Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

बहुत समय पहले की बात है ।


बहुत समय पहले की बात है । एक कछुआ था,| जो किसी गांव में एक तालाच में रहता था।| उसकी मित्रत्ता दो वगुलों से थी। तीनों दोस्त| एक साथ जूव मज़ा किया करते थे।RALएक बार उनके गांव में चारिश नहीं हुई, जिस| कारण वहां मर्यकर सूखा पड़ा। नदी व| तालाब सूखने लगे, खेत’ मुरझा गये । आदमीव पशु-पक्षी सन प्यास से मरने लगे। वह सब अपनी जान बचाने के लिये गावं छोड़करदूसरे स्थानों पर जाने लगे।वगुलों ने भी अन्य पक्षियों के साथ दूसरे जगह जाने का फैसला लिया। जाने से पूर्व बहअपने मित्र कछुए से मिलने गये । उनके जाने की बात सुनकर कछुए ने उनसे उसे भीअपने साथ ले चलने के लिए कहा । इस पर बगुलों ने कहा कि वह भी उसे वहां छोड़करनहीं जाना नहाते, परन्तु मुशकिल यह है कि कछुआ उड़ नहीं सकता और बह उड़ करकहीं भी जा सकते है।उनकी बात सुनकर कछुआ बोला, कि यह सच है कि वह उह नहीं सकता। परन्तु उसकेपास इस समस्या का हल है । कछुए की बात सुनकर बगुलों ने उससे तरीका यूछा।कछुआ बोला, ” तुम एक मजबूत हही ले आओ। उस हड़ी के दोनो कोनों को तुम अपनी-अपनी चोंच से पकड़ लेना और मैं उस इडी को वीच में से पकड़कर लटक जाऊंगा। इसप्रकार में ‘मी तुम्हारे साथ जा सकूँगा और हम अपनी जान बचा सकेंगे।”

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

संतोष का फल


एक बार एक देश में अकाल पड़ा। लोग भूखों मरने लगे।नगर में एक धनी दयालु पुरुष थे। उन्होंने सब छोटे बच्चों कोप्रतिदिन एक रोटी देने की घोषणा कर दी। दूसरे दिन सबेरे बगीचेमें सब बच्चे इकट्ठे हुए। उन्हें रोटियां बंटने लगी।रोटियां छोटी- बड़ी थीं। सब बच्चे एक- दूसरे को धक्कादेकर बड़ी रोटी पाने का प्रयत्न कर रहे थे। केवल एक छोटीलड़की एक ओर चुपचाप खड़ी थी। वह सबसे अन्त में आगे बढ़ी।टोकरे में सबसे छोटी अन्तिम रोटी बची थी। उसने उसे प्रसन्नतासे ले लिया और वह घर चली गई।दूसरे दिन फिर रोटियां बांटी गईं। उस लड़की को आज भीसबसे छोटी रोटी मिली ! लड़की ने जब घर लौट कर रोटी तोड़ीतो रोटी में से सोने की एक मुहर निकली। उसकी माता ने कहाकि- “मुहर उस धनी को दे आओ।’ लड़की दौड़ी-दौड़ी धनी केघर गई।’धनी ने उसे देखकर पूछा- ‘तुम क्यों आई हो?’लड़की ने कहा- ‘मेरी रोटी में यह मुहर निकली है। आटे मेंगिर गयी होगी। देने आई हूं। आप अपनी मुहर ले लें।’धनी बहुत प्रसन्न हुआ। उसने उसे अपनी धर्मपुत्री बना लियाऔर उसकी माता के लिए मासिक वेतन निश्चित कर दिया। बड़ीहोने पर वही लड़की उस धनी की उत्तराधिकारिणी बनी।

