Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

एक लकड़हारा था


‘एक लकड़हारा था. बहुत ही चतुर और बुद्धिमान. उसके साथी उसकी अक्लमंदी का लोहा मानते थे. एक बार की बात लकड़हारा जंगल में लकड़ी काटने निकला. वहां एक सूखे पेड़ को देख उनकी बांछें खिल गईं. पेड़ बड़ा था. उसकी लकड़ी को अकेले घर ले जाना संभव न था. कुछ सोचकर उसने जंगल से ही कुछ मजदूर दिहाड़ी पर ले लिए. काम को जल्दी निपटाने के फेर में वह पेड़ पर चढ़ा और जल्दी-जल्दी कुल्हाड़ी चलाने लगा. हड़बड़ी में कुल्हाड़ी का बेंट तने से टकराया और ‘खटाक्!’ कुल्हाड़ी हत्थे से अलग हो दूर जा गिरी.
‘उफ्!’ उसके मुंह से निकला, ‘काश! एक कुल्हाड़ी और ले आता.’ वह बड़बड़ाया. चेहरे पर परेशानी झलकने लगी—
‘अब क्या करें उस्ताद?’ एक मजदूर ने इशारे में पूछा. लकड़हारा सोच में पड़ा था. वह खाली हाथ घर नहीं लौटना चाहता था. उपाय एक ही था, घर से नई कुल्हाड़ी मंगवाई जाए. कटी हुई लकड़ी को छोड़ वह खुद जाना न चाहता था. तब लकड़हारे ने निर्णय लिया कि किसी मजदूर को घर भेजकर कुल्हाड़ी मंगवा ली जाए. पर भेजा किसे जाए? नौकरों को उसकी भाषा आती न थी. और पत्नी थी अनपढ़. चैका-चूल्हे में रमी रहने वाली.
खूब सोच-विचार के बाद उसने एक पत्थर मंगवाया. उसपर खडि़या मिट्टी से कुछ रेखाएं खींचीं और मजदूर को थमा दिया. मजदूर गया. लौटा तो उसके हाथ में नई कुल्हाड़ी थी. लकड़हारा तो काम में जुट गया. मगर साथ काम कर रहे मजदूरों की समझ में कुछ न आया. यह कैसे संभव हुआ कि लकड़हारे की पत्नी ने बिना कुछ पूछे नई कुल्हाड़ी उसके हाथ में थमा दी. जरूर वह कोई जादू जानता है. जबकि जादू जैसी कोई बात संभव ही नही है. लकड़हारे ने पत्थर पर कुल्हाड़ी का चित्र बनाकर मजदूर को दिया था. उस संकेत को समझकर उसकी पत्नी ने उसको कुल्हाड़ी थमा दी थी. लकड़हारे के चित्र के रूप में कुल्हाड़ी के प्रतीक का सहारा लिया था.

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

“જનેતાની ઊંચાઈ


નાટક……

“જનેતાની ઊંચાઈ”

લેખક : દશરથ પંચાલ નાટ્ય રૂપાંતર–જગદીશ રથવી

પડદો ખુલે છે,

(બેંકની બહાર આવીને એક વૃદ્ધ દંપતિ બેંકના પગથિયે બેઠાં હોય છે.)

વૃદ્ધ માજી (ઉભા થઈને વૃદ્ધ પતિને કહે છે.)— તમે,અહીં બેસો હું કેશીયરને મળીને આવું છું.

વૃદ્ધ- આ બેંકની પાસબુક તો લઈ જા, ઠાલે હાથે તને એ પૈસા કેવી રીતે આપશે?

વૃદ્ધા- (કરચલીઓવાળા ગાલમાં હસીને પાસ બુક લે છે.) હા,તમારી વાત સાચી છે,હું તો ભૂલી ગઈ હતી.

વૃદ્ધ–પૈસા આપે એ પૂરા ગણીને લાવજે.અને હવે પૈસા લીધા વિના પાછી આવતી નહીં. થાકી ગયા છીએ, ધક્કા ખાઈ ખાઈને.

વૃદ્ધા — એ સારું,તમે સાચવીને બેસજો.

વૃદ્ધ — એ હા,પણ તું જલ્દી આવજે, જોજે પાછી ,બૈરાંની લાઈનમાં ઉભી રહેજે,ઝટ,વારો આવે.
(વૃદ્ધા બેંકમાં જાય છે એ જોતાં જોતાં બોલે છે,)
જ્યાં જુઓ,ત્યાં લાઈન.આપણા પૈસા લેવાના એમાં પણ લાઈન..આ સરકાર કે દિવસે લાઈન પર આવશે,ખબર નથી પડતી,આ તે ભીખ છે કે ….

પડદો ખુલે છે,
(બેંકમાં કેશીયરની જોડે વૃદ્ધા ઉભાં છે.)
વૃદ્ધા.(.કાઉન્ટર પર જઈને પૂછે ) –‘મારા ખાતામાં દીકરાએ પૈસા મોકલ્યા છે?’

કાઉન્ટર–માજી તમે આંતરે દિવસે બેંકમાં આવો છો,તમને દર વખતે મારે એજ જવાબ આપવો પડે છે કે નથી આવ્યા.

વૃદ્ધા– સારું ભાઈ,કોઈ વાંધો નહીં, ફરી આવીશ.

    (એ પાછું ફરવા જતાં એમને ચક્કર આવી જાય છે,તે પડી જાય છે,કેશિયર ઉભા કરે છે,પાણી આપે છે,સારૂ લાગતાં)

કેશિયર– ‘માજી આટલી ઉંમરે બેંકમાં તમે શું કામ આવો છો? દીકરાને મોકલતાં હોય તો!’

