Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

ईश्वर की न्याय का सटिक विश्लेषण::

एक बार दो आदमी एक मंदिर के पास बैठे गपशप कर रहे थे । वहां अंधेरा छा रहा था और बादल मंडरा रहे थे ।
थोड़ी देर में वहां एक आदमी आया और वो भी उन दोनों के साथ बैठकर गपशप करने लगा ।
कुछ देर बाद वो आदमी बोला उसे बहुत भूख लग रही है, उन दोनों को भी भूख लगने लगी थी ।
पहला आदमी बोला मेरे पास 3 रोटी हैं, दूसरा बोला मेरे पास 5 रोटी हैं, हम तीनों मिल बांट कर खा लेते हैं।
उसके बाद सवाल आया कि 8 (3+5) रोटी तीन आदमियों में कैसे बांट पाएंगे ?
पहले आदमी ने राय दी कि ऐसा करते हैं कि हर रोटी के 3 टुकडे करते हैं, अर्थात 8 रोटी के 24 टुकडे (8 X 3 = 24) हो जाएंगे और हम तीनों में 8 – 8 टुकड़े बराबर बराबर बंट जाएंगे।
तीनों को उसकी राय अच्छी लगी और 8 रोटी के 24 टुकडे करके प्रत्येक ने 8 – 8 रोटी के टुकड़े खाकर भूख शांत की और फिर बारिश के कारण मंदिर के प्रांगण में ही सो गए ।
सुबह उठने पर तीसरे आदमी ने उनके उपकार के लिए दोनों को धन्यवाद दिया और प्रेम से 8 रोटी के टुकड़ों के बदले दोनों को उपहार स्वरूप 8 सोने की गिन्नी देकर अपने घर की ओर चला गया ।
उसके जाने के बाद दूसरे आदमी ने पहले आदमी से कहा हम दोनों 4 – 4 गिन्नी बांट लेते हैं ।
पहला आदमी बोला नहीं मेरी 3 रोटी थी और तुम्हारी 5 रोटी थी, अतः मैं 3 गिन्नी लुंगा, तुम्हें 5 गिन्नी रखनी होगी । इस पर दोनों में बहस होने लगी ।
इसके बाद वे दोनों समाधान के लिये मंदिर के पुजारी के पास गए और उन्हें समस्या बताई तथा समाधान के लिए प्रार्थना की ।
पुजारी भी असमंजस में पड़ गया, दोनों दूसरे को ज्यादा देने के लिये लड़ रहे है ।
पुजारी ने कहा तुम लोग ये 8 गिन्नियाँ मेरे पास छोड़ जाओ और मुझे सोचने का समय दो, मैं कल सवेरे जवाब दे पाऊंगा ।
पुजारी को दिल में वैसे तो दूसरे आदमी की 3-5 की बात ठीक लग रही थी पर फिर भी वह गहराई से सोचते-सोचते गहरी नींद में सो गया।
कुछ देर बाद उसके सपने में भगवान प्रगट हुए तो पुजारी ने सब बातें बताई और न्यायिक मार्गदर्शन के लिए प्रार्थना की और बताया कि मेरे ख्याल से 3 – 5 बंटवारा ही उचित लगता है ।
भगवान मुस्कुरा कर बोले- नहीं, पहले आदमी को 1 गिन्नी मिलनी चाहिए और दूसरे आदमी को 7 गिन्नी मिलनी चाहिए । भगवान की बात सुनकर पुजारी अचंभित हो गया और अचरज से पूछा-
प्रभु, ऐसा कैसे ?
*भगवन फिर एक बार मुस्कुराए और बोले
इसमें कोई शंका नहीं कि पहले आदमी ने अपनी 3 रोटी के 9 टुकड़े किये परंतु उन 9 में से उसने सिर्फ 1 बांटा और 8 टुकड़े स्वयं खाया अर्थात उसका त्याग सिर्फ 1 रोटी के टुकड़े का था इसलिए वो सिर्फ 1 गिन्नी का ही हकदार है । दूसरे आदमी ने अपनी 5 रोटी के 15 टुकड़े किये जिसमें से 8 टुकड़े उसने स्वयं खाऐ और 7 टुकड़े उसने बांट दिए । इसलिए वो न्यायानुसार 7 गिन्नी का हकदार है .. ये ही मेरा गणित है और ये ही मेरा न्याय है !
ईश्वर की न्याय का सटीक विश्लेषण सुनकर पुजारी नतमस्तक हो गया।
इस कहानी का सार ये ही है कि हमारी वस्तुस्थिति को देखने की, समझने की दृष्टि और ईश्वर का दृष्टिकोण एकदम भिन्न है ।
*हम ईश्वरीय न्यायलीला को जानने समझने में सर्वथा अज्ञानी हैं ।*
हम अपने त्याग का गुणगान करते है, परंतु ईश्वर हमारे त्याग की तुलना हमारे सामर्थ्य एवं भोग तौर कर यथोचित निर्णय करते हैं ।

महेंद्र वर्षने

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

અડધી દુનિયા પર ઇસ્લામિક સામ્રાજ્ય સ્થાપવા છતાં એ લોકો ભારત ઉપર 800વર્ષ સુધી આક્રમણ/અંશતઃ શાસન કર્યા પછી પણ ઇસ્લામની સ્થાપના કેમ ન કરી શક્યા❓

