Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक, रामायण - Ramayan

*आप के नाम में छुपा है राम का नाम! *
*एक बार पुरा गणित लगाकर देख ले आश्चर्य चकित हो जॉंएगे *

: अद्भुत गणित
अदभुत गणितज्ञ “श्री.तुलसीदासजी से एक भक्त ने पूछा कि महाराज आप श्रीराम के इतने गुणगान करते हैं , क्या कभी खुद श्रीराम ने आपको दर्शन दिए हैं ?
तुलसीदास बोले :- ” हां “
भक्त :- महाराज क्या आप मुझे भी दर्शन करा देंगे ???
तुलसीदास :- ” हां अवश्य ” ….तुलसीदास जी ने ऐसा मार्ग दिखाया कि एक गणित का विद्वान भी चकित हो जाए !!!
तुलसीदास जी ने कहा , “”अरे भाई यह बहुत ही आसान है !!! तुम श्रीराम के दर्शन स्वयं अपने अंदर ही प्राप्त कर सकते हो.””
हर नाम के अंत में राम का ही नाम है।

इसे समझने के लिए तुम्हे एक “सूत्रश्लोक ” बताता हूँ।
यह सूत्र किसी के भी नाम में लागू होता है !!!
भक्त :-” कौनसा सूत्र महाराज ?”

तुलसीदास :- यह सूत्र है …
*नाम चतुर्गुण पंचतत्व मिलन तासां द्विगुण प्रमाण*
*तुलसी अष्ट सोभाग्ये अंत मे शेष*
*राम ही राम*

इस सूत्र के अनुसार
अब हम किसी का भी नाम ले और उसके अक्षरों की गिनती करें..
1)उस गिनती को (चतुर्गुण) 4 से गुणाकार करें
2) उसमें (पंचतत्व मिलन) 5 मिला लें
3) फिर उसे (द्विगुण प्रमाण) दुगना करें
4)आई हुई संख्या को (अष्ट सो भागे) 8 से विभाजित करें ।
“” संख्या पूर्ण विभाजित नहीं होगी और हमेशा २ शेष रहेगा!!! …
यह 2 ही *राम* है। यह 2 अंक ही *राम* अक्षर हैं।.

विश्वास नहीं हों रहा है ना???
चलिए हम एक उदाहरण लेते हैं …
आप एक नाम लिखें , अक्षर कितने भी हों !!!

उदाहरण के लिए :- *निरंजन*… 4 अक्षर
1) 4 से गुणा करिए 4×4=16
2) 5 जोड़िए 16+5=21
3) दुगने करिए 21×2=42
4) 8 से विभाजन करने पर 42÷8= 5 पूर्ण अंक , शेष 2 !!!
शेष हमेशा दो ही बचेंगे,यह बचे 2 अर्थात् – “राम” !!!

विशेष यह है कि सूत्रश्लोक की संख्याओं को तुलसीदासजी ने विशेष महत्व दिया है!!
1) चतुर्गुण अर्थात् 4 पुरुषार्थ :- धर्म, अर्थ, काम,मोक्ष !!!
2) पंचतत्व अर्थात् 5 पंचमहाभौतिक :- पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु , आकाश!!!
3) द्विगुण प्रमाण अर्थात् 2 माया व ब्रह्म !!!
4) अष्ट सो भागे अर्थात् 8 आठ प्रकार की लक्ष्मी (आग्घ, विद्या, सौभाग्य, अमृत, काम, सत्य, भोग आणि योग
लक्ष्मी ) अथवा तो अष्ठधा प्रकृति।

अब यदि हम सभी अपने नाम की जांच इस सूत्र के अनुसार करें तो आश्चर्यचकित रह जाएंगे कि हमेशा शेष 2 ही प्राप्त होगा …!!
इसी से हमें श्री तुलसीदास जी की बुद्धिमानी और अनंत रामभक्ति का ज्ञान होता है !!!

जय बाबा तुलसी दास!!
जय श्री सीताराम!!
🌹🙏 *जय श्री राम*🙏🌹

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

♦️♦️♦️ रात्रि कहांनी ♦️♦️♦️

👉 उर्मिला-त्याग की देवी 🏵️
🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅
रामायण जीवन जीने की सबसे उत्तम शिक्षा देती हैं । भगवान राम को 14 वर्ष का वनवास हुआ तो उनकी पत्नी माँ सीता ने भी सहर्ष वनवास स्वीकार कर लिया परन्तु बचपन से ही बड़े भाई की सेवा मे रहने वाले लक्ष्मण जी कैसे राम जी से दूर हो जाते! माता सुमित्रा से तो उन्होंने आज्ञा ले ली थी, वन जाने की.. परन्तु जब पत्नी उर्मिला के कक्ष की ओर बढ़ रहे थे तो सोच रहे थे कि माँ ने तो आज्ञा दे दी, परन्तु उर्मिला को कैसे समझाऊंगा!! क्या कहूंगा!

यहीं सोच विचार करके लक्ष्मण जी जैसे ही अपने कक्ष में पहुंचे तो देखा कि उर्मिला जी आरती का थाल लेके खड़ी थीं और बोलीं- “आप मेरी चिंता छोड़ प्रभु की सेवा में वन को जाओ। मैं आपको नहीं रोकूँगीं। मेरे कारण आपकी सेवा में कोई बाधा न आये, इसलिये साथ जाने की जिद्द भी नहीं करूंगी।”

लक्ष्मण जी को कहने में संकोच हो रहा था। परन्तु उनके कुछ कहने से पहले ही उर्मिला जी ने उन्हें संकोच से बाहर निकाल दिया। वास्तव में यहीं पत्नी का धर्म है। पति संकोच में पड़े, उससे पहले ही पत्नी उसके मन की बात जानकर उसे संकोच से बाहर कर दे!

लक्ष्मण जी चले गये परन्तु 14 वर्ष तक उर्मिला ने एक तपस्विनी की भांति कठोर तप किया। वन में भैया-भाभी की सेवा में लक्ष्मण जी कभी सोये नहीं परन्तु उर्मिला ने भी अपने महलों के द्वार कभी बंद नहीं किये और सारी रात जाग जागकर उस दीपक की लौ को बुझने नहीं दिया।


मेघनाथ से युद्ध करते हुए जब लक्ष्मण को शक्ति लग जाती है और हनुमान जी उनके लिये संजीवनी का पहाड़ लेके लौट रहे होते हैं, तो बीच में अयोध्या में भरत जी उन्हें राक्षस समझकर बाण मारते हैं और हनुमान जी गिर जाते हैं। तब हनुमान जी सारा वृत्तांत सुनाते हैं कि सीता जी को रावण ले गया, लक्ष्मण जी मूर्छित हैं।


यह सुनते ही कौशल्या जी कहती हैं कि राम को कहना कि लक्ष्मण के बिना अयोध्या में पैर भी मत रखना। राम वन में ही रहे।

माता सुमित्रा कहती हैं कि राम से कहना कि कोई बात नहीं। अभी शत्रुघ्न है। मैं उसे भेज दूंगी। मेरे दोनों पुत्र राम सेवा के लिये ही तो जन्मे हैं।

माताओं का प्रेम देखकर हनुमान जी की आँखों से अश्रुधारा बह रही थी परन्तु जब उन्होंने उर्मिला जी को देखा तो सोचने लगे कि यह क्यों एकदम शांत और प्रसन्न खड़ी हैं? क्या इन्हें अपनी पति के प्राणों की कोई चिंता नहीं?