વૃદ્ધા—- ‘એક જ દીકરો છે, તે બેંગ્લોર નોકરી કરે છે, દર મહિને પૈસા મોકલે છે, પણ હમણાંથી ખાતામાં પૈસા નથી આવતા.’

કેશિયર —-‘તમારા દીકરાને ફોન કરીને પૂછી જુઓ, તે કેમ નથી પૈસા મોકલતો?’

વૃદ્ધા—– ‘એક વખત સરપંચે ફોન કરેલો, પણ દીકરાની તબિયત સારી નહોતી.’

કેશિયર—-, ‘મને તમારા દીકરાનો નંબર આપો.’

(માજીએ મેલીઘેલી પાસબુક આપી. તેના ઉપર નંબર લખેલો હતો.કેશિયરે પાસબુક લઈ પોતાના મોબાઈલમાં પાસબુકમાં લખેલો નંબર જોડે છે.)

મોબાઈલ— ‘આ નંબર અસ્તિત્વમાં નથી’

કેશિયર–માજી,નંબર તો નથી લાગતો,પણ હું ફરી પ્રયત્ન કરી જોઈશ,તમે થોડીવાર બહાર બેસો.હું ફોન કરું છું,હવે,તમારે ધક્કા ખાવા નહીં પડે.

વૃદ્ધા—(આશીવાઁદ આપતાં હોય એમ બે હાથ લાંબા કરે છે.)
ભગવાન, તમારું ભલું કરશે.
(બહાર જાય છે. )

કેશિયર–આ માજી વારંવાર ધક્કા ખાય છે,લાવને હું જ એમના ખાતામાં થોડા પૈસા નાખી દઉં.

(માજીને બોલાવે છે અને કહે છે.)

કેશિયર– માજી, અહીં આવો.

વૃદ્ધા…હા,બોલો ભાઈ,શું થયું?

કેશિયર—તમારા દીકરા સાથે મારે વાત થઈ, તેની નોકરી છૂટી ગઈ હોવાથી તે પૈસા મોકલતો નહોતો, હવે બીજી જગ્યાએ એને નોકરી મળી ગઈ છે એટલે આવતા મહિનાથી તમને પૈસા મોકલશે.’

વૃદ્ધા : ‘બેટા, આ વાત તમે મારા પતિ બહાર બેઠા છે એને કહેશો?’

કેશિયર–, ‘તમે જ કહી દો ને! મારાથી ચાલું નોકરીએ બહાર ન જવાય.

વૃદ્ધા— ‘હું દર બે દિવસે એમને કહું છું, આજે તેઓ મારી સાથે આવ્યા છે ને બેંકની બહાર બેઠા છે. હું કહીશ તો એમને મારી વાત પર વિશ્વાસ નહીં આવે….

કેશિયર—-એમાં વિશ્વાસ કરવાની વાત જ ક્યાં આવી? પૈસા ન મોકલે તો પૈસા ન જ મળે.

વૃધ્ધા—-તમારી એ વાત સાચી છે,પણ ખરેખર તો મારા દીકરાને કોરોના ભરખી ગયો છે, તે વાત હું જાણું છું પણ મારા પતિ એ સમાચાર સહી નહીં શકે, માટે મેં એમને કહ્યું નથી!

કેશિયર-(અવાક બની ગયો! એ વૃદ્ધાની ઊંચાઈ પામવા શક્તિમાન ન હતો!) –
— માજી,હું તો ખોટું બોલીને તમને આશ્વાસન આપવા માગતો હતો.

વૃદ્ધા— હા,હું પણ જાણતી હતી કે મારા દિકરાનો નંબર કે મારો દીકરો અસ્તિત્વમાં નથી,પણ શું કરું?? એમના અસ્તિત્વને માટે હું અહીં આવવાનું નાટક કરું છું.

કેશિયર — માજી,આ ઉપરવાળાની લીલા પાસે આપણે પામર છીએ..હું દાદાને મળીને વાત સમજાવી જોઉં.

વૃદ્ધ —(બેંકની બહાર રાહ જોઈ રહેલા વૃધ્ધ અંદર આવતાં આ વાત સાંભળીને બોલે છે.)
— તમારી વાત મેં સાંભળી છે,મને તો ખબર જ છે,કે મારો દિકરો કોરોનામાં અવસાન પામ્યો છે, પણ એની મા એ આઘાત સહન ન કરી શકે તે માટે મેં એને કહ્યું નહોતું.હું જ એને બેંકમાં મોકલતો હતો…જેવાં અમારાં ભાગ્ય,ભગવાનને ગમ્યું તે ખરું!

કેશિયર–વાહ,જનેતાની ઉંચાઈ અને વાહ,બાપની ઉંડાઈ…

(પડદો પડે છે.)

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

व्यक्तित्व


व्यक्तित्व

फ्रांज़ काफ्का.

फ्रान्ज़ काफ़्का के दो भाई बचपन में ही मर गए थे. उसकी तीन बहनें – गाब्रीएल, वाली और ओतला – हिटलर की नाज़ी यंत्रणा शिविरों में मार डाली गईं. नौ साल छोटी और सबसे छोटी ओतला शुरू से ही उसकी सबसे प्यारी रही.

भाई-बहन का यह सम्बन्ध बेहद अन्तरंग था. वे अक्सर एक दूसरे को चिठ्ठियां लिखा करते. काफ़्का का जीवन उसके लेखन की ही तरह बेहद जटिल और मुश्किल था लेकिन वह अपनी हर बात ओतला के साथ साझा कर पाता था. तीस साल की आयु में काफ़्का को टीबी हो जाने के बाद इस बहन ने ही मृत्युपर्यन्त उसकी देखभाल की.