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

સસ્સા રાણા સાંકળિયા


સસ્સા રાણા સાંકળિયા એક ગામ પાસે જંગલમાં એક બાવાજી ઝુંપડી બનાવી રહેતા હતા અને એક નાના મંદિરમાં પૂજા પાઠ કરતા હતા. બાવાજી રોજ જંગલમાંથી તાજાં, પાકાં ફળો અને શાકભાજી લઇ આવતા. એક વાર બાવાજી જંગલમાં ગયા હતા ત્યારે એક સસલાભાઈ એમની ઝુંપડીએ આવી પહોંચ્યા. તાજાં, પાકાં ફળો, શાકભાજી જોઇને સસ્સાભાઈ તો રાજી રાજી થઇ ગયા. એ તો બાવાજીની ઝુપડીમાં ઘુસી ગયા અને અંદરથી બારણું બંધ કરી દીધું. પછી નિરાંતે ફળો અને શાકભાજી ખાવા લાગ્યા. થોડી વારે બાવાજી આવ્યા તો એમણે જોયું કે ઝુંપડીનું બારણું બંધ છે. બાવાજીએ વિચાર્યું કે અહીં જંગલમાં એમની ઝુપડીમાં કોણ ઘુસી ગયું હશે? એમણે બારણું ખટખટાવી પૂછ્યું, “ભાઈ, અંદર કોણ છે?” સસ્સાભાઈ અવાજ ઘેરો કરી બોલ્યા, “એ તો સસ્સા રાણા સાંકળિયા, ડાબે પગે ડામ. ભાગ બાવા નહીંતર તારી તુંબડી તોડી નાખું…” બાવાજી તો ગભરાઈ ગયા અને જાય ભાગ્યા ગામ ભણી. ગામ પાસેના ખેતરના ખેડૂત પટેલ સામે મળ્યા. પટેલે બાવાજીને પૂછ્યું, “બાવાજી, આમ ગભરાયેલા કેમ છો? કેમ ભાગો છો?” બાવાજીએ પટેલને સસ્સા રાણા વાળી વાત કરી. પટેલ કહે, “ચાલો, હું તમારી સાથે આવું”. પટેલ બાવાજીની ઝુંપડીએ ગયા અને બારણું ખટખટાવી પૂછ્યું, “અંદર કોણ છે?” સસ્સાભાઈ અવાજ ઘેરો કરી બોલ્યા, “એ તો સસ્સા રાણા સાંકળિયા, ડાબે પગે ડામ. ભાગ પટેલ નહીંતર તારી તુંબડી તોડી નાખું…” પટેલે આવું કૌતુક ક્યારેય નહોતું જોયું એટલે એ પણ ગભરાયા અને ભાગ્યા. એમણે ગામના મુખીને બોલાવ્યા. ગામના મુખી બાવાજીની ઝુંપડીએ ગયા અને બારણું ખટખટાવી પૂછ્યું, “અંદર કોણ છે?” સસ્સાભાઈ અવાજ ઘેરો કરી બોલ્યા, “એ તો સસ્સા રાણા સાંકળિયા, ડાબે પગે ડામ. ભાગ મુખી નહીંતર તારી તુંબડી તોડી નાખું…” મુખી પણ ગભરાયા. બધા મૂંઝાયા કે આ વળી સસ્સા રાણા કોણ છે? આવો અવાજ કોનો છે? બધાએ બાવાજીને કહ્યું, “તમે આજે ઝુંપડીમાં ન જાવ. આજની રાત ગામમાં જ રહો”. બાવાજી એમની ઝુંપડી છોડી ગામમાં સુવા જતા રહ્યા. સસ્સાભાઈને તો બહુ મજા પડી ગઈ. એમણે તો ધરાઈને ખાધું અને પછી નિરાંતે સુઈ ગયા. સવારે ઝુંપડી છોડી જંગલમાં જતા રહ્યા. આ વાતની શિયાળભાઈને ખબર પડી. એકવાર બાવાજી બહાર ગયા હતા ત્યારે શિયાળભાઈ એમની ઝુંપડીમાં ઘુસી ગયા. બાવાજીએ આવીને જોયું કે ફરી વાર કોઈ ઝુંપડીમાં ઘુસી ગયું છે. બાવાજીએ પટેલને અને મુખીને બોલાવ્યા. બધાએ બારણું ખટખટાવી પૂછ્યું, “અંદર કોણ છે?” શિયાળભાઈ બોલ્યા, “એ તો શિયાળભાઈ સાંકળિયા. ડાબે પગે ડામ. ભાગ બાવા. નહીતર તારી તુંબડી તોડી નાંખું”. બધા શિયાળભાઈનો અવાજ ઓળખી ગયા. “અરે આ તો શિયાળવું છે”. બધાએ ભેગા મળી બારણું તોડી નાખ્યું. અંદર જઈ શિયાળને બરાબરનો મેથીપાક આપ્યો! શિયાળભાઈ તો જાય ભાગ્યા જંગલમાં. હજી સુધી શિયાળભાઈને એ નથી સમજાયું કે સસ્સાભાઈ કેમ ન પકડાયા અને પોતે કેમ ઓળખાઈ ગયા?

