Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

यादों के बादल (लघुकथा)

मैने अपनी ढलती उम्र में भी उन पुराने ख़तो को बड़ी शिद्दत से सम्भाल कर रखा हुआ था। समय काटने के लिये हमेशा की तरह उन्हें पढ रहा था। ये ख़त सरिता यानि मेरी पत्नी के थे जो उस समय एक दो महिने के लिये जब मायके जाती थी तब लिखा करती थी। बडे प्यारे ख़त लिखती थी। मोती जैसे अक्षर थे उसके! ख़त में अक्सर गाने कविता लिखती थी। ऐसा ही ख़त मेरी नजरों के सामने था। उसने गाना लिखा था -“चुरा लिया है तुमने जो दिल को नजर नहीं चुराना सनम, बदल कर मेरी तुम जिन्दगानी……! “
मुझे अच्छी तरह याद है मैने भी जवाब में गाना लिखा था-“कभी कभी मेरे दिल में ख्याल आता है..! “
कभी वह नीरज की कविता या जगजीत सिंह की गज़ले लिखती थी। सारे ख़तो का मज़मून मिला दो तो प्यारी सी प्रेम कहानी बन सकती है। जब वो कैंसर से आखिरी लडाई लड़ रही थी तो मैं उसके सिरहाने बैठ कर अक्सर ये ख़त दिखाता था। वह हंसने लगती-“सच में कितने पागल और बच्चे थे हम? पर.. पर बहुत प्यारे थे वे दिन..! “फिर कहीं खो जाती.. फिर आहिस्ता से कहती-“नीरज तुम्हारे पास पैसे तो हे ना? या सारे मेरी बीमारी में पूरे कर दिये..? देखो तुम बहुत सीधे सरल हो… कहीं मेरे जाने के बाद बच्चों ने तुम्हारा ख्याल नहीं रखा तो? ” मैं उसको दिलासा देता-“तू ठीक हो जायेगी पगली… क्यों जाने की बात करती है? “फिर उसे उसका वह ख़त दिखाता जिसमें उसने गाना लिखा था -“जब कोई बात बिगड़ जाये, जब कोई मुश्किल पड़ जाए तुम देना साथ मेरा ओ हमनवा!”..”तू ऐसा लिखती है और तू ही साथ छोड़ने की बात करती है? “-मैं गुस्सा होने की नाकाम कोशिश करता हूँ। वह फीकी हंसी हंसती है -“मुझे झूठमूठ क्यों बहलाते हो नीरज… मैं जानती मेरे पास कुछ लम्हें बचे हैं..! देखो ध्यान से सुनो तुम अपना काम अपने हाथ से करना सीखो और पैसे सम्भाल कर रखो… मुझे बहुत चिंता है तुम्हारी.. इन पुराने ख़तो के बंडल की तरह किसी कोने में डाल दिये जाओगे जिन्हें पढने कोई नहीं आता। “
मेरी आंखों में छाये यादों के बादलों से टपक कर दो बूंद उन ख़तो पर गिर गई।
—-पदम गोधा गुरुग्राम हरियाणा

