Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

विषय
कहानी छोटी सी बात
आज सारिका घर पर ही अपनी चादर पर कढ़ाई कर रही थी और बहुत ही बारीक कढ़ाई करके उस चादर पर रंग बिरंगे धागों से छोटे छोटे फूल बनकर उसमे अपनी खुशियों के रंग भर रही थी क्योंकि ये उसका शौक भी था और इससे उसका समय भी अच्छा पास हो जाता था एवम ये चादर बनाकर बेचने से उसकी थोड़ी कमाई हो जाती है जिसे वो अपने घर के खर्च में लगाती है क्योंकि उसने बचपन से बड़े दुःख देखे हैं अचानक मां के गुजार जाने के बाद उसे ही घर चलाना होता है तो उसने घर के काम के साथ साथ पढ़ाई और कढ़ाई दोनों काम साथ ही किए अब पढ़ाई तो छोड़ दी लेकिन कढ़ाई वो करती है इसमें उसे असीम खुशी मिलती है
आज जब वो एक गहरे हरे रंग की चादर पर बहुत सुंदर कढ़ाई कर रही थी तो वो सोच रही थी कि हो सकता है जैसे मैं इस हरी चादर पर सुंदर कढ़ाई करके फूल पत्ती बना रही हूं हो सकता है कि इसी तरह कोई मेरे जीवन में
आकर कुछ ऐसे ही रंग भर दे और मेरा जीवन भी संवर जाए लेकिन मेरी ऐसी किस्मत कहां कि कोई मेरा हाथ थाम ले क्योंकि जितने भी रिश्ते आए सब मेरे सांवलेपन के कारण टूट गए क्या ये मेरा सांवलापन मेरे लिए अभिशाप बन गया है ये सोचते सोचते उसकी आंखों में आंसू आ गए और वो फिर से कढ़ाई करने में व्यस्त हो गई करीब एक घंटे में उसकी वो चादर फूलों पत्तियों से सज गई और बहुत सुंदर दिखाने लगी
उसने वो चादर तह करके रख दी और अपने काम में लग गई करीब ऐक घंटे बाद उसके घर की दहलीज पर किसी ने दस्तक दी उसने सोचा की अचानक कौन आया होगा इस समय जब उसने बाहर आकर देखा तो उसकी पड़ोस की दीदी किसी लड़के के साथ आई हुई हैं उसने उन्हे देखकर पूछा की दीदी इस समय आप अचानक कैसे आना हुआ तो मृदुला दीदी ने कहा कि सारिका ये मेरे दूर के भाई हैं मैने इन्हे तुम्हारे विषय में बताया कि हमारे पड़ोस में आई लड़की है संस्कारी और बहुत समझदार है बचपन से सब कुछ संभाल रही है यदि तुम उसे देखना चाहो तो देख लो यदि पसंद आ जाए तो फिर बात आगे बढ़ाते हैं इसलिए मैं इन्हे तुम्हारे यहां तुमसे मिलवाने लाई हूं सारिका यदि तुम्हे ऐतराज ना हो तो तुम भी इनसे बात कर लो यदि तुम दोनो एक दूसरे से सहमत हो जाओ तो मुझे बता दो
सारिका ने उन्हें नाश्ता चाय बनाकर दिया फिर अतुल और सारिका ने करीब एक घंटे एक दूसरे से बात की जब वो दोनो अंदर आए तो मृदुला दीदी ने उनसे पूछा कि तुम दोनो की क्या राय है क्या तुम दोनो एक दूसरे को पसंद आए
अतुल ने कहा कि दीदी मेरी तरफ से तो हां है बस सारिका को यदि मेरे विषय में और भी कुछ पूछना है तो वो आपसे पूछ सकती है ठीक है अतुल तुम थोड़ी देर बैठो मैं सारिका से पूछती हूं जब मृदुला दीदी ने सारिका से पूछा कि तुम्हारी क्या राय है अतुल के विषय में तो सारिका ने कहा कि दीदी मुझे इस रिश्ते से कोई ऐतराज नहीं है मेरी तरफ से तो हां है लेकिन बस मुझे इसी बात की चिंता है कि अतुल जी उतने गोरे और स्मार्ट हैं मै कहां
एक साधारण सी दिखने वाली मामूली लड़की फिर ऊपर से रंग भी सांवला बस मुझे इसी की चिंता है बाकी तो कुछ नही करीब बीस मिनट बाद मृदुला दीदी बाहर आई तो उन्होंने सारिका के मन की सब बाते अतुल को बता दी
तो अतुल थोड़ा तो ये बात सुनकर हस दिया और कहा कि क्या सांवला होना कोई गुनाह तो नही है वैसे भी तुम इतनी छोटी सी बात से दर रही हो सारिका अच्छा ये बताओ कि क्या भगवान कृष्ण सांवले नही थे या भगवान राम तो क्या लोगों ने उन्हें पूजना बंद कर दिया ऐसा तो नहीं हुआ क्योंकि व्यक्ति की पहचान उसके रंग से नही उसके गुण और अच्छे व्यवहार से होती है और ये दुनिया की श्रष्टि तो उस ईश्वर ने रचाई है तो फिर हम उसकी इस श्रष्टि पर कैसे उंगली उठा सकते हैं यदि मैं गोरा और स्मार्ट हूं तो क्या मैं पूरी तरह गुणवान हूं ये तो नही है ना
क्योंकि भगवान ने सबको एक समान नहीं बनाया है
इसलिए तुम फालतू की चिंता छोड़ दो और मुंह मीठा करवाओ अच्छा जी मैं आपकी बात से पूरी तरह सहमत हूं मैं अभी मिठाई लेकर आई और सारिका अंदर से मिठाई लेकर आई और सबने मुंह मीठा किया और अतुल जल्दी से बारात लेकर आने का वादा कर गया सारिका अंदर आकर मुस्कुराने लगी

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

રૂદિયે ડામ.