काफ़्का के गंभीर बीमार हो जाने पर वह उसे अपने साथ बोहेमिया के छोटे से कस्बे ज़ुराऊ में ले आती जहाँ उसका घर था. यहां वह अपनी बेटियों वेरा और हेलेना के साथ रहती थी. अपने लेखन में एक से अधिक बार काफ़्का ने ज़ुराऊ में बिताये समय को अपने जीवन का सबसे अच्छा समय बताया है जहां ओतला सुनिश्चित करती थी कि उसके भाई रहने-खाने के आराम के अलावा जरूरी दवाइयां और लिखने के लिए हर संभव सुविधा उपलब्ध रहे. अक्सर शामों को वह उसे प्लेटो पढ़कर सुनाता जबकि ओतला उसे पियानो पर गाना सिखाती.

काफ़्का के जीवनकाल में उसके लेखन की महानता को पहचान सकने वाले मुठ्ठी भर लोगों में ओतला भी थी.

ओतला ने शुरुआत से ही एक साहसी महिला होने के लक्षण दिखाना शुरू कर दिया था जब सोलह साल की आयु में उसने खेती से सम्बंधित एक ऐसे कोर्स में दाख़िला लिया जिसे करने वालों में वह इकलौती महिला थी. कोर्स मुश्किल था लेकिन फ्रान्ज़ की मदद से वह उसे आसानी से पूरा कर सकी. उसने अपने पिता की मर्जी के खिलाफ एक कैथोलिक व्यक्ति से शादी की और ज़ुराऊ में एक फ़ार्म का प्रबंधन करने लगी.

3 जून 1924 को चालीस साल की आयु में जब काफ़्का मरा, समूचा यूरोप पहले विश्वयुद्ध के प्रभावों से जूझ रहा था. भोजन और रोजगार की विकट कमी के उस दौर में ओतला ने कड़ी मेहनत की. भाई के जाने का गम पीकर उसने अपने परिवार के लिए जरूरी चीज़ें जुटाईं.

खामोश और रिजर्व स्वभाव की ओतला की असल ताकत का अंदाजा दूसरे विश्वयुद्ध के दौरान लगा. 1942 के आते आते हिटलर का पागलपन चरम पर पहुँच गया था. यहूदियों को चुन-चुन कर यंत्रणा शिविरों में पहुँचा कर मारा जा रहा था. ओतला यहूदी थी जबकि उसका पति ईसाई. अपने परिवार और बच्चियों को बचाने की खातिर उसने पति से तलाक ले लिया. इसके कुछ ही समय बाद उसे यंत्रणा शिविर में भेज दिया गया. अपने पिता के साथ रह रही उसकी बेटियों ने अधिकारियों से अपील की कि उन्हें भी माँ के पास भेज दिया जाय लेकिन उनकी बात नहीं मानी गयी. नतीजतन वे बच गईं.

टेरेजिन के यंत्रणा शिविर में ओतला की ड्यूटी उस वार्ड में लगाई गयी जहाँ पोलैंड से लाए जाने वाले यहूदी बच्चों को रखा जाता था. ओतला का काम मुंडी खोपड़ियों और भयभीत आँखों वाले इन बच्चों को नहलाने-धुलाने का था. इन बच्चों को कैम्प के बाकी लोगों से मिलने नहीं दिया था. ओतला को भी उनके बारे में किसी से कुछ कहने पर प्रतिबन्ध था. इनमें से कुछ बच्चों के साथ उसके मधुर सम्बन्ध बनने लगे थे जब 1943 के एक दिन इस बच्चों को ट्रकों में भरकर आउसविट्ज़ के उस बदनाम कैम्प में ले जाए जाने का फैसला हुआ जहाँ नहलाने के बहाने लोगों को शावर चैम्बरों में जहरीली गैस से मारा जाता था. ओत्ला आउसविट्ज़ की खौफ़नाक कहानियों के बारे में जानती थी. उसने नाज़ी अफसरों से कहा कि वह बच्चों आउसविट्ज़ पहुँचने तक उनके साथ रहना चाहती है. आउसविट्ज़ पहुँचते ही सारे बच्चों समेत ओतला की हत्या कर दी गई.

अपने आखिरी सालों में काफ़्का का लेखन इस कदर परिपक्व हो चुका था कि लगता उसका लिखी हर बात मानव सभ्यता में पहली बार कही जा रही हो. रूखा होने के बावजूद उसके गद्य का जटिल संसार सम्मोहक है. उसकी किताबों में ईश्वर कहीं नहीं मिलता लेकिन मुझ जैसे उसके प्रेमियों के लिए वह खुद किसी ईश्वर जैसा है.

काफ़्का के गद्य के इस रूखे, ईश्वरहीन संसार में सबसे अधिक रोशनी उसकी किताब ‘ज़ुराऊ अफोरिज्म्स’ में दिखाई देती है. ओतला न होती तो यह किताब न होती. अपने भाई की जैसी देखभाल उसने की उसकी दास्तानें पढ़कर अहसास होती है कि ओतला न होती तो शायद न ग्रेगोर साम्सा रचा जा सकता था न काफ़्का वे महान उपन्यास. और अगर ग्रेगोर साम्सा न रचा जाता तो शायद जैसा गाब्रीएल गार्सिया मारकेज ने कहा है वे खुद ज़िंदगी भर पत्रकार ही बने रहते. तब न एकाकीपन के सौ साल होते न गाबो मार्केज़ का तितलियों भरा जादुई संसार.