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

आरसा और हंसी|


आरसा और हंसी|

नदी के तट पर संध्या के समय एक लकड़बग्धा एक घडियाल से मिला। उन्होंने| रुककर एक दूसरे का अभिवादन किया। लकड़बग्घे ने कहा-आपके दिन कैसे चल| रहे हैं जी? घडियाल ने जवाब दिया-मेरे दिन तो बुरे जा रहे हैं। जब कभी मैंन अपनेदुख-दर्द मैं रोता हूं, तब प्राणी हमेशा यह कहते हैं कि यह तो घड़ियाली आंसू हैं।इससे मैं वह बेहद आहत हूं। तब लकड़बग्घे ने कहा-आप अपने दुख-दर्द की बातकरते हैं लेकिन एक पल मेरे बारे में भी सोचें। मैं संसार के सौंदर्य, उसके आश्चर्य| और उसके चमत्कारों को देखता हूँ और मारे खुशी के हंस देता हूं। जैसे दिन हंसत्ता| है। लेकिन जंगल के लोग कहते है-यह तो बस एक लकड़बग्घे की हंसी है। खलीलजिबान इस कथा के माध्यम से दुनिया की दृष्टि को रेखांकित कर रहे हैं जो हरगतिविधि की अपने ढंग से व्याख्या करती है। बोध कथां बाज और लवा बाज औरलवा पक्षी एक ऊंची पहाड़ी को चट्टान पर मिले । लचा ने कहा-नमस्ते जी ] बाज नेतिरस्कार से देखा और धीमे से कहा-नमस्ते । लवा पक्षी ने कहा-उम्मीद है आपकीतरफ सब ठीक-ठाक है जी । बाज ने कहा-हां हमारी तरफ सब ठीक है लेकिन तुम्हें| पता नहीं कि हम परिंदों के राजा हैं और जब तक हम खुद ना बोलें, तुम्हें हमसे नहींबोलना चाहिए। लवा ने कहा-लेकिन हम एक ही परिवार के हैं। बाज ने उस परतिरस्कार की दृष्टि डाली और कहा-किसने कह दिया कि तुम और मैं एक ही परिवारके हैं। लवा ने कहा-लेकिन मैं आपको याद दिला दूं कि मैं आपके बराबर ऊंचा उड़सकता हूं। मैं गा सकता हूं और इस धरती के दूसरे प्राणियों को आनंद दे सकता हूं।आप न तो सुख देते हैं न आनंद। बाज क्रोधित हो गया और उसने कहा-सुख औरआनंद, तुम पिद्दी से धृष्टं प्राणी! मैं तुम्हे अपनी चोंच के एक ही बार से खत्म करसकता हूं। तुम तो मेरे पांव के बराबर हो । तब लवा उड़कर बाज की पीठ पर जा बैठा || और उसके परों को सोचने लगा। बाज नाराज हो गया। उसने इतनी तेज और इतनीऊंची उड़ान भरी तांकि उस नन्हे पक्षी से मुक्ति मिल जाए । किंतु वह सफल नहीं हुआ।हारकर वह इस ऊंची पहाड़ी की उसी चट्टान पर उतर गया। वह पहले से अधिकझुंझलाया हुआ था। वह नन्हा पक्षी अब भी उसकी पीठ पर था। एक छोटा कछुआ| यह दृश्य देखकर हंस पड़ा। बाज ने तिरस्कार से कहा-सुस्त, रेंगने वाले जीव, धरतीका साथ न छोड़ने वाले, तुम किस बात पर हंस रहे हो। कछुए ने कहा-अरे मैं देख || रहा हूं कि तुम घोड़ा बने हुए हो और एक छोटा पक्षी तुम पर सवार है। छोटा पक्षीतुमसे बेहतर है। बाज ने उससे कहा-‘जाओ जाकर अपना काम करो। यह हमारा, मेरेभाई लबा का और मेरा पारिवारिक मामला है।’ (खालील जिबान)

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

આ સ્ટોરી તો લગભગ દરેકના ઘરમાં બનતી હશે, પરંતુ એ સ્ટોરી માંથી જે શીખવાનું અને સમજવાનું છે તે કદાચ આપણામાંથી ઘણાનાં ખ્યાલ બહાર રહી ગયું હોઈ શકે છે.

દિવાળી નો સમય હતો, એક ઘરમાં હવન થઈ રહ્યો હતો, હવનમાં અર્પણ કરવા માટે દરેક લોકો સામે સામગ્રી રાખવામાં આવી હતી. પંડિત સ્વાહા કહે એટલે તરત જ હવનમાં સામગ્રી અર્પણ કરવી એવી સૂચના આપવામાં આવી હતી. પરિવારની દરેક વ્યક્તિ તેની પાસે રહેલી સામગ્રી હવનમાં અર્પણ કરી રહ્યા હતા. પરંતુ પરિવારના દરેક સભ્ય માં એક આશંકા બધાને થઈ રહી હતી કે હવન ખતમ થતાં પહેલા તેની પાસે હાજર રહેલી સામગ્રી વહેલા ખતમ ન થઈ જાય, એટલે પરિવારના દરેક સભ્ય સહિત ઘરના માલિક પણ ઓછી સામગ્રી હવનમાં અર્પણ કરી રહ્યા હતા. ઘરના માલિક કે જેની પાસે ઘી અર્પણ કરવાની જવાબદારી હતી તેઓ પોતે પણ ધીમે ધીમે ઘી અર્પણ કરી રહ્યા હતા એ જ આશંકામાં કે કદાચ હવન ની પૂર્ણાહુતિ થાય તે પહેલાં ઘી ખતમ ના થઈ જાય.

