Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

शाहजहाँ ने बताया था, हिंदू क्यों गुलाम हुआ ?समय न हो तो भी, एक बार तो अवश्य पढें ।मुग़ल बादशाह शाहजहाँ लाल किले में तख्त-ए-ताऊस पर बैठा हुआ था ।तख्त-ए-ताऊस काफ़ी ऊँचा था । उसके एक तरफ़ थोड़ा नीचे अग़ल-बग़ल दो और छोटे-छोटे तख्त लगे हुए थे । एक तख्त पर मुगल वज़ीर दिलदार खां बैठा हुआ था और दूसरे तख्त पर मुगल सेनापति सलावत खां बैठा था । सामने सूबेदार, सेनापति, अफ़सर और दरबार का खास हिफ़ाज़ती दस्ता मौजूद था ।उस दरबार में इंसानों से ज्यादा क़ीमत बादशाह के सिंहासन तख्त-ए-ताऊस की थी । तख्त-ए-ताऊस में 30 करोड़ रुपए के हीरे और जवाहरात लगे हुए थे । इस तख्त की भी अपनी कथा व्यथा थी ।तख्त-ए-ताऊस का असली नाम मयूर सिंहासन था । 300 साल पहले यही मयूर सिंहासन देवगिरी के यादव राजाओं के दरबार की शोभा था । यादव राजाओं का सदियों तक गोलकुंडा के हीरों की खदानों पर अधिकार रहा था । यहां से निकलने वाले बेशक़ीमती हीरे, मणि, माणिक, मोती मयूर सिंहासन के सौंदर्य को दीप्त करते थे ।समय चक्र पलटा, दिल्ली के क्रूर सुल्तान अलाउदद्दीन खिलजी ने यादव राज रामचंद्र पर हमला करके उनकी अरबों की संपत्ति के साथ ये मयूर सिंहासन भी लूट लिया । इसी मयूर सिंहासन को फारसी भाषा में तख्त-ए-ताऊस कहा जाने लगा ।दरबार का अपना सम्मोहन होता है और इस सम्मोहन को राजपूत वीर क्षत्रिय महाराजा अमर सिंह जी राठौड़ ने अपनी पद चापों से भंग कर दिया । अमर सिंह राठौड़ शाहजहां के तख्त की तरफ आगे बढ़ रहे थे । तभी मुगलों के सेनापति सलावत खां ने उन्हें रोक दिया ।सलावत खां – ठहर जाओ अमर सिंह जी, आप 8 दिन की छुट्टी पर गए थे और आज 16वें दिन तशरीफ़ लाए हैं ।अमर सिंह – मैं राजा हूँ । मेरे पास रियासत है फौज है, मैं किसी का गुलाम नहीं ।सलावत खां – आप राजा थे ।अब हम आपके सेनापति हैं, आप मेरे मातहत हैं । आप पर जुर्माना लगाया जाता है । शाम तक जुर्माने के सात लाख रुपए भिजवा दीजिएगा ।अमर सिंह – अगर मैं जुर्माना ना दूँ ।सलावत खां- (तख्त की तरफ देखते हुए) हुज़ूर, ये काफि़र आपके सामने हुकूम उदूली कर रहा है ।अमर सिंह जी के कानों ने काफि़र शब्द सुना । उनका हाथ तलवार की मूंठ पर गया, तलवार बिजली की तरह निकली और सलावत खां की गर्दन पर गिरी ।मुगलों के सेनापति सलावत खां का सिर जमीन पर आ गिरा । अकड़ कर बैठा सलावत खां का धड़ धम्म से नीचे गिर गया । दरबार में हड़कंप मच गया । वज़ीर फ़ौरन हरकत में आया और शाहजहां का हाथ पकड़कर उन्हें सीधे तख्त-ए-ताऊस के पीछे मौजूद कोठरीनुमा कमरे में ले गया । उसी कमरे में दुबक कर वहां मौजूद खिड़की की दरार से वज़ीर और बादशाह दरबार का मंज़र देखने लगे ।दरबार की हिफ़ाज़त में तैनात ढाई सौ सिपाहियों का पूरा दस्ता अमर सिंह पर टूट पड़ा था । देखते ही देखते अमर सिंह ने शेर की तरह सारे भेड़ियों का सफ़ाया कर दिया ।बादशाह – हमारी 300 की फौज का सफ़ाया हो गया्, या खुदा ।वज़ीर – जी जहाँपनाह ।बादशाह – अमर सिंह बहुत बहादुर है, उसे किसी तरह समझा बुझाकर ले आओ । कहना, हमने माफ किया ।वज़ीर – जी जहाँपनाह ।हुजूर, लेकिन आँखों पर यक़ीन नहीं होता । समझ में नहीं आता, अगर हिंदू इतना बहादुर है तो फिर गुलाम कैसे हो गया ?बादशाह – सवाल वाजिब है, जवाब कल पता चल जाएगा ।अगले दिन फिर बादशाह का दरबार सजा ।शाहजहां – अमर सिंह का कुछ पता चला ।वजीर- नहीं जहाँपनाह, अमर सिंह के पास जाने का जोखिम कोई नहीं उठाना चाहता है ।शाहजहां – क्या कोई नहीं है जो अमर सिंह को यहां ला सके ?दरबार में अफ़ग़ानी, ईरानी, तुर्की, बड़े बड़े रुस्तम-ए-जमां मौजूद थे, लेकिन कल अमर सिंह के शौर्य को देखकर सबकी हिम्मत जवाब दे रही थी ।आखिर में एक राजपूत आगे बढ़ा, नाम था अर्जुन सिंह ।अर्जुन सिंह – हुज़ूर आप हुक्म दें, मैं अभी अमर सिंह को ले आता हूँ ।बादशाह ने वज़ीर को अपने पास बुलाया और कान में कहा, यही तुम्हारे कल के सवाल का जवाब है ।हिंदू बहादुर है लेकिन वह इसीलिए गुलाम हुआ । देखो, यही वजह है ।अर्जुन सिंह अमर सिंह जी का रिश्तेदार था । अर्जुन सिंह ने अमर सिंह जी को धोखा देकर उनकी हत्या कर दी । अमर सिंह जी नहीं रहे लेकिन उनका स्वाभिमान इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में प्रकाशित है । इतिहास में ऐसी बहुत सी कथाएँ हैं जिनसे सबक़ लेना आज भी बाकी है ।शाहजहाँ के दरबारी, इतिहासकार और यात्री अब्दुल हमीद लाहौरी की किताब बादशाहनामा से ली गईं ऐतिहासिक कथा ।

