Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

.
દિકરી – બીજી મા

“`એકવાર ગર્ભવતી પત્નીએ તેના પતિને ખૂબ જ ઉત્સુકતા સાથે પૂછ્યું, “શું અપેક્ષા રાખો છો, પુત્ર કે પુત્રી, તમને શું લાગે છે?”

પતિએ કહ્યું, “જો તને દીકરો હશે તો હું તેને અભ્યાસ કરાવીશ, તેને ગણિત શીખવીશ, હું તેની સાથે મેદાન પર રમીશ, હું તેની સાથે દોડીશ, હું તેને તરતા શીખવાડીશ, ઘણી બધી વસ્તુઓ શીખવીશ.”

હસતા હસતા પત્નીએ જવાબ આપ્યો, “અને જો તમને દીકરી હોય તો?”

પતિએ સરસ રીતે જવાબ આપ્યો, “જો દીકરી હોય તો મારે તેને કંઈ શીખવવાની જરૂર નથી.”

પત્નીએ ભારે ઉત્સુકતા સાથે પૂછ્યું “તે કેમ?”

પતિએ કહ્યું, “દીકરી દુનિયાની એક એવી વ્યક્તિ છે જે મને બધું શીખવશે. મારે કેવી રીતે અને શું પહેરવું જોઈએ, મારે શું ખાવું જોઈએ, મારે શું ન ખાવું જોઈએ, મારે કેવી રીતે ખાવું જોઈએ, મારે શું કહેવું જોઈએ, અને મારે શું ન કહેવું જોઈએ. તે મને શીખવશે. ટૂંકમાં, તે મારી બીજી માતા તરીકે મારી સંભાળ રાખશે. જો હું જીવનમાં કંઈ ખાસ ન કરું તો પણ હું તેના માટે તેનો આદર્શ હીરો બનીશ. હું તેને કંઈક માટે ના પાડીશ, તે રાજીખુશીથી સમજી જશે.”

પતિએ ઉમેર્યું, “તે હંમેશા વિચારશે કે મારો પતિ મારા પિતા જેવો હોવો જોઈએ. દીકરી ગમે તેટલી મોટી થઈ જાય, તે વિચારે છે કે હું તો મારા પિતાની નાની અને મીઠી ઢીંગલી છું. મારા માટે, તે આખી દુનિયાને ધિક્કારવા તૈયાર રહેશે.”

પત્નીએ ફરી હસતાં હસતાં પૂછ્યું, “તમારો મતલબ કે માત્ર દીકરી જ આ બધું કરશે, અને દીકરો તમારા માટે કશું નહીં કરે?”

આના પર પતિએ સમજણભર્યા સ્વરમાં કહ્યું, “અરે ના, મારો દીકરો મારા માટે આ બધું કરશે, પણ તેણે આ બધું શીખવું પડશે, દીકરીઓ સાથે આવું નહીં. દીકરીઓ આ ભણતર સાથે જન્મે છે.”

નિરાશાના સ્વરમાં પત્નીએ કહ્યું, “પણ શું તે આખી જિંદગી તમારી સાથે રહેશે?”

તેની પાણી ભરેલી આંખો લૂછતા પતિએ કહ્યું, “હા, તમે સાચા છો, તે મારી સાથે રહેશે નહીં, પરંતુ તે દુનિયામાં જ્યાં પણ જશે તેની મને પરવાહ નથી, કારણ કે જો તે મારી સાથે નહીં હોય તો પણ હું તેની સાથે હોઈશ, તેના હૃદયમાં, કાયમ તેના છેલ્લા શ્વાસ સુધી. કારણ કે દીકરીઓ આ પરીઓ જેવી હોય છે, તેઓ આખી જિંદગી સ્નેહ, પ્રેમ અને નિ:સ્વાર્થ પ્રેમથી જન્મે છે અને જીવે છે!”

સાચે જ ખરેખર દીકરીઓ આ પરીઓ જેવી છે`….

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

પૈસા ઓછા હતા પણ
સુખ ખુબ હતુ
હમણાં એક મિત્ર સાથે વાત થઈ
અને અચાનક યાદ આવ્યુ કે આપણે આખર તારીખ તો ભુલી જ ગયા

હું નાનો હતો ત્યારે 20 તારીખ પછી કોઈ વસ્તુની માગણી કરતો ત્યારે પપ્પા કહેતા બેટા આખર તારીખ ચાલે છે, પગાર આવે એટલે લાવી આપીશ

આખર તારીખ કોને કહેવાય તે વાત તો મારા બાળકોને ખબર જ નથી અરે, હું પણ ભુલી ગયો

પહેલા પહેલી તારીખ કયારે આવે તેનો મને ઈંતઝાર રહેતો હતો,
પચાસ વારના નાનકડા ઘરમાં અમે છ રહેતા, પણ લાગતુ કે દુનિયાના સૌથી સુખી અમે છીએ

પૈસા ઓછા હતા
ઘર નાનુ હતું
સગવડો ન્હોતી
પણ સુખ હતું

1 તારીખે પપ્પા ઓફિસેથી આવતા કઈક ખાવાની કઈક વસ્તુ લઈ આવતા

(બસો ગ્રામ દાલવડા બીસ્કીટ પાપડી) અને અમે સાથે બેસી નાસ્તો કરતા બસ પેટ અને મન બનને સંતુષ્ટ થઈ જતા, બહારનો નાસ્તો મહિને એક જ વખત થતો હતો. અને તે પણ પગાર આવે ત્યારે

વાત આખર તારીખની હવે તે વાત જ ભુલાઈ ગઈ, મારા બાળકોને આખર તારીખ કોને કહેવાય તેની ખબર નથી અને હું પણ તેમને હમણાં પૈસા નથી પગાર આવે એટલે લાવીશુ તેવુ કહેતો નથી

તેના ઘણા કારણો છે પણ તેની ચર્ચા અહિયા કરવી નથી.

પણ સુખ કઈ બાબતોમાં હતુ

(1) આમ તો મહિનો છેલ્લે દિવસ હોય તેને આખર તારીખ કહેવાય એટલે 30 અથવા 31

આ દિવસે શાળા બે પિરીયડ વહેલી છુટતી હતી એટલે મહિનાના છેલ્લાં દિવસે ઘરે જઈ વધુ રમવા મળશે તેનો આનંદ હતો.

(2) ઘરે કોઈ સાયકલ લઈ આવે તો તેને સ્પર્શ કરી જોતો, મને થતુ કે મારી પાસે કયારે સાયકલ આવશે

મારા પપ્પાએ જયારે મને પહેલી વખત તેમની સાયકલ આપી અને ડંડાની વચ્ચેથી અડધા પેડલ મારી સાયકલ ચલાવતા શીખ્યો ત્યારે લાગ્યુ અરે વ્હા મઝા આવી ગઈ, આ ક્ષણનો તો કેટલીય જીંદગીઓથી ઈંતઝાર કરતો હતો.

(3) ઘરે કોઈ મહેમાન આવે તો ઘરમાં બધાને સારૂ લાગતુ હતું, વાતો કરીશુ જમવામાં મમ્મી કઈ સારૂ બનાવશે મોડા સુધી જાગતા

મહેમાન જાય ત્યારે તેમને છેક એસટી કે બસ સ્ટેન્ડ સુધી મુકવા જતા હતા, મહેમાન ગયા પછીનું ઘર ખાવા દોડતુ હતું

(આજે – અરે, મારી ટીવી સિરીયલ વખતે કયાં કોઈ આવ્યુ તેવુ થાય ઘરની બહાર સુધી પણ મુકવા જવાની વાત તો દુરની રહી.)

(4) વેકેશન પણ સુખ હતુ મામાના ઘરે કાકાને ત્યાં દિવસોના દિવસો રહેતા હતા, ઉનાળુ વેકેશનમાં પરસેવે રેબઝેબ થઈ જતા છતાં લાગતુ કે આપણે સ્વીઝરલેન્ડમાં આવી ગયા.

(5) સ્કુલ બેગ એટલે કપડાની થેલી રહેતી, તેને દફતર કહેતા, કયારે ઘરમાં શાકની થેલીના ના મળે તો મમ્મી અમારા ચોપડા બહાર કાઢી શાક લઈ આવતી અને ફરી પાછુ અમારુ દફતર થઈ જતું, સ્કુલમાં કોઈ મિત્ર પતરાની અથવા એલ્યુમીનમની બેગ લઈ આવે તો લાગતુ બહું માલદાર પાર્ટી છે.

(6) વરસાદ પડે તો ન્હાવાનો આનંદ તો રહેતો, અને ખોચામણી રમવા મળશે તેનો રોમાંચ કઈક જુદો જ હતો, નકામી માચીસ ઉપરના ફોટા, લખોટી જો મળી જાય તો હમણાંની કોઈ વીડીયો ગેઈમ મળી હોય તેવી મઝા પડતી.

