Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

🙏मैं का त्याग 🙏
सत्यनारायण भगवान की कथा में से एक 🙏
.
एक राजा ने परमात्मा को खोजना चाहा। वह किसी आश्रम में गया।
.
उस आश्रम के प्रधान साधु ने कहा, ”जो तुम्हारे पास है, उसे छोड़ दो। परमात्मा को पाना तो बहुत सरल है।”
.
वह राजा सब कुछ छोड़ कर पहुंचा। उसने राज्य का परित्याग कर दिया और सारी संपत्ति दरिद्रों को बांट दी। वह बिलकुल भिखारी होकर आया था।
.
लेकिन, साधु ने उसे देखते ही कहा, ”मित्र, सभी कुछ साथ ले आये हो ?” राजा कुछ भी समझा नहीं सका।
.
साधु ने आश्रम के सारे कूड़ा-करकट फेंकने का काम उसे सौंपा।
.
आश्रमवासियों को यह बहुत कठोर प्रतीत हुआ, लेकिन साधु बोला, ”सत्य को पाने के लिए वह अभी तैयार नहीं है और तैयार होना तो बहुत आवश्यक है!”
.
कुछ दिनों बाद आश्रमवासियों द्वारा राजा को उस कठोर कार्य से मुक्ति दिलाने की पुन: प्रार्थना करने पर प्रधान ने कहा, ”परीक्षा ले लें।”
.
फिर दूसरे दिन जब राजा कचरे की टोकरी सिर पर लेकर गांव के बाहर फेंकने जा रहा था, तो कोई व्यक्ति राह में उससे टकरा गया।
.
राजा ने टकराने वाले से कहा, ”महानुभाव! पन्द्रह दिन पहले आप इतने अंधे नहीं हो सकते थे!”
.
साधु ने यह प्रतिक्रिया जानकर कहा, ”क्या मैंने नहीं कहा था कि अभी समय नहीं आया है! वह अभी भी वही है!”
.
कुछ दिन बाद पुन: कोई राजा से टकरा गया।
.
इस बार राजा ने आंख उठाकर उसे देखा भर, कहा कुछ भी नहीं। किंतु आंखों ने भी जो कहना था, कह ही दिया।
.
साधु ने सुना तो वह बोला, ”संपत्ति को छोड़ना कितना आसान, स्वयं को छोड़ना कितना कठिन है!”
.
फिर तीसरी बार वही घटना हुई। राजा ने राह पर बिखर गये कचरे को इकट्ठा किया और अपने मार्ग पर चल गया, जैसे कि कुछ हुआ ही न हो!
.
उस दिन वह साधु बोला, ”वह अब तैयार है। जो मिटने को राजी हो, वही प्रभु को पाने का अधिकारी होता है।”
.
सत्य की आकांक्षा है, तो स्वयं को छोड़ दो। ‘मैं’ से बड़ा और कोई असत्य नहीं।
.
उसे छोड़ना ही संन्यास है। क्योंकि, वस्तुत: मैं-भाव ही संसार है।

!! बोलिये सत्यनारायण भगवान की जय !!🙏🙏।

महेंद्र वर्षने

Author:

Buy, sell, exchange old books

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s