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

कळल नसेल तर पुन्हा पुन्हा वाचा

😇अपमान😈

मी सातवीच्या वर्गात असताना माझ्या वर्गात गेल्या सहा वर्षांपासून नापास होणारा एकजण होता.आम्ही त्याला सगळेजण नाना म्हणायचो.
आमच्याच गल्लीत राहायला होता.
आमच्यापेक्षा वयाने खूप मोठा.
मिशासुद्धा चांगल्याच वर आलेल्या होत्या.
आणि हा नाना अंगाने धिप्पाडच्या धिप्पाड होता.
म्हणजे आमचं मास्तर त्याच्या खांद्याला लागायचं.
अंगाने पैलवान असणारा गडी.
पण अभ्यासात पार दरिंद्री.
नानाला काहीच येत नव्हतं.
आणि दरवर्षी नाना नापास व्हायचा.
त्यात आमच्या मास्तरने एक नियम असा केला होता,
वर्गात विचारलेल्या प्रश्नाचं उत्तर जो विद्यार्थी बरोबर देईल त्याने वर्गातल्या सगळ्या पोरांच्या मुस्काडीत मारायची.
त्यावेळचे मास्तर असा नियम करायचे.
आणि यात काय व्हायचं त्या भितीने सगळी पोरं मन लावून अभ्यास करायची.
पण नानाच्या डोक्यात काहीच राहत नव्हतं.
आणि त्याचा परिणाम म्हणजे नाना दररोज न चुकता वर्गातल्या प्रत्येकाचा मार खायचा.
आणि पोरं पण नानाला मारताना जोरात रट्टा द्यायची.
नाना डोळे गच्च मिटून हाताची घडी घालून उभा राहायचा.पोरांनी कधीच नानावर दया माया दाखवली नाही.मला मात्र नानाची फार कीव यायची.
तरीही नाना दररोज शाळेत न चुकता यायचा.
उलट सर्वांच्या आधी नाना वर्गात हजर असायचा.
सकाळी आलेला नाना व्यवस्थित दिसायचा.
आणि शाळा सुटल्यावरचा नाना म्हणजे दोन्ही गाल लालभडक सुजलेले आणि डोळे पार रडून रडून खोल गेलेले दिसायचे.
एक दिवस शाळा सुटल्यावर मी जवळ जाऊन नानाला विचारलं,म्हणलं नाना कशाला शाळेत येतो?तुला काही येत नाही.
रोज पोरं मारतात तुला.तू कुणाला काहीच बोलत नाहीस.मला कळत नाही एवढं सहन करूनसुद्धा तू कधी शाळा चुकवत नाहीस.कशासाठी हे तू करतोस.?त्यावर नानाने माझ्या डोक्यावर हात ठेवून केसातून हळुवार बोटे फिरवली.माझ्याकडे पाहत त्याने डोळे गच्च मिटले.डोक्यावरचा हात काढून घेतला आणि नाना तसाच पाठमोरा होऊन झपझप पावले टाकत निघून गेला.मी विचारलेल्या प्रश्नाचं उत्तर उत्तर नानाने दिलं नाही.
रोज शाळा भरत राहिली.आणि रोज नाना न चुकता मार खात राहिला.तोंड सुजवून घेत राहिला.मास्तरने प्रश्न विचारला की आपोआप नाना मनानेच उभा राहायचा अगदी तसाच डोळे गच्च मिटून.आणि मग ज्या पोरानं उत्तर बरोबर दिलेलं असायचं ते उड्या मारत नानाजवळ जायचं आणि खाडकन नानाच्या जोरात मुस्काडीत द्यायचं.पाचही बोटे नानाच्या गालावर जशीच्या तशी उमटायची.आणि मी हे सगळं केविलपणे बघत बसायचो. आणि एक दिवस घडलं असं,मास्तरने एक प्रश्न विचारला,तो प्रश्न असा होता.