વૈભવી પરણીને સાસરે આવી એ દિવસથીજ એને સાસરીમાં બધું અતડું -અતડું લાગ્યા કરતું હતું પરંતુ એણે મનને મનાવી લીધું.મારે ક્યાં આ ગામડામાં કાયમી રહેવાનું છે!
સાસુ હીરાબેન તો જાણે જમીનથી અડધી વેંત ઉપર ચાલતાં હોય એટલો બધો હરખ. આખા ગામમાં છેલ્લા એકાદ મહિનાથી કહેતાં ફરતાં હતાં કે મારે વિકાસ દિકરાની વહુ તો ગરજુએટ સે.એટલે તો પરણીને જાન ઘેર આવી ત્યારે હોંશભેર વરવધૂને પોંખીને કંકુ પગલાં પડાવીને પછી જ અંદર લીધી.એ ભોળા દિલનાં સાસુને ક્યાં ખબર હતી કે એમની વહાલસોઈ વહુને ઘૂંઘટમાં મુંઝારો થઈ રહ્યો છે?
સાંજે ચુલે રોટલા ઘડતી નણંદ સીતાને તો વૈભવી ટીકી ટીકીને જોયા કરતી હતી.રોટલા ઘડવાના ટપાકા તો જાણે હ્રદય પર ટપાકા મારતા ના હોય!
સાંજે જમવા ટાણે તો સાસુ હીરાબેને કાયમી ઉપયોગમાં લેવાતા કાંસાના તાંસળાના બદલે સ્ટીલની થાળીમાં વલોણાના તાજા ઉતારેલ ઘીમાં એકમાત્ર વહુ માટે બનાવેલ ઘઉંની રોટલી ચોળીને હોંશભેર વહુને જમાડવા માટે બેઠાં.બે જાતનાં શાક સાથે પંદર દિવસ પહેલાં જમના શેઠાણીને બોલાવીને બનાવડાવેલ કેરી,અને લીલાં મરચાંનાં અથાણાં પિરસાયાં.
વૈભવીની નજર તો અત્યારે એના પતિ વિકાસને શોધી રહી હતી એટલે જ તો એણે સાસુને કહ્યું,’મમ્મી વિકાસ ક્યાં છે?’
‘અરે બેટા!ઈ તો અત્યારે મહેમાંન ભેગો બેઠો સે.જો!હું તારી જોડે બેઠીસુ ને!તું ચિંતા ના કર્ય તને બધુંય ખાતાં શીખવાડું સું.’હીરાબેને ઘીમાં રોટલી ચોળેલ હતી એમાં શાક નાખીને કોળીયા કરી કરીને વૈભવી વહુને જમાડવા લાગ્યાં.સાથે સાથે વાતો પણ કરતાં ગયાં.’જો બેટા આપણા ઘરમાં તો બધીય સગવડ સે.તારે ચમચીથી ખાવું હશે તોય મળી રે’શે.આ તો આજે મારી વાલી વઉને ખવડાવવાની મને ઈછા થઈ ગઈ.અને તું થોડાક દા’ડાંમાં સીતાને રાંધવાનું બધુંય શીખવાડી દેજે,ઈ બધુંય શીખી જાશે.દશમી પાસ છે ને! ‘
બિચારી સીતા તો મા ભાભીને ખવડાવી રહી હતી એ ટગર ટગર જોઈ રહી હતી.એની આંખમાં થોડાંક આંસુ હતાં, એ આંસુ ખુશીનાં હતાં કે કેમ? એ તો સીતાને જ ખબર.
વિકાસ આ ગામનો પ્રતિષ્ઠિત ઘરનો દિકરો.એના પિતા કરમણભાઈ તો સમાજના આગેવાન. ચાળીસ વીઘા જમીનના માલિક.સંતાનોમાં મોટો વિકાસ અને એક નાની દીકરી સીતા.વિકાસને સારુ શિક્ષણ આપ્યું ને એ શિક્ષણના ફળસ્વરૂપે કંપનીમાં ઉંચા પગારે વિકાસ નોકરીમાં જોડાયો.
વૈભવી આમ તો કરમણભાઈના સગાના સગાની દિકરી.મૂળ વતન આ ગામ પાસેનું જ ગામડું પરંતુ એનો પરિવાર વરસો પહેલાં ધંધા માટે અમદાવાદ આવીને વસેલો.એનો પરિવાર ખાધેપીધે ઠીકઠીક કહી શકાય એટલો સુખી ખરો. વૈભવી ગામડાની હવાથી બિલકુલ અપરિચિત.આમ તો કરમણભાઈ અને હીરાબેને વેવાઈ આગળ બધી જ હકીકત કહી સંભળાવી હતી કે,અમારો દિકરો ખુબ ભણેલો ગણેલો છે પરંતુ અમારો પરિવાર તો ગામડાનો છે અમને શહેરી જીવનની ઝાઝી ગતાગમ નહીં પડે.સામે પક્ષે વેવાઈને તો વિકાસ એકનો એક દિકરો છે અને સારી આવક ધરાવતો છે એ જ સ્વાર્થ દેખાયો હતો.એટલે તો વૈભવીના પિતાજીએ કરમણભાઈને કહ્યું હતું કે, વેવાઈ તમે ચિંતા ના કરો.મારી દિકરી સમજુ અને સંસ્કારી છે.વિકાસે પણ આ બાબતે વૈભવીને ઘણી બધી વાતો કરી હતી કે ,’મારી નોકરીના કારણે ભલે આપણે અમદાવાદ રહેવાનું થાય પરંતું મારા પરિવાર સાથે તારે વતનમાં પણ ઓતપ્રોત થઈને રહેવું પડશે.વૈભવીએ દરેક વાતોમાં સંમતિ દર્શાવી હતી.
છતાંય વૈભવીએ ત્રણ દિવસ તો જેમ તેમ પસાર કર્યા.ચોથા દિવસે ભાઈ લેવા આવ્યો ત્યારે હાશ થઈ.
નણંદ સીતાએ તો ‘ભાભી !જલ્દી જલ્દી આવી જજો કહીને વિદાય આપી તો સાસુ હીરાબેન તો જાણે દિકરીને સાસરે વળાવતાં હોય એ રીતે ગમગીન બની ગયાં.વૈભવીના માથે હાથ મુકીને બોલ્યાં, ‘બેટા! વેલાં વેલાં આઈ જાજો હો!
ત્રણ મહિને આણું થતાં વૈભવી ગામડે સાસરીમાં આવી.પરિવારના અનન્ય સ્નેહ છતાંય વૈભવીનાં વર્તન વ્યવહાર સાવ અંતર્મુખી જ રહ્યાં. બિચ્ચારી સીતા! ભાભી ભાભી કરીને તૂટી જાય.એણે તો ભોળા ભાવે ભાભીને કહ્યું કે, ‘આજે તો ભાભી શાક રોટલી તમારા હાથે બનાવેલાં જ ખાવાં છે. શાક રોટલી તો વૈભવીએ જરૂર બનાવ્યાં પરંતુ ખાતી વખતે સીતા અને હીરાબેનને શાકનો કડવો અનુભવ થયો.શાકમાં કોઈ મિઠાશ નહીં છતાંય સીતા તો, ‘વાહ ભાભી વાહ! કરતી રહી.એમને એમ કે, બિચારી શરમની મારી સારૂ ના પણ રાંધી શકે.
પાંચમા દિવસે તો વિકાસ અને વૈભવી અમદાવાદ ઉપડી ગયાં.ભાડે મકાન રખાઈ ચુક્યું હતું.
પંદર દિવસ પછી સીતા ભાઈને ત્યાં અઠવાડિયું રહેવા માટે અમદાવાદ પહોંચી.એને તો નવી નવી વાનગીઓ શીખવાના કોડ હતા પરંતુ વાનગીઓ તો દૂર રહી પરંતુ એના ભાગે તો ઘરનું કામ કાજ જ આવ્યું.હા,એક દિવસ બજારમાંથી પાણીપૂરી તો વળી એક દિવસ, ગોટા, સમોસા, વડાપાઉં,દાબેલી કે ઢોંસા.એકાદ દિવસ પિત્ઝા પણ ખરા!સીતાએ આ બધાના સ્વાદ જરુર માણ્યા.અઠવાડિયું રહીને ગામડે પાછી આવી.ભાઈએ લઈ આપેલ બે જોડી કપડાં જ એના માટે જમા પાસું હતાં.
બીજા વરસે સીતાના લગ્ન પ્રસંગે પંદર દિવસ વિકાસ અને વૈભવીની હાજરી જરૂર નોંધાઈ.વિકાસે લગ્નનો ખર્ચ પણ ઉપાડ્યો પરંતુ પરિવાર તો પ્રેમનો ભુખ્યો હતો.હીરાબેન અને કરમણભાઈ તો વૈભવીના વાણી વર્તનથી નક્કી કરીને બેઠાં હતાં કે જોઈએ તેવી વહુ નથી મળી પરંતુ વિકાસનો સ્વભાવ પણ બદલાઈ રહ્યો હોય એવો અહેસાસ થઈ રહ્યો હતો.
બાપુજી!કંપનીમાં રજા મળતી નથી એટલે લાંબુ વતનમાં અવાતું નથી -આ બહાનું સામાન્ય થઈ ગયું હતું.વિકાસને એના માબાપ સાથે અનન્ય સ્નેહ હતો પરંતુ વૈભવી આગળ સાવ અમસ્તો જ દબાઈ ગયો હતો.હા,એમાં એકલી વૈભવીનો દોષ ક્યાં હતો? એનોય દોરી સંચાર એનાં માવતર અને ભાઈઓ તરફથી થતો હતો.
ધીમે ધીમે વિકાસનાં માવતરે પણ “કુદરતના લેખ”-કહીને પુત્ર -પુત્રવધૂના પ્રેમનો લ્હાવો લેવાનું અભરાઈએ ચડાવી દીધું.વૈભવીએ પહેલા ખોળે પુત્રને જન્મ આપ્યો.સામાજિક ફરજના ભાગરૂપે એ વખતે વળી અઠવાડિયું વતનમાં રહ્યાં ખરાં! ફોન પર વાતો જરુર થતી.ક્યારેક ક્યારેક વૈભવી અને વિકાસ ગામડે લટાર પણ મારી જતાં પણ બધું ઔપચારિક………..
બે દશકા વીતી ગયા.વિકાસનો દિકરો જ્ઞાન પણ બારમા ધોરણમાં પહોંચી ગયો હતો એ વખતે ના બનવાનું બની ગયું.અકસ્માતમાં વિકાસે જીવ ગુમાવ્યો.કરમણભાઈ અને હીરાબેન ભાગી પડ્યાં.ગમે તેવો તોય પેટનો જણ્યો હતો.આમેય બન્ને પાંસઠની ઉંમરે તો પહોંચી ચુક્યાં હતાં.
આવી પરિસ્થિતિમાંય લોકલાજે જેમ તેમ સવા મહિનાનો ઘરનો ખુણો પાળીને જ્ઞાનને લઇ વૈભવી અમદાવાદ ચાલી ગઈ.ઘરનો ફ્લેટ લીધો હતો એય વિકાસ વગર ખાવા ધાતો હોય તેવું લાગતું હતું એટલે જ તો વૈભવીએ એનાં ભાઈ ભાભીને ત્યાં બોલાવી લીધાં.ભાઈ ભાભીએ વિકાસની વિમા પોલીસીઓની રકમ ધંધામાં રોકાણને બહાને સેરવી લીધી.અને કામ પુરૂ થતાં જ માતાપિતાની સેવાનું કારણ આગળ કરીને એમના ઘેર જતાં રહ્યાં.વૈભવીના બીજા ભાઈએ તો એના પહેલાં જ વૈભવીને ફોસલાવી ફોસલાવીને ટૂચક ટૂચક પંદરેક લાખ તો પડાવી જ લીધા હતા.વૈભવીના માતા-પિતા તો અશક્ત બનીને બે દિકરાઓને સહારે જેમ તેમ જીવી રહ્યાં હતાં.
