એટલે એ કંઇ કામ કરી શકશે નહીં. ત્યારે આપણે મમ્મી પપ્પાને એને ત્યાં મોકલી દઇશું.આપણે એની ફાઇલ મુકીએ અને આપણા કારણે એ અહીં આવે તો એનું વળતર મળવું જ જોઇએ ને ! કહેતાં બંને પતિપત્ની પોતાની ચતુરાઇ પર ખુશ થઈ ગયા.

નિર્ઝરી અને એનો પતિ મહેનતુ હતાં.નિર્ઝરી તો રસ્તે જનાર પણ મુસીબતમાં હોય તો મદદ માટે દોડે.જયાારે પંચગીનીમાં તો એનો ભત્રીજો હતો.જો કે દોડાદોડમાં એ થાકી જતી.ઘરનું કામ, એના બે વર્ષના દીકરાને મુકી ને રિઝર્વેશન વગર અમદાવાદથી પૂના જવું પડતું.સ્કુલવાળા ગમે ત્યારે વાલીને
બોલાવે .પૂના અઽધીરાત્રેે પહોંચે ત્યાંથી ટેક્ષી કરીને એકલી જતી.પતિને નોકરીમાં રજા ના મળે અને નાના બાળક ને સાચવે પણ કોણ ?
એની તબિયત ધીરેધીરે બગડતી ગઇ.આખરે વધારે પડતી અશક્તિને કારણે એને દવાખાને દાખલ કરવી પડી.

એ દરમ્યાન પંચગીનીમાં ભણતો એનો ભત્રીજો બિમાર થયો. એના ભાઈએ તાત્કાલિક ત્યાં જવાનું કહ્યું પણ નિર્ઝરી દવાખાને હતી.તેના ભાઇએ કહ્યું,”હું પૈસે પૈસાનો હિસાબ જે બતાવે તે આપુ છું.છતાં મારા કામ માટે બહાના બતાવે છે”કહેતાં ભારત આવી એના દીકરાને અમેરિકા લઇ ગયો.બેન બનેવીને ગમે તેમ સંભળાવવા માટે અમદાવાદ આવીને કહે,”મને કેટલી મુશ્કેલી પડી પંચગીનીથી અમદાવાદ આવતાં. હવે હું અહીં આવવાનો નથી પણ શહેરમાં જે ઘર છે. એમાં જે સમાન છે એ વેચીને જે પૈસા આવે તે મારા ખાતામાં જમા કરાવી દેજે.”

નિર્ઝરી ને કહેવાનું મન થયું કે તને અમદાવાદ આવતાં મુશ્કેલી પડી તો હું વારંવાર પંચગીની જતી હતી તો કયારેય મારી મુશ્કેલીનો વિચાર કેમ ના કર્યો ?

માબાપ જીવીત હોય ત્યાં સુધી બધા એકસૂત્રે બંધાયેલા રહે.થોડા સમય બાદ એને ઘરનો સામાન વેચી ને ભાઇને હિસાબ મોકલ્યો ત્યારે ભાઇએ કહ્યું,”આટલા ઓછા પૈસા ના આવે. મને લાગે છે કે તેં કમિશન કાઢી લીધું છે.”
નિર્ઝરી ચૂપચાપ બધું સહન કરતી રહી કારણ,એના માબાપ ભાઇને ત્યાં હતાં.કદાચ કયારેક ઇશ્ર્વર ભોળા માણસોની પણ પરિક્ષા લેતાં હોય છે.વર્ષો પછી ભાઇએ
મુકેલી ફાઇલ ખુલી ત્યારે એમની ધારણા મુજબ એના મમ્મી પપ્પાની તબિયત બગડતી જતી હતી.નિર્ઝરી આવી એ પહેલાં એના ભાઇએ એના માટે ભાડે ઘર તથા ઘરની જરૂરિયાત ની ચીજો લાવી રાખી હતી અને કહી દીધું કે તમે આવો એટલે તમારે તમારા ઘેર જ જવાનું.

હજી એ અમેરિકા પહોંચ્યા ત્યાં જ ભાઇએ એના ઘરમાં વસાવેલી બધી વસ્તુ નો હિસાબ આપી દીધો.એટલું જ નહીં એ ખરીદી કરવા જતાં તે વખતે વપરાયેલા પેટ્રોલનો પણ હિસાબ લખી ને આપી દીધો હતો.એટલું જ નહીં એમને કહી દીધું કે હવે મમ્મી પપ્પની તબિયત સારી નથી. થોડાદિવસ ભલે એ તારી સાથે રહે એમને પણ સારૂ લાગશે પછી અનુકૂળતા એ હું આવીને લઇ જઇશ.

જો કે ત્યારબાદ કયારેય એને અનુકૂળતા માબાપના મૃત્યુ સુધી ના આવી.સમય પસાર થતો રહેતો હતો. ભત્રીજાના લગ્ન નક્કી થયા તો પણ એને આમંત્રણ ન હતું.જો કે એના ભત્રીજાનો ફોન આવ્યો કે,”ફોઇ તમે ચોક્કસ આવજો.હું તમને ભૂલી શકું એમ જ નથી.હું પંચગીની હતો ત્યારે તમે કેટલા બધા નાસ્તા કરીને લાવતાં હતાં ! મારે ક્યારેય બહારનો નાસ્તો કરવો પડ્યો નથી.મારા લગ્નમાં તમારે તો આવવું જ પડશે.”

લગ્નનું સ્થળ એ પ્લેનમાં જાય તો ય ચાર કલાક થાય.ત્યાં એને જ ઓનલાઇન હોટલ બુક કરાવી.લગ્ન દરમિયાન ભત્રીજા સિવાય કોઇ એની જોડે બોલ્યું નહીં .વ્યવહાર કરી એ પાછી ફરી ત્યારે એની આંખમાં આંસુ હતાં.મહેમાનો માટે રૂમો કેટલાય રાખ્યા હતાં એમાં સગીબહેનનો રૂમ રાખ્યો ન હતો.એ મનમાં વિચારતી હતી કે લગ્નમાં જમી એના પૈસા ચૂકવીને આવી.કારણ ભાઇ ને હિસાબ રાખવાની ટેેવ છે.

નિર્ઝરીને થયું કે તું પૈસાનો હિસાબ ગણે છે.તો માબાપની લાગણીથી સેવાચાકરી કરી.કેટલીયે વાર પંચગીની ગઇ ત્યારે આખી રાતનો ઉજાગરો થતો હતો.ભત્રીજા માટે મહેનત કરી ઘેર નાસ્તા બનાવીને લઇ જતી હતી.માબાપ ની ચાકરી કરવાની આવી ત્યારે મારે ત્યાં મુકી ગયા.

હિસાબ કરવો જ હોય તો મારા પ્રેમનો કરો.માબાપની રાતોની રાતો જાગીને કરેલી ચાકરીનો હિસાબ કરો.પૈસાનો હિસાબ કરવો બહુ સહેલો છે.અઘરો તો છે લાગણીનો હિસાબ કરવાનો.જે દિવસે ભાઇ,તું લાગણીઓનો હિસાબ કરીશ તો જરૂરથી દેવાદાર બની જઇશ.

‌——————————————
Copy paste

રાહુલ પરમાર

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

સાચી ભેંટ
…………..

એક કુટુંબમાં પતિ પત્ની અને એક દીકરી રહેતાં હતાં . પતિને રોજ ઓફિસેથી આવવાનો સમય અને દીકરી ને એને મળવાની ઉત્કંઠા, ઘણીવાર રાત્રે દસ થઇ જતાં છતાં નિંદર બહેનને દૂર રાખવા જાતે જ આંખે પાણીની છાલક મારીને માતાનાં ખોળામાં બેસી જાય.

” મમ્મી , ગીત ગાને.” એ જેવી પપ્પાને આવતાં
જુએ કે દોડીને પપ્પાનાં ખભા પર ચઢી જાય .
“પપ્પા , ચાલો જલદી ઘોડો બનો – આજે તમે સહેલ નથી કરાવી!”

પપ્પા દીકરીનો આદેશ માથે ચઢાવે અને શરુ થાય બાપ- દીકરીનો મસ્તીનો દોર.

એક દીવસ રાત્રે પત્નીએ દીકરીને સુવડાવ્યા પછી , પતિને કહ્યું , “તમે ક્યારેક દીકરી માટે ચોકલેટ કે રમકડાં લઇ આવો તો તેમને કેટલું ગમશે !”. સાવ ખાલી આવવું એ પત્નીને ન હોતું ગમતું. ચિડાયા વિના પતિએ જવાબ આપ્યો,
“જ્યારે હું તેમને માટે ચોકલેટ કે રમકડાં લાવીશ ત્યાર પછી મારી દીકરી – મારી નહીં પરંતુ ચોકલેટ કે રમકડાંની રાહ જોતી થઈ જશે . પછી ક્યારેક કશું નહીં લવાય ત્યારે તેનાં ચહેરા ઉપર જે આનંદ જોવા મળે છે એનાં કરતાં દુ:ખજોવા મળશે .”

પતિની આ અંતરનાં ઊંડાણની વાતે પત્નીની આંખ ઉઘાડી નાખી .

આખા સમાજને આજે આવા સમજદાર માબાપની જરૂર છે.

