Posted in संस्कृत साहित्य

कई बार हम लोगों को टीवी सीरियल में नारद मुनि को एक चाटुकार और चुगलीबाज की तरह प्रदर्शित करते हुए दिखाया गया है। जिन लोगों ने हमारे ग्रंथों को नहीं पढ़ा है उनके मन में नारद मुनि को लेकर गलत छवि बनना सम्भव है
परंतु क्या नारद मुनि सिर्फ इतने ही थे?
नारद मुनि ब्रह्मा के मानस पुत्रों में से एक है। उन्होने कठिन तपस्या से ब्रह्मर्षि पद प्राप्त किया है। शास्त्रों में इन्हें भगवान का मन कहा गया है। इसी कारण सभी युगों में, सब लोकों में, समस्त विद्याओं में, समाज के सभी वर्गो में नारदजी का सदा से प्रवेश रहा है।
देवताओं ने ही नहीं, वरन् दानवों ने भी उन्हें सदैव आदर दिया है। श्रीमद्भगवद्गीता के दशम अध्याय के २६वें श्लोक में स्वयं भगवान श्रीकृष्ण ने इनकी महत्ता को स्वीकार करते हुए कहा है – देवर्षीणाम्चनारद:। देवर्षियों में मैं नारद हूं।
श्रीमद्भागवत महापुराणका कथन है, सृष्टि में भगवान ने देवर्षि नारद के रूप में तीसरा अवतार ग्रहण किया और सात्वततंत्र (जिसे नारद-पाञ्चरात्र भी कहते हैं) का उपदेश दिया जिसमें सत्कर्मो के द्वारा भव-बंधन से मुक्ति का मार्ग दिखाया गया है।
महाभारत में नारदजी के व्यक्तित्व का परिचय इस प्रकार दिया गया है – देवर्षि नारद वेद और उपनिषदों के मर्मज्ञ, देवताओं के पूज्य, इतिहास-पुराणों के विशेषज्ञ, पूर्व कल्पों (अतीत) की बातों को जानने वाले, न्याय एवं धर्म के तत्त्‍‌वज्ञ, शिक्षा, व्याकरण, आयुर्वेद, ज्योतिष के विद्वान, प्रभावशाली वक्ता, मेधावी, कवि, महापण्डित, बृहस्पति जैसे महाविद्वानोंकी शंकाओं का समाधान करने वाले, धर्म-अर्थ-काम-मोक्ष के यथार्थ के ज्ञाता, योगबलसे समस्त लोकों के समाचार जान सकने में समर्थ, सांख्य एवं योग के सम्पूर्ण रहस्य को जानने वाले,
देवताओं के उपदेशक, समस्त शास्त्रों में प्रवीण, सद्गुणों के भण्डार, सदाचार के आधार, परम तेजस्वी, सभी विद्याओं में निपुण है।
सत्य सनातन धर्म की जय
🚩🚩

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

!! दो शब्द !!

बहुत समय पहले की बात है, एक प्रसिद्द गुरु अपने मठ में शिक्षा दिया करते थे। पर यहाँ शिक्षा देना का तरीका कुछ अलग था, गुरु का मानना था कि सच्चा ज्ञान मौन रह कर ही आ सकता है; और इसलिए मठ में मौन रहने का नियम था। लेकिन इस नियम का भी एक अपवाद था, दस साल पूरा होने पर कोई शिष्य गुरु से दो शब्द बोल सकता था।

पहला दस साल बिताने के बाद एक शिष्य गुरु के पास पहुंचा, गुरु जानते थे की आज उसके दस साल पूरे हो गए हैं ; उन्होंने शिष्य को दो उँगलियाँ दिखाकर अपने दो शब्द बोलने का इशारा किया। शिष्य बोला, ”खाना गन्दा“ गुरु ने ‘हाँ’ में सर हिला दिया। इसी तरह दस साल और बीत गए और एक बार फिर वो शिष्य गुरु के समक्ष अपने दो शब्द कहने पहुंचा। ”बिस्तर कठोर”, शिष्य बोला।

गुरु ने एक बार फिर ‘हाँ’ में सर हिला दिया। करते-करते दस और साल बीत गए और इस बार वो शिष्य गुरु से मठ छोड़ कर जाने की आज्ञा लेने के लिए उपस्थित हुआ और बोला, “नहीं होगा” . “जानता था”, गुरु बोले, और उसे जाने की आज्ञा दे दी और मन ही मन सोचा जो थोड़ा सा मौका मिलने पर भी शिकायत करता है वो ज्ञान कहाँ से प्राप्त कर सकता है।

शिक्षा:-
फ्रेंड्स! बहुत से लोग अपनी लाइफ कम्प्लेन करने या शिकायत करने में ही बीता देते हैं, और उस शिष्य की तरह अपने लक्ष्य से चूक जाते हैं। शिष्य ने पहले दस साल सिर्फ ये बताने के लिए इंतज़ार लिया कि खाना गन्दा है ; यदि वो चाहता तो इस समय में वो खुद खाना बनाना सीख कर अपने और बाकी लोगों के लिए अच्छा खाना बना सकता था, चीजों को बदल सकता था… हमें यही करना चाहिए; हमें शिाकयात करने की जगह चीजों को सही करने की दिशा में काम करना चाहिए। और कम्प्लेन करने की जगह, “हमें खुद वो बदलाव बनना चाहिए जो हम दुनिया में देखना चाहते हैं।
🙏🙏🙏🙏🙏

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

!! प्रेम का स्पर्श !!
०००००००००००००००००००००००००

टालस्टाय एक दिन सुबह एक गांव की सड़क से निकला। एक भिखारी ने हाथ फैलाया। टालस्टाय ने अपनी जेब तलाशी लेकिन जेब खाली थे। वह सुबह घूमने निकला था और पैसे नहीं थे।