પોસ્ટ મોટી છે પણ વાંચી લેશો તો, તમારી આંખો જરૂર ખોલશે. 👉🏻

622 એડી થી 634 એડી સુધીના માત્ર 12 વર્ષમાં, અરેબિયાના તમામ મૂર્તિપૂજકોને ઇસ્લામની તલવારથી પાણી પીને મહંમદ સાહેબે ઇસ્લામ ધર્મમાં ફેરવ્યો.
634 એડીથી 651 સુધી, એટલે કે, ફક્ત 16 વર્ષમાં, તમામ પારસીઓની તલવારની ટોચ પર ઇસ્લામની દીક્ષા થઈ.
ઇસ્લામે ઇજિપ્તમાં પહેલી વાર 640 માં પગ મૂક્યો, અને માત્ર 15 વર્ષમાં 655 માં ઇજિપ્તના લગભગ તમામ લોકો ઇસ્લામ ધર્મમાં ફેરવાયા.
ઉત્તર આફ્રિકાના દેશો જેવા કે – અલ્જેરિયા, ટ્યુનિશિયા, મોરોક્કો વગેરે 640 થી 711 એડી સુધી સંપૂર્ણપણે ઇસ્લામ ધર્મમાં ફેરવાયા, મુસ્લિમોને 3 દેશોની સંપૂર્ણ સત્તા માટે ફક્ત 71 વર્ષનો સમય લાગ્યો.
730 એડીમાં સ્પેન પર આક્રમણ કરાયું, 730 એડી સુધીમાં સ્પેનની 70% વસ્તી મુસ્લિમ હતી. માત્ર 19 વર્ષમાં
તુર્કીઓ થોડા હીરો બન્યા, તુર્કો સામે જેહાદની શરૂઆત 651 એડીમાં થઈ, અને 751 એડી સુધીમાં તમામ તુર્કો મુસ્લિમોમાં ફેરવાઈ ગઈ.
ઇન્ડોનેશિયા વિરુદ્ધ જેહાદ ફક્ત 40 વર્ષમાં પૂર્ણ થયો હતો. 1260 માં, મુસ્લિમોએ ઇન્ડોનેશિયા પર હુમલો કર્યો, અને 1300 એડી સુધીમાં બધા ઇન્ડોનેશિયાના લોકો મુસ્લિમ બની ગયા.
પેલેસ્ટાઇન, સીરિયા, લેબેનોન, જોર્ડન વગેરે દેશોને 634 થી 650 ની વચ્ચે મુસ્લિમો બનાવવામાં આવ્યા.
તે પછી ભારત સામે જેહાદની શરૂઆત 700 એ.ડી. માં થઈ… તે આજ સુધી ચાલી રહી છે.
ઇસ્લામિક આક્રમણકારોની ક્રૂરતાનો અંદાજ એ હકીકતથી કરો કે મુસ્લિમોએ ઈરાન પર આક્રમણ કર્યું, મુસ્લિમ સૈન્ય ઇરાની રાજાના મહેલમાં પહોંચ્યું. મહેલમાં લગભગ 3 વર્ષની પારસી રાજકુમારી હતી. ઈરાન પર અલી દ્વારા હુમલો કરવામાં આવ્યો હતો, જેને શિયા મુસ્લિમો દ્વારા માનવામાં આવે છે.
પારસી રાજકુમારીને કેદી લેવામાં આવી હતી, હવે તે એક છોકરી હતી, તેથી લૂંટનો પહેલો અધિકાર ખલીફા મુગિરા ઇબ્ને સુબાનો હતો. નિર્દોષ બાળકીને આનંદ માટે ખલીફા સમક્ષ રજૂ કરાઈ હતી. પરંતુ ખલીફા ઈરાનમાં અલીની લૂંટથી એટલા ખુશ હતા કે તેણે અલીને કહ્યું, તમે તેનો આનંદ માણો. ક્રૂરતા, પ્રાણીઓની સંસ્કૃતિથી પણ એક કદરૂપું ઉદાહરણ જુઓ, કે ત્રણ વર્ષની બાળકી પણ તેઓને એક સ્ત્રી દેખાતી હતી. તે આનંદની વસ્તુ હતી, તેને પુત્રી નહીં. દીકરીના પ્રેમમાં પિતાને પણ કેદી બનવું પડ્યું હતું, ઇસ્લામ અથવા મૃત્યુ વચ્ચે પસંદગીની પસંદગી પારસી રાજાને આપવામાં આવી હતી. પારસી રાજાએ મૃત્યુની પસંદગી કરી. અલીએ તે ત્રણ વર્ષની નિર્દોષ રાજકુમારીને તેની પત્ની તરીકે લીધી. અલીની પત્ની અલ સહબા ‘બિન્ટ રબીઆહ’ની ઉંમર ફક્ત 3 વર્ષની હતી અને તે સમયે અલી 30 વર્ષનો હતો.
ઈરાનનું ઉદાહરણ ફક્ત આપવામાં આવ્યું છે, તે ઇજિપ્ત હોય કે આફ્રિકન દેશ, બધે જ આ પરિસ્થિતિ છે. તે સમય ની વાતછે જ્યારે સિરિયા પર વિજય મેળવ્યો હતો તે પણ વધુ પીડાદાયક છે. ખ્રિસ્તી સૈનિકોની સામે મુસ્લિમોએ તેમની સ્ત્રીઓ મોકલી. મુસ્લિમ સ્ત્રીઓ ખ્રિસ્તીઓ પાસે ગઈ, મુસ્લિમોથી અમારું રક્ષણ કરો, દયાળુ મૂર્ખ ખ્રિસ્તીઓએ તે બદમાશોને આશરો આપ્યો, પછી વાત શું હતી, બધા સૈનિકોએ સાથે મળીને બધા સૈનિકોને રાતોરાત હલાલ કરી દીધા.

હવે તમે ભારતની પરિસ્થિતિ જુઓ. ઈરાન પહોંચ્યા પછી આક્રમણકારોએ પોતાનું મોટું સામ્રાજ્ય સ્થાપિત કરી લીધું હતું, તે સમયે ભારતના રાજપૂત સામ્રાજ્ય તરફ નજર કરવાની પણ હિંમત નહોતી.
666 એડીમાં ખલિફાએ ભારત પર પહેલો હુમલો કર્યો. એક પણ આક્રમણ કરનાર જીવતો પાછો ફરી શક્યો નહીં.

થોડા વર્ષો સુધી, મુસ્લિમ આક્રમણકારોએ ભારતની તરફ જોવાની પણ હિંમત કરી ન હતી, પરંતુ થોડા વર્ષોમાં જ ગીધડાઓએ તેમની જાતિ બતાવી દીધા. ફરીથી હુમલો થયો, આ સમયે ઉસ્માન ખલિફાની ગાદી પર આવ્યો હતો. તેણે હકીમ નામના એક સેનાપતિ સાથે ઇસ્લામિક તીડની વિશાળ સેના ભારત મોકલી. સૈન્ય સંપૂર્ણ રીતે નાશ પામ્યું હતું, અને કમાન્ડર હકીમને કેદ કરી લેવામાં આવ્યો હતો. ભારતીય રાજપૂતો દ્વારા તેને ઘણો માર મારી અને ખૂબ જ ખરાબ હાલતમાં અરબ પાછો મોકલી દીધો, જેથી તેની સેનાની કમનસીબીની હાલત ઉસ્માન સુધી પહોંચે. આ પ્રક્રિયા લગભગ 700 એડી સુધી ચાલુ રહી. બધા મુસ્લિમો જેમણે ભારત તરફ તેમનો ચહેરો ફેરવ્યો, રાજપૂતોએ તેમના માથા ખભા પરથી નીચે લીધા.