“गावाबाहेर बायका जिथं धुणं धुवायला जातात,त्या जागेला काय म्हणतात.?”
आम्ही सगळ्यांनी जमेल तशी उत्तरे दिली, कुणी सांगितलं,ओढा म्हणतात,नदी म्हणतात,वगळ,आड,विहीर,तलाव,तळं, डबकं,पोहरा म्हणतात तर कुणी कुणी खूप डोकं खाजवून काहीही उत्तरे दिली.पण मास्तर उत्तर चुकीचं आहे असंच सांगत होते.नाना शांत बसून सगळीकडे पाहत होता.सगळ्यांची उत्तरे चुकलेली होती.गोंधळ शांत झाला आणि नानाने हात वर केला.जसं नानाने हात वर केला तशी सगळी पोरं एकसाथ मान वळवून नानाकडे बघायला लागली.मास्तर ही नानाकडे एकटक बघतच राहिले.
त्याच शांततेत नाना शांतपणे उभा राहिला.आणि हाताची घडी घालून नानाने मान ताठ करून उत्तर दिलं,
“गुरुजी गावाबाहेर बायका ज्या जागेवर धुणं धुतात त्या जागेला पाणवठा म्हणतात.”
आणि एका झटक्यात गुरुजी म्हणाले,नाना लेका तुझं उत्तर बरोबर आहे.मास्तर जसं उत्तर बरोबर आहे म्हणाले तसा नानाने मोठा दीर्घ श्वास घेतला.वर्गातली सगळी पोरं थरथर कापायला लागली.आणि नानाने सगळ्यात आधी वर्गाचं दार लावून दाराची आतली कडी लावली.त्याने कडी लावल्याबरोबर सगळी पोरं मोठ्याने बोंबलायला लागली.मी शांतपणे नानाकडे पाहत होतो.मलाही एक त्याची मुस्काडीत बसणार होतीच.पण मनातून मी खूप आनंदी झालो होतो.नानाचा चेहरा लालबंद झाला होता.डोळे मोठे झाले होते,आणि नाना आता सगळ्या वर्गावर तुटून पडणार होता.मास्तरानीच नियम केलेला असल्यामुळे मास्तर नानाला अडवूच शकत नव्हते.तरीही नानाचा तो राग पाहून मास्तर दबकतच हळूच नानाला म्हणाले,”नाना जाऊ दे सोड लेकरं लहान…..” मास्तरचं वाक्य पूर्ण झालंच नाही.त् नानाने अक्षरशः मास्तरला लहान मुलासारखं दोन्ही हाताने उचलून घेतलं आणि अलगद खुर्चीवर नेऊन ठेवलं.
आणि त्यानंतर गेल्या जवळजवळ सात वर्षाचा तो अन्याय नानाला आठवला.पोरं हात जोडून ओरडत होती.मास्तरला विनवण्या करत होती.पण त्यांचाही नाईलाज होता.आणि नानाने सुरवात केली.एक एक पोरगं कॉलरला धरून नानाने उभं केलं.आणि नानाने असं झोडपून काढायला सुरवात केली की बस्स.एका मुस्काडीत पोरगं खाली आडवं होऊन पडायचं.ते बघून बाकीचे सगळे जोरात बोंबलत होते.नाना पेटलेलाच होता.सगळा वर्ग ओला होताना दिसायला लागला.त्याच्या एका रट्याने पोरं चड्डी ओली होईस्तोवर बोंबलत होती.काही पोरं ते बघूनच मारायच्या आधीच लघवी करत होती.वर्गातला कालवा वाढतच राहिला.नानाने जितकं आजवर घेतलं होतं ते व्याजासहित परत केलं.
सगळ्यात शेवटी नाना माझ्याजवळ आला.मला त्याची कसलीच भीती वाटत नव्हती.उलट मला मनातून खूप आनंद झाला होता.नानाने माझी कॉलर धरली.हिसका देऊन मला उभं केलं.मी उभा राहिलो.नानाकडे एकटक पाहत राहिलो.माझ्या चेहऱ्यावरचा तो आनंद त्याने समजून घेतला.नानाने माझी कॉलर ढिली केली.मुस्काडीत मारायला उचललेला हात नानाने अगदी मायेने माझ्या गालावरून फिरवला.त्यावेळी माझ्या मोठ्या भावाची जागा नानाने घेऊन मनात घर केलं. गालावरून हात फिरवून त्याने अगदी तसाच हात माझ्या डोक्यातून फिरवत म्हणाला,
“कळलं का?मी आजपर्यंत शाळा का बुडवली नाही ते? कारण मला माहित होतं एक ना एक दिवस माझं उत्तर बरोबर येईल.आणि त्यादिवशी मी सगळा हिशोब चुकता करून टाकेन.”
नानाने त्याचं दप्तर उचललं.कडी काढून त्याने दार उघडलं.आणि नाना वर्गाच्या बाहेर नव्हे नव्हे शाळेच्या बाहेर कायमचा निघून गेला.त्यानंतर नाना शाळेत कधीच दिसला नाही.
( प्रत्येकाचा एक ना एक दिवस येत असतो)

कुणाची स्तुती कितीही करा
पण
अपमान खुप विचारपुर्वक
करा
कारण
अपमान हे असे कर्ज आहे
जे प्रत्येक जण
व्याजासह परत करण्याची संधी शोधत असतो…..

