Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

વ્યવહાર કુશળતા.


વાંચવા જેવી વાત

Inspirational story as receive as forward.

વ્યવહાર કુશળતા.
(વાર્તા થોડી લાંબી છે પણ અંત સુધી વાંચવા વિનંતી છે.)

કેબિનનો દરવાજો ખોલી પ્યૂને હળવેક રહીને ટેબલ પર વિઝિટિંગ કાર્ડ મૂક્યું. કાર્ડ મૂકીને એ ગયો નહિ. ઊભો રહ્યો. કાગળમાંથી માથું ઊંચકીને પૂછ્યું: ‘કેમ?’

‘કોઈ ભાઈ બહાર મળવા આવ્યા છે. કહે છે કે…’

વિઝિટિંગ કાર્ડ ઉપર નજર ફેંકી- ભગીરથ પંડ્યા. બી.એ. બી.કૉમ. ચાર્ટર્ડ એકાઉન્ટન્ટ. એકદમ ખુરશી ઉપરથી ઊભો થઈ ગયો. પ્યૂનને પૂછ્યું:
‘ક્યાં છે? ક્યાં છે આ ભાઈ?’

‘બહાર સોફા ઉપર બેસાડ્યા છે…’

‘બોલાવો, બોલાવો એમને…’

ભગીરથભાઈ આવ્યા. ઉષ્માથી ભેટ્યા. ખબરઅંતર પૂછ્યા. ચા પીતાં પીતાં પૂછ્યું; ‘ઘણાં વર્ષે મળ્યા, નહિ ?’

‘હા, સાત-આઠ વર્ષ થઈ ગયા.’

‘નોકરી છોડી દીધી?’

‘હા. ત્રણેક વર્ષ થઈ ગયાં. પ્રેક્ટિસ શરૂ કરી દીધી. આજે એક કંપનીનું ઑડિટિંગ હતું એટલે અહીં આવ્યો છું. કામ પૂરું થયું કે મળતો જાઉં. થોડું શોપિંગ પણ કરવું છે એટલે સાથે નીકળીએ એ ગણતરીથી…’ અને ઘડિયાળમાં જોઈને કહ્યું, ‘ઑફિસ સમય તો પૂરો થયો ને?’

શૉપિંગ અને તે પણ ભગીરથ પંડ્યા જોડે? આ વિચારથી મનમાં થોડી ગભરામણ થવા લાગી. વર્ષો પહેલાં પંડ્યાજી જોડે જ્યારે જ્યારે શૉપિંગમાં ગયા છીએ ત્યારે ત્યારે દુકાનદાર જોડે જે ઝઘડા થયા છે, એ અકળામણભર્યા અનુભવ યાદ આવ્યા વિના રહ્યા નહિ. ભગીરથભાઈને દુર્વાસા મુનિની પ્રકૃત્તિ વારસામાં મળી હતી. વાતવાતમાં ગુસ્સે થઈ જાય. કોઈનું સાંભળે નહિ. દુકાનદારને અમુક વસ્તુ બતાવવાની કહી હોય અને બીજી વસ્તુ લાવે તોપણ એને ખખડાવી નાખે.

આવી પ્રવૃત્તિવાળા પંડ્યા જોડે જ્યારે બજારમાં ગયો ત્યારે બહુ જ વિચિત્ર અનુભવ થયો. બહુ જ શાંતિથી એ ખરીદી કરતા હતા. ન ગુસ્સો, ન ઘાંટાઘાંટ કે ન બૂમબરાડા. એમાંયે એક દુકાને જ્યારે દસ મીટર લેંઘાનું કાપડ પસંદ કરી પંડ્યાજીએ પેકિંગ કરવાનો ઑર્ડર આપ્યો ત્યારે સેલ્સમેને ચાલાકી કરી કાઉન્ટરની નીચે રાખેલા ‘સેકન્ડ’નો માલ પેક કરવા માંડ્યો. પંડ્યાએ ચાલાકી પકડી લીધી, પણ સેલ્સમેનને ખખડાવી નાખવાને બદલે પંડ્યાજીએ હસતાં હસતાં સેલ્સમેનને કહ્યું:
‘દોસ્ત, તમારી સમજવામાં કંઈ ભૂલ થતી લાગે છે, મેં તાકામાંથી કાપડ પસંદ કર્યું છે, એમાંથી જ ફાડી આપો ને.’

પંડ્યાના સ્વભાવનું આ પરિવર્તન જોઈને આશ્ચર્ય પામ્યો. ખરીદી પછી એક હોટલમાં કૉફી પીવા બેઠા ત્યારે બોલાઈ ગયું:
‘ભગીરથભાઈ, તમારા સ્વભાવમાં ગજબનું પરિવર્તન આવી ગયું છે…’

‘હું ગુસ્સે કેમ નથી થતો એ વાતનું જ તમને આશ્ચર્ય થાય છે ને?’

‘લગભગ એવું જ…’

‘એવું જ નહિ, એ જ,’ ભગીરથભાઈએ હસતાં હસતાં કહ્યું, ‘મારા સ્વભાવથી માત્ર મારાં કુટુંબીજનો જ નહિ, પણ મિત્રો પણ પરિચિત હતા. હું વાતવાતમાં તપી જતો, ગુસ્સે થતો, કોઈનું પણ સાંભળ્યા વિના આખડી પડતો.

પણ ભાઈ, એ વખતે હું એમ જ માનતો કે સિક્કાની એક જ બાજુ હોય છે. એટલે, કોઈની પણ વાત સાંભળ્યા વિના, કોઈની પરિસ્થિતિનો વિચાર કર્યા વગર એક જ પાટે મારી ગાડી ગબડાવ્યે જતો. પણ અશોકે મને ભાન કરાવી દીધું કે સિક્કાને બીજી બાજુ પણ હોય છે…’

‘અશોક? કોણ અશોક?’

‘તમે કદાચ નહિ ઓળખો, મારો જિગરી દોસ્ત. પહેલાં તો અમે બહુ નજદીક રહેતા, પણ પછી એણે બેંકની લોન લઈને શહેરને છેડે ઘર બંધાવ્યું એટલે મળવાનું ઓછું બનતું, પણ અઠવાડિયે એક વખત તો અચૂક મળીએ… બીજી કૉફી મંગીવીશું?’

બીજી કૉફીનો ઑર્ડર આપી ભગીરથભાઈએ વાતનો દોર સાંધી લીધો.
‘હા, તો અશોક અને મારે ગાઢ સંબંધો. મારી બહેન માટે જેટલા જેટલા મુરતિયા જોયા ત્યારે દરેક વખતે અશોક તો સાથે જ હોય. એનો અભિપ્રાય ફાઈનલ ગણાતો. પછી તો બહેનનાં લગ્ન લેવાયાં. વાડી રાખવાથી માંડીને ગોરમહારાજ સુધીની બધી વ્યવસ્થા અશોકે અને એની પત્ની સુમિત્રાબહેને માથે લઈ લીધી. લગ્નને આગલે દિવસે રાત્રે એક વાગ્ય સુધી બંને જણ એમના નાના બાબાને ત્યાં રોકાયાં હતાં. બીજે દિવસે સવારે સાડા સાતે વાડીમાં મળવાનું ગોઠવીને બંને ઘેર ગયાં.
‘સવારે સાડા સાતે લગ્નની એક પછી એક વિધિઓ શરૂ થવા લાગી પણ અશોક કે સુમિત્રાભાભી કોઈ દેખાયું નહિ. એ બંનેની પૃચ્છા થવા માંડી એટલે સ્વભાવ પ્રમાણે અકળાઈને મેં કહી દીધુ, જહન્નમની ખાડીમાં ગયાં બંને જણ, બહેનનાં લગ્ન લીધાં છે ને ખરે વખતે સમયસર હાજર ન થાય તો ધોઈ પીવી છે એની દોસ્તીને?’

