Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

અપ્રમાણિક પૈસા – એક સાચી વાર્તા.

પંજાબના ‘ખન્ના’ નામના શહેરમાં મેડિકલ સ્ટોર ચલાવનાર રમેશચંદ્ર શર્મા, તેણે તેમના જીવનમાં એક પૃષ્ઠ ખોલી નાખ્યું.જે આવા બિઝનેસ સાથે જોડાયેલા વાચકોની આંખો ખોલી શકે છે.

રમેશજી કહે છે કે મારો મેડિકલ સ્ટોર ખૂબ જ સારી રીતે ચાલતો હતો અને મારી આર્થિક સ્થિતિ પણ ઘણી સારી હતી. મારી કમાણી સાથે, મેં જમીન અને કેટલાક પ્લોટ ખરીદ્યા અને મારા તબીબી સ્ટોરની સાથે ક્લિનિકલ પ્રયોગશાળા પણ ખોલી.

પણ હું અહીં અસત્ય નહીં બોલીશ. હું ખૂબ જ લોભી પ્રકારનો માણસ હતો, કારણ કે તબીબી ક્ષેત્રે, ડબલ નહીં, પણ ઘણી વખત કમાણી કરી હતી.

સંભવત: મોટાભાગના લોકો જાણતા નહીં હોય કે તબીબી વ્યવસાયમાં 10 રૂપિયામાં આવતી દવા સરળતાથી 70-80 રૂપિયામાં વેચાય છે.

પરંતુ જો કોઈએ મને ક્યારેય બે રૂપિયા પણ ઘટાડવાનું કહ્યું હતું, તો હું ગ્રાહકને ના પાડીશ. ઠીક છે, હું દરેકની વાત નથી કરતો, ફક્ત મારી વાત કરી રહ્યો છું.

વર્ષ 2008 માં, એક વૃદ્ધ માણસ ઉનાળા દરમિયાન મારા સ્ટોર પર આવ્યો. તેણે મને ડોક્ટર ની પ્રિસ્ક્રિપ્શન આપી. મેં દવા વાંચી અને બહાર કાઢી તે ડ્રગ બિલ 560 રૂપિયા થઈ ગયું.

પણ વૃદ્ધ માણસ વિચારતો હતો. તેણે તેના બધા ખિસ્સા ખાલી કર્યા પરંતુ તેની પાસે કુલ 180 રૂપિયા હતા. હું તે સમયે ખૂબ જ ગુસ્સે હતો કારણ કે મારે તે વૃદ્ધ વ્યક્તિની દવા લેવા માટે ઘણો સમય લેવો પડ્યો હતો અને તેનાથી ઉપર તેની પાસે પૈસા પણ નહોતા.

વૃદ્ધ માણસ દવા લેવાનો ઇનકાર પણ કરી શક્યો નહીં. કદાચ તેને દવાઓની તીવ્ર જરૂર હતી. ત્યારે વૃદ્ધે કહ્યું, “મદદ કરો. મારી પાસે પૈસા ઓછા છે અને મારી પત્ની બીમાર છે.”
અમારા બાળકો પણ અમને પૂછતા નથી. હું વૃદ્ધાવસ્થામાં મારી પત્નીની જેમ મરતો જોઈ શકતો નથી. “

પરંતુ મેં તે સમયે તે વૃદ્ધાની વાત સાંભળી નહીં અને તેને દવા પાછું મૂકવાનું કહ્યું.

અહીં હું એક વાત કહેવા માંગુ છું કે હકીકતમાં તે વૃદ્ધ વ્યક્તિ માટેની દવાઓની કુલ રકમ 120 રૂપિયા હતી. ભલે મેં તેમાંથી 150 રૂપિયા લીધા હોત, પણ મારે 30 રૂપિયાનો નફો કર્યો હોત.પણ મારા લોભે તે વૃદ્ધ લાચાર વ્યક્તિને પણ છોડ્યો નહીં.

ત્યારે મારી દુકાન પર આવેલા બીજા ગ્રાહકે તેના ખિસ્સામાંથી પૈસા કાઢયા અને તે વૃદ્ધાની દવા ખરીદી.પરંતુ તેની પણ મારા પર કોઈ અસર નહોતી. મેં પૈસા લીધા અને વૃદ્ધાને દવા આપી.

સમય જાય છે વર્ષ 2009 આવી ગયું છે. મારા એકમાત્ર પુત્રને મગજની ગાંઠ છે. પહેલા તો અમને ખબર નહોતી. પરંતુ જ્યારે તેનો ખ્યાલ આવ્યો ત્યારે પુત્ર મૃત્યુની ધાર પર હતો.પૈસા વહેતા રહ્યા અને છોકરાની માંદગી વધુ વકરી.
પ્લોટ વેચાયા હતા, જમીન વેચી હતી અને અંતે મેડિકલ સ્ટોર પણ વેચી દીધી હતી પરંતુ મારા પુત્રની તબિયત બિલકુલ સુધરી નથી. તેનું ઓપરેશન પણ થયું અને જ્યારે બધા પૈસા નીકળી ગયા ત્યારે આખરે ડોક્ટરો એ મને મારા દીકરાને ઘરે લઈ જઈ તેની સેવા કરવા કહ્યું.

તે પછી મારા પુત્રનું 2012 માં અવસાન થયું હતું. આજીવન કમાવ્યા પછી પણ હું તેને બચાવી શક્યો નહીં.
2015 માં, હું લકવોગ્રસ્ત પણ હતો અને ઈજાઓ પણ થઈ હતી. આજે જ્યારે મારી દવા આવે છે, ત્યારે તે દવાઓ પર ખર્ચવામાં આવેલા પૈસા મને ડંખ મારી દે છે કારણ કે હું તે દવાઓની વાસ્તવિક કિંમત જાણું છું.

એક દિવસ હું મેડિકલ સ્ટોર પર કેટલીક દવાઓ લેવા ગયો હતો અને 100 રૂપિયાનું ઈંજેક્શન મને 700 રૂપિયામાં અપાયું હતું. પરંતુ તે સમયે મારા ખિસ્સામાં ફક્ત 500 રૂપિયા હતા અને મારે ઇન્જેક્શન વિના મેડિકલ સ્ટોરથી પાછા આવવું પડ્યું.

તે સમયે મને તે વૃદ્ધ વ્યક્તિને ખૂબ યાદ છે અને હું ઘરે ગયો.