પંડિત હવનની વિધિ થોડા સમય સુધી કરાવતા રહ્યા, તેનો મંત્રોચ્ચાર બોલતા રહ્યા અને ધીમે ધીમે કરીને હવન સંપૂર્ણપણે પૂરો થયો. હવન ની પુર્ણાહુતી થયા પછી પણ બધા લોકો પાસે ઘણી બધી હવનની સામગ્રી બચેલી હતી.

અને આશ્ચર્યની વાત એ હતી કે ઘીનો ઉપયોગ તો સૌથી ઓછો થયો હતો. ઘીના વાસણમાં અડધાથી પણ વધુ ઘી પડ્યું હતું.

હવન પૂરો થયા પછી પંડિતજીએ આદેશ આપીને કહ્યું કે તમારી પાસે જેટલી સામગ્રી હોય એટલી આ હવન કુંડમાં અર્પણ કરી દો. અને ઘરના માલિક સામે જોઈને ઘી ને પણ કુંડમાં અર્પણ કરવાનો આદેશ આપ્યો.

એક સાથે બધા પરિવારના લોકો પાસે જે સામગ્રી પડી હતી તે બધી સામગ્રી હવન કુંડમાં અર્પણ કરાયું અને સાથે સાથે બચેલું ઘી પણ અર્પણ કરવામાં આવ્યું એટલે થોડા જ સમયમાં આખા ઘરમાં ધુમાડો થવા લાગ્યો, રૂમ માં બેસવું મુશ્કેલ થઈ ગયું એક પછી એક બધા પરિવારના સભ્યો ધીમે ધીમે રૂમની બહાર જવા લાગ્યા.

ઘરના માલિક પણ તે રૂમની બહાર નીકળી ગયા, હવે હવનની પુર્ણાહુતી ન થાય ત્યાં સુધી બધા લોકો ફરી પાછા તે રૂમમાં જઈ શકે તેમ ન હતા. ઘણા સમય સુધી રાહ જોયા પછી તેઓ અંદર જઈ શકે તેમ હતા.

આ સ્ટોરી ને અહીં અટકાવીને એક ખૂબ જ અગત્યનો સવાલ મનમાં ઉદભવે છે.

એ હવન માં હાજર રહેલા દરેક વ્યક્તિને ખબર હતી કે તેની પાસે જેટલી સામગ્રી પડી છે તે બધી સામગ્રી હવન કુંડમાં જ અર્પણ કરવાની છે. પરંતુ બધા લોકો તેને બચાવી ને રાખી રહ્યા હતા. બધા લોકો એવું વિચારી રહ્યા હતાં કે આ સામગ્રી છેલ્લે કામ આવશે.

અને આ જ વસ્તુને આપણી જિંદગી સાથે સરખાવવામાં આવે તો આપણે બધા પણ આવું જ કરીએ છીએ. હકીકતમાં આ જ આપણી આદત બની ગઈ છે. આપણે બધું અંત સુધી અથવા તો અંત માટે બચાવવા માંગીએ છીએ અને ઘણું બધું બચાવીને રાખીએ પણ છીએ.

જિંદગી નો હવન પૂરો થઈ જાય છે અને એ હવન ની સામગ્રી બચીને રહી જાય છે. આપણે બચાવવામાં અને બચાવવામાં એટલા બધા ખોવાઈ જઈએ છીએ કે જ્યારે બધું હવન કુંડમાં જ અંતમાં અર્પણ થવાનું છે તો આપણે તેને બચાવી ને શું કરી શકીએ? અંતમાં તો તે માત્ર ધુમાડો જ આપશે!

સંસાર એ હવન કુંડ છે અને આપણું જીવન એ પૂજા સમાન છે, એક દિવસ બધું જ સંસારરૂપી હવન કુંડમાં સમાહિત થઈ જવાનું છે. સારી પૂજા એ જ ગણાય જેમાં હવન ની સામગ્રીનો સરખી રીતે ઉપયોગ કરી શકીએ.

તસવીર પ્રતિકાત્મક છે.

ચીમન ભલાલ

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक, भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

क्या आप जानते हैं कि विश्वप्रसिद्ध नालन्दा विश्वविद्यालय को जलाने वाले जे हादी बख्तियार खिलजी की मौत कैसे हुई थी ???

असल में ये कहानी है सन 1206 ईसवी की…!

1206 ईसवी में कामरूप में एक जोशीली आवाज गूंजती है…

“बख्तियार खिलज़ी तू ज्ञान के मंदिर नालंदा को जलाकर कामरूप (असम) की धरती पर आया है… अगर तू और तेरा एक भी सिपाही ब्रह्मपुत्र को पार कर सका तो मां चंडी (कामातेश्वरी) की सौगंध मैं जीते-जी अग्नि समाधि ले लूंगा”… राजा पृथु

और , उसके बाद 27 मार्च 1206 को असम की धरती पर एक ऐसी लड़ाई लड़ी गई जो मानव अस्मिता के इतिहास में स्वर्णाक्षरों में अंकित है.

