Posted in श्रीमद्‍भगवद्‍गीता

गीता विभिन्न सन्दर्भों में
★★★★★★★★★★★
साधारणतया हम “भगवद गीता” को ही “गीता” मानते हैं जिसमें भगवान श्री कृष्ण ने अर्जुन को जीवन के विभिन्न पहलुओं के बारे में समझाया है। परन्तु आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि भारतीय परंपरा के अनुसार कुल 60 तरह की गीता हैं जो भक्तों के हृदय और भारतीय सांस्कृतिक विरासत में अपना अलग महत्व रखती हैं। गीता गीत या छंद रूप में है जो मानव हृदय पर सीधा प्रभाव डालते हैं।

आइये सभी तरह की गीता के बारे में संक्षेप में जानते हैं –

  1. गुरु गीता – इसमें भगवान शिव और देवी पार्वती के बीच वार्तालाप को बताया है। इसमें आध्यात्मिक गुरु की तलाश के महत्व और आवश्यकता पर जोर दिया है। इसका वर्णन स्कंध पुराण में मिलता है।
  2. अष्टावक्र गीता – इसमें महात्मा अष्टावक्र और राजा जनक की मध्य वार्तालाप को बताया है। यह अद्वैत वेदांत, बंधन और आत्मबोध के बारे में बताती है। यह मानव शरीर की कमजोरियों और अष्टावक्र के प्रतीक के रूप में उसके कष्टों को इंगित करने की श्रेष्ठता पर जोर देता है। महाभारत के वन पुराण में इसका वर्णन मिलता है।
  3. अवधूत गीता – इसमें ऋषि दत्तात्रेय और स्कंद (भगवान कार्तिकेय) के बीच वार्तालाप को बताया है। इसमें एक वास्तविक आत्मा के उच्चतम अहसास का संकेत मिलता है।
  4. भगवद गीता – इसमें महाभारत युद्ध की पूर्व संध्या पर भगवान श्री कृष्ण और अर्जुन के मध्य हुई वार्तालाप को बताया है। यह गीता का सबसे महत्वपूर्ण प्रकार है जो जीवन के विभिन्न पहलुओं पर प्रकाश डालती है।
  5. अनु गीता – इसमें अर्जुन और श्री कृष्ण की वार्तालाप का वह भाग है जिसमे अर्जुन श्री कृष्ण से पुनः संपूर्ण भगवद गीता सुनाने को कहते हैं और श्री कृष्ण इसे असंभव बताकर केवल भगवद गीता का सार सुनाते हैं। इस सार को अनु गीता कहा गया है।
  6. ब्रह्म गीता – महर्षि वशिष्ठ और श्री राम के मध्य की वार्तालाप को इसमें बताया गया है। इसमें वशिष्ठ योग के निर्वाण प्रकरण का वर्णन मिलता है। इसमें ब्राह्मण के स्वभाव, विश्व और आत्मा का गहराई से वर्णन मिलता है।
  7. जनक गीता – अपने महल के समीप सिद्धों द्वारा गाये गए गीतों को सुनकर राजा जनक द्वारा लिखे गए श्लोकों का संग्रह इसमें मिलता है।
  8. राम गीता प्रथम – इसमें श्री राम और उनके भाई श्री लक्ष्मण के मध्य वार्तालाप को दर्शाया गया है। इसमें जीव, अविद्या, ईश्वर, माया आदि के अपने विभिन्न सिद्धांतों के साथ अद्वैत-वेदांत का विस्तार से वर्णन मिलता है और अनन्त होने, ब्रह्म की प्राप्ति की प्रक्रिया का वर्णन है। इसे आध्यात्म रामायण में दर्शाया गया है।
  9. राम गीता द्वितीय – इसमें श्री राम और भगवान हनुमान के मध्य वार्तालाप को दर्शाया गया है। यह अनुभववादियों का धर्मग्रंथ है और यह संसार से निवृत्ति से हटकर ज्ञान प्राप्त करने पर बल देता है। इसका वर्णन तत्व सरयन में मिलता है।