હું લોકોને કહેવા માંગુ છું, તે ઠીક છે કે આપણે બધા કમાવવા બેઠા છીએ કારણ કે દરેકનું પેટ છે. પરંતુ કાયદેસર કમાઇ, પ્રામાણિકપણે કમાઇ. નબળા સહાયકોને લૂંટીને પૈસા કમાવવી સારી વાત નથી, કારણ કે નરક અને સ્વર્ગ ફક્ત આ પૃથ્વી પર છે, બીજે ક્યાંય પણ નથી…
અને આજે હું નરક ભોગવી રહ્યો છું.

પૈસા હંમેશાં મદદ કરતા નથી. હંમેશા ભગવાનનો ડર રાખીને ચાલો

તેમનો નિયમ મક્કમ છે કારણ કે કેટલીકવાર નાના લોભ પણ આપણને મોટા દુઃખોમાં ધકેલી શકે છે.

ઓમ નમો નારાયણ

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

रामचन्द्र आर्य

6 h · #गर्भवती पत्नी ने अपने पति से कहा, “आप क्या आशा करते हैं लडका होगा या लडकी”पति-“अगर हमारा लड़का होता है, तो मैं उसे #गणित पढाऊगा, हम खेलने जाएंगे, मैं उसे मछली पकडना सिखाऊगा।” पत्नी – “अगर लड़की हुई तो…?” पति- “अगर हमारी लड़की होगी तो, मुझे उसे कुछ सिखाने की #जरूरत ही नही होगी””क्योंकि, उन सभी में से एक होगी जो सब कुछ मुझे #दोबारा सिखाएगी, कैसे पहनना, कैसे खाना, क्या कहना या नही कहना।””एक तरह से वो, मेरी दूसरी #मां होगी। वो मुझे अपना हीरो समझेगी, चाहे मैं उसके लिए कुछ खास करू या ना करू।””जब भी मै उसे किसी चीज़ के लिए मना करूंगा तो मुझे समझेगी। वो #हमेशा अपने पति की मुझ से तुलना करेगी।””यह #मायने नही रखता कि वह कितने भी साल की हो पर वो हमेशा चाहेगी की मै उसे अपनी baby doll की तरह प्यार करूं।””वो मेरे लिए #संसार से लडेगी, जब कोई मुझे दुःख देगा वो उसे कभी माफ नहीं करेगी।”पत्नी – “कहने का मतलब है कि, आपकी #बेटी जो सब करेगी वो आपका बेटा नहीं कर पाएगा।”पति- “नहीं, नहीं क्या पता मेरा बेटा भी ऐसा ही करेगा, पर वो #सिखेगा।””परंतु बेटी, इन #गुणों के साथ पैदा होगी। किसी बेटी का पिता होना हर व्यक्ति के लिए गर्व की बात है।”पत्नी – “पर वो हमेशा हमारे #साथ नही रहेगी…?”पति- “हां, पर हम हमेशा उसके दिल में रहेंगे।””इससे कोई फर्क नही पडेगा चाहे वो कही भी जाए, बेटियाँ #परी होती हैं””जो सदा बिना #शर्त के प्यार और देखभाल के लिए जन्म लेती है।””बेटियां सब के #मुकद्दर में, कहाँ होती हैंजो घर #भगवान को हो पसंद वहां पैदा होती हैं बेटियाँ .

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

એક દિવસ ગંગાને પૂછવામાં આવ્યું કે, તારા પાણીમાં નહાવાથી બધાજ પાપ ધોવાય જાય છે. …….તો એ પાપનું તું શું કરે છે?

*ગંગા એ કહ્યું હું એ સાગરમાં નાખું છું.

સાગરને પૂછવામાં આવ્યું ?*
તું આ પાપનું શું કરે છે?.

*સાગરે કહ્યું હું તો બધું વાદળોને આપુ છું… …………. *વાદળ ને પૂછ્યું .. …………………તું આ પાપનું શું કરે છે?…*

વાદળે સરસ જવાબ આપ્યો… હું વરસાદના રૂપમાં એમનાજ ઘરે વરસાવી આવું છું…

ધ્યાનમાં રાખો, કર્મનું કાળચક્ર આવુ જ હોય છે. તમે જે કરશો એજ તમને પાછું મળશે…

સમાધાની બનો, અને કોઈને દુઃખ થાય એવું કાર્ય ન કરો.

દરેક વખતે એક જ બાજુનો વિચાર યા આ જ માણસ સાચો કરશો તો સામેની વ્યક્તિ તમને ખોટી લાગી શકે… આપ એકવાર બન્ને બાજુથી વિચાર કરીને જુવો તો ખરા, સાચા ને સાચો કહો ને ખોટા ને ખોટો.તો ક્યારે ય ગેરસમજ નહીં થાય…*

જે દિવસે માણસને સમજાશે સામેની વ્યક્તિ ખોટી નથી, બસ એના વિચાર આપણાં કરતા અલગ છે…. તેજ દિવસથી જીવનના અનેક દુઃખની સમાપ્તિ થશે…!!!! 🙏

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

अविनाश तिवारी

एक पंडित जी रामायण कथा सुना रहे थे। लोग आते और आनंद विभोर होकर जाते। पंडित जी का नियम था रोज कथा शुरू करने से पहले “आइए हनुमंत जी बिराजिए” कहकर हनुमान जी का आह्वान करते थे, फिर एक घण्टा प्रवचन करते थे।वकील साहब हर रोज कथा सुनने आते। वकील साहब के भक्तिभाव पर एक दिन तर्कशीलता हावी हो गई।
उन्हें लगा कि महाराज रोज “आइए हनुमंत जी बिराजिए” कहते हैं तो क्या हनुमान जी सचमुच आते होंगे!

अत: वकील साहब ने पंडित जी से पूछ ही डाला- महाराज जी, आप रामायण की कथा बहुत अच्छी कहते हैं।
हमें बड़ा रस आता है परंतु आप जो गद्दी प्रतिदिन हनुमान जी को देते हैं उसपर क्या हनुमान जी सचमुच बिराजते हैं?