જ્ઞાનનું ધોરણ બારનું સારૂ પરિણામ આવતાં મેડીકલ લાઈન માટે કરીને વૈભવીએ બન્ને ભાઈઓ પાસે રૂપિયાની માંગણી કરી.બન્ને ભાઈઓએ બહાનાં બતાવી ઘસીને ના પાડી દીધી.ઉપરથી શિખામણ આપી કે, ગામડે જઈને તારાં સાસુ સસરા જોડે માંગણી કર. વિકાસકુમાર એકનો એક દિકરો હતા એમનો ને આમેય ચાળીસ વિઘા જેટલી જમીન દબાવીને બેઠા છે.એ બધા ઉપર હક્ક તો તારો જ છે ને! અને તારાં સાસુ સસરા આનાકાની કરે તો અમે વાઘ જેવા બેઠા છીએ.
તમારી સાચી વાત છે મારા ભાઈઓ! આ વાત તો હું ભૂલી જ ગઈ…..
બે દિવસના આંતરિક મનોમંથન પછી વૈભવીએ વિકાસની ડાયરીમાંથી મકાન લે-વેચનો ધંધો કરતા એના મિત્ર મથુરભાઈને ફોન જોડ્યો….
બે કલાકમાં મથુરભાઈ વિકાસને ઘેર આવી પહોંચ્યા.આવીને બોલ્યા, ‘ભાભી, મને આટલો તાબડતોબ બોલાવવાનું કારણ હું સમજી ના શક્યો.મારા લાયક કામકાજ હોય તો બોલો.
‘મથુરભાઈ, બધી જ ઘરવખરી સાથે આ ફ્લેટની કેટલી કિંમત ઉપજે? મહેરબાની કરીને મને આ ફ્લેટ તાત્કાલિક વેચી આપો.’-વૈભવીએ મક્કમ નિર્ણય સાથે મથુરભાઈને કહ્યું.
‘ભાભી! વિકાસભાઈએ મને ખરા સમયે બે વાર આર્થિક મદદ કરેલ છે અને આમેય હું એમને સગા ભાઈ જેવા ગણતો હતો.હું કોઈ પણ દલાલી વગર આ ફ્લેટના પચાસ લાખ રૂપિયા તો અપાવી શકું.’-મથુરભાઈએ ઉચાટભર્યા સ્વરે કહ્યું.
શું, આ કાર્ય આજે જ થઈ શકે? હું બધું જ આપને સવિસ્તર બતાવીશ પરંતુ અત્યારે મને કોઈ પ્રશ્ન ના કરતા ભાઈ!-વૈભવીએ વિનંતીભર્યા સ્વરે કહ્યું.
મથુરભાઈએ બે ત્રણ ઠેકાણે ફોન કરીને અડધા કલાકમાં વૈભવીને જવાબ આપી દીધો, ‘હા ભાભી, એક પાર્ટી અત્યારે જ ફ્લેટ લેવા તૈયાર છે અને હાલ જ અહીં આવે છે.
બપોરના ત્રણ વાગ્યા સુધી તો ફ્લેટનો સોદો પતી ગયો.પચાસ લાખ રોકડ પણ મળી ગઈ.આ બધું વિહવળ નજરે જ્ઞાન જોઈ રહ્યો હતો છતાંય મમ્મીને પુછવાની એની હિંમત ના ચાલી.મા દિકરો સવારનાં ભુખ્યાં હતાં.રસોઈમાં તો મન જ નહોતું એટલે સાડા ત્રણે થોડો નાસ્તો કરીને બન્નેએ બે ત્રણ કપડાં લતાંના થેલા અને લગ્ન પ્રસંગના ફોટાની એક સુટકેશ લીધી.જે કંઈ દરદાગીના હતા એ તો બેંક લોકરમાં હતા.દિવાલે ટીંગાવેલ વિકાસની તસવીર પણ ઉતારીને સુટકેશમાં મુકી.બધું પેક થયા પછી મથુરભાઈએ આપેલ નંબર પર ફોન કરતાં ફ્લેટ લેનાર વ્યક્તિ આવી પહોંચ્યો.
ચાવી આપીને વૈભવીએ જ્ઞાનને રીક્ષા લેવા માટે મોકલ્યો.રીક્ષા આવતાં જ પેક કરેલ બધા સરસામાન સાથે વૈભવી અને જ્ઞાન રીક્ષામાં ગોઠવાયાં.ફલેટ ખરીદનાર વ્યક્તિએ વૈભવીને કહ્યું, ‘બહેન! આપની કોઈ ચીજ વસ્તુ લેવાની રહી ગઈ હોય તો ગમે ત્યારે આવીને લઈ જજો.’
‘હા ભાઈ! એ તો બરાબર છે પરંતુ ટીવી, વોશિંગ મશીન બાબતે કોઈ તકલીફ પડે તો જરુર ફોન કરજો.’
હાઈ વે પર આવીને એક ટેક્સી ભાડે કરીને વૈભવી ગામનું નામ બોલી ત્યારે જ્ઞાનને ખબર પડી કે પપ્પાના વતન જવાનું છે.રસ્તામાં વૈભવીએ વારાફરતી અેના બન્ને ભાઈઓને ફોન કરીને તાત્કાલિક ગામડે આવવાનું જણાવ્યું.
ટેક્સી કરમણભાઈના ઘરને દરવાજે આવીને ઉભી રહી.હીરાબેન તો જમવાનું બનાવી રહ્યાં હતાં પરંતુ કરમણભાઈ ટેક્સીનો અવાજ સાંભળીને બહાર આવ્યા.પૌત્ર અને પુત્રવધૂને ટેક્સીમાંથી સરસામાન ઉતારતાં જોયાં.
‘અરે બેટા જ્ઞાન! મારો દિકરો! અરે! આમ ફોન બીજો કર્યા વગર અચાનક?’ આટલું બોલીને કરમણભાઈએ સાદ કર્યો, ‘એ સીતાની મા, બાર આવ તો જરા!
હીરાબેન ઝડપથી બહાર આવ્યાં.સરસામાન ટેક્સીમાંથી ઉતરી ગયો હતો.વૈભવીએ ભાડું ચુકવીને ટેક્સીવાળાને રવાના કર્યો.
હીરાબેન કંઈ બોલે એના પહેલાં તો વૈભવીએ જ્ઞાનને દાદા દાદીને વંદન કરવાનું કહીને એ ખુદ સાસુ હીરાબેનને ભેટી પડી.જ્ઞાન હતાશ ના થાય એ માટે પુરા ત્રણ દિવસથી દબાવી રાખેલ વેદના આંસુઓ સાથે છલકાઈ ઉઠી.
કરમણભાઈએ હીરાબેનને કહ્યું,’વઉને તમે ઘરમાં લઈ જાઓ.હું અને જ્ઞાન આ સરસામાન અંદર લાવીએ.’
વૈભવીનાં ડૂસકાં સમતાં નહોતાં.એ ડૂસકાં ભરી ભરીને બોલ્યે જતી હતી,’મા! મેં આ પરિવારને છેતર્યો છે, બાપુજી! મેં આ પરિવાર સાથે વિશ્વાસઘાત કર્યો છે.મેં તમારા વહાલસોયા દિકરાને તમારાથી કાયમ અળગા રાખ્યા હતા .મેં મારાં માબાપ અને ભાઈઓની ચડામણીથી આ પરિવારને વેર વિખેર કર્યો છે.આજે હું એના પશ્ચાતાપ માટે મકાન વેચીને કાયમ માટે તમારી સેવા કરવા તમારી પાસે આવી છું.મને માફ કરો.
વેદનાનાં સાચાં આંસુ પારખતાં કરમણભાઈ અને હીરાબેનને વાર ના લાગી.હીરાબેને છાતી સરસી ચાંપીને મહામહેનતે વૈભવી વહુને શાંત કરી.કરમણભાઈએ જ્ઞાનને પાસે બેસાડીને માથે હાથ ફેરવી શાંત કર્યો.ચા પાણી થયાં.જમવાનું બની ગયેલ હતું એટલે ચારેય જણ જમવા બેઠાં.બાજરીના રોટલા આજે વૈભવીને મીઠાઈ જેવા લાગતા હતા.
જમ્યા પછી વૈભવીએ રૂપિયાવાળી બેગ કરમણભાઈને બતાવીને કહ્યું, ‘બાપુજી એને સાચવીને મૂકી દો. હમણાં જ મારા બન્ને ભાઈ આવી રહ્યા છે.વીસ વીસ વરસથી ઘણા બધા રૂપિયા એમને આપી ચૂકી છું.તમારા દિકરાના વીમાના પૈસા પણ એ ખાઈ ગયા છે.આજે એમને બરાબરનો પાઠ ભણાવીને કાયમ માટે અલવિદા કરી દઈશ.સમાજમાં એક દાખલો બેસાડીશ.’
બેગ મુકીને કરમણભાઈ વૈભવી પાસે આવીને બોલ્યા, ‘બેટા! ગમે તેવા તોય તમારા ભાઈઓ છે.એમની સાથે અપમાનજનક વર્તન આપણાથી ના કરાય.તમારુ મન ના માને તો હવે એમના ઘેર ના જતાં.’
થોડીવારમાં વૈભવીના બન્ને ભાઈઓ આવી પહોંચ્યા.કરમણભાઈ સચેત હતા જ છતાંય એ દોડીને વચ્ચે પડે એના પહેલાં તો વૈભવીએ અચાનક દોડીને બન્ને ભાઈઓને ગાલ પર એક એક તમાચો ઝીંકી દીધો અને કહેવા લાગી, ‘વીસ વીસ વરસથી મને લુટી તોય તમારૂ પેટ ના ભરાયું તે હવે મારાં મા બાપુજીની મિલ્કતને લુટવા માટે મને ચડાવી હતી? એક એક તમાચા સાથે તમારી સાથેના સંબંધોને પણ આજે તમાચો મારી દીધો છે.અત્યારે જ જેમ આવ્યા છો એમ ચાલ્યા જાઓ….
બાપુજી! આ માણસોને તમે એક મિનિટેય અહીં ઉભા રહેવા દો તો તમને તમારા સ્વર્ગસ્થ દિકરાના સોગંદ છે. ‘
સમય સંજોગ પારખીને બન્ને ભાઈઓ વીલા મોંઢે આપમેળે નિકળી ગયા.
ભાઈઓ બહાર નિકળતાં જ વૈભવી દોડતી આવીને કરમણભાઈના ખોળામાં માથું નાખીને રડતાં રડતાં કહેવા લાગી,’બાપુજી તમારા દિકરાને તો પાછા લાવી શકું તેમ નથી પરંતુ એમના અંશ અને તમારા પૌત્ર જ્ઞાનને અદલ એમના જેવો બનાવવાનો પ્રયત્ન કરીશ.
કાળરૂપી સમયચક્ર ફરતું રહ્યું.કરમણભાઈ અને હીરાબેન ફાની દુનિયા છોડીને જતાં રહ્યાં.જ્ઞાન ડોક્ટર બની ગયો ને વ્હાલાં સીતાફોઈના દિકરાને પણ એ લાઈને ચડાવ્યો.સીતા અને વૈભવી આજે આધેડ ઉેમરે નણંદ ભોજાઈ કરતાં બહેનપણીઓ જેવી વધારે લાગે છે.