कोणी पोस्ट लिहली माहीत नाही… मी फक्त share केली

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

ग्यारह राजभोग

महेश बाबू बाहर बगीचे में गुनगुनी धूप का आनन्द ले रहे थे…साथ में चाय मखाने …वाह वाह… क्या मस्त कॉम्बिनेशन है…आनन्द के अतिरेक से उन्होनें आँखें बंद कर ली…तभी पास पड़ा फोन घरघराने लगा…लपक कर उठाया… मुंबई से छोटे का फोन था….”भैया आपकी पोती हुई है…घर में लक्ष्मी जी का आगमन हुआ है”

वो बहुत खुश होकर बधाई देने लगे,”देख छोटे, कितने दिनों पर खुशी वाला समाचार मिला है…पार्टी जोरदार होनी चाहिए”

तभी साइकिल की घंटी बजाता मंगलू दूधवाला आ गया… और वहीं धूप में बैठ गया… शायद उसने उनकी बात सुन ली थी…स्नेह से बोला,”ये तो सुबह सुबह बड़ी बढ़िया खबर सुन ली…छोटे बाबू के यहां पोती आ गई… यहाँ सभी भाइयों को राखी बाँधने वाली आ गई”

अब अकेले बैठे महेश जी को भी उसकी बातों में रस मिलने लगा,”वैसे मंगलू, आजकल बिटिया लोगों का सीज़न चल रहा है…इधर सब जगहों से बेटियों के जन्म की ही खबर आ रही है…कभी बेटों का सीजन चलता है…हर जगह से बेटे के जन्म की खबर आ जाती है”

मंगलू खुशी से उछल पड़ा,”आपके मुँह में घी शक्कर बाबूजी…मेरी गाय भी गाभिन है…दुआ करो कि इस कन्याओं के सीजन में मेरे घर भी बाछी आ जाए…पूरे ग्यारह राजभोगों का भोग लगाऊँगा।”

नीरजा कृष्णा
पटनासिटी

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

ग्यारह राजभोग

महेश बाबू बाहर बगीचे में गुनगुनी धूप का आनन्द ले रहे थे…साथ में चाय मखाने …वाह वाह… क्या मस्त कॉम्बिनेशन है…आनन्द के अतिरेक से उन्होनें आँखें बंद कर ली…तभी पास पड़ा फोन घरघराने लगा…लपक कर उठाया… मुंबई से छोटे का फोन था….”भैया आपकी पोती हुई है…घर में लक्ष्मी जी का आगमन हुआ है”

वो बहुत खुश होकर बधाई देने लगे,”देख छोटे, कितने दिनों पर खुशी वाला समाचार मिला है…पार्टी जोरदार होनी चाहिए”

तभी साइकिल की घंटी बजाता मंगलू दूधवाला आ गया… और वहीं धूप में बैठ गया… शायद उसने उनकी बात सुन ली थी…स्नेह से बोला,”ये तो सुबह सुबह बड़ी बढ़िया खबर सुन ली…छोटे बाबू के यहां पोती आ गई… यहाँ सभी भाइयों को राखी बाँधने वाली आ गई”

अब अकेले बैठे महेश जी को भी उसकी बातों में रस मिलने लगा,”वैसे मंगलू, आजकल बिटिया लोगों का सीज़न चल रहा है…इधर सब जगहों से बेटियों के जन्म की ही खबर आ रही है…कभी बेटों का सीजन चलता है…हर जगह से बेटे के जन्म की खबर आ जाती है”

मंगलू खुशी से उछल पड़ा,”आपके मुँह में घी शक्कर बाबूजी…मेरी गाय भी गाभिन है…दुआ करो कि इस कन्याओं के सीजन में मेरे घर भी बाछी आ जाए…पूरे ग्यारह राजभोगों का भोग लगाऊँगा।”