તે પછી પણ ભારતના બહાદુર સૈનિકોએ હાર માની ન હતી. 7 મી સદીમાં ઇસ્લામ શરૂ થયો, તે સમયે અરેબિયાથી આફ્રિકા, ઈરાન, યુરોપ, સીરિયા, મોરોક્કો, ટ્યુનિશિયા, તુર્કી આ મોટા દેશો મુસ્લિમ બન્યા ત્યારે, “બાપ્પા રાવલ” મહારાણા પ્રતાપના દાદા ભારતમાં જન્મેલા, તે એક સંપૂર્ણ યોદ્ધા બની ગયો હતો. , ઇસ્લામના પંજામાં ફસાયેલા અફઘાનિસ્તાનથી મુસ્લિમોને તે નાયક દ્વારા મારી નાખવામાં આવ્યા હતા, એટલું જ નહીં, લડતા તે ખલીફાની ગાદીએ પહોંચ્યો હતો, જ્યાં ખલીફાએ જાતે પોતાના જીવનની ભીખ માંગવી પડી હતી.

તે પછી પણ આ પ્રક્રિયા અટકી નહીં. ભારતને નાગભટ્ટ પ્રતિહાર II જેવા લડવૈયા મળ્યા. જેમણે આખું જીવન રાજપૂતિ ધર્મને અનુસરીને, માત્ર આખા ભારતનું રક્ષણ કર્યું, પણ દુનિયામાં આપણી શક્તિનો ડંખ રાખ્યો.
અગાઉ બાપ્પા રાવલે સાબિત કરી દીધું હતું કે આરબો અજેય નથી, પરંતુ 836 એડી દરમિયાન ભારતમાં એવું શું બન્યું કે જેનાથી મુસ્લિમો સ્તબ્ધ થઈ ગયા. મુસ્લિમોએ તેમને તેમના ઇતિહાસમાં તેમનો સૌથી મોટો દુશ્મન ગણાવ્યો છે, કે સરદાર પણ રાજપૂત હતા.

સમ્રાટ મિહિરભોજ પ્રતિહાર  મિહિરભોજ વિશે કહેવામાં આવે છે કે, તેમનો મહિમા ૠષિ અગસ્ત્ય કરતા વધારે ચમક્યો હતો.  મહર્ષિ અગસ્ત્ય તે છે જેમણે શ્રી રામને શસ્ત્ર આપ્યું હતું, જેના દ્વારા રાવણને મારવાનું શક્ય હતું.  રામના વિજયના છુપાયેલા લડવૈયાઓમાંથી એક.  તેમણે મુસ્લિમોને ફક્ત 5 ગુફાઓ સુધી મર્યાદિત કર્યા.  આ તે જ સમય હતો, જ્યારે મુસ્લિમો માત્ર યુદ્ધમાં જીતતા હતા, અને ત્યાંના લોકોને મુસ્લિમો બનાવતા હતા, ભારતના વીર રાજપૂત મિહિરભોજે આ આક્રમણકારોને અરબ તરફ ધકેલી દીધા હતા.

પૃથ્વીરાજ ચૌહાણ સુધી ઇસ્લામના ઉદભવ પછીના 400 વર્ષ સુધી, ભારતના રાજપૂતોએ ઇસ્લામ નામની બિમારીને ભારત પર અસર થવા દીધી નહીં, તે યુદ્ધના સમયગાળા દરમિયાન પણ ભારતના અર્થતંત્રને પતન ન થવા દીધું.

તે પછી મુસ્લિમો પણ વિજયી ઉભરી આવ્યા, પણ રાજપૂતોએ સત્તા ગુમાવ્યા પછી પણ હાર માની ન હતી, એક દિવસ તેઓ શાંતિથી બેસ્યા નહીં, અંતિમ નાયક દુર્ગાદાસજી રાઠોડ દિલ્હીને નમાવી, જોધપુરનો કિલ્લો મોગલો પાસેથી આંચકી લીધો, હિંદુ ધર્મના ગૌરવ, શૌર્યને ચાર ચાંદ લિગી ગયા.

મુસલમાનોને કોઈ પણ દેશને મુસ્લિમમાં રૂપાંતરિત કરવામાં 20 વર્ષનો સમય લાગ્યો ન હતો, અને ભારતમાં 500 વર્ષ શાસન કર્યા પછી પણ મેવાડના સિંહ મહારાણા રાજસિંહે ઈસ્લામની મુદ્રા પણ તેના ઘોડા પર ના મૂકવા દીધી…..મહારાણા પ્રતાપ, દુર્ગાદાસ રાઠોડ, મિહિરભોજ, દુર્ગાવતી, ચૌહાણ, પરમાર લગભગ તમામ રાજપૂતો તેમની માતૃભૂમિ માટે તેમના જીવન પર ખેલ્યા. એક વખત એવો સમય આવી ગયો હતો, લડતા રાજપૂતો ફક્ત 2% પર અટકી ગયા હતા. પણ છતાંય આજે એ વસ્તી હયાત છે, અને આપણો ધર્મ સુરક્ષિત છે.

  એકવાર આખું વિશ્વ જુઓ, અને આજે તમારા વર્તમાનને જુઓ.  જે મુસલમાનોએ વિશ્વની અડધી વસ્તીને 20 વર્ષમાં મુસ્લિમોમાં પરિવર્તિત કરી, તેઓ માત્ર ભારતમાં માત્ર પાકિસ્તાન અને બાંગ્લાદેશ સુધી જ મર્યાદિત કેમ રહ્યા?

તે સ્વીકારી લઈએ કે તે સમયે લડવું રાજપૂત રાજાઓનો ધર્મ હતો, પરંતુ જ્યારે રાજાઓએ તેમનો ધર્મ નિભાવ્યો ત્યારે આજે તે યોદ્ધાઓની વંશજો તેમની પુત્રી અને પૌત્રો પર કાલ્પનિક કથાઓ ઘડી કાઢીને હિન્દુઓ દ્વારા અપમાનિત કરવામાં આવે છે, કેટલાક હિંદુઓ તેમનો ઇતિહાસ ચોરી કરે છે, તે શું છે? શું હિન્દુ સમાજ આ બદલો આપે છે?