(7) ફિલ્મ જોવી એટલે એવરેસ્ટ ચઢવા જેવુ કામ હતું, કારણ તેની ટીકીટ લેવા માટે એકાદ કલાક લાઈનમાં ઉભા રહેવુ પડતુ

થીયેટર ઉપર એક પડછંદ પઠાણ ઉભો રહેતો તેને લાલો કહેતા, તેનું કામ ટીકીટ લેવા આવનારને લાઈનમાં ઉભા રાખવાનું હતું, લાઈન તોડનારને તે લાકડી લાકડીએ ફટકારતો,
માર ખાઈને પણ લોકો લાઈનમાં ઉભા રહેતા

લાઈનમાં ઉભા હોઈએ ત્યારે તમામ ઈષ્ટદેવોને યાદ કરી કહેવાનું કે ભગવાન મારો નંબર ટીકીટ બારી સુધી આવે ત્યાં સુધી ટીકીટ બારી ચાલુ રાખજે

અને ટીકીટ મળે ત્યારે અમેરીકાના વીઝા જેટલો આનંદ થતો હતો.

(8) લગ્નમાં જમવા જવાનું હોય તો તેની કેટલાંય દિવસો પહેલા તૈયારી ચાલતી હતી, ત્યારે લગ્નમાં પંગત બેસતી એટલે મહેમાનોને પાટલા ઉપર બેસાડી જમાડતા. જો પહેલી પંગતમાં જમવા મળે તો વીઆઈપી હોવાનો અહેસાસ થતો હતો.

(9) , ઘણી વખત મમ્મી ફુટપાથ ઉપર જ પહેરેલા કપડાં ઉપર નવા કપડાં પહેરાવી જોઈ લેતી, માપની બહુ ચીંતા કરવાની નહીં, નવા કાપડનો અહેસાસ શેર લોહી વધારી દેતો હતો.

(10) આખી સોસાયટીમાં પહેલા એક જ સજ્જન ના ઘરે ફ્રિજ હતું, ઉનાળામાં કયારેક બરફની ટ્રે મળી જતી, બરફની ટ્રે હાથમાં હોય ત્યારે આનંદમાં એવુ લાગતુ કે હમણાં જ મારૂ શરીર ઠંડુ પડી જશે. એકના ઘરે ફોન હતો કોઈ સગા ફોન કરે અને પડોશી બોલાવે ત્યારે બીક પણ લાગતી કારણ ફોન માઠા સમાચાર માટે જ આવે તેવુ મોટા ભાગે થતું કારણ સારા સમાચાર તો પોસ્ટકાર્ડમાં આવી જતા.

આજે સમજાય છે કે
“સુખ” સગવડોમાં ન્હોતુ

નાની નાની વાતો સુખી કરતી હતી.
કારણ ત્યારે આખર તારીખ આવતી હતી
આજે તારીખ તો આવે છે, પણ તે આખરી હોતી નથી
રોજ પહેલી તારીખ જ હોય છે.આજે મોટુ ઘર છે, ટીવી છે, કાર છે, બેન્ક બેલેન્સ છે છતાં આપણે શોધીએ છીએ સુખને…..!!!
🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻

પરેશ જોશી

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

तिरूपति बालाजी भगवान की सम्पूर्ण कथा!!!!!!!

एक बार समस्त देवताओं ने मिलकर एक यज्ञ करने का निश्चय किया।यज्ञ की तैयारी पूर्ण हो गई।तभी वेद ने एक प्रश्न किया तो एक व्यवहारिक समस्या आ खड़ी हुई।

ऋषि-मुनियों द्वारा किए जाने वाले यज्ञ की हविष तो देव गण ग्रहण करते थे लेकिन देवों द्वारा किये गये यज्ञ की पहली आहूति किसकी होगी।यानी सर्वश्रेष्ठ देव का निर्धारण जरूरी था जो फिर अन्य सभी देवों को यज्ञ भाग प्रदान करें।

ब्रह्मा-विष्णु-महेश परमात्मा थे।इनमें से श्रेष्ठ कौन है इसका निर्णय आखिर हो तो कैसे? भृगु ने इसका दायित्व संभाला। वह देवों की परीक्षा लेने चले।ऋषियों से विदा लेकर वह सर्व प्रथम अपने पिता ब्रह्मदेव के पास पहुंचे।

ब्रह्मा जी की परीक्षा लेने के लिए भृगु ने उन्हें प्रणाम नहीं किया।इससे ब्रह्मा जी अत्यन्त कुपित हुए और उन्हें शिष्टता सिखाने का प्रयत्न किया।भृगु को गर्व था कि वह तो परीक्षक हैं, परीक्षा लेने आए हैं।पिता-पुत्र का आज क्या रिश्ता ?

भृगु ने ब्रह्म देव से अशिष्टता कर दी।ब्रह्मा जी का क्रोध बढ़ गया और अपना कमण्डल लेकर पुत्र को मारने भागे।भृगु किसी तरह वहां से जान बचा कर भाग चले आये।इसके बाद वह शिव जी के लोक कैलाश गये।

भृगु ने फिर से धृष्टता की।बिना कोई सूचना का शिष्टाचार दिखाये या शिव गणों से आज्ञा लिये सीधे वहां पहुंच गये ,जहां शिव जी माता पार्वती के साथ विश्राम कर रहे थे।आये तो आये, साथ ही अशिष्टता का आचरण भी किया।

शिव जी शांत रहे पर भृगु न समझे।शिव जी को क्रोध आया तो उन्होंने अपना त्रिशूल उठाया। भृगु वहां से भागे। अंत में वह भगवान विष्णु के पास क्षीर सागर पहुंचे।श्री हरि शेष शय्या पर लेटे निद्रा में थे और देवी लक्ष्मी उनके चरण दबा रही थीं।
महर्षि भृगु दो स्थानों से अपमानित करके भगाए गये थे।उनका मन बहुत दुखी था।विष्णु जी को सोता देख उन्हें न जाने क्या हो गया और उन्होंने विष्णु जी को जगाने के लिए उनकी छाती पर एक लात जमा दी।

विष्णु जी जाग उठे और भृगु से बोले,)मेरी छाती वज्र समान कठोर है।आपका शरीर तप के कारण दुर्बल।कहीं आपके पैर में चोट तो नहीं आई।आपने मुझे सावधान करके कृपा की है. आपका चरण चिह्न मेरे वक्ष पर सदा अंकित रहेगा।
भृगु को बड़ा आश्चर्य हुआ।उन्होंने तो भगवान की परीक्षा लेने के लिए यह अपराध किया था परंतु भगवान तो दंड देने के बदले मुस्करा रहे थे।उन्होंने निश्चय किया कि श्री हरि सी विनम्रता किसी में नहीं।वास्तव में विष्णु ही सबसे बड़े देवता हैं।

लौट कर उन्होंने सभी ऋषियों को पूरी घटना सुनाई।सभी ने एक मत से यह निश्चय किया कि भगवान विष्णु को ही यज्ञ का प्रधान देवता समझ कर मुख्य भाग दिया जाएगा।

लक्ष्मी जी ने भृगु को अपने पति की छाती पर लात मारते देखा तो उन्हें बड़ा क्रोध आया।परन्तु उन्हें इस बात पर क्षोभ था कि श्री हरि ने उद्दंड को दंड देने के स्थान पर उसके चरण पकड़ लिए और उल्टे क्षमा मांगने लगे।

क्रोध से तमतमाई महा लक्ष्मी को लगा कि वह जिस पति को संसार का सबसे शक्ति शाली समझती हैं वह तो निर्बल हैं।यह धर्म की रक्षा करने के लिए अधर्मियों एवं दुष्टों का नाश कैसे करते होंगे?