नीरजा कृष्णा
पटनासिटी

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

🌳कहानी🦚🌳

💐💐बालक की ईमानदारी💐💐

एक छोटे से गांव में नंदू नाम का एक बालक अपने निर्धन माता पिता के साथ रहता था। एक दिन दो भाई अपनी फसल शहर में बेचकर ट्रैक्टर से अपने गांव आ रहे थे। फसल बेचकर जो पैसा मिला वो उन्होंने एक थैली में रख लिया था। अचानक एक गड्डा आ गया और ट्रैक्टर उछला और थैली नीचे गिर गई । जिसे दोनों भाई देख नहीं पाएं और सीधे चले गए। बालक नंदू खेलकूद कर रात के अंधेरे में अपने घर जा रहा था।

अचानक उसका पैर किसी वस्तु से टकरा गया। देखा तो पता चला कि किसी की थैली है। जब नंदू ने उसे खोलकर देखा तो थैली में नोट भरे हुए थे। वो हैरान हो गया। वह सोचने लगा की पता नहीं किसकी थैली है। उसने सोचा कि अगर यही छोड़ गया तो कोई और इसे उठा ले जाएगा। वो मन ही मन सोचने लगा ‘जिसकी यह थैली है उसे कितना अधिक दुःख और कष्ट हो रहा होगा।

हालाँकि लड़का उम्र से छोटा था और निर्धन माँ बाप का बेटा था। लेकिन उसमें सूझबूझ काफी अच्छी थी। वह थैली को उठाकर अपने घर ले आया। उसने थैली को झोपड़ी में छुपा कर रख दिया। फिर वापस आकर उसी रास्ते पर खड़ा हो गया। उसने सोचा, कोई रोता हुआ आएगा तो पहचान बताने पर उसे थैली दे दूंगा। इधर जब थोड़ी देर बाद दोनों भाई घर पहुंचे तो ट्रैक्टर में थैली नहीं थी। दोनों भाई यह जान निराश होते हुए बहुत दुःखी होने लगे। पूरे साल की कमाई थैली में भरी थी।

किसी को मिला भी होगा तो कोई बताएगा भी नहीं। शायद अभी वह किसी के हाथ ना लगा हो यह सोच दोनों भाई टॉर्च लेकर उसी रास्ते पर वापस चले जा रहे थे। छोटा बालक नंदू उन्हें रास्ते में मिला। उसने उन दोनों से कुछ भी नहीं पूछा। लेकिन उसे शंका हुई की शायद वह थैली इन्हीं की हो। उसने उनसे पुछा ‘आप लोग क्या ढूंढ रहे हैं? उन्होंने उसकी बात पर कोई ध्यान नहीं दिया। उसने दुबारा पूछा ‘आप दोनों क्या ढूढ़ रहे हो। उन्होंने कहा? अरे कुछ भी ढूंढ रहे हैं तू जा तुझे क्या मतलब।

दोनों आगे बढ़ते जा रहे थे। नंदू उनके पीछे चलने लगा। वो समझ गया था कि नोटों वाली थैली संभवतः इन्हीं की ही है। उसने तीसरी बार फिर पूछा, तो चिल्लाकर एक भाई ने कहा ‘अरे चुप हो जा और हमें अपना काम करने दे। दिमाग को और खराब ना कर। अब नंदू को पूरा विश्वास हो गया कि वे थैली अवश्य ही इन्हीं की ही है। उसने फिर पूछा ‘आपकी थैली खो गई है क्या ? दोनों भाई एकदम रुक गए और बोले हां। नंदू बोला ‘पहले थैली की पहचान बताइए।

जब उन्होंने पहचान बताई तो बालक उन्हें अपने घर ले गया। टोकरी में रखी थैली उन दोनों भाइयों को सौंप दी। दोनों भाइयों के प्रसन्नता का कोई ठिकाना नहीं था। नंदू की ईमानदारी पर दोनों बड़े हैरान थे। उन्होंने इनाम के तौर पर कुछ रुपए देने चाहे, पर नंदू ने मना कर दिया बोला ‘यह तो मेरा कर्तव्य था। दूसरे दिन वह दोनों भाई नंदू के स्कूल पहुंच गए। उन्होंने बालक के अध्यापक को यह पूरी घटना सुनाते हुए कहा, हम सब विद्यार्थियों के सामने उस बालक को धन्यवाद देने आए।