हनुमान जी पूछते हैं- देवी! आपकी प्रसन्नता का कारण क्या है? आपके पति के प्राण संकट में हैं। सूर्य उदित होते ही सूर्य कुल का दीपक बुझ जायेगा। उर्मिला जी का उत्तर सुनकर तीनों लोकों का कोई भी प्राणी उनकी वंदना किये बिना नहीं रह पाएगा।

वे बोलीं- “मेरा दीपक संकट में नहीं है, वो बुझ ही नहीं सकता”। रही सूर्योदय की बात तो आप चाहें तो कुछ दिन अयोध्या में विश्राम कर लीजिये, क्योंकि आपके वहां पहुंचे बिना सूर्य उदित हो ही नहीं सकता।

आपने कहा कि प्रभु श्रीराम मेरे पति को अपनी गोद में लेकर बैठे हैं। जो योगेश्वर राम की गोदी में लेटा हो, काल उसे छू भी नहीं सकता। यह तो वो दोनों लीला कर रहे हैं। मेरे पति जब से वन गये हैं, तबसे सोये नहीं हैं। उन्होंने न सोने का प्रण लिया था। इसलिए वे थोड़ी देर विश्राम कर रहे हैं और जब भगवान् की गोद मिल गयी तो थोड़ा विश्राम ज्यादा हो गया। वे उठ जायेंगे।

शक्ति मेरे पति को लगी ही नहीं शक्ति तो राम जी को लगी है। मेरे पति की हर श्वास में राम हैं, हर धड़कन में राम, उनके रोम रोम में राम हैं, उनके खून की बूंद बूंद में राम हैं, और जब उनके शरीर और आत्मा में हैं ही सिर्फ राम, तो शक्ति राम जी को ही लगी, दर्द राम जी को ही हो रहा। इसलिये हनुमान जी आप निश्चिन्त होके जाएँ। सूर्य उदित नहीं होगा।”

*यह भोग की नहीं….त्याग की कथा हैं, यहाँ त्याग की प्रतियोगिता चल रही हैं और सभी प्रथम हैं, कोई पीछे नहीं रहा। चारो भाइयों का प्रेम और त्याग एक दूसरे के प्रति अद्भुत-अभिनव और अलौकिक हैं । राम राज्य की नींव जनक की बेटियां ही थीं… कभी सीता तो कभी उर्मिला। भगवान् राम ने तो केवल राम राज्य का कलश स्थापित किया परन्तु वास्तव में राम राज्य इन सबके प्रेम, त्याग, समर्पण , बलिदान से ही आया।*



*सदैव प्रसन्न रहिये।*
*जो प्राप्त है, पर्याप्त है।।*

🙏🙏🙏🙏🌳🌳🙏🙏🙏🙏

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

હુ હંમેશા મૂર્ખ માણસથી દૂર ભાગુંછું

ઈસુ જઈ રહ્યાં હતાં, તેમની પાછળ તેમના અનુયાયીઓ હતા.ઈસા પયગમ્બર જેમને ઈશુ ખ્રિસ્ત કહેવામાં આવે છે.એક વખત તેઓ પહાડ તરફ જતા હતા ત્યારે તેમના એક શિષ્યે તેમને મોટા અવાજે બૂમ પાડીને કહ્યું. ‘હે પયગમ્બર તમો કેમ આટલા બધા ડરી ગયા છો ? આપને શાનો ડર લાગી રહ્યો છે ? શું તમારી પાછળ કોઇ દુશ્મન છે?’

ઈસુએ કહ્યું.હું કશાથી ડરતો નથી. હું મૃત્યુથી પણ ડરતો નથી. હું ફકત મૂર્ખ માણસથી ડરું છું. તું જા, તારું કામ કર હું ફકત મૂર્ખ માણસની સોબતથી છોડાવવા ચાહું છું. તેમના શિષ્યે કહયું કે, તમો તો પયગમ્બર છો. આપ આંધળા બહેરાને સાજા કરો છો, તો મૂર્ખાઓથી કેમ દૂર ભાગો છો ?

ઈસુએ જવાબ આપ્યો. મૂર્ખાઇની બીમારી અલ્લાહનો કોપ છે. જયારે આંધળા હોવું કોપ નથી પરંતુ કસોટી છે અને આ કસોટી એવી બીમારી છે, જે અલ્લાહની મહેરબાનીને ખેંચી લાવે છે. જયારે મૂર્ખાઇ એવી બીમારી છે જે જખમ લાવે છે.

દરેક માનવીએ પણ હ. ઇસા પયગમ્બરની જેમ મુરખથી દૂર ભાગવું જોઇએ. મૂર્ખાઓની દોસ્તીથી ઘણા ખૂન ખરાબા થયા છે. મૂર્ખાઓની દોસ્તીથી દિન ધર્મ અને દુનિયાનું ખૂન થાય છે. જેવી રીતે હવા પાણીને ધીરે ધીરે શોષી લે છે. બાષ્પીભવન કરી લે છે તેજ રીતે મૂર્ખ તમારી અકકલનું બાષ્પીભવન કરે છે. યાદ રાખો એ જ લોકો બેવકૂફ અક્કલહીન છે, પરંતુ તેમની મૂર્ખાઇની તેમને ખબર નથી. આવા મૂર્ખ લોકો અલ્લાહના આદેશોની ઠેકડી કે મજાક ઉડાવે છે અને પોતાની જાતને ચિંતક કે ફિલોસોફર ગણાવે છે.આવા લોકો દુન્યવી જિંદગી ઠાઠ-માઠથી જીવે છે. પરંતુ મૃત્યુ બાદની જિંદગીનો વિચાર કરતા નથી.

દુનિયામાં એવી રીતે રહો જેવી રીતે વહાણ પાણીમાં રહે છે. જો પાણી વહાણમાં દાખલ થાય તો વિનાશની શરૂઆત થાય છે. આવા મૂર્ખાઓથી સૌએ બચીને રહેવું જોઇએ. એવી આ બધી માયાને સમજી લઇએ, પહેલાંપ્રથમ આદુનિયાને સમજી લઈએ, ઈશ્વર એ પછી સહેજમાં સમજાઈ જશે, એકવાર અમો પોતાને સમજી લઈએ.

સૌજન્ય
દિવ્ય ભાસ્કર

Posted in बॉलीवुड - Bollywood

देविका रानी


जब भारत की प्रसिद्ध अभिनेत्री ने प्रसिद्ध रूसी चित्रकार से ब्याह किया

देविका रानी और स्वितअस्लाफ़ रेरिख़ के जादुई जीवन पर एक नजर

रूसी चित्रकार स्वितअस्लाफ़ रेरिख़ से विवाह करने से पहले देविका रानी एक प्रतिष्ठित अभिनेत्री, फ़िल्म निर्माता और गायिका के रूप में स्थापित हो चुकी थीं। करीब पाँच दशकों तक रूसी और भारतीय कलाकारों की यह जोड़ी भारत के कला और सांस्कृतिक परिदृश्य पर छाई रही।

मसक्वा स्थित पूर्वी देशों के कला-संग्रहालय को देखने के लिए आने वाले किसी भी भारतीय दर्शक का ध्यान तुरन्त ही संग्रहालय में रखी एक पेण्टिंग की ओर आकर्षित हो जाता है, जिसमें एक बेहद ख़ूबसूरत और प्रभावशाली महिला साड़ी में दिखाई दे रही है। हम में से बहुत से लोग भारत को आज़ादी मिलने के बरसोंं बाद पैदा हुए, इसलिए हम इस पेण्टिंग में चित्रित महिला को तुरन्त नहीं पहचान पाते। यह देविका रानी रेरिख़ का तैलचित्र है, जिसे रचा है उनके रूसी चित्रकार पति स्वितअस्लाफ़ रेरिख़ ने। देविका रानी को लोग आज भी भारतीय फ़िल्म जगत की उस पहली महिला के रूप में जानते हैं, जिन्हें अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर जाना-पहचाना गया था।