महा लक्ष्मी ग्लानि में भर गई और मन श्री हरि से उचट गया।उन्होंने श्री हरि और बैकुंठ लोक दोनों के त्याग का निश्चय कर लिया। स्त्री का स्वाभिमान उसके स्वामी के साथ बंधा होता है।५
उनके समक्ष कोई स्वामी पर प्रहार कर गया और स्वामी ने प्रतिकार भी न किया, यह बात मन में कौंधती रही।यह स्थान वास के योग्य नहीं, पर त्याग कैसे करें, श्री हरि से ओझल होकर रहना कैसे होगा ! वह उचित समय की प्रतीक्षा करने लगीं।

श्री हरि ने हिरण्याक्ष के कोप से मुक्ति दिलाने के लिए वराह अवतार लिया और दुष्टों का संहार करने लगे।महा लक्ष्मी के लिए यह समय उचित लगा।उन्होंने बैकुंठ का त्याग कर दिया और पृथ्वी पर एक वन में तपस्या करने लगीं।

श्री हरि और बैकुंठ का त्याग कर महा लक्ष्मी पृथ्वी पर एक वन में तपस्या करने लगीं।तप करते-करते उन्होंने अपना शरीर छोड़ दिया। विष्णु जी वराह अवतार का अपना कार्य पूर्ण कर बैकुंठ लौटे तो महा लक्ष्मी नहीं मिलीं।वह उन्हें खोजने लगे।

श्री हरि ने उन्हें तीनों लोकों में खोजा किंतु तप करके माता लक्ष्मी ने भ्रमित करने की अनुपम शक्ति प्राप्त कर ली थी।उसी शक्ति से उन्होंने श्री हरि को भ्रमित रखा। आख़िर श्री हरि को पता लग ही गया लेकिन तब तक वह शरीर छोड़ चुकीं थी।
दिव्य दृष्टि से उन्होंने देखा कि लक्ष्मी जी ने चोलराज के घर में जन्म लिया है। श्री हरि ने सोचा कि उनकी पत्नी ने उनका त्याग सामर्थ्यहीन समझने के भ्रम में किया है इसलिए वह उन्हें पुनः प्राप्त करने के लिए अलौकिक शक्तियों का प्रयोग नहीं करेंगे।

महा लक्ष्मी ने मानव रूप धरा है तो अपनी प्रिय पत्नी को प्राप्त करने के लिए वह भी साधारण मानवों के समान व्यवहार करेंगे और महा लक्ष्मी जी का हृदय और विश्वास जीतेंगे।

भगवान ने श्रीनिवास का रूप धरा और पृथ्वी लोक पर चोलनरेश के राज्य में निवास करते हुए महा लक्ष्मी से मिलन के लिए उचित अवसर की प्रतीक्षा करने लगे।

राजा आकाशराज निःसंतान थे।उन्होंने शुकदेव जी की आज्ञा से संतान प्राप्ति यज्ञ किया।

यज्ञ के बाद यज्ञशाला में राजा को हल जोतने को कहा गया।राजा ने हल जोता तो हल का फल किसी वस्तु से टकराया।राजा ने उस स्थान को खोदा तो एक पेटी के अंदर सहस्रदल कमल पर एक कन्या विराज रही थी।वह महा लक्ष्मी थीं।

राजा के मन की मुराद पूरी हो गई थी. चूंकि कन्या कमल के फूल में मिली थी इसलिए उसका नाम रखा गया पदमावती।पदमावती नाम के अनुरूप ही रूपवती और गुणवती थी।साक्षात लक्ष्मी का अवतार।पद्मावती विवाह के योग्य हुई।

एक दिन वह बाग में फूल चुन रही थी।उस वन में श्रीनिवास (बालाजी) आखेट के लिए गए थे।उन्होंने देखा कि एक हाथी एक युवती के पीछे पड़ा है और डरा रहा है।राजकुमारी के सेवक भाग खड़े हुए।

श्रीनिवास ने तीर चला कर हाथी को रोका और पदमावती की रक्षा की। रीनिवास और पदमावती ने एक-दूसरे को देखा और रीझ गये दोनों के मन में परस्पर अनुराग पैदा हुआ।लेकिन दोनों बिना कुछ कहे अपने-अपने घर लौट गये।

श्रीनिवास घर तो लौट आये। लेकिन मन पदमावती में ही बस गया। वह पदमावती का पता लगाने के लिए उपाय सोचने लगे।उन्होंने ज्योतिषी का रूप धरा और भविष्य वांचने के बहाने पदमावती को ढूंढने निकले।

धीरे-धीरे ज्योतिषी श्रीनिवास की ख्याति पूरे चोल राज में फैल गई।पदमावती के मन में भी श्रीनिवास के लिए प्रेम हुआ था।वह उनसे मिलने को व्याकुल थी किंतु कोई पता-ठिकाना न होने के कारण उनका मन चिंतित था।

इस चिंता और प्रेम विरह में उन्होंने भोजन-शृंगार आदि का त्याग कर दिया।इसके कारण उसका शरीर कृशकाय होता चला गया।राजा से पुत्री की यह दशा देखी नहीं जा रही थी।वह चिंतित थे।

ज्योतिषी की प्रसिद्धि की सूचना राजा को हुई।
राजा ने ज्योतिषी श्रीनिवास को बुलाया और सारी बात बता कर अपनी कन्या की दशा का कारण बताने को कहा।

श्रीनिवास राजकुमारी का हाल समझने पहुंचे तो पदमावती को देख कर प्रसन्न हो गये।उनका उपक्रम सफल रहा था।

उन्होंने परदमावती का हाथ अपने हाथ में लिया।कुछ देर तक पढने का स्वांग करने के बाद बोले, ‘महाराज, आपकी पुत्री प्रेम के विरह में जल रही है। आप इनका शीघ्र विवाह करे दें तो स्वस्थ हो जाएंगी।

पदमावती ने अब श्रीनिवास की ओर देखा. देखते ही पहचान लिया।उनके मुख पर प्रसन्नता के भाव आए और वह हंसीं।काफी दिनों बाद पुत्री को प्रसन्न देख राजा को लगा कि ज्योतिषी का अनुमान सही है।

राजा ने श्रीनिवास से पूछा,”ज्योतिषी महाराज! यदि आपको यह पता है कि मेरी पुत्री प्रेम के विरह में पीड़ित है तो आपको यह भी सूचना होगी कि मेरी पुत्री को किससे प्रेम है ? उसका विवाह करने को तैयार हूं। आप उसका परिचय दें ?

श्रीनिवास ने कहा,”आपकी पुत्री एक दिन वन में फूल चुनने गई थी।एक हाथी ने उन पर हमला किया तो आपके सैनिक और दासियां भाग खड़ी हुईं. राजकुमारी के प्राण एक धनुर्धर ने बचाये थे।

राजा ने कहा,”हां मेरे सैनिकों ने बताया था कि एक दिन ऐसी घटना हुई थी।एक वीर पुरुष ने उसके प्राण बचाये थे लेकिन मेरी पुत्री के प्रेम से उस घटना का क्या तात्पर्य!

श्रीनिवास ने बताया,”आपकी पुत्री को अपनी जान बचाने वाले उसी युवक से प्रेम हुआ है।राजा के पूछने पर श्रीनिवास ने कहा,”वह कोई साधारण युवक नहीं, बल्कि शंख चक्रधारी स्वयं भगवान विष्णु हैं।”

इस समय बैकुंठ को छोड़कर मानव रूप में श्रीनिवास के नाम से पृथ्वी पर वास कर रहे हैं।आप पुत्री का विवाह उनसे करें।मैं इसकी सारी व्यवस्था करा दूंगा।यह बात सुनकर राजा प्रसन्न हो गये कि स्वयं विष्णु उनके जमाई बनेंगे।

श्रीनिवास और पदमावती का विवाह तय हो गयाकिश्रीनिवास रूप में श्री हरि ने शुकदेव के माध्यम से समस्त देवी-देवताओं को अपने विवाह की सूचना भिजवा दी. शुकदेव की सूचना से सभी देवी-देवता अत्यंत प्रसन्न हुए।

देवी-देवता श्रीनिवास जी से मिलने औऱ बधाई देने पृथ्वी पर पहुंचे। परंतु श्रीनिवास जी को खुशी के बीच एक चिंता भी होने लगी।

देवताओं ने पूछा, भगवन ! संसार की चिंता हरने वाले आप इस उत्सव के मौके पर इतने चिंतातुर क्यों हैं ?
श्रीनिवास जी ने कहा,”चिंता की बात है, धन का अभाव।महा लक्ष्मी ने मुझे त्याग दिया इस कारण धनहीन हो चुका हूं।स्वयं महा लक्ष्मी ने तप से शरीर त्याग मानव रूप लिया है और पिछली स्मृतियों को गुप्त कर लिया है।

इस कारण उन्हें यह सूचना नहीं है कि वह महा लक्ष्मी का स्वरूप है।वह तो स्वयं को राजकुमारी पदमावती ही मानती हैं. मैंने निर्णय किया है कि जब तक उनका प्रेम पुनःप्राप्त नहीं करता अपनी माया का उन्हें आभास नहीं कराऊंगा।

इस कारण मैं एक साधारण मनुष्य का जीवन व्यतीत कर रहा हूं और वह हैं राजकुमारी। राजा की पुत्री से शादी करने और घर बसाने के लिए धन, वैभव और ऐश्वर्य की जरूरत है, वह मैं कहां से लाऊं ?

