Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

एक समय ऐसा था जब हमारे समाज में मांगलिक आयोजन तवायफों की अनुपस्थिति में अपूर्ण समझे जाते थे।मांगलिक तो छोड़िए आज भी धार्मिक अनुष्ठान दुर्गापूजा में मां दुर्गा की मूर्ति बनाने के लिए कुम्हार तवायफ के कोठे के आंगन की मिट्टी मांगकर लाता है और सामान्य मिट्टी में मिलाकर मूर्ति बनाता है और उसी मूर्ति में प्राण प्रतिष्ठा कर हम लोग पूजन करते है
क्या है लॉजिक?????
यह साल 1970 में उस दौर की बात है जब शन्नो बाई 68 साल की थीं. जवानी की परछाई उनसे उतर रही थी और वो वृद्धावस्था में प्रवेश कर चुकी थीं.

एक दौर था जब अमीर और बाहुबली उनका मुजरा सुनने आते थे और रात की महफिल में चुनिंदा मेहमानों को ही जगह मिल पाती थी.

शन्नो उस समय हैरान रह गईं जब मूर्तियां बनाने वाला एक कुम्हार उनके कोठे में आया और पूछा कि क्या वह उनके आंगन से थोड़ी मिट्टी ले सकता है. बेहद दुबले से उस बुज़ुर्ग से शन्नो बोलीं, “किसलिए चाहिए?” उसने जवाब दिया, “मां दुर्गा की मूर्ति बनाने के लिए.
“मैं वो महिला हूं जिसे समाज अपवित्र मानता है. तो फिर तुम्हें यहां की मिट्टी क्यों चाहिए? और वैसे भी तुम देख सकते हो कि ये आंगन कच्चा नहीं है. तो फिर मिट्टी कैसे ले जाओगे?”

प्रतिमा बनाने वाला वह शख़्स थोड़ा उलझन में पड़ गया मगर फिर उसका चेहरा अचानक खिल उठा. उसने कुछ गुलदस्तों की ओर इशारा किया और कहा, “मैं इनसे मिट्टी ले सकता हूं. ये भी तो आपके आंगन का ही हिस्सा हैं.”

शन्नो बाई मुस्कुराईं और गर्दन हिलाकर उन्होंने सहमति दे दी. जब यह आदमी चला गया तो शन्नो बाई ने एक बड़ी बाई से पूछा कि दुर्गा की मूर्ति बनाने के लिए तवायफ़ के आंगन की मिट्टी क्यों चाहिए होती है.

देवकी बाई ने कहा कि उन्होंने एक कहानी सुनी है कि यह मिट्टी समाज की लालसाएं हैं जो कोठों पर जमा हो जाती हैं. इसे दुर्गा को अर्पित किया जाता है ताकि जिन्होंने ग़लतियां की हैं, उन्हें पापों से मुक्ति मिल जाए.
आगे उन्होंने कहा कि एक बार एक ऋषि ने देवी की प्रतिमा बनवाई और बड़े गर्व से इसे अपने आश्रम के सामने स्थापित कर दिया ताकि लोग आएं और नौ दुर्गा या नवरात्रि में वहां आकर पूजा कर सकें. उसी रात को देवी उस ऋषि के सपने में आई और कहा कि मेरी नजर में घमंड की कोई इज्जत नहीं है. देवी ने बताया कि उन्हें इंसानियत और बलिदान चाहिए और इसके बिना आस्था खोखली है.

फिर ऋषि ने पूछा, “हे देवी, फिर मैं क्या करूं?” तब देवी ने कहा कि शहर में रहने वाली तवायफों के कोठे से कीचड़ लाओ और कुम्हार से कहो कि इसे मिट्टी में मिलाकर मेरी नई प्रतिमा बनाए. तभी मैं उस प्रतिमा को इस लायक मानूंगी कि जब पुजारी इसमें प्राण प्रतिष्ठा करे, मैं उसमें प्रवेश कर सकूं.

“जिन लोगों को समाज में उपेक्षित कर दिया जाता है, जिन्हें बुरा या पापी समझा जाता है, वे अपनी मर्जी से ऐसे नहीं होते बल्कि जो लोग उनका शोषण करते हैं, वे उन्हें ऐसा बनाते हैं. वे भी मेरे आशीष के हक़दार हैं”, देवी ने कहा और अंतर्धान हो गईं.

ऋषि ने उठकर वही किया जो देवी ने कहा था. तभी से मूर्ति बनाने वाले (कुम्हारटोली वाले भी) इसी पुरानी परंपरा का पालन करते हैं.

Dinesh Singh

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

मर्यादा की लकीर🙏🏻

महाभारत में युधिष्ठिर को मजबूरन युवराज बनाने के बाद धृतराष्ट्र ने भीम, अर्जुन, नकुल सहदेव आदि को सिंध में सैन्य अभियान पर भेज दिया ताकि युधिष्ठिर अकेले हो जाएं लेकिन आशा के विपरीत चारो भाई शीघ्र ही सफलता प्राप्त कर त्वरित ही लौट आये।

कर संग्रह से प्राप्त धन को दुर्योधन बुरी तरह उड़ाने लगा जबकि पांडवों की न्यूनतम आवश्यकताओं की पूर्ति हेतु धन के लिए भी धृतराष्ट्र बहाने बनाता था।

भीम बौखला उठे और उन्होंने बलात् धन प्राप्त करने की ठानी लेकिन युधिष्ठिर ने कठोरता से उन्हें रोक दिया।

क्या भीम बल से धन प्राप्त नहीं कर सकते थे?

अवश्य कर सकते थे लेकिन युधिष्ठिर राष्ट्रधर्म के भी मर्मज्ञ थे। उनकी चेतना राष्ट्रवादी रही होगी, उन्होंने उत्तर दिया-

“हस्तिनापुर हमारा राज्य है और अगर मैं ही इसके नियम तोड़ूंगा तो सामान्य नागरिक से अपेक्षा कैसे करूंगा कि वह राज्य के बनाए नियमों को मानेगा?”

वास्तव मे एक बात और भी थी कि दुर्योधन के लिए हस्तिनापुर की राजसत्ता ‘भोग जुटाने का साधन’ थी जबकि युधिष्ठिर के लिए कर्त्तव्य पालन की प्रेरणा… और इसीलिये दुर्योधन युधिष्ठिर को उकसाने का हर संभव प्रयत्न कर रहा था ताकि युधिष्ठिर व दुर्योधन के बीच का अंतर समाप्त हो जाये।

आज भी मीडिया हाउसेज, भ्रष्ट अफसरशाही, न्यायपालिका के बिक चुके मीलोड और गांधी परिवार सभी मिलकर मोदी को उकसाने की कोशिश कर रहे हैं, ताकि देश के अपने संविधान की धज्जियां उड़ जाएं और उनमें व मोदी में कोई अंतर शेष न रहे।

मोदीजी यह बात बखूबी समझते हैं कि यह महान राष्ट्र, यह भूमि उनकी अपनी है और इसकी मर्यादा उन्हें ही रखनी होगी। जबकि इटालियन बाई, मुस्लिम और बिक चुके तंत्र के लिए यह देश, भूमि व जनता उनके भोग जुटाने का साधन भर है।

और हाँ, महाभारत में युधिष्ठिर को राजधर्म का उपदेश देने की योग्यता सिर्फ तीन लोगों में ही थी।

विदुर, भीष्म और कृष्ण।

फिर भी उनका लक्ष्य था “सबका साथ सबका विकास”।

जय श्रीकृष्ण🌺🙏🏼🕉️

साभार महात्मन Dev Sikarwar जी…..

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

મિલન…..