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

दळण ,बायको आणि मी


दळण ,बायको आणि मी

😃😂🤣😜😃😂🤣

एकदा बायकोचं आणि माझं दळण आणणे या कामावरून वाजलं..

चांगलीच खडाजंगी झाली.

आता माझा जन्म काय दळण आणण्यासाठी थोडीचं झालाय राव?.

पण शेवटी मी पडलो आपला बिचारे नवरे संघटनेचा अध्यक्ष

गपगुमान जावून दळण आणावे लागले….दळण घेऊन तर गेलो पण तिथे विचार करू लागलो…..

मनात म्हंटल अशी हार मानून चालणार नाही…

एवढ्या वेगवेगळ्या संघटनेचे आपण अध्यक्ष आणि असं कच खावून कसं चालेल….

दळण सुरू असताना जरा आजूबाजूला नजर गेली आणि लगेच डोक्यात भन्नाट आयडिया आली….

डोक्यात किडा वळवळायला लागला…
अन चेहराच खुलला….

प्रसन्न मनानं हसरा चेहरा घेऊन दळण घेऊन घरी गेलो…माझं हास्यवदन पाहून ती जरा गोंधळात पडली…

मघाशी तणतणत गेलेलं शिंगरू असं हरणाच्या पाडसासारखं बागडत घरी आल्यावर तिच्या कपाळावर साडेबावीस आठ्या पडल्या….

काही दिवस गेले आणि मी मग स्वतःहून तिला विचारले, *अरे पिठं संपलं नाही का अजून दळण कधी आणायचं?

तिला वाटलं नवरा ताळ्यावर आला….डबा घेऊन मी दळण आणायला गेलो…

यावेळी मात्र जरा उत्साहाने गेलो…
बायको बुचकळ्यात पडली…!

हाच उत्साह मी अजून एक दोन वेळा दाखवला…

पुन्हा काही दिवस गेले ….मी पुन्हा विचारलं..
दळण कधी आणायचं ?

यावेळी दळणाला जाताना जरा छान ठेवणीतला शर्ट घालून गेलो…आता मात्र बायकोचा चेहरा पाहण्यासारखा झाला होता…

नवरा खुशीत, उत्साहाने दळण आणतोय म्हणजे काय तरी भानगड असणार ….संशयाचे बी आपोआप पेरलं गेलं होतं…..त्यात आता मला दळण आणायला नेहमी पेक्षा जास्त उशीर होऊ लागला….

आणखी पुढच्या वेळी जाताना मी मस्त छान आवरून, नीटनेटका भांग पाडून, जरा बऱ्यापैकी कपडे घालून, त्यावर स्प्रे वगैरे मारून दळण आणायला निघालो…..
माझा हा तामझाम पाहून तिची विकेट पडली….!

काय हो, दळण आणायला कशाला एवढं आवरून जायला पाहिजे…काय एवढं आवरायचं कारण?

तसं तिला म्हणालो.. “अगं असं कसं… त्या दळणाच्या गिरणीपाशी किती किती जण येतात….

तिथं दळणाची वाट पहात उभं असताना कोण कोण भेटतं…

काही गाठीभेटी होतात…

दळण आणायला आलेल्या गेलेल्या; आता सारखं जातोय म्हंटल्यावर ओळखीच्या झाल्यात….

बिचाऱ्या दोन शब्द बोलतात…

मग असं सगळ्यांसमोर गबाळ जावून कसं चालेल…
जरा नीटनेटकं नसावं का माणसाने…!

असं म्ह्णून मी आपला मस्त शीळ वाजवत दळण आणायला गेलो….
यावेळी मुद्दाम जास्त वेळ लावला….

घरी आलो तर रागाच्या थर्मामीटर मधला पारा ग्लास तोडून थयथया नाचत होता…मी आपलं निरागसपणे दळणाचा डबा जागेवर ठेवला….

पुन्हा काही दिवस गेले…मी पुन्हा विचारले

काय गं, ते दळण आणायला कधी जावू..?

तसं फणकाऱ्याने माझे कान तृप्त करणारे शब्द कानी पडले !

काही गरज नाही दळण आणायची, मी माझे बघते काय कसे आणायचे ते….तुम्ही नका पुन्हा लक्ष घालू त्यात…

मी आपलं निरागसपणे बरं… म्हणून सटकलो….

पहिला विश्वचषक जिंकल्यावर जो आनंद कपिलला झाला नसेल त्याच्या दुप्पट आनंद झाला…!

बेडरूममध्ये जाऊन मी मुठी आकाशात झेपावत, चुपचाप आनंद साजरा केला….

आता कित्येक वर्षे झाली, दळण काही मागे लागले नाही…

असे अनेक सल्ले ह्या संघटनेत दिले जातात; आजच सभासद व्हा
संपर्क:-

🍁 बिचारे नवरे संघटना🍁
😂😂सकलित