स्वयं नारायण को धन की कमी सताने लगी।मानव रूप में आए प्रभु को भी विवाह के लिये धन की आवश्यकता हुई।यही तो ईश्वर की लीला है. जिस रूप में रहते हैं उस योनि के जीवों के सभी कष्ट सहते हैं।

श्री हरि विवाह के लिए धन का प्रबंध कैसे हो, इस बात से चिंतित है।

देवताओं ने जब यह सुना तो उन्हें आश्चर्य हुआ।देवताओं ने कहा,’कुबेर आवश्यकता के बराबर धन की व्यवस्था कर देंगे।

देवताओं ने कुबेर का आह्वान किया तो कुबेर प्रकट हुए।

कुबेर ने कहा,’ यह तो मेरे लिए प्रसन्नता की बात है कि आपके लिए कुछ कर सकूं। प्रभु आपके लिए धन का तत्काल प्रबंध करता हूं। कुबेर का कोष आपकी कृपा से ही रक्षित है।

श्री हरि ने कुबेर से कहा,’यक्षराज कुबेर! आपको भगवान भोलेनाथ ने जगत और देवताओं के धन की रक्षा का दायित्व सौंपा है।उसमें से धन मैं अपनी आवश्यकता के हिसाब से लूंगा अवश्य, पर मेरी एक शर्त भी होगी।

श्री हरि कुबेर से धन प्राप्ति की शर्त रख रहे हैं, यह सुनकर सभी देवता आश्चर्य में पड़ गये।श्री हरि ने कहा- ब्रहमा जी और शिव जी साक्षी रहें. कुबेर से धन ऋण के रूप में लूंगा जिसे भविष्य में ब्याज सहित चुकाऊंगा।

श्री हरि की बात से कुबेर समेत सभी देवता विस्मय में एक दूसरे को देखने लगे।कुबेर बोले,”भगवन! मुझसे कोई अपराध हुआ तो उसके लिए क्षमा कर दें. पर ऐसी बात न कहें।आपकी कृपा से विहीन होकर मेरा सारा कोष नष्ट हो जाएगा।

श्री हरि ने कुबेर को निश्चिंत करते हुए कहा,’ आपसे कोई अपराध नहीं हुआ।मैं मानव की कठिनाई का अनुभव करना चाहता हूं।मानव रूप में उन कठिनाइयों का सामना करूंगा, जो मानव को आती हैं।धन की कमी और ऋण का बोझ सबसे बड़ा है।

कुबेर ने कहा,’प्रभु! यदि आप मानव की तरह ऋण पर धन लेने की बात कर रहे हैं तो फिर आपको मानव की तरह यह भी बताना होगा कि ऋण चुकायेंगे कैसे ? मानव को ऋण प्राप्त करने के लिए कई शर्तें झेलनी पड़ती हैं।

श्रीनिवास ने कहा,’कुबेर! यह ऋण मैं नहीं, मेरे भक्त चुकाएंगे लेकिन मैं उनसे भी कोई उपकार नहीं लूंगा।मैं अपनी कृपा से उन्हें धनवान बनाऊंगा।कलियुग में पृथ्वी पर मेरी पूजा धन, ऐश्वर्य और वैभव से परिपूर्ण देवता के रूप में होगी।

मेरे भक्त मुझसे धन, वैभव और ऐश्वर्य की मांग करने आयेंगे। मेरी कृपा से उन्हें यह प्राप्त होगा बदले में भक्तों से मैं दान प्राप्त करूंगा जो चढ़ावे के रूप में होगा। मैं इस तरह आपका ऋण चुकाता रहूंगा।

कुबेर ने कहा,’भगवन ! कलियुग में मानव जाति धन के विषय में बहुत विश्वास के योग्य नहीं रहेगी।उन पर आवश्यकता से अधिक विश्वास करना क्या उचित होगा ?

श्रीनिवास जी बोले,’ शरीर त्यागने के बाद तिरुपति के तिरुपला पर्वत पर बाला जी के नाम से लोग मेरी पूजा करेंगे।मेरे भक्तों की अटूट श्रद्धा होगी. वह मेरे आशीर्वाद से प्राप्त धन में मेरा हिस्सा रखेंगे।इस रिश्ते में न कोई दाता है और न कोई याचक।

‘हे कुबेर! कलियुग के आखिरी तक भगवान बाला जी धन, ऐश्वर्य और वैभव के देवता बने रहेंगे। मैं अपने भक्तों को धन से परिपूर्ण करूंगा तो मेरे भक्त दान से न केवल मेरे प्रति अपना ऋण उतारेंगे बल्कि मेरा ऋण उतारने में भी मदद करेंगे।

इस तरह कलियुग की समाप्ति के बाद मैं आपका मूलधन लौटा दूंगा।कुबेर ने श्री हरि द्वारा भक्त और भगवान के बीच एक ऐसे रिश्ते की बात सुनकर उन्हें प्रणाम किया और धन का प्रबंध कर दिया।

भगवान श्रीनिवास और कुबेर के बीच हुए समझौते के साक्षी स्वयं ब्रहमा और शिव जी हैं।दोनों वृक्ष रूप में साक्षी बन गये। आज भी पुष्करिणी के किनारे ब्रह्मा और शिव जी बरगद के पेड़ के रूप में साक्षी बनकर खड़े हैं।

ऐसा कहा जाता है कि निर्माण कार्य के लिए स्थान बनाने के लिए इन दोनों पेड़ों को जब काटा जाने लगा तो उनमें से खून की धारा फूट पड़ी।पेड़ काटना बंद करके उसकी देवता की तरह पूजा होने लगी।
श्रीनिवास और पदमावती की शादी पूरे धूमधाम से हुआ जिसमें सभी देवगण पधारे।भक्त मंदिर में दान देकर भगवान पर चढ़ा ऋण उतार रहे हैं जो कलियुग के अंत तक जारी रहेगा।
(बाला जी भगवान की प्रचलित कथा)

मानस अमृत

Posted in Love Jihad

अगर कोई मुस्लिम लड़का एक मशहूर सेलिब्रिटी बनता है तो उसकी पहली ख्वाहिश यही होती है कि वो एक हिन्दू लड़की से ही शादी करे।

ध्यान_दिजिए क्रिकेटर ज़हीर खान, मोहम्मद कैफ, मोहम्मद अजहरुद्दीन, युसूफ पठान, मंसूर अली खान पटौदी, फिल्म अभिनेता शाहरुख खान, आमिर खान, सैफ अली खान, राजनीतिज्ञ शाहनवाज़ खां और मुख्तार अब्बास नकवी और दुनिया भर के न जाने कितने मुस्लिम लोग जो मशहूर सेलिब्रिटी रहे और हिन्दू लड़कियों के पति बने।

काफी प्रचलित सीरिअल अभी विगत दो वर्ष पूर्व टीवी सीरियल में काम करने वाले एक मुस्लिम अभिनेता ने “ससुराल सिमर का” सीरियल में काम करने वाली टीवी अभिनेत्री दीपिका कक्कड़ से शादी की उन तमाम लोगों को यहां लिखा भी नहीं जा सकता लिस्ट इतनी लम्बी है लिखना असम्भव है।

दोषी कौन इसका?? इन मशहूर सेलिब्रिटी की शादी को लव जिहाद की संज्ञा नहीं दी जा सकती क्योंकि इन्होंने अपने मुस्लिम होने की पहचान को छुपाया नहीं! लड़की और उसके घर वालों को मालूम था कि वो एक मुस्लिम दामाद ला रहे हैं।

ये सच है कि जब ये पैसा, शोहरत और दौलत से लबरेज़ हुए तभी इन्हें हिन्दू लड़की बगैर अपनी पहचान छुपाए आसानी से हासिल हो गयी पर ये भी सच है कि अगर मुस्लिम लड़के सेलिब्रिटी न बन पाते तो लव जिहाद का रास्ता अखितयार करते हैं, अपनी पहचान छुपाकर हिन्दू नाम के साथ, कलावा बांधे हुए, चंदन लगाकर लड़की से मिलते,उसे अपवित्र कर शादी के लिए मजबूर करते।

हमारी मूर्खता लव जिहाद को तो हम तुरन्त इस्लामीकरण से जोड़ लेते हैं पर रज़ामन्दी से की गयी शादी में हमे इस्लामीकरण नहीं दिखता ?

मानसिक विचारधारा वास्तव में मुस्लिम नौजवान एक ऐसी मानसिकता के शिकार हैं कि अगर उन्हें किसी तरह एक हिन्दू लड़की हासिल हो जाये तो उनके जन्नत का रास्ता साफ है।

ये सोच एक मानसिक विकृति में बदल चुकी है जैसा कि मैं ऊपर लिख चुका हूँ कि मुस्लिम और ईसाई औरतें भी बहुत खूबसूरत होती हैं पर उस खूबसूरती को वो तरजीह न देकर हिन्दू लड़की को ज्यादा तरजीह देते हैं इससे उन्हें एक आत्मिक ख़ुशी भी मिलती है कि वो हिन्दू धर्म को नष्ट कर रहे हैं और अल्लाह के बताये रास्ते में अपना योगदान दे रहे हैं, क्योंकि लव ज़िहाद एक काफिर के कत्ल करने से भी बड़ा सबाब है वो कैसे देखिये-

( उदाहरण )
मान लो एक मोहल्ले मे ५० हिन्दू और ५० मुस्लिम हैं,
१. अब ज़िहादी अगर एक हिन्दू का कत्ल करता है तो
हिन्दू बचे ४९और मुस्लिम हुए ५०.=(१ बढ़त)
और जेल जाना अलग से लेकिन

२. लव ज़िहाद करने से हिन्दू हुए ४९ और मुस्लिम हो गये ५१=(२ बढ़त) य़ानी २ काफिर के कत्ल का शबाब और गुनाह भी नही।

३. अब आया तीसरा चरण उस हिन्दू लड़की से सुअर के जैसे ७ बच्चे पैदा करवाना, अब हिन्दू हुए ४९ और मुस्लिम हो गये ५८=(८ बढ़त) य़ानी ८ काफिर के कत्ल का शबाब और गुनाह भी नही!

