Posted in हिन्दू पतन

क्या यह आश्चर्य का विषय नहीं है कि अलग देश बनवाने के बाद भी वे भारत में क्यों रहे ?

इन लोगों की भयावह चाल को कभी भी हम भारतीयों को सफल नहीं होने देना चाहिए।

बॉलीवुड के तथाकथित देशभक्तों के पास वास्तव में अपने पिता, दादा या परदादा के पापों का जवाब देने के लिए केवल झूठ ही है।

शुरुआत हम शबाना आजमी के पिता कैफी आजमी से कर सकते हैं।
——————————————
उन्होंने पाकिस्तान के निर्माण का जश्न मनाते हुए कविताएँ लिखीं। कैफ़ी आज़मी विभाजन के समर्थक थे और उन्होंने विभाजन से ठीक पहले एक कविता लिखी थी “अगली आय में” (अगली ईद पाकिस्तान में)।
कैफी आज़मी पाकिस्तान गये और कुछ ही दिनों में वापस आ गया। फिर वे यहीं बस गये I अब उनके बच्चे हमें ज्ञान देते हैं कि उनके माता-पिता भारत से कितना प्यार करते थे।

इप्टा (इंडियन पीपल्स थिएटर एसोसिएशन) कम्युनिस्ट पार्टी का सांस्कृतिक मोर्चा था और आज भी है I
शबाना आज़मी इप्टा की सक्रिय प्रस्तावक हैं। यह कम्युनिस्ट विचारधारा के तहत था कि कैफ़ी और यहां तक कि साहिर लुधियानवी जैसे लेखकों ने पाकिस्तान के निर्माण का समर्थन किया।

साहिर लुधियानवी भी वास्तव में लगभग 6-7 महीने पाकिस्तान में रहा फिर उसने भारत सरकार से वापस आने और यहां रहने की अनुमति देने की गुहार लगाई।

फिर भी कैफ़ी और साहिर और नासर के पिता जैसे लोग ‘न्यू मदीना’
(पाकिस्तान) के पक्ष में लगातार कविताएँ लिख रहे थे और भाषण दे रहे थे।

जावेद अख्तर के परदादा मौलाना फजले हक खैराबादी ने 1855 में अयोध्या में प्रसिद्ध हनुमान गढ़ी मंदिर पर कब्जा करने और उसे गिराने के लिए फतवा दिया था।पर अंग्रेजों ने वास्तव में इन मुस्लिम आक्रांताओं से हनुमान गढ़ी के अयोध्या मंदिर को बचाया।

इसी कारण खैराबादी ने अंग्रेजों के खिलाफ जिहाद का आह्वान किया, जिसके लिए उन्हें पकड़ लिया गया और काला पानी भेज दिया गया।
वह 1857 के बाद भी अंग्रेजों के प्रति वफादारी की याचना करता रहा I तब अंग्रेज़ो ने दया की I

लेकिन खैराबादी तब भी दूसरे मुसलमानो को जिहाद करने और मरने मारने के लिए उकसाता रहा I जान निसार अख्तर के दादाजी ने विनती की और अंग्रेजों ने उनकी वफादारी के बदले में नरमी बरती।फिर उन्होंने खुद एक भव्य और शानदार जीवन व्यतीत किया I

अब नसीरुद्दीन शाह के परिवार पर आते हैं। उनके परदादा जन-फिशन खान ने 1857 में अंग्रेजों का समर्थन किया, सरधना में एक जागीर और एक हज़ार रुपये की पेंशन प्राप्त की।उनके पिता, अली मोहम्मद शाह, एक मुस्लिम लीग सदस्य, बहराइच, यूपी से थे। उन्होंने पाकिस्तान को वोट दिया, इंग्लैंड में रेस्टोरेंट खोलना चाहता था I पर कहीं नहीं जा पाया और यहीं रुके रहे I इसी तरह यूपी/महाराष्ट्र/तमिलनाडु/केरल/बिहार के मुसलमानों ने पाकिस्तान को वोट दिया पर वे भी पाकिस्तान नहीं गए।

अब नसीर खान हमें ज्ञान देते हैं कि उनके परिवार का भारत के प्रति गहरा प्रेम है।

अब मजरूह सुल्तानपुरी का एक और मामला लें। उन्होंने भी पाकिस्तान की महानता पर कविताएँ लिखीं पर कुछ दिनो में भारत लौट आये फिर यहीं रुके रहे I

मुस्लिमों में से बहुत शातिर क़िस्म के लोग भी जिनमें उनका नेतृत्व भी शामिल है, पाकिस्तान के लिए रवाना हुए पर उन्होंने भारत में परिवार का एक हिस्सा आबाद रखा I राजा महमूदाबाद जैसे कुछ लोग यूपी में संपत्ति का दावा करने के लिए बुढ़ापे में वापस आए (मामला चल रहा है)।

उन्होंने जिन्ना (उनके मामा) को वित्त पोषित किया। इस मामले को आखिरकार सुलझा लिया गया और @narendramodi सरकार ने संपत्ति को बचाने के लिए शत्रु संपत्ति अधिनियम में संशोधन किया। कांग्रेस उन्हें संपत्ति देने के लिए पूरी तरह तैयार थी।