विकट कहानियों से भरा पड़ी है दुनिया!
( Copied )

vss

(फोटो: फ्रान्ज़ काफ़्का और ओतला)

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

खरमास


. खरमास,,

एक बार सूर्य देवता अपने सात घोड़ों के रथ पर सवार होकर ब्राह्मांड की परिक्रमा कर रहे थे।
इस दौरान उन्हें कहीं पर भी रूकने की इजाजत नहीं थी। यदि इस दौरान वो रूक जाते तो जनजीवन भी ठहर जाता।
परिक्रमा शुरू की गई, लेकिन लगातार चलते रहने के कारण उनके रथ में जुते घोड़े थक जाते हैं, और घोड़ों को प्यास लग जाती है।
घोड़ों की उस दयनीय दशा को देखकर सूर्यदेव को उनकी चिंता हो गई। और वो घोड़ों को लेकर एक तालाब के किनारे चले गए, ताकि घोड़ों को पानी पिला सकें।
लेकिन उन्हें तभी यह आभास हुआ कि अगर रथ रूका तो अनर्थ हो जाएगा। क्योंकि रथ के रूकते ही पूरा जनजीवन भी ठहर जाता। घोड़ों का सौभाग्य ही था कि उस तालाब के किनारे दो "खर* मौजूद थे। और खर गधे को कहा जाता है। भगवान सूर्यदेव की नजर उन गधों पर पड़ी और उन्होंने अपने घोड़ों को वहीं तालाब के किनारे पानी पीने और विश्राम करने के लिए छोड़ दिया, और घोड़ों की जगह पर खर यानि गधों को अपने रथ में जोड़ लिया। लेकिन खरों के चलने की गति धीमी होने के कारण रथ की गति भी धीमी हो गई। फिर भी जैसे तैसे एक मास का चक्र पूरा हो गया। उधर तब तक घोड़ों को काफी आराम मिल चुका था। इस तरह यह क्रम चलता रहता है।

हर सौर वर्ष में एक सौर मास खर मास कहलाता है। जिसे मलमास के नाम से भी जाना जाता है।

खरमास में,,,,
गो सेवा का प्रमुख महत्व -इस माह में गो माता को गुड़,चारा ,खिचड़ी व ओढ़नी देने का बहुत पुण्य है।जैसे जैसे गो माता प्रसन्न होती है वेसे ही आपका परिवार एवं सन्तति प्रसन्न होती है। ★ खरमास के महीने में पूजा-पाठ धर्म-कर्म, मंत्र जाप, भागवत गीता, श्रीराम की कथा, पूजा, कथावाचन, और विष्णु भगवान की पूजा करना बहुत शुभ माना जाता है।
★ दान, पुण्य, जप, और भगवान का ध्यान लगाने से कष्ट दूर हो जाते हैं।.*
★ इस मास में भगवान शिव की आराधना करने से कष्टों का निवारण होता है।
★ शिवजी के अलावा खरमास में भगवान विष्णु की पूजा भी फलदायी मानी जाती है।
★ खरमास के महीने में सूर्यदेव को अर्घ्य दिया जाता है।
★ ब्रह्म मुहूर्त में उठकर स्नान आदि से निवृत होकर तांबे के लोटे में जल, रोली या लाल चंदन, शहद लाल पुष्प डालकर सूर्यदेव को अर्घ्य दें।

मकर संक्रांति 14 जनवरी 2022 पौष मास के शुक्ल पक्ष की द्वादशी तिथि के दिन खरमास का समाप्त हो जाएगा।
जय महादेव
🚩

वीरभद्र आर्य

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

भिखारी


बहुत पुरानी कथा है। सुबह का समय था। पाटलिपुत्र में एक भिखारी सबसे व्यस्त चौराहे पर भिक्षा के लिए बैठा था। उसी चौराहे से मंदिर जाने के लिए नगर के एक प्रसिद्ध सेठ गुजरे। भिक्षुक ने बड़ी आशा से उनके सामने अपने हाथ पसारे। यह देखकर सेठ धर्म संकट में पड़ गए। उनके पास उसे देने के लिए कुछ भी नहीं था। उन्होंने भिखारी के हाथ पर अपना हाथ रख कर कहा, ‘भाई, मुझे बड़ा दुख है कि इस समय मेरे पास तुम्हें देने के लिए कुछ भी नहीं है। हां, कल जब मैं आऊंगा, तब निश्चित रूप से तुम्हारे लिए कुछ न कुछ लेकर अवश्य आऊंगा।’

सेठ की बात पूरी भी नहीं हुई थी कि भिखारी की आंखों से आंसू बह निकले। भिखारी को रोता देख आसपास खड़े लोगों को लगा कि सुबह की वेला में प्रथम व्यक्ति से भिक्षा न मिलने के कारण भिखारी को दुख हो रहा है। सभी ने उसे भिक्षा देनी चाही तो भिखारी और जोर से रोता हुआ बड़े विनम्र भाव से बोला,’मैं भिक्षा न मिलने के कारण नहीं रो रहा हूं। अब मुझे किसी से कुछ भी नहीं चाहिए। सेठजी ने आज मुझे वो सब कुछ दे दिया है जो आज तक किसी से नहीं मिला। भीख में आज तक मुझे न जाने कितने लोगों ने धन दिए, खाने को दिया। पर हर किसी के भीतर उपकार करने का भाव था। लेकिन सेठजी ने जो दिया वह दुनिया न दे सकी। वह है स्नेह।

उन्होंने मुझे भाई कह कर पुकारा। मेरे हाथ पर हाथ रख कर मुझे संबल दिया। ठीक है कि मुझे भिक्षा चाहिए पर एक मनुष्य होने के नाते मनुष्योचित व्यवहार भी चाहिए। मुझे मधुर बोल भी चाहिए। आज मुझे जीवन में पहली बार किसी ने भाई कहा है। सेठजी आप जब भी इधर से गुजरें तो मुझे भाई अवश्य कहें।’