સાંજે રિસેપ્શન વખતે કોઈ ભાઈ આવ્યા. બહેન માટે 151 રૂપિયાનો ચાંદલો, કીમતી સાડી અને શુભેચ્છાનો લાલ અક્ષરે લખેલો અશોક-સુમિત્રાના નામનો પત્ર એમણે બાને આપ્યો. બાએ મને બોલાવી આ બધું બતાવ્યું ત્યારે મેં ગુસ્સાથી કાગળ ફાડી નાખ્યો, કીમતી સાડીનો ડૂચો કરી એનો ઘા કરી દીધો ને પેલા પૈસાનું કવર એ ભાઈના સામે ફેંકી બોલી દીધું: “જાઓ, કહી દેજો તમારા સગલાઓને કે આવો વિવેક કરવાની હવે કોઈ જરૂર નથી.”

‘મારો ગુસ્સો આસમાને પહોંચી ગયો, બા-બાપુજી મને પટાવી વાડીના જુદા રૂમમાં લઈ ગયાં.’

‘લગ્ન પતી ગયાં. મારા ગુસ્સાને કારણે બા-બાપુજી કે કોઈએ અશોક-સુમિત્રાની વાત જ ન કાઢી પણ પંદર દિવસ પછી બહેન ઘરે આવી ત્યારે એણે હઠ લીધી. મને કહ્યું, “ભાઈ, જેમ તમે મારા ભાઈ છો એમ અશોકભાઈ પણ મારા ભાઈ છે. તમારી સાથે એને પણ હું રાખડી બાંધું છું. ભલે એ મારા લગ્નમાં ન આવ્યા પણ નાની બહેન તરીકે ભાઈ-ભાભીને મારે પગે લાગવા તો જવું જોઈએ ને?” લાડકી બહેનની હઠ આગળ મારે ઝૂકી જવું પડ્યું. રવિવારે વરઘોડિયાં જોડે હું અને મારી પત્ની અશોક-સુમિત્રાને ઘેર જવા નીકળ્યાં. બા-બાપુજીએ ખાનગીમાં મારી પત્નીને કહી રાખ્યું હતું કે ભગીરથ જો એના દોસ્ત જોડે ઝઘડી પડે તો વાતને વાળી લેવી.

‘અમે અશોકને ઘેર ગયાં. દરવાજો ખુલ્લો હતો. દીવાનખંડમાં અશોકનો નાનો બાબો સોફા પર ઊંઘતો હતો, બહેને બૂમ પાડી : “ભાભી આવું કે?”
તુરત જ રસોડામાંથી સુમિત્રાભાભીએ સામો સાદ દીધો, “આવો આવો! બેસો. હું એક મિનિટમાં આવી.” એ પછી ઝડપથી એ રસોડામાંથી નીકળી બેડરૂમમાં ઘૂસી ગયાં. નવીનકોર સાડી પહેરી એ બહાર આવ્યાં. અખંડ સૌભાગ્ય ઇચ્છ્યું. બંનેના હાથમાં અગિયાર-અગિયાર રૂપિયા મૂક્યા. બંનેનાં મોંમાં ગોળની કાંકરી મૂકીને પૂછ્યું : ‘શું લેશો? ચા-કૉફી કે પછી ઠંડું?’

“સુમિત્રાભાભીનો વિવેક જોઈ હું મનમાં સમસમી ગયો. કહેવાની ઈચ્છા થઈ ગઈ કે ભાડમાં પડે ચા-કૉફી. બોલાવો અશોકને બેડરૂમમાંથી બહાર. ક્યાં સુધી મોઢું સંતાડીશ? પણ મારી જીભ સળવળે તે પહેલાં મારી પત્નીએ કોણી મારી મને ચૂપ કરી દીધો…”

ભગીરથભાઈએ શ્વાસ લીધો. ઠંડીગાર થયેલી કૉફીનો કડવો ઘૂંટડો ગળે ઉતારતાં હળવા સાદે કહ્યું:
‘આ સ્ત્રીઓમાં પણ કોણ જાણે ભગવાને ગજબની શક્તિ મૂકી છે, ગિરીશભાઈ, કે હવામાંથી વાતની ગંધ પકડી લ્યે. જ્યારે સુમિત્રાભાભી વરઘોડિયાંનાં ઓવારણાં લઈને ચા-કૉફીનું પૂછતાં હતાં ત્યારે મારી પત્નીથી ન રહેવાયું. રસોડા તરફ સરકી રહેલાં સુમિત્રાભાભીનો હાથ પકડી એ બોલી ઊઠી:
“ભાભી શી વાત છે એ કહી દો ! અમે આવ્યાં ત્યારે રસોડામાંથી ઝડપભેર નીકળી તમે બેડરૂમમાં ગયાં ત્યારે સફેદ સાડલો પહેર્યો હતો. પછી બેડરૂમમાં જઈ તમે અપશુકન ન થાય એટલા માટે નવું કપડું પહેરી બહાર નીકળ્યાં. પ્લીઝ, સાચી વાત કહી દ્યો.”

‘ગિરીશભાઈ, એ દ્રશ્ય આજેય હું ભૂલ્યો નથી. સુમિત્રાભાભી મારી પત્નીને વળગી ધ્રૂસકે ધ્રૂસકે રડી પડ્યાં. પંદર દિવસ સુધી ગળામાં દબાયેલો ડૂમો બહાર નીકળી ગયો…

‘વાત એમ હતી કે મારો પ્રિય દોસ્ત મારી બહેનનાં લગ્નનાં દિવસે જ વહેલી સવારે હાર્ટએટેકથી મૃત્યુ પામ્યો હતો. વાડીમાં આવવા બન્‍ને જણ વહેલાં ઊઠ્યાં. પણ છએક વાગ્યે અશોકનું શરીર ઠંડું પડવા લાગ્યું. ડૉક્ટરને બોલાવવા મોકલ્યા પણ એ આવે તે પહેલાં અશોક સૌને છોડીને ચાલ્યો ગયો.

‘અને એની પત્નીનું ડહાપણ તો જુઓ પંદર પંદર દિવસ થયા પણ લગ્નવાળા ઘરને શોકની છાયા ન નડે એ માટે કહેવરાવ્યું પણ નહિ. બપોરે ચાર વાગ્યે ડાઘુઓ અશોકનાં અસ્થિફૂલ લઈને આવ્યા ત્યારે એણે એક ડાઘુને સાડી, ચાંદલો અને શુભેચ્છા લઈને મારી બહેનના રિસેપ્શનમાં મોકલ્યો. ગજબની વ્યવહારકુશળતા હતી એ બાઈમાં. આવે વખતે હું હોત તો? આવી પરિસ્થિતિમાં હું મુકાઈ ગયો હોત તો?’
‘સિક્કાની બીજી બાજુ તે દિવસે જોઈ!!!’