ગોવિંદભાઈને બે પુત્રો. મોટો હાર્દિક અને નાનો હાર્દ.પત્નિ સુશીલાબેન નામ પ્રમાણે જ સુશીલ. અમદાવાદમાં કાપડની મોટી દુકાન ધરાવતો આ ભર્યો ભાદર્યો આ પરિવાર.પરિવારનું મૂળ વતન બનાસકાંઠાના પાલનપુર પાસેનું એક ગામ.
મોટો દિકરો હાર્દિક એમબીબીએસ પુરુ કરીને એમ ડી બનવા ન્યુયોર્ક,અમેરિકા ગયો.હાર્દિક સ્વાભાવે એકદમ સરળ.ના કોઈ મોટાઈ કે ના કોઈ અભિમાન.
હાર્દિક છેલ્લા વર્ષમાં હતો ત્યારે વંદના નામની યુવતી સાથે પરિચય થયો.વંદના પણ એમ ડી માટે જ અહીં આવી હતી અને એનો પરિવાર પણ અમદાવાદમાં જ રહેતો હતો.એમનું મૂળ વતન પણ બનાસકાંઠાનું ડીસા પાસેનું એક ગામ. પિતા રાજેશભાઈ અને માતા સંગીતાબેનનું લાડકવાયું સંતાન વંદના.એક નાનો ભાઈ ખરો જે બીએસસીના છેલ્લા વર્ષમાં અભ્યાસ કરે.સાહજિક પરિચય બાદ બન્ને વચ્ચે નિકટતા વધતી ગઈ. બન્ને પોતાના અભ્યાસ પ્રત્યે તો સભાન અને સજાગ જ હતાં.
બન્નેએ લગ્નના બંધને બંધાવવાનું નક્કી કર્યું પરંતુ સાથે સાથે વંદનાની એક શરત હતી કે, બન્નેએ પોતપોતાના માવતરની સંમતિ મેળવવી.
વંદનાએ તો એના માબાપની સંમતિ પણ લીધી.એક જ જ્ઞાતિ ઉપરાંત હાર્દિક સોહામણો પણ હતો એટલે અભ્યાસની વિગત સાંભળીને જ વંદનાનાં માબાપે સંમતિ આપી દીધી.વંદનાનાં માબાપને પોતાની દિકરીની કાબેલિયત પર કોઈ શંકા તો ક્યારેક હતી જ નહીં સાથે સાથે વંદનાના સંસ્કારો પર પણ સંપૂર્ણ વિશ્વાસ હતો.
હાર્દિકનો એકદમ સરળ સ્વાભાવ અને થોડી શરમાળ પ્રકૃતિ આડે આવીને ઉભી રહી એટલે એના માબાપને કહી ના શક્યો પરંતુ એનેય એટલો આત્મવિશ્વાસ હતો કે, માબાપ મારી પસંદગીને સ્વિકારી જ લેશે.
હાર્દિકનો અભ્યાસ પુરો થયો .બન્ને જણ અમદાવાદ આવ્યાં અને પોતપોતાના ઘેર જવા માટે છુટાં પડ્યાં.
બીજા દિવસે હાર્દિકે સુશીલાબેનને શરમાતાં, સંકોચાતાં બધી હકીકત જણાવી.
સુશીલાબેને સાંજે જમતી વખતે ગોવિંદભાઈને બધી વાત કરી. વંદનાનાં માતાપિતાનાં નામ અને ગામ જાણીને ગોવિંદભાઈ ભડક્યા.અરે!આતો એજ રાજેશ છે કે જેણે મારી પિતરાઈ બહેન રીંકુને છુટાછેડા અપાવ્યા હતા કે જેનાં લગ્ન એના પિતરાઈ ભાઈ સાથે થયેલ હતાં.હા,એની દિકરી ડોકટરનું ભણી રહી છે.હું કોઈ કાળેય આ સબંધ માટે તૈયાર નથી. વીસ વર્ષ પહેલાંની ઘટનાને સંભારીને ગોવિંદભાઈએ આ સબંધ પર ચોકડી મારી દીધી.
હાર્દિક આ બધું કાનોકાન સાંભળી રહ્યો હતો. પુરેપુરા ધર્મસંકટમાં મુકાઈ ગયો.હવે શું કરવું? પિતાજીના સ્વભાવની એને ખબર હતી. એ કોઈ કાળે નહીં માને એ હાર્દિક સારી રીતે જાણતો હતો. વંદનામાં એ પુરેપુરો ખોવાઈ ચુક્યો હતો એ પણ એટલું જ સત્ય હતું.
અને વંદના! હાર્દિકને ખબર હતી કે આ હકીકત વંદના સહન નહીં કરી શકે.વંદનાને અભ્યાસનું એક વર્ષ બાકી હતું એટલે એને શું કહેવું હવે?
છેવટે મનમાં પાકો નિશ્ચય કરીને હાર્દિકે વંદનાને ફોન કર્યો.
‘વંદના, મેં ઘેર બધી વાત કરી છે.મમ્મી પપ્પાએ હા પાડી છે પરંતુ સાથે સાથે કહ્યું છે કે, વહુનો અભ્યાસ પુરો થવા દે’.
વંદનાએ પ્રત્યુતર વાળ્યો, ‘મને સારુ લગાડવા માટે ખોટું બોલી રહ્યા છો તમે! તમારાં મમ્મી પપ્પાએ ક્યારેય હા નહીં પાડી હોયા! ‘
હેં! હાર્દિક ખચકાઈને બોલતો બંધ થઈ ગયો….
ધીમા ડૂસકા સાથે વંદના બોલી, ‘મેં અમેરિકાથી ફોન કર્યો હતો ત્યારે મમ્મી પપ્પાનાં નામ અને ગામ નહોંતાં જણાવ્યાં પરંતુ ઘેર આવીને બધું સવિસ્તર જણાવ્યું એ સાથે જ મારા પપ્પાએ પણ સબંધ આગળ નહીં વધારવાની સૂચના આપી દીધી. અધુરામાં પુરુ તમારા પપ્પાનો ફોન પણ મારા પપ્પા પર આવી ગયો ને એમણે કહ્યું કે, જોજો બધાં ભેગાં થઈને મારા દિકરાને ફસાવતાં નહીં!’
‘વંદના ,હું અત્યારે જ તને મળવા આવું છું. બોલ ક્યાં કેટલા વાગ્યે મળશું? હાર્દિકે ફોન પર કહ્યું.
‘રીંગરોડ નરોડા સર્કલ સાંજે પાંચ વાગ્યે’-વંદના રડતાં રડતાં બોલી.
પાંચ વાગ્યે મળીને ઘણીબધી ચર્ચા, વાતો સાથે બન્નેએ નકકી કર્યું કે, બન્નેનાં માબાપને મનાવવાના પ્રયત્નો ચાલું રાખવા છતાંય નિષ્ફળતા મળે તો વંદનનાનો અભ્યાસ પૂર્ણ થતાં જ પ્રેમલગ્ન કરી લેવાં …..અને બન્ને સજળ નયને છુટાં પડ્યાં.
હાર્દિકે ડોકટર હાઉસમાં છ એક મહિના સેવા આપીને પછી પોતાની હોસ્પિટલ શરૂ કરી. થોડી પિતાજીની મદદ અને થોડી લોન લઈને.
પિતાજીને મનાવવાના ઘણા પ્રયત્નો કર્યા પરંતુ ગોવિંદભાઈ એકના બે ના થયા. વેરીની દિકરી મારા ઘેર તો ના જ લાઉં! -આ જ પ્રત્યુતર. જો કે વંદનાની પણ એ જ પરિસ્થિતિ હતી.
વંદનાનો અભ્યાસ પુરો થયો.બન્નેના પિતાજીઓના જિદ્દી સ્વભાવમાં કોઈ પરિવર્તન નહીં.
છેવટે હાર્દિક અને વંદના કોર્ટમાં જઈ લગ્નના તાંતણે બંધાઈ ગયાં.બન્નેના પરિવાર સાથેના સંબંધો કપાઈ ગયા.એનો દોષ માબાપોનો હતો ને બન્નેનાં માબાપોએ સામેથી જ સબંધો કાપી નાખ્યા હતા.
પરિવાર પ્રત્યે બન્નેને અઢળક પ્રેમ હતો પરંતુ બીજો કોઈ વિકલ્પ પણ ક્યાં હતો.
હા, વંદના અને હાર્દિકને અમર આશા હતી કે,માબાપોએ ભલે તરછોડ્યાં પરંતુ એક દિવસ જરુર સુખમયી મિલન સર્જાશે જ……
બન્ને હ્રદયરોગનાં સ્પેશિયાલિસ્ટ હતાં એટલે હોસ્પિટલ તો ધમધોકાર ચાલતી હતી, વસવસો માત્ર ‘છતાં માબાપે અનાથ’-નો હતો.
હાર્દ ભણવામાં ખાસ કંઈ ઉકાળી ના શક્યો એટલે પપ્પાની કાપડની દુકાન જ સંભાળવા લાગ્યો. લગ્ન લેવાઈ ગયાં.પાંચ વર્ષ વીતિ ગયાં ને બે બાળકોનો પિતા પણ બની ગયો. ગોવિંદભાઈમાં ઘડપણ દેખાયું.ઢીંચણની ગાદીઓ ઘસાવાથી ચાલવામાં મુશ્કેલી પડવા લાગી.દુકાને જવાનું બંધ થયું. સુશીલાબેન પણ કમરની તકલીફ સામે ઝઝૂમી રહ્યાં હતાં.કામમાં મુશ્કેલી પડવા લાગી. દિકરાનાં બે સંતાનોને સાચવવામાંય અક્ષમ બની ગયાં.હાર્દની પત્નિ મોહિનીને આંખમાં કણાની જેમ ખુંચવા લાગ્યાં.
‘એક દિકરાને ભણાવી ગણાવીને ડોક્ટર બનાવ્યો હતો તે છેતરીને વાળી ચોળીને લઈ ગયો બધું! બેય ડોકટર છે ને લીલાલે’ર કરે છે.એવા સુખી દિકરા આગળ જઈને રહો તો ખબર પડે! પણ ક્યાં જાઉં છે ત્યાં? બસ, અમારા જ કપાળે લખાયાં છે ને! ‘-મોહિનીનાં આવાં મહેણાં ટોણાં અને હાર્દનું ભાવહીન વર્તન છેવટે અસહ્ય થઈ પડ્યું આ વૃદ્ધ દંપતિને.
ઉંડે ઉંડે હાર્દિક યાદ આવતો હતો ગોવિંદભાઈને પરંતુ હજી જીદ્દીપણું મન પર સવાર હતું ને એટલે જ તો
વૃદ્ધાશ્રમનો રસ્તો પકડ્યો ગોવિંદભાઈએ. સુશીલાબેન છુટકે ના છુટકેય ગોવિંદભાઈને અનુસર્યાં.
આજે મહિનાનો ચોથો રવિવાર હતો. કાયમના નિયમ મૂજબ વંદનાએ રસોયાને ઓર્ડર આપીને મીઠાઈ સાથેની રસોઈ બનાવડાવી દીધી.વાહનમાં ભરાવીને વંદના પોતાની ગાડી લઈ વૃદ્ધાશ્રમે પહોંચી ગઈ.
ભોજન વંદના જાતે પીરસી રહીં હતી.આગ્રહ કરી કરીને જમાડી રહી હતી સૌ વૃદ્ધ માવતરોને. નવાં આવેલ બે માવતરોને જોતાં જ વંદના હચમચી ગઈ પરંતુ મોં પર કોઈ અણસાર આવવા ના દીધો. વંદનાએ લાગણીસભર અવાજે એટલું જ કહ્યું, ‘આ વૃદ્ધાશ્રમ નહીં પરંતુ ઘરડાં માનવીઓનો મેળો છે.સુખ દુ:ખની સાચી આપ-લે થાય છે. કેટલાય આલીશાન મકાનોમાં જે આડંબરસભર સુખ શાન્તિ છે એની સરખામણીએ વિશેષ સાતા મળશે અહીં….’