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

जनरल सगत


भारत का सबसे निर्भीक जनरल- जनरल सगत

जनरल सगत एकमात्र सैन्य अधिकारी है जिन्होंने तीन युद्ध में जीत हासिल की। उनके नेतृत्व में गोवा को पुतर्गाल से मुक्त कराया गया। वहीं वर्ष 1967 में चीनी सेना की भी घेराबंदी की। इसके बाद वर्ष 1971 के भारत-पाक युद्ध में अपने वरिष्ठ अधिकारियों के आदेशों को दरकिनार कर जनरल सगत ढाका पर जा चढ़े। इसकी बदौलत पाकिस्तानी सेना को हथियार डालने को मजबूर होना पड़ा।

आजादी के बाद सन 1961 में गोवा मुक्ति अभियान में सगत सिंह के नेतृत्व में ऑपरेशन विजय के अंतर्गत सैनिक कार्रवाई हुई और पुर्तगाली शासन के अंत के बाद गोवा भारतीय गणतंत्र का अंग बना।

गोवा मुक्ति के लिए दिसम्बर 1961 में भारतीय सेना के ऑपरेशन विजय में 50 पैरा को सहयोगी की भूमिका में चुना गया। लेकिन उन्होंने इससे कहीं आगे बढ़ इतनी तेजी से गोवा को मुक्त कराया कि सभी दंग रह गए।18 दिसम्बर को 50 पैरा को गोवा में उतारा गया।

19 दिसम्बर को उनकी बटालियन गोवा के निकट पहुंच गई। पणजी के बाहर पूरी रात डेरा जमा रखने के बाद उनके जवानों ने तैरकर नदी को पार कर शहर में प्रवेश किया। उन्होंने ही पुर्तगालियों को आत्मसमर्पण करने को मजबूर किया। पुर्तगाल के सैनिकों सहित 3306 लोगों ने आत्मसमर्पण किया। इसके साथ ही गोवा पर 451 साल से चला आ रहा पुर्तगाल का शासन समाप्त हुआ और गोवा भारत का हिस्सा बन गया।

वर्ष 1965 में सगत सिंह को मेजर जनरल के रूप में नियुक्ति देकर 17 माउंटेन डिविजन की कमांड देकर चीन की चुनौती का सामना करने के लिए सिक्किम में तैनात किया गया था।

पाकिस्तान से युद्ध में उलझे भारत को देख चीन ने फायदा उठाने की सोच कर नाथू ला और जेलेप ला में लाउड स्पीकर लगाकर भारतीय सेना को चेतावनी दी की ये चीन का क्षेत्र है इसे खाली करो।

भारतीय सेना हेड क्वार्टर ने स्थिति की गंभीरता को देखते हुए जेलेप ला और नाथू ला से भारतीय सेना को पीछे हटने का आदेश दिया।

जेलेप ला से सेना पीछे हट गई लेकिन नाथुला दर्रे पर तैनात भारतीय सेना के सेना नायक सगत सिंह ने अविचलित होकर अपना काम जारी रखा, और मुख्यालय के आदेश को नहीं मानते हुए चीनी सैनिको को उन्ही की भाषा में जवाब दिया और सीमा निर्धारण कर तार-बाड़ का काम जारी रखा जिसे रोकने की चीन ने पूरी कोशिश की।

बात अगर सिक्किम के पास नाथू ला में हुए भारत-चीन युद्ध 1967 की करें तो उसमें भारत ने चीन को धूल चटा दी थी। उस जंग में चीन के 300 से अधिक सैनिक मारे गए थे जबकि भारत को सिर्फ़ 65 सैनिकों का नुक़सान उठाना पड़ा था।

भारत-चीन युद्ध 1962 के पांच साल बाद 1967 में हुई जंग में भारत जीता था और जीत के हीरो रहे थे लेफ्टिनेंट जनरल सगत सिंह राठौड़। भारतीय सेना का वो बहादुर अफसर जिसने प्रधानमंत्री की बिना अनुमति के तोपों का मुंह खोल दिया और गोले बरसाकर चीन के तीन सौ से ज्यादा सैनिक ढेर कर दिए।

इन्हीं सगत सिंह द्वारा नाथू ला को ख़ाली न करने का निर्णय आज भी देश के काम आ रहा है और नाथू ला आज भी भारत के कब्जे में है जबकि जेलेप ला चीन के कब्जे में चला गया।

वर्ष 1967 में सगत सिंह को जनरल सैम मानेकशा ने मिजोरम में अलगाववादियों से निपटने की जिम्मेदारी दी जिसे उन्होंने बखूबी निभाया और बांग्लादेश मुक्ति में ढाका पर कब्जा करने वाले सेनानायक यही सगत सिंह राठौर ही थे। सैन्य इतिहासकार मेजर चंद्रकांत सिंह बांग्लादेश की आजादी का पूरा श्रेय सगत सिंह को देते हैं।

जनरल सगत वर्ष 1971 के भारत-पाक युद्ध के दौरान अगरतला सेक्टर की तरफ से हमला बोला और अपनी सेना को लेकर आगे बढ़ते रहे। जनरल अरोड़ा ने उन्हें मेघना नदी पार नहीं करने का आदेश दिया। लेकिन हेलिकॉप्टरों की मदद से चार किलोमीटर चौड़ी मेघना नदी के पार उन्होंने पूरी ब्रिगेड उतार दी और आगे बढ़ गए।

जनरल सगत के नेतृत्व में भारतीय सेना ने ढाका को घेर लिया और जनरल नियाजी को आत्मसमर्पण का संदेश भेजा। इसके बाद 93 हजार पाकिस्तानी सैनिकों का आत्मसमर्पण और बांग्लादेश का उदय अपने आप में इतिहास बन गया।