देविका रानी उन दिनों लन्दन में पढ़ रही थीं, जब अचानक उनकी मुलाक़ात भारतीय फ़िल्म-निर्माता हिमांशु राय से हुई। हिमांशु राय को पहली ही नज़र में लड़की पसन्द आ गई और उन्होंने देविका रानी के सामने विवाह करने का प्रस्ताव रख दिया। हिमांशु राय से विवाह करके देविका रानी मुम्बई आ गईं और फ़िल्मों में अभिनय करने लगीं। फ़िल्म अभिनेता अशोक कुमार और देविका रानी की जोड़ी हिट हो गई और दोनों अक्सर एक साथ फ़िल्मों में दिखाई देने लगे। बाद में देविका रानी ने हिमांशु राय के साथ मिलकर बॉम्बे टाकीज की स्थापना की और बॉम्बे टाकीज के बैनर तले फ़िल्में बनाने लगे। 1940 में हिमांशु राय का देहान्त हो गया। इसके बाद देविका रानी अकेले ही बॉम्बे टाकीज का कामकाज देखने लगीं और उन्होंने एक से एक बढ़कर लोकप्रिय फ़िल्में बनाईं।

1933 में भारत की पहली बोलती फ़िल्म ’कर्मा’ में काम करके देविका रानी ने एक नया रास्ता खोला। इसी फ़िल्म में उन्होंने पहली बार अँग्रेज़ी में एक गीत भी गाया।

अमर प्रेम

1943 में परदे पर आई ’हमारी बात’ देविका रानी की आख़िरी फ़िल्म थी, जिसमें उन्होंने अभिनय किया था। इसी फ़िल्म में उन्होंने राज कपूर नाम के एक नए और अनजान अभिनेता को भी एक छोटी-सी भूमिका दी थी। इसके एक साल बाद जब वे दिलीप कुमार की पहली फ़िल्म ’ज्वार-भाटा’ बना रही थीं, तभी उनकी मुलाक़ात रूसी चित्रकार स्वितअस्लाफ़ रेरिख़ से हुई।

स्वितअस्लाफ़ रेरिख़ के पिता निकलाई रेरिख़ दुनिया के एक जाने-माने चित्रकार, लेखक और दार्शनिक थे, जिन्हें रहस्यवादी चित्रकार और लेखक माना जाता था।

देविका रानी अपनी फ़िल्मों के सेट बनवाने के लिए किसी अनूठे और अनोखे चित्रकार की तलाश कर रही थीं। और उनकी यह तलाश स्वितअस्लाफ़ रेरिख़ के स्टूडियो में पहुँचकर पूरी हुई। इस नई खोज ने तो जैसे उनके जीवन की धारा ही बदल दी। देविका रानी और स्वितअस्लाफ़ दोनों एक-दूसरे पर फ़िदा हो गए और एक साल के भीतर-भीतर उन्होंने विवाह कर लिया।

शक्ति सिंह चन्देल ने बताया — कुल्लू के लोगों ने बड़ी धूमधाम से दोनों के विवाह का उत्सव मनाया। कुल्लू घाटी के 365 देवताओं के प्रतिनिधि देविका रानी का स्वागत करने के लिए आए थे। कुल्लू के स्थानीय निवासी हर्षोल्लास से गा-बजा रहे थे और झूम-झूमकर नाच रहे थे। जिस पालकी में बैठकर देविका रानी अपनी ससुराल पहुँची, उस पर लगातार फूल बरसाए जा रहे थे।

विवाह के बाद देविका रानी ने फ़िल्मों को और अपने फ़िल्मी करियर को पूरी तरह से तिलांजलि दे दी और वे कुल्लू घाटी में आकर रहने लगीं। लेकिन उन्होंने बस, चार बरस ही कुल्लू में बिताए। उसके बाद रेरिख़ दम्पती हमेशा के लिए बेंगलुरु चले गए। लेकिन कुल्लू घाटी के अनुपम दृश्य-चित्र और कुल्लू के लोगों की सरल-सहृदय छवि देविका रानी के हृदय में हमेशा के लिए अंकित हो गई।

देविका रानी ने पिछली सदी के नौवें दशक में अपनी पुरानी स्मृतियों में डूबते हुए लिखा था — कुल्लू में स्वितअस्लाफ़ का घर था। वहाँ उनके अपने लोग रहते थे। वहाँ उनके माता-पिता रहते थे — प्रोफ़ेसर रेरिख़ और मादाम रेरिख़। वहाँ उनका भाई जार्ज रेरिख़ रहता था। कुल्लू के सुन्दर दृश्य भुलाए नहीं भूलते… अनूठा हिमालय,,, हिमपात और फिर वसन्तकाल में खिलने वाले वे मनोहर अद्भुत्त फूल… वहाँ हमारा घर था, मेरा घर। पूरे घर में मुझे घर की दुलारी और प्यारी बिटिया की तरह प्यार किया जाता था और स्वितअस्लाफ़ पति होने के साथ-साथ मेरा एक बेहतरीन दोस्त भी बन गया था।

तातागुनी जागीर

रेरिख़ दम्पती ने 1949 में कुल्लू छोड़ दिया और वे बेंगलुरु के बाहरी इलाके में बनी तातागुनी जागीर में जाकर बस गए।

अन्तरराष्ट्रीय रेरिख़ स्मारक ट्रस्ट ने देविका रानी का परिचय इस तरह दिया है — स्वितअस्लाफ़ के लिए जनसम्पर्क का सारा काम देविका ने सँभाल लिया था। वे भारत में और विदेशों में उनके चित्रों की प्रदर्शनियों का आयोजन किया करती थीं। उन्होंने ही कुल्लू के पास नग्गर में रेरिख़ जागीर में निकलाय और स्वितअस्लाफ़ रेरिख़ की कला दीर्घा की स्थापना की। उनसे मिलने वाले लगातार समर्थन और प्रेरणा की वजह से ही स्वितअस्लाफ़ रेरिख़ अपना ध्यान चित्र बनाने की ओर केन्द्रित रख सके और उन्होंने हिमालय की छवियों और दक्षिण भारतीय परिदृश्यों को समर्पित अद्भु‍त्त चित्र-शृंखलाएँ बनाईं। उन्होंने देविका रानी की ऐसी अद्भुत्त शबीहें (पोर्ट्रेट) बनाईं, जिनमें देविका रानी के प्रति उनका भरपूर प्यार और स्नेह छलकता है।

स्वितअस्लाफ़ रेरिख़ ने भारत की नागरिकता ले ली थी और उन्होंने अपना सारा जीवन बेंगलुरु में ही बिताया। भारतीय लोगों के बीच स्वितअस्लाफ़ इतने ज़्यादा लोकप्रिय थे कि भारत की संसद के केन्द्रीय हाल में भारत के राजनेताओं की उनके द्वारा बनाई गई तीन शबीहें लगी हुई हैं। ये शबीहें हैं — पण्डित जवाहरलाल नेहरू का पोर्ट्रेट, श्रीमती इन्दिरा गाँधी का पोर्ट्रेट और सर्वपल्ली राधाकृष्ण का पोर्ट्रेट।