और भी ज़ितना पैदा कर सको करते रहो, हिन्दू लड़की मरती है तो मरे, उसमे ज़िहादी का फायदा ही है फिर से शिकार पर निकलेगा फिर कोई हिन्दू लड़की का शिकार करेगा और फिर यही करता रहेगा बार बार, लगातार क्योंकि ये यो गुनाह ही नही है हमारे कानून मे, उल्टा उनको हक़ है।

बाकी जो सामान्यतः जनसंख्या बढेगी दोनो साइड वो अलग से, उसमे भी ज़िहादी कम से कम ४ गुना तेजी से बढायेंगे, उसकी गिनती करते करते तो गणना भी संभव नहीं।

चाहे एक आम मुस्लिम हो या कोई सेलिब्रिटी या राजनेता दोष उनमे एक पैसे का नही है सारा का सारा दोष हिन्दू समाज की लड़कियों एव उनके परिवार का है बस हम सही बात को पकड़ते नही है।

संजय वर्मा

Posted in भारतीय मंदिर - Bharatiya Mandir

सोमनाथ का शूरवीर वीर हमीरसिंहगोहिल


सोमनाथ मंदिर के ठीक सामने एक भाला धारी घुड़सवार की प्रतिमा तिराहे पर विद्यमान है, जिस पर लिखा है कि यह हमीर जी गोहिल की मूर्ति है जो सोमनाथ मंदिर की रक्षा के लिए शहीद हुए थे। वैसे तो सोमनाथ पर सत्रह से अधिक बार आक्रमण के कारण कई लोग शहीद हुए होंगे, जिन्होंने सोरठ की उर्वर धरा में सोमनाथ की रक्षार्थ आत्माहुति दी होगी, किंतु यह वीर कोई खास होगा यह मेरे मन में पैठ गया। चूंकि गजनवी, खिलजी, तुगलक ये तो मेरे दिमाग में घूम गए किंतु यह वीर किससे और कब लड़ा होगा यह ज्ञात करना जरूरी हो गया था। जानकारी लेने पर तो लगता है उस रण बांकुरे पर आज भी लोग बिछ जाने को तैयार है। सोरठ में एक दोहा है –
“जननी जणे तो भक्त जण जे, के दाता, के सूर।
नहीं तर रहेजे वांझणी, मत गुमावजे नूर।।”

हमीर जी गोहिल भीमजी गोहिल के पुत्र थे और तीन भाइयों में सबसे छोटे, उन्हे गढाली गांव की जागीर मिली थी, एक बार अपने मझले भाई अरजण जी के साथ मुर्गों की लड़ाई के चक्कर में उनके निकल जा कह देने पर सौराष्ट्र छोड़ मारवाड़ चले गए।

दिल्ली की गद्दी पर उस समय मोहम्मद तुगलक (द्वितीय) बैठा हुआ था, जूनागढ़ के सूबेदार शम्शुद्दीन की पराजय के बाद उसने जफरखान को नियुक्त किया था। जफरखान की सीधी नजर सोमनाथ की संपदा पर थी और साथ ही वह अपने मजहब की कुंठा के कारण बुत शिकन बनना चाहता था।

जफरखान ने इसके लिए आदेश जारी किया कि अधिक संख्या में सोमनाथ में दर्शनार्थी इकट्ठा न हो। शिवरात्रि पर्व के अवसर पर जनमेदिनी तो एकत्रित होनी ही थी। जफरखान के कारकून रसूल खान के दर्शनार्थियों को रोकने पर विवाद हुआ और विवाद इतना बढ़ा कि जनता ने सैनिकों सहित रसूल खान को समाप्त कर दिया। जफरखान का आग बबूला होना स्वाभाविक था। उसने इस बहाने तमाम दलबल के साथ सोमनाथ पर चढ़ाई करने की सोची।

सोमनाथ पर आक्रमण की आशंका के चलते गढाली से मझले भाई अरजण ने हमीर को ढूंढने के लिए माणसुर गांव के गढ़वी को भेजा। हमीर जी को भाई के दुखी होने की सूचना मिली जिसपर उनका मन तुरंत चलने को हुआ, अपने दो सौ राजपूत साथियों के साथ वे दरबार पहुंच गए। धामेल के जागीरदार उनके काका वरसंग देव और बड़े भाई दूदाजी आदि के साथ उनका समय बीतने लगा, वे दूदाजी की जागीर अरठिला आ गए। यहां उनका नित्य जीवन और खेलकूद जारी था, हमीर अभी कुंवारे थे। कड़ाके की भूख लगी थी और साथियों के साथ वे दरबारगढ़ आए और (दूदाजी की पत्नी) बड़ी भाभी से खाना मांगा, तब भाभी ने कहा कि – “क्यों देवर जी इतनी जल्दी क्यों कर रहे हो, क्या खाना खाकर सोमनाथ की रक्षा के लिए साका करने जाना है?” हमीर जी ने पूछा कि भाभी क्या सोमनाथ पर संकट है? तब भाभी ने बताया कि दिल्ली का कटक निकल चुका है और सूबेदार जफरखान का दल रास्ते में है। यह बात सुनकर हमीर औचक खड़े हो गए और पूछा -“भाभी क्या बात कर रहीं हो? क्या कोई राजपूत सोमनाथ के लिए मरने निकल पड़े ऐसा नहीं? विधर्मियों की फौज चढ़ाई करेगी और रजपूती मर गई है क्या? ऐसे कई प्रश्न उन्होंने किये जिस पर भाभी ने कहा कि राजपूत तो बहुत है मगर सोमनाथ के लिए साका करे ऐसा कोई नहीं, तुम खुद राजपूत नहीं हो क्या?

भाभी की बात पर हमीर झळहला उठे। व्यंग्य भीतर तक चुभ गया। उसी समय भाभी को कहा – “मेरे दोनों बड़े भाइयों को मेरा जुहार कहना, मैं सोमनाथ मंदिर के लिए साका करने निकल रहा हूँ।” भाभी ने पछताते हुए खूब समझाया, मगर वे न माने और अपने पीछे किसी को समझाने भेजने की दुहाई देकर अपने दो सौ साथियों के साथ निकल गए। जब क्षेत्र के क्षत्रप बड़े आक्रमण से दिग्मूढ़ बने हुए थे, रजवाड़े अंतर्कलह में डूबे हुए थे तब हमीर मृत्यु का मंडप पोखने के लिए निकल पड़े।

कुंवर हमीर जी कुंवारे थे और अपने दो सौ साथियों के साथ चल पड़े, नीरव अंधेरी आधी रात को एक जगह से गुजरते हुए, जहां वायु भी रूक चुकी थी ऐसी नीरवता को चीरती एक महिला के शोकगीत गाने की आवाज सुनाई दी। झोंपड़ी में एक वृद्धा चारण गा रही थी। हमीर ने वहां जाकर पूछा कि किसके लिए यह शोकगीत गा रही हो? वृद्धा ने कहा मैं एक विधवा हूं और पन्द्रह दिन पहले दिवंगत अपने पुत्र का शोकगीत गा रही हूँ। हमीर ने कहा – “मां पुत्र के मरने के बाद भी लाड़ लड़ा कर उसका मर्शिया गा रही हो क्या तुम मेरे लिए शोकगीत गाओगी?” “मुझे मेरा शोकगीत सुनना है!” उस लाखबाई चारण ने कहा कि – “बाप यह क्या बोल रहे हो, क्या तुम्हारा जीते जी शोकगीत गाकर मुझे पाप में पड़ना है?” हमीर ने कहा – “मां हम मरण के रास्ते पर निकल चुके हैं और सोमनाथ की रक्षा के लिए साका करने जा रहे हैं। इस रास्ते से लौटना संभव नहीं है।” चारण लाखबाई उस राजपूत युवा के शौर्य की बात सुनकर अभिभूत हो गई। उसने पूछा कि – “बेटा हमीर तुम विवाहित हो?” हमीर ने ना कहा। तब वृद्धा ने कहा -” रास्ते में जो मिले उससे विवाह कर लेना। क्योंकि कुंवारों को युद्ध में अप्सरा वरण नहीं करती।” हमीर ने कहा कि -” मां हम मृत्यु के लिए जाने वालों को कौन अपनी कन्या ब्याहेगा?”
वृद्धा ने कहा कि “बाप तुम्हारी सूर वीरता देख कोई तुम्हे अपनी पुत्री ब्याहने के लिए कहे तो मना मत करना। मेरा यह कहा जरूर निभा लेना।” यह कहकर वृद्धा सोमनाथ में राह जोऊंगी बताते हुए चल पड़ी।