  10. ऋभु गीता – ऋषि ऋभु द्वारा अपने शिष्य निदघ को दिए गए निर्देशों का वर्णन इसमें मिलता है। यह अद्वैत वेदांत से संबंधित एक प्रशंसित गीता है और यह शिवाराशि पुराण के हृदय का निर्माण करती है जो शिव और शैव उपासना के बारे में उपपुराणों में से एक है।
  11. सिद्ध गीता – इसमें राजा जनक के महल के समीप सिद्धों द्वारा गाये गए गीतों का संकलन मिलता है। इसका सार है कि अनंत में चेतना का विस्तार सदैव आत्म-नियंत्रण और विषय-वस्तु संबंध की उपेक्षा से प्रभावित होता है। इसका वर्णन वशिष्ठ-योग के उपशांति प्रकरण में मिलता है।
  12. उत्तर गीता – यह भगवद गीता का एक परिशिष्ठ है जिसका वर्णन ब्रह्माण्ड पुराण में मिलता है। इसमें ज्ञान, योग तथा सम्बद्ध विषयों का उचित वर्णन मिलता है।
  13. वशिष्ठ गीता – इसमें महर्षि वशिष्ठ द्वारा श्री राम को शाश्वत सत्य पर दिए गए निर्देशों का वर्णन मिलता है। इसका वर्णन वशिष्ठ-योग के निर्वाण-प्रकरण में मिलता है।
  14. बक गीता – भगवान इन्द्र और महर्षि बक के मध्य वार्तालाप जिसमे महर्षि लम्बे समय तक दुनिया में रहने वाले व्यक्ति द्वारा देखे जाने वाली दुखद स्थितियों का वर्णन करते हैं। इसका वर्णन महाभारत में मिलता है।
  15. भिक्षु गीता – इसमें एक लालची ब्राह्मण उद्धव को श्री कृष्ण द्वारा दिए गए उद्धरणों का उल्लेख मिलता है जो की बाद में एक साधु बन जाता है और मन को नियंत्रित रखने की विधि पर एक गीत गाता है। इसका वर्णन श्रीमद भागवतम में मिलता है।
  16. गोपी गीता – इसमें गोपियों द्वारा श्री कृष्ण के वियोग में गाया गया गीत है। यह गीता भगवान के प्रति सर्वोच्च भक्ति-भाव से परिपूर्ण है। इसका वर्णन श्रीमद भागवतम में मिलता है।
  17. हंसा गीता – इसमें हंस रूप में भगवान विष्णु और ब्रह्मा के पुत्रों के मध्य के वार्तालाप को बताया है। इस गीता के अनुसार संसार एक भ्रम है और केवल आत्मा ही अटल और सर्वदा रहने वाला एकमात्र सत्य है। इसका वर्णन श्रीमद भागवतम में मिलता है। इसे उद्धव गीता के नाम से भी जाना जाता है।
  18. जीवनमुक्त गीता – महर्षि दत्तात्रेय जीवनमुक्त की प्रकृति (आत्मा के एहसास) की व्याख्या करते हैं।
  19. कपिल गीता – इसमें महर्षि कपिल द्वारा अपनी माता देवहुति को पढ़ाने का वर्णन है। इसका वर्णन श्रीमद भागवतम में मिलता है।
  20. नहुष गीता – इसमें युधिष्ठिर और नहुष के मध्य वार्तालाप का वर्णन मिलता है। इसका वर्णन महाभारत में मिलता है।
  21. नारद गीता – इसमें भगवान श्री कृष्ण और नारद जी के मध्य वार्तालाप का वर्णन मिलता है। यह एक आध्यात्मिक आकांक्षी के सामान्य अपेक्षित व्यवहार करता है। यह गुरु या आध्यात्मिक उपदेशक की सर्वोच्चता पर जोर देता है।