રઘૂવંશી હિત રાયચુરા

Posted in हिन्दू पतन

मैं दिल्ली से वाराणसी फरवरी 2015 में शिवगंगा एक्सप्रेस ट्रेन से वापस आ रहा था,तब ये आपबीती एक दादी ने मुझे सुनाई थी,और उसे सुनने के पश्चात मैं कई दिन कई रात सो नहीं सका,जब आंख बंद करता उस दादी के गांव के दृश्य सामने दौड़ते।

हुआ कुछ यूँ था,कि एक सज्जन से सहिष्णुता पर बहस हो गयी थी,जिसमें अन्त में हम दोनों अपने अपने पक्ष को लिए ही एक दूसरे से मुँह फेर बैठ गए थे, क्योंकि किसीको को भी समाधान नहीं चाहिए था, बस स्वयं को सही सिद्ध कर विजय का मिथ्याभिमान पाना था।

मेरे पक्ष को सुनकर, हम दो सहयात्रियों के बीच के उस अघोषित शीतयुद्ध के उस सन्नाटे (जिसमें ट्रेन के पहियों व पटरियों के आपसी संवाद से उत्पन्न खट-पट, खट-पट के अतिरिक्त कुछ भी न था) को भङ्ग करते हुए सामने के सीट पर लेटी दादी माँ ने मुझे इंगित करते हुए कहा-
” बेटा! इस सहिष्णुता की परिणति की एक आपबीती कहानी सुनाती हूँ, सुनो!”

वह दादी माँ जिनके केश अभी भी काले थे, जबकि वय कम से कम 75 वर्ष तो रही होगी, बिना मेरी इच्छा जाने ही कहना प्रारम्भ किया।

” मेरा जन्म बंगाल, अबके बांग्लादेश के नोआखली में मेघना व एक चौड़े नाले के बीच के भूभाग पर 1939 ई. के कालबैशाखी के दिन हुआ था।
हमारा गाँव मुख्यतः वैद्य लोगों का गाँव था, जिसमें 25 घर वैद्य रहे होंगे तब। ऐसा नहीं कि केवल वैद्य ही थे, कुछ मुस्लिम, कायस्थ व नाविक भी थे। सभी मिल जुलकर रहते थे। हमारे बीच घरेलू सम्बन्ध थे, एक अटूट भाई-चारा था। फहीम नाम का व्यक्ति तो घर के सदस्य जैसा ही था, जिसे पिताजी फहीम दादा कहकर सम्बोधित करते थे।”

दादी माँ कुछ क्षण रुकीं व मेरे कुछ पूछने से पहले ही पुनः कहना जारी रखा।” मैं, मेरे दादा ( बड़े भाई ) दिलीप, हमारी बहन 6 माह की पाखी, माँ, पिताजी व दादी माँ, हम छः लोग मेरे परिवार में थे।मेरे बड़े पिताजी व बड़ी माँ की मृत्यु मेघना की बाढ़ में नदी पार करते हुए हो गयी थी। उनकी बेटी पारुल व पारुल के पति विशेष दा हमारे घर से ही जुड़े हुए अन्य घर में रहते थे। पारुल दीदी कोई भाई नहीं था।”

” बंगाल में, विशेषकर नोआखली में कालबैशाखी की पूजा बहुत धूमधाम से मनायी जाती थी, क्योंकि वर्ष के उमसभरे चिपचिपे मौसम से, कालबैशाखी के समय बहने वाली ठण्डी समुद्री हवाओं द्वारा निजात मिलती थी, कभी इसी कारण वह समय उत्सव में परिवर्तित हुआ रहा होगा। एक अन्य कारण शीघ्र ही पड़ने वाले लक्ष्मी पूजा का पर्व भी रहा है। जिसकी तैयारी इसी समय प्रारम्भ होती है। इस पर्व के समय जन्म के कारण मेरा नाम लक्ष्मी पड़ा, सभी की दुलारी थी मैं।”दादी बिना रुके कहती ही जा रही थीं, और मैं उनके आयु का सम्मान कर उन्हें टोकना नहीं चाहता था, परन्तु अबतक उनकी सुनाई कथा, उनके परिवार व गाँव के विवरण से ही जुड़ी प्रतीत हो रही थी, अतः मन ऊब रहा था।सहसा एक शब्द सुनकर मस्तिष्क ठिठका, और रुचि का अवधान हुआ।

” बात सन 1946 के 16 अगस्त की है, दो दिन पूर्व ही जिन्ना नें पाकिस्तान की माँग को लेकर डायरेक्ट एक्शन डे की चेतावनी दी थी। नोआखली का शांत परन्तु चहकते रहने वाला वातावरण, एक अजीब से सन्नाटे से भर उठा था। लोगों को विश्वास था कि गाँधी जी के रहते ऐसा कुछ नहीं होगा, और मुस्लिम तो अपने भाई बहन हैं, सदियों से साथ रहते आये थे, साथ खेले बढ़े थे, जिन्ना जैसों के भड़काने से क्या होता है?परन्तु आग लगी! बैशाखी की ठण्डी हवा के स्थान पर ऐसी गर्म हवा का तूफान आया,कि सब झुलस गया।हमारे गाँव से कुछ किलोमीटर दूर एक कॉटन मिल पर 16 अगस्त की दोपहर में, नमाज के ठीक बाद बारिश के स्थान पर सहिष्णुता का परिणाम, भाईचारे का विश्वास बरसा। गुलाम सरवर नाम के कट्टर मुल्ले (जो कि जिन्ना के खास आदमी सुहरावर्दी का पिट्ठू था) के नेतृत्व में जिहादियों के समूह ने कॉटन मिल पर घात लगाया, मुस्लिम कामगारों को एक ओर करके हिन्दू पुरुषों व महिलाओं को अलग अलग कर दिया गया। अबोध, नवजात बच्चों को छीनकर जिहादियों ने ले लिया।
तब गुलाम सरवर सामने आया, उसने कॉटन मिल के मुस्लिम कामगारों से कहा” बिरदराने इस्लाम! अब वक़्त आ गया है, जब हम अपने पैगम्बर के दारुल- इस्लाम के सपने को पूरा करें, अपना खुदका मुल्क़, पाक मुल्क़ पाकिस्तान हासिल करें।पर ये यूँ ही नहीं होगा, ये होगा जिहाद की तलवार को हाथ में लेकर, अल्लाह के नाम पर जिहाद करके। हमारे मार्गदर्शक जिन्ना साहब ने डायरेक्ट एक्शन डे का आह्वान किया है। जो हमारे साथ हो, अल्लाह का नाम लेकर इन काफिरों के रक्त से पाक मुल्क़ की नींव रखने में साथ आये, इनकी औरतें हमारी माले गनीमत हैं, और ये सपोले आने वाले खतरे। तो बिरदराने इस्लाम! आप जानते हैं न कि क्या करना है?”दूसरी ओर से उठे अल्लाहू अकबर के नारे से हिन्दू कामगार काँप उठे, जिन्हें इतने वर्षों से अपना भाई, अपना साथी मानते आए थे, उनमें से एक भी व्यक्ति ऐसा नहीं था,
एक भी मुस्लिम ऐसा नहीं था,
जिसके हाथ मे इस्लाम की तलवार न हो।”

“इसके बाद जो प्रारंभ हुआ, उससे मानवता सदा के लिए घायल हो गयी।उन पिशाचों ने नवजात बच्चों को, अबोध बालकों को हवा में उछाल दिया। जब उनके शरीर नीचे आये तो तलवारों से बिंधे हुए, कोई बीच से कटकर तड़पते हुए छटपटा रहे थे, तो कुछ तलवारों पर तड़प रहे थे।उन अबोध बच्चों की माएँ चीख मारकर बेहोश हो गयीं। उधर 4 वर्ष, 6 वर्ष, 7 वर्ष की बच्चियों को वे वहशी, गुलाम सरवर के साथ आये इस्लाम के झंडाबरदारों ने नोचना आरम्भ किया तो दूसरी ओर मुस्लिम कामगारों नें उन हिन्दू कामगार महिलाओं को निःवस्त्र करना प्रारंभ कर दिया, बेसुध पड़ी उन माँओं को भी नहीं छोड़ा उन्होंने। जो हिन्दू पुरुष बचाने आगे आये,
वहीं काट दिए गए।घण्टे भर भी नहीं बीते होंगे, 100 से अधिक हिन्दू महिला पुरुष, 20 से अधिक अबोध बालक बालिका वीभत्स मृत्यु के ग्रास बने।

कोई स्त्री नहीं थी जो निःवस्त्र न हो, जिसके स्तन अक्षत हों, जिसका कमसेकम 20 पिशाचों ने बलात्कार न किया हो। कोई अबोध बालिका न थी जिसने जीवित ही, बलात्कार के मध्य ही प्राण न त्यागे दिए हों, कोई अबोध बालक न था, जिसका शरीर कम से कम दो खण्डों में बंटा न हो।

उन्होंने जीवित छोड़ा तो एक ही व्यक्ति को,एक वैद्य को,उसके हाथ काटकर। ये कहकर कि वो आगे के गाँव वालों से जाकर बताए कि वो नोआखली छोड़कर चले जायें, नहीं तो इस मिल से भी बुरा हाल होगा उनका। वो वैद्य थे मेरे पिताजी!”