पंडित जी ने कहा… हाँ यह मेरा व्यक्तिगत विश्वास है कि रामकथा हो रही हो तो हनुमान जी अवश्य पधारते हैं।

वकील ने कहा… महाराज ऐसे बात नहीं बनेगी।
हनुमान जी यहां आते हैं इसका कोई सबूत दीजिए ।
आपको साबित करके दिखाना चाहिए कि हनुमान जी आपकी कथा सुनने आते हैं।

महाराज जी ने बहुत समझाया कि भैया आस्था को किसी सबूत की कसौटी पर नहीं कसना चाहिए यह तो भक्त और भगवान के बीच का प्रेमरस है, व्यक्तिगत श्रद्घा का विषय है । आप कहो तो मैं प्रवचन करना बंद कर दूँ या आप कथा में आना छोड़ दो।

लेकिन वकील नहीं माना, वो कहता ही रहा कि आप कई दिनों से दावा करते आ रहे हैं। यह बात और स्थानों पर भी कहते होंगे,इसलिए महाराज आपको तो साबित करना होगा कि हनुमान जी कथा सुनने आते हैं।

इस तरह दोनों के बीच वाद-विवाद होता रहा।
मौखिक संघर्ष बढ़ता चला गया। हारकर पंडित जी महाराज ने कहा… हनुमान जी हैं या नहीं उसका सबूत कल दिलाऊंगा।
कल कथा शुरू हो तब प्रयोग करूंगा।

जिस गद्दी पर मैं हनुमानजी को विराजित होने को कहता हूं आप उस गद्दी को आज अपने घर ले जाना।
कल अपने साथ उस गद्दी को लेकर आना और फिर मैं कल गद्दी यहाँ रखूंगा।
मैं कथा से पहले हनुमानजी को बुलाऊंगा, फिर आप गद्दी ऊँची उठाना।
यदि आपने गद्दी ऊँची कर दी तो समझना कि हनुमान जी नहीं हैं। वकील इस कसौटी के लिए तैयार हो गया।

पंडित जी ने कहा… हम दोनों में से जो पराजित होगा वह क्या करेगा, इसका निर्णय भी कर लें ?…. यह तो सत्य की परीक्षा है।

वकील ने कहा- मैं गद्दी ऊँची न कर सका तो वकालत छोड़कर आपसे दीक्षा ले लूंगा।
आप पराजित हो गए तो क्या करोगे?
पंडित जी ने कहा… मैं कथावाचन छोड़कर आपके ऑफिस का चपरासी बन जाऊंगा।

अगले दिन कथा पंडाल में भारी भीड़ हुई जो लोग रोजाना कथा सुनने नहीं आते थे,वे भी भक्ति, प्रेम और विश्वास की परीक्षा देखने आए।
काफी भीड़ हो गई।
पंडाल भर गया।
श्रद्घा और विश्वास का प्रश्न जो था।

पंडित जी महाराज और वकील साहब कथा पंडाल में पधारे… गद्दी रखी गई।
पंडित जी ने सजल नेत्रों से मंगलाचरण किया और फिर बोले “आइए हनुमंत जी बिराजिए” ऐसा बोलते ही पंडित जी के नेत्र सजल हो उठे ।
मन ही मन पंडित जी बोले… प्रभु ! आज मेरा प्रश्न नहीं बल्कि रघुकुल रीति की पंरपरा का सवाल है।
मैं तो एक साधारण जन हूँ।
मेरी भक्ति और आस्था की लाज रखना।

फिर वकील साहब को निमंत्रण दिया गया आइए गद्दी ऊँची कीजिए।
लोगों की आँखे जम गईं ।
वकील साहब खड़े हुए।
उन्होंने गद्दी उठाने के लिए हाथ बढ़ाया पर गद्दी को स्पर्श भी न कर सके !

जो भी कारण रहा, उन्होंने तीन बार हाथ बढ़ाया, किन्तु तीनों बार असफल रहे।

पंडित जी देख रहे थे, गद्दी को पकड़ना तो दूर वकील साहब गद्दी को छू भी न सके।
तीनों बार वकील साहब पसीने से तर-बतर हो गए।

वकील साहब पंडित जी महाराज के चरणों में गिर पड़े और बोले महाराज गद्दी उठाना तो दूर, मुझे नहीं मालूम कि क्यों मेरा हाथ भी गद्दी तक नहीं पहुंच पा रहा है।

अत: मैं अपनी हार स्वीकार करता हूँ।
कहते है कि श्रद्घा और भक्ति के साथ की गई आराधना में बहुत शक्ति होती है। मानो तो देव नहीं तो पत्थर।

प्रभु की मूर्ति तो पाषाण की ही होती है लेकिन भक्त के भाव से उसमें प्राण प्रतिष्ठा होती है तो प्रभु बिराजते है।

श्री राम जी की जय…..
हे नाथ!हे मेरे नाथ!!आप कृपा के सागर है!!!
🙏🙏जय बजरंगबली की….

Posted in गौ माता - Gau maata

⛳सनातन-धर्म की जय,हिंदू ही सनातनी है✍🏻
👉🏻लेख क्र.- सधस/२०७७/श्रा./कृ/१३ – ९८०
〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️
⚜️गौरक्षा एवम् गौसंवर्धन⚜️

⛳🙏🏻शिवाजी महाराज के बाल्यकाल की घटना है। अपने पिता के साथ वे बादशाह के यहाँ जा रहे थे। बीजापुर की बात है। रास्ते में एक कसाई गाय🐄 को घसीटते हुए ले जा रहा था😢🤚🏻 और वहाँ के बाजार के जो हिन्दू थे, वे सिर झुका करके बैठे थे।😢 मुगलशासन था, कौन क्या कर सकता था ? उस समय शिवाजी की उम्र दस वर्ष की भी नहीं थी, नौ-दस के बीच की रही होगी । बालक शिवाजी ने तलवार🗡️ खींची और पहले तो गाय 🐄की रस्सी काटकर उसे बन्धनमुक्त कर दिया और वह कसाई कुछ कहे, इससे पहले ही उसके मस्तक को धड़ से अलग कर दिया😳😊👌🏻–यह है शौर्य ⛳।🤚🏻😊✔️
👉🏻प्राचीन समय में इतनी बड़ी संख्या में गोधन हमारे देश में था कि जब ग्वारिया गायों 🐄को लेकर आते तो गायों के खुरों से इतनी रज उड़ती थी कि दिन में ही सूर्यास्त का अनुभव होता।😳✔️ महाभारत के ‘अनुशासन-पर्व ‘ में आता है कि धर्मराज युधिष्ठिर के यहाँ दस हजार गोसदन थे–गौवर्ग थे, तो वर्ग क्या है ? एक वर्ग में ८ लाख गायें थीं।😳😳✔️ इससे लगता है कि जनसंख्या कम थी, गायें ज्यादा थीं। आगे फिर लिखा है कि एक लाख, दो लाख पचास हजार, तीन लाखके गोसदन तो अनेक थे।✔️😳