उसने भिखारी को कहा, मित्र ! क्षमा करो, मेरे पास पैसे नहीं हैं, तुम जरूर दुख मानोगे। लेकिन मैं मजबूरी में पड़ गया हूं, पैसे मेरे पास नहीं हैं। उसके कंधे पर हाथ रखकर कहा, मित्र! क्षमा करो, पैसे मेरे पास नहीं हैं। उस भिखारी ने कहा कोई बात नहीं। तुमने मित्र कहा, मुझे बहुत कुछ मिल गया। यू काल्ड मी ब्रदर, तुमने मुझे बंधु कहा ! और बहुत लोगों ने मुझे अब तक पैसे दिए थे लेकिन तुमने जो दिया है, वह किसी ने भी नहीं दिया था। मैं बहुत अनुगृहीत हूं।

एक शब्द प्रेम का– मित्र, उस भिखारी के हृदय में क्या निर्मित कर गया, क्या बन गया। टालस्टाय सोचने लगा। उस भिखारी का चेहरा बदल गया, वह दूसरा आदमी मालूम पडा। यह पहला मौका था कि किसी ने उससे कहा था, मित्र। भिखारी को कौन मित्र कहता है? इस प्रेम के एक शब्द ने उसके भीतर एक क्रांति कर दी, वह दूसरा आदमी है। उसकी हैसियत बदल गयी, उसकी गरिमा बदल गयी, उसका व्यक्तित्व बदल गया। वह दूसरी जगह खड़ा हो गया। वह पद-चलित एक भिखारी नहीं है, वह भी एक मनुष्य है। उसके भीतर एक नया क्रिएशन शुरू हो गया। प्रेम के एक छाेटे से शब्द ने उसे उसके अस्तित्व का बोध करा दिया…

प्रेम का जीवन ही क्रिएटिव जीवन है। प्रेम का जीवन ही सृजनात्मक जीवन है। प्रेम का हाथ जहां भी छू देता है, वहां क्रांति हो जाती है, वहां मिट्टी सोना हो जाती है। प्रेम का हाथ जहां स्पर्श देता है, वहां अमृत की वर्षा शुरू हो जाती है।