સીતાની સમજાવટથી વૈભવી એનાં માબાપના મોત વખતે જરૂર ગઈ હતી પરંતુ એક એક દિવસ રોકાઈને પરત આવી ગઈ હતી.ભાઈઓ સાથે ફાડેલ છેડો તો એમજ રહ્યો છે….. .

લેખન-નટવરભાઈ રાવળદેવ થરા.
પ્રાથમિક શિક્ષક

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

मोटी-

चंचल का दिल आज फिर टूट गया था , टूटे भी क्यों न आखिर तीसरी बार उसको लड़के वालो ने इसलिये नापसन्द कर दिया था की वह थोड़ी ज्यादा ‘ मोटी’ है ।
वह उदास सी अपने कमरे बैठी खिड़की से बाहर झाँक रही थी उसे रह रह के याद आ रहा था की क्या क्या नहीं किया था उसने पतली होने के लिए ।

घी चिकनाई युक्त और बाजार का खाना तो बिलकुल बंद कर दिया था यंहा तक की बचपन से सबसे पसन्दीदा गर्म गर्म समोसे को खाना तो अलग उसे देखना तक बन्द कर दिया था ।सुबह खाली पेट नीबू पानी,शहद भी पिया , पूरे पूरे दिन भूखी रही केवल सलाद खाया पर रत्ती भर फर्क न पड़ा ।

हाँ, उसे वह भी याद है जब टीवी में सोना बैल्ट का विज्ञापन देख के उसके पिता जी उसके लिए बैल्ट खरीद लाये थे,
टीवी में कैसे दिखाते हैं मोटी लड़की ने बैल्ट पहना और पतली हो गई ।
एक अंग्रेज मुंह बना बना हिंदी में बोलता है “पहले मैं बहुत मोटा था… मुझ्र सब लोग मोटा बोल के चिढ़ाते थे … फिर मैंने सोना बैल्ट इस्तेमाल किया और मैं एक दम से पतला हो गया”

पर हाय रे! बैल्ट भी काम न आई ,बैल्ट खुद ढीली हो गई पर कमर कम न हुई ।चंचल का जी में आया की ऐसी फ्रॉड विज्ञापन बेचने वालो के खिलाफ कंज्यूमर कोर्ट में शिकायत करे।उस मुंह बना के हिंदी बोलने वाले अंग्रेज का मुंह नोच ले ,पर आह भर के चुप रही ।

सुबह उठ के टीवी में आने वाला योगा का प्रोग्राम देख के कमर हिलाई , सर के बल पर खड़ा होने की कोशिश की तो ऐसी गिरी की बस मत पूछो कम से कम 10 दिन गर्दन में मोच रही तब से योगा का चैनल देखना ही छोड़ दिया।

चंचल बैड से उठी और सूनी और खामोश आँखों से खिड़की के नीचे झांकने लगी , बाहर लोग आ जा रहे थे ।पतली पतली सुंदर लड़कियो आते जाते देख चंचल की आँखों में आंसू आ गए ।कितना मन होता था उसका भी जीरो फिगर वाली पतली लड़कियो की तरह स्लिम जीन्स और स्लीवलैस टॉप पहनने का पर … पर ..आह! थुलथुली बांह और थाई साफ़ पता चलती ,कितनी शर्म लगती थी उसे खुद पर … बिलकुल पहलवान सी लगती ।

और हाँ! वह मामा के लड़के की शादी कैसे भूल सकती है , मामा की लड़की अंजली ,हूँ .. अंजली ! जाने क्या समझती है अपने को पतली छिपकली सी! आई बड़ी जीरो फिगर वाली ….खुद को विपासा बासु समझती है ।अंजली का स्मरण करते ही चंचल के ह्रदय में ईर्ष्या और जलन का ज्वारभांटा उमड़ने लगा ।

मामा के लड़के की शादी में अंजली ने साडी पहनी थी और उस पर बैकलेस ब्लाउज , पतली कमर पर स्टोन की फेशनेबल तगड़ी …. कमीनी ! चंचल ने मन ही मन फिर कोसा अंजली को … हूँ ! बेवकूफ लड़के …लट्टू हो रहे थे उस पर।

चंचल ने भी साडी बाँधी थी पर कमर और पेट का पता ही नहीं चल रह था ,उपर से पेट का मांस दोहरा होके लटक गया था ।चंचल कमर क्या दिखाती उसे तो शर्म के कारण पेट को भी साड़ी से ढंकना पड़ा था ।तगड़ी भी न दिखा पाई थी किसी को ,बाद में गुस्से में आके तगड़ी उतार के फेंक दी थी ।

अंजली सुबह फेरो तक बार बार चंचल के आस पास ही मंडराती रही और बात बात पर खिल खिला के हंसती रही जैसे चंचल पर ही हंसी के व्यंग वाण चला रही हो ।चंचल कितने ही खून के घूंट पी के रह गई थी ।

चंचल को वह दिन भी याद आया जब पापा ने उसे दौड़ लगाने के लिए कहा था ।पापा उसके लिए स्पोर्ट शू भी ले आये थे , चंचल ने सुबह 5 बजे उठ के दौड़ना भी शुरू कर दिया था ।

चार -पांच दिन तक तो सब ठीक रहा पर एक बार सुबह के तकरीबन पांच बजे होंगे चंचल सड़क पर दौड़ लगा रही थी , एक जगह स्ट्रीट लाइट नही होने के कारण अँधेरा था ।
अचानक चंचल का पैर एक सो रहे कुते पर पड़ गया ,फिर क्या था कुते ने चंचल को दौड़ा दौड़ा के काटा । किसी तरह लोगो ने सहारा दे के चंचल को घर तक पहुँचाया था , कुत्ते ने गुस्से में चंचल के जूते तक फाड़ दिए थे ।
पुरे 14 इंजेक्शन लगाये थे डॉक्टर ने और कितने ही दिन तक बिस्तर पर लेटा रहना पड़ा था उसे , तब से दौड़ लगाने के नाम से भी काँप जाती है चंचल ।

चंचल इन्ही सब यादो में खोई हुई थी की उसे पता ही न चला की कब उसकी मम्मी उसके पीछे आके के खड़ी हो गईं थी ।जब उन्होंने चंचल के कंधे पर हाथ रखा तो चंचल चौंकते हुए बोली –
” मम्मी आप!” चंचल ने त्वरित अपनी नम आँखों को पोछते हुये कहा

चंचल की माँ ने उसका सर पर हाथ फेरते हुए अपने सीने से लगा लिया और पुचकारते हुए बोलीं-
” दुखी मत हो मेरी बच्ची … तू बहुत सुंदर है ! कौन कहता है की तू मोटी है ? जो कहते हैं वे बकवास करते हैं “
माँ की बाते सुन चंचल उनके गले से लिपट गई , दो आंसू की बुँदे उसके गालो पर लुडक गएँ ।

कुछ दिन बाद ।

बस खचा खच भरी हुई थी , जितने लोग सीट्स पर बैठे थे उससे अधिक खड़े थे ।चंचल को सीट नहीं मिली थी जिस कारण वह कानो में हैड फोन लगाये सीट के सहारे खड़ी हुई भीड़ से बेखबर गाने सुन रही थी ।
उससे थोड़ी ही दूर पर दो लड़कियां भी खड़ी थीं पतली और खूबसूरत , चंचल की नज़र बरबस ही कभी कभी उन पर पड़ जाती तो तुरंत ही नजरे हटा लेती ।जैसे उन लड़कियों का पतला होना चंचल के मोटापे को जीभ चिढ़ा रहा हो ।
बस एक स्टेण्ड पर रुकी तो बहुत सी सवारियां और चढ़ गईं , चंचल सीट्स के बगल में खड़ी गाने सुनने में अब भी मगन थी ।

कुछ देर बाद उस की नजर अचानक उन पतली लड़कियो पर पड़ी तो देखा की लडकिया चुप हैं और परेशान सी लग रही है ।चंचल ने गौर से देखा तो दो लड़के उन लड़कियो के पीछे खड़े थे जो बार बार उन लड़कियो से जानबुझ के टकरा रहे थे ।लडकिया जितना हटती लड़के उतना ही उनसे अपना आगे का शरीर स्पर्श कर देते ।
चंचल सारा माजरा समझ गई थी की लड़के उन लड़कियो के साथ छेड़ छाड़ कर रहे थे और लड़कियां उनकी हरकतों से विचलित हैं।

चंचल ने आस पास देखा तो बस में कई लोग उन लड़को की गन्दी हरकते देख रहे थे पर सब देख के अनदेखा सा कर दे रहें है , जैसे किसी को कोई मतलब ही न हो ।
चंचल ने लोगो का उपेक्षित व्यवहार देखा तो उसे बड़ा बुरा सा लगा , पर फिर उसने सोचा की जब कोई नहीं बोल रहा है तो उसे भी क्या गरज पड़ी है ? यह सोच वह फिर गाने सुनने में व्यस्त हो गई ।

किन्तु उसकी नजरे उन लड़को की हरकतों पर गड़ी रही , कुछ क्षण बाद उसने देखा की एक लड़के जिसने नीली सी शर्ट पहन रखी थी उसने एक लड़की के नितम्बो को जोर से दबा दिया ।लड़की ने चीखने के साथ जोरदार तमाचा नीली शर्ट वाले लड़के के गालो पर जड़ दिया ।