वर्तमान में जो गाय🐄 के विरोधी हैं, वे भगवान्‌, धर्म, गुरु और वेद–इन सबके विरोधी हैं।✔️ हमारा चाहे जैसा स्वार्थ हो, लेकिन हमें गाय 🐄का विरोध करने वाले के पक्ष में जाकर खड़ा नहीं होना चाहिये, चाहे जैसा पद- प्रतिष्ठा का लालच हो, ऐसे लोगों को अपना मत भी नहीं देना चाहिये।😊⛳✔️ गाय के प्रति जिनकी निष्ठा नहीं, श्रद्धा नहीं, गाय🐄की रक्षा जो नहीं चाहता। ऐसे व्यक्ति या दल को अपना मत देने का तात्पर्य है कि हम गोवध में हिस्सेदार बन रहे हैं और निश्चित ही हम गोवध के भागी भी होंगे। इस सम्बन्धमें बहुत सावधानी रखनी है।✔️⛳

जय गौमाता की⛳✔️
〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️
जनजागृति हेतु लेख प्रसारण अवश्य करें⛳🙏🏻

कोणस्थ पिंगलो बभ्रु: कृष्णो रौद्रोन्तको यम:।

सूर्यपुत्र शनिदेव की जय⛳
⛳⚜️सनातन धर्मरक्षक समिति⚜⛳

Posted in रामायण - Ramayan

“क्यों लगाया हनुमान जी ने सिंदूर”……..!

रामायण की एक कथा के अनुसार एक बार जगत माता जानकी सीता जी अपनी मांग में सिंदूर लगा रही थीं। उसी समय हनुमान जी आ गए और सीता जी को सिंदूर लगाते देखकर बोले, ‘‘माता जी यह लाल द्रव्य जो आप मस्तक पर लगा रही हैं, यह क्या है और इसके लगाने से क्या होता है?’’ श्री हनुमान जी का प्रश्न सुनकर सीता जी क्षण भर चुप रहीं और फिर बोलीं, ‘‘यह सिंदूर है। इसके लगाने से प्रभु दीर्घायु होते हैं और मुझसे सदैव प्रसन्न रहते हैं।’’
चुटकी भर सिंदूर लगाने से प्रभु श्री रामचंद्र जी की दीर्घायु और प्रसन्नता की बात माता जानकी के मुख से सुनकर श्री हनुमान जी ने विचार किया कि जब थोड़ा-सा सिंदूर लगाने से प्रभु को लम्बी उम्र प्राप्त होती है तो क्यों न मैं अपने सम्पूर्ण शरीर में सिंदूर पोतकर प्रभु को अजर-अमर कर दूं और उन्होंने वैसा ही किया। सम्पूर्ण तन में सिंदूर पोत कर वह दरबार में पहुंचे और श्री राम जी से कहने लगे, ‘‘भगवन! प्रसन्न होइएं।’’ हनुमान जी का सिंदूर पुता शरीर देखकर श्री राम जी हंसने लगे और हंसते-हंसते बोले, ‘‘वत्स! कैसी दशा बनाकर आए हो।’’ तब हनुमान जी ने सारा वृत्तान्त बताया। सारी बात सुनकर श्री राम जी अति प्रसन्न हुए और बोले, ‘‘वत्स तुम जैसा मेरा भक्त अन्य कोई नहीं है।’’ उन्होंने हनुमान जी को अमरत्व प्रदान किया तभी से हनुमान जी को सिंदूर चढ़ाया जाता है…..!
जय श्रीराम!
जय वीर हनुमान !
सुप्रभात!🙏🙏🙏

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

एक सुन्दर संदेश..

एक आदमी, जो हमेशा अपने दोस्तों के साथ घुल मिल कर रहता था और उनके साथ बैठकें करता था, अचानक बिना किसी को बताए सबसे मिलना जुलना बंद कर दिया।

कुछ सप्ताह पश्चात् एक बहुत ही ठंडी रात में उस ग्रुप के नेता ने उससे मिलने का फैसला किया।

वह नेता उस आदमी के घर गया और पाया कि आदमी घर पर अकेला ही था। एक गोरसी में जलती हुई लकड़ियों की लौ के सामने बैठा आराम से आग ताप रहा था। उस आदमी ने आगंतुक नेता का बड़ी खामोशी से स्वागत किया।

दोनों चुपचाप बैठे रहे। केवल आग की लपटों को ऊपर तक उठते हुए ही देखते रहे।

कुछ देर के बाद आगंतुक ने बिना कुछ बोले, उन अंगारों में से एक लकड़ी जिसमें लौ उठ रही थी (जल रही थी) उसे उठाकर किनारे पर रख दिया। और फिर से शांत बैठ गया।

मेजबान हर चीज़ पर ध्यान दे रहा था। लंबे समय से अकेला होने के कारण मन ही मन आनंदित भी हो रहा था कि वह आज अपने ग्रुप के एक मित्र के साथ है।

लेकिन उसने देखा कि अलग की हुए लकड़ी की आग की लौ धीरे धीरे कम हो रही है। कुछ देर में आग बिल्कुल बुझ गई। उसमें कोई ताप नहीं बचा। उस लकड़ी से आग की चमक जल्द ही बाहर निकल गई।

कुछ समय पूर्व जो उस लकड़ी में उज्ज्वल प्रकाश था और आग की तपन थी वह अब एक काले और मृत टुकड़े से ज्यादा कुछ शेष न था।

इस बीच.. दोनों मित्रों ने एक दूसरे का बहुत ही संक्षिप्त अभिवादन किया, कम से कम शब्द बोले।

जानें से पहले नेता ने अलग की हुई बेकार लकड़ी को उठाया और फिर से आग के बीच में रख दिया। वह लकड़ी फिर से सुलग कर लौ बनकर जलने लगी, और चारों ओर रोशनी और ताप बिखेरने लगी।

जब मित्र नेता को छोड़ने के लिए मेजबान दरवाजे तक पहुंचा तो उसने मित्र से कहा : आप मेरे घर आकर मुलाकात करने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद।

आज आपने बिना कुछ बात किए ही एक सुंदर पाठ पढ़ाया है। अब मैं अकेला नहीं हूं। जल्द ही ग्रुप में लौटूंगा।

प्रश्न..
नेता ने क्यों बुझाया उस एक लकड़ी की आग को..?