  22. पांडव गीता – इसमें भगवान नारायण के लिए विभिन्न भक्तों द्वारा की गयी प्रार्थनाओं को संगृहीत किया गया है। इसे प्रपन्न गीता के नाम से भी जानते हैं। इस गीता को समर्पण के गीत के रूप में जाना जाता है। यह विभिन्न स्रोतों से लिए गए सुंदर छंदों का संग्रह है। इस गीता में वर्णित भजन को पांडवों द्वारा गाया गया था क्योंकि यह सभी पापों को नष्ट करने और मुक्ति प्रदान करने के लिए कहा गया था।
  23. ऋषभ गीता – इसमें दुनिया के लाभ हेतु मुक्ति के मार्ग और शाश्वत सत्य के बारे में ऋषि ऋषभ द्वारा अपने बच्चों को दिए गए निर्देशों का वर्णन मिलता है।
  24. शौनक गीता – इसमें सृष्टि के प्राणियों के सामान्य जीवन के रहस्यों पर युधिष्ठिर को ऋषि शौनक के निर्देश उल्लेखित हैं। इसका वर्णन महाभारत के अरण्य-पर्व में मिलता है।
  25. श्रुति गीता – इसमें श्रुतियों द्वारा भगवान नारायण को अर्पित की गई प्रार्थनाओं का संकलन है। इसका वर्णन श्रीमद भागवतम में मिलता है।
  26. युगल गीता – इसमें गोपिओं द्वारा किया गया भगवान कृष्ण का महिमा वर्णन है। इसका वर्णन श्रीमद भागवतम में मिलता है।
  27. व्याध गीता – इसमें एक व्याध (शिकारी) द्वारा ऋषि कौशिक को दिया गया उपदेश है। इसका वर्णन श्रीमद भागवतम में मिलता है।
  28. युधिष्ठिर गीता – इसमें यक्ष और युधिष्ठिर के मध्य वार्तालाप को संकलित किया गया है। इसका वर्णन महाभारत में मिलता है। यह गीता मूल नैतिकता के बारे में सिखाती है जो सदाचार और दिव्य जीवन का आधार बनती है।
  29. मोक्ष गीता – इसमें स्वामी शिवानंद द्वारा लिखित मुक्ति गीतों का संकलन है।
  30. रमण गीता – यह गीता श्री वशिष्ठ गणपति मुनि द्वारा रचित, भगवान श्री रमण महर्षि की शिक्षाओं का प्रतीक है।
  31. ईश्वर गीता – इस गीता में भगवान शिव द्वारा दी गई शिक्षा का उल्लेख है, इसका वर्णन कर्म पुराण में मिलता है। ईश्वर गीता भगवान शिव के साथ केंद्र बिंदु के रूप में शैव शिक्षण दर्शन है, लेकिन अद्वैत वेदांत के सिद्धांतों, भक्ति, एक सूत्र के बाद भगवद गीता के समान है और भगवान शिव को संसार के सागर को पार करने और दिव्य आनंद और मुक्ति प्राप्त करने के लिए स्वयं को समर्पित करने का सन्देश देती है।
  32. गणेश गीता – इसमें भगवान गणेश द्वारा राजा वरेण्य को दिए गए प्रवचनों का उल्लेख मिलता है। इसका वर्णन गणेश पुराण के क्रीड़ाकाण्ड में मिलता है।
  33. देवी गीता – यह देवी भागवतम का भाग है, हिमालय के अनुरोध पर देवी अपने मूलभूत रूपों का वर्णन करती हैं।
  34. पराशर गीता – यह महाभारत के शांति पर्व में वर्णित राजा जनक और ऋषि पराशर के मध्य वार्तालाप का संकलन है।
  35. पिंगला गीता – यह गीता पिंगला नाम की एक नाचने वाली लड़की को मिले ज्ञान और प्रबुद्धता का सन्देश देती है। इसका वर्णन महाभारत के शांति पर्व में मिलता है।
  36. बोध्य गीता – इसमें ऋषि बोध्य और राजा ययाति के मध्य वार्तालाप है। इसका वर्णन महाभारत के शांति पर्व के एक भाग मोक्ष पर्व में मिलता है।