સુશીલાબેને એક વૃદ્ધાને પુછ્યું, આ ભોજન આપીને ગઈ એ કોણ બહેન હતી ?
‘એ તો ખબર નથી પરંતુ છેલ્લા ચાર સાડાચાર વર્ષથી નિયમિત દર મહિનાના ચોથા રવિવારે જમાડવા આવે છે.એનો ખોળો ભરાયેલો નથી એ નક્કી!’-વૃદ્ધાએ કહ્યું.
બીજા મહિનાનો ચોથો રવિવાર આવ્યો.વંદના આવી પહોંચી.સૌએ જમી લીધું એટલે સુશીલાબેને વંદનાને કહ્યું, ‘દિકરી, તું કેટલી બધી ભાગ્યશાળી છે કે, આવું પુણ્યકર્મ તારા ભાગ્યમાં છે! જો તને યોગ્ય લાગે તો તારા એ ઘરનાં અમને દર્શન કરાવીશ કે જે ભૂમી તને આવા પવિત્ર કાર્યમાં પ્રેરણા આપી રહી છે! ‘
એક મહિનાથી વેદનાને મનમાં જ સંગ્રહીને બેઠેલી વંદનાને કંઈક અદભુત અનુભૂતિ થઈ. હાર્દિકનાં માબાપ વૃદ્ધાશ્રમમાં છે એ હજી જાણ નહોતી કરી વંદનાએ. એને ઉંડે ઉંડે બીક હતી કે હાર્દિક આ જાણ થતાં પડી ભાગશે.એ થોડા સમયની રાહ જોઈ રહી હતી.
એટલે જ વંદના ઝડપભેર બોલી, હા મા, કેમ નહીં? ચાલો આજે હું ફ્રી જ છું. તમને મુકવા પણ આવીશ.
સુશીલાબેન અને ગોવિંદભાઈ ઘેર આવ્યાં.મોટા મકાનમાં પ્રવેશતાં જ સામે દિવાલ પર તેમની તસવીર દેખાઈ.
વંદના ઝડપભેર રસોડા તરફ ચાલી ગઈ હતી એટલી જ ઝડપથી પ્રગટાવેલ દિવો હાથમાં લઈને આવી.
ચકળવકળ આંખે સુશીલાબેન અને ગોવિંદભાઈ તો એમની તસવીર જ જોઈ રહ્યાં હતાં. વંદનાએ પ્રગટાવેલો દિવો સુશીલાબેન અને ગોવિંદભાઈના ચરણોમાં મુક્યો ને પગે પડીને રડી પડી.’મમ્મી-પપ્પા અમારી ભુલચુક હોય તો અમને ક્ષમા કરો. અમે બન્ને પ્રેમના એક તાંતણે બંઘાઈ ચુક્યાં હતાં. એ સિવાય અમને કંઈ ખબર નહોતી..
સુશીલાબેને કમરનું દર્દ ભુલીને નીચાં નમી વંદનાને ઉભી કરી અને બાથ ભીડી દીધી. પોતાના હાથેથી વંદનાનાં આંસું લુંછીને પછી દર્દભર્યા અવાજે બોલ્યાં, બેટા, ભૂલ તમારી નહીં પરંતુ અમારી છે.એમાંય આ તારા સસરાનું જીદ્દીપણું અને સામાજિક વેરઝેરે ભાન ભુલાવ્યાં અમને.
હાર્દિક ક્યાં છે બેટા! ને કોઈ બાળબચ્ચું કેમ દેખાતું નથી?
આડું જોઈને મહામહેનતે વંદના બોલી, હાર્દિક તો સોમનાથ ગયા છે દર્શન કરવા મમ્મી. બીજા પ્રશ્નનો જવાબ ગળી ગઈ વંદના.
બીજા પ્રશ્નનો જવાબ ના મળતાં અને આડું જોઈને બોલતાં સુશીલાબેનને કંઈક ભેદ લાગ્યો.
વંદના!તું કંઈક છુપાવે છે! તમારા બન્નેના પ્રેમની દુહાઈ આપું છું. સાચેસાચું બોલ,બાળબચ્ચાંવાળી વાત તું કેમ ગળી ગઈ?
વંદનાના બંધ છુટી ગયા. સુશીલાબેનના ખોળામાં માથું નાખીને ચોધાર આંસુએ રડવા લાગી. સુશીલાબેને માથે હાથ ફેરવ્યો…..
મમ્મી!અમે પ્રતિજ્ઞા લીધી હતી કે, અમારા બન્નેનાં માબાપ અમને જ્યાં સુધી પાછાં ના મળે ત્યાં સુધી પતિ પત્નિનાં કોઈ સુખ ભોગવવાં નહી. વાહ રે ભારતિય નારી!
હવે સુશીલાબેન પાસે કોઈ પ્રત્યુત્તર નહોતો……
ગોવિંદભાઈ તો બીલકુલ રડમસ બની ગયા.
સુશીલાબેન પંદરેક મિનિટ સુધી રડતાં રહ્યાં. જાતે જ આંસું લુંછીને પછી દર્દભર્યા અવાજે બોલ્યાં, ઘીના ઠામમાં ઘી નહીં પડે તો જીવ આપી દઈશ……
હાર્દિક ભોળાનાથનાં દર્શન કરીને પાછો વળી રહ્યો હતો એ જ વખતે એક વૃદ્ધ દંપતીને ભોળાનાથ આગળ કરૂણ અવાજે આજીજી કરી રહ્યું હતું એ શબ્દો કાને અથડાયા…..
હે ભોળાનાથ! લાજ રાખજો. આ કદાચ તમારાં છેલ્લાં દર્શન છે! હવે પછી દર્શને આવવાનું ભાડું મળશે કે કેમ? બસ, આટલી વિનંતી છે કે,દિકરા, વહુના હ્રદયમાં ઉતરીને એમના ત્રાસમાંથી બચાવો ભોળા. ઘરઘાટી અને આયા જેવાં કામ આ ઉંમરે નથી થતાં ભોળાનાથ!
ભીના ચહેરે બહાર નિકળીને હાર્દિક વૃદ્ધ દંપતિની રાહ જોઈને ઉભો રહ્યો.
બન્ને પાસે આવ્યાં એટલે હાર્દિકે પુછ્યું, ક્યાં રહેવું વડીલ?
અમદાવાદનાં છીએ બેટા. વૃદ્ધે કહ્યું…..
હું પણ અમદાવાદનો જ છું અને ગાડી લઈને આવ્યો છું. ચાલો તમને લઈ જાઉં છું.
રસ્તામાં આછાબોલા હાર્દિકે એટલું જ કહ્યું, ‘વડીલ !તમે નિયમિત રીતે જ સોમનાથ જજો.તમને કાયમનું ભાડું મળી જશે. હું અમદાવાદમાં મારૂ ઘર જ તમને બતાવી દઉં છું.એ સિવાયની પણ કોઈ જરુર પડે તો મારા ઘરના દરવાજા તમારા માટે કાયમ ખુલ્લા છે….
વડીલની આંસુથી ખરડાયેલી આંખો તો અરીસામાં હાર્દિકને દેખાઈ રહી હતી. થોડા સમયના ખામોશીભર્યા વાતાવરણ પછી વૃદ્ધા થોડું બોલ્યાં, ‘ધન્ય છે તારાં માવતરને બેટા કે તારા જેવા સપૂતને જનમ આપ્યો. દિકરો તો મારેય છે. બાંધકામનું કરે છે ને કમાય પણ ખુબ સારું.
વહુના વાદે ચડીને હડધૂત કરી દીધાં છે અમને. પોતાના જ ઘરમાં કૂતરાં પેટ ભરે એમ પેટનો ખાડો પુરીએ છીએ. જીવતરમાં વેઠ સિવાય કંઈ નથી.
ધન્ય છે તારી ઘરવાળીને.એ પણ કોઈ સારા ખાનદાનની દિકરી હશે.છુટા હાથની હશે તો જ તું અમને આવી મદદ કરવા માટે તૈયાર થયો છે……
હાર્દિકનું મકાન આવી ગયું. ગાડી પાર્ક થઈ. હાર્દિક અને વૃદ્ધ દંપતિ નીચે ઉતર્યાં.
વંદના આંખો ચોળીને જોવા લાગી. એને એની આંખો પર વિશ્વાસ ના બેઠો. હોય નહિં! મમ્મી -પપ્પા! મારા આંગણે?
ડૂસકાં નાખતી બેડરૂમમાં દોડી ગઈ…..
હાર્દિકને કંઈ સમજણ ના પડી.બેઠકખંડમાં જોયું તો પોતાનાં મમ્મી પપ્પા ગોવિંદભાઈ અને સુશીલાબેન દેખાયાં.
અરે! આ શું!
પાંચ પાંચ વરસે પોતાની જીદની પાછળ સંતાડી દીધેલ દેવ જેવા પુત્રને જોતાં જ બન્ને બેબાકળાં થઈને હાર્દિકને ભેટી પડ્યાં. ‘દિકરા અમને માફ કર.સ્વર્ગમાંથી બનાવીને મોકલેલ જોડાને અમે અમારા સામાજિક વેરઝેરમાં ઓળખી ના શક્યાં.’ધન્ય છે અમારી વંદના વહુને. ધન્ય છે તમારા માબાપ પ્રેમને, ધન્ય છે તમારી ટેકને………
શાંત થાઓ પપ્પા, શાંત થાઓ મમ્મી. સમય સમયનું કામ કરે છે.હાર્દિકને એટલી તો ખબર પડી ગઈ કે મમ્મી પપ્પાને બધી ખબર પડી ગઈ છે છતાંય વંદના બેડરૂમમાં કેમ દોડી ગઈ એ કંઈ સમજણ ના પડી……
મમ્મી પપ્પાને સોફા પર બેસાડીને ઉચાટભર્યા હૈયે બેડરૂમ તરફ દોટ મુકવાનું કર્યું ત્યાંતો ગળે ડૂમો બાઝેલ હોય એવો પાછળથી અવાજ આવ્યો,
જશો નહીં હાર્દિકકુમાર! એને રડવા દો. અમે મનાવશું એને…….
હાર્દિકે ચોકીને પાછળ જોયું! હાર્દિકકુમાર!
આ બધું શું બની રહ્યું છે? હાર્દિકને કંઈ ના સમજાયું.
બન્ને વેવાઈ વેવાણોને તો એકબીજાની ઓળખ થઈ ચુકી હતી.બન્ને વેવાઈ ભેટી પડ્યા. વેરઝેર ભુલાઈ ગયાં.
હાર્દિક તો આ બધું જોઈને આભો જ બની ગયો,એને તાળો મેળવતાં વાર ના લાગી.
ચારેય વેવાઈ વેવાણ ચાલ્યાં બેડરૂમ તરફ. વંદના ઉંધી પડીને ડૂસકાં ભરી રહી હતી.
રાજેશભાઇ અને સંગીતાબેને દરવાજે ઉભાં રહીને જ રુદન મિશ્રિત એક જોડકણું ગાયું
ગુલાબ, મોગરો રાતરાણીને
સૂરજમુખી નિરાળી,
એથીય મારી વંદના દિકરી
લાગે અમને પ્યારી ……..
દોટ મૂકી વંદનાએ…….
વંદના સંગીતાબેન અને રાજેશભાઈને ભેટી પડી. ગોવિંદભાઈ વંદનાના માથા પર હાથ ફેરવી રહ્યા હતા…