*રાજા ભોજ, વિક્રમાદિત્ય, નાગભટ્ટ પ્રથમ અને નાગભટ્ટ બીજા, ચંદ્રગુપ્ત મૌર્ય, બિંદુસાર, સમુદ્રગુપ્ત, સ્કંદ ગુપ્તા, છત્રસલ બુંદેલા, અલ્હા ઉદલ, રાજા ભાટી, ભૂપત ભાતી, ચાચદેવ ભાતી, સિદ્ધ શ્રી દેવરાજ ભાટી, કાનમદેવ ચૌહાણ, હરિભંવ દેવ ચૌહાણ, વિગ્રહરાજ ચૌહાણ, માલદેવસિંહ રાઠોડ, વિજય રાવ લંઝા ભાટી, ભોજદેવ ભાટી, ચુહાર વિજયરાવ ભાટી, બલરાજ ભાટી, ખડસી, રતનસિંહ, રાણા હમીરસિંહ અને અમરસિંહ, અમરસિંહ રાઠોડ દુર્ગાદાસ રાઠોડ જસવંતસિંહ રાઠોડ મિરાજા રાજા જય સિંહ રાજા જયચંદ, ભીમદેવ સોલંકી, સિદ્ધ શ્રી રાજા જયસિંહ સોલંકી, પુલકેશિન દ્વિ સોલંકી, * રાણી દુર્ગાવતી, રાણી કર્ણાવતી, રાજકુમારી રત્નાબાઈ, રાણી રુદ્ર દેવી, હાદી રાણી, રાણી પદ્માવતી, અન્ય ઘણી રાણીઓએ રક્ષા માટે લડતા પોતાનો જીવ બલિદાન આપ્યું તેમનું રાજ્ય. અન્ય લડવૈયાઓ તોગા જી વીરવર કલ્લજી જયમલ જી ઝીટા કુપા, ગોરા બાદલ રાણા રતનસિંહ, પજ્બન રાય જી કાછવા, મોહનસિંહ મંધદ, રાજા પોરસ, હર્ષવર્ધન બેસ, સુહેલદેવ બેસ, રાવ શેખજી, રાવ ચંદ્રસેન જી ડોડ, રાવચંદ્રસિંહ જી રાઠોડ, કૃષ્ણકુમાર સોલંકી, લલિતાદિત્ય મુક્તાપીડ, જનરલ. રાવરસિંહ કાળુવરિયા, ધીરસિંહ પુંડીર, બલ્લુ જી ચંપાાવત, ભીષ્મ રાવત ચૂંડા જી, રામસાહસિંહ તોમર અને તેના વંશજો, ઝાલા રાજા માન, મહારાજા અનંગપાલસિંહ તોમર, સ્વાતંત્ર્ય સેનાની રાવ બક્તાવરસિંહ અમજેરા વજીરસિંહ પઠાણિયા, રાવ રાજા રામ બક્સસિંહ, શું? ઠાકુર કુશાલ સિંહ, ઠાકુર રોશન સિંઘ, ઠાકુર મહાવીર સિંહ, રાવ બેની માધવસિંહ, ડુંગજી, ભુરજી, બાલજી, જવાહર જી, છત્રપતિ શિવાજી અને અસંખ્ય લોક દેવી-દેવતાઓ, જેને ગુજરાતના એક કરતા વધારે યોદ્ધા લોક-દેવતાઓ, સંતો, સતી જુજાર , ભત્રીજી જાડેજા, અજય પાલ દેવ જી.*

આ ફક્ત થોડાં નામો છે જે અમને કેટલાક ખૂબ ઇતિહાસનાં પુસ્તકોમાંથી મળ્યાં છે અથવા તો તમે તેમને સોશિયલ મીડિયા પર અથવા કોઈ શાળાના અભ્યાસક્રમમાં નહીં મળે. 

એક કરતાં વધુ યોદ્ધા જન્મ્યા છે જેમણે 18 વર્ષની વય પહેલાં લડવામાં ફાળો આપ્યો છે અને લડતી વખતે શહાદત પ્રાપ્ત કરી છે. ઘર-ઘર, ગામ ના ગામ, પરગણાઓ ખાલી થઈ ગયા.. જ્યારે પુરુષો બાકી ન હતા. કોઈ ગામ માં, આખા ગામનો આખો પરિવાર બલિદાન આપતો હતો, ધર્મની રક્ષા માટે યુદ્ધના મેદાન પર ગયા હતા.

આપણા ઇતિહાસમાં આવા હિંદુ લડવૈયાઓનો ઉલ્લેખ અમને ક્યારેય શીખવવામાં આવ્યો ન હતો. એવું શીખવવામાં આવ્યું હતું કે અકબર એક મહાન સમ્રાટ હતો. પછી હુમાયુ, બાબર, ઔરંગઝેબ ને ફક્ત તાજમહેલ, કુતુબ મીનાર, ચારમિનાર વગેરે વિશે શીખવવામાં આવ્યું. જો હિન્દુઓ એક ન થયા હોત, તો આજે આ દેશ સીરિયા અને અન્ય દેશો જેવા સંપૂર્ણ મુસ્લિમ દેશ બની ગયો હોત.

અમને તો આ ઇતિહાસ કોઈ શાળામાં શીખવવામાં નોહતો આવ્યો, પણ આશા રાખું છું કે આપ આપણી આવનારી પેઢીને આ હકીકત જરૂર જણાવશો, જેથી એ ગર્વભેર કહી શકેHB કે સનાતન ધર્મની રક્ષા અમારા હિન્દૂ રાજાઓએ પોતાનો જીવ આપીને કરી છે, એટલે જ હું આજે પણ હિન્દૂ છું. 🙏. 🏹