  37. यम गीता – इसमें विष्णु के सच्चे भक्त होने के लिए आवश्यक गुणों का वर्णन है, साथ ही स्वयं का स्वभाव, ब्रह्मा की अवधारणा और स्वयं को जीवन-मृत्यु के चक्र से मुक्त कर मोक्ष प्राप्त करने का मार्ग बताया है। यह विष्णु पुराण, अग्नि पुराण और नरसिम्हा पुराण में वर्णित है।
  38. विचक्षु गीता – इसमें महाभारत के शांति पर्व में भीष्म द्वारा युधिष्ठिर को दिया गया अहिंसा का उपदेश है। जिसमे मानव में उपस्थित हिंसक तथा पशु गुणों को त्यागने का सन्देश है।
  39. मानकी गीता – इसमें एक मुनि जिनका नाम मानकी था की कहानी है जो भीष्म ने युधिष्ठिर को सुनाई थी। इसका वर्णन महाभारत के शांति पर्व में मिलता है।
  40. व्यास गीता – इसमें ऋषि व्यास द्वारा अन्य ऋषियों को दिए गए प्रवचन का वर्णन है। व्यास गीता उच्च कोटि की वैचारिक और योगियों और उन्नत साधकों के प्रति अधिक निर्देशित है, हालांकि इसकी अवधारणाएं उस साधक के लिए भी हैं जो ब्रह्म को प्राप्त करना चाहता है और योग साधनाओं को आत्मसात करने और शास्त्रों का अध्ययन करने और विवेकपूर्वक अभ्यास करने के लिए तैयार है।
  41. वृत्र गीता – यह एक उग्र दानव वृत्रासुर और असुरों के गुरु शुक्राचार्य के बीच संवाद है, जो महाभारत के शांति पर्व में वर्णित हैं।
  42. शिव गीता – भगवान शिव द्वारा श्री राम को दी गयी शिक्षा इसमें उल्लेखित है।
  43. संपक गीता – संपक एक विद्वान और धर्मज्ञ ब्राह्मण यह संदेश देता है कि त्याग के द्वारा ही सदा सुख प्राप्त किया जा सकता है। इसका वर्णन भीष्म और युधिष्ठिर के वार्तालाप के रूप में महाभारत के शांति पर्व में उल्लेखित है।
  44. सुत गीता – इसका वर्णन स्कन्द पुराण के यज्ञ वैभव खंड में मिलता है। यह अद्वैतवाद का पक्षधर है तथा द्वैतवाद का खंडन करता है।
  45. सूर्य गीता – इसमें भगवान ब्रह्मा और भगवान दक्षिणामूर्ति के मध्य वार्तालाप है जिसमे सूर्य भगवान द्वारा उनके सारथि अरुण को दिए गए प्रवचनों की कहानी है। यह तत्व सरायण के गुरु ज्ञान वशिष्ट में मिलता है।
  46. हरित गीता – इसमें सन्यासी धर्म पर ऋषि हरित द्वारा दी गई शिक्षा और मोक्ष प्राप्त करने के लिए होने वाले गुणों का उल्लेख है। ऋषि हरित ने ये शिक्षा भीष्म को केंद्रित करते हुए दी है। इसका उल्लेख महाभारत के शांति पर्व में भीष्म और युधिष्ठिर के मध्य वार्तालाप के रूप में है।
  47. विभीषण गीता – यह रामायण में वर्णित भगवान राम और विभीषण के बीच का प्रवचन है। इसका वर्णन महान हिंदू महाकाव्य रामायण के युद्ध कांड में मिलता है। विभीषण गीता भगवान विष्णु के आध्यात्मिक शब्दों को ध्यान में रखते हुए हमें जीवन के परीक्षणों और क्लेशों से गुजरने में सक्षम बनाती है।
  48. हनुमद गीता – यह रावण की हार के बाद भगवान राम और देवी सीता द्वारा हनुमान को दिए गए प्रवचन और उनके अयोध्या वापस आने का है।