ત્રીજા દિવસે બન્ને વેવાઈ વેવાણોએ ભેગાં મળીને વરવધૂની છેડાછેડી બાંધીને ખુબ ખુબ આશિર્વાદ આપી મોકલી દીધાં મહાબળેશ્વર ફરવા માટે……….

લેખન -નટવરભાઈ રાવળદેવ થરા.
તા, 09/10/21

Posted in रामायण - Ramayan

रामायण


पेरियार के रावण बनाम वाल्मीकि के श्री राम

कार्तिक अय्यर

पेरियार ने भगवान राम और माता सीता के लिए बहुत ही बुरा लिखा है और रावण को महान बताया है।

राम के बारे में पेरियार का मत है कि वाल्मीकि के राम विचार और कर्म से धूर्त थे। झूठ, कृतघ्नता, दिखावटीपन, चालाकी, कठोरता, लोलुपता, निर्दोष लोगों को सताना और कुसंगति जैसे अवगुण उनमें कूट-कूट कर भरे थे। पेरियार कहते हैं कि जब राम ऐसे ही थे और रावण भी ऐसा ही था तो फिर राम अच्छे और रावण बुरा कैसे हो गया?
पेरियार राम में तो इतनी कमियां निकालते हैं, किन्तु रावण को वे सर्वथा दोषमुक्त मानते हैं। वे कहते हैं कि स्वयं वाल्मीकि रावण की प्रशंसा करते हैं और उनमें दस गुणों का होना स्वीकार करते हैं। उनके अनुसार रावण महापंडित, महायोद्धा, सुन्दर, दयालु, तपस्वी और उदार हृदय जैसे गुणों से विभूषित था। जब हम वाल्मीकि के कथनानुसार राम को पुरुषोत्तम मानते हैं तो उसके द्वारा दर्शाये इन गुणों से संपन्न रावण को उत्तम पुरुष क्यों नहीं मान सकते? सीताहरण के लिए रावण को दोषी ठहराया जाता है, लेकिन पेरियार कहते हैं कि वह सीता को जबर्दस्ती उठाकर नहीं ले गया था, बल्कि सीता स्वेच्छा से उसके साथ गई थी। इससे भी आगे पेरियार यह तक कहते हैं कि सीता अन्य व्यक्ति के साथ इसलिये चली गई थी क्योंकि उसकी प्रकृति ही चंचल थी और उसके पुत्र लव और कुश रावण के संसर्ग से ही उत्पन्न हुए थे। सीता की प्रशंसा में पेरियार एक शब्द तक नहीं कहते।

महर्षि वाल्मीकि क्या कहते हैं?