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक



हरे कृष्ण
एक संत थे वे भगवान राम को मानते थे कहते है यदि
भगवान से निकट आना है तो उनसे कोई रिश्ता जोड़ लो.जहाँ
जीवन में कमी है वही ठाकुर जी को बैठा दो, वे जरुर उस
सम्बन्ध को निभायेगे, इसी तरह संत भी भगवान राम को
अपना शिष्य मानते थे और शिष्य पुत्र के समान होता है
इसलिए माता सीता को पुत्र वधु (बहू)के रूप में देखते थे.
उनका नियम था रोज मंदिर जाते और अपनी पहनी माला
भगवान को पहनाते थे पर उनकी यह बात मंदिर के लोगो
को अच्छी नहीं लगती थी उन्होंने पुजारी से कहा – ये बाबा
रोज मंदिर आते है और भगवान को अपनी उतारी हुई माला
पहनाते है, कोई तो बाजार से खरीदकर भगवान को पहनाता
है और ये अपनी पहनी हुई भगवान को पहनाते है.
पुजारी जी को सबने भडकाया कि बाबा की माला आज
भगवान को मत पहनाना,अब जैसे ही बाबा मंदिर आये और
पुजारी जी को माला उतार कर दी,तो आज पुजारी जी ने
माला भगवान को पहनाने से इंकार कर दिया. और कहा यदि
आपको माला पहनानी है तो बाजार से नई माला लेकर आये
ये पहनी हुई माला ठाकुर जी को नहीं पायेगे.वे बाजार गए
और नई माला लेकर आये, आज संत मन में बड़े उदास थे,
अब जैसे ही पुजारी जी ने वह नई माला भगवान श्री राम को
पहनाई तुरंत वह माला टूट कर नीचे गिर गई ,उन्होंने फिर
जोड़कर पहनाई, फिर टूटकर गिर पड़ी, ऐसा तीन-चार बार
किया पर भगवान ने वह माला स्वीकार नहीं की. तब पुजारी
जी समझ गए कि मुझसे बहुत बड़ा अपराध हो गया है.और
पुजारी जी ने बाबा से क्षमा माँगी,


संत सीता जी को बहू मानते थे इसलिए जब भी मंदिर जाते
पुजारी जी सीता जी के विग्रह के आगे पर्दा कर देते थे, भाव
ये होता था कि बहू ससुर के सामने सीधे कैसे आये, और
बाबा केवल राम जी का ही दर्शन करते थे जब भी बाबा मंदिर
आते तो बाहर से ही आवाज लगाते पुजारी जी हम आ गए
और पुजारी जी झट से सीता जी के आगे पर्दा कर देते.एक
दिन बाबा ने बाहर से आवाज लगायी पुजारी जी हम आ गए,
उस समय पुजारी जी किसी दूसरे काम में लगे हुए थे, उन्होंने
सुना नहीं, तब सीता जी ने तुरत अपने विग्रह से बाहर आई
और अपने आगे पर्दा कर दिया,
जब बाबा मंदिर में आये, और पुजारी ने उन्हें देखा तो बड़ा
आश्चर्य हुआ और सीता जी के विग्रह की ओर देखा तो पर्दा
लगा है. पुजारी बोले – बाबा! आज आपने आवाज तो लगायी
ही नहीं ? बाबा बोले – पुजारी जी! मै तो रोज की तरह
आवाज लगाने के बाद ही मंदिर में आया.तब बाबा समझ गए
कि सीता जी ने स्वयं कि आसन छोड़कर आई और उन्हें मेरे
लिए इतना कष्ट उठना पड़ा.आज से हम मंदिर में प्रवेश ही
नही करेंगे.अब बाबा रोज मंदिर के सामने से निकलते और
बाहर से ही आवाज लगाते अरे चेला राम तुम्हे आशीर्वाद है
सुखी रहो और चले जाते.
सच है भक्त का भाव ठाकुर जी रखते है और उसे निभाते भी
है. चलो मन वृन्दावन की ओर प्रेम का रस जहाँ छलके है,
कृष्णा नाम से भोर…. भक्ति की रीत जहाँ पल पल है, प्रेम
प्रीति की डोर….. राधे राधे!! जपते जपते , दिख जाए
चितचोर, चलो मन वृन्दावन की ओर !!!

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

http://www.motivational.page
कई साल पहले एक बाबा गांव में आये और कई लोग
अपने दुखो का समाधान पूछने उनके पास गए। बाबा ने
आराम से सबके परेशानियों का हल बताया और सभी
को कहा की संयम रखो और मेहनत करो । एक महीना
तो ऐसा आराम से चलता रहा। फिर लोग हर बार उसी
समस्याओं के बारे में शिकायत करने आने लगे। बाबा ने
सोचा की कुछ करना पड़ेगा ।

उन्होंने सबको एक पेड़ के निचे बुलाया और एक दिन
उसने उन्हें एक चुटकुला सुनाया और सभी लोग हंसी में
झूम उठे। कुछ समय बाद, उन्होंने उन्हें वही चुटकुला
सुनाया और उनमें से कुछ ही मुस्कुराए, जब उसने
तीसरी बार वही चुटकुला सुनाया तो कोई भी नहीं हंसा।
बाबा मुस्कुराये और बोले ” जैसे तुम बार बार एक ही
मजाक पे हंस नहीं सकते वैसे ही एक ही समस्या पे बार
बार रो क्यों रहे हो?”कहानी से सिख :चिंता करने से
आपकी समस्याओं का समाधान नहीं होगा

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

विशेष कर महिला मित्र इस पोस्ट को जरूर व पूरा पढ़ें

एक दिन मैं घर के बाहर बड़े तन्मयता से गाड़ीयां धो रही थी। साईकल पर जाता हुआ एक माली रुका और मुझसे पूछा, “कुछ पौधे वगैरह चाहिये?”
मैंने कहा,”चाहियें तो”
उसने कहा,”अपनी मैडम को बुला दो उनसे ही बात करूंगा”
मैंने अंदर जाकर कपड़े बदले और बाहर आकर कहा,”मैं ही मैडम हूँ, पौधे दिखाओ”
वो बेचारा शर्म से पानी पानी हो गया और माफी मांगने लगा।
कसूर उसका नही था!

अक्सर बड़े घरों व बड़ी गाड़ियों में चलने वालों के घर नौकरों की पलटन होती हैं। ऐसे में कोई सोच भी नही सकता की जिनके घर में कई गाड़ियां खड़ी हों और इतना बड़ा घर हो वो लोग अपना काम खुद भी करते होंगे।

अक्सर जान पहचान वाले लोग कहते हैं कि नौकर क्यों नही लगा लेती?
तो मैं उनसे पूछती हूँ कि क्या उन्हें मैं लूली,लंगड़ी या अपाहिज नज़र आती हूँ?
यदि नही!तो फिर मैं अपना काम खुद क्यों नही कर सकती!