इतना कहते कहते दादी का गला रुद्ध हो गया , आँखों से आँसू पूरे आवेग में बह रहे थे, और मैं अवाक! सुन्न! अबूझ सी अवस्था में विचारहीन हो गया था।दादी ने एक ग्लास में पानी लेकर गला साफ किया। मुझे इतना भी साहस न हो रहा था कि कुछ कह सकूँ।एक ही प्रश्न! क्या ये सत्य है?क्या ये सत्य हो सकता है कि कोई मनुष्य ऐसे स्तर तक जा सकता है? क्योंकि तबतक मेरी दृष्टि में मनुष्य की तरह भासता
हर जीव मनुष्य ही था।5 मिनट के नीरव सन्नाटे के बाद, जिसमे मुझे यह तक अभास नहीं था कि ट्रेन द्रुतगति से दौड़ रही है।

दादी ने स्वयं को संयत कर आगे कहना आरम्भ रखा, क्योंकि मैं कुछ भी पूछने की अवस्था में था ही नहीं, और दादी को देखकर ऐसा प्रतीत हो रहा था जैसे कि दीर्घ काल से हृदय में अटका कोई शूल बाहर निकाल कर तोष पाना चाहती हैं।” मैं और मेरे दादा (बड़े भाई) घर के आगे खेल रहे थे, और मेरी माँ जो कि सुबह से ही पिताजी की बाट जोह रहीं थीं, चावल को साफ करते हुए बीच-बीच में घर के बाहर के मार्ग की ओर देख लेती थीं।घर एक कम ऊंचाई के चहारदीवारी से घिरा था, जिससे कि बरामदे में बैठे ही घर की ओर आने वाला मार्ग कुछ दूर तक स्पष्ट दिखता था।

दादी माँ बरामदे में आरामकुर्सी पर सहजता से लेटी हुई थीं, कि तभी उनकी दृष्टि मार्ग पर पड़ी, उधर माँ के मुख से घुटी घुटी सी चीख निकल गयी, वह आगे न कुछ बोल सकीं न ही तत्काल ही उठने का उपक्रम कर सकीं। दादी तो उठते हुए वहीं गिरकर बेसुध हो गयीं।

मेरे दादा आयु व ऊँचाई में बड़े होने के कारण देख पाए कि बाहर क्या हो रहा है। वह बीच में ही खेल छोड़कर विक्षिप्त से भागे बाहर गए, जब अंदर आये तो पिताजी साथ में थे।परन्तु यह वो पिताजी नहीं थे, जो प्रातः दवा वितरण के लिए गए थे, ये तो खून से लथपथ, मुख पर एक भय का सा भाव लिए, आँखें शून्य को तकती हुई, जीवन का कोई चिन्ह नहीं था मेरे पिताजी के आँखों में। और….और उनके वे हाथ, जिनसे वो मुझे हवा में उछालते थे, जिन्हें पकड़कर मैंने चलना सीखा था, जिनसे वो मुझे उठाकर अपने कांधों पर रखकर घोड़ा-घोड़ा खेलते थे, अब वो हाथ अपने स्थान पर न थे….वो हाथ…वो हाथ एक माला की भाँति उनके ही गले में लटके थे…” दादी का गला पुनः भर आया, आँखों से निर्झर बह उठे, आँखों मे वह पीड़ा पुनः जीवित हो उठी, जैसे अभी वह दृश्य आंखों के सम्मुख ही हो।

कुछ घड़ी व्यतीत हुआ होगा, जब दादी ने पुनः कहना आरम्भ किया, और मैं तो अवाक ही था, क्योंकि इतनी वीभत्सता तो मेरे भी संज्ञान में न थी।” पिताजी का मुख अत्यधिक रक्तस्राव के कारण पीला पड़ गया था, वह घर के चहारदीवारी के अंदर आते ही बेसुध हो गिर पड़े, जैसे घर पहुँचने तक ही साहस बचा रखा हो, दादा पिताजी को सम्भाल नहीं पाए, थे ही कितने वर्ष के? मुझसे 3 वर्ष बड़े ही न!माँ जो अबतक मूर्तिवत हुई पड़ी थीं, अब सहसा अपने साथी को गिरता देख दौड़ पड़ीं और उन्हें अंक में ले वहीं बैठ गईं।

उस दिन ही तो माँ के विवाह की चौदहवीं वर्षगांठ थी, और उसी दिन अपने रक्त से लथपथ बेसुध पति को अपने अंक में लेकर भूमि पर बैठी होश में लाने का प्रयत्न कर रहीं थीं, जिस दिवस उनकी मांग के सिन्दूर को अक्षत होने का आशीष चाहिए था, उसी दिन उनके वैवाहिक दीप की ज्वाला बुझती प्रतीत हो रही थी।वह तो चावल साफ कर रहीं थी कि खीर बनाएंगी, सज के , शृंगार करके पिताजी की ही बाट जोहती बैठी थीं, कि वज्रपात हो गया।वो रोते हुए ही पिताजी को होश में लाने का भरसक प्रयत्न कर रही थीं।

इतने में पारुल दीदी के पति भी भागे आये, उन्होंने नदी के किनारे से दूर से ही देख लिया था। शेष गाँव के महिला व पुरुष भी पीछे से भागते हुए आये।विशेष दा भागे गए व दवा, पट्टी, चोट के रक्तस्राव को बंद करने के लिए घाव पर टाँके चलाने के लिए चिकित्सकीय सुई धागे ले आये। तबतक गाँव वालों ने पिताजी को बरामदे में चौकी पर लेटाया, उनके घावों को कपड़े से दबा कर रखा कि रक्तस्राव पर कुछ नियंत्रण हो, परन्तु निरर्थक!
टाँके लगाने, पट्टी करने के बाद भी रक्तस्राव रुक नहीं रहा था, गति अवश्य धीमी हो गयी थी।

वहाँ उपस्थित जन पिताजी को शीघ्र से शीघ्र कलकत्ता ले चलने की बातें कर रहे थे, परन्तु कैसे? यह समझ नहीं पा रहे थे। सबसे छोटा मार्ग मेघना को पार करते हुए उसपार से जाना था, जो कि उस वर्षा ऋतु में दुष्कर कार्य था। परन्तु शेष कोई उपाय भी न था। लोग नाविकों के छोटी नावों के विषय मे बात कर ही रहे थे कि मूसलाधार वर्षा तेज हवा के साथ प्रारम्भ हो गयी, ऐसे आभास हुआ कि सभी आशाएँ इसी के साथ धुलती जा रही हैं, बहती जा रही हैं, और बहकर मेघना के भँवर में फँसकर सदा के लिए लुप्त होती जा रही हैं।

इतने में एक नाविक दादा, जिनका नाम रमेश था, वह भागते हुए आये, और बिना कुछ कहे वहाँ के अवस्था को देख तत्काल अपनी डोंगी पर पिताजी को उस पार ले जाने को तैयार हो गये।

उन्होंने ही यह भी बताया कि एक व्यक्ति भी भागता हुआ आया था कुछ देर पहले, उसने कई गुना मूल्य चुकाकर उनसे उस पार उतारने को कहा था, बीच नदी में जब डोंगी पहुंची तो उसी व्यक्ति ने पिताजी के साथ घटी दुर्घटना के विषय में रमेश दादा को बताया , यह भी कि वहाँ क्या हुआ था? और यह भी कि गुलाम सरवर नें क्या कहा है! यह पूछने पर कि वह कौन है और कहाँ से वहाँ पहुँचा था व कैसे वह बच गया? उसने यही कहा कि वह कलकत्ता का व्यापारी है, जो थोक व्यापार करने के उद्देश्य से मिल में आया था, उसने कपड़ों के ढेर में छिपकर अपने प्राणों की रक्षा की थी। वह यही कह रहा था कि सभी गाँव वालों को तत्काल गाँव छोड़कर कलकत्ता के लिए प्रस्थान कर देना चाहिए, क्योंकि गुलाम सरवर आएगा अवश्य! और प्रत्येक गाँव के सभी मुस्लिम उसके साथ हैं। जितना शीघ्र हो सके यहाँ से भाग चलें!” परन्तु वहाँ उपस्थित सभी ने एकस्वर में कहा कि वे गाँव छोड़कर नहीं जायेंगे, अपितु वो डटकर सामना करेंगे। पर कैसे? यह किसीको ज्ञात नहीं था।सब्जी व मछली काटने के छोटे चाकुओं के अतिरिक्त था क्या वहाँ?