बहुत सरल है समझना..
ग्रुप का प्रत्येक सदस्य महत्वपूर्ण होता है। कुछ न कुछ विशेषताएं हर सदस्य में होती है। दूसरे सदस्य उनकी विशेषताओं से उर्जा प्राप्त करते हैं। आग और गर्मी के महत्त्व की सीख लेते हैं और देते हैं।

इस ग्रुप के सभी सदस्य भी लौ का हिस्सा हैं। कृपया.. एक दूसरे की लौ जलाए रखें ताकि एक मजबूत और प्रभावी ग्रुप बने।

  • *ग्रुप * * IS * * ALSO * * A * * FAMILY**

इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि कभी कभी इतने सारे मेसेजेस आ जाते हैं। मेरा सुझाव है कि आपस में चैटिंग भी होनी चाहिए। जन्मदिन, सालगिरह, पढ़ाई, कार्यक्षेत्र या अन्य किसी भी सफलता में एक दूसरे को बधाई संदेश आदि देना भी ग्रुप का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। इसे अपनाएं। हम यहां मिलने, सीखने, विचारों का आदान-प्रदान करने या यह समझने के लिए हैं कि हम अकेले नहीं हैं।

आइए लौ को और भी ज्यादा प्रज्वलित करें। इस परिवारिक ग्रुप के साथ जीवन को और भी सुंदर बनाए।
🙏

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

“बच्चे बड़े हो गये बेटा”…

😢😢😢

एक युवक क़रीब 20 साल के बाद विदेश से अपने शहर लौटा था!
बाज़ार में घुमते हुए सहसा उसकी नज़र सब्जी का ठेला लगाय हुए एक बूढे पर जा टिकी,
बहुत कोशिश के बावजूद भी युवकउसको पहचान नही पा रहा था! युवक को न जाने बार बार ऐसा लग रहा था कि वो उसे बड़ी अच्छी तरह से जानता है!
उत्सुकता उस बूढ़े से भी छुपी न रही। उसके चेहरे पर आई अचानक मुस्कान से समझ गया था कि उसने युवक को पहचान लिया था!
काफी देर की कशमकश के बाद जब युवक ने उसे पहचाना तो उसके पाँव के नीचे से मानो ज़मीन खिसक गई! जब युवक विदेश गया था तो उनकी एक बड़ी आटा मिल हुआ करती थी।
घर में नौकर चाकर काम किया करते थे। धर्म, कर्म, दान पुण्य सबसे धनी इस दानवीर पुरुष को युवक ताऊजी कह कर बुलाया करता था!
वही आटा मिल का मालिक और आज सब्जी का ठेला लगाने पर मजबूर..?

युवक से रहा नही गया और वो उसके पास जा पंहुचा और बहुत मुश्किल से रूंधे गले से पूछा:-
”ताऊजी, ये सब कैसे हो गया…?”

भरी ऑंख से बूढ़े ने युवक के कंधे पर हाथ रख दिया और बोला:-
“बच्चे बड़े हो गये बेटा”…😪😪😪

