Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

🌳🦚आज की कहानी🦚🌳

💐💐सीताराम की जोड़ी💐💐

‘भगवान राम’ को जब पिता दशरथ वन जाने की आज्ञा देतें हैं तो वो पिता के आदेश का अनुपालन करते हुये वन जाने को प्रस्तुत हो जातें हैं और अपने सभी गुरुजनों, मंत्रिपरिषद के लोग, प्रजाजनों तथा परिजनों से मिलने और अंतिम आज्ञा लेने जातें हैं।

इस क्रम में राम सबसे पहले अपनी जननी कौशल्या के पास जातें हैं और माता से अपने वनगमन की बात कहतें हैं। माँ शोकमग्न हो जातीं हैं।
उसी समय अनुज लक्ष्मण भी वहां उपस्थित होतें हैं और दोनों राम से कहतें हैं, वन न जाओ। लक्ष्मण तो ये तक कह देतें हैं कि आप मेरी सहायता से राज्य का शासन बलपूर्वक अपने हाथ में ले लीजिये।
शोक में डूबी माँ कौशल्या लक्ष्मण की बातों का अनुमोदन करती हैं और दोनों श्रीराम को उनके धर्म का पालन करने से रोकतें हैं। राम किसी तरह उन्हें समझा-बुझाकर वहां से निकल जाते हैं तो पुनः लक्ष्मण उनको कई तरह से समझाने की कोशिश करतें हैं ।
मगर धर्म का पालन करने और कराने हेतू धरती पर अवतरित भगवान उनकी बात नहीं मानते। राम वन जाने से पूर्व जिस-जिस के पास भी जातें हैं सब राम से यही कहतें हैं कि राम ! तुम वन न जाओ और अयोध्या का शासन अपने हाथों में ले लो। सारी प्रजा, सारे गुरुजन, सारे मंत्रियों में से कोई भी नहीं था जिसने राम से ये कहा हो कि तुम अयोध्या के महाराज दशरथ की इस आज्ञा का अनुपालन करो और पिता की आज्ञा का पालन कर धर्म के रक्षक बनो।

वनवास पूर्व श्रीराम को उनके धर्मपथ और कर्तव्य-पथ से विरत न करने वालों में एक ही नाम है और वो नाम है उनकी भार्या “जानकी” का।

प्रभु जब अपनी पत्नी को अपने वन जाने की आज्ञा के बारे में बताते हैं तो वो एक बार भी उनसे नहीं कहतीं कि आप पिता और माता की आज्ञा का उल्लंघन कर दो और बलपूर्वक शासक बन जाओ। धर्म-मार्ग और कर्तव्य-पथ की ओर कदम बढ़ा चुके श्रीराम को एक बार भी वो अपने फैसले पर पुनर्विचार करने को नहीं कहतीं बल्कि सीधा उनसे कहतीं हैं ,

“आर्यपुत्र ! पिता, माता, भाई, पुत्र और पुत्रवधू – सब पुण्यादि कर्मों का भोग भोगते हुये अपने-अपने भाग्य के अनुसार जीवन-निर्वाह करतें हैं।

हे पुरुषवर ! केवल पत्नी ही अपने पति के भाग्य का अनुसरण करती है; अतः आपके साथ ही मुझे भी वन में रहने की आज्ञा मिल गई है।

हे रघुनंदन ! यदि आप आज ही दुर्गम वन की ओर प्रस्थान कर रहें हैं तो मैं रास्ते के कुश और काँटों को कुचलती हेई आपके आगे-आगे चलूंगी।”

उस समय के दो महान साम्राज्य जनकपुर और अयोध्या की बेटी और बहू ‘सीता’ वनवासी वस्त्र धारण कर नंगे पांव पति की सहचारिणी बनकर वनवासिनी हो गई और दुनिया में स्वयं का नाम श्रीराम के साथ अमर कर लिया।

जानकी ने केवल अपने पति के लिये वनवासी जीवन को चुना था जबकि श्रीराम, दशरथ और सारे अयोध्यावासी उनसे अयोध्या के राजमहलों में रहने के लिये कह रहे थे। जानकी ने केवल अपने पति के लिये असीम दुःख उठाये। जानकी धर्म रक्षण का संकल्प लिये अपने पति के राह की बाधा नहीं बनी बल्कि उनकी मजबूती बनकर उठीं।
किसी मजबूरी में राम को सीता का परित्याग करना पड़ा पर जानकी ने न तो अपने पति के लिये और न ही अपने किसी ससुराल वाले के लिये कभी कटु वचन कहे बल्कि अपने पुत्रों लव और कुश को राम का पावन चरित ही सुनाया।

आज जानकी के इस धरती को छोड़े हुये लाखों साल बीत गये हैं पर ‘पत्नी रूप में नारी’ की अन्यत्र मिसाल विश्व ‘सीता’ के अलावा खोज नहीं पाया है।

‘स्वामी विवेकानन्द’ कहते थे कि भारत की हर बालिका को सीता जैसे बनने का आशीर्वाद दो। हिन्दू जाति को सबसे अधिक गौरवशाली वो इसलिये मानते थे क्योंकि हममें सीता पैदा हुई थी।

श्रीराम को ऐसी ही पत्नी तो मिली थी जो अपने पति के मन को पढ़ने वाली, उनके इच्छा के अनुरूप आचरण करने वाली और उनके मन के अनुकूल खुद को ढ़ालने वाली थी। धर्मपालक श्रीराम वन जायेंगें ही और उनको उनके इस निश्चय से डिगाया नहीं जा सकता ये बात जानकी के सिवा कोई नहीं जानता था इसलिये जानकी ने उन्हें एक बार भी रुकने को नहीं कहा बल्कि स्वयं उनके साथ वन के कष्टों को सहने को प्रस्तुत हो गईं।

इसलिये “सीता-राम की जोड़ी” लाखों साल से ‘दाम्पत्य के सबसे सुखद जोड़े’ का पर्याय बनी हुई है और जानकी भारत की महान नारियों में अग्रगण्य है जिनके सम्मान की रक्षा के लिए नर से लेकर वानर और वनवासी से लेकर जटायु जैसे पक्षी तक बलिदान को प्रस्तुत हो गये थे

💐💐प्रेषक अभिजीत चौधरी💐💐

सदैव प्रसन्न रहिये।
जो प्राप्त है, पर्याप्त है।।

🙏🙏🙏🙏🌳🌳🌳🙏🙏🙏🙏🙏

Author:

Buy, sell, exchange books

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s