  49. अगस्त्य गीता – इसमें ऋषि अगस्त्य मोक्ष धर्म की अवधारणाओं और उन तरीकों को बताते हैं जिनसे जीवात्मा भक्ति, त्याग और गुरु की कृपा से परमात्मा को प्राप्त कर सकता है। इसका वर्णन वराह पुराण में मिलता है।
  50. भरत गीता – इसका वर्णन श्रीमद भगवत पुराण में मिलता है। यह गीता बहुत ही खूबसूरती से भगवान की महिमा का बखान करती है।
  51. भीष्म गीता – महाभारत में वर्णित, इस गीता में महेश्वरा, विष्णु और नारायण के विभिन्न नामों का उच्चारण करते हुए भीष्म के भजन हैं और इन भजनों को विश्वास और भक्ति के साथ गाते हुए साधक को आनंद, शांति और समृद्धि प्रदान करने के लिए कहा जाता है।
  52. ब्राह्मण गीता – महाभारत में वर्णित, यह गीता एक विद्वान ब्राह्मण और उसकी पत्नी के बीच एक संवाद के रूप में है कि माया और भ्रम के बंधन से कैसे बचा जाए और मुक्ति की उच्चतम अवस्था को कैसे प्राप्त करें जो सभी मानव अस्तित्व का लक्ष्य है।
  53. रूद्र गीता – इसमें भगवत पुराण में मोक्ष के लिए रुद्र द्वारा प्रकट भगवान विष्णु की स्तुति में दिए गए भजन संकलित हैं। वराह पुराण में यह ब्रह्मा, विष्णु और शिव की पहचान का वर्णन करता है।
  54. संतसुजाता गीता – यह महाभारत के उद्योग पर्व में वर्णित है जो कि कौरव राजा धृतराष्ट्र और संतसुजाता के मध्य वार्तालाप के रूप में है। यह ब्रह्म की संकल्पना, मन, बुद्धि और ब्रह्म को प्राप्त करने के तरीकों की व्याख्या करता है।
  55. योगी गीता – यह स्वामीनारायण के चौथे आध्यात्मिक उत्तराधिकारी श्री योगीजी महाराज की प्रार्थनाओं और आध्यात्मिक शिक्षाओं का संग्रह है। यह उन सभी विशेषताओं के बारे में बताता है जो एक साधक को आध्यात्मिक प्राप्ति के लिए आवश्यक होती हैं और ब्रह्मरूप बन जाती हैं या ईश्वर प्राप्ति कर लेती हैं।
  56. वल्लभ गीता – इसे षोडश ग्रन्थ भी कहा जाता है। यह श्री वल्लभाचार्य के सोलह कार्यों का एक संग्रह है जिसमे सभी विषयों पर चर्चा की गयी है।
  57. विदुर गीता – आमतौर पर विदुर नीति भी कहा जाता है। महाभारत में विदुर तथा राजा धृतराष्ट्र के वार्तालाप रूप में उल्लेखित है। जिसमे सही आचरण, निष्पक्ष खेल और शासन तथा राजनीति की कला का उल्लेख है।
  58. विद्या गीता – यह त्रिपुरा रहस्या में निहित है और एक कहानी के रूप में है जो भगवान दत्तात्रेय परशुराम से संबंधित है। इसे विद्या गीता को त्रिपुरा या दिव्य माता कहा जाता है जो तीन पुर या नगरों की अध्यक्षता करती है, स्वयं विद्या या उच्चतम ज्ञान है।
  59. भ्रमर गीता – इसमें गोपियों तथा उद्धव के मध्य भ्रमर की मध्यस्थता से वार्तालाप को दर्शाया है। इसका वर्णन श्रीमद भागवतम में मिलता है।
  60. वेणु गीता – इसमें श्रीकृष्ण की बाँसुरी की ध्वनि को सुनकर उनकी गहरी भावनात्मक उथल-पुथल में गोपियों की गोपनीय बातचीत शामिल है। इसका वर्णन श्रीमद भागवतम में मिलता है।
    🙏🌷🙏🌷🙏
Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