चांटा पड़ते ही कुछ पल के लिए दोनों लड़के सकपका गए पर अगले ही क्षण नीली शर्ट वाले ने भी लड़की को भद्दी सी गाली देते हुए चांटा मारा ।दूसरे लड़के ने तुरंत मुंह से सर्जिकल ब्लेड निकाल लिया और दोनों उंगलियो में फंसा के चेतावनी भरे लहजे में बोला- साला!कोई बीच में आया तो गाल पर भारत का नक्शा खीच दूंगा “

बस के सभी यात्री सहम से गए , बस में अधिकतर रोज के ही पैसेंजर थे और वे इन जेबकतरो को पहचानते थे की कितने खतरनाक हैं ये लोग पूरा गैंग था इनका ।कई महीने पहले कंडक्टर ने रोका था इन्हें एक की जेब काटते हुए , बाद में कंडक्टर को चाक़ू मार दिया था भरी बस में इन लोगो ने तब से कोई विरोध नहीं करता था इनका ।

नीली शर्ट वाले की लड़की के साथ अभद्रता बढ़ गई , फिर उन्होंने लड़कियो का हैंडबैग छीना और निकास द्वार की तरफ भागने लगे ।पीछे लडकियाँ चीख रहीं थी ।

वे चंचल के पास से गुजरे , चंचल ने बिजली सी तीव्रता से नीली शर्ट वाले लड़के का कालर पकड़ लिया और पूरी ताकत से थप्पड़ मारा । थप्पड़ इतना तेज था की नीली शर्ट वाले के कान से तेज खून की धार निकली ।उसके मुंह से चीख तक न निकली और धड़ाम से बस की फ्लोर पर चित्त गिर गया ।
किसी को समझ ही नहीं आया की आखिर हुआ क्या ,बस तेज ध्वनि सुनाई दी थी चांटे की ।

ब्लेड वाला लड़का नीली शर्ट वाले के आगे था , जब उसने मुड़ के देखा तो उसका साथी नीली शर्ट वाला बस के फ्लोर पर चित्त पड़ा हुआ था था ।वह हतप्रभ कुछ क्षण के लिये जड़ खड़ा रहा ,शायद उसे यकीं न हो रहा था की एक लड़की उसके साथी का सिर्फ एक थप्पड़ में यह हाल कर सकती है ।
फिर उसे अपनी उंगलियो के बीच फंसे ब्लेड का ध्यान आया और उसने गाली देते हुए चंचल पर ब्लेड चला दिया ।
जेबकतरे की उंगलियो में फंसे सर्जिकल ब्लेड के बारे में चंचल को ज्ञात था अतः उसने उसकी उंगलियो से बचते हुए कलाई पकड़ ली ।

चंचल ने जेबकतरे की कलाई पकड़ के कलाइ पर पूरा जोर लगा दिया ।
“कटाक” की आवाज करते हुए जेबकतरे की कलाई ऐसे टूट गई जैसे किसी ने झाड़ू की सींक को बीच में से तोड़ दिया हो ।असहनीय दर्द के कारण जेबकतरा ऐसे कर्दन कर उठा जैसे हलाल करते वक्त कोई बकरा ।

अब जैसे लोगो में भी हिम्मत आ गई उन्होंने जेबकतरो को पकड़ लिया, ड्राइवर ने बस सीधा थाने पर जा खड़ी कर दी , सभी लोग चंचल के साहस की भूरी भूरी प्रशंसा कर रहे थे ।

अगले दिन सुबह अखबार में चंचल की फोटो के साथ उसके साहस की कहानी छपी हुई थी ।
चंचल ने अख़बार पर नजर डाली तो मुस्कुरा दी , जैसे आज उसे अपने मोटापे से कोई शिकायत न थी ।

बस यंही तक थी कहानी…..

-संजय

Posted in भारतीय मंदिर - Bharatiya Mandir

इस तस्वीर में नजर आने वाली इमारत को अधिकांश लोग #ताजमहल के नाम से जानते हैं। और इसमें मुख्य सफेद इमारत के दौनों तरफ लाल पत्थरों से बनीं 2 छोटी इमारतों को मस्जिद कहते हैं।

पर सत्य तो ये है कि ना तो ये सफेद इमारत कोई #कब्रगाह (ताजमहल) है और ना हीं ये 2 मस्जिदें हैं… बल्कि इस तस्वीर में दिखने वाली सफेद इमारत के बायें तरफ की इमारत ही मस्जिद है। दायें तरफ वाली इमारत को मेहमानखाना कहा जाता है।

यहां गौर करने वाली बात निम्न हैं :

1▪ मस्जिद में नमाज़ अता करते समय नमाजी का मुहं ठीक पश्चिम दिशा की ओर होता है, जबकि pस्लाम के मुताबिक नमाजी का मुहं ठीक काबा की तरफ होना चाहिये, और काबा इस इमारत के “उत्तर पश्चिम” में है — ना कि ठीक पश्चिम में, इससे नमाजी का मुहं काबा की तरफ नहीं बल्कि अफ्रीका के केन्या या घाना की तरफ होता है।

2▪ दूसरी (दाहिनी) तरफ की इमारत को #मेहमानखाना कहा जाता है और बताया जाता है कि इसका प्रयोग इस प्रांगण में आने वाले मेहमानों को ठहराने के लिये होता था। अब ये तो जाहिर है कि इस इमारत में शाही मेहमानों के अलावा तो किसी और को ठहराया नहीं जाता होगा, भला शाही इमारत में किसी और की क्या औकात जो आकर रुके? और भला किसी कब्र के पास कोई मेहमान क्यों रुकेगा? जबकि थोड़ी सी ही दूरी पर लाल किला है। जिस किले में 500 से ज्यादा महल हों, और पूरा शाही कुनबा रहता हो, उससे दूर आकर कब्रिस्तान में कोई मेहमान भला क्यों रुकेगा ?

3▪ पॉइंट नंबर 1 में जिस मस्जिद पर बात हुई है अगर आप गौर से देखें तो वो, बादशाह खुर्रम और बेगम अर्जुंमंद की कब्रों से करीब 20 फीट नीचे है, लगभग 2 मंजिल नीचे। क्या pस्लाम में अल्लाह के घर (मस्जिद) से ऊपर किसी और को जगह दी जा सकती है? क्या वाकई ये संभव है कि खुर्रम की शैतानी औलाद औरंगजेब, जो कट्टर pस्लामी था, जिसके लिये pस्लाम से ऊपर कुछ नहीं था, जिसनें अपने बाप को 8 साल पानी तक के लिये तड़पा दिया था, कैद करके सत्ता हथिया ली थी, अपने उसी बाप को किसी मस्जिद से 20 फीट ऊपर जगह दे ?

4 ▪सफेद इमारत के सफेद चबूतरे से पहले और सामनें और लाल रंग के मुख्य दरवाजे के बीच, जो बगीचा है, उसके ठीक बीच के दौनों तरफ 2 और इमारतें हैं। इनमें से एक में वर्तमान में म्यूजियम बनाया हुआ है और एक में कुछ प्रशासनिक कार्यालय। दस्तावेजों में इनको #नक्कारखाना और #आरामघर बताया गया है। अब आप ही सोचिये, नक्कारखाना – अर्थात वो जगह जहाँ ढोल और नगाड़े बजाये जाते हों, और आरामघर अर्थात जहां आप आराम कर सकते हों, की किसी कब्रिस्तान में क्या जगह ? क्या कब्रों पर ढोल, नगाड़े, शहनाई बजाई जाती है कहीं? जब मेहमानखाना बनाया हुआ है तो आरामघर अलग से किसके लिये बनाया गया होगा?

5▪ दुनिया के किसी भी अन्य मकबरे को गौर से देखियेगा कभी, कब्रें हमेशा बीच में मिलेंगी और बगीचे उनके चारों तरफ। आगरा में ही एत्माद्दौला, सिकंदरा को देख लीजिये, दिल्ली में हुमायूं का मकबरा देख लीजिये या कोई भी अन्य मकबरा, सभी कब्रें बीच में और बगीचे चारों तरफ ही मिलेंगे। जबकि यहां ? मुख्य मकबरा एक सिरे के ठीक बीच में, और बगीचा उसके ठीक सामनें जैसे कि दरबार में राजा की सीट और बाकी खुला दरबार।

6▪ वर्तमान में जो 3 प्रवेष द्वार हैं, वो तीनों जिस चौक में आकर खुलते हैं, उसके चारों तरफ़ छोटी-छोटी दुकानें जैसी बनी हैं। गाईड उनको हाथी और घोड़ों की पार्किंग बताते हैं पर ग्राउंड लेवल से उनकी उंचाई और आकार देखने से साफ पता चलता है कि ये हाथी-घोड़ों-गधों-खच्चरों-बैलों इत्यादि की पार्किंग नहीं हो सकती। ये बिल्कुल दुकानों या कार्यालयों जैसा है।

उक्त सभी पॉइंट बताते हैं कि ये भवन-प्रांगण – pस्लामी नहीं है। पॉइंट 1 और 2 में जिस मस्जिद और मेहमानखाना का जिक्र किया है मैनें वो असल में किसी भी अन्य शिव मंदिर की भांति, अन्य देवों के मंदिर थे। इनमें मुख्य रूप से श्री लक्ष्मीनारायण, श्री राधाकृष्ण और श्रीराम-जानकी के मंदिर थे।

नक्कार खाना और आरामघर असल में वही थे जो आज बताये जाते हैं। नक्कार खाने मेँ सदैव आरती के समय ढोल नगाड़े बजते रहते थे और भगवान की स्तुती, भजन होते रहते थे। आरामघर, मंदिर के पुजारियों, सेवकों इत्यादी के लिये रहने, भोजन करने की जगह और भक्तों के लिये प्रसाद तैय्यार करने की रसोई थी।