(આ પંડ્યા સાહેબની જેમ જ મારો કે આપનો સ્વભાવ સાહજિક જ હોઈ શકે છે. એમાંથી સ્થિતપ્રજ્ઞતા તરફ સરકવું ખરેખર ખૂબ જ મુશ્કેલ છે. મારો પ્રયત્ન ચાલુ છે, આશા કે આપશ્રી પણ શરૂઆત કરશો એવો અહીં અનુકરણીય સાર રજુ થયો છે.)

🙏 આ વાર્તા મને whatsapp માધ્યમથી મળી છે ,વાર્તા ના ગ્રુપમાં. અહીં એટલા માટે મૂકી રહ્યો છું કે કોઈને આવો ગુસ્સો આવતો હોય તો ,કંટ્રોલ કરતા શીખે.

🌹 દરેક પરિસ્થિતિ શાંત રહેવું કેટલું જરૂરી છે.

Via Wats App..🙏💐🙏

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

कर्मो का फल


आज की कथा

(((( कर्मो का फल ))))
.
एक बार शंकर जी पार्वती जी भ्रमण पर निकले। रास्ते में उन्होंने देखा कि एक तालाब में कई बच्चे तैर रहे थे, लेकिन एक बच्चा उदास मुद्रा में बैठा था।
.
पार्वती जी ने शंकर जी से पूछा, यह बच्चा उदास क्यों है? शंकर जी ने कहा, बच्चे को ध्यान से देखो।
.
पार्वती जी ने देखा, बच्चे के दोनों हाथ नही थे, जिस कारण वो तैर नही पा रहा था।
पार्वती जी ने शंकर जी से कहा कि आप शक्ति से इस बच्चे को हाथ दे दो ताकि वो भी तैर सके।
.
शंकर जी ने कहा, हम किसी के कर्म में हस्तक्षेप नही कर सकते हैं क्योंकि हर आत्मा अपने कर्मो के फल द्वारा ही अपना काम अदा करती है।
.
पार्वती जी ने बार-बार विनती की। आखिकार शंकर जी ने उसे हाथ दे दिए। वह बच्चा भी पानी में तैरने लगा।
.
एक सप्ताह बाद शंकर जी पार्वती जी फिर वहाँ से गुज़रे। इस बार मामला उल्टा था, सिर्फ वही बच्चा तैर रहा था और बाकी सब बच्चे बाहर थे।
.
पार्वती जी ने पूछा यह क्या है ? शंकर जी ने कहा, ध्यान से देखो।
.
देखा तो वह बच्चा दूसरे बच्चों को पानी में डुबो रहा था इसलिए सब बच्चे भाग रहे थे।
शंकर जी ने जवाब दिया- हर व्यक्ति अपने कर्मो के अनुसार फल भोगता है। भगवान किसी के कर्मो के फेर में नही पड़ते हैं।
.
उसने पिछले जन्मो में हाथों द्वारा यही कार्य किया था इसलिए उसके हाथ नहीं थे।
.
हाथ देने से पुनः वह दूसरों की हानि करने लगा है।
.
प्रकृति नियम के अनुसार चलती है, किसी के साथ कोई पक्षपात नहीं।
.
आत्माएँ जब ऊपर से नीचे आती हैं तब सब अच्छी ही होती हैं,
.
कर्मों के अनुसार कोई अपाहिज है तो कोई भिखारी, तो कोई गरीब तो कोई अमीर लेकिन सब परिवर्तनशील हैं।
.
अगर महलों में रहकर या पैसे के नशे में आज कोई बुरा काम करता है तो कल उसका भुगतान तो उसको करना ही पड़ेगा।
.
कर्म तेरे अच्छे तो किस्मत तेरी दासी
नियत तेरी अच्छी तो घर मे मथुरा काशी

कृपा हमारा नया ग्रुप जॉइन करें 🙏🙏🙏

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

रोनाल्ड निक्सन


रोनाल्ड निक्सन जो कि एक अंग्रेज थे कृष्ण प्रेरणा से ब्रज में आकर बस गये …

उनका कन्हैया से इतना प्रगाढ़ प्रेम था कि वे कन्हैया को अपना छोटा भाई मानने लगे थे……

एक दिन उन्होंने हलवा बनाकर ठाकुर जी को भोग लगाया पर्दा हटाकर देखा तो हलवे में छोटी छोटी उँगलियों के निशान थे ……

जिसे देख कर ‘निक्सन’ की आखों से अश्रु धारा बहने लगी …

क्यूँ कि इससे पहले भी वे कई बार भोग लगा चुके थे पर पहलेकभी ऐसा नहीं हुआ था |

और एक दिन तो ऐसी घटना घटी कि सर्दियों का समय था, निक्सन जी कुटिया के बाहर सोते थे |

ठाकुर जी को अंदर सुलाकर विधिवत रजाई ओढाकर फिर
खुद लेटते थे |

एक दिन निक्सन सो रहे थे……

मध्यरात्रि को अचानक उनको ऐसा लगा जैसे किसी ने उन्हें
आवाज दी हो… दादा ! ओ दादा !

उन्होंने उठकर देखा जब कोई नहीं दिखा तो सोचने लगे हो
सकता हमारा भ्रम हो, थोड़ी देर बाद उनको फिर सुनाई दिया…. दादा ! ओ दादा !

उन्होंने अंदर जाकर देखा तो पता चला की वे ठाकुर जी को रजाई ओढ़ाना भूल गये थे |

वे ठाकुर जी के पास जाकर बैठ गये और बड़े प्यार से बोले…

”आपको भी सर्दी लगती है क्या…?”

निक्सन का इतना कहना था कि ठाकुर जी के श्री विग्रह से आसुओं की अद्भुत धारा बह चली…

ठाकुर जी को इस तरह रोता देख निक्सनजी भी फूट फूट कर रोने लगे…..

उस रात्रि ठाकुर जी के प्रेम में वह अंग्रेज भक्त इतना रोया कि उनकी आत्मा उनके पंचभौतिक शरीर को छोड़कर बैकुंठ को चली गयी |


हे ठाकुर जी ! हम इस लायक तो नहीं कि ऐसे भाव के साथ आपके लिए रो सकें…..

पर फिर भी इतनी प्रार्थना करते हैं कि….

”हमारे अंतिम समय में हमे दर्शन भले ही न देना पर……

अंतिम समय तक ऐसा भाव जरूर दे देना जिससे आपके लिए तडपना और व्याकुल होना ही हमारी मृत्यु का कारण बने….”.