हमीर को रास्ते में द्रोणगढड़ा गांव में वेगड़ा भील मिल गए जो गीर के जंगल का सरदार था उसके पास भील योद्धाओं की हजार बारह सौ की टुकड़ी थी। गीर से लेकर शिहोर और सरोड के पहाड़ तक वेगड़ा के तीरों की धाक जमी हुई थी। भील जनजाति सोमनाथ में गहरी आस्था रखते थे और जूनागढ़ के राजा की सत्ता स्वीकार करते थे। वेगड़ा के पास एक युवा कन्या थी। जिसका नाम था राजबाई। एक बार जेठवा राजपूत गीर के पूर्वी हिस्से में स्थित तुलसीश्याम के मंदिर की यात्रा पर जा रहे थे, वेगड़ा के साथ उनका सामना हो गया, युद्ध में जेठवा के मरने से पहले उसने वेगड़ा को अपनी नन्ही बालिका सौंपते हुए जिम्मेदारी दी कि इसका पालन करना और योग्य होने पर किसी राजपूत के साथ विवाह कर देना। वेगड़ा ने मरते हुए जेठवा को वचन दिया और राजबाई को पुत्री की तरह पाला।

संयोग से चारण वृद्धा लाख बाई का वेगड़ा की राह से गुजरना हुआ, वेगड़ा ने उसे रोका और किसी राजपूत की जानकारी चाही लाख बाई ने हमीर जी गोहिल के सोमनाथ के लिए साका करने निकले होने की बात बताते हुए कहा कि उसी को अपनी कन्या परणा दे।

लाखबाई के कहे अनुसार वेगड़ा ने अपने तीन सौ धनुर्धर योद्धाओं के साथ गिर के काळवानेस के निकट पड़ाव डाला। उधर से चले आ रहे हमीर जी काळवानेस के पास शिंगोड़ा नदी के किनारे पहुंचे।
बहती नदी देख हमीर जी के साथी नहाने के लिए उतर गए। नहाने के दौरान किल्लोल करते कुछ को देर हुई कुछ आगे के लिए निकल गये। नहाने वाले साथियों के बाहर आने पर देखते हैं कि घोड़े गायब थे। हमीर जी ने आदेश दिया कि समीप पहाड़ी पर चढ़कर देखो कि घोड़े ले जाने वाले कौन है? खबर मिली कि घोड़े पास के पड़ाव में हिनहिना रहे हैं। वहां जाकर पूछने पर वेगड़ा सामने आया और पूछा कि हमीर जी गोहिल आप हो क्या? हम तो आपकी बांट जोह रहे हैं। प्रत्युत्तर में हमीर ने पूछा कि वे लोग कौन है तब वेगड़ा ने अपना परिचय दिया। वेगड़ा का परिचय सुनकर हमीर गदगद हुए कहा की सोमनाथ का साका करने चले और आपका मिलाप हुआ। ॥

वेगड़ा ने हमीर को दो दिनों के लिए रोक लिया। इस बीच राजबाई को हमीर से विवाह का पूछा, जेठवा कुल की कन्या राजबाई ने स्वीकृति और संकोच के साथ लज्जा का आवरण धारण किया। हमीर जी ने भी स्वीकृति दी मगर एक समस्या आ खड़ी हुई कि जितने साका करने वाले साथी थे उनका भी विवाह नहीं हुआ था उन्होंने हमीर जी के विवाह की शपथ ली थी, उन सबके लिए भील कन्याएँ ढूँढ कर सभी के सामूहिक लग्न हुए। गिर की वादियां ढोल और बांसुरी से गूंज उठी। इस तरह मौत का वरण करने वाले योद्धाओं ने पहले उन भील कन्याओं का वरण कर सिर पर केसरिया बांध लिया। द्रोणगढड़ा का गिरी प्रांतर उस विवाह का साक्षी बना। कई बातें इतिहास के पन्नों से भले ही छूट रही हो लेकिन लोक मानस ने अपने हृदय में स्थान दिया है।

इस तरह गीर के जंगल में लग्न के दूसरे दिन सब के साथ वेगड़ा ने भी अपने साथियों के साथ प्रयाण किया। अरठीला गांव के साथी माणसुर गढ़वी भी रास्ते के छोटी बस्तियों के टिंबे आदि में अपनी बबकार लगा, योद्धा तैयार कर साथ ले चला। राजपूत, भील, काठी, अहीर, मेर, भरवाड़ और रबारी जाति के जवान सोमनाथ के लिए साका करने निकल पड़े।

वेगड़ा ने अपने खबरचियों के द्वारा जफरखान की फौज की जानकारी हासिल की। उधर दिल्ली की फौज सौराष्ट्र की सीमाएं रौंदती, राजाओं और ठाकोरों को दंडित करती आ रही थी, उसकी सेना को रोकने की सामर्थ्य न होने के कारण कोई उन्हें रोक नहीं रहा था। इधर हमीर और वेगड़ा सोमनाथ के प्रांगण में उन सेनाओं का रास्ता देखने लगे। पुजारी और प्रभास के नगरजन स्तब्ध होकर खड़े थे। जफरखान को तो जैसे सोमनाथ को रौंद डालना था। उसे समाचार मिला कि कोई सिरफिरे उसका रास्ता रोकने के लिए सोमनाथ में तैयार हैं। वेगड़ा का पड़ाव सोमनाथ और प्रभास के बाहर था। हमीर ने अंदर का मोर्चा सम्हाला था।

जफरखान उन्मत्त होकर वहां आ पहुंचा, बाहर के मोर्चे पर वेगड़ा भील के योद्धाओं के तीरों के हमले ने मुस्लिम आक्रांताओं की सेना को त्राहिमाम् करवा दिया। एक तरफ देवालय को तोड़ने का जुनून था तो दूसरी तरफ मंदिर रक्षा की विजीगिषा थी। हाथी पर बैठे जफर ने सेना का संहार देख तोपों को आगे करने का हुक्म दिया।

उस समय भील योद्धाओं ने जफरखान का इरादा भांप लिया। उन्होंने घनी झाड़ियों और वृक्षों की ओट से बाणों का संधान जारी रखा। सूबेदार के तोपची चित्कार कर गिरने लगे। जफर ने गुस्से में दूसरी पंक्ति को आगे कर दी, भील योद्धा भी खेत होते कम होने लगे। जफर ने कुशल हाथी के साथ एक सरदार को वेगड़ा के पीछे किया, हाथी ने सूंड में पकड़ कर उसे पटक दिया जिससे वेगड़ा वहीं सोमनाथ रक्षा यज्ञ में समिधा बनकर काम आए। दूसरी तरफ भीतरी सुरक्षा में रत हमीर जी सचेत थे जफर का हमला सोमनाथ गढ़ की ओर हुआ। सुलगते तीरों की वर्षा हमीर जी ने शुरू की। पत्थरों से भी आक्रमण हुआ। जो सैनिक गढ़ के पास थे उन पर उबलता तेल डाला गया। इस प्रकार पहला आक्रमण असफल हुआ। सांझ हुई मंदिर में आरती हुई। सभी साथियों को एकत्रित कर अगला व्यूह समझाया।

जफरखान ने सोमनाथ को तीन तरफ से घेर लिया चौथी तरफ समुद्र था। दूसरे दिन सुबह हमीर जी ने घुड़सवार होकर आक्रमण कर दिया और हाथियों को भालों से गोदकर त्राहि त्राहि करवा दी। जफर ने गढ़ में प्रवेश के लिए सुरंग खोद डाली जिसमें हमीर जी ने पानी भरवा कर प्रवेश को अवरूद्ध कर दिया। रोज नई योजना के साथ जफर का नौ दिन तक हमीर जी ने सामना किया।

सोमनाथ गढ़ के सामने नौ दिनों से जफरखान के सैनिकों से लड़ते हमीर जी के पास योद्धा खेत रहे, नौवें दिन की रात्रि शेष बचे योद्धाओं को इकट्ठा कर व्यूह समझाया, कि जैसे ही सूर्यनारायण पूर्व दिशा से निकले गढ़ के द्वार खुले छोड़कर ‘केसरिया’ कर लेना यानी आत्माहुति दे देना। “सभी सावधान हो जाओ” इतना कहते ही हर हर महादेव के घोष गुंजायमान हुआ। पूरी रात कोई योद्धा सोया नहीं, सोमनाथ के मंदिर में मृत्यु के आलिंगन की उत्तेजना की कल्पना ही की जा सकती है, उन वीरों ने रात भर अबीर गुलाल की होली खेली, भगवान शंकर को भी जैसे सोने न दिया।

भिनसारे नहा धोकर हमीर जी ने चंद्र स्थापित भगवान सोमनाथ की पूजा की, हथियारों से सुसज्ज होकर लाख बाई को चरण स्पर्श किया और आशीष मांगा साथ ही कहा कि ‘आई अब मेरे कानों को मृत्यु के मीठे गीत सुनने की वेला आ पहुंची है। सोमनाथ के पटांगण में थोड़ी देर के लिए नीरवता फैल गई। पथारी पर बैठी ‘आई’ ने सुमीरनी फेरते हुए कहा – धन्य है वीर तुझको, तूने सोरठ की मरने पड़ी मर्दानगी का पानी रक्खा।’ आई ने गाया –

वे’लो आव्यो वीर, सखाते सोमैया तणी।
हीलोळवा हमीर, भाला नी अणिए भीमाउत।
(વે’લો આવ્યો વીર, સખાતે સોમૈયા તણી;
હીલોળવા હમીર, ભાલાની અણીએ ભીમાઉત.)