🙏🙏🙏

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

हाजिरी

🙏जय श्री कृष्णा 🙏
मनु पढ़ी लिखी औरत नही थी लेकिन वह चाहती थी कि उसके दोनों बच्चे खूब पढ़े लिखे उसका पति भी कुछ ज्यादा नहीं पढ़ा लिखा था लेकिन मनु और उसके पति की यही इच्छा थी कि वह अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा दें ।मनु का पति मेहनत मजदूरी का काम करता था बच्चों को पढ़ाने के लिए खूब मेहनत करता था ।मनु और उसका पति अपने बच्चों को बहुत प्यार करते थे। मनु सुबह उठकर बच्चों के लिए चाय नाश्ता बनाती उनको तैयार करती और खुद स्कूल छोड़ने जाती। तब तक उसका पति नहा धोकर तैयार हो जाता, आकर वह अपने पति को चाय नाश्ता देकर काम पर भेजती फिर बच्चों के आने का इंतजार करती। ऐसी ही उसकी रोज की दिनचर्या थी।
एक दिन मनु बच्चों को स्कूल ले जा रही थी तो उनको थोड़ी सी स्कूल पहुंचने में देरी होने लगी तो बच्चे कहने लगे मां जल्दी चलो नही तो मास्टर जी हमारी हाजिरी नहीं लगाएंगे हमारी गैर हाजिरी लग जाएगी। मनु को यह सुनकर बहुत आश्चर्य हुआ कि बच्चों के स्कूल में क्या रोज हाजिरी लगती है अगर वह थोड़ा देर से जाएंगे तो गैर हाजिरी लग जाएगी ।बच्चों को स्कूल छोड़ने के लिए वह जल्दी-जल्दी अपने पैर चलाने लगी।बच्चों को स्कूल छोड़कर जब वह वापस आ रही थी तभी उसको उसकी एक पुरानी सखी मिली। मनु ने उससे पूछा कि तुम इतनी सुबह-सुबह कहां जा रही हो तो उसकी सखी ने कहा कि मैं ठाकुर जी के मंदिर में हाजिरी लगाने जा रही हूं। मनु जो कि बहुत ही भोली भाली औरत थी सोचने लगी क्या ठाकुर जी के मंदिर में भी हाजिरी लगती है लेकिन उसने अपनी सखी से पूछा कुछ नहीं। वह चुपचाप घर वापस आ गई लेकिन सारा दिन यह सोचती रही क्या स्कूल की तरह मंदिर में भी हाजिरी लगती है क्या मंदिर बड़ों का स्कूल है मेरी सखी तो काफी बड़ी है इतना सोचते सोचते सुबह होने पर बच्चों को स्कूल में छोड़ कर उसके बाद अपने आप ही वह ठाकुर जी के मंदिर की तरफ चल पड़ी। उसने मंदिर में माथा टेका ठाकुर जी के अलावा वहां कोई नजर नहीं आया क्योंकि पुजारी जी ठाकुर जी को भोग लगाने के लिए ठाकुर जी की रसोई से प्रसादी लेने गए थे मनु ने सोचा इस मंदिर में तो कोई अध्यापक नहीं है तो मेरी हाजिरी कोन लगाएगा उसने फिर सोचा कि शायद आज मंदिर के अध्यापक आए नहीं होंगे मैं अगले दिन फिर आऊंगी ।मंदिर जाने के कारण उसको घर पहुंचने में थोड़ी सी देरी हो गई तो उसके पति ने उसको कहा मनु तुझे नहीं पता कि मैंने काम पर जाना है और तुम इतनी देर कहां लगा कर आई हो ।मनु अपने पति से कोई बात ना छिपाती हुई बोली कि मैं तो अपनी मंदिर में हाजिरी लगाने गई थी उसका पति बोला तुम कब से मंदिर जाने लगी तो उसने पति को बोला कि वह तो बड़ो का स्कूल है आज से मैं भी मंदिर जाया करूंगी और अपनी हाजिरी लगा कर आया करूंगी उसके पति को काम पर जाने में देरी हो रही थी इसलिए उसने मनु की बात की तरफ कोई ध्यान न देकर उसका कोई जवाब नहीं दिया ।अगले दिन बच्चों को स्कूल में छोड़ कर आते वक्त वह फिर मंदिर चली गई आज वह अपने पति के लिए चाय नाश्ता पहले ही बना कर आई थी कि कहीं आने में देरी हो गई तो उसके पति नाराज न हो।आज मंदिर मे पुजारी जी मौजूद थे वह काफी देर मंदिर में बैठी रही। मंदिर में ठाकुर जी और किशोरी जी की अति मनमोहक छवि वाली प्रतिमा थी ।उस छवि को देखकर मनु उन पर बलिहार जाने लगी और युगल सरकार के साथ ही एक लड्डू गोपाल जी की बहुत सुंदर आकर्षक प्रतिमा थी ।उसको देख कर तो मनु का मन उस लड्डू गोपाल ने मोह ही लिया । दो घंटे मंदिर में बैठने के बाद मनु पुजारी जी के पास गई और कहने लगी क्या मेरी आपने हाजरी लगा दी । मैं बस इतने ही समय के लिए स्कूल आ सकती हूं इससे ज्यादा नहीं क्योंकि मेरे बच्चे भी अपने स्कूल से वापस आते होंगे।पुजारी जी पहले तो मनु की तरह ध्यान से देखने लगे उन्होंने दोबारा मनु से पूछा कि क्या कह रही हो लाली? मनु बोली कि मैं ठाकुर जी के दरबार में हाजिरी लगाने आई थी कृपया आप मेरी हाजिरी लगा दिया करो मेरी गैर हाजरी ना लगाना आज से मैं हर रोज मंदिर आया करूंगी पुजारी जी उसकी बातों को सुनकर समझ गए कि यह औरत बहुत भोली हैं और मनु की बातों का मान रखने के लिए पुजारी जी ने मनु को बड़े प्रेम से कहा हां हां लाली मैंने हाजिरी लगा दी है अब तुम रोज आ जाया करो छुट्टी मत करना मनु खुश होते हुए घर वापस आ गई क्योंकि उसके मन को तसल्ली हो गई थी कि मंदिर के पुजारी जी मंदिर के अध्यापक है और मेरी हाजिरी अब लगनी शुरू हो गई है अब रोज सुबह जल्दी उठकर अपने पति के लिए चाय नाश्ता बना कर रख आती और बच्चों को स्कूल छोड़कर सीधा मंदिर में चली जाती और दो-तीन घंटे बैठी रहती और हर रोज पुजारी जी से पूछती पुजारी जी मेरी हाजिरी लग गई है न ?तो पुजारी जी मुस्कुराते हुए कहते हां हां बेटा लग गई है ।एक दिन उसके बच्चे उसके पास बैठकर उसको स्कूल का पाठ सुना रहे थे तभी उसके बेटे ने मां से कहा मैया हम तो रोज स्कूल जाते हैं हम अपना पाठ आपको रोज सुनाते हैं आप अपने स्कूल जाती हो आपने वहां क्या सीखा आज आप भी अपना पाठ हमें सुनाओ मनु बच्चों की बात सुनकर पहले तो घबरा गई लेकिन वह हर रोज मंदिर जाने से वहां होने वाले भजन सुनती थी तो भजन के शब्द उसको याद हो गए थे तो उसने धीरे-धीरे वह अपने बच्चों को वह भजन सुनाया उसके बच्चों को मनु का भजन सुनकर बड़ा आनंद आया और कहने लगे वाह मैया आपका पाठ बहुत आनंद देने वाला है तभी पीछे से उसका पति भी मनु के भजन को सुन रहा था मनु के उस भजन को सुनकर उसको भी बहुत आनंद आया अब वह मनु को मंदिर जाने से कभी भी नहीं रोकता था ।मनु को मंदिर जाते अब काफी साल हो गए थे लेकिन वह ठाकुर जी के दर्शन करने के बाद पुजारी जी से अपनी हाजिरी के बारे में पूछना नहीं भुलती थी उसको हमेशा डर लगा रहता था की पुजारी जी कही मेरी गैर हाजरी ना लगा दे क्योंकि बच्चों के स्कूल में गैर हाजरी लगने पर उनको जुर्माना भरना पड़ता था मनु को यह डर था कि कहीं मेरी गैर हाजिरी लग गई तो मैं जुर्माना कैसे भरूंगी मेरे पति की इतनी आमदन नहीं है इसलिए वह डर के मारे अपनी हाजिरी पुजारी जी से रोज लगवा कर आती थी। एक दिन उसके बच्चे जब घर वापस आए तो काफी खुश थे क्योंकि आज उनकी परीक्षा का परिणाम घोषित हुआ था और वह अपने हाथ में बहुत सुंदर सा पुरस्कार लेकर आए थे मनु को वह खुश होकर बताने लगे कि मैया यह देखो हमारी स्कूल में हाजिरी पूरी थी और हम पढ़ाई में भी अव्वल दर्जे से पास हुए हैं इसलिए हमें यह पुरस्कार मिला है मनु बच्चों को गले लगाते हुए बहुत खुश हुई लेकिन मन ही मन सोचने लगी है मेरे बच्चों की परीक्षा का तो परिणाम आ गया लेकिन मैं तो हर रोज अपने मंदिर के स्कूल में जाती हूं वहां भजन गाकर अपना पाठ सुनाती हूं मैंने भी कभी स्कूल में गैर हाजिर नहीं हुई । मेरी परीक्षा का परिणाम कब आएगा और अब तक मुझे पुरस्कार क्यों नहीं मिला ।अगले दिन जब वह मंदिर गई और यही बात उसके दिमाग में चलती रही। ठाकुर जी तो सबके मन की भांप लेते हैं तभी अचानक एक औरत मनु के पास आई उसकी गोद में एक छोटा सा बच्चा था वह बोली सखी क्या तुम कुछ देर मेरे बालक को अपनी गोद में बिठा लोगी ताकि मैं अच्छी तरह से भगवान जी के दर्शन कर लूं। यह बालक बहुत शरारती है मेरा ध्यान दर्शन करने से भटक रहा है तो मनु ने सहर्ष उसके बालक को अपनी गोद में ले लिया। बालक वास्तव में बहुत ही चंचल था लेकिन उसका मुख मंडल आकर्षित करने वाला था सांवला सलोना वह बालक मनु की गोदी में कितनी देर खेलता रहा ।दूर से पुजारी जी मनु को काफी देर से देख रहे थे उस औरत को भी अब काफी समय हो गया था गए हुए! अब जब वापस नहीं आई तो मनु उठकर उसको देखने के लिए चल पड़ी कि वह अभी तक क्यों नहीं आई लेकिन उसको उस बालक का साथ और उसके मुख मंडल को निहारने में बहुत अनन्द आ रहा था मन ही मन तो वह चाह रही थी कि जितना हो सके और उस बालक के साथ खेलती रहे लेकिन फिर उसे लगा कि नहीं मुझे घर जाने में देरी हो जाएगी तभी वह पुजारी जी के पास गई और कहने लगी कि आपने इस बालक की मैया को देखा है वह काफी देर से इस बालक को मेरे पास छोड़ कर गई हुई है । तब पुजारी जी उसकी तरफ हैरानी से देखने लगे और कहने लगे बांवरी हो गई हो किस बालक के बारे में बात कर रही हो!मनु अपनी गोद में पकड़े हुए बालक को दिखाती हुई बोली पुजारी जी आपको यह बालक नजर नहीं आ रहा।तभी दूसरी तरफ से उस बालक की माता आ गई और उस बालक को मनु की गोद से लेते हुए मनु का धन्यवाद करती हुई चली गई लेकिन तभी मनु के दुपट्टे का एक कोना उस बालक के हाथ में पड़े कंगन से अटक गया और थोड़ा सा फट गया और एक टुकड़ा उसके साथ ही चला गया !मनु बोली शुक्र है कि बालक की मैया वापस आ गई ।पुजारी जी ने कहा मनु कहां देख रही हो और किसके बारे में बात करी हो तो मनु पुजारी जी को बोली आपने नहीं देखा कि बालक की मैया उसको मेरे से अभी लेकर गई है तो पुजारी जी बोले लाली यहां तो दूर-दूर तक कोई नहीं है तो मनु हैरान हो गई यह कैसे हो सकता है तभी उसका ध्यान ठाकुरजी और किशोरी जी के साथ बैठे छॊटे से लड्डू गोपाल जी पर पड़ा यह देख कर मनु हैरान हो गई कि उस बालक की सूरत बिल्कुल लड्डू गोपाल से मिलती थी और उसको और हैरानी इस बात की हुई कि लड्डू गोपाल के हाथों में उसके दुपट्टे का एक टुकड़ा पकड़ा हुआ था !
मनु एकदम से सुन्न हो गई और उसका शरीर जोरो से कांपने लगा आंखों में आंसू झर झर बहने लगे और वह सोचने लगी आज मेरी परीक्षा का यह परिणाम निकला कि स्वयं ठाकुर जी मेरी गोद में खेलने आए यह मेरे लिए सबसे बड़ा पुरस्कार था मनु अत्यंत प्रसन्न होते हुए खुशी से झूमने लगी। वह झूम झूम कर सबको बताना चाहती थी कि देखो मुझे इतना बड़ा पुरस्कार मिला है स्वयं लड्डू गोपाल जी आकर मेरी गोदी में विराजमान हुए हैं।
मनु की तरह हमे भी अपनी हाजिरी मंदिर रूपी स्कूल में रोज लगानी चाहिए और शायद हमारी भी हाजिरी का परिणाम ठाकुर जी हमें पुरस्कार के रूप में अपने दर्शन दे और हमारी गोदी में आकर हमको निहाल और अपने दर्शनों से मालामाल करदे!!