बोलिये वृन्दावन बिहारी लाल की जय

((((((((((((((जय जय श्री राधे))))))))))))))
1- कृष्ण के नैन = हमारा चैन !
2- कृष्ण का मस्तक = हमारे भाग्य की दस्तक !
3- कृष्ण का मुख = हमारा सूख !
4- कृष्ण के कान = हमारा ध्यान !
5- कृष्ण का दिल = हमारी मंज़िल !
6- कृष्ण के हाथ = हमारे साथ !
7- कृष्ण के चरण = हमारी शरण !
8- कृष्ण की नाक = हमारी साख !
9- कृष्ण का गला = हमारा भला !
10- कृष्ण की आत्मा = हमारे दुखो का खात्मा !!
जय हो बाकेँ बीहारी जी की🙏🙏🌹💐💐

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

एक बार एक साधु जैसे दिखने वाले सज्जन रेल से कहीं सफ़र कर रहे थे | जिस डिब्बे में वे सफर कर रहे थे, उसी डिब्बे में कुछ अंग्रेज यात्री भी थे |

उन अंग्रेजो को साधुओं से बहुत चिढ़ थी | वे साधुओं की लगातार ख़ूब निंदा कर रहे थे | साथ वाले साधु यात्री को भी गाली दे रहे थे | उन अंग्रेजों की सोच थी कि चूँकि साधू अंग्रेजी नहीं जानते, इसलिए उन अंग्रेजों की बातों को नहीं समझ रहे होंगे | इसलिए उन अंग्रेजो ने आपसी बातचीत में साधुओं को कई बार भला बुरा कहा |

हालांकि उन दिनों की हकीकत भी यही थी कि अंग्रेजी जानने वाले साधु होते भी नहीं थे |

रास्ते में एक बड़ा स्टेशन आया | उस स्टेशन पर उन सज्जन के स्वागत में हजारों लोग उपस्थित थे, जिनमे विद्वान् एवं कुछ बड़े अधिकारी भी थे |

वहाँ उपस्थित लोगों को सम्बोधित करने के बाद अंग्रेजी में पूछे गए प्रश्नों के उत्तर वे सज्जन फर्राटेदार अंग्रेजी में ही दे रहे थे |

इतनी अच्छी अंग्रेजी बोलते देखकर उन अंग्रेज यात्रियों को सांप सूंघ गया जो रेल में अबतक उनकी बुराई कर रहे थे |

अवसर मिलने पर वे उन सज्जन के पास आए और उनसे नम्रतापूर्वक पूछा – आपने हम लोगों की बात सुनी, आपने बहुत बुरा माना होगा ?

वे सज्जन बहुत ही सहज शालीनता से बोले….” मेरा मस्तिष्क अपने ही कार्यों में इतना अधिक व्यस्त था कि मैंने आप लोगों की बातें बिलकुल सुनी ही नहीं औऱ न ही उन पर ध्यान दे सका ,इसलिए मुझें बुरा मानने का अवसर ही नहीं मिला….. |”

उन सज्जन का यह जवाब सुनकर अंग्रेजो का सिर शर्म से झुक गया और वे उनके चरणों में गिर पड़े……वे सज्जन कोई औऱ नहीं बल्कि स्वामी विवेकानंद जी थे…..!!

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

रामायण


एक दिन की बात है कि श्रीरामचंद्रजी और सीताजी बैठे हुए थे । आपस में बाते हो रही थी । हनुमानजी की चर्चा छिड़ी तो श्रीरामजी ने कहा – “हनुमान मेरा बड़ा भक्त है ।” सीताजी बोली ” अरे वाह ! आपने यह कैसे जाना ? “वह तो मेरा भक्त है ।”श्रीरामजी कहा – ” तुम्हे अभी क्या मालूम, मुझसे बढ़कर वह किसी को नही मानता ।
सीताजी मुस्काई और बोली – ” आप धोखे में है, वह जितना मुझे मानता है उतना किसी को नही । श्रीरामजी बोले – ” तो इसमें झगड़ने की कौन सी बात है ? उसी से पूछ लिया जाये ।” सीताजी ने कहा – ” आज जब वह वे आयेंगे तब मैं एक चीज माँगूँगी, उसी समय आप भी कोई चीज माँग मांगियेगा । जिसकी चीज पहले आ जाये उसकी ही जीत हो जायेगी ।” श्रीरामजी ने कहा – ” ,पक्की रही ।’
कुछ समय पश्चात हनुमानजी भी वहाँ पहुँच गये । श्रीरामजी और माता जानकी ने प्रसन्न्ता से उनका स्वागत किया । हनुमानजी एक हाथ से श्रीरामजी और दूसरे से सीताजी के पैर दबाने लगे । सीताजी श्रीरामजी की और देखकर इशारा किया । भगवान बोले- ” हनुमान ! तुम ,मेरे भक्त हो न ? हनुमानजी पहले तो घबरा गये किन्तु विचार किया कि ‘आज दाल में कुछ काला है ! वे बहुत ही बुद्धिमान जो ठहरे , सोचकर बोले – ,क्या पूछा ? आपका भक्त, यानि राम का भक्त ? नही मैं राम का भक्त नही हूँ ।’
सीताजी ने समझा कि मेरी विजय होगयी ** हनुमान मेरा भक्त है । वह हँसते हुए , श्रीरामजी की और देखा । श्रीरामजी शरमाकर अपना पैर हटा लेते है । हनुमानजी ने उनका पैर छोड़ दिया । तब सीताजी ने पूछा – “,तुम तो मेरे भक्त हो हनुमान ।” हनुमान जी ने कहा – ” आपका भक्त ? ऊँ – हूँ मैं सीता का भक्त नही हूँ ।
सीताजी आश्चर्य में डूब गई । रामजी हँसने लगे । सीताजी ने भी अपना पैर हटा लिया । हनुमानजी ने उनका भी पैर छोड़ दिया, और खड़े हो गए । श्रीरामजी और सीताजी दोनों चकित हो गए कि – यह न तो श्रीराम भक्त हैं और न श्रीसीताजी का ही फिर किसका भक्त है ।
श्रीरामजी ने फिर पूछा – ” तो तुम मेरे भक्त नही हो ?
हनुमानजी – ऊँ- हूँ । सीताजी ने पूछा ” मेरे भी भक्त नही हो ? इस बार भी हनुमान जी ने ऊँ – हूँ कह दिया ।
श्रीरामजी ने फिर पूछा – “तो फिर किस के भक्त हो ? इतनी सड़वा किसलिए करते हो ? यदि तुम किसी ओर कद भक्त हो तुम उस के साथ विश्वासघात कर रहे हो । उसकी सेवा न करके हमारी सेवा करते हो ? तुम ठीक ठीक बतला दो कि किसके भक्त हो?”
हनुमान जी ने हँस कर कहा – न मैं श्रीराम और न ही श्रीसीता का ही भक्त हूँ बल्कि मैं तो ‘सिर्फ सीताराम का ही भक्त हूँ ।’इस उत्तर को सुनकर दोनों ही अत्यंत प्रसन्न हुए ; और श्रीरामजी बोले –
“हनुमान तुममे जितना बल है, उतनी ही बुद्धि भी है, किन्तु आज बुद्धि नही चलेगी, हमे तो आज फैसला ही करना है ।”तब सीताजी बोली – ” हनुमान ? प्यास लगी हैं जरा जल ले ले आओ ।” हनुमानजी बोले- “अभी लाया माता ।” इतने में ही श्रीरामजी बोल उठे – ” हनुमान ! बड़ी गर्मी है जल्दी पँखा झलो नही तो मैं बेहोश ही हो जाउँगा ।”
इतना सुनते ही हनुमानजी ठिठक गये कि आज मेरी परीक्षा है- मैं किसकी आज्ञा का पालन करु । और और उन्होंने कहा- ” प्रभु माता के लिए जल ले आउँ फिर आपके लिये पँखा लाकर हवा करूँगा ।” भगवान कह रहे है बड़ा ही व्याकुल हूँ जल्दी हवा करो और उधर माता सीता के प्यास के मारे होंठ सूखे जारहे है । यह क्या लीला है ! आखिर वह सब लीला समझ समझ गये और मुस्कराने लगे ।
कुछ देर में वह बड़े जोर से बोले – “श्री सीताराम की जय !” यह कहकर वहाँ खड़े खड़े ही अपनी दोनों भुजाएँ बढाने लगे । तुरन्त ही एक हाथ में जल का गिलास और दूसरे हाथ में पँखा आ गया, श्रीरामजी को पँखा झलने लगे दूसरा हाथ सीताजी की तरफ बढ़ दिया, जिसमे जल का भरा गिलास था । और सीता – राम जी बड़े प्रसन्न हुये । हनुमानजी की प्रेम देखकर दोनों मग्न हो गये ।
‘सीताजी ने कहा – “बेटा तुम अजर अमर रहो ।” हनुमानजी ने मस्तक झुका लिया । भगवान ने नेत्र खोलकर हनुमान जी को ह्रदय से लिपटा लिया ।”
हनुमानजी फिर दोनों के एक हाथ से श्रीराम के और दूसरे हाथ से सीताजी के चरणों पर रखकर पृथ्वी पर गिर पड़े । राम राम जी जय श्री सीताराम जी जय श्री सीताराम दुलारे हनुमान जी