सदैव प्रसन्न रहिये।
जो प्राप्त है, पर्याप्त है।।
🙏🙏🙏🙏🙏

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

ભાવનગર રાજવી : #પ્રજાનાપાલક

➖➖➖➖➖🕉️➖➖➖➖➖

થાક્યો પાક્યો ખેડૂત રાતે વાણિયાને ત્યાંથી મોસમે બમણો, ક્યારેક ત્રણ ગણો આપવાની બાંયધરી આપે ત્યારે મણ બે મણ બાજરો મળે… ‘પટ્ટણીજી!’ આપણા ગામડાના ખેડૂતોને મળવું હોય તો કઇ રીતે મળાય? ખાસ મુલાકાત ગોઠવીએ તો અંતર ખોલે નહીં. મારે તો કોઇ ખેડૂતનું અંતર ખોલાવવું છે!બહુ જ શક્ય વાત છે બાપુ! ચાપદર વચ્ચે ત્રાપજના બંગલે ઉનાળો ગાળવા જાઓ છો તો ત્રાપજની આજુબાજુ હજારો ખેડૂતો ખેતરે આવ-જા કરતા હોય, એમાંથી એકાદ ખેડૂતને વિશ્વાસમાં લઇને વાત કઢાવી શકો. અને એમ જ થયું. ઉનાળો ગાળવા ભાવસિંહજી દરિયાકિનારાના બંગલે ગયા. સાંજના સાદા વેશમાં પગે ચાલીને સીમ શેઢે આંટો મારે, ખેડૂતને શોધે. એક દિવસ એક ખેડૂત મળી ગયો. ‘બાપુ રામ રામ!’‘રામ રામ પટેલ! એક દી’ આવોને બંગલે? થોડીક વાતો કરીએ.’ ભાવસિંહજીએ નમ્રતા ધરીને ખેડૂતને પૂછ્યું.’ આવશો?’‘ઇ શું બોલ્યા બાપુ!’ ખેડૂત ભાવવિભોર થઇ ગયો. દર્શન થાય તો દિવસ સુધરે એવા ભાગ્યશાળી પુરુષને મળવા કોણ ન આવે? ‘પણ ક્યારે આવું બાપુ?’‘અત્યારે તમે અને હું બંને એકલા છીએ ફાવશે?’‘હા બાપુ! ખેડૂતની સાચી વાત સાંભળીને આપની આંખો ભીની થઇ જાય બાપુ! કહો તો વાત કરું.’‘કરો, ગમે તે થાય. બીક રાખ્યા વગર બોલો.’ ‘મને આપની તો શી બીક હોય બાપુ? પણ વાત સાંભળીને, ખરેખર જાણવી હોય તો કોઇને સાથે રાખ્યા વગર મળો. જોકે એવું હૈયું ખોલવા મહેનત કરવી પડશે. એની કડવી જીભ પણ ન ગમે એવું બોલી નાખે.’‘તોય હું સાંભળી લઇશ.’‘મેં તો અન્નનો દાણો મોઢામાં મૂક્યો નથી પણ ફૂલ જેવાં છોકરાં આખો દિવસ ખા-ખા કરનારાંને રોટલાનું બટકું મળતું નથી. હે ભગવાન! અમે કેવાં કરમ કર્યા કે ખેડૂતનો અવતાર આવ્યો?’‘પટેલ!’ બીજું બધું ઠીક ખેડૂતના અવતાર જેવો બીજો કોઇ પવિત્ર અવતાર નથી. પરસેવો રેડી પોતાની મહેનતનો રોટલો ખાનાર તો મહાન માણસ છે. સ્વર્ગમાય એના માટે જગ્યા તૈયાર હોય છે. ‘મૂઆ પછી માલ ગોલાં ગાડાં ભરે, બાપુ! જીવવું દોહ્યલું થઇ જાય, બે ટંક રોટલો ન મળે. અમારી આવી દશા? અમે ભગવાનને પરોણા માર્યા છે, હેં બાપુ!’રાજવી ખડખડાટ હસી પડ્યા. પટ્ટણી સાહેબે વાત વળી પાછી સાંધી…! ઘરમાં દાણો હોય તો દળાયને? છોકરાંને ‘હમણાં આપું.’ તારા બાપુ આપશે. ‘એમ કરી કરીને સાંજ પાડે. થાક્યો પાક્યો ખેડૂત રાતે વાણિયાને ત્યાંથી મોસમે બમણો, ક્યારેક ત્રણ ગણો આપવાની બાંયધરી આપે ત્યારે મણ બે મણ બાજરો મળે. છોકરાં ભૂખ્યાં સૂઇ ગયાં હોય પણ અમે ન જગાડીએ?’ ‘શું કહેવું તમને? છોકરાંને જગાડો નહીં? તમે ખાઇ જાઓ?’‘અમારે તો કાયમ માટે વાળુ હરામ હોય બાપુ! એક્ટાણાથી ટેવાઇ ગયાં છીએ.’ રાજવી રડી પડ્યા! ‘આટલી બધી વાત?’‘બાપુ! વાત તો આનાથીય વસમી છે. સાંભળી શકશો?’‘કરો. વાત કરો.’ઘરના ઠામડાં-બુજારાં સહિત વેચાઇ ગયાં હોય. એટલે ઘરવાળીનાં લગનનાં આવેલાં કીમતી લૂગડાં અડાણે (ગીરો) મૂકીને બે મણ બાજરો લઇ આવીએ. ધૂળિયો ધંધો કરનાર ખેડૂતને એક જણને માણું બાજરે સાંજ પડે. પટેલ રોઇ પડ્યા. એટલું અનાજ બચેને એ રામ! પટ્ટણી સાહેબની પાંપણો ભીની થઇ ગઇ. ‘રાજ તમને મફત અનાજના પાસ આપે તો?’‘ન ખપે બાપુ! ખેડૂતનો દીકરો મફતનું ખાય નહીં બાપુ! તો તો કાઠિયાવાડમાં ધર્મની જગ્યાઓ છે. જ્યાં રાત-દિવસ રસોડાં ધમધમે છે પણ અમે કાંઇ અપંગ કે ભિખારી થોડા છીએ બાપા! ધરતીમાંથી ધાન મેળવીને મલકને ખવડાવનારો ખેડૂત ધમૉદો ખાય?’ પટ્ટણી સાહેબ રડી પડ્યા. ‘આગળ બોલો, ભાઇ બોલો!’ભૂખ્યા રાત કાઢીને સવારે ખેતર જવાનું હોય. પટ્ટણી સાહેબની વાત સાંભળીને તરુણ રાજવી કૃષ્ણકુમાર પણ રોઇ પડ્યા… ‘ખેતરમાંથી કાંઇ આવતું નથી!’‘આવે રાખ ધૂળ જેવું. બાજરો મસળી મસળીને તૈયાર કરીએ ત્યાં વાણિયા એના લેણામાં લઇ જાય. ખેડૂત પછેડી ખભે નાખીને ઘેર આવે અને પંચિયાને છેડે આંખો લૂછે. જેના કાંધમાંથી કોઠીઓ ભરાય એવા ભૂખ્યા બળદો એકાદ ભાંભરડો નાખીને ચૂપ થઇ જાય. ઘરવાળી અને છોકરાં હીબકે ચડે.. .!’‘અરર! ભારે દુ:ખ…! આવાં દુ:ખ સહન કરનારને અમારાં વંદન નમન!’ અને વળતા દિવસે રાજમાંથી વટહુકમ નીકળ્યો: ‘ખેડૂતો ઉપરનું લેણું રાજ માફ કરે છે અને બીજા લેણદારોને તાકીદ કરે છે કે ખેડૂતને હેરાન કરનાર જેલમાં જશે.’

તોરણ, નાનાભાઈ જેબલિયા

🔰 આપણી સંસ્કૃતિ આપણો વારસો 🔰

Posted in પતિ પત્ની ના ૧૦૦૦ જોક્સ

ચંદ્રકાન્ત બક્ષી

૫૦ થી ૬૦ વર્ષ પછીની જીંદગી ની વાસ્તવિકતા…
પત્નિની પતિને સુધારવાની જીદ ચરમસીમાએ હોય છે.
તેમાંય જો બાળકો મોટા થઈ ગયા હોય, પતિ પત્નિ એકલાં રહેતા હોય તો ભોગ મર્યા…
આ કોઈ એકલાનો પ્રશ્ન નથી…
સમગ્ર સમાજને લાગુ પડે છે…
સવાર પડે ને…

ઉઠો મારે ચાદર ખંખેરવી છે, વહેલા ઉઠવાનું રાખો.

બ્રશ કરતી વખતે સિંન્કનો નળ ધીમો રાખો, નીચે ટાઈલ્સ પર છાંટા ઉડે છે.

ટોયલેટમાંથી નીકળીને પગ લુછણીંયા પર પગ લુંછો. તમે આખા ઘરમાં રામદેવ પીરના ઘોડા જેવા પગલાં પાડો ને સાફ મારે કરવા પડે.

પોતું કરેલું છે, ગેલેરીમાં ના જતા વરસાદના છાંટા પડેલા છે, પાછા પગ ભીના લઈને રૂમમાં આવસો.

દાઢી કરીને બ્રસ ધોઈને ડબ્બામાં મુકો.

નાહવા જાવ એટલે ચડ્ડીબંડ્ડી ડોલમાં નાખજો.

નીકળીને રુમાલ બહાર તાર પર સુકવો.

માથામાં નાંખવાના તેલની બોટલ બંધ કરીને મુકતાં કીડીઓ ચટકે છે.

હજાર વાર કહ્યું આ ભુરો મોટો કાંસકો નહી લેવાનો એ ગુંચ કાઢવા માટે છે.