घोड़ों, हाथियों और अन्य जानवरों की पार्किंग असल में पूजा की सामग्री सहित अन्य वस्तुओं के विक्रय हेतू दुकानें थीं।

और सबसे मुख्य इमारत – मेरे महादेव का भव्य – विशाल, हिम की भांति श्वेत — #तेजोमहालय था।

विश्व के किसी भी पुराने शिव मंदिरर का प्रांगण देखीए, उसका नक्शा और इस प्रांगण का नक्शा एक दम समान मिलेगा आपको। दक्षिणी भारत के किसी भी मंदिर का नक्शा अभी गूगल कीजिये, वृहदेश्वर मंदिर हो, मदुरै मीनाक्षी मंदिर हो या अन्य कोई शिव मंदिर, चाहे कम्बोडिया स्थित अंगकोर वाट (विश्व के सबसे बड़े हिंदू मंदिर) का नक्शा देखिये, आपको तेजोमहालय का नक्शा भी एक दम वही मिलेगा।

आज बताया जाता है कि मुख्य सफेद इमारत मेँ खुर्रम और अर्जुमंद की 2 -2 कब्रें हैं। ऊपर की मंजिल मेँ नकली और ठीक नीचे की मंजिल पर हू-ब- हू असली। अब भला आप ही बताइए कि किसी भी मकबरे में 1 ही मुर्दे की 2 कब्रें देखी हैं कभी ? असल में इस इमारत में गुंबद के ठीक बीचोंबीच महादेव की पिन्डी स्थित है, जिसके चारों ओर शिव परिवार स्थापित था। पहले खुर्रम और बाद में औरंगजेब नें पिण्डी को ढकने के लिये कब्र के आकार में पैक कर दिया और अन्य प्रतिमाओं को हटा के नीचे की अन्य मंजिलों में (मुख्य सफेद इमारत 6 मंजिला है) रखवा के बंद कर दिया है। खुर्रम की कब्र, पिण्डी से एक मंजिल ऊपर एक नया प्लेटफॉर्म बना के इस पर बनवाई गई है।

इसके अलावा भी अनेकों ऐसे भौतिक साक्ष्य आज भी वहां जीवित हैं जो इस प्रांगण को ताजमहल नहीं अपितु तेजोमहालय होने की बात को सत्यापित करते हैं।

आर्यावर्तकाअघोर_अतीत

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

समय बड़ा बलवान:


एक बार अमेरिका में कैलीफोर्निया की सड़कों के किनारे पेशाब करते हुए देख एक बुजुर्ग आदमी को पुलिसवाले पकड़ कर उनके घर लाए और उन्हें उनकी पत्नी के हवाले करते हुए निर्देश दिया कि वो उस शक़्स का बेहतरीन ढंग से ख़याल रखें औऱ उन्हें घर से बाहर न निकलने दें ।

दरअसल वो बुजुर्ग बिना बताए कहीं भी औऱ किसी भी वक़्त घर से बाहर निकल जाते थे और ख़ुद को भी नहीं पहचान पाते थे ।

बुजुर्ग की पत्नी ने पुलिस वालों को शुक्रिया कहा और अपने पति को प्यार से संभालते हुए कमरे के भीतर ले गईं।

पत्नी उन्हें बार बार समझाती रहीं कि तुम्हें अपना ख्याल रखना चाहिए। ऐसे बिना बताए बाहर नहीं निकल जाना चाहिए। तुम अब बुजुर्ग हो गए हो, साथ ही तुम्हें अपने गौरवशाली इतिहास को याद करने की भी कोशिश करनी चाहिए। तुम्हें ऐसी हरकत नहीं करनी चाहिए जिससे शर्मिंदगी महसूस हो ।

जिस बुजुर्ग को पुलिस बीच सड़क से पकड़ कर उन्हें उनके घर ले गई थी, वो किसी ज़माने में अमेरिका के जाने-माने फिल्मी हस्ती थे। लोग उनकी एक झलक पाने के लिए तरसते थे। उनकी लोकप्रियता का आलम ये था कि उसी के दम पर वो राजनीति में पहुंचे और दुनिया के सबसे शक्तिशाली व्यक्ति बनकर उभरे तथा एकदिन वो अमेरिका के राष्ट्रपति बने। नाम था रोनाल्ड रीगन।

1980 में रीगन अमेरिका के राष्ट्रपति बने और पूरे आठ साल दुनिया के सबसे शक्तिशाली व्यक्ति रहे। राष्ट्रपति रहते हुए उन पर गोली भी चली। कई दिनों तक अस्पताल में रहने के बाद जब वो दोबारा व्हाइट हाऊस पहुंचे तो उनकी लोकप्रियता दुगुनी हो चुकी थी। रीगन अपने समय में अमेरिका के सबसे लोकप्रिय नामों में से एक थे।

राष्ट्रपति पद से हटने के बाद जब वो अपनी निज़ी नागरिकता में लौटे तो कुछ दिनों तक सब ठीक रहा। पर कुछ दिनों बाद उन्हें अल्जाइमर की शिकायत हुई और धीरे-धीरे वो अपनी याददाश्त खो बैठे।

शरीर था। यादें नहीं थीं। वो भूल गए कि एक समय था जब लोग उनकी एक झलक को तरसते थे। वो भूल गए कि उनकी सुरक्षा दुनिया की सबसे बड़ी चिंता थी। रिटायरमेंट के बाद वो सब भूल गए। पर अमेरिका की घटना थी तो बात सबके सामने आ गई कि कभी दुनिया पर राज करने वाला ये शख्स जब यादों से निकल गया तो वो नहीं रहा, जो था। मतलब उसका जीवन होते हुए भी खत्म हो गया था।

ताकतवर से ताकतवर चीज़ की भी एक एक्सपायरी डेट होती है । इसलिए जीवन में कभी किसी चीज़ का अहंकार हो जाए तो श्मशान का एक चक्कर जरुर लगा आना चाहिए , वहाँ एक से बढ़कर एक बेहतरीन शख्सियत राख बने पड़े हैं ।

अहंकार व्यर्थ है चाहे वो सत्ता का हो,धन का हो या फ़िर अपने बाहुबल का।

🙏🏻🌹जय श्री जिनेन्द्र 🌹🙏

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

पाप/पुण्य और भगवान

एक सेठ बस से उतरे,उनके पास कुछ सामान था।आस-पास नजर दौडाई,तो उन्हें एक मजदूर दिखाई दिया ।

सेठ ने आवाज देकर उसे बुलाकर कहा-“अमुक स्थान तक इस सामान को ले जाने के कितने पैसे लोगे?’
‘आपकी मर्जी,जो देना हो,दे देना,लेकिन मेरी शर्त है कि जब मैं सामान लेकर चलूँ,तो रास्ते में या तो मेरी सुनना या आप सुनाना ।
सेठ ने डाँट कर उसे भगा दिया और किसी अन्य मजदूर को देखने लगे,लेकिन आज वैसा ही हुआ जैसे राम वन गमन के समय गंगा के किनारे केवल केवट की ही नाव थी।

मजबूरी में सेठ ने उसी मजदूर को बुलाया।मजदूर दौड़कर आया और बोला -“मेरी शर्त आपको मंजूर है?”

सेठ ने स्वार्थ के कारण हाँ कर दी।
सेठ का मकान लगभग ५००मीटर की दूरी पर था।मजदूर सामान उठा कर सेठ के साथ चल दिया और बोला.सेठजी आप कुछ सुनाओगे या मैं सुनाऊँ। सेठ ने कह दिया कि तू ही सुना।

मजदूर ने खुशहोकर कहा-‘जो कुछ मैं बोलू,उसे ध्यान से सुनना ,यह कहते हुए मजदूर पूरे रास्ते बोलता गया ।और दोनों मकान तक पहुँच गये।

मजदूर ने बरामदे में सामान रख दिया ,सेठ ने जो पैसे दिये,ले लिये और सेठ से बोला!सेठजी मेरी बात आपने ध्यान से सुनी या नहीं ।
सेठ ने कहा,मैने तेरी बात नहीं सुनी,मुझे तो अपना काम निकालना था।
मजदूर बोला-” सेठजी! आपने जीवन की बहुत बड़ी गलती कर दी,कल ठीक सात बजे आपकी मौत होने वाली है”।

सेठ को गुस्सा आया और बोले:तेरी बकवास बहुत सुन ली,जा रहा है या तेरी पिटाई करूँ:
मजदूर बोला:मारो या छोड दो,कल शाम को आपकी मौत होनी है,अब भी मेरी बात ध्यान से सुन लो ।
अब सेठ थोड़ा गम्भीर हुआ और बोला: सभी को मरना है,अगर मेरी मौत कल शाम होनी है तो होगी ,इसमें मैं क्या कर सकता हूं । मजदूर बोला: तभी तो कह रहा हूं कि अब भी मेरी बात ध्यान से सुन लो।सेठ बोला:सुना,ध्यान देकर सुनूंगा ।

मरने के बाद आप ऊपर जाओगे तो आपसे यह पूछा जायेगा कि “हे मनुष्य ! पहले पाप का फल भोगेगा या पुण्य का”क्योंकि मनुष्य अपने जीवन में पाप-पुण्य दोनों ही करता है,तो आप कह देना कि पाप का फल भुगतने को तैयार हूं लेकिन पुण्य का फल आँखों से देखना चाहता हूं ।
इतना कहकर