हालाँकि रेरिख़ दम्पती एकान्तप्रिय थे और बहुत कम कहीं आते-जाते थे, लेकिन फिर भी वे बेंगलुरु के सांस्कृतिक और कला परिदृश्य में इतना ज़्यादा महत्व रखते थे कि उनके बिना बेंगलुरु की कोई भी सांस्कृतिक सन्ध्या अधूरी लगती थी। रेरिख़ दम्पती ने बेंगलुरु की एक मुख्य सांस्कृतिक संस्था — कर्नाटक चित्रकला परिषद — की स्थापना और उसका विकास करने में अपनी पूरी ऊर्जा और अपना पूरा जीवन लगा दिया।

देविका रानी अपने समय की सबसे ख़ूबसूरत महिला थीं

’बैंगलोर मिरर’ समाचारपत्र से बात करते हुए रेरिख़ परिवार के एक मित्र आर० देवदास ने कहा — उनसे मेरा परिचय, बस, यूँ ही हो गया था, लेकिन बाद में हमारे परिवारों के बीच गहरी मित्रता हो गई। हालाँकि देविका जी और डॉक्टर रेरिख़ अपने ही कामों में बेहद व्यस्त रहा करते थे। लेकिन फिर भी इतना तो कहना ही चाहिए कि डॉक्टर रेरिख़ एक अनूठे इनसान थे और देविका जी अपने ज़माने की सबसे ख़ूबसूरत औरत।

पिछली सदी के आख़िरी दशक में देविका जी और रेरिख़ बहुत बीमार रहने लगे थे। फिर कुछ लोगों ने उनके घर चोरियाँ कीं और उनकी सम्पत्ति पर कब्ज़ा करने की कोशिश की। स्वितअस्लाफ़ रेरिख़ 1993 में गुज़रे और उनकी मौत के एक साल बाद देविका रानी ने भी यह दुनिया छोड़ दी। इस दम्पती के कोई सन्तान न थी। उनकी सम्पत्ति पर विवाद हुआ और मुक़दमेबाज़ी होने लगी। आख़िरकार भारत के उच्चतम न्यायालय ने कर्नाटक सरकार के पक्ष में अपना फ़ैसला दिया और 468 एकड़ वाली तातागुनी जागीर कर्नाटक की सरकार को सौंप दी गई।

उपसंहार

कर्नाटक सरकार तातागुनी जागीर को एक ऐसे संग्रहालय और सांस्कृतिक केन्द्र में बदलने के लिए काम कर रही है, जहाँ स्वितअस्लाफ़ रेरिख़ के चित्रों की अलग से एक कला दीर्घा बनी होगी। हम सिर्फ़ यही आशा कर सकते हैं कि तातागुनी जागीर के पुराने रूप और स्वरूप को सुरक्षित रखा जाएगा ताकि यहाँ भी रेरिख़ परिवार की आत्मा वैसे ही गूँजती रहे, जैसे कुल्लू घाटी में बने रेरिख़ स्मारक में गूँजती है।

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

#आसमानी_बंधन_RealRelations
हवाईजहाज में बैठते ही, विभा, मेरी पत्नी, की आवाज कानों में गूँजने लगी। ‘उस लड़की से ज्यादा बात मत करना। हमें उससे कोई रिश्ता नहीं रखना है। जब हमारा बेटा ही न रहा, तो उसका भी क्या करेंगे। वैसे भी उसे नौकरी ही करनी है, करती रहेगी वहीं रह कर। हम कर लेंगे गुजारा जैसे-तैसे। मुझे नहीं पसंद वह, हमारा अविनाश छीन लिया उसने हमसे’।
दिल्ली से बंगलुरु दो घंटे की फ्लाइट में अविनाश के सत्ताइस साल के जीवन की बस यादें ही आती रहीं; और उनके साथ बहते रहे आँसू। अविनाश पच्चीस साल का था, जब बैंगलोर आया था, एक मल्टीनेशनल कंपनी में काम करने। उसके अगले ही साल, अविनाश ने श्रेया से कोर्ट-मैरिज कर ली। बेशक हमें बुलाया था; हम पति-पत्नी सुबह की फ्लाइट से गये थे, और रात की फ्लाइट से वापस आ गये थे।
दिल पर पत्थर रख लिया था हमने, इकलौते बेटे के ऐसा करने से। अविनाश शुरु से ही जिद्दी रहा था। इकलौता था न! तब से बस एक बार बहू को लेकर घर आया था, दो दिन के लिए। और आज उसका बंगलुरु में ही अंतिम संस्कार होना था। जाने कैसे कॉरोना की चपेट में आ गया था। फिर बच न सका।
हवाईजहाज के लैण्ड होने और सीट-बैल्ट बाँध लेने का उद्घोष हुआ तो मैं यादों की दुनियां से बाहर आया।
श्रेया मुझे लेने एयरपोर्ट पर आई थी। मुँह पर मास्क, हाथों में दस्ताने, आँखों में आँसू, मेरे मन में बनी उसकी छवि से वह बिल्कुल अलग लग रही थी। वह मेरे पैरों में झुकी। मेरा हृदय द्रवित हो गया उसे सफेद कपड़ों में देख कर। लेकिन विभा की आवाज कानों में गूँजी तो फिर दिल कठोर कर लिया, और आगे बढ़ते अपने हाथ पीछे खींच लिए।
श्रेया एक अनाथ लड़की थी, अनाथाश्रम में ही पली बढ़ी था। उसे परिवार के साथ रहने का अनुभव न था। अपनी मेहनत के बूते ही बड़ी कंपनी में नौकरी तक पहुँची थी, जहाँ वह अविनाश के सम्पर्क में आई और उन्होंने शादी कर ली। उसके साउथ इंडियन और अनाथ होने के कारण ही बेटे और उसने कोर्ट-मैरिज का फैसला लिया था।
वह मुझे शमशान घाट ले गई जहाँ अविनाश बॉडी-बैग में बंद पड़ा था। बहुत कहने के बाद मैडिकल-कर्मियों ने अंतिम दर्शन करवाए। कैसी विषम परिस्थिति थी, बाप को बेटे का मृत शरीर अग्नि को समर्पित करना हो, तो इससे अधिक दुर्भाग्य की स्थित नहीं हो सकती। बस यहीं तक का साथ था हमारा! मुखाग्नि देते ही मुझसे खड़ा न रहा गया। मुझे चक्कर आने लगे तो श्रेया ने संभाला, और अपने साथ घर ले आई. वरना मेरा तो सीधा एयरपोर्ट जाना ही तय था।
उनके घर में मैंने आराम किया तो बेचैनी खत्म हो गई। श्रेया ने मेरे लिए साउथ इंडियन खाना बनाया। खाने के बाद मैं अविनाश का सामान देखने लगा। उसका बैग खोला तो एक भीतरी जेब में से एक लिफाफा निकला। मैंने श्रेया को दिखाया उसे बहुत आश्चर्य हुआ। पत्र उसने चार महीने पहले हमारे लिए लिखा था। उसके पास पता न होने के कारण उसने अविनाश को दिल्ली के घर का पता लिख कर कूरियर करने के लिए दिया था। श्रेया के पूछने पर अविनाश ने बताया कि उसने पत्र भेज दिया है।
पत्र देख कर बेचारी हैरान परेशान होकर रोने लगी। मैंने भी दुःखी होते हुए उसके सिर पर हाथ फेरते हुए चुप कराया। ज़रा सा स्नेह मिलते ही उसकी हिचकियाँ बँध गईं और वह मुझसे लिपट कर जोर जोर से रोने लगी। उसके साथ साथ मैं भी रो पड़ा।
उसकी इजाज़त लेकर मैं पत्र पढ़ने लगा जो उसने टूटी-फूटी हिंदी में जरूर लिखा था, लेकिन उसका भाव मेरे हृदय के तार झंकृत कर गया।
‘वह हमारे साथ रहना चाहती थी; हमारी बेटी बन कर माँ-बाप का प्यार पाना चाहती थी। लेकिन अविनाश को माँ के गुस्से का डर था और श्रेया को हिंदी भी न आती थी। दिल्ली में नौकरी की भी समस्या थी, तो वह चाहता था कि हम ही बंगलुरु आ जाएं, लेकिन इसके लिए मैं खुद राजी न था।’
इस पारिवारिक समस्या में बेचारी श्रेया फँस गई थी। उसने हिम्मत करते हुए हमें पत्र लिखा भी, तो वह हम तक न पहुँचा। सच में यदि पत्र हम तक पहुँचता, तो कैसे भी करके मैं विभा को समझा लेता। पत्र में उसने ‘अपने गर्भवती होने की भी सूचना दी थी, जो अविनाश ने कभी फोन पर भी नहीं बताया था’।
मैं कोई भावुक व्यक्ति नहीं हूँ, लेकिन इन सब बातों ने मुझे अत्यधिक व्यथित कर दिया। विभा को भी मैं जानता हूँ, वह अड़ जाए तो मानती नहीं, बेटे जैसी ही जिद्दी है। लेकिन अब मुझे लगा कि ये मेरे जिद्दी बनने का समय है। मैंने श्रेया को उसका सामान पैक करने, जॉब से रिजाइन करने और मेरा टिकट कैंसल करके, दिल्ली के दो टिकट बुक करने के लिए कह दिया। इसके बाद श्रेया के चेहरे पर जो भाव थे, उनका शब्दों में बयाँ करना मुमकिन नहीं। हमने बेटा जरूर खोया था, लेकिन बेटी पा ली थी।
—Dr📗Ashokalra
Meerut