ધરે હો ત્યારે આ જાડી ટીશર્ટ ના પહેરતા હોય તો.

આ ચાની મલાઈ રકાબીની ધારે ન ચોંટાડતા હોય તો.

ફોન પર વાત કરતાં કરતાં ગેલેરીમાં શું કામ જતા રહો છો, ગામને સંભળાવવાનું છે.

મોબાઈલ જ મંતરવાનો હોય તો ટીવી શું કામ ચાલુ કરો છો.

છેલ્લી વાર કહું છું, ચલો જમવા,
પંખો બંન્ધ કરીને આવજો.

તોડેલી રોટલી પતે પછી જ બીજી તોડતા હોવતો.

જો ફરી પાછું, કેટલી વાર કહ્યું, લેંઘાએ હાથના લુંછો.

કાગળીયું ડસ્ટબીનમાં નાંખો, હાચું કહીયે તો મિસ્ટર બીન જેવું મો કેમ થઈ જાય છે.

જમ્યા પછી તરત આડા ના પડો.

સીંગ ચણાના ફોતરા તરત કચરાપેટી માં નાખો, આખા ઘરમાં ઉડે છે.

દીવાલે ટેકો દઈ ન બેસો તેલના અને ડાઈના ડાઘ પડે છે.

સવારે તો પેપર દોઢ કલાક વાંચેલું, હવે એ ઓનલાઈન થોડું છે તે બદલાઈ જાય.

પેપર વાળીને ટીપોઈ પર મુકતા હોતો.

હજી તો અડધો જ દિવસ પત્યો છે, અને આટલાં બધાં સુચનો !

આ સતત રણકતો રેડીયો એટલે જીવન સંગીત !!!
પણ મિત્રો આ રેડીઓ ની મીઠાસ એટલી મધુર છે કે જો એ ચૂપ થઈ જાય ને તો જીવન થઁભી જ જાય…
નાની ઉંમરે આ બધા છણકા ભણકા પતિ પત્ની માં થી કોઈ ને ના ગમે અને ઝગડો જ કરાવે પણ રિટાયર્ડ થયાં પછી જો આવા છણકા ભણકા ના હોય અને શાંત જીવન જીવતા હોય તો રોબોટ જેવિ જિંદગી લાગે અને જીવન નો સાચો આનંદ વિસરાય જ જાય !!!

🙏તમામ સીનીયર સીટીઝન દંપતી ને સમર્પિત🙏
ચંદ્રકાન્ત બક્ષી

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

ईश्वर पर विश्वास किजिए 🙏

IndiaFightsCorona

8 साल का एक बच्चा 1 रूपये का सिक्का मुट्ठी में लेकर एक दुकान पर जाकर पूछने लगा,
–क्या आपकी दुकान में ईश्वर मिलेंगे?

दुकानदार ने यह बात सुनकर सिक्का नीचे फेंक दिया और बच्चे को निकाल दिया।

बच्चा पास की दुकान में जाकर 1 रूपये का सिक्का लेकर चुपचाप खड़ा रहा!

— ए लड़के.. 1 रूपये में तुम क्या चाहते हो?
— मुझे ईश्वर चाहिए। आपकी दुकान में है?

दूसरे दुकानदार ने भी भगा दिया।

लेकिन, उस अबोध बालक ने हार नहीं मानी। एक दुकान से दूसरी दुकान, दूसरी से तीसरी, ऐसा करते करते कुल चालीस दुकानों के चक्कर काटने के बाद एक बूढ़े दुकानदार के पास पहुंचा। उस बूढ़े दुकानदार ने पूछा,

— तुम ईश्वर को क्यों खरीदना चाहते हो? क्या करोगे ईश्वर लेकर?

पहली बार एक दुकानदार के मुंह से यह प्रश्न सुनकर बच्चे के चेहरे पर आशा की किरणें लहराईं ৷ लगता है इसी दुकान पर ही ईश्वर मिलेंगे !
बच्चे ने बड़े उत्साह से उत्तर दिया,

—-इस दुनिया में मां के अलावा मेरा और कोई नहीं है। मेरी मां दिनभर काम करके मेरे लिए खाना लाती है। मेरी मां अब अस्पताल में हैं। अगर मेरी मां मर गई तो मुझे कौन खिलाएगा ? डाक्टर ने कहा है कि अब सिर्फ ईश्वर ही तुम्हारी मां को बचा सकते हैं। क्या आपकी दुकान में ईश्वर मिलेंगे?

— हां, मिलेंगे…! कितने पैसे हैं तुम्हारे पास?

— सिर्फ एक रूपए।

— कोई दिक्कत नहीं है। एक रूपए में ही ईश्वर मिल सकते हैं।

दुकानदार बच्चे के हाथ से एक रूपए लेकर उसने पाया कि एक रूपए में एक गिलास पानी के अलावा बेचने के लिए और कुछ भी नहीं है। इसलिए उस बच्चे को फिल्टर से एक गिलास पानी भरकर दिया और कहा, यह पानी पिलाने से ही तुम्हारी मां ठीक हो जाएगी।

अगले दिन कुछ मेडिकल स्पेशलिस्ट उस अस्पताल में गए। बच्चे की मां का आप्रेशन हुआ और बहुत जल्दी ही वह स्वस्थ हो उठीं।

डिस्चार्ज के कागज़ पर अस्पताल का बिल देखकर उस महिला के होश उड़ गए। डॉक्टर ने उन्हें आश्वासन देकर कहा, “टेंशन की कोई बात नहीं है। एक वृद्ध सज्जन ने आपके सारे बिल चुका दिए हैं। साथ में एक चिट्ठी भी दी है”।