अध्यापक के नेत्रों से आंसू झरने लगे। उन्होंने बालक की पीठ थपथपाई और पूछा ‘बेटा, पैसे से भरे थैले के बारे में अपने माता पिता को क्यों नहीं बताया ? नंदू बोला, गुरूजी मेरे माता-पिता निर्धन हैं। कदाचित उनका मन बदल जाता तो हो सकता है रुपयों को देख कर उसे लौटाने नहीं देते और यह दोंनो भाई बहुत निराश हो जाते। यह सोच मैंने घरवालों को थैली के बारे में कुछ भी नहीं बताया। सभी ने नंदू की बड़ी प्रशंसा की और कहा बेटा- धन्यवाद! गरीब होकर भी तूने ईमानदारी को नहीं छोड़ा।

शिक्षा:-
इस प्रसंग का सार यही है कि सबसे बड़ा गुण इमानदारी का है। ईमानदार होना हमें सर्वश्रेष्ठ व्यक्ति की स्थिति में ले जाता है। जिस प्रकार इस छोटे से बालक ने अपने ईमान को नहीं खोया भले ही उसकी गरीबी के लिए कष्टदाई थी। लेकिन ईमानदारी व्यक्ति छोटा हो या बड़ा ईमानदारी का गुण ही जीवन के सबसे बड़े गहने हैं। ईमानदारी से ही हमारे व्यक्तित्व को बहुत ही प्रसिद्धि मिलती है। ईमानदार मनुष्य ईश्वर की सर्वोत्तम रचना है।
🙏🙏🙏🙏🌳🌳🙏🙏🙏🙏🙏

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

गैलरी

पिता जिद कर रहा था कि उसकी चारपाई गैलरी में डाल दी जाये।
बेटा परेशान था।

बहू बड़बड़ा रही थी… कोई बुजुर्गों को अलग कमरा नही देता। हमने दूसरी मंजिल पर कमरा दिया…. सब सुविधाएं हैं, नौकरानी भी दे रखी है। पता नहीं, सत्तर की उम्र में सठिया गए हैं?

पिता कमजोर और बीमार हैं…
जिद कर रहे हैं, तो उनकी चारपाई गैलरी में डलवा ही देता हूँ। निकित ने सोचा। पिता की इच्छा की पू्री करना उसका स्वभाव था।

अब पिता की चारपाई गैलरी में आ गई थी।
हर समय चारपाई पर पड़े रहने वाले पिता
अब टहलते टहलते गेट तक पहुंच जाते ।
कुछ देर लान में टहलते । लान में खेलते
नाती – पोतों से बातें करते ,
हंसते , बोलते और मुस्कुराते ।
कभी-कभी बेटे से मनपसंद खाने की चीजें लाने की फरमाईश भी करते ।
खुद खाते , बहू – बेटे और बच्चों को भी खिलाते ….
धीरे-धीरे उनका स्वास्थ्य अच्छा होने लगा था।

दादा ! मेरी बाल फेंको… गेट में प्रवेश करते हुए निकित ने अपने पाँच वर्षीय बेटे की आवाज सुनी,
तो बेटा अपने बेटे को डांटने लगा…:
अंशुल बाबा बुजुर्ग हैं, उन्हें ऐसे कामों के लिए मत बोला करो।

पापा ! दादा रोज हमारी बॉल उठाकर फेंकते हैं….
अंशुल भोलेपन से बोला।

क्या… “निकित ने आश्चर्य से पिता की तरफ देखा?
पिता ! हां बेटा, तुमने ऊपर वाले कमरे में सुविधाएं तो बहुत दी थीं। लेकिन अपनों का साथ नहीं था। तुम लोगों से बातें नहीं हो पाती थी। जब से गैलरी मे चारपाई पड़ी है, निकलते बैठते तुम लोगों से बातें हो जाती है। शाम को अंशुल-पाशी का साथ मिल जाता है।

पिता कहे जा रहे थे और निकित सोच रहा था…..