एक ऐसी लड़ाई जिसमें किसी फौज़ के फौज़ी लड़ने आए तो 12 हज़ार हों और जिन्दा बचे सिर्फ 100….

जिन लोगों ने युद्धों के इतिहास को पढ़ा है वे जानते हैं कि जब कोई दो फौज़ लड़ती है तो कोई एक फौज़ या तो बीच में ही हार मान कर भाग जाती है या समर्पण करती है…

लेकिन, इस लड़ाई में 12 हज़ार सैनिक लड़े और बचे सिर्फ 100 वो भी घायल….

ऐसी मिसाल दुनिया भर के इतिहास में संभवतः कोई नहीं….

आज भी गुवाहाटी के पास वो शिलालेख मौजूद है जिस पर इस लड़ाई के बारे में लिखा है.

उस समय मुहम्मद बख्तियार खिलज़ी बिहार और बंगाल के कई राजाओं को जीतते हुए असम की तरफ बढ़ रहा था.

इस दौरान उसने नालंदा विश्वविद्यालय को जला दिया था और हजारों बौद्ध, जैन और हिन्दू विद्वानों का कत्ल कर दिया था.

नालंदा विवि में विश्व की अनमोल पुस्तकें, पाण्डुलिपियाँ, अभिलेख आदि जलकर खाक हो गये थे.

यह जे हादी खिलज़ी मूलतः अफगानिस्तान का रहने वाला था और मुहम्मद गोरी व कुतुबुद्दीन एबक का रिश्तेदार था.

बाद के दौर का अलाउद्दीन खिलज़ी भी उसी का रिश्तेदार था.

असल में वो जे हादी खिलज़ी, नालंदा को खाक में मिलाकर असम के रास्ते तिब्बत जाना चाहता था.

क्योंकि, तिब्बत उस समय… चीन, मंगोलिया, भारत, अरब व सुदूर पूर्व के देशों के बीच व्यापार का एक महत्वपूर्ण केंद्र था तो खिलज़ी इस पर कब्जा जमाना चाहता था….
लेकिन, उसका रास्ता रोके खड़े थे असम के राजा पृथु… जिन्हें राजा बरथू भी कहा जाता था…

आधुनिक गुवाहाटी के पास दोनों के बीच युद्ध हुआ.

राजा पृथु ने सौगन्ध खाई कि किसी भी सूरत में वो खिलज़ी को ब्रह्मपुत्र नदी पार कर तिब्बत की और नहीं जाने देंगे…

उन्होने व उनके आदिवासी यौद्धाओं नें जहर बुझे तीरों, खुकरी, बरछी और छोटी लेकिन घातक तलवारों से खिलज़ी की सेना को बुरी तरह से काट दिया.

स्थिति से घबड़ाकर…. खिलज़ी अपने कई सैनिकों के साथ जंगल और पहाड़ों का फायदा उठा कर भागने लगा…!

लेकिन, असम वाले तो जन्मजात यौद्धा थे..

और, आज भी दुनिया में उनसे बचकर कोई नहीं भाग सकता….

उन्होने, उन भगोडों खिलज़ियों को अपने पतले लेकिन जहरीले तीरों से बींध डाला….

अन्त में खिलज़ी महज अपने 100 सैनिकों को बचाकर ज़मीन पर घुटनों के बल बैठकर क्षमा याचना करने लगा….

राजा पृथु ने तब उसके सैनिकों को अपने पास बंदी बना लिया और खिलज़ी को अकेले को जिन्दा छोड़ दिया उसे घोड़े पर लादा और कहा कि
“तू वापस अफगानिस्तान लौट जा…
और, रास्ते में जो भी मिले उसे कहना कि तूने नालंदा को जलाया था फ़िर तुझे राजा पृथु मिल गया…बस इतना ही कहना लोगों से….”

खिलज़ी रास्ते भर इतना बेइज्जत हुआ कि जब वो वापस अपने ठिकाने पंहुचा तो उसकी दास्ताँ सुनकर उसके ही भतीजे अली मर्दान ने ही उसका सर काट दिया….

लेकिन, कितनी दुखद बात है कि इस बख्तियार खिलज़ी के नाम पर बिहार में एक कस्बे का नाम बख्तियारपुर है और वहां रेलवे जंक्शन भी है.

जबकि, हमारे राजा पृथु के नाम के शिलालेख को भी ढूंढना पड़ता है.

लेकिन, जब अपने ही देश भारत का नाम भारत करने के लिए कोर्ट में याचिका लगानी पड़े तो समझा जा सकता है कि क्यों ऐसा होता होगा…..

उपरोक्त लेख पढ़ने के बाद भी अगर कायर, नपुंसक एवं तथाकथित गद्दार धर्म निरपेक्ष बुद्धिजीवी व स्वार्थी हिन्दूओं में एकता की भावना नहीं जागती…

तो लानत है ऐसे लोगों पर.