पिप्पलाद ऋषि और शनिदेव

श्मशान में जब महर्षि दधीचि के मांसपिंड का दाह संस्कार हो रहा था तो उनकी पत्नी अपने पति का वियोग सहन नहीं कर पायीं और पास में ही स्थित विशाल पीपल वृक्ष के कोटर में 3 वर्ष के बालक को रख स्वयम् चिता में बैठकर सती हो गयीं। इस प्रकार महर्षि दधीचि और उनकी पत्नी का बलिदान हो गया किन्तु पीपल के कोटर में रखा बालक भूख प्यास से तड़प तड़प कर चिल्लाने लगा।जब कोई वस्तु नहीं मिली तो कोटर में गिरे पीपल के गोदों(फल) को खाकर बड़ा होने लगा। कालान्तर में पीपल के पत्तों और फलों को खाकर बालक का जीवन येन केन प्रकारेण सुरक्षित रहा।
एक दिन देवर्षि नारद वहाँ से गुजरे। नारद ने पीपल के कोटर में बालक को देखकर उसका परिचय पूंछा-
नारद- बालक तुम कौन हो ?
बालक- यही तो मैं भी जानना चाहता हूँ ।
नारद- तुम्हारे जनक कौन हैं ?
बालक- यही तो मैं जानना चाहता हूँ ।
तब नारद ने ध्यान धर देखा।नारद ने आश्चर्यचकित हो बताया कि हे बालक ! तुम महान दानी महर्षि दधीचि के पुत्र हो। तुम्हारे पिता की अस्थियों का वज्र बनाकर ही देवताओं ने असुरों पर विजय पायी थी। नारद ने बताया कि तुम्हारे पिता दधीचि की मृत्यु मात्र 31 वर्ष की वय में ही हो गयी थी।
बालक- मेरे पिता की अकाल मृत्यु का कारण क्या था ?
नारद- तुम्हारे पिता पर शनिदेव की महादशा थी।
बालक- मेरे ऊपर आयी विपत्ति का कारण क्या था ?
नारद- शनिदेव की महादशा।
इतना बताकर देवर्षि नारद ने पीपल के पत्तों और गोदों को खाकर जीने वाले बालक का नाम पिप्पलाद रखा और उसे दीक्षित किया।
नारद के जाने के बाद बालक पिप्पलाद ने नारद के बताए अनुसार ब्रह्मा जी की घोर तपस्या कर उन्हें प्रसन्न किया। ब्रह्मा जी ने जब बालक पिप्पलाद से वर मांगने को कहा तो पिप्पलाद ने अपनी दृष्टि मात्र से किसी भी वस्तु को जलाने की शक्ति माँगी।ब्रह्मा जी से वर्य मिलने पर सर्वप्रथम पिप्पलाद ने शनि देव का आह्वाहन कर अपने सम्मुख प्रस्तुत किया और सामने पाकर आँखे खोलकर भष्म करना शुरू कर दिया।शनिदेव सशरीर जलने लगे। ब्रह्मांड में कोलाहल मच गया। सूर्यपुत्र शनि की रक्षा में सारे देव विफल हो गए। सूर्य भी अपनी आंखों के सामने अपने पुत्र को जलता हुआ देखकर ब्रह्मा जी से बचाने हेतु विनय करने लगे।अन्ततः ब्रह्मा जी स्वयम् पिप्पलाद के सम्मुख पधारे और शनिदेव को छोड़ने की बात कही किन्तु पिप्पलाद तैयार नहीं हुए।ब्रह्मा जी ने एक के बदले दो वर्य मांगने की बात कही। तब पिप्पलाद ने खुश होकर निम्नवत दो वरदान मांगे-