महिला चिट्ठी खोलकर पढ़ने लगी, उसमें लिखा था-
“मुझे धन्यवाद देने की कोई आवश्यकता नहीं है। आपको तो स्वयं ईश्वर ने ही बचाया है … मैं तो सिर्फ एक ज़रिया हूं। यदि आप धन्यवाद देना ही चाहती हैं तो अपने अबोध बच्चे को दीजिए जो सिर्फ एक रूपए लेकर नासमझों की तरह ईश्वर को ढूंढने निकल पड़ा। उसके मन में यह दृढ़ विश्वास था कि एकमात्र ईश्वर ही आपको बचा सकते है। विश्वास इसी को ही कहते हैं। ईश्वर को ढूंढने के लिए करोड़ों रुपए दान करने की ज़रूरत नहीं होती, यदि मन में अटूट विश्वास हो तो वे एक रूपए में भी मिल सकते हैं।”

लष्मीकांत विजय गढ़िया

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

महाभारत का एक प्रसंग हैं,

अश्वमेध यज्ञ चल रहा था, बड़े-बड़े ॠषियों और ब्राह्मणों को दान-दक्षिणा दी जा रही थी। कहते हैं, कि उस यज्ञ में बड़े-बड़े देवता आए यहाँ तक कि देवराज इन्द्र तक भी उपस्थित हुये,स्वयं भगवान् श्रीकॄष्ण तक वहाँ साक्षात् उपस्थित थे।

दान देने का उपक्रम चल रहा था, अश्वमेध यज्ञ की पूर्णाहुति की पावन वेला थी, इतने में ही सबने देखा,
कि एक गिलहरी उस यज्ञ-मण्डप पर पहुँची और अपने शरीर को उलट-पुलट करने लगी।

यज्ञ-मण्डप में मौजूद सभी लोग बड़े ताज्जुब से उस गिलहरी को देख रहे थे, और भी ज्यादा आश्चर्य तो इस बात का था कि उस गिलहरी का आधा शरीर सोने का था, और आधा शरीर वैसा ही था, जैसा कि आम गिलहरियों का होता है।

माहाराज युधिष्ठिरजी के लिये यह बात आश्चर्यचकित करने वाली थी, ऐसी गिलहरी पहले कभी नहीं देखी गई।एक बार तो दान-दक्षिणा, मन्त्रोच्चार और देवों के आह्वान का उपक्रम तक ठहर गया।

महाराज युधिष्ठिरजी ने यज्ञ को बीच में ही रोक कर गिलहरी को सम्बोधित करते हुये पूछा:-

ओ गिलहरी! मेरे मन में दो शंकायें हैं,पहली शंका तो यह है कि तुम्हारा आधा शरीर सोने का कैसे है.? और दूसरी शंका यह है, कि तुम यहाँ यज्ञ-मण्डप में आकर अपने शरीर को लोट-पोट क्यों कर रही हो.?

गिलहरी ने युधिष्ठिरजी की तरफ मधुर मुस्कान के साथ कहा:-

महाराज युधिष्ठिरजी! आपका प्रश्न बहुत सार्थक हैं। बात दरअसल यह है, कि आपके इसी यज्ञ-स्थल से कोई दस कोस दूर एक गरीब लकडहारे का परिवार तीन दिन से भूखा था। उस लकडहारे ने जैसै-तैसे कर रोटियों का इन्तजाम किया। रात की वेला हो चुकी थी,पूरा परिवार भूख से बेहाल था लेकिन, जैसे ही वे खाना खाने बैठे तो देखा, कि उस घर के बाहर दरवाजे पर एक भूखा भिक्षुक खड़ा था, और खाने के लिये माँग रहा था।

लकडहारे ने अपनी पत्नी से कहा, कि तुम लोग भोजन कर लो और मेरे हिस्से की जो रोटी हैं, वह इस भूखे को दे दो।

वह भूखा भिक्षुक रोटी खाने लगा और रोटी खाते-खाते उसने कहा कि मैं अभी भी भूखा हूँ, मेरा पेट नहीं भरा है,
तब लकडहारे की पत्नी ने कहा कि इसे मेरे हिस्से की भी रोटी इन्हें दे दो, लकडहारे के पत्नी की रोटी भी दे दी गई,
मगर फिर भी वह भूखा रहा।

बच्चों ने भी अपनी-अपनी रोटियाँ दे दी लकडहारे के परिवार ने अपने मन को समझाया कि हम तीन दिन से भूखे हैं और एक दिन भूखे रह लेंगे तो क्या फर्क पड़ेगा! हमारे द्वार पर आया कोई प्रार्थी भूखा नहीं लौटना चाहिये।

भूखे ने रोटियाँ खाई, पानी पीया और चल दिया।

गिलहरी ने आगे का वृत्तान्त बताया कि उस भूखे व्यक्ति के भोजन करने के बाद मैं उधर से गुजरी। जिस स्थान पर उस भिक्षुक ने भोजन किया था, वहाँ रोटी के कुछ कण बिखर गये थे। मैं उन कणों के ऊपर से गुजरी तो मुझे यह देखकर आश्चर्य हुआ, कि जहाँ-जहाँ मेरे शरीर पर वे कण लगे थे वह सोने का हो गया। मैं चौक पड़ी, उस छोटे से लकडहारे के अंश भर दान से,एक छोटे से शुभ-कर्म से मेरे शरीर का आधा हिस्सा सोने का हो गया।

मैंने यहाँ के अश्वमेध यज्ञ के बारे में सुना,तो सोचा कि वहाँ महान् यज्ञ का आयोजन हो रहा हैं, महादान दिया जा रहा है, तप हो रहा है, शुभ से शुभ कर्म आयोजित हो रहे हैं। यदि मैं इस यज्ञ में शामिल होऊँ, तो मेरा शेष शरीर भी सोने का हो जायेगा।

लेकिन,माहाराज युधिष्ठिरजी, मैं एक बार नहीं सौ बार आपके इन दान से गिरे इन कणों पर लोट-पोट हो गई हूँ लेकिन मेरा बाकी का शरीर सोने का न बन पाया। मैं यह सोच रही हूँ, कि असली यज्ञ कौन-सा है? आपका यह अश्वमेध-यज्ञ या उस लकडहारे की आंशिक आहुति वाला वह यज्ञ?