जय महाकाल…!!!
C/P

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

ऐसी कहानियों को एनसीईआरटी को कोर्स में शामिल करना चाहिए।

जब राष्ट्रपति ने खाया एक गरीब भारतीय लड़की का झूठा चावल
……………

मीराबाई चानू की कहानी है यह।

उस समय उसकी उम्र 10 साल थी। इम्फाल से 200 किमी दूर नोंगपोक काकचिंग गांव में गरीब परिवार में जन्मी और छह भाई बहनों में सबसे छोटी मीराबाई चानू अपने से चार साल बड़े भाई सैखोम सांतोम्बा मीतेई के साथ पास की पहाड़ी पर लकड़ी बीनने जाती थीं।

एक दिन उसका भाई लकड़ी का गठ्ठर नहीं उठा पाया, लेकिन मीरा ने उसे आसानी से उठा लिया और वह उसे लगभग 2 किमी दूर अपने घर तक ले आई।

शाम को पड़ोस के घर मीराबाई चानू टीवी देखने गई, तो वहां जंगल से उसके गठ्ठर लाने की चर्चा चल पड़ी। उसकी मां बोली, ”बेटी आज यदि हमारे पास बैल गाड़ी होती तो तूझे गठ्ठर उठाकर न लाना पड़ता।”

”बैलगाड़ी कितने रूपए की आती है माँं ?” मीराबाई ने पूछा

”इतने पैसों की जितने हम कभी जिंदगीभर देख न पाएंगे।”

”मगर क्यों नहीं देख पाएंगे, क्या पैसा कमाया नहीं जा सकता ? कोई तो तरीका होगा बैलगाड़ी खरीदने के लिए पैसा कमाने का ?” चानू ने पूछा तो तब गांव के एक व्यक्ति ने कहा, ”तू तो लड़कों से भी अधिक वजन उठा लेती है, यदि वजन उठाने वाली खिलाड़ी बन जाए तो एक दिन जरूर भारी—भारी वजन उठाकर खेल में सोना जीतकर उस मैडल को बेचकर बैलग़ाड़ी खरीद सकती है।”

”अच्छी बात है मैं सोना जीतकर उसे बेचकर बैलगाड़ी खरीदूंगी।” उसमें आत्मविश्वास था।

उसने वजन उठाने वाले खेल के बारे में जानकारी हासिल की, लेकिन उसके गांव में वेटलिफ्टिंग सेंटर नहीं था, इसलिए उसने रोज़ ट्रेन से 60 किलोमीटर का सफर तय करने की सोची।

शुरुआत उन्होंने इंफाल के खुमन लंपक स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स से की।

एक दिन उसकी रेल लेट हो गयी.. रात का समय हो गया। शहर में उसका कोई ठिकाना न था, कोई उसे जानता भी न था। उसने सोचा कि किसी मन्दिर में शरण ले लेगी और कल अभ्यास करके फिर अगले दिन शाम को गांव चली जाएगी।

एक अधूरा निर्माण हुआ भवन उसने देखा जिस पर आर्य समाज मन्दिर लिखा हुआ था। वह उसमें चली गई। वहां उसे एक पुरोहित मिला, जिसे उसने बाबा कहकर पुकारा और रात को शरण मांगी।

”बेटी मैं आपको शरण नहीं दे सकता, यह मन्दिर है और यहां एक ही कमरे पर छत है, जिसमें मैं सोता हूँ । दूसरे कमरे पर छत अभी डली नहीं, एंगल पड़ गई हैं, पत्थर की सिल्लियां आई पड़ी हैं लेकिन पैसे खत्म हो गए। तुम कहीं और शरण ले लो।”

”मैं रात में कहाँ जाउँगी बाबा,” मीराबाई आगे बोली, ”मुझे बिन छत के कमरे में ही रहने की इजाजत दे दो।”

”अच्छी बात है, जैसी तेरी मर्जी।” बाबा ने कहा।

वह उस कमरे में माटी एकसार करके उसके उपर ही सो गई, अभी कमरे में फर्श तो डला नहीं था। जब छत नहीं थी तो फर्श कहां से होता भला। लेकिन रात के समय बूंदाबांदी शुरू हो गई और उसकी आंख खुल गई।

मीराबाई ने छत की ओर देखा। दीवारों पर उपर लोहे की एंगल लगी हुई थी, लेकिन सिल्लियां तो नीचे थी। आधा अधूरा जीना भी बना हुआ था। उसने नीचे से पत्थर की सिल्लिया उठाई और उपर एंगल पर जाकर रख ​दी और फिर थोड़ी ही देर में दर्जनों सिल्लियां कक्ष की दीवारों के उपर लगी एंगल पर रखते हुए कमरे को छाप दिया।