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

💐💐”घर” (तुम्हारा नही मेरा)💐💐

उफ़! पापा जी आपने पूरा घर ही गन्दा कर दिया| अभी अभी राधा ने पोछा मारा था और आपने चप्पलों के निशान छोड़ दिए| थोड़ी तो समझ होनी चाहिए आपको? आप बच्चे तो हैं नहीं”
बहू रिया के मुँह से ये शब्द सुनकर अनिल जी हतप्रभ से खड़े रह गए| कैसे पुलिस की नौकरी में सिर्फ उनकी एक आवाज बड़े से बड़े मुजरिमों को हिला कर रख देती थी और आज उनकी बहू उन्ही के घर में इतना सुना रही है| तभी पत्नी ने उन्हे सोफे पर बैठाते हुए कहा “कोई बात नहीं जी, बहू की बातों का क्या बुरा मानना? बस जुबान की तेज है, बाकी उसके मन में ऐसा कुछ नहीं है|”
अनिल जी ने पत्नी की आँखों में देखा जैसे पूछ रहे हों “सच में?” और फीकी सी हंसी उनके होठों पर तैर गई, लेकिन आँखों के कोर थोड़े से नम हो गये।
सोफ़े पर बैठे बैठे ही सोचने लगे कितने जतन से इस घर को खड़ा किया था| एक एक तिनका अपने हिसाब से रखवाया था इस घरौंदे का ताकि सेवा अवकाश के बाद पति पत्नी सुविधाओं के साथ आराम से रहेंगे| लेकिन आज सारी दुनिया उनके कमरे तक सिमट गई है| कमरे से बाहर निकलो तो कितना कुछ सुनना पड़ता था उन्हे, हॉल के अंदर फ़ायर पिट बनवाया था कि ठंड के दिनों में वहाँ आग के सामने भुनी मुँगफ़लियाँ खाएँगे| लेकिन मजाल क्या कि बहू कभी सर्दी में आग जलाने दे, कहती थी कि पूरे घर में राख के कण फैलते हैं फ़िर वो चिमनी वैसी ही रंगी पुती दिखती थी एक दम उजली क्योंकि बहू को वैसी ही पसंद थी|
ये सब सोच रहे थे तभी पत्नी हाथ में कॉफी का मग लिए वहाँ उनके पास आ बैठीं| पति को बहुत अच्छे से जानती थीं, जानती थीं कि वो अभी गुस्से में थे और उनके हाथ की कॉफी पीकर उनका गुस्सा शांत हो जाता था| पत्नी भी क्या करतीं, पति और बेटे सोमेश के मोह में फंसी एक भारतीय नारी जो ठहरी| दोनों तरफ़ बैलेंस बनाते बनाते ही उनका जीवन कट रहा था, कभी बेटे की सुनती कभी पति की!!
एक दिन सुबह सैर से लौटने के बाद पति पत्नी दोनों लॉन में बैठे थे| नौकर चाय रख के गया, दो की जगह तीन चाय का कप उन्हे थोड़ा अटपटा लगा क्योंकि उनके आलावा चाय सिर्फ सोमेश पीता था और वो उनके साथ कभी चाय नहीं पीता था| उसने उनके साथ बैठना तो कब का छोड़ दिया था फ़िर आज?
तभी सोमेश वहाँ आ बैठा, साथ में चाय पीने लगा| लेकिन अजीब सी चुप्पी, ये वही सोमेश है जो छोटा था तो उसकी बातें ख़त्म ही नहीं होती थीं| अनिल जी कितना भी थके हों सोमेश के साथ खेलते ही थे| उसकी बातें तब तक ख़त्म नहीं होतीं जब तक कि वो उन्हे कहते कहते थक के सो नहीं जाता| आज अजीब सी औपचारिकता ने अपनी जगह बना ली थी बेटे और पिता के बीच।
तभी पत्नी ने उस खामोशी को तोड़ा, सोमेश अगले महीने ही तो रिया के भाई के बेटी की शादी है ना?”
“हाँ माँ, उसी बारें में बात करने आया हूँ| लड़के वाले इसी शहर के हैं और वो यहीं से शादी करना चाहते हैं| सो रिया का परिवार शादी के लिए ये घर चाहता है| वो हमारे घर से शादी करना चाहते हैं, इसलिए मैं चाहता हूँ कि जब तक भीड़ भाड़ रहेगी घर में तब तक आप दोनों दीदी के पास चले जाओ|आप दोनों को भी भीड़ भाड़ से असुविधा होगी और दीदी भी इसी शहर में हैं तो आप लोगों को कोई तकलीफ़ भी नहीं होगी| आप दोनों का कमरा भी उनके काम आ जाएगा|”
ये सुनकर अनिल जी गुस्से से लाल हो गए, फ़िर भी अपनी आवाज को संयमित करके बोले “बहू के घर वालों को दूसरा घर दिला दो किराए पर, दस पंद्रह दिनों के लिए| हम क्यों शिफ्ट हों कहीं?”