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

छाती पर जमा दुख


मैं समझती थी प्रेम में स्त्रियाँ ही दुख भोगती है, व्याकुल होती हैं, रोती या तड़पती हैं ,पर सच तब जाना जब उसे देखा। न जाने क्या था उसमें , मेरी सखी राखी उससे लिपटी रहती थी। वो अचानक दुनिया से चली गई । उससे बिछड़ कर वह पात विहीन ठूँठ -सा दरख्त बन कर रह गया। सेव- से सुर्ख गाल पिचक गए,अधरों पर पपड़ियाँ जम गईं। बेतरतीब बढ़ी दाढी, सूखी वीरान आँखें अनगिनत काली रातों में जागने की गवाह थी।

जीवन का सूरज डूब रहा था और उसकी हर सुबह बुझी -बुझी थी। बंजर छाती पर जाने कौन -सा हिमसागर जम गया था। हाथों का सूखा और खुरदुरा स्पर्श तब महसूस हुआ जब मैंने उससे हाथ मिलाया। मैंने उसकी तरफ देखा पर उसकी सीलन भरी दिल की दीवारों से उसकी आँखों तक कोई सन्देश नहीं पहुँचा।
मुझे लगा उसके मन के वीरान मरुस्थल में चारों तरफ असंख्य काँटे उगे है और हरियाली को तरसता मन कितना लाचार है। आँखों की जमी झील के नीचे ठहरा पानी दिखाई तो नही दिया ,मगर हलक के लावा की लपट अवश्य दिखाई दी। मुझे उस वक्त महसूस हुआ प्रेम में स्त्रियां ही नहीं मरती ,पुरुष भी मर जाते हैं।
मैं कुछ देर उसके पास बैठी रही । वह मेरी दोस्त का पति था। वह बिस्तर पर लेट कर आवाज करते पंखे को गोल -गोल घूमते देखता रहा। उसका एक आँसू नहीं गिरा मगर मुझे लगा उसका तकिया भीगा सा हो गया है। उसकी आँखों के जलस्त्रोत सूखे थे मगर प्रेम के अवशेष आँसू उसने जतन से सहेज रक्खे थे।
अचानक मुझे महसूस हुआ वो वहीं उसके पास थी और मुझे वापस जाने के लिए कह रही थी। मैं चुपचाप उठी और बाहर निकल गई। अपने घर की सड़क पर मुझे लगा उसके घर का सन्नाटा मेरे साथ चला आया है। घबराते हुए मैने जल्दी से दरवाजा खोला ,अंदर भी एक और सन्नाटा मेरी प्रतीक्षा कर रहा था। मैंने तुरन्त टी .वी चला दिया। अब लगा मेरे साथ दो -चार लोग हैं। मैं आराम से बिस्तर पर लेट गई। ध्यान वहीं लगा था ,सोच रही थी इस स्थिति यानी प्रिय के वियोग में क्या कोई पुरुष भी ऐसा वीतरागी हो सकता है ? हाँ ,अब अहसास हुआ ,पुरुष भी स्त्री की तरह कोमल हृदय का होता है, दुख में वह भी घबराता और रोता है, उसका मन भी चीत्कार करता है। वियोग वह भी सहन नहीं कर पाता और यही सब सोचते मेरी कब आँख लग गई ,पता ही नहीं चला। अगली सुबह दरवाजे की घण्टी बजी, दरवाजे पर मेरे पति खड़े थे जो अभी टूर से लौटे थे , थकान से उनका चेहरा कुम्हला गया था । मैं उनसे लिपट गई। आज उन्हें मैंने नए नजरिए से देखा था।

सरिता गर्ग ‘सरि’

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

गुप्ता जी, पेशे से प्राइमरी अध्यापक थे।

कस्बे से विद्यालय की दूरी महज़ 9 किलोमीटर थी।

एकदम वीराने में था उनका विद्यालय।

कस्बे से वहाँ तक पहुंचने का साधन यदा कदा ही मिलता था, तो अक्सर लिफ्ट मांग कर ही काम चलाना पड़ता था और न मिले तो प्रभु के दिये दो पैर, भला किस दिन काम आएंगे।

“कैसे उजड्ड वीराने में विद्यालय खोल धरा है सरकार ने, इससे भला तो चुंगी पर परचून की दुकान खोल लो।”
लिफ्ट मांगते, साधन तलाशते गुप्ता जी रोज यही सोचा करते।

धीरे धीरे कुछ जमापूंजी इकठ्ठा कर, उन्होंने एक स्कूटर ले लिया।

बिलकुल नया चमचमाता स्कूटर।

स्कूटर लेने के साथ ही उन्होंने एक प्रण लिया कि वो कभी किसी को लिफ्ट के लिए मना न करेंगें।।
आखिर वो जानते थे जब कोई लिफ्ट को मना करे तो कितनी शर्मिंदगी महसूस होती है।

अब गुप्ता जी रोज अपने चमचमाते स्कूटर से विद्यालय जाते, और रोज कोई न कोई उनके साथ जाता। लौटते में भी कोई न कोई मिल ही जाता।

एक रोज लौटते वक्त एक व्यक्ति परेशान सा लिफ्ट के लिये हाथ फैलाये था, , अपनी आदत अनुसार गुप्ता जी ने स्कूटर रोक दिया। वह व्यक्ति पीछे बैठ गया।

थोड़ा आगे चलते ही उस व्यक्ति ने चाकू निकाल गुप्ता जी की पीठ पर लगा दिया।

“जितना रुपया है वो, और ये स्कूटर मेरे हवाले करो।” व्यक्ति बोला।

गुप्ता जी की सिट्टी पिट्टी गुम, डर के मारे स्कूटर रोक दिया। पैसे तो पास में ज्यादा थे नहीं, पर प्राणों से प्यारा, पाई पाई जोड़ कर खरीदा स्कूटर तो था।