मजदूर चला गया ।दूसरे दिन ठीक सात बजे सेठ की मौत हो गयी।सेठ ऊपर पहुँचा तो यमराज ने मजदूर द्वारा बताया गया प्रश्न कर दिया कि ‘पहले पाप का फल भोगना चाहता है कि पुण्य का’ ।सेठ ने कहा ‘पाप का फल भुगतने को तैयार हूं लेकिन जो भी जीवन में मैंने पुण्य किया हो, उसका फल आंखों से देखना चाहता हूं।

यमराज बोले-” हमारे यहाँ ऐसी कोई व्यवस्था नहीं है,यहाँ तो दोनों के फल भुगतवाए जाते हैं।”
सेठ ने कहा कि फिर मुझसे पूछा क्यों,और पूछा है तो उसे पूरा करो, धरती पर तो अन्याय होते देखा है,पर यहाँ पर भी अन्याय है।
यमराज ने सोचा,बात तो यह सही कह रहा है,इससे पूछकर बड़े बुरे फंसे,मेरे पास कोई ऐसी पावर ही नहीं है,जिससे इस जीव की इच्छा पूरी हो जाय,विवश होकर यमराज उस सेठ को ब्रह्मा जी के पास ले गये , और पूरी बात बता दी

ब्रह्मा जी ने अपनी पोथी निकालकर सारे पन्ने पलट डाले,लेकिन उनको कानून की कोई ऐसी धारा या उपधारा नहीं मिली, जिससे जीव की इच्छा पूरी हो सके।

ब्रह्मा भी विवश होकर यमराज और सेठ को साथ लेकर भगवान के पास पहुचे और समस्या बतायी ।भगवान ने यमराज और ब्रह्मा से कहा:जाइये ,अपना -अपना काम देखिये ,दोनों चले गये।

भगवान ने सेठ से कहा-” अब बोलो,तुम क्या कहना चाहते हो?
सेठ बोला-“अजी साहब, मैं तो शुरू से एक ही बात कह रहा हूं कि पाप का फल भुगतने को तैयार हूं लेकिन पुण्य का फल आँखों से देखना चाहता हूं ।

भगवान बोले-“धन्य है वो सदगुरू(मजदूर )जो तेरे अंतिम समय में भी तेरा कल्याण कर गया ,अरे मूर्ख ! उसके बताये उपाय के कारण तू मेरे सामने खडा है,अपनी आँखों से इससे और बड़ा पुण्य का फल क्या देखना चाहता है। मेरे दर्शन से तेरे सभी पाप भस्मीभूत हो गये।

इसीलिए बचपन से हमको सिखाया जाता है कि,गुरूजनों की बात ध्यान से सुननी चाहिए ,पता नहीं कौन सी बात जीवन में कब काम आ जाए?

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

यजमान- पंडितजी, बेटे ने 10 पास कर ली हैं बताए कौन सा क्षेत्र इसके लिए अच्छा रहेगा

पंडित जी- इसकी पत्रिका मे सी ए बनने के योग हैं इसे सी ए बनाए |
पंडित जी की दक्षिणा 200/ परंतु दक्षिणा केवल 51/रु दी गयी !

सन् 2010 –
यजमान – पंडित जी , आपकी कृपा से बेटा सी ए बन गया हैं आपने बताया भी था ।
अब ज़रा नौकरी के विषय मे भी बता देते !

पंडितजी – इसे आगामी माह मे नौकरी मिल जानी चाहिए बस ये एक छोटा सा उपाय करवा दीजिएगा |
पंडितजी की दक्षिणा -500/परंतु दक्षिणा 101 रु दी गयी ???
अगले माह 30,000 रु प्रति माह की नौकरी भी प्राप्त हो गयी

सन् 2013 –
यजमान- पंडितजी बेटा विवाह नहीं कर रहा हैं ?

पंडितजी – इसकी पत्रिका मे प्रेमविवाह की संभावना हैं संभवत: इसी कारण विवाह करने मे आना कानी कर रहा हो , प्यार से बैठा कर पूछिये कोई लड़की पसंद होगी जिस कारण ऐसा हो रहा हैं |

यजमान- पंडित जी लड़की पसंद बताता तो हैं क्या करे??
पंडित जी- उसी कन्या से उसका विवाह कर दीजिये सही रहेगा,हो सके तो उस कन्या की पत्रिका दिखा दीजिएगा
पंडितजी की दक्षिणा 1001/ परंतु दक्षिणा 200 रु दी गयी |

सन् 2015 –
यजमान- पंडितजी आपकी दया से बेटा 70,000 रु प्रति माह कमा रहा हैं ,
शादी भी हो गयी हैं |
एक बेटी भी हैं ,
बेटा कब होगा यह बताए ???

पंडितजी- इसकी पत्रिका मे गुरु ग्रह का श्राप हैं जिस कारण बेटे का होना मुश्किल जान पड़ता हैं |
यजमान- हैं ऐसा कैसे पंडितजी हमने या हमारे किसी भी बुजुर्ग ने कभी भी किसी ब्राह्मण,विद्वान तथा गुरु का अपमान नहीं किया हैं गुरु ग्रह का श्राप कैसे लग सकता हैं “

पंडितजी – इसके पूर्वजो ने अपने पंडित को कभी भी पंडित के कार्य का दक्षिणा नहीं दिया जिस कारण ऐसा हैं

नहि-नहीं पंडितजी,, आपसे देखने मे ग़लती हो रही हैं |

पंडितजी –सही कह रहे हैं आप….
हमसे देखने मे ही ग़लती हो रही होगी यह बेटा जब 10वी मे था और अब 70,000 रुपये प्रति माह कमा रहा हैं शादी,बच्चा भी हो गया परंतु पंडित जी को अबतक आपने 352 रुपये ही दिये हैं शायद आपके पिता ने भी आपके लिए ऐसा ही किया होगा जिस कारण ऐसा हो रहा हैं |
ये कटु सत्य है पिछले 20 साल में महंगाई कहाँ से कहाँ पहुँच गयी लेकिन नही बढ़ा तो पण्डित की दक्षिणा ……..?

लोग आज भी बड़े बड़े पूजा अनुष्ठान के संकल्प और आरती में चढ़ाने के लिये एक रूपये का सिक्का ही ढूंढ कर लाते है।

नोट- कुछ दिन ऐसा दिन आने वाला है की ब्राह्मण इस पूजा पाठ के कार्य को छोड़ देगा लोग की ऐसी मानसिकता रही तो कुछ दिन में कोई ब्राह्मण दान भी नही लेगा,
और ये मानसिकता समाज छोड़ दे की ब्राह्नण कभी गरीब था भागवतपुराण में साफ लिखा है की पृथ्वी का एक मात्र देवता ब्राह्मण है , आज लोग इसलिये इतना कष्ट भोग रहे है की लोग ब्राह्मण को घटिया से घटिया सामग्री ,अनुपयोगी वस्त्रh दान और उचित दक्षिणा नहीं दे रहे है ,कुछ ही वर्षो में ब्राह्मण का दर्शन दुर्लभ हो जायेगा ऐसा बहुत जल्द होने वाला है और जो पूजा करवाऐंगे वो किसी भी तरह के लोग होंगे होंगे. ।

शादी में लोग 10-12 लाख रुपये सिर्फ शानौशौकत के लिए उड़ा देंगे। ढोली बैंडबाजे वाले को छः महिने पहले बुक करके21-31000 हजार रुपए एक डेढ घंटे के लिये दे देंगे । डीजे व शराब में बर्बाद करके नचायेंगेऔर ये सारा मांगलिक मुहूर्त कार्यक्रम तय करने वाले ब्राह्मण पंडित को जो इसका रचनाकार और धूरी है उस विप्र श्रेष्ठ को 1100रुपए में ही निपटाने का भरसक प्रयास करेंगे। *
तब कौन ब्राह्मण का पुत्र यह संस्कार अपनायेगा???

मेरी बातों का गलत मतलब न समझें।

*ब्राह्मण को सम्मान दें।

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

કબૂતર અને બિલાડીની વારતા


બિલાડીએ બોચીથી પકડેલા કબૂતરનાં
કાનમાં કીધું,’ભૂખ લાગી છે’.

ફફડતા કબૂતરે બીતાં બીતાં બિલાડીને કીધું,
‘જીવવાની આશા જાગી છે’.

મરતાં પહેલાં જલ્લાદ પૂછે એમ બિલાડી બોલી,
‘ખાવું પડશે, મેં કયાં તારી રજા માંગી છે?’

એની આંખમાં ભાળેલા મોતથી વિચલિત થઇ
કબૂતર બોલ્યું ‘હજુ પરણવાનું બાકી છે’.

બિલાડી ઉવાચ,
‘કાચા કુવારાંને ખાવાની મજા પડે એવું
મમ્મીનું કથન મારા માટે કાફી છે’.
હું ના ખાઉં તને, પણ,
ભૂખની તલવાર નાગી છે.
ભૂખ ના જૂએ નાત જાત, અમીર ગરીબ,
રોગી નિરોગી, અનુરાગી કે રાગી છે.

કબૂતર બોલ્યું,
‘એક દાણાની લાલચમાં
મેં પણ લાગે છે આ જીંદગી ત્યાગી છે,
મારી પ્રેયસી કબૂતરી મારી રાહ જુએ છે,
મને તો એ પણ ખબર નથી એ સૂતી છે કે જાગી છે.
ભરજૂવાનીમાં પ્રેમની કટારી વાગી છે’.

બિલાડી ઉવાચ,
ગળું તારું દબાવું બસ એટલી વાર છે,
થા તૈયાર, બોલ તું મરવા તૈયાર છે.
બોલાતું પણ નથી હવે, તું મોત સ્વીકારી લે’.