वहाँ उपस्थित मुस्लिम व्यक्तियों ने, जो पीढ़ियों से साथ रह रहे थे , उन्होंने भरोसा दिलाया कि वे कभी भी गुलाम सरवर के ओर से नहीं जायेंगे, वो सभी को बचाएंगे। फहीम चाचा ने जोर देकर कहा कि कहीं जाने की आवश्यकता नहीं। गुलाम सरवर उनका परिचित है, और वह उसे समझा लेंगे। उन्होंने जोर देकर कहा कि केवल कुछ उन्मादियों के कारण सभी मुस्लिमों को गलत नहीं कहा जा सकता।वहाँ उपस्थित सभी लोग फहीम चाचा से सहमत होते दिखे, सभी ने एक स्वर में कहा कि फहीम सही कह रहा है। पीढियों से एक साथ रहते रहे हैं हम, एक दूजे के सुख दुख में समान सहभागी रहे हैं हम। कोई गाँव छोड़कर नहीं जाएगा।

आज समझ आता है कि उस सहिष्णुता की, भाईचारे की बात के स्थान पर यदि आत्मरक्षा के लिए पलायन ही कर गए होते तो सभी जीवित होते। वैद्यों का वह गाँव बंगाल के नक्शे से लुप्त न होता, जिसका आज किसीको नाम तक ज्ञात नहीं है।इस सारे वार्तालाप के साथ-साथ पिताजी को लेकर लोग नदी के किनारे पहुँच गए थे। पिताजी को जिस खाट पर लिटाया गया था, उसके ऊपर छाते लगाकर उन्हें भीगने से बचाने का हर सम्भव प्रयत्न किया जा रहा था, परन्तु उस तेज हवा व बारिश के झोंकों के सम्मुख सब पस्त।माँ, भैया, मैं, विशेष दा, पारुल दी, सब पीछे पीछे आ रहे थे। पाखी को बिलखती हुई दादी के पास माँ छोड़ आयी थीं। रमेश दादा ने डोंगी पर पिताजी को लिटाया, तबतक फहीम चाचा सबसे आगे बढ़कर डोंगी पर चढ़ गए यह कहते हुए कि वह और रमेश दा उस तेज हवा व बारिश में नाव को एकसाथ संभाल के उस पार पहुँचा सकते हैं।

गाँव के मुस्लिम जन मछली पकड़ने का कार्य भी करते थे, जिसके कारण नाव चलाने का ज्ञान उन्हें था।डोंगी छोटी होने व पिताजी को लेटाकर रखने के कारण उस चार व्यक्तियों की क्षमता वाली डोंगी में अन्य किसीके लिए स्थान नहीं बचा था। अतः यह निश्चित हुआ कि शेष लोग पीछे पीछे दूसरी अन्य डोंगीयों से साथ हो लेंगे, तबतक पिताजी को उस पार भेजा जाए।”

कुछ रुककर, जैसे कुछ सोचते हुए दादी ने पुनः कहना आरम्भ किया-” बारिश की बूंदों के लगातार मुख पर पड़ने के कारण पिताजी की चेतना कुछ वापस आयी, तो उन्होंने माँ को इशारे से पास बुलाकर बस इतना ही कहा -” भाग जाओ!, सब भाग जाओ यहाँ से, वे आते ही होंगे”, और इतना कहते कहते पुनः चेतनाशून्य हो गए।इसी के साथ डोंगी ने नदी में प्रवेश किया। माँ पिताजी को देखे ही जा रही थी। किसीको न पता था कि बस….वे अंतिम पल हैं , जब वह मुख अंतिम बार
दिखेगा।””मूसलाधार वर्षा कारण बनी या कुछ और, ये समझ न आया, परन्तु मध्यधार में ज्यों ही नौका पहुँची वहाँ उपस्थित लोगों के मुँह से चीख निकल गयी।”इतना कहकर दादी पुनः रुक गयीं, क्योंकि उनका गला भर आया था।

कुछ समय में संयत होकर उन्होंने पुनः बताना प्रारम्भ किया।” अचानक वह छोटी नाव(डोंगी) फहीम चाचा की ओर से झुकी और पिताजी एक झटके में उफनाती मेघना में जा गिरे।नाविक चाचा पीछे पीछे कूदे, और ज्ञात नहीं कि फहीम चाचा को क्या सुझा, वह कुछ देर बाद ही पानी में कूदे। उसी समय वर्षा इतनी तीव्र हुई कि कुछ दूर की चीजें भी सूझना बन्द हो गयीं। जब मूसलाधार वर्षा की वह धुँध छटी तो नदी किनारे केवल फहीम चाचा थे, नाविक चाचा व पिताजी का कोई चिन्ह नहीं दिखा।”

दादी पुनः अपने रुंध आये गले को साफ करने के लिए रुकीं, और पुनः संयत हो कहना जारी रखा।”फहीम चाचा ने बाहर आकर बताया कि मझधार में उफनती मेघना ने पिताजी व नाविक चाचा को लील लिया। जैसे कि कोई नरभक्षी हो, जिसे मानव शरीर की भूख हो।मेघना वैसे भी प्रत्येक वर्ष अनेक बालकों को लील जाती है, जो अबोध वहाँ खेल खेल में गहरे जल में या नदी के तीखे ढाल के चँगुल में फँस जाते हैं।”माँ, जो कि अत्यन्त भावुक रही थी उससे पहले के वर्षों में, अचानक से काठ मार गया उन्हें, आँखें सुनी, चेहरा निस्तेज परन्तु अश्रु की एक बूँद नहीं।गाँव वाले माँ को और हम रोते बिलखते भाई बहनों को लेकर घर आये, और आया उसी के साथ वह पिशाच और उसकी वो नरपिशाचों की सेना, जिन्हें हर काफ़िर औरत माले-गनीमत लगती थी और हर काफ़िर पुरुष व बच्चा जन्नत के मार्ग का रोड़ा।”

दादी की आँखों में यह बताते हुए उस समय भी भय का एक घृणा मिश्रित भाव था, और थे झर झर झरते अश्रु।

दादी ने आगे कहना जारी रखा, और अश्रुओं ने एक कहानी कहना ।” सैकड़ों जिहादियों के साथ गुलाम सरवर आ धमका, और प्रारम्भ हुआ एक नंगा नाच। नदी किनारे से वापस लौटे दुःखी निहत्थे लोगों पर हाथों में तलवार, कटार, भाले लिए वे पिशाच टूट पड़े।माँ, जो कि अब तक काठवत बनी हुई थी, अचानक से अपने बच्चों की सुरक्षा के लिए चिंतित हो गयी। जिसे अभी कुछ क्षणों पहले वैधव्य ने आ घेरा था, वह अब अपने बच्चों की सुरक्षा में जुट गई थी।माँ ने मुझे व दादा को अनाज रखने के कोटर में छिपा कर उसके ऊपर से कपड़े रख दिये। पाखी को जब वो हमें देने लगी तो पाखी रोने लगी, उसके रोने से कोई हमारे स्थान को ढूंढ न ले इसलिए पाखी को माँ ने स्वयं ही ले लिया। माँ ने भाई को सौगंध दी कि कुछ भी हो, न वो बाहर आये न मुझे आने दे।

अब समझ आता है कि उसकी दो संतानें सुरक्षित रहें इसलिए एक बच्चे का मोह त्यागना ही उसे उचित लगा होगा।सहसा कमरे के दरवाजे के झटके से खुलने की आवाज ने हम दोनों भाई बहन को भयभीत कर दिया।
माँ को कहते हुए हमने सुना ” फहीम भाई! ये क्या है? तुम और गुलाम सरवर के साथ। तुमने तो अपने दादा से, पाखी के पिताजी से सदैव हमारी रक्षा का वचन दिया था न! तुम इस सरवर के साथ क्यों हो?”

इसके पश्चात हमने जानी पहचानी आवाज सुनी, जो कि गुलाम सरवर को इंगित करके बात कर रही थी।” सरवर भाई! इस साली पर मेरी दृष्टि वर्षों से है, परन्तु क्या करूँ, इस काफ़िर वैद्यों के गाँव में हम ईमानवालों का क्या वश चलता।रोज इसके घर आता था कि इसे देख सकूँ, इसे पाने के बहुत सपने देखे हैं , पर एक वश न चला।”फहीम के मुँह से ये शब्द सुनकर हमें विश्वास ही नहीं हो रहा था कि ये वही फहीम हैं। आगे उसने पुनः कहा-” और सुन तू! तुझपे मेरी नजर उसी दिन से है, जिस दिन तू उस काफ़िर से ब्याह के आयी। तेरे पति से इसीलिए तो साठ-गाँठ की, कि किसी दिन मौका पाकर तुझे भोग सकूँ, पर साला नसीब, मौका ही नहीं मिला। और तू क्या सोचती है, तेरा वो अधमरा पति नदी में अपने से गिर गया? मैंने ही नाव को ऐसे चलाया कि वह झटके से नदी में गिर पड़े। मर गया साला, मेरे रास्ते का काँटा। अब तो तुझे भी भोगूँगा, और तेरी वो लौंडिया है न! उसे रखैल बनाकर रखूँगा। कहाँ है तेरी हमशक्ल वो लौंडिया, बता!”

” सुनो फहीम! तुम्हें जो करना है करो! पर मेरे बच्चों को छोड़ दो।”” करूँगा तो अपने मन का ही। इसीलिए तो गुलाम भाई को बुलाया है यहाँ। क्यों गुलाम भाई?”” हाँ बिरादर! इन काफिरों के लिए तो कहा ही गया है कि जैसे पाओ, वैसे ही कत्ल करो! इनकी बीवियों, बच्चों को बलात अपने संग ले जाओ। ये तो माले गनीमत हैं। तुम्हें जो करना है करो फहीम भाई! मेरे आदमी तुम्हारे साथ रहेंगे। मैं थोड़ा बगल वाले घर के उस लौंडिया से मिल आऊँ, वो जिसके पति और उसे मेरे आदमियों ने पकड़ के रखा हुआ है।”

” अरे! वो पारुल और उसका पति है गुलाम भाई! वो भी लौंडिया मस्त है। जाओ जाओ।”” हाँ बिरादर फहीम! तुम भी अपनी प्यास बुझाओ! मैं भी आता हूँ””सुन! अपनी इस छोटी लौंडिया को बगल रख। जैसा कहता हूँ कर, तो आज के लिए तेरी जान बक्श दूँगा। जब तक मेरा कहा मानेगी, तबतक तेरी और तेरे बच्चों की जान बची रहेगी। और भाग के जाएगी कहाँ? मेरे आदमी इस गाँव को घेरे रहेंगे और दूसरी तरफ तेरे पति को लीलने वाली मेघना उफनाई हुई है ही, कौन बचाएगा तुम्हें? जो कहता हूँ कर!”तभी दूर से पारुल दीदी के चीखने की आवाज नें मुझे डरा दिया। दादा ने मुँह पे हाथ रखकर मुझे चुप कराये रखा। इधर हमारी घर से घुटी घुटी चीखें सुनाई दे रही थीं, उधर पारुल दीदी की दर्द और भय से उठती चीखें मेरे आंखों के सामने छाते अंधकार को और घना करती जा रही थीं। पारुल दीदी की चीखों से ऐसा लगता था जैसे कई भूखे भेड़िये किसीको नोच रहे हों। तभी कुछ मिनटों बाद फहीम की आवाज पुनः सुनाई दी।