माहाराज युधिष्ठिरजी आपका यह यज्ञ केवल एक दम्भाचार भर हैं।

गिलहरी के ऐसे तर्कपूर्ण वृतांत को सुनकर भगवान् श्रीकृष्ण ने वरदहस्त मुद्रा में गिलहरी को बिना मांगे मनोवांछित वरदान सहित मधुर मुस्कान से उसे मुक्ति का वरदान दिया ।।

जीवन में उस किसान का-सा यज्ञ हो सके, तो जीवन का पुण्य समझो। ऐसा कोई यज्ञ न लाखों खर्च करने से होगा और न ही घी की आहुतियों से होगा। भूखे-प्यासे किसी आदमी के लिये, किसी पीड़ित, अनाथ और दर्द से कराहते हुये व्यक्ति के लिये अपना तन, मन, अपना धन कोई भी अगर अंश भर भी दे सको, प्रदान कर सको, तो वह आपकी ओर से एक महान् यज्ञ होगा, एक महान् दान और एक महान् तप होगा,

भगवान् करे, आप सबके जीवन में ऐसे पुण्य-पल ऐसी पावन-वेला सृजित हो उपलब्ध हो।

🙏🏻🙏🏻जय श्री राम🙏🏻🙏🏻

🍁🍂🌼💐🌹🌷🌺🌸💐🌹🌷🌺🍁

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

मैंने सुना हैं…। आदमियों की बीमारियां जंगलों जंगलों तक पहुंच जाती हैं।

एक बार जंगल में जानवरों ने एक प्रतियोगिता का आयोजन किया। जैसे आदमी करते हैं। तो सब तरह के खेल–कबड्डी, और वालीबाल, और फूटबाल–और जो जो जंगली जानवर कर सकते थे, उन्होंने सब खेलों का आयोजन किया। सिंह भी आया। बैठा देखता रहा। और प्रतियोगिता में तो उसने भाग न लिया; बड़े आनंद से देखता रहा; लेकिन आखिरी प्रतियोगिता थी, लतीफे सुनाने की। चुटकुले सुनाने की, उसमें वह भी भाग लेना चाहता था। उसने सोचा: कम से कम एक में तो मैं भी भाग लूं।

पहले एक खरगोश खड़ा हुआ; उसने एक लतीफा सुनाया। लेकिन खरगोश की जान कितनी? भीड़-भड़क्का और जानवरों को देख कर बहुत घबड़ा गया। आधा ही लतीफा सुना पाया और उसको पसीना बह गया; वह बैठ गया। फिर लोमड़ी ने सुनाया। लोमड़ी कुशल; पुरानी राजनीतिज्ञ; उसने लोगों को खूब हंसाया। ऐसे और भी जानवर कहे।

आखिर में सिंह खड़ा हुआ। सन्नाटा छा गया। अब उत्सुक हुए कि सिंह कौन सा लतीफा सुनाता है–देखें। माइक के पास आकर लतीफा तो दूर उसने बड़ी जोर से सिंह-गर्जना की। इतने जोर से…। एक तो वैसे ही सिंह-गर्जना–और फिर लाउड स्पीकर पर! छोटे-मोटे प्राणियों के तो प्राण निकल गये। खरगोश सामने ही बैठा था, प्रतियोगिता में पहले नंबर भाग लेने आया था, वह तो वहीं ढेर हो गया। कई प्राणी एकदम बेहोश हो गये। जो बचे उनकी भी छातियां धड़क गई।

दहाड़ने के बाद सिंह ने कहा, अब मूर्खों हंसो। हंसते क्यों नहीं? यही लतीफा था। हंसों। हंसी किसी को भी नहीं आ रही है। हंसी का कोई कारण नहीं है। लेकिन हंसना पड़ा। जब सिंह कहे…। तो लोग हंसने लगे। ऐसे हंसने लगे कि कई जानवरों को खांसी आने लगी–हंसी के मार। मगर जब तक सिंह कहे ना कि रुको, तब तक रुक भी नहीं सकते!

स्वभावतः पहला पुरस्कार सिंह को गया।

जहां शक्ति है और जहां शक्ति के साथ जबरदस्ती है, वहां भय पैदा होता है। भय में तुम हंस भी सकते हो। अब सिंह कहता है कि हंसो मूर्खों, हंसो। यही लतीफा था। हंसी किसी को भी नहीं आ रही है। लेकिन यह कोई हंसी होगी! इसमें हंसी होगी? इसमें सिर्फ एक धोखा होगा, एक प्रवंचना होगी; कि अभिनय होगा, एक पाखंड होगा।

ईश्वर से भयभीत–तो फिर प्रेम कैसे करोगे? और अगर ईश्वर से तुम भयभीत हो, तो भीतर गहरे में तुम्हारे घृणा होगी। तुम बदला लेना चाहोगे।

नीत्शे ने कहा है कि ईश्वर मर गया। और यह भी कहा है कि और किसी ने नहीं, आदमी ने ही उसकी हत्या कर दी है। नीत्शे से लोग बहुत नाराज

अगर उस दिन जंगल के जानवरों में कोई एकाध भी हिम्मतवर होता, तो खड़े होकर कहता कि बंद करो यह बकवास। यह कोई चुटकुला है? यह कोई लतीफा हुआ?