माथे मुंगीपर खरू, मोसाळ वसा वीस।
सोमैया ने शीश, आप्यु अरठीला धणी।।
(માથે મુંગીપર ખરૂ, મોસાળ વસા વીસ;
સોમૈયાને શીષ, આપ્યુ અરઠીલા ધણી.)

गढ़ के दरवाजे खोल दिये और जफरखान की फौज पर योद्धा टूट पड़े। इस अचानक आक्रमण की कल्पना न होने से जफर अचकचा गया। उसने फौज को सावधान कर युद्ध आरंभ किया। इस ओर हमीर जी काला कहर बरसाते हुए लड़ रहे थे। सांझ होते होते दुश्मन फौज को बहुत पीछे धकेल दिया। हमीर जी ने देखा कि अब शेष बचे डेढ़ दो सौ योद्धाओं में किसी के हाथ, किसी के पैर, किसी की आँतें कट चुकी थी। हमीर जी ने निर्णय लिया कि अब युद्ध इसी परिसर में लड़ना है। सुबह होते ही जफरखान ने सामने से हमला किया, कारण कि वह ज्यादा समय कमजोर शत्रु को देने के लिए तैयार नहीं था। हमीर जी ने भगवान आशुतोष को जल अर्पण किया और सभी साथियों ने आपस में अंतिम जुहार करने के साथ रणांगण में उतर पड़े।

ग्यारहवें दिन की सांझ युद्ध में हमीर जी का शरीर क्षत विक्षत हो गया, तलवार का भयानक वार होने के बाद भी दुश्मन को बराबर प्रत्युत्तर दे रहे थे लेकिन ग्यारहवें दिन की सांझ शिव सेवा में उन्होंने स्वयं को अर्पित कर दिया। इस युद्ध को लाख बाई गढ़ की ड्योढ़ी से निहार रही थी और उस शूरवीर योद्धा की विरूदावली गा रही थी और गाया पहला शोकगीत –

रड़वड़िये रड़िया, पाटण पारवती तणा;
कांकण कमल पछे, भोंय ताहळा भीमाउत ।
(રડવડિયે રડિયા, પાટણ પારવતી તણા;
કાંકણ કમળ પછે, ભોંય તાહળા ભીમાઉત.)

वेळ तुंहारी वीर, आवीने उं वाटी नहीं ;
हाकम तणी हमीर, भेखड़ हुती भीमाउत।
(વેળ તુંહારી વીર, આવીને ઉં વાટી નહીં;
હાકમ તણી હમીર, ભેખડ હુતી ભીમાઉત.)

इधर चारण मां अपने शूरवीर पुत्रों के शोकागीत गा रही थी और जफरखान के सैनिकों के हाथों सोमनाथ का देवल लुट रहा था। हमीर जी इस तरह अपने अनुपम पराक्रम से इतिहास के पृष्ठ लाँघते हुए लोक जीवन के कंठ से होकर हृदय में विराजित हो चुके थे। जब सौराष्ट्र का शौर्य बिखरा हुआ था तब अपने मुट्ठी भर साथियों के साथ स्वयं का बलिदान हमीर जी को लोकमन का नायक बना गया।

सोमनाथ मंदिर के बाहर वेगड़ा जी की और मंदिर के परिसर में हमीर जी की डेरी आज भी पूजी जाती है। सोमनाथ मंदिर की लूट में भले ही आक्रांताओं ने बहुत बार प्रयास किया हो मगर तत्कालीन वीरों ने अपने बलिदानों से इस धरा को अभिषिक्त किया है।

साभार : गजेन्द्र कुमार पाटीदार

Posted in Netaji Subhash Chandra Bose

सुभाष बोस की वापसी


  1. ………………………………………1960

सुभाष बोस की वापसी

इतिहास का उतार—चढ़ाव देखें। साथ में वक्त की करवट भी।

पांच दशक बीते, नयी दिल्ली के हृदय स्थल इंडिया गेट से अपने विशाल भारत साम्राज्य को निहारती रही ब्रिटिश बादशाह जॉर्ज पंचम की पथरीली मूर्ति। अब उसके हटने से रिक्त पटल पर (23 मार्च 2022) उनकी 125वीं जयंती पर अंग्रेज राज के महानतम सशस्त्र बागी सुभाष चन्द बोस की प्रतिमा स्थापित होगी। नरेन्द्र मोदी करेंगे। शायद बागी बोस फिर अपने हक से वंचित रह जाते क्योंकि वहां इंदिरा गांधी की प्रतिमा लगाने की बेसब्र योजना रची गयी थी। स्वाधीन भारत के दो दशकों (नेहरु राज के 17वर्ष मिलाकर) यह गुलामी का प्रतीक सम्राट का बुत राजधानी को ”सुशोभित” करता रहा। मानों गोरे अबतक दिल्ली में ही रहे! वह बादशाह जिसके विश्वव्यापी राज में सूरज कभी नहीं डूबता था, (किसी न किसी गुलामदेश में दिखता था) को अस्त कराने में नेताजी बोस की भूमिका का सम्यक वर्णन अभी बाकी है। इतिहास की दरकार है। युग का न्याय भी कितना वाजिब रहा! आज दिल्ली का कोरोनेशन पार्क (जहां जॉर्ज पंचम का पुतला 1968 से पड़ा है।) उत्तरी दिल्ली में खाली पड़ा एक मैदान मात्र है। इस जॉर्ज पंचम का वैभवी पुतला गत अर्ध सती से इस मैदान के जंगली झांड़ियों से आच्छादित वीरान कोने में पड़ा है। हर मौसम के थपेड़े खाता रहा। लंदन अजायबघर भी इसे लेने में दिलचस्पी नहीं रखता। कभी निपुण ब्रिटिश शिल्पियों की हस्तकला का यह नायाब नमूना रहा होगा। जब शरीर में प्राण थे यह जॉर्ज पंचम अपनी महारानी मैरी के साथ दिसम्बर 1911 में भारतीय उपनिवेश में आये थे। कोहिनूर जो गुलाम भारत से छीन कर ले जाया गया था, ब्रिटिश मुकुट की शोभा बढ़ा रहा था। नयी दिल्ली में राजकीय दरबार लगा। तब दो ऐतिहासिक घोषणायें हुयीं। बंग भंग (बंगाल का पूर्वी—पश्चिमी भूभाग में विभाजन) वाला निर्णय निरस्त कर फिर से संयुक्त बंगाल बना। भारत की नयी राजधानी कलकत्ता से दिल्ली लायी गयी। इसी राजतिलक के पर्व पर रवीन्द्रनाथ टैगोर ने अपना जानामाना गीत ''जनगण मन अधिनायक'' इस गोरे सम्राट के लिये पेश किया था। इस जलसे में प्रत्येक शासक (राजकुमार, महाराजा एवं नवाब) तथा अन्य गणमान्य व्यक्ति, भारत इस शोषक को अपना सलाम करने पहुंचे। सम्राट—युगल अपनी शाही राजतिलक वेशभूषा में आये थे। सम्राट ने आठ मेहराबों युक्त भारत का इम्पीरियल मुकुट पहना, जिसमें छः हजार एक सौ सत्तर उत्कृष्ट तराशे हीरे थे, जिनके साथ नीलम, पन्ना और माणिक्य जड़े थे। साथ ही एक शनील और मिनिवर टोपी भी थी, जिन सब का भार 965 ग्राम था। फिर वे लाल किले के एक झरोखे में दर्शन के लिये आये, जहां दस लाख से अधिक लोग दर्शन हेतु उपस्थित थे। दिल्ली दरबार मुकुट के नाम से सम्राज्ञी का एक भव्य मुकुट था। उन्हें पटियाला की महारानी की ओर से गले का खूबसूरत हार भेंट किया गया था। यह भारत की सभी स्त्रियों की ओर से महारानी की पहली भारत यात्रा के स्मारक स्वरूप था। सम्राज्ञी की विशेष आग्रह पर, यह हार, उनकी दरबार की पन्ने युक्त वेशभूषा से मेल खाता बनवाया गया था। 1912 में गेरार्ड कम्पनी ने इस हार में एक छोटा सा बदलाव किया, जिससे कि पूर्व पन्ने का लोलक (पेंडेंट) लगा था। उसके स्थान पर एक दूसरा हटने योग्य हीरे का लोलक लगाया गया। यह एक 8.8 कैरेट का मार्क्यूज़ हीरा था। गरीब भारत की सब संपत्ति थी। दिल्ली दरबार 1911 में लगभग 26,800 पदक दिये गये, जो कि अधिकांशतः ब्रिटिश रेजिमेंट के अधिकारी एवं सैनिकों को मिले थे। भारतीय रजवाड़ों के शासकों और उच्च पदस्थ अधिकारियों को भी एक छोटी संख्या में स्वर्ण पदक दिये गये थे।