यदि मुझमे अपने काम खुद करने की सामर्थ्य है तो मैं वही काम नौकर से क्यों कराऊँ?

कभी कभी मैं हैरान होती हूँ कि एक कामकाजी महिला होने के बाद भी मैं अपने सारे घर का काम खुद करना पसंद करती हूँ।

2मंज़िल के घर की सफाई,वृहद बगीचा…
लेकिन घर के झाड़ू पोचे से लेकर गार्डन की सफाई, गाड़ियों को धोना साफ करना,हर तरह का खाना बनाना,साग सब्जी लाना, कपड़े खुद धोना इस्त्री करने से लेकर बर्तन धोने और गमले पेड़ पौधे लगाने का काम भी बड़ी ही सरलता से कर लेती हूँ।

दिन में 100-200 km गाड़ी भी चला लेती हूँ,गोल्फ खेलती हूँ,5km वॉक करती हूँ।समय मिले तो पढ़ती लिखती भी हूँ …

तो फिर हमारी वो गृहणियाँ जो नौकरी भी नही करती,आफिस नही जाती उन्हें अपने ढाई कमरों के घर साफ कराने ,चार बर्तन धोने और 8 रोटी सेकने के लिए नौकर क्यों चाहिये?

जो अंग्रेजों नौकरशाही का कोढ़ हमारे समाज में फैला कर चले गए उनके अपने देशों में घरेलू नौकर रखने का कोई रिवाज़ नही है।वहां वो लोग अपना सारा काम खुद करते हैं। लेकिन हमारे यहाँ अपने घर का काम खुद करने मे शर्म आती है,क्यो?

हमारी गृहणियों को भी जिनके पति सवेरे आफिस चले जाते हैं और शाम को घर लौटते हैं अपने 10 x 10 के कमरे साफ कराने के लिये महरी चाहिए?

मेरे अभिजात्य दोस्त लोगों में जिनकी बीबियाँ हर हफ्ते पार्लर जाती हैं उन्हें वज़न घटाने के लिए सलाद के पत्ते खाना मंज़ूर है!!gym में घण्टो ट्रेड मिल पर हांफना मंज़ूर है, लेकिन अपने घर मे एक गिलास पानी लाने के लिए नौकर चाहिए।

जो नौकरानियां हमारे घरों को साफ करने आती हैं उनके भी परिवार होते हैं बच्चे होते हैं ,ना उनके घरों में कोई खाना बनाने आता है ना ही कोई कपड़े धोने तो फिर जब वो इतने घरों का काम करके अपनी पारिवारिक जिम्मेदारी निभा लेती हैं तो हम अपने परिवार का पालन पोषण करने में क्यों थक जाते हैं?

दरअसल हमारे यहाँ काम को सिर्फ बोझ समझा जाता है चाहे वो नौकरी में हो निजी जिंदगी में। जिस देश मे कर्मप्रधान गीता की व्यख्या इतने व्यपक स्तर पर होती है वहाँ कर्महीनता से समाज सराबोर है।हम काम मे मज़ा नही ढूंढते, सीखने का आनंद नही जानते,कुशलता का फायदा नही उठाते!

हम अपने घर नौकरों से साफ कराते हैं!

झूठे बर्तन किसी से धुलवाते हैं!

कपड़े धोबी से प्रेस करवाते हैं!

खाना कुक से बनवाते हैं!

बच्चे आया से पलवाते हैँ!

गाड़ी ड्राइवर से धुलवाते हैं!

बगीचा माली से लगवाते हैं!

तो फिर अपने घर के लिये हम क्या करते हैं?

कितने शर्म की बात है एक दिन अगर महरी छुट्टी कर जाये तो कोहराम मच जाता है, फ़ोन करके अडोस पड़ोस में पूछा जाता है।

जिस दिन खाना बनाने वाली ना आये तो होटल से आर्डर होता है या फिर मेग्गी बनता है।

घरेलू नौकर अगर साल में एक बार छुट्टी मांगता है तो हमे बुखार चढ़ जाता है। होली दिवाली व त्योहारों पर भी हम नौकर को छुट्टी देने से कतराते हैं!

जो महिलाएं नौकरीपेशा हैं उनका नौकर रखना वाज़िब बनता है किंतु जो महिलाएँ सिर्फ घर रहकर अपना समय TV देखने या FB और whats app करने में बिताती हैं उन्हें भी हर काम के लिए नौकर चाहिये?

सिर्फ इसलिए क्योंकी वो पैसा देकर काम करा सकती हैं? लेकिन बदले में कितनी बीमारियों को दावत देती हैं शायद ये वो नही जानती।

आज 35 वर्ष से ऊपर की महिलाओं को ब्लड प्रेशर ,मधुमेह, घुटनों के दर्द,कोलेस्ट्रॉल, थायरॉइड जैसी बीमारियां घेर लेती हैं जिसकी वजह सिर्फ और सिर्फ लाइफस्टाइल है।

यदि 2 घण्टे घर की सफाई की जाये तो 320 कैलोरी खर्च होती हैं, 45 मिनट बगीचे में काम करने से 170 कैलोरी खर्च होती हैं, एक गाड़ी की सफाई करने में 67 कैलोरी खर्च होती है,खिड़की दरवाजो को पोंछने से कंधे,हाथ, पीठ व पेट की मांसपेशियां मजबूत होती हैं,आटा गूंधने से हाथों में आर्थ्राइटिस नही आता। कपड़े निचोड़ने से कलाई व हाथ की मानपेशियाँ मजबूत होती हैं,20 मिनट तक रोटियां बेलने से फ्रोजन शोल्डर होने की संभावना कम हो जाती है, ज़मीन पर बैठकर काम करने से घुटने जल्दी खराब नही होते।

लेकिन हम इन सबकी ज़िम्मेदारी नौकर पर छोड़कर खुद डॉक्टरों से दोस्ती कर लेते हैँ। फिर शुरू होती है खाने मे परहेज़, टहलना,जिम, या फिर सर्जरी!!

कितना आसान है इन सबसे पीछा छुड़ाना कि हम अपने घर के काम करें और स्वस्थ रहे।मैंने आजतक नही सुना की घर का काम करने से कोई मर गया हो!