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

*दूसरे से आशा*

मुल्ला नसरुद्दीन युद्ध के दिनों में सेना में भर्ती हुआ था। उसका नया शिक्षण चल रहा था। और उसके कैप्टन ने एक दिन उससे पूछा कि नसरुद्दीन, जब तुम बंदूक साफ करते हो, तो सबसे पहले क्या करते हो? बंदूक साफ करने के पहले सबसे पहला काम क्या है?

नसरुद्दीन ने कहा, “सबसे पहला काम, पहले मैं नंबर देखता हूं।’उस कैप्टन ने कहा कि नंबर से सफाई का क्या संबंध? नसरुद्दीन ने कहा, “जस्ट टु बी श्योर दैट दिस इज माइ ओन, आइ एम नाट क्लीनिंग सम बडी एल्पस,–यह पक्का करने के लिए कि बंदूक अपनी ही है, किसी और की बंदूक साफ नहीं कर रहे हैं।

यह जो नसरुद्दीन कह रहा है, बड़ी कीमत की बात कह रहा है। जिंदगी में करीब-करीब हम दूसरों की बंदूकें साफ करते रहते हैं, अपनी बंदूक तो गंदी ही रह जाती है। दूसरों की साफ करने के कारण फुर्सत ही नहीं मिलती कि अपने पर ध्यान चला जाये। जो व्यक्ति भी उत्तेजनाओं में रसलीन है, वह दूसरों की बंदूकें साफ करने में जीवन बिता देता है। दूसरों को ठीक करने में, दूसरों को सुधारने में, दूसरों को सुंदर बनाने में, दूसरों को मित्र बनाने में, दूसरों को अपने निकट लाने में, दूसरों का भोग करने में–पर सारा जीवन दूसरे पर लगा रहता है। और दूसरे काफी हैं! दूसरों का कोई अंत नहीं है।

सार्त्र ने एक अदभुत बात कही है। कहा है कि अदर इज द हेल–दूसरा नरक है। बात थोड़ी सही है। हम अपना नरक दूसरे के ही माध्यम से पैदा करते हैं। आप खुद अपने नरक को देखें। आदमी-आदमी का अपना-अपना नरक है। हर आदमी अपने-अपने नरक में जी रहा है। मुसकराहटें तो ऊपर हैं और धोखे की हैं, और चिपकायी गयी हैं, पेंटेड हैं–भीतर नरक है। और हर आदमी अपने-अपने नरक में जी रहा है; लेकिन वह नरक आप अकेले पैदा नहीं कर सकते हैं; उसके लिए आपको दूसरों की जरूरत है। दूसरों के बिना नरक पैदा नहीं हो सकता।
थोड़ा सोचें, क्या आप अकेले नरक पैदा कर सकते हैं? दूसरों के बिना नरक पैदा नहीं हो सकता। लेकिन, अगर यह सच है कि दूसरों के बिना नरक पैदा नहीं हो सकता, तो हम दूसरों के पीछे इतने पागल क्यों हैं?

क्योंकि यह आशा बंधी है, कि दूसरों के बिना स्वर्ग भी पैदा नहीं हो सकता। दूसरे के द्वारा स्वर्ग पैदा हो सकता है, इसी कोशिश में तो हम नरक पैदा कर लेते हैं। स्वर्ग का स्वप्न नरक को जन्म देता है। सब नरकों के द्वार पर लिखा है, स्वर्ग। तो जिस दरवाजे पर आप स्वर्ग लिखा देखें, जरा सोचकर प्रवेश करना, क्योंकि नरक बनानेवाले काफी कुशल हैं। वे अपने दरवाजे पर नरक नहीं लिखते, फिर कोई प्रवेश ही नहीं करेगा। नरक के दरवाजे पर सदा स्वर्ग लिखा होता है–वह दरवाजे पर ही होता है। भीतर जाकर, जैसे-जैसे भीतर प्रवेश करते हैं, वैसे-वैसे प्रगट होने लगता है।

दूसरे से जो स्वर्ग की आशा करता है, दूसरे के द्वारा उसका नरक निर्मित हो जायेगा। सार्त्र ठीक कहता है कि दि अदर इज द हेल। पर सार्त्र ने कहीं भी यह उल्लेख नहीं किया कि दूसरा नरक क्यों है। वह दूसरे के कारण नरक नहीं है। दूसरे में स्वर्ग की वासना ही नरक का जन्म बनती है। तो बहुत गहरे में देखने पर मेरी वासना ही, कि दूसरे से मैं स्वर्ग बना लूं, नरक का कारण होती है। और जो व्यक्ति दूसरे में उलझा है, वह सदा कंपित रहेगा।
आपने कभी देखा कि आपके जितने कंपन हैं, वे दूसरे के संबंध में होते हैं? क्रोध के, प्रेम के, घृणा के, मोह के, लोभ के–सब दूसरे के संबंध में होते हैं। थोड़ी देर को सोचें कि आप इस पृथ्वी पर अकेले रह गये हैं, क्या आपके भीतर कोई कंपन रह जायेगा? सारा संसार अचानक खो गया, आप अकेले हैं, तो कोई कंपन नहीं रह जायेगा। क्योंकि कंपन के लिए दूसरे से संबंधित होना जरूरी है; दूसरे और मेरे बीच वासना का सेतु बनना जरूरी है, तब कंपन होगा।

