Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

” अमीर…..

बाहर हो रही बरसात की गडगडाहट सुधा का दिल जोरों से धडका रही वह तेजी से बर्तन और किचन साफ करते वो अपनी मालकिन गौरी से बोली-दीदी सब निपट गया मे घर जाऊं….
गौरी -बाहर बहुत तेज बारिश है सुधा…..और आकाशजी भी मेहमानों को छोडने गए है अबतक लौटे नहीं है… ..
सुधा-मे चली जाऊंगी दीदी….
गौरी- हूह ….अच्छा वो खाना केक वगैरह ले लिया ना ..
ये ले 500 रू जा खुश रहे अच्छा सुन ये छाता ले जा वरना बारिश में भीग जाएगी
मालकिन कितनी अमीर है ना ….कितनी बडी पार्टी की बेटे के बर्थडे की ..मन मे सोचती हाथों मे खाने की थैलियां पकडे सुधा ने छाता लिया और तेजी से निकल पडी बाहर सचमुच बहुत तेज बारिश थी रात का अंधियारा ऊपर से 11 बज चुके थे ….
शाम को जब घर से निकली थी तो उसके बेटे सोनू को तेज बुखार था डाक्टर से दवाई लेकर अपनी सास के हवाले कर सुधा को मजबूरी मे आना पडा कयोंकि उसकी मालकिन के इकलौते बेटे का बर्थडे था सबकुछ उसके ऊपर पहले से तय किया था सो मना भी नही सकती थी ऐसे मे मालिक लोग रुठ जाए तो फट से दूसरे नौकर का इंतजाम कर लेते है
पानी घुटनों तक भरा था उसके कदम तेजी से घर पहुंचने मे लगे थे की अचानक पैर पर कोई ठोकर लगी देखा तो अंगूठा खूनमखून था दर्द भी बडे जोरों से हो रहा था मगर उसे तो बेटे सोनू के बुखार और सास एवं पति के रात के खाने की चिंता थी कारण सभी एकसाथ खाना खाते थे रात का …जैसे तैसे घर पहुंची तो पति मोहन दरवाजे पर खडा था जोकि गार्ड की डयूटी से लौटा था झोपड़ी मे घुसते ही सोनू खुशी से उछलते बोला-मम्मा आ गई मम्मा आ गई… सुधा ने सास को थैलियां पकडाते पूछा-अम्मा …बुखार कैसा है सोनू का ..
अम्मा-ठीक है बहुरिया ..दवाई दे दी थी ..
अरे वाह ..केक मटर पनीर चावल कोफ्ते कया कया ले आई आज तो…
सुधा-अम्मा वो मालकिन के बेटे का जन्मदिन था बहुत खाना बना था कहकर रस्सी से एक साडी उठाई और पर्दे नुमा बाथरूम मे बदलने लगी बारिश मे छाता होने पर भी सुधा पूरी तरह भीग चुकी थी सोनू ने खुश होकर केक खाया तो पति मोहन और सास संग सुधा ने भी स्वादिष्ट खाने का भरपूर मजा लिया पूरा परिवार इस पार्टी से खुश था कयोंकि सुधा एक कामवाली तो उसका पति मोहन एक सिक्योरिटी गार्ड …
ऐसी मंहगाई मे कहा इतना बढिया खाना खाने को नसीब होता है ..
खाते पीते 1 बज गया सोनू जहां अपनी दादी से कहानी सुनते सो गया था वहीं दिनभर की थकी सुधा जैसे ही बिस्तर पर लेटी तो उसे अंगूठे पर कुछ महसूस हुआ देखा तो उसका पति मोहन उसके जख्मी अंगूठे पर हल्दी लगा रहा था -ये आप कया कर रहे हो जी …
कोशिश कर रहा हूं तुम्हारे साथ कदम मिलाने की ….जीवन मे साथ निभाकर चलने की जो कसमें खाई थी उसमें पास होने की तुम तो अव्वल आई हो सुधा…
मुझे और अम्मा और सोनू को ही नही इस घर को भी बखूबी तुम्ही ने संभाला है सच कहते है लोग आदमी मकान तो बना सकता है मगर घर उसे एक बहु एक जीवनसाथी एक लक्ष्मी ही बना सकती है …..
सुधा-चलिए छोडिये लग गई हल्दी ….कहकर भीगी हुई पलकों को साफ करती सुधा मोहन से लिपट गई
आज वो सचमुच एक अमीर औरत बन गई थी…..
एक दोस्त की सुंदर रचना

Author:

Buy, sell, exchange books

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s