” आज तो दिल खुश कर दिया तूने! जा! आज तेरी और तेरे बच्चों की जान बक्श दी। कल फिर आऊँगा। दे अपनी ये लौंडिया दे। ये अमानत रहेगी तेरी। जबतक ये मेरे पास है, तू जाएगी कहाँ?”” नहीं फहीम! मेरी बेटी को मत ले जाओ! हाथ जोड़ती हूँ! ये मेरे बिना नहीं रह पाएगी। तुमने जो कहा मैंने किया।”” नहीं रे! कल आऊँ तो तू जिंदा रहे और भागे भी न, इसलिए इसे मेरे पास रहना जरूरी है। दे इसे!”माँ के प्रतिरोध की आवाज स्पष्ट सुनाई दे रही थी। दरवाजे के झटके से खुलने की आवाज आई। उसके बाद कमरे में बस सन्नाटा था। कुछ समय बाद माँ ने हमें कोटर से बाहर निकाला। उसके कपड़े फटे हुए थे। वह अस्तव्यस्त सी, सुनी आँखों से हमें देख रही थी। आँखों से ऐसे अश्रु बह रहे थे, जैसे किसी चट्टान से पानी रिस रहा हो। माँ ने अपने बच्चों को बचाने के लिए, अपना सबकुछ न्यौछावर कर दिया था।

” माँ! पाखी कहाँ है?” दादा ने चिंतित होते हुए माँ से पूछा,और माँ ने बस उन्हें सीने से लगा लिया।कुछ पलों बाद माँ को जैसे कुछ भान हुआ तो वो हमें लेकर पारुल दीदी के घर की ओर भागीं। घर के बरामदे में दादी माँ की शीश कटी देह पड़ी थी। भाई वहीं दादी से लिपटकर रोने लगे।मैं माँ से लिपटी ठिठक गयी, क्योंकि माँ वहीं ठिठक गयीं, परन्तु मुख वैसे ही भाव विहीन, कुछ घण्टों में मिले दारुण दुःख नें उन्हें बदल के रख दिया था। वहाँ से उठकर जब हम आगे आँगन में पहुँचे तो वहाँ का दृश्य देखकर दादा वहीं गिर पड़े, उनके सहन की क्षमता साथ छोड़ चुकी थी। वो भूमि पर पड़े मांस के लोथड़े की ओर दिखाकर उल्टी करने लगे। मैं भी माँ से लिपट गयी।”
ये बताते हुए दादी थर-थर, थर-थर काँप रहीं थीं। जैसे अभी भी सब आँखों के सामने ही हो।

” वहाँ का दृश्य ऐसा था कि देखकर क्रूरता भी लजा जाए। पूरे आँगन में रक्त ही रक्त था। आँगन के खंभे से विशेष दा नग्न बंधे थे, उनके शिश्न को काटकर फेंक दिया गया था। उनके गले व शरीर पर कई गहरे तलवार के घाव थे। जिनसे अब रक्त नें बहना बंद कर दिया था। रक्त बचा ही कहाँ था अब? और वह भी अब कहाँ शेष थे?और…. और पारुल दीदी उनके सामने ही भूमि पर रक्त से सनी हुई मृत पड़ी थीं। उनके हाथ उनके पीछे की ओर बंधे थे।देह पूर्णतः निर्वस्त्र। उनके स्तनों को जैसे दाँतों से नोच दिया गया था।

उनकी देह ऐसे दिख रही थी, जैसे कई भूखे भेड़ियों ने एक साथ नोच नोच के अपनी रक्त की प्यास बुझाई हो। उबकाई और भय से मैं वहीं बेसुध हो गयी।
ज्ञात नहीं कितने समय बाद जब चेतना लौटी तो मैंने अपने आपको और दादा को एक डोंगी में पाया। जिसे रमेश चाचा के भाई सोमेश चाचा खे रहे थे। उनके शरीर पर कई गहरे घाव थे। जिसपर बंधी कपड़े की पट्टियों से अब भी रक्त रिस रहा था।

दादा ने रोते रोते मुझे बताया कि गुलाम और फहीम के चले जाने के पश्चात सोमेश दादा चुपके से घर के पिछले दरवाजे से आये और माँ से वहाँ से भाग चलने को कहा, उन्होंने नदी पार करा देने की बात कही।माँ नें स्वयं आने से मना कर दिया, परन्तु दादा को सौगंध देकर, समझा बुझाकर मुझे और दादा को सोमेश चाचा के साथ भेज दिया। चारों ओर रात्रि का अँधियारा छाया हुआ था। हम कहाँ जा रहे थे, कुछ समझ नहीं आ रहा था। अँधियारा…जो न जाने कब छँटेगा? “

इसके पश्चात दादी की हिचकियाँ उनके नियंत्रण में न रहीं, इस करुण कथा को सुनाने के साथ ही उनके धैर्य का बन्धा टूट गया। केवल उनके फूट फूट के रोने की आवाज ही उस ट्रेन के डिब्बे में सुनाई दे रही थी और मेरे साथ वहाँ बैठे लोग केवल उन्हें एकटक देखे जा रहे थे। मुझे अबतक ये भान ही नहीं था कि ट्रेन के उस डिब्बे में हमारे अतिरिक्त भी कई लोग थे, जो कि यह कथा सुन रहे थे। कुछ औरतें ऐसी थीं, जो सुबक रहीं थीं।

इस सिसकियों से भरे सन्नाटे को तोड़ा उस व्यक्ति की आवाज नें, जिनसे इस कथानक के प्रारम्भ में मैं तर्क कर रहा था। वो थे उन दादी के बड़े भाई दिलीप दादा! उन्हीने आँसुओं से भरी आँखों को लिए भर्राई आवाज में कहना प्रारम्भ किया” जब मेरी बहन बेसुध हो गयी थी और सोमेश चाचा ने वहाँ से चलने के लिए कहा तो माँ ने मुझे ढाँढस बंधाते हुए कहा था कि वो पाखी को लेकर आयेंगी। उन्होंने सोमेश चाचा को निर्देश दिए कि नदी पार के ब्राह्मणों के गाँव में पिताजी के एक परिचित के साथ हम दोनों को कलकत्ता पहुंचवाने की व्यवस्था कर दें। वहाँ हमारे पिताजी की बहन रहती थीं।

सोमेश चाचा, जिनके परिवार का भी वही हाल हुआ था, जो कि पारुल दीदी और विशेष दा का। उनकी 6 माह की बेटी को उन पिशाचों ने भूमि पर पटक पटक के मार दिया था सोमेश चाचा की आँखों के सामने ही। उनके पत्नी और 7 वर्ष की बेटी को बीसो नरपशुओं नें नोच नोच कर मृत्यु मुख में फेंक दिया था। उनके 8 वर्ष के बेटे को कमर के पास से दो खण्डों में काट दिया था उन पामरों नें। सोमेश चाचा ने नदी में कूदकर अपनी रक्षा की।परन्तु इतने विकट कष्ट भोगने के पश्चात भी उन्होंने अनेक अनाथों को मेघना के पार पहुँचाया था, जो कि किसी भाँति बच गए थे, उनमें एक हम भी थे।हमें भी पिताजी के मित्र के पास पहुँचाकर वह पुनः हमारे गाँव में बचे किसी अन्य असहाय को बचाने वापस चले गए। वह एक अपराधबोध से भरे थे, कि अपने परिवार को अपनी आँखों के सामने मरते, कष्ट भोगते देख कर भी उन्हें बचा न सके।

उन्हें हमने पुनः कभी नहीं देखा, और न ही देखा कभी अपनी माँ को, न ही देखा कभी अपनी बहन पाखी को।”दिलीप जी अपने भर आये गले को संयत करने का प्रयास करते हुए भर्राई आवाज में कह रहे थे- “वर्षों बाद ज्ञात हुआ कि अगले दिन गुलाम सरवर के आदमियों नें हमारे गाँव को जला दिया।और इस प्रकार हमारे गाँव का अस्तित्व राख में बदलकर मेघना में बह गया। और उसी के साथ हमारी आस भी जल गई, आस अपने माँ और पाखी से मिलने की।”इतना कहकर दिलीप जी भी सिसकने लगे।

इसी के साथ उस डिब्बे में सिसकियाँ सिसकियों का साथ दे रहीं थीं। अनेक अन्य औरतें जो उस डिब्बे में ये कथा सुन रही थीं, उनकी हिचकियों से डिब्बे के वातावरण में दुःख का बोझ से बन रहा था, जिससे हम सब दबे जा रहे थे। और…और मेरी आँखों के अश्रुओं के साथ ही बहुत कुछ बहता जा रहा था। मेरी सहिष्णुता, मेरी सेकुलरता, मेरा वह विश्वास कि दोषी मनुष्य होता है, कोई पंथ या मजहब नहीं।