उसके बाद वहां एक बरसाती पन्नी पड़ी थी वह सिल्लियों पर डालकर नीचे से फावड़ा और तसला उठाकर मिट्टी भर—भरकर उपर छत पर सिल्लियो पर डाल दी। इस प्रकार मीराबाई ने छत तैयार कर दी।

बारिश तेज हो गई,और वह अपने कमरे में आ गई। अब उसे भीगने का डर न था, क्योंकि उसने उस कमरे की छत खुद ही बना डाली थी।

अगले दिन बाबा को जब सुबह पता चला कि मीराबाई ने कमरे की छत डाल दी तो उसे आश्चर्य हुआ और उसने उसे मन्दिर में हमेशा के लिए शरण दे दी, ताकि वह खेल की तैयारी वहीं रहकर कर सके, क्योंकि वहाँं से खुमन लंपक स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स निकट था।

बाबा उसके लिए खुद चावल तैयार करके खिलाते और मीराबाई ने कक्षों को गाय के गोबर और पीली माटी से लिपकर सुन्दर बना दिया था।

समय मिलने पर बाबा उसे एक किताब थमा देते,जिसे वह पढ़कर सुनाया करती और उस किताब से उसके अन्दर धर्म के प्रति आस्था तो जागी ही साथ ही देशभक्ति भी जाग उठी।

इसके बाद मीराबाई चानू 11 साल की उम्र में अंडर-15 चैंपियन बन गई और 17 साल की उम्र में जूनियर चैंपियन का खिताब अपने नाम किया।

लोहे की बार खरीदना परिवार के लिए भारी था। मानसिक रूप से परेशान हो उठी मीराबाई ने यह समस्या बाबा से बताई, तो बाबा बोले, ”बेटी चिंता न करो, शाम तक आओगी तो बार तैयार मिलेगा।”

वह शाम तक आई तो बाबा ने बांस की बार बनाकर तैयार कर दी, ताकि वह अभ्यास कर सके।

बाबा ने उनकी भेंट कुंजुरानी से करवाई। उन दिनों मणिपुर की महिला वेटलिफ़्टर कुंजुरानी देवी स्टार थीं और एथेंस ओलंपिक में खेलने गई थीं।

इसके बाद तो मीराबाई ने कुंजुरानी को अपना आदर्श मान लिया और कुंजुरानी ने बाबा के आग्रह पर इसकी हर संभव सहायता करने का बीड़ा उठाया।

जिस कुंजुरानी को देखकर मीरा के मन में विश्व चैंपियन बनने का सपना जागा था, अपनी उसी आइडल के 12 साल पुराने राष्ट्रीय रिकॉर्ड को मीरा ने 2016 में तोड़ा, वह भी 192 किलोग्राम वज़न उठाकर।

2017 में विश्व भारोत्तोलन चैम्पियनशिप, अनाहाइम, कैलीफोर्निया, संयुक्त राज्य अमेरिका में उसे भाग लेने का अवसर मिला।

मुकाबले से पहले एक सहभोज में उसे भाग लेना पड़ा। सहभोज में अमेरिकी राष्ट्रपति मुख्य अतिथि थे।

राष्ट्रपति ने देखा कि मीराबाई को उसके सामने ही पुराने बर्तनों में चावल परोसा गया, जबकि सब होटल के शानदार बर्तनों में शाही भोजन का लुत्फ ले रहे थे।

राष्ट्रपति ने प्रश्न किया, ”इस खिलाड़ी को पुराने बर्तनों में चावल क्यों परोसा गया, क्या हमारा देश इतना गरीब है कि एक लड़की के लिए बर्तन कम पड़ गए, या फिर इससे भेदभाव किया जा रहा है, यह अछूत है क्या ?”

”नहीं महामहिम ऐसी बात नहीं है,” उसे खाना परोस रहे लोगों से जवाब मिला, ” इसका नाम मीराबाई है। यह जिस भी देश में जाती है, वहाँं अपने देश भारत के चावल ले जाती है। यह विदेश में जहाँ भी होती है, भारत के ही चावल उबालकर खाती है। यहाँ भी ये चावल खुद ही अपने कमरे से उबालकर लाई है ।”

”ऐसा क्यों ?” राष्ट्रपति ने मीराबाई की ओर देखते हुए उससे पूछा।

”महामहिम, मेरे देश का अन्न खाने के लिए देवता भी तरसते हैं, इसलिए मैं अपने ही देश का अन्न खाती हूँ।”

”ओह् बहुत देशभक्त हो तुम, जिस गांव में तुम्हारा जन्म हुआ, भारत में जाकर उस गांव के एकबार अवश्य दर्शन करूंगा।” राष्ट्रपति बोले।

”महामहिम इसके लिए मेरे गांव में जाने की क्या जरूरत है ?”

”क्यों ?”