लेकिन हम मध्यम व उच्च वर्ग घर के काम को करना शर्म समझते हैं। नौकर ज़रूरत के लिए कम स्टेटस के लिए ज्यादा रखा जाता है। काम ना करके अनजाने में ही हम अपने शरीर के दुश्मन हो जाते हैँ।

पश्चिमी देशों में अमीर से अमीर लोग भी अपना सारा काम खुद करते हैं और इसमें उन्हें कोई शर्म नही लगती। लेकिन हम मर जायेंगे पर काम नही करेंगे।

किसी भी तरह की निर्भरता कष्ट का कारण होती है फिर वो चाहे शारीरिक हो ,भौतिक हो या मानसिक। अपने काम दूसरों से करवा करवा कर हम स्वयं को मानसिक व शारीरिक रूप से पंगु बना लेते हैं और नौकर ना होने के स्थिति में असहाय महसूस करते हैं।ये एक दुखद स्थिति है।

यदि हम काम को बोझ ना समझ के उसका आंनद ले तो वो बोझ नही बल्कि एक दिलचस्प एक्टिविटी लगेगा। Gym से ज्यादा बोरिंग कोई जगह नही उसी की जगह जब आप अपने घर को रगड़ कर साफ करते हैं तो शरीर से एंडोर्फिन हारमोन निकलता है जो आपको अपनी मेहनत का फल देखकर खुशी की अनुभूति देता है।

अच्छा खाना बनाकर दूसरों को खिलाने से सेरोटॉनिन हार्मोन निकलता है जो तनाव दूर करता है।

जब काम करने के इतने फायदे हैं तो फिर ये मौके क्यो छोड़े जायें!

हम अपना काम स्वयं करके ना सिर्फ शरीर बचाते है बल्कि पैसे भी बचाते हैं और निर्भरता से बचते हैं।..
प्रकाश बरमेचा -🙏

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

” अंजानी सी एक लड़की”

  आयरा को एक म्यूजिकल कॉन्सर्ट में शामिल होने दूसरे शहर  जाना रहता है। वह ट्रेन से अपना सफर शुरू करती है।एक स्टेशन पर ट्रेन रूकती है ।उसे सहयात्रियों की बातचीत से पता चलता है कि ट्रेन यहां लगभग आधे घंटे तक रुकेगी ।वह अपना पानी बॉटल देखती है जो खाली हो गया है। वह सोचती है

” ट्रेन तो रुकी है मैं पानी लेकर आ जाती हूं।”
आयरा महानगर में रहने वाली आधुनिक लड़की है।उसका कपड़े भी आधुनिक है। उसे अपने गिटार से बहुत लगाव है। वह गिटार को अपने से अलग नहीं करती थी। इसलिए गिटार को भी साथ में लेकर स्टेशन पर उतरती है और पास ही एक स्टॉल में पानी लेने के लिए बढ़ती है।स्टेशन पर कुछ महिलाएं सामान बेचने के लिए बैठी रहती हैं। आयरा के कपड़ों को देखकर उन्हें आश्चर्य होता है ।आयरा अपनी धुन में आगे बढ़ जाती है ।सभी उसे विचित्र नजरों से देखते रहते हैं जिसका उसे आभास ही नहीं होता है। वह पानी बॉटल लेकर पानी पीती है। कुछ खाने की सामान लेती है और वापस आते रहती है तब उसे लोगों की नजरों का आभास तो होता है लेकिन वह आत्मविश्वास के साथ आगे बढ़ती है। तभी उसकी नजर एक मूर्ति बेचने वाली महिला पर पड़ती है जो टोकरी में मिट्टी की सुंदर मूर्तियां रखे हुए रहती है। उसके गोद में एक छोटा सा बच्चा गोपू रहता है।गोपू बहुत ही मासूम है। आयरा टोकरी की मूर्तियां देखने लगती है जिसमें सरस्वती माता की मूर्ति दिखती है। वह उसे ले लेती है और अच्छे से पेपर में लपेटने को कहती है ।अचानक उसका ध्यान गोपू पर जाता है उसका एक पैर मुड़ा हुआ रहता है। वह गोपू की मां से पूछती है ” इसे क्या हो गया है।”
गोपू की माँ बताती लगती है “जन्म से इसका एक पैर मुड़ा हुआ है इसलिए यह ठीक से चल नहीं पाता ।मुझे इसे साथ में लेकर आना पड़ता है ।हमने डॉक्टर को दिखाया था। लेकिन उन्होंने पैर के ऑपरेशन के लिए बहुत ही ज्यादा रकम बताई है जो अभी हमारे पास नहीं है ।हम तो रोज कमाने खाने वाले हैं,इतनी आमदनी ही नहीं होती कि इसका ऑपरेशन करवा सकें।”
आयरा को उसकी बात सुनकर बहुत ही दुख होता है। पास ही आम बेचती हुई महिला भी कहने लगती है कि “हमारा तो यही है। रोज इतनी ही कमाई हो पाती है कि हमारा गुजारा हो सके। ऐसे में हम पैसे कहाँ से जमा करेंगे। “
आयरा अपने मोबाइल में समय देखती है ।अभी भी ट्रेन छूटने में बहुत समय है।वह वहीं बेंच पर बैठकर अपने गिटार बजाकर
“गूंजा सा है कोई एक तारा ” गाना गाने लगती है। सभी उसकी आवाज से आकर्षित होकर उसके आसपास आ जाते हैं। ट्रेन के यात्री भी आ जाते हैं और उसका गाना सुनकर मंत्रमुग्ध हो जाते हैं। गाना समाप्त होने पर आयरा सबसे गोपू के पैर और इलाज के बारे में बताती है।वह सबसे कहती है “अगर आप चाहते हैं तो इस बच्चे की सहायता कर सकते हैं भगवान ने हमको इस योग्य बनाया है कि हम किसी की थोड़ी सी मदद करेंगे तो उसका जीवन बन जाएगा।” वह स्वयं ₹2000 निकाल कर देती है। उसको देख कर बहुत सारे लोग ₹ 50,100,200,500 देने लगते हैं। आम बेचने वाली महिला भी कहती है “मेरे पास ज्यादा तो नहीं है लेकिन मैं अपनी तरफ से ₹100 देती हूं “।
इस प्रकार देखते ही देखते बहुत अच्छी रकम जमा हो जाती है। सभी गोपू को स्नेह करने लगते हैं।गोपू की मां की आंखों से तो आंसू बहने लगते हैं। वह आयरा को बहुत-बहुत धन्यवाद देती है।आयरा उसे सरकार द्वारा प्रदान की गई स्वास्थ्य और इलाज की कुछ योजनाओं के बारे में भी बताती है।अपना फोन नंबर देकर कहती है कोई परेशानी होगी तो मुझे बताना।
इस घटना के पहले जो लोग आयरा और उसके कपड़ों की आलोचना करते रहते हैं उन्हें आयरा अब एक अलग ही रूप में नजर आती है। जरूरी नहीं है कि जो आधुनिक कपड़े पहनते हैं उनका मन भी असंवेदनशील हो। अब किसी को भी आयरा में कोई कमी नहीं दिखाई दे रही थी। सब ने उसे प्रेम से विदा किया।
इतने में ट्रेन की सीटी बजने लगी। गार्ड ने हरी झंडी दिखाई। आयरा दौड़ कर ट्रेन में चढ़ गई और सबको हाथ हिलाकर बाय बाय बोलने लगी। आज उसके मन में बहुत ही ज्यादा खुशी हो रही थी कि मैंने किसी की मदद की है।उसके पापा हमेशा ही निदा फाजली का शेर कहते थे
घर से मस्जिद है बहुत दूर चलो यूँ कर लें किसी रोते हुए बच्चे को हँसाया जाये
आयरा को मन में अपने पापा की आवाज सुनाई देने लगी।वह उस शेर को गुनगुनाने लगी।
उसका म्यूज़िकल कॉन्सर्ट भी हिट रहा।

