Posted in आयुर्वेद - Ayurveda

🌹 सफेद दाग 🌹

🌷 रात ताँबे के गिलास में पानी रखिये,सुबह तुलसी रस 5 ml मिलाकर पीजिए। ठंड में थोड़ा गुनगुना कर लें।

आधे घण्टे बाद

🌷 सर्वकल्प क्वाथ 1 चम्मच पतजंलि का रोज सुबह शाम उबालकर, छानकर, इसमे 10 gm बाकुची चूर्ण मिलाए,पियें। इस काढ़े को पीने के पहले या बाद में
कायाकल्प वटि 1 पतजंलि , पुनरनवा मन्डूर 1 गोली भी खायें।

ऊपर के दोनों उपाय खाली पेट करने हैं। अर्थात सुबह सबसे पहले उठकर फिर शाम 4-5 बजे । इसको लेने के बाद डेढ़ घण्टे तक कुछ नही खाना,पीना है।

🌷रात भोजन के 2 घण्टे बाद गहरे लाल गुड़हल 5 ताजे या सूखे फूलों को गर्म दूध में मसलकर,मिश्री मिलाकर पिएं।

🌷बाकुची तेल को सफेद दागों पर लगाइये। अगर जलन करे तो 1चम्मच तेल को 1 चमच्च देशी गाय के घी में मिलाकर गर्म करिये,उतारिये,गुनगुना ही लगाइये।

2 साल लगातार करिये।

खट्टी चीज पूरी तरह बन्द।
तली मसालेदार कोई चीज नही खाना। सूखी सब्जी जैसे भिंडी की, तले आलू, तले करेला आदि बिल्कुल बन्द 2 साल के लिए।

बथुआ भाजी, लौकी, तोरई,परवल ,रोटी ही खायें।

उगते सूर्य के दर्शन करियेगा, सूर्य से रोगमुक्ति की प्रार्थना करिये। धूप सेंकना।

नमक कम से कम।
🌼🌻🌼🌻🌼🌻🌼🌻
वैद्यराज श्री गणेश

Author:

Buy, sell, exchange books

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s