तो यह है पुर्तगाल, चीन और पाकिस्तान को परास्त करनेवाले एकमात्र योद्धा की कहानी जिनके बारे में कोई नहीं जानता। सगत सिंह ने सेना के मन से चीनियों का भय निकाला। सगत सिंह को तो हार के भय से नाथुला में लड़ने की आज्ञा भी नहीं दी गयी, लेकिन भारत माता की आन और मान-सम्मान के लिए इस शेर नें न सिर्फ युद्ध लड़ा बल्कि विजय भी प्राप्त की।

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

चाणक्य


जब यूनानी आक्रमणकारी सेल्यूकस चन्द्रगुप्त मौर्य से हार गया और उसकी सेना बंदी बना ली गयी तब उसने अपनी खूबसूरत बेटी हेलेना के विवाह का प्रस्ताव चन्द्रगुप्त के पास भेजा ..!
सेल्यूकस की सबसे छोटी बेटी थी हेलेन बेहद खुबसूरत , उसका विवाह आचार्य चाणक्य ने प्रस्ताव मिलने पर सम्राट चन्द्रगुप्त से कराया ! पर उन्होंने विवाह से पहले हेलेन और चन्द्रगुप्त से कुछ शर्ते रखी जिस पर उन दोनों का विवाह हुआ !

पहली शर्त यह थी की उन दोनों से उत्पन्न संतान उनके राज्य का उत्तराधिकारी नहीं होगा और कारण बताया की हेलेन एक विदेशी महिला है , भारत के पूर्वजो से उसका कोई नाता नहीं है ! भारतीय संस्कृति से हेलेन पूर्णतः अनभिग्य है और दूसरा कारण बताया की हेलेन विदेशी शत्रुओ की बेटी है ! उसकी निष्ठा कभी भारत के साथ नहीं हो सकती !

तीसरा कारण बताया की हेलेन का बेटा विदेशी माँ का पुत्र होने के नाते उसके प्रभाव से कभी मुक्त नहीं हो पायेगा और भारतीय माटी, भारतीय लोगो के प्रति पूर्ण निष्ठावान नहीं हो पायेगा !

एक और शर्त चाणक्य ने हेलेन के सामने रखी की वह कभी भी चन्द्रगुप्त के राज्य कार्य में हस्तक्षेप नहीं करेगी और राजनीति और प्रशासनिक अधिकार से पूर्णतया विरत रहेगी ! परन्तु गृहस्थ जीवन में हेलेन का पूर्ण अधिकार होगा !

भारत ही नही विश्व भर में चाणक्य जैसा कुटनीतिक और नीतिकार राजनितिक आज तक दूसरा कोई नही पैदा हुआ ..फिर भी आज भारत उनकी सबक को भूल गया है !

इसी को आप राहुल विन्ची उर्फ़ गांधी से जोड़ सकते है

जय सिया राम !

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

रक्षा


🙏🌹प्रेरणादायक
एक बार एक लडका था . वह सारा दिन भगवान की भक्ति में लगा रहता. साधू संतो की सेवा करता था. कोई कोई काम धंधा नहीं करता था. उसके मां-बाप भाई सब उसे निकम्मा कहते थे. पूरा परिवार उस से परेशान रहता था.
उस नगर के राजा की कोई संतान नहीं थी. ज्ञानी पंडितो ने कहा, राजन अगर आप किसी नव युवक की बलि दोगे तो आप को संतान अवश्य होगी. पूरे नगर में घोषणा करवा दी गई कि जो परिवार अपने बेटे को राजा की बलि के लिए देने को तैयार है, उसे बहुत सा धन दिया जाएगा.
यह खबर उस लड़के के परिवार तक पहुंची. परिवार ने सोचा कोई काम धंधा तो करता नहीं, हमारे किसी काम का नहीं. इसी को राजा के पास भेज देते है और धन से आने वाली पीढ़ियां की भी आर्थिक हालत सुधर जाएगी.
लड़के को राजा के पास बलि के लिए भेज दिया गया. अगले दिन उसकी बलि से पहले उसकी पूजा की गई.
राजा ने लड़के से उसकी अंतिम इच्छा पूछी. उसने कहा, “अंतिम इच्छा में मुझे थोड़ी मिट्टी चाहिए.”
लड़के को मिट्टी दे दी गई. उसने उस मिट्टी के चार ढेर लगाए. उनमें से तीन को तोड़ दिया और एक ही रहने दिया. यह सब कर ने के बाद उसने राजा से कहा,”अब आप मेरी बलि दे सकते है”
राजा ने कहा कि, “पहले तुम बताओ कि तुमे ने पहली तीन ढेर क्यों तोड़े और आखिरी क्यों छोड़ दी.”
उसने कहा, “इसे रहने दो आप अब मेरी बलि दे दो”
राजा ने कहा, “मेरा आदेश है बताओ इस का अर्थ क्या है.”
लड़के ने जवाब दिया, “कोई भी जीव अपने रक्षा के लिए सब से पहले अपने मां बाप, फिर राजा और फिर देवता पर विश्वास करता है. लेकिन मां बाप ने ही मुझे बेच दिया . राजा प्रजा की रक्षा करता है. परन्तु यहां तो राजा ही बलि दे रहा है. फिर जीव देवता की तरफ देखता है यहां देवता को ही बलि दी जा रही है.
अंतिम ढेरी परमात्मा की है. मुझे अब भी उन पर विश्वास है. इस लिए मैंने उस ढेरी को नहीं तोडा. मुझे विश्वास है कि वो अपने भक्त की रक्षा जरूर करेगे.
यह सुनकर राजा का मन बदल गया. उस ने सोचा यह नौजवान तो बहुत समझदार हुए. उसने बलि का विचार त्याग दिया. उस लड़के को ही अपना पुत्र बना लिया और उसे अपना उत्तराधिकारी घोषित कर दिया.
🙏🌹जय श्री राम 🌹🙏