नीत्शे ने यह भी कहा है कि ईश्वर मर गया है और आदमी अब स्वतंत्र है। अब आदमी जो चाहे, कर सकता है। क्योंकि अब तक आदमी ने ईश्वर के डर से ही बहुत कुछ नहीं किया है।

आदमी बदला नहीं है; सिर्फ भय के कारण ग्रसित है। और जब महात्मा गांधी जैसे व्यक्ति भी कहे हैं कि मैं और किसी से नहीं डरता, सिर्फ ईश्वर से डरता हूं, तो जाहिर होती है बात कि ऐसे व्यक्तियों को भी ईश्वर की कोई प्रतीति नहीं है। प्रतीति हो नहीं सकती।

ईश्वर यानी प्रेम। प्रेम में कहां भय है! प्रेम में कैसा भय? प्रेम कोई तलवार थोड़े ही है। प्रेम में फुसलावा हो सकता, मनुहार हो सकती; प्रेम में कोई जबरदस्ती थोड़ी ही है।

लेकिन आदमी अब तक ऐसे ही मानता रहा है–कि भय के कारण।…तो तुमने जो एक समाज बना रखा है, उसमें सारी व्यवस्था भय के कारण है। तुम नैतिक हो, तो भय के कारण। तुम चोरी नहीं करते–तो भय के कारण। तुम झूठ नहीं बोलते–तो भय के कारण। तुम्हारे सब सदगुण भय पर टिके हैं! इसलिए तुम्हारे सब सदगुण दो कौड़ी के हैं।

Source-ओशो, कन थोरे कांकर घने-२

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

🙏🙏 खाद्याखाद्य

मैं एक गाँव को जानता हूँ जहाँ से प्रतिवर्ष सेना, पुलिस भर्ती में हर बार आठ दस लड़के चयनित होते हैं। सुरक्षा बलों की भर्ती में सबसे प्रमुख होती है दौड़।
इस गांव के लड़कों को बस दौड़ में आना होता है, बाकी काम अपने आप हो जाते हैं।
कई वर्षों से यह सिलसिला निर्बाध चलता आ रहा है, लोग उदाहरण देते हैं इस गांव के लेकिन पिछली तीन चार भर्तियां हुई तो यहाँ से एक भी लड़का चयनित नहीं हुआ। फिर पता किया, ऐसी क्या बात हो गई?

यहाँ का पानी थोड़ा भारी है। मिठास कम है। मुख्य सड़क पर कई दुकानों में कोल्डड्रिंक की बोतलें बिकनी शुरू हुई। पहले इसका इतना प्रचलन नहीं था।
अब तो हरेक बात पर लड़के लड़कियां सीधे 2 लीटर की बोतल लाते हैं, कुरकुरे का पैकेट और हो गई पार्टी। कोई चाय नहीं पीता तो उसके लिए ठंडा लाओ।
ठंडे का प्रचलन इतना अधिक हो गया है कि गांव की गलियां, नालियां उसकी खाली बोतलों से अटी पड़ी हैं।
कोल्डड्रिंक दूसरा पानी पीने नहीं देता। दूध, घी, छाछ को पचने नहीं देता। फेफड़े कमजोर कर देता है।
कोई भी लड़का अब दौड़ ही क्वालीफाई नहीं कर पाता, कैसे भर्ती हो?
कोल्डड्रिंक से बीयर पर आए और वहाँ से अल्कोहल और फिर सिगरेट।
कुरकुरे से फास्टफूड पर आए और वहाँ से चर्बी के गोले बनकर निकलने लगे।
एक तेजस्वी गांव की युवावस्था में ही भ्रूण हत्या हो गई।
कमजोर, हांफते हुए थुलथुल युवाओं का गाँव बन गया।


अब बात करते हैं शहरों की!
जहां हॉस्पिटल बढ़ाने की बात की जा रही है। चाहे विश्व के कण कण में hospital खोल दो, चाहे हर मनुष्य की कोख से Doctor पैदा करवा दो, चाहे दवाईयों के पेड़ या फसल ही बोने लग जाओ, तब भी लोग तो बीमारियों से मरते ही रहेंगे।

क्यों ?

क्योंकि

काहु न कोउ सुख दुख कर दाता।
निज कृत कर्म भोग सब भ्राता ।।

जब तक हमारे खान पान की शैली, खाद्य अखाद्य की मर्यादा, नियम संयम की ऐसी तैसी रहेगी तब तक हम लोग मरते रहेंगे।

इस विश्व के शारीरिक रोग का एकमात्र कारण यह छोटी सी मांसल जीभ है। इसी जीभ के स्वाद के लिए लोगों ने भोजन के नियम संयम, आचार, व्यवहार सब खत्म कर दिया और आज hospital में doctors के पैरों पर नाक रगड़कर गिड़गिड़ा रहे हैं। चिल्ला रहे हैं हॉस्पिटल hospital करके।

जब बोला जाता है कि अपने शरीर में कुछ भी कूड़ा कर्कट मत डालो, तो सब गुस्से से सामने वाले को देखते हैं।
असंयमित खाना, असंयमित पीना, बाहर का चाटना, घर घर अशुद्धता शुद्धता का विचार किये बिना चाटना, पैकेट बन्द सामग्रियों को खाना, pesticides, insecticides, रासायनिक उर्वरक खा खाकर रक्त, धमनियों और DNA तक भर देना, पानी को इतना फ़िल्टर कर लेना कि उसमें से सब minerals और essentials nutrients निकाल कर पीना, सुबह सवेरे शाम दोपहर रात जब चाहे तब मुँह चलाना, कोई समय नहीं, कोई नियम नहीं कि कब खाना, क्या खाना, कितना खाना, कैसे खाना, क्यों खाना।

बस भगवान ने मुँह दे दिया तो उसमें कुछ भी कभी भी कैसे भी डाल लो।
सर्दियों तक में कई लोगों को मैंने आम खाते, माजा पीते देखा है।
Ice Cream खाते देखा है। उनके चेहरे पर दर्प भाव रहता है कि वो ऐसा खा पी रहे हैं जो बाप का नाम रोशन कर रहा है।