“एक निवेदन है,” स्कूटर की चाभी देते हुए गुप्ता जी बोले ।

“क्या?” वह व्यक्ति बोला।

“यह कि तुम कभी किसी को ये मत बताना कि ये स्कूटर तुमने कहाँ से और कैसे चोरी किया, विश्वास मानो मैं भी रपट नहीं लिखउँगा।” गुप्ता जी बोले।

“क्यों?” व्यक्ति हैरानी से बोला।

“यह रास्ता बहुत उजड्ड है, निरा वीरान | सवारी मिलती नहीं, उस पर ऐसे हादसे सुन आदमी लिफ्ट देना भी छोड़ देगा।” गुप्ता जी बोले।

व्यक्ति का दिल पसीजा, उसे गुप्ता जी भले मानुष प्रतीत हुए, पर धंधा तो धंधा होता है। ‘ठीक है कहकर’ वह व्यक्ति स्कूटर ले उड़ा।

अगले दिन गुप्ता जी सुबह सुबह अखबार उठाने दरवाजे पर आए, दरवाजा खोला तो स्कूटर सामने खड़ा था। गुप्ता जी की खुशी का ठिकाना न रहा, दौड़ कर गए और अपने स्कूटर को बच्चे जैसा प्यार लगे, देखा तो उसमें एक कागज भी लगा था।

“मास्साब, यह मत समझना कि तुम्हारी बातें सुन मेरा हृदय पिघल गया।

कल मैं तुमसे स्कूटर लूट उसे कस्बे ले गया, सोचा कबाड़ी वाले के पास बेच दूँ।
“अरे ये तो मास्साब का स्कूटर है। ” इससे पहले मैं कुछ कहता कबाड़ी वाला बोला……

“अरे, मास्साब ने मुझे बाजार कुछ काम से भेजा है।” कहकर मैं बाल बाल बचा। परन्तु शायद उस व्यक्ति को मुझ पर शक सा हो गया था।

फिर मैं एक हलवाई की दुकान गया, जोरदार भूख लगी थी तो कुछ सामान ले लिया। “अरे ये तो मास्साब का स्कूटर है।” वो हलवाई भी बोल पड़ा।

“हाँ, उन्हीं के लिये तो ये सामान ले रहा हूँ, घर में कुछ मेहमान आये हुए हैं।” कहकर मैं जैसे तैसे वहां से भी बचा।

फिर मैंने सोचा कस्बे से बाहर जाकर कहीं इसे बेचता हूँ। शहर के नाके पर एक पुलिस वाले ने मुझे पकड़ लिया।

“कहाँ, जा रहे हो और ये मास्साब का स्कूटर तुम्हारे पास कैसे।” वह मुझ पर गुर्राया। किसी तरह उससे भी बहाना बनाया।

“हे, मास्साब तुम्हारा यह स्कूटर है या आमिताभ बच्चन। सब इसे पहचानते हैं। आपकी अमानत मैं आपके हवाले कर रहा हूँ, इसे बेचने की न मुझमें शक्ति बची है न हौसला। आपको जो तकलीफ हुई उस एवज में स्कूटर का टैंक फुल करा दिया है।”

पत्र पढ़ गुप्ता जी मुस्कुरा दिए, और बोले। “कर भला तो हो भला।”

रवि कांत

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

नहेरु


साल था 1959, जगह थी अमृतसर।

भारतीय सेना के कुछ अधिकारी और उनकी पत्नियाँ अपने एक साथी को विदा करने के लिए रेलवे स्टेशन गए थे।

कुछ गुंडों ने महिलाओं के खिलाफ अभद्र टिप्पणी की और उनके साथ छेड़छाड़ करने की कोशिश की। सेना के अधिकारियों ने पास के सिनेमा थियेटर में शरण लिए हुए गुंडों का पीछा किया।

मामले की सूचना कमांडिंग ऑफिसर कर्नल ज्योति मोहन सेन को दी गई। घटना के बारे में जानने पर कर्नल ने सिनेमा हॉल को सैनिकों से घेरने का आदेश दिया।

सभी गुंडों को बाहर खींच लिया गया। गुंडों का नेता इतना मदहोश था और सत्ता के नशे में था; वह कोई और नहीं बल्कि पंजाब के मुख्यमंत्री प्रताप सिंह कैरों का बेटा था, जो तत्कालीन प्रधानमंत्री मियां जवाहर लाल नेहरू के करीबी सहयोगी थे।

सभी गुंडों को उनके अंडरवियर में उतार दिया गया, अमृतसर की सड़कों पर परेड किया गया, और बाद में छावनी में नजरबंद कर दिया गया। अगले दिन, मुख्यमंत्री उग्र हो गए और अपने बेटे को भारतीय सेना की कैद से रिहा कराने की कोशिश की। पता है…. क्या हुआ??
उनके वाहन को वीआईपी वाहन के रूप में छावनी में जाने की अनुमति नहीं दी गई। मजबूरन उन्हें कर्नल से मिलने के लिए पूरे रास्ते चलना पड़ा। क्रुद्ध मुख्यमंत्री कैरों ने पूरे मामले की शिकायत प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू से की।

वे दिन अलग थे, लोकतंत्र अपनी प्रारंभिक अवस्था में था, शक्तिशाली होते हुए भी नेताओं में कुछ योग्यताएं और नैतिकताएं थीं। पर अय्याश नेहरू और उसकी नीचता 👇

परेशान प्रधानमंत्री मियां नेहरू ने अपने विश्वासपात्र प्रताप सिंह कैरों से सवाल करने के बजाय सेना प्रमुख जनरल थिम्मैया से अपने अधिकारियों के आचरण के लिए स्पष्टीकरण मांगा।

क्या आप जानते हैं थिम्मैया ने क्या जवाब दिया?
“अगर हम अपनी महिलाओं के सम्मान की रक्षा नहीं कर सकते हैं, तो आप हमसे अपने देश के सम्मान की रक्षा की उम्मीद कैसे कर सकते हैं?” अय्याश मियां नेहरू अवाक रह गया।
यह कहानी थी एक बहादुर सैनिक की जिसने प्रधानमंत्री को ललकारा।

इस लेख का योगदान मेजर जनरल ध्रुव सी कटोच ने पत्रिका “सैल्यूट टू द इंडियन सोल्जर” में किया था। साभार

Ranjana Jain

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

भगवान नारायण


एक बार भगवान नारायण वैकुण्ठलोक में सोये हुए थे।उन्होंने स्वप्न में देखा कि करोड़ों चन्द्रमाओं की कांतिवाले, त्रिशूल-डमरू-धारी, स्वर्णाभरण-भूषित, सुरेन्द्र-वन्दित, सिद्धिसेवित त्रिलोचन भगवान शिव प्रेम और आनन्दातिरेक से उन्मत्त होकर उनके सामने नृत्य कर रहे हैं।
.
उन्हें देखकर भगवान विष्णु हर्ष से गद्गद् हो उठे और अचानक उठकर बैठ गये, कुछ देर तक ध्यानस्थ बैठे रहे। उन्हें इस प्रकार बैठे देखकर श्रीलक्ष्मी जी पूछने लगीं, “भगवन! आपके इस प्रकार अचानक निद्रा से उठकर बैठने का क्या कारण है?”
.
भगवान ने कुछ देर तक उनके इस प्रशन का कोई उत्तर नहीं दिया और आनंद में निमग्न हुए चुपचाप बैठे रहे, कुछ देर बाद हर्षित होते हुए बोले, “देवि, मैंने अभी स्वप्न में भगवान श्रीमहेश्वर का दर्शन किया है।
.
उनकी छवि ऐसी अपूर्व आनंदमय एवं मनोहर थी कि देखते ही बनती थी। मालूम होता है, शंकर ने मुझे स्मरण किया है। अहोभाग्य, चलो, कैलाश में चलकर हम लोग महादेव के दर्शन करें।” ऐसा विचार कर दोनों कैलाश की ओर चल दिये।