आदमी जब गहन भीतर डूबता है आंख बंद करके, बाहर को भूल जाता है–तो वह ऐसे ही हो जाता है, जैसे पृथ्वी पर अकेला है; जैसे और कोई भी न रहा। सब होंगे–लेकिन जैसे नहीं रहे; मैं अकेला हो गया। इस अकेलेपन में शैलेशी अवस्था पैदा होती है। इस अकेलेपन में, इस नितांत भीतरी एकांत में, सब कंपन ठहर जाते हैं और अकंप का अनुभव होता है।

महावीर वाणी

ओशो

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

*एक बच्चा प्रतिदिन अपने दादा जी को सायंकालीन पूजा करते देखता था। बच्चा भी उनकी इस पूजा को देखकर अंदर से स्वयं इस अनुष्ठान को पूर्ण करने की ईच्छा रखता था, परन्तु दादा जी की उपस्थिति उसे अवसर नहीं देती थी।*

*एक दिन दादा जी को शाम को आने में विलम्ब हुआ, इस अवसर का लाभ लेते हुए बच्चे ने समय पर पूजा प्रारम्भ कर दी।*

*जब दादा जी आये, तो वे दीवार के पीछे से बच्चे की पूजा देखने लगे।*

*बच्चा बहुत सारी अगरबत्ती एवं अन्य सभी सामग्री का अनुष्ठान में यथाविधि प्रयोग करता है और फिर अपनी प्रार्थना में कहता है*

*भगवान जी प्रणाम।*
*आप मेरे दादा जी को स्वस्थ रखना और दादी के घुटनों के दर्द को ठीक कर देना क्योंकि दादा-दादी को कुछ हो गया, तो मुझे चॉकलेट कौन देगा।*

*फिर आगे कहता है*

*भगवान जी मेरे सभी दोस्तों को अच्छा रखना, वरना मेरे साथ कौन खेलेगा।*

*फिर कहता है-*

*मेरे पापा और मम्मी को ठीक रखना, घर के कुत्ते को भी ठीक रखना, क्योंकि उसे कुछ हो गया, तो घर को चोरों से कौन बचाएगा।*

👌👌👌👌👌👌👌
*लेकिन भगवान यदि आप बुरा न मानो तो एक बात कहूँ, सबका ध्यान रखना, लेकिन उससे पहले आप अपना ध्यान रखना, क्योंकि आपको कुछ हो गया, तो हम सबका क्या होगा।*

*इस सहज प्रार्थना को सुनकर दादा की आँखों में भी आंसू आ गए, क्योंकि ऐसी प्रार्थना उन्होंने न कभी की थी और न सुनी थी।*

*घर के संस्कार अच्छे हों, वातावरण अच्छा हो, तो बच्चों में अच्छाईयाँ ही अंकुरित होगीं।*

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

Posted in रामायण - Ramayan

#रामायण_में_वर्णित_मुख्य_स्थान ::

1.#तमसानदी : अयोध्या से 20 किमी दूर है तमसा नदी। यहां पर उन्होंने नाव से नदी पार की।

2.#श्रृंगवेरपुरतीर्थ : प्रयागराज से 20-22 किलोमीटर दूर वे श्रृंगवेरपुर पहुंचे, जो निषादराज गुह का राज्य था। यहीं पर गंगा के तट पर उन्होंने केवट से गंगा पार करने को कहा था। श्रृंगवेरपुर को वर्तमान में सिंगरौर कहा जाता है।

3.#कुरईगांव : सिंगरौर में गंगा पार कर श्रीराम कुरई में रुके थे।

4.#प्रयाग: कुरई से आगे चलकर श्रीराम अपने भाई लक्ष्मण और पत्नी सहित प्रयाग पहुंचे थे। कुछ महीने पहले तक प्रयाग को इलाहाबाद कहा जाता था ।

5.#चित्रकूट : प्रभु श्रीराम ने प्रयाग संगम के समीप यमुना नदी को पार किया और फिर पहुंच गए चित्रकूट। चित्रकूट वह स्थान है, जहां राम को मनाने के लिए भरत अपनी सेना के साथ पहुंचते हैं। तब जब दशरथ का देहांत हो जाता है। भारत यहां से राम की चरण पादुका ले जाकर उनकी चरण पादुका रखकर राज्य करते हैं।

6.#सतना: चित्रकूट के पास ही सतना (मध्यप्रदेश) स्थित अत्रि ऋषि का आश्रम था। हालांकि अनुसूइया पति महर्षि अत्रि चित्रकूट के तपोवन में रहा करते थे, लेकिन सतना में ‘रामवन’ नामक स्थान पर भी श्रीराम रुके थे, जहां ऋषि अत्रि का एक ओर आश्रम था।

7.#दंडकारण्य: चित्रकूट से निकलकर श्रीराम घने वन में पहुंच गए। असल में यहीं था उनका वनवास। इस वन को उस काल में दंडकारण्य कहा जाता था। मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र के कुछ क्षेत्रों को मिलाकर दंडकाराण्य था। दंडकारण्य में छत्तीसगढ़, ओडिशा एवं आंध्रप्रदेश राज्यों के अधिकतर हिस्से शामिल हैं। दरअसल, उड़ीसा की महानदी के इस पास से गोदावरी तक दंडकारण्य का क्षेत्र फैला हुआ था। इसी दंडकारण्य का ही हिस्सा है आंध्रप्रदेश का एक शहर भद्राचलम। गोदावरी नदी के तट पर बसा यह शहर सीता-रामचंद्र मंदिर के लिए प्रसिद्ध है। यह मंदिर भद्रगिरि पर्वत पर है। कहा जाता है कि श्रीराम ने अपने वनवास के दौरान कुछ दिन इस भद्रगिरि पर्वत पर ही बिताए थे। स्थानीय मान्यता के मुताबिक दंडकारण्य के आकाश में ही रावण और जटायु का युद्ध हुआ था और जटायु के कुछ अंग दंडकारण्य में आ गिरे थे। ऐसा माना जाता है कि दुनियाभर में सिर्फ यहीं पर जटायु का एकमात्र मंदिर है।

8.#पंचवटीनासिक : दण्डकारण्य में मुनियों के आश्रमों में रहने के बाद श्रीराम अगस्त्य मुनि के आश्रम गए। यह आश्रम नासिक के पंचवटी क्षे‍त्र में है जो गोदावरी नदी के किनारे बसा है। यहीं पर लक्ष्मण ने शूर्पणखा की नाक काटी थी। राम-लक्ष्मण ने खर व दूषण के साथ युद्ध किया था। गिद्धराज जटायु से श्रीराम की मैत्री भी यहीं हुई थी। वाल्मीकि रामायण, अरण्यकांड में पंचवटी का मनोहर वर्णन मिलता है।

9.#सर्वतीर्थ: नासिक क्षेत्र में शूर्पणखा, मारीच और खर व दूषण के वध के बाद ही रावण ने सीता का हरण किया और जटायु का भी वध किया था जिसकी स्मृति नासिक से 56 किमी दूर ताकेड गांव में ‘सर्वतीर्थ’ नामक स्थान पर आज भी संरक्षित है। जटायु की मृत्यु सर्वतीर्थ नाम के स्थान पर हुई, जो नासिक जिले के इगतपुरी तहसील के ताकेड गांव में मौजूद है। इस स्थान को सर्वतीर्थ इसलिए कहा गया, क्योंकि यहीं पर मरणासन्न जटायु ने सीता माता के बारे में बताया। रामजी ने यहां जटायु का अंतिम संस्कार करके पिता और जटायु का श्राद्ध-तर्पण किया था। इसी तीर्थ पर लक्ष्मण रेखा थी।