आप सही समझ रहे हैं! उस तर्क में वह व्यक्ति मैं ही था, जिसके मस्तिष्क में सेक्युलेरिज्म का प्रेत पैठा हुआ था, और वह दिलीप जी थे , जो मुझे वामपंथ-जनित छद्म सहिष्णुता का वास्तविक रूप बताना चाह रहे थे।

मुझे आजभी स्मरण नहीं कि कभी रेलगाड़ी की यात्रा में मैं इतना शांत, इतना विचारों के झंझावातों में फंसा कभी इतना चुपचाप रहा होऊँ, जितना उस कथानक के सुनने के बाद शेष यात्रा के घण्टों में रहा।दादी और दिलीप जी से पूरे यात्रा में अन्य बातें भी हुयीं, कि कैसे उनके पिताजी के मित्र के पलायन करते गाँव के लोगों के साथ वे सब कलकत्ता आये, कैसे नोआखली में मानव इतिहास में अबतक का सबसे बड़ा क्रूरता का नंगा नाच हुआ? क्या था गाँधी बाबा का दोष इस घटना में? सब। यह सब फिर कभी।अभी इतना ही कि, जब वाराणसी स्टेशन पर मैं उतरा तो मैने मैकाले-शिक्षा व लहरु के षड़यंत्र जनित सहिष्णुता व सेक्युलेरिस्म का बोझा वहीं ट्रेन में ही छोड़ दिया।

(इस कथानक को जितना मैंने दादी और दिलीप जी से सुना, उसे छोटे से छोटा करके बताने का प्रयास किया है। वह भी इस पटल के कुछ प्रियजनों के कई बार प्रेरित करने पर। उस वीभत्सता को जितना कम से कम वीभत्स करके कह सकता था, कहा।जो बताया, वह इसलिए कि ज्ञात हो कि आजभी ये विश्व जिनसे त्रस्त है , वह सदैव से ऐसे ही क्रूर हैं, ऐसे ही पशु हैं, बर्बर, बलात्कारी, फहीम की तरह छल करने वाले।

अतः सावधान!

आप पर है,साझा करें या स्वयं तक रखें।परन्तु सजग रहें! वह संकट आजभी वैसा ही है। देर है तो उनके इस देश के प्रत्येक क्षेत्र में प्रभाव प्राप्त करने का।सर्वत्र शरिया होगा, सर्वत्र आयतों की कर्कश ध्वनि होगी और सर्वत्र दिखेगा नोआखली! )मेरी प्रत्योक्षकरणक्षमता(विजुअलाइजेशन पॉवर)काफ़ी ज़्यादा है,तो मुझे एक एक दृश्य दिखाई पड़ रहा था, समय,अभी भी वैद्य और उनके पूरे परिवार समेत उनके पड़ोसी की चींखें और खून से लथपथ कटे फटे शरीर सामने दिख रहे हैं।जो उस कालखंड में हुआ,अगर आप सोचते हैं दोहराया नहीं जाएगा तो आप नादान हैं।आपने शस्त्र विद्या लेना हिंसक समझा,आपने अपनों बच्चों को खेल और नृत्य और बॉलीवुड के गानों की धुनों पर नाचना सिखाया,हां वो सिखाना ग़लत नहीं है,पर आत्मरक्षा करना,और जेहादियों पर विश्वास ना करना सबसे आवश्यक है,क्यूंकि अगर वो ना सीखा तो सब बेकार हो जाएगा,आपका धन,आपका वैभव,आपके कॉन्टैक्ट,आपके मंत्रियों और सेलेब्स के साथ चित्र,आपका रसूख,आपका पद किसी भी काम नहीं आएगा। मेरे मित्र विकास सिंह दिल्ली के उस इलाके से आते हैं,जहां दिल्ली दंगे हुए थे,अंकित शर्मा जिसको चाकुओं से गोदा गया था वो उनके मोहल्ले में ही हुआ था,वो बताते हैं सेक्युलरिज्म की कीमत।

कोई आपका साथ देने नहीं आएगा,जब ला इलाहा इल अल्लाह के नारों के साथ वहशी भीड़ आपके बंगले के सामने आएगी,तब आपके पास अगर शस्त्र नहीं हैं,और शस्त्र चलाने का ज्ञान नहीं है तो पुनः डायरेक्ट एक्शन डे होगा,पर इस बार शहर आपका होगा,घर आपका होगा,परिवार आपका होगा।इसलिए अब विनती करता हूं,अब भी अपने मन मस्तिष्क से ये बाहर कर दीजिए कि कोई फरहान कोई हलीमा, कोई फातिमा,कोई अली,कोई इरफान आपके साथ वर्षों से दोस्ती निभा रहा है/रही है तो वो इस समय आपका साथ देगा/देगी।दिल्ली,श्रीनगर,बंगाल,कवर्धा,
कैराना,मेवात,नाम गिनते जाइए जो हाल फिलहाल में घटा है,पीछे जाएंगे तो भारत का लगभग हर शहर घायल हुआ है,और दोबारा हो सकता है,क्यूंकि उनकी मानसिकता नहीं बदली है।वो अपनी आसमानी किताब में रोज़ काफिरों को कत्ल करने की बात दोहराते हैं,वो बार बार लाउडस्पीकर से चिल्लाते हैं,ला इलाहा इल्लल्लाह” जिसका शाब्दिक अर्थ है “अल्लाह के अलावा कोई दूसरा भगवान नहीं है”.इसकी अगली पंक्ति है “मुहम्मदूं रसूल अल्लाह” यानी मुहम्मद अल्लाह के पैगंबर हैं.आप तब भी नहीं समझते,या तो आप बहरे हैं या बहरे होने का ढोंग कर रहे हैं,ढोंग करने वालों को धमाके भी नहीं सुनाई देते,पर सुनें ओ ढोंग करने वालों,अब जो धमाकों की तैयारी वो मस्जिदों और मदरसों में कर रहे हैं वो आपके चीथड़े उड़ा देगा,बॉम्ब बनाने की ट्रेनिंग कितनी बार एक्सपोज़ हुई है यूपी और बिहार में ये मत भूलें आप,आप एक बुलबुले में जी रहे हैं,जिसके अंदर आपको सब अच्छा अच्छा दिख रहा है,पर जब ये बुलबुला फूटेगा तब आप धड़ाम से धरा पर गिरेंगे,इसलिए ये लेख पढ़ने के बाद भी अगर कोई सेक्युलर बना रहना चाहता है,तो मुझसे और मुझ जैसे अनेक भाई बहनों से दूरी बना ले,क्यूंकि अब हमें अपने साथ सेक्युलर दीमकों को नहीं रखना।।

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

बीस साल पहले हिमाचल प्रदेश के एक गांव से एक पत्र रक्षा मंत्रालय के पास पहुंचा….. लेखक एक स्कूल शिक्षक थे और उनका अनुरोध इस प्रकार था….

उन्होंने पूछा, “यदि संभव हो तो, क्या मुझे और मेरी पत्नी को उस स्थान को देखने की अनुमति दी जा सकती है जहां कारगिल युद्ध में हमारे इकलौते पुत्र की मृत्यु हुई थी….

उनकी स्मृति दिवस,
07/07/2000 है।

यदि आप नहीं कर सकते हैं तो कोई बात नहीं, यदि यह राष्ट्रीय सुरक्षा के विरुद्ध है, तो इस स्थिति में मैं अपना आवेदन वापस ले लूँगा……”

पत्र पढ़ने वाले विभाग के अधिकारी ने कहा, “इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि उनके दौरे की लागत क्या है, मैं इसे अपने वेतन से भुगतान करूंगा, अगर विभाग तैयार नहीं है तो भी मैं शिक्षक और उनकी पत्नी को उस स्थान पर लाऊंगा जहां उनका इकलौता लड़का मर गया” और उसने एक आदेश जारी किया…..

शहीद नायक के स्मरण दिवस पर, बुजुर्ग दंपत्ति को सम्मान के साथ स्थल पर लाया गया। जब उन्हें उस स्थान पर ले जाया गया जहाँ उनके पुत्र की मृत्यु हुई, तो ड्यूटी पर मौजूद सभी लोगों ने खड़े होकर सलामी दी। लेकिन एक सिपाही ने उन्हें फूलों का गुच्छा दिया, झुककर उनके पैर छुए और उनकी आंखें पोंछीं और प्रणाम किया….

शिक्षक ने कहा, “आप एक अधिकारी हैं। मेरे पैर क्यों छूते हो?”
“ठीक है, सर”, सिपाही ने कहा, “मैं यहाँ अकेला हूँ, जो आपके बेटे के साथ था और यहाँ अकेला था जिसने आपके बेटे की वीरता को मैदान पर देखा था…

पाकिस्तानी अपने एच.एम.जी. से प्रति मिनट सैकड़ों गोलियां दाग रहे थे। हम में से पाँच तीस फीट की दूरी तक आगे बढ़े और हम एक चट्टान के पीछे छिपे हुए थे। मैंने कहा, ‘सर, मैं ‘डेथ चार्ज’ के लिए जा रहा हूं। मैं उनकी गोलियां लेने जा रहा हूं और उनके बंकर में जाकर ग्रेनेड फेंकूंगा। उसके बाद आप सब उनके बंकर पर कब्जा कर सकते हैं।’ मैं उनके बंकर की ओर भागने ही वाला था लेकिन आपके बेटे ने कहा, “क्या तुम पागल हो? तुम्हारी एक पत्नी और बच्चे हैं। मैं अभी भी अविवाहित हूँ, मैं जाता हूँ।”

आई डू द डेथ चार्ज एंड यू डू द कवरिंग’ और बिना किसी हिचकिचाहट के उसने मुझसे ग्रेनेड छीन लिया और डेथ चार्ज में भाग गया।

पाकिस्तानी एच.एम.जी. की ओर से बारिश की तरह गोलियां गिरी। आपके बेटे ने उन्हें चकमा दिया, पाकिस्तानी बंकर के पास पहुंचा, ग्रेनेड से पिन निकाला और ठीक बंकर में फेंक दिया, जिससे तेरह पाकिस्तानियों को मौत के घाट उतार दिया गया….