भगवान शिव के दर्शन के लिए कैलाश मार्ग पर आधी दूर गये होंगे कि देखते हैं भगवान शंकर स्वयं गिरिजा के साथ उनकी ओर चले आ रहे हैं। अब भगवान के आनंद का तो ठिकाना ही नहीं रहा। मानों घर बैठे निधि मिल गयी। पास आते ही दोनों परस्पर बड़े प्रेम से मिले।

ऐसा लगा, मानों प्रेम और आनंद का समुद्र उमड़ पड़ा। एक-दूसरे को देखकर दोनों के नेत्रों से आनन्दाश्रु बहने लगे और शरीर पुलकायमान हो गया। दोनों ही एक-दूसरे से लिपटे हुए कुछ देर मूकवत् खड़े रहे।
.
प्रशनोत्तर होने पर मालूम हुआ कि शंकर जी को भी रात्रि में इसी प्रकार का स्वप्न हुआ कि मानों विष्णु भगवान को वे उसी रूप में देख रहे हैं, जिस रूप में अब उनके सामने खड़े थे। दोनों के स्वप्न के वृत्तान्त से अवगत होने के बाद दोनों एक-दूसरे को अपने निवास ले जाने का आग्रह करने लगे।
.
नारायण ने कहा कि वैकुण्ठ चलो और भोलेनाथ कहने लगे कि कैलाश की ओर प्रस्थान किया जाये। दोनों के आग्रह में इतना अलौकिक प्रेम था कि यह निर्णय करना कठिन हो गया कि कहां चला जाय?
.
इतने में ही क्या देखते हैं कि वीणा बजाते, हरिगुण गाते नारद जी कहीं से आ निकले। बस, फिर क्या था? लगे दोनों उनसे निर्णय कराने कि कहां चला जाय? बेचारे नारदजी तो स्वयं परेशान थे, उस अलौकिक-मिलन को देखकर। वे तो स्वयं अपनी सुध-बुध भूल गये और लगे मस्त होकर दोनों का गुणगान करने।
.
अब निर्णय कौन करे? अंत में यह तय हुआ कि भगवती उमा जो कह दें, वही ठीक है। भगवती उमा पहले तो कुछ देर चुप रहीं। अंत में वे दोनों की ओर मुख करते हुए बोलीं…
.
हे नाथ, हे नारायण, आप लोगों के निश्चल, अनन्य एवं अलौकिक प्रेम को देखकर तो यही समझ में आता है कि आपके निवास अलग-अलग नहीं हैं, जो कैलाश है, वही वैकुण्ठ है और जो वैकुण्ठ है, वही कैलाश है, केवल नाम में ही भेद है।
.
यहीं नहीं, मुझे तो ऐसा प्रतीत होता है कि आपकी आत्मा भी एक ही है, केवल शरीर देखने में दो हैं। और तो और, मुझे तो स्पष्ट लग रहा है कि आपकी भार्याएँ भी एक ही हैं। जो मैं हूं, वही लक्ष्मी हैं और जो लक्ष्मी हैं, वही मैं हूँ।
.
केवल इतना ही नहीं, मेरी तो अब यह दृढ़ धारणा हो गयी है कि आप लोगों में से एक के प्रति जो द्वेष करता है, वह मानों दूसरे के प्रति ही करता है।
.
एक की जो पूजा करता है, वह मानों दूसरे की भी पूजा करता है। मैं तो तय समझती हूं कि आप दोनों में जो भेद मानता है, उसका चिरकाल तक घोर पतन होता है।
.
मैं देखती हूं कि आप मुझे इस प्रसंग में अपना मध्यस्थ बनाकर मानो मेरी प्रवंचना कर रहे हैं, मुझे असमंजस में डाल रहे हैं, मुझे भुला रहे हैं।
.
अब मेरी यह प्रार्थना है कि आप लोग दोनों ही अपने-अपने लोक को पधारिये। श्रीविष्णु यह समझें कि हम शिव रूप में वैकुण्ठ जा रहे हैं और महेश्वर यह मानें कि हम विष्णु रूप में कैलाश-गमन कर रहे हैं।
.
इस उत्तर को सुनकर दोनों परम प्रसन्न हुए और भगवती उमा की प्रशंसा करते हुए, दोनों ने एक-दूसरे को प्रणाम किया और अत्यंत हर्षित होकर अपने-अपने लोक को प्रस्थान किया।
.
लौटकर जब श्रीविष्णु वैकुण्ठ पहुंचे तो श्रीलक्ष्मी जी ने उनसे प्रशन किया, “हे प्रभु, आपको सबसे अधिक प्रिय कौन है?’
.
भगवन बोले, “प्रिये, मेरे प्रियतम केवल श्रीशंकर हैं। देहधारियों को अपने देह की भांति वे मुझे अकारण ही प्रिय हैं।
.
एक बार मैं और श्रीशंकर दोनों पृथ्वी पर घूमने निकले। मैं अपने प्रियतम की खोज में इस आशय से निकला कि मेरी ही तरह जो अपने प्रियतम की खोज में देश-देशान्तर में भटक रहा होगा, वही मुझे अकारण प्रिय होगा।
.
थोड़ी देर के बाद मेरी श्री शंकर जी से भेंट हो गयी। वास्तव में मैं ही जनार्दन हूं और मैं ही महादेव हूं। अलग-अलग दो घड़ों में रखे हुए जल की भांति मुझमें और उनमें कोई अंतर नहीं है।
.
शंकरजी के अतिरिक्त शिव की चर्चा करने वाला शिवभक्त भी मुझे अत्यंत प्रिय है। इसके विपरीत जो शिव की पूजा नहीं करते, वे मुझे कदापि प्रिय नहीं हो सकते।’

इस तरह जो शिव की पूजा करता है वह वैकुंठवासी विष्णु को भी स्वीकार है और जो श्री विष्णु की वंदना करता है, वह त्रिपुरारी को भी मना लेता है। ॐ नमः शिवाय जय श्री हरिहर जय श्री शिवपार्वती जय श्री लक्ष्मीनारायण

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

लीलावती


गणितज्ञ #लीलावती का नाम हममें से अधिकांश लोगों ने नहीं सुना है। उनके बारे में कहा जाता है कि वो पेड़ के पत्ते तक गिन लेती थी।