ओली अमित

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

ऋण मुक्ति


. ऋण मुक्ति,,,,,

एक धर्मशाला में पति-पत्नी अपने छोटे-से नन्हें-मुन्ने बच्चे के साथ रुके। धर्मशाला कच्ची थी। दीवारों में दरारें पड़ गयी थीं आसपास में खुला जंगल जैसा माहौल था। पति-पत्नी अपने छोटे-से बच्चे को प्रांगण में बिठाकर कुछ काम से बाहर गये।
वापस आकर देखते हैं तो बच्चे के सामने एक बड़ा नाग कुण्डली मारकर फन फैलाये बैठा है। यह भयंकर दृश्य देखकर दोनों हक्के-बक्के रह गये। बेटा मिट्टी की मुट्ठी भर-भरकर नाग के फन पर फेंक रहा है और नाग हर बार झुक-झुककर सहे जा रहा है।

माँ चीख उठी ,
बाप चिल्लायाः-

“बचाओ… बचाओ… हमारे लाड़ले को बचाओ।”
लोगों की भीड़ इकट्ठी हो गयी। उसमें एक निशानेबाज था। ऊँट गाड़ी पर बोझा ढोने का धंधा करता था।

वह बोलाः “मैं निशाना तो मारूँ, सर्प को ही खत्म करूँगा लेकिन निशाना चूक जाय और बच्चे को चोट लग जाय तो मैं जिम्मेदार नहीं। आप लोग बोलो तो मैं कोशिश करूँ ?”

पुत्र के आगे विषधर बैठा है !
ऐसे प्रसंग पर कौन-सी माँ-बाप इनकार करेगे ?
वह सहमत हो गये और माँ बोलीः “भाई ! साँप को मारने की कोशिश करो,अगर गलती से बच्चे को चोट लग जायेगी तो हम कुछ नहीं कहेंगे।”

ऊँटवाले ने निशाना मारा। साँप जख्मी होकर गिर पड़ा, मूर्च्छित हो गया। लोगों ने सोचा कि साँप मर गया है। उन्होंने उसको उठाकर बाड़ में फेंक दिया।
रात हो गयी।
वह ऊँटवाला उसी धर्मशाला में अपनी ऊँटगाड़ी पर सो गया।
रात में ठंडी हवा चली। मूर्च्छित साँप सचेतन हो गया और आकर ऊँटवाले के पैर में डसकर चला गया। सुबह लोग देखते हैं तो ऊँटवाला मरा हुआ था।

दैवयोग से सर्पविद्या जानने वाला एक आदमी वहाँ ठहरा हुआ था। वह बोलाः “साँप को यहाँ बुलवाकर जहर को वापस खिंचवाने की विद्या मैं जानता हूँ। यहाँ कोई आठ-दस साल का निर्दोष बच्चा हो तो उसके चित्त में साँप के सूक्ष्म शरीर को बुला दूँ और वार्तालाप करा दूँ।
गाँव में से आठ-दस साल का बच्चा लाया गया। उसने उस बच्चे में साँप के जीव को बुलाया।

उससे पूछा गया – “इस ऊँटवाले को तूने काटा है ?” बच्चे में मौजूद जीव ने कहा – “हाँ।”

फिर पूछा कि ,- “इस बेचारे ऊँट वाले को क्यों काटा ?”

बच्चे के द्वारा वह साँप बोलने लगाः “मैं निर्दोष था। मैंने इसका कुछ बिगाड़ा नहीं था। इसने मुझे निशाना बनाया तो मैं क्यों इससे बदला न लूँ ?”

वह बच्चा तुम पर मिट्टी डाल रहा था उसको तो तुमने कुछ नहीं किया !”
बालक रूपी साँप ने कहा- ” बच्चा तो मेरा तीन जन्म पहले का लेनदार है।
तीन जन्म पहले मैं भी मनुष्य था, वह भी मनुष्य था। मैंने उससे तीन सौ रुपये लिए थे लेकिन वापस नहीं दे पाया। अभी तो देने की क्षमता भी नहीं है। ऐसी भद्दी योनियों में भटकना पड़ रहा है,आज संयोगवश वह सामने आ गया तो मैं अपना फन झुका -झुकाकर उससे माफी मांग रहा था। उसकी आत्मा जागृत हुई तो धूल की मुट्ठियाँ फेंक-फेंककर वह मुझे फटकार दे रहा था कि ‘लानत है तुझे ! कर्जा नहीं चुका सका….’ उसकी वह फटकार सहते-सहते मैं अपना ऋण अदा कर रहा था।

हमारे लेन-देन के बीच टपकने वाला वह ऊँट वाला कौन होता है ?
मैंने इसका कुछ भी नहीं बिगाड़ा था फिर भी इसने मुझ पर निशाना मारा। मैंने इसका बदल लिया।”

सर्प-विद्या जाननेवाले ने साँप को समझाया, “देखो, तुम हमारा इतना कहना मानों, इसका जहर खींच लो।
उस सर्प ने कहा – “मैं तुम्हारा कहना मानूँ तो तुम भी मेरा कहना मानो। मेरी तो वैर लेने की योनि है। और कुछ नहीं तो न सही,मुझे यह ऊँटवाला पाँच सौ रुपये देवे तो अभी इसका जहर खींच लूँ। उस बच्चे से तीन जन्म पूर्व मैंने तीन सौ रुपये लिये थे, दो जन्म और बीत गये, उसके सूद के दौ सौ मिलाकर कुल पाँच सौ लौटाने हैं।
“किसी सज्जन ने पाँच सौ रूपये उस बच्चे के माँ-बाप को दे दिये। साँप का जीव वापस अपनी देह में गया, वहाँ से सरकता हुआ मरे हुए ऊँटवाले के पास आया और जहर वापस खींच लिया। ऊँटवाला जिंदा हो गया।