1- जन्म से 5 वर्ष तक किसी भी बालक की कुंडली में शनि का स्थान नहीं होगा।जिससे कोई और बालक मेरे जैसा अनाथ न हो।

2- मुझ अनाथ को शरण पीपल वृक्ष ने दी है। अतः जो भी व्यक्ति सूर्योदय के पूर्व पीपल वृक्ष पर जल चढ़ाएगा उसपर शनि की महादशा का असर नहीं होगा।

ब्रह्मा जी ने तथास्तु कह वरदान दिया।तब पिप्पलाद ने जलते हुए शनि को अपने ब्रह्मदण्ड से उनके पैरों पर आघात करके उन्हें मुक्त कर दिया । जिससे शनिदेव के पैर क्षतिग्रस्त हो गए और वे पहले जैसी तेजी से चलने लायक नहीं रहे।अतः तभी से शनि “शनै:चरति य: शनैश्चर:” अर्थात जो धीरे चलता है वही शनैश्चर है, कहलाये और शनि आग में जलने के कारण काली काया वाले अंग भंग रूप में हो गए।
सम्प्रति शनि की काली मूर्ति और पीपल वृक्ष की पूजा का यही धार्मिक हेतु है।आगे चलकर पिप्पलाद ने प्रश्न उपनिषद की रचना की,जो आज भी ज्ञान का वृहद भंडार है।

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

🌞 ॐ श्री हरि नारायण शिव लहेरी प्रणाम👏🏽

मित्रता👇🏿
एक बेटे के अनेक मित्र थे जिसका उसे बहुत घमंड था। पिता का एक ही मित्र था लेकिन था सच्चा ।एक दिन पिता ने बेटे को बोला कि तेरे बहुत सारे दोस्त है उनमें से आज रात तेरे सबसे अच्छे दोस्त की परीक्षा लेते है। बेटा सहर्ष तैयार हो गया। रात को 2 बजे दोनों बेटे के सबसे घनिष्ठ मित्र के घर पहुंचे, बेटे ने दरवाजा खटखटाया, दरवाजा नहीं खुला,बार-बार दरवाजा ठोकने के बाद अंदर से बेटे का दोस्त उसकी माताजी को कह रहा था माँ कह दे मैं घर पर नहीं हूँ।यह सुनकर बेटा उदास हो गया, अतः निराश होकर दोनों लौट आए।*

फिर पिता ने कहा कि बेटे आज तुझे मेरे दोस्त से मिलवाता हूँ। दोनों पिता के दोस्त के घर पहुंचे। पिता ने अपने मित्र को आवाज लगाई। उधर से जवाब आया कि ठहरना मित्र, दो मिनट में दरवाजा खोलता हूँ। जब दरवाजा खुला तो पिता के दोस्त के एक हाथ में रुपये की थैली और दूसरे हाथ में तलवार थी। पिता ने पूछा, यह क्या है मित्र। तब मित्र बोला….अगर मेरे मित्र ने दो बजे रात्रि को मेरा दरवाजा खटखटाया है, तो जरूर वह मुसीबत में होगा और अक्सर मुसीबत दो प्रकार की होती है,या तो रुपये पैसे की या किसी से विवाद हो गया हो। अगर तुम्हें रुपये की आवश्यकता हो तो ये रुपये की थैली ले जाओ और किसी से झगड़ा हो गया हो तो ये तलवार लेकर मैं तुम्हारें साथ चलता हूँ। तब पिता की आँखे भर आई और उन्होंने अपने मित्र से कहा कि, मित्र मुझे किसी चीज की जरूरत नहीं, मैं तो बस मेरे बेटे को मित्रता की परिभाषा समझ रहा था।

ज़िन्दगी में दो मित्र ज़रूर होने चाहिए,
एक कृष्ण जो ना लड़े फिर भी जीत पक्की कर दे
और दूसरा कर्ण जो हार सामने हो फिर भी साथ ना छोडे।

अतः मित्र, जो चुनें लेकिन नेक चुनें।


🌻💐 Uday Raj💐🌻