“पापा आप भी ना गजब करते हो, रिया के घर वाले हैं| हमारे इतने बड़े घर के रहते उनके लिए दूसरा घर देखें! अब रिया ने उनसे कह भी दिया है| अब आप लोग अपना देख लो वो यहीं आएंगे|” कह कर सोमेश एक दम से अंदर चला गया| अंदर से बहू रिया की आवाज भी आने लगी| लग रहा था कि वो सब कुछ सुन रही थी और उसे अनिल जी की बात शायद अच्छी नहीं लगी थी।

आज पत्नी आँखों से आँसू बह रहे थे और अनिल जी ने उन्हे अपना कंधा दिया, जैसे कह रहे थे कि अभी मैं हूँ, सब ठीक कर दूँगा|
दूसरे दिन शाम अनिल जी सैर से आए तो पत्नी ने बताया कि बेटा, बहू और बच्चों के साथ छुट्टी बिताने अपने ससुराल गया और बिना बताये अनिल जी मुस्कुराने लगे और बोले “देख पगली, यही बच्चे होते जिनके लिए तू मुझसे लड़ती थी, जिनके लिए जाने कितनी रातें हमने जाग के बीता दीं| आज वो हमारे घर से हमें ही जाने को कह रहे हैं| कोई बात नहीं, मै भी इनका बाप हूँ” कहकर अंदर चले गए|

एक हफ़्ते बाद सोमेश परिवार के साथ लौटा तो दरवाजे पर ताला लगा था| चौकीदार बैठा उन्हे देखते ही उनके पास पहुँचा एक चाभी सोमेश के हाथों में दी और एक चिठ्ठी भी| चिठ्ठी खोल कर पढ़ने लगा, वो ख़त अनिल जी का था सोमेश के नाम,

सोमेश,
मैं और तुम्हारी माँ रामेश्वरम जा रहे हैं| एक महीने बाद लौटेंगे, ये जो चाभी है तुम्हारे हाथ में वो घर की चाभी नहीं है| वो एक दूसरे फ्लैट की चाभी है जिसमें तुम सभी का सामान रखवा दिया है| वो फ्लैट मैंने बहुत पहले खरीदा था, तुम्हें नहीं बताया था| पॉश इलाके में है तुम लोगों के लिए अच्छा है, अगर अच्छा ना लगे तो अपने हिसाब से घर ले लेना।

ये घर मेरा और तुम्हारी माँ का है और हमारा ही रहेगा, इसमें से हमें कोई नहीं निकाल सकता|

अभी तक सब कुछ बर्दाश्त करता रहा था क्योंकि तुम्हारी माँ खुश रहे| लेकिन अब तुम्हारी बातों से उसकी आँखों में आँसू आए ये मैं बर्दाश्त नहीं कर सकता|
ये हमारा सपनों का घर है जिसमें हम अपने बच्चों और नाती पोतों के साथ रहना चाहते थे, लेकिन शायद ईश्वर को ये मंजूर नहीं था और तुम लोगों को हमारा साथ पसंद नहीं था| वो घर मेरे और माँ के तरफ़ से तुम लोगों के लिए आशीर्वाद स्वरूप है| इच्छा होगी तो रखना वरना वापस कर देना, माता पिता होने के नाते हम अपना आत्मसम्मान नहीं खो सकते|

हमारे बाद ये घर ट्रस्ट का होगा जो यहाँ वृद्ध आश्रम बनाएगे | इस घर पर तुम्हारा या तुम्हारी बहन का कोई अधिकार नहीं होगा, मैंने ये बात तुम्हारी बहन को भी बता दी है और वो मेरे इस फैसले से खुश है, उम्मीद है तुम भी होगे।

तुम सब खुश रहो,तुम्हारा पिता

ख़त खत्म होते ही सोमेश जड़ हो चुका था| आँखों में आँसू थे, लेकिन ये पता नहीं कि वो आँसू पश्चाताप के थे या बड़े से घर को खोने का या फिर इस एहसास के टूटने का कि पिता की जायदाद अन्त में बेटे की ही होती है।
🌹💐🌷🌹💐🌷💐🌹🌷💐🌹