10.#पर्णशाला: पर्णशाला आंध्रप्रदेश में खम्माम जिले के भद्राचलम में स्थित है। रामालय से लगभग 1 घंटे की दूरी पर स्थित पर्णशाला को ‘पनशाला’ या ‘पनसाला’ भी कहते हैं। पर्णशाला गोदावरी नदी के तट पर स्थित है। मान्यता है कि यही वह स्थान है, जहां से सीताजी का हरण हुआ था। हालांकि कुछ मानते हैं कि इस स्थान पर रावण ने अपना विमान उतारा था। इस स्थल से ही रावण ने सीता को पुष्पक विमान में बिठाया था यानी सीताजी ने धरती यहां छोड़ी थी। इसी से वास्तविक हरण का स्थल यह माना जाता है। यहां पर राम-सीता का प्राचीन मंदिर है।

11.#तुंगभद्रा: सर्वतीर्थ और पर्णशाला के बाद श्रीराम-लक्ष्मण सीता की खोज में तुंगभद्रा तथा कावेरी नदियों के क्षेत्र में पहुंच गए। तुंगभद्रा एवं कावेरी नदी क्षेत्रों के अनेक स्थलों पर वे सीता की खोज में गए।

12.#शबरी_का_आश्रम : तुंगभद्रा और कावेरी नदी को पार करते हुए राम और लक्ष्‍मण चले सीता की खोज में। जटायु और कबंध से मिलने के पश्‍चात वे ऋष्यमूक पर्वत पहुंचे। रास्ते में वे पम्पा नदी के पास शबरी आश्रम भी गए, जो आजकल केरल में स्थित है। शबरी जाति से भीलनी थीं और उनका नाम था श्रमणा। ‘पम्पा’ तुंगभद्रा नदी का पुराना नाम है। इसी नदी के किनारे पर हम्पी बसा हुआ है। पौराणिक ग्रंथ ‘रामायण’ में हम्पी का उल्लेख वानर राज्य किष्किंधा की राजधानी के तौर पर किया गया है। केरल का प्रसिद्ध ‘सबरिमलय मंदिर’ तीर्थ इसी नदी के तट पर स्थित है।

13.#ऋष्यमूक_पर्वत : मलय पर्वत और चंदन वनों को पार करते हुए वे ऋष्यमूक पर्वत की ओर बढ़े। यहां उन्होंने हनुमान और सुग्रीव से भेंट की, सीता के आभूषणों को देखा और श्रीराम ने बाली का वध किया। ऋष्यमूक पर्वत वाल्मीकि रामायण में वर्णित वानरों की राजधानी किष्किंधा के निकट स्थित था। ऋष्यमूक पर्वत तथा किष्किंधा नगर कर्नाटक के हम्पी, जिला बेल्लारी में स्थित है। पास की पहाड़ी को ‘मतंग पर्वत’ माना जाता है। इसी पर्वत पर मतंग ऋषि का आश्रम था जो हनुमानजी के गुरु थे।

14.#कोडीकरई : हनुमान और सुग्रीव से मिलने के बाद श्रीराम ने वानर सेना का गठन किया और लंका की ओर चल पड़े। तमिलनाडु की एक लंबी तटरेखा है, जो लगभग 1,000 किमी तक विस्‍तारित है। कोडीकरई समुद्र तट वेलांकनी के दक्षिण में स्थित है, जो पूर्व में बंगाल की खाड़ी और दक्षिण में पाल्‍क स्‍ट्रेट से घिरा हुआ है। यहां श्रीराम की सेना ने पड़ाव डाला और श्रीराम ने अपनी सेना को कोडीकरई में एकत्रित कर विचार विमर्ष किया। लेकिन राम की सेना ने उस स्थान के सर्वेक्षण के बाद जाना कि यहां से समुद्र को पार नहीं किया जा सकता और यह स्थान पुल बनाने के लिए उचित भी नहीं है, तब श्रीराम की सेना ने रामेश्वरम की ओर कूच किया।

15..#रामेश्‍वरम: रामेश्‍वरम समुद्र तट एक शांत समुद्र तट है और यहां का छिछला पानी तैरने और सन बेदिंग के लिए आदर्श है। रामेश्‍वरम प्रसिद्ध हिन्दू तीर्थ केंद्र है। महाकाव्‍य रामायण के अनुसार भगवान श्रीराम ने लंका पर चढ़ाई करने के पहले यहां भगवान शिव की पूजा की थी। रामेश्वरम का शिवलिंग श्रीराम द्वारा स्थापित शिवलिंग है।

16.#धनुषकोडी : वाल्मीकि के अनुसार तीन दिन की खोजबीन के बाद श्रीराम ने रामेश्वरम के आगे समुद्र में वह स्थान ढूंढ़ निकाला, जहां से आसानी से श्रीलंका पहुंचा जा सकता हो। उन्होंने नल और नील की मदद से उक्त स्थान से लंका तक का पुनर्निर्माण करने का फैसला लिया। धनुषकोडी भारत के तमिलनाडु राज्‍य के पूर्वी तट पर रामेश्वरम द्वीप के दक्षिणी किनारे पर स्थित एक गांव है। धनुषकोडी पंबन के दक्षिण-पूर्व में स्थित है। धनुषकोडी श्रीलंका में तलैमन्‍नार से करीब 18 मील पश्‍चिम में है।

इसका नाम धनुषकोडी इसलिए है कि यहां से श्रीलंका तक वानर सेना के माध्यम से नल और नील ने जो पुल (रामसेतु) बनाया था उसका आकार मार्ग धनुष के समान ही है। इन पूरे इलाकों को मन्नार समुद्री क्षेत्र के अंतर्गत माना जाता है। धनुषकोडी ही भारत और श्रीलंका के बीच एकमात्र स्‍थलीय सीमा है, जहां समुद्र नदी की गहराई जितना है जिसमें कहीं-कहीं भूमि नजर आती है।

17.’#नुवारा_एलिया’ पर्वत श्रृंखला :
वाल्मीकिय-रामायण अनुसार श्रीलंका के मध्य में रावण का महल था। ‘नुवारा एलिया’ पहाड़ियों से लगभग 90 किलोमीटर दूर बांद्रवेला की तरफ मध्य लंका की ऊंची पहाड़ियों के बीचोबीच सुरंगों तथा गुफाओं के भंवरजाल मिलते हैं। यहां ऐसे कई पुरातात्विक अवशेष मिलते हैं जिनकी कार्बन डेटिंग से इनका काल निकाला गया है।

श्रीलंका में नुआरा एलिया पहाड़ियों के आसपास स्थित रावण फॉल, रावण गुफाएं, अशोक वाटिका, खंडहर हो चुके विभीषण के महल आदि की पुरातात्विक जांच से इनके रामायण काल के होने की पुष्टि होती है। आजकल भी इन स्थानों की भौगोलिक विशेषताएं, जीव, वनस्पति तथा स्मारक आदि बिलकुल वैसे ही हैं जैसे कि रामायण में वर्णित किए गए है।