भीमसैनिक, ओशोवादी, वामपंथी जैसे कि सुरेंद्रकुमार अज्ञात व राकेश नाथ, पेरियार आदि रावण को खूब महान बताते हैं। रावण का चरित्र हम वाल्मीकीय रामायण से प्रस्तुत करते हैं। पाठकगण समझ जायेंगे कि रावण कितना “चरित्रवान” था:-

(क) रावण यहां वहां से कई स्त्रियां हर लाया था:-
रावण संन्यासी का कपट वेश त्यागकर सीताजी से कहता है:-
बह्वीनामुत्तमस्त्रीणामाहृतानामितस्ततः ।
सर्वासामेव भद्रं ते ममाग्रमहिषी भव ॥ २८ ॥
मैं यहां वहां से अनेकों सुंदर स्त्रियों को हरण करके ले आया।उन सबमें तू मेरी पटरानी बन,इसमें तेरी भलाई है।।२८।।
(अरण्यकांड सर्ग ४७/२८)
परस्त्रीगमन राक्षसों का धर्म है:-
रावण ने सीता से कहा: –
स्वधर्मो रक्षसां भीरु सर्वथैव न संशयः ।
गमनं वा परस्त्रीणां हरणं संप्रमथ्य वा ॥ ५ ॥
“भीरू! तू ये मत समझ कि मैंने तुझे हरकर कोई अधर्म किया है।दूसरों की स्त्रियों का हरण व परस्त्रियों से भोग करना राक्षसों का धर्म है-इसमें संदेह नहीं ।।५।।”
( सुंदरकांड सर्ग २०/५)

लीजिये महाराज! रावण ने खुद स्वीकार किया है कि वो इधर उधर से परस्त्रियों को हरकर उनसे संभोग करता है। अब हम आपकी मानें या रावण की? निश्चित ही रावण की गवाही अधिक माननीय होगी, क्योंकि ये तो उसका अपना अनुभव है और आप केवल वकालत कर रहो हैं।वाल्मीकीय रामायण से इस विषय पर सैकड़ों प्रमाण दिये जा सकते हैं।
मंदोदरि का रावणवध के बाद विलाप करते हुये रोती है तथा कहती है।
धर्मव्यवस्थाभेत्तारं मायास्रष्टारमाहवे ।
देवासुरनृकन्यानां आहर्तारं ततस्ततः ।। ५३ ।।

आप(रावण) धर्मकी व्यवस्था को तोड़ने वाले,संग्राम में माया रचने वाले थे। देवता,असुर व मनुष्यों की कन्याओं यहां वहां से हरण करके लाते थे।।५३।।
( युद्धकांड सर्ग १११)

लीजिये, अब रावण की पटरानी,बीवी की गवाही भी आ गई कि रावण परस्त्रीगामी था।
अंततः जब उसने देवी सीता को चुराया, तो उसकी सीताजी पर भी गंदी दृष्टि थी। पर जीते जी उनसे संभोग न कर सका और उन पतिव्रता देवी के पातिव्रत्य तेज से जलकर खाक हो गया! देखिये, मंदोदरि के शब्दों में:-

ऐश्वर्यस्य विनाशाय देहस्य स्वजनस्य च ।
सीतां सर्वानवद्याङ्गीं अरण्ये विजने शुभाम् ।
आनयित्वा तु तां दीनां छद्मनाऽऽत्मस्वदूषणम् ।। २२ ।।
अप्राप्य तं चैव कामं मैथिलीसंगमे कृतम् ।
पतिव्रतायास्तपसा नूनं दग्धोऽसि मे प्रभो ।। २३ ।।

प्राणनाथ! सर्वांगसुंदरी शुभलक्षणा सीता को वन में आप उनके निवास से , छल द्वारा हरकर ले आये,ये आपके लिये बहुत बड़े कलंक की बात थी।मैथिली से संभोग करने की जो आपके मन में कामना थी,वो आप पूरी न कर सके उलट उस पतिव्रता देवी की तपस्या में भस्म हो गये अवश्य ऐसा ही घटा है।।२२-२३।

( युद्धकांड सर्ग १११)

एक पत्नी व्रती भगवान राम और पतिव्रताओं की आदर्श भगवती माता सीता का अपमान करने वाला पेरियार मेरे लिए खलनायक है और रहेगा।

सभी बोलो जय श्री राम।

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

बड़े गुस्से से मैं घर से चला आया ..इतना गुस्सा था की गलती से पापा के ही जूते पहन के निकल गया मैं ,
आज बस घर छोड़ दूंगा, और तभी लौटूंगा जब बहुत बड़ा आदमी बन जाऊंगा …

जब मोटर साइकिल नहीं दिलवा सकते थे, तो क्यूँ इंजीनियर बनाने के सपने देखतें है …..आज मैं पापा का पर्स भी उठा लाया था …. जिसे किसी को हाथ तक न लगाने देते थे …मुझे पता है इस पर्स मैं जरुर पैसो के हिसाब की डायरी होगी ….पता तो चले कितना माल छुपाया है …..माँ से भी …इसीलिए हाथ नहीं लगाने देते किसी को..

जैसे ही मैं कच्चे रास्ते से सड़क पर आया, मुझे लगा जूतों में कुछ चुभ रहा है ….मैंने जूता निकाल कर देखा …..मेरी एडी से थोडा सा खून रिस आया था …जूते की कोई कील निकली हुयी थी, दर्द तो हुआ पर गुस्सा बहुत था ..और मुझे जाना ही था घर छोड़कर …जैसे ही कुछ दूर चला ….मुझे पांवो में गीला गीला लगा, सड़क पर पानी बिखरा पड़ा था ….पाँव उठा के देखा तो जूते का तला टुटा था …..जैसे तेसे लंगडाकर बस स्टॉप पहुंचा, पता चला एक घंटे तक कोई बस नहीं थी …..मैंने सोचा क्यों न पर्स की तलाशी ली जाये ….मैंने पर्स खोला, एक पर्ची दिखाई दी, लिखा था..लैपटॉप के लिए 40 हजार उधार लिए पर लैपटॉप तो घर मैं मेरे पास है ?

दूसरा एक मुड़ा हुआ पन्ना देखा, उसमे उनके ऑफिस की किसी हॉबी डे का लिखा था उन्होंने हॉबी लिखी अच्छे जूते पहनना ……ओह….अच्छे जुते पहनना ???पर उनके जुते तो ………..!!!!माँ पिछले चार महीने से हर पहली को कहती है नए जुते ले लो …और वे हर बार कहते “अभी तो 6 महीने जूते और चलेंगे ..”मैं अब समझा कितने चलेंगे……

तीसरी पर्ची ……….पुराना स्कूटर दीजिये एक्सचेंज में नयी मोटर साइकिल ले जाइये …पढ़ते ही दिमाग घूम गया…..पापा का स्कूटर ………….ओह्ह्ह्ह मैं घर की और भागा……..अब पांवो में वो कील नही चुभ रही थी ….मैं घर पहुंचा …..न पापा थे न स्कूटर …………..ओह्ह्ह नही मैं समझ गया कहाँ गए ….मैं दौड़ा …..और एजेंसी पर पहुंचा……पापा वहीँ थे ……………मैंने उनको गले से लगा लिया, और आंसुओ से उनका कन्धा भिगो दिया …….नहीं…पापा नहीं…….. मुझे नहीं चाहिए मोटर साइकिल…बस आप नए जुते ले लो और मुझे अब बड़ा आदमी बनना है..वो भी आपके तरीके से ..।

“माँ” एक ऐसी बैंक है जहाँ आप हर भावना और दुख जमा कर सकते है…और”पापा” एक ऐसा क्रेडिट कार्ड है जिनके पास बैलेंस न होते हुए भी हमारे सपने पूरे करने की कोशिश करते है…Always Love Your Parents

सुरेंद्र सुराणा

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

रसखान


रसखान, एक मुस्लिम, कृष्ण भक्त कैसे बना ?