”मेरा मेरा गांव मेरे साथ है, मैं उसके दर्शन यहीं करा देती हूँं।”

”अच्छा कराइए दर्शन!” कहते हुए उस मूर्ख लड़की की बात पर हंस पड़े राष्ट्रपति।

मीराबाई अपने साथ हैंडबैग लिए हुए थी,उसने उसमें से एक पोटली खोली, फिर उसे पहले खुद माथे से लगाया फिर राष्ट्रपति की ओर करते हुए बोली, ”यह रहा मेरा पावन गांव और महान देश।”

”यह क्या ह ै?” राष्ट्रपति पोटली देखते हुए बोले, ”इसमें तो मिट्टी है ?”

”हाँ यह मेरे गांव की पावन मिट्टी है, इसमें मेरे देश के देशभक्तों का लहू मिला हुआ, सरदार भगत सिंह, रामप्रसाद बिस्मिल, चंद्रशेखर आजाद का लहू इस मिट्टी में मिला हुआ है, इसलिए यह मिट्टी नहीं, मेरा सम्पूर्ण भारत हैं…”

”ऐसी शिक्षा तुमने किस विश्वविद्यालय से पाई चानू ?”

”महामहिम ऐसी शिक्षा विश्वविद्यालय में नहीं दी जाती, विश्वविद्यालय में तो मैकाले की शिक्षा दी जाती है, ऐसी शिक्षा तो गुरु के चरणों में मिलती है, मुझे आर्य समाज में हवन करने वाले बाबा से यह शिक्षा मिली है, मैं उन्हें सत्यार्थ प्रकाश पढ़कर सुनाती थी, उसी से ​मुझे देशभक्ति की प्रेरणा मिली।”

”सत्यार्थ प्रकाश ?”
”हाँं सत्यार्थ प्रकाश,” चानू ने अपने हैंडबैग से सत्यार्थ प्रकाश की प्रति निकाली और राष्ट्रपति को थमा दी, ”आप रख लीजिए मैं हवन करने वाले बाबा से और ले लूंगी।”

”कल गोल्डमैडल तुम्हीं जितोगी,” राष्ट्रपति आगे बोले, ”मैंने पढ़ा है कि तुम्हारे भगवान हनुमानजी ने पहाड़ हाथों पर उठा लिया था, लेकिन कल यदि तुम्हारे मुकाबले हनुमानजी भी आ जाएं तो भी तुम ही जितोगी…तुम्हारा भगवान भी हार जाएगा, तुम्हारे सामने कल।”

राष्ट्रपति ने वह किताब एक अधिकारी को देते फिर आदेश दिया, ”इस किताब को अनुसंधान के लिए भेज दो कि इसमें क्या है, जिसे पढ़ने के बाद इस लड़की में इतनी देशभक्ति उबाल मारने लगी कि अपनी ही धरती के चावल लाकर हमारे सबसे बड़े होटल में उबालकर खाने लगी।”

चानू चावल खा चुकी थी, उसमें एक चावल कहीं लगा रह गया, तो राष्ट्रपति ने उसकी प्लेट से वह चावल का दाना उठाया और मुँह में डालकर उठकर चलते बने।

”बस मुख से यही निकला, ”यकीनन कल का गोल्ड मैडल यही लड़की जितेगी, देवभूमि का अन्न खाती है यह।”

और अगले दिन मीराबाई ने स्वर्ण पदक जीत ही लिया, लेकिन किसी को इस पर आश्चर्य नहीं था, सिवाय भारत की जनता के…

अमेरिका तो पहले ही जान चुका था कि वह जीतेगी,बीबीसी जीतने से पहले ही लीड़ खबर बना चुका था ।

जीतते ही बीबीसी पाठकों के सामने था, जबकि भारतीय मीडिया अभी तक लीड खबर आने का इंतजार कर रही थी।

इसके बाद चानू ने 196 किग्रा, जिसमे 86 kg स्नैच में तथा 110 किग्रा क्लीन एण्ड जर्क में था, का वजन उठाकर भारत को 2018 राष्ट्रमण्डल खेलों का पहला स्वर्ण पदक दिलाया।

इसके साथ ही उन्होंने 48 किग्रा श्रेणी का राष्ट्रमण्डल खेलों का रिकॉर्ड भी तोड़ दिया।

2018 राष्ट्रमण्डल खेलों में विश्व कीर्तिमान के साथ स्वर्ण जीतने पर मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने ₹15 लाख की नकद धनराशि देने की घोषणा की।

2018 में उन्हें भारत सरकार ने पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित किया।

यह पुरस्कार मिलने पर मीराबाई ने सबसे पहले अपने घर के लिए एक बैलगाड़ी खरीदी और बाबा के मन्दिर को पक्का करने के लिए एक लाख रुपए उन्हें गुरु दक्षिणा में दिए।

‘वेद वृक्ष की छांव तले पुस्तक का एक अंश,
जय श्री राम🙏🏻
साभार 🙏