उनका हमला समाप्त हो गया और क्षेत्र हमारे नियंत्रण में आ गया। मैंने आपके बेटे का शव उठा लिया सर। उसे बयालीस गोलियां लगी थीं। मैंने उसका सिर अपने हाथों में उठा लिया और अपनी आखिरी सांस में उसने कहा, “जय हिंद!”

मैंने अपने वरिष्ठ से कहा कि वह इस वीर जवान के ताबूत को आपके गाँव लाने की अनुमति दे लेकिन उसने मना कर दिया।
हालाँकि मुझे इन फूलों को उनके चरणों में रखने का सौभाग्य कभी नहीं मिला, लेकिन मुझे उन्हें आपके चरणों में रखने का सौभाग्य मिला है, श्रीमान।

शिक्षिका की पत्नी अपने पल्लू के कोने में सब सुन रही थी और अपने पुत्र की दास्तां सुनते हुए धीरे से रो रही थी लेकिन शिक्षक नहीं रोया ।

शिक्षक ने कहा।, “मैंने अपने बेटे को पहनने के लिए एक शर्ट खरीदी थी जब वह छुट्टी पर आया था लेकिन वह कभी घर नहीं आया और वह अब कभी नहीं आएगा। सो मैं उसे वहीं रखने को ले आया जहां वह मृतयु को प्राप्त हुआ। आप इसे क्यों नहीं पहन लेते बेटा?”

कारगिल के हीरो का नाम कैप्टन विक्रम बत्रा था।
उनके पिता का नाम गिरधारी लाल बत्रा है।
उनकी माता का नाम कमल कांता है।

बहुत ही मार्मिक तथ्य हमारे दिल को… हीरो कैप्टन पर गर्व है। विक्रम बत्रा और प्यारे माता-पिता भी … और सहकर्मी भी।

हम तहे दिल से उन सभी वीर सैनिकों को सलाम करते हैं जो इस देश की सुरक्षा के लिए भगवान् को प्यारे हो गए।

भगवान उन्हें अपने ह्रदय में स्थान दें…..हाँ ऐसे स्मरण पढ़ कर या याद करके आंखे कई घण्टो के लिए नम हो जाती है …कम से कम मेरे साथ तो ऐसा ही है …😢
🌹🙏

हरीश शर्मा

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

આ લેખ વાંચવાનું ચુકતા નહિ
આંખો ભીની થઇ જશે
હૃદય સ્પર્શી સત્ય ઘટના

સ્મિતા…લોકર ની ચાવી ક્યાં છે..કડક શબ્દ માં ભાવેશ બોલ્યો…

સ્મિતા બોલી ..કેમ આજે લોકર ની ચાવી ની તમને જરૂર પડી…

એ તારો વિષય નથી…ચાવી ક્યાં છે…?

કેમ આજે સવારે અચાનક આવું ખરાબ વર્તન વ્યવહાર કરવા નું કારણ ?

એ તું સારી રીતે જાણે છે..સ્મિતા… હું ઘર ની નાની બાબત માં માથું મારતો નથી..પણ જે સૂચના મેં આપી હોય તેનું ઉલ્લંઘન હું ચલાવી લેતો નથી…તે તું જાણે છે…છતાં પણ તે…

પણ તેમાં શુ મોટું આભ તૂટી પડ્યું કે તમે તમારી પત્ની સાથે આવું વર્તન કરો છો…સ્મિતા બોલી

સ્મિતા કોઈ વ્યક્તી વિશે નો ઇતિહાસ ખબર ન હોય તો અયોગ્ય પગલાં ન લેવા જોઈએ
તું શું જાણે છે…મારી માઁ વિશે ?

તને મારી માઁ ના સ્વર્ગસ્થ થયા પછી હું તેની પીતળ ની થાળી વાટકો, અને ચમચી ભોજન દરમ્યાન વાપરતો હતો એ ગમતું ન હતું..

તું ક્યાર ની મને આ થાળી વાટકો ચમચી બ્રાહ્મણ અથવા ભંગાર માં આપવાની જીદ પકડતી હતી…
તારા સ્વભાવ અને નજર પ્રમાણે…મારી માઁ ની થાળી એઠી ગોબા વળી થાળી વાટકી કે ચમચી જ માત્ર હતા ..

આ બાબતે મેં તને ચેતવણી આપી હતી..તારે જે કરવું હોય તે કરજે પણ આ થાળી વાટકો કે ચમચી માટે કોઈ નિર્ણય લેતી નહિ..છતાં પણ તે એ થાળી વાટકો અને ચમચી…ભંગાર વાળા ને વેચી નાખ્યા?

તને મારી માઁ ની જૂની ગોબા વાળી થાળી પસંદ ન હોય તો તેના પહેરેલા જુના ઘરેણાં ઉપર પણ તારો અધિકાર નથી …ચાવી આપ..એ ઘરેણાં હું કોઈ ગરીબ વ્યક્તિ ને આપી ..દઉ

સ્મિતા સામું જોઈ રહી…

અંદર થી મારો પુત્ર શ્યામ આવ્યો પપ્પા આટલા બધા કદી ગુસ્સે નથી થતા..કેમ આજે…?

મેં આંખ મા પણી સાથે કીધું..તારી દાદી..અને મારી માઁ ની એક યાદ, તારી માઁ એ ભંગાર માં વેચી નાખી…એ પણ મારી સ્પષ્ટ ના હોવા છતાં

પણ પપ્પા એ થાળી….

બેટા એ થાળી વાટકા ચમચી નો ઇતિહાસ તારે જાણવો છે….આજે તું અને મમ્મી મારી સાથે આવો….આજે મારે ઓફિસે નથી જવું….

હું શ્યામ અને સ્મિતા ને લઈ અમારા ગામડા તરફ કાર માં આગળ વધ્યો….

મેં ગામડા ના મંદિર પાસે…કાર ઉભી રાખી…..અંદર થી અમે નીચે ઉતર્યા…ત્યાં પૂજારી પંડ્યાદાદા દોડતા આવ્યા અરે ભીખા તું…..

મારી પત્ની અને મારો પુત્ર શ્યામ મારી સામે જોઈ રહ્યા..એક કોર્પોરેટ કંપની નો જનરલ મેનેજર જેનો પગાર મહિને ૨ લાખ રૂપિયા… તેને પૂજારી આ રીતે બોલાવે એતો સ્મિતા કે શ્યામ ને ખબર જ ન હતી…

હું.પૂજારી ને પગે લાગ્યો….
પૂજારી બોલ્યો ..બહુ મોટો વ્યક્તિ થઈ ગયો બેટા…

મેં કીધું આ બધું..આ પ્રભુ અને મારી માઁ ની.કૃપા છે…

અમે દર્શન કરવા મંદિર માં ગયા…
દર્શન.કર્યા પછી…પૂજારી એ કીધું જમ્યા વગર જવાનું નથી…

પૂજારી પંડ્યા દાદા..એ પૂછ્યું….બા કેમ સાથે ન આવ્યા ?

મારી ભીની આંખ જોઈ પંડ્યા દાદા સમજી ગયા…..

એ બોલ્યા.. બેટા…તારી માઁ ની અંદર ગજબ નો આત્મવિશ્વાસ હતો ભણી ભલે ઓછું હતી..પણ તારો ઉછેર વગર બાપે કર્યો..એ છતાં બાપે કોઈ માઁ ન કરી શકે…એવો હતો

પંડ્યાદાદા મારા પરિવાર સામે જોઈ બોલ્યા..આ ભીખલા નું સાચું નામ ભાવેશ છે..પણ ગામ.આખું તેને ભીખો કહી પ્રેમ થી બોલવતું..કારણ ખબર છે..?

શાંતાબાના ઘરે ત્રણ વખત ઘોડિયા બંઘાયા..પણ કોઈ પણ કારણ થી આ બાળકો નું મૃત્યુ થતું…ચોથી વાર..આ ભાવેશ આવ્યો..ત્યારે…તેની.માઁ શાંતાબા એ તેના લાબું આયુષ્ય માટે ચંપલ આખી જીંદગી ન પહેરવાની….

અને એક વર્ષ પાંચ ઘરે ભીખ માંગી ને ખાવા ની બાધા લીધી હતી….

સવારે માંગી ને ખાય ઘણી વખત પેટ પૂરતું ન પણ મળે…
રાત્રે તો એક સમય ખાધા વગર ખેંચી લેતા…..એક વર્ષ રોજ કોઈ ના ઘરે ભીખ માંગવા ઉભવું સહેલું નથી..એ પણ ભીખાલા ના લાબું આયુષ્ય માટે…

ઉનાળો શિયાળો,
ચોમાસુ..ખુલ્લા પગે….ભીખલા ના લાબું આયુષ્ય માટે ફરતી એ માઁ નું સ્વપ્ન મારી નજર સામે પૂરું થયું.