किताबों में दर्ज है कि अपनी रियासत के रक्त पिपासु राजेमहाराजे बेगैरत रीति से सम्राट के कृपापात्र बनने की होड़ में रहते थे। सन 1857 के गोरे हत्यारों की मिन्नत में। अब बारी आ गयी नेताजी की। नेहरु वंश की हर कोशिश, बल्कि साजिश के बावजूद सुभाष चन्द्र बोस को नैसर्गिक अधिकार हासिल हो ही गया। हालांकि बोस की रहस्यात्मक मृत्यु की अभी तक गुत्थी सुलझी नहीं। नेताजी की मृत्यु के विषय में प्रधानमंत्री कार्यालय से सूचना कई बार मांगी गयी, पर कोई भी संतोषजनक जवाब नहीं मिला। जवाहरलाल नेहरु से लेकर मनमोहन सिंह सरकारों से पूछा जा चुका है। एक रपट के अनुसार ढाई दशक पूर्व (1995) में मास्को अभिलेखागार में तीन भारतीय शोधकर्ताओं ने चंद ऐसे दस्तावेज थे जिनसे अनुमान होता है कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस कथित वायुयान दुर्घटना के दस वर्ष बाद तक जीवित थे। वे स्टालिन के कैदी के नाते साइबेरिया के श्रम शिविर में नजरबंद रहे होंगे। सुभाष बाबू के भतीजे सुब्रत बोस ने प्रधानमंत्री पीवी नरसिंह राव से इसमें तफ्तीश की मांग भी की थी। इसी आधार पर टोक्यो के रेणकोटी मंदिर में नेताजी की अनुमानित अस्थियां कलकत्ता लाने का विरोध होता रहा।

सुभाषचंद्र बोस पर मिली इन अभिलेखागार वाली सूचनाओं पर खुले दिमाग से गौर करने की तलब होनी चाहिए थी। प्रधानमंत्री से राष्ट्र की मांग है। यह भारत के साथ द्रोह और इतिहास के साथ कपट होगा यदि नेहरू युग से चले आ रहे सुभाष के प्रति पूर्वाग्रहों और छलभरी नीतियों से मोदी सरकार के सदस्य और जननायक भी ग्रसित रहेंगे और निष्पक्ष जांच से कतराते रहेंगे। संभव है कि यदि विपरीत प्रमाण मिल गए तो जवाहलाल नेहरू का भारतीय इतिहास में स्थान बदल सकता है, पुनर्मूल्यांकन हो सकता है। एक खोजपूर्ण दृष्टि तो अब भी डाली जा सकती है। भारत की स्वतंत्रता के प्रारंभिक वर्षों की राजनीतिक स्थिति और संघर्ष के दौरान की घटनाओं का विश्लेषण करें तो पूरा दृश्य कुछ स्पष्ट होता लगेगा। जैसे आजाद भारत के कांग्रेसी नेताओं का सुभाषचंद्र बोस की जीवित वापसी से बड़ा खतरा महसूस करना। यह इस परिवेश में भी समचीन लगता है कि राज्य सत्ता हासिल करने की लिप्सा में तब के राष्ट्रीय कर्णधारों ने राष्ट्रपिता को ही दरकिनार कर जल्दबाजी में देश का विभाजन स्वीकार कर लिया था। फिर वे सत्ता में सुभाष बोस की भागीदारी कैसे बर्दाश्त करते? देश कृतज्ञ है नरेन्द्र मोदी का कि सरदार पटेल के बाद सुभाष बोस को राष्ट्र के समक्ष पेश कर, उनकी भव्य प्रतिमा लगवाकर एक परिवार द्वारा ढाये जुल्म का अंत हो रहा है। मूर्ति लगाने से नेताजी को न्याय दिलाने की प्रक्रिया की शुरुआत हो गयी है। अब इसका तार्किक अंत भी हो।

अरुण सिंह

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

🌳🦚आज की कहानी🦚🌳

💐💐मिथ्या गर्व का परिणाम💐💐

समुद्र तट के किसी नगर में एक धनवान वैश्य के पुत्रों ने एक कौआ पाल रखा था | वह उस कोए को बार-बार अपने भोजन से बचें अन्न देते थे | उनकी जूठन खाने वाला वह कौआ स्वादिष्ट और पौष्टिक भोजन खाकर खूब मोटा हो गया था | इससे उसका अहंकार बहुत बढ़ गया | वह अपने से श्रेष्ठ पक्षियों को भी तुच्छ समझने और उनका अपमान करने लगा |

एक दिन समुद्र तट पर कहीं से उड़ते हुए आकर कुछ हंस उतरे | वैश्य के पुत्र उन हसों की प्रशंसा कर रहे थे | यह बात कौए से सही नहीं गई | वह उन हसों के पास गया और उसे उनमें जो सर्वश्रेष्ठ हंस प्रतीत हुआ | उससे बोला -” मैं तुम्हारे साथ प्रतियोगिता करके उड़ना चाहता हूं |”

हैंस ने उसे समझाया – ” भैया ! हम तो दूर-दूर उड़ने वाले हैं | हमारा निवास मानसरोवर यहां से बहुत दूर है | हमारे साथ प्रतियोगिता करने से तुम्हें क्या लाभ होगा | तुम हंसो के साथ कैसे उड़ सकते हो |”

कोए ने गर्व में आकर कहा – ” मैं उड़ने की सो गतियां जानता हूं | और प्रत्येक से सो योजन तक उड़ सकता हूं | उडीन, अवडीन, प्रडीन, डीन आदि अनेकों गतियों के नाम गिनाकर वह बकवादी कोआ बोला – ” बतलाओ ! इनमें से तुम किस गति से उड़ना चाहते हो |”

तब श्रेष्ठ हंस ने कहा – ” काक ! तुम तो बड़े निपुण हो | परंतु मैं तो एक ही गति जानता हूं | जिसे सब पक्षी जानते हैं, मैं उसी गति से उडूगा |

गर्वित कोए का गर्व और बढ़ गया – ” वह बोला अच्छी बात तुम जो गति जानते हो उसी से उड़ो |”

उस समय कुछ पंछी वहां और आ गए थे | उनके सामने ही हंस और कौआ दोनों समुद्र की ओर उड़े | समुद्र के ऊपर आकाश में वह कौआ नाना प्रकार की कलाबाजियां दिखाता, पूरी शक्ति से उड़ा और हस से कुछ आगे निकल गया | हंस अपनी स्वाभाविक मंद गति से उड़ रहा था | यह देखकर दूसरे कोए प्रसन्नता प्रकट करने लगे |

थोड़ी देर में ही कौए के पंख थकने लगे | वह विश्राम के लिए इधर-उधर वृक्ष युक्त द्वीपों की खोज करने लगा | परंतु उसे उस अनंत सागर के अतिरिक्त कुछ दिख नहीं पड़ता था | इतने समय में हंस उड़ता हुआ उससे आगे निकल गया था | कोए की गति मंद हो गई | वह अत्यंत थक गया, और ऊंची तरंगों वाले भयंकर जीवों से भरे समुंद्र की लहरों के पास गिरने की दशा में पहुंच गया |

हंस ने देखा कि कौआ बहुत पीछे रह गया है, तो रुक गया | उसने कौए के समीप आकर पूछा – ” काक ! तुम्हारी चौच और पंख बार-बार पानी में डूब रहे हैं | यह तुम्हारी कौन सी गति है |

हंस की व्यंग्य भरी बात सुनकर कौआ बड़ी दीनता से बोला – ” हंस ! हम कोए केवल कांव-कांव करना जानते हैं | हमें भला दूर तक उड़ना क्या आएगा | मुझे अपनी मूर्खता का दंड मिल गया | कृपया करके अब मेरे प्राण बचा लो |

जल से भीगे अचेत और अधमरे कोए पर हंस को दया आ गई | पैरों से उसे उठाकर हंस ने उसे पीठ पर रख लिया और उसे लादे हुए उड़कर वहां आया जहां से दोनों उड़े थे | हंस ने कौए को उसके स्थान पर छोड़ दिया |

💐💐प्रेषक अभिजीत चौधरी💐💐

सदैव प्रसन्न रहिये।
जो प्राप्त है, पर्याप्त है।।

🙏🙏🙏🙏🌳🌳🌳🙏🙏🙏🙏🙏