देखिए जहा तक मुझे ज्ञात है एक मुसलमान था जो अपने धर्म के अनुसार आचरण नही करता था वो मासाहार का सेवन नही करता था और भी जो इस्लाम मैं कुरुतिया है वो उन्हें नही अपनाता था कुछ ऐसा मानिए वो नाम का मुस्लिम था । रसखान रोज की तरह पान खाने गया था। एक दिन उसकी नजर वहाँ लगी हुई कन्हैया की तस्वीर पर पड़ी तो उसने पान वाले से पूछा भाई ये बालक किसका है और इसका क्या नाम है। पान वाला बोला ये श्याम है। खान साहब बोले ये बालक बहुत सुन्दर है, घुंघराले बाल हैं, हाथ में मुरली भी मनोहर लगती है मगर ये जिस जमीन पर खड़ा है वो खुरदरी है, इसके पैरों में छाले पड़ जायेंगे, इसको चप्पल क्यों नहीं पहनाते हो। पान वाला बोला तुझे दया आ रही है तो तू ही पहना दे।

ये बात खान भाई के दिल में उतर गई और दूसरे दिन कन्हैया के लिए चप्पल खरीदकर ले आया और बोला लो भाई मैं चप्पल ले आया बुलाओ बालक को। पान वाला बोला कि ये बालक यहाँ नहीं रहता है ये वृंदावन रहता है, वृंदावन ही जाओ। खान साहब ने पूछा की इसका पता तो बताओ कि वृंदावन में कहाँ रहता है पान वाला बोला इसका नाम श्याम है और वृंदावन के बांके बिहारी मन्दिर में रहता है। खान साहब वृंदावन के लिए चल दिए वृंदावन में बांके बिहारी मंदिर में जैसे ही प्रवेश करने लगा तो देखा कि आने मैं देरी कर दी मन्दिर के द्वारा बन्द है । खान भाई यह सोचकर कि मेरा श्याम कभी तो घर से बाहर आयेगा मन्दिर के गेट पर ही बैठकर इन्तजार करने लग गया। उसे इन्तजार करते-करते पूरी रात निकल गयी भोर का समय था तो उसके कानों में घुंघरूओं की आवाज आई उसने खड़ा होकर चारों तरफ देखा कुछ दिखाई नहीं दिया फिर उसने अपने पास की तरफ देखा तो श्याम उसके पास बैठे हुए दिखते हैं। श्याम को देखकर खान भाई की खुशी का ठिकाना नहीं रहा मगर उसे बहुत दुःख हुआ जब कन्हैया के चरणों से खून निकलता हुआ देखा।

खान भाई नें कन्हैया को गोद में उठाकर प्यार से उसके चरणों से खून पूँछते हुए पूछा बेटे तेरा क्या नाम है कन्हैया बोला श्याम, खान भाई बोला तुम तो मंदिर से आये हो फिर ये खून क्यों निकल रहे हैं। कन्हैया बोले नहीं मैं मन्दिर से नहीं गोकुल से पैदल चलकर आया हूँ क्योंकि तुमने मेरी जैसी मूरत दिल में बसाई में उसी मूरत में तुम्हारे पास आया हूँ इसलिए मुझे गोकुल से पैदल आना पड़ा है और पैरों में काँटे लग गये हैं। खान भाई भगवान को पहचान गया और वादा किया कि हे कन्हैया, हे मेरे मालिक, में तेरा हूँ और तेरे गुण गाया करुँगा और तेरे ही पद लिखा करूँगा इस तरह एक मुसलमान खान भाई से रसखान बनकर भगवान का पक्के भक्त बने।

शिवानंद मिश्रा

Posted in श्रीमद्‍भगवद्‍गीता

गीता रहस्य🤷
जिस आदमी ने श्रीमदभगवद गीता का पहला उर्दू अनुवाद किया वो था मोहम्मद मेहरुल्लाह! बाद में उसने सनातन धर्म अपना लिया!_

पहला व्यक्ति जिसने श्रीमदभागवद गीता का अरबी अनुवाद किया वो एक फिलिस्तीनी था अल फतेह कमांडो नाम का! जिसने बाद में जर्मनी में इस्कॉन जॉइन किया और अब हिंदुत्व में है!

पहला व्यक्ति जिसने इंग्लिश अनुवाद किया उसका नाम चार्ल्स विलिक्नोस था! उसने भी बाद में हिन्दू धर्म अपना लिया उसका तो ये तक कहना था कि दुनिया मे केवल हिंदुत्व बचेगा!

हिब्रू में अनुवाद करने वाला व्यक्ति Bezashition le fanah नाम का इसरायली था जिसने बाद में हिंदुत्व अपना लिया था भारत मे आकर!

पहला व्यक्ति जिसने रूसी भाषा मे अनुवाद किया उसका नाम था नोविकोव जो बाद में भगवान कृष्ण का भक्त बन गया था!

_आज तक 283 बुद्धिमानों ने श्रीमद भगवद गीता का अनुवाद किया है अलग अलग भाषाओं में जिनमें से 58 बंगाली, 44 अंग्रेजी, 12 जर्मन, 4 रूसी, 4 फ्रेंच, 13 स्पेनिश, 5 अरबी, 3 उर्दू और अन्य कई भाषाएं थी ओर इन सब मे दिलचस्प बात यह है कि इन सभी ने बाद मैं हिन्दू धर्म को अपना लिया था।

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

अदभूत पत्र
—-

क्रिसमस की रात और चार्ली चैपलिन की बात

चार्ली ने अपनी नृत्यांगना बेटी को एक मशहूर खत लिखा। कहा- मैं सत्ता के खिलाफ विदूषक रहा, तुम भी गरीबी जानो, मुफलिसी का कारण ढूंढो, इंसान बनो, इंसानों को समझो, जीवन में इंसानियत के लिए कुछ कर जाओ, खिलौने बनना मुझे पसंद नहीं बेटी। मैं सबको हंसा कर रोया हूं, तुम बस हंसते रहना। बूढ़े पिता ने प्रिय बेटी को और भी बहुत कुछ ऐसा लिखा।

