Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

भक्त अम्बरीष


“भक्त अम्बरीष की छोटी रानी के विवाह की कथा” भक्तवर अम्बरीष की अपूर्व भगवद्भक्ति पर एक राजकुमारी लुब्ध हो गयी। उसने निश्चय किया कि मैं उन्हीं को अपने पतिके रूप में वरण करूँगी। अपने दृढ़ विचार उसने अपने पिता के समक्ष उपस्थित कर दिया। पिता ने पत्र में सारी बातेंं लिखकर एक ब्राह्मण द्वारा अम्बरीष के पास भेजा। ब्राह्मणदेव नृपशिरोमणि अम्बरीष के पास पहुँचे और पत्र उन्हें दे दिया। पत्र पढ़कर नरेश ने कहा- “भगवद्भजन और राज्य कार्य से मुझे तनिक भी अवकाश नहीं मिलता कि किसी भी रानी की सेवा में उपस्थित हो सकूँ। रानियाँ भी मेरे अधिक हैं। ऐसी स्थिति में किसी अन्य राजकुमारी का परिणय मुझे प्रिय नहीं है।” ब्राह्मणदेव लौट आये। श्रीअम्बरीष का सन्देश राजा और उनकी पुत्री को उन्होंने सुना दिया। राजकुमारी के मन की कली विकसित हो गयी।उसने सोचा- “ऐसे पुरुष जिन्हें विलास आदि से पूरी विरक्ति और भगवान् के चरणों में अनुपम अनुरक्ति है, धन्य हैं। मैं उन्हें अवश्य ही पति बनाऊँगी। इस प्रकार अपना जीवन सफल कर लूँगी।” ब्राह्मणदेवता पुनः अम्बरीष के पास पहुँचे और बोले- “राजकुमारी ने अत्यन्त विनय से कहा है कि आपके विचारों को सुनकर मेरा ह्रदय गदगद् हो गया है। मन से आपको मैंने पति बना लिया है। पत्नी के रूप में यदि आपने मुझे स्वीकार नहीं किया तो मैं आत्महत्या कर लूँगी। स्त्री-वध के महापाप से आप बच नहीं सकेंगे।” धर्मप्राण नरेश ने विवाह स्वीकार कर लिया। उन्होंने ब्राह्मण को अपना खड्ग देकर कहा, “आप इससे राजकुमारी की भाँवरी फिरा लें।” प्रसन्नमन ब्राह्मण लौटे। राजकुमारी हर्षातिरेक से नाच उठीं। खड्ग से भाँवरी फिरा कर उसका विवाह-संस्कार पूर्ण हुआ। वे माता-पिता से विदा होकर पतिगृह में आ गयीं। परम भगवद्-भक्त पति की शान्त मूर्ति के दर्शन कर उन्होंने अपना अहोभाग्य समझा। ———-:::×:::———- “जय जय श्री राधे”******************************************* “श्रीजी की चरण सेवा”

Author:

Buy, sell, exchange books

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s