#रामायण.।।
जय श्री सीता राम 🙏🚩

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

ये असली कहानी है उत्तर प्रदेश के इटावा जिले की. साल 1979. शाम के करीब 6 बज रहे थे. मैला कुर्ता, मिट्टी से सनी धोती और सिर पर गमछा डाले एक किसान परेशान होकर थाने पहुंचा. उस थाने का नाम था ऊसराहार.
दुबला-पतला खांटी गांव का एक बुजुर्ग. उम्र करीब 75 साल के आसपास. पैरों में चप्पल भी नहीं. थाने में घुसने से भी थोड़ा डर रहा था. वहां पुलिसवाले तैनात थे. लेकिन डर के मारे वो बेचारा बुजुर्ग किसान कुछ बोल भी नहीं पा रहा था.
कहीं दरोगा जी उसकी बात का बुरा ना मान जाए. फिर एक हेड कॉन्स्टेबल खुद ही इस किसान के पास आता है. सवाल पूछता कि… क्या काम है. परेशान किसान कहता है कि… अरे दरोगा जी मेरी जेब किसी चोर-उचक्के ने काट ली. उसकी फरियाद लेकर थाने आया हूं. मेरी रपट लीजिएगा.
ये बात सुनकर थाने के बाहर ही टेबल-कुर्सी लगाकर आराम कर रहे एक हेड कॉन्स्टेबल की नजर उस किसान पर गई. अपनी कुर्सी पर उंघते हुए उस हेड कॉन्‍स्‍टेबल ने सिर उठाया और किसान को देखा. फिर पूछा कि अरे पहले ये बताओं कि… कहां तुम्हारी जेब कट गई. तुम कहां के रहने वाले हो.
इस पर उस किसान ने जवाब दिया. मैं मेरठ का रहने वाला हूं साहब. यहां इटावा में अपने एक रिश्‍तेदार के घर आया था. यहां से बैल खरीदने के लिए पैसे लेकर अपने गांव से आया था. रास्ते में पैसे लेकर जा रहा था. उसी समय किसी ने मेरी जेब काट ली. उसमें रखे कई सौ रुपये चोरी हो गए.
अब वो पैसे नहीं मिले तो बहुत बड़ी मुसीबत हो जाएगी. बड़ी मुश्किल से खेती से हम पैसे जुटाकर यहां आए थे. इसलिए रपट लिखकर चोरों को पकड़िए…ना साहब.

अब नौबत ये आ गई वो बेचारा किसान क्या करता. बिना रिपोर्ट कराए जाए तो भी कैसे. परेशान होकर बिल्कुल मन रूआंसा हो गया. उस कुर्सी-टेबल से थोड़ा दूर आकर सिर पकड़कर बैठने लगे. तभी एक सिपाही पास पहुंचा. धीरे से कान के पास आकर बोला. …बाबा अगर कुछ खर्चा-पानी हो जाए तो रपट लिख जाएगी
अब रपट लिख जाने की बात पर तो किसान खुश हो गए. लेकिन खर्चा-पानी तो ज्यादा ही देना होगा. ये सोचकर उनके माथे पर फिर से शिकन आ गई. अब वो किसान बोलने लगे कि हम तो पहले से ही परेशान हैं. अब पैसे कैसे दे पाएंगे. मैं बहुत ही गरीब हूं. कुछ जुगाड़ से करा देते तो बड़ी मेहरबानी होगी.
काफी बात के बाद भी वो सिपाही राजी नहीं हुआ तो आखिरकार उस समय 35 रुपये पर बात तय हुई. अब उस गरीब किसान ने 35 रुपये चुपके से पकड़ाए तो कागज के टुकड़े पर मुंशी ने रपट लिखना शुरू किया. उनकी शिकायत पर तहरीर लिखी. फिर मुंशी ने कहा कि… अरे बाबा साइन करोगो कि अंगूठा लगावोगे.

फिर ये कहते हुए उस पुलिसवाले ने पेन और अंगूठा लगाने वाला स्याही का पैड भी आगे बढ़ा दिया. अब उस किसान ने पहले पेन उठाया और फिर स्याही वाला पैड भी. पुलिसवाला भी थोड़ी देर के लिए अचरज में पड़ गया. कि आखिर ये करेगा क्या. साइन करेगा या अंगूठा लगाएगा?
अब वो पुलिसवाला इसी उधेड़बून में था कि आखिर ये किसान क्या करने वाला है. तभी उस किसान ने कागज पर अपना साइन किया. और फिर अपने मैले-कुचैले कुर्ते की जेब से एक मुहर निकाली. उसी मुहर को स्याही के पैड पर लगाकर कागज पर ठोंक दिया.
ये देखकर पुलिसवाला फिर अचरज में पड़ गया. इस किसान ने जेब से कौन सी मुहर निकालकर ठप्पा मार दिया. उसे देखने के लिए तुरंत कागज को उठाया और पढ़ा. तो उस पर साइन के साथ नाम लिखा था…चौधरी चरण सिंह. और मुहर से जो ठप्पा लगा था उस पर लिखा था…प्रधानमंत्री, भारत सरकार.
ये देखते ही उस पुलिसवाले के पैर कांपने लगे. तुरंत सैल्यूट किया और माफी मांगा. अब थोड़ी देर में ही पूरा थाने क्या, बल्कि पूरे जिले में हड़कंप मच गया. आनन-फानन में तमाम पुलिस अधिकारी और प्रशासन मौके पर पहुंचा. इसके बाद उस समय ऊसराहार थाने के सभी पुलिसकर्मयों को सस्पेंड कर दिया गया

मिश्रा मुनीन्दरै

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

बन्द मुठ्ठी लाख की !!

एक समय एक राज्य में राजा ने घोषणा की कि वह राज्य के मंदिर में पूजा अर्चना करने के लिए अमुक दिन जाएगा।

इतना सुनते ही मंदिर के पुजारी ने मंदिर की रंग रोगन और सजावट करना शुरू कर दिया, क्योंकि राजा आने वाले थे।

इस खर्चे के लिए उसने ₹6000/- का कर्ज लिया ।
नियत तिथि पर राजा मंदिर में दर्शन, पूजा, अर्चना के लिए पहुंचे और पूजा अर्चना करने के बाद आरती की थाली में चार आने दक्षिणा स्वरूप रखें और अपने महल में प्रस्थान कर गए !

पूजा की थाली में चार आने देखकर पुजारी बड़ा नाराज हुआ, उसे लगा कि राजा जब मंदिर में आएंगे तो काफी दक्षिणा मिलेगी पर चार आने !!

बहुत ही दुखी हुआ कि कर्ज कैसे चुका पाएगा, इसलिए उसने एक उपाय सोचा !!!

गांव भर में ढिंढोरा पिटवाया की राजा की दी हुई वस्तु को वह नीलाम कर रहा है।

नीलामी पर उसने अपनी मुट्ठी में चार आने रखे पर मुट्ठी बंद रखी और किसी को दिखाई नहीं।

लोग समझे की राजा की दी हुई वस्तु बहुत अमूल्य होगी इसलिए बोली रु10,000/- से शुरू हुई।
रु 10,000/- की बोली बढ़ते बढ़ते रु50,000/- तक पहुंची और पुजारी ने वो वस्तु फिर भी देने से इनकार कर दिया।
यह बात राजा के कानों तक पहुंची ।
राजा ने अपने सैनिकों से पुजारी को बुलवाया और पुजारी से निवेदन किया कि वह मेरी वस्तु को नीलाम ना करें मैं तुम्हें रु50,000/-की बजाय सवा लाख रुपए देता हूं और इस प्रकार राजा ने सवा लाख रुपए देकर अपनी प्रजा के सामने अपनी इज्जत को बचाया !

तब से यह कहावत बनी बंद मुट्ठी सवा लाख की खुल गई तो खाक की !!
यह मुहावरा आज भी प्रचलन में है।

कहानियाँ जिंदगीकी