लेकिन उन मूर्खाधिराजों को यही नहीं पता कि यही दर्प भाव hospital और doctors लाखों का तुमसे लूटकर तुम्हें जीवन भर रोगी बनाकर तोड़ेंगे।
जब बोला जाता है कि नौकरानी से सब काम करवा लो लेकिन भोजन स्वयं बनाओ तो उसमें नारी सशक्तिकरण घुसकर और आधुनिकता का हवाला देकर hospital में एक bed book करवा लेते हैं।
मर जायेंगे, आह माई आह माई करते रहेंगे लेकिन भोजन नौकरानी ही बनाएगी जिसका पता नहीं किस विचार, कौन से तरंगों से, कौन से ऊर्जा लेवल से, कौन से भावना डालकर, किस शुद्धता से वह भोजन तैयार करेगी या करेगा। बस लोलुप जीभ को तो स्वाद मिलना चाहिए और मोटी चमड़ी को आराम।
भले ही इससे पूरा परिवार का स्वास्थ्य हाशिये पर ही क्यों न आ जाये।
Sauce, buiscuits, नमकीन, cold drinks, पिज़्ज़ा, burger, गंदे बासी canned juices सबके घर में पड़े होंगे। और लैपटॉप पर काम करते भक्षण चलता रहेगा लेकिन अजवाईन, हरड़, सौंफ, मेथी दाना, पीपली, गोंद, इत्यादि शायद ही कोई महीने में खाता हो।
यह सब खाने में सबकी नानी मर जाती है लेकिन नानी के साथ साथ यह भी जल्दी hospital के bed पर मरे पाए जाते हैं।

सारे ग़लत काम करेंगे खुद, लेकिन चिल्लायेंगे Hospital और Doctors को।

जिस दिन इस जीभ को संयमित कर लिया तो उसी दिन समझिये कि आप स्वस्थ्य होते चले जायेंगे।

जिस दिन अपने kitchen या रसोई को शरीर के मंदिर के तौर पर बनाकर उस रसोई घर को घर का एक औषधालय बना लेंगे तो उसी दिन से आप स्वस्थ्य होते जाएंगे।

जिस दिन आपकी रसोई में आपके घर की स्त्रियों के अलावा किसी अन्य का प्रवेश वर्जित होगा, उसी दिन से आपका Hospitals और Doctors से नाता टूटने लगेगा।

जिस दिन आपने यह व्रत ले लिया कि मुझे बाहर का नहीं खाना और सबके घर घर का नहीं चाटना, उसी दिन से आपके घर से रोग रवाना हो जायेंगे। बहुत आवश्यक हो तभी इस व्रत या नियम को तोड़ें।

जिस दिन आपने यह व्रत ले लिया कि मुझे मात्र मौसमी फल और सब्जियों का ही सेवन करना है, ठीक उसी दिन से वैभव और लक्ष्मी अपना बोरिया बिस्तर लेकर आपके घर में ठिकाना बनाने आ जाएंगी।

और एक अन्य महत्वपूर्ण बात

तन को बली बना लो ऐसा, सह ले सर्दी वर्षा घाम।
मन को बलि बना लो ऐसा, टेक न छाड़े आठों याम।

मन को ऐसा बलिष्ठ बना लो कि कोई तुम्हें अपने नियम से डिगा न सके।
ऐसा नहीं कि मित्रों ने कहा तो तुम भी अपने घर का संस्कार भुलाकर अखाद्य सेवन करने लगे ।

मतलब तुम्हारे माँ बाप का संस्कार इतना गिरा था कि अन्य दोस्तों के संस्कार उस पर हावी हो गए।
तुम इतने कमजोर निकले कि उनकी गलत बातें तुमने ग्रहण कर लीं लेकिन अपनी अच्छी बातों या आदतों का प्रभाव तुम उन पर नहीं डाल सके। धिक्कार है तुम्हें।
तो तुम उनके गुलाम हो।

मैं बार बार कहता रहूँगा कि जिस दिन तुमने अपने रहन सहन, आचार विचार, खान पान, नियम संयम को संयमित एवं नियमित कर लिया उसी दिन से सब ठीक हो जाएगा।

बलराज कुँवर

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

नाटक

“तुम्हारी माँ क्या बोल रही है? ये सच है क्या?”

“जी हाँ पापा, अनु का कहना है कि अब हमें अपने लिये अलग घर ले लेना चाहिये।” दरवाजे की आड़ में छिपी अनु मंद-मंद मुस्करा रही थी।

“अभी शादी को महीना भर नहीं हुआ और तू बहु के सुर में सुर मिलाने लगा। आखिर मुझे भी तो पता लगे दिक्कत क्या है यहाँ।”

“मुझे तो नहीं। कल कहीं आपको मुझ से दिक्कत हुई और आपने मुझे यहाँ से निकाल दिया फिर?”

“भला मुझे क्यों दिक्कत होने लगी और मैं तुझे निकालूँगा ही क्यूँ ? मेरा खून है तू ,पाल-पोस के बड़ा किया है तुझे।”

” नहीं वो बात नहीं है पापा…….पाल-पोस कर, पढ़ा-लिखा कर तो दादू ने भी आपको इतना लायक और कामयाब बना दिया। वो भी आपको उतना ही प्यार करतें हैं जितना आप मुझे। फिर भी दादू की बढ़ती उम्र की दिक्कतों की वजह से आपने उन्हें गाँव भिजवा दिया। ……. अगर कल को मेरे साथ कुछ ऐसा-वैसा हो गया और आपने मुझे निकाल दिया तो मैं कहाँ जाऊँगा। बस इसलिये सोचा अभी से अपने लिये अलग घर का बन्दोबस्त कर लूँ।”

पिता की अंगारे बरसाती हुई आँखें अब मारे शर्म के ज़मीन में गड़ी जा रहीं थीं। बिना कुछ कहे वे वहाँ से अपने कमरे में चले गये। गाँव फ़ोन लगाया, “बाबूजी दो दिन बाद आ रहा हूँ …….नहीं, अकेले ही आऊँगा …….आपको ले जाने के लिए……..बस समझ लीजिये लायक पोते ने आपके नालायक बेटे की आँखें खोल दी।”

इधर बेटे और बहु की आँखों में चमक और चेहरे पर मुस्कान तैर रही थी, दोनों का नाटक जो सफल हो गया था।

मीनाक्षी चौहान