शायद ही कोई जानता हो कि आज यूरोप सहित विश्व के सैंकड़ो देश जिस गणित की पुस्तक से गणित को पढ़ा रहे हैं, उसकी रचयिता भारत की एक महान गणितज्ञ महर्षि भास्कराचार्य की पुत्री लीलावती है। आज गणितज्ञो को गणित के प्रचार और प्रसार के क्षेत्र में लीलावती #पुरूस्कार से सम्मानित किया जाता है।

आइए जानते हैं महान गणितज्ञ लीलावती के बारे में जिनके नाम से गणित को पहचाना जाता था।

दसवीं सदी की बात है, दक्षिण भारत में #भास्कराचार्य नामक गणित और ज्योतिष विद्या के एक बहुत बड़े पंडित थे। उनकी कन्या का नाम लीलावती था।

वही उनकी एकमात्र संतान थी। उन्होंने ज्यो‍तिष की गणना से जान लिया कि ‘वह विवाह के थोड़े दिनों के ही बाद विधवा हो जाएगी।’

उन्होंने बहुत कुछ सोचने के बाद ऐसा लग्न खोज निकाला, जिसमें विवाह होने पर कन्या विधवा न हो। विवाह की तिथि निश्चित हो गई। जलघड़ी से ही समय देखने का काम लिया जाता था।

एक बड़े कटोरे में छोटा-सा छेद कर पानी के घड़े में छोड़ दिया जाता था। सूराख के पानी से जब कटोरा भर जाता और पानी में डूब जाता था, तब एक घड़ी होती थी।
पर विधाता का ही सोचा होता है। लीलावती सोलह श्रृंगार किए सजकर बैठी थी, सब लोग उस शुभ लग्न की प्रतीक्षा कर रहे थे कि एक मोती लीलावती के आभूषण से टूटकर कटोरे में गिर पड़ा और सूराख बंद हो गया; शुभ लग्न बीत गया और किसी को पता तक न चला।

विवाह दूसरे लग्न पर ही करना पड़ा। लीलावती विधवा हो गई, पिता और पुत्री के धैर्य का बांध टूट गया। लीलावती अपने पिता के घर में ही रहने लगी।
पुत्री का वैधव्य-दु:ख दूर करने के लिए भास्कराचार्य ने उसे गणित पढ़ाना आरंभ किया। उसने भी गणित के अध्ययन में ही शेष जीवन की उपयोगिता समझी।

थोड़े ही दिनों में वह उक्त विषय में पूर्ण पंडिता हो गई। पाटी-गणित, बीजगणित और ज्योतिष विषय का एक ग्रंथ ‘सिद्धांतशिरोमणि’ भास्कराचार्य ने बनाया है। इसमें गणित का अधिकांश भाग लीलावती की रचना है।

पाटीगणित के अंश का नाम ही भास्कराचार्य ने अपनी कन्या को अमर कर देने के लिए ‘लीलावती’ रखा है।

भास्कराचार्य ने अपनी बेटी लीलावती को गणित सिखाने के लिए गणित के ऐसे सूत्र निकाले थे जो काव्य में होते थे। वे सूत्र कंठस्थ करना होते थे।

उसके बाद उन सूत्रों का उपयोग करके गणित के प्रश्न हल करवाए जाते थे।कंठस्थ करने के पहले भास्कराचार्य लीलावती को सरल भाषा में, धीरे-धीरे समझा देते थे।

वे बच्ची को प्यार से संबोधित करते चलते थे, “हिरन जैसे नयनों वाली प्यारी बिटिया लीलावती, ये जो सूत्र हैं…।” बेटी को पढ़ाने की इसी शैली का उपयोग करके भास्कराचार्य ने गणित का एक महान ग्रंथ लिखा, उस ग्रंथ का नाम ही उन्होंने “लीलावती” रख दिया।

आजकल गणित एक शुष्क विषय माना जाता है पर भास्कराचार्य का ग्रंथ ‘लीलावती‘ गणित को भी आनंद के साथ मनोरंजन, जिज्ञासा आदि का सम्मिश्रण करते हुए कैसे पढ़ाया जा सकता है,

इसका नमूना है। लीलावती का एक उदाहरण देखें- ‘निर्मल कमलों के एक समूह के तृतीयांश, पंचमांश तथा षष्ठमांश से क्रमश: शिव, विष्णु और सूर्य की पूजा की, चतुर्थांश से पार्वती की और शेष छ: कमलों से गुरु चरणों की पूजा की गई।

अये, बाले लीलावती, शीघ्र बता कि उस कमल समूह में कुल कितने फूल थे..?‘
उत्तर-120 कमल के फूल।

वर्ग और घन को समझाते हुए भास्कराचार्य कहते हैं ‘अये बाले,लीलावती, वर्गाकार क्षेत्र और उसका क्षेत्रफल वर्ग कहलाता है।

दो समान संख्याओं का गुणन भी वर्ग कहलाता है। इसी प्रकार तीन समान संख्याओं का गुणनफल घन है और बारह कोष्ठों और समान भुजाओं वाला ठोस भी घन है।‘

‘मूल” शब्द संस्कृत में पेड़ या पौधे की जड़ के अर्थ में या व्यापक रूप में किसी वस्तु के कारण, उद्गम अर्थ में प्रयुक्त होता है।

इसलिए प्राचीन गणित में वर्ग मूल का अर्थ था ‘वर्ग का कारण या उद्गम अर्थात् वर्ग एक भुजा‘।

इसी प्रकार घनमूल का अर्थ भी समझा जा सकता है। वर्ग तथा घनमूल निकालने की अनेक विधियां प्रचलित थीं।

लीलावती के प्रश्नों का जबाब देने के क्रम में ही “सिद्धान्त शिरोमणि” नामक एक विशाल ग्रन्थ लिखा गया, जिसके चार भाग हैं- (1) लीलावती (2) बीजगणित (3) ग्रह गणिताध्याय और (4) गोलाध्याय।

‘लीलावती’ में बड़े ही सरल और काव्यात्मक तरीके से गणित और खगोल शास्त्र के सूत्रों को समझाया गया है।

अकबर के दरबार के विद्वान फैजी ने सन् 1587 में “लीलावती” का #फारसी भाषा में अनुवाद किया।
अंग्रेजी में “लीलावती” का पहला अनुवाद जे. वेलर ने सन् 1716 में किया।

कुछ समय पहले तक भी भारत में कई शिक्षक गणित को दोहों में पढ़ाते थे। जैसे कि पन्द्रह का पहाड़ा…तिया पैंतालीस, चौके साठ, छक्के नब्बे… अट्ठ बीसा, नौ पैंतीसा…।

इसी तरह कैलेंडर याद करवाने का तरीका भी पद्यमय सूत्र में था, “सि अप जूनो तीस के, बाकी के इकतीस, अट्ठाईस की फरवरी चौथे सन् उनतीस!” इस तरह गणित अपने पिता से सीखने के बाद लीलावती भी एक महान गणितज्ञ एवं खगोल शास्त्री के रूप में जानी गयी।

मनुष्य के मरने पर उसकी कीर्ति ही रह जाती है अतः आज गणितज्ञो को लीलावती पुरूस्कार से सम्मानित किया जाता है।
हमारे पास बहुत कीमती इतिहास है जिसे छोड़कर हम आधुनिकता की दौड़ में विदेशों की नकल कर रहे हैं।
साभार

नव नंदन प्रसाद