Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

🔴🔴मधुर व्यवहार🔴🔴

एक राजा ने स्वप्न में देखा कि उससे एक परोपकारी साधु कह रहा है कि– “बेटा! कल रात को तुम्हें एक विषैला साँप काटेगा और उसके काटने से तुम्हारी मृत्यु हो जाएगी । वह सर्प अमुक पेड़ की जड़ में रहता है। वह तुमसे पूर्व जन्म की शत्रुता का बदला लेना चाहता है ।”

सुबह हुई………

राजा सोकर उठा और सपने की बात पर विचार करने लगा कि अपनी आत्मरक्षा के लिए क्या उपाय करना चाहिए ?

विचार करते–करते राजा इस निर्णय पर पहुँचा कि मधुर व्यवहार से बढ़कर शत्रु को जीतने वाला और कोई हथियार इस पृथ्वी पर नहीं है । उसने सर्प के साथ मधुर व्यवहार करके उसका मन बदल देने का निश्चय किया ।

शाम होते ही राजा ने उस पेड़ की जड़ से लेकर अपनी शय्या तक फूलों का बिछौना बिछवा दिया, सुगन्धित जलों का छिड़काव करवाया, मीठे दूध के कटोरे जगह–जगह रखवा दिये और सेवकों से कह दिया कि रात को जब सर्प निकले तो कोई उसे किसी प्रकार कष्ट पहुंचाने की कोशिश न करें ।

रात को साँप अपनी बांबी में से बाहर निकला और राजा के महल की तरफ चल दिया । वह जैसे-जैसे आगे बढ़ता गया, अपने लिए की गई स्वागत व्यवस्था को देख–देखकर आनन्दित होता गया । कोमल बिछौने पर लेटता हुआ, मनभावनी सुगन्ध का रसास्वादन करता हुआ, जगह-जगह पर मीठा दूध पीता हुआ आगे बढ़ता गया ।

इस तरह क्रोध के स्थान पर सन्तोष और प्रसन्नता के भाव उसमें बढ़ने लगे । जैसे-जैसे वह आगे चलता गया, वैसे–वैसे उसका क्रोध कम होता चला गया । राजमहल में जब वह प्रवेश करने लगा तो देखा कि प्रहरी और द्वारपाल सशस्त्र खड़े हैं, परन्तु उसे जरा भी हानि पहुंचाने की चेष्टा नहीं कर रहे हैं ।

यह असाधारण सी लगने वाले दृश्य देखकर साँप के मन में स्नेह उमड़ आया । सद्व्यवहार, नम्रता, मधुरता के जादू ने उसे मंत्रमुग्ध कर लिया था । कहाँ वह राजा को काटने चला था, परन्तु अब उसके लिए अपना कार्य असंभव हो गया । हानि पहुंचाने के लिए आने वाले शत्रु के साथ जिसका ऐसा मधुर व्यवहार है, उस धर्मात्मा राजा को काटूँ तो किस प्रकार काटूँ ? यह प्रश्न के चलते वह दुविधा में पड़ गया ।

राजा के पलंग तक जाने तक साँप का निश्चय पूरी तरह से बदल गया था । उधर समय से कुछ देर बाद साँप राजा के शयन कक्ष में पहुँचा । साँप ने राजा से कहा– “राजन! मैं तुम्हें काटकर अपने पूर्व जन्म का बदला चुकाने आया था, परन्तु तुम्हारे सौजन्य और सद्व्यवहार ने मुझे परास्त कर दिया ।”

“अब मैं तुम्हारा शत्रु नहीं मित्र हूँ । मित्रता के उपहार स्वरूप अपनी बहुमूल्य मणि मैं तुम्हें दे रहा हूँ । लो इसे अपने पास रखो । इतना कहकर और मणि राजा के सामने रखकर साँप चला गया ।”

🔵यह महज कहानी नहीं जीवन की सच्चाई है ।🔵

⚪🔴⚪सदव्यवहार कठिन से कठिन कार्यों को सरल बनाने का माद्दा रखता है । यदि व्यक्ति व्यवहार कुशल है, तो वह सब कुछ प्राप्त करने में कामयाब होता है, जिसे पाने की वह हार्दिक इच्छा रखता है ।⚪🔴⚪

साभार

Author:

Buy, sell, exchange old books

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s