થયું એવું….ભીખલો તો બચી ગયો પણ એક વર્ષ નો તેને મૂકી ને તેનો બાપ ટૂંકી બીમારી માં સ્વર્ગસ્થ થયો…શાંતાબા ઉપર આભ તૂટી પડ્યું..છતાં પણ તે હિંમત હાર્યા..નહિ….

ગામ ના કામ કરે ત્યારે ભાવેશ ને અહીં મંદિર મા વાંચવા માટે મૂકી જાય… ગામ આખા ના કામ કરી અહીં આવે ત્યારે …શાંતાબા થાકેલા હોય પણ મન માં દ્રઢ વિશ્વાસ.. મારા ભાવેશ ને મોટો સાહેબ બનાવવો છે…
શાંતાબા ને હું મારી બેન જ માનતો….

મારી આંખો માંથી અવિરત આંસુ વહી રહ્યા હતા…
મારો પુત્ર પણ દાદી ની વાતો સાંભળી…રડી પડ્યો…મારી પત્ની સ્મિતા હાથ જોડી બોલી….ભાવેશ મને માફ કર….
માઁ ને સમજવા માટે દસ અવતાર ઓછા પડે….એ પણ રડી પડી….અને બોલી…ફક્ત સાંભળી ને આટલું દુઃખ થાય એ જનેતા એ વેઠયું હશે ત્યારે કેવું દુઃખ થયું હશે

ભાવેશે ચેક બુક કાઢી…
પંડ્યાદાદા એક કામ કરવાનું છે…
બોલ બેટા…. તું પાછો કયારે દેખાવાનો..

દાદા વર્ષો થી મારી એક ઈચ્છા હતી…એ અચાનક આજે પુરી કરવાનો અવસર મળ્યો છે

આ મંદિર ની છત્ર છાયા માં તમારી દેખરેખ નીચે હું ભણ્યો..હતો….આ બે ચેક એક એક લાખ ના છે..એક મંદિર નો બીજો તમારો

અરે બેટા….

અરે દાદા હવે અગત્ય નું કામ…
મારી માઁ જે પાંચ ઘરે માંગી ને મારા માટે ખાતી..એ પાંચ ઘર મને તમે બતાવો…મારી સાથે કાર માં બેસી જાવ…

પંડ્યાદાદા એ પાંચ ઘર બતાવ્યા..એ દરેક વડીલો ને પગે લાગી..એક એક લાખ ના ચેક દરેક વ્યક્તિ ને આપી તેમનો દિલ થી મેં આભાર માન્યો…

રસ્તા માં પંડ્યા દાદા કહે બેટા…વાસ્તવ માં લોકો બારમું તેરમું અસ્થિ વિસર્જન માઁ બાપ ના મોક્ષ માટે કરતા હોય છે…પણ તે તારી માઁ ને આજે ઋણ મુક્ત કરી છે..તેનો મોક્ષ નક્કી*
ધન્ય છે બેટા તારા જેવા સંતાન દરેક ના ઘરે થજો…

મંદિરે પંડ્યા દાદા ને ઉતારી અમે પાછા ઘર તરફ રવાના થયા….

અમારા ઘર પાસે વાસણ ની દુકાન પાસે સ્મિતા એ કાર ઉભી રખાવી…તે અંદર ગઈ થોડા સમય પછી એ બહાર આવી ત્યારે..તેના હાથ માં મારી માઁ ના જુના થાળી વાટકી અને ચમચી હતા…

સ્મિતા એ મારા હાથ માં મુક્તા બોલી…આ દુકાને મેં કાલે વેચ્યા હતા આજે ફરી ખરીદી લીધા…
જો આ થાળી નો સેટ વેચાઈ ગયો હોત તો હું મારી જાત ને આખી જીંદગી માફ ન કરત…ભાવેશ મને માફ કર…આ થાળી ની તાકાત સમજવા માટે હું નબળી અને નાની પડી

સ્મિતા હું માફ કરનાર કોણ…મેં તો ફક્ત લાગણી ના સંબધો કેટલા ઊંડા હોય છે..તે સમજાવવા તને પ્રયત્ન કર્યો.ચલ કાર માં બેસ…
બેસું પણ એક શરતે.. મારા પાપો નું પ્રયશ્ચિત રૂપે હવે થી હું આ થાળી માં રોજ જમીશ…મંજુર…સ્મિતા બોલી

ભાવેશ…બોલ્યો સ્મિતા તને તારી ભૂલ સમજાઈ એ મારા માટે ઘણું છે.. તું જમે કે હું જમુ એ અગત્ય નું નથી…

આવી આદર્શ કોઈ પણ વ્યક્તિ હોય તેને જીવતા અને તેમના ગયા પછી પણ આદર આપવો એ આપણી ફરજ બને છે.

બાકી સ્મિતા પ્રેમનું બંધન એટલું પાક્કું હોવું જોઈએ, કે કોઈ તોડવા આવે તો એ પોતે જ તૂટી જાય ….

આ સત્ય ઘટના નો લેખ આપને ગમ્યો હોઈ અને તમારી આંખ અશ્રુભીની થઇ હોય તો આગળ શેર કરવા નું ભૂલશો નહીં

😢😢😢😢😢😢😢😢
રાહુલ પરમાર

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

IMA साब ! किसी काम से एक गाँव में गए. चलते-चलते पांव में पत्थर चुभ गया, खून की धारा बह निकली. साथ में चल रहा ग्रामीण लल्लन तेजी से दौड़कर कुटी हल्दी ले आया और बोला:- IMA साब ! ई लो हल्दी और घाव में दबाई लो. खून बहना बंद हुई जाई.

IMA साब लल्लन की और आंखे तरेरते हुए बोले:- ऐसे कैसे लगा ले ?? हल्दी लैब में टेस्टिंग के लिए भेजनी पड़ेगी. रिसर्च करनी पड़ेगी हल्दी से खून रुकता है या नही. 7 दिन में रिजल्ट आएगा.
लल्लन:- साब ! हम तो जीवनभर ये ई टेस्टिंग कर रहे है, अनुभव है लगाई लो. 7 दिन तो छोड़ो 7 घण्टे भी यूँ ही बैठन रहे तो सारा खून बहकर प्राण पखेरू उड़ जाइ. आसपास कौनु अस्पताल भी नाही है.

मरता ना क्या ना करता साब ने मुँह बनाकर घाव में ठूस ली हल्दी. आधे घण्टे में खून बहना बंद हो गया. IMA साब ! की आंखे फ़टी की फटी रह गई.

कुछ घण्टे गांव में बिताए ही थे कि IMA साब जोर-जोर से खांसने लगे. शायद गांव के बदले मौसम को झेल ना पाए.
(आखिर सप्लीमेंट खा-खाकर इम्युनिटी जो बनाई थी)

साब को खाँसता देख लल्लन दौड़कर अजवाइन ले आया. बोला:- साब ! मुंह में दबाई लो. खांसी रुक जाएगी. मौसमी है.
IMA साब(झल्लाते हुए):- अरे मूर्ख ! ऐसे कैसे खा ले. पहले अजवाइन को लैब भेजकर टेस्टिंग करना पड़ेगा. 15 दिन में रिजल्ट आएगा.
लल्लन:- साब ! अजवाइन मुँह में दबाई लो. टेस्टिंग फिर करत रहना. 15 दिन तो क्या 15 घण्टे भी यूँ खांसत रहे तो फेफड़े बाहर निकल जाई है.

मरता क्या ना करता. IMA साब ने मुँह-नाक सिकोड़कर भकोस ली अजवाइन. दो घण्टे में खांसी कम हो गई. साब ! भौचक्क रह गए.

रात में अचानक से IMA साब की जोर-जोर से चिल्लाने की आवाज आई. लल्लन दौड़ते हुए पहुंचा तो साब पेट पकड़कर जोर से कराह रहे है. शायद बदले हवा/पानी के कारण हाजमा बिगड़ गया था.
(क्या करें रिसर्च की हुई “डाइट प्लान” जो ले रहे थे)

लल्लन को देखकर साब बोले:- अरे लल्लन ! पेट दर्द का कोई इलाज है क्या ?? जल्दी करो.
लल्लन:- साब ! है तो इलाज ! लेकिन टेस्टिंग/रिसर्च करनी पड़ेगी. रिजल्ट आने में 30 दिन लग जाई.
IMA साब(चिल्लाते हुए):- अरे भाड़ में गई रिसर्च. तेरा अनुभव तो है ना. जा जल्दी कर. नही तो 30 दिन तो छोड़ 1 रात नही कटेगी. लल्लन दौड़कर कुछ औषधियां कूट लाया. दवाई खाकर IMA साब को कब नींद लग गई पता ही नही चला.

सुबह IMA साब ! ने हिसाब जोड़ा. तीनो घटनाक्रम में कितना बिल बनता. खर्चा हजारों का निकला. वही लल्लन ने 100 रु में कर दिया. IMA साब ! मन ही मन मे बुदबुदाये, “यार फार्मा लॉबी लुटती बहुत है”..

लेकिन रस्सी जल गई पर बल ना गए. जाते-जाते IMA साब ! लल्लन को नोटिस थमा गए. जवाब दो तुमने तीनो औषधियों का प्रयोग किस आधार पर किया ?? उसका प्रमाणिक आधार क्या है ?? जवाब दो नही तो माफी मांगो.

लल्लन ने सिर पकड़ लिया..

🚩🚩🤔🤔