ત્યાં જ ભૂખ્યાં કૂતરાએ બિલાડી પર તરાપ મારી
ને કબૂતર બિલાડીના મોં માંથી છૂટી ગયું.
મોતનાં મોં માંથી છૂટયું,
પાડ માની કૂતરાંનો મનોમન,
કબૂતરે આકાશમાં છલાંગ લગાવી છે
જીવ બચાવીને બિલાડી
એવી ભાગી છે,
એવી ભાગી છે,
એને પણ હવે
જીવવાની ઈચ્છા જાગી છે….

નારણ મકવાણા
28/12/2021

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

और फूल खिल गए!



अरे लल्ला ! यहाँ अकेले काहे बैठे हो ? वो भी इतने उदास ! क्या हो गया?
कुछ नहीं भाभी माँ !बस यूं ही।
हमसे न छुपाओ। हमारे सामने नेकर पहनना भी नहीं आती थी। कल तुम्हारा ब्याह हुआ है ,आज यहाँ उदास बैठे हो और कहते हो कुछ नहीं हुआ !
भाभी एक ही साँस में अपने देवर प्रमोद से इतना कुछ बोल गईं।
प्रमोद रुआंसा हो गया। बोला भाभी ,आपकी बहू सबके साथ नहीं रहना चाहती। उसका मानना है कि इतने लोगों के शोर शराबे के बीच में रहना मुश्किल है। कहती है ,अलग रहेंगे शांति से।
सुनते ही भाभी माँ सकते में आ गई पर स्वयं पर नियंत्रण रखते हुए बोलीं ,”बस इतनी सी बात !
हम अभी दुल्हन को समझा लेते हैं ।मानी तो ठीक नहीं तो हम तुम्हारा अलग घर बसा देते हैं।मन दुखी करके साथ में रहने से अच्छा है अकेले शांति से रहो।”
” पर हम तुम्हें छोड़कर कहीं नहीं जा सकते।”
देवर प्रमोद ने कहा।
भाभी ने प्यार से उसके सिर पर हाथ फेरा औऱ कहा, ” शांत रहो लल्ला जी ,कुछ न कुछ समाधान अवश्य निकल आएगा।”

प्रमोद की माँ बचपन में ही उसे छोड़कर भगवान को प्यारी हो गईं थीं और बड़ी भाभी ने ही उसे पाल पोस कर बड़ा किया था लेकिन देवरानी ने आते ही बड़े जोर का झटका दिया था।
खैर ,वे इतनी जल्दी हार मानने वाली नहीं थी।
शाम को बगीचे में जा कर बैठ गईं।जाते जाते अपनी बेटी से सुनीता चाची को वहाँ लाने की बात कह गईं।
थोड़ी देर में देवरानी उनके सामने थी। भाभी माँ ने उसे पास बैठा लिया।
कुछ इधर उधर की बात करके बोलीं, “बेटा सुनीता! तुम्हारा मन तो लग रहा है न घर में !कोई परेशानी तो नहीं ?”
सुनीता की तो मन माँगी मुराद पूरी हो गई। बोली
“जी ,मुझे छोटे परिवार में रहने की आदत है।
यहाँ इतने कोलाहल ,शोर शराबे में मैं असहज महसूस करती हूँ। मुझे शांति चाहिए।”

भाभी ने संयत स्वरों में कहा ,”तुम्हें अलग रहना है। कोई बात नहीं ।हम तुम्हारी रहने की व्यवस्था करवा देते हैं पर हमारी एक बात समझ लो ।”
देवरानी ने चेहरा उठा कर उनकी तरफ देखा।
कुछ सूखे फूल दिखाते हुए वे बोलीं ,” देखो ये फूल अपनी डाल से टूटकर मुरझा गए हैं। जिस तरह ये फूल डाल से टूट कर मुरझा जाते हैं उसी तरह इंसान भी अपनों से बिछड़ कर बिखर जाता है। “
“तुम समझ रही हो न!हम प्रमोद की बात कर रहे हैं ।बिन माँ के बच्चे को अब और मत टूटने दो “
कहते हुए भाभी रो पड़ीं।
सुनीता पैरों से मिट्टी कुरेदते हुए चुपचाप बैठी रही।

अगले दिन प्रमोद ने खुश होकर भाभी माँ को बताया , ” हम साथ -साथ हैं।”
भाभी खुश हो गई अपने प्यारे देवर की बात सुन कर। बोलीं “रुक्क !इस बात पर मैं तेरी पसन्द का हलवा बनाती हूँ।”
“भाभी माँ !थोड़ा सा मेरे लिए भी।”
सुनीता ने वहाँ आ कर धीरे से कहा।
सब लोग खिलखिला कर हँस पड़े।
बहुत सारे फूल एक साथ खिल गए और एक बगीचा रेगिस्तान बनते बनते बच गया।

स्वलिखित
ज्योति व्यास

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

👀🔘🟫जीव का सच्चा साथी 🟫🔘👀

खचाखच भरी बस में कंडक्टर को एक गिरा हुआ बटुआ मिला जिसमे एक पांच सौ का नोट और भगवान् कृष्ण की एक फोटो थी।

वह जोर से चिल्लाया , ” अरे भाई! किसी का बटुआ गिरा है क्या?”

अपनी जेबें टटोलने के बाद सीनियर सिटीजन सीट पर बैठा एक आदमी बोला, “हाँ, बेटा शायद वो मेरा बटुआ होगा… जरा दिखाना तो.”

“दिखा दूंगा- दिखा दूंगा, लेकिन चाचाजी पहले ये तो बताओ कि इसके अन्दर क्या-क्या है?”

कुछ नहीं इसके अन्दर थोड़े पैसे हैं और मेरे कृष्णा की एक फोटो है.”, चाचाजी ने जवाब दिया।

पर कृष्णा की फोटो तो किसी के भी बटुए में हो सकती है, मैं कैसे मान लूँ कि ये आपका है.”, कंडक्टर ने सवाल किया।

अब चाचाजी उसके बगल में बैठ गए और बोले, “बेटा ये बटुआ तब का है जब मैं हाई स्कूल में था. जब मेरे बाबूजी ने मुझे इसे दिया था तब मेरे कृष्णा की फोटो इसमें थी।

लेकिन मुझे लगा कि मेरे माँ-बाप ही मेरे लिए सबकुछ हैं इसलिए मैंने कृष्णा की फोटो के ऊपर उनकी फोटो लगा दी…।

जब युवा हुआ तो लगा मैं कितना हैंडसम हूँ और मैंने माँ-बाप के फोटो के ऊपर अपनी फोटो लगा ली…।

फिर मुझे एक लड़की से प्यार हो गया, लगा वही मेरी दुनिया है, वही मेरे लिए सबकुछ है और मैंने अपनी फोटो के साथ-साथ उसकी फोटो लगा ली… सौभाग्य से हमारी शादी भी हो गयी।

कुछ दिनों बाद मेरे बेटे का जन्म हुआ, इतना खुश मैं पहले कभी नहीं हुआ था…सुबह-शाम, दिन-रात मुझे बस अपने बेटे का ही ख़याल रहता था…।

अब इस बटुए में मैंने सबसे ऊपर अपने बेटे की फोटो लगा ली…

पर अब जगह कम पड़ रही थी, सो मैंने कृष्णा और अपने माँ-बाप की फोटो निकाल कर बक्से में रख दी…

और विधि का विधान देखो, फोटो निकालने के दो-चार साल बाद माता-पिता का देहांत हो गया… और दुर्भाग्यवश उनके बाद मेरी पत्नी भी एक लम्बी बीमारी के बाद मुझे छोड़ कर चली गयी।

इधर बेटा बड़ा हो गया था, उसकी नौकरी लग गयी, शादी हो गयी…बहु-बेटे को अब ये घर छोटा लगने लगा, उन्होंने अपार्टमेंट में एक फ्लैट ले लिया और वहां चले गए।

अब मैं अपने उस घर में बिलकुल अकेला था जहाँ मैंने तमाम रिश्तों को जीते-मरते देखा था…

पता है, जिस दिन मेरा बेटा मुझे छोड़ कर गया, उस दिन मैं बहुत रोया… इतना दुःख मुझे पहले कभी नहीं हुआ था…कुछ नहीं सूझ रहा था कि मैं क्या करूँ और तब मेरी नज़र उस बक्से पर पड़ी जिसमे सालों पहले मैंने कृष्णा की फोटी अपने बटुए से निकाल कर रख दी थी…

मैंने फ़ौरन वो फोटो निकाली और उसे अपने सीने से चिपका ली…अजीब सी शांति महसूस हुई…लगा मेरे जीवन में तमाम रिश्ते जुड़े और टूटे… लेकिन इन सबके बीच में मेरे भगवान् से मेरा रिश्ता अटूट रहा… मेरा कृष्णा कभी मुझसे रूठा नहीं…

और तब से इस बटुए में सिर्फ मेरे कृष्णा की फोटो है और किसी की भी नहीं… और मुझे इस बटुए और उसमे पड़े पांच सौ के नोट से कोई मतलब नहीं है, मेरा स्टॉप आने वाला है…तुम बस बटुए की फोटो मुझे दे दो…मेरा कृष्णा मुझे दे दो…

कंडक्टर ने फौरन बटुआ चाचाजी के हाथ में रखा और उन्हें एकटक देखता रह गया।

सार
आदि, मध्य और अंत में एक परमात्मा ही सत्य है। और वो कण-कण में बसता है।
अतः हर वक़्त इस जीव का सच्चा साथी वो मालिक ही हो सकता है। *🔥💎🟪 नमोः नामदेव 🟪💎🔥*