मेरी प्यारी बेटी,
रात का समय है। क्रिसमस की रात। मेरे इस छोटे से घर की सभी निहत्थी लड़ाइयां सो चुकी हैं। तुम्हारे भाई-बहन भी नीद की गोद में हैं। तुम्हारी मां भी सो चुकी है। मैं अधजगा हूं, कमरे में धीमी सी रौशनी है। तुम मुझसे कितनी दूर हो पर यकीन मानो तुम्हारा चेहरा यदि किसी दिन मेरी आंखों के सामने न रहे, उस दिन मैं चाहूंगा कि मैं अंधा हो जाऊं। तुम्हारी फोटो वहां उस मेज पर है और यहां मेरे दिल में भी, पर तुम कहां हो? वहां सपने जैसे भव्य शहर पेरिस में! चैम्प्स एलिसस के शानदार मंच पर नृत्य कर रही हो। इस रात के सन्नाटे में मैं तुम्हारे कदमों की आहट सुन सकता हूं। शरद ऋतु के आकाश में टिमटिमाते तारों की चमक मैं तुम्हारी आंखों में देख सकता हूं। ऐसा लावण्य और इतना सुन्दर नृत्य। सितारा बनो और चमकती रहो। परन्तु यदि दर्शकों का उत्साह और उनकी प्रशंसा तुम्हें मदहोश करती है या उनसे उपहार में मिले फूलों की सुगंध तुम्हारे सिर चढ़ती है तो चुपके से एक कोने में बैठकर मेरा खत पढ़ते हुए अपने दिल की आवाज सुनना।
…मैं तुम्हारा पिता, जिरलडाइन! मैं चार्ली, चार्ली चेपलिन! क्या तुम जानती हो जब तुम नन्ही बच्ची थी तो रात-रातभर मैं तुम्हारे सिरहाने बैठकर तुम्हें स्लीपिंग ब्यूटी की कहानी सुनाया करता था। मैं तुम्हारे सपनों का साक्षी हूं। मैंने तुम्हारा भविष्य देखा है, मंच पर नाचती एक लड़की मानो आसमान में उड़ती परी। लोगों की करतल ध्वनि के बीच उनकी प्रशंसा के ये शब्द सुने हैं, इस लड़की को देखो! वह एक बूढ़े विदूषक की बेटी है, याद है उसका नाम चार्ली था।
…हां! मैं चार्ली हूं! बूढ़ा विदूषक! अब तुम्हारी बारी है! मैं फटी पेंट में नाचा करता था और मेरी राजकुमारी! तुम रेशम की खूबसूरत ड्रेस में नाचती हो। ये नृत्य और ये शाबाशी तुम्हें सातवें आसमान पर ले जाने के लिए सक्षम है। उड़ो और उड़ो, पर ध्यान रखना कि तुम्हारे पांव सदा धरती पर टिके रहें। तुम्हें लोगों की जिन्दगी को करीब से देखना चाहिए। गलियों-बाजारों में नाच दिखाते नर्तकों को देखो जो कड़कड़ाती सर्दी और भूख से तड़प रहे हैं। मैं भी उन जैसा था, जिरल्डाइन! उन जादुई रातों में जब मैं तुम्हें लोरी गा-गाकर सुलाया करता था और तुम नीद में डूब जाती थी, उस वक्त मैं जागता रहता था। मैं तुम्हारे चेहरे को निहारता, तुम्हारे हृदय की धड़कनों को सुनता और सोचता, चार्ली! क्या यह बच्ची तुम्हें कभी जान सकेगी? तुम मुझे नहीं जानती, जिरल्डाइन! मैंने तुम्हें अनगिनत कहानियां सुनाई हैं पर, उसकी कहानी कभी नहीं सुनाई। वह कहानी भी रोचक है। यह उस भूखे विदूषक की कहानी है, जो लन्दन की गंदी बस्तियों में नाच-गाकर अपनी रोजी कमाता था। यह मेरी कहानी है। मैं जानता हूं पेट की भूख किसे कहते हैं! मैं जानता हूं कि सिर पर छत न होने का क्या दंश होता है। मैंने देखा है, मदद के लिए उछाले गये सिक्कों से उसके आत्म सम्मान को छलनी होते हुए पर फिर भी मैं जिंदा हूं, इसीलिए फिलहाल इस बात को यही छोड़ते हैं।
…तुम्हारे बारे में ही बात करना उचित होगा जिरल्डाइन! तुम्हारे नाम के बाद मेरा नाम आता है चेपलिन! इस नाम के साथ मैने चालीस वर्षों से भी अधिक समय तक लोगों का मनोरंजन किया पर हंसने से अधिक मैं रोया हूं। जिस दुनिया में तुम रहती हो वहा नाच-गाने के अतिरिक्त कुछ नहीं है। आधी रात के बाद जब तुम थियेटर से बाहर आओगी तो तुम अपने समृद्ध और सम्पन्न चाहने वालों को तो भूल सकती हो, पर जिस टैक्सी में बैठकर तुम अपने घर तक आओ, उस टैक्सी ड्राइवर से यह पूछना मत भूलना कि उसकी पत्नी कैसी है? यदि वह उम्मीद से है तो क्या अजन्मे बच्चे के नन्हे कपड़ों के लिए उसके पास पैसे हैं? उसकी जेब में कुछ पैसे डालना न भूलना। मैंने तुम्हारे खर्च के लिए पैसे बैंक में जमा करवा दिए हैं, सोच समझकर खर्च करना।
…कभी कभार बसों में जाना, सब-वे से गुजरना, कभी पैदल चलकर शहर में घूमना। लोगों को ध्यान से देखना, विधवाओं और अनाथों को दया-दृष्टि से देखना। कम से कम दिन में एक बार खुद से यह अवश्य कहना कि, मैं भी उन जैसी हूं। हां! तुम उनमें से ही एक हो बेटी!
…कला किसी कलाकार को पंख देने से पहले उसके पांवों को लहुलुहान जरूर करती है। यदि किसी दिन तुम्हें लगने लगे कि तुम अपने दर्शकों से बड़ी हो तो उसी दिन मंच छोड़कर भाग जाना, टैक्सी पकड़ना और पेरिस के किसी भी कोने में चली जाना। मैं जानता हूं कि वहां तुम्हें अपने जैसी कितनी नृत्यागनाएं मिलेंगी। तुमसे भी अधिक सुन्दर और प्रतिभावान फर्क सिर्फ इतना है कि उनके पास थियेटर की चकाचौंध और चमकीली रोशनी नहीं। उनकी सर्चलाईट चन्द्रमा है! अगर तुम्हें लगे कि इनमें से कोई तुमसे अच्छा नृत्य करती है तो तुम नृत्य छोड़ देना। हमेशा कोई न कोई बेहतर होता है, इसे स्वीकार करना। आगे बढ़ते रहना और निरंतर सीखते रहना ही तो कला है।
…मैं मर जाउंगा, तुम जीवित रहोगी। मैं चाहता हूं तुम्हें कभी गरीबी का एहसास न हो। इस खत के साथ मैं तुम्हें चेकबुक भी भेज रहा हूं ताकि तुम अपनी मर्जी से खर्च कर सको। पर दो सिक्के खर्च करने के बाद सोचना कि तुम्हारे हाथ में पकड़ा तीसरा सिक्का तुम्हारा नहीं है, यह उस अज्ञात व्यक्ति का है जिसे इसकी बेहद जरूरत है। ऐसे इंसान को तुम आसानी से ढूंढ सकती हो, बस पहचानने के लिए एक नजर की जरूरत है। मैं पैसे की इसलिए बात कर रहा हूं क्योंकि मैं इस राक्षस की ताकत को जानता हूं।
…हो सकता है किसी रोज कोई राजकुमार तुम्हारा दीवाना हो जाए। अपने खूबसूरत दिल का सौदा सिर्फ बाहरी चमक-दमक पर न कर बैठना। याद रखना कि सबसे बड़ा हीरा तो सूरज है जो सबके लिए चमकता है। हां! जब ऐसा समय आये कि तुम किसी से प्यार करने लगो तो उसे अपने पूरे दिल से प्यार करना। मैंने तुम्हारी मां को इस विषय में तुम्हें लिखने को कहा था। वह प्यार के सम्बन्ध में मुझसे अधिक जानती है।
…मैं जानता हूं कि तुम्हारा काम कठिन है। तुम्हारा बदन रेशमी कपड़ों से ढका है पर कला खुलने के बाद ही सामने आती है। मैं बूढ़ा हो गया हूं। हो सकता है मेरे शब्द तुम्हें हास्यास्पद जान पड़ें पर मेरे विचार में तुम्हारे अनावृत शरीर का अधिकारी वही हो सकता है जो तुम्हारी अनावृत आत्मा की सच्चाई का सम्मान करने का सामर्थ्य रखता हो।
…मैं ये भी जानता हूं कि एक पिता और उसकी सन्तान के बीच सदैव अंतहीन तनाव बना रहता है पर विश्वास करना मुझे अत्यधिक आज्ञाकारी बच्चे पसंद नहीं। मैं सचमुच चाहता हूं कि इस क्रिसमस की रात कोई करिश्मा हो ताकि जो मैं कहना चाहता हूं वह सब तुम अच्छी तरह समझ जाओ।
…चार्ली अब बूढ़ा हो चुका है, जिरल्डाइन! देर सबेर मातम के काले कपड़ों में तुम्हें मेरी कब्र पर आना ही पड़ेगा। मैं तुम्हें विचलित नहीं करना चाहता पर समय-समय पर खुद को आईने में देखना उसमें तुम्हें मेरा ही अक्स नजर आयेगा। तुम्हारी धमनियों में मेरा रक्त प्रवाहित है। जब मेरी धमनियों में बहने वाला रक्त जम जाएगा तब तुम्हारी धमनियों में बहने वाला रक्त तुम्हें मेरी याद कराएगा। याद रखना, तुम्हारा पिता कोई फरिश्ता नहीं, कोई जीनियस नहीं, वह तो जिन्दगी भर एक इंसान बनने की ही कोशिश करता रहा। तुम भी यही कोशिश करना।

रवि कांत

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

मैंने सुना है, एक हाथी एक पुल पर से गुजरता था। हाथी का वजन—पुल कांपने लगा! एक मक्खी उसकी सूंड़ पर बैठी थी। जब दोनों उस पार हो गये, तो मक्खी ने कहा, ‘बेटा! हमने पुल को बिलकुल हिला दिया। ‘हाथी ने कहा, ‘देवी! मुझे तेरा पता ही न था, जब तक तू बोली न थी कि तू भी है। ‘

यह तुम जो सोच रहे हो तुमने पुल को हिला दिया, यह तुम नहीं हो—यह जीवन—ऊर्जा है। तुम तो मक्खी की तरह हो, जो जीवन—ऊर्जा पर बैठे कहते हो, ‘बेटा, देखो कैसा हिला दिया!’