“पाकिस्तान की विचारधारा” शब्द का इस्तेमाल पहली बार 1971 में याह्या खान के सूचना मंत्री मेजर जनरल शेर अली खान पटुआदी द्वारा किया गया था। क्या आप जानते हैं कौन है ये पटौदी? जी हां, सैफ अली खान पटुआदी के अंकल। सैफ के दादा यहां क्यों रुके थे? क्योंकि यहां उनकी संपत्ति बहुत ज्यादा थी।

सैफ के बड़े चाचा मज्र. जनरल इसफंदयार अली खान पटौदी आईएसआई के उप निदेशक थे। एक और परदादा मामा एम.जे.आर. जनरल शेर अली पटौदी पाक सेना में जनरल स्टाफ के प्रमुख थे, एक और महान चाचा शहरयार अली पटौदी पीसीबी के अध्यक्ष थे।

यह सब बहुत सोचा समझा प्लान था। इनका विचार भारत की राजनीति में घुसपैठ करना और पाकिस्तान के लिए अनुकूल परिवर्तन करवाते रहना सरकारी शासन तन्त्र पर कब्जा करना था I

जो लोग पाकिस्तान चाहते थे, वे योजना अनुसार नहीं गए और जो पंजाब और एनडब्ल्यूएफपी (पठानों) को नहीं चाहते थे, उन्हें मिल गया।

हैदराबाद के मुसलमानों ने वैसे भी सोचा था कि उनका एक अलग देश होगा I नवाब ने रु 1947 में पाकिस्तान को मदद के लिए 150 करोड़ ओवैसी के पिता (जो रजाकार थे) को दिये पर वह रक़म उन्होंने लंदन के एक बैंक में जमा करवा दिया। ओवैसी अब ज्ञान बाँट रहे हैं कि वे भारत से कितना प्यार करते हैं I

पाकिस्तान से वापस आने वालों की लिस्ट लम्बी है I बिहार से सैय्यद हुसैन इमाम, एम. मो. मद्रास से इस्माइल, आदि, मुस्लिम लीग के कुछ नेता भी भारत में वापस आ गए थे।

इन सभी मुस्लिमों ने पाकिस्तान को भारतीय मुसलमानों की मातृभूमि के रूप में बनाया था I ख़ुद ऐसे नेता वापस रहने की अनुमति लेकर भारत में बस गये I मेरी राय में उन्हें भारत आने देने का कोई औचित्य नहीं था।
महमूदाबाद के राजा, बेगम एजाज रसूल, पीरपुर के राजा, मौलाना हसरत मोहानी आदि पाकिस्तान के बड़े पैरोकार पाकिस्तान नहीं गए I उनके वंशज यहां ज्ञान देते हैं।

विडंबना यह है कि लतीफ़ी, जो पाकिस्तान के वास्तुकारों में से एक थे और पाकिस्तान के निर्माण के एक उत्साही समर्थक थे, नए देश में नहीं गए। लतीफी 1950 के दशक में खुशवंत सिंह के पिता द्वारा दिए गए फ्लैट में रहते थे और फिर उन्हें अपना ठिकाना मिल गया। दिल्ली में मरे, बनवाकर भी पाकिस्तान नहीं गए।

इसके अलावा, आजम खान की प्रसिद्धि के रामपुर ने, रामपुर राज्य को पाकिस्तान में शामिल करने की मांग करते हुए, सरकारी भवनों को आग लगाकर एक आंदोलन शुरू किया।

आप उस सबसे बड़े बदमाश को जानते हैं जिसने मुस्लिम लीग (1945-46 में जिन्ना द्वारा इस्तेमाल किया गया) का घोषणापत्र लिखा था, पाकिस्तान के विचारक, बॉम्बे हाई कोर्ट में प्रैक्टिस करते रहे और कभी पाकिस्तान नहीं गए। उन्हें इस देश में रहने और अभ्यास करने की इजाजत कैसे दी गई। पाकिस्तान के लिए उनका योगदान इकबाल से भी बड़ा है, फिर भी वे कभी नहीं गए। यदि आप पाकिस्तान में मुसलमानों के लिए एक मातृभूमि बनाने में इतने निवेशित थे और घोषणापत्र, वैचारिक कारणों को लिखा और इसे इकबाल के आध्यात्मिक संदेशों के साथ मिला दिया, तो भी वह नहीं गए, लेकिन उस भूमि पर रहे जिससे वे नफरत करते थे और छुटकारा पाना चाहते थे।

मुझे इस सब में संयोग नहीं दिखता, मुझे एक भयावह मकसद दिखाई देता है।

जैसा कि सरदार पटेल ने कोलकाता 1949 में कहा था, “कल तक आप पाकिस्तान चाहते थे, उसे वोट दिया और अब आप भारत से प्यार करने का दावा करते हैं, मैं आप पर कैसे विश्वास करूं ?
Copied

Author:

Buy, sell, exchange old books

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s