स्वरचित
नीरजा नामदेव

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

सोशल मीडिया दिखावा

      पिताजी खामोश बैठे थे । मैने चुप्पी तोडते हुये पूछा क्या बात है ? आप चुप क्यों हैं ?
     उन्होने कहा बेटा आज की आधुनिकता से दुखी हूँ । और तुम भी ठहरे आधुनिक समय में जीते हुयेमानव तो तुम से क्या कहूँ ?
   मैंने कहा कुछ बतायें ?

पिताजी बोले बेटा तुझे घर आये लगभग पाँच घण्टे हो गये । तुमने सोशल मीडिया पर अपडेट भी कर दिया कि माँ पिताजी के चरणों में मगर बेटा तुम मेरे सामने तो अब आ रहे हो फिर ये झूठ क्यों ?
मै बोला पिताजी ये एक ट्रेंड है ये सब करना पड़ता है । वर्ना आधुनिक समाज आपको उतनी तवज्जो नहीं देता । और देखो न मेरे कितने मित्रो ने कमेन्ट में लिखा है कि पिताजी को प्रणाम आदि ।
मगर बेटा जरा सोचो जो बेटा मेरे सामने है उसने मेरे पैर नही छुये तो उनका प्रणाम कैसे मुझ तक पहुंचेगा ?
मैने कहा पिताजी आप रहने दो आप नही समझोगे इस बात पर बहस न करो हमारे और आपकी जीवन शैली में फर्क है । हम किसी से कुछ पूछते नहीं है गूगल है हमारे पास जो कि किसी भी धर्म किसी भी शास्त्र किसी भी गणना को खुद ही कर दिया करता है हमे बगैर कुछ करे जबाब मिल जाता है ।
पिताजी बोले वो सब ठीक है । अच्छा है हर जानकारी रखना मगर बेटा मेरा दुख तुम्हारी सुख सुविधा नहीं है । मेरा दुख तो वो हैं जो इस शोसल मीडिया ने तुम्हे दिया है ।
बहस हुई मैंने पूछा आखिर आप कहना क्या चाहते है। आज की आधुनिक जीवन शैलीसे आप इतने नाराज क्यों ?
पिताजी बोले बेटा मुझे कुछ सवालो के जबाब देदे ‘
क्या नया सोफा नया घर नई कार खरीद कर शोसल मीडिया में डालकर आप किसे दिखा रहे है । बेटा किसी भी चीज का सदुपयोग करो ।
लाईक कमेंट से रिस्ते नहीं बनते बेटा और इस आधुनिक वक्त में भी खुद को रिस्तों को घर को संभ्भालने के लिए इस सोशल मीडिया के भ्रमित तिलिस्म से बाहर आना होगा ।
गूगल माँ की महिमा बता सकता है मगर माँ का प्रेम माँ का सर पर हाथ फेरना प्यार से खिलाना इन सब का अनुभव गूगल से डाउनलोड नही होता इसके लिए माँ के पास ही जाना पडेगा ।
बहिन की राखी के लिये कलाई गूगल नहीं देगा । भाई के गले लगने के लिए भाई भाई को मिलना पडेगा क्योकि बेटा रिश्ते डाउनलोड नहीं होते उन्हें इस आधुनिक वक्त को चीर कर अपनाना पड़ता है ।
और दुनिया में कोई बैज्ञानिक या विज्ञान आपको सब कुछ दे सकता है मगर रिस्ते नहीं
क्योंकि रिस्ते सादगी ,त्याग, प्रेम , अपनत्व, भावना . सम्मान ‘ मधुरता और जिंदादिली से – बनते है और निभाये जाते है ।
और इस शोसल मीडिया ने जो तुम लोगों के अंदर दूसरों को दिखा कर कोई भी काम करने की लत लगाई है असल में बेटा तुम्हे सर्कीण बना दिया है ।
तुम आधुनिकता मे ये बहम पाले हुए हो कि तुमसे सुन्दर किसी भी क्षेत्र में कोई है ही नही क्योंकि तुम लाइक कमेंट पर जिंदा हो और तुम्हे अहम ये है कि मेरे साथ इतने लोग जुड़े हैं ।
मगर सच देखो बेटा तुम अकेले हो या यों कहें कि इस आधुनिकता की दौड़ में अकेले दौड रहे हों
मै इसलिए डरता हूं बेटा कि अकेलापन आदमी की सोच को उसके मन के प्रेम को और उसके जीवन को निगल जाता है ।
इसलिऐ दिखावे से अधिक असल जिंदगी जियो “
शायद पिताजी ठीक ही तो कहरहे है मै कई वर्षो से अपनी बहिन से अपने भाई से नही मिला होँ फेसबुक पर फोटो मे लाइक खूब करता हूं ।
फिर कहता हूं पिताजी सही है ।
संदीप गढवाली
गाँव बडखोलू पौडी गढ़वाल
उत्तराखण्ड CR 16821