यह अहंकार तो सिर्फ तुम्हारे ऊपर बैठा है। तुम्हारी जो अनंत ऊर्जा है, उससे सब कुछ हो रहा है। वह परमात्मा की ऊर्जा है, उसमें तुम्हारा कुछ लेना—देना नहीं है। वही तुममें श्वास लेता, वही तुममें जागता, वही तुममें सोता, तुम बीच में ही अकड़ ले लेते हो। इतना जरूर है कि तुम जब अकड़ लेते हो तो वह बाधा नही डालता।

हाथी ने तो कम—से—कम बाधा डाली। हाथी ने कहा कि देवी, मुझे पता ही न था कि तू भी मेरे ऊपर बैठी है। इतना तो कम—से—कम हाथी ने कहा, परमात्मा इतना भी नहीं कहता। परमात्मा परम मौन है। तुम अकड़ते हो तो अकड़ लेने देता है। तुम उसके कृत्य पर अपना दावा करते हो तो कर लेने देता है। जो तुमने किया ही नहीं है, उसको भी तुम कहते हो मैं कर रहा हूं तो भी वह बीच में आ कर नहीं कहता कि नहीं, तुम नहीं, मैं कर रहा हूं! क्योंकि उसके पास तो कोई ‘मैं’ है नहीं, तो कैसे तुमसे कहे कि मैं कर रहा हूं? इसलिए तुम्हारी भ्रांति चलती जाती है।

लेकिन गौर से देखो, थोड़ा आंख खोल कर देखो : तुम्हारे किये थोड़े ही कुछ हो रहा है; सब अपने से हो रहा है!

यही नियति का अपूर्व सिद्धात है, भाग्य का अपूर्व सिद्धात है कि सब अपने से हो रहा है। गलत लोगों ने उसके गलत अर्थ ले लिये, गलत लोगों की भूल। अन्यथा भाग्य का इतना ही अर्थ है कि भाग्य के सिद्धात को अगर तुम ठीक से समझ लो, तो तुम साक्षी रह जाओगे, और कुछ करने को नहीं है फिर। लेकिन भाग्य से लोग साक्षी तो न बने, अकर्मण्य बन गये; अकर्ता तो न बने, अकर्मण्य बन गये।

अकर्ता और अकर्मण्य में भेद है। अकर्मण्य तो काहिल है, सुस्त है, मुर्दा है। अकर्ता ऊर्जा से भरा है—सिर्फ इतना नहीं कहता कि मैं कर रहा हूं। परमात्मा कर रहा है! मैं तो सिर्फ देख रहा हूं। यह लीला हो रही है, मैं देख रहा हूं।

आदमी बहुत बेईमान है, सुंदरतम सत्यों का भी बड़ा कुरूपतम उपयोग करता है। भाग्य बड़ा सुंदर सत्य है। उसका केवल इतना ही अर्थ है कि सब हो रहा है; तुम्हारे किये कुछ नहीं हो रहा है। सब नियत है। जो होना है, होगा। जो होना है, होता है। जो हुआ है, होना था। तुम किनारे बैठ कर शांति से देख सकते हो लीला, कोई तुम्हें बीच में उछल—कूद करने की जरूरत नहीं है। तुम्हारे आगे—पीछे दौड़ने से कुछ भी फर्क नहीं पड़ रहा है; जो होना है, वही हो रहा है। जो होना है, वही होगा। फिर तुम साक्षी हो जाते हो।

साक्षी की तरफ ले जाने के लिए भाग्य का ढांचा खोजा गया था। लोग साक्षी की तरफ तो नहीं गये; लोग अकर्मण्य हो कर बैठ गये। उन्होंने कहा, जब जो होना है, होना है, तो फिर ठीक; फिर हम करें ही क्यों? अभी भी धारणा यही रही कि हमारे करने का कोई बल है, हम करें ही क्यों? पहले कहते थे, हम करके दिखायेंगे; अब कहते हैं, करने में सार क्या! मगर कर्ता का भाव न गया; वह अपनी जगह खड़ा हुआ है।

अष्टावक्र को अगर तुम समझो, तो कोई विधि नहीं है, कोई अनुष्ठान नहीं है। अष्टावक्र कहते हैं : अनुष्ठान ही बंधन है; विधि ही बंधन है; करना ही बंधन है।
ओशो

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

■ जब रावण ने जटायु के दोनों पंख काट डाले… तो काल आया !!

और जैसे ही काल आया तो गिद्धराज जटायु ने मौत को ललकार कहा “खबरदार ! ऐ मृत्यु ! आगे बढ़ने की कोशिश मत करना…मैं मृत्यु को स्वीकार तो करूँगा… लेकिन तू मुझे तब तक नहीं छू सकती…जब तक मैं सीता जी की सुधि प्रभु “श्रीराम” को नहीं सुना देता…!

मौत उन्हें छू नहीं पा रही है…काँप रही है खड़ी हो कर…मौत तब तक खड़ी रही, काँपती रही… यही इच्छा मृत्यु का वरदान जटायु को मिला।

किन्तु महाभारत के भीष्म पितामह छह महीने तक बाणों की शय्या पर लेट करके मौत का इंतजार करते रहे…आँखों में आँसू हैं…रो रहे हैं…भगवान मन ही मन मुस्कुरा रहे हैं…!

कितना अलौकिक है यह दृश्य…रामायण मे जटायु भगवान की गोद रूपी शय्या पर लेटे हैं…! प्रभु “श्रीराम” रो रहे हैं और जटायु हँस रहे हैं…!!

वहाँ महाभारत में भीष्म पितामह रो रहे हैं और भगवान “श्रीकृष्ण” हँस रहे हैं…भिन्नता प्रतीत हो रही है कि नहीं…?

अंत समय में जटायु को प्रभु “श्रीराम” की गोद की शय्या मिली…!

लेकिन भीष्म पितामह को मरते समय बाण की शय्या मिली….!

जटायु अपने कर्म के बल पर अंत समय में भगवान की गोद रूपी शय्या में प्राण त्याग रहे है….प्रभु “श्रीराम” की शरण में….और बाणों पर लेटे लेटे भीष्म पितामह रो रहे हैं…. !

ऐसा अंतर क्यों…?

ऐसा अंतर इसलिए है कि भरे दरबार में भीष्म पितामह ने द्रौपदी की इज्जत को लुटते हुए देखा था…विरोध नहीं कर पाये थे…!

दुःशासन को ललकार देते…दुर्योधन को ललकार देते…लेकिन द्रौपदी रोती रही…बिलखती रही…चीखती रही…चिल्लाती रही… लेकिन भीष्म पितामह सिर झुकाये बैठे रहे…नारी की रक्षा नहीं कर पाये…!

उसका परिणाम यह निकला कि इच्छा मृत्यु का वरदान पाने पर भी बाणों की शय्या मिली !!

और….जटायु ने नारी का सम्मान किया…अपने प्राणों की आहुति दे दी…तो मरते समय भगवान “श्रीराम” की गोद की शय्या मिली…!

जो दूसरों के साथ गलत होते देखकर भी आंखें मूंद लेते हैं उनकी गति भीष्म जैसी होती है…और जो अपना परिणाम जानते हुए भी…औरों के लिए संघर्ष करते है, उसका माहात्म्य जटायु जैसा कीर्तिवान होता है…!