बुजुर्गों को शायद भौतिक सुख सुविधाओं
से ज्यादा अपनों के साथ की जरूरत होती है

बुज़ुर्गों का सम्मान करें ।
ये हमारी धरोहर है …!

यह वो पेड़ हैं, जो थोड़े कड़वे है, लेकिन इनके फल बहुत मीठे है, और इनकी छांव का कोई मुक़ाबला नहीं !
🙏🏼

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

अंतिम सांस गिन रहे जटायु ने कहा कि “मुझे पता था कि मैं रावण से नही जीत सकता लेकिन तो भी मैं लड़ा ..यदि मैं नही लड़ता तो आने वाली पीढियां मुझे कायर कहतीं”

जब रावण ने जटायु के दोनों पंख काट डाले… तो मृत्यु आई और जैसे ही मृत्यु आयी… तो गिद्धराज जटायु ने मृत्यु को ललकार कहा…

“खबरदार ! ऐ मृत्यु ! आगे बढ़ने की कोशिश मत करना… । मैं तुझ को स्वीकार तो करूँगा… लेकिन तू मुझे तब तक नहीं छू सकती… जब तक मैं माता सीता जी की “सुधि” प्रभु “श्रीराम” को नहीं सुना देता…!

मौत उन्हें छू नहीं पा रही है… काँप रही है खड़ी हो कर…मौत तब तक खड़ी रही, काँपती रही… यही इच्छा मृत्यु का वरदान जटायु को मिला ।

किन्तु #महाभारत के #भीष्म_पितामह छह महीने तक बाणों की #शय्या पर लेट करके मृत्यु की प्रतीक्षा करते रहे… आँखों में आँसू हैं …वे पश्चाताप से रो रहे हैं… भगवान मन ही मन मुस्कुरा रहे हैं…!
कितना अलौकिक है यह दृश्य… #रामायण मे जटायु भगवान की गोद रूपी शय्या पर लेटे हैं…
प्रभु “श्रीराम” रो रहे हैं और जटायु हँस रहे हैं…
वहाँ महाभारत में भीष्म पितामह रो रहे हैं और भगवान “श्रीकृष्ण” हँस रहे हैं… भिन्नता प्रतीत हो रही है कि नहीं… ?

अंत समय में जटायु को प्रभु “श्रीराम” की गोद की शय्या मिली… लेकिन भीष्म पितामह को मरते समय बाण की शय्या मिली….!
जटायु अपने #कर्म के बल पर अंत समय में भगवान की #गोद रूपी शय्या में प्राण त्याग रहे हैं….

प्रभु “श्रीराम” की #शरण में….. और बाणों पर लेटे लेटे भीष्म पितामह रो रहे हैं….

ऐसा अंतर क्यों?…

ऐसा अंतर इसलिए है कि भरे दरबार में भीष्म पितामह ने #द्रौपदी की इज्जत को लुटते हुए देखा था… विरोध नहीं कर पाये और मौन रह गए थे …!
दुःशासन को ललकार देते… दुर्योधन को ललकार देते…
तो उनका साहस न होता, लेकिन द्रौपदी रोती रही… #बिलखती रही… #चीखती रही… #चिल्लाती रही… लेकिन भीष्म पितामह सिर झुकाये बैठे रहे… #नारी की #रक्षा नहीं कर पाये…!

उसका परिणाम यह निकला कि इच्छा मृत्यु का वरदान पाने पर भी बाणों की शय्या मिली और ….
जटायु ने नारी का सम्मान किया…
अपने प्राणों की आहुति दे दी… तो मरते समय भगवान
“श्रीराम” की गोद की शय्या मिली…!

जो दूसरों के साथ गलत होते देखकर भी आंखें मूंद लेते हैं … उनकी गति भीष्म जैसी होती है …
जो अपना परिणाम जानते हुए भी…औरों के लिए #संघर्ष करते है, उसका माहात्म्य जटायु जैसा #कीर्तिवान होता है ।

अतः सदैव गलत का विरोध जरूर करना चाहिए ।
“सत्य” परेशान जरूर होता है, पर पराजित नहीं ।।
💥🚩💥