इस कथा से स्पष्ट होता है कि इतना व्यर्थ खर्च नहीं करना चाहिए कि सिर पर कर्जा चढ़ाकर मरना पड़े और उसे चुकाने के लिए फन झुकाना पड़े, मिट्टी से फटकार सहनी पड़े।

जब तक आत्मज्ञान नहीं होता तब तक कर्मों का ऋणानुबंध चुकाना ही पड़ता है।
अतः निष्काम कर्म करके ईश्वर को संतुष्ट करें।
अपने आत्मा- परमात्मा का अनुभव करके यहीं पर, इसी जन्म में शीघ्र ही मुक्ति को प्राप्त करें।
जय महादेव

वीरभद्र आर्य
🚩

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

मां


वो विधवा थी पर श्रृंगार ऐसा कर के रखती थी कि पूछो मत। बिंदी के सिवाय सब कुछ लगाती थी। पूरी कॉलोनी में उनके चर्चे थे। उनका एक बेटा भी था जो अभी नौंवी कक्षा में था। पति रेलवे में थे उनके गुजर जाने के बाद रेलवे ने उन्हें एक छोटी सी नौकरी दे दी थी।

उनके जलवे अलग ही थे। 1980 के दशक में बॉय कटिंग रखती थी। सभी कालोनी की आंटियां उन्हें ‘परकटी’ कहती थी। वह भी उस समय नया नया जवान हुआ था। अभी 16 साल का ही था। लेकिन घर बसाने के सपने देखने शुरू कर दिए थे। उसका आधा दिन आईने के सामने गुजरता था और बाकि आधा परकटी आंटी की गली के चक्कर काटने में। उसका का नवव्यस्क मस्तिष्क इस मामले में काम नहीं करता था कि समाज क्या कहेगा? यदि उसके दिल की बात किसी को मालूम हो गई तो? उसे किसी की परवाह नहीं थी। परकटी आंटी को दिन में एक बार देखना उसका जूनून था।

उस दिन बारिश अच्छी हुई थी। वह स्कूल से लौट रहा था। साइकिल पर ख्वाबो में गुम उसे पता ही नहीं लगा कि अगले मोड़ पर कीचड़ की वजह से कितनी फिसलन थी। अगले ही क्षण जैसे ही वह अगले मोड़ पर मुड़ा साइकिल फिसल गई और साइकिल के नीचे। उसी वक्त सामने से आ रहे स्कूटर ने भी टक्कर मार दी। उसका सर मानो खुल गया हो। खून का फव्वारा फूटा। उसका दर्द से ज्यादा इस घटना के झटके से स्तब्ध था। वह गुम सा हो गया। भीड़ में से कोई उसकी सहायता को आगे नहीं आ रहा था। खून लगातार बह रहा था।

तभी एक जानी पहचानी आवाज उसका नाम पुकारती है। उसको की धुंधली हुई दृष्टि देखती है कि परकटी आंटी भीड़ को चीर पागलों की तरह दौड़ती हुई आ रही थी। परकटी आंटी ने उसका सिर गोद में लेते ही उसका माथा जहाँ से खून बह रहा था उसे अपनी हथेली से दबा लिया। आंटी की रंगीन ड्रेस खून से लथपथ हो गई थी। आंटी चिल्ला रही थी “अरे कोई तो सहायता करो, यह मेरा बेटा है, कोई हॉस्पिटल ले चलो हमें।” उसका अभी तक भी याद है। एक तिपहिया वाहन रुकता है। लोग उसमे उन दोनों को बैठाते हैं। आंटी ने अब भी उसका माथा पकड़ा हुआ था। उसे सीने से लगाया हुआ था।

उसको टांके लगा कर घर भेज दिया जाता है। परकटी आंटी ही उसे रिक्शा में घर लेकर जाती हैं। अब ठीक है। लेकिन एक पहेली उसे समझ नहीं आई कि उसकी वासना कहाँ लुप्त हो गई थी। जब परकटी आंटी ने उसे सीने से लगाया तो उसे ऐसा क्यों लगा कि उसकी माँ ने उसे गोद में ले लिया हो। वात्सल्य की भावना कहाँ से आई। उसका दृष्टिकोण कैसे एक क्षण में बदल गया। क्यों वह अब मातृत्व के शुद्ध भाव से परकटी आंटी को देखता

आज वह एक रिटायर्ड अफसर है। समय बिताने के लिए कम्युनिटी पार्क में जाता है। वहां बैठा वो आज सुन्दर औरतों को पार्क में व्यायाम करते देख कर मुस्कुराता है। क्योंकि उसने एक बड़ी पहेली बचपन में हल कर ली थी। वो आज जानता है, मानता है, और कई लेख भी लिख चूका है कि महिलाओं का मूल भाव मातृत्व का है। वो चाहें कितनी भी अप्सरा सी दिखें दिल से हर महिला एक ‘माँ’ है। वह ‘माँ’ सिर्फ अपने बच्चे के लिए ही नहीं है। वो हर एक लाचार में अपनी औलाद को देखती है। दुनिया के हर छोटे मोटे दुःख को एक महिला दस गुणा महसूस करती है क्योंकि वह स्वतः ही कल्पना कर बैठती है कि अगर यह मेरे बेटे या बेटी के साथ हो जाता तो? इस कल्पना मात्र से ही उसकी रूह सिहर उठती है। वो रो पड़ती है। और दुनिया को लगता है कि महिला कमजोर है। आजभी वह मुस्कराता है, मन ही मन कहता है कि “हे, विश्व के भ्रमित मर्दो! औरत दिल से कमजोर नहीं होती, वो तो बस ‘माँ’ होती है।”

_दिनेश सिंह हिसामपुर डोभी केराकत जौनपुर उत्तर प्रदेश